today murli 8 january

TODAY MURLI 8 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 January 2019 :- Click Here

08/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to become pure, it is essential to have the pilgrimage of remembrance. This is the main subject. When you have the power of yoga you can become serviceable and virtuous.
Question: How is the yoga that you children study unique?
Answer: Until today, all the yogas that people have been studying and teaching one another have been yogas that connect human beings with human beings. However, we are now having yoga with the incorporeal One. When incorporeal souls remember the incorporeal Father, that is unique. People in the world remember God, but they do that without having His introduction. To remember anyone without knowing his occupation is devotion. Knowledgeable children have remembrance while having His introduction.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you children. You children have first of all received the Father’s introduction. When a baby is born, he first receives the introduction of his parents. You too have received the introduction of the Father, the Creator, numberwise, according to the effort you make. You children know that only the Father is the Highest on High, so you also have to tell others His praise. You sing the praise: Salutations to Shiva. To say “Salutations to Brahma” and “Salutations to Vishnu” doesn’t seem right. It seems right to say “Salutations to Shiva”. It seems right to say: Salutations to the deity Brahma, salutations to the deity Vishnu. They have to be called deities. God is the Highest on High. When someone comes, first of all, you definitely have to tell him the Father’s praise. He is the Supreme Father. Children forget how to relate the Father’s praise. First of all, explain that He is the Supreme Father, the Teacher and also the Satguru. All three have to be remembered. In fact, you have to remember Shiv Baba alone in all three forms. You have to make this firm. You know the Father’s praise and this is why you praise Him. They have said that the highest-on-high Father is in the pebbles and stones. They also say that He is in a human form. However, He cannot stay constantly in a human body. He simply takes it on loan. He Himself says: I take the support of this one’s body. So, make the first thing firm, that the Father is the Truth. He alone tells you the story of the true Narayan. Only the true Father changes you from an ordinary man into Narayan. In the golden age, there was the kingdom of Lakshmi and Narayan. It is only now that you understand how they became that, who made them that, when the story was told and when Raja Yoga was taught. All other types of yoga are those of human beings with human beings. They don’t have any type of yoga in which human beings have yoga with the incorporeal One or know His introduction. Nowadays, although people do have yoga with Shiva and they also worship Him, no one knows Him. They don’t even understand that Prajapita Brahma would definitely be in the corporeal world. They are confused; they think that Prajapita Brahma should first of all be in the golden age. If Prajapita Brahma exists in the golden age, why have they shown him in the subtle region? They don’t understand the meaning of that. This corporeal one is in the bondage of karma whereas that subtle being is karmateet. No one has this knowledge. Only the one Father gives you knowledge. When He comes and gives you knowledge, it is then that you can give it to others. It is very easy to give others the Father’s introduction. You just have to explain Alpha. That One is the unlimited Father of all souls. It is not difficult to give anyone His introduction; it is very easy. However, if you don’t have that faith or practice, you are unable to explain to others. If you don’t give knowledge to anyone, it means that you don’t have knowledge yourself. If there isn’t knowledge, then it is devotion; there is body consciousness. Only those who are soul conscious would have knowledge. I am a soul and my Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father, Teacher and Satguru too. There is also Prajapita Brahma. The Father has told you the occupation of Prajapita Brahma and also of Himself. People have mixed up Shiva and Shankar and said that both are one. They say that destruction took place when Shankar opened his eye. Destruction will take place through bombs and natural calamities. They say: Shiva, Shankar, Mahadev! Those pictures are not accurate. All of those pictures belong to the path of devotion. There isn’t anything like that there. Prajapita Brahma too is a bodily being. He has so many children. So all of those pictures are for worshipping. The Father has explained to you: This one (Brahma) is corporeal (vyakt) and that one is subtle (avyakt). When he becomes avyakt, he becomes an angel. There are definitely both places: the incorporeal world and the subtle region. You also go to the subtle region. The Father has explained that Prajapita Brahma who is a human being then becomes an angel. Then, he was also shown the kingdom. He will rule there. It would be difficult to explain without the pictures of the subtle region. In fact, the four-armed image of Vishnu doesn’t really exist. That is a picture of the path of devotion. The Father explains that it is the soul that has to become pure from impure. Souls will become pure and go back to their land. Souls reside in the incorporeal world and become corporeal here. However, there isn’t an important story told in the subtle region. Only at this time does the Father explain to you the secrets of the subtle region. So, there are the incorporeal world, the subtle region and then the corporeal world. Therefore, first of all, give everyone the Father’s introduction. People on the path of devotion call out to Baba “Oh God! Oh Prabhu!” but they don’t know Him. “Salutations to the Supreme Soul Shiva” is always said. “Deity Shiva” is never said. “Deity Brahma” is said. Shiva is only called the Supreme Father, the Supreme Soul. Deity Shiva is never said. It is, “The Supreme Soul, Shiva”, that is said. He cannot be called omnipresent. He has to carry out the task of making impure ones pure. Therefore, could He do that by entering the pebbles and stones? That is called extreme darkness. This too is fixed in the drama. The Father comes and explains when there is extreme unrighteousness. Defamation of whom? Those people simply recite the verses and then relate their meaning. You children should go to them and see them do that. You should tell them: We will explain the meaning of this to you. Then, straight away, give them this knowledge. They would not realise that you are BKs. Although you dress in white, you don’t have a stamp on you. You can go and listen to them anywhere and ask them to tell you the meaning of what they say. Then, see what they tell you. All of these pictures are for understanding the detail s. There is a lot of knowledge. Even if you were to make the ocean into ink, there would be no end to knowledge. Then, you are also told about it taking just a second. You just have to give the Father’s introduction. That same unlimited Father is the Creator of heaven. All of us, His children, are brothers. So, we too should definitely have the kingdom of heaven. However, not everyone can receive that. The Father only comes in Bharat and it is only the people of Bharat who become residents of heaven. Others come later. This is very easy, but they don’t understand. Baba is amazed. One day, even dancers etc. will come and listen. Those who come at the end will become cleverer. Anyone can go and serve them too. Many of you are too embarrassed. There is a lot of body consciousness. Baba says: You also have to explain to the prostitutes. They are the ones who have degraded the name of Bharat. The main thing needed here is the power of yoga. Everyone is completely impure and so the pilgrimage of remembrance is needed to become pure. That power of remembrance is slightly lacking at present. Some have knowledge, but they lack remembrance. This is a difficult subject. Only when you pass in this can you uplift those without virtues. The good, experienced mothers can go and explain to them. Kumaris don’t have that experience; mothers can explain to them. The Father says: Become pure and you will become the masters of the world. The world itself will become Shivalaya. The golden age is called Shivalaya. There is plenty of happiness there. You can also tell them: The Father says: Now make a promise to remain pure. The sword to make such impure ones pure has to be very sharp. Perhaps there is still time for this. Your explaining is numberwise. Baba knows that not all of those living at the centres are the same. There is the difference of day and night among those who go out on service. So, first of all, when you explain to anyone, first give them the Father’s introduction. Praise the Father. No one except the Father can have all these virtues. He alone makes you virtuous. The Father Himself establishes the golden age. This is now the confluence age when you become the most elevated. He sits here and tells you souls: Explain that the body belongs to the soul. To whatever extent someone understands, that becomes visible on his face. The faces of those who are moody change completely. When you sit here considering yourselves to be souls your faces will remain good. This also has to be practised. Those who live at home with their family are not able to take this leap as much because they have their mundane business to do. Only when they practise this fully while walking, sitting and moving around can they become firm. Only by having remembrance do you become pure. To the extent that you souls stay in yoga, accordingly you become pure. In the golden age, you were satopradhan and so you were very happy. You are now laughing and enjoying yourselves at the confluence age. Therefore, now that you have found the unlimited Father, what more do you want? You have to surrender yourselves to the Father. Scarcely any wealthy ones emerge. Only poor ones receive this. The drama is created in this way. Gradually, there will continue to be expansion. A handful out of multimillions become beads of the rosary of victory. However, the subjects have to be created, numberwise. So many will be created. There will be all types: wealthy and poor. A whole kingdom is being established. All the rest will go back to their own section s. So, the Father explains: Children, you also have to imbibe divine virtues. Your food and drink also have to be good. You should never want to eat something in particular. Those desires arise here. Baba has seen many ashrams of those who are in the stage of retirement. They live there very peacefully. Here, the Father explains all of these unlimited things. Prostitutes and those without virtues will come and become even cleverer than you. They will sing such first-class songs that your mercury of happiness will rise. Only when you explain to those who have fallen very far down and make them elevated will your name be glorified. They will say: You also make the prostitutes so elevated. They themselves would say: We were shudras, we have now become Brahmins and we will then become deities and then warriors. Baba can understand about everyone as to whether they will be able to progress or not. Those who come at the end can go ahead of them. As you progress further, you will see everything. You see it even now. New children have so much enthusiasm for service. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do the service of making impure ones pure. Give knowledge to the prostitutes and those without virtues and uplift those who have fallen. Only when you uplift them will your name be glorified.
  2. In order to make your vision pure, practise while walking and moving around: “I am a soul, I am speaking to a soul.” Stay in remembrance of the Father and you will become pure.
Blessing: May you stay in solitude and by having a minute of a concentrated stage, have a powerful experience and give others that too.
To be in solitude means to stabilise yourself in a powerful stage. You can stabilise yourself in the seed stage, you can become a light-and-might house and give light and might to the world or you can give others the experience of the avyakt stage by stabilising in the angelic stage. If you become concentrated and stabilise yourself in this stage for a minute or a second, you can benefit yourself and others a great deal. You simply need to practise this.
Slogan: A Brahmachari is one in whose every thought and word are merged the vibration s of purity.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

