today murli 8 February

TODAY MURLI 8 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 February 2019 :- Click Here

08/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, I am always beyond sound. I have come to take you children beyond sound. It is now the stage of retirement for all of you. You now have to go home, beyond sound.
Question: Whom would you call a good effort-making student? What are the main signs?
Answer: A good effort-making student is one who knows how to talk to himself and how to study subtly. Effort-making students would continually check themselves: Do I have any devilish nature in me? To what extent have I imbibed divine virtues? Do I have any criminal thoughts? They would keep their register to see to what extent they constantly have the vision of brotherhood.

Om shanti. Baba explains to the spiritual children who are making effort to go beyond sound, that is, who are making effort to go home. That is the home of all souls. You understand that you now have to shed those bodies and return home. The Father says: I have come to take you back home. This is why you have to remain beyond those bodies and bodily relationships. This is a dirty world. The soul knows that he now has to return home. The Father has come to purify you. We have to go to the pure world once again. You should churn this ocean of knowledge inside you. No one else would have such thoughts. You know that you will willingly shed those bodies, return home and then go back into the new world in new, pure relationships. Very few have this awareness. The Father says: All – young, mature and old – have to return home and then go back into the new world of pure relationships. It should repeatedly enter your intellects that you are now making preparations to return home. Those who do something will return with Baba. Those who do something now in the name of God will become multi-millionaires in the new world. Those people do everything indirect ly in this old world. They believe that God will give them the fruit of that. The Father now explains to you that they only receive temporary fruit. I have now come and I advise you: Those who give now will receive the return of that as multi-millions for 21 births. You understand that you will go and take birth in a grand home or that you will become Narayan or Lakshmi. So, then, you also have to make that much effort. We are making preparations to leave this dirty old world. We have to renounce this old world and these old bodies. You should remain ready to such an extent that you don’t remember anyone else at the end. If you remember the old world or your friends and relatives etc., what would be your state? It is said: Those who remember a woman at the end… This is why you should follow the father. It isn’t that Baba thinks he has to shed his body because he is old. No, all of you are old; it is everyone’s stage of retirement. Everyone has to return home. This is why the Father says: Break your intellects’ yoga away from this old world. You now have to return to your home. You will then stay there for as long as you have to stay there. The later you have to play your part, the later you will adopt a body and play your par t. Some would even remain in the land of peace for 5000 years less a hundred years; they would come at the end. When someone sacrifices himself at Kashi, all his sins are absolved. How many sins would those who come at the end accumulate? They would come and go, but no one can receive eternal liberation. What would they do staying there? They definitely have to play their parts. Your parts are to come at the beginning. So the Father says: Children, continue to forget this old world. You now have to return home. Your parts of 84 births have ended. You have become impure. You now have to consider yourselves to be souls and remember the Father. Imbibe divine virtues. The Father explains: Children, continue to check yourselves: Do I have a devilish nature? Your nature should be divine. Keep a chart for this and it will become firm. However, Maya is such that she doesn’t allow you to keep a chart. You keep it for two to four days and then leave it, because it is not in your fortune. If it is in your fortune, you keep your register very well. They definitely keep a register at school. Here, too, all of you at all the centres have to keep your chart or register. Then, check whether you attend daily. Am I imbibing divine virtues? You have to go higher than the relationship of brother and sister. There has to be just the spiritual vision of brotherhood. I am a soul. There should be no criminal vision. The relationship of brother and sister is because you are Brahma Kumars and Kumaris. You are the children of the one Father. It is only at this confluence age that you stay in the relationship of brother and sister so that the vision of vice ends. You must only remember the one Father. You have to go beyond sound. To talk to yourself in this way is to study subtly. There is no need to make any sound. It is in order to explain to you children that Baba has to come into sound. He also has to explain to you in order for you to go beyond sound. You now have to return home. You called out to the Father to come and take you back with Him: We are impure and so cannot return home. Who in the impure world can make us pure? Sages and holy men etc. cannot make you pure. They themselves go and bathe in the Ganges to become pure. They don’t even know the Father. Those who knew Him in the previous cycle are the ones who make effort now. No one except the Father can inspire you to make this effort. The Father is the highest of all. Look at the state human beings have reached by saying that such a Father is in the pebbles and stones. They have continued to come down the ladder. On the one hand, they are completely viceless and on the other hand, those people are completely vicious. Only those who believed these things in the previous cycle will believe them now. It is your duty to tell the Father’s orders to everyone who comes here. Explain the picture of the ladder. It is now the stage of retirement for everyone. Everyone will now go to the land of peace or the land of happiness. Those souls who make themselves completely pure with the power of their intellects’ yoga will go to the land of happiness. The ancient yoga of Bharat has been remembered. The soul has now also remembered that he truly did come here first and that he now has to return home. You now remember your parts. Those who do not become part of this clan do not remember that they have to become pure. It is for becoming pure that you have to make effort. The Father says: Consider yourselves to be souls and remember Me and you will become conquerors of sin and consider yourselves to be brothers and sisters and your vision will change. Your vision isn’t bad in the golden age. The Father continues to explain: Children, each of you should ask yourself: Am I a golden-aged deity or an iron-aged human being? You children have to make very good pictures and slogans etc. One picture should ask the question: Are you golden aged or iron aged? The second picture should ask another question. You should create this enthusiasm everywhere. The Father is giving you shrimat to make impure ones pure. However, what would I know about your business etc? You called out to the Father to come and show you the path to change from human beings into deities. I come and show you this. It is such a simple matter! The signal I give you is very easy: Manmanabhav! Consider yourself to be a soul and remember the Father. Because of not understanding the meaning of this, they have said that the Ganges is the Purifier. It is the Father who is the Purifier. It is now the time of settlement for everyone. I enable you to settle your karmic accounts and I take you back home. You understand when the Father explains, but, if this is not in your fortune, you fall. The Father says: Consider yourselves to be brothers and sisters. You should never have bad vision. Some have the evil spirit of lust; others have the evil spirit of greed. Sometimes, when they see good food they are tempted by that. When they see someone selling roasted chick peas they want to eat some. Then, if you do eat those, because you are weak you are quickly affected and your intellect becomes corrupted. You should follow those to whom the Mother, Father and the special ones give a certificate. You should eat whatever you receive from the yagya considering that to be very sweet. You must not get tempted. Yoga is also needed. If there isn’t yoga, you would say, “I have to eat this, otherwise, I will fall ill.” It should remain in your intellects that you have come here to become deities. You now have to return home and you will go and become a baby in your mother’s womb. Whatever the mother eats and drinks, that affects the baby in her womb. None of these things exist there. There, everything will be first class. Our mothers will eat first-class things which will give us nourishment. There, everything is firstclass. When you take birth, your food and drink are pure. So, you should make preparations to go to such a heaven. You have to remember the Father. The Father comes and rejuvenates you. Those people put monkey gland s into human beings believing that they will become young, just as they have hearttransplants. The Father doesn’t give you another heart. He comes and changes you. All of that is science. They continue to manufacture bombs etc. All of those things will destroy the world. Those are tamopradhan intellects. They are happy that that destiny is created. The bombs definitely have to be made. In the scriptures, it is written that missiles emerged from their stomachs and that such and such happened. The Father has now explained that all of those things are the path of devotion. I alone taught you Raj Yoga. That is just a story. By listening to it, your state has become what it is. The Father is now telling you the story of the true Narayan, the story of the third eye and the story of immortality. You attain that status by studying this study. However, there isn’t a Krishna etc. like they have shown him, spinning a discus and killing everyone with it. I simply teach you Raj Yoga and purify you. I make you into spinners of the discus of self-realisation. They have shown Krishna with a discus. How would he spin the discus of self-realisation? It is not a question of magic. All of that is defamation. That continues for half the cycle. The drama is so wonderful. It is now the stage of retirement for all, young and old. We now have to return home and we therefore have to remember the Father. Nothing else should be remembered. Only when you have such a stage can you attain a high status. You should ask your heart: To what extent is my register OK? You can tell from the register about your activities, whether you study regularly or not. Some even tell lies. The Father says: Tell the truth. If you don’t, your register will be spoilt. You promise God that you will become pure. So, if you then break that promise, what would your state become? If you fall into vice, the whole play is over. The first enemy is body consciousness, then lust, then anger. One’s attitude becomes impure when there is body consciousness. This is why the Father says: May you be soul conscious. This one is Arjuna. He is also the Krishna soul. The name of the one He entered was changed. His name is not Arjuna. People say that this tree etc. is all your imagination. Whatever you people imagine, you will then see that at some point. You children should be very happy that you will go to heaven and become small children again. Then your name, form, land and time etc. will all be new. This is the unlimited drama. That which is predestined is taking place again. It has to happen, so why should we worry? You children now have the secrets of the drama in your intellects. No one else, except you Brahmins knows these. At this time, all the people in the world are worshippers. Where there are worshippers, there cannot be a single person who is worthy of worship. The worthy-of-worship ones exist in the golden and silver ages. In the iron age, there are worshippers, so how can you call yourselves worthy of worship? Only the deities are worthy of worship. Human beings are worshippers. The Father explains the main thing: If you want to become pure, constantly remember Me alone. However much effort someone made according to the drama, that is how much effort he will make. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep a register of how you study. Look at your chart to see: To what extent do I have the vision of brotherhood? Has my nature become divine?
  2. Keep a lot of control over your tongue (taste and food). It should remain in your intellects that you are becoming deities and that you therefore have to pay a lot of attention to your food and drink. Your taste buds should not cause mischief. You have to follow the Mother and Father.
Blessing: May you be an intense effort-maker and remain constantly ever ready by considering every moment to be your final moment.
There is no guarantee about your final moment and so you must consider every moment to be your final moment and remain ever ready. To be ever ready means to be an intense effort-maker. Do not think that destruction will still take some time and that you will be ready by then. No; every moment is the final moment and so, when you remain constantly free from attachment, free from sinful and wasteful thoughts you will then be said to be ever ready. No matter what task still remains, let your stage always remain beyond and whatever happens will then be good.
Slogan: To take the law into your own hands is to have a trace of anger.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 8 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 February 2019

To Read Murli 7 February 2019 :- Click Here
08-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – मैं सदा वाणी से परे हूँ, मैं आया हूँ तुम बच्चों को उपराम बनाने, अभी तुम सबकी वानप्रस्थ अवस्था है, अब वाणी से परे घर जाना है”
प्रश्नः- अच्छा पुरूषार्थी स्टूडेन्ट किसको कहेंगे? उनकी मुख्य निशानी सुनाओ?
उत्तर:- अच्छा पुरूषार्थी स्टूडेन्ट वह, जो अपने आपसे बातें करना जानता हो, सूक्ष्म स्टडी करता हो। पुरुषार्थी स्टूडेन्ट सदा अपनी जाँच करते रहेंगे कि हमारे में कोई आसुरी स्वभाव तो नहीं है? दैवीगुण कहाँ तक धारण किये हैं? वह अपना रजिस्टर रखते हैं कि भाई-भाई की दृष्टि सदा रहती है? क्रिमिनल ख्यालात तो नहीं चलते हैं?

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति, जो भी वाणी से परे जाने लिए, गोया घर जाने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हैं। वह सभी आत्माओं का घर है। तुम समझते हो अभी हमको यह शरीर छोड़कर घर जाना है। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुमको घर ले जाने अर्थ, इसीलिए इस देह और देह के सम्बन्धों से उपराम होना है। यह तो छी-छी दुनिया है। यह भी आत्मा जानती है हमको अब जाना है। बाप आया है पावन बनाने के लिए। फिर से हमको पावन दुनिया में जाना है। यह अन्दर में विचार सागर मंथन होना चाहिए। और कोई को ऐसे विचार नहीं आयेगा। तुम समझते हो हम खुद अपनी दिल से यह शरीर छोड़ अपने घर जाकर फिर नए पवित्र सम्बन्ध में, नई दुनिया में आयेंगे। यह स्मृति भी बहुत थोड़ों को रहती है। बाप कहते हैं छोटे, बड़े, बुढ़े आदि सबको वापिस चलना है। फिर नई दुनिया के पावन सम्बन्ध में आना है। घड़ी-घड़ी बुद्धि में आना चाहिए कि हम अब घर जाने के लिए तैयारी कर रहे हैं। जो करेंगे वो ही साथ चलेंगे। जो अभी ईश्वर अर्थ करते हैं वह जाकर पद्मापद्मपति बनते हैं नई दुनिया में। वह लोग इस पुरानी दुनिया में इनडायरेक्ट करते हैं। समझते हैं ईश्वर इसका फल देंगे। अब बाप समझाते हैं वह तुमको अल्पकाल क्षण भंगुर मिलता है। अब मैं आया हूँ, तुमको राय देता हूँ – अभी जो देंगे वह तुमको 21 जन्म के लिए पद्म होकर मिलेगा। तुम समझते हो बड़े घर में जाकर जन्म लेंगे। हम तो नारायण अथवा लक्ष्मी बनेंगे। तो फिर इतनी मेहनत करनी चाहिए। हम इस पुरानी छी-छी दुनिया से जाने के लिए तैयारी कर रहे हैं। यह पुरानी दुनिया, पुराना शरीर छोड़ना है। ऐसा तैयार रहना चाहिए जो पिछाड़ी के समय कोई भी याद न आये। अगर पुरानी दुनिया वा मित्र-सम्बन्धी आदि याद आये तो क्या गति होगी? तुम कहते हो ना अन्तकाल जो स्त्री सिमरे…. इसलिए बाप को फॉलो करना चाहिए। ऐसे नहीं, बाबा बूढ़ा है तब समझते हैं यह शरीर छोड़ना ही है। नहीं, तुम सब बुढ़े हो। सबकी वानप्रस्थ अवस्था है, सबको वापिस जाना है इसलिए बाप कहते हैं इस पुरानी दुनिया से बुद्धियोग तोड़ दो। अब तो जाना है अपने घर। फिर जितना वहाँ ठहरना होगा उतना वहाँ ठहरेंगे। जितना पीछे पार्ट होगा तो पीछे शरीर धारण कर पार्ट बजायेंगे। कोई तो 100 वर्ष कम 5 हज़ार वर्ष भी शान्तिधाम में रहेंगे। पिछाड़ी को आयेंगे। जैसे काशी कलवट खाते हैं, सब पाप झट खलास हो जाते हैं। पिछाड़ी में आने वालों के पाप क्या होंगे! आये और गये। बाकी मोक्ष कोई को मिल न सके। वहाँ रहकर क्या करेंगे। पार्ट तो जरूर बजाना ही है। तुम्हारा पार्ट है शुरू में आने का। तो बाप कहते हैं – बच्चे, इस पुरानी दुनिया को भूलते जाओ। अब तो चलना है, 84 का पार्ट पूरा हुआ। तुम पतित बन गये हो। अब फिर अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। दैवीगुण भी धारण करो।

बाप समझाते हैं – बच्चे, अपनी जाँच करते रहो – हमारे में कोई आसुरी स्वभाव तो नहीं है? तुम्हारा दैवी स्वभाव होना चाहिए। उसके लिए चार्ट रखो तो पक्के होते जायेंगे। परन्तु माया ऐसी है जो चार्ट रखने नहीं देती। दो-चार दिन रखकर फिर छोड़ देते हैं क्योंकि तकदीर में नहीं है। तकदीर में होगा तो बहुत अच्छी रीति रजिस्टर रखेंगे। स्कूल में रजिस्टर जरूर रखते हैं। यहाँ भी सभी सेन्टर्स में सबका चार्ट, रजिस्टर रखना है। फिर देखना है हम रोज़ जाते हैं? दैवीगुण धारण करते हैं? भाई-बहन के सम्बन्ध से भी ऊंच जाना है। सिर्फ रूहानी दृष्टि भाई-भाई की चाहिए। हम आत्मा हैं। कोई की क्रिमिनल दृष्टि नहीं। भाई-बहन का सम्बन्ध भी इसलिए है क्योंकि तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हो। एक बाप के बच्चे हो। इस संगमयुग पर ही भाई-बहन के सम्बन्ध में रहते हैं। तो विकार की दृष्टि बन्द हो जाए। एक बाप को ही याद करना है। वाणी से भी परे जाना है। ऐसे-ऐसे अपने से बातें करना यह है सूक्ष्म स्टडी, इसमें आवाज़ करने की दरकार नहीं। यह तो बच्चों को समझाने के लिए आवाज़ में आना पड़ता है। वाणी से परे जाने लिए भी समझाना पड़ता है। अब वापिस जाना है। बाप को बुलाया है कि आओ, हमको साथ ले जाओ। हम पतित हैं, वापिस जा नहीं सकते। पतित दुनिया में अब पावन कौन बनाये! साधू-सन्त आदि कोई पावन बना न सकें। खुद ही पावन होने के लिए गंगा स्नान करते हैं। बाप को जानते नहीं। जिन्होंने कल्प पहले जाना है, वही अब पुरूषार्थ कर रहे हैं। यह पुरूषार्थ भी बाप बिना कोई करा नहीं सकता। बाप ही सबसे ऊंच है। ऐसे बाप को पत्थर ठिक्कर में कहने से मनुष्य का क्या हाल हो गया है! सीढ़ी उतरते ही आये हैं। कहाँ वह सम्पूर्ण निर्विकारी, कहाँ यह सम्पूर्ण विकारी। इन बातों को मानेंगे भी वह जिन्होंने कल्प पहले माना होगा। तुम्हारा फ़र्ज है जो भी आये उनको बाप का फ़रमान बताना। सीढ़ी के चित्र पर समझाओ। सभी की अब वानप्रस्थ अवस्था है। सभी शान्तिधाम और सुखधाम में जायेंगे। सुखधाम में वह जायेंगे जो आत्मा को बुद्धि-योग बल से सम्पूर्ण पवित्र बनायेंगे। भारत का प्राचीन योग भी गाया हुआ है। आत्मा को अब स्मृति आती है बरोबर हम पहले-पहले आये हैं। अब फिर वापिस जाना है। तुमको अपना पार्ट याद आता है। जो इस कुल में आने वाले नहीं हैं उनको याद भी नहीं आता है कि हमको पवित्र बनना है। पवित्र बनने में ही मेहनत करनी पड़ती है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो तो विकर्माजीत बनेंगे और बहन-भाई समझो तो दृष्टि बदल जायेगी। सतयुग में दृष्टि खराब नहीं होती। बाप तो समझाते रहते हैं बच्चे अपने से पूछो – हम सतयुगी देवता हैं या कलियुगी मनुष्य हैं? तुम बच्चों को बहुत अच्छे-अच्छे चित्र, स्लोगन आदि बनाने चाहिए। एक कहे सतयुगी हो या कलियुगी? दूसरा फिर दूसरा प्रश्न पूछे, ऐसे धूम मचा देनी चाहिए।

बाप तो श्रीमत देते हैं पतितों को पावन बनाने की। बाकी धन्धे आदि से हम क्या जानें। बाप को बुलाया ही है कि आकर मनुष्य से देवता बनने का रास्ता बताओ, वह मैं आकर बताता हूँ। कितनी सिम्पुल बात है। इशारा ही बहुत सहज है – मनमनाभव। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। अर्थ न समझने कारण गंगा को पतित-पावनी समझ लिया है। पतित-पावन तो बाप है। अभी सभी के कयामत का समय है। हिसाब-किताब चुक्तू कराए वापिस ले जाते हैं। बाप समझाते हैं तो समझते भी हैं परन्तु तकदीर में नहीं है तो गिर पड़ते हैं। बाप कहते हैं भाई-बहन समझो, कभी खराब दृष्टि न जाये। किसको काम का भूत, लोभ का भूत आ जाता है, कभी अच्छा खाना (भोजन) देखा तो आसक्ति जाती है। चने वाला देखेंगे, दिल करेगी खाने की। फिर खा लिया तो कच्चे होने कारण जल्दी असर पड़ जाता है। बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है। माँ-बाप, अनन्य बच्चे जिन्हों को सर्टीफिकेट देते हैं उनको फालो करना चाहिए। यज्ञ का जो मिले वह मीठा समझकर खाना चाहिए। जबान ललचायमान नहीं करनी है। योग भी चाहिए। योग नहीं होगा तो कहेंगे फलानी चीज़ खानी चाहिए, नहीं तो बीमार पड़ जायेंगे। बुद्धि में रहना चाहिए हम आए हैं देवता बनने के लिए। अब हमको वापिस घर जाना है। फिर बच्चा बनकर माँ की गोद में आयेंगे। माता का जो खान-पान होता है उसका असर बच्चे पर भी पड़ता है। वहाँ यह कुछ भी बातें होती नहीं। वहाँ सब कुछ फर्स्टक्लास होगा। हमारे लिए माता खाना आदि भी फर्स्टक्लास खायेगी, जो हमारे पेट में आयेगा। वहाँ तो है ही फर्स्टक्लास। जन्म लेने से ही खान-पान सब शुद्ध होता है। तो ऐसे स्वर्ग में जाने की तैयारी करनी चाहिए। बाप को याद करना है।

बाप आकर रिज्यूवनेट करते हैं। वह लोग तो बन्दर के ग्लान्स मनुष्य में डालते हैं। समझते हैं हम जवान हो जायेंगे। जैसे हार्ट नई डालते हैं। बाप कोई हार्ट नहीं डालते हैं। बाप तो आकर चेन्ज करते हैं। बाकी यह सब है साइन्स। बाम्ब्स आदि बनाते हैं। यह तो दुनिया को ही खलास करने की चीजें हैं। तमोप्रधान बुद्धि है ना। वह तो खुश होते हैं कि यह भी भावी बनी हुई है। बाम्ब्स जरूर बनने ही हैं। शास्त्रों में फिर लिखा हुआ है पेट से मूसल निकले, फिर यह हुआ। अब बाप ने समझाया है यह सब भक्ति मार्ग की बातें हैं। राजयोग तो मैंने ही सिखाया था। वह तो एक कहानी हो गई, जो सुनते-सुनते यह हाल हो गया है। अभी बाप सच्ची सत्य नारायण की कथा, तीजरी की कथा, अमरनाथ की कथा सुना रहे हैं। इस पढ़ाई से तुम यह पद पाते हो। बाकी कृष्ण आदि तो हैं नहीं, जो दिखाया है स्वदर्शन चक्र से सबको मारा। मैं तो सिर्फ राजयोग सिखलाकर पावन बनाता हूँ। हम तुमको स्वदर्शन चक्रधारी बनाते हैं। उन्होंने फिर कृष्ण को चक्र आदि दिखाया है। स्वदर्शन चक्र फिरायेंगे कैसे? जादू की थोड़ेही बात है। यह तो सब ग्लानी है ना। सो भी आधाकल्प चलती है। कैसा वन्डरफुल ड्रामा है। अभी छोटे-बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। अब हमको जाना है इसलिए बाप को याद करना है। दूसरा कुछ भी याद न आये। ऐसी अवस्था हो तब ऊंच पद पा सको। अपनी दिल से पूछना चाहिए – हमारा रजिस्टर कहाँ तक ठीक है? रजिस्टर से चलन का मालूम पड़ेगा – रेग्युलर पढ़ते हैं वा नहीं? कई तो झूठ भी बोल देते हैं। बाप कहते हैं सच बताओ, नहीं बतायेंगे तो तुम्हारा ही रजिस्टर खराब होगा। भगवान् से पवित्र बनने की प्रतिज्ञा कर फिर तोड़ते हो तो तुम्हारा क्या हाल होगा। विकार में गिरे तो खेल खलास। पहला नम्बर दुश्मन है देह-अभिमान, फिर काम, क्रोध। देह-अभिमान में आने से ही वृत्ति खराब होती है इसलिए बाप कहते हैं – देही-अभिमानी भव। अर्जुन भी यह है ना। कृष्ण की ही आत्मा थी। अर्जुन नाम है थोड़ेही, नाम तो चेन्ज होता है, जिसमें प्रवेश करते हैं। मनुष्य तो कह देते हैं यह झाड़ आदि तुम्हारी कल्पना है। मनुष्य जो कल्पना करे वह देखने में आता है।

तुम बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए – अब हम जाकर स्वर्ग में छोटे बच्चे बनते हैं। फिर नाम, रूप, देश, काल सब-कुछ नया होगा। यह बेहद का ड्रामा है। बनी बनाई बन रही। होना ही है फिर हम चिंता क्यों करें? ड्रामा का राज़ अब तुम बच्चों की बुद्धि में है। और कोई नहीं जानते, सिवाए तुम ब्राह्मणों के। दुनिया में इस समय सब पुजारी हैं। जहाँ पुजारी हैं वहाँ पूज्य एक भी हो नहीं सकता। पूज्य होते ही हैं सतयुग-त्रेता में। कलियुग में हैं पुजारी, फिर तुम अपने को पूज्य कैसे कहला सकते हो? पूज्य तो देवी-देवतायें ही हैं। पुजारी हैं मनुष्य। मूल बात बाप समझाते हैं – पावन बनना है तो मामेकम् याद करो। ड्रामा अनुसार जिसने जितना पुरुषार्थ किया होगा उतना ही करेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी पढ़ाई का रजिस्टर रखना है। अपना चार्ट देखना है कि हमारी भाई-भाई की दृष्टि कहाँ तक रहती है? हमारा दैवी स्वभाव बना है?

2) अपनी जबान पर बहुत कन्ट्रोल रखना है। बुद्धि में रहे कि हम देवता बन रहे हैं इसलिए खान-पान पर बहुत ध्यान देना है। जबान चलायमान नहीं होनी चाहिए। माँ-बाप को फालो करना है।

वरदान:- हर घड़ी को अन्तिम घड़ी समझ सदा एवररेडी रहने वाले तीव्र पुरूषार्थी भव
अपनी अन्तिम घड़ी का कोई भरोसा नहीं है इसलिए हर घड़ी को अन्तिम घड़ी समझते हुए एवररेडी रहो। एवररेडी अर्थात् तीव्र पुरुषार्थी। ऐसे नहीं सोचो कि अभी तो विनाश होने में कुछ टाइम लगेगा फिर तैयार हो जायेंगे। नहीं। हर घड़ी अन्तिम घड़ी है इसलिए सदा निर्मोही, निर्विकल्प, निरव्यर्थ.. व्यर्थ भी नहीं, तब कहेंगे एवररेडी। कोई भी कार्य रहे हुए हों लेकिन अपनी स्थिति सदा उपराम हो, जो होगा वो अच्छा होगा।
स्लोगन:- अपने हाथ में लॉ उठाना भी क्रोध का अंश है।

TODAY MURLI 8 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 8 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 7 February 2018 :- Click Here

08/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to become a sun-dynasty bead of the rosary of victory, become completely pure according to shrimat. The children who become pure are liberated from the punishment of Dharamraj.
Question: What intoxication do the children who are engaged in making effort to become soul conscious have?
Answer: I belong to Baba. I am a master of Baba’s Brahmand. I claim my inheritance from Baba and become a master of the world. Only the children who remain soul conscious have this intoxication; only they become heirs. They don’t remember their relationships of the old world. If you become body conscious, you are slapped by Maya and your happiness disappears. This is why Baba says: Children, make effort to become soul conscious. Keep your chart.
Song: You are the fortune of tomorrow.

Om shanti. You children know that Shiv Baba has incarnated here at the confluence age, that He has come from up above and that you are Shiv Shaktis, the heirs of Shiva. Your name is in fact Shiv Shaktis. You are the Shaktis who have been created by Shiva. Shiva has made you belong to Him, and you Shaktis have then made Shiv Baba belong to you. Shiva came and created His heirs. You Shaktis are Shiv Baba’s heirs. You children know that Shiv Baba has come to change hell into heaven. We become His heirs and His helpers in order to claim our inheritance from Him. The Father has come to make this impure world, this hell, pure. No one, apart from the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, can make the impure world pure. You are the children of incorporeal Shiv Baba. He has entered this one’s physical body. In fact, when you are in the incorporeal world, you are heirs. All souls are children of that Supreme Father, the Supreme Soul, but that is in the incorporeal world. When you are there with Me, you are My children. Then, I too have to come in order to make the impure world pure. I have to come and adopt a body. The Father has come from that incorporeal world and made you children into heirs to give you the inheritance. Shiv Shaktis are well known. “Shiv Shaktis” means children of Shiva. No one in the world knows who the Purifier is. The impure world is definitely called the iron age and the pure world is called the golden age. You souls remain constantly pure in the incorporeal world. People sing: O Purifier come! People remember Him in many different ways, but they don’t understand anything. They don’t understand that He definitely comes at the end of the iron age, at the confluence age, to purify you. The Father says: I come every cycle, at the confluence age of the cycle, and make you children My heirs. That is, you become double heirs. In fact, you are the children of Shiv Baba, but you have forgotten yourselves. You souls now know that you are in fact the heirs of Shiv Baba’s land of nirvana. Shiv Baba says: All of you are heirs, are you not? You are the children who reside in Brahmand, the masters of Brahmand. Then, you have to come here into this world to play your part s. Everyone remembers the Father a great deal. When they are very unhappy, they cry out: O God, have mercy! There is a lot more sorrow yet to come. Just as they now control sugar, they will also then control grain. Human beings need food. Later, when they are starving, there will be a lot of violence and looting. Only when the world is very unhappy does the Father come to establish a happy world. So, you now have to become completely pure according to the Father’s shrimat. Only those who become completely pure will become the beads of the sun-dynasty rosary of victory. They will not experience punishment from Dharamraj. The Father sits here and explains everything very clearly. It has been explained that, since there is Jagadpita, there also has to be Jagadamba. However, there is no mention of her in the Gita. All the connection with the Gita has been spoilt. Devotees remember God. Only God can fulfil all the desires of human beings and this is why they remember Him. Krishna cannot fulfil anyone’s desires. Only God is called the One who fulfils everyone’s desires. The other one is Jagadamba, Bhagawati. She also fulfils all your desires. Who is Jagadamba? She is a complete heir, the daughter of Brahma, the granddaughter of Shiv Baba. Human beings are heirs of the great kings. The word ‘heir’ is connected with a family. It is not connected with sannyasis. You know that you have now become Shiv Baba’s heirs. There, you live with Baba. There is no question of an inheritance there. It is here that we want the inheritance. The Father’s property is heaven and there is no question of sorrow there. You children are now receiving your Grandfather’s property and so you have to remember Him. You are God’s heirs and all the rest are Ravan’s heirs. The Ravan community is remembered. Here, you are the Brahmin community whereas that is the devilish community. They receive their inheritance from Ravan. This is the kingdom of Ravan. You receive the inheritance of the five vices, and you then come and donate this inheritance to Shiv Baba. You don’t donate the five vices to Krishna; you donate the five vices to Shiv Baba. You wouldn’t donate to deities. Krishna and the deities donated the vices to Shiv Baba and claimed their status. So, how could they accept that donation? Shiv Baba says: Donate the five vices so that the omens of the eclipse can be removed. The eclipse is such that not a single degree remains; you have become completely dark. Now, donate them to Me and don’t indulge in vice. Donations cannot be taken back after they are made. If you indulge in vice, your status is destroyed. If you want to become Narayan, then chase away the evil spirits. The Father comes here to change you from ordinary man into Narayan. You know that Baba has made you into those who have a right to His home and property. Therefore, this is a double inheritance. The Father gives you both inheritances of liberation and liberation-in-life. You children, who are the Father’s heirs, now remember Me and you have your sins absolved with yoga and the power of knowledge. Knowledge is also a power. It is knowledge. They study knowledge and claim a high status. They become senior policeofficers after studying knowledge. People are so afraid of the police. When they have done something wrong, they go pale on hearing the name ‘police mentioned. You children now receive a high status by studying. If you become a child of the Father but don’t remember Him, how would you receive your inheritance? Those are worldly fathers. You have to remember the Father from beyond this world a great deal. Only by remembering Him a great deal will you claim a high status. To the extent that you make effort, accordingly, you will become pure and claim the kingdom of the pure world. You will come back with Me and then go to the golden age and rule the kingdom there. Everyone remembers God so that they can go to the Father once again. They say: Amarnath related the story to Parvati. All of you are Parvatis. Shiv Baba would not have related the story to just one Parvati. Many of you are listening to Me. You all remember Me in order to be made pure from impure. There is only the One who can make you pure. How does He make you pure? First of all, Jagadamba becomes pure and then there are her Shaktis. Only the one Father is the Creator of heaven. No one else can become this. You have now become experienced. You children should have so much intoxication! Shiv Baba takes you into His lap and makes you worthy of becoming the masters of heaven. You understand that you have gone into God’s lap. God will definitely take us back with Him. He has especially made you children His heirs. You have these part s. Your intellects have now become so unlimited. You should understand that, in the golden age, it is the kingdom of just the deities, and so God must surely have established it. However, no one knows how He did it. There are the names of the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas. They have only shown males as Pandavas. Where is the Shakti Army mentioned? You are incognito. They don’t know anything, but they say that those who die while battling will go to heaven; but which battle? This is the battle to conquer Maya, which only the one Father teaches you. Since you understand that Shiv Baba has truly taken you into His lap and adopted you, your intellects’ yoga should be broken away from everyone else. When you go into the lap of a king, you would consider yourself to be a child of the king and queen. Your friends and relatives would be princes and princesses. Your clan and genealogical tree change. So, here, too, you have to belong to the Brahmin clan. They show Narad with the deities, that is, the Shaktis. God said to Narad: First of all, look at your face! Narad used to do devotion. You children now have to make effort very well. You should not have any evil spirits in you. If anyone becomes angry, then consider that one to have an evil spirit in him. You have to donate the five vices here, for only then can there be that intoxication. You will then remain very happy, just as is seen on the faces of the deities. You are rup and basant. Just as Baba gives jewels of knowledge, you should also only let jewels of knowledge emerge from your mouths. Continue to make effort. The destination is very high. You have to become the masters of the world. We have become the masters of the world countless times. None of the sannyasis etc. can say this. The Father says: Beloved children, you have become the masters of the world countless times and you have then been defeated. Now, gain victory once again. Everything depends on your efforts. You children should remain very happy that you are becoming the masters of the world. So, why does that happiness not remain permanently? You remember the relationships of the old world. You become body conscious. The first enemy is body consciousness. When you become body conscious, you are slapped by Maya. I belong to Baba. I am a master of Baba’s Brahmand. I claim my inheritance from Baba and become a master of the world. You should have this intoxication and make effort to become soul conscious. Baba only comes once in the cycle and teaches you how to become soul conscious. He says so many times, “Remember Baba”, and yet you forget Him. You become tired of writing your chart. You children have to look at your chart. To what extent would one Baba look at the charts of so many children? Baba has so much work to do. His fingers are worn out replying to the letters. However, children have a keen interest in reading a letter in Baba’s writing. I sit with You, I correspond with You. You write: Shiv Baba, c/o Brahma. Then, Baba also responds to you. He has to write so many letters. Yes, when serviceable children give news of their service, the Father also becomes pleased. When He receives very good letters, He places them on His eyes and on His heart. Otherwise, He has to put them in the waste-paper box. I praise the serviceable children very much. Only the children who do service can climb into Baba’s heart. Worthy children follow their mother and father. The Father explains to you so well. People on the path of devotion stumble around so much to receive liberation, but they don’t know where liberation is; they don’t know anything. Only the one Ocean of Knowledge has knowledge. To know the beginning, middle and end of the world is called knowledge. Until you know the beginning, middle and end of the world, you are blind. The Mahabharat War is just ahead. Many difficulties are going to come. This world too is very dirty. The Father explains to the children: Children, remain cautious. If you have an evil spirit in you, how would you become beautiful? You say: Baba, We will follow Your directions. So, Baba says: Chase away the evil spirits! Don’t have any attachment to this world. Your intellects’ yoga should be connected to the new world. You know that heaven is being established for you and so you have to remember it. Remember the Father, your sweet homeand your kingdom. Work for the livelihood of your bodies and also do this Godly service. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become rup and basant and constantly let jewels of knowledge emerge from your mouth. Become as happy and cheerful as the deities.
  2. With knowledge and the power of yoga, have your sins absolved and claim the double inheritance of liberation and liberation-in-life.
Blessing: May you become a successful image and, with the special virtue of “you first”, become loved by all.
The virtue of making one another move forward, that is, the virtue of “you first” makes you loved by all when doing something in the name of God and in your interaction with everyone. This is the main virtue of the Father. The Father says: Children, “You first”. So, follow the Father in this virtue. This is the way to achieve success. Those who love the Father, love the Brahmin family and love world service are the ones who are ever ready.
Slogan: On the basis of churning power, make the treasures of knowledge your own and obstacles will then bid you farewell.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 8 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 8 February 2018

To Read Murli 7 February 2018 :- Click Here
08-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सूर्यवंशी विजय माला का दाना बनने के लिए श्रीमत पर पूरा पावन बनो, पावन बनने वाले बच्चे धर्मराज़ की सजाओं से छूट जाते हैं”
प्रश्नः- देही-अभिमानी बनने की मेहनत में लगे हुए बच्चों को कौन सा नशा रहेगा?
उत्तर:- मैं बाबा का हूँ, मैं बाबा के ब्रह्माण्ड का मालिक हूँ, बाबा से वर्सा ले विश्व का मालिक बनता हूँ। यह नशा देही-अभिमानी रहने वाले बच्चों को ही रहता, वही वारिस बनते हैं। उन्हें पुरानी दुनिया के सम्बन्ध याद नहीं रहते। देह-अभिमान में आने से ही माया की चमाट लगती है। खुशी गुम हो जाती है इसलिए बाबा कहते बच्चे देही-अभिमानी बनने की मेहनत करो। अपना चार्ट रखो।
गीत:- आने वाले कल की तुम तकदीर हो …

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हो कि शिवबाबा ने यहाँ संगमयुग पर अवतार लिया है या ऊपर से आया हुआ है और तुम शिव शक्तियां हो, शिव के वारिस। तुम्हारा नाम वास्तव में है शिवशक्तियां। शिव से पैदा हुई शक्तियां। शिव ने तुमको अपना बनाया है और तुम शक्तियों ने फिर शिवबाबा को अपना बनाया है। शिव ने आकर अपने वारिस बनाये हैं। तुम शक्तियां हो गई शिवबाबा के वारिस। अभी यह तो तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा आया हुआ है, नर्क को स्वर्ग बनाने। हम उनके वारिस उनके साथ मददगार हैं, उनसे वर्सा पाने के लिए। बाप आया हुआ है इस पतित दुनिया अथवा नर्क को पावन बनाने। पतित सृष्टि को पावन बनाने वाला निराकार परमपिता परमात्मा के सिवाए और कोई हो नहीं सकता। तुम हो निराकार शिवबाबा के बच्चे। वह यहाँ जिसमें आया हुआ है वह है साकारी तन। यूँ तो तुम जब निराकारी दुनिया में हो तो भी वारिस हो। सब आत्मायें उस परमपिता परमात्मा के बच्चे हैं। परन्तु वह हो गया निराकारी दुनिया में। वहाँ तुम जब मेरे पास हो तो मेरे ही बच्चे हो। फिर मुझे भी आना पड़ा है – पतित सृष्टि को पावन बनाने। आकर शरीर धारण करना पड़ा। अब उस निराकारी दुनिया से बाप आया हुआ है। तुम बच्चों को वारिस बनाया है वर्सा देने लिए। शिव शक्तियां तो मशहूर हैं, शिवशक्तियां अर्थात् शिव की औलाद। दुनिया में यह कोई नहीं जानते हैं कि पतित-पावन कौन है। पतित दुनिया को जरूर कलियुग कहेंगे, पावन दुनिया को सतयुग। निराकारी दुनिया में तुम आत्मायें सदैव पावन रहती हो। गाते भी हैं हे पतित-पावन आओ.. भिन्न-भिन्न प्रकार से याद करते हैं। परन्तु समझते कुछ भी नहीं हैं। यह नहीं समझते कि पावन बनाने के लिए जरूर कलियुग के अन्त में संगम पर आयेंगे। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे आता हूँ, आकर तुम बच्चों को अपना वारिस बनाता हूँ। गोया तुम डबल वारिस बनते हो। वैसे तो तुम शिवबाबा के बच्चे हो परन्तु अपने को भूल गये हो। अभी तुम जानते हो हम आत्मायें तो वास्तव में शिवबाबा के निर्वाणधाम के वारिस हैं। शिवबाबा कहते हैं तुम सब वारिस हो ना। ब्रह्माण्ड में रहने वाले बच्चे ब्रह्माण्ड के मालिक हो। फिर यहाँ सृष्टि पर आकर पार्ट बजाना है। बाप को सभी याद तो बहुत करते हैं। जब बहुत दु:खी होते हैं तो रड़ियां मारते हैं – हे भगवान रहम करो। अजुन तो बहुत दु:ख आने वाला है। जैसे चीनी आदि पर कन्ट्रोल रखते, वैसे अनाज पर भी रखेंगे। मनुष्यों को अन्न तो चाहिए ना। फिर भूख मरेंगे तो मारपीट लूटमार करेंगे। जब दुनिया बहुत दु:खी हो तब तो बाप आकर सुखी दुनिया स्थापन करे ना। तो अब बाप की श्रीमत पर पूरा पावन बन दिखाना है। पूरा पावन बनने वाले ही सूर्यवंशी विजय माला के दाने बनते हैं। वह धर्मराज की सज़ायें नहीं खायेंगे। बाप हर एक बात अच्छी रीति बैठ समझाते हैं। यह तो समझाया है जगत पिता है तो जगत अम्बा भी है। परन्तु उनका गीता में कुछ वर्णन है नहीं। गीता का कनेक्शन सारा बिगड़ा हुआ है। भक्त भगवान को याद करते हैं। भगवान ही सब मनुष्यों की मनोकामनाएं पूरी कर सकते हैं, इसलिए उनको याद करते हैं। कृष्ण तो मनोकामना पूरी कर न सके। एक ही भगवान को कहा जाता है सभी की मनोकामना पूरी करने वाला। दूसरा फिर है जगत अम्बा, भगवती, सब मनोकामनायें पूरी करने वाली। जगत अम्बा कौन है? पूरा वारिस ब्रह्मा की बच्ची, शिवबाबा की पोत्री। और मनुष्य बड़े-बड़े राजाओं आदि के वारिस होते हैं। यह वारिस अक्षर फैमिली से लगता है। सन्यासियों से नहीं लगता है। तुम जानते हो हम अभी शिवबाबा के वारिस बने हुए हैं। वहाँ तो बाबा के साथ रहते हैं। वहाँ वर्से की कोई बात नहीं। यहाँ तो हमको वर्सा चाहिए। बाप की मिलकियत है स्वर्ग, वहाँ दु:ख की बात ही नहीं होती। अब तुम बच्चों को दादे की मिलकियत मिलती है, तो उनको याद करना है।

तुम हो ईश्वर के वारिस, बाकी सब हैं रावण के वारिस। रावण सम्प्रदाय गाया जाता है ना। यहाँ तुम हो ब्राह्मण सम्प्रदाय। वह हैं आसुरी रावण सम्प्रदाय। उनको वर्सा मिल रहा है रावण से। रावण राज्य है ना। 5 विकारों का वर्सा मिला हुआ है, जिस वर्से को फिर तुम आकर शिवबाबा को दान करते हो। कृष्ण को थोड़ेही 5 विकारों का दान देंगे। तुम शिवबाबा को 5 विकारों का दान देते हो। देवताओं को थोड़ेही दान देंगे। कृष्ण आदि देवताओं ने तो विकारों का दान शिवबाबा को दे ऐसा पद पाया है। वह फिर दान लेंगे कैसे? शिवबाबा कहते हैं यह 5 विकारों का दान दो तो छूटे ग्रहण। ग्रहण भी ऐसा लगा हुआ है जो एक भी कला नहीं रही है। बिल्कुल काले बन पड़े हैं। अभी हमें दान दे दो फिर विकारों में नहीं जाना। दान देकर फिर वापिस नहीं लेना है। अगर विकार में जायेंगे तो पद भ्रष्ट बन पड़ेंगे। सो नारायण बनना है तो भूतों को भगाना है। बाप आते ही हैं नर से नारायण बनाने। तुम जानते हो बाबा ने हमको हकदार बनाया है – अपने घर का और जायदाद का। डबल वर्सा हुआ ना। मुक्ति और जीवनमुक्ति दोनों वर्सा बाप देते हैं। जो बाप के वारिस बच्चे हैं वे अब मेरे को याद कर योग और ज्ञान बल से विकर्म विनाश करते हैं। ज्ञान भी बल है ना। नॉलेज है, नॉलेज पढ़कर बड़ा-बड़ा दर्जा पाते हैं। पुलिस के बड़े ऑफिसर्स आदि बनते हैं। मनुष्य कितना पुलिस से डरते हैं। कोई ऐसा काम करते हैं तो पुलिस का नाम सुन पीला पड़ जाते हैं। तुम बच्चे अभी पढ़ाई से ऊंच पद पाते हो। बाप का बच्चा बनकर और बाप को याद नहीं करेंगे तो वर्सा कैसे पायेंगे। वह तो है लौकिक बाप। इस पारलौकिक बाप को तो बहुत याद करना पड़े। बहुत याद करने से ही ऊंच पद पायेंगे। जितना मेहनत करेंगे उतना पावन बन पावन दुनिया का राज्य पायेंगे। वापिस मेरे पास आकर फिर सतयुग में जाए राजाई करनी है। सब भगवान को याद करते हैं कि फिर से हम बाप के पास जायें।

कहते हैं अमरनाथ ने पार्वती को कथा सुनाई सो तो तुम सब पार्वतियां हो। शिवबाबा ने सिर्फ एक पार्वती को थोड़ेही कथा सुनाई होगी। तुम तो बहुत सुनते हो ना। सब याद करते हैं कि हमको पतित से पावन बनाओ। पावन बनाने वाला है एक। कैसे पावन बनाते हैं? पहले-पहले जगत अम्बा पावन बनती है। फिर उनकी शक्तियां हैं। स्वर्ग का रचयिता एक ही बाप है और कोई हो न सके। अभी तुम अनुभवी बन गये हो। तुम बच्चों को कितना नशा रहना चाहिए। शिवबाबा तुमको गोद में ले स्वर्ग का मालिक बनाने लायक बनाते हैं। तुम समझते हो हम ईश्वर की गोद में आये हैं। जरूर ईश्वर हमको वापिस अपने साथ ले जायेंगे। खास तुम बच्चों को वारिस बनाया है। तुम्हारा पार्ट है। अभी तुम्हारी बुद्धि कितनी विशाल हो गई है। समझना चाहिए सतयुग में है ही देवी-देवताओं का राज्य। जरूर भगवान ने स्थापन किया होगा। परन्तु कैसे किया? यह कोई नहीं जानते। नाम भी है यादव, कौरव, पाण्डव। पाण्डवों में सभी मेल्स ही दिखाते हैं। शक्ति सेना का नाम कहाँ? तुम हो गुप्त। उनको तो पता ही नहीं फिर कहते जो लड़ाई में मरेगा वह स्वर्ग में जायेगा। परन्तु कौन सी लड़ाई? यह है माया पर जीत पाने की लड़ाई। जो एक बाप ही सिखलाते हैं। जबकि तुम समझते हो बरोबर शिवबाबा ने हमको गोद में लिया है। एडाप्ट किया है। तो और सब तरफ से बुद्धियोग टूट जाना चाहिए। राजा की गोद में जायेंगे तो राजा-रानी का ही बच्चा अपने को समझेंगे। प्रिन्स-प्रिन्सेज ही मित्र-सम्बन्धी होंगे। वह कुल अथवा बिरादरी बदल जाती है। तो यहाँ भी ब्राह्मण कुल का बनना है। देवताओं अथवा शक्तियों के साथ नारद को भी बिठाते हैं। भगवान ने नारद को कहा तुम अपनी शक्ल तो देखो। नारद भक्ति करता था।

अभी तुम बच्चों को अच्छी रीति पुरुषार्थ करना है। तुम्हारे अन्दर कोई भी भूत नहीं होना चाहिए। कोई क्रोध करे तो समझो इनमें भूत है। पांच विकारों का यहाँ दान देना है, तब वह नशा चढ़ सके। फिर तुम बहुत खुश मिजाज़ रहेंगे। जैसे देवताओं के चेहरे रहते हैं। तुम रूप-बसन्त हो ना। जैसे बाबा ज्ञान रत्न देता है, तुम्हारे मुख से भी रत्न निकलने चाहिए। पुरुषार्थ करते रहो। मंजिल बहुत बड़ी है, विश्व का मालिक बनना होता है। हम ही अनेक बार विश्व के मालिक बने हैं। ऐसे और कोई सन्यासी आदि कह न सकें। बाप कहते हैं लाडले बच्चे तुम अनगिनत बार विश्व के मालिक बने हो, फिर हराया है। अब फिर जीत पहनो। है सारा पुरुषार्थ पर मदार। बच्चों को बड़ी खुशी रहनी चाहिए। हम विश्व के मालिक बनते हैं, तो वह खुशी स्थाई क्यों नहीं रहती? पुरानी दुनिया के सम्बन्ध याद आ जाते हैं। देह-अभिमान आ जाता है। पहला-पहला दुश्मन है ही देह-अभिमान। देह-अभिमान आया और लगी माया की चमाट। मैं बाबा का हूँ, बाबा के ब्रह्माण्ड का मालिक हूँ। बाबा से वर्सा ले विश्व का मालिक बनता हूँ, यह नशा रहना चाहिए। देही-अभिमानी बनने की मेहनत करनी चाहिए। कल्प में एक ही बार बाबा आकर तुमको देही-अभिमानी बनना सिखलाते हैं। कितना कहते हैं बाबा को याद करो। फिर भी भूल जाते हैं, चार्ट लिखने में थक जाते हैं। बच्चों को अपना चार्ट देखना है। एक बाबा इतने बच्चों का चार्ट कहॉ तक देखेंगे। बाबा को कितना काम रहता है। पत्रों के जवाब लिखने में अंगुलियां ही घिस जाती हैं। परन्तु बच्चों को शौक रहता है कि बाबा के हाथ का पत्र पढ़ें। तुम्हीं से बैठूँ, तुम्हीं से लिखा पढ़ी करुँ… लिखते भी हैं शिवबाबा केअरआफ ब्रह्मा। फिर बाबा जवाब भी देते हैं। कितने पत्र लिखने पड़ें। हाँ, सर्विसएबुल बच्चे सर्विस का समाचार देंगे तो बाप भी खुश होगा। अच्छी-अच्छी चिट्ठी आयेगी तो नयनों पर रखेंगे, दिल पर रखेंगे। नहीं तो वेस्ट पेपर बॉक्स में डाल देनी पड़ती हैं। सर्विसएबुल बच्चों की बहुत महिमा करता हूँ। सर्विस करने वाले बच्चे ही दिल पर चढ़ सकते हैं। सपूत बच्चे माँ बाप को फालो करते हैं। बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं। भक्ति मार्ग में मनुष्य मुक्ति के लिए कितने धक्के खाते रहते हैं। परन्तु वह जानते ही नहीं कि मुक्ति कहाँ है? कुछ नहीं जानते। ज्ञान है ही एक ज्ञान सागर के पास। सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त को जानना, इसको ज्ञान कहा जाता है। जब तक सृष्टि के आदि मध्य अन्त को नहीं जाना तो ब्लाइन्ड हैं। महाभारत लड़ाई भी सामने खड़ी है। बहुत तकलीफ होने वाली है। यह दुनिया बड़ी गन्दी है। बाप बच्चों को फिर भी समझाते हैं बच्चे खबरदार रहना। कोई भूत होगा तो तुम गोरे कैसे बनेंगे? तुम कहते हो बाबा हम आपकी मत पर चलेंगे तो बाबा कहते हैं भूतों को भगाओ। इस दुनिया से ममत्व नहीं रखना है। बुद्धियोग नई दुनिया में चला जाना चाहिए। तुम जानते हो हमारे लिए स्वर्ग की स्थापना हो रही है। तो याद करना पड़े ना। बाप को, स्वीट होम को और राजधानी को याद करो। शरीर निर्वाह अर्थ सर्विस भी करो। फिर यह ईश्वरीय सर्विस भी करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार :-

1) रूप-बसन्त बन मुख से सदैव ज्ञान रत्न निकालने हैं। देवताओं जैसा खुशमिजाज़ बनना है।

2) ज्ञान और योग बल से विकर्म विनाश कर बाप से डबल वर्सा (मुक्ति-जीवनमुक्ति का) लेना है।

वरदान:- ”पहले आप” के विशेष गुण द्वारा सर्व के प्रिय बनने वाले सफल मूर्त भव 
एक दो को आगे बढ़ाने का गुण अर्थात् ”पहले आप” का गुण परमार्थ और व्यवहार दोनों में ही सर्व का प्रिय बना देता है। बाप का भी यही मुख्य गुण है। बाप कहते हैं बच्चे ”पहले आप”। तो इसी गुण में फालो फादर करो, यही सफलता प्राप्त करने की विधि है। जो बाप के प्रिय, ब्राह्मण परिवार के प्रिय और विश्व सेवा के प्रिय हैं वही एवररेडी हैं।
स्लोगन:- मनन शक्ति के आधार से ज्ञान खजाने को अपना बना लो तो विघ्न विदाई ले लेंगे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize