today murli 6 november

TODAY MURLI 6 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 November 2018 :- Click Here

06/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to become the garland around the Father’s neck, race in knowledge and yoga. Your duty is to give the whole world the Father’s introduction.
Question: Which intoxication should you constantly maintain so that your illness is cured?
Answer: Maintain the intoxication of knowledge and yoga. Don’t worry about those old bodies. The more your intellects are pulled towards your bodies, the more greed you have, the more illness there will be. To decorate your bodies, to put on powder and cream etc. is all useless. You have to decorate yourselves with knowledge and yoga. This is your true decoration.
Song: The rain of knowledge is for those who are with the Beloved. 

Om shanti. Those who are with the Father… There are many fathers in the world, but the Father, the Creator of all of them, is One. He alone is the Ocean of Knowledge. You definitely have to understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. Only through knowledge is salvation received. Only when the golden age is established can human beings have salvation. The Father alone is called the Bestower of Salvation. Only when it is the confluence age does the Ocean of Knowledge come and take you from degradation to salvation. Bharat is the most ancient of all. Only for the people of Bharat has 84 births been remembered. Surely, the human beings who came first would take 84 births. You say 84 births of the deities and so there are also 84 births of Brahmins. It is the main ones that are mentioned. No one knows about these things. He definitely creates the world through Brahma. First of all, He has to create the subtle world and then this corporeal world. You children know where the subtle region is and where the incorporeal world is. The incorporeal world, the subtle region and the corporeal world are called Trilok (the three worlds). Since you speak of Trilokinath (the Lord of the Three Worlds), this has to have a meaning. There must be the three worlds, must there not? In fact, only the one Father and His children can be called Trilokinath. Here, some people are called Trilokinath, Shiva, Brahma, Vishnu, Shankar etc. The people of Bharat have given themselves these names. They even have double names – Radhe-Krishna, Lakshmi-Narayan. No one knows that Radhe and Krishna are from separate kingdoms. He was a prince of one kingdom and she was a princess from another kingdom. You know this at this time. These points are imbibed very well by the intellects of the good children. For instance, a clever doctor would be aware of the names of many types of medicine. Here, too, many new points continue to emerge. Inventions continue to take place day by day. Those who practi s e well would imbibe new points. If you don’t imbibe, you cannot be brought into the line of maharathis. Everything depends on the intellect, and it is also a matter of fortune. This is also in the drama, is it not? No one even knows the drama. You understand that you are playing your parts on the field of action. However, if you don’t know the beginning, the middle and the end of the drama, you don’t know anything. You have to know everything. You children know that the Father has come and so it is the duty of you children to give others His introduction. It is your duty to tell the whole world so that no one can say that they weren’t aware of this. Many will come to you. Many will also take the literature. Children had many visions at the beginning. Christ and Abraham came to Bharat. Truly Bharat continues to pull everyone. In reality, Bharat is the birthplace of the unlimited Father. However, those people don’t know that this Bharat is God’s birthplace. They speak of the Supreme Soul Shiva but, by saying that everyone is the Supreme Soul, they have lost the importance of the unlimited Father. You children now explain: The land of Bharat is the greatest pilgrimage place of all. All the messengers who come just come to establish their own religions. Those of all other religions continue to follow them down. It is now the end. People try to go back, but who brought you here? Christ came and established the Christian religion; he pulled them down here. Now, everyone is fed up and wants to go back home. You have to explain this. Everyone comes to play his or her own part. While playing your parts, you have to come into sorrow. Then it is the Father’s duty to liberate you from sorrow and to take you into happiness. Bharat is the Father’s birthplace. Among you children too, not all of you know the importance of this. There are a few who understand this and their intoxication remains high. Only in Bharat does the Father come every cycle. You have to tell this to everyone. You have to invite them. First of all, you have to do this service. You have to prepare literature. You have to give everyone an invitation. No one has the knowledge of the Creator or of creation. You should become serviceable and glorify your name. Everyone asks for the help of the clever children who have many points in their intellects. They continue to chant the names of these children. Firstly, they chant the name of Shiv Baba, then of Brahma Baba and then of the children, numberwise. On the path of devotion, they turn the beads of a rosary physically. Now, you chant the names through your lips: so-and-so is very serviceable. He is egoless, very sweet and doesn’t have any body consciousness. It is said: Become sweet and everyone will be very sweet to you. The Father says: You children have become very unhappy and if you now remember Me, I will help. What can I do if you have dislike? This is like disliking yourself. In that case, you won’t receive a status. You receive so much wealth. When someone wins a lottery, he becomes so happy. There are so many prizes there. First prize, second prize, third prize. In the same way, this is the spiritual race. This is the race of knowledge and the power of yoga. Those who go fast in this will become the garland around the Father’s neck and they will sit close to the throne. All of this is explained to you very easily. Also look after your homes because you are karma yogis. You have to study in class for an hour and then go home and think about these things. They do the same at school too. They study and then go home and do their homework. The Father says: Study for one hour, half an hour. There are eight hours in a day. Out of that too, the Father says: Study for one hour, if not that, then for half an hour. Attend classfor even 15 to 20 minutes, imbibe that and then become engaged in your business etc. In the early days, Baba used to make you sit in remembrance and tell you to spin the discus of self-realisation. There was the mention of remembrance. Remember the Father and the inheritance and spin the discus of self-realisation, and then, when you feel sleepy, go to sleep. Then your final thoughts will lead you to your destination, and when you wake up in the morning, you will remember those points. By having this practice, you will become conquerors of sleep. Those who do something will receive the reward of it. When you do something, it is visible. Your behaviour reveals it. The behaviour of those who don’t do anything is completely different. It is seen that this child churns the ocean of knowledge and imbibes knowledge and doesn’t have any greed etc. Those are old bodies. Those bodies will be fine when you imbibe knowledge and yoga. If you don’t imbibe this, the body will continue to decay even more. You are to receive new bodies in the future. You souls have to make your souls pure. Those are old bodies. No matter how much powder and lipstick etc. you put on, how much you decorate them, they are not worth a penny. All of that decoration is useless. All of you are engaged to Shiv Baba. When a marriage takes place, the bride first wears old clothes on that day. You must not now decorate your body. If you decorate yourself with knowledge and yoga, you will become princes and princesses in the future. This is the lake of knowledge (Mansarovar). Continue to take a dip in knowledge and you will become an angel of heaven. The subjects would not be called angels. They say: Krishna abducted women and made them into empresses. It would not be said that he abducted them and then made them into cremators of the subjects. He abducted them to make them into emperors and empresses. You should also make this effort. Don’t be happy with whatever status you receive. The main thing here is the study. This is a school. Many people open Gita Pathshalas. Those people simply sit and relate the Gita and make you learn it by heart. Some people select a verse and then speak on that for half or three quarters of an hour. There is no benefit in that. The Father sits here and teaches you. Your aimand objective is clear. There is no aim or objective in reading the Vedas and the scriptures or in chanting or doing tapasya. Continue to make effort, that’s all! However, what will you receive? It is said that when people do a lot of devotion they find God; the day definitely has to come after the night. It will all happen at the right time. Some say the duration of the cycle is one thing and others say it is something else. When you explain to them, they would say: How could the scriptures be wrong? God would not tell lies. You need to have the power to explain. So, you children need to have the power of yoga. Everything becomes easy with the power of yoga. If you aren’t able to do certain things, it means that you don’t have power, that you don’t have yoga. In some cases, Baba also helps. Whatever is fixed in the drama continues to repeat. We understand this. No one else understands the dramaSecond by second, every second that passes continues to tick away. We act according to shrimat. How would you become elevated if you don’t follow shrimat? Not everyone can become the same. Those people think that they will all become one. They don’t understand the meaning of becoming one. What should they become one of? Should they all become the one Father or should they all become one brother? If they were to say that they will become b rother s, that’s fine. By following shrimat, we truly can become one. All of you are following the one direction. Your Father, Teacher and Guru are One. Those who don’t follow shrimat fully will not be able to become elevated. If you don’t follow shrimat at all, you will be completely finished. In a race, they only enter those who are worthy. When it is a big race, they have very good, first-class horses because they have a big lottery at stake. This too is a horse race. They speak of the horse of Hussain. They have shown Hussain on a horse in a battle. You children are doubly non-violent. The violence of lust is number one. No one knows about this type of violence. Even sannyasis don’t consider it as such. They simply say that it is a vice. The Father says: Lust is the greatest enemy. It is this that causes you sorrow from its beginning through the middle to its end. You have to prove to them that this is your Raja Yoga of the family path, whereas theirs is hatha yoga. They learn hatha yoga from Shankaracharya and we learn Raja Yoga from Shiva, the Teacher. You should tell them these things at the right time. If someone asks you, “If the deities take 84 births, how many births would Christians take?” tell them: You can calculate this yourself. There are 84 births in 5000 years. It is 2000 years since Christ came. Now, calculate how many births they would take on average. They would perhaps take 30 to 32 births. This is clear. Those who see a lot of happiness will also see a lot of sorrow. Those people see less happiness and so they also receive less sorrow. You have to calculate the average. Those who come later take fewer births. You can also calculate how many births Buddha and Abraham take. Perhaps, there would be a difference of one or two births. So, you should churn the ocean of knowledge about all of these things. What should we explain if anyone asks us? You should tell them: First of all, you have to claim your inheritance from the Father. At least remember the Father! You will take as many births as you are to take. At least claim your inheritance from the Father. You have to explain this very well. This is something that requires effort. You will become successful by making effort. A very broad and unlimited intellect is required. There has to be a lot of love for Baba and Baba’s wealth. Some don’t take this wealth at all. Oh! At least imbibe the jewels of knowledge! They say: What can I do? I can’t understand it. If you don’t understand, that is your destiny. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual children say namaste to the spiritual Father.

Essence for dharna:

  1. Don’t dislike anyone. Be very sweet with everyone. Race in knowledge and yoga and become the garland around the Father’s neck.
  2. Become a conqueror of sleep. Wake up early in the morning and remember the Father. Spin the discus of self-realisation. Instil the habit of churning the knowledge that you hear.
Blessing: May you constantly stay within the line of safety and experience God’s canopy of protection and thereby become a conqueror of Maya.
The Father and you” is the line of safety. This line is God’s canopy of protection. Maya will not have the courage to come to those who stay within the line of this canopy. You will then be ignorant of what effort is, what an obstruction is or what an obstacle is. You will remain constantly safe and merged in the Father’s heart. This is the easiest way of making effort, of going at a fast speed and of becoming a conqueror of Maya.
Slogan: When you remain decorated with all the ornaments of divine virtues, there cannot then be any arrogance.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 6 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 November 2018

To Read Murli 5 November 2018 :- Click Here
06-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप के गले का हार बनने के लिए ज्ञान-योग की रेस करो, तुम्हारा फ़र्ज है सारी दुनिया को बाप का परिचय देना”
प्रश्नः- किस मस्ती में सदा रहो तो बीमारी भी ठीक होती जायेगी?
उत्तर:- ज्ञान और योग की मस्ती में रहो, इस पुराने शरीर का चिन्तन नहीं करो। जितना शरीर में बुद्धि जायेगी, लोभ रखेंगे उतना और ही बीमारियां आती जायेंगी। इस शरीर को श्रृंगारना, पाउडर, क्रीम आदि लगाना – यह सब फालतू श्रृंगार है, तुम्हें अपने को ज्ञान-योग से सजाना है। यही तुम्हारा सच्चा-सच्चा श्रृंगार है।
गीत:- जो पिया के साथ है…… 

ओम् शान्ति। जो बाप के साथ है…, अब दुनिया में बाप तो बहुत हैं परन्तु उन सभी का बाप रचयिता एक है। वही ज्ञान का सागर है। यह जरूर समझना पड़े कि परमपिता परमात्मा ज्ञान का सागर है, ज्ञान से ही सद्गति होती है। सद्गति मनुष्य की तब हो जब सतयुग की स्थापना होती है। बाप को ही सद्गति दाता कहा जाता है। जब संगम का समय हो तब तो ज्ञान का सागर आकर दुर्गति से सद्गति में ले जाए। सबसे प्राचीन भारत है। भारतवासियों के नाम पर ही 84 जन्म गाये हुए हैं। जरूर जो मनुष्य पहले-पहले हुए होंगे वही 84 जन्म लेते होंगे। देवताओं के 84 जन्म कहेंगे तो ब्राह्मणों के भी 84 जन्म ठहरे। मुख्य को ही उठाया जाता है। इन बातों का किसी को भी पता नहीं है। जरूर ब्रह्मा द्वारा ही सृष्टि रचते हैं। पहले-पहले सूक्ष्म लोक रचना है फिर यह स्थूल लोक। यह बच्चे जानते हैं – सूक्ष्म लोक कहाँ है, मूल लोक कहाँ है? मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन – इसको ही त्रिलोक कहा जाता है। जब त्रिलोकीनाथ कहते हैं तो उसका अर्थ भी चाहिए ना। कोई त्रिलोक होगा ना। वास्तव में त्रिलोकीनाथ एक बाप ही कहला सकते हैं और उनके बच्चे कहला सकते हैं। यहाँ तो कई मनुष्यों के नाम हैं त्रिलोकीनाथ, शिव, ब्रह्मा, विष्णु, शंकर आदि…….. यह सब नाम भारतवासियों ने अपने ऊपर रखा दिये हैं। डबल नाम भी रखाते हैं – राधेकृष्ण, लक्ष्मी-नारायण। अब यह तो किसको पता नहीं, राधे और कृष्ण अलग-अलग थे। वह एक राजाई का प्रिन्स था, वह दूसरी राजाई की प्रिन्सेज थी। यह अभी तुम जानते हो। जो अच्छे-अच्छे बच्चे हैं उन्हों की बुद्धि में अच्छी-अच्छी प्वाइन्ट्स धारण रहती हैं। जैसे डॉक्टर जो अच्छा होशियार होगा उनके पास तो बहुत दवाइयों के नाम रहते हैं। यहाँ भी यह नई-नई प्वाइन्ट्स बहुत निकलती रहती हैं। दिन-प्रतिदिन इन्वेन्शन होती रहती है। जिन्हों की अच्छी प्रैक्टिस होगी वह नई-नई प्वाइन्ट्स धारण करते होंगे। धारण नहीं करते हैं तो महारथियों की लाइन में नहीं लाया जा सकता। सारा मदार बुद्धि पर है और तकदीर की भी बात है। यह भी ड्रामा में है ना। ड्रामा को भी कोई नहीं जानते हैं। यह भी समझते हैं कर्मक्षेत्र पर हम पार्ट बजाते हैं। परन्तु ड्रामा के आदि, मध्य, अन्त को नहीं जानते तो गोया कुछ भी नहीं जानते। तुमको तो सब कुछ जानना है।

बाप आये हैं बच्चों को मालूम पड़ा तो बच्चों का फ़र्ज है औरों को भी परिचय देना। सारी दुनिया को बतलाना फर्ज़ है। जो फिर ऐसे ना कहें कि हमको मालूम नहीं था। तुम्हारे पास बहुत आयेंगे। लिटरेचर आदि बहुत लेंगे। बच्चों ने शुरू में साक्षात्कार भी बहुत किया है। यह क्राइस्ट, इब्राहम भारत में आते हैं। बरोबर भारत सबको खींचता रहता है। असुल तो भारत ही बेहद के बाप का बर्थ प्लेस है ना। परन्तु वे लोग इतना कुछ जानते नहीं हैं कि यह भारत भगवान् का बर्थप्लेस है। भल कहते भी हैं शिव परमात्मा परन्तु फिर सबको परमात्मा कह देने से बेहद के बाप का महत्व गुम कर दिया है। अभी तुम बच्चे समझाते हो – भारत खण्ड सबसे बड़े ते बड़ा तीर्थ स्थान है। बाकी और सब जो भी पैगम्बर आदि आते हैं, वह आते ही हैं अपना-अपना धर्म स्थापन करने। उनके पिछाड़ी फिर सब धर्मों वाले आते-जाते हैं। अभी है अन्त। कोशिश करते है वापिस जायें। परन्तु तुमको यहाँ लाया किसने? क्राइस्ट ने आकर क्रिश्चियन धर्म स्थापन किया, उसने तुमको खींच कर लाया। अभी सब तंग हुए हैं वापस जाने के लिए। यह तुमको समझाना है, सब आते हैं अपना-अपना पार्ट बजाने। पार्ट बजाते-बजाते दु:ख में आना ही है। फिर उस दु:ख से छुड़ाकर सुख में ले जाना – बाप का ही काम है। बाप का यह बर्थप्लेस भारत है, इतना महत्व तुम बच्चों में भी सभी नहीं जानते। थोड़े हैं जो समझते हैं और नशा चढ़ा हुआ है। कल्प-कल्प बाप भारत में ही आते हैं। यह सबको बताना है। निमंत्रण देना है। पहले तो यह सर्विस करनी पड़े। लिटरेचर तैयार करना पड़े। निमंत्रण तो सबको देना है ना। रचयिता और रचना की नॉलेज कोई भी नहीं जानते। सर्विसएबुल बनकर अपना नाम बाला करना चाहिए। जो तीखे बच्चे हैं, जिनकी बुद्धि में बहुत प्वाइन्ट्स हैं, उनकी मदद सब मांगते हैं। उनके नाम ही जपते रहते। एक तो शिवबाबा को जपेंगे फिर ब्रह्मा बाबा को फिर नम्बरवार बच्चों को। भक्तिमार्ग में हाथ से माला फेरते हैं, अभी फिर मुख से नाम जपते हैं – फलाने बहुत अच्छे सर्विसएबुल हैं, निरहंकारी हैं, बड़े मीठे हैं, उनको देह-अभिमान नहीं है। कहते हैं ना मिठरा घुर त घुराय (मीठे बनो तो सब मीठा व्यवहार करेंगे)। बाप कहते तुम दु:खी बने हो, अब तुम बच्चे मुझे याद करेंगे तो मैं भी मदद करूँगा। तुम ऩफरत करेंगे तो मैं क्या करूँगा। यह तो गोया अपने ऊपर ऩफरत करते हैं। पद नहीं मिलेगा। धन कितना अथाह मिलता है। किसको लॉटरी मिलती है तो कितना खुश होते हैं। उनमें भी कितने इनाम आते हैं। फर्स्ट प्राइज़, फिर सेकेण्ड प्राइज़, थर्ड प्राइज़ होती है। हूबहू यह भी ईश्वरीय रेस है। ज्ञान और योग बल की रेस है। जो इनमें तीखे जाते हैं वही गले का हार बनेंगे और तख्त पर नज़दीक बैठेंगे। समझाया तो बहुत सहज जाता है। अपने घर को भी सम्भालो क्योंकि तुम कर्मयोगी हो। क्लास में एक घण्टा पढ़ना है फिर घर में जाकर उस पर विचार करना है। स्कूल में भी ऐसे करते हैं ना। पढ़कर फिर घर में जाकर होम वर्क करते हैं। बाप कहते एक घड़ी, आधी घड़ी…….. दिन में 8 घड़ियाँ होती हैं। उनसे भी बाप कहते एक घड़ी, अच्छा आधी घड़ी। 15-20 मिनट भी क्लास अटेन्ड कर, धारणा कर फिर अपने धन्धेधोरी में जाकर लगो। आगे बाबा तुमको बिठाते भी थे कि याद में बैठो, स्वदर्शन चक्र फिराओ। याद का नाम तो था ना। बाप और वर्से को याद करते-करते स्वदर्शन चक्र फिराते-फिराते जब देखो नींद आती है तो सो जाओ। फिर अन्त मति सो गति हो जायेगी। फिर सवेरे उठेंगे तो वही प्वाइन्ट्स याद आती रहेंगी। ऐसे अभ्यास करते-करते तुम नींद को जीतने वाले बन जायेंगे।

जो करेगा वो पायेगा। करने वाले का देखने में आता है। उसकी चलन ही प्रत्यक्ष होती है। ना करने वाले की चलन ही और होती। देखा जाता है यह बच्चे विचार सागर मंथन करते हैं, धारणा करते हैं। कोई लोभ आदि तो नहीं है। यह तो पुराना शरीर है। यह शरीर ठीक भी तब रहेगा जब ज्ञान और योग की धारणा होगी। धारणा नहीं होगी तो शरीर और ही सड़ता जायेगा। नया शरीर फिर भविष्य में मिलना है। आत्मा को प्योर बनाना है। यह तो पुराना शरीर है, इनको कितना भी पाउडर, लिपिस्टिक आदि लगाओ, श्रृंगार करो तो भी वर्थ नाट ए पेनी है। यह श्रृंगार सब फालतू है।

अब तुम सबकी सगाई शिवबाबा से हुई है। जब शादी होती है तो उस दिन पुराने कपड़े पहनते हैं। अब इस शरीर को श्रृंगारना नहीं है। ज्ञान और योग से अपने को सजायेंगे तो फिर भविष्य में प्रिंस-प्रिंसेज बनेंगे। यह है ज्ञान मान सरोवर। इसमें ज्ञान की डुबकी मारते रहो तो स्वर्ग की परी बनेंगे। प्रजा को तो परी नहीं कहेंगे। कहते भी हैं कृष्ण ने भगाया, फिर महारानी, पटरानी बनाया। ऐसे तो नहीं कहेंगे कि भगाकर फिर प्रजा में चण्डाल आदि बनाया। भगाया ही महाराजा-महारानी बनाने के लिए। तुमको भी यह पुरुषार्थ करना चाहिए। ऐसा नहीं जो पद मिले सो ठीक……। यहाँ मुख्य है पढ़ाई। यह पाठशाला है ना। गीता पाठशाला बहुत खोलते हैं। वह बैठ सिर्फ गीता सुनाते हैं, कण्ठ कराते हैं। कोई एक श्लोक उठाकर फिर आधा पौना घण्टा उस पर बोलते हैं। इससे फ़ायदा तो कुछ भी नहीं। यहाँ तो बाप बैठ पढ़ाते हैं। एम-ऑब्जेक्ट क्लीयर है। और कोई भी वेद-शास्त्र, जप-तप आदि करने में कोई एम ऑब्जेक्ट नहीं है। बस, पुरुषार्थ करते रहो। परन्तु मिलेगा क्या? जब बहुत भक्ति करते हैं तब भगवान् मिलते हैं सो भी रात के बाद दिन जरूर आना है। समय पर होगा ना। कल्प की आयु कोई क्या बतलाते, कोई क्या बतलाते हैं। समझाओ तो कहते हैं शास्त्र कैसे झूठे होंगे? भगवान् थोड़ेही झूठ बोल सकता। समझाने की सिर्फ ताकत चाहिए।

तुम बच्चों में योग का बल चाहिए। योगबल से सब काम सहज हो जाते हैं। कोई काम नहीं कर सकते हैं तो गोया ताकत नहीं है, योग नहीं है। कहाँ-कहाँ बाबा भी मदद करते हैं। ड्रामा में जो नूंध है वह रिपीट होता है। यह भी हम समझते हैं और कोई ड्रामा को समझते ही नहीं। सेकेण्ड बाई सेकेण्ड जो पास होता जाता, टिक-टिक होता जाता है, हम श्रीमत पर एक्ट में आते हैं। श्रीमत पर नहीं चलेंगे तो श्रेष्ठ कैसे बनेंगे। सब एक जैसे बन नहीं सकते। यह लोग समझते हैं हम एक हो जाएं। एक का अर्थ नहीं समझते। एक क्या हो जाएं? क्या एक फादर हो जाना चाहिए वा एक ब्रदर हो जाना चाहिए? ब्रदर कहें तो भी ठीक है। श्रीमत पर बरोबर हम एक हो सकते हैं। तुम सब एक मत पर चलते हो। तुम्हारा बाप, टीचर, गुरू एक ही है। जो पूरा श्रीमत पर नहीं चलते तो वह श्रेष्ठ भी नहीं बनेंगे। एकदम नहीं चलेंगे तो ख़त्म हो जायेंगे। रेस में उनको ही निकालते हैं जो लायक होते हैं। जब कोई बड़ी रेस होती है तो घोड़े भी अच्छे फर्स्टक्लास निकालते हैं क्योंकि लॉटरी बड़ी रखते हैं। यह भी अश्व रेस है। हुसैन का घोड़ा कहते हो ना। उन्होंने हुसैन को घोड़े पर लड़ाई में दिखाया है। अभी तुम बच्चे तो डबल अहिंसक हो। काम की हिंसा है नम्बरवन। इस हिंसा को कोई जानते ही नहीं। सन्यासी भी ऐसे नहीं समझते हैं। सिर्फ कहते हैं यह विकार है। बाप कहते हैं – काम महाशत्रु है, यही आदि, मध्य, अन्त तुमको दु:ख देता है। तुमको यह सिद्ध कर बताना है कि हमारा प्रवृत्ति मार्ग का राजयोग है। तुम्हारा हठयोग है। तुम शंकराचार्य से हठयोग सीखते हो, हम शिवाचार्य से राजयोग सीखते हैं। ऐसी-ऐसी बातें समय पर सुनाना चाहिए।

कोई तुमसे पूछे कि देवताओं के 84 जन्म हैं तो भला इन क्रिश्चियन आदि के कितने जन्म है? बोलो, यह तो तुम हिसाब करो ना। पांच हजार वर्ष में 84 जन्म हुए। क्राइस्ट को 2 हजार वर्ष हुए। हिसाब करो – एवरेज कितने जन्म हुए? 30-32 जन्म होंगे। यह तो क्लीयर है। जो बहुत सुख देखते हैं, वह दु:ख भी बहुत देखते हैं। उन्हों को कम सुख, कम दु:ख मिलता है। एवरेज का हिसाब निकालना है। पीछे जो आते हैं वह थोड़े-थोड़े जन्म लेते हैं। बुद्ध का, इब्राहम का भी हिसाब निकाल सकते हैं। करके एक-दो जन्म का फ़र्क पड़ेगा। तो यह सब बातें विचार सागर मंथन करना चाहिए। कोई पूछे तो क्या समझायें? फिर भी बोलो – पहले तो बाप से वर्सा लेना है ना। तुम बाप को तो याद करो। जन्म जितने लेने होंगे उतने लेंगे। बाप से वर्सा तो ले लो। अच्छी रीति समझाना है। मेहनत का काम है। मेहनत से ही सक्सेसफुल होंगे। इसमें बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए। बाबा से और बाबा के धन से बहुत लव चाहिए। कोई तो धन ही नहीं लेते। अरे, ज्ञान रत्न तो धारण करो। तो कहते हैं हम क्या करें? हम समझते नहीं। नहीं समझते हो तो तुम्हारी भावी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी से भी ऩफरत नहीं करनी है। सबसे मीठा व्यवहार करना है। ज्ञान-योग में रेस करके बाप के गले का हार बन जाना है।

2) नींद को जीतने वाला बन सवेरे-सवेरे उठ बाप को याद करना है। स्वदर्शन चक्र फिराना है। जो सुनते हैं उस पर विचार सागर मंथन करने की आदत डालनी है।

वरदान:- सदा सेफ्टी की लकीर के अन्दर परमात्म छत्रछाया का अनुभव करने वाले मायाजीत भव
“बाप और आप” यही सेफ्टी की लकीर है, यह लकीर ही परमात्म छत्रछाया है। जो इस छत्रछाया की लकीर के अन्दर है उसके पास माया आने की हिम्मत भी नहीं रख सकती। फिर मेहनत क्या होती, रूकावट क्या होती, विघ्न क्या होता – इन शब्दों से अविद्या हो जायेगी। सदा सेफ रहेंगे, बाप की दिल में समाये रहेंगे – यही सबसे सहज और तीव्रगति में जाने का वा मायाजीत बनने का पुरुषार्थ है।
स्लोगन:- दिव्य गुणों के सर्व अलंकारों से सज़े सजाये रहो तो अहंकार आ नहीं सकता।

TODAY MURLI 6 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 November 2017 :- Click Here

06/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come into the lap of the unlimited Father while alive. You have become His children and so you definitely have to follow His shrimat. You have to put every direction into practice.
Question: When does the age of retirement for the world begin and why?
Answer: When Shiv Baba enters the body of Brahma, the age of retirement for the whole world begins because the Father comes to take you back. At this time, it is the age of retirement for everyone, young and old. Everyone has to go back to the sweet home, the land of liberation, and then go into liberation-in-life. In any case, when the Father enters Brahma’s body, Brahma’s age is 60 years. It is his age of retirement too.
Song: To live in Your lane and to die in Your lane.

Om shanti. In whose lane are you going to die? People want to go to the land of liberation and to be threaded in the rosary of victory of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiv Baba. You children know that all the souls of human beings are definitely the rosary around the Father’s neck just as the physical creation of a worldly father is definitely the garland around that physical father. Children remember their father and a father remembers his children. In the same way, all souls in fact remember the Father, the Supreme Father, the Supreme Soul. That one is a limited father and this One is the unlimited Father. Every human being wants to attain liberation because, to be the garland around the neck of the Incorporeal means liberation, and to be the garland around the neck of Vishnu means liberation-in-life. The Father gives you liberation and liberation-in-life. If you become children of the unlimited Father, you will become the garland around His neck. Children are the garland around the neck of their physical parents. Those parents are themselves children of other people. People sing: You are the Mother and the Father…. When we become the garland around Your neck, we will remain constantly happy. People remember the unlimited Father and they also want to know how to become the garland around His neck. It is only when Trimurti Shiv Baba comes and creates all three – Brahma, Vishnu and Shankar – that you can become the garland around the neck of the unlimited Father through Brahma. At first, you are the garland of your physical parents. It is only when you die alive from them and come to the Mother and Father from beyond that you can receive your inheritance. When wealthy people adopt a poor child, he goes into the lap of those wealthy parents while alive and the poor parents are also still alive. The child remembers both. You too remember both worldly and other worldly relationships. You have a meeting with both. You have taken the lap of the Parent from beyond in order to receive infinite happiness from Him. That is a limited lap whereas this is the unlimited lap. You have taken the lap while alive. You know that by going into His lap, you will receive a lot of happiness in the deity clan. Therefore, you definitely have to remember the Mother and Father whose children you have become. Shrimat has been remembered. You now follow His directions in a practical way. It isn’t that everyone is adopted instantly; no. You belong to Him gradually. The deity religion is now being established; the tree grows gradually. Of the Christians, Christ comes first. Then it grows to 10 to 20 to 50. This tree grows here in front of Him. Christ leaves, but he (his soul) is present here to the end. This One is the unlimited Father. Many have to become the garland around the neck of Shiv Baba because only then will they become the garland around the neck of Vishnu. Shiv Baba is incorporeal. He creates the mouth-born creation through Brahma. “Trimurti Shiva” has a meaning. There is no meaning to saying “Trimurti Brahma”. Baba continues to give you corrections. Beneath the picture of the cycle, you have to write: Discus of self-realisation (not spinning wheel). That Government has a spinning wheel. Here, you have the discus of self-realisation. Day by day, you continue to receive corrections. Baba has explained that you always have to say, “Trimurti Shiv Jayanti”. Shiva Baba gives you the inheritance through Brahma. Shiva is the Father, so He definitely has the inheritance to give. Therefore, Vishnu is the inheritance. “Destruction through Shankar” is remembered. This is why the picture of the Trimurti is a main one. The picture of the Trimurti has continued to exist. When you rule there, there will be the picture of Vishnu behind the throne. That is like your Coat of Arms. People don’t understand the meaning of that. The Father has explained it to you. You receive this knowledge at this time. Deities don’t have this knowledge. It is the third eye of you Brahmins that opens. The Father explains everything to you so easily: Manmanabhav! Remember the Father and the inheritance! You are the mouth-born creation of Brahma. You are also the Ganges of knowledge. You are the mouth-born creation who have emerged from the Ocean of Knowledge through the lotus-lips of Brahma. You are knowledgeable kumars and kumaris. Therefore, you are children of the Ocean of Knowledge. In fact, this is the real pilgrimage. This is the true sangam (confluence) of souls with the Supreme Soul: the Ocean of Knowledge and the Ganges of knowledge. These are very incognito matters and have to be understood. Those with gross intellects will not be able to understand these things. An easy method for them is to remember Shiv Baba and the inheritance through this one. By having this in your intellects, your mercury of happiness will rise. This is your Godly student life. The unlimited Father is teaching you. It is not Krishna, a human being, teaching you. Krishna is not called the Ocean of Knowledge. Krishna was not trikaldarshi. Your intellects have the knowledge of Raja Yoga through which you receive your reward. There is no need for this knowledge there; it is needed here. The Father says: I come and teach you Raja Yoga every cycle. I explain to you the secrets of the beginning, the middle and the end of creation and how the cycle turns. All the praise is of the confluence age, when the Purifier Father comes and takes you from the old world to the new world. Preparations are taking place for the destruction of the old world. You can see what is happening in the world nowadays. Today, someone may be an emperor and tomorrow the military would create opposition and put the emperor in jail; they kill anyone. There continues to be many such cases. Nowadays, you can’t trust anything. There is nothing but sorrow everywhere. Today, someone has a child and becomes happy and tomorrow the child dies and there is sorrow. This is the world of sorrow. The Father is now making you worthy of the new world of happiness. The Father Himself says: You have become so unworthy! You can now become worthy and become the masters of heaven. You were deities and have now become like devils. Yesterday, you would sing praise of the deities and call yourselves degraded sinners. You used to sing: We are without virtue and have no virtues. Therefore, God would definitely have had mercy on someone. Who made those deities virtuous? You now know this. No one, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, can create deities. People have become completely vicious and impure. Even when they grow old, they don’t renounce the vices. Otherwise, it is the system that, at the age of 60, they should go into the stage of retirement. They used to do that in earlier days; they would settle all their burdens by the time they reached the age of 60 and give everything to their children. Nowadays, they have children themselves even at the age of 60. The Father says: When this one was 60 years old in the last of his many births, when it was his stage of retirement, I entered him and that was when he renounced everything. When the Father comes, it is the stage of retirement for the whole world because everyone has to go back. This is why the Father says: Constantly remember Me alone. Neither young nor old, no one will remain. The Father comes and makes everyone sweet. Both the lands of liberation and liberation-in-life are sweet lands. Everything has to be destroyed. Everyone’s karmic accounts have to be settled. It doesn’t take long to experience punishment. When a person sacrifices himself at Kashi, he becomes liberated from his sins. Then his account begins again. However, not a single one goes into liberation. They think that by sacrificing themselves to Shiva, they will go to the land of nirvana. The Father says: No one can go back; everyone has to take rebirth. This number one soul takes the full number of rebirths. Therefore, surely those who come after him will also take rebirth. You have taken 84 births. Your part s continue from the beginning. This is your benevolent leap birth. In this birth, that is, in this age of charity, you become righteous souls. All of those are limited things. That is the month of charity and the year of charity whereas this is the age of charity. Only for you Brahmins is this the leap birth. You Brahmins are the topknot and you then become deities. You know that Baba is now making you the garland around His neck. We souls reside in the incorporeal world. The Father Himself says: When you were bodiless, you used to live with Me. You have now understood that you will first go to the golden age. There, there is the deity religion. There is no need to make effort there. Only at the confluence age is effort made. This is the confluence age. You don’t count the duration of the other confluences that take place. This confluence age has a duration. This is a very short age. It is only at this confluence age that the Father comes and changes it. Nothing happens in other ages. When there are two degrees less, the kingdom changes. You have had visions of how the kingdom is handed over. The Father comes at the confluence age and makes impure ones pure. That is why the duration of this age is counted from the time that the Father comes. Therefore, He definitely has come and He alone is the Ocean of Knowledge. His mouth-born creation are the rivers of knowledge, the Brahma Kumars and Kumaris. You have to receive knowledge from them. Baba has said: Create something new with which it will be easy to explain to others. Write ‘Trimurti Shiv Jayanti’ on that. Baba gives you directions, but those who create these things have to be clever. There are many types of obstacle to this sacrificial fire of knowledge which cause service to become slack. Shiv Jayanti is now about to come. You have to celebrate it with great splendour. In Delhi, there can be a lot of splendour. The Coat of Arms of both should be shown. Everything of ours would be spiritual. The Father is benevolent. Children also continue to benefit others. The Father is pleased when He sees you doing this. It is said “Charity begins at home.” You also have to explain to your friends and relatives. Otherwise, they will complain afterwards. You receive very good points. There are also very good pictures. The rosary too is so good. The rosary of Rudra is created and then the rosary of Vishnu is created. You Brahmins are those who relate the true Gita. You explain the secrets of the true pilgrimage. While sitting here, you have to remain on the pilgrimage of remembrance and then your sins will be burnt away. There is no other way to become satopradhan from tamopradhan. There is a lot of praise of yoga. It is this that requires effort. Many storms also come. It is easy and also difficult. There are the images of your yoga tapasya and also of your kingdom. You become deities by studying Raja Yoga. You are Raj Rishis. Those people are hatha yoga rishis. You have natural locks of hair. We are now the garland around the neck of Shiv Baba. We are all brothers. You will receive the inheritance from the Father. Prajapita Brahma is also remembered. That One is the incorporeal Father and this one is the corporeal father. They portray Shankar opening his eye and destruction taking place. They have shown Shankar with Parvati and Ganesh and made him into a householder. There is a lot of blind faith. The Father says: I made you so wealthy! You built temples, wrote scriptures, gave donations and incurred so much useless expense and thereby reached degradation. That too is fixed in the drama and this is why the Father sits here and explains to you. Baba makes you trikaldarshi. Your intellects have the knowledge of all three aspects of time. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. This is the age of charity. You have to become a righteous soul at this time. You have to benefit everyone. Show everyone the way to go to liberation and liberation-in-life.
  2. This is our Godly student life. Maintain the happiness that the unlimited Father is teaching us.
Blessing: May you be master merciful and together with being a teacher, also be forgiving with the feeling of being merciful.
In order to receive blessings from everyone, as well as being a teacher, also be master merciful at the same time. Be merciful and forgive others, and this forgiving will itself become a form of giving a teaching. You mustn’t just be a teacher, but you also have to forgive. Only with these sanskars will you be able to give blessings to everyone. Make the sanskars of giving blessings firm from now and people will continue to take blessings from your non-living images. For this, while taking every step according to shrimat, make your treasure-store of blessings overflow.
Slogan: Maya cannot come to those whose aprons are filled with God’s blessings.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 4 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 6 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 November 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 5 November 2017 :- Click Here
06/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – तुमने जीते जी बेहद के बाप की गोद ली है, उनकी सन्तान बने हो तो श्रीमत पर जरूर चलना है, हर डायरेक्शन अमल में लाना है
प्रश्नः- सृष्टि की वानप्रस्थ अवस्था कब से शुरू होती है और क्यों?
उत्तर:- जब शिवबाबा इस ब्रह्मा तन में प्रवेश करते हैं तब से सारी सृष्टि की वानप्रस्थ अवस्था शुरू होती है क्योंकि बाप सबको वापिस ले जाने के लिए आये हैं। इस समय छोटे बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। सबको मीठे घर मुक्तिधाम वापस जाना है फिर जीवनमुक्ति में आना है। वैसे भी बाप जब इस ब्रह्मा तन में प्रवेश करते हैं तो इनकी आयु 60 वर्ष की होती है। इनकी भी वानप्रस्थ अवस्था होती है।
गीत:- मरना तेरी गली में…

ओम् शान्ति। यह किसकी गली में आकर मरना होता है? मनुष्य चाहते हैं कि हम मुक्तिधाम में जायें। परमपिता परमात्मा, शिवबाबा की विजय माला में पिरो जाएं। बच्चे जानते हैं जो भी मनुष्य मात्र की आत्मायें हैं वह बाप के गले का हार जरूर हैं। जैसे लौकिक बाप की रचना, लौकिक बाप के गले का हार है। बच्चे बाप को, बाप बच्चे को याद करते हैं। वैसे वास्तव में जो भी आत्मायें हैं वह सब याद करती हैं परमपिता परमात्मा बाप को। वह है हद का बाप, यह है बेहद का बाप। हर एक मनुष्य चाहते हैं – हम मुक्ति प्राप्त करें क्योंकि निराकार के गले का हार अर्थात् मुक्ति और विष्णु के गले का हार अर्थात् जीवनमुक्ति। बाप मुक्ति और जीवनमुक्ति देते हैं। बेहद के बाप के बच्चे बनेंगे तो उनके गले का हार होंगे। लौकिक माँ बाप के गले का हार हैं बच्चे। वह खुद माँ बाप भी किसी के बच्चे होते हैं। गाते हैं तुम मात-पिता.. जब हम तुम्हारे गले का हार बनेंगे तब हम सदा सुखी होंगे। बेहद के बाप को याद करते हैं परन्तु उनके गले का हार कैसे बनेंगे, वह आश रहती है। सो तो जब त्रिमूर्ति शिवबाबा आये, आकर तीनों को रचे – ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को, तब ब्रह्मा द्वारा बेहद बाप के गले का हार बन सकें। पहले लौकिक माँ बाप के गले का हार हैं। उनसे जीते जी मरकर पारलौकिक बाप का बनें तब वर्सा मिले। जैसे कोई साहूकार, गरीब के बच्चे को एडाप्ट करते हैं तो आकर साहूकार की गोद लेते हैं – जीते जी। वह गरीब भी जीते तो हैं ना। दोनों याद रहते हैं। तुमको भी लौकिक और पारलौकिक दोनों सम्बन्ध याद हैं। दोनों से मिलन होता है। तुमने पारलौकिक माँ बाप की गोद ली है, उनसे सुख घनेरे लेने लिए। वह हुई हद की गोद, यह है बेहद की गोद। जीते जी गोद ली है। जानते हो इनकी गोद लेने से हम देवी-देवता कुल में सुख घनेरे पायेंगे। तो जिस मात-पिता की सन्तान बने हो उनको जरूर याद करना पड़े। श्रीमत तो गाई हुई है ना। अब तुम प्रैक्टिकल उनकी मत पर चल रहे हो। ऐसे भी नहीं झट से सब एडाप्ट हो जाते हैं। नहीं। आहिस्ते-आहिस्ते बनते हैं। अब देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। झाड़ धीरे-धीरे वृद्धि को पाता है। क्रिश्चियन का भी पहले क्राइस्ट आता है। फिर 10-20-50 बढ़ते जाते हैं। यह झाड़ यहाँ सामने बढ़ता है। क्राइस्ट चला जाता है फिर भी आकर अन्त में शामिल होता है। यह तो बेहद का बाप है। बहुतों को शिवबाबा के गले का हार बनना पड़ेगा तब फिर विष्णु के गले का हार बनेंगे। शिवबाबा तो है निराकार। ब्रह्मा द्वारा मुख वंशावली रचते हैं। त्रिमूर्ति शिव का भी अर्थ है। त्रिमूर्ति ब्रह्मा का अर्थ नहीं निकलता। बाबा करेक्शन भी करते रहते हैं। गोले के नीचे लिखना है स्वदर्शन चक्र (न कि चर्खा) उस गवर्मेन्ट का चर्खा लगा हुआ है। यहाँ स्वदर्शन चक्र है। दिन-प्रतिदिन करेक्शन होती रहती है।

बाबा ने समझाया है – हमेशा त्रिमूर्ति शिव जयन्ती कहना है। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा वर्सा देते हैं। शिव बाबा है तो वर्सा भी साथ में जरूर चाहिए। तो यह विष्णु है वर्सा। फिर शंकर द्वारा विनाश गाया हुआ है, इसलिए त्रिमूर्ति का चित्र है मुख्य। त्रिमूर्ति चित्र चला आया है। वहाँ भी तुम राज्य करते हो तो तख्त के पिछाड़ी विष्णु का चित्र रहता है। यह जैसे कोट आफ् आर्मस है। इसका अर्थ मनुष्य नहीं जानते। बाप ने तुम बच्चों को समझाया है, यह ज्ञान अभी तुमको मिला है, देवताओं के पास यह ज्ञान नहीं रहता। तीसरा नेत्र तुम ब्राह्मणों का खुलता है। बाप कितना सहज समझाते हैं, मनमनाभव। बाप और वर्से को याद करो। ब्रह्मा मुख वंशावली हो ना। तुम ज्ञान गंगायें भी ठहरे। तुम हो ज्ञान सागर द्वारा ब्रह्मा मुख कॅवल से निकली हुई मुख वंशावली, ज्ञान कुमार, कुमारियां। तो तुम हो ज्ञान सागर के बच्चे।

वास्तव में सच्चा-सच्चा तीर्थ तो यह है। आत्माओं और परमात्मा का यह है सच्चा संगम। ज्ञान सागर और ज्ञान गंगायें। यह बड़ी गुप्त समझने की बातें हैं। मोटी बुद्धि वाले यह नहीं समझ सकेंगे। उन्हों के लिए फिर सहज युक्ति है – शिवबाबा और वर्से को याद करो – इन द्वारा। यह बुद्धि में होने से खुशी का पारा चढ़ेगा। गॉडली स्टूडेन्ट लाइफ है ना। बेहद का बाप हमको पढ़ा रहे हैं। कृष्ण मनुष्य नहीं पढ़ाते। ज्ञान सागर कृष्ण को नहीं कहा जाता। कृष्ण त्रिकालदर्शी नहीं था। राजयोग का ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में है, जिससे तुम प्रालब्ध पाते हो। वहाँ इस नॉलेज की दरकार नहीं। दरकार यहाँ है। बाप कहते हैं कल्प-कल्प मैं आकर राजयोग सिखलाता हूँ। रचना के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाता हूँ कि यह चक्र कैसे फिरता है। महिमा सारी संगम की है, जबकि पतित-पावन बाप आकर पुरानी दुनिया से नई दुनिया में ले जाते हैं। पुरानी दुनिया के विनाश के लिए तैयारियां हो रही हैं। देखते हो आजकल दुनिया में क्या हो रहा है। आज बादशाह है कल मिलेट्री बिगड़ती तो बादशाह को भी कैदी बना देते हैं। कोई को भी मार डालते हैं। ऐसे बहुत केस होते रहते हैं। आजकल कोई बात पर भरोसा नहीं। दु:ख ही दु:ख है। आज किसको बच्चा हुआ, खुशी होगी। कल मर गया तो दु:ख। है ही दु:ख की दुनिया। अब बाप नई सुख की दुनिया का लायक बना रहे हैं। बाप खुद कहते हैं। तुम कितने नालायक अर्थात् न लायक बने हो। अब तुम लायक बन स्वर्ग के मालिक बन सकते हो। तुम सो देवी-देवता थे, अभी असुर बन पड़े हो। कल देवताओं की महिमा गाते थे, अपने को पापी नीच कहते थे। कहते हैं हम निर्गुण हारे में… तो जरूर कोई पर तरस किया होगा। इन देवताओं को किसने गुणवान बनाया, यह अभी तुम जानते हो। परमपिता परमात्मा बिगर कोई देवता बना न सके। मनुष्य बिल्कुल विकारी पतित बन पड़े हैं। बूढ़े हो जाते हैं तो भी विकार नहीं छोड़ते। नहीं तो कायदा है 60 वर्ष के बाद वानप्रस्थ लेना चाहिए। पहले ऐसे करते थे। 60 वर्ष के अन्दर अपना बोझा उतारकर बच्चों को दे देते थे। अब 60 वर्ष की आयु में भी बच्चे पैदा करते रहते हैं। बाप कहते हैं इनकी 60 वर्ष की आयु में बहुत जन्मों के अन्त के अन्त में, जब इनकी वानप्रस्थ अवस्था हुई तब मैंने प्रवेश किया, तब इसने भी सब कुछ छोड़ा। बाप के आने से सारी दुनिया के लिए वानप्रस्थ अवस्था हो जाती है क्योंकि सबको जाना है वापिस इसलिए बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। छोटा वा बड़ा कोई भी रहेगा नहीं।

बाप आकर सबको मीठा बनाते हैं। मुक्ति-जीवनमुक्ति दोनों मीठे धाम हैं। विनाश सबका होना है। हिसाब-किताब चुक्तू भी सबका होता है। सज़ा खाने में देरी नहीं लगती। जैसे काशी कलवट खाते हैं तो पापों से मुक्त हो जाते हैं। फिर नयेसिर हिसाब शुरू हो जाता है। बाकी मुक्ति में एक भी नहीं जाते। वह समझते हैं शिव पर कुर्बान हो निर्वाणधाम चले जायेंगे। बाप कहते हैं वापिस कोई जा नहीं सकते। पुनर्जन्म तो सबको लेना है। यह पहला नम्बर ही पूरे पुनर्जन्म लेते हैं। तो जरूर पीछे वाले भी लेंगे। तुमने 84 जन्म लिए हैं। शुरू से ही तुम्हारा पार्ट चलता है। तुम्हारा यह है कल्याणकारी लीप जन्म। इस जन्म में अथवा इस धर्माऊ युग में तुम धर्मात्मा बनते हो। वह सब हैं हद की बातें। वह है धर्माऊ मास, धर्माऊ वर्ष, यह है धर्माऊ युग। यह लीप जन्म ब्राह्मणों का एक ही है। ब्राह्मण हैं चोटी फिर तुम देवता बनेंगे। अब तुम जानते हो बाबा हमको गले का हार बनाते हैं। हम आत्मायें निराकारी दुनिया में रहती हैं। बाप खुद कहते हैं तुम जब अशरीरी थे तो मेरे पास रहते थे। अभी तुम समझ गये हो – हम पहले-पहले सतयुग में आयेंगे। वहाँ है देवी-देवता धर्म। वहाँ पुरुषार्थ करने की जरूरत नहीं। पुरुषार्थ संगम पर ही किया जाता है। संगमयुग यह है और जो संगम होते हैं, उनकी आयु नहीं गिनी जाती। इस संगम की आयु है। बहुत छोटा सा युग है। इस संगमयुग में ही बाप आकर इनको बदली करते हैं। बाकी उन युगों का कुछ नहीं है। दो कला कम होने से राज्य बदली होता है। यह तुमको साक्षात्कार होता है, कैसे राज्य देते हैं? संगमयुग में बाप आकर पतितों को पावन बनाते हैं इसलिए इस युग की आयु – जब से बाप आया है तब से गिनेंगे। तो जरूर वह आया हुआ है, वही ज्ञान का सागर है। उनकी मुख वंशावली, ज्ञान नदियां यह ब्रहमाकुमार, कुमारियां हैं, इनसे ही ज्ञान पाना है। बाबा ने कहा है कोई ऐसी नई चीज़ बनाओ जो समझाना सहज हो। उसमें त्रिमूर्ति शिव जयन्ती लिखो। बाबा डायरेक्शन देते हैं परन्तु बनाने वाला होशियार चाहिए। इस ज्ञान यज्ञ में विघ्न भी किसम-किसम के पड़ते हैं, फिर सर्विस ढीली हो जाती है। शिवजयन्ती आई कि आई। बड़े धूमधाम से मनानी है। देहली में तो बहुत धूमधाम हो सकती है। दोनों के कोट आफ आर्मस दिखायेंगे। हम अपनी ईश्वरीय बात करते हैं। बाप है ही कल्याणकारी। बच्चे भी औरों का कल्याण करते रहते हैं। तो बाप देखकर खुश होता है। कहा जाता है चैरिटी बिगन्स एट होम। मित्र सम्बन्धियों को भी समझाना है। नहीं तो उल्हना देंगे। प्वाइंट्स बहुत अच्छी मिलती हैं। चित्र भी अच्छे हैं। माला भी कितनी अच्छी है। रुद्र माला बन फिर विष्णु की माला बनती है।

तुम ब्राह्मण हो सच्ची-सच्ची गीता सुनाने वाले। सच्ची-सच्ची यात्रा का राज़ तुम समझाते हो। यहाँ बैठे तुम याद की यात्रा में रहो तो पाप भस्म हो जायेंगे। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनने का और कोई उपाय नहीं। योग की बहुत महिमा है। मेहनत भी इसमें है। बहुत तूफान आते हैं। सहज भी है तो मुश्किल भी है। तुम्हारी योग तपस्या के भी चित्र हैं। राजाई का भी चित्र है। राजयोग से तुम देवता बनते हो। तुम राजऋषि हो, वह हठयोग ऋषि हैं। तुमको नेचरल जटायें हैं। अभी हम सब बाबा के गले का हार हैं, सब भाई-भाई हैं। बाप से वर्सा भी मिलता होगा। प्रजापिता ब्रह्मा भी गाया हुआ है। वह निराकार पिता यह साकार पिता। शंकर के लिए दिखाते हैं ऑख खोली विनाश हुआ। शंकर को पार्वती, गणेश आदि दिखलाकर गृहस्थी बना दिया है। अन्धश्रधा बहुत है। बाप कहते हैं मैंने तुमको साहूकार बनाया था। तुमने मन्दिर बनाकर, शास्त्र बनाकर, दान कर फालतू खर्चा करते-करते दुर्गति को पा लिया। यह भी ड्रामा में नूँध थी तब तो बाप बैठ समझाते हैं। बाबा तुमको त्रिकालदर्शी बनाते हैं। तीनों कालों का ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में है। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यह धर्माऊ युग है। इस समय धर्मात्मा बनना है। सबका कल्याण करना है। मुक्ति और जीवनमुक्ति में चलने का रास्ता बताना है।

2) हमारी यह गॉडली स्टूडेन्ट लाइफ है। बेहद का बाप हमको पढ़ा रहा है। इस खुशी में रहना है।

वरदान:- शिक्षक बनने के साथ रहमदिल की भावना द्वारा क्षमा करने वाले मास्टर मर्सीफुल भव 
सर्व की दुआये लेनी हैं तो शिक्षक बनने के साथ-साथ मास्टर मर्सीफुल बनो। रहमदिल बन क्षमा करो तो यह क्षमा करना ही शिक्षा देना हो जायेगा। सिर्फ शिक्षक नहीं बनना है, क्षमा करना है – इन संस्कारों से ही सबको दुआयें दे सकेंगे। अभी से दुआयें देने के संस्कार पक्के करो तो आपके जड़ चित्रों से भी दुआयें लेते रहेंगे, इसके लिए हर कदम श्रीमत प्रमाण चलते हुए दुआओं का खजाना भरपूर करो।
स्लोगन:- जिनकी झोली परमात्म दुआओं से भरपूर है उनके पास माया आ नहीं सकती।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 4 November 2017 :- Click Here

Font Resize