In order to experience the angelic stage the same as Father Brahma, while performing actions, every now and then exercise your mind with incorporeal and angelic forms. You saw Father Brahma in the corporeal form – he was always double light. He didn’t have any burden even of service. In the same way, followthe Father and you will easily become equal to the Father.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 January 2019

To Read Murli 7 January 2019 :- Click Here
08-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – पावन बनने के लिए याद की यात्रा बहुत ज़रूरी है, यही मुख्य सबजेक्ट है, इस योगबल से तुम सर्विसएबुल गुणवान बन सकते हो।”
प्रश्नः- तुम बच्चे जो योग सीखते हो यही सबसे निराला योग है कैसे?
उत्तर:- आज तक जो योग सीखते या सिखाते आये वह मनुष्यों का मनुष्यों के साथ योग जुटा। लेकिन अभी हम निराकार के साथ योग लगाते हैं। निराकार आत्मा निराकार बाप को याद करे – यह है सबसे निराली बात। दुनिया में कोई भगवान को याद भी करते तो बिगर परिचय। आक्यूपेशन के बिना किसी को याद करना यह भक्ति है। ज्ञानवान बच्चे परिचय सहित याद करते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। बच्चों को पहले-पहले तो बाप का परिचय मिला है। छोटा बच्चा पैदा होता है तो उनको पहले-पहले माँ बाप का परिचय मिलता है। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार हैं, जिनको रचता बाप का परिचय मिला है। यह भी बच्चे जानते हैं ऊंच ते ऊंच बाप ही है, उनकी ही महिमा बतानी है। महिमा गाते भी हैं शिवाए नम:, ब्रह्मा नम:, विष्णु नम: शोभता नहीं। शिवाए नम: शोभता है। ब्रह्मा देवता नम:, विष्णु देवताए नम: अक्षर शोभता है। उन्हों को देवता कहना पड़े। ऊंच ते ऊंच है भगवान। जब कोई आते हैं तो पहले-पहले बाप की महिमा ज़रूर बतानी है। वह सुप्रीम बाप है। बच्चे भूल जाते हैं कि बाप की महिमा कैसे सुनायें। पहले तो यह समझाना है कि वह सुप्रीम बाप है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। तीनों को याद करना पड़े। यूँ तो याद शिवबाबा को ही करना है – तीनों रूप में। यह तो पक्का करना पड़े। तुम बाप की महिमा को जानते हो, तब तो करते हो। उन्होंने तो ऊंचे ते ऊंच बाप को ठिक्कर भित्तर में कह दिया है। मनुष्य में भी कह देते हैं लेकिन मनुष्य तन में भी सदैव तो रह नहीं सकते। वह तो सिर्फ लोन लेते हैं। वह खुद कहते हैं मैं इनके तन का आधार लेता हूँ। तो पहली बात पक्की करनी है कि बाप है सत्य। वही सत्य नारायण की कथा सुनाते हैं। नर से नारायण सत्य बाप ने बनाया है। सतयुग में इन लक्ष्मी-नारायण का ही राज्य था। वह कैसे बने? किसने बनाया? कब कथा सुनाई? कब राजयोग सिखाया? यह सब तुम अभी समझते हो। और सब योग होते हैं मनुष्यों के मनुष्यों के साथ। ऐसा होता नहीं जो मनुष्य का योग निराकार के साथ हो, वह भी परिचय से। आजकल भल शिव से योग लगाते हैं, पूजा करते हैं परन्तु जानते उनको कोई नहीं। यह भी नहीं समझते कि प्रजापिता ब्रह्मा ज़रूर साकार दुनिया पर होगा। मूँझे हुए हैं। समझते हैं प्रजापिता ब्रह्मा तो पहले-पहले सतयुग में होना चाहिए। अगर सतयुग में प्रजापिता ब्रह्मा हो तो फिर सूक्ष्मवतन में क्यों दिखाया है? अर्थ नहीं समझते। यह साकार है कर्मबन्धन में, वह सूक्ष्म है कर्मातीत। यह ज्ञान कोई में भी नहीं है। ज्ञान देने वाला एक बाप ही है। वह जब आकर ज्ञान दे तब तुम दूसरों को सुनाओ। बाप का किसको परिचय देना बहुत सहज है। अल्फ पर ही समझाना है। यह सभी आत्माओं का बेहद का बाप है। किसको परिचय देने में कोई तकलीफ नहीं है। बहुत सहज है। परन्तु निश्चय नहीं, प्रैक्टिस नहीं तो किसको समझा नहीं सकते। किसको ज्ञान नहीं देते तो गोया अज्ञानी है। ज्ञान नहीं तो भक्ति है ना। देह-अभिमान है। ज्ञान होगा ही देही-अभिमानी में। हम आत्मा हैं, हमारा बाप परमपिता परमात्मा वही बाप, टीचर, सतगुरू भी है। प्रजापिता ब्रह्मा भी है ना। बाप ने प्रजापिता ब्रह्मा का आक्यूपेशन भी बताया है। तो अपना भी आक्यूपेशन बताया है। मनुष्यों ने तो शिव और शंकर को मिलाकर एक कर दिया है। कहते हैं शंकर ने ऑख खोली तो विनाश हो गया। अब विनाश तो बाम्बस से, नैचुरल कैलेमिटीज़ से होता है। शिव शंकर महादेव कहते हैं। यह चित्र कोई यथार्थ नहीं है। यह सब भक्ति मार्ग के चित्र हैं। वहाँ ऐसी कोई बात नहीं। प्रजापिता ब्रह्मा भी देहधारी है। कितने ढेर बच्चे हैं। तो यह सब चित्र पूजा के लिए ही हैं। बाप ने समझाया है यह व्यक्त वह अव्यक्त। जब अव्यक्त बने हैं तो फरिश्ता हो जाते हैं। मूलवतन, सूक्ष्मवतन दोनों ही हैं ज़रूर। सूक्ष्मवतन में भी जाते हैं। बाप ने समझाया है प्रजापिता ब्रह्मा जो मनुष्य है वही फरिश्ता बनता है। फिर राजाई का भी उसमें दिखाया है। फिर यह राज्य करेंगे। सूक्ष्मवतन के चित्र न हो तो समझाने में मुश्किलात हो। वास्तव में विष्णु का चतुर्भुज रूप भी है नहीं। यह हैं भक्ति मार्ग के चित्र। बाप समझाते हैं आत्मा को ही पतित से पावन बनना है। पवित्र बनकर चली जायेगी अपने धाम। आत्मायें निराकारी दुनिया में रहती हैं, साकारी हैं यहाँ। बाकी सूक्ष्मवतन की कोई मुख्य कहानी है नहीं। सूक्ष्मवतन का राज़ भी बाप अभी समझाते हैं। तो मूलवतन, सूक्ष्मवतन फिर है स्थूलवतन। तो पहले सबको बाप का परिचय देना है। भक्ति मार्ग में भी बाबा को हे भगवान, हे प्रभू कहते हैं। सिर्फ जानते नहीं। हमेशा कहते हैं शिव परमात्माए नम:, शिव देवता कभी नहीं कहेंगे। ब्रह्मा देवता कहेंगे। शिव को परमपिता परमात्मा ही कहते हैं। शिव देवता कभी नहीं कहेंगे, शिव परमात्मा ही कहेंगे। उनको फिर सर्वव्यापी थोड़ेही कहा जाता है। पतितों को पावन बनाने का कर्तव्य करना है तो क्या भित्तर ठिक्कर में जाकर करेंगे? इसको ही घोर अन्धियारा कहा जाता है। यह भी ड्रामा में नूँध है।

बाप आकर समझाते हैं यदा यदाहि.. किसकी ग्लानी? वो लोग तो श्लोक सुनाकर फिर अर्थ सुनाते हैं। यह तो तुम बच्चों को वहाँ जाकर देखना चाहिए। बोलना चाहिए कि हम इनका अर्थ समझाते हैं। फिर फट से बैठ सुनाना चाहिए। ऐसे थोड़ेही समझेंगे कि यह बी.के. हैं। भल स़फेद ड्रेस है परन्तु छापा थोड़ेही लगा हुआ है। तुम कहाँ भी जाकर सुन सकते हो और कह सकते हो इसका अर्थ तो बताओ। देखो वह क्या सुनाते हैं। बाकी यह इतने सब चित्र तो डीटेल समझने के हैं। अथाह ज्ञान है। सागर को स्याही बनाओ.. तो भी अन्त नहीं। फिर सेकेण्ड की भी बात सुनाई, सिर्फ बाप का परिचय देना है। वही बेहद का बाप स्वर्ग का रचयिता है। हम सभी उनके बच्चे ब्रदर्स हैं। तो हमको भी जरूर स्वर्ग का राज्य होना चाहिए, परन्तु सबको मिल न सके। बाप आते ही हैं भारत में और भारत-वासी ही स्वर्गवासी बनते हैं। दूसरे तो आते ही पीछे हैं। यह तो बहुत सहज है, परन्तु समझते नहीं हैं। बाबा को तो वन्डर लगता है। एक दिन गणिकायें आदि भी आकर सुनेंगी। पिछाड़ी में आने वाले तीखे हो जायेंगे। वहाँ भी कोई जाकर सर्विस कर सकते हैं। बहुतों को लज्जा आती है, देह-अभिमान बहुत है। बाबा कहते हैं वेश्याओं को भी समझाना है। भारत का नाम भी उन्हों ने ही गिराया है। इसमें मुख्य चाहिए योगबल। बिल्कुल ही पतित हैं, पावन होने के लिए याद की यात्रा चाहिए। अभी वह याद का बल कुछ कम है। किसमें ज्ञान है तो फिर याद कम है। डिफीकल्ट सबजेक्ट है, इनमें जब पास हों तब गणिकाओं का उद्धार कर सकें। अच्छी-अच्छी अनुभवी मातायें जाकर समझायें। कन्याओं को तो अनुभव नहीं। मातायें समझा सकती हैं। बाप कहते हैं पवित्र बनो तो विश्व के मालिक बन जायेंगे। दुनिया ही शिवालय बन जायेगी। सतयुग को शिवालय कहा जाता है, वहाँ अथाह सुख हैं। उन्हों को भी ऐसे समझाओ कि बाप कहते हैं अब प्रतिज्ञा करो पवित्र बनने की। ऐसे पतितों को पावन बनाने की तलवार बहुत तीखी चाहिए। इसमें शायद अभी देरी है। समझाने में भी नम्बरवार हैं। सेन्टर पर रहते हैं। बाबा जानते हैं सब एकरस नहीं हैं। सर्विस पर जो जाते हैं उनमें रात दिन का फर्क है। तो पहले जब किसको समझाओ तो बाप का ही परिचय दो। बाप की ही महिमा करो। इतने गुण सिवाए बाप के और किसके हो नहीं सकते। वही गुणवान बनाते हैं। बाप ही सतयुग की स्थापना करते हैं। अभी यह है संगमयुग जबकि तुम पुरुषोत्तम बन रहे हो। तुम आत्माओं को बैठ समझायेंगे। यह तो समझाते हो आत्मा का ही शरीर है। कहाँ तक कोई समझते हैं यह शक्ल से मालूम पड़ता है। कोई मूडी होते हैं तो सारी शक्ल ही बदल जाती है। आत्मा समझ बैठेंगे तो शक्ल भी अच्छी रहेगी। यह भी प्रैक्टिस होती है। घर गृहस्थ में रहने वाले इतने उछल नहीं सकते क्योंकि गोरखधन्धा लगा पड़ा है। पूरा अभ्यास करें तब चलते-फिरते, उठते-बैठते पक्के हों। याद से ही तुम पावन बनते हो। आत्मा जितना योग में रहती उतना पावन बनती है। सतयुग में तुम सतोप्रधान थे तो बहुत खुश थे।

अभी संगम पर तुम हंसते बहलते रहते हो, बेहद का बाप मिला बाकी क्या चाहिए। बाप पर तो कुर्बान होना है। साहूकार कोई मुश्किल निकलते हैं। गरीबों को ही मिलता है, ड्रामा ही ऐसा बना हुआ है। धीरे-धीरे वृद्धि को पाते रहेंगे। कोटों में कोई विजय माला का दाना बनते हैं। बाकी प्रजा तो बननी ही है नम्बरवार। कितने ढेर बन जायेंगे। साहूकार गरीब सब होंगे। यह पूरी राजधानी स्थापन हो रही है। बाकी सब अपने-अपने सेक्शन में चले जायेंगे। तो बाप समझाते हैं बच्चों को दैवीगुण भी धारण करने हैं। तुम्हारा खान-पान भी अच्छा चाहिए। तुम्हें कभी यह आश नहीं रखनी है कि मैं फलानी चीज़ खाऊं। यह आशायें यहाँ होती हैं। बाबा के बड़े-बड़े वानप्रस्थियों के आश्रम देखे हुए हैं। बड़ी शान्ति से रहते हैं। यहाँ तो यह बेहद की बातें सब बाप समझाते हैं। वेश्यायें, गणिकायें भी ऐसी-ऐसी आयेंगी जो तुम से भी तीखी हो जायेंगी। बड़े फर्स्टक्लास गीत गायेंगी, जो सुनते ही खुशी का पारा चढ़ जायेगा। जब ऐसे गिरे हुए को तुम समझाकर श्रेष्ठ बनाओ तब तुम्हारा नाम भी बहुत ऊंचा होगा। कहेंगे यह तो वेश्याओं को भी इतना ऊंच बनाती हैं। खुद ही कहेंगे हम शूद्र थे, अब ब्राह्मण बने हैं, फिर हम सो देवता, क्षत्रिय बनेंगे। बाबा हर एक को समझ सकते हैं कि यह कुछ उन्नति को पायेंगे वा नहीं। पिछाड़ी में आने वाले उनसे आगे चढ़ जायेंगे। आगे चलकर तुम सब देखेंगे। अब भी देख रहे हो। नये बच्चे सर्विस में कितने उछलते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पतितों को पावन बनाने की सेवा करो, गणिकाओं, वेश्याओं को ज्ञान दो, गिरे हुए को उठाओ, उनका उद्धार करो तब नाम बाला हो।

2) स्वयं की दृष्टि को पवित्र बनाने के लिए चलते फिरते अभ्यास करो कि हम आत्मा हैं, आत्मा से बात करते हैं। बाप की याद में रहो तो पावन बन जायेंगे।

वरदान:- एक मिनट की एकाग्र स्थिति द्वारा शक्तिशाली अनुभव करने कराने वाले एकान्तवासी भव
एकान्तवासी बनना अर्थात् कोई भी एक शक्तिशाली स्थिति में स्थित होना। चाहे बीजरूप स्थिति में स्थित हो जाओ, चाहे लाइट माइट हाउस की स्थिति में स्थित हो विश्व को लाइट माइट दो, चाहे फरिश्ते पन की स्थिति द्वारा औरों को अव्यक्त स्थिति का अनुभव कराओ। एक सेकण्ड वा एक मिनट भी अगर इस स्थिति में एकाग्र हो स्थित हो जाओ तो स्वयं को और अन्य आत्माओं को बहुत लाभ दे सकते हो। सिर्फ इसकी प्रैक्टिस चाहिए।
स्लोगन:- ब्रह्माचारी वह है जिसके हर संकल्प, हर बोल में पवित्रता का वायब्रेशन समाया हुआ है।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

ब्रह्मा बाप समान फरिश्ता स्थिति का अनुभव करने के लिए कर्म करते बीच-बीच में निराकारी और फरिश्ता स्वरूप यह मन की एक्सरसाइज़ करो। जैसे ब्रह्मा बाप को साकार रूप में देखा, सदा डबल लाइट रहे, सेवा का भी बोझ नहीं रहा। ऐसे फॉलो फादर करो तो सहज ही बाप समान बन जायेंगे।

TODAY MURLI 8 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 January 2018 :- Click Here

08/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the more you relate knowledge to others, the more knowledge will become refined in your intellects. Therefore, definitely do service.
Question: What two types of children does the Father have? What is the difference between the two?
Answer: The Father has stepchildren and real children. Stepchildren simply say, “Baba, Mama”, through their mouths, but they are unable to follow shrimat fully; they don’t surrender themselves fully. Real children completely surrender themselves with their bodies, minds and wealth, that is, they become trustees. They continue to follow shrimat at every step. Because of not doing service, stepchildren fall while moving along; they develop doubts. Real children have full faith in their intellects.
Song: Do not forget the days of your childhood.

Om shanti. The Father explains to the children. Which Father? In fact, both fathers: one is the spiritual Father who is called Baba and the other is the physical father who is called Dada. Children at all the centre s know that they are the children of BapDada. Shiva is the spiritual Father. He is the Father of all of you souls and Brahma Dada is the head of the human genealogical tree. You have come and become his children. Some of you are truly real children whereas others are still stepchildren. Both say “Mama, Baba”, but stepchildren are unable to surrender themselves. Those who don’t surrender themselves are unable to receive that much strength, that is, they’re unable to make the Father the trustee of their bodies, minds and wealth. They’re unable to follow His shrimat in order to become elevated. Real children receive subtle help, but there are very few of those. Although there are real children, not until the results are announced would they also be called really firm ones. Although they even live here and are very good and also do service, even they still fall. This is all a question of the intellect’s yoga. You mustn’t forget Baba. Baba is making this Bharat into heaven with the help of you children. The Shiv Shakti Army is remembered. Each one of you has to talk to yourself: We are truly the adopted children of Shiv Baba. We are claiming our inheritance of heaven from the Father. The inheritances we have been receiving from the copper age from physical fathers were only those of hell. We continued to become unhappy. On the path of devotion, there is just blind faith and since devotion began and as the years passed we have only continued to come down. Devotion too was at first unadulterated. They used to worship only the One. Now, instead of that, they worship many. None of the rishis, munis, sages or holy men know when devotion began. The night and day of Brahma is mentioned in the scriptures. Although Brahma and Saraswati become Lakshmi and Narayan, they have mentioned Brahma’s name. Together with Brahma there are also many children. There wouldn’t be many children of Lakshmi and Narayan; he would not be called Prajapita. New people are being created now. The new creation (people) are Brahmins. It is Brahmins who consider themselves to be the children of God. Deities would not consider themselves to be that; they are not even aware of the cycle. You know that you have now become the children of Shiv Baba. He has explained to us the cycle of 84 births. With His help, we are once again making Bharat into the pure, divine Rajasthan (Land of Kings). This is something to be clearly understood. One needs courage to explain this. You are the Shiv Shakti Pandava Army. You are also guides: you show everyone the path. No one, apart from you, can show the path to the spiritual, sweet home. Those guides take you to Amarnath or to some other pilgrimage place. You BKs take everyone very far away from everything to the supreme abode (paramdham). Those are physical guides who make you stumble around. You take everyone to the Father in the land of peace. Therefore, you always have to remember: We are once again making Bharat into the divine Rajasthan. Anyone would believe this. There used to be the original, eternal, deity religion in Bharat. In the golden age, Bharat was the unlimited pure, divine land of kings (Rajasthan). It then became the pure warrior Rajasthan. Then, when Maya came into existence, it became the devilish Rajasthan. Here, too, there were kings and queens who used to rule at the beginning. However, the kingdom that has continued is one without the crown of light. After the deity Rajasthan, it became an impure, devilish Rajasthan. It is now a land of impure people; it is a Rajasthan where people rule people. In fact, it cannot be called Rajasthan; they have just given it that name. There are no kingdoms now. This drama is predestined. This picture of Lakshmi and Narayan will be very useful to you. You have to explain using it: Bharat was doublecrowned like this. It used to be the kingdom of this Lakshmi and Narayan. They were Radhe and Krishna in their childhood. Then, in the silver age, it became the kingdom of Rama. Then, Maya came in the copper age. This is very easy. The history and geography of Bharat is explained in a nutshell. It was in the copper age that the temples to the pure King Narayan and Queen Lakshmi were built. The deities themselves went onto the path of sin. They began to become impure. They then built temples to the pure deities who had existed and they began to worship them. It is impure ones who bow down to pure ones. There were kings and queens until the British Government came. Even landowners used to take the title of king or queen, through which they would receive respect at court. Now, no one is a king. When they began to fight among themselves, those of Islam came. You children know that it is now once again the end of the iron age. Destruction is just ahead. The Father is once again teaching you Raja Yoga. Only you know how establishment is taking place. Then this history and geography will be erased. On the path of devotion, those people write their own Gita and there is a lot of difference in that. In devotion, they definitely need their religious books of the deities. Therefore, according to the drama, they created the Gita. It isn’t that, on the path of devotion, they will establish a kingdom or change human beings into Narayan with the Gita; not at all! The Father now explains: You are the incognito army. Baba is also incognito. It is the incognito power of yoga that is enabling you to receive the kingdom. Through physical power you receive a limited kingdom. With the power of yoga you receive the unlimited kingdom. You children have the faith in your hearts that you are now making Bharat into that same deity Rajasthan. The efforts of those who make effort cannot remain hidden. Destruction has to take place. This is also mentioned in the Gita. It is asked: According to the efforts of this time, what status will I receive in the future? Here, too, when someone sheds his body, there is the question: What status will he attain? Only the Father knows what type of service he did with his body, mind and wealth. Children cannot know this. BapDada knows. You can also be told what kind of service you did, whether you took up knowledge or not, whether you helped a great deal. For instance, people give donations because they believe that this institution is very good and that it is carrying out good work. They say: I don’t have the power to remain pure. I will help the yagya. Therefore, they receive the return of that. When people build a college or a hospital , they do it for others. It isn’t so that they can go to the hospital if they fall ill themselves. Whatever they build, they do so for others. So they receive the fruit of that. That is called donating. What happens here? You are given blessings and you remain happy. Both in this world and in the world beyond, you remain happy. When you speak of this world and the world beyond (parlok), it applies to the confluence age. This means that both this birth in the land of death and the birth in the land of immortality become worthwhile. Truly, this birth of yours is now being made worthwhile. Some are serving with their bodies, some are serving with their minds and others are serving with their wealth. Many are unable to take knowledge. They say: Baba, I don’t have courage, but I can help. The Father would tell him: You can become so wealthy. If there is something, you can ask the Father. You want to follow the Father and so you have to ask Him: Baba, what should I do in this situation? The Father who gives you shrimat is sitting here. You have to ask Him; you mustn’t hide anything from Him. Otherwise, the illness will increase. If you don’t follow shrimat at every step, something will go wrong. Baba is not far away. You should come personally in front of Baba and ask Him. You should repeatedly come to such a BapDada. In fact, you should remain combined with the most beloved Father. You should cling to the Bridegroom. Those are physical whereas this One is spiritual. Here, there is no question of clinging to Him. Not everyone would be made to sit here. This is such a thing that you want the Father just to remain seated in front of you while you continue to listen to Him and also continue to follow His directions. However, Baba would say: You mustn’t just sit here. Become River Ganges; go and do service ! The love of you children should be like those who are intoxicated in love. However, you also have to do service. Those whose intellects have faith cling to Him completely. Children write: So-and-so has very good faith in the intellect. I would reply: He hasn’t understood anything at all! If he had the faith that the Father who makes us into the masters of heaven has come, he would not be able to remain for even a second without meeting such a Father. There are many daughters who are very desperate. Then, while sitting at home, they have visions of Brahma or Krishna. If you had the faith that the Father has come from the supreme abode to give you the kingdom, you would come and meet Baba. When such ones come, Baba tells them to become the Ganges of knowledge. Many subjects are needed; a kingdom is being established. These pictures are very good to explain with. You can tell anyone that you are once again establishing a kingdom, that destruction is also just ahead. Claim your inheritance from the Father before you die. Everyone wants there to be a one Almighty Government , but not everyone can come together and become one. There definitely was the one kingdom that has been remembered. The name of the golden age is very much glorified. That is being established once again. Some will quickly believe these things, whereas others will not. There was the kingdom of Lakshmi and Narayan 5000 years ago, and it then became the kingdom of these kings. All the kings have now become impure. There is now to be the kingdom of the pure Lakshmi and Narayan. It is very easy for you to explain. We are establishing the deity kingdom with Shiv Baba’s shrimat and His help. We also receive power from Shiv Baba. You should have this intoxication. You are warriors. You can also go to the temples and explain to them that establishment of heaven will definitely take place through the Creator. You know that the unlimited Father is only the One. He is personally decorating you with knowledge. He is teaching you Raja Yoga. All those who relate the Gita can never teach you Raja Yoga. You children are made to experience intoxication in your intellects with this. Baba has come to establish heaven. There is the pure Rajasthan in heaven. People have forgotten the kingdom of Lakshmi and Narayan. The Father now personally sits in front of you and explains to you. In any Gita Pathshala etc. you go to no one else could relate the whole history and geography or give information of the 84 births. It would be easy to explain if you have the picture of Radhe and Krishna together with that of Lakshmi and Narayan. This is the correct picture. It should also have very clear writing on it. You keep the whole cycle in your intellects. You should also remember the One who explains the cycle to you. However, there is a lot of effort required for the practice of constant remembrance. Let there be such constant remembrance that you don’t remember any rubbish at the end. You must never forget the Father. Little children remember their father a great deal, and then, when they grow up, they remember wealth. You also receive wealth which you have to imbibe very well and then donate to others. Become complete philanthropist s . I personally come in front of you and teach you Raja Yoga. You studied that Gita for birth after birth and there was no attainment. I am giving you these teachings here in order to change you from ordinary man into Narayan. That is the path of devotion. A handful out of multimillions will emerge here who will be part of your deity clan. They will definitely come here to become Brahmins. Some would become kings and others would become subjects. Among those too, some would become those who are amazed on hearing the knowledge, relate the knowledge to others and then run away. There is very severe punishment for those who become children and who then divorce the Father. The punishment is severe. At this time, none of you can say that you have constant remembrance. If you do say this, you should send your written chart to Baba and Baba would understand that you are using your body, mind and wealth in serving Bharat. Always have a picture of Lakshmi and Narayan in your pocket. You children should have a lot of intoxication. Social workers ask you how you are serving Bharat. Tell them: We are making Bharat into the deity Rajasthan with our bodies, minds and wealth. No one else can do such service. The more service you do, the more refined your intellects will become. There are many children who are unable to explain very well, and so they defame the name. Some even have the evil spirit of anger and so that too is doing something destructive. They would be told to look at their faces. Have you become worthy of marrying Lakshmi or Narayan? What status would such children who lose the honour claim? They would come in the line of infantry. You are also an army. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a great donor of the imperishable jewels of knowledge. Serve Bharat with your body, mind and wealth to make it into heaven.
  2. Don’t perform any destructive actions. Practise having constant remembrance.
Blessing: May you be a constant yogi with a true relationship of the heart who makes accurate, spiritual endeavour.
Spiritual endeavour means having powerful remembrance and a true relationship of the heart with the Father. Just as when you sit in yoga, you sit very still physically, similarly, let your heart, mind and intellect all sit down with the Father and be focused on the Father: this is accurate, spiritual endeavour. If there isn’t such spiritual endeavour, then there are prayers. Sometimes, you have remembrance and sometimes you make complaints. In fact, there is no need for complaints in remembrance. Those whose hearts have a relationship with the Father become constant yogis.
Slogan: Become a carefree emperor with the awareness that the Father is Karavanhar (One who inspires everyone) and continue to experience the flying stage.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 8 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 January 2017

To Read Murli 7 January 2018 :- Click Here
08/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – जितना-जितना दूसरों को ज्ञान सुनायेंगे उतना तुम्हारी बुद्धि में ज्ञान रिफाइन होता जायेगा, इसलिए सर्विस जरूर करनी है”
प्रश्नः- बाप के पास दो प्रकार के बच्चे कौन से हैं, उन दोनों में अन्तर क्या है?
उत्तर:- बाप के पास एक हैं लगे (सौतेले) बच्चे, दूसरे हैं सगे (मातेले) बच्चे। लगे बच्चे – मुख से सिर्फ बाबा मम्मा कहते लेकिन श्रीमत पर पूरा नहीं चल सकते। पूरा-पूरा बलिहार नहीं जाते। सगे बच्चे तो तन-मन धन से पूर्ण समर्पण अर्थात् ट्रस्टी होते हैं। कदम-कदम श्रीमत पर चलते हैं। लगे बच्चे सेवा न करने के कारण चलते-चलते गिर पड़ते हैं। संशय आ जाता है। सगे बच्चे पूरा निश्चयबुद्धि होते हैं।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना…

ओम् शान्ति। बाप बच्चों को समझाते हैं। कौन सा बाप? वास्तव में दोनों बाप हैं। एक रूहानी, जिसको बाबा कहा जाता, दूसरा जिस्मानी जिसको दादा कहा जाता। यह तो सभी सेन्टर्स के बच्चे जानते हैं कि हम बापदादा के बच्चे हैं। रूहानी बाप शिव है। वह है सभी आत्माओं का बाप और ब्रह्मा दादा है सारे मनुष्य सिजरे का हेड। उनके तुम आकर बच्चे बने हो। उनमें भी कोई तो पक्के सगे हैं, कोई फिर लगे भी हैं। मम्मा बाबा तो दोनों ही कहते हैं परन्तु लगे बलि नहीं चढ़ सकते। बलि न चढ़ने वालों को इतनी ताकत नहीं मिल सकती अर्थात् अपने बाप को तन-मन-धन का ट्रस्टी नहीं बना सकते। श्रेष्ठ बनने के लिए उनकी श्रीमत पर नहीं चल सकते। सगे बच्चों को सूक्ष्म मदद मिलती है। परन्तु वह भी बहुत थोड़े हैं। भल सगे भी हैं परन्तु उनको भी अभी पक्के नहीं कहेंगे, जब तक रिजल्ट नहीं निकली है। भल यहाँ रहते भी हैं, बहुत अच्छे हैं, सर्विस भी करते हैं फिर गिर भी पड़ते हैं। यह है सारी बुद्धियोग की बात। बाबा को भूलना नहीं है। बाबा इस भारत को बच्चों की मदद से स्वर्ग बनाते हैं। गाया हुआ भी है शिव शक्ति सेना। हरेक को अपने से बात करनी है – बरोबर हम शिवबाबा के एडाप्टेड चिल्ड्रेन हैं। बाप से हम स्वर्ग का वर्सा चक्र रहे हैं। द्वापर से लेकर हमने जो लौकिक बाप का वर्सा पाया है वह नर्क का ही पाया है। दु:खी होते आये हैं। भक्तिमार्ग में तो है ही अन्धश्रद्धा। जब से भक्ति शुरू हुई है तब से जो-जो वर्ष बीता हम नीचे उतरते आये। भक्ति भी पहले अव्यभिचारी थी। एक की पूजा करते थे। उसके बदले अब अनेकों की पूजा करते आये हैं। अब यह सब बातें ऋषि, मुनि, साधु, सन्त आदि नहीं जानते कि भक्ति कब शुरू होती है। शास्त्रों में भी है ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात। भल ब्रह्मा सरस्वती ही लक्ष्मी-नारायण बनते हैं परन्तु नाम ब्रह्मा का दिया है। ब्रह्मा के साथ बच्चे भी बहुत हैं। लक्ष्मी-नारायण के बच्चे तो बहुत नहीं होंगे। प्रजापिता भी उनको नहीं कहेंगे। अब नई प्रजा बन रही है। नई प्रजा होती ही है ब्राह्मणों की। ब्राह्मण ही अपने को ईश्वरीय सन्तान समझते हैं। देवता तो नहीं समझेंगे। उनको चक्र का ही पता नहीं।

अभी तुम जानते हो हम शिवबाबा के बच्चे बने हैं। उसने ही हमको 84 का चक्र समझाया है। उनकी मदद से हम भारत को फिर से दैवी पावन राजस्थान बना रहे हैं। यह बड़ी समझ की बात है। किसको समझाने की भी हिम्मत चाहिए। तुम हो शिव शक्ति पाण्डव सेना। पण्डे भी हो, सबको रास्ता बताते हो। तुम्हारे बिगर रूहानी स्वीट होम का रास्ता कोई बता न सके। वह पण्डे लोग तो करके अमरनाथ पर, कोई तीर्थ पर ले जाते हैं। तुम बी.के. तो एकदम सभी से दूर परमधाम ले जाते हो। वह जिस्मानी गाइड हैं – धक्के खिलाने वाले। तुम सभी को बाप के पास शान्तिधाम ले जाते हो। तो सदैव यह याद करना पड़े – हम भारत को फिर से दैवी राजस्थान बना रहे हैं। यह तो कोई भी मानेंगे। भारत का आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। भारत सतयुग में बेहद का दैवी पावन राजस्थान था, फिर पावन क्षत्रिय राजस्थान बना, फिर माया की प्रवेशता होने से आसुरी राजस्थान बन जाता है। यहाँ भी पहले राजा रानी राज्य करते थे, परन्तु बिगर लाइट के ताज वाली राजाई चलती आई है। दैवी राजस्थान के बाद हुआ आसुरी पतित राजस्थान, अभी तो पतित प्रजा का स्थान है, पंचायती राजस्थान। वास्तव में इनको राजस्थान कह नहीं सकते, परन्तु नाम लगा दिया है। राजाई तो है नहीं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। यह लक्ष्मी-नारायण के चित्र तुमको बहुत काम आयेंगे। इन पर समझाना है, भारत ऐसा डबल सिरताज था। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, छोटेपन में राधे कृष्ण थे, फिर त्रेता में रामराज्य हुआ, फिर द्वापर में माया आ गई। यह तो बिल्कुल सहज है ना। भारत की हिस्ट्री-जॉग्राफी नटशेल में समझाते हैं। द्वापर में ही फिर पावन राजा-रानी लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर बने। देवतायें स्वयं तो वाममार्ग में चले गये। पतित होने लग पड़े। फिर जो पावन देवतायें होकर गये हैं, उनके मन्दिर बनाकर पूजा शुरू की। पतित ही पावन को माथा टेकते हैं। जब तक ब्रिटिश गवर्मेन्ट का राज्य था तो राजा-रानी थे। जमींदार भी राजा रानी का लकब (टाइटल) ले लेते थे, इससे उनका दरबार में मान होता था। अभी तो कोई राजा नहीं है। पीछे जब आपस में लड़े हैं तब मुसलमान आदि आये हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो फिर से कलियुग का अन्त आ गया है। विनाश सामने खड़ा है। बाप फिर से राजयोग सिखला रहे हैं। कैसे स्थापना होती है, सो तो तुम जानते हो, फिर यह हिस्ट्री-जॉग्राफी मिट जाती है। फिर भक्ति में वो लोग अपनी गीता बना देते हैं, उसमें बहुत फ़र्क पड़ जाता है। भक्ति के लिए उन्हों को देवी-देवता धर्म का पुस्तक जरूर चाहिए। सो ड्रामा अनुसार गीता बना दी है। ऐसे नहीं भक्ति मार्ग की उस गीता से कोई राजाई स्थापन करेंगे वा नर से नारायण बनेंगे। बिल्कुल नहीं।

अब बाप समझाते हैं तुम हो गुप्त सेना। बाबा भी गुप्त है। तुमको भी गुप्त योगबल से राजाई प्राप्त करा रहे हैं। बाहुबल से हद की राजाई मिलती है। योगबल से बेहद की राजाई मिलती है। तुम बच्चों को दिल अन्दर यह निश्चय है कि हम अभी भारत को वही दैवी राजस्थान बना रहे हैं। जो मेहनत करता है, उसकी मेहनत छिपी नहीं रह सकती। विनाश तो होना ही है। गीता में भी यह बात है। पूछते हैं, इस समय की मेहनत अनुसार हमको भविष्य में क्या पद मिलेगा? यहाँ भी कोई शरीर छोड़ता है तो संकल्प चलेगा कि यह किस पद को प्राप्त करेगा। सो तो बाप ही जाने कि इसने किस प्रकार से तन-मन-धन की सेवा की है! यह बच्चे नहीं जान सकते, बापदादा जाने। बताया भी जा सकता है, इस प्रकार की सेवा तुमने की है। ज्ञान उठाया या नहीं, परन्तु मदद तो बहुत की है। जैसे मनुष्य दान करते हैं तो समझते हैं संस्था बहुत अच्छी है। अच्छा कार्य कर रही है। परन्तु मेरे में पावन रहने की ताकत नहीं है। मैं यज्ञ को मदद करता हूँ। तो उसका भी रिटर्न उनको मिल जाता है। जैसे मनुष्य कालेज बनाते हैं, हॉस्पिटल बनाते हैं औरों के लिए। ऐसे नहीं कहेंगे कि मैं बीमार पडूँ तो हॉस्पिटल में जाऊं। जो कुछ बनाते हैं दूसरों के लिए। तो उसका फल भी मिलता है, उसको दान कहा जाता है। यहाँ फिर क्या होता है। आशीर्वाद देते हैं तुम्हारा लोक परलोक सुहेला हो। सुखी हो। लोक और परलोक, सो तो इस संगमयुग की बात है। यह है मृत्युलोक का जन्म और अमरलोक का जन्म, दोनों सफल हों। बरोबर तुम्हारा अभी यह जन्म सफल हो रहा है, फिर कोई तन से कोई मन से कोई धन से सेवा करते हैं। बहुत हैं जो ज्ञान नहीं उठा सकते हैं, कहते हैं बाबा हमारे में हिम्मत नहीं है। बाकी मदद कर सकते हैं। तो बाप बतायेंगे कि तुम इतना धनवान बन सकते हो। कोई भी बात हो तो पूछ सकते हो। फालो फादर करना है तो पूछना भी उनसे है, इस हालत में हम क्या करें? श्रीमत देने वाला बाप बैठा है। उनसे पूछना है, छिपाना नहीं है। नहीं तो बीमारी बढ़ जायेगी। कदम-कदम श्रीमत पर न चले तो रोला पड़ जायेगा। बाबा कोई दूर थोड़ेही है। सम्मुख आकर पूछना चाहिए। ऐसे बापदादा के पास घड़ी-घड़ी आना चाहिए। वास्तव में ऐसे मोस्ट बिलवेड बाप के साथ तो इकट्ठा रहना चाहिए। साजन को चटक जाना चाहिए, वह है जिस्मानी, यह है रूहानी। इसमें चटकने की बात नहीं, यहाँ सबको बिठा नहीं देंगे। यह ऐसी चीज़ है, बस सामने बैठे ही रहें, सुनते ही रहें। उनकी मत पर चलते ही रहें। परतु बाबा कहेंगे यहाँ बैठ नहीं जाना है। गंगा नदी बनो, जाओ सर्विस पर। बच्चों का लव ऐसा होना चाहिए – जैसे मस्ताना होता है। परन्तु फिर सर्विस भी तो करनी है। निश्चयबुद्धि तो एकदम लटक पड़ते हैं। बच्चे लिखते हैं फलाना बहुत अच्छा निश्चयबुद्धि है। मैं लिखता हूँ कुछ भी नहीं समझा है। अगर निश्चयबुद्धि है कि स्वर्ग का मालिक बनाने वाला बाप आ गया है तो एक सेकेण्ड भी मिलने बिगर रह न सके। बहुत ही बच्चियाँ हैं जो तड़पती हैं। फिर घर बैठे उनको साक्षात्कार होते हैं ब्रह्मा और कृष्ण का। निश्चय हो कि बाप परमधाम से हमें राजधानी देने आये हैं तो फिर आकर बाबा से मिलें। ऐसे भी आते हैं फिर समझाया जाता है कि ज्ञान गंगा बनो। प्रजा तो बहुत चाहिए। राजधानी स्थापन हो रही है। यह चित्र समझाने लिए बहुत अच्छा है। तुम किसको भी कह सकते हो कि हम फिर से राजधानी स्थापन कर रहे हैं। विनाश भी सामने खड़ा है। मरने से पहले बाप से वर्सा लेना है। सभी चाहते हैं वन आलमाइटी गवर्मेन्ट हो। अब सब मिलकर एक थोड़ेही बन सकते हैं। एक राज्य था जरूर, जिसका गायन भी है। सतयुग का नाम बहुत बाला है। फिर से उसकी स्थापना हो रही है। कोई इन बातों को झट मानेंगे, कोई नहीं मानेंगे। पाँच हजार वर्ष पहले लक्ष्मी-नारायण का राज्य था फिर इन राजाओं का राज्य हो गया। राजायें भी अब पतित हो गये हैं। अब फिर पावन लक्ष्मी-नारायण का राज्य होगा। तुम्हारे लिए तो समझाना बहुत ही सहज है। हम दैवी राजधानी स्थापन कर रहे हैं, शिवबाबा की श्रीमत से और उनकी मदद से। शिवबाबा से शक्ति भी मिलती है। यह नशा रहना चाहिए। तुम वारियर्स हो। मन्दिरों में भी तुम जाकर समझा सकते हो तो स्वर्ग की स्थापना जरूर रचयिता द्वारा ही होगी ना। तुम जानते हो बेहद का बाप एक है। तुम्हारे सम्मुख तुमको ज्ञान श्रृंगार कर रहे हैं। राजयोग सिखला रहे हैं। वो गीता सुनाने वाले कभी राजयोग सिखला न सकें। यह अभी तुम बच्चों की बुद्धि में नशा चढ़ाया जाता है। बाबा आया है स्वर्ग की स्थापना करने। स्वर्ग में है ही पावन राजस्थान। मनुष्य तो लक्ष्मी-नारायण के राज्य को ही भूल गये हैं। अब बाप सम्मुख बैठ समझाते हैं, तुम कोई भी गीता पाठशाला आदि में चले जाओ। सारी हिस्ट्री-जॉग्राफी अथवा 84 जन्मों का समाचार कोई सुना न सके। लक्ष्मी-नारायण के चित्र साथ राधे कृष्ण का भी हो तो समझाने में सहज होगा। यह है करेक्ट चित्र। लिखत भी उनकी अच्छी हो। तुम्हारी बुद्धि में सारा चक्र याद है। साथ में चक्र को समझाने वाला भी याद है। बाकी निरन्तर याद के अभ्यास में मेहनत बहुत है। निरन्तर याद ऐसी पक्की हो जो अन्त में कोई किचड़पट्टी याद न आये। बाप को कभी भूलना नहीं है। छोटे बच्चे बाप को बहुत याद करते हैं फिर बच्चा बड़ा होता है तो धन को याद करते हैं। तुमको भी धन मिलता है। जो अच्छी रीति धारण कर फिर दान करना चाहिए। पूरा फ्लेन्थ्रोफिस्ट बनना है। मैं सम्मुख आकर राजयोग सिखाता हूँ। वह गीता तो जन्म जन्मान्तर पढ़ी, कुछ भी प्राप्ति नहीं हुई। यहाँ तो तुमको नर से नारायण बनाने लिए यह शिक्षा दे रहा हूँ। वह है भक्ति मार्ग। यहाँ भी कोटों में कोई निकलेगा जो तुम्हारे दैवी घराने का होगा। फिर ब्राह्मण बनने जरूर आयेंगे, फिर चाहे राजा रानी बनें, चाहे प्रजा। उसमें भी कई तो सुनन्ती, कथन्ती, भागन्ती हो जाते हैं। जो बच्चा बन फिर फारकती देते हैं, उन पर बहुत बड़ा दण्ड है। कड़ी सजा है। इस समय ऐसा कोई कह नहीं सकता कि हम निरन्तर याद करते हैं। अगर कोई कहे तो चार्ट लिखकर भेजे तो बाबा सब समझ जायेंगे। भारत की सेवा में ही तन-मन-धन लगा रहे हैं। लक्ष्मी-नारायण का चित्र हमेशा पाकेट में पड़ा हो। बच्चों को बहुत नशा होना चाहिए।

सोशल वर्कर्स तुम्हारे से पूछते हैं तुम भारत की क्या सेवा कर रहे हो? बोलो, हम अपने तन-मन-धन से भारत को दैवी राजस्थान बना रहे हैं। ऐसी सेवा और कोई कर नहीं सकता। तुम जितनी सर्विस करेंगे उतनी बुद्धि रिफाइन होती जायेगी। ऐसे भी बहुत बच्चे हैं जो ठीक रीति नहीं समझा सकते हैं तो नाम बदनाम होता है। कोई-कोई में क्रोध का भूत भी है तो यह भी डिस्ट्रेक्टिव काम किया ना। उनको कहेंगे तुम अपना मुँह तो देखो। तुम लक्ष्मी या नारायण को वरने लायक बने हो? ऐसे जो आबरू (इज्जत) गँवाने वाले बच्चे हैं, वह क्या पद पायेंगे। वह प्यादों की लाइन में आ जाते हैं। तुम भी सेना हो ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अविनाशी ज्ञान रत्नों का महादानी बनना है। तन-मन-धन से भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करनी है।

2) कोई भी डिस्ट्रेक्टिव (विनाशकारी) कार्य नहीं करना है। निरन्तर याद के अभ्यास में रहना है।

वरदान:- दिल के सच्चे सम्बन्ध द्वारा यथार्थ साधना करने वाले निरन्तर योगी भव 
साधना अर्थात् शक्तिशाली याद। बाप के साथ दिल का सच्चा संबंध। जैसे योग में शरीर से एकाग्र होकर बैठते हो ऐसे दिल, मन-बुद्धि सब एक बाप की तरफ बाप के साथ-साथ बैठ जाए-यही है यथार्थ साधना। अगर ऐसी साधना नहीं तो फिर आराधना चलती है। कभी याद करते कभी फरियाद करते। वास्तव में याद में फरियाद की आवश्यकता नहीं, जिसका दिल से बाप के साथ संबंध है वह निरन्तर योगी बन जाता है।
स्लोगन:- ‘करावनहार बाप है” – इस स्मृति से बेफिक्र बादशाह बन उड़ती कला का अनुभव करते चलो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize