today murli 7 september

TODAY MURLI 7 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 September 2018 :- Click Here

07/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your lights have now ignited. For the lights to ignite means that there are now the omens of Jupiter. When there are the omens of Jupiter, you become the masters of the world.
Question: What is the speciality of every home in the golden age? What has every home become in the iron age?
Answer: In the golden age, there is happiness in every home; the light of everyone is ignited. In the iron age, there is sorrow and worry in every home; there is darkness in every home. The lights of souls have extinguished. The Father has come to ignite everyone’s light with His own light through which there will be Diwali in every home.
Song: Mother, o Mother, you are the Bestower of Fortune for all. 

Om shanti. You children heard praise of the mother. In fact, this is praise of only one. Nevertheless, it is someone who makes the mother into the World Mother (Jagadamba) and someone else who gives birth to her. Who gave birth to such a mother? It would be said: The Purifier, the Supreme Soul, Shiva, gave her birth. So then, the praise is of the one Ocean of Knowledge, the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiv Baba. He sits here and explains to you children the secrets of Himself, the beginning, middle and end of His own creation and the secrets of making impure ones pure. You children understand that, at this time, it is the impure kingdom which is called the kingdom of Ravan. Dashera is now coming. It has been explained that all of those festivals are of blind faith. There are no such things as Ravan and Lanka. Ceylon is called Lanka. They show that monkeys built a bridge across the sea. In fact, all of those are tall stories. It isn’t that there was a Ravan with ten heads who ruled Lanka. If that were the case, they should burn his effigy in Lanka. The system of burning Ravan is only in Bharat. They don’t burn his effigy anywhere else. In the newspapers too, they only write about it here. The Maharaja of Mysore celebrates this festival the most. Perhaps he has a lot of love for all those tall stories. It is the duty of you children to explain them. An effigy of an enemy is made and burnt. Previously, they used to make an effigy of Hitler and burn that. Many people have enemies. Whose enemy was Ravan? He was the enemy of the people of Bharat. However, an enemy is burnt once. There isn’t anyone who makes an effigy of his enemy every year and burns it. They make an effigy of their enemy, but they don’t burn that every year. Who is that Ravan whose effigy with ten heads has been created and burnt in Bharat for a long time? When did he become your enemy? He doesn’t even die. Will he eventually die or will he always live? You children know that Bharat was pure and that it was Ravan that made Bharat impure. It is now the kingdom of Ravan. If there had been a king of Lanka, there must also have been a queen. You do not believe those things. People don’t understand anything about whether Ravan is still living or not. He is still living and yet they create an effigy of him and burn that. Once he was burnt, what happened then? They continue to burn it every year and so you children should explain to them. Those who become the seniors of the Committee, such as the Maharaja of Mysore, celebrate this festival a lot. They even invite foreigners to come and watch. They believe that such things did perhaps happen. However, nothing like that ever happened. They create plays. They even create a play about Ravan. Therefore, you have to explain about this Ravan. This is something very important. You are now sitting in the kingdom of Ravan. The impure world is called the kingdom of Ravan. The secrets of the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan have been explained to you. The five vices are called Ravan; it isn’t anyone else. You have understood that Ravan’s kingdom is now in Bharat. It is only in Bharat that they celebrate Dashera and Deepmala etc. So you have to explain that if Ravan is living, it is Ravan’s kingdom. Ravan is the one who makes people impure. You know that the five vices which are now omnipresent are called Ravan. The pictures of Ravan were also made previously at Dashera, but they also have to write a date etc. on them. At this time, the impure is destroyed and the pure is established. You are becoming pure from impure. When you have become pure, the community of Ravan will be set on fire. When Ravan is destroyed, there won’t be any need to create effigies in the golden age. Everyone will become pure. When souls had the power of their satopradhan stage, they were ignited lights. When they became impure, those lights were extinguished. Souls have become impure and don’t have the strength to fly. Souls have become iron aged due to the five vices. This definitely has to be explained. It is the one Father who awakens souls. Everyone says that the Supreme Father, the Supreme Soul, the form of Light, God, will come. You souls are forms of light and the Supreme Father, the Supreme Soul, is also a form of light. The lights of you souls have been extinguished. Only a little light now remains. When a person dies, people keep an earthenware lamp burning for that soul day and night. They look after that lamp very carefully. When the oil is used up, they pour in more oil. It is the same with souls too: the Father comes and ignites everyone’s light with knowledge. For how long would an ignited lamp last? They burn it at night and then continue to pour oil into it. Your lights are now igniting. By gradually being ignited, they will be fully ignited. It takes 5000 years for the lights to extinguish and then the Father comes and pours in oil. Your lights are now being ignited and then your degrees will later gradually continue to decrease. The lights will become dim. You know that your lights are now being ignited and that then, in the golden age, there will be light in every home. This only refers to Bharat. Now, there is darkness in every home; there is no happiness. You know that, in the golden and silver ages, you were very happy and that you used to celebrate in happiness. Everyone’s light remains ignited and it then decreases little by little. At this time it is completely dim; there is alloy mixed into it. The Father comes and pours in the oil of knowledge through which you become ignited lights. Your eyes of knowledge are being opened. You know that your bodies have now completely finished; there are the omens of Rahu. How long does it take for you to become ugly? It decreases little by little from the beginning and then, as soon as Maya enters, you become very ugly. There are now the omens of Rahu over you. The most severe omens are those of Rahu. There are now the omens of Jupiter because you are now making effort with the Lord of the Tree, the Guru, in order to become the masters of the world. He is the imperishable Guru. Whose? The imperishable souls. Those human beings don’t become gurus of souls; they become gurus of human beings. The Father has now come and become the Guru of you souls. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Lord of the Tree. You understand that you now have the omens of Jupiter over you. You will become the masters of heaven. There is imperishable happiness, but you have to make effort for that at this time so that you become the emperors and empresses of the land of happiness. Everyone’s efforts are their own. This is the pathshala of Rudra Shiva. He is the Ocean of Knowledge. You are studying in His school. God speaks: I teach you Raja Yoga. I am the imperishable Father of imperishable souls. One is a physical father and the other is the spiritual Father. You have to show the contrast of the two. When do you meet the spiritual Father whom all the spirits remember on the path of devotion? A physical father is perishable. Souls are not perishable. You know that you have been changing your physical fathers for birth after birth. A child cannot be born without a father. You children have now received broad and unlimited intellects. You can understand from when it is that you become those with two fathers. In the golden age, there is the one physical father and you only remember him. There is no need for souls to remember that spiritual Father. In the golden age, souls only have the one physical father. There, you receive beautiful bodies; you experience your reward. This is why you don’t remember the Father there. So you have to explain this. On the path of devotion, one is your perishable physical father. He is a different one in every birth. You souls are imperishable. You remember the imperishable Father. You even say: The Supreme Father is the Father who lives in the supreme abode. A physical father would never be called the Supreme Father. It is most essential to explain the secrets of the two fathers. You also have to explain the secrets of Ravan. It is now the kingdom of Ravan. This is the impure kingdom. This is why they call out to the Purifier Father. He is the imperishable Father. You definitely have to prove the two fathers. Soulstoo have the Father, so this is why you remember the, Supreme Father, the Supreme Soul from beyond. In every birth, you receive different physical parents but, nevertheless, you definitely remember that spiritual Father. He never changes. The Father also says: You truly used to remember Me and say: O Supreme Father, Supreme Soul! For how long do you have to remember the Father and when do you meet the Father? You have now understood this. When it is the end of devotion, the Father has to come and give the devotees the fruit of their devotion. The Father has explained: I give all the devotees liberation and liberation-in-life. You know that there is just the one religion in the golden age. That is called oneness. They say that all should unite and become one. However, all religions cannot become one. When there is one kingdom, there is purity, happiness and peace. There definitely was the kingdom of Rama in Bharat. It is now the kingdom of Ravan. This is why they continue to burn Ravan. When you explain the secrets of the two fathers, they will quickly understand. There is definitely the imperishable Father. It is only the Father who creates the new world. In the new world, there truly were just the deities, and then that world changed from new to old. You know how many births you take in the new world and how many births you take in the old world. It isn’t half of 84 births, that you take 42 births in the old world and 42 births in the new world; no. The lifespan of the people of Bharat is at first 150 years, then 125 years and it is now hardly 40 to 50 years. It cannot be half and half; there has to be the accurate calculation of 84 births. The Father says: Your cycle of 84 births has now ended. You did not know this. I explain it to you. No one except the Supreme Father, the Supreme Soul can explain the secrets of 84 births to you. You listen to the Father and become happy and you then make effort for the new world. You children have to prove and tell others that you are now claiming your unlimited inheritance from the unlimited Father from beyond. That Father only comes when He has to establish heaven. He is called Heavenly God, the Father. When a new home has been constructed, the old one is demolished. It is written that there is establishment and then destruction. When establishment has taken place, destruction will take place. It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who carries out establishment through Brahma. Baba has also explained that the resident of the subtle region cannot be called Prajapita (the Father of Humanity). There are no people there, and so surely Prajapita Brahma has to exist here. He will then become angelic and complete. That one (in the subtle region) is Angelic. The physical is also definitely needed so that he can become angelic. Both are now visible. Prajapita Brahma is here and also in the subtle region. Prajapita is needed here. The children of Prajapita are also definitely here. You have to explain the significance of the two fathers at the exhibition. It is the system that it has to be explained to each one individually. How can you explain to everyone there? Solitude is needed to explain to them. There is a lot of chaos there. Here, it takes you an hour to an hour and a half to explain. It would be very difficult to explain to such a crowd. There are those of all types of religion. Some would say one thing and others would say something else. They would not just sit quietly. You explain that that one is a worldly, physical father and that the other is the, spiritual Father from beyond. He is the Supreme Father, the Supreme Soul. He is now establishing heaven through Brahma. Destruction of hell is also just ahead. There is to be the great war. Truly, this is Raja Yoga and also the Gita Pathshala where you attain the kingdom. God speaks: Everyone has two fathers. Krishna would not be called the Father of all souls. The Father of souls, the Supreme Father, the Supreme Soul, says: Constantly remember Me alone. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain a constantly ignited light by pouring the oil of knowledge into yourself. Stay in remembrance of the Father and remove the omens of Rahu.
  2. Give everyone the recognition of the two fathers, the spiritual and the physical, and enable them to claim a right to the unlimited inheritance.
Blessing: May you be constantly powerful and experience the form of being essence-full, yogyukt and yuktiyukt by remaining stable in the point form.
Instead of going on the crooked path of a question mark, apply a full stop to every situation. Stabilise yourself in the point form and you will experience the essence-full, yogyukt and yuktiyukt form. Your awareness, words and deeds will all become powerful. If you go into expansion without first becoming a point, you would then waste your time and powers in wasteful words and deeds of “Why?” and “What?” because you would have to come out of that jungle. Therefore, remain stable in the point form and make sure all your physical senses work according to your orders.
Slogan: Keep the diamond key of the word “Baba” with you and you will continue to experience all treasures.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 September 2018

To Read Murli 6 September 2018 :- Click Here
07-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – अभी तुम्हारी ज्योति जगी है, ज्योति जगना अर्थात् बृहस्पति की दशा बैठना, बृहस्पति की दशा बैठने से तुम विश्व के मालिक बन जाते हो”
प्रश्नः- सतयुग में हर घर की विशेषता क्या होगी, कलियुग में हर घर क्या बन गये हैं?
उत्तर:- सतयुग में हर घर में खुशियां होंगी। सबकी ज्योति जगी हुई होगी। कलियुग में तो घर-घर में ग़मी, चिंता है। हर घर में अंधियारा है। आत्मा की ज्योति उझाई हुई है। बाप आये हैं अपनी ज्योति से सबकी ज्योति जगाने, जिससे फिर घर-घर में दीवाली होगी।
गीत:- माता ओ माता……. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने माँ की महिमा सुनी। यूं वास्तव में उपमा तो एक की ही होती है। माँ को भी जगत अम्बा बनाने वाला, जन्म देने वाला फिर भी कोई और है। ऐसी माँ को भी जन्म किसने दिया? कहेंगे पतित-पावन परमपिता परमात्मा शिव ने दिया। फिर भी महिमा हो जाती है एक ही ज्ञान सागर, पतित-पावन परमपिता परमात्मा शिवबाबा की। वह बैठ बच्चों को अपना और अपनी रचना के आदि-मध्य-अन्त का और पतितों को पावन बनाने का राज़ समझाते हैं। यह तो बच्चे समझ गये हैं इस समय पतित राज्य है, जिसको रावण राज्य कहा जाता है। अभी दशहरा आता है ना। यह तो समझाया गया है – यह सब अन्धश्रधा के उत्सव हैं। ऐसे तो कोई है नहीं कि एक रावण था, लंका थी। लंका सीलॉन को कहा जाता है। दिखाते हैं वहाँ सागर पर बन्दरों ने पुल बनाई….. । वास्तव में यह सब हैं दन्त कथायें। ऐसे तो है नहीं कि 10 शीश वाला कोई रावण था, लंका में राज्य करता था। फिर तो उनकी एफीजी लंका में ही जलानी चाहिए। रावण को जलाने का भारत में ही रिवाज है और कोई जगह नहीं जलाते। अ़खबार में भी यहाँ के लिए ही पड़ता है। सबसे जास्ती उत्सव मैसूर का महाराजा मनाते हैं। उनका शायद इस दन्त कथा से प्रेम दिखाई पड़ता है। अब इस पर समझाना तुम बच्चों का काम है। एफीजी तो दुश्मन का बनाकर जलाया जाता है। जैसे आगे हिटलर का एफीजी बनाकर जलाते थे। दुश्मन तो बहुतों के होते हैं। अब रावण किसका दुश्मन था? भारतवासियों का दुश्मन था। परन्तु दुश्मन को भी एक बार जलाया जाता है। ऐसे तो कोई भी नहीं करते जो हर वर्ष दुश्मन का एफीजी (बुत) बनाकर जलाते। दुश्मन का एफीजी तो बनाते हैं परन्तु वर्ष-वर्ष तो नहीं जलाते। यह रावण फिर कौन है जिसका भारत में बहुत समय से 10 शीश वाला एफीजी बनाकर जलाते रहते हैं? यह दुश्मन कब से हुआ है जो मरता ही नहीं? आखरीन ख़त्म होगा या सदैव रहेगा ही? तुम बच्चे जानते हो भारत ही पवित्र था फिर भारत को ही रावण ने अपवित्र बनाया है। अभी रावण राज्य है। अगर लंका का राजा था तो रानी भी होगी। तुम तो यह बातें मानेंगे नहीं। रावण अभी तक जीता है वा क्या, कुछ भी समझते नहीं। जीता है फिर उनकी एफीजी बनाकर जलाते रहते। एक बार जलाया फिर क्या हुआ? हर वर्ष जलाते रहते हैं तो तुम बच्चों को समझाना चाहिए। कमेटी के बड़े जो बनते हैं जैसे मैसूर का महाराजा है, वह बहुत मनाते हैं। फारेनर्स को भी देखने के लिए बुलाते हैं। समझेंगे शायद ऐसा हुआ होगा। परन्तु ऐसा तो कभी हुआ नहीं है। नाटक बना देते हैं। रावण का भी नाटक बनाते हैं। तो इस रावण की बात पर समझाना है। बड़ी जबरदस्त बात है। अभी तुम रावण राज्य में बैठे हो। पतित दुनिया को ही रावण राज्य कहा जाता है। अभी राम राज्य और रावण राज्य का राज़ तुमको समझाया गया है। रावण 5 विकारों को कहा जाता है और कोई नहीं है।

तुम समझ गये हो रावण का राज्य अभी भारत में है। भारत में ही दशहरा, दीपमाला आदि मनाते हैं। तो समझाना पड़े। अगर रावण जीता है तो रावण राज्य ठहरा ना। रावण है पतित बनाने वाला। तुम जानते हो 5 विकार जो कि इस समय सर्वव्यापी हैं, उनको ही रावण कहा जाता है। रावण के चित्र तो आगे दशहरे में निकले थे, इसमें तिथि-तारीख भी डालनी पड़े। इस समय पतित का विनाश और पावन की स्थापना होती है। तुम पतित से पावन बन रहे हो, पावन बन जायेंगे फिर रावण सम्प्रदाय को आग लगेगी। रावण ख़त्म हो जायेगा फिर सतयुग में कोई एफीज़ी नहीं बनानी पड़ेगी। सब पावन बन जायेंगे। आत्मा में सतोप्रधानता की जब ताकत थी तो जागती ज्योत थी। पतित बनने से वह ज्योत उझा गई है। आत्मा ही पतित बनी है, उड़ने की ताकत नहीं है। 5 विकारों से आत्मा आइरन एजड बन गई है। यह जरूर समझाना है। आत्मा को जागृत करने वाला एक बाप है। यह तो सब कहते हैं ज्योति स्वरूप परमपिता परमात्मा आयेगा। अब ज्योति स्वरूप तो तुम आत्मा भी हो, परमपिता परमात्मा भी ज्योति स्वरूप है। तुम्हारी आत्मा की ज्योति बुझ गई है। बाकी जाकर जरा सी रही है। मनुष्य मरते हैं तो रात-दिन उनका दीवा जलाते हैं। दीवे की बहुत सम्भाल करते हैं। घृत ख़त्म हो जाता है फिर और डालते हैं। आत्माओं का भी ऐसे है। बाप आकर सबकी ज्ञान से ज्योति जगाते हैं। ज्योति जगी हुई कितना समय चलती है? वह तो रात को जलाते हैं फिर घृत डालते जाते हैं। तुम्हारी अब ज्योति जग रही है। जगते-जगते फिर जग ही जायेगी। ज्योति बुझने में 5 हजार वर्ष लगता है फिर बाप आकर घृत डालते हैं। तुम्हारी अब ज्योति जगी है फिर धीरे-धीरे कला कम होती जायेगी। ज्योति उझाई जायेगी। तुम जानते हो अभी हमारी ज्योति जगती है फिर सतयुग में घर-घर में सोझरा होगा। भारत की ही बात है। अभी तो घर-घर में अन्धियारा है। खुशी है नहीं। तुम जानते हो सतयुग-त्रेता में हम बहुत खुश थे और खुशी मनाते थे। सभी की ज्योति जगी हुई रहती है फिर थोड़ी-थोड़ी कमती होती जाती है। इस समय तो बिल्कुल उझाई हुई है। खाद पड़ी हुई है। बाप आकर फिर ज्ञान का घृत डालते हैं जिससे तुम फिर जागती ज्योत बन जाते हो। तुम्हारे ज्ञान चक्षु खुल जाते हैं।

