today murli 8 september

TODAY MURLI 8 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 September 2018 :- Click Here

08/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to claim your inheritance from the Father, the Ocean of Knowledge, definitely study with the full force of 20 nails. It is only by studying that you will claim the kingdom and receive the status of liberation-in-life.
Question: Who can constantly follow the path of knowledge? What is the basis of a high status?
Answer: Those who have no interest in anything other than the study and who have a mature stage of knowledge are the ones who can constantly follow this path of knowledge. There is no benefit in wanting to go into trance or having visions or playing games. Maya interferes even more and then you let go of the Father’s hand and stop studying. In order to claim a high status, you have to pay full attention to this study.
Song: You are the Mother and Father.

Om shanti. The meaning of “Om shanti” has been explained to you children. Those who are religious-minded, righteous men who go to a temple etc. always say “Om shanti”. However, they don’t understand its meaning. We too say, “Om shanti”, which means “I am a soul.” The word “soul” is definitely used. The Supreme Soul, who is a soul, says: Om shanti. The original religion of myself, the soul, is peace. The soul tells you his occupation. The Father too says “Om shanti.” I too am a soul but I am called the Supreme Soul because I always reside in the supreme abode. I do not enter the cycle of birth and death. The Father personally comes here and tells you: You come into rebirth; you are bodily beings. Those who are in the subtle region are beings with subtle bodies. I am also beyond that; I do not have a physical body. It is said of those with subtle bodies: this one is Brahma, this one is Vishnu and this one is Shankar. It is the name of the body, not the soul. Each soul adopts a body and then a name is given to the body. When someone dies, it is said: That one left his body. The name of the body still remains and that soul then takes another body. You wouldn’t say of the Supreme Father, the Supreme Soul, that He leaves a body and takes another. Everyone’s body is given a name. When you children belong to Me, I give you another name, just as gurus give you another name. Nowadays, when a kumari gets married her name is changed. The names of the men don’t change because they have to use their name in their business. Mothers don’t have businesses and so their names can be changed. Men have their names etc. in their insurance and businesses etc. The Father now explains: You all remember and say You are the Mother and Father; You are the Companion and the Boatman. You take us with You. Look how many relationships You come into! We will shed our bodies and go back with You. You children know that the Boatman will take you back with Him. There is so much praise of the Father. So, when will He come again? When will He come and become your Companion? No one knows. It is said: When it is the end of the path of devotion, I have to come to protect the devotees. I have to become the Boatman and take everyone back. You know how He has come and become the Mother and Father. That One alone is called the Boatman and the Guru. He takes you from the dirty world, from a life of bondage, to liberation-in-life and that is why He is called the Purifier and the Boatman. The golden age is called the new world. It is the same world, it is just that the old one is destroyed. It is the same as when you build a new home while staying in the old one; you then leave the old home. Here, too, when establishment has taken place, the old world is destroyed. The meaning of ‘Trimurti’ has also been explained. To carry out establishment of heaven through Brahma is the task of the Supreme Father, the Supreme Soul, alone. He carries it out through him because He is Karankaravanhar. The Father personally comes here and explains to you face to face. I sit here and teach you mouth-born creation of Brahma easy Raja Yoga and knowledge through Brahma. You will claim the future deity status for 21 births, numberwise, according to your efforts. You know that you are studying with the Mother and Father. This is the Godly University. If you stop studying, it would be understood that it is not in your fortune. This school has to continue. Baba comes and teaches you through the body of this Brahma. So, no matter where you children are or whatever centre you are at, you know that you have to claim your inheritance of liberation-in-life, that is, the kingdom, from the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul from beyond. If we stop studying, we won’t be able to receive the inheritance. The Father has come to take us back with Him. When the new world is established, the Boatman will take everyone back. You know the Boatman and you also know the ones through whom establishment, destruction and sustenance take place. Then, you also know those who become Lakshmi and Narayan and who then rule the kingdom by studying this. You understand, to the extent you study, that you are truly claiming a royal status through this study. If you don’t study, your status will be destroyed. This is the study of Raja Yoga. Many children become tired while studying. Not to study means to become tired. They say: That’s it! I’m unable to study any further! There is no question of any expense in this study. In those studies, when poor people are unable to pay the fees, they stop studying. However, those who are very interested in studying apply to the Government: I want to study but I don’t have the money. The Government then gives them some money. In one way or another, they make a request: I want to study, but my father doesn’t have any money, so please help me! Because the Government doesn’t have the money, it refuses the students. They think: I have to study, so what shall I do now? They then approach wealthy people or philanthropists: My parents are poor, but I want to study and work, so will you be able to help me? Those who are religious  minded will give that help. Kumaris cannot make such requests, but men can. There is a lot of income earned by studying. Here, you have to study and also make a bargain. The Father is the Businessman, the Jewel Merchant and the Ocean of Knowledge. The Mother and Father, the unlimited Ocean of Knowledge, says: I teach you Raja Yoga and make you into kings of kings as I did in the previous cycle. All of these points have to be imbibed. Those who have mature intellects are able to imbibe well. Everything depends on the intellect. Some have satopradhan intellects, whereas others have sato, rajo or tamo intellects. In those school s too, students know what each one’s intellect is like. Those who have satopradhan intellects pass with honours. They are appointed monitors. Some also receive a scholarship. This is an unlimited school. Here, there are those with sato, rajo and tamo intellects. Here, there is just the one status. This is Raja Yoga. There is just the one Godly study. The Father says: I teach all of you children Raja Yoga. To the extent that you make effort, so you will accordingly claim a high status. You have understood about the elevated status. You will claim a status, numberwise. The Father loves everyone. He has come to liberate everyone from the chains of Maya. No one else can say: I teach you Raja Yoga every cycle. Only the Father says: I come at the confluence age of every cycle. People have made such a mistake by writing that He comes in every age. The Father says: I am the Purifier. I come to purify you at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. Baba has come at this time, so study well. Destruction is going to take place. Study with the force of 20 nails and show courage. You mustn’t stop studying. Those who stop studying fail and fall. Children receive cautions. There should be no evil spirits of lust, anger, greed or attachment. Continue to look in the mirror of your heart: Am I worthy of marrying Lakshmi? They have also written about the example of Narad. All of you are devotees. On the path of devotion, Narad is remembered as the highest devotee among the males, and Meera is remembered as the highest among the females. That is the path of devotion. On the path of knowledge, you can see that the names of Mama and Baba are glorified. Then, their rosary of victory is also created. Those who give happiness are remembered; memorials are created of such people. What did they do? Someone may have perhaps opened a college or made many donations and performed a lot of charity. What else would they do? The Congress Party took over from the British and ruled here. The Father says: This is the kingdom that is like a mirage. No matter how much happiness there is, it is all like a mirage. There is a lot of external show. This science continues for about 100 years. When this Dada was working in Bombay, there was no electricity or telephones etc. Now, science has created so many wonders. Now, only a few more years remain. The arrogance of science started about 100 years ago. You can’t tell what they would do in 100 years of the golden age! There, all of these things which you take from here have power. You carry that power with you to rule the unshakeable, immovable kingdom of happiness and peace. So, you have to pay that much attention to the study. You should also make that much effort. You know that you receive a lot of happiness from this Mother and Father. Then, if while moving along you leave this study, it means you don’t listen to them. If you don’t listen to them and just go and engage yourself in your business, everything finishes. You will then only have whatever you attained. After you let go of Baba’s hand, Maya completely swallows you. Maya, the alligator, ate the elephant. This has to happen. You can see how very good ones, those who gave very good invitations and who opened centres also stopped studying. It would be said that, according to the drama, they only had that much in their fortune. Then, what would their condition be? Maya completely eats them up. So many were finished. Many who went into trance, who used to play those games, are no longer here today. You should never have any desire to go into trance or have visions. When you have desires, there are obstacles in those desires. The evil spirits of Maya also enter. They used to play such parts of going into trance. Those who used to stay in trance for five to seven days, either in childhood parts or even as empresses, are no longer here today. There is no benefit in that. Only those who have a mature stage of knowledge can stay here permanently. Never have any desire to go into trance. Imbibe what Baba is teaching you. To the extent that you study, accordingly, you will claim a high status. You children also have to remember that the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you. We are studying and attaining a high status for 21 births and we will then change from being worthy of worship to worshippers. Only those who belong to the Brahmin clan can say this. No one else can say this. The play is based on Bharat. You would say that you are becoming worthy-of-worship deities. Only those who are worthy of worship continue to fall as they take the full 84 births. You children know all of this. You also know the occupation of Shiv Baba. By having faith, you can claim your inheritance in a second. They say that they belong to God. Therefore, to divorce God after saying that is also a wonder. In a school, those who claim a good number are said to be worthy and obedient. Students too would consider themselves to be worthy. The father and t eacher would also say: This one is worthy and obedient. Here, the Father, Teacher and Guru are the same. He is the Father, then He becomes our Teacher and teaches us and He will then take us back with Him. The Father says: We will all go back together. Your lights have been extinguished and are now being ignited. My light is always ignited. All of this refers to souls. You know that you souls came bodiless and that you now have to return bodiless. Our play has to end and then repeat. You children have this understanding in your intellects. “You are the Mother and Father and with the mercy of Your study we receive so much happiness.” You should never leave or forget such a Mother and Father. The Father says: If you continue to write letters to such a Mother and Father, to BapDada who gives you such an inheritance, Baba would understand that you remember Him. You receive love and remembrance from Baba every day in the murli. When children’s letters arrive after a long time, it is understood that you don’t remember Baba fully. The Father doesn’t need to write to you. The murli of the Father is sent every day. Baba gives love and remembrance anyway. He is the ignited Light. He tells you children: Definitely continue to write letters. Baba is not worried about His special children. He cautions those who fluctuate: Don’t forget, continue to study. Baba receives all the news. The names are noted in the register. He asks: Why is this child absent? If a child is absent every day, it would be understood that he has died. Baba asks: Have you received any news from such-and-such a child? The teacher would write: So-and-so doesn’t come at all. His intellect now has doubt. Achcha. Perhaps in the future his intellect will have faith. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Show courage to come in the rosary of victory. In order to become worthy of being remembered, give everyone happiness.
  2. Be an obedient student and glorify the name of the Father and Teacher. Never perform wrong actions by being influenced by the evil spirits of lust or anger.
Blessing: May you be an all-round server and remain constantly content by being full of all spiritual treasures.
An all-round server”, means a master bestower of happiness, a master bestower of peace and a master bestower of knowledge. A bestower is always an image that is full. As is the self, so he would make others. “A spiritual server”, means one who is ever ready and all-rounder. Only those who are full can become all-rounders. Those who are full will be content and make everyone content. A lack of any kind will create discontentment. The way to be content and make others content is to be full and a bestower.
Slogan: Keep the golden gift of good wishes and pure feelings with you and you will be able to transform any soul.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 8 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 September 2018

To Read Murli 7 September 2018 :- Click Here
08-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज्ञान सागर बाप से वर्सा लेना है तो 20 नाखूनों का जोर देकर भी पढ़ाई जरूर पढ़ो, पढ़ाई से ही राजाई वा जीवनमुक्ति पद प्राप्त होगा”
प्रश्नः- ज्ञान मार्ग में सदा कायम कौन रह सकता है? ऊंच पद की प्राप्ति का आधार क्या है?
उत्तर:- जिनका पढ़ाई के सिवाए दूसरा किसी भी बात में शौक नहीं है, ज्ञान की परिपक्व अवस्था है, वही इस ज्ञान मार्ग में कायम रह सकते हैं। बाकी ध्यान दीदार की आश रखना, खेलपाल करना, इससे कोई फ़ायदा नहीं, और ही माया प्रवेश कर लेती है फिर बाप का हाथ वा पढ़ाई छोड़ देते हैं। ऊंच पद के लिए पढ़ाई पर फुल अटेन्शन चाहिए।
गीत:- तुम्हीं हो माता……..

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ तो बच्चों को समझाया गया है। जो भी रिलीजस माइन्डेड अथवा धर्मात्मा पुरुष होते हैं, मन्दिर टिकाणें में जाते हैं तो उनके मुख से ओम् शान्ति अक्षर निकलता है। परन्तु वह अर्थ नहीं समझते। हम भी कहते हैं ओम् शान्ति, अहम् आत्मा। आत्मा अक्षर जरूर आता है। सुप्रीम सोल अथवा आत्मा कहती है ओम् शान्ति। मैं जो आत्मा हूँ, मेरा स्वधर्म है शान्त। आत्मा अपना आक्यूपेशन बतलाती है। बाप भी कहते हैं ओम् शान्ति। हम भी आत्मा हैं परन्तु मुझे परम आत्मा कहते हैं क्योंकि मैं सदैव परमधाम में रहता हूँ। मैं जन्म-मरण में नहीं आता हूँ। बाप सम्मुख आकर कहते हैं तुम पुनर्जन्म में आते हो, तुम देहधारी हो। सूक्ष्मवतन वाले भी सूक्ष्म देहधारी हैं। मै इनसे भी परे हूँ। मुझे कोई स्थूल शरीर नहीं है। सूक्ष्म शरीरधारी को कहते हैं – यह ब्रह्मा है, यह विष्णु, यह शंकर है। नाम तो शरीर का हुआ ना। आत्मा का तो नहीं है। आत्मा शरीर धारण करती है, तब शरीर पर नाम पड़ता है। कोई मरते हैं तो कहेंगे फलाने का शरीर छूट गया। नाम तो शरीर पर रह जाता है फिर दूसरा शरीर लेते हैं। परमपिता परमात्मा के लिए तो ऐसे नहीं कहेंगे कि वह एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। सबका शरीर पर नाम पड़ता है। तुम बच्चे मेरे बनते हो तो तुमको भी दूसरा नाम देता हूँ। जैसे गुरू लोग नाम देते हैं ना। आजकल कन्या शादी करती है तो उनका भी नाम बदलता है। पुरुष का नहीं बदलता क्योंकि पुरुष को तो धन्धा करना है अपने नाम से। माताओं का तो धन्धा है नहीं, इसलिए उनका नाम बदल सकता है। पुरुषों का इन्श्योरेन्स धन्धे आदि में नाम है। अब बाप समझाते हैं – सब याद तो करते हैं तुम मात-पिता हो और साथी हो, खिवैया हो, तुम हमको साथ ले चलते हो। देखो, कितने सम्बन्धों में आते हैं। शरीर छोड़कर फिर आपके साथ चलना है। तुम बच्चे जानते हो – खिवैया हमको साथ में ले जायेंगे।

बाप की कितनी महिमा है! फिर वह कब आयेंगे? कब आकर साथी बनेंगे? यह नहीं जानते। कहते हैं जब भक्ति मार्ग का अन्त होता है तब भक्तों की रक्षा करने मुझे आना पड़ता है। मुझे खिवैया बन वापिस ले जाना है। तुम जानते हो कैसे आकर मात-पिता बने हैं। इनको ही खिवैया, गुरू कहा जाता है। छी-छी दुनिया, जीवनबन्ध से जीवनमुक्ति में ले जाते हैं इसलिए उनको पतित-पावन खिवैया कहा जाता है। नई दुनिया कहा जाता है – सतयुग को। दुनिया तो यही है, सिर्फ पुरानी दुनिया का विनाश होता है। जैसे पुराने घर में रहकर नया बनाए फिर पुराना घर छोड़ना होता है ना, यह भी जब स्थापना हो जाती है तो फिर पुरानी दुनिया का विनाश होता है। त्रिमूर्ति का भी अर्थ समझाया है। ब्रह्मा द्वारा स्वर्ग की स्थापना करना – यह परमपिता परमात्मा का ही काम है। उन्हों द्वारा कराते हैं क्योंकि करनकरावनहार है। बाप आकर सम्मुख समझाते हैं। ब्रह्मा द्वारा सहज राजयोग और ज्ञान तुम ब्रह्मा मुख वंशावली को बैठ सिखलाता हूँ। भविष्य 21 जन्म के लिए तुम सो देवी-देवता पद पायेंगे, नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार।

तुम जानते हो हम मात-पिता से पढ़ रहे हैं, यह है ही ईश्वरीय विश्व-विद्यालय। अगर पढ़ाई को छोड़ देंगे तो समझा जायेगा इनकी त़कदीर में नहीं है। स्कूल तो चलना ही है। बाबा आकर इस ब्रह्मा तन द्वारा पढ़ाते हैं। तो बच्चे भल कहाँ भी हों, किसी भी सेन्टर पर हों, जानते हो ज्ञान सागर पारलौकिक परमपिता परमात्मा से हमको जीवनमुक्ति का अथवा राजाई का वर्सा पाना है। अगर हम पढ़ाई छोड़ देंगे तो वर्सा पा नहीं सकेंगे। बाप तो आये हैं साथ ले जाने। नई दुनिया स्थापन हो जायेगी फिर सबको खिवैया ले जायेंगे। तुम खिवैया को भी जानते हो और जिन द्वारा स्थापना, विनाश, पालना कराते हैं उन्हों को भी तुम जानते हो। फिर इस पढ़ाई से जो लक्ष्मी-नारायण बन राज्य करते हैं उनको भी तुम जानते हो। समझते हो हम बरोबर इस पढ़ाई से राजाई पद प्राप्त कर रहे हैं। जितना जो पढ़ेंगे…… पढ़ाई नहीं पढ़ेंगे तो पद भ्रष्ट हो पड़ेगा। यह है राजयोग की पढ़ाई। बहुत बच्चे पढ़ाई पढ़ते-पढ़ते थक जाते हैं। नहीं पढ़ना माना थक जाना। कहते हैं – बस, आगे हम नहीं पढ़ सकते हैं। इस पढ़ाई में खर्चे की बात तो नहीं है। उस पढ़ाई में गरीब बिचारे पढ़ाई का पैसा नहीं दे सकते हैं तो पढ़ना छोड़ देते हैं। परन्तु जिनको पढ़ाई का अच्छा शौक होता है तो गवर्मेन्ट को अप्लाई करते हैं कि हम पढ़ना चाहते हैं परन्तु पैसा नहीं है। फिर उनको गवर्मेन्ट पैसा देती है। कैसे भी करके रिक्वेस्ट करते हैं कि मैं पढ़ना चाहता हूँ, मेरे बाप के पास पैसा नहीं है, हमें मदद करो। गवर्मेन्ट पास पैसा न होने कारण रिफ्यूज़ कर देती है। समझते हैं हमको पढ़ना तो जरूर है फिर क्या करेंगे? बड़े साहूकार वा दानी पुरुष के पास जायेंगे। हमारे मात-पिता गरीब हैं हम पढ़कर सर्विस करना चाहते हैं, आप हमें मदद कर सकेंगे? रिलीजस माइन्डेड जो होंगे वह मदद दे देंगे। कन्यायें ऐसे रिक्वेस्ट नहीं कर सकती, पुरुष कर सकते हैं। पढ़ाई से इनकम बहुत होती है। यहाँ यह पढ़ाई भी है और यह सौदा भी है। बाप सौदागर, रत्नागर है और फिर ज्ञान सागर है।

मात-पिता बेहद का ज्ञान सागर कहते हैं – मैं कल्प पहले मुआफिक तुमको राजयोग सिखाकर राजाओं का राजा बनाता हूँ। सब प्वाइन्ट्स धारण करनी हैं। बालिग बुद्धि अच्छी रीति धारण कर सकते हैं। बुद्धि पर ही सारा मदार है। कोई की सतोप्रधान, कोई की सतो, कोई की रजो, तमो, बुद्धि है। उस स्कूल में भी स्टूडेन्ट्स जानते हैं इनकी बुद्धि कैसी है। सतोप्रधान बुद्धि वाले पास विद ऑनर होते हैं। उन्हें ही मॉनीटर आदि बनाते हैं। स्कॉलरशिप भी मिल जाती है। यह फिर बेहद का स्कूल है। इनमें भी सतो, रजो, तमो बुद्धि हैं। यहाँ मर्तबा एक ही है। यह है ही राजयोग। ईश्वरीय पढ़ाई एक ही है। बाप कहते हैं मैं तुम सब बच्चों को राजयोग सिखाता हूँ। तो जितना पुरुषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। ऊंच पद को तो समझ गये हो। नम्बरवार पद पायेंगे। बाप का तो लॅव सब पर है। सबको माया की जंजीरों से छुड़ाने आये हैं। और कोई ऐसे कह नहीं सकेंगे कि कल्प-कल्प हम तुमको राजयोग सिखलाते हैं। यह बाप ही कहते हैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे, युगे आता हूँ। मनुष्यों ने फिर युगे-युगे लिख कितनी भूल कर दी है। बाप कहते हैं मैं पतित-पावन हूँ। मैं आता हूँ तुमको पावन बनाने, कलियुग अन्त और सतयुग आदि के संगम पर। इस समय बाबा आया हुआ है तो अच्छी रीति पढ़ना है, विनाश भी होने वाला है। 20 नाखून का जोर देकर पढ़ना है, हिम्मत दिखानी है। पढ़ाई नहीं छोड़नी है। जो पढ़ाई छोड़ देते हैं वह नापास हो गिर पड़ते हैं। बच्चों को सावधानी मिलती है। कोई भी काम वा क्रोध का वा लोभ, मोह का भूत नहीं आना चाहिए। दिल दर्पण में अपने को देखते रहो – मैं लायक हूँ लक्ष्मी को वरने? नारद का भी एक मिसाल लगा दिया है। भक्त तो तुम सब हो ना। भक्ति मार्ग में मेल्स में नारद उत्तम गाया हुआ है और फीमेल्स में मीरा। वह है भक्ति मार्ग। ज्ञान मार्ग में फिर देखते हो – मम्मा-बाबा का नाम बाला है। फिर उनकी विजय माला भी बनी हुई है। सिमरण उनको किया जाता है जो सुख देते हैं। उसका यादगार बनाते हैं। अभी उन्हों ने क्या किया? कोई ने करके कॉलेज खोल, दान-पुण्य बहुत किया, और क्या करेंगे? अभी फिरंगियों से (अंग्रेजों से) राज्य ले कांग्रेस ने राज्य किया। बाप कहते हैं यह तो रुण्य के पानी (मृगतृष्णा) मिसल राज्य है। भल कितने भी सुख हैं परन्तु यह हैं सब रुण्य के पानी मिसल। बाहर का भभका बहुत है। यह साइन्स भी 100 वर्ष चलती है। यह दादा जब बाम्बे में सर्विस पर था तो यह बिजली-टेलीफोन आदि कुछ नहीं था। अभी साइन्स ने कितना कमाल किया है। अभी बाकी थोड़े वर्ष हैं। साइन्स का घमण्ड 100 वर्ष से शुरू हुआ है। सतयुग के 100 वर्ष में तो पता नहीं क्या कर देंगे। वहाँ इन सब चीज़ों में बल रहता है जो तुम यहाँ से ले जाते हो। अखण्ड, अटल, सुख-शान्तिमय राज्य करने के लिए तुम बल ले जाते हो। तो पढ़ाई पर इतना अटेन्शन देना चाहिए, इतना पुरुषार्थ करना चाहिए।

तुम जानते हो इस मात-पिता से सुख घनेरे मिलते हैं फिर अगर चलते-चलते छोड़ देते हैं तो गोया सुनते ही नहीं। न सुना जाकर अपने धन्धे-धोरी में लगा तो ख़लास। जो पाया सो पाया। हाथ छोड़ने बाद फिर माया एकदम हप कर लेती है। गज को माया ग्राह ने हप कर लिया। यह तो होना ही है। तुम देखते भी हो – कैसे अच्छे-अच्छे, बड़े-बड़े निमंत्रण देने वाले, सेन्टर खोलने वाले भी पढ़ाई को छोड़ देते हैं। कहेंगे – ड्रामा अनुसार इनकी त़कदीर में इतना ही था। फिर उनका क्या हाल होगा? माया एकदम खा लेती है। कितने ख़त्म हुए। बहुत ध्यान में जाने वाले, खेल-पाल करने वाले आज हैं नहीं। यह ध्यान-दीदार की आशायें कभी नहीं रखनी चाहिए। आशा रखते हैं तो आशा में विघ्न पड़ जाते हैं। माया के भूत भी प्रवेश कर लेते हैं। ध्यान का कितना पार्ट बजाते थे। जो 5-7 रोज़ ध्यान में बचपन के पार्ट में रहते थे, महारानी बन जाते थे, आज वह हैं नहीं। इससे कोई फ़ायदा नहीं। ज्ञान की परिपक्व अवस्था वाले ही कायम रह सकते हैं। कभी भी ध्यान में जाने की आशा नहीं रखनी चाहिए। बाबा जो पढ़ाते हैं वह धारण करना है। जितना पढ़ेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। तुम बच्चों को भी याद रखना है हमको परमपिता परमात्मा पढ़ाते हैं। हम पढ़कर 21 जन्म के लिए ऊंच पद पाते हैं फिर हम ही पूज्य से पुजारी बनते हैं। जो ब्राह्मण कुल के बनते हैं वही ऐसे कह सकते हैं। दूसरा कोई कह न सके। भारत का ही खेल बना हुआ है। तुम कहेंगे हम पूज्य सो देवी-देवता बनते हैं। पूज्य ही फिर गिरकर पूरे 84 जन्म लेते हैं। बच्चों को यह सब मालूम है। शिवबाबा का आक्यूपेशन भी तुम जानते हो। सेकेण्ड में निश्चय से तुम वर्सा ले सकते हो। कहते हैं हम ईश्वर के बने हैं फिर ईश्वर को फारकती देना – वन्डर है ना। स्कूल में पढ़ते हैं, अच्छे नम्बर में पास हुआ तो उनको सपूत समझा जायेगा। स्टूडेन्ट अपने को भी सपूत समझेगा। बाप और टीचर भी कहेंगे यह सपूत है। यह तो बाप, टीचर, गुरू एक ही है। बाप भी है फिर टीचर बन हमको पढ़ाते हैं फिर साथ भी ले जायेंगे। बाप कहते हैं हम साथ इकट्ठे चलेंगे। तुम्हारी ज्योति बुझ गई थी, अब जग रही है। हमारी ज्योति सदैव जगी हुई है। है सारी आत्मा की ही बात। तुम जानते हो हम आत्मा अशरीरी आई फिर अशरीरी हो जाना है। हमारा खेल पूरा होकर फिर रिपीट होना है। यह तुम बच्चों को बुद्धि में समझ है।

तुम मात-पिता……. तुम्हारी पढ़ाई की कृपा से हमको कितने सुख घनेरे मिलते हैं। ऐसे मात-पिता को कभी भूलना, छोड़ना नहीं चाहिए। बाप कहते हैं ऐसे मात-पिता, बापदादा को, जो तुमको इतना वर्सा देते हैं, चिट्ठी लिखते रहेंगे तो बाबा समझेंगे – याद करते हैं। बाबा की तो रोज़ याद-प्यार जाती ही है मुरली में। बच्चों की चिट्ठी देरी से आयेगी तो समझेंगे पूरा याद नहीं करते हैं। बाप को तो लिखने की दरकार नहीं है। बाप की तो रोज़ मुरली जाती है। याद-प्यार बाबा देते ही हैं। वह तो जागती ज्योत है। बच्चों को समझाते हैं पत्र जरूर लिखते रहो। अनन्य बच्चों की फिक्र नहीं रहती है। हिलने वालों को सावधानी दी जाती है – भूल नहीं जाना, पढ़ते रहना। समाचार तो बाबा के पास सब आते हैं ना। रजिस्टर में नाम दाखिल रहता है। पूछते हैं यह बच्चा अबसेन्ट क्यों है? रोज़ अबसेन्ट रहते तो समझा जाता – मर गया। बाबा पूछते हैं – फलाने बच्चे का कोई समाचार नहीं आया है? तो लिखते हैं फलाना अभी आता ही नहीं है, संशयबुद्धि हो गया है। अच्छा, आगे चलकर शायद निश्चयबुद्धि हो जाये। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विजय माला में आने की हिम्मत दिखानी है। सिमरण लायक बनने के लिए सबको सुख देना है।

2) सपूत स्टूडेन्ट बन बाप-टीचर का नाम बाला करना है। कभी भी काम व क्रोध के भूत के वश हो उल्टा काम नहीं करना है।

वरदान:- सर्व रूहानी खजानों से सम्पन्न बन सदा सन्तुष्ट रहने वाले आलराउण्ड सेवाधारी भव
आलराउण्ड सेवाधारी अर्थात् मास्टर सुख दाता, मास्टर शान्ति दाता, मास्टर ज्ञान दाता। दाता सदा सम्पन्न मूर्त होते हैं। जैसा स्वयं होंगे वैसा औरों को बनायेंगे। रूहानी सेवाधारी अर्थात् एवररेडी और आलराउन्ड। आलराउन्डर वही बन सकते जो सम्पन्न हैं, सम्पन्न ही सन्तुष्ट होंगे और सबको सन्तुष्ट करेंगे। किसी भी प्रकार की अप्राप्ति असन्तुष्टता पैदा करती है। सन्तुष्ट रहने और सन्तुष्ट करने की विधि है सम्पन्न और दाता बनना।
स्लोगन:- शुभ भावना, शुभ कामना की गोल्डन गिफ्ट साथ हो तो किसी भी आत्मा का परिवर्तन कर सकते हो।

TODAY MURLI 8 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 7 September 2017 :- Click Here

08/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are once again studying Raja Yoga. God is teaching you once again and you are studying in order to claim a kingdom. Constantly remember your aim and objective .
Question: What preparations are you children making now in great happiness?
Answer: You are now preparing to shed your old bodies in great happiness and return to the Father. You have to practi s e this here so that you can shed your bodies in remembrance of Baba alone and not have to choke at that time. Your student life is a carefree life. Therefore, become “choke-proof”.
Song: Hey traveller of the night, do not become weary! The destination of the dawn is not far off

Om shanti. You spiritual children are studying. When a student studies, he knows what he is studying. He knows who is teaching him, what his aim and objective is and what the attainment is; he knows all of that very well. All of you now know that you are changing from humans into deities. At this time you have become Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. What are you studying? Raja Yoga. You understand that you are studying Raja Yoga once again. Other students wouldn’t say that they are studying once again. Here, you children have the faith that you are once again studying Raja Yoga, which you also studied 5000 years ago. Only you have this knowledge. God has come and is teaching once again; this is no small matter! You children also know that there is only one God, but many devotees. This proves that there is one Father and many children. Everyone accepts that the Father is the Creator. The creation receives the inheritance from the Creator. A question was asked last night about how the Father can be recognized. The Father Himself says: I have made you My children. This is why you are able to sit in front of Me. I am once again changing you from humans into deities. I am teaching you Raja Yoga through which you will become Lakshmi or Narayan. Your aim and objective should remain in your intellects. It is in your intellects that when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan, there was only one kingdom over the whole world. Therefore, you children should sit and explain the pictures to show what you are studying. This is our aim and object. When a child is studying at school, his parents are aware of what he is studying. You are studying here to claim the kingdom once again. Therefore, you should also tell your friends and relatives that you are studying Raja Yoga in this Gita Pathshala, through which you will become the kings of kings. Elderly, young and children all come to this school. This is a wonder! This does not usually happen in a school, which is why this is called a satsang (spiritual gathering). All go to a satsang. None of those who go to a satsang would say: We are going to study Raja Yoga. It is not God who is teaching them. God Himself is teaching you. These pictures should be put up in every home. Explain to whoever comes – your mother, father, friends and relatives – that this is what you are studying. This study is very easy. The name is easy knowledge and easy Raja Yoga. King Janak received knowledge and became liberated-in-life in a second. People say: We want to receive knowledge like King Janak, knowledge that can be acquired while living in our household. This study is very elevated. You have to change from humans into deities. The praise of the deities is so great: full of all divine virtues, 16 celestial degrees pure. This is the land of death. That is the land of immortality. The impure world is devilish and the pure world is divine. In order to go to the pure world, you have to become pure. Lakshmi and Narayan were pure but they no longer exist. This is an impure kingdom. You have to become pure once again. The picture of Lakshmi and Narayan is very good. Everyone loves Lakshmi and Narayan. This is why people build very big, beautiful temples to them. They only build small temples to Krishna, as though they are for small children. They don’t know that Radhe and Krishna become Lakshmi and Narayan. You can explain that 5000 years ago it became the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat. There aren’t any pictures of anyone else. The sun dynasty is very famous. There were the dynasties of Lakshmi and Narayan and Rama and Sita and then the world became copper aged and iron aged. It is now the end of the iron age and we are studying the same Raja Yoga once again. We studied Raja Yoga 5000 years ago and claimed the kingdom. Surely, they (the deities) were completely viceless. The world has now become impure. Therefore, the Supreme Father, the Supreme Soul, has to come. They even sing: O Purifier, come! He is incorporeal. Krishna is the princeof the golden age. How could he come and purify anyone? Therefore, it has to be explained that no corporeal being can be called God. People of other religions believe God to be incorporeal. He is the Liberator, the Guide and b lissful God, the Father. He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness for All. When the Father removes sorrow, He must also be giving happiness. You can explain to your friends and relatives etc. that many people out there speak the Vedas and scriptures, whereas everyone here listens to the One. The Father says: Only listen to Me. God speaks, and so He would surely have to enter someone’s body. It is also remembered that Brahmins were created through Brahma. You are Brahma Kumars and Kumaris. Five thousand years ago, Brahmins were created through the lotus lips of Brahma at the confluence and those Brahmins later became deities. We have now changed from shudras into Brahmins and we will later become deities. We are studying Raja Yoga once again; we also studied it a cycle ago. Then, people will realize that you are speaking with great faith. God speaks: I make you into kings of kings once again. These words are accurately written in the Gita. By studying Raja Yoga we claimed the kingdom. Then, in the copper age, Ravan’s kingdom began. Ravan’s kingdom is now coming to an end and we are once again studying Raja Yoga. In other schools, they don’t say that they are studying once again. This is only in the intellects of you children. Baba says: I have come once again to teach Raja Yoga. The Mahabharat War took place at that time; the Pandavas used to listen to the Gita. You are spiritual guides. O spiritual children, that is, spiritual guides, don’t become tired. The Father says: God definitely speaks the Gita. These are the versions of God. You understand that you are studying Raja Yoga to attain the happiness of heaven. God is incorporeal. They celebrate Shiva Jayanti, which means that Shiva must have taken birth to do something. He would have given the inheritance. In the golden age, there were definitely the deities of the sun dynasty. There are many in a dynasty. Just as there were the dynasties of Edward the First, Second Third etc., so it is the same there. You children can explain the pictures very well. This Brahma says: I am not God. The One who created me must be someone else. With whom did I study? If my guru were human, there would then be hundreds of thousands who studied with him. Would it only have been this one who studied? Where did all the rest of the followers go? These are the versions of God. He has explained the significance of this and has had these pictures etc. made. Lakshmi and Narayan in their childhood were Radhe and Krishna. The God of the Gita says: I come cycle after cycle at the confluence of the cycles. There is no question of annihilation. You say that you are becoming deities once again. Shiva Jayanti is also remembered, but that didn’t happen hundreds of thousands of years ago. The Father sits here and says: There is no essence in those scriptures etc. While you have been studying them, your degrees have decreased. There are now no celestial degrees left. The Father says: No one is able to meet Me by performing devotion. I have to come. It is said that God will come in some form or other. Krishna is the prince of the golden age, whereas Shiva is incorporeal. He must definitely have entered someone. He is the Purifier, and so He must surely have come at the end of the iron age. It doesn’t seem right for Krishna to exist in the copper age. The Father says: I only come at the confluence age. I fit in this boot (Brahma). Nothing can change in this drama. They have created so much confusion. This is why the question is asked: Who is the God of the Gita? This is very essential. All the confusion arises because of that. Who is the One who transforms hell into heaven? Only the Father can carry out this task. Lakshmi and Narayan were very active. The Father says: Remember Me alone and, through this fire of yoga, your sins will be destroyed. Not everyone will understand this. Some like this very much but do not have the courage to remain pure. The sapling of the deity religion is now being planted. Those who became Brahmins a cycle ago are the ones who will become Brahmins again. No one except the Father can plant this sapling. Those who belong to the deity religion must definitely change from shudras into Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. Otherwise, how could they become deities? The variety-form image also has to be explained. Shiva too is shown above the topknot. They have removed Shiva and the Brahmin clan and just shown the deities and the warriors. The variety-form that they show is also in the form of Vishnu. The knowledge of how humans go around the cycle of 84 births has to be understood. No one else has this knowledge. The Father says: This knowledge disappears; it cannot continue for all time. Deities do not have the discus of self-realization; you have this. However, because you have not become complete, this symbol is portrayed as belonging to the deities. By spinning the discus of self-realization, by becoming as pure as a lotus flower, by blowing the conch shell, you become deities. Shiv Baba is establishing the land of Vishnu through Brahma. These aspects are not in anyone else’s intellect. God is teaching you and you are becoming the masters of the world. Therefore, how happy you should be! A student life is the best; a life of study is a good, carefree life. Afterwards, people get trapped in the web; it is a web of so many types of sorrow. In the golden age, there is no such thing. The soul leaves the body in happiness. In Ravan’s kingdom, death takes place after choking. You are happily making preparations in the consciousness that you are going to Baba. You are sitting here in order to shed your old bodies. Then, for 21 births, there will be no question of choking. You should not choke at all in this birth; you are changing from impure to pure. Stay in great happiness. Achcha, it is good that you are going from here to the subtle region. You are to become angels. You have been choking for half a cycle. You are happily preparing yourselves to go to Baba. You are becoming “choke-proof” here. There have been many sannyasis who left their bodies while just sitting somewhere and there was dead silence all around. They think that they will merge into the brahm element. However, no one goes there until the Father comes. Shiv Baba’s treasure-store (bhandara) is constantly full. It is said that all the sorrow and pain of those who eat from that treasure-store are removed. Untimely death takes place here. Anyone who comes to the treasure-store of Shiv Baba, the Purifier, will become pure. That is why this is called Brahma Bhojan, of which there is great praise. Very good yoga is also needed. Prepare food and eat it in a state of yoga and you will make a great deal of progress. Such food is filled with a lot of power. You receive a great deal of power if you eat in a state of yoga and you also remain healthy. Baba himself says: I eat in remembrance as though Baba and I are eating together. However, I still forget Baba. The body has to be shed in remembrance of the Father alone. There should be no choking. You should practi s e in this way. When you stay in remembrance of Baba, you receive peace and you also become healthy; the food becomes pure. There is the praise of your final stage: If you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and gopis. The explanation in the picture of the tree is very good. The Trimurti and the cycle are also necessary. Day by day, your name will be glorified a great deal. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to remain constantly healthy, prepare and eat food in remembrance. At the time of eating, let there be the consciousness of eating with Baba and that food will then be filled with strength.
  2. In order to become a deity, blow the conch shell and continue to spin the discus of self-realization. Make your life as pure as a lotus flower.
Blessing: : May you have pure and positive thoughts for others and transforms yourself by not worrying about the transformation of others.
To have self-transformation is to have pure and positive thoughts for others. If you forget the self and worry about the transformation of others, that is not having pure and positive thoughts. First is the self and then together with the self, are all others. If you do not transform yourself and have pure and positive thoughts for others, you cannot be successful. Therefore, by conducting yourself with discipline, transform yourself. There is only benefit in this. Even if you are unable to see any external benefit, internally you will continue to experience lightness and happiness.
Slogan: If you constantly have enthusiasm for service, small illnesses will become merged.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 6 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 8 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 7 September 2017 :- Click Here
08/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम फिर से राजयोग सीख रहे हो, तुम्हें भगवान फिर से पढ़ाते हैं, तुम राजाई के लिए यह पढ़ाई पढ़ रहे हो, अपनी एम-आब्जेक्ट सदा याद रखो”
प्रश्नः- अभी तुम बच्चे कौन सी तैयारी बहुत खुशी से कर रहे हो?
उत्तर:- तुम अपना यह पुराना शरीर छोड़ बाप के पास जाने की तैयारी बहुत खुशी-खुशी से कर रहे हो। एक बाप की ही याद में शरीर छूटे, घुटका न खाना पड़े – ऐसी प्रैक्टिस यहाँ ही करनी है। तुम्हारी अभी स्टूडेन्ट लाइफ बेपरवाह लाइफ है, इसलिए घुटका प्रूफ बनना है।
गीत:- रात के राही……

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चे पढ़ रहे हैं। स्टूडेन्ट जब पढ़ते हैं तो यह जानते हैं कि हम क्या पढ़ते हैं। पढ़ाने वाले को भी जानते हैं और एम-आब्जेक्ट उद्देश्य और प्राप्ति क्या है, वह भी अच्छी तरह से जानते हैं। अभी तुम सब जानते हो कि हम मनुष्य से देवता बन रहे हैं। इस समय हम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण बने हैं। तुम क्या पढ़ते हो? राजयोग। यह भी जानते हो हम फिर से राजयोग सीख रहे हैं और पढ़ने वाले कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि हम फिर से पढ़ रहे हैं। यहाँ तुम बच्चों को निश्चय है कि हम फिर से राजयोग सीख रहे हैं। जो 5 हजार वर्ष पहले भी सीखा था। यह ज्ञान सिर्फ तुम्हारे ही पास है। भगवान फिर से आकर पढ़ाते हैं। यह कोई कम बात थोड़ेही है। यह भी बच्चों को पता है कि भगवान एक है और भगत अनेक हैं। इससे सिद्ध होता है – बाप एक और बच्चे अनेक होते हैं। बाप को क्रियेटर तो सब मानेंगे। रचना को रचता द्वारा वर्सा मिलता है। रात को प्रश्न पूछा था ना – बाप को कैसे पहचाना जाए? बाप खुद कहते हैं हमने तुमको बच्चा बनाया है तब तो सामने बैठे हो। हम तुमको फिर से मनुष्य से देवता बना रहा हूँ, राजयोग सिखा रहा हूँ – जिससे तुम सो लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। एम-आब्जेक्ट बुद्धि में रहनी चाहिए ना। तुम्हारी बुद्धि में है लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो एक ही राज्य था। सारे विश्व पर राज्य था। तो तुम बच्चों को चित्रों पर बैठ समझाना है। हम क्या पढ़ रहे हैं। यह है एम-आब्जेक्ट, स्कूल में बच्चे पढ़ते हैं तो मात-पिता भी जानते हैं क्या पढ़ रहा है। यहाँ तुम फिर से राजाई के लिए पढ़ रहे हो। तो तुमको मित्र सम्बन्धियों को भी बतलाना पड़े। हम इस गीता पाठशाला में राजयोग सीखते हैं, जिससे हम राजाओं का राजा बनेंगे। इस पाठशाला में बूढ़े जवान बच्चे सब पढ़ते हैं। यह वन्डर है ना। पाठशाला में तो ऐसा होता नहीं इसलिए इसको सतसंग भी कहा जाता है। सतसंग में तो सब जाते हैं। परन्तु वह ऐसे नहीं कहेंगे कि हम राजयोग सीखने जाते हैं। उनको कोई भगवान तो नहीं पढ़ाते हैं। तुमको तो भगवान खुद पढ़ा रहे हैं। यह चित्र तो घर-घर में होना चाहिए। माता-पिता, मित्र सम्बन्धी जो भी आयें उनको समझाना है कि हम यह पढ़ रहे हैं। यह पढ़ाई तो बहुत सहज है। नाम ही है सहज ज्ञान, सहज राजयोग। राजा जनक को भी सेकण्ड में ज्ञान मिला और जीवनमुक्त हुआ। मनुष्य भी कहते हैं हमको जनक मिसल ज्ञान चाहिए, जो हम गृहस्थ में रहते पा सकें। यह तो बहुत ऊंच पढ़ाई है। मनुष्य से देवता बनना है। देवताओं की महिमा कितनी ऊंची है, सर्वगुण सम्पन्न… यह है मृत्युलोक। वह है अमरलोक। पतित दुनिया आसुरी, पावन दुनिया है दैवी दुनिया। पावन दुनिया में जाने लिए पवित्र बनना है। लक्ष्मी-नारायण पावन थे ना। अभी तो वह हैं नहीं। यह तो पतित राज्य है फिर से पावन बनना है। लक्ष्मी-नारायण का चित्र बहुत अच्छा है। लक्ष्मी-नारायण में सभी का प्यार रहता है, तब तो बड़े-बड़े आलीशान मन्दिर बनाते हैं। कृष्ण का तो छोटा-छोटा मन्दिर बनाते हैं। जैसे बच्चों का होता है उनको यह पता ही नहीं कि राधे-कृष्ण ही लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। तुम समझा सकते हो कि आज से 5 हजार वर्ष पहले इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य भारत में था और कोई के चित्र हैं नहीं। सूर्यवंशी डिनायस्टी मशहूर है।

लक्ष्मी-नारायण और सीता-राम की डिनायस्टी थी फिर द्वापर कलियुग होता है। अभी कलियुग का अन्त है। हम फिर से वही राजयोग सीख रहे हैं। पाँच हजार वर्ष पहले राजयोग सीख राजाई प्राप्त की थी। बरोबर वह सम्पूर्ण निर्विकारी थे। अभी पतित दुनिया है इसलिए परमपिता परमात्मा को आना होता है। गाते भी हैं पतित-पावन आओ, वह तो निराकार ठहरा ना। कृष्ण तो प्रिन्स है सतयुग का। वह कैसे आकर पावन बनायेंगे। तो समझाना पड़े कि साकार को भगवान नहीं कहेंगे। दूसरे धर्म वाले परमात्मा को निराकार मानते हैं। वही लिबरेटर, गाइड, ब्लिसफुल, गॉड फादर, सर्व का दु:ख हर्ता सुख कर्ता है। बाप जब दु:ख हरते हैं तो सुख भी देते होंगे ना। तुम मित्र सम्बन्धियों आदि को समझा सकते हो। वहाँ तो वेद शास्त्र अनेक मनुष्य सुनाते हैं। यहाँ तो सब सुनते ही एक से हैं। बाप कहते हैं तुम मेरे से ही सुनो। भगवानुवाच – जरूर किस तन में आयेगा ना। गाया हुआ है ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण रचे। हम ब्रह्माकुमार कुमारियाँ हैं – 5 हजार वर्ष पहले भी संगम पर ब्रह्मा मुख कमल से ब्राह्मण रचे गये, जो ब्राह्मण फिर देवता बने थे। अभी हम शूद्र से ब्राह्मण बन फिर देवता बनेंगे। हम फिर से राजयोग सीख रहे हैं। कल्प पहले भी सीखे थे। समझेंगे यह तो बड़े निश्चय से बोलते हैं। भगवानुवाच – मैं तुमको फिर से राजाओं का राजा बनाता हूँ। अक्षर तो बरोबर गीता में हैं। राजयोग से हमने राजाई पाई फिर द्वापर में रावणराज्य शुरू हुआ। अभी रावण राज्य पूरा होता है, हम फिर से राजयोग सीख रहे हैं, और पाठशालाओं में ऐसे नहीं कहते हैं कि हम फिर से पढ़ रहे हैं। यह तो बच्चों की ही बुद्धि में है। कहते हैं कि मैं फिर से राजयोग सिखाने आया हूँ। उस समय महाभारत लड़ाई लगी थी। पाण्डव गीता सुनते थे।

तुम हो रूहानी पण्डे। हे रूहानी बच्चे अथवा रूहानी पण्डे थक मत जाना। बाप कहते हैं ना – गीता जरूर भगवान ही सुनायेंगे ना। है भी भगवानुवाच। तुम जानते हो हम स्वर्ग के सुख पाने के लिए राजयोग सीख रहे हैं। भगवान है ही निराकार। शिव जयन्ति मनाते हैं तो जरूर जन्म लेकर कुछ किया होगा ना। वर्सा दिया होगा। बरोबर सतयुग में सूर्यवंशी देवता थे। डिनायस्टी में तो बहुत होते हैं ना। जैसे एडवर्ड दी फर्स्ट, सेकेण्ड, थर्ड… उन्हों की भी डिनायस्टी चलती है। यह भी ऐसे है। तुम बच्चे चित्रों पर अच्छी रीति समझा सकते हो। यह (ब्रह्मा) कहते हैं – मैं थोड़ेही भगवान हूँ। बनाने वाला तो दूसरा होगा ना। मैं कहाँ से सीखा? अगर हमारा मनुष्य गुरू होता तो गुरू से लाखों करोड़ों सीखने वाले चाहिए। सिर्फ यही सीखा क्या? और सब चेले कहाँ गये? यहाँ तो है ही भगवानुवाच। उसने यह राज़ समझाया है। यह चित्र कैसे बैठ निकलवाये हैं। लक्ष्मी-नारायण बचपन में राधे कृष्ण थे। गीता का भगवान कहते हैं – मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुग पर आता हूँ। प्रलय की तो बात ही नहीं। तुम भी कहते हो हम फिर से देवता बन रहे हैं। शिव जयन्ति भी गाई जाती है। लाखों वर्ष तो नहीं हुए। बाप बैठ समझाते हैं इन शास्त्रों आदि में कोई सार नहीं है, यह पढ़ते-पढ़ते तुम्हारी कला उतरती गई है। अभी तो कोई कला नहीं रही है। बाप कहते हैं भक्ति से कोई भी मेरे से मिल नहीं सकता। मुझे आना ही पड़ता है। तुम कहते हो भगवान किस न किस रूप में आयेगा। कृष्ण तो है ही सतयुग का प्रिन्स। शिव तो है निराकार। वह जरूर किसमें आया होगा। पतित-पावन है तो जरूर कलियुग के अन्त में आया होगा। कृष्ण को द्वापर में ले गये हैं, यह तो शोभता नहीं। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ संगम पर। इस बूट (ब्रह्मा) में मैं फिट होता हूँ। ड्रामा में कोई चेन्ज नहीं हो सकती। रोला कितना कर दिया है इसलिए प्रश्न पूछा जाता है – गीता का भगवान कौन? यह बड़ी जरूरी बात है। इसी में सारा रोला है। नर्क को पलटने और स्वर्ग बनाने वाला कौन? बाप ही कर सकते हैं। लक्ष्मी-नारायण कितने एक्टिव थे। बाप कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो तो इस योग अग्नि से विकर्म विनाश हो जायेंगे। सब तो नहीं समझेंगे। कोई को अच्छा लगता है परन्तु पवित्र रहने की हिम्मत नहीं रखते हैं। अभी देवी-देवता धर्म का सैपलिंग लग रहा है। जो कल्प पहले ब्राह्मण बने होंगे, वही बनेंगे। यह कलम बाप के सिवाए कोई लगा नहीं सकता। देवता धर्म वालों को शूद्र से ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण जरूर बनना पड़ेगा। नहीं तो देवता कैसे बनेंगे। विराट रूप पर समझाना होता है। चोटी के ऊपर शिव भी दिखाते हैं। उन्होंने शिव को और ब्राह्मण वर्ण को उड़ा दिया है। बाकी देवता, क्षत्रिय… दिखा दिये हैं। विराट रूप दिखाते भी विष्णु के रूप में हैं। यह नॉलेज समझने की है। मनुष्य कैसे 84 जन्मों का चक्र लगाते हैं, और कोई यह नॉलेज नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं यह नॉलेज ही प्राय:लोप हो जाती है, परम्परा चल न सके। स्वदर्शन चक्र देवताओं को नहीं है। यह तुमको है। परन्तु तुम तो सम्पूर्ण बने नहीं हो। तो निशानी देवताओं को दे दी है। स्वदर्शन चक्र फिराते, कमल पुष्प समान बनते, शंखध्वनि करते तुम देवता बन जायेंगे। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा विष्णुपुरी स्थापन कर रहे हैं। यह बातें कोई की बुद्धि में नहीं हैं। भगवान पढ़ाते हैं, हम विश्व के मालिक बनते हैं तो कितना न हर्षित होना चाहिए। स्टूडेन्ट लाइफ इज़ दी बेस्ट। पढ़ाई की लाइफ बेपरवाह अच्छी रहती है। पीछे तो जाल में फँस जाते हैं। कितने दु:ख की जाल है। सतयुग में कोई बात नहीं। खुशी-खुशी से शरीर छोड़ते हैं। घुट-घुट कर मरना रावणराज्य में होता है। तुम खुशी से तैयारी कर रहे हो कि हम कब बाबा के पास जायें, बैठे ही इसलिए हैं। पुराना शरीर छोड़ जायें। फिर 21 जन्म घुटका खाने की बात नहीं। इस जन्म में घुटका बिल्कुल नहीं खाना है, पतित से पावन बन रहे हैं। बहुत खुशी में रहना है।

अच्छा यहाँ से सूक्ष्मवतन में जाते हैं, वह भी अच्छा है। फरिश्ता तो बनना है। आधाकल्प तो घुटका खाते आये हैं। अब बाबा के पास जायें। खुशी से तैयारी कर रहे हैं। घुटका प्रूफ यहाँ बनना है। ऐसे सन्यासी भी बहुत होते हैं जो बैठे-बैठे शरीर छोड़ देते हैं। सन्नाटा हो जाता है। समझते हैं हम ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। जाते तो कोई नहीं – जब तक बाप न आये। शिवबाबा का भण्डारा भरपूर है। कहते हैं ना – जिस भण्डारे से खाया वह भण्डारा भरपूर काल कंटक दूर… यहाँ तो अकाले मृत्यु होती रहती है। पतित-पावन शिवबाबा के भण्डारे में जो आता है वह पावन बन जाता है, इसलिए इसको ब्रह्मा भोजन कहा जाता है। इनकी बड़ी महिमा है। योग भी बड़ा अच्छा चाहिए। योग में रह भोजन बनाओ और खाओ तो तुम्हारी बहुत अच्छी उन्नति होगी। उस भोजन में बहुत ताकत आ जाती है। योग में रह तुम भोजन खाओ तो बहुत ताकत मिलेगी और तन्दरूस्त भी रहेंगे। बाबा खुद कहते हैं कि हम बाबा की याद में बैठे जैसेकि हम और बाबा खाते हैं, परन्तु फिर भी भूल जाता हूँ। एक बाप की याद में ही शरीर छूटे, कोई घुटका नहीं आये, ऐसी प्रैक्टिस करनी चाहिए। बाबा की याद में रहने से एक तो शान्ति रहेगी और हेल्दी बनेंगे। भोजन पवित्र हो जायेगा। अन्त का गायन है अतीन्द्रिय सुख गोप-गोपियों से पूछो। झाड़ में समझानी बहुत अच्छी है। त्रिमूर्ति और गोला भी जरूरी है। दिन-प्रतिदिन तुम्हारा नाम बहुत बाला होता जायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा तन्दरूस्त रहने के लिए याद में रहकर भोजन बनाना वा खाना है। भोजन करते समय स्मृति रहे – हम बाबा के साथ खा रहे हैं तो भोजन में ताकत भर जायेगी।

2) देवता बनने के लिए शंखध्वनि करनी है। स्वदर्शन चक्र फिराते रहना है। कमल फूल समान पवित्र जीवन बनाना है।

वरदान:- दूसरों के परिवर्तन की चिंता छोड़ स्वयं का परिवर्तन करने वाले शुभ चिंतक भव 
स्व परिवर्तन करना ही शुभ चिंतक बनना है। यदि स्व को भूल दूसरे के परिवर्तन की चिंता करते हो तो यह शुभचिंतन नहीं है। पहले स्व और स्व के साथ सर्व। यदि स्व का परिवर्तन नहीं करते और दूसरों के शुभ चिंतक बनते हो तो सफलता नहीं मिल सकती इसलिए स्वयं को कायदे प्रमाण चलाते हुए स्व का परिवर्तन करो, इसी में ही फायदा है। बाहर से कोई फायदा भल दिखाई न दे लेकिन अन्दर से हल्कापन और खुशी की अनुभूति होती रहेगी।
स्लोगन:- सेवाओं का सदा उमंग है तो छोटी-छोटी बीमारियां मर्ज हो जाती हैं।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 6 September 2017 :- Click Here

Font Resize