today murli 7 january

TODAY MURLI 7 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 January 2019 :- Click Here

07/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, people create many ways to benefit their bodies. Only the Father tells you the way for souls to progress and ascending. This is the responsibility of the Father alone.
Question: Which elevated directions does the Father give you children in order for you to continue to make constant progress?
Answer: Children, in order to make progress: 1) Always stay on the pilgrimage of remembrance. It is only by having remembrance that the rust on the soul will be removed. 2) Never remember the past or have any expectation for the future. 3) Act for the livelihood of your body, but don’t wastewhatever time you have. Use your time in a worthwhile way in remembering the Father. 4) Do Godly service for at least eight hours and you will continue to make progress.

Om shanti. The spiritual Father explains to you spiritual children, that is, to you souls. People say that the Supreme Soul has responsibility for souls and that He alone can show all souls the way to make progress and have peace of mind. Each soul resides in the centre of a forehead, detached from everything else. Generally, there is disease in the rest of the body, not in the forehead. Although you may have a headache, there would be no difficulty where the throne of the soul is because the soul is seated on that throne. There is only the one Supreme Soul who is the Surgeon who enables soul to make progress and gives you peace of mind. Only when a soul progresses can that soul receive health and wealth. No matter how much you do to your body, there will be no progress through that. There continues to be one or another conflict in bodies. No one, apart from the Father, can bring about advancement of souls. All others in the world find ways for advancement of bodies, but they have no advancement or ascending stage for souls. Only the Father teaches you this. Everything depends on the soul. It is souls that become 16 celestial degrees full, and then it is souls that become totally empty of degrees. Souls become 16 celestial degrees full. Only the Father explains to you how the degrees of souls decrease. The Father says: You had a lot of happiness in the golden age. Souls had been in the ascending stage. At other spiritual gatherings, they don’t explain how souls can progress. They stay in physical intoxication. They are body conscious whereas the Father is making you soul conscious. Souls that have become tamopradhan have to be made satopradhan. Everything here is spiritual, whereas everything there is physical. Surgeons transplant hearts. That has no connection with souls. Souls reside in the centre of the forehead. They don’t have an operation etc. Achcha. The Father explains that souls only make progress once. When souls become tamopradhan, the Father who brings about progress for souls comes. Without Him, no soul can go into the ascending stage. The Father says: Those dirty, tamopradhan souls cannot come to Me. When people come to you, they ask you how there can be peace or how there can be progress. However, they don’t know where they will go after there has been progress or what will happen. They call out: Come and make the impure ones pure. Come and take us to the land of liberation-in-life. So, He would take souls back with Him. The bodies would be destroyed here. However, these things are not in anyone’s intellect. These are God’s directions. All the rest are the dictates of human beings. By following God’s directions, you reach the sky; you reach the land of peace and the land of happiness. Then, according to the drama, you also have to come down. There is no Surgeon , apart from the Father, who can enable souls to make progress. The Surgeon then makes you the same as Himself. Some bring about very good progress in others, some to the medium level and some bring about the third level of progress in others. Only the one Father is responsible for the progress of souls. No one in the world knows this. The Father says: I come to uplift those sages etc. When souls first come down, they are pure. The Father has now come to bring about progress in everyone. Look, you are continuing to progress, numberwise, according to the effort you make. There, you will receive first- class bodies. The Father is the imperishable Surgeon. He alone comes and brings about progress for you. So you will then go to your highest-on-high sweet home. Those people go to the moon. In order for you to make progress, the imperishable Surgeon says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. The Father liberates the children of the world. When you go to heaven, all the rest will be in the land of peace. The Father carries out such a wonderful task. It is the wonder of the Father! This is why it is said: Only You know Your ways and means. The directions are given to souls. If a soul were to become separated, he could not receive directions. There is the ascending stage through God’s directions and the descending stage through human dictates: this is also fixed in the drama. Those people think that it is heaven now. As you progress further you will know whether this is hell or heaven. They create so much upheaval over language. They are unhappy. There is no sorrow in heaven. There won’t even be earthquakes. The old world is now to be destroyed and heaven will be created. Then, after half a cycle, even that will disappear. They say that Dwarika sank beneath the ocean. Things of gold have become buried down below. They would surely go down below in earthquakes. They do not dig beneath the ocean and bring them out. When they dig beneath the ground, they find treasures there. The Father says: I uplift everyone. Then everyone defames and insults Me. I even uplift those who defame Me. So, there should definitely be praise of Me. Look how much respect they have on the path of devotion. You children too praise the Father so much; you have shown 32 virtues in the poster. You are now becoming as virtuous as the Father, and so you should also make as much effort. You shouldn’t waste your time. The h ighest of all Father is teaching you and so you should study daily. That One is the imperishable Father and also the Teacher. Those who have come later are going ahead of the older ones. The whole world is now making progress through the Father. It was the Father who made Shri Krishna virtuous. He is the One who gives to everyone; all others take. This dynasty is being created, numberwise, according to the effort you make. Look how sweet and lovely the unlimited Father is! All of you are now making progress through the highest-on-high Father. Everyone else has to come down the ladder. It is a wonder of the Father! You may eat, drink and do whatever else you do, but simply sing praise of the Father. It isn’t that by staying in remembrance of Baba you are unable to eat. You have a lot of time available at night. You have at least eight hours. The Father says: At least do a minimum of eight hours service for this Government. Show anyone who comes here the way for souls to progress. “Liberation-in-life” means to be a master of the world and “liberation” means to be a master of Brahmand. It is easy to explain this. However, if it is not in the fortune of some, what effort would they make? The Father explains: The rust on souls cannot be removed without them having remembrance of the Father. Even though you might give knowledge throughout the whole day, you souls cannot progress without having remembrance. The Father explains to you children every day with a lot of love, but each one of you can understand for yourself whether you are progressing or not. It isn’t just you children here who hear this, but children at all the cent re s hear this. This tape machine is kept here. It records the sound on itself and goes on service; it does a lot of service. Children understand that they are listening to Shiv Baba’s murli. When they hear it through you, it becomes indirectand then they come here to listen to it directly. Baba speaks it through the mouth of Brahma, that is, He gives the nectar of knowledge through the mouth. At this time, the world has become tamopradhan and so it needs to have the rain of knowledge on it. There is a lot of rain water. No one can become pure through that water. All of this is a matter of knowledge. The Father says: Now wake up! I am taking you to the land of peace. There is progress for you souls in this. All the rest are physical things. Only you listen to spiritual things. Only you become multimillionaires and fortunate. The Father is the Lord of the Poor. Only the poor hear this. This is why the Father says: Give this knowledge to those who have stone intellects and those who are without virtues. Such things do not exist in the golden age. That is an unlimited Shivalaya. It is now an unlimited brothel; it is completely tamopradhan. There is no more margin for it. This impure world now has to change. There is the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan in Bharat. When there are innumerable religions, there is peacelessness. War continues to take place all the time. War is now to take place with great force. A very strong war will take place and then end because the kingdom will have been established and you will have reached your karmateet stage. At the moment, no one can say. When that stage comes, the study will end. You will then be transferred according to the effort you made. This haystack will catch fire and destruction will take place instantly. That is said to be bloodshed without cause; everyone will die unnecessarily. Rivers of blood will flow. Then rivers of ghee and milk will flow. After the cries of distress, there will be cries of victory. All the rest will die while sleeping in the sleep of ignorance. Establishment has to take place very tactfully. There will also be obstacles and assaults. The gates to heaven are opening through the mothers. There are also many men, but, because women give birth, they receive a greater reward than the men. Everyone will go to heaven, numberwise. Some can still take birth as a male twice consecutively. It will take place accordingly to the account fixed in the drama. When there is progress of souls, there is so much difference. Some become the very highest and some become the very lowest. There is a vast difference between the kings and the subjects. The Father explains to you sweetest children: Now make effort. Become pure through yoga and then dharna can take place. The destination is very high. You have to consider yourselves to be souls and remember the Father with a lot of love. Souls love the Supreme Soul. This is spiritual love through which souls make progress. Souls fall through physical love. When some don’t have it in their fortune, they become those who run away. The sacrificial fire (yagya) has to be looked after. The sacrificial fire (yagya) is being served with every penny of the mothers. Here, it is the poor who then become wealthy. Everything depends how you on study. You are now becoming those who have the fortune of being wed. All of you have this feeling. Those who are to become beads of the rosary need to have such a good feeling. Continue to remember Shiv Baba and do service and there can be a lot of progress. You should even surrender your body for Shiv Baba’s service. To have that intoxication throughout the day is not like going to your aunty’s home! You have to check how much progress you have made. Baba says: Do not remember the past and don’t have any expectations of the future. You have to act for your livelihood. Whatever time you have, remember the Father and your sins will be absolved. Baba even explains to those who are in bondage: You have to explain to your husband with a lot of humility and love. If he beats you, you have to shower him with flowers. You need great tact in order to save yourself. Your eyes need to be very cool; they must never fluctuate. There is the example of Angad in this. He was completely unshakeable. All of you are mahavirs. Whatever has happened in the past, you mustn’t remember it. Always remain cheerful. Remain firm on the drama. The Father Himself says: I too am bound by the bondage of the drama. There is nothing else to it. It is written of Krishna that he killed devils with the discus of self-realisation. All of those are stories. The Father cannot commit violence. That Father is also the Teacher ; there is no question of Him killing anyone. All of those things refer to the present time. On one side, there are many human beings and on the other side, there are you. Those who want to come will continue to come; they will continue to receive their status as they did in the previous cycle. There is no question of a miracle in this. The Father is merciful. He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Therefore, how could He cause sorrow? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do at least eight hours service for the Godly G overnment and use your time in a worthwhile way. Become as virtuous as the Father.
  2. Don’t remember the past. Let the past be the past and remain constantly cheerful. Remain unshakeable on the drama.
Blessing: May you maintain the intoxication of guaranteed victory and become a conqueror of Maya by receiving multi-million-fold help from the Father.
The children who are worthy of receiving multi-million-fold help from the Father challenge Maya’s attack and say that it is her duty to come and their duty to gain victory. Such children consider a lion form of Maya to be like an ant because they know that this kingdom of Maya is now about to finish. Victory for you souls who have been victorious many times is 100% guaranteed. The intoxication of this guarantee enables you to claim a right to multi-million-fold help from the Father. With this intoxication you will easily become a conqueror of Maya.
Slogan: Accumulate your power of thought and use it for yourself and the world.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