तुम जानते हो अभी हमारी सारी काया ख़लास हो गई है, राहू का ग्रहण लग गया है। तुमको काला होने में कितना समय लगता है? शुरू से लेकर थोड़ा-थोड़ा होते फिर माया का प्रवेश होने से ही बहुत काले बन जाते हो। अभी तुम्हारे ऊपर राहू की दशा है। सबसे कड़ी है राहू की दशा। अभी फिर बृहस्पति की दशा बैठती है क्योंकि अभी विश्व का मालिक बनने के लिए तुम वृक्षपति गुरू द्वारा पुरुषार्थ कर रहे हो। वह है अविनाशी गुरू। किसका? अविनाशी आत्माओं का। वह मनुष्य लोग आत्माओं का गुरू नहीं बनते हैं। वह मनुष्य का गुरू बनते हैं। अभी बाप तुम्हारी आत्माओं का गुरू आकर बने हैं। वृक्षपति परमपिता परमात्मा है। तुम समझते हो अब हमारे ऊपर बृहस्पति की दशा है। स्वर्ग के मालिक तो बनेंगे। अविनाशी सुख रहता है, परन्तु उसके लिए पुरुषार्थ अब करना है कि हम सुखधाम के महाराजा-महारानी बनें। पुरुषार्थ तो हर एक का अपना चलता है। यह है रुद्र शिव की पाठशाला। वह है ज्ञान सागर। तुम उनकी पाठशाला में पढ़ रहे हो। भगवानुवाच – मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। अविनाशी आत्माओं का अविनाशी बाप मैं हूँ। एक है जिस्मानी बाप, एक है रूहानी बाप। दोनों कान्ट्रास्ट भी बताना है। रूहानी बाप कब मिलते हैं, जिसको भक्ति मार्ग में सभी रूहें याद करती हैं। जिस्मानी बाप तो है विनाशी। आत्मायें तो विनाशी नहीं होती हैं। तुम जानते हो हमारा जो लौकिक बाप है वह तो जन्म बाई जन्म हम बदलते आये। बाप बिगर तो बच्चे का जन्म हो नहीं सकता। तुम बच्चों को अब विशालबुद्धि मिली है। तुम समझ सकते हो कि कब से हम दो बाप वाले बनते हैं। सतयुग में तो एक ही लौकिक बाप होता है उनको ही याद करते हैं। आत्माओं को उस रूहानी बाप को याद करने की दरकार नहीं रहती। आत्माओं को सतयुग में तो एक ही लौकिक बाप होता है। वहाँ शरीर भी गोरा मिलता है, प्रालब्ध भोगते हैं ना इसलिए वहाँ बाप को याद नहीं करते। तो तुमको यह समझाना है। भक्ति मार्ग में एक है विनाशी लौकिक बाप, वह तो हर जन्म में दूसरा मिलता है। तुम आत्मा तो अविनाशी हो, अविनाशी बाप को याद करती हो। कहते भी हैं परमपिता परमधाम में रहने वाले पिता। लौकिक पिता को कभी परमपिता नहीं कहेंगे। यह दो बाप का राज़ समझाना बहुत जरूरी है। रावण का राज़ भी समझाना है। रावण राज्य अर्थात् पतित राज्य अभी है इसलिए पतित-पावन बाप को बुला रहे हैं। वह अविनाशी बाप है। दो बाप जरूर सिद्ध करने हैं। आत्माओं का भी बाप है इसलिए पारलौकिक परमपिता परमात्मा को याद करते हैं। हर जन्म में लौकिक बाप और और मिलता है फिर भी उस रूहानी बाप को जरूर याद करते हैं। वह कभी बदलता नहीं। बाप भी कहते हैं बरोबर तुम मुझे याद करते थे – हे परमपिता परमात्मा। कब तक तुमको याद करना है, फिर बाप कब मिलता है? यह तुम अभी जान गये हो। जब भक्ति का अन्त होता है तब भक्तों को फल देने बाप आते हैं। बाप ने समझाया है – सभी भक्तों को मुक्ति-जीवनमुक्ति देता हूँ। तुम जानते हो सतयुग में एक ही धर्म होता है, उसको वननेस कहेंगे। कहते हैं सभी मिलकर एक हो जाएं। परन्तु सभी धर्म तो एक हो नहीं सकते। जब एक राज्य हो जाता है तो पवित्रता, सुख, शान्ति रहती है। भारत में रामराज्य था जरूर। अभी यह रावण राज्य है, इसलिए रावण को जलाते रहते हैं। तो दो बाप का राज़ समझाने से झट समझ जायेंगे। अविनाशी बाप तो जरूर है, नई दुनिया रचने वाला बाप ही है। नई दुनिया में बरोबर देवी-देवतायें ही थे फिर वही दुनिया नई से पुरानी होती है। नई दुनिया में कितने जन्म लेते, पुरानी दुनिया में कितने जन्म लेते यह तुम जानते हो। ऐसे भी नहीं कि 84 जन्मों के आधा होने चाहिए, 42 जन्म पुरानी दुनिया में, 42 जन्म नई दुनिया में। नहीं। भारतवासियों की आयु पहले 100 वर्ष, 125 वर्ष थी, अभी तो 40-50 वर्ष भी मुश्किल चलती है। तो आधा-आधा हो न सके। 84 जन्मों का हिसाब तो चाहिए ना। बाप कहते हैं तुम्हारा 84 जन्मों का चक्र अब पूरा हुआ। तुम नहीं जानते हो, हम समझाते हैं, 84 जन्मों का राज़ सिवाए परमपिता परमात्मा के और कोई समझा न सके। तुम बाप से सुनकर खुश होते हो और फिर नई दुनिया के लिए पुरुषार्थ करते हो।

अब यह बच्चों को सिद्ध कर बताना है कि हम अभी बेहद के पारलौकिक बाप से बेहद का वर्सा ले रहे हैं। वह बाप आते ही तब हैं जब स्वर्ग की स्थापना करते हैं। उनको कहा ही जाता है हेविनली गॉड फादर। जब नये घर की स्थापना होती है तब पुराने घर को तोड़ा जाता है। लिखा हुआ भी है स्थापना फिर विनाश। स्थापना जब पूरी हो जायेगी तब विनाश होगा। स्थापना करने वाला है परमपिता परमात्मा, इस ब्रह्मा द्वारा। यह भी बाबा ने समझाया है सूक्ष्मवतनवासी को तो प्रजापिता नहीं कहेंगे। वहाँ प्रजा होती नहीं, तो जरूर प्रजापिता ब्रह्मा यहाँ होगा। वही फिर अव्यक्त सम्पूर्ण बनेगा। वह तो है अव्यक्त, जरूर व्यक्त भी चाहिए जो फिर अव्यक्त होना है। दोनों अभी दिखाई पड़ते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा यहाँ भी है, सूक्ष्मवतन में भी है। प्रजापिता तो यहाँ चाहिए, जरूर प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे भी यहाँ ही हैं। प्रदर्शनी में दो बाप का राज़ समझाना है। कायदा तो है एक-एक को अलग-अलग समझाया जाता है। अब वहाँ किसको कैसे समझायेंगे? समझाने के लिए तो एकान्त चाहिए। वहाँ तो बहुत हंगामा होता है। यहाँ तो तुमको एक डेढ घण्टा लग जाता है समझाने में। वहाँ इतनी भीड़ में तो समझाना बड़ा मुश्किल हो जायेगा। अनेक प्रकार के धर्म वाले हैं। कोई क्या कहेंगे, कोई क्या। चुपकर तो बैठेंगे नहीं। तुम सुनायेंगे एक लौकिक जिस्मानी बाप है, दूसरा पारलौकिक रूहानी बाप है। वह है परमपिता परमात्मा। अब ब्रह्मा द्वारा स्थापना कर रहे हैं स्वर्ग की। नर्क का विनाश भी सामने खड़ा है। महाभारी लड़ाई है ना। बरोबर यह राजयोग भी है, राजाई प्राप्त करने की गीता पाठशाला है। भगवानुवाच – सभी को दो बाप हैं। कृष्ण को सभी आत्माओं का बाप नहीं कहेंगे। आत्माओं का बाप परमपिता परमात्मा कहते हैं कि मामेकम् याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वयं में ज्ञान का घृत डालते सदा जागती ज्योत रहना है। बाप की याद में रह राहू का ग्रहण उतार देना है।

2) रूहानी और जिस्मानी दो बाप हैं, यह पहचान हर एक को देकर बेहद के वर्से का अधिकारी बनाना है।

वरदान:- बिन्दू रूप में स्थित रह सारयुक्त, योगयुक्त, युक्तियुक्त स्वरूप का अनुभव करने वाले सदा समर्थ भव
क्वेश्चन मार्क के टेढ़े रास्ते पर जाने के बजाए हर बात में बिन्दी लगाओ। बिन्दू रूप में स्थित हो जाओ तो सारयुक्त, योगयुक्त, युक्तियुक्त स्वरूप का अनुभव करेंगे। स्मृति, बोल और कर्म सब समर्थ हो जायेंगे। बिना बिन्दू बने विस्तार में गये तो क्यों, क्या के व्यर्थ बोल और कर्म में समय और शक्तियां व्यर्थ गवां देंगे क्योंकि जंगल से निकलना पड़ेगा इसलिए बिन्दू रूप में स्थित रह सर्व कर्मेन्द्रियों को आर्डर प्रमाण चलाओ।
स्लोगन:- ”बाबा” शब्द की डायमण्ड चाबी साथ रहे तो सर्व खजानों की अनुभूति होती रहेगी।

TODAY MURLI 7 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 6 September 2017 :- Click Here

07/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this life of yours is your most valuable one. In this birth you have to become diamonds from shells. Therefore, remember the Father as much as possible.
Question: By not being cautious about which one aspect does your register become spoilt?
Answer: If you cause anyone sorrow, your register then is spoilt. You have to be very cautious about this aspect. To cause sorrow for others means to cause sorrow for oneself. The Father doesn’t cause anyone sorrow; you children have to become equal to the Father. In order to claim your fortune of a kingdom for 21 births, firstly become pure and secondly don’t cause anyone sorrow through your thoughts, words or deeds. While living at home with your family, remain very sweet in your interaction with everyone.
Song: My fortune having awakened I have come.

Om shanti. You souls know what fortune you have made for yourselves and come here. We are now making our fortune for the new world. You also know that those people are in a physical war whereas you Brahmins are in a spiritual war. You are at war in order to conquer Ravan and become the masters of the new world. At this time, the Father personally sits in front of you and explains to you and so you enjoy it. However, as soon as you go outside, you forget such good points ; you wilt. The Father is the One who gives you shrimat. He is the One who gives you the sovereignty of the new world. The self, that is, the soul, says: Previously I had a ‘donkeyship’ and I am now receiving the kingdom. Why is that called a ‘donkeyship’? The example of a donkey is given because when a laundryman decorates his donkey and places a bundle of laundry on it, the donkey begins to roll in the dust. So, the Father has come here in order to give you self-sovereignty. He decorates you. However, while moving along, you children fall into the dust of Maya and spoil all your decoration. You children understand for yourselves that Baba is decorating you very well, but Maya is so powerful that she makes you roll in the dust and spoil your decoration. The worst dust is that of the vices. Your war is especially with the vices. The Father says: Lust is the greatest enemy. No one knows how it became your enemy. The Father gave us the sovereignty and we then lost it. The Father has now come and is showing us methods to conquer the vices. In fact, your war is with the great enemy of lust. The Father now says: From being lustful (kaami), become one who is selfless (niskaami – free from desires). To be selfless means to have no desires. Those who have no vices are said to be selfless. The Father enables you to conquer the vice of lust. No one knows when Ravan’s kingdom began. In the Jagannath Temple they have placed very dirty idols of the deities. This proves that when the deities went on to the path of sin, human beings became lustful. You are now changing from lustful human beings into deities who are free from lust. Your war is unique. Baba inspires you to have disinterest in the dirty world. This is the river of poison. This life of yours is most valuable. You have to become like diamonds from shells in this life. It is all a matter of the intellect. You have to stay in remembrance of Baba. Nowadays, they have made so many bombs for death. It is not the fault of human beings. Earlier, battles always took place outside the city on a battlefield, and they would then enter the city after gaining victory. Nowadays, they just drop bombs wherever they want. When you children go or come from anywhere, you have to stay in remembrance of the Father and remind others to stay in remembrance too. Your brancheswill continue to open. Only you children understand what it is that you have to donate. The highest of all donations is the donation of the imperishable jewels of knowledge. You can open this hospital in every home. You don’t have medicine etc. in your hospital. You simply have to give the Father’s introduction: While sitting, walking and moving around, continue to remember the Father. It isn’t that you just have to sit in one place. It is just that when someone doesn’t sit in remembrance, he is made to sit in a gathering so that he receives power from the gathering. Good company takes you across and bad company drowns you. As soon as you go outside, you forget. The Father has explained: Wake up early in the morning and remember the Father. Keep your chart of remembrance. The ancient yoga of Bharat is very well known. There are yoga ashrams in many places. All of those people teach hatha yoga, but there is no benefit in that. That is called hatha yoga. Human beings cannot teach human beings Raja Yoga. People go abroad to teach the ancient yoga of Bharat, but all of that is deception. The most elevated renunciation is yours: you renounce the old world. The Father alone comes and teaches you this. The Father says: Remove the old world from your intellect. You have to live at home with your family and remain pure. Renounce the five vices; you receive a method for this. How can all the sins of the many births and also of this birth be absolved? How can you atone for them? The Father says: I explain to you children every cycle. Remember the Father and also spin the discus. Your discus of self-realisation continues to spin. All of your sins are absolved when you spin this discus. There is so much praise of the discus of self-realisation. They have portrayed Shri Krishna killing many using his discus. All of those things are tall stories. The meaning of this is explained to you children. The Father explains to you children: Firstly, don’t cause anyone sorrow. Baba never causes anyone sorrow and so you children also have to become the same. To cause sorrow for others means to cause sorrow for yourself. When you cause sorrow for someone, it means you are spoiling your own register. You have to be very cautious about this. Don’t perform any sinful actions through which your register would be spoilt. Children write: Baba, today, I made this mistake. I became angry with someone. Today, I fell down. Baba, I have attachment to this one. Baba receives many reports. Then Baba explains to them. You made a promise: When You come, I will connect my intellect’s yoga to You alone. I will become a conqueror of attachment. Sannyasis renounce everything and go away. They have no attainment. You have a lot of attainment. This is why you must become complete conquerors of attachment. Love only the one Father! Remember Him alone! There are many who shed tears out of love for Baba: Why am I far away from such a Father? I just want to cling to Shiv Baba. Here, the attainment is very great. So many people outside go to spiritual gatherings. They have no attainment there. They never explain to others that lust is the greatest enemy. Human beings cannot teach human beings Raja Yoga. Yes, some become kings for temporary happiness. If someone has donated a lot to the poor and performed a lot of charity, he takes birth to a king. Here, you receive your fortune of a kingdom for 21 births. The Father says: Firstly, become pure and, secondly, don’t cause anyone sorrow through your thoughts, words or deeds. Otherwise you will be instrumental in receiving punishment, because Dharamraj, who is Baba’s right hand, is also sitting here. Your register will be spoilt. You will be instrumental in receiving a lot of punishment. Whether you say something through your mouth or perform a bad action through your physical senses, that would be an action. The Father explains: Don’t put any of that into action. Let storms come, but you have to become very sweet. You mustn’t become angry with someone who is angry; you just have to smile. When, people are angry, they insult others. You would then understand that that person is influenced by the evil spirit of anger. You have to explain with knowledge. While living at home with your family, your interaction has to be very sweet. They say of many people: Previously, this one had a lot of anger and he has now become very sweet. They praise him. Some become upset because of purity and think: How would the world continue without vice? Oh! But sannyasis don’t indulge in vice, so why don’t you say anything about them? It is good to become pure. Here, you are not even told to leave your home and family. You have to be very sweet with everyone. Remember the one Father. He is the Creator and we are the creation. You receive the inheritance from the Father. Brothers cannot receive an inheritance from brothers. People sing: We are all brothers. So there must surely also be the Father. Could there be brothers without a father? Look how you have now become brothers and sisters. You receive an inheritance from the Grandfather. You are the mouth-born creation. Prajapita has been remembered. There are so many people and so they must surely be adopted ; they couldn’t be a physical creation. You Brahmins then become deities. You do this somersault and the cycle continues to turn. This is called the new creation. The fortune of you children is now becoming very good. You have come here to change from an ordinary man into Narayan. This is your aim and objective. You are becoming Lakshmi and Narayan. The pictures are in front of you. So, why then do people say that they will only believe this if they have a vision? If your father were to die, you would still have a picture of him. You wouldn’t say that only if that father were to become alive again or you had a vision of him would you accept him. If you want to see your father, then do intense devotion and Baba will grant you a vision. However, what will happen through visions? Here, you have visions that you will become deities and princes and princesses. Therefore, these things have to be understood. You must just have this concern. You know that the kingdom is not yet established. The war cannot take place yet. You haven’t yet reached your karmateet stage. You will see that spiritual hospitals and colleges will continue to open in every street. Baba will continue to open the locks on your intellects. The number of Brahmins will continue to increase. It is Brahmins who then have to become deities. You will continue to receive strength. Now, when you give lectures, one or two people emerge. Later, 50 to 100 people will emerge and they will begin to make effort. This has to happen. You also have to live at home with your family. You don’t have to renounce it. Some are thrown out of their home. However, you have to be a very good conqueror of attachment about that. This is why it is after great consideration that the Father gives you refuge. Otherwise, some come here and then cause trouble. You children have to become very sweet. Your knowledge is incognito. You are given a mantra in your ear. You also tell others: Remember Shiv Baba. As you make further progress, as soon as you say something it will strike their intellects and they will quickly begin to make effort. The tree will continue to grow slowly. You children have to make a lot of effort. You have to become sticks for the blind. You become this, numberwise; not everyone is the same. Yes, in the golden age, everyone will be pure; there is no name or trace of sorrow there. Deepmala (Festival of Lights) takes place in the golden age. Dashera (burning of Ravan) takes place at the confluence age. There, it is constantly Diwali. The meaning of Diwali is that the lights of all souls are ignited. It isn’t that anyone celebrates Deepawali in the golden age or that they ignite lamps. No, there, they simply celebrate in happiness when the coronation takes place. These are things of knowledge. Each soul there is pure and clean. Everyone there is pure. You have now been enlightened. Just as Baba has knowledge, similarly, you children also have knowledge. However, everyone there is pure anyway. So, there is nothing but happiness. So the Father explains: You children mustn’t be afraid. Your war is completely different. Your war is with the old enemy Ravan. You conquer Maya and then become conquerors of the world. The Father is making you into the masters of the world. No one can become a master of the world through physical power. There is very little time remaining; destruction is just ahead. We are studying Raja Yoga in an incognito way as we did in the previous cycle. This study is so incognito that no one knows about it. Those who claimed their fortune of the kingdom in the previous cycle will claim it now. They are the ones who will continue to make effort. The more you continue to conquer Ravan, the more power you will receive through remembrance. You children shouldn’t waste your time. Baba says: Children, while doing servi ce, don’t become tired. Only a handful out of multimillions emerge. Even then, when Maya slaps them, they fail. Maya is an almighty authority and Baba too is the Almighty Authority. Maya also wins for half the cycle. Therefore, remember the Father and continue to take shrimat from Him. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have true love for the one Father and finish your attachment for everyone else. Don’t perform any sinful actions through your mouth or physical senses. Always keep your register good.
  2. Never become tired of service. Don’t waste your time. Open a spiritual hospital in every home and give everyone the medicine of remembrance.
Blessing: : May you finish your burden of sin with your subtle checking and become equal and complete.
If you see or hear of anything false or wasteful and spread that into the atmosphere instead of merging it in your heart, then this spreading of something wasteful is also a trace of sin. Those trivial sins finish your experience of the flying stage. Those who listen to such news accumulate sin and those who speak such news accumulate even greater sin. So, with your subtle checking, finish the burden of such sins and you will then be able to become equal and full, the same as the Father.
Slogan: Merge (finish) giving excuses and the attitude of unlimited disinterest will emerge.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 2 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 6 September 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 07/09/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
07/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारी यह लाइफ मोस्ट वैल्युबुल है, तुम्हें इस जन्म में कौड़ी से हीरे जैसा बनना है, इसलिए जितना हो सके बाप को याद करो”
प्रश्नः- किस एक बात में खबरदार न रहने से सारा रजिस्टर खराब हो जाता है?
उत्तर:- अगर किसी को भी दु:ख दिया तो दु:ख देने से रजिस्टर खराब हो जाता है। इस बात में बड़ी खबरदारी चाहिए। दूसरे को भी दु:ख देना माना स्वयं को दु:खी करना। जब बाप कभी किसी को दु:ख नहीं देते तो बच्चों को बाप समान बनना है। 21 जन्मों का राज्य भाग्य लेने के लिए एक तो पवित्र बनो, दूसरा, मन्सा-वाचा-कर्मणा किसी को भी दु:ख न दो। गृहस्थ व्यवहार में बहुत मीठा व्यवहार करो।।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ…

ओम् शान्ति। तुम जानते हो कि हम आत्मायें अपनी क्या तकदीर बनाकर आये हैं। अभी फिर नई दुनिया के लिए हम तकदीर बना रहे हैं। यह भी जानते हो वह हैं जिस्मानी लड़ाई पर, तुम ब्राह्मण हो रूहानी लड़ाई पर। नई दुनिया का मालिक बनने के लिए, रावण पर विजय पाने के लिए तुम लड़ाई पर हो, बाप इस समय सम्मुख बैठकर समझाते हैं तो ठीक लगता है, बाहर निकलने से कितनी अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स भूल जाते हैं। तुम मुरझा जाते हो। बाप है श्रीमत देने वाला। नई दुनिया का स्वराज्य देने वाला। स्व अर्थात् आत्मा कहती है पहले मुझे गदाई थी, अब राजाई मिलती है। उनको गदाई क्यों कहते हैं? गधे का मिसाल देते हैं क्योंकि गधे को श्रृंगार कर धोबी लोग कपड़े की गठरी रखते हैं, गधे ने मिट्टी देखी तो मिट्टी में लथेड़ी लगाने लगते हैं, (लेट जाते हैं)। तो यहाँ भी बाप आये हैं, बच्चों को स्वराज्य देने। श्रृंगार करते हैं। चलते-चलते बच्चे फिर माया की धूल में पड़कर श्रृंगार सारा खलास कर देते हैं। बच्चे खुद भी समझते हैं कि बाबा हमको श्रृंगारते बहुत अच्छा हैं। फिर माया ऐसी प्रबल है जो हम लथेड़ कर श्रृंगार खराब कर देते हैं। सबसे बड़ी धूल है विकार की। तुम्हारी लड़ाई है ही खास विकारों से। बाप कहते हैं काम विकार महाशत्रु है। कैसे शत्रु बना, यह कोई भी नहीं जानता। बाप ने हमको स्वराज्य दिया था, अब गंवाया है। फिर बाप आकर विकारों पर जीत पाने की युक्तियाँ बताते हैं। वास्तव में तुम्हारी लड़ाई काम महाशत्रु से है। अब बाप कहते हैं कि कामी से निष्कामी बनो। निष्कामी अर्थात् कोई भी कामना नहीं, जिसमें कोई विकार नहीं उसको निष्कामी कहेंगे। बाप काम पर जीत पहनाते हैं। कोई को पता नहीं कि रावण राज्य कब से शुरू हुआ। जगन्नाथ के मन्दिर में देवताओं के बड़े गन्दे चित्र लगे हैं, इससे सिद्ध होता है देवताओं के वाम मार्ग में जाने से मनुष्य कामी बन जाते हैं। अभी तुम कामी मनुष्य से निष्कामी देवता बन रहे हो। तुम्हारी युद्ध न्यारी है। बाबा छी-छी दुनिया से वैराग्य दिलाते हैं। यह है विषय वैतरणी नदी।

तुम्हारी यह लाइफ मोस्ट वैल्युबुल है, इसमें कौड़ी से हीरे जैसा बनना है। है सारी बुद्धि की बात। तुम्हें बाबा की याद में रहना है। आजकल तो मौत के लिए अनेक बाम्ब्स बनाये हैं। मनुष्यों ने तो कोई गुनाह नहीं किया है। आगे तो लड़ाई हमेशा शहर से बाहर मैदान में होती थी फिर विजय पाकर शहर के अन्दर आते थे। आजकल तो जहाँ देखो वहाँ बाम्ब्स ठोक देते हैं। बच्चों को कहाँ भी आना-जाना है तो बाप की याद में रहकर औरों को याद कराना है। तुम्हारी तो ब्रान्चेज खुलती ही रहेंगी। दान क्या करना चाहिए, सो भी तुम बच्चे ही समझते हो। उत्तम से उत्तम दान है अविनाशी ज्ञान रत्नों का। घर-घर में तुम यह हॉस्पिटल खोल दो। तुम्हारे हॉस्पिटल में दवाई आदि कुछ भी नहीं है, सिर्फ बाप का परिचय देना है कि उठते-बैठते बाप को याद करो। ऐसे नहीं कि एक जगह बैठ जाना है। यह तो जब कोई याद नहीं करते हैं तो संगठन में बिठाया जाता है, संगठन में बल मिलेगा। संग तारे कुसंग बोरे। बाहर जाने से फिर भूल जाते हैं। बाप ने समझाया है, सवेरे उठ बाप को याद करो, याद का चार्ट रखो। भारत का प्राचीन योग मशहूर है। बहुत जगह योग आश्रम हैं। वह सब हठयोग सिखाते हैं, उनसे कोई फायदा नहीं है। उसको हठयोग कहा जाता है। राजयोग मनुष्य, मनुष्यों को सिखला न सकें। विलायत में जाते हैं भारत का प्राचीन योग सिखाने। परन्तु वह सब है ठगी। सर्वोत्तम सन्यास तो तुम्हारा है। तुम पुरानी दुनिया का सन्यास करते हो। यह बाप ही आकर सिखलाते हैं। बाप कहते हैं बुद्धि से पुरानी दुनिया का सन्यास करो। तुमको गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र रहना है। 5 विकारों का सन्यास करना है, फिर युक्ति मिलती है। अनेक जन्मों का सिर पर जो पाप है वा इस जन्म में जो पाप किये हैं वह कैसे छूटें? उसका प्रायश्चित कैसे हो? बाप कहते हैं कल्प-कल्प तुम बच्चों को मैं समझाता हूँ – बाप को याद करना है और चक्र भी घुमाना है। तुम्हारा स्वदर्शन चक्र फिरता रहता है। इस चक्र से तुम्हारे सब पाप नाश हो जाते हैं। स्वदर्शन चक्र की कितनी महिमा है। उन्होंने फिर दिखाया है श्रीकृष्ण ने स्वदर्शन चक्र चलाया, कितने मर गये। वह तो हैं सब दन्त कथायें। तुम बच्चों को अर्थ समझाया जाता है।

बाप बच्चों को समझाते हैं – एक तो कोई को भी दु:ख नहीं देना है। बाबा कभी किसको दु:ख नहीं देते तो तुम बच्चों को भी ऐसा बनना है। दूसरे को दु:ख दिया गोया अपने को दु:ख दिया। किसको दु:ख देते हैं गोया अपना ही खाता खराब करते हैं, इसमें बड़ी खबरदारी चाहिए। ऐसा कोई पाप कर्म नहीं करना है, जिससे रजिस्टर खराब हो। बच्चे लिखते हैं कि बाबा आज हमसे यह भूल हो गई। उस पर क्रोध किया। आज मैं गिर गया। बाबा हमारा इसमें मोह हैं। बहुत रिपोर्ट आती है। फिर उनको समझाया जाता है। तुम्हारा अन्जाम (वायदा) है कि आप जब आयेंगे तो मैं आपके साथ ही बुद्धियोग रखूँगा। नष्टोमोहा बनूंगा। सन्यासी तो छोड़कर चले जाते हैं। प्राप्ति तो कुछ भी नहीं। तुमको तो प्राप्ति बहुत है इसलिए नष्टोमोहा पूरा बनना है। प्यार एक बाप में रखो। उनको ही याद करना है। ऐसे भी बहुत हैं जो बाबा के प्यार में ऑसू बहाते हैं कि ऐसे बाबा से हम दूर क्यों हैं? हम तो बस शिवबाबा से ही लटके रहें। यहाँ प्राप्ति बहुत भारी है। बाहर के सतसंगों में ढेर जाते हैं। प्राप्ति तो कुछ भी नहीं। वह तो ऐसे किसको नहीं समझाते कि काम महाशत्रु है। मनुष्य, मनुष्य को राजयोग सिखला न सकें। हाँ, कोई राजा बनते हैं, अल्पकाल सुख के लिए। बहुत दान-पुण्य गरीबों को करते हैं तो कहाँ राजा के पास जन्म मिल जाता है। यहाँ तो तुमको 21 जन्मों का राज्य भाग्य मिलता है। बाप कहते हैं एक तो पवित्र बनो, दूसरा मन्सा-वाचा-कर्मणा किसको दु:ख नहीं दो। नहीं तो सजा के निमित्त बन पड़ेंगे क्योंकि यहाँ धर्मराज बैठा है, जो बाबा का राइट हैण्ड है। तुम्हारा रजिस्टर खराब हो जायेगा। बहुत सजा के निमित्त बन पड़ेंगे। मुख से बोला, इन्द्रियों से कुछ विकर्म किया तो वह कर्मणा हो जायेगा। बाप समझाते हैं कि कर्मणा में नहीं आओ। तूफान भल आयें परन्तु तुमको बहुत मीठा बनना है। क्रोधी से क्रोध नहीं करना चाहिए। मुस्कराना होता है। क्रोध में मनुष्य गाली देते हैं। समझते हैं इनमें क्रोध का भूत आया हुआ है। ज्ञान से समझाना होता है। गृहस्थ व्यवहार में तुम्हारा व्यवहार बहुत मीठा होना चाहिए। बहुतों के लिए कहते भी हैं कि आगे तो इनमें बहुत क्रोध था, अभी बहुत मीठा बन गया है। महिमा करते हैं। कोई तो पवित्रता पर बिगड़ते हैं कि विकार बिगर सृष्टि कैसे चलेगी। अरे सन्यासी विकार में नहीं जाते हैं फिर उनके लिए तो कुछ कहो। पवित्र बनना तो अच्छा है ना। यहाँ तो घरबार भी नहीं छुड़ाया जाता है। बहुत मीठा बनना है सबसे। एक बाप को याद करना है। वह है रचयिता, हम हैं रचना। वर्सा बाप से मिलता है। भाई-भाई से वर्सा मिल न सके। गाते भी हैं हम सब भाई-भाई हैं। तो जरूर बाप भी होगा ना। ब्रदर्स बाप बिगर होते हैं क्या? अभी देखो तुम कैसे भाई-बहन बनते हो। वर्सा दादे से मिलता है। मुख वंशावली ठहरे। गाया भी जाता है प्रजापिता। इतनी सारी प्रजा है तो जरूर एडाप्टेड होगी। कुख वंशावली हो न सके। तुम ब्राह्मण फिर देवता बनते हो। यह बाजोली तुम खेलते हो, यह चक्र फिरता रहता है, इनको नई रचना कहा जाता है। तुम बच्चों की तकदीर अब अच्छी बन रही है। नर से नारायण बनने आये हो। यह है एम-आब्जेक्ट। लक्ष्मी-नारायण बन रहे हो। चित्र सामने खड़े हैं। फिर यह क्यों कहते हैं कि साक्षात्कार हो तब हम मानें। अरे, तुम्हारा बाप मर जाये तो चित्र तो देखेंगे ना, ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि वह बाप जिंदा हो जाए, बाप का दीदार हो तब मानें। बाप को देखना है तो नौधा भक्ति करो तो बाबा वह साक्षात्कार करा देंगे। परन्तु साक्षात्कार से होगा क्या? यहाँ तो तुमको साक्षात्कार होता है, तुम सो देवी-देवता प्रिन्स प्रिन्सेज बनेंगे। तो यह समझने की बातें हैं। तुमको इस धुन में ही रहना है। तुम तो जानते हो कि अभी राजधानी स्थापन हुई नहीं है। अभी लड़ाई लग ही नहीं सकती। कर्मातीत अवस्था अजुन कहाँ हुई है। अभी तुम देखेंगे कि गली-गली में यह रूहानी हॉस्पिटल कॉलेज खुलते जायेंगे। बाबा बुद्धि का ताला खोलते जायेंगे। ब्राह्मणों की वृद्धि होती जायेगी। ब्राह्मणों को ही फिर देवता बनना है। तुम्हारे में भी ताकत आती जायेगी। अभी भाषण से एक दो निकलते हैं फिर 50-100 निकलेंगे। पुरूषार्थ करने लग पड़ेंगे। होना तो है ना। गृहस्थ व्यवहार में भी रहना है। छोड़ना नहीं है। कोई निकाल भी देते हैं। परन्तु इसमें नष्टोमोहा अच्छा होना चाहिए इसलिए बाप शरण भी बड़ी खबरदारी से देते हैं। नहीं तो फिर यहाँ आकर तंग करते हैं। बच्चों को तो बहुत मीठा बनना है। तुम्हारा ज्ञान है ही गुप्त। कान में मंत्र देते हैं ना। तुम भी किसको कहते हो शिवबाबा को याद करो। आगे चल सिर्फ कहने से ही बुद्धि में ठका हो जायेगा और झट पुरूषार्थ करने लग पड़ेंगे। धीरे-धीरे झाड़ बढ़ेगा। बच्चों को बहुत पुरूषार्थ करना है। अन्धों की लाठी बनना है। नम्बरवार बनते हैं ना। सब एक समान तो नहीं होते हैं। हाँ, सतयुग में सब पवित्र हो जायेंगे। वहाँ दु:ख का नाम नहीं होता। दीपमाला होती है सतयुग में। दशहरा है संगमयुग पर। वहाँ तो सदैव दीवाली है। दीवाली का अर्थ ही है सब आत्माओं की ज्योत जग जाती है। ऐसे नहीं कि सतयुग में कोई दीपावली मनाते हैं, दीवे आदि जगाते हैं। नहीं, वहाँ तो खुशियाँ मनाते हैं, जब कारोनेशन होता है। यह ज्ञान की बातें हैं। हर एक की आत्मा साफ शुद्ध होती है। वहाँ सब पवित्र ही होते हैं। तुमको रोशनी मिली है। जैसे बाबा को नॉलेज है वैसे तुम बच्चों को भी है। बाकी तो वहाँ सब पवित्र ही होते हैं। तो खुशियाँ ही खुशियाँ हैं। तो बाप समझाते हैं बच्चों को कभी डरना नहीं है। तुम्हारी लड़ाई बिल्कुल ही अलग है। तुम्हारी लड़ाई है ही पुराने दुश्मन रावण से। तुम माया पर जीत पाकर जगतजीत बनते हो। बाप तुमको विश्व का मालिक बना रहे हैं। बाहुबल से कोई विश्व का मालिक बन न सके। अभी टाइम बाकी थोड़ा है। विनाश सामने खड़ा है। कल्प पहले मुआफिक हम राजयोग सीख रहे हैं गुप्त। कितनी गुप्त पढ़ाई है, इसको कोई नहीं जानते। जिन्होंने कल्प पहले राज्य भाग्य लिया है, वही अब लेंगे। उन्हों का ही पुरूषार्थ चलेगा। जितना-जितना रावण पर जीत पाते जायेंगे उतनी याद से शक्ति मिलती जायेगी। बच्चों को टाइम वेस्ट नहीं करना चाहिए। बाबा कहते हैं कि बच्चे सर्विस करते-करते थक मत जाना। कोटों में कोई ही निकलते हैं। फिर भी माया का थप्पड़ लगने से फेल हो जाते हैं। माया भी सर्वशक्तिमान् है तो बाबा भी सर्वशक्तिमान् है। आधाकल्प तो माया भी जीत लेती है ना। तो बाप को याद करना है और श्रीमत लेते रहना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चा प्यार एक बाप से रखना है। बाकी सबसे नष्टोमोहा बनना है। मुख से वा कर्मेन्द्रियों से कोई भी पाप कर्म नहीं करना है। रजिस्टर सदा ठीक रखना है।

2) सर्विस में कभी थकना नहीं है। अपना टाइम वेस्ट नहीं करना है। घर-घर में रूहानी हॉस्पिटल खोल सबको याद की दवाई देनी है।

वरदान:- अपनी सूक्ष्म चेकिंग द्वारा पापों के बोझ को समाप्त करने वाले समान वा सम्पन्न भव 
यदि कोई भी असत्य वा व्यर्थ बात देखी, सुनी और उसे वायुमण्डल में फैलाई। सुनकर दिल में समाया नहीं तो यह व्यर्थ बातों का फैलाव करना – यह भी पाप का अंश है। यह छोटे-छोटे पाप उड़ती कला के अनुभव को समाप्त कर देते हैं। ऐसे समाचार सुनने वालों पर भी पाप और सुनाने वालों पर उससे ज्यादा पाप चढ़ता है इसलिए अपनी सूक्ष्म चेकिंग कर ऐसे पापों के बोझ को समाप्त करो तब बाप समान वा सम्पन्न बन सकेंगे।
स्लोगन:- बहानेबाजी को मर्ज कर दो तो बेहद की वैराग्य वृत्ति इमर्ज हो जायेगी।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 2 September 2017 :- Click Here

 

Font Resize