today murli 9 december

TODAY MURLI 9 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 8 December 2018 :- Click Here

09/12/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
07/03/84

Only karmateet souls in the stage of retirement

are instruments for service at an intense speed.

Madhuban is the land of blessings, the powerful land, the land of elevated company, the land of easy transformation and the land that enables you to experience all attainments. Having come to such a land, do all of you experience yourselves to be full, that is, filled with everything? There is no lack of attainment of anything, is there? Have you imbibed for all time all the treasures that you have received? Do you think that when you return from here to your service places, you will become great donors and instruments to donate to everyone these powers and all attainments? Have you experienced yourselves to be destroyers of obstacles and embodiments of solutions for all time? Let alone your own problems, you also have to become the embodiments of solutions for those of other souls.

According to the time, you Brahmin souls have now gone beyond being influenced by problems. To be influenced by problems is a childhood stage. The childhood stage of Brahmin souls has now ended. In your youthful stage, with the method of becoming conquerors of Maya, you became mahavirs, you became ‘rulers of the globe’ in terms of your service, you became bestowers of blessings and great donors for many souls. You had many types of experience and became maharathis. You have now arrived at the point in time when you have to attain your karmateet stage of retirement. Only by having the karmateet stage of retirement will you be able to liberate all the souls of the world from the bondage of karma for half the cycle and send them to liberation. Only souls who are liberated can enable souls to receive their inheritance of liberation in a second from the Father. The majority of souls will come to you children who are karmateet, in the stage of retirement, great donors and bestowers of blessings and beg for liberation. For instance, people now go in front of your non-living images in the temples and pray for happiness and peace. Some go to pilgrimage places and pray for something. Some ask for something whilst sitting at home. Whatever is everyone’s capacity, that is how far they reach, but their attainment of fruit is according to their power. Some do this from their hearts whilst sitting at a distance, whereas others go in front of the idols at the pilgrimage places or in the temples and do this for show. They do it out of selfish motives. According to these accounts, as are their actions and their feelings, so will be the fruit they receive from them. Now, according to time, they will pray in front of you living idols who are great donors and bestowers of blessings. Some will go to the service places like temples. Some will reach the great pilgrimage place Madhuban and some will have visions whilst sitting at home and experience revelation through their divine intellects. Even though they don’t come here personally, they will pray with their love and determined thoughts. They will invoke you living angels into their minds and ask for a drop of the inheritance of liberation. In a short time, you will quickly have to carry out the task of enabling all souls to receive their inheritance. Just as the instruments for destruction have been refined and will thus be instruments to bring about completion at a fast speed, in the same way, you souls, who are bestowers of blessings and great donors, with your karmateet angelic forms and your completely powerful forms, will respond to the prayers of all souls and enable them to receive their inheritance of liberation. In order to carry out this task at a fast speed, are you ready as master almighty authorities, treasure-stores of all powers, treasure-stores of knowledge and embodiments of remembrance? The machinery of destruction and the machinery of blessings will work fast together at the same time.

.

You have to be ever ready over a long period of time from now. If those with an intense speed do not practise remaining karmateet and embodiments of solutions all the time, then, at the time when there is the need for intense speed, instead of being those who give, you will have to be those who simply observe. Only those who have been intense effort-makers over a long period of time will be able to become instruments for intense service. This is the lovely stage of retirement which is being free from all bondages, being detached and doing intense service with the Father. So, it is now the time to become those who give, not the time to be still those who take for themselves or for problems. The time when you were alwayscaught up in your own problems has now passed. Problems are also a creation of your own weaknesses. Any problem that comes from someone else or from certain circumstances is in fact the result of your own weakness. When there is some weakness, problems attack through some person or through circumstances. If there is no weakness, problems cannot attack. Problems that have come will make you experience being an embodiment of solutions instead of someone who experiences problems. That is the Mickey Mouse that has been created out of your own weakness. At the moment all of you are laughing, but what do you do when it comes? You yourself become a Mickey Mouse. Play with it; don’t be afraid of it. However, those are also games of childhood. Don’t create anything and don’t waste your time. Go beyond that stage and become those who are in the stage of retirement. Do you understand?

What is time telling you? What is the Father telling you? Do you enjoy playing with toys even now? What has the creation of people of the iron age become like? You hear this in the murli, do you not? They have become like scorpions and lizards. Therefore, this creation of weak problems also bites you like scorpions and lizards do and makes you powerless. Therefore, when all of you return from Madhuban having become full, have the determined thought of having finished all your own problems. However, you must not become a problem for anyone else either. You will always remain an embodiment of solutions for yourself and others. Do you understand?

You come here having incurred so much expense and with so much effort and so you will easily and constantly continue to receive the fruit of this effort with your determined thoughts. Just as you have had a determined thought for the main aspect of purity, that no matter what you have to tolerate or even if you have to die, you will remain firm in this promise. You consider it to be a sin if there is the slightest fluctuation in your dreams or thoughts. Similarly, to become an embodiment of a problem or to become influenced by a problem also goes into the account of sin. The definition and understanding of sin is: Where there is sin, there will be no remembrance of the Father; there will not be His company. Sin (pap) and Father (Bap) are like day and night. So, when you have problems, do you remember the Father at that time? You move away from Him, do you not? Then, when you get upset, you remember the Father, but you remember Him as a devotee, not as one who has a right. Give me power! Give me support! Take me across! You don’t remember Him as one who has all rights or in the form of your Companion or as an equal. So, do you understand what you now have to do? You now have to celebrate a completion ceremony. You will celebrate the completion ceremony of all problems, will you not? Or, will you just dance? You perform very good dramas. Now hold this function because a lot of time is needed for service. People there are calling out for you but you are fluctuating here. This is not good, is it? They are calling out to you bestowers of blessings and great donors and you are crying with an offmood. Therefore, how would you give them the fruit? Your hot tears will reach them too and they will continue to be afraid. Now, remember that you are the special, worthy-of-worship deities with Father Brahma. Achcha.

To those who have been intense effort-makers over a long period of time, to the children who are ever ready for intense service, to the children who are world transformers and so transformers of problems and embodiments of solutions, to the elevated souls who remain constantly merciful and loving and co-operative with devotee souls and Brahmin souls, to those who always remain beyond problems, to those who remain in the karmateet stage of retirement, to the children who are complete, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting the New York group:

Do all of you experience yourselves to be the Father’s special souls? Do you always have the happiness that just as the Father is always elevated, so you children too are also elevated like the Father? By having this awareness, all your actions will automatically become elevated. As are your thoughts, so will be your actions. So you are special souls who, with your constant awareness, remain stable in an elevated stage. Constantly continue to celebrate the happiness of this elevated birth. You will not have such an elevated birth, in which you become a child of God, throughout the whole cycle. In 5000 years, it is only at this time that you have this alokik birth. You will go into the family of souls even in the golden age, but it is at this time that you are the children of the Supreme Soul. Therefore, always remember this speciality. Always remember that you are a Brahmin from an elevated family with an elevated religion and elevated actions. Continue to move forward in this awareness at every step. Let the speed of your efforts be constantly intense. The flying stage will constantly make you a conqueror of Maya and free from bondages. Since you have made the Father belong to you, what else remains? There is just the One that remains. Everything is merged in just the One. By staying in remembrance of the One and remaining stable in a constant stage, you will continue to experience peace, power and happiness. Where there is the One, you will have the first number. So, all of you are number one, are you not? Is it easy to remember One or many? The Father makes you practise just this and nothing else. Is it easy to pick up ten things or just one? So, it is very easy for your intellect to imbibe the remembrance of One. The aim of all of you is very good. Since the aim is good, you will continue to develop good qualifications. Achcha.

Avyakt Elevated Versions – Control the Power of Thought

According to the time and the situation, with your power of coolness, adjust the speed of your thoughts and words and make them cool and patient. If the speed of your thoughts is too fast, you waste a lot of time and cannot control them. Therefore, imbibe the power of coolness and save yourself from wastefulness and accidents. You will then be liberated from the fast speed of waste and of asking “Why? What? It should not be like this”, etc. Sometimes, some children play big games. Waste thoughts come with so much force that they are unable to control themselves. Afterwards, they say “What can I do? It just happened!” They cannot stop themselves. They do whatever they want. However, you must gain power to control that waste. Just as you receive the fruit of multi-millions for one powerful thought, in the same way the fruit of one wasteful thought is sadness, disheartenment and the loss of your happiness. You experience just as much return of one. Hold your own daily court and ask all your workers, your senses, how they are doing. Whatever subtle powers you have, whether they are ministers or senior ministers, make them function according to your orders. If, from now, your royal court functions accurately you will have no need to go to the court of Dharamraj. Dharamraj will also welcome you. However, if you have no controlling power now, you will have to go to the land of Dharamraj to pay your fine at the end. The fine will be the punishment. Become refined and you will not be fined.

The present is a mirror of the future. Through the present stage of your mirror, you can very clearly see your own future. In order to have all rights to your future kingdom, check and see to what extent you have ruling power over yourself. You need to have full rights over your subtle powers, your mind, your intellect and your sanskars. These powers are your special workers. These three special powers, your royal workers, are your main co-operative workers. When these three workers work on a signal that you, the soul, the king, the one with a right to the kingdom, give them, then your kingdom will constantly function correctly. A king doesn’t do a task himself but gets it done by others. The one who does it is a servant of the king. If the king’s servants do not serve him properly, then the kingdom starts to shake. You, the soul, gets things done; it is the special trimurti powers that do the work. First of all, you have to have ruling power over them. Your physical senses will then naturally move along accordingly on the right path. Just as it is said of the golden-aged kingdom that there is one kingdom and one religion, in the same way, in your own kingdom, there now has to be one king. That is, let everything function according to your directions. Your mind should not function according to its own directions; your intellect’s power of discernment should not fluctuate; your sanskars should not make you, the soul, dance. It can then be said that you have one religion, one kingdom. Imbibe such controlling power.

In order to pass with honour s and claim all rights to the kingdom, you need to have total control over the subtle power of your mind. Your mind must do everything according to your orders. Whatever you think should be on your orders. If you say, “Stop!” it should stop. If you say, “Think about service!” it should become engaged in service. If you say, “Think about Paramdham!”, you should reach Paramdham. Now, increase such controlling power. Do not waste time battling over trivial matters. Imbibe controlling power and you will come close to your karmateet stage. When all thoughts become peaceful and you just have the one thought of experiencing meeting the one Father-just the Father and you – it is called powerful yoga. For this, you need the power to merge and the power to pack up. When you say, “Stop!” your thoughts must stop. You have to be able to apply a strong brake, not a weak one. You should have a powerful brake and powerful control. If it takes longer than a second, your power to merge is weak. At the end, there will be the one test in your final paper: Put a fullstop in a second! You will be given a number on the basis of this. If it takes longer than a second, you fail. There has to be just the one Father and yourself. There must not be any third person in between you. It mustn’t be: “I should do this. I should see this. Why does this happen? What happened?” If any such thoughts come, you fail. If you create a queue of, “Why?” or “What?”, it will then take a long time to stop that queue. Once you create your creation, you have to sustain it. You cannot be released from having to sustain it. You will have to give time and energy to it. Therefore, exercise birth control over any wasteful creation.

Those who can handle their own subtle powers are also able to handle others. Once you have controlling power and ruling power over yourself, you will have the accurate power to handle everyone. Whether it is serving souls without knowledge or interacting with Brahmin souls with love and contentment, you will be successful in both.

Blessing: May you be filled with the newness and speciality of combining your thoughts and words and thereby perform magic.
The combination of thoughts and words works like magic. By doing this, all the trivial matters of a gathering will finish in such a way that you will think it is magic. When your mind is busy having pure feelings and pure blessings for everyone, any upheaval in the mind will finish and you will never be disappointed in your efforts. You will never be afraid in a gathering. By doing the combined service of your thoughts and words, you will see the impact of such service at a fast speed. Now, become full of this newness and speciality in service and the 900,000 subjects will easily become ready.
Slogan: Your intellect will make accurate decisions when you become completely viceless.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 December 2018

To Read Murli 8 December 2018 :- Click Here
09-12-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 07-03-84 मधुबन

कर्मातीत, वनाप्रस्थी आत्मायें ही तीव्रगति की सेवा के निमित्त

मधुबन वरदान भूमि, समर्थ भूमि, श्रेष्ठ संग की भूमि, सहज परिवर्तन भूमि, सर्व प्राप्तियों के अनुभव कराने वाली भूमि है। ऐसी भूमि पर आकर सभी स्वयं को सम्पन्न अर्थात् सब बातों से भरपूर अनुभव करते हो? कोई अप्राप्ति तो नहीं है? जो सर्व खजाने मिले हैं उन्हों को सदाकाल के लिए धारण किया है? ऐसे समझते हो कि यहाँ से सेवा स्थान पर जाकर महादानी बन यही शक्तियाँ, सर्व प्राप्तियाँ सर्व को देने के निमित्त बनेंगे? सदा के लिए स्वयं को विघ्न-विनाशक, समाधान स्वरूप अनुभव किया है? स्व की समस्या तो अलग रही लेकिन अन्य आत्माओं के समस्याओं का भी समाधान स्वरूप।

समय के प्रमाण अब ब्राह्मण आत्मायें समस्याओं के वश हो जाएं, इससे अभी पार हो गये। समस्याओं के वश होना – यह बाल अवस्था है। अब ब्राह्मण आत्माओं की बाल अवस्था का समय समाप्त हो चुका। युवा अवस्था में मायाजीत बनने की विधि से महावीर बने, सेवा में चक्रवर्ती बने, अनेक आत्माओं के वरदानी महादानी बने, अनेक प्रकार के अनुभव कर महारथी बने, अब कर्मातीत वानप्रस्थ स्थिति में जाने का समय पहुँच गया है। कर्मातीत वानप्रस्थ स्थिति द्वारा ही विश्व की सर्व आत्माओं को आधाकल्प के लिए कर्म बन्धनों से मुक्त कराए मुक्ति में भेजेंगे। मुक्त आत्मायें ही सेकण्ड में मुक्ति का वर्सा बाप से दिला सकती हैं। मैजारिटी आत्मायें मुक्ति की भीख मांगने के लिए आप कर्मातीत वानप्रस्थ महादानी वरदानी बच्चों के पास आयेंगी। जैसे अभी आपके जड़ चित्रों के आगे, कोई मन्दिरों में जाकर प्रार्थना कर सुख शान्ति मांगते हैं। कोई तीर्थ स्थानों पर जाकर मांगते हैं। कोई घर बैठे मांगते हैं। जिसकी जहाँ तक शक्ति होती वहाँ तक पहुँचते हैं, लेकिन यथाशक्ति, यथाफल की प्राप्ति करते हैं। कोई दूरे बैठे भी दिल से करते हैं और कोई मूर्ति के सामने तीर्थ स्थान वा मन्दिरों में जाकर भी दिखावे मात्र करते हैं। स्वार्थ वश करते हैं। उन सब हिसाब अनुसार जैसा कर्म, जैसी भावना वैसा फल मिलता है। ऐसे अब समय प्रमाण आप चैतन्य महादानी वरदानी मूर्तियों के आगे प्रार्थना करेंगे। कोई सेवा स्थान रूपी मन्दिरों में पहुँचेंगे। कोई महान तीर्थ मधुबन तक पहुँचेंगे और कोई घर बैठे साक्षात्कार करते दिव्य बुद्धि द्वारा प्रत्यक्षता का अनुभव करेंगे। सम्मुख न आते भी स्नेह और दृढ़ संकल्प से प्रार्थना करेंगे। मन्सा में आप चैतन्य फरिश्तों का आह्वान कर मुक्ति के वर्से की अंचली मांगेंगे। थोड़े समय में सर्व आत्माओं को वर्सा दिलाने का कार्य तीव्रगति से करना होगा। जैसे विनाश के साधन रिफाइन होने के कारण तीव्रगति से समाप्ति के निमित्त बनेंगे, ऐसे आप वरदानी महादानी आत्मायें, अपने कर्मातीत फरिश्ते स्वरूप के सम्पूर्ण शक्तिशाली स्वरूप द्वारा, सर्व की प्रार्थना का रेसपान्ड मुक्ति का वर्सा दिलायेगी। तीव्रगति के इस कार्य के लिए मास्टर सर्व शक्तिवान, शक्तियों के भण्डार, ज्ञान के भण्डार, याद स्वरूप तैयार हो? विनाश की मिशनरी और वरदान की मशीनरी दोनों तीव्रगति से साथ-साथ चलेंगी।

बहुतकाल से अर्थात् अब से भी एवररेडी। तीव्र-गति वाले कर्मातीत, समाधान स्वरूप सदा रहने का अभ्यास नहीं करेंगे तो तीव्रगति के समय देने वाले बनने के बजाए देखने वाले बनना पड़े। तीव्र पुरुषार्थी बहुत काल वाले तीव्र-गति की सेवा निमित्त बन सकेंगे। यह है वानप्रस्थ अर्थात् सर्व बन्धन-मुक्त, न्यारे और बाप के साथ-साथ तीव्रगति के सेवा की प्यारी अवस्था। तो अब देने वाले बनने का समय है, ना कि अब भी स्वयं प्रति, समस्याओं प्रति लेने वाले बनने का समय है। स्व की समस्याओं में उलझना – अब वह समय गया। समस्या भी एक अपनी कमजोरी की रचना है। कोई द्वारा वा कोई सरकमस्टांस द्वारा आई हुई समस्या वास्तव में अपनी कमजोरी का ही कारण है। जहाँ कमजोरी है वहाँ व्यक्ति द्वारा वा सरकमस्टांस द्वारा समस्या वार करती है। अगर कमजोरी नहीं तो समस्या का वार नहीं। आई हुई समस्या, समस्या के बजाए समाधान रूप में अनुभवी बनायेगी। यह अपनी कमजोरी के उत्पन्न हुए मिक्की माउस हैं। अभी तो सब हॅस रहे हैं और जिस समय आती है उस समय क्या करते हैं? खुद भी मिक्की माउस बन जाते हैं। इससे खेलो न कि घबराओ। लेकिन यह भी बचपन का खेल है। न रचना करो, न समय गंवाओ। इससे परे स्थिति में वानप्रस्थी बन जाओ। समझा!

समय क्या कहता? बाप क्या कहता? अब भी खिलौनों से खेलना अच्छा लगता है क्या? जैसे कलियुग की मानव रचना भी क्या बन गई है? मुरली में सुनते हो ना। बिच्छु-टिण्डन हो गये हैं। तो यह कमजोर समस्याओं की रचना भी बिच्छू टिण्डन के समान स्वयं को काटती है, शक्तिहीन बना देती है। इसलिए सभी मधुबन से सम्पन्न बन यह दृढ़ संकल्प करके जाना कि अब से स्वयं की समस्या को तो समाप्त किया लेकिन और किसके लिए भी समस्या स्वरूप नहीं बनेंगे। स्व प्रति, सर्व के प्रति सदा समाधान स्वरूप रहेंगे। समझा!

इतना खर्चा करके मेहनत करके आते हो तो मेहनत का फल इस दृढ़ संकल्प द्वारा सहज सदा मिलता रहेगा। जैसे मुख्य बात पवित्रता के लिए दृढ़ संकल्प किया है ना कि मर जायेंगे, सहन करेंगे लेकिन इस व्रत को कायम रखेंगे। स्वप्न में वा संकल्प में भी अगर ज़रा भी हलचल होती है तो पाप समझते हो ना। ऐसे समस्या स्वरूप बनना या समस्या के वश हो जाना – यह भी पाप का खाता है। पाप की परिभाषा है, पहचान है, जहाँ पाप होगा वहाँ बाप याद नहीं होगा, साथ नहीं होगा। पाप और बाप, दिन और रात जैसे हैं। तो जब समस्या आती है उस समय बाप याद आता है? किनारा हो जाता है ना? फिर जब परेशान होते हो तब बाप याद आता है। और वह भी भक्त के रूप में याद करते हो, अधिकारी के रूप में नहीं। शक्ति दे दो, सहारा दे दो। पार लगा दो। अधिकारी के रूप में, साथी के रूप में, समान बनकर याद नहीं करते हो। तो समझा, अब कया करना है। समाप्ति समारोह मनाना है ना। समस्याओं का समाप्ति समारोह मनायेंगे ना! या सिर्फ डान्स करेंगे? अच्छे-अच्छे ड्रामा करते हो ना! अभी यह फंक्शन करना क्योंकि अभी सेवा में समय बहुत चाहिए। वहाँ पुकार रहे हैं और यहाँ हिल रहे हैं, यह तो अच्छा नहीं है ना! वह वरदानी, महादानी कह याद कर रहे हैं और आप मूड आफ में रो रहे हैं तो फल कैसे देंगे! उनके पास भी आपके गर्म आंसू पहुँच जायेंगे। वह भी घबराते रहेंगे। अभी याद रखो कि हम ब्रह्मा बाप के साथ-इष्ट देव पूज्य आत्मायें हैं। अच्छा!

सदा बहुतकाल के तीव्र पुरुषार्थी, तीव्रगति की सेवा के एवररेडी बच्चों को सदा विश्व परिवर्तन सो समस्या परिवर्तक, समाधान स्वरूप बच्चों को, सदा रहमदिल बन भक्त आत्माओं और ब्राह्मण आत्माओं के स्नेही और सहयोगी रहने वाली श्रेष्ठ आत्मायें, सदा समस्याओं से परे रहने वाले, कर्मातीत वानप्रस्थ स्थिति में रहने वाले सम्पन्न स्वरूप बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

न्यूयार्क पार्टी से:- सभी अपने को बाप की विशेष आत्मायें अनुभव करते हो? सदा यही खुशी रहती है कि जैसे बाप सदा श्रेष्ठ है वैसे हम बच्चे भी बाप समान श्रेष्ठ हैं? इसी स्मृति से सदा हर कर्म स्वत: ही श्रेष्ठ हो जायेगा। जैसा संकल्प होगा वैसे कर्म होंगे। तो सदा स्मृति द्वारा श्रेष्ठ स्थिति में स्थित रहने वाली विशेष आत्मायें हो। सदा अपने इस श्रेष्ठ जन्म की खुशियां मनाते रहो। ऐसा श्रेष्ठ जन्म जो भगवान के बच्चे बन जायें – ऐसा सारे कल्प में नहीं होता। पांच हजार वर्ष के अन्दर सिर्फ इस समय यह अलौकिक जन्म होता है। सतयुग में भी आत्माओं के परिवार में आयेंगे लेकिन अब परमात्म सन्तान हो। तो इसी विशेषता को सदा याद रखो। सदा मैं ब्राह्मण ऊंचे ते ऊंचे धर्म, कर्म और परिवार का हूँ। इसी स्मृति द्वारा हर कदम में आगे बढ़ते चलो। पुरुषार्थ की गति सदा तेज हो। उड़ती कला सदा ही मायाजीत और निर्बन्धन बना देगी। जब बाप को अपना बना दिया तो और रहा ही क्या। एक ही रह गया ना। एक में ही सब समाया हुआ है। एक की याद में, एकरस स्थिति में स्थित होने से शान्ति, शक्ति और सुख की अनुभूति होती रहेगी। जहाँ एक है वहाँ एक नम्बर है। तो सभी नम्बरवन हो ना! एक को याद करना सहज है या बहुतों को? बाप सिर्फ यही अभ्यास कराते हैं और कुछ नहीं। दस चीज़ें उठाना सहज है या एक चीज़ उठाना सहज है? तो बुद्धि द्वारा एक की याद धारण करना बहुत सहज है। लक्ष्य सबका बहुत अच्छा है। लक्ष्य अच्छा है तो लक्षण अच्छे होते ही जायेंगे। अच्छा!

अव्यक्त महावाक्य – संकल्प शक्ति को कन्ट्रोल करो

समय प्रमाण शीतलता की शक्ति द्वारा हर परिस्थिति में अपने संकल्पों की गति को, बोल को शीतल और धैर्यवत बनाओ। यदि संकल्प की स्पीड फास्ट होगी तो बहुत समय व्यर्थ जायेगा, कन्ट्रोल नहीं कर सकेंगे इसलिए शीतलता की शक्ति धारण कर लो तो व्यर्थ से वा एक्सीडेंट से बच जायेंगे। यह क्यों, क्या, ऐसा नहीं वैसा, इस व्यर्थ की फास्ट गति से छूट जायेंगे। कोई-कोई बच्चे कभी-कभी बड़ा खेल दिखाते हैं। व्यर्थ संकल्प इतना फोर्स से आते जो कन्ट्रोल नहीं कर पाते। फिर उस समय कहते क्या करें हो गया ना! रोक नहीं सकते। जो आया वह कर लिया लेकिन व्यर्थ के लिए कन्ट्रोलिंग पावर चाहिए। जैसे एक समर्थ संकल्प का फल पदमगुणा मिलता है। ऐसे ही एक व्यर्थ संकल्प का हिसाब-किताब – उदास होना, दिलशिकस्त होना वा खुशी गायब होना-यह भी एक का बहुत गुणा के हिसाब से अनुभव होता है। रोज़ अपनी दरबार लगाओ और अपने सभी कार्यकर्ता कर्मचारियों से हालचाल पूछो। आपकी जो सूक्ष्म शक्तियां मंत्री वा महामंत्री हैं, उन्हें अपने आर्डर प्रमाण चलाओ। यदि अभी से राज्य दरबार ठीक होगा तो धर्मराज की दरबार में नहीं जायेगे। धर्मराज भी स्वागत करेगा। लेकिन यदि कन्ट्रोलिंग पावर नहीं होगी तो फाइनल रिज़ल्ट में फाइन भरने के लिए धर्मराज पुरी में जाना पड़ेगा। यह सजायें फाइन हैं। रिफाइन बन जाओ तो फाइन नहीं भरना पड़ेगा।

वर्तमान, भविष्य का दर्पण है। वर्तमान की स्टेज अर्थात् दर्पण द्वारा अपना भविष्य स्पष्ट देख सकते हो। भविष्य राज्यअधिकारी बनने के लिए चेक करो कि वर्तमान मेरे में रूलिंग पावर कहाँ तक है? पहले सूक्ष्म शक्तियाँ, जो विशेष कार्यकर्ता हैं – संकल्प शक्ति के ऊपर, बुद्धि के ऊपर और संस्कारों के ऊपर पूरा अधिकार हो। यह विशेष तीन शक्तियाँ राज्य की कारोबार चलाने वाले मुख्य सहयोगी कार्यकर्ता हैं। अगर यह तीनों कार्यकर्ता आप आत्मा अर्थात् राज्य-अधिकारी राजा के इशारे पर चलते हैं तो सदा वह राज्य यथार्थ रीति से चलेगा। जैसे राजा स्वयं कोई कार्य नहीं करता, कराता है। करने वाले राज्य कारोबारी अलग होते हैं। अगर राज्य कारोबारी ठीक नहीं होते तो राज्य डगमग हो जाता है। ऐसे आत्मा भी करावनहार है, करनहार ये विशेष त्रिमूर्ति शक्तियाँ हैं। पहले इनके ऊपर रूलिंग पावर हो तो यह साकार कर्मेन्द्रियाँ उनके आधार पर स्वत: ही सही रास्ते पर चलेंगी। जैसे सतयुगी सृष्टि के लिए कहते हैं एक राज्य एक धर्म है। ऐसे ही अब स्वराज्य में भी एक राज्य अर्थात् स्व के इशारे पर सर्व चलने वाले हों। मन अपनी मनमत पर न चलावे, बुद्धि अपनी निर्णय शक्ति की हलचल न करे। संस्कार आत्मा को नाच नचाने वाले न हो तब कहेंगे एक धर्म, एक राज्य। तो ऐसी कन्ट्रोलिंग पावर धारण करो।

पास विद आनर बनने अथवा राज्य अधिकारी बनने के लिए मन जो सूक्ष्म शक्ति है वह कन्ट्रोल में हो अर्थात् आर्डर प्रमाण कार्य करे। जो सोचो वह आर्डर में हो। स्टॉप कहो तो स्टॉप हो जाए, सेवा का सोचो तो सेवा में लग जाए। परमधाम का सोचो तो परमधाम में पहुंच जाए। ऐसी कन्ट्रोलिंग पावर अभी बढ़ाओ। छोटे-छोटे संस्कारों में, युद्ध में समय नहीं गंवाओ। कन्ट्रोंलिग पावर धारण कर लो तो कर्मातीत अवस्था के समीप पहुंच जायेंगे। जब और सब संकल्प शान्त हो जाते हैं, बस एक बाप और आप – इस मिलन की अनुभूति का संकल्प रहता है तब पावरफुल योग कहा जाता है। इसके लिए समाने वा समेटने की शक्ति चाहिए। स्टॉप कहते ही संकल्प स्टॉप हो जाएं। फुल ब्रेक लगे, ढीली नहीं। पावरफुल ब्रेक हो। कन्ट्रोलिंग पावर हो। अगर एक सेकण्ड के सिवाए ज्यादा समय लग जाता है तो समाने की शक्ति कमजोर है। लास्ट में फाइनल पेपर का क्वेश्चन होगा-सेकण्ड में फुल स्टॉप, इसी में ही नम्बर मिलेंगे। सेकेण्ड से ज्यादा हो गया तो फेल हो जायेंगे। एक बाप और मैं, तीसरी कोई बात न आये। ऐसे नहीं यह कर लूं, यह देख लूं…यह हुआ, नहीं हुआ। यह क्यों हुआ, यह क्या हुआ-कोई भी बात आई तो फेल। कोई भी बात में क्यों, क्या की क्यू लगा दी तो उस क्यू को समाप्त करने में बहुत समय जायेगा। जब रचना रच ली तो पालना करनी पड़ेगी, पालना से बच नहीं सकते। समय, एनर्जी देनी ही पड़ेगी, इसलिए इस व्यर्थ रचना का बर्थ कन्ट्रोल करो।

जो अपनी सूक्ष्म शक्तियों को हैंडिल कर सकता है, वह दूसरों को भी हैंडिल कर सकता है। तो स्व के ऊपर कन्ट्रोलिंग पावर, रूलिंग पावर सर्व के लिए यथार्थ हैंडलिंग पावर बन जाती है। चाहे अज्ञानी आत्माओं को सेवा द्वारा हैंडिल करो, चाहे ब्राह्मण-परिवार में स्नेह सम्पन्न, सन्तुष्टता सम्पन्न व्यवहार करो – दोनों में सफल हो जायेंगे।

वरदान:- मन्सा और वाचा के मेल द्वारा जादूमंत्र करने वाले नवीनता और विशेषता सम्पन्न भव 
मन्सा और वाचा दोनों का मिलन जादूमंत्र का काम करता है, इससे संगठन की छोटी-छोटी बातें ऐसे समाप्त हो जायेंगी जो आप सोचेंगे कि यह तो जादू हो गया। मन्सा शुभ भावना वा शुभ दुआयें देने में बिजी हो तो मन की हलचल समाप्त हो जायेगी, पुरुषार्थ से कभी दिलशिकस्त नहीं होंगे। संगठन में कभी घबरायेंगे नहीं। मन्सा-वाचा की सम्मिलित सेवा से विहंग मार्ग की सेवा का प्रभाव देखेंगे। अब सेवा में इसी नवीनता और विशेषता से सम्पन्न बनो तो 9 लाख प्रजा सहज तैयार हो जायेगी।
स्लोगन:- बुद्धि यथार्थ निर्णय तब देगी जब पूरे-पूरे वाइसलेस बनेंगे।

TODAY MURLI 9 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 9 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 December 2017 :- Click Here

09/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you should have the happiness that you are now to leave this world and everything within it and go to your home, the land of peace, and then to the land of happiness.
Question: In order to move constantly forward on this delicate path, what must you definitely be cautious about?
Answer: Don’t become a friend of anyone who tells you wasteful or devilish things. To listen and agree with others when they speak of defamatory things means to be disobedient to the Father. Therefore, become merciful and help them end their habits. Become obedient to the Father. Wear the eye make-up (ointment) of knowledge. This is a very delicate path. By moving along with great caution you will continue to make progress.
Song: Take us away from this land of sin to a world of rest and comfort!

Om shanti. Sweet children, you have now become sensible and you feel that you were previously so senseless. You didn’t even understand that this world is an impure world and that it was pure and happy when the deities ruled in this Bharat; there was nothing of sorrow there at that time. However, you didn’t even have the faith that there is constant happiness in heaven. No one knew about heaven. People think that there was sorrow there too. That, too, is senselessness. You children have now become sensible. The Father has come and explained to you. You are following His shrimat. People say that this is the impure world and that heaven was the pure world. If there is sorrow in the pure world, then that is also a world of sorrow. In that case the song is wrong. It says: O Baba, take us to a place where there is comfort, rest and happiness. You children also know that heaven was the ‘Golden Sparrow’. There used to be deities there. You still say that you didn’t cause sorrow for one another, but you then say that sorrow and happiness have continued since time immemorial. People have falsely accused Krishna. It is said: As is the vision of impure ones, so their world. They believe that the whole world is impure. At this time their vision is impure and so they believe that the whole world is impure. They say that impure activities have continued since time immemorial. You children are now becoming sensible, but that, too, is numberwise, according to the efforts you make. You children are receiving directions from the Supreme Father, the Supreme Soul. The Father sits here and explains to you souls: All are impure souls. Therefore, impure souls are called sinful souls. The Father says to souls: You are My imperishable children. You say: Mama, Baba. No one in this world can be called Pita Shri. Shri means elevated, but not a single human being here is elevated. This can only be the praise of One. However, you call this one by that name at this time because he has adopted renunciation in order to become elevated. You know that you are now going to become angels. However, while you are moving along and becoming elevated, Maya, Ravan, quickly slaps you and corrupts you. Corrupt ones cannot be called Shri (elevated). It is said: Shri Lakshmi, Shri Narayan, Shri Radhe, Shri Krishna. People go to temples and sing their praise. They cannot call themselves elevated. You children have now understood that Bharat was elevated. There weren’t any impure, dirty clothes there. They were pure and elevated there. The Father’s praise is that He washed the dirty, impure clothes and made them pure. At this time all are impure; it is truly Ravan’s kingdom. People burn an effigy of Ravan every year but he doesn’t get burnt; he appears again and again. Because they have burnt him, people are unable to understand why a new one is created every year. It proves that Ravan’s kingdom has not gone away. In heaven, when it is the kingdom of Rama, they do not create an effigy of Ravan. They say that they burnt Ravan and then looted Lanka. They show a golden Lanka of Ravan. However, it is not like that. This whole world is Lanka; this is an island. There is Ravan’s kingdom over the whole world. Only you children understand this. If a senseless person were to go and sit in a college , what would he be able to understand? Nothing at all; he would simply be wasting his time. This is the Godly c ollege. A new person would not be able to understand anything here. This is why he has to be made to sit in quarantine for seven days until he becomes worthy. Nevertheless, if that person is a good, religious-minded person you can ask him: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? He is the Father of souls and Prajapita is also a father. This point is very good, but children don’t remain that cheerful through this. The Father says: I tell you new points with which your intoxication can rise and you can also learn ways to explain to others. You can ask them to fill in a form and then ask them: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? They would say: The Supreme Father is the Father. Therefore, at that time, the idea of omnipresence would fly away. If you ask them this question, they would say that He is the Father and that we are all children. If they believe this much, you should get them to write it down. You are also the children of Prajapita. Shiva is Dada (Grandfather) and this one (Brahma) is Baba. Shiv Baba is the One who establishes heaven and so you will definitely receive the inheritance from Him. You have to find the easiest things of all. Go to your friends and relatives and also explain this to them. You have the intoxication that you claim your inheritance from BapDada. You will not receive the inheritance from the mother. It is the Father who has to establish heaven. He is the Master. Just as this one has a right to the Grandfather’s inheritance, in the same way grandchildren too have a right. The Father says: Remember Me! He doesn’t say: Also remember this bodily being. The Father is speaking to you personally. He also explained to you in the previous cycle. However, children become very body conscious. You love bodily beings. The Father says: O souls, you came bodiless and, having played your part s, you have now completed your 84 births. Now, I am telling you that you have to return home. Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. Your sins won’t be absolved by remembering bodily beings. You promise Baba that you will remember Him alone. You are no longer to live in this old world. There is no comfort here. This is why you ask to be taken to a place where there is happiness and comfort. You children know that you will first go to the land of peace. There, you will not mention happiness. There will be peace and nothing but peace. You will then go to the land of happiness. There, you won’t mention peace. It is when there is sorrow that there is peacelessness. There is peace merged in happiness anyway. However, that is not the land of peace. The land of peace is the sweet home of souls. The Father knows the beginning, the middle and the end of everything. Now, the business of you children is to study and teach others and also perform actions for the livelihood of your bodies. You know that you will go from this land of death to the land of immortality via the land of peace. You have to keep this in your intellects until you become transferred. You have to study until the result s of your study are out. You have to study until you die. You can at least remember that you now have to go home! You have to leave this world and everything in it here. You should be happy. You have understood the secrets of the unlimited play. When a limited play comes to an end, they change their clothes and go home. Similarly, we too now have to go home. The cycle of 84 births is now coming to an end. You remember the Purifier and ask Him to come. You should then only remember Shiv Baba. On the one hand, you say: “O Purifier, come!” and, on the other hand, you say that He is omnipresent! There is no meaning to that. He tells you children so easily: Remember the land of peace. This is the land of sorrow. The destruction of it is just ahead. This is the same Mahabharat War. There are the Yadavas who are the residents of Europe. The Kauravas and the Pandavas are brothers. We are all from the same family. There cannot be a war between brothers. There is no question of war here. The business of human beings is to make one another fight. This is a system. All are enemies of one another. Even children become enemies of their parents. In the land of death the customs and systems of everyone are their own. Look how big the Father’s plan is! He ends everyone’s plansand establishes the land of happiness. He sends everyone else to the land of peace. You children can see whom you are sitting in front of. You have the faith that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Love. He is giving us knowledge through these organs. Would there be any other spiritual gathering like this? Here, the Father sits in front of you and explains to you. You know that the Father is speaking to you souls. We are listening through our ears. Baba is speaking through the mouth of this Dada. The jewels that emerge through the lips of Baba should emerge through the lips of you children. Let only jewels constantly emerge from your lips. You shouldn’t even listen to useless devilish things. Some listen to such things in great happiness. The Father says: If you hear such things or you see others saying such things, tell Baba and He will make them understand. Otherwise, they become firm in that. This continues to happen. They don’t even tell Baba that so-and-so is talking about useless things. If he is forbidden to do it, that habit will end. The Father would explain to the gathering, but some of you then become friends of such children. Maya turns the intellects of very good children to stone. They don’t become obedient children of the Father. This is a very delicate path. You have to be very cautious here. Become merciful so that if anyone has any habits, you end them. You shouldn’t just agree with them and continue to listen to them. Baba is making you into the masters of the land of happiness. We will never listen to defamation of such a Father. We have to claim our inheritance from Shiv Baba; we aren’t concerned about anything else. Whether anyone listens to this or not, we will at least wear the ointment of knowledge. Some wear eye make up of knowledge and some wear eye make up of mud. One’s third eye of knowledge won’t open through that. Baba explains everything so easily that, no matter how diseased, blind or crippled someone may be, he can understand. There are the two words: Alpha and beta. The Father says: Children, stay friendly with your friends and relatives; become very sweet. Your duty is to give the Father’s introduction. Even if someone is an enemy, you have to stay friendly. Become very sweet! The Father says: You have insulted Me so much by following devilish dictates. You defamed Me but, in spite of that, I uplift you so much! It is fixed in the drama for God to be defamed. This is why it is said: Whenever there is extreme irreligiousness, I come…. He has come into Bharat. He also explains to us. You children have to understand everything very clearly. If it is not in someone’s fortune, he continues to do devilish business. As soon as you leave here you forget these things. By defaming God, your condition has become such. Now stop defaming God! Your name is written: Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. They would understand that you are the grandchildren of Shiva. You would definitely receive the inheritance of heaven. Bharat received the inheritance, but it doesn’t have it now. It is now receiving it once again. In the golden age there was just the sun dynasty. Now remember the Father and your sins will be absolved and you will go there. The Father explains so well! You children also have to do service but, first, your attitude has to become very good. You mustn’t just become a pundit. If you are a firm yogi, a Raja Rishi, the arrow will strike others. If you have a weakness yourself, you would not be able to tell others anything. You would feel ashamed and your sin would continue to bite you inside. Baba explains everything very well. He explained to you in the same way in the previous cycle. Whether someone studies or not, the deity religion will definitely be established. Nevertheless, the Father says: At least become a little sensible! Keep this income as well as that income in your intellect. Only the Father inspires you to earn the true income. Don’t forget to remember the Father and heaven. By constantly remembering Baba, your final thoughts will lead you to your destination. Wake up early in the morning and remember the Father. If you feel lazy, then understand that it is not in your fortune. Practise in such a way that, you don’t even remember your body at the end. I am a soul. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep your attitude pure and even make your enemies into your friends. Uplift those who defame you and give everyone the Father’s true introduction.
  2. Let only the jewels that emerge through Baba’s lips emerge through your lips. Don’t listen to or speak of wasteful things.
Blessing: May you be a self-transformer and so a world transformer who transforms the negative into positive.
In order to transform any thought or sanskar to be transformed from negative into positive in a second, you need to practise applying a brake to the traffic throughout the day because the speed of wasteful and negative thoughts is very fast. At the time of a fast speed, practise transforming it by applying a powerful brake. You will then be able to transform your waste and become a self-transformer and so a world transformer. Then, through your angelic form, you will be able to give many souls blessings of happiness and peace.
Slogan: Only those who keep the knowledge of the drama in their awareness are able to become victorious with the method of “nothing new”.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 9 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 9 December 2017

To Read Murli 8 December 2017 :- Click Here
09/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें खुशी होनी चाहिए कि हम अभी यह दुनिया, यह सब कुछ छोड़ अपने घर शान्तिधाम जायेंगे फिर सुखधाम में आयेंगे”
प्रश्नः- इस नाज़ुक रास्ते में निरन्तर आगे बढ़ने के लिए कौन सी खबरदारी जरूर रखनी है?
उत्तर:- कभी भी कोई व्यर्थ वा शैतानी बातें सुनाये तो उसका मित्र नहीं बनो। हाँ जी करके ग्लानी की बातें सुनना माना बाप का नाफरमानबरदार बनना, इसलिए रहमदिल बन उसकी आदत को मिटाना है। बाप का फरमानबरदार बनना है। ज्ञान का शुर्मा पहन लेना है। यही बहुत नाज़ुक रास्ता है जिसमें खबरदार होकर चलने से ही आगे बढ़ते रहेंगे।
गीत:- इस पाप की दुनिया से…

ओम् शान्ति। मीठे बच्चे अब तुम समझदार बने हो और फील करते हो कि पहले हम कितने बेसमझ थे। यह भी समझ में नहीं आता था कि यह पतित दुनिया है और इसी भारत में जब देवी देवताओं का राज्य था तो पावन सुखी थे। उसमें कोई दु:ख की बात नहीं थी। परन्तु यह भी निश्चय नहीं होता था कि स्वर्ग में सदैव सुख होगा। स्वर्ग का किसको पता नहीं था। मनुष्य तो समझते हैं वहाँ भी दु:ख था। यह है बेसमझी। अब तुम बच्चे समझदार बने हो। बाप ने आकर समझाया है। उनकी श्रीमत पर तुम चल रहे हो। मनुष्य कहते भी हैं कि यह पतित दुनिया है। स्वर्ग पावन दुनिया थी। पावन दुनिया में भी दु:ख हो फिर तो दु:ख की ही दुनिया हुई। फिर गीत भी रांग हो जाता है। कहते हैं हे बाबा ऐसी जगह ले चलो जहाँ आराम, सुख चैन हो। बच्चे यह भी जानते हैं स्वर्ग सोने की चिड़िया थी। देवी-देवता थे, कहते भी हैं हम एक दो को दु:ख नहीं देते थे। परन्तु फिर कह देते कि यह दु:ख सुख सब परम्परा से चला आता है। कृष्ण पर भी झूठे कलंक लगा दिये हैं। कहा जाता है जैसी पतितों की दृष्टि वैसी सृष्टि, समझते हैं सारी सृष्टि पतित ही है। इस समय उन्हों की दृष्टि ही पतित है तो सारी सृष्टि को ही पतित समझते हैं। कह देते हैं परम्परा से यह पतितपना चला आता है।

अभी तुम बच्चों में समझ आती जाती है – सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। बच्चों को परमपिता परमात्मा के डायरेक्शन मिलते हैं। आत्माओं को बाप बैठ समझाते हैं, सब आत्मायें पतित हैं इसलिए पतित आत्मा को पाप-आत्मा कहा जाता है। बाप आत्माओं से बात करते हैं – तुम हमारे अविनाशी बच्चे हो। फिर मम्मा बाबा भी कहते हो। इस दुनिया में किसको भी पिताश्री नहीं कह सकते। श्री माना श्रेष्ठ परन्तु यहाँ एक भी मनुष्य श्रेष्ठ है नहीं। यह तो एक की ही महिमा हो सकती है। भल तुम इनको इस समय कहते हो क्योंकि सन्यास किया हुआ है श्रेष्ठ बनने के लिए। तुम जानते हो हम अभी फरिश्ते बनने वाले हैं। लेकिन चलते-चलते, श्रेष्ठ बनते-बनते झट माया रावण थप्पड़ लगाकर भ्रष्ट बना देती है। भ्रष्ट को श्री कह नहीं सकते। श्री लक्ष्मी, श्री नारायण। श्री राधे, श्रीकृष्ण कहते हैं। मन्दिरों में भी जाकर उन्हों की महिमा गाते हैं। अपने को श्रेष्ठ कह नहीं सकते। अब तुम बच्चों ने समझा है भारत श्रेष्ठ था। वहाँ मूत पलीती नहीं थे। शुद्ध श्रेष्ठ थे। बाप की महिमा है ना – मूत पलीती कपड़ों को धोकर कंचन कर देते हैं। इस समय तो सभी पतित हैं। बरोबर है भी रावण राज्य। मनुष्य रावण को वर्ष-वर्ष जलाते हैं। परन्तु जलता ही नहीं फिर फिर खड़ा हो जाता है। यह भी मनुष्यों को समझ में नहीं आता जबकि जला देते हैं फिर हर वर्ष नया क्यों बनाते हैं? इससे सिद्ध होता है रावण राज्य गया नहीं है। स्वर्ग में जब रामराज्य होता है तब वहाँ रावण की एफीजी निकालेंगे नहीं। कहते हैं रावण को जलाया फिर लंका को लूटा। रावण की लंका सोनी बताते हैं। परन्तु ऐसा है नहीं। यह तो सारी दुनिया लंका है। यह आइलैण्ड है ना। सारे वर्ल्ड पर रावण का राज्य है। यह भी तुम बच्चे समझते हो। कालेज में कोई बेसमझ जाकर बैठे तो क्या समझ सकेंगे। कुछ भी नहीं। वेस्ट आफ टाइम करेंगे। यह ईश्वरीय कालेज है, इनमें नया आदमी कोई समझ नहीं सकेंगे इसलिए 7 रोज क्वारन टाइन में बिठाना पड़े। जब तक लायक बनें। फिर भी अच्छा आदमी, रिलीजस माइन्डेड है तो उनसे पूछना है परमपिता परमात्मा तुम्हारा क्या लगता है? वह है आत्माओं का पिता और प्रजापिता भी तो बाप है। यह प्वाइंट बड़ी अच्छी है। परन्तु बच्चे इस पर इतना हर्षित नहीं होते हैं। बाप कहते हैं तुमको नई-नई प्वाइंट सुनाता हूँ जिससे तुमको नशा चढ़े। किसको समझाने की युक्ति आये। तुम फार्म भराकर पूछ सकते हो कि परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? कहेगा परमपिता तो पिता हुआ ना, फिर उस समय सर्वव्यापी का ज्ञान ही उड़ जायेगा। तुम जब प्रश्न पूछेंगे तो कहेंगे वह तो बाप है। हम सब बच्चे हैं। इतना मान ले तो लिखा लेना चाहिए। प्रजापिता के भी बच्चे ठहरे। वह शिव हो गया दादा और वह बाबा। शिवबाबा स्वर्ग की स्थापना करने वाला है तो जरूर उनसे ही वर्सा मिलेगा। बहुत सहज ते सहज बातें निकालनी पड़ती हैं। मित्र-सम्बन्धियों आदि के पास जाओ, उनको भी यह समझाओ। यह तो नशा है ना हम बापदादा से वर्सा पाते हैं। माता से वर्सा नहीं मिलेगा। बाप को ही स्वर्ग की स्थापना करनी है ना। वही मालिक है। जैसे इनको दादे के वर्से का हक है, वैसे पोत्रे-पोत्रियों को भी हक है। बाप कहते हैं मुझे याद करो। ऐसे नहीं कहते कि इस देहधारी को भी याद करो। बाप सम्मुख बात कर रहे हैं। कल्प पहले भी ऐसे समझाया था। परन्तु बच्चों को देह-अभिमान बहुत आ जाता है। देहधारियों से लॅव हो जाता है। बाप कहते हैं हे आत्मायें तुम तो अशरीरी आई थी फिर पार्ट बजाते अब 84 जन्म पूरे किये हैं। अभी मैं कहता हूँ तुमको वापिस चलना है। मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। देहधारी को याद करने से विकर्म विनाश नहीं होंगे। तुम वायदा करते हो बाबा हम आपको ही याद करेंगे। तुमको इस पुरानी दुनिया में अब रहना ही नहीं है, इसमें कोई चैन नहीं इसलिए कहते हो ऐसी जगह ले चलो जहाँ सुख चैन हो। तुम बच्चे जानते हो हम पहले जायेंगे शान्तिधाम में। वहाँ सुख का नाम नहीं लेंगे। शान्ति ही शान्ति होगी। फिर जायेंगे सुखधाम में। वहाँ फिर शान्ति का नाम नहीं लेंगे। जब दु:ख है तो अशान्ति है। सुख में तो शान्ति है ही। परन्तु वह शान्तिधाम नहीं। शान्तिधाम है आत्माओं का स्वीट होम। बाप सारे आदि मध्य अन्त को जानने वाला है। अब तुम बच्चों का धन्धा ही है पढ़ना-पढ़ाना और फिर अपने शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी करना है।

तुम जानते हो हम इस मृत्युलोक से अमरलोक चले जायेंगे वाया शान्तिधाम। यह बुद्धि में याद रखना है जब तक तुम ट्रांसफर हो जाओ। अपनी पढ़ाई की रिजल्ट तक पढ़ना पड़े। जब तक मृत्यु नहीं हुआ है, पढ़ना ही है। यह तो याद कर सकते हो ना कि अब हमको जाना है घर। यह दुनिया, यह सब कुछ छोड़ना है। खुशी होनी चाहिए। बेहद नाटक का राज़ भी समझ गये हो। हद का नाटक पूरा होता है तो कपड़े बदली कर घर चले जाते हैं। वैसे हमको भी जाना है। 84 जन्मों का चक्र पूरा होता है। याद भी करते हैं हे पतित-पावन आओ। शिवबाबा को ही याद करेंगे। एक तरफ कहते पतित-पावन आओ दूसरे तरफ फिर सर्वव्यापी कह देते। कोई अर्थ ही नहीं निकलता। बच्चों को कितना सहज रीति समझाते हैं – शान्तिधाम को याद करो। यह दु:खधाम है, इसका विनाश भी सामने खड़ा है। यह वही महाभारत लड़ाई है। यूरोपवासी यादव भी हैं और कौरव पाण्डव भाई-भाई हैं। हम एक ही घर के हैं ना। भाई-भाई में युद्ध हो नहीं सकती। यहाँ तो युद्ध की बात ही नहीं। परन्तु मनुष्यों का भी धन्धा है एक दो को लड़ाना। यह तो एक रसम है। सब एक दो के दुश्मन हैं। बच्चा भी बाप का दुश्मन बन पड़ता है। मृत्युलोक की रसम-रिवाज़ भी सबकी अपनी-अपनी है। बाप का प्लैन देखो कितना बड़ा है। सबके प्लैन्स खत्म कर देते और सुखधाम की स्थापना करते हैं। बाकी सबको शान्तिधाम में भेज देते हैं। तुम बच्चे देखते हो हम किसके सामने बैठे हैं। निश्चय है परमपिता परमात्मा ज्ञान का सागर है। इन आरगन्स द्वारा हमको नॉलेज दे रहे हैं और कोई सतसंग ऐसा होगा क्या। यहाँ बाप सामने बैठ समझाते हैं। जानते हो बाप हम आत्माओं से बात करते हैं। हम कानों से सुनते हैं। बाबा इस दादा के मुख द्वारा बोलते हैं। जो रत्न बाबा के मुख से निकलते वही तुम बच्चों के मुख से निकलने चाहिए। सदैव मुख से रत्न ही निकले। फालतू शैतानी बातें सुननी भी नहीं चाहिए। कई तो बड़ी खुशी से बैठ सुनते हैं। बाप कहते हैं ऐसी बातें सुनो वा किसको करते हुए देखो तो बाबा को बताओ तो बाबा समझानी देंगे। नहीं तो वह पक्के हो जाते हैं। परन्तु ऐसा होता रहता है। बाबा को सुनाते नहीं हैं कि बाबा यह फालतू बातें सुनाते हैं, इनको मना की जाये तो आदत मिट जाए। बाप सभा में समझायेंगे परन्तु ऐसे के फिर मित्र बन जाते हैं। माया अच्छे-अच्छे बच्चों की बुद्धि भी पत्थर बना देती है। बाप के फरमानबरदार बच्चे बनते ही नहीं हैं, बड़ा नाज़ुक रास्ता है। इसमें बड़ी खबरदारी रखनी चाहिए। रहमदिल बन किसमें आदत है तो मिटानी चाहिए। हाँ जी करके सुनना नहीं चाहिए। बाबा जो सुखधाम का मालिक बनाते हैं, ऐसे बाबा की ग्लानी तो हम कभी नहीं सुनेंगे। हमको तो शिवबाबा से वर्सा लेना है और बातों से क्या तैलुक। कोई सुने न सुने हम तो ज्ञान का शुर्मा पहन लें। कोई ज्ञान अंजन पाते हैं कोई तो फिर धूल अंजन पाते हैं। उससे ज्ञान का तीसरा नेत्र खुलता ही नहीं है। बाबा इतना तो सहज कर समझाते हैं जो कैसा भी रोगी, अंधा, लंगड़ा हो वह भी समझ जाये। अल्फ और बे दो अक्षर हैं। बाप समझाते हैं बच्चे, मित्र-सम्बन्धियों आदि से भी दोस्ती रखो। बहुत मीठा बनो। तुम्हारा काम ही है बाप का परिचय देना। भल दुश्मन हो तो भी मित्रता रखनी है। बहुत मीठा बनना है। बाप कहते हैं तुमने आसुरी मत पर मुझे कितनी गाली दी है, मेरा अपकार किया है फिर भी मैं तुम पर कितना उपकार करता हूँ। ईश्वर का अपकार होना भी ड्रामा में नूंध है। तब तो कहते हैं यदा यदाहि.. आया भी भारत में है। समझा भी रहे हैं। बच्चों को हर एक बात अच्छी रीति समझनी है। किसकी तकदीर में नहीं है तो फिर वही आसुरी धन्धा करते रहेंगे। यहाँ से बाहर गये और इन बातों को भूल जायेंगे। निंदा करते-करते यह हाल हो गया है। अब यह निंदा करना तो छोड़ दो। तुम्हारा नाम तो लिखा हुआ है प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियां। समझ जायेंगे शिव के पोत्रे पोत्रियां ठहरे। जरूर स्वर्ग का वर्सा मिलता होगा। भारत को वर्सा था अब नहीं है फिर अब मिलता है। सतयुग में सिर्फ सूर्यवंशी ही थे। अब तुम बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और वहाँ पहुंच जायेंगे। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। तुम बच्चों को भी सर्विस करनी है परन्तु पहले अपनी वृत्ति भी अच्छी चाहिए। सिर्फ पण्डित नहीं बनना है। पक्के योगी, राजऋषि होंगे तो दूसरे को तीर लगेगा। खुद में ही कोई कमी होगी तो दूसरे को बोल नहीं सकेंगे। लज्जा आती रहेगी, अपना पाप अन्दर खाता रहेगा। हर बात के लिए बाबा समझाते बहुत अच्छा हैं। कल्प पहले भी ऐसे ही समझाया था। देवी-देवता धर्म तो जरूर स्थापन होगा कोई पढ़े न पढ़े। फिर भी बाप कहते हैं कुछ समझदार बनो। इस कमाई और उस कमाई को बुद्धि में रखो। सच्ची कमाई बाप ही कराते हैं। बाप और स्वर्ग को याद करना, यह भूलो मत। सिमरण करते-करते अन्त मती सो गति हो जायेगी। सवेरे उठ बाप की याद में बैठो। अगर सुस्ती आती है तो समझा जाता तकदीर में नहीं है। ऐसी प्रैक्टिस करनी है जो अन्त में देह भी याद न पड़े। हम आत्मा हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी वृत्ति को शुद्ध रख दुश्मन को भी मित्र बनाना है। अपकारी पर भी उपकार कर बाप का सच्चा परिचय देना है।

2) जो रत्न बाबा के मुख से निकलते हैं वही रत्न निकालने हैं। कोई भी व्यर्थ बातें न सुननी है न सुनानी है।

वरदान:- निगेटिव को पॉजिटिव में परिवर्तन करने वाले स्व परिवर्तक सो विश्व परिवर्तक भव 
कोई भी संकल्प वा संस्कार सेकण्ड में निगेटिव से पॉजिटिव में परिवर्तन हो जाए – इसके लिए सारे दिन में ट्रैफिक ब्रेक का अभ्यास चाहिए, क्योंकि व्यर्थ वा निगेटिव संकल्पों की गति बहुत फास्ट होती है। फास्ट गति के समय पावरफुल ब्रेक लगाकर परिवर्तन करने का अभ्यास करो। तब स्वयं के व्यर्थ को परिवर्तन कर स्व परिवर्तक सो विश्व परिवर्तक बन सकेंगे तथा अपने फरिश्ते स्वरूप द्वारा अनेक आत्माओं को सुख-शान्ति का वरदान दे सकेंगे।
स्लोगन:- ड्रामा के ज्ञान को स्मृति में रखने वाले ही नथिंगन्यु की विधि से विजयी बन सकते हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize