today murli 9 February

TODAY MURLI 9 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 February 2019 :- Click Here

09/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to do real spiritual service with your bodies, minds and wealth. It is only by your doing spiritual service that Bharat will become the golden age.
Question: What should you constantly remember in order to remain free from worry? When will you be able to remain carefree?
Answer: In order to remain carefree, always remember that this drama is created absolutely accurately. Whatever happens is absolutely accurate according to the drama. However, you children cannot remain carefree at this time. When you reach your karmateet stage you will be carefree. Very good yoga is needed for that. Yogi and gyani children cannot remain hidden.

Om shanti. The Purifier, God Shiva, speaks. The Father has explained that no bodily being can be called God. People also know that the Purifier can only be God. Shri Krishna cannot be called the Purifier. The poor people are very confused. It is only when the thread in Bharat is tangled that Shiv Baba has to come. No one except the Father can untangle it. He alone is the Purifier, Shiv Baba. Only you children know this, and that, too, is numberwise, according to the effort you make. Although you are sitting here and you listen to this every day, you don’t remain aware that you are sitting with Shiv Baba, that He is present in this one, teaching us, purifying us and telling us these methods. You become spinners of the discus of self-realisation, you receive the knowledge of the Creator and creation, you conquer lust and become conquerors of the world. So, that Father is the Purifier. He is also the Creator of the new creation. You are now making effort to attain the unlimited kingdom. Each one of you understands that you claim your fortune of the kingdom from Shiv Baba. Even this is not understood accurately. Some know this a little and some don’t know it at all. Shiv Baba says: I am the Purifier. If anyone comes and asks Me, I can give him My introduction. The Father has also given you His introduction. Shiv Baba says: I enter an ordinary body. This body is ordinary. He is standing at the top of the tree. He is shown standing in the impure world and doing tapasya down below. Shiv Baba also teaches this one how to do tapasya. Shiv Baba is teaching Raj Yoga. Down below is Adi Dev and at the top is Adi Nath (Lord). You children can say: We Brahmins are children of Shiv Baba. You too are children of Shiv Baba, but you don’t know it. God is One and all the rest are brothers. The Father says: I only teach My children. I only teach and make into deities those who recognize Me. Bharat itself was heaven and it is now hell. Only those who conquer lust will become conquerors of the world. I am establishing the golden world. Bharat has been in the golden age and then gone into the iron age many times. No one knows this. No one knows the Creator or the beginning, middle and end of creation. I am k nowledge -full. This is your aim and objective. I enter this one’s ordinary body and give you knowledge. You now have to become pure. By conquering those vices, you will become conquerors of the world. All of you children are making effort. You do spiritual service, not physical service, with your bodies, minds and wealth. This is called spiritual knowledge. This is not devotion. The ages for devotion are the copper and iron ages. They are also called the night of Brahma, whereas the golden and silver ages are called the day of Brahma. If someone who teaches the Gita comes, you should explain to him that there is a mistake in the Gita. Who spoke the Gita? Who taught Raj Yoga? Who said that by conquering lust you become the conquerors of the world? This Lakshmi and Narayan became the conquerors of the world, did they not? He sat and explained to them the secrets of their 84 births. No matter who it is, they have to come here to receive knowledge. I teach you children but, amongst you, too, some don’t understand very much and this is why it is remembered: A handful out of multimillions. Some only know five per cent of who I am and what I am. You have to know the Father and remember Him accurately. Why do you not remember Me constantly? You say: Baba, I forget to remember You. Oh! can you not remember Baba? In fact, the Father explains that this is something that requires effort. Nevertheless, He continues to pump you to make effort. Oh! You forget the Father who takes you to the ocean of milk and makes you into the masters of the world! Maya will definitely make you forget. It will take time. It isn’t that, because Maya will definitely make you forget, you can sit there coolly. No, you definitely have to make effort; you have to conquer lust. Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. Just as I say to you children, “Child”, similarly, even if the highest judge comes, I would say “Child” to him too because I am God, the Highest on High. I alone teach you the highest study of all to enable you to receive the status of princes and princesses. The Father says: I teach this one. This one then becomes Shri Krishna. Brahma and Saraswati then become Lakshmi and Narayan. This family path continues. Those on the path of isolation cannot teach Raj Yoga. Both king and queen are needed. Those people go abroad and say that they are teaching Raj Yoga. However, they say that happiness is like the droppings of a crow. So, how can they teach Raj Yoga? Therefore, you children should have that enthusiasm. However, children are still young, they haven’t yet become mature; they need courage for maturity. The Father tells you: This is the community of Ravan. You call out: O Purifier, come! So, is this an impure world or a pure world? You understand that you are residents of hell. Is this the deity community? Is this the kingdom of Rama? Do you not belong to the kingdom of Ravan? At this time, everyone in the kingdom of Ravan has a devilish intellect. Now, who would make a devilish intellect divine? Ask four to five such questions that would make people think. It is the duty of you children to give the Father’s introduction. The tree grows gradually. Then, there will be a lot of expansion. Maya too puts you in a spin and knocks you down completely. Many die in boxing and many die here too. They fall into vice and die. They then have to make effort from the beginning. Vice completely kills them. Whatever rust they had removed by becoming pure from impure, all of that income is lost. They then have to make effort anew. You can’t say that you mustn’t allow someone to come. No, you have to explain to that one: Everything you had earned on the pilgrimage of remembrance and by studying is destroyed. They fall down so low. If you repeatedly continue to fall down, you would be told to get out. You are given a trial once or twice. You are forgiven twice and it then becomes a hopeless case. They would go there, but in a dirty class. This is what would be said in comparison. Those who receive a completely low status are said to be in a dirty class. There are maids, servants, cremators and also maids and servants of the subjects. The Father knows that He is teaching you, that He teaches you every 5000 years. Those people speak of hundreds of thousands of years. As you progress further, they will begin to say: Truly this is a matter of 5000 years. It is the same great war. However, they cannot stay on the pilgrimage of remembrance. Day by day, it continues to become too late. It is remembered: A lot of time has gone by and a little remains. All of those matters refer to this time. There is little time left to become pure. The war is just ahead. Ask your heart: Am I on the pilgrimage of remembrance? When new people come, you children should definitely make them fill in a form. Only when they fill in a form can you then explain to them. If someone doesn’t want to understand, what would he put on the form? So many people come here just like that. Tell them: You call out to the Father: O Purifier, come! So, this is surely an impure world. This is why you call out: O Purifier, come and make us pure! Some become this and others don’t. Baba receives many letters. All of you write: Shiv Baba c/o Brahma. Shiv Baba also says: I enter an ordinary body. I tell him his story of 84 births. No other human being knows the beginning, middle and end of creation. The Father has now told you. Baba has had these pictures etc. made by giving you children divine visions. Baba only teaches you souls. Souls quickly become bodiless. You have to consider yourselves to be separate from those bodies. Baba says: Children, may you be soul conscious! May you be bodiless! I am teaching you souls. This is the meeting of souls with the Supreme Soul. This is called the meeting of the confluence age. Ganges water does not purify anyone. Sages, holy men, rishis and munis etc. all go to bathe in the Ganges. How can the Ganges be the Purifier? God speaks: Lust is the greatest enemy. By conquering it, you will become the masters of the world. Neither the Ganges nor the ocean say this. The Father, the Ocean of Knowledge, is explaining to you. In order to conquer that lust, constantly remember Me alone and you will become pure. Imbibe divine virtues. Don’t cause anyone sorrow. The number one sorrow is to use the sword of lust. That causes you sorrow from its beginning through the middle to the end. It doesn’t exist in the golden age. That is the pure world. There is no one impure there. Just as you claim the kingdom through the power of yoga, children are born there through the power of yoga. The kingdom of Ravan doesn’t exist there. You people burn an effigy of Ravan, but you don’t know when you started to burn him. Ravan doesn’t exist in the kingdom of Rama. The Father is sitting here and explaining these matters to you which have to be understood. He explains very well, but, according to how much each one of you studies every cycle, so you will study now. Everything can be known through the effort you make. There is also the subject of physical service. If you can’t serve through the mind, then serve through words and deeds. It is very easy to serve through words. First of all there is service through the mind, that is, Manmanabhav: stay on the pilgrimage of remembrance. Consider yourself to be a soul and remember the Father. Take teachings from the Baba. There are many who are unable to remember the Father. You wouldn’t say that they are unable to remember knowledge. They are unable to remember the One constantly. How will you receive power if you don’t remember Him? The Father is the Almighty Authority. By remembering Him, you will receive power. This is called strength. If someone does good service through deeds, he can receive a good status. If you don’t serve through deeds, what status will you receive? There are the subjects. These are incognito matters and have to be understood. Those people speak of yoga, but they don’t understand that you claim the sovereignty of the world by having yoga. No one knows that children are born there through the power of yoga. This is explained to you, but, nevertheless, after half the cycle, you become slaves of Maya. Maya doesn’t leave you alone even now. You now have to become Shiv Baba’s slaves. Do not become slaves of bodily beings. It is now that you are called brothers and sisters in order for you to become pure. Then, you have to go beyond that too: you have to consider yourselves to be brothers. There shouldn’t even be the vision of brother and sister. Whatever happens is absolutely accurate according to the drama. The drama is very accurate. The Father is free from worry. This one would definitely have some worries. Only when you reach your karmateet stage will you remain carefree. Until then, something or other will continue to happen. Very good yoga is needed. Baba is now emphasizing yoga. It is about this that you say you repeatedly forget. The Father complains: You forget the Father who gives you so many treasures! The Father knows who has knowledge and who doesn’t. Knowledgeable souls can never remain hidden; they would quickly give the proof of service. Therefore, all of these matters have to be understood. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t be defeated while boxing Maya. Don’t just sit down and become slack in making effort. Have courage and do service.
  2. This drama is created accurately . Therefore, don’t worry about anything. In order to reach your karmateet stage, stay in remembrance of the Father. Don’t become a slave to any bodily being.
Blessing: May you be a true Raj Rishi who remains free from all attachment by having an attitude of unlimited disinterest.
A Raj Rishi means one who has a kingdom and, on the other hand, a Rishi means one who has unlimited disinterest. If there is any attachment to oneself, to another person, to any object, you cannot then be a Raj Rishi. Those who have even the slightest thought of attachment have their feet in two boats and they are then neither here nor there. So, become a Raj Rishi, have unlimited disinterest, that is, belong to the one Father and none other. Make this lesson firm.
Slogan: Anger is a form of fire which burns oneself and also others.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 9 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 February 2019

To Read Murli 8 February 2019 :- Click Here
09-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें तन-मन-धन से सच्ची रूहानी सेवा करनी है, रूहानी सेवा से ही भारत गोल्डन एज बन जायेगा”
प्रश्नः- बेफिक्र रहने के लिए सदा कौन-सी बात याद रखो? तुम बेफिक्र कब रह सकेंगे?
उत्तर:- बेफिक्र रहने के लिए सदा याद रहे कि यह ड्रामा बिल्कुल एक्यूरेट बना हुआ है। जो भी ड्रामा अनुसार चल रहा है यह बिल्कुल एक्यूरेट है। परन्तु अभी तुम बच्चे बेफिक्र रह नहीं सकते, जब तुम्हारी कर्मातीत अवस्था हो, तब तुम बेफिक्र बनेंगे, इसके लिए योग बहुत अच्छा चाहिए। योगी और ज्ञानी बच्चे छिप नहीं सकते।

ओम् शान्ति। पतित-पावन शिव भगवानुवाच। बाप ने समझा दिया है कि देहधारी मनुष्य को कभी भी भगवान् नहीं कहा जा सकता। मनुष्य यह भी जानते हैं, पतित-पावन भगवान् ही है। श्रीकृष्ण को पतित-पावन नहीं कहेंगे। बिचारे बहुत मूँझे हुए हैं। भारत में जब सूत मूँझ जाता है तब शिवबाबा को आना पड़ता है। बाप के बिना उसे कोई सुलझा न सके। वो ही पतित-पावन शिवबाबा है, जिसको सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो। सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। भल यहाँ बैठे हैं, रोज़ सुनते हैं तो भी ध्यान में यह नहीं आता है कि हम शिवबाबा के पास बैठे हैं, वह इनमें विराजमान हैं, हमको पढ़ा रहे हैं, पावन बना रहे हैं, युक्ति बतला रहे हैं।

तुम स्वदर्शन चक्रधारी बन रचता और रचना की नॉलेज पाकर काम को जीत जगतजीत बनते हो। तो वह बाप पतित-पावन भी ठहरा। नई रचना का रचता भी ठहरा। अभी बेहद का राज्य पाने के लिए तुम पुरुषार्थ करो। हरेक समझते हैं हम शिवबाबा से राज्य-भाग्य ले रहे हैं। यह भी यथार्थ रीति समझ नहीं सकते। कोई थोड़ा जानते, कोई तो बिल्कुल ही नहीं जानते। शिवबाबा तो कहते हैं पतित-पावन मैं हूँ। मेरे से अगर कोई आकर पूछे तो मैं अपना परिचय दे सकता हूँ। तुमको भी तो बाप ने अपना परिचय दिया है ना। शिवबाबा कहते हैं मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। यह साधारण तन है। झाड़ के अन्त में खड़ा है। पतित दुनिया में खड़ा है और फिर नीचे तपस्या कर रहे हैं। इनको भी तपस्या शिवबाबा सिखला रहे हैं। राजयोग शिवबाबा सिखाते हैं। नीचे आदि देव, ऊपर में आदि नाथ। तुम बच्चे समझा सकते हो हम ब्राह्मण शिवबाबा की सन्तान हैं। तुम भी शिवबाबा के बच्चे हो परन्तु जानते नहीं हो। भगवान् एक है, बाकी सब ब्रदर्स हैं। बाप कहते हैं मैं अपने बच्चों को ही पढ़ाता हूँ। जो मुझे पहचानते हैं उन्हों को ही पढ़ाकर देवता बनाता हूँ। भारत ही स्वर्ग था, अब नर्क है। जो काम को जीतेगा वही जगतजीत बनेगा। मैं गोल्डन वर्ल्ड की स्थापना कर रहा हूँ। अनेक बार यह भारत गोल्डन एज में था, फिर आइरन एज में आया – यह कोई भी जानते नहीं। रचयिता और रचना के आदि, मध्य, अन्त को कोई जानते नहीं। मैं नॉलेजफुल हूँ। यह है एम ऑब्जेक्ट। मैं इनके साधारण तन में प्रवेश होकर नॉलेज देता हूँ। अब तुम भी पवित्र बनो। इन विकारों को जीतने से तुम जगतजीत बनेंगे। यह सब बच्चे पुरुषार्थ कर रहे हैं। तन-मन-धन से रूहानी सेवा करते हैं, जिस्मानी नहीं। इनको प्रीचुअल नॉलेज कहा जाता है। यह भक्ति नहीं है। भक्ति का युग है द्वापर-कलियुग, जिसको ब्रह्मा की रात कहा जाता है और सतयुग-त्रेता को ब्रह्मा का दिन कहा जाता है। कोई गीतापाठी आये तो उनको भी समझायेंगे गीता में भूल है। गीता किसने सुनाई, राजयोग किसने सिखाया, किसने कहा है काम पर जीत पाने से तुम जगतजीत बन जायेंगे? यह लक्ष्मी-नारायण भी जगतजीत बने हैं ना। इनके 84 जन्मों का राज़ बैठ समझाये। कोई भी हो, नॉलेज लेने के लिए तो यहाँ आना पड़ेगा ना। मैं तो बच्चों को पढ़ाता हूँ। परन्तु तुम्हारे में भी कोई इतना नहीं समझते हैं, इसलिए गायन है कोटों में कोई….। मैं जो हूँ, जैसा हूँ कोई तो यह 5 परसेन्ट भी नहीं जानते। तुम्हें बाप को जानकर पूरी रीति याद करना है। मामेकम् याद क्यों नहीं करते हो? कहते हैं बाबा याद भूल जाती है। अरे, तुम बाबा को याद नहीं कर सकते हो। यूँ तो बाप समझते हैं यह मेहनत का काम है, फिर भी पुरुषार्थ कराने के लिए पम्प करते रहते हैं। अरे, जो बाप तुमको क्षीरसागर में ले जाते हैं, विश्व का मालिक बनाते हैं, उनको भूल जाते हो! माया भुलायेगी भी जरूर। टाइम लगेगा। ऐसे भी नहीं कि माया को भुलाना ही है, इसलिए ठण्डे होकर बैठ जाओ। नहीं, पुरुषार्थ जरूर करना है। काम पर जीत पानी है। मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। जैसे तुम बच्चों को बोलता हूँ वैसे कोई भी बड़े से बड़ा जज आयेगा, उनको भी बाप बोलेंगे ना – “बच्चे” क्योंकि मैं तो ऊंचे से ऊंचा भगवान् हूँ। ऊंचे से ऊंची पढ़ाई मैं ही पढ़ाता हूँ, प्रिन्स-प्रिन्सेज पद पाने के लिए। बाप कहते हैं मैं इनको पढ़ा रहा हूँ। यही फिर श्रीकृष्ण बनते हैं। ब्रह्मा-सरस्वती, वो ही फिर लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। यह प्रवृत्ति मार्ग चला आता है। निवृति मार्ग वाले राजयोग सिखला न सकें। राजा-रानी दोनों चाहिए। विलायत में जाकर कहते हैं हम राजयोग सिखलाते हैं। परन्तु वह तो सुख को काग विष्टा समान कहते हैं फिर राजयोग कैसे सिखायेंगे। तो बच्चों को उछल आनी चाहिए। परन्तु बच्चे अजुन छोटे हैं, बालिग नहीं बने हैं। बालिगपने की हिम्मत चाहिए।

बाप बतलाते हैं – यह है रावण सम्प्रदाय। तुम पुकारते हो पतित-पावन आओ। तो यह पतित दुनिया है या पावन दुनिया है? तुम समझते हो ना कि हम नर्कवासी हैं। क्या यह दैवी सम्प्रदाय है? रामराज्य है? तुम रावण राज्य के नहीं हो? अब रावण राज्य में सबकी आसुरी बुद्धि है। अब आसुरी बुद्धि को दैवी बुद्धि बनाने वाला कौन? ऐसे 4-5 प्रश्न पूछो तो मनुष्य सोच में पड़ जायें। तुम बच्चों का काम है बाप का परिचय देना। झाड़ तो धीरे-धीरे बढ़ता है। फिर बहुत वृद्धि को पायेंगे। माया भी चकरी लगाकर एकदम गिरा देती है। बॉक्सिंग में भी बहुत मरते हैं, इसमें भी बहुत मर जाते हैं। विकार में गया और मरा। फिर नयेसिर पुरुषार्थ करना पड़े। विकार एकदम मार डालता है। जो कुछ जंक निकाल पतित से पावन बना, वह की कमाई चट हो जाती है। फिर नयेसिर मेहनत करनी पड़े। ऐसे नहीं, उनको एलाउ नहीं करना है। नहीं, उनको समझाना है जो कुछ याद की यात्रा की, पढ़ा वह सब ख़लास हो गया। एकदम नीचे गिर पड़ते हैं। फिर भी घड़ी-घड़ी अगर गिरते रहेंगे तो कहेंगे गेट आउट। एक-दो बारी अजमाया जायेगा। दो बारी म़ाफी मिली, फिर केस होपलेस हो जाता है। फिर आयेगा भी लेकिन एकदम डर्टी क्लास में। भेंट में तो ऐसे कहेंगे ना। जो बिल्कुल कम पद पाते हैं उनको कहेंगे डर्टी क्लास। दास-दासियां, चण्डाल, प्रजा के भी नौकर-चाकर सब बनते हैं ना। बाप तो जानते हैं मैं इन्हों को पढ़ा रहा हूँ। हर 5 हजार वर्ष के बाद पढ़ाता हूँ। वह लोग लाखों वर्ष कह देते हैं। आगे चलकर यह भी कहने लग पड़ेगे कि बरोबर 5 हजार वर्ष की बात है। वो ही महाभारी लड़ाई है। परन्तु याद की यात्रा में रह न सकें। दिन प्रतिदिन टूलेट होते जायेंगे। गाया भी जाता है बहुत गई थोड़ी रही…..। यह सब इस समय की बातें हैं। बाकी थोड़ा समय है पावन बनने में। लड़ाई सामने खड़ी है। अपने दिल से पूछना है – हम याद की यात्रा पर हैं? जब कोई नया आता है तो बच्चों को फॉर्म जरूर भराना है। जब फॉर्म भरे तब उनको समझाया जाये। अगर किसको समझना ही नहीं है तो फॉर्म ही क्या भरेगा? ऐसे तो ढेर आते हैं। बोलो, बाप को पुकारते हो – पतित-पावन आओ तो जरूर यह पतित दुनिया है, तब तो कहते हैं कि आकर पावन बनाओ। फिर कोई बनते हैं, कोई नहीं बनते हैं। बाबा के पास पत्र तो ढेर आते हैं। सब लिखते हैं शिवबाबा केयरआफ ब्रह्मा। शिवबाबा भी कहते हैं – मैं साधारण तन में प्रवेश करता हैं। इनको 84 जन्मों की कहानी सुनाता हूँ। और कोई भी मनुष्य रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को नहीं जानते हैं। अब बाप ने ही तुमको बताया है। यह चित्र आदि भी बाबा ने दिव्य दृष्टि देकर सब बनवाये हैं।

बाबा तुम आत्माओं को ही पढ़ाते हैं। आत्मायें झट अशरीरी हो जाती हैं। इस शरीर से अपने को अलग समझना है, बाबा कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव, अशरीरी भव। मैं आत्माओं को पढ़ाता हूँ। यह मेला है आत्माओं और परमात्मा का, इसे संगम का मेला कहा जाता है। बाकी कोई पानी की गंगा पावन नहीं बनाती है। साधू, सन्त, ऋषि, मुनि आदि सब जाते हैं स्नान करने। अब गंगा पतित-पावनी हो कैसे सकती? भगवानुवाच है ना – काम महाशत्रु है, इस पर जीत पाने से तुम जगतजीत बन जायेंगे। गंगा वा सागर तो नहीं कहते। यह तो ज्ञान सागर बाप समझाते हैं, इन पर जीत पाने के लिए मामेकम् याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। दैवीगुण धारण करो, किसको दु:ख मत दो। पहला नम्बर दु:ख है काम कटारी चलाना। यही आदि, मध्य, अन्त दु:ख देने वाला है। सतयुग में यह होता नहीं। वह है पावन दुनिया, वहाँ कोई पतित रहता ही नहीं। जैसे तुम योगबल से राज्य लेते हो, वैसे वहाँ योगबल से बच्चा पैदा होता है। रावण राज्य ही नहीं। तुम लोग रावण को जलाते हो, पता ही नहीं पड़ता कि कब से जलाते आये हो। रामराज्य में रावण होता नहीं। यह बड़ी समझने की बातें हैं, जो बाप बैठ समझाते हैं। समझाते तो बहुत अच्छा हैं परन्तु कल्प-कल्प जो जितना पढ़े हैं, उतना ही पढ़ते हैं। पुरुषार्थ से सारा मालूम पड़ जाता है। स्थूल सेवा की भी सब्जेक्ट है, मन्सा नहीं तो वाचा, कर्मणा। वाचा तो बहुत सहज है। पहले है मन्सा अर्थात् मन्मनाभव, याद की यात्रा में रहना है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। बाबा से शिक्षा लेनी है। बहुत हैं जो बाप को याद नहीं कर सकते। ऐसे नहीं कहेंगे कि ज्ञान को याद नहीं कर सकते। मामेकम् याद नहीं कर सकते। याद नहीं करेंगे तो त़ाकत कैसे मिलेगी। बाप सर्वशक्तिमान् है, उनको याद करने से ही शक्ति आयेगी, इसको ही जौहर कहा जाता है। कर्मणा भी कोई अच्छी करे तो पद मिले। कर्मणा भी नहीं करते तो फिर पद क्या मिलेगा। सब्जेक्ट होती है ना। यह है गुप्त समझने की बातें। वो लोग योग-योग कहते रहते हैं परन्तु समझते नहीं कि योग से तुम विश्व की बादशाही लेते हो। योगबल से ही वहाँ बच्चा पैदा होता है। यह भी किसको पता नहीं है। तुमको समझाया जाता है फिर भी आधाकल्प के बाद तुम माया के मुरीद (चेला) बन जाते हो। फिर माया तुमको अभी भी नहीं छोड़ती है। अब तुमको शिवबाबा के मुरीद बनना है। कोई भी देहधारियों का मुरीद नहीं बनना है। बहन-भाई भी अब कहा जाता है – पवित्र बनने के लिए। फिर तो इससे भी ऊपर जाना है। भाई-भाई समझना है। भाई-बहन की दृष्टि भी नहीं। ड्रामा अनुसार जो कुछ चलता है, बिल्कुल एक्यूरेट। ड्रामा बहुत एक्यूरेट है। बाप तो बेफिक्र है, इनको तो फिक्र जरूर रहेगा। बेफिक्र तब रहेंगे जब कर्मातीत अवस्था होगी, तब तक कुछ न कुछ होता है। योग अच्छा चाहिए। योग के लिए बाबा अब जोर देते हैं। इसके लिए कहते हैं घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बाप उल्हना देते हैं, जो बाप तुमको इतना खजाना देते हैं उनको तुम भूल जाते हो। बाप जानते हैं किसमें ज्ञान है, किसमें नहीं है। ज्ञानी कभी छिपा नहीं रहेगा। वह झट सर्विस का सबूत देगा। तो यह सब समझने की बातें हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) माया की बॉक्सिंग में हार नहीं खानी है। पुरुषार्थ में ठण्डा हो बैठ नहीं जाना है। हिम्मत रख सेवा करनी है।

2) यह ड्रामा एक्यूरेट बना हुआ है, इसलिए किसी भी बात का फिक्र नहीं करना है। कर्मातीत अवस्था को पाने के लिए एक बाप की याद में रहना है, किसी देहधारी का मुरीद नहीं बनना है।

वरदान:- बेहद की वैराग्य वृत्ति द्वारा सर्व लगावों से मुक्त रहने वाले सच्चे राजऋषि भव
राजऋषि अर्थात् एक तरफ राज्य दूसरे तरफ ऋषि अर्थात् बेहद के वैरागी। अगर कहाँ भी चाहे अपने में, चाहे व्यक्ति में, चाहे वस्तु में कहाँ भी लगाव है तो राजऋषि नहीं। जिसका संकल्प मात्र भी थोड़ा लगाव है उसके दो नांव में पांव हुए, फिर न यहाँ के रहेंगे न वहाँ के, इसलिए राजऋषि बनो, बेहद के वैरागी बनो अर्थात् एक बाप दूसरा न कोई – यह पाठ पक्का करो।
स्लोगन:- क्रोध अग्नि रूप है जो खुद को भी जलाता और दूसरों को भी जला देता है।

TODAY MURLI 9 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 February 2018 :- Click Here

09/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, wake up early in the morning and say to the Father: g ood morning. Think about knowledge and the mercury of your happiness will then remain high.
Question: What is accurate remembrance? What are its signs?
Answer: Accurate remembrance is to remember the Father with great patience, maturity and understanding. Those who have accurate remembrance receive more current and their burden of sins continues to decrease. Such souls continue to become satopradhan, their lifespan increases and they also receive a searchlight from the Father.

Om shanti. The Father says: Sweet children. The same applies to you, that is, you souls are also embodiments of peace. The original religion of all of you souls is peace. You come here from the land of peace and then come into this ‘talkie’. You receive those physical organs to play your part s. Souls do not become larger or smaller. It is bodies that becomes larger or smaller. The Father says: I am not a bodily being. I have to come to meet you children personally, face to face. For instance, children created by a father would not say that they have come from the supreme abode, taken birth and have come to meet the mother and father. Even though a new soul enters someone else’s body, or an older soul enters someone’s body, it would not be said that that soul has come to meet the mother and father. A soul automatically receives a mother and father. Here, this is something new. The Father says: I come from the supreme abode and am now personally in front of you children. I give you children knowledge once again because I am k nowledge-full. I, the Ocean of Knowledge, come to teach you children Raja Yoga. It is only God who teaches Raja Yoga. This Godly part is not that of the Krishna soul. Each one’s part is his own; God’s part is His own. Only now do you understand how wonderfully this drama has been created. If you just remember that this is the confluence age, it becomes firm that you are going to go to the golden age. You are now at the confluence age and you are going to go to your home and you therefore definitely have to become pure. You should have a lot of happiness internally. Oho! The unlimited Father says: Sweetest children, remember Me and you will become satopradhan; you will become the masters of the world. The Father gives so much love to you children. It is not that He simply teaches you in the form of the Teacher and then goes back home. He is the Father and also the Teacher. He also teaches you; He teaches you the pilgrimage of remembrance. You should have a lot of love for the Father who purifies you and changes you from impure and makes you into the masters of the world. When you wake up early in the morning, you should first of all say, “Good morning”, to Shiv Baba. The more you remember Him with love, the happier you will remain. You children have to ask your hearts: How much do I remember the unlimited Father after waking up in the morning? People perform devotion in the morning. They perform worship with so much love, but Baba knows that some children don’t remember the Father from deep within their hearts with that much love. If you wake up early in the morning and say, “Good morning” , to Baba and churn knowledge, the mercury of your happiness can rise. If you don’t say, “Good morning” , to the Father, how would the burden of sin be removed? The main thing is remembrance. Through this, you earn a very important income for the future; this income will be useful to you for cycle after cycle. You have to have remembrance with a lot of patience, maturity and understanding. In general terms, although you say that you remember Baba a great deal, it requires effort to have accurate remembrance. Those who have more remembrance of the Father receive more current because remembrance begets remembrance. There are the two things: yoga and knowledge. The subject of yoga is separate. It is a very important subject. It is with yoga that souls become satopradhan. Without remembrance, it is impossible to become satopradhan. If you remember the Father very well with a lot of love, you will automatically receive a current and become healthy. Your lifespan also increases through that current. When children remember Baba, He gives them a searchlight. The Father gives you children such a great treasure. Sweet children, remember firmly that Shiv Baba is teaching you. Shiv Baba is the Purifier and also the Bestower of Salvation. Salvation means He gives you the kingdom of heaven. Baba is so sweet. He sits here and teaches you children with so much love. The Father teaches us through Dada. Baba is so sweet and He gives us so much love. He doesn’t give us any difficulty. He simply says: Remember Me and remember the cycle. Your hearts should become fixed in remembrance of the Father. You should be harassed by remembrance of only the one Father because you receive such a huge inheritance from the Father. Each of you should check yourself: How much love do I have for the Father? To what extent do I have the divine virtues in me? You children are now changing from thorns into flowers. To the extent that you stay in yoga, you will accordingly continue to become satopradhan and flowers from thorns. Once you have become flowers you will not be able to stay here. The garden of flowers is heaven. Those who change many thorns into flowers are said to be truly fragrant flowers; they never prick anyone. Anger is also a big thorn. It causes sorrow for many. You children have now stepped away from the world of thorns and are now at the confluence age. Just as a gardener p uts flowers in separate pots, in the same way you flowers of the confluence aged pots have been placed separately. You flowers will then go to heaven and the iron-aged thorns will be burnt. You sweet children know that you are receiving the imperishable inheritance from the Father from beyond. Those who are true children, who have full love for BapDada, will have a lot of happiness: We are becoming the masters of the world. Yes, it is with effort that you become a master of the world, not just by saying it. Those who are special, beloved children will always remember that they are once again establishing those same sun and moon dynasty kingdoms for themselves. The Father says: Sweet children, the more you benefit many others, the more return you will receive. If you show the path to many others, you will receive blessings from many. You have to fill your aprons with the jewels of knowledge and then donate them. The Ocean of Knowledge is giving you platefuls of jewels. Those who donate these jewels are loved by everyone. You children should have so much happiness in yourselves. Sensible children will say: We will claim the full inheritance from Baba. They cling to the Father completely. They have a lot of love for the Father because they know that they have found the Father who gives them life. He gives you such a blessing of knowledge that you completely change from what you were. You become solvent from insolvent. He fills your treasure-store to this extent. To the extent that you remember the Father, there will accordingly be a pull. When a needle is clean, it is pulled to a magnet. The rust will continue to be removed by having remembrance of the Father. Remember no one except the one Father. Just as a wife has so much lovefor her husband, so you too are now engaged. Does the happiness of being engaged ever become any less? Shiv Baba says: Sweet children, you are engaged to Me, not to Brahma. Once your engagement has become firm, you should be harassed by remembrance of Him. The Father explains: Sweet children, do not become careless and make mistakes. Be spinners of the discus of self-realisation and become lighthouse s. By becoming a spinner of the discus of self-realisation, you will become very well practi s e d in it and it will then be as though you have become an ocean of knowledge. Just as students study and become teachers , so this is also your business. Make everyone into a spinner of the discus of self-realisation for only then will you become kings and queens who are rulers of the globe. This is why Baba always asks you children: Children, are you sitting here as the spinners of the discus of self-realisation? The Father is also the Spinner of the discus of self-realisation. The Father has come to take you sweet children back home. Without you sweet children, even I feel restless. When the time comes, I get restless: I should now go! Children are calling out a lot and are very unhappy. Baba has mercy. You children now have to return home. Then, from there, you will go to the land of happiness by yourselves. I will not be your Companion there. You souls will go back according to your own stage. You children should have the intoxication that you are studying in this spiritual university. We are Godly students. We are studying in order to change from human beings into deities, that is, to become the masters of the world. Through this, we receive all the degrees of health, of education; we study this knowledge to reform our character sHealth Ministry, Food Ministry, Land Ministry and Building Ministry are all included in this. You are also great treasurers. No one else can have the invaluable treasures that you have. You children should churn the ocean of knowledge in this way and have spiritual intoxication. The Father sits here and explains to the sweetest children: When you are giving a lecture or explaining to someone in a gathering, then repeatedly say: Consider yourself to be a soul and remember the Supreme Father, the Supreme Soul. Only by having this remembrance will your sins be absolved and you will become pure. You have to remember this again and again. However, you can only tell others this when you yourself are in remembrance. Some children are very weak in this aspect. If you stay in remembrance, what you explain to others will then have an impact. You should not speak too much. If you explain even a little in a state of soul consciousness, the arrow will strike the target. The Father says: Children, the past is the past. First of all, reform yourself. If you yourself do not have remembrance and yet you continue to tell others, this cheating cannot continue. Internally, your conscience will definitely bite you. If you don’t have full love for the Father, you don’t follow shrimat. No one else can give the teachings that the unlimited Father gives. The Father says: Sweet children, now forget this old world. At the end, you have to forget all of these things. Your intellects are then connected to your land of peace and land of happiness. You have to go to the Father while remembering the Father. Impure souls cannot go back because that is the home of pure souls. This body is made up of the five elements. So, the five elements pull you to stay here because it is as though the soul has taken that property and this is why there is attachment to the body. You now have to remove that attachment and return home. These five elements do not exist there. In the golden age, bodies are created with the power of yoga and matter is satopradhan, and this is why there is no pull or any sorrow. These are very refined things to understand. Here, the power of the five elements pull souls and this is why they don’t have the heart to leave their bodies. Otherwise, there should be even greater happiness. Having become pure, you will leave your body just as a hair is pulled out of butter. So, you have to finish your attachment to your bodies and everything else completely as though you have no connection with any of it. Simply: I am now going to Baba. You have prepared your bags and baggage in advance to send on. They cannot go with you, because souls have to return home and the bodies have to be shed here. Baba has already given you a vision of the new body. You will receive palaces studded with diamonds and jewels. You should make so much effort to go to such a land of happiness. You must never become tired. Day and night, you have to earn a lot of income. This is why Baba says: Children who are conquerors of sleep, constantly remember Me alone and churn the ocean of knowledge. By keeping the secrets of the drama in your intellects, they become completely cool and serene. Maharathi children will never fluctuate. If you remember Shiv Baba, He will look after you. The Father liberates you children from sorrow and gives you the donation of peace. You too have to give the donation of peace. This unlimited peace of yours, that is, the power of yoga will completely silence others. You will instantly know whether someone belongs to your home or not. The soul will quickly be pulled: This is our Baba. You also have to feel the pulse. Stay in remembrance of the Father and then see whether that soul belongs to your clan or not. If he does, the soul will become completely quiet. Only those who belong to this clan will experience the sweetness of these things. When you children remember the Father, He loves you. It is for the soul that there is love. You also know that only those who have done a lot of devotion will study the most. You will continue to see from their faces how much love they have for the Father. Souls see the Father and the Father is teaching us souls. The Father too understands: I am teaching such tiny souls, points. As you progress further, your stage will become like that. You will understand that you are teaching your brothers. Even though the face may be that of a sister, your vision should go to the soul. For your vision not to go to the body at all requires a lot of effort. These are very refined things and the study is very elevated. If you were to weigh it, the side of this study would be very heavy. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Let the past be the past and first of all reform yourself. Make effort to be soul conscious. Do not speak too much.
  2. 2. Fill your apron with jewels of knowledge, donate them and become an instrument to benefit many others. Become loved by all and stay in limitless happiness.
Blessing: May you be loved by all with your accurate and elevated handling and receive blessings from everyone.
The Father didn’t see anyone’s weaknesses, but encouraged them: You belonged to me, you belong to me and will always belong to me. F ollow the Father in the same way. Come into connections and relationships with everyone while seeing their specialities, and soul-conscious love will then automatically emerge. Together with being loved by the Father, you will be loved by all. Where there is soul-conscious love, good wishes and feelings of co-operation are received from everyone in the form of blessings. This is called accurate spiritual handling.
Slogan: By concentrating on your elevated thoughts, stabilize the wandering intellects of many souls. This is real service.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 February 2018

To Read Murli 8 February 2018 :- Click Here
09-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – ”सवेरे-सवेरे उठ बाप से गुडमार्निंग करो, ज्ञान के चिंतन में रहो तो खुशी का पारा चढ़ा रहेगा”
प्रश्नः- एक्यूरेट याद क्या है? उसकी निशानियां क्या होंगी?
उत्तर:- बड़े धैर्य, गम्भीरता और समझ से बाप को याद करना ही एक्यूरेट याद है। जो एक्यूरेट याद में रहते हैं उन्हें जास्ती करेन्ट मिलती है, पापों का बोझा उतरता जाता है। आत्मा सतोप्रधान बनती जाती है। उनकी आयु बढ़ती जाती है, उन्हें बाप की सर्चलाइट मिलती है।

ओम् शान्ति। बाप कहते हैं मीठे बच्चे ततत्वम् अर्थात् तुम आत्मायें भी शान्त स्वरूप हो। तुम सर्व आत्माओं का स्वधर्म है ही शान्ति। शान्तिधाम से फिर यहाँ आकर टाकी बनते हो। यह कर्मेन्द्रियां तुमको मिलती है पार्ट बजाने के लिए। आत्मा छोटी-बड़ी नहीं होती है। शरीर छोटा बड़ा होता है। बाप कहते हैं मैं तो शरीरधारी नहीं हूँ। मुझे बच्चों से सन्मुख मिलने आना होता है। समझो जैसे बाप है, इनसे बच्चे पैदा होते हैं, तो वह बच्चा ऐसे नहीं कहेगा कि मैं परमधाम से जन्म ले मात-पिता से मिलने आया हूँ। भल कोई नई आत्मा आती है किसके भी शरीर में, वा कोई पुरानी आत्मा किसके शरीर में प्रवेश करती है तो ऐसे नहीं कहेंगे कि मात-पिता से मिलने आया हूँ। उनको आटोमेटिकली मात-पिता मिल जाते हैं। यहाँ यह है नई बात। बाप कहते हैं मैं परमधाम से आकर तुम बच्चों के सम्मुख हुआ हूँ। बच्चों को फिर से नॉलेज देता हूँ क्योंकि मैं हूँ नॉलेजफुल, ज्ञान का सागर मैं आता हूँ तुम बच्चों को पढ़ाने, राजयोग सिखाने। राजयोग सिखाने वाला भगवान ही है। कृष्ण की आत्मा का यह ईश्वरीय पार्ट नहीं है। हर एक का पार्ट अपना, ईश्वर का पार्ट अपना है।

यह ड्रामा कैसा वन्डरफुल बना हुआ है यह भी तुम अभी समझाते हो। यह पुरुषोत्तम संगमयुग है इतना सिर्फ याद रहे तो भी पक्का हो जाता है कि हम सतयुग में जाने वाले हैं। अभी संगम पर हैं, फिर जाना है अपने घर इसलिए पावन तो जरूर बनना है। अन्दर में बहुत खुशी होनी चाहिए। ओहो! बेहद का बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों मुझे याद करो तो तुम सतोप्रधान बनेंगे। विश्व का मालिक बनेंगे। बाप कितना बच्चों को प्यार करते हैं। ऐसे नहीं कि सिर्फ टीचर के रूप में पढ़ाकर और घर चले जाते हैं। यह तो बाप भी है, टीचर भी है। तुमको पढ़ाते भी है। याद की यात्रा भी सिखलाते हैं।

ऐसा विश्व का मालिक बनाने वाले, पतित से पावन बनाने वाले बाप के साथ बहुत लव होना चाहिए। सवेरे-सवेरे उठने से ही पहले-पहले शिवबाबा से गुडमार्निंग करना चाहिए। तुम जितना प्यार से याद करेंगे उतना खुशी में रहेंगे। बच्चों को अपने दिल से पूछना है कि हम सवेरे उठकर कितना बेहद के बाप को याद करते हैं। मनुष्य भक्ति भी सवेरे करते हैं ना। भक्ति कितना प्यार से करते हैं। परन्तु बाबा जानते हैं कई बच्चे दिल व जान, सिक व प्रेम से याद नहीं करते हैं। सवेरे उठ बाबा से गुडमार्निंग करें, ज्ञान के चिन्तन में रहें तो खुशी का पारा चढ़े। बाप से गुडमार्निंग नहीं करेंगे तो पापों का बोझा कैसे उतरेगा। मुख्य है ही याद। इससे तुम्हारे भविष्य के लिए बहुत भारी कमाई होती है, कल्प-कल्पान्तर यह कमाई काम आयेगी। बड़ा धैर्य, गम्भीरता, समझ से याद करना होता है। मोटे हिसाब में तो भल करके यह कह देते हैं कि हम बाबा को बहुत याद करते हैं परन्तु एक्यूरेट याद करने में मेहनत है। जो बाप को जास्ती याद करते हैं उनको करेन्ट जास्ती मिलती है क्योंकि याद से याद मिलती है। योग और ज्ञान दो चीज़ें हैं। योग की सब्जेक्ट अलग है, बहुत भारी सबजेक्ट है। योग से ही आत्मा सतोप्रधान बनती है। याद बिना सतोप्रधान होना, असम्भव है। अच्छी रीति प्यार से बाप को याद करेंगे तो आटोमेटिक्ली करेन्ट मिलेगी, हेल्दी बन जायेंगे। करेन्ट से आयु भी बढ़ती है। बच्चे याद करते हैं तो बाबा भी सर्चलाइट देते हैं। बाप कितना बड़ा भारी खजाना तुम बच्चों को देते हैं।

मीठे बच्चों को यह पक्का याद रखना है, शिवबाबा हमको पढ़ाते हैं। शिवबाबा पतित-पावन भी हैं। सद्गति दाता भी हैं। सद्गति माना स्वर्ग की राजाई देते हैं। बाबा कितना मीठा है। कितना प्यार से बच्चों को बैठ पढ़ाते हैं। बाप दादा द्वारा हमको पढ़ाते हैं। बाबा कितना मीठा है। कितना प्यार करते हैं। कोई तकलीफ नहीं देते। सिर्फ कहते हैं मुझे याद करो और चक्र को याद करो। बाप की याद में दिल एकदम ठर जानी चाहिए। एक बाप की ही याद सतानी चाहिए क्योंकि बाप से वर्सा कितना भारी मिलता है। अपने को देखना चाहिए हमारा बाप के साथ कितना लव है। कहाँ तक हमारे में दैवी गुण हैं क्योंकि तुम बच्चे अब कांटों से फूल बन रहे हो। जितना-जितना योग में रहेंगे उतना कांटों से फूल, सतोप्रधान बनते जायेंगे। फूल बन गये फिर यहाँ रह नहीं सकेंगे। फूलों का बगीचा है ही स्वर्ग। जो बहुत कांटों को फूल बनाते हैं वह ही सच्चा खुशबूदार फूल कहेंगे। कभी किसको कांटा नहीं लगायेंगे। क्रोध भी बड़ा कांटा है। बहुतों को दु:ख देते हैं। अभी तुम बच्चे कांटों की दुनिया से किनारे पर आ गये हो, तुम हो संगम पर। जैसे माली फूलों को अलग पाट (बर्तन) में निकाल रखते हैं, वैसे ही तुम फूलों को भी अब संगमयुगी पाट में अलग रखा हुआ है। फिर तुम फूल स्वर्ग में चले जायेंगे। कलियुगी कांटें भस्म हो जायेंगे।

मीठे बच्चे जानते हैं पारलौकिक बाप से हमको अविनाशी वर्सा मिलता है। जो सच्चे-सच्चे बच्चे हैं जिनका बापदादा से पूरा लव है उनको बड़ी खुशी रहेगी। हम विश्व का मालिक बनते हैं। हाँ पुरुषार्थ से ही विश्व का मालिक बना जाता है। सिर्फ कहने से नहीं। जो अनन्य बच्चे हैं उन्हों को सदैव यह याद रहेगा कि हम अपने लिए फिर से वही सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन कर रहे हैं। बाप कहते हैं मीठे बच्चे जितना तुम बच्चे बहुतों का कल्याण करेंगे उतना तुमको उजूरा मिलेगा। बहुतों को रास्ता बतायेंगे तो बहुतों की आशीर्वाद मिलेगी। ज्ञान रत्नों से झोली भरकर फिर दान करना है। ज्ञान सागर तुमको रत्नों की थालियाँ भर-भर कर देते हैं। जो उन रत्नों का दान करते हैं वही सबको प्यारे लगते हैं। बच्चों के अन्दर में कितनी खुशी होनी चाहिए। सेन्सीबुल बच्चे जो होंगे वह तो कहेंगे हम बाबा से पूरा ही वर्सा लेंगे। एकदम चटक पड़ेंगे। बाप से बहुत लव रहेगा क्योंकि जानते हैं प्राण देने वाला बाप मिला है। नॉलेज का वरदान ऐसा देते हैं जिससे हम क्या से क्या बन जाते हैं! इनसालवेन्ट से सालवेन्ट बन जाते हैं! इतना भण्डारा भरपूर कर देते हैं। जितना बाप को याद करेंगे उतना लव रहेगा, कशिश होगी। सुई साफ होती है तो चुम्बक तरफ खैंच जाती है ना। बाप की याद से कट निकलती जायेगी। एक बाप के सिवाए और कोई याद न आये। जैसे स्त्री का पति के साथ कितना लव होता है। तुम्हारी भी सगाई हुई है ना। सगाई की खुशी कभी कम होती है क्या? शिवबाबा कहते हैं मीठे बच्चे तुम्हारी हमारे साथ सगाई हुई है, ब्रह्मा के साथ सगाई नहीं है। सगाई पक्की हो गई फिर तो उनकी ही याद सतानी चाहिए।

बाप समझाते हैं मीठे बच्चे गफलत मत करो। स्वदर्शन चक्रधारी बनो, लाइट हाउस बनो। स्वदर्शन चक्रधारी बनने की प्रैक्टिस अच्छी हो जायेगी तो फिर तुम जैसे ज्ञान का सागर हो जायेंगे। जैसे स्टूडेन्ट पढ़कर टीचर बन जाते हैं ना। तुम्हारा धन्धा ही यह है। सबको स्वदर्शन चक्रधारी बनाओ तब ही चक्रवर्ती राजा-रानी बनेंगे इसलिए बाबा सदैव बच्चों से पूछते हैं बच्चे स्वदर्शन चक्रधारी हो बैठे हो? बाप भी स्वदर्शन चक्रधारी है ना। बाप आये हैं तुम मीठे बच्चों को वापिस ले जाने। तुम बच्चों बिगर हमको भी जैसे बेआरामी होती है। जब समय होता है तो बेआरामी हो जाती है। बस अभी हम जाऊं। बच्चे बहुत पुकारते हैं, बहुत दु:खी हैं। तरस पड़ता है। अब तुम बच्चों को चलना है घर। फिर वहाँ से तुम आपेही चले जायेंगे सुखधाम। वहाँ मैं तुम्हारा साथी नहीं बनूँगा। अपनी अवस्था अनुसार तुम्हारी आत्मा चली जायेगी।

तुम बच्चों को यह नशा रहना चाहिए हम रूहानी युनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं। हम गाडली स्टूडेन्ट हैं। हम मनुष्य से देवता अथवा विश्व का मालिक बनने लिए पढ़ रहे हैं। इससे हम सारी डिग्रियां पा लेते हैं। हेल्थ की एज्यूकेशन भी पढ़ते हैं, कैरेक्टर सुधारने की भी नॉलेज पढ़ते हैं। हेल्थ मिनिस्टरी, फुड मिनिस्टरी, लैन्ड मिनिस्टरी, बिल्डिंग मिनिस्टरी सब इसमें आ जाती है। तुम बड़े ट्रेजरर (खजांची) भी हो। तुम्हारे जैसा अमूल्य खजाना और किसी के पास नहीं हो सकता। ऐसे-ऐसे तुम बच्चों को विचार सागर मन्थन कर रूहानी नशे में रहना चाहिए।

मीठे-मीठे बच्चों को बाप बैठ समझाते हैं जब कोई सभा में भाषण करते हो वा किसको समझाते हो तो घड़ी-घड़ी बोलो अपने को आत्मा समझ परमपिता परमात्मा को याद करो। इस याद से ही तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे, तुम पावन बन जायेंगे। घड़ी-घड़ी यह याद करना है। परन्तु यह भी तुम तब कह सकेंगे जब खुद याद में होंगे। इस बात की बच्चों में बहुत कमजोरी है। याद में रहेंगे तब दूसरों को समझाने का असर होगा। तुम्हारा बोलना जास्ती नहीं होना चाहिए। आत्म-अभिमानी हो थोड़ा भी समझायेंगे तो तीर भी लगेगा। बाप कहते हैं बच्चे बीती सो बीती। अब पहले अपने को सुधारो। खुद याद करेंगे नहीं, दूसरों को कहते रहेंगे, यह ठगी चल न सके। अन्दर दिल जरूर खाती होगी। बाप के साथ पूरा लव नहीं है तो श्रीमत पर चलते नहीं हैं। बेहद के बाप जैसी शिक्षा तो और कोई दे न सके। बाप कहते हैं मीठे बच्चे इस पुरानी दुनिया को अब भूल जाओ। पिछाड़ी में तो यह सब भूल ही जाना है। बुद्धि लग जाती है अपने शान्तिधाम और सुखधाम में। बाप को याद करते-करते बाप के पास चले जाना है। पतित आत्मा तो जा न सके। वह है ही पावन आत्माओं का घर। यह शरीर 5 तत्वों से बना हुआ है। तो 5 तत्व यहाँ रहने लिए खींचते हैं क्योंकि आत्मा ने यह जैसे प्रापटी ली हुई है, इसलिए शरीर में ममत्व हो गया है। अब इनसे ममत्व निकाल अपने घर जाना है। वहाँ तो यह 5 तत्व हैं नहीं। सतयुग में भी शरीर योगबल से बनता है, सतोप्रधान प्रकृति होती है इसलिए खींचती नहीं। दु:ख नहीं हाता। यह बड़ी महीन बातें हैं समझने की। यहाँ 5 तत्वों का बल आत्मा को खींचता है इसलिए शरीर छोड़ने की दिल नहीं होती है। नहीं तो इसमें और ही खुश होना चाहिए। पावन बन शरीर ऐसे छोड़ेंगे जैसे मक्खन से बाल। तो शरीर से, सब चीज़ों से ममत्व एकदम मिटा देना है। इससे हमारा कोई कनेक्शन नहीं। बस हम जाते हैं बाबा के पास। इस दुनिया में अपना बैग बैगेज तैयार कर पहले से ही भेज दिया है। साथ में तो चल न सके। बाकी आत्माओं को जाना है। शरीर को भी यहाँ छोड़ देना है। बाबा ने नये शरीर का साक्षात्कार करा दिया है। हीरे जवाहरों के महल मिल जायेंगे। ऐसे सुखधाम में जाने लिए कितनी मेहनत करनी चाहिए। थकना नहीं चाहिए। दिनरात बहुत कमाई करनी है इसलिए बाबा कहते हैं नींद को जीतने वाले बच्चे, मामेकम् याद करो और विचार सागर मन्थन करो। ड्रामा के राज़ को बुद्धि में रखने से बुद्धि एकदम शीतल हो जाती है। जो महारथी बच्चे होंगे वह कभी हिलेंगे नहीं। शिवबाबा को याद करेंगे तो वह सम्भाल भी करेंगे।

बाप तुम बच्चों को दु:ख से छुड़ाकर शान्ति का दान देते हैं। तुमको भी शान्ति का दान देना है। तुम्हारी यह बेहद की शान्ति अर्थात् योगबल दूसरों को भी एकदम शान्त कर देंगे। झट मालूम पड़ जायेगा। यह हमारे घर का है वा नहीं। आत्मा को झट कशिश होगी यह हमारा बाबा है। नब्ज भी देखनी होती है। बाप की याद में रह फिर देखो यह आत्मा हमारे कुल की है। अगर होगी तो एकदम शान्त हो जायेगी। जो इस कुल के होंगे उन्हों को ही इन बातों में रस बैठेगा। बच्चे याद करते हैं तो बाप भी प्यार करते हैं। आत्मा को प्यार किया जाता है। यह भी जानते हैं जिन्होंने बहुत भक्ति की है वह ही जास्ती पढ़ेंगे। उनके चेहरे से मालूम पड़ता जायेगा कि बाप में कितना लव है। आत्मा बाप को देखती है। बाप हम आत्माओं को पढ़ा रहे हैं। बाप भी समझते हैं हम इतनी छोटी बिन्दी आत्मा को पढ़ाता हूँ। आगे चल तुम्हारी यह अवस्था हो जायेगी। समझेंगे हम भाई-भाई को पढ़ाते हैं। शक्ल बहन की होते भी दृष्टि आत्मा तरफ जाए। शरीर पर दृष्टि बिल्कुल न जाये, इसमें बड़ी मेहनत है। यह बड़ी महीन बातें हैं। बड़ी ऊंच पढ़ाई है। वज़न करो तो इस पढ़ाई का तरफ बहुत भारी हो जायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) बीती सो बीती कर पहले अपने को सुधारना है। आत्म अभिमानी रहने की मेहनत करनी है। जास्ती बोलना नहीं है।

2) अपनी झोली ज्ञान रत्नों से भरकर उनका दान कर बहुतों के कल्याण के निमित्त बनना है। सबका प्यारा बनना है। अपार खुशी में रहना है।

वरदान:- यथार्थ श्रेष्ठ हैन्डलिंग द्वारा सर्व की दुआयें प्राप्त करने वाले सर्व के स्नेही भव 
जैसे बाप ने किसी भी बच्चे की कमजोरी को नहीं देखा, हिम्मत बढ़ाई कि आप ही मेरे थे, हैं और सदा बनेंगे, ऐसे फालो फादर करो। हर एक की विशेषता को देखते सम्बन्ध-सम्पर्क में आओ तो आत्माओं से स्वत: आत्मिक प्यार इमर्ज होगा और बाप के साथ-साथ सर्व के स्नेही बन जायेंगे। जहाँ आत्मिक स्नेह है वहाँ सदा सभी द्वारा सद्भावना, सहयोग की भावना स्वत: ही दुआओं के रूप में प्राप्त होती है, इसको ही रूहानी यथार्थ हैन्डलिंग कहा जाता है।
स्लोगन:- अपने श्रेष्ठ संकल्पों की एकाग्रता द्वारा, अन्य आत्माओं की भटकती हुई बुद्धि को एकाग्र कर देना ही सच्ची सेवा है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize