today murli 9 november

TODAY MURLI 9 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 November 2018 :- Click Here

09/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to attain liberation and liberation-in-life in a second, become “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”.Recognise the Father accurately. Remember the Father and give everyone His introduction.
Question: On the basis of which intoxication are you able to show (reveal) the Father?
Answer: Have the intoxication that we have now become God’s children and that He is teaching us. We have to show all human beings the true path. We are now at the confluence age. We have to glorify the Father’s name through our royal behaviour. Tell everyone the Father’s praise and Krishna’s praise.
Song: You are the fortune of tomorrow. 

Om shanti. This song was sung for freedom fighters. However, the people of Bharat do not know what is meant by “The fortune of the world”. It is a question of the whole world. No human being can change the fortune of the whole world, change it from hell into heaven. This praise does not belong to a human being. If this were said of Krishna, no one would have been able to defame him. Human beings don’t understand how Krishna could have seen the eclipsed moon on the fourth night and he was therefore defamed. In fact, neither Krishna nor the God of the Gita can ever be defamed. It is Brahma who is defamed. Krishna has been defamed but only by them saying that he abducted women. No one knows about Shiv Baba. People definitely run after God, but God can never be defamed. Neither God nor Krishna can be defamed. The praise of both is very powerful. Krishna’s praise is number one. There isn’t as much praise of Lakshmi and Narayan because they are married. Krishna is a kumar; this is why he receives more praise. They sing the same praise of Lakshmi as of Narayan, of how they are 16 celestial degrees completely full and completely viceless, but they have put Krishna in the copper age. They think that that praise has continued since the beginning of time. You children understand all of these things. This is Godly knowledge and it was God who established the kingdom of Rama (God). Human beings don’t understand what the kingdom of Rama (God) is. The Father comes and gives the explanation of this. Everything depends on the Gita. Wrong things have been written in the Gita. No war took place between the Kauravas and the Pandavas, and so the question of Arjuna doesn’t arise. The Father sits here and teaches you in this school. There wouldn’t be a school on a battlefield. Yes, there is this battle with Maya, Ravan over whom you have to gain victory. You have to become conquerors of Maya and conquerors of the world. However, people do not understand these things even slightly. It is fixed in the drama for them to come later on and understand. Only you children can explain these aspects to them. There is no question of shooting arrows of violence at Bhishampitamai etc. Many such things have been written in the scriptures. You mothers should go and spend some time with those people. Tell them: We want to talk to you in connection with this. It was God who spoke the Gita. That is God’s praise. Krishna is separate. We don’t agree with this. Rudra, God Shiva, says that this is His sacrificial fire of knowledge of Rudra. This is the sacrificial fire of knowledge of the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. Human beings then say: God Krishna speaks, but only the One can in fact be called God. You should write His praise and then write what the praise of Krishna is. Now, of the two, who is the God of the Gita? “Easy Raja Yoga” is mentioned in the Gita. The Father says: Have unlimited renunciation. Renounce the consciousness of your body and all your bodily relations and consider yourself to be a soul. Manmanabhav! Madhyajibhav! The Father explains everything very clearly. The Gita contains the shrimat spoken by God. Shri means the most elevated, and so this would apply to Shiva, the Supreme Father, the Supreme Soul. Krishna is a human being with divine qualities. Shiva is the God of the Gita, the One who taught Raja Yoga. At the end, all the other religions are definitely destroyed and the one religion established. In the golden age, there was only the one original deity religion. It was not Krishna but God who established it. This praise belongs to God. He is called the Mother, the Father. Krishna cannot be called this. You have to give the true Father’s introduction. You can explain that God alone is the Liberator and the Guide, the One who takes everyone back home. It is Shiva’s task to take everyone back home like a swarm of mosquitoes. The word ‘Supreme  is also very good. Therefore, you have to explain that the praise of Shiva, the Supreme Father, the Supreme Soul, is separate from the praise of Krishna. You have to prove this and explain the difference between the two. Shiva does not come into the cycle of birth and rebirth. He is the Purifier whereas Krishna takes the full 84 births. Now, who can be called the Supreme Soul? You should also write this: By not knowing the unlimited Father, you have become unhappy orphans. In the golden age, when you belong to the Lord and Master, you will definitely be happy. The words should be very clear. The Father says: Remember Me and claim your inheritance of liberation-in-life in a second. Even now, Shiv Baba is saying this. His full praise should be written: Salutations to Shiva; it is from Him that you receive your inheritance of heaven. By understanding the world cycle you will become residents of heaven. Now judge what is right . You children should go to the sannyasis’ ashrams and meet them personally because when they are in a gathering they have a lot of arrogance. It should remain in the intellects of you children how you can show people the true path. God speaks: I even uplift those sages and holy men. There is also the word ‘Liberator . The unlimited Father says: Belong to Me. “Father shows son!” Then son shows Father. Shri Krishna cannot be called the Father. All can be the children of God , the Father ; they cannot all be the children of one human being. Therefore, you children should have great intoxication while explaining to others that we are the children of the unlimited Father. Just look at the behaviour of a king’s son, a prince! It is very royal. However, the people of Bharat have defamed this poor person (Shri Krishna). They say: You too are residents of Bharat. Say to them: Yes, we are, but we are at the confluence age. We have become the children of God and we are studying with Him. God speaks: I teach you Raja Yoga. Krishna cannot possibly say this. They will come to understand this later. King Janak also understood everything from a signal. He remembered the Supreme Father, the Supreme Soul, and went into trance. Many continue to go into trance. In trance they see the incorporeal world and Paradise. You understand that you are residents of the incorporeal world. You come down from the supreme abode to play your parts. Destruction is standing ahead. Scientist s continue to beat their heads to go to the moon. It is through their extreme arrogance of science that they will bring about their own destruction. In fact, there is nothing on the moon. These things are very good, but you have to explain them in a clever manner. It is the Father, the Highest on High, who gives us these teachings. He is also your Father. His praise is separate from Krishna’s praise. This is the imperishable sacrificial fire of knowledge of Rudra in which everything is to be sacrificed. These points are very good, but it will still take time. This point is also very good: One is the spiritual pilgrimage and the other is a physical pilgrimage. The Father says: Remember Me, and your final thoughts will lead you to your destination. No one, except the spiritual Father , can teach you these things. You should write such points: Manmanabhav! Madhyajibhav! This pilgrimage is for liberation and liberation-in-life. Only the Father can take you on this pilgrimage. Krishna cannot do this. You have to instil the habit of remembrance. The more remembrance you have, the greater your happiness will be. However, Maya does not allow you to stay in remembrance. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. All of you do service. However, there is elevated service and there is low service. It is very easy to give someone the Father’s introduction. Achcha. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class

In order to be refreshed, people go to the mountains for fresh air. While at home or at the office, they remember their duties. By going outside, they become free from thoughts of their office. Children also come here in order to be refreshed. You have become tired from doing devotion for half a cycle. You receive knowledge at this auspicious confluence age. You become refreshed by knowledge and yoga. You understand that the old world is now to be destroyed and that the new world is being established. There is no annihilation. Those people think that the world will be totally destroyed, but that is not so; it simply changes. This is hell, the old world. You understand what the old world is and what the new world is. This has been explained to you in detail. All the details are in your intellects, but that also is numberwise, according to your efforts. You need a great deal of refine ment in order to explain. Explain to others in such a way that it sits in their intellects instantly. Some children are weak and so they break down while moving along. There are the versions of God: They become amazed, they listen to knowledge and tell others about this knowledge.… Here, there is a battle with Maya. They die to Maya and belong to God. Then, they die to God and belong to Maya. They are adopted and then they divorce Him. Maya is very powerful. She brings storms to many. You children also understand that there is victory and defeat. This play is one of victory and defeat. We have been defeated by the five vices. You are now making effort to gain victory over them. Ultimately, victory will be yours. Since you belong to the Father, you have to become firm. You can see how much temptation Maya gives you. Even when some go into trance, the game often finishes. It is now in the intellects of you children that you have now completed the cycle of 84 births. You became deities, warriors, merchants, shudras and you have now become Brahmins from shudras. You become Brahmins and then deities. You should not forget this. If you forget this, you step backwards and your intellects become engaged in worldly matters. You are then not even able to remember the murli etc. You experience the pilgrimage of remembrance to be difficult. This is a wonder! Some children are even too embarrassed to wear a badge. This too is body consciousness, is it not? You have to take insults. Krishna received so many insults. It is Shiv Baba who receives the most insults and then Krishna. Then it is Rama who receives the most insults. It is numberwise. Bharat has been defamed a great deal through these insults. You children should not be afraid of that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good night.

Essence for dharna:

  1. Make your intellect have unlimited renunciation and remain constantly on this spiritual pilgrimage. Instil the habit of staying in remembrance.
  2. Father shows son . ” “Son shows Father.” Give everyone the true introduction of the Father. Show everyone the path to attain liberation-in-life in a second.
Blessing: May you be a hero actor who becomes a flying bird instead of dangling from the branch of elevated actions.
The elevated actions performed at the confluence age are a diamond branch. No matter what the elevated actions of the confluence age are, to become trapped by the bondage of elevated actions, that is, to have limited desires is also a golden chain. You mustn’t have this golden chain or dangle from the diamond branch because a bondage is a bondage. Therefore, BapDada is reminding all the flying birds to go beyond all bondages, which are, all limitations and to become hero actors.
Slogan: Your face is the mirror of your internal stage, and so never let your face appear dry, but one of happiness.

*** Om Shanti ***

Sweet elevated versions of Mateshwari

Whose duty is it to go from the iron-aged tasteless world to the essence -filled golden-aged world?

Why is this iron-aged world called a tasteless world? Because there is no essence in this world, that is, there is no strength left in anything; there is no happiness, peace or purity. At one time, there was happiness, peace and purity in this world. There isn’t that strength anymore because the five vices exist in this world. Therefore, there is an ocean of fear in this world, that is, it is called an ocean of karmic bondages and this is why people are unhappy and call out to God: God, take us across this ocean. This proves that there must definitely be a world where there was no fear, that is, a fearless world where they want to go to. This is why this world is called the ocean of sin. They wish to go across it to the world of charitable souls. There are two worlds. One is the golden-aged essence-filled world and the other is the iron-aged, tasteless world. Both worlds exist on this earth. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 November 2018

To Read Murli 8 November 2018 :- Click Here
09-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सेकेण्ड में मुक्ति और जीवनमुक्ति प्राप्त करने के लिए मनमनाभव, मध्याजी भव। बाप को यथार्थ पहचान कर याद करो और सबको बाप का परिचय दो”
प्रश्नः- किस नशे के आधार पर ही तुम बाप का शो कर सकते हो?
उत्तर:- नशा हो कि हम अभी भगवान् के बच्चे बने हैं, वह हमें पढ़ा रहे हैं। हमें ही सब मनुष्य मात्र को सच्चा रास्ता बताना है। हम अभी संगमयुग पर हैं। हमें अपनी रॉयल चलन से बाप का नाम बाला करना है। बाप और श्रीकृष्ण की महिमा सबको सुनानी है।
गीत:- आने वाले कल की तुम तकदीर हो….. 

ओम् शान्ति। यह गीत तो गाये हुए हैं स्वतंत्रता सेनानियों के, बाकी दुनिया की तकदीर किसको कहा जाता है, यह भारतवासी नहीं जानते हैं। सारी दुनिया का प्रश्न है, सारी दुनिया की तकदीर बदल हेल से हेविन बनाने वाला कोई मनुष्य हो नहीं सकता। यह महिमा किसी मनुष्य की नहीं है। अगर कृष्ण के लिए कहें तो उनको गाली कोई दे न सके। मनुष्य यह भी नहीं समझते कि कृष्ण ने चौथ का चन्द्रमा कैसे देखा जो कलंक लगा। कलंक वास्तव में न कृष्ण को लगते हैं, न गीता के भगवान् को लगते हैं। कलंक लगते हैं ब्रह्मा को। कृष्ण को कलंक लगाये भी हैं तो भगाने के। शिवबाबा का तो किसको भी पता नहीं है। ईश्वर के पिछाड़ी भागे हैं जरूर, परन्तु ईश्वर तो गाली खा न सके। न ईश्वर को, न कृष्ण को गाली दे सकते। दोनों की महिमा जबरदस्त है। कृष्ण की भी महिमा नम्बरवन है। लक्ष्मी-नारायण की इतनी महिमा नहीं है क्योंकि वह शादीशुदा है। कृष्ण तो कुमार है इसलिए उसकी महिमा ज्यादा है, भल लक्ष्मी-नारायण की महिमा भी ऐसे ही गायेंगे – 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी…….. कृष्ण को तो द्वापर में कहते हैं। समझते हैं यह महिमा परम्परा से चली आई है। इन सब बातों को भी तुम बच्चे जानते हो। यह तो ईश्वरीय नॉलेज है, ईश्वर ने ही राम राज्य स्थापन किया है। राम राज्य को मनुष्य समझते नहीं हैं। बाप ही आकर इन सबकी समझ देते हैं। सारा मदार है गीता पर, गीता में ही रांग लिख दिया है। कौरव और पाण्डवों की लड़ाई तो लगी ही नहीं तो अर्जुन की बात ही नहीं। यह तो बाप बैठ पाठशाला में पढ़ाते हैं। पाठशाला युद्ध के मैदान में थोड़ेही होगी। हाँ, यह माया रावण से युद्ध है। उन पर जीत पानी है। माया जीते जगतजीत बनना है। परन्तु इन बातों को जरा भी समझ नहीं सकते। ड्रामा में नूंध ही ऐसी है। उन्हों को पिछाड़ी में आकर समझना है। और तुम बच्चे ही समझा सकते हो। भीष्म पितामह आदि को हिंसक बाण आदि मारने की बात ही नहीं है। शास्त्रों में तो बहुत ही बातें लिख दी हैं। माताओं को उनके पास जाकर टाइम लेना चाहिए। बोलो, हम आपसे इस सम्बन्ध में बात करना चाहते हैं। यह गीता तो भगवान् ने गाई है। भगवान् की महिमा है। श्रीकृष्ण तो अलग है। हमको तो इस बात में संशय आता है। रुद्र भगवानुवाच, उनका यह रुद्र ज्ञान यज्ञ है। यह निराकार परमपिता परमात्मा का ज्ञान यज्ञ है। मनुष्य फिर कहते कृष्ण भगवानुवाच। भगवान् तो वास्तव में एक को ही कहते हैं, उनकी फिर महिमा लिखनी चाहिए। कृष्ण की महिमा यह है, अब दोनों में गीता का भगवान् कौन है? गीता में लिखा हुआ है सहज राजयोग। बाप कहते हैं कि बेहद का सन्यास करो। देह सहित देह के सर्व सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझो, मनमनाभव, मध्याजी भव। बाप समझाते तो बहुत अच्छी राति से हैं। गीता में है श्रीमद् भगवानुवाच। श्री अर्थात् श्रेष्ठ तो परमपिता परमात्मा शिव को ही कहेंगे। कृष्ण तो दैवी गुण वाला मनुष्य है। गीता का भगवान् तो शिव है जिसने राजयोग सिखाया है। बरोबर पिछाड़ी में सब धर्म विनाश हो एक धर्म की स्थापना हुई है। सतयुग में एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। वह कृष्ण ने नहीं परन्तु भगवान् ने स्थापन किया। उनकी महिमा यह है। उनको त्वमेव माताश्च पिता कहा जाता है। कृष्ण को तो नहीं कहेंगे। तुम्हें सत्य बाप का परिचय देना है। तुम समझा सकते हो कि भगवान् ही लिबरेटर और गाइड है जो सबको ले जाते हैं, मच्छरों सदृश्य सबको ले जाना यह तो शिव का काम है। सुप्रीम अक्षर भी बड़ा अच्छा है। तो शिव परमपिता परमात्मा की महिमा अलग, कृष्ण की महिमा अलग, दोनों सिद्ध कर समझानी है। शिव तो जन्म-मरण में आने वाला नहीं है। वह पतित-पावन है। कृष्ण तो पूरे 84 जन्म लेते हैं। अब परमात्मा किसको कहा जाए? यह भी लिखना चाहिए। बेहद के बाप को न जानने के कारण ही आरफन, दु:खी हुए हैं। सतयुग में जब धणके बन जाते हैं तो जरूर सुखी होंगे। ऐसे स्पष्ट अक्षर होने चाहिए। बाप कहते हैं मुझे याद करो और वर्सा लो। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति, अभी भी शिवबाबा ऐसे कहते हैं। महिमा पूरी लिखनी है। शिवाए नम:, उनसे स्वर्ग का वर्सा मिलता है। इस सृष्टि चक्र को समझने से तुम स्वर्गवासी बन जायेंगे। अब जज करो – राइट क्या है? तुम बच्चों को सन्यासियों के आश्रम में जाकर पर्सनल मिलना चाहिए। सभा में तो उन्हों को बहुत घमण्ड रहता है।

तुम बच्चों की बुद्धि में यह भी रहना चाहिए कि मनुष्यों को सच्चा रास्ता कैसे बतायें? भगवानुवाच – मैं इन साधुओं आदि का भी उद्धार करता हूँ। लिबरेटर अक्षर भी है। बेहद का बाप ही कहते हैं मेरे बनो। फादर शोज़ सन फिर सन शोज़ फादर। श्रीकृष्ण को तो फादर नहीं कहेंगे। गॉड फादर के सब बच्चे हो सकते हैं। मनुष्य मात्र के तो सब बच्चे हो न सके। तो तुम बच्चों को समझाने का बड़ा नशा होना चाहिए। बेहद के बाप के हम बच्चे हैं, राजा के बच्चे राजकुमार की तुम चलन तो देखो कितनी रायॅल होती है। परन्तु उस बिचारे पर (श्रीकृष्ण पर) तो भारतवासियों ने कलंक लगा दिया है। कहेंगे भारतवासी तो तुम भी हो। बोलो हाँ, हम भी हैं परन्तु हम अभी संगम पर हैं। हम भगवान् के बच्चे बने हैं और उनसे पढ़ रहे हैं। भगवानुवाच – तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। कृष्ण की बात हो नहीं सकती। आगे चलकर समझते जायेंगे। राजा जनक ने भी इशारे से समझा है ना। परमपिता परमात्मा को याद किया और ध्यान में चला गया। ध्यान में तो बहुत जाते रहते हैं। ध्यान में निराकारी दुनिया और वैकुण्ठ देखेंगे। यह तो जानते हो हम निराकारी दुनिया के रहने वाले हैं। परमधाम से यहाँ आकर पार्ट बजाते हैं। विनाश भी सामने खड़ा है। साइन्स वाले मून के ऊपर जाने लिए माथा मारते रहते हैं – यह है अति साइन्स के घमण्ड में जाना जिससे फिर अपना ही विनाश करते हैं। बाकी मून आदि में कुछ है नहीं। बातें तो बड़ी अच्छी हैं सिर्फ समझाने की युक्ति चाहिए। हमको शिक्षा देने वाला ऊंच ते ऊंच बाप है। वह तुम्हारा भी बाप है। उनकी महिमा अलग, कृष्ण की महिमा अलग है। रुद्र अविनाशी ज्ञान यज्ञ है, जिसमें सब आहुति पड़नी है। प्वाइन्ट्स बहुत अच्छी हैं परन्तु शायद अभी देरी है।

यह प्वाइन्ट भी अच्छी है – एक है रूहानी यात्रा, दूसरी है जिस्मानी यात्रा। बाप कहते हैं कि मुझे याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। प्रीचुअल फादर के बिना और कोई सिखला न सके। ऐसी-ऐसी प्वाइन्ट लिखनी चाहिए। मनमनाभव-मध्याजीभव, यह है मुक्ति-जीवनमुक्ति की यात्रा। यात्रा तो बाप ही करायेंगे, कृष्ण तो करा न सके। याद करने की ही आदत डालनी है। जितना याद करेंगे उतना खुशी होगी। परन्तु माया याद करने नहीं देती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। सर्विस तो सब करते हैं, परन्तु ऊंच और नीच सर्विस तो है ना। किसको बाप का परिचय देना है बहुत सहज। अच्छा – रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास

जैसे पहाड़ों पर हवा खाने, रिफ्रेश होने जाते हैं। घर वा आफिस में रहने से बुद्धि में काम रहता है। बाहर जाने से आफिस के ख्याल से फ्री हो जाते हैं। यहाँ भी बच्चे रिफ्रेश होने के लिए आते हैं। आधाकल्प भक्ति करते-करते थक गये हैं, पुरुषोत्तम संगमयुग पर ज्ञान मिलता है। ज्ञान और योग से तुम रिफ्रेश हो जाते हो। तुम जानते हो अभी पुरानी दुनिया विनाश होती है, नई दुनिया स्थापन होती है। प्रलय तो होती नहीं। वो लोग समझते हैं दुनिया एकदम खत्म हो जाती है, परन्तु नहीं। चेंज होती है। यह है ही नर्क, पुरानी दुनिया। नई दुनिया और पुरानी दुनिया क्या होती है, यह भी तुम जानते हो। तुमको डिटेल में समझाया गया है। तुम्हारी बुद्धि में विस्तार है सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। समझाने में भी बहुत रिफाइननेस चाहिए। किसी को ऐसा समझाओ जो झट बुद्धि में बैठ जाये। कई बच्चे कच्चे हैं जो चलते-चलते टूट पड़ते हैं। भगवानुवाच भी है आश्चर्यवत सुनन्ती, कथन्ती…। यहाँ है माया से युद्ध। माया से मरकर ईश्वर का बनते हैं, फिर ईश्वर से मरकर माया के बन जाते हैं। एडाप्ट हो फिर फारकती दे देते हैं। माया बड़ी प्रबल है, बहुतों को तूफान में लाती है। बच्चे भी समझते हैं – हार जीत होती है। यह खेल ही हार जीत का है। 5 विकारों से हारे हैं। अभी तुम जीतने का पुरुषार्थ करते हो। आखरीन जीत तुम्हारी है। जब बाप के बने हो तो पक्का बनना चाहिए। तुम देखते हो माया कितने टेम्पटेशन देती है! कई बार ध्यान दीदार में जाने से भी खेल खलास हो जाता है। तुम बच्चों की बुद्धि में है अब 84 जन्म का चक्र लगाकर पूरा किया है। देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बने, अभी शूद्र से ब्राह्मण बने हैं। ब्राह्मण बन फिर देवता बन जाते हैं। यह भूलना नहीं है। अगर यह भी भूलते हो तो पाँव पीछे हट जाते हैं फिर दुनियावी बातों में बुद्धि लग जाती है। मुरली आदि भी याद नहीं रहती। याद की यात्रा भी डिफीकल्ट भासती है। यह भी वन्डर है।

कई बच्चों को बैज लगाने में भी लज्जा आती हैं, यह भी देह-अभिमान है ना। गाली तो खानी ही है। कृष्ण ने कितनी गाली खाई है! सबसे जास्ती गाली खाई है शिव ने। फिर कृष्ण ने। फिर सबसे जास्ती गाली खाई है राम ने। नम्बरवार है। डिफेम करने से भारत की कितनी ग्लानि हुई है! तुम बच्चों को इसमें डरना नहीं है। अच्छा – मीठे मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति यादप्यार और गुडनाइट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि से बेहद का सन्यास कर, रूहानी यात्रा पर तत्पर रहना है। याद में रहने की आदत डालनी है।

2) फादर शोज़ सन, सन शोज़ फादर सभी को बाप का सत्य परिचय देना है। सेकेण्ड में जीवनमुक्ति का रास्ता बताना है।

वरदान:- श्रेष्ठ कर्म रूपी डाली में लटकने के बजाए उड़ती पंछी बनने वाले हीरो पार्टधारी भव
संगमयुग पर जो श्रेष्ठ कर्म करते हो – यह श्रेष्ठ कर्म हीरे की डाली है। संगमयुग का कैसा भी श्रेष्ठ कर्म हो लेकिन श्रेष्ठ कर्म के बंधन में भी फंसना अथवा हद की कामना रखना – यह सोने की जंजीर है। इस सोने की जंजीर अथवा हीरे की डाली में भी लटकना नहीं है क्योंकि बंधन तो बंधन है इसलिए बापदादा सभी उड़ते पंछियों को स्मृति दिलाते हैं कि सर्व बन्धनों अर्थात् हदों को पार कर हीरो पार्टधारी बनो।
स्लोगन:- अन्दर की स्थिति का दर्पण चेहरा है, चेहरा कभी खुश्क न हो, खुशी का हो।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य:

“कलियुगी असार संसार से सतयुगी सार वाली दुनिया में ले चलना किसका काम है”

इस कलियुगी संसार को असार संसार क्यों कहते हैं? क्योंकि इस दुनिया में कोई सार नहीं है माना कोई भी वस्तु में वो ताकत नहीं रही अर्थात् सुख शान्ति पवित्रता नहीं है, जो इस सृष्टि पर कोई समय सुख शान्ति पवित्रता थी। अब वो ताकत नहीं हैं क्योंकि इस सृष्टि में 5 भूतों की प्रवेशता है इसलिए ही इस सृष्टि को भय का सागर अथवा कर्मबन्धन का सागर कहते हैं इसलिए ही मनुष्य दु:खी हो परमात्मा को पुकार रहे हैं, परमात्मा हमको भव सागर से पार करो इससे सिद्ध है कि जरुर कोई अभय अर्थात् निर्भयता का भी संसार है जिसमें चलना चाहते हैं इसलिए इस संसार को पाप का सागर कहते हैं, जिससे पार कर पुण्य आत्मा वाली दुनिया में चलना चाहते हैं। तो दुनियायें दो हैं, एक सतयुगी सार वाली दुनिया दूसरी है कलियुगी असार की दुनिया। दोनों दुनियायें इस सृष्टि पर होती हैं। अच्छा – ओम् शान्ति।

TODAY MURLI 9 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 November 2017 :- Click Here

09/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make effort and become full of all virtues. Imbibe divine virtues. Check to see what defects you still have within you and to what extent you have become soul conscious.
Question: What constant deep concern should the intellects of serviceable children have at this time?
Answer: How to change human beings into deities and how to tell everyone the biograph ies of Lakshmi and Narayan and Rama and Sita. You children should have this constant deep concern in you. Become one who can adopt many forms, change your dress into one of tiptop fashion and go to a Lakshmi and Narayan Temple. Make a special appointment to see the priests and trustees of the temple there and then ask them tactfully: You have built this temple to them, but do you know their biography? Speak to them tactfully and give them the introduction.
Song: Our pilgrimage is unique.

Om shanti. The great meaning of the song has been explained to you many times. We are now on a pilgrimage to return to our sweet home. We have completed our 84 births and are now returning home. Who is saying this? The Brahmins who are the mouth-born creation of Brahma. You are karma yogis anyway. Your business etc. is to perform actions. Sleeping too is an action. You definitely have to perform actions. When you stay in remembrance of the Father on this pilgrimage you will become like deities. The meaning of “Manmanabhav” is: Constantly remember Me alone and you will change from human beings into deities. The deities were also human beings of Bharat. It is just that the pictures of them that have been portrayed show how they existed in the past. Lakshmi and Narayan existed in Bharat in the past. People build many temples in Bharat. There are no other kings for whom temples are made and whose praise people sing. They sing the praise of Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna, Rama and Sita. They sing the praise of all of them. The maximum praise is of Lakshmi and Narayan. They are 16 celestial degrees whereas the others are 14 degrees. You understand these things now and you are once again becoming like them. Someone must definitely have made them like that. It was the Father who explained to you the philosophy of action, neutral action and sinful action at the confluence age and made you into deities. The people of Bharat sing praise of the deities: You are full of all virtues…. They don’t consider themselves to be deities. Emperors and empresses existed in Bharat in the past. They had divine virtues and that is why they were called deities. They were human beings. Christ, Buddha etc. were also human beings. This is the world of human beings. It is human beings who build temples to Lakshmi and Narayan. They spend hundreds of thousands of rupees building temples, but they don’t know how they received their kingdom, how they became virtuous or why we call ourselves degraded sinners. There is a lot of difference. All are residents of the one place, Bharat. They were human beings and we are also human beings but their features were like deities, whereas the features of the human beings of this world are a little devilish. The habit has been instilled to go and sing praise in the temples. They too were human beings, but they had divine virtues whereas we have devilish traits. This means that we are devils and they are deities. They say that a war took place between the devils and the deities. Now, deities exist in heaven and devils in hell. How could deities come here for a war to take place? They are called deities, so how can they fight? There is no name or trace of devils in the kingdom of deities. The age of devils is the iron age, the old earth, whereas the age of deities is the golden age, the new earth. So, how could there be a war between the two? There is no need for deities to battle; they rule there. This is a very simple matter to understand and explain. We even show the Trimurti. Shiv Baba gave Lakshmi and Narayan this kingdom through Brahma, but people don’t understand this. Even when God comes and explains that human beings have to become deities from human beings and imbibe divine virtues, they don’t understand. Just as the Father made Lakshmi and Narayan become that, so He is making you the same now. Therefore, you should make effort and become full of all virtues. Check to see what defects you have in you. There is a lot of body consciousness. Deities were soul conscious. There, they are aware that a soul leaves a body and takes another. There is no untimely death there. They don’t fall ill there; they are perfect. As are the king and queen, so the subjects. This is why it is called heaven. It is hell here. If you tell someone that he is a resident of hell, he will get upset. You can explain that when Bharat was heaven, it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. This is hell and so it is not their kingdom. The deities, who were worthy of worship, have become worshippers. Everything has to become tamopradhan from satopradhan. There isn’t anything that doesn’t become old from new. You can change your dress and go to the Lakshmi and Narayan Temple where many melas take place. You should be deeply concerned about how to tell people how the Father gave them their fortune of the kingdom. None of them call themselves deities now. All are Hindus, but Hinduism is not a religion. Who established the Hindu religion? You should take a picture of Lakshmi and Narayan to the conferences. That is a first  class picture. They have created a first-class Lakshmi and Narayan Temple in Bombay. These are very entertaining, cheerful pictures. If the artist is firstclass, he makes firstclass paintings. Show them the display of Lakshmi and Narayan and explain to them who they are and how they attained their status. They have taken the full 84 births and are now once again studying this Raja Yoga in order to become deities in the future. Explain to them the main things very clearly. Some children think that they explained very well at the exhibitions, but you have to explain very well as you progress further. As yet, you only explained according to your efforts. Many people listen to you, but they hear through one ear and let it out through the other. Baba repeatedly tells you: First of all, give the Father’s introduction: The Father had created heaven. The picture of Lakshmi and Narayan is kept here. We are making effort to become that. Prajapita Brahma is a child of Shiv Baba. Brahma cannot be called God. He is a creation. Heavenly God, the Father, gave those deities their fortune of the kingdom through Brahma. Shiv Baba is now establishing the kingdom through Brahma. We say, “God Shiva speaks through Brahma.” He is the One who is teaching us. You have to emphasize this with great splendour. There are many BKs. So, tell others with intoxication: I am a BK, a grandchild of Shiv Baba. I am receiving my inheritance from Shiv Baba. He is teaching me Raja Yoga through Brahma. He has adopted me. Shiv Baba is also your Grandfather. You too are a child of Prajapita Brahma. It is just that I know this and am claiming my inheritance. You don’t know this and so I am giving you this introduction. However, if it is not in someone’s fortune, he wouldn’t understand. They don’t have the faith that they are BKs. Shiv Baba is teaching Raja Yoga through Brahma. He is also making us into deities. People celebrate the birthday of Shiva. This Bharat is the birthplace of the Supreme Father, the Supreme Soul. You should say this with great intoxication: The Bestower of Salvation for All is the one Father and Bharat is His birthplace. The Father has now come here once again. People celebrate His birthday, but they don’t know when or in whose body He enters. He would definitely enter the body of Brahma. How else would He give you your fortune of the kingdom? How would He teach you Raja Yoga? You have to explain this very clearly. You too can claim your fortune of the kingdom from the Father. The Mahabharat War is just ahead of you. Now claim the fruit of your devotion from the Father. We are advising you. Many people come here and their features are like human beings, but their characters are like those of monkeys. You can explain that you follow shrimat. There will be obstacles in this sacrificial fire. Innocent women are assaulted because of vice. Brahma Kumaris are defamed because they make people renounce vice. There is fighting because of this. The Father has told you that lust is the greatest enemy. At this time, all are corrupt in their religion and their action; all are residents of hell. The Father comes and makes you into residents of heaven. Now make effort and claim your inheritance from the Father. The Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you. He gives you the fruit of devotion through Brahma. When they have such faith, they will instantly come running here. However, hardly anyone comes running here. You should make very good pictures. The Trimurti and the tree also have a connection with this. There are many children who do very good service. There are also those who do disservice. The Father knows that all of this will happen. Maids and servants are all needed. If you want to become a Brahmin, then follow shrimat. Don’t cause anyone sorrow. Continue to give everyone the Father’s introduction. The Father says: Only at the confluence age of every cycle do I come in Bharat. I grant everyone salvation. Everyone has to come to Me. You know that the Liberator and the Guide of everyone takes birth here in Bharat. People have said that the Father is beyond name and form and is omnipresent. The people of Bharat have defamed Him so much! It is their boat that sinks. They have become corrupt in their religion and their action and they call themselves Hindus. The Father personally says: You have defamed religion so much! You have also defamed Me. You were pure deities. You have now become impure. These deities were the masters of Bharat when Bharat was heaven. Everyone says that it is now the iron age and that the cycle definitely has to repeat once again. The Father says: I make the world new every cycle. You can go to a Lakshmi and Narayan Temples and meet the trustees there. Nowadays, mothers are not given so much respect because many who beg have emerged. When you go to tie a rakhi on someone he would think that you have gone there to beg. He would tell you that he doesn’t have time and will try to send you away. There are many who dress in white. This is why Baba explains: Become one with many forms. Go dressed in tiptop fashion. You can even go there by car. Talk to them tactfully: “We have heard that you have built a temple to Lakshmi and Narayan and so we have come to see you. Do you know that they were the emperor and empress of heaven? We like the temple very much and so we wanted to meet the one who built it. You must definitely know their biography, so give us a little of their introduction.” Ask them such questions and then tell them the correct things. Sannyasis etc. are going to find the path to liberation through you. So, explain to them. They are not going to be benefited without you, and so you should have this much intoxication of knowledge. If you are busy in service, you would have this intoxication. Your stage shouldn’t fluctuate over trivial matters. It is said that you should remain equal in praise and defamation. Baba remembers Lakshmi and Narayan so much. Why would He not remember them? They (Baba and Mama) are becoming that, are they not? People build very big temples. The pictures of Lakshmi and Narayan should be such that people become happy when they see them. Throughout the day, you should think about how to go and serve people. Check this out and then give lectures. Praise Lakshmi and Narayan. Go to such places where the sound can then emerge from eminent people. Then it will be good. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Maintain the intoxication of knowledge. Keep a stage of equanimity in praise and defamation. Don’t allow your stage to fluctuate.
  2. Give everyone the Father’s introduction and tell them the real biography of Lakshmi and Narayan. Become benevolent, benefit everyone and continue to move forward by following shrimat.
Blessing: May you be an intense effort-maker who overcomes any mountain of problems with the flying stage.
The speed of time constantly continues to move forward at a fast speed. Time never stops; even if someone wants to stop time, it doesn’t stop. Time is the creation and you are the creators and therefore, no matter what the adverse situations are or whatever mountains of problems come, those who fly will never stop. If something that is flying stops anywhere other than its destination, there would be an accident. So you children have to become intense effort-makers and continue to fly in the flying stage. Never get tired or stop.
Slogan: Making the atmosphere powerful with the attitude of remembrance is true service of the mind.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 7 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 8 November 2017 :- Click Here
09/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – पुरुषार्थ कर सर्वगुण सम्पन्न बनना है, दैवीगुण धारण करने हैं, देखना है मेरे में अब तक क्या-क्या अवगुण हैं, हम आत्म-अभिमानी कहाँ तक बने हैं
प्रश्नः- सर्विसएबुल बच्चों की बुद्धि में अब कौन सी तात लगी रहनी चाहिए?
उत्तर:- मनुष्यों को देवता कैसे बनायें, कैसे सबको लक्ष्मी-नारायण, राम-सीता की बायोग्राफी सुनायें – यह तात बच्चों में लगी रहनी चाहिए। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में बहुरूपी बन, वेष बदलकर टिपटॉप होकर जाना चाहिए। उनके पुजारियों से वा ट्रस्टियों से अलग समय लेकर मिलना चाहिए। फिर युक्ति से पूछना है कि आपने यह जो मन्दिर बनाया है, इनकी जीवन कहानी क्या है? युक्ति से बात करते, उन्हें परिचय देना है।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं….

ओम् शान्ति। गीत का अर्थ बहुत बारी समझाया है। हम अभी यात्रा कर रहे हैं। वापिस अपने स्वीट होम जाने की। हम अभी 84 जन्म पूरे कर वापिस जा रहे हैं। यह कौन कहते हैं? ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण। तुम कर्मयोगी तो हो ही। धन्धाधोरी आदि यह भी कर्म है। नींद भी कर्म है। कर्म तो करना ही है। तुम जब इस यात्रा पर बाप की याद में रहेंगे तो तुम देवता जैसा बन जायेंगे। मनमनाभव का अर्थ भी यह है, मामेकम् याद करो तो तुम मनुष्य से देवता बन जायेंगे। देवतायें भी भारत के मनुष्य ही थे। सिर्फ उन्हों के चित्र दिखाये जाते हैं कि ऐसे होकर गये हैं। भारत में लक्ष्मी-नारायण होकर गये हैं। भारत में बहुत मन्दिर बनाते हैं। ऐसे और कोई राजायें आदि नहीं हैं, जिनके मन्दिर बने हैं और मनुष्य बैठ उन्हों की महिमा गाते हैं। लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण, राम-सीता सबकी महिमा गाते हैं। सबसे जास्ती महिमा है लक्ष्मी-नारायण की, वो 16 कला सम्पूर्ण, वह 14 कला वाले। यह बातें तुम अभी समझते हो और तुम फिर से ऐसे बन रहे हो। उन्हों को भी कोई ने जरूर ऐसा बनाया होगा। बाप ने ही संगम पर कर्म-अकर्म-विकर्म की गति को समझाए देवता बनाया है। भारतवासी देवताओं की महिमा गाते हैं – आप सर्वगुण सम्पन्न…… अपने को देवता नहीं समझते। भारत के महाराजा महारानी होकर गये हैं। उन्हों में दैवीगुण थे इसलिए उन्हों को देवता कहा जाता है। थे मनुष्य ही। क्राइस्ट, बुद्ध आदि भी मनुष्य थे। मनुष्यों की ही यह दुनिया है। लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर भी मनुष्य बनाते हैं। लाखों रूपया खर्च कर मन्दिर बनाते हैं। परन्तु यह नहीं जानते तो उन्हों को यह राजाई कैसे मिली? ऐसे गुणवान वह कैसे बनें? हम अपने को पापी, नीच क्यों कहते हैं? यह तो बहुत फ़र्क हो जाता है। सब एक ही देश भारत के रहने वाले, वह भी मनुष्य, हम भी मनुष्य। परन्तु उन्हों की सीरत देवताओं जैसी है और इस दुनिया के मनुष्यों की सीरत असुरों जैसी है। यह भी आदत पड़ गई है। मन्दिरों में जाकर महिमा गाते हैं। हैं वह भी मनुष्य परन्तु उनमें दैवीगुण, हमारे में आसुरी गुण। गोया हम असुर हैं वह देवता हैं। कहते हैं असुर और देवताओं की लड़ाई लगी। अब देवतायें हैं स्वर्ग में, असुर हैं नर्क में, देवतायें यहाँ कैसे आये जो लड़ाई लगी। नाम है देवता, वह लड़ाई कैसे करेंगे? देवताओं के राज्य में असुरों का नाम निशान नहीं। असुरों का युग – कलियुग पुरानी पृथ्वी, देवताओं का युग – सतयुग नई पृथ्वी, फिर दोनों की युद्ध कैसे होगी? देवताओं को युद्ध करने की दरकार नहीं। वह तो वहाँ राज्य करते हैं। बात बहुत सहज है समझने और समझाने की। हम त्रिमूर्ति भी दिखाते हैं। लक्ष्मी-नारायण को शिवबाबा ने ब्रह्मा द्वारा यह राज्य दिया, परन्तु मनुष्य समझते नहीं। जो भगवान आकर समझाते हैं कि मनुष्य से देवता बनना है। दैवीगुण धारण करो तो भी समझते नहीं। जैसे बाप ने लक्ष्मी-नारायण को ऐसा बनाया, वह अब तुमको भी बना रहे हैं। तो पुरुषार्थ कर सर्वगुण सम्पन्न बनना चाहिए। देखना चाहिए मेरे में क्या अवगुण हैं। देह-अभिमान बहुत है। देवतायें आत्म-अभिमानी थे वहाँ यह जानते हैं कि हम आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेंगी। वहाँ अकाले मृत्यु नहीं होता, बीमार नहीं होते। सम्पूर्ण थे, यथा राजा तथा प्रजा …. इसलिए नाम ही स्वर्ग था। यहाँ है नर्क। किसको कहो तुम नर्कवासी हो तो बिगड़ पड़ते हैं। तुम समझा सकते हो जब भारत स्वर्ग था तो लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। यह नर्क है, तो उन्हों का राज्य ही नहीं। देवतायें जो पूज्य थे वही पुजारी बनें। सतोप्रधान से तमोप्रधान हर चीज़ को बनना है। ऐसी कोई वस्तु नहीं जो नई से पुरानी न हो। तुम वेष बदलकर भी जा सकते हो। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में बहुत मेला लगता है। तुमको यह तात लगनी चाहिए कि मनुष्यों को यह बतायें कि उन्हों को बाप ने यह राज्य-भाग्य कैसे दिया। अब तो कोई अपने को देवता नहीं कहलाता, सब हिन्दू हैं। हिन्दू कोई धर्म नहीं। हिन्दू धर्म किसने स्थापन किया? कान्फ्रेन्स में लक्ष्मी-नारायण का चित्र भी ले जाना पड़े। यह फर्स्टक्लास चित्र है। बम्बई में लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर फर्स्टक्लास बना हुआ है। बड़े रमणीक चित्र हैं। फर्स्टक्लास कारीगर होते हैं तो चित्र भी फर्स्टक्लास बनाते हैं। लक्ष्मी-नारायण की झांकी दिखलाकर उन्हों को समझाना है कि यह कौन हैं, इन्होंने कैसे यह पद पाया? इन्होंने पूरे 84 जन्म लिए हैं। अभी फिर से यह राजयोग सीख रहे हैं – भविष्य में देवता बनने के लिए। मूल बात अच्छी तरह समझानी है। बच्चे समझते हैं – प्रदर्शनी पर हमने बहुत अच्छा समझाया। परन्तु बहुत अच्छा तो आगे चलकर समझाना है। अभी तो पुरुषार्थ अनुसार समझाया। सुनते बहुत हैं, एक कान से सुन दूसरे से निकाल देते हैं। बाबा घड़ी-घड़ी कहते हैं, पहले-पहले बाप का परिचय दो। बाप ने स्वर्ग बनाया था। यह लक्ष्मी-नारायण के चित्र खड़े हैं। हम यह बनने का पुरुषार्थ कर रहे हैं। प्रजापिता ब्रह्मा है शिवबाबा का बच्चा। ब्रह्मा को भगवान नहीं कहेंगे, वह रचना है। इन देवी-देवताओं को राज्य-भाग्य हेविनली गॉड फादर ने दिया – ब्रह्मा द्वारा। अभी शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा राज्य स्थापन कर रहे हैं। हम कहते शिव भगवानुवाच – ब्रह्मा द्वारा। वह हमको पढ़ाने वाला है। इस पर ज़ोर देना है – भभके से। ढेर बी.के. हैं। तो नशे से कहना चाहिए कि मैं बी.के. शिवबाबा का पोत्रा हूँ। शिवबाबा से हमको वर्सा मिल रहा है, ब्रह्मा द्वारा हमको राजयोग सिखला रहे हैं। हमको एडाप्ट किया है। शिवबाबा तुम्हारा भी दादा है। प्रजापिता ब्रह्मा के तुम भी बच्चे हो। सिर्फ हम जानते हैं और वर्सा ले रहे हैं। तुम नहीं जानते हो, हम तुमको परिचय देते हैं। परन्तु किसके भाग्य में नहीं है तो समझते नहीं। निश्चय नहीं करते कि हम बी.के. हैं। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा राजयोग सिखलाते हैं। हमको भी देवता बनाते हैं। शिव जयन्ती मनाते हैं। यह भारत परमपिता परमात्मा का बर्थ प्लेस है। बहुत फ़खुर से बोलना चाहिए। सर्व का सद्गति दाता एक बाप है, भारत उनका बर्थ प्लेस है। अब बाप फिर आया हुआ है। जयन्ती मनाते हैं परन्तु वह कब और किसके तन में आता है, यह नहीं जानते। जरूर ब्रह्मा के तन में आयेंगे। नहीं तो राज्य भाग्य कैसे दें, राजयोग कैसे सिखलाये? ऐसे क्लीयर कर समझाना है। तुम भी बाप से राज्य-भाग्य लो। महाभारत लड़ाई सामने खड़ी है। अब बाप से अपनी भक्ति का फल लो, हम आपको राय दे रहे हैं। आते बहुत हैं। शक्ल मनुष्य जैसी है परन्तु सीरत बन्दर जैसी है।

तुम समझाओ कि हम श्रीमत पर चलते हैं – इस यज्ञ में विघ्न पड़ेंगे। विष के कारण अबलाओं पर अत्याचार होते हैं। ब्रह्माकुमारियों की निंदा इसीलिए होती है क्योंकि विष (विकार) छुड़ाती हैं। इस पर मारामारी होती है। बाप ने कहा है काम महाशत्रु है। इस समय सब धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट हैं, सब नर्कवासी हैं। बाप आकर स्वर्ग वासी बनाते हैं। अब पुरुषार्थ कर बाप से वर्सा लेना है। परमपिता परमात्मा पढ़ा रहे हैं। ब्रह्मा द्वारा भक्ति का फल दे रहे हैं। ऐसा निश्चय हो जाए तो फौरन भागें। परन्तु विरला कोई भागता है। तुमको चित्र बहुत अच्छे बनाने चाहिए। इनके साथ त्रिमूर्ति, झाड़ का भी कनेक्शन है। कई बच्चे बहुत अच्छी सर्विस करते हैं, दूसरे फिर डिससर्विस भी करते हैं। बाप जानते हैं यह सब कुछ होना ही है। नौकर चाकर आदि सब चाहिए। अगर ब्राह्मण बनना है तो श्रीमत पर चलो। किसको दु:ख मत दो। बाप का परिचय सबको देते रहो। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प के संगमयुग पर भारत में ही आता हूँ। सर्व की सद्गति करता हूँ। मेरे पास तो सबको आना पड़े। तुम जानते हो सबका लिबरेटर और गाइड यहाँ भारत में ही जन्म लेते हैं। बाप को नाम रूप से न्यारा और सर्वव्यापी कह दिया है। भारतवासियों ने ही ग्लानी कर दी है। उनका ही बेड़ा गर्क होता है। धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट हो अपने को हिन्दू कहला रहे हैं। बाप सम्मुख कहते हैं – तुमने कितनी धर्म ग्लानी की है। मेरी भी ग्लानी की है। तुम ही पवित्र देवी देवता थे। अब अपवित्र बन पड़े हो। यही देवी-देवता भारत के मालिक थे और भारत स्वर्ग था। यह तो सब कहते हैं अभी कलियुग है फिर जरूर चक्र रिपीट होना है। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प दुनिया को नया बनाता हूँ। तुम लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाकर ट्रस्टी से मिल सकते हो। आजकल माताओं का मान कम है क्योंकि भीख मांगने वाली बहुत निकली हैं। तुम राखी बांधने जाती हो तो वह समझेंगे – भीख माँगने आई हैं। कह देंगे फुर्सत नहीं है, भगाने की कोशिश करेंगे। सफेद वस्त्रधारी भी बहुत निकले हैं इसलिए बाबा समझाते हैं – बहुरूपी बनो, टिपटॉप होकर जाओ। मोटर में चढ़कर जाओ। युक्ति से बात करो। हमने सुना है आपने लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर बनाया है, हम आपका दर्शन करने आये हैं। भला आपको मालूम है – यही स्वर्ग के महाराजा महारानी थे। हमको मन्दिर बहुत अच्छा लगा तब हमारी दिल हुई बनाने वाले का दर्शन करें। आप जरूर उनकी जीवन कहानी जानते होंगे, हमको भी थोड़ा परिचय दो। ऐसे पूछकर फिर उन्हें यथार्थ बात सुनानी चाहिए। सन्यासियों आदि को भी तुमसे ही मुक्ति का रास्ता मिलना है, उन्हें भी समझाओ। तुम्हारे बिगर तो उन्हों का भी कल्याण होना नहीं है। तो इतना ज्ञान का नशा होना चाहिए। सर्विस पर होगा तो नशा भी रहेगा। ऐसे नहीं थोड़ी बात में अवस्था डगमग हो जाए। गाया जाता है – स्तुति-निंदा में समान रहना चाहिए। लक्ष्मी-नारायण को बाबा कितना याद करते हैं। क्यों नहीं याद करेंगे? बन रहे हैं ना। मनुष्य बहुत बड़े-बड़े मन्दिर बनाते हैं, लक्ष्मी-नारायण का चित्र ऐसा हो जो देख खुश हो जाएं। सारा दिन ख्यालात चलना चाहिए – कैसे जाकर सर्विस करें? जांचकर भाषण करना चाहिए। लक्ष्मी-नारायण की महिमा करनी चाहिए। ऐसी जगह जाना चाहिए जो बड़ों-बड़ों से आवाज निकले तो अच्छा है। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान के नशे में रहना है। निंदा-स्तुति में समान स्थिति रखनी है। अवस्था डगमग नहीं करनी है।

2) सबको बाप का परिचय दे लक्ष्मी-नारायण की सच्ची जीवन कहानी सुनानी है। कल्याणकारी बन सर्व का कल्याण कर श्रीमत पर बढ़ते रहना है।

वरदान:- समस्याओं के पहाड़ को उड़ती कला से पार करने वाले तीव्र पुरूषार्थी भव 
जैसे समय की रफ्तार तीव्रगति से सदा आगे बढ़ती रहती है। समय कभी रूकता नहीं, यदि उसे कोई रोकना भी चाहे तो भी रूकता नहीं। समय तो रचना है, आप रचयिता हो इसलिए कैसी भी परिस्थिति अथवा समस्याओं के पहाड़ भी आ जायें तो भी उड़ने वाले कभी रुकेंगे नहीं। अगर उड़ने वाली चीज़ बिना मंजिल के रुक जाए तो एक्सीडेंट हो जायेगा। तो आप बच्चे भी तीव्र पुरूषार्थी बन उड़ती कला में उड़ते रहो, कभी भी थकना और रुकना नहीं।
स्लोगन:- याद की वृत्ति से वायुमण्डल को पावरफुल बनाना – यही मन्सा सेवा है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 7 November 2017 :- Click Here

Font Resize