If you have love for Father Brahma then become an angel, the same as the father. Let your angelic form of light always be visible in front of you, that you have to become like that. Let your future form also be visible. Now renounce this one and adopt that one. When you have such an experience then understand that you are close to perfection.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 January 2019

To Read Murli 6 January 2019 :- Click Here
07-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – मनुष्य शरीर की उन्नति का प्रबन्ध रचते, आत्मा की उन्नति वा चढ़ती का साधन बाप ही बतलाते हैं – यह बाप की ही रेसपान्सिबिल्टी है”
प्रश्नः- सदा बच्चों की उन्नति होती रहे उसके लिए बाप कौन-कौन सी श्रीमत देते हैं?
उत्तर:- बच्चे, अपनी उन्नति के लिए 1- सदा याद की यात्रा पर रहो। याद से ही आत्मा की जंक निकलेगी। 2- कभी भी बीती को याद नहीं करो और आगे के लिए कोई आश न रखो। 3- शरीर निर्वाह के लिए कर्म भले करो लेकिन जो भी टाइम मिले वह वेस्ट नहीं करो, बाप की याद में टाइम सफल करो। 4- कम से कम 8 घण्टा ईश्वरीय सेवा करो तो तुम्हारी उन्नति होती रहेगी।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को अथवा आत्माओं को समझाते हैं, मनुष्य कहते हैं आत्मा की रेसपान्सिबिल्टी है परमात्मा के ऊपर। वही सब आत्माओं की उन्नति और मन की शान्ति का रास्ता बता सकते हैं। आत्मा रहती है भ्रकुटी में सबसे न्यारी। अक्सर करके रोग होते हैं शरीर में। यहाँ भ्रकुटी में नहीं। भल सिर में दर्द पड़ेगा परन्तु जो आत्मा का तख्त है वहाँ कोई तकलीफ नहीं होगी क्योंकि उस तख्त पर आत्मा विराजमान है। अब आत्मा की उन्नति अथवा शान्ति देने वाला सर्जन तो एक ही परमात्मा है। जब आत्मा की उन्नति हो तब आत्मा को हेल्थ वेल्थ भी मिले। शरीर को तो कितना भी करो उससे कोई उन्नति नहीं होगी। शरीर की कुछ न कुछ खिटपिट तो रहती ही है। आत्मा की उन्नति तो सिवाए बाप के कोई कर न सके। और सब दुनिया में शरीर की उन्नति का प्रबन्ध रचते हैं, बाकी आत्मा की चढ़ती कला वा उन्नति होती नहीं है। वह तो बाप ही सिखलाते हैं। सारा मदार आत्मा पर है। आत्मा ही 16 कला बनती है फिर आत्मा ही बिल्कुल कला रहित हो जाती है। 16 कलायें बनती हैं फिर कला कम कैसे होती है, यह भी बाप ही समझाते हैं। बाप कहते हैं सतयुग में तुमको बहुत सुख था। आत्मा चढ़ती कला में थी और सतसंगों में आत्मा की उन्नति कैसे हो – यह बात नहीं समझाई जाती है। वह जिस्मानी नशे में रहते हैं। देह-अभिमान है, बाप तुमको देही-अभिमानी बनाते हैं। आत्मा जो तमोप्रधान बनी है उनको सतोप्रधान बनाना है। यहाँ सब हैं रूहानी बातें। वहाँ हैं जिस्मानी बातें। सर्जन लोग एक हार्ट निकाल दूसरा डालते हैं। उनका आत्मा से कोई तैलुक नहीं। आत्मा तो भ्रकुटी में रहती है, उनका आपरेशन आदि कुछ नहीं होता।

अच्छा बाप समझाते हैं कि आत्मा की उन्नति तो एक ही बार होती है। आत्मा जब तमोप्रधान हो जाती है तब आत्मा की उन्नति करने वाला बाप आता है। उनके बिगर किसी भी आत्मा की चढ़ती कला हो न सके। बाप कहते हैं यह छी-छी तमोप्रधान आत्मायें मेरे पास आ न सके। तुम्हारे पास जब कोई आते हैं तो कहते हैं शान्ति कैसे मिले अथवा उन्नति कैसे हो? परन्तु यह नहीं जानते कि उन्नति के बाद हम कहाँ जायेंगे, क्या होगा? पुकारते हैं पतित से पावन बनाओ। जीवनमुक्तिधाम में ले जाओ। तो आत्माओं को ही ले जायेंगे ना। शरीर तो यहाँ खत्म हो जायेंगे। परन्तु यह बातें किसकी बुद्धि में नहीं हैं। यह है ईश्वरीय मत। बाकी वह सब हैं मानव मत। ईश्वरीय मत से एकदम आसमान में चढ़ जाते हो – शान्तिधाम, सुखधाम में। फिर ड्रामा अनुसार नीचे भी उतरना ही है। आत्मा की उन्नति के लिए बाप के सिवाए और कोई सर्जन नहीं। सर्जन फिर तुमको आप समान बनाते हैं। कोई तो बहुतों की उन्नति अच्छी करते हैं, कोई मीडियम, कोई थर्ड औरों की उन्नति करते हैं। आत्माओं की उन्नति का जवाबदार है ही एक बाप। दुनिया में यह किसको मालूम नहीं है। बाप कहते हैं इन साधुओं आदि का भी उद्धार करने मैं आता हूँ। पहले जब आत्मा आती है तो पवित्र ही आती है। अब बाप आये हैं सबकी उन्नति करने। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार तुम्हारी देखो कितनी उन्नति हो जाती है। वहाँ तुमको शरीर भी फर्स्टक्लास मिलता है। बाप है ही अविनाशी सर्जन। वही आकर तुम्हारी उन्नति करते हैं। तो तुम ऊंच ते ऊंच अपने स्वीट होम में चले जायेंगे। वो लोग मून पर जाते हैं। अविनाशी सर्जन तुमको उन्नति प्राप्त कराने लिए कहते हैं मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। बाप विश्व के बच्चों को लिबरेट करते हैं। जब तुम स्वर्ग में जायेंगे तब सब शान्तिधाम में होंगे। बाप कितना वन्डरफुल कार्य करते हैं। कमाल है बाप की! तब कहते हैं तुम्हारी गति मत तुम ही जानो। आत्मा में ही मत है, आत्मा अलग हो जाए तो मत मिल न सके। ईश्वरीय मत से चढ़ती कला, मानव मत से उतरती कला-यह भी ड्रामा में नूँध है। वो लोग समझते हैं अभी स्वर्ग बन गया है। आगे चलकर मालूम पड़ेगा कि यह नर्क है वा स्वर्ग। भाषा के ऊपर कितना हंगामा करते हैं। दु:खी हैं ना। स्वर्ग में दु:ख होता नहीं। अर्थक्वेक भी नहीं होगी। अब पुरानी दुनिया का विनाश होना है फिर स्वर्ग बन जायेगा। फिर आधाकल्प वह भी गुम हो जाता है। कहते हैं द्वारिका सागर के नीचे चली गई। सोने की चीज़ें नीचे दब गई हैं। सो तो जरूर अर्थक्वेक से नीचे जायेंगी। समुद्र को थोड़ेही खोदकर निकालेंगे। धरती को खोदते हैं, वहाँ से माल निकालते हैं।

बाप कहते हैं मैं सबका उपकार करता हूँ। मेरा फिर सब अपकार करते, गाली देते। मैं तो अपकारी का भी उप-कार करता हूँ, तो मेरी जरूर महिमा होनी चाहिए। भक्ति मार्ग में देखो कितना मान है। तुम बच्चे भी बाप की कितनी महिमा करते हो। चित्र में 32 गुण दिखाये हैं। अभी तुम भी बाप जैसे गुणवान बन रहे हो तो कितना पुरुषार्थ करना चाहिए। टाइम वेस्ट नहीं करना चाहिए। बहुत हाइएस्ट बाप पढ़ाते हैं तो रोज़ ज़रूर पढ़ना चाहिए। यह अविनाशी बाप भी है, टीचर भी है, पिछाड़ी में आने वाले पुरानों से भी तीखे जा रहे हैं। अब सारी दुनिया की उन्नति हो रही है-बाप द्वारा। श्रीकृष्ण को भी गुणवान बनाने वाला बाप है, सबको देने वाला है। बाकी सब लेते हैं। यह घराना बन रहा है – नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। बेहद का बाप देखो कितना मीठा और कितना प्यारा है। ऊंचे ते ऊंचे बाप द्वारा अब सबकी उन्नति हो रही है। बाकी तो सबको सीढ़ी उतरनी है। कमाल है बाप की। भल खाओ-पिओ सब कुछ करो सिर्फ बाबा के गुण गाओ। ऐसे नहीं बाबा की याद में रहने से खाना नहीं खा सकते। रात को फुर्सत बहुत मिलती है। 8 घण्टा तो फुर्सत है। बाप कहते हैं कम से कम 8 घण्टा इस गवर्मेन्ट की सर्विस करो। जो भी आये उनको आत्मा की उन्नति के लिए रास्ता बताओ। जीवनमुक्ति माना विश्व का मालिक और मुक्ति माना ब्रह्माण्ड का मालिक। ये समझाना तो सहज है ना। परन्तु तकदीर में नहीं है तो तदबीर क्या कर सकेंगे।

बाप समझाते हैं कि बाप की याद सिवाए आत्मा की जंक निकल नहीं सकती। भल ज्ञान सारा दिन सुनाओ परन्तु आत्मा की उन्नति का उपाय याद के सिवाए और कोई नहीं। बाप बच्चों को बहुत प्यार से रोज़-रोज़ समझाते हैं परन्तु अपनी उन्नति करते हैं वा नहीं करते हैं, वह हर एक खुद समझ सकते हैं। यह सिर्फ तुम नहीं सुनते हो परन्तु सब सेन्टर्स वाले बच्चे सुनते हैं। यह टेप रखी है। यह भी अपने में आवाज़ भरकर जाती है – सर्विस पर। यह बहुत सर्विस देती है। बच्चे समझते हैं शिवबाबा की मुरली हम सुनते हैं। तुम्हारे द्वारा सुनने से इनडायरेक्ट हो जाता है फिर यहाँ आते हैं डायरेक्ट सुनने के लिए। फिर बाबा ब्रह्मा मुख द्वारा सुनाते हैं अथवा मुख द्वारा ज्ञान अमृत देते हैं। इस समय दुनिया तमोप्रधान हो गई है तो उस पर ज्ञान की वर्षा चाहिए। वह पानी की वर्षा तो बहुत होती है। उस पानी से तो कोई पावन बन नहीं सकता। यह है सारी ज्ञान की बात।

बाप कहते हैं अब जागो, मैं तुमको शान्तिधाम ले जाता हूँ। आत्मा की उन्नति भी इसमें है, बाकी सब हैं जिस्मानी बातें। रूहानी बातें सिर्फ तुम ही सुनते हो। पदमपति, भाग्यशाली सिर्फ तुम ही बनते हो। बाप है गरीब निवाज़। गरीब ही सुनते हैं, तब बाप कहते हैं अहिल्याओं, गणिकाओं को भी समझाओ। सतयुग में ऐसी बातें नहीं होती। वह है बेहद का शिवालय। अब है बेहद का वेश्यालय, बिल्कुल ही तमोप्रधान हैं। इससे जास्ती मार्जिन नहीं है। अब इस पतित दुनिया को चेन्ज होना है। भारत में राम राज्य और रावण राज्य होता है। जब अनेक धर्म हो जाते हैं तब अशान्ति हो जाती है। लड़ाई तो लगती ही रहती है। अब तो बहुत ज़ोर से लड़ाई लगेगी। कड़ी लड़ाई लग फिर बन्द हो जायेगी क्योंकि राजाई भी स्थापन हो, कर्मातीत अवस्था भी हो। अभी तो कोई कह न सके। वह अवस्था आयेगी तो पढ़ाई पूरी हो जायेगी। फिर ट्रान्सफर हो जायेंगे – अपने पुरुषार्थ अनुसार। इस भंभोर को आग तो लगनी है। फटाफट विनाश हो जायेगा। उनको खूनी नाहेक खेल कहा जाता है। नाहेक सब मर जायेंगे। रक्त की नदियाँ बहेंगी। फिर घी दूध की नदियाँ बहेंगी। हाहाकार से जयजयकार होगी। बाकी सब अज्ञान निद्रा में सोते-सोते ही खत्म हो जायेंगे। बड़ी युक्ति से स्थापना होती है। विघ्न भी पड़ेंगे, अत्याचार भी होंगे। अब माताओं द्वारा स्वर्ग का द्वार खुलता है। हैं तो पुरुष भी बहुत परन्तु माता जन्म देती है तो उनको पुरुष से इज़ाफा ज्यादा मिलता है। स्वर्ग में तो नम्बरवार सब जायेंगे कोई दो जन्म मेल के भी बन सकते हैं, हिसाब-किताब जो ड्रामा में नूँध है वही होता है। आत्मा की उन्नति होने से कितना फ़र्क पड़ जाता है। कोई तो एकदम हाइएस्ट बन जाता है कोई तो बिल्कुल लोएस्ट। कहाँ राजा तो कहाँ प्रजा।

मीठे-मीठे बच्चों को बाप समझाते हैं अब पुरुषार्थ करो। योग से पवित्र बनो तब धारणा हो। मंज़िल बहुत ऊंची है। अपने को आत्मा समझ बहुत प्यार से बाप को याद करना है। आत्मा का परमात्मा के साथ लॅव है ना। यह है रूहानी लॅव, जिससे आत्मा की उन्नति होती है। जिस्मानी लॅव से गिर पड़ते हैं। तकदीर में नहीं है तो भागन्ती हो जाते हैं। यज्ञ की बड़ी सम्भाल चाहिए। माताओं की पाई-पाई से यज्ञ की सर्विस हो रही है। यहाँ गरीब ही साहूकार बनते हैं। सारा मदार पढ़ाई पर है। तुम अभी सदा सुहागिन बनती हो-यह सबको फीलिंग आती है। माला का दाना बनने वालों को कितनी अच्छी फीलिंग चाहिए। शिवबाबा को याद करते, सर्विस करते रहो तो बहुत उन्नति हो सकती है। शिवबाबा की सर्विस में शरीर भी न्योछावर करना चाहिए। सारा दिन नशा रहे – यह मासी का घर नहीं है। देखना है हमने अपनी कितनी उन्नति की है। बाबा कहते हैं – बीती को याद न करो। आगे की कोई आश मत रखो। शरीर निर्वाह अर्थ कर्म तो करना है। जो टाइम मिले उसमें बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। बाबा बाँधेलियों को भी समझाते हैं कि तुम्हें पति को बहुत नम्रता प्यार से समझाना है, कोई मारे तो उन पर फूलों की वर्षा करो। अपने को बचाने की बड़ी युक्ति चाहिए। ऑखें बड़ी शीतल चाहिए। कभी हिलें नहीं। इस पर अंगद का भी मिसाल है, बिल्कुल अडोल था। तुम सब महावीर हो, जो कुछ पास्ट हुआ उनको याद नहीं करना है। सदैव हर्षित रहना है। ड्रामा पर अटल रहना है। बाप खुद कहते हैं मैं भी ड्रामा के बंधन में बाँधा हुआ हूँ। बाकी और कोई बात नहीं। कृष्ण के लिए लिखा है स्वदर्शन चक्र से मारा। यह सब कथायें हैं। बाप तो हिंसा कर न सके। यह तो बाप टीचर है, मारने की बात नहीं है। यह बातें सब इस समय की हैं। एक तऱफ ढेर मनुष्य हैं दूसरे तऱफ तुम हो, जिनको आना होगा आते रहेंगे। कल्प पहले मिसल पद पाते रहेंगे। इसमें चमत्कार की बात नहीं। बाप रहमदिल है, दु:ख हर्ता सुख कर्ता है, फिर दु:ख कैसे देंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कम से कम 8 घण्टा ईश्वरीय गवर्मेंन्ट की सर्विस कर अपना टाइम सफल करना है। बाप जैसा गुणवान बनना है।

2) जो बीता उसे याद नहीं करना है। बीती को बीती कर सदैव हर्षित रहना है। ड्रामा पर अडोल रहना है।

वरदान:- निश्चित विजय के नशे में रह बाप की पदमगुणा मदद प्राप्त करने वाले मायाजीत भव
बाप की पदमगुणा मदद के पात्र बच्चे माया के वार को चैलेन्ज करते हैं कि आपका काम है आना और हमारा काम है विजय प्राप्त करना। वे माया के शेर रूप को चींटी समझते हैं क्योंकि जानते हैं कि यह माया का राज्य अब समाप्त होना है, हम अनेक बार के विजयी आत्माओं की विजय 100 परसेन्ट निश्चित है। यह निश्चित का नशा बाप की पदमगुणा मदद का अधिकार प्राप्त कराता है। इस नशे से सहज ही मायाजीत बन जाते हो।
स्लोगन:- संकल्प शक्ति को जमा कर स्व प्रति वा विश्व प्रति इसका प्रयोग करो।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

ब्रह्मा बाप के समान आपके यह नयन रूहानियत का अनुभव करायें, चलन बाप के चरित्रों का साक्षात्कार कराये, मस्तक मस्तकमणी का साक्षात्कार कराये, यह अव्यक्ति सूरत दिव्य, अलौकिक स्थिति का प्रत्यक्ष रूप दिखाये। इसके लिए अपनी अन्तर्मुखी, अलौकिक वा रूहानी स्थिति में सदाकाल रहने का अभ्यास करो।

TODAY MURLI 7 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 January 2018 :- Click Here

07/01/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
17/04/83

The need f or the powers to pack up and to accommodate , in order to attain the karmateet stage.

Are you experiencing your elevated stage of being beyond sound? That elevated stage is a lovely and unique, powerful stage that is beyond all gross attractions. Become stable in this elevated stage for just a second and you will feel the impact of that in yourself while doing something in the form of a special power of peace throughout the day. This stage is called the karmateet stage, the complete stage of being equal to the Father. With this stage you can experience success in every task. Have you experienced such a powerful stage? The aim of Brahmin life is to attain the karmateet stage. Only if you practise this from now will you be able to accomplish your aim. In order to attain this aim you particularly need to have within you the powers to pack up and to accommodate. From the lives in which you indulged in vice and in the lives of devotion, the sanskar you had for birth after birth, of allowing your intellect to wander into expansion has become very firm. Therefore, in order for you to stop your intellect from wandering into expansion and to stabilise it in the essence, both of these powers are needed. From the beginning, you will see so many varieties of expansion in the consciousness of the body. You know them, do you not? “I am a child.” “I am young.” “I am old.” “My occupation is such-and-such!” In this way, there is so much expansion of the consciousness of the body. Then, when you come into relationships, there is so much expansion. There would be someone’s child, there would be someone’s father. There is so much expansion in relationships! There is no need to mention them because you know them all. In the same way, there is also so much expansion of possessions for the body. In devotion, there is so much expansion to please all the deities. Their aim is to attain the One and yet the methods they follow that make them wander around are many. In order for you to put all of those different forms of expansion into their essence, you need the powers to pack up and to accommodate. You merge all types of expansion in one word. What is that one word? A point. I am a point and the Father is also a Point. The whole world is merged in the one Father, a Point. You have experienced this very well. In the world, there are relations and prosperity. Both specialities are merged in the Father, a Point. Have you experienced all relationships with the One? Have you also experienced the attainment of the wealth of happiness, peace and joy? Or, do you still have to experience that? So, what happened? The expansion is merged into the essence, is it not? Ask yourself: Has my intellect that was wandering in all types of expansion now stabilised in the One on the basis of the power to pack up? Or, is it even now still wandering in some type of expansion? Have you experimented with the powers to pack up and to accommodate? Or do you just have the knowledge of them? If you know how to use them, the sign of that is that you are able to stabilise your intellect on what you want, for as long as you want, in a second. When a physical vehicle has a powerful brake, you can stop it where you want in a second. You are able to steer the vehicle in whatever direction you want. Similarly, do you also experience this power in yourself? Or, does it take you time to become stable? Or, is it that you find it hard work to steer your intellect away from something wasteful to something powerful? In that case, you should understand that you lack both of these powers. The speciality of the Brahmin life of the confluence age is to stabilise in the form of the essence and be constantly swinging in the swings of happiness, peace, joy, knowledge and bliss. Remain stable in the imperishable intoxication of being the complete form of all attainments. Let your face only reveal attainment and nothing else – let the sparkle and intoxication of that stage of perfection be visible. Since the faces of kings who attained perishable kingdoms filled with physical wealth had that sparkle at the beginning of the copper age, just consider what imperishable attainment you have here! So, how much spiritual sparkle and intoxication would be visible on your face? Do you experience this? Or, are you happy just hearing about those experiences? The Pandava Army is special. Baba is definitely pleased when He sees the Pandava Army. The speciality of the Pandavas that is portrayed in pictures is of them being constantly courageous, not weak. You have seen the pictures of your memorial, have you not? Mahavir has been shown in the pictures. So BapDada is especially giving all of you Pandavas the blessing of this special awareness of being constantly victorious, being constant companions of the Father, that is, companions of the Father of the Pandavas, and of constantly staying in the stage of a master almighty authority, equal to the Father. Although new ones have also come, you are still the same souls of the previous cycle. Therefore, constantly maintain the intoxication and faith of definitely attaining your full rights. Do you understand? Achcha.

To those who stabilise their intellects in a second and experience all attainments, to those who constantly use all the powers and experience their whole world to be in the Father, to such complete and elevated souls who are equal to the Father, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups – Meeting h alf-kumar s:

1) Did you ever think that you would have such elevated fortune? You never even hoped that you could ever attain such elevated fortune. However, the Father changed you from souls with no hope into souls for whom there is hope. The time for being hopeless has now come to an end. You now have the hope at every step that success is guaranteed for you. You no longer have any thought as to whether you will succeed or not, do you? In any task, whether in terms of effort for the self or for service, let your sanskars of feeling disheartened now end. Let there be no type of disheartenment about transforming any sanskar, whether it is of lust, greed or arrogance. Never feel that you cannot change yourself, that it is very difficult to change. Never have such a thought, because if you don’t transform yourself now, then when would you do it? It is now Dashera (burning of the effigy of Ravan). In the golden age, it will be Deepmala. The Dashera of finishing off Ravan is now. Let there be constant zeal and enthusiasm for victory, not sanskars of disheartenment. Let any difficult task be experienced to be very easy, as though it is not a big thing, because you have carried out that task many times before. You are not doing anything new. You are simply repeating something that you have already done many times. Therefore, constantly maintain hope. Let there be no name or trace of being disheartened. Let there never be any thought about your nature or sanskar such as, “I don’t know whether this will be transformed or not.” You are those who are constantly victorious, not just sometimes. If there is any weakness even in your dreams, then finish that for all time. Transform any type of hopelessness into a feeling of hope. When your faith is unbroken, victory is also constant. When you question your faith with “Why?” or “What?”, then there is also something or other lacking in your attainment. Therefore, you are those in whom there is always hope and who are always victorious. You are those who transform hopelessness into hopes for all time.

2) Do you constantly consider yourselves to be the elevated confluence-aged souls, the most elevated souls following the highest code of conduct and the Brahmin topknots who are great souls? You have now become the most elevated beings, have you not? There are also other beings in the world, but compared with them you are unique and loved by the Father. This is why you have become the most elevated. When you are with other people, you consider yourselves to be completely different, do you not? Although you come into contact with worldly souls, whilst living amongst them, you mustn’t forget that you are unique souls, because you have become swans, holy swans who pick up pearls of knowledge. They are storks who eat impure food. They only eat impure food, only speak bad words. So, whilst living amongst storks, you don’t ever forget your life of a holy swan, do you? You don’t ever become influenced by them, do you? In fact, you have to influence them; let them not influence you. So do you constantly consider yourself to be a holy swan? A holy swan would never accept anything other than pearls of knowledge in his intellect. Brahmin souls who are the highest, the topknot, can never accept anything that is low. You have changed from storks into holy swans. Holy swans are always clean and pure. Purity is cleanliness. Swans are always clean, they are always white. White is also a sign of cleanliness and purity. Your uniform too is white. This is a symbol of purity. If there is any type of impurity, then you are not a holy swan. Holyswans cannot even have impure thoughts. Thoughts are also food for the intellect. If you eat any impure or useless food, you cannot remain constantly healthy. Anything that is useless is thrown away; it is not accumulated. Therefore, now finish waste thoughts. This is known as being a holy swan. Achcha.

Meeting a group of Pandavas:

Pandavas means those who are not defeated in their thoughts or dreams. Especially remember this slogan: Pandavas means those who are always victorious. Let your dreams also be of victory. There has to be this much transformation. All of you who are sitting here are victorious Pandavas. When you return to your service places and are defeated, you won’t write those letters saying that you are defeated, will you? It isn’t that Maya comes, but that you yourselves call her. To be weak means to call Maya. Therefore, any type of weakness invokes Maya. So, what promise have you Pandavas made? That you will always remain victorious. Don’t hide away after being defeated, but always remain victorious. Those who make such a promise constantly receive congratulations from the Father. The Father constantly sings songs of praise of such children. So all of you will listen to the songs of praise, will you not? If there is defeat, there would be cries of distress, whereas when there is victory, there will be praise. So all of you are constantly victorious. Not a single one in this group will be defeated. Achcha.

Become a Master Bestower

BapDada now wants each one of the children to become a master bestower. Whatever you have taken from the Father, give that to others. Do not have any expectation to take from souls. Be merciful and give everyone the co-operation of your virtues and powers, be generous-hearted. To the extent that you continue to give to others, it will accordingly continue to increase. Perishable treasures decrease by giving them away, but imperishable treasures increase by donating them. Give one and receive a thousand-fold.

To be a master bestower means to be one who is always full, complete. The images who are full of the treasure of experience automatically become master bestowers. A bestower means a server. A bestower cannot stay without giving. With his virtue of being merciful, he will give courage and power to weak souls. Such souls will be master bestowers of happiness. Always have the awareness that you are master bestowers of happiness, the children of the Bestower of Happiness. Those who are bestowers are able to give what they have. If someone doesn’t have anything for himself to eat, how could he become a bestower? This is why, as is the Father, so are the children. The Father is said to be the Ocean. An ocean means unlimited, it never ends. Similarly, you are master oceans, not rivers or canals. So, continue to give altruistically, the same as the Father. At any time of peacelessness, become master bestowers of peace and give peace to others. Do not be afraid, because you know that what is happening is good and that what is to happen will be even better. People will continue to fight under the influence of the vices, because that is all they would do. However, your duty is to give peace to such souls, because you are world benefactors. World benefactor souls are constantly master bestowers and continually give. To give co-operation, love and sympathy to everyone is to receive.

At present, everyone has a need for imperishable happiness. All are hungry for happiness and you are the children of the Bestower. The duty of the children of the Bestower is to give. Whoever comes into connection and relationship with you, continue to share your happiness with them, continue to give. Become so full that no one returns empty-handed. Now, all the souls of the world will come in front of you and ask you for happiness and peace. You children of the Bestower have to become master bestowers and continue to make everyone prosperous. So, first of all, continue to fill all your treasure-stores with all treasures. At the confluence age, you elevated souls have to be unending and constant. Constantly have the awareness: I am a child of the Bestower, a constantly great donor soul. No matter which type of soul comes in front of you, whether it is someone without knowledge or a Brahmin soul, you have to give something to everyone. A king means a bestower. So, you cannot stay without donating for even one second. So, you cannot stay for even one second without donating. Brahmin souls already have knowledge, but you have to become bestowers for them in two ways: 1) Whichever power a particular soul needs, donate that power to them, with your mind, that is, with your pure attitude and vibrations, that is, co-operate with them. 2) In your deeds, be an image of virtues in your life. Be a practical sample and give others co-operation so that they are able to imbibe virtues easily. To donate means to give them co-operation.

At present, there is a need for you to become a bestower of virtues through your deeds, when interacting with one another. So, have the thought: I have to be a constant image of virtues and perform the special task of making everyone into an image of virtues. There is a lot of knowledge, now let the virtues emerge. Become an example of becoming and making others full of all virtues. You are the children of the Bestower and so give others whatever they want. Let no one return empty-handed. You have plenty of treasures. Someone wants happiness, someone wants love, someone wants power; continue to give those. Now, let the pure thought emerge in you children, as the children of the Bestower, that you to become instruments to enable all souls to claim their inheritance. Make sure no one is deprived. No matter what others are like, at least they belong to the Father. You are the children of the Bestower and so give with a generous heart. Those who are wandering around with sorrow and peacelessness are your family. A family is given co-operation. So, in order to become a great donor at the present time, let the virtue of being merciful, in particulare, emerge. Do not have any expectation of taking from anyone – that someone should speak well of you or consider you to be good and only then will you give. No; be a master bestower and continue to give with your attitude, your vibrations and your words. Be an unlimited bestower, stand on the globeof the world and spread your vibrations and do unlimited service. Become a great donor. Go into the unlimited and all limited matters will automatically finish. Achcha.

Blessing: May you be celibate and with the special inculcation of purity, experience supersensuous joy.
The special inculcation of Brahmin life is purity. This is the special basis of constant supersensuous joy and sweet silence. Purity is not just celibacy, but to be constantly celibate means to follow the footsteps of the teachings of Father Brahma at every step. Let the steps of your every thought, word and deed be in the footsteps of Father Brahma. The faces and activities of those who are Brahma-achari (following the footsteps of Father Brahma) will give the experience of them being constantly introspective and having supersensuous joy.
Slogan: Those who have the sense of being trikaldarshi and the essence of spirituality in their attitude to service are serviceable.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 January 2017

To Read Murli 6 January 2018 :- Click Here

07/01/18
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
17-04-83

कर्मातीत स्थिति के लिए समेटने और समाने की शक्तियों की आवश्यकता

आवाज से परे अपनी श्रेष्ठ स्थिति को अनुभव करते हो? वह श्रेष्ठ स्थिति सर्व व्यक्त आकर्षण से परे शक्तिशाली न्यारी और प्यारी स्थिति है। एक सेकण्ड भी इस श्रेष्ठ स्थिति में स्थित हो जाओ तो उसका प्रभाव सारा दिन कर्म करते हुए भी स्वयं में विशेष शान्ति की शक्ति अनुभव करेंगे। इसी स्थिति को कर्मातीत स्थिति, बाप समान सम्पूर्ण स्थिति कहा जाता है। इसी स्थिति द्वारा हर कार्य में सफलता का अनुभव कर सकते हो। ऐसी शक्तिशाली स्थिति का अनुभव किया है? ब्राह्मण जीवन का लक्ष्य है कर्मातीत स्थिति को पाना। तो लक्ष्य को प्राप्त करने के पहले अभी से इसी अभ्यास में रहेंगे तब ही लक्ष्य को प्राप्त कर सकेंगे। इसी लक्ष्य को पाने के लिए विशेष स्वयं में समेटने की शक्ति, समाने की शक्ति आवश्यक है क्योंकि विकारी जीवन वा भक्ति की जीवन दोनों में जन्म-जन्मान्तर से बुद्धि को विस्तार में भटकने का संस्कार बहुत पक्का हो गया है इसलिए ऐसे विस्तार में भटकने वाली बुद्धि को सार रूप में स्थित करने के लिए इन दोनों शक्तियों की आवश्यकता है। शुरू से देखो – अपने देह के भान के कितने वैरायटी प्रकार के विस्तार हैं। उसको तो जानते हो ना! मैं बच्चा हूँ, मैं जवान हूँ, मैं बुजुर्ग हूँ। मैं फलाने-फलाने आक्यूपेशन वाला हूँ। इसी प्रकार के देह की स्मृति के विस्तार कितने हैं! फिर सम्बन्ध में आओ कितना विस्तार है। किसका बच्चा है तो किसका बाप है, कितने विस्तार के सम्बन्ध हैं। उसको वर्णन करने की आवश्यकता नहीं, क्योंकि जानते हो। इसी प्रकार देह के पदार्थो का भी कितना विस्तार है! भक्ति में अनेक देवताओं को सन्तुष्ट करने का कितना विस्तार है। लक्ष्य एक को पाने का है लेकिन भटकने के साधन अनेक हैं। इतने सभी प्रकार के विस्तार को सार रूप में लाने के लिए समाने की वा समेटने की शक्ति चाहिए। सर्व विस्तार को एक शब्द से समा देते। वह क्या? बिन्दू। मैं भी बिन्दू, बाप भी बिन्दू। एक बाप बिन्दू में सारा संसार समाया हुआ है। यह तो अच्छी तरह से अनुभवी हो ना। संसार में एक है सम्बन्ध, दूसरी है सम्पत्ति। दोनों विशेषतायें बिन्दू बाप में समाई हुई हैं। सर्व सम्बन्ध एक द्वारा अनुभव किया है? सर्व सम्पत्ति की प्राप्ति सुख-शान्ति, खुशी यह भी अनुभव किया है या अभी करना है? तो क्या हुआ? विस्तार सार में समा गया ना! अपने आप से पूछो अनेक तरफ विस्तार में भटकने वाली बुद्धि समेटने की शक्ति के आधार पर एक में एकाग्र हो गई है? वा अभी भी कहाँ विस्तार में भटकती है! समेटने की शक्ति और समाने की शक्ति का प्रयोग किया है? या सिर्फ नॉलेज है! अगर इन दोनों शक्तियों को प्रयोग करना आता है तो उसकी निशानी सेकण्ड में जहाँ चाहे जब चाहे बुद्धि उसी स्थिति में स्थित हो जायेगी। जैसे स्थूल सवारी में पॉवरफुल ब्रेक होती है तो उसी सेकण्ड में जहाँ चाहें वहाँ रोक सकते हैं। जहाँ चाहें वहाँ गाड़ी को या सवारी को उसी दिशा में ले जा सकते हैं। ऐसे स्वयं यह शक्ति अनुभव करते हो वा एकाग्र होने में समय लगता है? वा व्यर्थ से समर्थ की ओर मेहनत लगती है तो समझो इन दोनों शक्तियों की कमी है। संगमयुग के ब्राह्मण जीवन की विशेषता है ही सार रूप में स्थित हो – सदा सुख-शान्ति के, खुशी के, ज्ञान के, आनन्द के झूले में झूलना। सर्व प्राप्तियों के सम्पन्न स्वरूप के अविनाशी नशे में स्थित रहो। सदा चेहरे पर प्राप्ति ही प्राप्ति है, उस सम्पन्न स्थिति की झलक और फलक दिखाई दे। जब सिर्फ स्थूल धन से सम्पन्न विनाशी राजाई प्राप्त करने वाले राजाओं के चेहरे पर भी द्वापर के आदि में वह चमक थी। यहाँ तो अविनाशी प्राप्ति है। तो कितनी रूहानी झलक और फलक चेहरे से दिखाई देगी! ऐसे अनुभव करते हो? वा सिर्फ अनुभव सुन करके खुश होते हो! पाण्डव सेना विशेष है ना! पाण्डव सेना को देख हर्षित जरूर होते हैं। लेकिन पाण्डवों की विशेषता – सदा बहादुर दिखाते हैं, कमज़ोर नहीं। अपने यादगार चित्र देखे हैं ना। चित्रों में भी महावीर दिखाते हैं ना। तो बापदादा भी सभी पाण्डवों को विशेष रूप से, सदा विजयी, सदा बाप के साथी अर्थात् पाण्डवपति के साथी, बाप समान मास्टर सर्वशक्तिवान स्थिति में सदा रहें, यही विशेष स्मृति का वरदान दे रहे हैं। भले नये भी आये हो लेकिन हो तो कल्प पहले के अधिकारी आत्मायें इसलिए सदा अपने सम्पूर्ण अधिकार को पाना ही है – इस नशे और निश्चय में सदा रहना। समझा। अच्छा!

सदा सेकण्ड में बुद्धि को एकाग्र कर सर्व प्राप्ति को अनुभव कर, सदा सर्व शक्तियों को समय प्रमाण प्रयोग में लाते सदा एक बाप में सारा संसार अनुभव करने वाले, ऐसे सम्पन्न और समान श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

पार्टियों के साथ

1- अधरकुमारों के साथ:- ऐसा श्रेष्ठ भाग्य कभी अपने लिए सोचा था? कभी उम्मीद भी नहीं थी कि इतना श्रेष्ठ भाग्य हमें प्राप्त हो सकता है लेकिन नाउम्मीद आत्माओं को बाप ने उम्मीदवार बना दिया। नाउम्मीदी का समय अब समाप्त हो गया। अभी हर कदम में उम्मीद रहती है कि हमारी सफलता है ही। यह संकल्प तो नहीं आता कि पता नहीं होगी या नहीं होगी? किसी भी कार्य में चाहे स्वयं के पुरूषार्थ में, चाहे सेवा में, दोनों में नाउम्मीदी का संस्कार समाप्त हो जाए। कोई भी संस्कार चाहे काम का, चाहे लोभ का, चाहे अहंकार का, बदलने में नाउम्मीदी न आए। ऐसे नहीं मैं तो बदल ही नहीं सकता, यह तो बदलना बड़ा मुश्किल है। ऐसा संकल्प भी न आये क्योंकि अगर अभी नहीं खत्म करेंगे तो कब करेंगे? अभी दशहरा है ना। सतयुग में तो दीपमाला हो जायेगी। रावण को खत्म करने का दशहरा अभी है। इसमें सदा विजय का उमंग-उत्साह रहे। नाउम्मीदी के संस्कार नहीं। कोई भी मुश्किल कार्य इतना सहज अनुभव हो जैसे कोई बड़ी बात ही नहीं है क्योंकि अनेक बार कार्य कर चुके हैं। कोई नई बात नहीं कर रहे हैं। कई बार की हुई को रिपीट कर रहे हैं। तो सदा उम्मीदवार। नाउम्मीद का नामनिशान भी न रहे। कभी कोई स्वभाव-संस्कार में संकल्प न आये कि पता नहीं यह परिवर्तन होगा या नहीं होगा। सदा के विजयी, कभी-कभी के नहीं। अगर कोई स्वप्न में भी कमी हो तो उसको सदा के लिए समाप्त कर देना। नाउम्मीद को सदा के लिए उम्मीद में बदल देना। निश्चय अटूट है तो विजय भी सदा है। निश्चय में जब क्यों, क्या आता तो विजय अर्थात् प्राप्ति में भी कुछ न कुछ कमी पड़ जाती है तो सदा उम्मीदवार, सदा विजयी। नाउम्मीदों को सदाकाल के लिए उम्मीदों में बदलने वाले।

2- सदा अपने को संगमयुगी श्रेष्ठ आत्मायें, पुरूषोत्तम आत्मायें वा ब्राह्मण चोटी महान आत्मायें समझते हो? अभी से पुरूषोत्तम बन गये ना। दुनिया में और भी पुरूष हैं लेकिन उन्हों से न्यारे और बाप के प्यारे बन गये इसलिए पुरूषोत्तम बन गये। औरों के बीच में अपने को अलौकिक समझते हो ना! चाहे सम्पर्क में लौकिक आत्माओं के आते लेकिन उनके बीच में रहते हुए भी मैं अलौकिक न्यारी हूँ यह तो कभी नहीं भूलना है ना! क्योंकि आप बन गये हो हंस, ज्ञान के मोती चुगने वाले होलीहंस हो। वह हैं गन्द खाने वाले बगुले। वे गन्द ही खाते, गन्द ही बोलते… तो बगुलों के बीच में रहते हुए अपना होलीहंस जीवन कभी भूल तो नहीं जाते! कभी उसका प्रभाव तो नहीं पड़ जाता? वैसे तो उसका प्रभाव उन पर पड़ना चाहिए, उनका आप पर नहीं। तो सदा अपने को होलीहंस समझते हो? होलीहंस कभी भी बुद्धि द्वारा सिवाए ज्ञान के मोती के और कुछ स्वीकार नहीं कर सकते। ब्राह्मण आत्मायें जो ऊंच हैं, चोटी हैं वह कभी भी नीचे की बातें स्वीकार नहीं कर सकते। बगुले से होलीहंस बन गये। तो होलीहंस सदा स्वच्छ, सदा पवित्र। पवित्रता ही स्वच्छता है। हंस सदा स्वच्छ हैं सदा सफेद-सफेद। सफेद भी स्वच्छता वा पवित्रता की निशानी है। आपकी ड्रेस भी सफेद है। यह प्युरिटी की निशानी है। किसी भी प्रकार की अपवित्रता है तो होलीहंस नहीं। होलीहंस संकल्प भी अशुद्ध नहीं कर सकते। संकल्प भी बुद्धि का भोजन है। अगर अशुद्ध वा व्यर्थ भोजन खाया तो सदा तन्दरूस्त नहीं रह सकते। व्यर्थ चीज को फेंका जाता, इकट्ठा नहीं किया जाता इसलिए व्यर्थ संकल्प को भी समाप्त करो, इसी को ही होलीहंस कहा जाता है। अच्छा।

पाण्डवों से –  पाण्डव अर्थात् संकल्प और स्वप्न में भी हार न खाने वाले। विशेष यह स्लोगन याद रखना कि पाण्डव अर्थात् सदा विजयी। स्वप्न भी विजय का आये। इतना परिवर्तन करना। सभी जो बैठे हो विजयी पाण्डव हो। वहाँ जाकर हार खा ली, यह पत्र तो नहीं लिखेंगे। माया आ नहीं जाती लेकिन आप उसे खुद बुलाते हो। कमजोर बनना अर्थात् माया को बुलाना। तो किसी भी प्रकार की कमजोरी माया को बुलाती है। तो पाण्डवों ने क्या प्रतिज्ञा की? सदा विजयी रहेंगे। हार खाकरके छिपना नहीं, लेकिन सदा विजयी रहना। ऐसे प्रतिज्ञा करने वालों को सदा बापदादा की बधाई मिलती रहती है। सदा वाह-वाह के गीत बाप ऐसे बच्चों के लिए गाते रहते हैं। तो वाह-वाह के गीत सुनेंगे ना सभी। हार होगी तो हाय-हाय करेंगे, विजयी होंगे तो वाह-वाह करेंगे। सब विजयी, सारे ग्रुप में एक भी हार खाने वाला नहीं। अच्छा – ओम् शान्ति।

मास्टर दाता बनो (अव्यक्त महावाक्य)

बापदादा अब बच्चों से यही चाहते हैं कि हर एक बच्चा मास्टर दाता बनें। जो बाप से लिया है, वह औरों को दो। आत्माओं से लेने की भावना नहीं रखो। रहमदिल बन अपने गुणों का, शक्तियों का सबको सहयोग दो, फ्राकदिल बनो। जितना दूसरों को देते जायेंगे उतना बढ़ता जायेगा। विनाशी खजाना देने से कम होता है और अविनाशी खजाना देने से बढ़ता है-एक दो, हजार पाओ।

मास्टर दाता अर्थात् सदा भरपूर, सम्पन्न। जिसके पास अनुभूतियों का खजाना सम्पन्न होगा, वह सम्पन्न मूर्तियां स्वत: ही मास्टर दाता बन जाती हैं। दाता अर्थात् सेवाधारी। दाता देने के बिना रह नहीं सकते। वे अपने रहमदिल के गुण से किसी को हिम्मत देंगे तो किसी निर्बल आत्मा को बल देंगे। वह मास्टर सुखदाता होंगे। सदा यह स्मृति रहे कि हम सुखदाता के बच्चे मास्टर सुखदाता हैं। जो दाता हैं, उसके पास है तभी तो देंगे। यदि किसके पास अपने खाने के लिए ही नहीं हो, तो वह दाता कैसे बनेंगे इसलिए जैसा बाप वैसे बच्चे। बाप को सागर कहते हैं। सागर अर्थात् बेहद, खुटता नहीं। ऐसे आप भी मास्टर सागर हो, नदी-नाले नहीं। तो बाप समान नि:स्वार्थ भावना से देते जाओ। अशान्ति के समय पर मास्टर शान्ति-दाता बन औरों को भी शान्ति दो, घबराओ नहीं, क्योंकि जानते हो कि जो हो रहा है वो भी अच्छा और जो होना है वह और अच्छा। विकारों के वशीभूत मनुष्य तो लड़ते ही रहेंगे। उनका काम ही यह है। लेकिन आपका काम है-ऐसी आत्माओं को शान्ति देना क्योंकि विश्व कल्याणकारी हो। विश्व-कल्याणकारी आत्मायें सदा मास्टर दाता बन देती रहती हैं। हर एक को सहयोग, स्नेह, सहानुभूति देना ही लेना है।

वर्तमान समय में सभी को अविनाशी खुशी की आवश्यकता है, सब खुशी के भिखारी हैं और आप दाता के बच्चे हो। दाता के बच्चों का काम है-देना। जो भी सम्बन्ध-सम्पर्क में आये-खुशी बांटते जाओ, देते जाओ। कोई खाली नहीं जाये, इतना भरपूर बनो। अब सारे विश्व की आत्मायें सुख-शान्ति की भीख मांगने के लिये आपके सामने आने वाली हैं। आप दाता के बच्चे मास्टर दाता बन सबको मालामाल करेंगे। तो पहले से स्वयं के भण्डारे सर्व खजानों से भरपूर करते जाओ। आप श्रेष्ठ आत्मायें संगम पर अखुट और अखण्ड महादानी बनो। निरन्तर स्मृति में रखो कि मैं दाता का बच्चा अखण्ड महादानी आत्मा हूँ। कोई भी आत्मा आपके सामने आये चाहे अज्ञानी हो, चाहे ब्राह्मण हो लेकिन कुछ न कुछ सबको देना है। राजा का अर्थ ही है दाता। तो एक सेकण्ड भी दान देने के बिना रह नहीं सकते। ब्राह्मण आत्माओं के पास ज्ञान तो पहले ही है लेकिन उनके प्रति दो प्रकार से दाता बनो:- 1- जिस आत्मा को, जिस शक्ति की आवश्यकता हो, उस आत्मा को मन्सा द्वारा अर्थात् शुद्ध वृत्ति, वायब्रेशन्स द्वारा शक्तियों का दान अर्थात् सहयोग दो। 2- कर्म द्वारा सदा स्वयं जीवन में गुण मूर्त बन, प्रत्यक्ष सैम्पल बन औरों को सहज गुण धारण करने का सहयोग दो। दान का अर्थ है सहयोग देना।

वर्तमान समय आपस में विशेष कर्म द्वारा गुणदाता बनने की आवश्यकता है। तो संकल्प करो कि मुझे सदा गुण मूर्त बन सबको गुण मूर्त बनाने का विशेष कर्तव्य करना ही है। ज्ञान तो बहुत है, अभी गुणों को इमर्ज करो, सर्वगुण सम्पन्न बनने और बनाने का एग्जाम्पल बनो। दाता के बच्चे हो तो जिसे जो चाहिए वह देते चलो। कोई भी खाली नहीं जाये। अथाह ख़ज़ाना है। किसी को खुशी चाहिये, स्नेह चाहिये, शक्ति चाहिए, तो देते जाओ। अब आप बच्चों में यह शुभ संकल्प इमर्ज हो कि दाता के बच्चे बन सभी आत्माओं को वर्सा दिलाने के निमित्त बनें, कोई वंचित नहीं रहे। चाहे कोई कैसा भी है लेकिन बाप का तो है। आप दाता के बच्चे हो तो फ्राकदिली से बांटो। जो अशान्ति, दु:ख में भटक रहे हैं वो आपका परिवार हैं। परिवार को सहयोग दिया जाता है। तो वर्तमान समय महादानी बनने के लिये विशेष रहमदिल के गुण को इमर्ज करो। किसी से भी लेने की इच्छा नहीं रखो कि वो अच्छा बोले, अच्छा माने तो दें। नहीं। मास्टर दाता बन वृत्ति द्वारा, वायब्रेशन्स द्वारा, वाणी द्वारा देते जाओ। बेहद के दाता बन वर्ल्ड के गोले पर खड़े हो, बेहद की सेवा में वायब्रेशन फैलाओ। महान दाता बनो। बेहद में जाओ तो हदों की बातें स्वत: समाप्त हो जायेंगी। अच्छा।

वरदान:- पवित्रता की विशेष धारणा द्वारा अतीन्द्रिय सुख का अनुभव करने वाले ब्रह्माचारी भव 
ब्राह्मण जीवन की विशेष धारणा पवित्रता है, यही निरन्तर अतीन्द्रिय सुख और स्वीट साइलेन्स का विशेष आधार है। पवित्रता सिर्फ ब्रह्मचर्य नहीं लेकिन ब्रह्मचारी और सदा ब्रह्माचारी अर्थात् ब्रह्मा बाप के आचरण पर हर कदम चलने वाले। संकल्प, बोल और कर्म रूपी कदम ब्रह्मा बाप के कदम ऊपर कदम हो, ऐसे जो ब्रह्माचारी हैं उनका चेहरा और चलन सदा ही अन्तर्मुखी और अतीन्द्रिय सुख की अनुभूति करायेगा।
स्लोगन:- सेवा में त्रिकालदर्शी का सेन्स और रुहानियत का इसेन्स भरने वाले ही सर्विसएबुल हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize