today murli 7 February

TODAY MURLI 7 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 February 2019 :- Click Here

07/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, one way to become pure is with the power of remembrance and the other way is with the power of punishment. You have to become pure with the power of remembrance and claim a high status.
Question: The Father is the spiritual Surgeon. What type of patience has He come to give you?
Answer: Just as those surgeons reassure their patients and give them patience, saying that they will soon get better, in the same way, the spiritual Surgeonalso reassures you children: Children, don’t be afraid of the illness of Maya. The Surgeon is giving you medicine which will bring out all those illnesses. Thoughts you never had on the path of ignorance will also come. However, you have to tolerate everything. Make a little effort. Your days of happiness are now almost here.

Om shanti. The unlimited Father explains to all you children. You have to make sure the message that the Father has now come reaches everyone. The Father is giving you patience because on the path of devotion you called out: Baba, come and liberate us and free us from sorrow. The Father reassures you that only a few more days remain. When someone is recovering from an illness, they reassure him that he will now be OK. You children also understand that only a few more days remain in this dirty world and that you will then go to the new world. You have to become worthy of that. Then none of the illnesses etc. will trouble you. The Father gives you patience and says: Make a little effort. No one else can give you patience like that. You have become tamopradhan. The Father has now come to make you satopradhan once again. Now, all souls have to become pure: some with the power of yoga and others with the power of punishment: there is also the power of punishment. The status of those who become pure through punishment will be reduced. You children continue to receive shrimat. The Father says: Constantly remember Me alone and all your sins will be burnt away. If you don’t stay in remembrance, your sins will increase a hundred times because you have defamed Me by becoming sinful souls. People would say: Does God give them such directions that they have devilish behaviour? There are ups and downs. Children are defeated. Even good children are defeated, and so their sins are not cut away. Then that has to be suffered. This is a very dirty world and everything continues to happen here. You call out to the Father: Baba, come and show us the path to the future new world. Baba knows that, on this side, there is the old world and that on the other side, there is the new world. You are boats. You are now moving along to become the most elevated human beings. Your anchors have been raised from the old world. You have to remember the home to where you have to go. The Father has said: By remembering Me, your rust will be removed. There is either the power of yoga or the power of punishment. Every soul definitely has to become pure. No one can go back home without becoming pure. Everyone has received his own part. The Father says: This is your final birth. People say that the iron age is still in its infancy. This means that people will become even more unhappy than they are now. You Brahmins of the confluence age understand that this land of sorrow is now to end. The Father is giving you patience. The Father also said in the previous cycle: Constantly remember Me alone and the rust of your sins will be removed. I guarantee you this. He also explains that the iron age will definitely be destroyed and that the golden age will definitely come. You receive this guarantee. You children also have faith, but, because of not staying in remembrance, you perform one sinful act or another. You say: Baba, I become angry. That is also called an evil spirit. The five vices in this kingdom of Ravan cause sorrow. The karmic accounts of the end also have to be settled. This illness of lust emerges in those who were never troubled by the vice of lust previously. They say: I never had such bad thoughts before. So, why are they troubling me now? This is knowledge. Knowledge makes all the illnesses emerge. Devotion doesn’t make all the illnesses emerge. This is an impure, vicious world; there is 100% impurity. From being 100% impure you now have to become 100% pure. From being 100% corrupt the world has to become 100% pure and elevated. The Father says: I have come to take you children to the land of peace and the land of happiness. Remember Me and spin the world cycle. Do not perform any sinful acts. Imbibe the virtues that those deities had. Baba doesn’t cause you any difficulty. In some homes they have evil souls who set everything on fire and cause a lot of damage. At this time all human beings are evil. There is the suffering of karma in a physical way too. Souls cause one sorrow or another through bodies. Even if a soul doesn’t have a body he can still cause sorrow. Children have seen that which you call a ghost , like a white shadow. However, you mustn’t think about that. The more you remember the Father, the more all of that will end. Those are also karmic accounts. Daughters at home say that they want to remain pure. It is the soul that says this. Those who don’t have knowledge say: Don’t remain pure. Then there is a quarrel. There is then so much upheaval. You are now becoming pure souls. Those souls are impure and so they cause sorrow. They too are souls. They are called evil souls. They cause sorrow with bodies and also without bodies. Knowledge is easy. You have to become spinners of the discus of self-realisation. However, the main thing is purity. For this, you have to remember the Father with great happiness. Ravan is said to be evil. At this time, this world is evil. They continue to receive many types of sorrow from one another. Those who are impure are called evil. There are many types of the five vices in impure souls. Some have the habit of lust, some have the habit of anger, some have the habit of distressing others, and some have the habit of causing damage. Those who have the habit of lust become angry and would even hit someone if they don’t get it. This world is like that. Therefore, the Father comes and gives you patience: O souls, have patience! Continue to remember Me and also imbibe divine virtues. He doesn’t tell you not to do your business etc. Similarly, those in the military have to go into battle. They are told to stay in remembrance of Shiv Baba. They take the words of the Gita and believe that if they die on a battlefield they will go to heaven. This is why they go happily into battle. However, it is not like that. Baba now says: You can go to heaven, just simply remember Shiv Baba. You have to remember the one Shiv Baba and you will definitely go to heaven. Whoever comes, even if they become impure by going back, they will definitely go to heaven. They will experience punishment, become pure and then definitely go there. The Father is merciful. The Father explains: Don’t perform any sinful acts and you will become conquerors of sinful acts. This Lakshmi and Narayan are conquerors of sinful actions. Then, in the kingdom of Ravan, they also become those who commit sin. The era of King Vikram begins. People don’t know anything at all. You children now know how Lakshmi and Narayan became conquerors of sin. It would be said: There were the number one conquerors of sin, and then, after 2500 years, the era of those who perform sinful actions began. There is the story of the king who conquered attachment. The Father says: Become a conqueror of attachment. Constantly remember Me alone and your sins will be cut away. By becoming pure you can erase the sins that you have committed over 2500 years and make yourself satopradhan in these 50 to 60 years. If you don’t have the power of yoga, you will receive a number at the back. The rosary is very big. The rosary of Bharat is special. The whole play depends on this. The main thing in this is the pilgrimage of remembrance. There is no other difficulty in this. On the path of devotion, their intellects’ yoga is connected to many. All of them are the creation. No one can be benefited by having remembrance of them. The Father says: Do not remember anyone. Just as on the path of devotion you simply used to perform devotion, so now, at the end, remember Me alone. The Father explains to you so clearly. Previously, you didn’t know this. You have now received knowledge. The Father says: Break away from everyone else and connect yourself to the One and, with fire of Yoga your sins will be burnt. You have been committing a lot of sin. You have been using the sword of lust. You have been causing one another sorrow from its beginning through the middle to the end. The main thing is the sword of lust. That too is in the drama. You cannot ask why such a drama was created. This play is eternal. I also have a part in it. You cannot even ask when the drama was created or when it will end. A part is recorded in the soul. The plate of a soul never wears out. A soul is imperishable and has an imperishable part. The drama is also said to be imperishable. The Father who doesn’t take rebirth comes and explains all the secrets to you. No one else can explain to you the secrets of the beginning, middle and end of the world. They neither know the occupation of the Father nor of souls. The world cycle continues to turn. It is now the most auspicious confluence age when all human beings become elevated. In the land of peace, all souls are pure and elevated. The land of peace is the pure world. The new world is also pure. There is peace there. Then when you receive a body you play your part. We know that each one has received his own part. That is our home. We stay there in peace. We have to play our parts here. The Father now says: On the path of devotion, when you worshipped Me in an unadulterated way, you were not unhappy. Now that there is adulterated devotion you have become unhappy. The Father says: Now adopt divine virtues. So, why are there still devilish traits? You have called out to the Father to come and make you pure, so why do you become impure? In that too, you definitely have to conquer the main vice of lust and you will then become conquerors of the world. People say of God: He is a worshipper and He is worthy of worship. That means they bring Him down. By such sins being committed, the world has become greatly vicious. In the Garuda Purana they speak of the extreme depths of hell where scorpions and lizards bite. Look what they have sat and written in the scriptures! The Father has explained: All the scriptures etc. also belong to the path of devotion. No one can meet Me through those. They have become even more tamopradhan. This is why they call out to Me to come and make them pure which means they are impure. People don’t understand anything at all. Those whose intellects have faith become victorious. They gain victory over Ravan and go into the kingdom of Rama. The Father says: Conquer lust. There is upheaval because of this. They say: Why should we renounce nectar and drink poison? When they hear the name ‘nectar’ they think that it emerges from the Gaumukh (cow’s mouth). The water of the Ganges cannot be called nectar. It refers to the nectar of knowledge. A wife washes the feet of her husband and drinks that water considering it to be nectar. If that were nectar she would become like a diamond. The Father gives you this knowledge through which you become like diamonds. They have glorified water so much. You give the nectar of knowledge to drink and they give water. No one knows about you Brahmins. They speak of the Kauravas and the Pandavas, but they don’t consider the Pandavas to be Brahmins. These words are not mentioned in the Gita so they do not consider the Pandavas to be Brahmins. The Father sits here and explains the essence of all the scriptures. He says to you children: J udge between what you have studied in the scriptures and what I tell you. You know that whatever you heard previously was wrong and that you are now listening to that which is right. The Father has explained: All of you are Sitas, devotees. It is only Rama, God, who gives the fruit of devotion. He says: I come to give the fruit. You know that you experience infinite happiness in heaven. At that time, all the rest are in the land of peace. They do receive peace. There, in that world, there was happiness, peace and purity; there was everything. You explain that when there was just the one religion in the world, there was peace but, nevertheless, they don’t understand. Hardly anyone stays here. At the end, many will come. Where else would they go? This is the only shop. When a shopkeeper has good things to sell, he has them at a fixed rate. This is Shiv Baba’s shop. He is incorporeal. Brahma is also definitely needed. You are called Brahma Kumars and Kumaris. You are not called Shiv Kumaris. Brahmins are also definitely needed. How could you become deities without becoming Brahmins? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to imbibe virtues like those of the deities. The evil sanskars you have in you, such as the habit of anger etc., have to be removed. You have to become conquerors of sin. Therefore, don’t perform any sinful actions.
  2. In order to become as elevated as diamonds, drink and give others to drink the nectar of knowledge. Gain total victory over the vice of lust. Make yourself satopradhan. Settle all your old karmic accounts with the power of remembrance.
Blessing: May you be a soul who experiments with the facilities and becomes victorious over them with the spiritual endeavour of easy yoga.
While having facilities and experimenting with them, let your stage of yoga not fluctuate. To be a yogi and to experiment is called being detached. Being instrument while having everything, free yourself from any attraction to it and experiment with it. If you have any desires, those desires will not let you become good and your time will be spent in making effort. At that time, even though you will try to maintain your spiritual endeavour, the facilities will attract you. Therefore, be a soul who experiments and with the spiritual endeavour of easy yoga, be victorious over the facilities, that is, over matter.
Slogan: To remain content and make everyone content is to be a jewel of contentment.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 7 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 February 2019

To Read Murli 6 February 2019 :- Click Here
07-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – पावन बनने के लिए एक है याद का बल, दूसरा है सजाओं का बल, तुम्हें याद के बल से पावन बन ऊंच पद पाना है”
प्रश्नः- बाप रूहानी सर्जन है, वह तुम्हें कौन-सा धीरज देने आये हैं?
उत्तर:- जैसे वह सर्जन रोगी को धीरज देते हैं कि अभी बीमारी ठीक हो जायेगी, ऐसे रूहानी सर्जन भी तुम बच्चों को धीरज देते हैं – बच्चे, तुम माया की बीमारी से घबराओ नहीं, सर्जन दवा देते हैं तो यह बीमारियां सब बाहर निकलेंगी, जो ख्यालात अज्ञान में भी नहीं आये होंगे, आयेंगे। लेकिन तुम्हें सब सहन करना है। थोड़ा मेहनत करो, तुम्हारे अब सुख के दिन आये कि आये।

ओम् शान्ति। बेहद का बाप सभी बच्चों को समझाते हैं – तुम सबको पैगाम पहुँचाना है कि अब बाप आये हैं। बाप धीरज दे रहे हैं क्योंकि भक्ति मार्ग में बुलाते हैं – बाबा आओ, लिबरेट करो, दु:ख से छुड़ाओ। तो बाप धीरज देते हैं, बाकी थोड़े रोज़ हैं। कोई की बीमारी छूटने पर होती है तो कहते हैं अब ठीक हो जायेगी। बच्चे भी समझते हैं कि इस छी-छी दुनिया में बाकी थोड़ा रोज़ हैं फिर हम नई दुनिया में जायेंगे। उसके लिए हमको लायक बनना है फिर कोई भी रोग आदि तुमको नहीं सतायेंगे। बाप धैर्य देकर कहते हैं – थोड़ी मेहनत करो। और कोई नहीं जो ऐसे धीरज दे। तुम ही तमोप्रधान हो गये हो। अब बाप आये हैं तुमको फिर से सतोप्रधान बनाने के लिए। अभी सभी आत्मायें पवित्र बन जायेंगी – कोई योगबल से, कोई सजाओं के बल से। सज़ाओं का भी बल है ना। सजाओं से जो पवित्र बनेंगे उनका पद कम हो जायेगा। तुम बच्चों को श्रीमत मिलती रहती है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो, तुम्हारे सब पाप भस्म हो जायेंगे। अगर याद नहीं करेंगे तो पाप सौ गुणा बन जायेगा क्योंकि पाप आत्मा बन तुम मेरी निंदा कराते हो। मनुष्य कहेंगे इनको ईश्वर ऐसी मत देते हैं जो आसुरी चलन दिखाते हैं! लाही-चाढ़ी (उतराव-चढ़ाव) भी होता है ना। बच्चे हार भी खाते हैं। अच्छे-अच्छे बच्चे भी हार खाते हैं। तो पाप कटते ही नहीं हैं। फिर भोगना भी पड़ता है। यह बहुत छी-छी दुनिया है, इसमें सब कुछ होता रहता है। बाप को बुलाते ही हैं कि बाबा आकर हमको भविष्य नई दुनिया के लिए रास्ता बताओ। बाबा जानते हैं – उस तरफ है पुरानी दुनिया, इस तरफ है नई दुनिया। तुम हो नैया। अब तुम पुरुषोत्तम बनने के लिए चल रहे हो। तुम्हारा इस पुरानी दुनिया से लंगर उठ गया है। तो जहाँ जा रहे हो उस घर को ही याद करना है। बाप ने कहा है मेरे को याद करने से तुम्हारी कट उतरेगी। या तो है योगबल या सजायें। हरेक आत्मा पवित्र तो जरूर बननी है। पवित्र बनने बिगर वापिस तो कोई जा नहीं सकते। सबको अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। बाप कहते हैं यह है तुम्हारा अन्तिम जन्म। मनुष्य कहते हैं कलियुग अजुन छोटा बच्चा है। गोया मनुष्य अभी इससे भी और दु:खी होंगे। तुम संगमयुगी ब्राह्मण समझते हो यह दु:खधाम तो अभी ख़त्म होना है। बाप धीरज देते हैं। कल्प पहले बाप ने कहा था मामेकम्, मुझे याद करो तो पापों की कट उतर जायेगी। यह मैं गैरन्टी करता हूँ। यह भी समझाते हैं कलियुग का विनाश जरूर होना है और सतयुग भी जरूर आना है। ख़ातिरी मिलती है, बच्चों को निश्चय भी है। परन्तु याद न ठहरने के कारण कोई न कोई विकर्म कर लेते हैं। कहते हैं बाबा क्रोध आ जाता है, इसको भी भूत कहा जाता है। 5 भूत दु:ख देते हैं इस रावण राज्य में। यह पिछाड़ी का हिसाब-किताब भी चुक्तू करना है, जिनको आगे कभी काम विकार नहीं सताता था, उनको भी बीमारी इमर्ज हो जाती है। कहते हैं आगे तो ऐसा विकल्प कभी नहीं आया, अब क्यों सताता है? यह ज्ञान है ना। ज्ञान सारी बीमारी को बाहर निकालता है। भक्ति सारी बीमारी को नहीं निकालती। यह है ही अशुद्ध विकारी दुनिया, 100 परसेन्ट अशुद्धता है। 100 परसेन्ट पतित से फिर 100 परसेन्ट पावन होना है। 100 परसेन्ट भ्रष्टाचारी से 100 परसेन्ट पावन श्रेष्ठाचारी दुनिया बननी है।

बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुम बच्चों को शान्तिधाम-सुखधाम ले चलने के लिए। तुम मुझे याद करो और सृष्टि चक्र को फिराओ। कोई भी विकर्म नहीं करो। जो गुण इन देवताओं में हैं ऐसे गुण धारण करने हैं। बाबा कोई तकल़ीफ नहीं देते हैं। कोई-कोई घरों में भी इविल सोल होती हैं तो आग लगा देती है, नुकसान करती है। इस समय मनुष्य ही सब इविल हैं ना। स्थूल में भी कर्मभोग होता है। आत्मा एक-दो को दु:ख देती है शरीर द्वारा, शरीर नहीं है तो भी दु:ख देती है। बच्चों ने देखा है जिसको घोस्ट कहते हैं वह सफेद छाया मुआफिक देखने में आते हैं। परन्तु उनका कुछ ख्याल नहीं करना होता है। तुम जितना बाप को याद करेंगे उतना यह सब ख़त्म होते जायेंगे। यह भी हिसाब-किताब है ना।

घर में बच्चियां कहती हैं – हम पवित्र रहना चाहती हैं। यह आत्मा कहती है। और जिनमें ज्ञान नहीं है, वह कहते हैं पवित्र नहीं बनो। फिर झगड़ा हो पड़ता है। कितना हंगामा होता है। अब तुम पवित्र आत्मा बन रहे हो। वह हैं अपवित्र, तो दु:ख देते हैं। हैं तो आत्मा ना। उनको कहा जाता है इविल आत्मा। शरीर से भी, तो बिगर शरीर भी दु:ख देते हैं। ज्ञान तो सहज है। स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। बाकी मुख्य है पवित्रता की बात। इसके लिए बाप को खुशी से याद करना है। रावण को इविल कहेंगे ना। इस समय यह दुनिया है ही इविल। एक-दो से अनेक प्रकार के दु:ख पाते रहते हैं। इविल पतित को कहा जाता है। पतित आत्मा में भी 5 विकार अनेक प्रकार के होते हैं। कोई में विकार की आदत, कोई में क्रोध की आदत, कोई में तंग करने की आदत, कोई में नुकसान करने की आदत होती है। कोई में विकार की आदत होगी तो विकार न मिलने कारण क्रोध में आकर बहुत मारते भी हैं। यह दुनिया ही ऐसी है। तो बाप आकर धीरज देते हैं – हे आत्मायें, बच्चों धीरज धरो, मुझे याद करते रहो और दैवीगुण भी धारण करो। ऐसे भी नहीं कहते हैं कि धन्धा आदि नहीं करो। जैसे मिलेट्री वालों को लड़ाई में जाना पड़ता है तो उन्हों को भी कहा जाता है शिवबाबा की याद में रहो। गीता के अक्षरों को उठाए वह समझते हैं हम युद्ध के मैदान में मरेंगे तो स्वर्ग में जायेंगे इसलिए खुशी से लड़ाई में जाते हैं। परन्तु वह तो बात ही नहीं। अब बाबा कहते हैं तुम स्वर्ग में जा सकते हो सिर्फ शिवबाबा को याद करो। याद तो एक शिवबाबा को ही करना है तो स्वर्ग में जरूर जायेंगे। जो भी आते हैं भल फिर जाकर पतित बनते हैं तो भी स्वर्ग में जरूर आयेंगे। सजायें खाकर, पावन बनकर फिर भी आयेंगे जरूर। बाप रहमदिल है ना। बाप समझाते हैं कोई विकर्म न करो तो विकर्माजीत बनेंगे। यह लक्ष्मी-नारायण विकर्माजीत हैं ना। फिर रावण राज्य में विकर्मी बन जाते हैं। विक्रम संवत शुरू होता है ना। मनुष्यों को तो कुछ भी पता नहीं है। तुम बच्चे अभी जानते हो यह लक्ष्मी-नारायण विकर्माजीत बने हैं। कहेंगे विकर्माजीत नम्बरवन फिर 2500 वर्ष के बाद विक्रम संवत शुरू होता है। मोहजीत राजा की कहानी है ना। बाप कहते हैं नष्टोमोहा बनो। मामेकम् याद करो तो पाप कटेंगे। जो 2500 वर्ष में पाप हुए है वह 50-60 वर्ष में तुम स्वयं को सतोप्रधान बना सकते हो। अगर योगबल नहीं होगा तो फिर नम्बर पीछे हो जायेंगे। माला तो बहुत बड़ी है। भारत की माला तो ख़ास है। जिस पर ही सारा खेल बना हुआ है। इसमें मुख्य है याद की यात्रा, और कोई तकलीफ नहीं है। भक्ति में तो अनेकों से बुद्धियोग लगाते हैं। यह सब है रचना। उनकी याद से किसका भी कल्याण नहीं होगा। बाप कहते हैं किसको भी याद नहीं करो। जैसे भक्ति मार्ग में पहले सिर्फ तुम भक्ति करते थे अब फिर पिछाड़ी में भी मुझे याद करो। बाप कितना क्लीयर समझाते हैं। आगे थोड़ेही जानते थे। अभी तुमको ज्ञान मिला है। बाप कहते हैं और संग तोड़ एक संग जोड़ो तो योग अग्नि से तुम्हारे पाप भस्म हो जायेंगे। पाप तो बहुत करते आये हो। काम कटारी चलाते हो। एक-दो को आदि-मध्य-अन्त दु:ख देते आये हो। मूल बात है काम कटारी की। यह भी ड्रामा है ना। ऐसे भी नहीं कहेंगे ऐसा ड्रामा क्यों बना? यह तो अनादि खेल है। इसमें मेरा भी पार्ट है। ड्रामा कब बना, कब पूरा होगा – यह भी नहीं कह सकते। यह तो आत्मा में पार्ट भरा हुआ है। आत्मा की जो प्लेट है वह कब घिसती नहीं है। आत्मा अविनाशी है, उसमें पार्ट भी अविनाशी है। ड्रामा भी अविनाशी कहा जाता है। बाप जो पुनर्जन्म में नहीं आते हैं वो ही आकर सब राज़ समझाते हैं। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ कोई भी नहीं समझा सकते। न बाप का आक्यूपेशन, न आत्मा का, कुछ भी जानते नहीं। यह सृष्टि का चक्र फिरता ही रहता है।

अब पुरुषोत्तम संगमयुग है, जब सब मनुष्यमात्र उत्तम पुरुष बन जाते हैं। शान्तिधाम में सब आत्मायें पवित्र उत्तम बन जाती हैं। शान्तिधाम पावन है ना। नई दुनिया भी पवित्र है। वहाँ शान्ति तो है ही, फिर शरीर मिलने से पार्ट बजाते हैं। यह हम जानते हैं, हरेक को पार्ट मिला हुआ है। वह हमारा घर है, शान्ति में रहते हैं। यहाँ तो पार्ट बजाना है। अब बाप कहते हैं भक्ति मार्ग में तुमने मेरी अव्यभिचारी पूजा की। दु:खी नहीं थे। अभी व्यभिचारी भक्ति में आने से तुम दु:खी बन पड़े हो। अब बाप कहते हैं दैवी गुण धारण करो फिर भी आसुरी गुण क्यों? बाप को बुलाया कि हमको आकर पावन बनाओ। फिर पतित क्यों बनते हो? उसमें भी ख़ास काम को जरूर जीतना है तो तुम जगतजीत बनेंगे। मनुष्य तो भगवान् के लिए कह देते हैं आपेही पूज्य आपेही पुजारी। गोया उनको नीचे ले आते हैं। ऐसे पाप करते-करते महा-विकारी दुनिया बन जाती है। गरुड़ पुराण में भी रौरव नर्क कहते हैं, जहाँ बिच्छू टिण्डन सब काटते रहते हैं। शास्त्रों में क्या-क्या बैठ दिखाया है। यह भी बाप ने समझाया है यह शास्त्र आदि सब भक्ति मार्ग के हैं। इनसे कोई भी मेरे साथ नहीं मिलते हैं। और ही तमोप्रधान बन पड़े हैं इसलिए मुझे बुलाते हैं कि आकर पावन बनाओ तो पतित ठहरे ना। मनुष्य तो कुछ भी समझते नहीं हैं। जो निश्चय बुद्धि हैं वह तो विजयी हो जाते हैं। रावण पर विजय पाकर रामराज्य में आ जाते हैं। बाप कहते हैं काम पर जीत पाओ, इस पर ही हंगामा होता है। गाते हैं अमृत छोड़ विष क्यों खाते हो? अमृत नाम सुनकर समझते हैं गऊमुख से अमृत निकलता है। अरे, गंगा जल को थोड़ेही अमृत कहा जाता है। यह तो ज्ञान अमृत की बात है। स्त्री पति के चरण धोकर पीती है, उनको भी अमृत समझते हैं। अगर अमृत है तो फिर हीरे समान बनें ना। यह तो बाप ज्ञान देते हैं जिससे तुम हीरे जैसा बनते हो। पानी का नाम कितना बाला कर दिया है। तुम ज्ञान अमृत पिलाते वह पानी पिलाते हैं। तुम ब्राह्मणों का किसको भी पता नहीं है। वह कौरव-पाण्डव कहते हैं परन्तु पाण्डवों को ब्राह्मण थोड़ेही समझते हैं। गीता में ऐसे अक्षर हैं नहीं, जो पाण्डवों को ब्राह्मण समझें। बाप बैठ सब शास्त्रों का सार समझाते हैं। बच्चों को कहते हैं शास्त्रों में जो कुछ पढ़ा है और जो कुछ मैं सुनाता हूँ उसको जज करो। तुम जानते हो आगे हम जो सुनते थे वह रांग था, अब राइट सुनते हैं।

बाप ने समझाया है तुम सब सीतायें अथवा भक्तियां हो। भक्ति का फल देने वाला है राम भगवान्। कहते हैं मैं आता हूँ फल देने। तुम जानते हो हम स्वर्ग में अपार सुख भोगते हैं। उस समय बाकी सब शान्तिधाम में रहते हैं। शान्ति तो मिलती है ना। वहाँ विश्व में सुख-शान्ति-पवित्रता सब-कुछ है। तुम समझाते हो जबकि विश्व में एक धर्म था तब ही शान्ति थी। फिर भी समझते नहीं हैं। ठहरता कोई मुश्किल है। पिछाड़ी में बहुत आयेंगे। जायेंगे कहाँ! यह एक ही हट्टी है। जैसे दुकानदार की चीज़ अच्छी होती है तो दाम एक होता है। यह तो शिवबाबा की हट्टी है, वह है निराकार। ब्रह्मा भी जरूर चाहिए। तुम कहलाते हो ब्रह्माकुमार-कुमारियां। शिव कुमारियां तो नहीं कहला सकते हो। ब्राह्मण भी जरूर चाहिए। ब्राह्मण बनने बिगर देवता कैसे बनेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देवताओं जैसे गुण स्वयं में धारण करने हैं, अन्दर जो भी ईविल संस्कार हैं, क्रोध आदि की आदत है, उसे छोड़ना है। विकर्माजीत बनना है इसलिए अब कोई भी विकर्म नहीं करना है।

2) हीरे समान श्रेष्ठ बनने के लिए ज्ञान अमृत पीना और पिलाना है। काम विकार पर सम्पूर्ण विजय पानी है। स्वयं को सतोप्रधान बनाना है। याद के बल से सब पुराने हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं।

वरदान:- सहज योग की साधना द्वारा साधनों पर विजय प्राप्त करने वाले प्रयोगी आत्मा भव
साधनों के होते, साधनों को प्रयोग में लाते योग की स्थिति डगमग न हो। योगी बन प्रयोग करना इसको कहते हैं न्यारा। होते हुए निमित्त मात्र, अनासक्त रूप से प्रयोग करो। अगर इच्छा होगी तो वह इच्छा अच्छा बनने नहीं देगी। मेहनत करने में ही समय बीत जायेगा। उस समय आप साधना में रहने का प्रयत्न करेंगे और साधन अपनी तरफ आकर्षित करेंगे इसलिए प्रयोगी आत्मा बन सहजयोग की साधना द्वारा साधनों के ऊपर अर्थात् प्रकृति पर विजयी बनो।
स्लोगन:- स्वयं सन्तुष्ट रह, सबको सन्तुष्ट करना ही सन्तुष्टमणि बनना है।

TODAY MURLI 7 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 7 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 6 February 2018 :- Click Here

07/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to live like milk and sugar and not have any conflict. Renounce any bad habits you may have. Don’t cause anyone sorrow.
Question: What mercy must you definitely have for yourself in order to claim a high status for birth after birth?
Answer: Look within yourself and remove any bad habits such an anger etc. or any vices from yourself. Stay together like milk and sugar. Follow the shrimat of the One. Don’t have any conflict. Don’t listen to or speak of evil things. All of this means to have mercy for yourself. It is through this that you receive a high status for birth after birth. Those who don’t have mercy for themselves cross out their line of happiness for 21 births.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. You children heard Shiv Baba’s praise. Who sings this praise and who knows it? Only the decoration of the Brahmin clan, that is, those who are the community of the new world, the ones who the Supreme Father, the Supreme Soul, has made belong to Him and been given a new birth know this because they are the first ones to take birth through Brahma in this world. You first took birth to the Supreme Father, the Supreme Soul, and so He is the One who supports everyone. He is the One who supports the whole world; He is the One who removes all sorrow. People are very unhappy because it is now the end of the iron age. Therefore, He becomes the One who supports everyone. Nevertheless, there are the terms, ‘in general’ and ‘in particular’. So, He especially helps Bharat and, in that too, He comes and meets those who are in the last of their many births, that is, those who come into this world first. You children know how He comes and becomes the One who supports everyone. Devotees remember God, but they don’t know God. Since they don’t know God, they don’t even know the new, mouth-born Brahmin creation that He creates. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes and first of all creates the Brahmin community. No one knows this. The original, eternal deity religion exists in the golden age. However, people have forgotten the confluence age because they have portrayed the God of the Gita as existing in the copper age. Neither do they know about the confluence between the end of the iron age and the beginning of the golden age nor do they know the God of the Gita. The Gita is the mother and father of all the scriptures. It isn’t that it is the mother and father of the scriptures of only Bharat; no. It is the mother and father of all the main scriptures of the world. God speaks: I come and once again teach you easy Raja Yoga, which they have called the Gita. So, I too have to say: I am teaching the new Gita. The old Gita has been falsified. God Himself sits here and speaks this through His lotus mouth. You have the remembrance of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, in your intellects. He is the Creator of heaven, the One who supports everyone. Krishna cannot be called the One who supports everyone. God, the Creator of the world, is only One. Krishna is himself a creation; he is a first-class flower of the garden. The Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Master of the Garden and also the Boatman. People cannot understand how He is the Boatman. He truly takes us away from this tasteless world and then sends us to the new world there. He creates the flower garden here. All the children who have become devotees were originally the children of God. Maya causes them a lot of sorrow. There is only one God. He definitely gives happiness to all the devotees. Someone who gives happiness to another person is remembered. A wife remembers her husband, a child remembers his father and a friend remembers a friend. Surely, they must have given happiness. A friend who gives happiness is loved more than a brother. Therefore, only the One who gives happiness is remembered. Now, all human beings of the whole world are devotees. The 84 births of human beings are remembered. You wouldn’t speak of 84 births of cats and dogs. It is remembered that souls and the Supreme Soul remained separated for a long time. The beautiful meeting takes place at this time. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes among all the children. A happy gathering has taken place. One is a happy gathering and the other is an unhappy gathering. In the golden age, there is the gathering of happiness. Here, it is of unhappiness. When someone dies, there is a gathering of sorrow. When an important person dies, they lower flags out of respect. Therefore, that is a gathering of sorrow, is it not? When devotees are very unhappy they remember God. However, they don’t know Him at all. They even say that He created them, but would they eventually come to know Him or not? At the end, they sing the praise: O God, Your divine activities are limitless. This praise has been sung. You know that if the Father didn’t, who would tell you the secrets of the world cycle? Who would make you into rulers of the globe? Now, at the confluence age, you are making effort to be liberated from sorrow for all time. The confluence age is not long. This is our new birth. It is the small age for us children to make effort. The examination is very important. The subjects are different from all other examinations. You have to conquer the five vices. Many people say that it is impossible to remain pure, that it is very difficult to conquer Maya while living at home with the family. They believe that they could never find such a Master. Sannyasis cannot remain pure without leaving their homes and families. So, the Father shows you ways to conquer this Maya, just as He taught you a cycle ago. When the Father teaches us, from being devotees we become knowledgeable ones. This is called the ancient knowledge and yoga of Bharat. No one in the world knows it. The Father explains that this knowledge disappears and that even this deity religion disappears. It is like that in the drama. It is only when it disappears and the world becomes unhappy that God comes and establishes it once again. No one knows when duration of the iron age will end. Only you know the Father and the beginning, the middle and the end of this drama. To look at you are all ordinary hunchbacked and stone intellects – but the knowledge is so elevated! You know the cycle of all your 84 births. If someone remembers Baba even a little, that too is good. However, if someone asks you a question and you don’t know how to answer, you should tell that person that you are still studying, that there are others who are much cleverer than you and that they will be able to explain to you very well. You mustn’t have ego. You should tell that person that your senior sister is very clever and that if he or she comes at some other time, she will explain. For instance, if someone asks a question, which even a clever sister cannot answer, you should say: We are all still studying and will continue to study till the end. We will continue to listen to the deepest knowledge of all. This point has not yet been explained to us. However, it is certain that, although we have been studying for so long, some very deep points still remain and that Baba will continue to explain them. At schools , too, they teach you gradually. It isn’t that you receive all the knowledge in just one day. In the same way, here, too, it takes time to study, to have yoga and to make others the same as yourselves. The Father makes it very easy and explains to you day by day. God is One and everyone remembers Him. God alone establishes heaven, and so He would definitely teach Raja Yoga at the confluence age to make you into deities. Therefore, good manners are also required. Only when all your sins have ended can you become a bead of the rosary of victory. It takes time. This is the beautiful gathering of the confluence age. You have to explain that all human beings of the whole world are devotees. They make spiritual endeavour to find God, for God to come and take everyone back, for Him to give the knowledge of liberation and liberation-in-life and to establish the deity religion. Sannyasis believe that happiness is like the droppings of a crow. Yes, the happiness of this world is definitely like that. However, was there never happiness in Bharat? Sannyasis prefer liberation. They can never give the knowledge of liberation-in-life. God alone has to come to teach Raja Yoga. Sannyasis don’t have to teach it because they don’t establish the original eternal deity religion. Now, everyone wants there to be one direction. However, there cannot be one direction in this world. There are innumerable opinions: mother and father, brother and sister, maternal uncle and paternal uncle all give different directions. You must no longer follow them; follow the shrimat of only the One. God comes and gives one shrimat, and so there is a kingdom created for those who follow the one direction. Deities always live like milk and sugar. Here, many continue to fight and quarrel. It is mentioned in the scriptures that the Kauravas and the Pandavas fought one another during the day and lived like milk and sugar at night. Here, too, children understand when they have a trace of anger in them. They say: Baba, I am asking You for forgiveness. So, you should also check that you don’t cause sorrow for anyone throughout the day. Did you have any conflict with anyone? You didn’t say anything evil to someone, something that hurt that person, did you? You must never listen to anything evil. If you see or hear anything like that, you should tell the Father about it. The Father has to explain everything. Otherwise, that habit will become strong. If any of you have any bad habits, you should renounce them, otherwise, your status would be destroyed. Compared to the sovereignty, the maids and servants of the subjects would be called poor. Who are all the labourers? There will be those who build buildings there too. So, the Father explains that you must never become like salt water. It is very bad to become angry. If you do, you cross out your line of happiness for birth after birth. Continue to have mercy for yourself. Very good manners are required on the path of knowledge. Continue to chase away the five evil spirits. The Father gives you shrimat; what else would He do? Many write to Baba saying that they have renounced their anger, that they have become free from bad habits and smoking etc. So, that is having mercy on the self, is it not? Now, Heavenly God, the Father, is teaching us to enable us to claim a status in heaven. Does this enter your intellects? You should have this intoxication. The more you stay in remembrance, the more happiness you will have. Not everyone knows God, but even while not knowing Him, there has to be benefit for everyone. If everyone were to come to know that God has come, there would be a big crowd here. They would come together like a swarm of ants; they wouldn’t even be able to meet Him. This is why this drama is created in a very lawful manner. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Study knowledge and yoga and become a knowledgeable soul from a devotee soul. While living at home with your family, you have to conquer Maya. Definitely become pure.
  2. You have to imbibe very good manners on the path of knowledge. Become very, very sweet and egoless. Don’t say anything evil. Don’t have any conflict of opinion.
Blessing: May you be an image of success and have unbroken, soul-conscious love for every soul and interact with others with love.
Just as with elevated feelings and faith you have unbroken, constant, strong love for the Father, in the same way, let there be unbroken and constant soul-conscious love for Brahmins soul. No matter what type of sanskars others have or what their behaviour is like, Brahmin souls have an unbroken relationship throughout the whole cycle. This is a Godly family: the Father has chosen every soul and brought them into the Godly family. By having this awareness and unbroken soul-conscious love, your interaction with one another will be filled with love and you will easily become an image of success.
Slogan: An introspective person is one who is able to come into sound when he wants and go beyond sound when he wants.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 7 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 7 February 2018

To Read Murli 6 February 2018 :- Click Here
07-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें क्षीरखण्ड होकर रहना है, मतभेद में नहीं आना है, कोई भी गन्दी आदत है तो उसे छोड़ देना है, किसी को भी दु:ख नहीं देना है”
प्रश्नः- जन्म-जन्मान्तर के लिए ऊंच पद पाने के लिए कौन सा रहम स्वयं पर जरूर करना है?
उत्तर:- स्वयं की अन्दर से जांच करके जो भी बुरी आदतें हैं, क्रोध आदि विकार हैं उन्हें निकाल देना, क्षीरखण्ड होकर रहना, एक की श्रीमत पर चलना, मतभेद में न आना, कोई भी ईविल बातें न सुनना, न सुनाना – यही अपने ऊपर रहम करना है। इससे ही जन्म-जन्मान्तर के लिए ऊंच पद मिल जाता है। जो अपने ऊपर रहम नहीं करते वह 21 जन्मों के सुख को लकीर लगा देते हैं।
गीत:- ओम् नमो शिवाए……

ओम् शान्ति। शिवबाबा की महिमा बच्चों ने सुनी। यह महिमा कौन करते हैं और कौन जानते हैं? सिर्फ ब्राह्मण कुल भूषण अर्थात् नई मनुष्य सृष्टि की सम्प्रदाय जिन्हें परमपिता परमात्मा ने अपना बनाया या जन्म दिया है वही जानते हैं क्योंकि पहले-पहले इस सृष्टि में वही ब्रह्मा द्वारा जन्म लेते हैं। जैसे तुमने पहले-पहले जन्म लिया है परमपिता परमात्मा से। तो वह है सभी का सहायक, सारी दुनिया का सहायक, सभी दु:ख दूर करने वाला है। मनुष्य बहुत दु:खी हैं क्योंकि अभी है कलियुग का अन्त। तो सभी का सहायक बनते हैं। फिर भी अक्षर हैं ना आम और खास। तो खास भारत का है, उनमें भी खास जो बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में आकर मिलते हैं अर्थात् जो पहले-पहले सृष्टि पर आते हैं। तुम बच्चे जानते हो तो कैसे सबका सहायक आकर बनते हैं। भगत भगवान को याद करते हैं, परन्तु भगवान को जानते नहीं हैं। जब भगवान को ही नहीं जानते हैं तो भगवान जो नई ब्राह्मण मुख वंशावली रचते हैं, उनको भी नहीं जानते। परमपिता परमात्मा आकर पहले-पहले ब्राह्मण सम्प्रदाय रचते हैं, यह कोई को पता ही नहीं। आदि सनातन देवी-देवता धर्म तो है सतयुग में। बाकी संगमयुग को भूल गये हैं क्योंकि गीता के भगवान को ही द्वापर में ले गये हैं। सतयुग के आदि और कलियुग के अन्त के संगम का किसको पता नहीं है। न गीता के भगवान को जानते हैं। गीता तो है ही सभी शास्त्रों की मात-पिता। ऐसे नहीं कि सिर्फ भारत के शास्त्रों की मात-पिता है। नहीं, जो भी बड़े ते बड़े शास्त्र सारी दुनिया में हैं, सभी की मात-पिता है। भगवानुवाच – मैं तुमको फिर से सहज राजयोग सिखाता हूँ जिसको फिर गीता नाम दिया है। तो अपने को भी कहना पड़ता है कि हम नई गीता सुनाते हैं। पुरानी गीता तो खण्डन की हुई है। यह तो भगवान खुद अपने मुख कंवल से बैठ सुनाते हैं। तुम्हारी बुद्धि में परमपिता परमात्मा शिव ही याद आता है। वह है स्वर्ग का रचयिता, सबका सहायक। कृष्ण को सभी का सहायक नहीं कहेंगे। भगवान सृष्टि का रचयिता एक ही है। कृष्ण तो स्वयं रचना है। बगीचे का फर्स्टक्लास फूल है। परमपिता परमात्मा को बागवान भी कहते हैं, खिवैया भी कहते हैं। मनुष्य तो समझ न सकें कि खिवैया कैसे है? बरोबर असार संसार से ले जाकर फिर यहाँ नई दुनिया में भेज देते हैं। यहाँ ही फूलों का बगीचा बनाते हैं। सभी बच्चे जो भगत बन गये हैं, असुल भगवान की सन्तान थे, उनको माया दु:खी बनाती है। भगवान तो है ही एक। वह सभी भक्तों को जरूर सुख देता है। कोई भी किसको सुख देता है तब उनको याद करते हैं। स्त्री पति को अथवा बच्चा बाप को अथवा दोस्त, दोस्त को याद करते हैं। जरूर उसने सुख दिया होगा। भाई से भी दोस्त प्यारा होता है क्योंकि सुख देते हैं। तो सुख देने वाले को ही याद किया जाता है। अभी सारी सृष्टि के मनुष्य भगत हैं। मनुष्य के ही 84 जन्म गाये हुए हैं। कुत्ते बिल्ली के 84 जन्म नहीं कहेंगे। गाया भी गया है कि आत्मा परमात्मा अलग रहे…. इस समय मेला होता है। परमपिता परमात्मा सभी बच्चों के बीच आते हैं। महफिल लगी हुई है ना। एक होती है सुख की महफिल, दूसरी होती है दु:ख की। सतयुग में है सुख की महफिल। यहाँ तो दु:ख की कहेंगे। कोई मरते हैं तो भी दु:ख की महफिल लग जाती है। कोई बड़ा आदमी मरता है तो शोक में झण्डा नीचे कर देते हैं। तो दु:ख की महफिल हुई ना। भगत बहुत दु:खी होते हैं तो भगवान को याद करते हैं। परन्तु उनको जानते बिल्कुल नहीं। कहते भी हैं उसने पैदा किया। आखरीन भी उनको जानेंगे या नहीं? अन्त में गायन करते हैं हे भगवान तेरी लीला अपरमअपार है। महिमा गाई हुई है। तुम जानते हो बाप नहीं होता तो सृष्टि चक्र का राज़ कौन समझाता, कौन हमको चक्रवर्ती बनाता?

अब संगम पर तुम सदा के लिए दु:ख से छूटने का प्रयत्न कर रहे हो। संगमयुग कोई बड़ा नहीं है। अपना यह नया जन्म है। यह छोटा सा युग है – हम बच्चों के पुरुषार्थ के लिए। बड़ा इम्तहान है। इनकी सब्जेक्ट सभी इम्तहानों से न्यारी है। पांच विकारों पर जीत पानी है। बहुत मनुष्य कहते हैं पवित्र रहना तो असम्भव है। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए माया को जीतना तो बड़ा मुश्किल है। समझते हैं ऐसा उस्ताद तो मिल न सके। सन्यासी भी घरबार छोड़ने बिगर पवित्र रह नहीं सकते। तो बाप इस माया पर जीत पाने की युक्ति बताते हैं। जैसे कल्प पहले भी सिखाई थी। जब बाबा सिखाते हैं तब हम भगत से ज्ञानी बनते हैं। इसको ही भारत का प्राचीन ज्ञान और योग कहा जाता है। इसको दुनिया में कोई भी नहीं जानते। बाप समझाते हैं यह ज्ञान प्राय:लोप हो जाता है और यह देवता धर्म भी लोप हो जाता है। ड्रामा में ही ऐसा है। जब प्राय:लोप हो जाए, सृष्टि दु:खी हो तब तो भगवान आकर फिर से स्थापन करे। यह भी कोई को पता नहीं कि कलियुग की आयु कब पूरी होती है। तुम ही बाप को और इस ड्रामा के आदि मध्य अन्त को जानते हो। देखने में कितने साधारण हो – कुब्जाएं-अहिल्यायें। परन्तु नॉलेज कितनी ऊंची है। अपने सारे 84 जन्मों के चक्र को तुम जानती हो। थोड़ा भी कोई याद करे तो भी अच्छा। परन्तु कोई प्रश्न पूछे और उत्तर देना न आये तो बोलना चाहिए कि हम अभी पढ़ रहे हैं। हमसे बहुत तीखे हैं। वह आपको अच्छी रीति समझा सकेंगे। अपना अहंकार नहीं रखना चाहिए। कह देना चाहिए, हमारी बड़ी बहन जी बहुत तीखी हैं। आप फिर कोई समय आना तो वह समझायेंगी। समझो कोई ऐसा प्रश्न निकलता है तो तीखी भी उसका उत्तर नहीं दे सकती तो बोलना चाहिए हम सब पढ़ रहे हैं। अन्त तक पढ़ते रहेंगे। गुह्य से गुह्य नॉलेज सुनते रहेंगे। यह प्वाइंट अभी हमको समझाई नहीं गई है। यह तो जरूर है, इतना समय जो पड़ा है तो जरूर अजुन गुह्य प्वाइंट रही हुई हैं, जो सुनाते रहेंगे। स्कूल में भी धीरे-धीरे पढ़ाया जाता है। ऐसे थोड़ेही एक ही दिन में सारी नॉलेज मिल जाती है। वैसे यहाँ भी पढ़ाई में, योग लगाने में, आप समान बनाने में समय लगता है। बाप दिन-प्रतिदिन सहज कर समझाते हैं। भगवान एक है, उनको ही सब याद करते हैं। भगवान ही हेविन स्थापन करते हैं तो जरूर देवता बनाने के लिए संगम पर ही राजयोग सिखायेंगे। तो मैनर्स भी ऐसे चाहिए। जब पाप खत्म हों तब तो विजय माला का दाना बनें। टाइम लगता है।

यह है सुहावना संगम का मेला। समझाना है सारी दुनिया के मनुष्य भगत हैं। साधना करते हैं भगवान के लिए कि वह परमात्मा आकर सभी को वापिस ले जाये। मुक्ति जीवनमुक्ति का ज्ञान दे देवे, देवता धर्म की स्थापना करे। सन्यासी तो समझते हैं सुख काग विष्टा समान है। सो तो जरूर इस दुनिया का सुख ऐसा है। परन्तु क्या भारत में कभी सुख नहीं था। सन्यासी तो पसन्द करते हैं मुक्ति को। वह कभी जीवनमुक्ति का ज्ञान दे न सके। भगवान को ही आकर राजयोग सिखाना है। सन्यासियों को नहीं सिखाना है क्योंकि वह कोई आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन नहीं करते हैं। अभी सब कहते भी हैं कि एक मत हो। परन्तु इस दुनिया में तो एकमत हो न सके। अथाह मतें हैं। माता पिता, भाई बहन, काका मामा आदि सभी अनेक मत देने वाले हैं। अब उन पर नहीं चलना है। एक की ही श्रीमत पर चलना है। भगवान आकर एक श्रीमत देते हैं तो फिर एक मत की राजधानी हो जाती है। देवी-देवतायें सदैव क्षीरखण्ड रहते हैं। यहाँ तो बहुत लड़ते झगड़ते रहते हैं। शास्त्रों में भी है कि कौरव पाण्डव दिन में लड़ते थे, रात को क्षीरखण्ड हो जाते थे। यहाँ भी बच्चे समझते हैं कि हमारे में क्रोध का अंश आ गया। बाबा हम आपसे माफी मांगते हैं। तो तुमको भी देखना चाहिए – सारे दिन में किसको दु:ख तो नहीं दिया? किससे मतभेद में तो नहीं आये? किससे ईविल तो नहीं बोला, जिससे कोई को दु:ख हुआ हो? ईविल तो कभी नहीं सुनना चाहिए, ऐसा कुछ देखा, सुना तो बाप को बतलाना चाहिए। बाप ही बच्चों को सब समझाते हैं। नहीं तो आदत पक्की हो जाए। कोई में कोई भी गन्दी आदत है तो छोड़ देना चाहिए, नहीं तो पद भ्रष्ट हो पड़ेंगे। बादशाही के आगे प्रजा के नौकर चाकर गरीब ही कहेंगे ना। यह मजदूर लोग क्या हैं? वहाँ भी मकान बनाने वाले तो होंगे ना। तो बाप समझाते हैं कभी लूनपानी नहीं होना चाहिए। क्रोध करना बहुत बुरा है। जन्म-जन्मान्तर के सुख को लकीर लग जाती है। अपने ऊपर रहम करते रहो। ज्ञान मार्ग में मैनर्स बहुत अच्छे चाहिए। पांच भूतों को भगाते रहो। बाप श्रीमत देते हैं और क्या करेंगे। बहुत लिखते भी हैं कि बाबा हमारा क्रोध छूट गया है। बीड़ी पीना आदि गंदी आदतें छूट गई हैं। तो गोया अपने पर रहम किया ना। अब हेविनली गॉड फादर स्वर्ग का पद प्राप्त कराने हमको पढ़ा रहे हैं। ऐसा बुद्धि में आता है? यह नशा रहना चाहिए। जितना याद करेंगे उतनी खुशी रहेगी। भल भगवान को सभी तो नहीं जानते परन्तु न जानते भी कल्याण तो सभी का होना है। सभी को यह पता पड़ जाए कि भगवान आया है तो यहाँ भीड़ मच जाए। चीटियों मिसल आकर इकट्ठे हों, मिल भी न सकें इसलिए बड़ा कायदे से यह ड्रामा बना हुआ है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान और योग सीख, भगत से ज्ञानी तू आत्मा बनना है। गृहस्थ व्यवहार में रहते माया को जीतना है। पवित्र जरूर बनना है।

2) ज्ञान मार्ग में बहुत अच्छे मैनर्स धारण करने हैं। बहुत-बहुत मीठा, निरंहकारी बनना है। ईविल बातें नहीं बोलनी हैं। मतभेद में नहीं आना है।

वरदान:- हर आत्मा से आत्मिक अटूट प्यार रख स्नेह सम्पन्न व्यवहार करने वाले सफलतामूर्त भव 
जैसे बाप के प्रति अटूट, अखण्ड, अटल प्यार है, श्रेष्ठ भावना है, निश्चय है ऐसे ब्राह्मण आत्माओं से आत्मिक प्यार अटूट और अखण्ड हो। किसी के कैसे भी संस्कार हो, चलन हो लेकिन ब्राह्मण आत्माओं का सारे कल्प में अटूट संबंध है, ईश्वरीय परिवार है, बाप ने हर आत्मा को चुनकर ईश्वरीय परिवार में लाया है, यह स्मृति रहे तो आत्मिक प्यार अटूट होने से स्नेह सम्पन्न व्यवहार होगा और सहज सफलतामूर्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- अन्तर्मुखी वह है जो जिस समय चाहे आवाज में आये और जिस समय चाहे आवाज से परे हो जाए।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize