today murli 6 january

TODAY MURLI 6 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 January 2019 :- Click Here

06/01/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
08/04/84

By attaining the rights of the confluence age

you become one who has a right to the kingdom of the world.

Today, BapDada is seeing the divine court of the elevated souls who have claimed a right to be self-sovereigns. You elevated souls become those who have a right to the court of the kingdom of the world and the court of self-sovereigns. Only those who have the right to be self-sovereigns have a right to the kingdom of the world. Do you constantly have this double intoxication? To belong to the Father means to claim innumerable rights. Do you know how many types of right you have claimed? Remember the rosary of your rights. The first right is that you have become a child of God, that is, you have each claimed the right to become a most elevated soul who is worthy of respect and worship. You cannot claim a right to be a soul worthy of worship without first becoming a child of the Father. Therefore, the first right is that you have become a soul worthy of being worshipped. The second right is that you have become a master of the treasures of knowledge, that is, you have claimed all rights. The third right is that you have claimed a right to all powers. The fourth right is that you have become a self-sovereign who has conquered all your physical organs. With all of these rights, you have become a conqueror of Maya and thereby a conqueror of the world, one who has a right to the kingdom of the world. So, by constantly keeping all of these rights in your awareness, you have become a powerful soul. You have become powerful in this way, have you not?

You can achieve success in attaining self-sovereignty and the kingdom of the world by especially imbibing three things. The basis of success in any elevated task is renunciation, tapasya and service. On the basis of these three, there can be no question as to whether there will be success or not. Success in a secondis guaranteed when all of these three are imbibed – it is already accomplished. Renunciation of what? The renunciation of just one thing easily and naturally enables you to renounce everything else. That one renunciation is the renunciation of the consciousness of the body, which easily makes you renounce the consciousness of any limited “I”. This consciousness of any limited “I” stops you from doing tapasya and service. Where there is the consciousness of a limited “I”, there cannot be renunciation, tapasya or service. The renunciation of one thing is needed and that is the consciousness of any limited “I” and “mine”. What else remains when “I” and “mine” have ended? That which is unlimited. I am a pure soul and mine is the one Father and none other. So, when you have the unlimited Father, the Almighty Authority, with you, success is guaranteed for you. With this renunciation, your tapasya is also automatically achieved. What is tapasya? I belong to the One; I only follow the elevated directions of the One. It is with this that your stage automatically becomes constant and stable. Constantly to have the awareness of the one God is tapasya. A constant and stable stage is your elevated seat. The stage of being like a lotus flower is your seat of tapasya. Through renunciation, your tapasya is automatically achieved. When you have become an embodiment of renunciation and tapasya, what will you do? To renounce the consciousness of the self, means that the consciousness of “I” has ended. You become tapaswis who are lost in the love of One and you cannot then stay without doing service. Any limited “I” and “mine” don’t allow you to do true service. Those who are embodiments of renunciation and tapasya are real servers. When you have the slightest consciousness of the body, “I did this”, “I am like this”, what do you become instead of being a server? You become a server in name only; you don’t become a true server. The foundation of real service is renunciation and tapasya. Those who are such renunciates, tapaswi servers, are constant embodiments of success. Victory and success become the garland around their necks. They become those who have this as a birthright. Therefore, BapDada is giving all the children of the world these elevated teachings: Become a renunciate, become a tapaswi and become a real server.

Today’s world is a world filled with the fear of death. (There were storms.) Even though there is upheaval of the elements of nature, you are unshakeable, are you not? The duty of the tamoguni elements of nature is to create upheaval and the duty of you unshakeable souls is to transform the elements of nature. Nothing new! All of this is to happen anyway. It is only through upheaval that you will become unshakeable. So, have you elevated souls who are residents of the court and self-sovereigns, understood? This too is a royal court, is it not? “Raja Yogis” means those who are kings of the self. “A court of Raja Yogis” means a court of those who are self-sovereigns. All of you have also become political leaders, have you not? They are political leaders of their country and you are leaders of the self. A leader means one who conducts everything according to the right principles. Therefore, you are the leaders of the self who follow the principles of religion and kingdom. Accurate, elevated principles are shrimat. Elevated directions are the right moral principles. Those who follow these moral principles are successful leaders.

BapDada is congratulating the leaders of the world because they are at least making effort, although there is a variety of them. At least they have love for their country. At least they make effort with the thought that their kingdom should remain forever. Their love for keeping their Bharat elevated is automatically inspiring them to make effort. Now, the time will come when both the authority of the kingdom and the authority of religion will come together. There will then be cries of the victory of Bharat throughout the whole world. Bharat will be the lighthouse. Everyone’s vision will be on Bharat. Everyone will experience Bharat to be the land of inspiration. Bharat is the imperishable land. It is the land of the incarnation of the eternal Father. This is why the praise of Bharat is always great. Achcha.

All of you have reached your sweet home. BapDada congratulates all the children for coming here. Welcome! The decoration of the Father’s home is welcome. Achcha.

To all the stars of success who remain constantly stable on the seat of a constant and stable stage, to the tapaswi children, the great souls who always stay in remembrance of the one Supreme, to the world benefactor, serviceable children who have elevated good wishes and elevated pure feelings, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting the Chief Minister of Gujarat:

Welcome to the Father’s home and your home! The Father knows that you very much love doing service. Only a handful out of multimillions are such servers and this is why you will constantly continue to receive the instant fruit for the hard work you do in service in the form of internal happiness. This effort is the basis of success. If all instrument servers make this effort, the kingdom of Bharat will constantly continue to achieve success. You are definitely to receive success. This is guaranteed, because those who become instruments definitely receive the instant fruit of service and also receive fruit in the future. Therefore, you are an instrument for service. Have the consciousness of being an instrument and constantly continue to move forward in service. Where there is the consciousness of being an instrument and there isn’t any consciousness of “I”, there will constantly be progress. This feeling of being an instrument automatically awakens good wishes and pure feelings. The reason why there aren’t good wishes and pure feelings in the world today is that, instead of having the feelings of being instruments, there is the consciousness of “I”. If they considered themselves to be instruments, they would also understand the Karavanhar Father. Karankaravanhar Swami (Lord who acts and inspires others to act) will always inspire you to do what is elevated. Instead of being trustees, they have become householders of the kingdom. There is a burden in being a householder and lightness in being a trustee. Unless you become light, you cannot have decision-making power. If you are a trustee, you are light and your decision-making power is also elevated. Therefore, always be a trustee. The consciousness of being an instrument is fruitful. You definitely receive the fruit of thisawareness. This feeling of being an instrument will always continue to give you elevated fruit. Therefore, remind all your companions to have the consciousness of being an instrument and a trustee. These principles of the kingdom will become the elevated principles for the whole world. The whole world will copy the principles of the Government of Bharat. However, the basis of this is the consciousness of being a trustee, that is, of being an instrument.

BapDada speaking to Kumars:

“Kumars” means those who accumulate all powers and all treasures and do the service of making others powerful. You are constantly busy doing this service, are you not? If you remain busy, there will continue to be progress. When you are even a little free, there are wasteful thoughts. Remain busy in order to remain powerful. Make your own timetable. Just as you make a timetable for your body, in the same way, also make a timetable for your intellect. Make a planto keep your intellect busy. By remaining busy, you will constantly continue to progress. According to the present time, to be elevated in the life of a kumar is a very great fortune. Always think that you are an elevated fortunate soul. Always keep a balance between remembrance and service. Those who constantly keep this balance continue to receive blessings. Achcha.

Constantly remain absorbed in God’s love

God’s love is a blissful swing. While swinging in this swing of happiness, remain constantly absorbed in God’s love and no adverse situation or upheaval of Maya can then come in front of you. God’s love is infinite and unshakeable and there is so much of it that everyone can attain it. However, the way to attain God’s love is to be detached. To the extent that you become detached, you will accordingly claim a right to God’s love. Remain absorbed in God’s love to such an extent that nothing limited can influence you or attract you to itself. Remain constantly lost in your unlimited attainments through which the fragrance of spirituality spreads into the atmosphere. The sign of love is: you sacrifice everything for the one you love. The Father has so much love for the children that He writes a letter every day giving the response of love. He gives love and remembrance and as the Companion, He constantly fulfils the responsibility of love. Sacrifice all your weaknesses for this love. The Father loves you children and this is why He constantly says: Children, whatever you are, however you are, you are Mine. Similarly, you also remain absorbed in love and say with your hearts: Baba, whatever You are, You are everything. Never be influenced by the kingdom of falsehood. You don’t have to remember consciously someone you love for you automatically love that one. Simply let your love be true and altruistic and from the heart. Since you say, “My Baba, lovely Baba”, you cannot then forget the One you love. You cannot receive altruistic love from any soul except the Father. Therefore, do not remember Him with any other motives, but remain absorbed in altruistic love. Become experienced in God’s love, because through this experience you will become an easy yogi and continue to fly. God’s love is a means to make you fly. Those who fly cannot be trapped by any pull of gravity. No matter how attractive a form of Maya may be, that attraction cannot reach those who are in the flying stage. The string of God’s love pulls you here from far, far away. This love gives so much happiness that, if you become lost in this love for even a second, you will forget all types of sorrow and begin to swing in the swing of happiness for all time. When you receive what you need in life from someone, that is a sign of love. The Father has so much love for you children that He fulfils all your desires for happiness and peace in life. Not only does the Father give you happiness, but He also makes you into masters of the treasure of happiness. Along with this, He also gives you a pen with which to draw your line of elevated fortune. You can create as much fortune as you want. This is God’s love. The rays of the sparkle, intoxication and experience of the children who remain constantly absorbed and lost in God’s love are so powerful that any problem is not only far away from them, but it cannot even raise its eyes to look at them. They cannot have any type of hardship.

The Father has so much love for the children that He sustains you from amrit vela. The beginning of the day is so elevated. God Himself calls you to celebrate a meeting, has a heart-to-heart conversation and fills you with power. It is the songs of the Father’s love that awaken you. He calls you and awakens you with so much love: Sweet children, lovely children, come! The practical form of this sustenance of love is an easy yogi life. You would generally do whatever the person you love likes. The Father doesn’t like it when you children get upset. So, never say: What can I do? The situation was like that, which was why I got upset. Even if a situation that can upset you, comes in front of you, do not allow yourself to get into the stage of being upset.

BapDada has so much love for you children that He feels that each of His children should go ahead of Himself. In the world too, you make whoever you have a lot of love for go ahead of you. This is a sign of love. BapDada also says: Let no weaknesses remain in My children. Let all become complete, perfect and equal. At the beginning of the day, at amrit vela, completely fill your hearts with God’s love. If your hearts are full of God’s love, God’s powers and God’s knowledge, your feelings of attachment and love can never go in any other direction.

God’s love can only be received in this one birth. For 83 births you received love from deity souls and ordinary souls. It is only now that you receive God’s love. Love for souls enables you to lose the fortune of the kingdom whereas God’s love enables you to receive the fortune of the kingdom. So remain lost in the experience of this love. If you have true love for the Father, the sign of that is to become equal and karmateet. Perform actions as a ‘karavanhar” (one who inspires). Not that your physical organs make you do something, but rather you make your physical organs work. Do not perform any actions under the influence of your mind, intellect or sanskars.

Blessing: May you be a courageous soul who makes the impossible possible by becoming strong from weak.
On the basis of the blessing “When the child has courage, the Father helps”, you first had the determination that you definitely had to become pure. The Father gave you multi-million-fold help. He said: You souls are eternally and originally pure, you have to become that many times and you will continue to become that. By becoming aware of “many times before”, you have become powerful. From being weak, you have become so strong that you challenge people and say that you will definitely make the world pure and show everyone. What the rishis, munis and great souls consider to be difficult – staying in a household and remaining pure – you say is extremely easy.
Slogan: To make a vow is to have determination. True devotees never break their vow.

 

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

In his ordinary form, Father Brahma had an extraordinary and an alokik stage. Similarly, follow the father.

In the galaxy of stars, the twinkle and sparkle of the special stars is seen to be unique and lovely from a distance. In the same way, you stars are seen are as special souls in the midst of ordinary souls.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 6 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 January 2019

To Read Murli 5 January 2019 :- Click Here
06-01-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 08-04-84 मधुबन

संगमयुग पर प्राप्त अधिकारों से विश्व राज्य अधिकारी

बापदादा आज स्वराज्य अधिकारी श्रेष्ठ आत्माओं की दिव्य दरबार देख रहे हैं। विश्व राज्य दरबार और स्वराज्य दोनों ही दरबार अधिकारी आप श्रेष्ठ आत्मायें बनती हो। स्वराज्य अधिकारी ही विश्व राज्य अधिकारी बनते हैं। यह डबल नशा सदा रहता है? बाप का बनना अर्थात् अनेक अधिकार प्राप्त करना। कितने प्रकार के अधिकार प्राप्त किये हैं, जानते हो? अधिकार माला को याद करो। पहला अधिकार – परमात्म बच्चे बने अर्थात् सर्वश्रेष्ठ माननीय पूज्यनीय आत्मा बनने का अधिकार पाया। बाप के बच्चे बनने के सिवाए पूज्यनीय आत्मा बनने का अधिकार प्राप्त हो नहीं सकता। तो पहला अधिकार – पूज्यनीय आत्मा बने। दूसरा अधिकार – ज्ञान के खजानों के मालिक बने अर्थात् अधिकारी बने। तीसरा अधिकार – सर्व शक्तियों के प्राप्ति के अधिकारी बने। चौथा अधिकार – सर्व कर्मेन्द्रियों जीत स्वराज्य अधिकारी बने। इस सर्व अधिकारों द्वारा मायाजीत सो जगत जीत विश्व राज्य अधिकारी बनते। तो अपने इन सर्व अधिकारों को सदा स्मृति में रखते हुए समर्थ आत्मा बन जाते। ऐसे समर्थ बने हो ना।

स्वराज्य वा विश्व का राज्य प्राप्त करने के लिए विशेष 3 बातों की धारणा द्वारा ही सफलता प्राप्त की है। कोई भी श्रेष्ठ कार्य की सफलता का आधार त्याग, तपस्या और सेवा है। इन तीनों बातों के आधार पर सफलता होगी वा नहीं होगी, यह क्वेश्चन नहीं उठ सकता। जहाँ तीनों बातों की धारणा है वहाँ सेकण्ड में सफलता है ही है। हुई पड़ी है। त्याग किस बात का? सिर्फ एक बात का त्याग सर्व त्याग सहज और स्वत: कराता है। वह एक त्याग है – देह भान का त्याग, जो हद के मैं-पन का त्याग सहज करा देता है। यह हद का मैं पन तपस्या और सेवा से वंचित करा देता है। जहाँ हद का मै-पन हैं वहाँ त्याग, तपस्या और सेवा हो नहीं सकती। हद का मैं-पन, मेरा-पन, इस एक बात का त्याग चाहिए। मैं और मेरा समाप्त हो गया तो बाकी क्या रहा? बेहद का। मैं एक शुद्ध आत्मा हूँ और मेरा तो एक बाप दूसरा न कोई। तो जहाँ बेहद का बाप सर्वशक्तिमान है, वहाँ सफलता सदा साथ है। इसी त्याग द्वारा तपस्या भी सिद्ध हो गई ना। तपस्या क्या है? मैं एक का हूँ। एक की श्रेष्ठ मत पर चलने वाला हूँ। इसी से एकरस स्थिति स्वत: हो जाती है। सदा एक परमात्म स्मृति, यही तपस्या है। एकरस स्थिति यही श्रेष्ठ आसन है। कमल पुष्प समान स्थिति यही तपस्या का आसन है। त्याग से तपस्या भी स्वत: ही सिद्ध हो जाती है। जब त्याग और तपस्या स्वरुप बन गये तो क्या करेंगे? अपने पन का त्याग अथवा मैं-पन समाप्त हो गया। एक की लगन में मगन तपस्वी बन गये तो सेवा के सिवाए रह नहीं सकते। यह हद का मैं और मेरा सच्ची सेवा करने नहीं देता। त्यागी और तपस्वी मूर्त सच्चे सेवाधारी हैं। मैंने यह किया, मैं ऐसा हूँ, यह देह का भान जरा भी आया तो सेवाधारी के बदले क्या बन जाते? सिर्फ नामधारी सेवाधारी बन जाते। सच्चे सेवाधारी नहीं बनते। सच्ची सेवा का फाउन्डेशन है त्याग और तपस्या। ऐसे त्यागी तपस्वी सेवाधारी सदा सफलता स्वरुप हैं। विजय, सफलता उनके गले की माला बन जाती है। जन्म सिद्ध अधिकारी बन जाते। तो बापदादा विश्व के सर्व बच्चों को यही श्रेष्ठ शिक्षा देते हैं कि त्यागी बनो, तपस्वी बनो, सच्चे सेवाधारी बनो।

आज का संसार मृत्यु के भय का संसार है। (आंधी तूफान आया) प्रकृति हलचल में आप तो अचल हो ना! तमो-गुणी प्रकृति का काम है हलचल करना और आप अचल आत्माओं का कार्य है प्रकृति को भी परिवर्तन करना। नथिंग न्यु। यह सब तो होना ही है। हलचल में ही तो अचल बनेंगे। तो स्वराज्य अधिकारी दरबार निवासी श्रेष्ठ आत्माओं ने समझा! यह भी राज्य दरबार है ना। राजयोगी अर्थात् स्व के राजे। राजयोगी दरबार अर्थात् स्वराज्य दरबार। आप सभी भी राजनेता बन गये ना। वह हैं देश के राजनेता और आप हो स्वराज्य नेता। नेता अर्थात् नीति प्रमाण चलने वाले। तो आप धर्मनीति, स्वराज्य नीति प्रमाण चलने वाले स्वराज्य नेता हो। यथार्थ श्रेष्ठ नीति अर्थात् श्रीमत। श्रीमत ही यथार्थ नीति है। इस नीति पर चलने वाले सफल नेता हैं।

बापदादा देश के नेताओं को मुबारक देते हैं क्योंकि फिर भी मेहनत तो करते हैं ना। भल वैराइटी हैं। फिर भी देश के प्रति लगन है। हमारा राज्य अमर रहे – इस लगन से मेहनत तो करते हैं ना। हमारा भारत ऊंचा रहे, यह लगन स्वत: ही मेहनत कराती है। अब समय आयेगा जब राज्य सत्ता और धर्म सत्ता दोनों साथ होंगी, तब विश्व में भारत की जय-जयकार होगी। भारत ही लाइट हाउस होगा। भारत की तरफ सबकी दृष्टि होगी। भारत को ही विश्व प्रेरणा पुंज अनुभव करेंगे। भारत अविनाशी खण्ड है। अविनाशी बाप की अवतरण भूमि है इसलिए भारत का महत्व सदा महान है। अच्छा!

सभी अपने स्वीट होम में पहुँच गये। बापदादा सभी बच्चों के आने की बधाई दे रहे हैं। भले पधारे। बाप के घर के श्रृंगार भले पधारे। अच्छा!

सभी सफलता के सितारों को सदा एकरस स्थिति के आसन पर स्थित रहने वाले तपस्वी बच्चों को, सदा एक परमात्म श्रेष्ठ याद में रहने वाली महान आत्माओं को श्रेष्ठ भावना श्रेष्ठ कामना करने वाले विश्व कल्याणकारी सेवाधारी बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

अव्यक्त बापदादा से गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री की मुलाकात

बाप के घर में वा अपने घर में भले आये। बाप जानते हैं कि सेवा में लगन अच्छी है। कोटों में कोई ऐसे सेवाधारी हैं इसलिए सेवा के मेहनत की आन्तरिक खुशी प्रत्यक्षफल के रूप में सदा मिलती रहेगी। यह मेहनत सफलता का आधार है। अगर सभी निमित्त सेवाधारी मेहनत को अपनायें तो भारत का राज्य सदा ही सफलता को पाता रहेगा। सफलता तो मिलनी ही है। यह तो निश्चित है लेकिन जो निमित्त बनता है, निमित्त बनने वाले को सेवा का प्रत्यक्षफल और भविष्य फल प्राप्त होता है। तो सेवा के निमित्त हो। निमित्त भाव रख सदा सेवा में आगे बढ़ते चलो। जहाँ निमित्त भाव है, मैं-पन का भाव नहीं है वहाँ सदा उन्नति को पाते रहेंगे। यह निमित्त भाव शुभ भावना, शुभ कामना स्वत: जागृत करता है। आज शुभ भावना, शुभ कामना नहीं है उसका कारण निमित्त भाव के बजाए मैं-पन आ गया है। अगर निमित्त समझें तो करावनहार बाप को समझें। करनकरावनहार स्वामी सदा ही श्रेष्ठ करायेंगे। ट्रस्टी-पन के बजाए राज्य की प्रवृत्ति के गृहस्थी बन गये हैं, गृहस्थी में बोझ होता है और ट्रस्टी पन में हल्कापन होता है। जब तक हल्के नहीं तो निर्णय शक्ति भी नहीं है। ट्रस्टी हैं तो हल्के हैं तो निर्णय शक्ति श्रेष्ठ है, इसलिए सदा ट्रस्टी हैं। निमित्त हैं, यह भावना फलदायक है। भावना का फल मिलता है। तो यह निमित्त पन की भावना सदा श्रेष्ठ फल देती रहेगी। तो सभी साथियों को यह स्मृति दिलाओ कि निमित्त भाव, ट्रस्टीपन का भाव रखो। तो यह राजनीति विश्व के लिए श्रेष्ठ नीति हो जायेगी। सारा विश्व इस भारत की राजनीति को कापी करेगा। लेकिन इसका आधार ट्रस्टीपन अर्थात् निमित्त भाव।

कुमारों से:- कुमार अर्थात् सर्व शक्तियों को, सर्व खजानों को जमा कर औरों को भी शक्तिवान बनाने की सेवा करने वाले। सदा इसी सेवा में बिजी रहते हो ना। बिजी रहेंगे तो उन्नति होती रहेगी। अगर थोड़ा भी फ्री होंगे तो व्यर्थ चलेगा। समर्थ रहने के लिए बिजी रहो। अपना टाइमटेबल बनाओ। जैसे शरीर का टाइमटेबल बनाते हैं ऐसे बुद्धि का भी टाइमटेबल बनाओ। बुद्धि से बिजी रहने का प्लैन बनाओ। तो बिजी रहने से सदा उन्नति को पाते रहेंगे। आजकल के समय प्रमाण कुमार जीवन में श्रेष्ठ बनना बहुत बड़ा भाग्य है। हम श्रेष्ठ भाग्यवान आत्मा हैं, यही सदा सोचो। याद और सेवा का सदा बैलेन्स रहे। बैलेन्स रखने वालों को सदा ब्लैसिंग मिलती रहेगी। अच्छा!

चुने हुए विशेष अव्यक्त महावाक्य

परमात्म प्यार में सदा लवलीन रहो

परमात्म प्यार आनंदमय झूला है, इस सुखदाई झूले में झूलते सदा परमात्म प्यार में लवलीन रहो तो कभी कोई परिस्थिति वा माया की हलचल आ नहीं सकती। परमात्म-प्यार अखुट है, अटल है, इतना है जो सर्व को प्राप्त हो सकता है। लेकिन परमात्म-प्यार प्राप्त करने की विधि है-न्यारा बनना। जो जितना न्यारा है उतना वह परमात्म प्यार का अधिकारी है। परमात्म प्यार में समाई हुई आत्मायें कभी भी हद के प्रभाव में नहीं आ सकती, सदा बेहद की प्राप्तियों में मगन रहती हैं। उनसे सदा रूहानियत की खुशबू आती है। प्यार की निशानी है-जिससे प्यार होता है उस पर सब न्यौछावर कर देते हैं। बाप का बच्चों से इतना प्यार है जो रोज़ प्यार का रेसपान्ड देने के लिए इतना बड़ा पत्र लिखते हैं। यादप्यार देते हैं और साथी बन सदा साथ निभाते हैं। तो इस प्यार में अपनी सब कमजोरियां कुर्बान कर दो। बच्चों से बाप का प्यार है इसलिए सदा कहते हैं बच्चे जो हो, जैसे हो-मेरे हो। ऐसे आप भी सदा प्यार में लवलीन रहो दिल से कहो बाबा जो हो वह सब आप ही हो। कभी असत्य के राज्य के प्रभाव में नहीं आओ। जो प्यारा होता है उसे याद किया नहीं जाता, उसकी याद स्वत: आती है। सिर्फ प्यार दिल का हो, सच्चा और नि:स्वार्थ हो। जब कहते हो मेरा बाबा, प्यारा बाबा-तो प्यारे को कभी भूल नहीं सकते। और नि:स्वार्थ प्यार सिवाए बाप के किसी आत्मा से मिल नहीं सकता इसलिए कभी मतलब से याद नहीं करो, नि:स्वार्थ प्यार में लवलीन रहो। परमात्म-प्यार के अनुभवी बनो तो इसी अनुभव से सहजयोगी बन उड़ते रहेंगे। परमात्म-प्यार उड़ाने का साधन है। उड़ने वाले कभी धरनी की आकर्षण में आ नहीं सकते। माया का कितना भी आकर्षित रूप हो लेकिन वह आकर्षण उड़ती कला वालों के पास पहुँच नहीं सकती। यह परमात्म प्यार की डोर दूर-दूर से खींच कर ले आती है। यह ऐसा सुखदाई प्यार है जो इस प्यार में एक सेकण्ड भी खो जाते हैं उनके अनेक दु:ख भूल जाते हैं और सदा के लिए सुख के झूले में झूलने लगते हैं। जीवन में जो चाहिए अगर वह कोई दे देता है तो यही प्यार की निशानी होती है। तो बाप का आप बच्चों से इतना प्यार है जो जीवन के सुख-शान्ति की सब कामनायें पूर्ण कर देते हैं। बाप सुख ही नहीं देते लेकिन सुख के भण्डार का मालिक बना देते हैं। साथ-साथ श्रेष्ठ भाग्य की लकीर खींचने का कलम भी देते हैं, जितना चाहे उतना भाग्य बना सकते हो – यही परमात्म प्यार है। जो बच्चे परमात्म प्यार में सदा लवलीन, खोये हुए रहते हैं उनकी झलक और फ़लक, अनुभूति की किरणें इतनी शक्तिशाली होती हैं जो कोई भी समस्या समीप आना तो दूर लेकिन आंख उठाकर भी नहीं देख सकती। उन्हें कभी भी किसी भी प्रकार की मेहनत हो नहीं सकती।

बाप का बच्चों से इतना प्यार है जो अमृतवेले से ही बच्चों की पालना करते हैं। दिन का आरम्भ ही कितना श्रेष्ठ होता है! स्वयं भगवन मिलन मनाने के लिये बुलाते हैं, रुहरिहान करते हैं, शक्तियाँ भरते हैं! बाप की मोहब्बत के गीत आपको उठाते हैं। कितना स्नेह से बुलाते हैं, उठाते हैं – मीठे बच्चे, प्यारे बच्चे, आओ…..। तो इस प्यार की पालना का प्रैक्टिकल स्वरूप है ‘सहज योगी जीवन’। जिससे प्यार होता है, उसको जो अच्छा लगता है वही किया जाता है। तो बाप को बच्चों का अपसेट होना अच्छा नहीं लगता इसलिए कभी भी यह नहीं कहो कि क्या करें, बात ही ऐसी थी इसलिए अपसेट हो गये… अगर बात अपसेट की आती भी है तो आप अपसेट स्थिति में नहीं आओ।

बापदादा का बच्चों से इतना प्यार है जो समझते हैं हर एक बच्चा मेरे से भी आगे हो। दुनिया में भी जिससे ज्यादा प्यार होता है उसे अपने से भी आगे बढ़ाते हैं। यही प्यार की निशानी है। तो बापदादा भी कहते हैं मेरे बच्चों में अब कोई भी कमी नहीं रहे, सब सम्पूर्ण, सम्पन्न और समान बन जायें। आदिकाल, अमृतवेले अपने दिल में परमात्म प्यार को सम्पूर्ण रूप से धारण कर लो। अगर दिल में परमात्म प्यार, परमात्म शक्तियाँ, परमात्म ज्ञान फुल होगा तो कभी और किसी भी तरफ लगाव या स्नेह जा नहीं सकता।

ये परमात्म प्यार इस एक जन्म में ही प्राप्त होता है। 83 जन्म देव आत्मायें वा साधारण आत्माओं द्वारा प्यार मिला, अभी ही परमात्म प्यार मिलता है। वह आत्म प्यार राज्य-भाग्य गँवाता है और परमात्म प्यार राज्य-भाग्य दिलाता है। तो इस प्यार के अनुभूतियों में समाये रहो। बाप से सच्चा प्यार है तो प्यार की निशानी है-समान, कर्मातीत बनो। ‘करावनहार’ होकर कर्म करो, कराओ। कर्मेन्द्रियां आपसे नहीं करावें लेकिन आप कर्मेन्द्रियों से कराओ। कभी भी मन-बुद्धि वा संस्कारों के वश होकर कोई भी कर्म नहीं करो।

वरदान:- निर्बल से बलवान बन असम्भव को सम्भव करने वाली हिम्मतवान आत्मा भव 
“हिम्मते बच्चे मददे बाप” इस वरदान के आधार पर हिम्मत का पहला दृढ़ संकल्प किया कि हमें पवित्र बनना ही है और बाप ने पदमगुणा मदद दी कि आप आत्मायें अनादि-आदि पवित्र हो, अनेक बार पवित्र बनी हो और बनती रहेंगी। अनेक बार की स्मृति से समर्थ बन गये। निर्बल से इतने बलवान बन गये जो चैलेन्ज करते हो कि विश्व को भी पावन बनाकर ही दिखायेंगे, जिसको ऋषि मुनि महान आत्मायें समझती हैं कि प्रवृत्ति में रहते पवित्र रहना मुश्किल है, उसको आप अति सहज कहते हो।
स्लोगन:- दृढ़ संकल्प करना ही व्रत लेना है, सच्चे भक्त कभी व्रत को तोड़ते नहीं है।

 

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे ब्रह्मा बाप साधारण रूप में होते असाधारण वा अलौकिक स्थिति में रहे। ऐसे फालो फादर। जैसे सितारों के संगठन में जो विशेष सितारे होते हैं उनकी चमक, झलक दूर से ही न्यारी और प्यारी लगती है। ऐसे आप सितारे भी साधारण आत्माओं के बीच विशेष आत्मायें दिखाई दो।

TODAY MURLI 6 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 January 2018 :- Click Here

06/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your bodies have now become completely old. The Father has come to make your bodies as immortal as the kalpa tree. You will become immortal for half a cycle.
Question: Which aspect of this wonderful play is well worth understanding?
Answer: Only once, at this time, can you see the faces of all the actors of this play. You will see those same faces after 5000 years. There will be the 84 faces of 84 births and each one of them will be different. Even the performance of one cannot be the same as another’s. Whatever actions are performed, those actions will be repeated after 5000 years. These aspects are really worth understanding. Now that the locks on the intellects of you children have opened, you can explain these secrets to everyone.
Song: The Innocent Lord is unique

Om shanti. Only Shiv Baba is called the Innocent Lord. Shankar cannot be called that. He destroys whereas Shiv Baba creates. It is definitely heaven that is created and hell that is destroyed. Therefore, only Shiv Baba can be called the Innocent Lord, the Ocean of Knowledge. You children are now experienced. Surely, Shiv Baba must have come in the previous cycle and He has definitely come now. He definitely has to come, because He has to make the human world new. He has to tell you the secrets of the beginning, the middle and the end of the drama, and so He has to come here. He cannot tell you in the subtle region. The language of the subtle region is different and there is no language in the incorporeal world. Here, it is ‘talkie . Shiv Baba is the One who reforms that which has been spoilt. God, the One who grants salvation to all, says: I have to come when the world becomes tamopradhan. His memorials are also here. The faces of every human being in this play can only be seen once. Even the faces of Lakshmi and Narayan cannot be seen anywhere outside the golden age. When they take rebirth, their names and forms will be different. Once you have seen the forms of Lakshmi and Narayan you will not see those same forms again for another 5000 years, just as you will only see the exact same face of Gandhi after 5000 years. There are countless human beings. Only after 5000 years will you again see the faces of the human beings that you see now. There will be 84 faces of 84 births and each one of them will be different. Even the actions of one cannot be compared to another’s. Whatever actions one performs, those same actions will be repeated after 5000 years. These aspects are well worth understanding. There is the image of Baba. You understand that He must definitely have come first to create the world. Now that the locks on your intellects have opened, you understand. You now also have to open the locks of others in this way. The incorporeal Father must surely reside in the supreme abode. You also reside there with Me. When I first come, Brahma, Vishnu and Shankar are with Me. The human world already exists. So, how does it turn and how does it repeat? The subtle region has to be created first and then He has to come into the physical world. Because the human beings who are to become deities have now become shudras, they first have to become Brahmins and then be made into deities. So, I repeat the knowledge that I gave you in the previous cycle. It is at this time that I sit and teach Raja Yoga. Then, after half a cycle, devotion begins. The Father Himself sits here and explains how the old world becomes new and how, at the end, the beginning starts again. People understand that the Supreme Soul came, but they do not know when or how He came. They don’t know how He revealed the secrets of the beginning, the middle and the end. The Father says: I have come personally to grant you salvation. Maya, Ravan, has spoilt everyone’s fortune. So, someone is definitely needed to reform that which has been spoilt. The Father says: I came in the body of Brahma 5000 years ago as well. The human world is created here. I come here to change the world and make your bodies as immortal as the kalpa tree. Your bodies have now become totally old. Baba makes them immortal for half a cycle. You change your bodies there, but you do it happily, because you shed one old costume and take on a new one. There, you will not say that so-and-so has died; it is not called death there. Similarly, you have died alive here. It is not that you have really died, but that you have made yourself belong to Shiv Baba. Baba says: You are the lights of My eyes, the long-lost and now-found children. Shiv Baba says this and Brahma Baba also says this. That One is the incorporeal Father and this one is the corporeal father. You also say: Baba, You are the same One and we are the same children who have come to meet You again. The Father says: I come and establish heaven. You definitely need a kingdom, and so I teach you Raja Yoga. You will receive the kingdom at the end. There will then be no need for this knowledge. All of those scriptures etc. will be useful on the path of devotion. People will continue to study them, just as when an important person writes the history and geography of somewhere, others continue to read it. There are innumerable books; people continue to read them. There will be nothing like that in heaven. There, there will only be one language. So, Baba says: I have come to renew the world. Previously, it was new and it has now become old. Maya has burnt all My sons and turned them to ashes. They show them as the children of the Ocean. That is correct, because you are the children of the Ocean of Knowledge. He truly is the Ocean of Knowledge. In fact, all are My children but it is you who are remembered in the practical form. It is because of you that the Father comes. He says: I have come to make you children conscious again. I come once again to make those who have become totally ugly and with stone intellects into those with divine intellects. You understand how your intellects are made divine with this knowledge. When your intellects become divine, this world will also change from the land of stone into the land of divinity. Baba continues to inspire you to make effort for this. So Baba would definitely have to come here to create the human world. He creates the mouth-born progeny through the one whose body He enters. So, this one becomes the mother. This is such a deep aspect! He is a male, so the idea of him becoming the mother when Baba enters him will definitely confuse people. You prove it by showing this mother and father, Brahma and Saraswati, both sitting beneath the kalpa tree studying Raja Yoga. So they definitely need a guru. Brahma, Saraswati and all the children are known as Raj Rishis. You have yoga in order to claim the kingdom. The Father comes and teaches Raj Yoga and knowledge, which no one else can teach. Others do not practise Raj Yoga. They simply say: Study yoga! There are various types of hatha yoga. No sannyasi or saints etc. can teach Raj Yoga. God came and taught Raj Yoga. He says: I have to come every cycle when it is the time to make the human world new. There is never total annihilation. If annihilation took place, whom would I enter? What would the incorporeal One come and do? The Father explains: The world already exists. The devotees also exist; they call out to God. This proves that there are devotees as well. God has to come at the end of the iron age, when all the devotees are very unhappy. I have to come when the kingdom of Ravan is about to end. Everyone is definitely unhappy at this time. The Mahabharat War is standing ahead. This is a school. Here, there is an aim an d objective. You understand that there was the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age; then came the kingdom of those with a single crown. Later, there was expansion of other religions. Then, in order for the kingdoms to increase, there were wars etc. You understand that whatever has passed will repeat again. The kingdom of Lakshmi and Narayan is now to begin. Baba explains all the secrets of the history and geography of the world. There is no need to go into detail. You understand that you, who belong to the sun dynasty, will definitely take rebirth in the sun dynasty. Your names and forms will change and you will also have different mothers and fathers. You have to keep this entire drama in your intellects. You have come to know how the Father comes. People have the knowledge of that old Gita in their intellects. Previously, we too had the knowledge of that old Gita in our intellects. Now, after hearing such deep aspects, we have come to understand the whole significance of everything. People also say that, previously, your knowledge was different and that it is now very good. You have now understood how to live in your households and yet remain like a lotus. This is the last birth of everyone; everyone has to die. The unlimited Father Himself says: Promise that you will remain pure and you will then become the masters of heaven for 21 births. Here, even though someone may be a millionaire, he would still be unhappy; the body is not pure. Your bodies become pure. You do not die for 21 births. The Father says: Those who come here are the ones who belonged to the sun and the moon dynasties. They became ugly by sitting on the pyre of lust; that is why Radhe, Krishna and Narayan have been portrayed as ugly. Now, everyone has become ugly. They became ugly by sitting on the pyre of lust. You now have to come down from the pyre of lust and sit on the pyre of knowledge. Cancel the bond of poison and tie a bond of the nectar of knowledge. Explain in such a way that people say that you are carrying out an elevated task. Anyone who is a kumari or a kumar cannot be called impure. The Father says: You should never become dirty! As time goes by, countless people will come. They will say that this is very good. By sitting on the pyre of knowledge, you become the masters of heaven. Mostly, it is brahmin priests who arrange marriages. The kings also keep brahmin priests; they are called rajgurus (gurus of the kingdom). Nowadays, even sannyasis tie bonds. When you tell people such things of knowledge, they become very happy; they instantly have a rakhi tied. Then, there is also quarrelling at home. You definitely have to tolerate a little.

You are the incognito Shakti Army; you don’t carry any weapons. The goddesses have been portrayed holding many weapons. However, all of those are aspects of knowledge. Here, these are aspects of the power of yoga. You claim the kingdom of the world with the power of yoga. Only limited kingdoms are taken with physical power. Only the unlimited Master can give the unlimited kingdom. There is no question of a war in this. The Father says: How can I instigate a war? I have come to put an end to fighting and quarrelling so that not even a trace of that remains. This is why everyone remembers the Supreme Soul. He says: Maintain My honour! When there is no faith in the One, they catch hold of others. Although they say that God is also in them, they still don’t have that faith in themselves, and so they adopt gurus. If God is in you, why should you need to adopt a guru? Here, this is unique. The Father says: I came in the previous cycle the same way as I have come now. You now understand how the Father, the Creator, sits and creates. This too is the drama. How could you understand what is going to happen in the future unless you have understood this cycle? It is said that this is the field of action. We have come from the incorporeal world to play our parts Therefore, we should know the Creator and the Director of the entire drama. We actors have come to know how this drama is created and how expansion of this world takes place. Since it is now the end of the iron age, the golden age surely has to be created. The explanation of the cycle is absolutely accurate. Those who belong to the Brahmin clan will understand. This one is Prajapita and so our clan will continue to grow; it has to grow. Everyone continues to make effort as they did in the previous cycle, and we observe with detachment. Each of you should examine your face in the mirror and ask yourself to what extent you have become worthy of claiming a kingdom in the golden age. This is the game of every cycle. According to the service of each one of you, you are spiritual, unlimited social workers. You follow the directions of the Supreme Spirit. Continue to imbibe such beautiful points. The Father comes and frees you from the jaws of death. There is no mention of death there. This is the land of death and that is the land of immortality. In this land, there is sorrow from the beginning, through middle to end, whereas in that land there is no trace of sorrow. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We are the lights of the eyes, the long-lost and now-found children of both the incorporeal and corporeal fathers. Maintain the intoxication of having become Shiv Baba’s heirs while alive.
  2. Claim the kingdom of the world with the power of yoga. Since you have had a rakhi tied for purity, you must tolerate a little. Don’t ever become impure.
Blessing: May you be a responsible soul who reveals the great pilgrimage place by stabilizing in one thought.
This Abu is a lighthouse for the world. In order to reveal this great pilgrimage place, every Brahmin soul has to have the one thought that all souls find their true destination here and that everyone is benefitted. When the lamp of this pure hope is ignited in each one and there is everyone’s co-operation, there will then be success is the task. Let the sound emerge in each one’s mind. This is my responsibility. When each one considers the self to be responsible in this way, the rays of revelation will then spread everywhere from Abba’s (Father’s) home.
Slogan: Imbibe the speciality of introspection and you will continue to receive everyone’s blessings.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 6 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 January 2017

To Read Murli 5 January 2018 :- Click Here

06/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – अभी तुम्हारी काया बिल्कुल पुरानी हो गई है, बाप आये हैं तुम्हारी काया कल्प वृक्ष समान बनाने, तुम आधाकल्प के लिए अमर बनते हो”
प्रश्नः- इस वन्डरफुल नाटक में कौन सी बात बहुत ही समझने की है?
उत्तर:- इस नाटक में जो भी एक्टर्स (पार्टधारी) हैं उनका चित्र केवल एक बार ही देख सकते फिर वही चित्र 5 हजार वर्ष के बाद देखेंगे। 84 जन्मों के 84 चित्र बनेंगे और सभी भिन्न-भिन्न होंगे। कर्म भी किसके साथ मिल नहीं सकते। जिसने जो कर्म किये वह फिर 5 हजार वर्ष बाद वही कर्म करेंगे, यह बहुत ही समझने की बातें हैं। तुम बच्चों की बुद्धि का ताला अभी खुला है। तुम यह राज़ सबको समझा सकते हो।
गीत:- भोलेनाथ से निराला….

ओम् शान्ति। भोलानाथ सदैव शिवबाबा को कहा जाता है। शंकर को नहीं कहा जाता। वह तो विनाश करता है और शिवबाबा स्थापना करते हैं। यह तो जरूर है स्थापना स्वर्ग की और विनाश नर्क का करेंगे। तो ज्ञान सागर भोलानाथ शिव को ही कहेंगे। अब तुम बच्चे तो अनुभवी हो। जरूर कल्प पहले भी शिवबाबा आया होगा और अब आया है जरूर। उनको आना जरूर है क्योंकि नई मनुष्य सृष्टि को रचना है। इस ड्रामा के आदि मध्य अन्त का राज़ बताना है इसलिए जरूर यहाँ आना है। सूक्ष्मवतन में तो नहीं बतायेंगे। सूक्ष्मवतन की भाषा अलग है, मूलवतन में तो भाषा है नहीं। यहाँ है टाकी। शिवबाबा ही बिगड़ी को बनाने वाला है। जब सृष्टि तमोप्रधान हो जाती है तो सबको सद्गति देने वाला भगवान कहते हैं कि मुझे आना पड़ता है। यादगार भी यहाँ हैं। इस नाटक में जो-जो मनुष्य के चित्र हैं वह एक ही बार देख सकते हैं। ऐसे नहीं कि लक्ष्मी-नारायण के चित्र (चेहरे) सतयुग के सिवाए कभी भी कहाँ देख सकते हैं। वह पुनर्जन्म लेंगे तो नाम रूप भिन्न हो जायेगा। वही लक्ष्मी-नारायण का रूप एक बार देखा फिर 5 हजार वर्ष के बाद ही देखेंगे। जैसे गांधी का हूबहू चित्र फिर 5 हजार वर्ष के बाद देखेंगे। अथाह मनुष्य हैं जो भी मनुष्यों के चित्र अब देखे हैं वह फिर 5 हजार वर्ष के बाद देखेंगे। 84 जन्मों के लिए 84 चित्र बनेंगे। और सभी भिन्न-भिन्न होंगे। कर्म भी किसके साथ नहीं मिल सकते। जिसने जो कर्म किया, वही कर्म 5 हजार वर्ष के बाद फिर करेंगे। यह बहुत समझने की बातें हैं। बाबा का भी चित्र है। हम समझते हैं जरूर पहले-पहले सृष्टि रचने वह आया होगा। तुम्हारी बुद्धि का ताला अब खुला है तब तुम समझते हो। अब फिर औरों का भी ऐसे ताला खोलना है। निराकार बाप जरूर परमधाम में रहते होंगे। जैसे तुम भी सब मेरे साथ रहते हो। पहले जब मैं आता हूँ तो मेरे साथ ब्रह्मा, विष्णु, शंकर होते हैं। मनुष्य सृष्टि तो पहले से ही है फिर वह कैसे पलटा खाती है, रिपीट कैसे होती है। पहले-पहले जरूर सूक्ष्मवतन रचना पड़े फिर स्थूलवतन में आना पड़े क्योंकि मनुष्य जो देवता थे, वह अब शूद्र बने हैं। उन्हों को फिर ब्राह्मण से देवता बनाना पड़े। तो जो कल्प पहले मैंने ज्ञान दिया था फिर वही रिपीट करूंगा। इस समय बैठ राजयोग सिखाता हूँ। फिर आधाकल्प के बाद भक्ति आरम्भ होती है। बाप खुद बैठ समझाते हैं कि पुरानी सृष्टि फिर नई कैसे बनती है। अन्त से फिर आदि कैसे होती है। मनुष्य समझते हैं परमात्मा आया था परन्तु कब, कैसे आया। आदि-मध्य-अन्त का राज़ कैसे खोला, यह नहीं जानते।

बाप कहते हैं फिर मैं सम्मुख आया हूँ – सभी को सद्गति देने। माया रावण ने सभी की किस्मत बिगाड़ दी है तो बिगड़ी को बनाने वाला जरूर कोई चाहिए। बाप कहते हैं 5 हजार वर्ष पहले भी ब्रह्मा तन में आया था। मनुष्य सृष्टि जरूर यहाँ ही रची है। यहाँ आकर सृष्टि को पलटाए काया कल्प वृक्ष समान बनाते हैं। अब तुम्हारी काया बिल्कुल पुरानी हो गयी है, इसको फिर ऐसा बनाते हैं जो आधाकल्प के लिए तुम अमर बन जाते हो। भल शरीर बदलते हो परन्तु खुशी से। जैसे पुराना चोला छोड़ नया लेते हैं। वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे कि फलाना मर गया, उनको मरना नहीं कहा जाता है। जैसे तुम्हारा यह जीते जी मरना है तो तुम मरे थोड़ेही हो। तुम तो शिवबाबा के बने हो। बाबा कहते हैं तुम मेरे नूरे रत्न, सिकीलधे बच्चे हो। शिवबाबा भी कहते तो ब्रह्मा बाबा भी कहते हैं। वह निराकारी बाप, यह साकारी बाप। अभी तुम कहते हो बाबा आप भी वही हो ना। हम भी वही हैं, जो फिर आकर मिले हैं। बाप कहते हैं मैं आकर स्वर्ग स्थापन करता हूँ। राजाई तो जरूर चाहिए इसलिए राजयोग सिखाता हूँ। पीछे तो तुमको राजाई मिल जायेगी फिर इस ज्ञान की वहाँ दरकार नहीं रहती। फिर यह शास्त्र आदि सब भक्ति में काम आते हैं, पढ़ते रहते हैं। जैसे कोई बड़े आदमी हिस्ट्री-जॉग्राफी लिख जाते हैं, वह पीछे पढ़ते रहते हैं। अथाह किताब हैं। मनुष्य पढ़ते ही रहते हैं। स्वर्ग में तो कुछ भी नहीं होगा। वहाँ तो भाषा ही एक होगी। तो बाबा कहते हैं अब मैं आया हूँ सृष्टि को नया बनाने। पहले नई थी, अब पुरानी हो गई है। मेरे सब पुत्रों को (बच्चों को) माया ने जलाए राख कर दिया था। वह दिखाते हैं सगर के बच्चे… ज्ञान सागर तो बरोबर है, उनके तुम बच्चे हो। भल बच्चे तो वास्तव में सभी हैं परन्तु तुम बच्चे अब प्रैक्टिकल में गाये जाते हो। तुम्हारे कारण ही बाप आते हैं। कहते हैं मैं आया हूँ फिर से तुम बच्चों को सुरजीत करने। जो बिल्कुल काले, पत्थरबुद्धि हो गये हैं उनको फिर से आकर पारसबुद्धि बनाता हूँ। तुम जानते हो इस ज्ञान से हम पारसबुद्धि कैसे बनते हैं। जब तुम पारसबुद्धि बन जायेंगे तब यह दुनिया भी पत्थरपुरी से बदल पारसपुरी बन जायेगी, जिसके लिए बाबा पुरुषार्थ कराते रहते हैं। तो बाबा को जरूर मनुष्य सृष्टि रचने के लिए यहाँ ही आना पड़ेगा ना। जिसके तन में आते हैं, उन द्वारा मुख वंशावली बनाते हैं। तो यह हो गई माता। कितनी गुह्य बात है। है तो यह मेल, इनमें बाबा आते हैं तो यह माता कैसे हुई, इसमें मूंझेंगे जरूर।

तुम सिद्ध कर बताते हो कि यह मात-पिता, ब्रह्मा सरस्वती दोनों कल्प वृक्ष के नीचे बैठे हैं, राजयोग सीख रहे हैं तो जरूर उन्हों का गुरू चाहिए। ब्रह्मा सरस्वती और बच्चे सभी को राजऋषि कहते हैं। राजाई के लिए योग लगाते हैं। बाप आकर राजयोग और ज्ञान सिखाते हैं जो और कोई भी सिखा न सके। न कोई का राजयोग है। वह तो सिर्फ कहेंगे योग सीखो। हठयोग तो अनेक प्रकार के होते हैं। राजयोग कोई सन्यासी, उदासी सिखला न सके। भगवान ने आकर राजयोग सिखाया था। कहते हैं हमको कल्प-कल्प फिर आना पड़ता है जबकि मनुष्य सृष्टि नई रचनी है। प्रलय तो होती नहीं। अगर प्रलय हो जाए तो फिर हम आवें किसमें? निराकार क्या आकर करेंगे? बाप समझाते हैं सृष्टि तो पहले से ही है। भक्त भी हैं, भगवान को बुलाते भी हैं, इससे सिद्ध है कि भक्त हैं। भगवान को आना ही तब है जब भक्त बहुत दु:खी हैं, कलियुग का अन्त है। रावण राज्य खत्म होना है, तब ही मुझे आना पड़ता है। बरोबर इस समय सभी दु:खी हैं। महाभारी लड़ाई सामने खड़ी है।

यह पाठशाला है। यहाँ एम आबजेक्ट है। तुम जानते हो सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था फिर सिंगल ताज वालों का राज्य हुआ फिर और-और धर्म वृद्धि को पाये हैं फिर राजाई आदि बढ़ाने के लिए युद्ध आदि हुए। तुम जानते हो जो पास्ट हो गया, वह फिर रिपीट होगा। फिर लक्ष्मी-नारायण का राज्य आरम्भ होगा। बाबा वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी का राज़ पूरा समझाते हैं। डिटेल में जाने की दरकार नहीं। जानते हैं कि हम सूर्यवंशी हैं तो जरूर पुनर्जन्म भी सूर्यवंशी में ही लेते होंगे। नाम रूप तो बदलते होंगे। माँ बाप भी दूसरे मिलेंगे, यह सारा ड्रामा बुद्धि में रखना है। बाप कैसे आता है वह भी समझ लिया। मनुष्यों की बुद्धि में वही गीता का ज्ञान है। आगे हमारी बुद्धि में भी वही पुराना गीता का ज्ञान था। अभी बाप गुह्य बातें सुनाते हैं जो सुनते-सुनते सारे राज़ समझ गये हैं। मनुष्य भी कहते हैं आगे आपका ज्ञान और था, अब बहुत अच्छा है। अब समझ गये हैं कि कैसे गृहस्थ व्यवहार में रह कमल फूल समान बनना है। यह सबका अन्तिम जन्म है। मरना भी सबको है। खुद बेहद का बाप कहते हैं तुम पवित्र बनने की प्रतिज्ञा करो तो 21 जन्म के लिए स्वर्ग के मालिक बनेंगे। यहाँ तो कोई पदमपति हैं तो भी दु:खी हैं। काया कल्पतरू होती नहीं। तुम्हारी काया कल्पतरू होती है। तुम 21 जन्म मरते नहीं। बाप कहते हैं यहाँ आयेंगे भी वही जो सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी काम चिता पर बैठ सांवरे हो गये हैं इसलिए राधे कृष्ण, नारायण सबको सांवरा दिखाते हैं। अभी तो सभी सांवरे हैं। काम चिता पर बैठने से सांवरे हो गये हैं। अब तुमको काम चिता से उतरकर ज्ञान चिता पर बैठना है। विष का हथियाला कैन्सिल कर ज्ञान अमृत का हथियाला बांधना है। समझाना ऐसे है जो वह कहे कि तुम तो शुभ कार्य कर रहे हो। जब तक कुमार कुमारी है तो उनको मूतपलीती नहीं कहेंगे। बाप कहते हैं तुमको गन्दा कभी नहीं बनना है। आगे चलकर ढेर आयेंगे, कहेंगे यह बहुत अच्छा है – ज्ञान चिता पर बैठने से तो हम स्वर्ग के मालिक बनेंगे। अक्सर ब्राह्मण ही सगाई कराते हैं। राजाओं के पास भी ब्राह्मण रहते हैं, उन्हों को राजगुरू कहते हैं। आजकल तो सन्यासी भी हथियाला बांधते हैं। तुम जब यह ज्ञान की बातें सुनाते हो तो लोग बहुत खुश होते हैं। झट राखी भी बंधवा लेते हैं। फिर घर में झगड़ा भी होता है। कुछ सहन तो जरूर करना पड़े।

तुम हो गुप्त शिव शक्ति सेना। तुम्हारे पास कोई हथियार नहीं, देवियों को बहुत हथियार दिखाते हैं। यह सब हैं ज्ञान की बातें। यहाँ है ही योगबल की बातें। तुम योगबल से विश्व की बादशाही लेते हो। बाहुबल से हद की राजाई मिलती है। बेहद की राजाई तो बेहद का मालिक ही देंगे। लड़ाई की कोई बात नहीं। बाप कहते हैं मैं कैसे लड़ाऊंगा। मैं तो लड़ाई झगड़ा मिटाने के लिए आया हूँ फिर इनका नाम-निशान भी नहीं रहता, तब तो परमात्मा को सब याद करते हैं। कहते हैं मेरी लाज़ रखो फिर भी एक में निश्चय नहीं तो और-और को पकड़ते रहते हैं। कहते हैं हमारे में भी ईश्वर है फिर अपने में भी विश्वास नहीं रखते, गुरू करते हैं। जब तुम्हारे में भगवान है तो गुरू क्यों करते हो। यहाँ तो बात ही न्यारी है। बाप कहते हैं कल्प पहले भी मैं ऐसे ही आया था जैसे अब आया हूँ। अब तुम जानते हो कि रचता बाप कैसे बैठ रचना करते हैं, यह भी ड्रामा है। जब तक इस चक्र को नहीं जाना तब तक कैसे जानें कि आगे क्या होना है। कहते हैं यह कर्मक्षेत्र है। हम निराकारी दुनिया से पार्ट बजाने आये हैं। तो तुमको सारे ड्रामा के क्रियेटर, डायरेक्टर का मालूम होना चाहिए। हम सब एक्टर्स तो जान गये हैं कि यह ड्रामा कैसे बना हुआ है, यह सृष्टि कैसे वृद्धि को पाती है, जबकि अब कलियुग का अन्त है तो जरूर सतयुग स्थापन होना चाहिए। इस चक्र की समझानी बिल्कुल ठीक है जो ब्राह्मण कुल के होंगे वह समझ जायेंगे। फिर भी यह प्रजापिता है तो अपना कुल बढ़ता ही जायेगा। बढ़ना तो है ही। कल्प पहले मुआफिक सब पुरूषार्थ करते ही रहते हैं। हम साक्षी होकर देखते हैं। हर एक को अपना मुखड़ा आइने में देखते रहना है – कहाँ तक हम लायक बने हैं – सतयुग में राजधानी लेने के? यह कल्प-कल्प की बाज़ी है, जो जितनी सर्विस करेंगे, तुम हो बेहद के रूहानी सोशल वर्कर्स। तुम सुप्रीम रूह की मत पर चलते हो। ऐसे अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स धारण करनी हैं। बाप आकर काल के पंजे से छुड़ाते हैं। वहाँ मृत्यु का नाम नहीं, यह है मृत्युलोक, वह है अमरलोक। यहाँ आदि-मध्य-अन्त दु:ख है, वहाँ दु:ख का नाम-निशान नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम निराकारी और साकारी दोनों बाप के सिकीलधे नूरे रत्न हैं, हम शिवबाबा के जीते जी वारिस बने हैं, इसी नशे में रहना है।

2) योगबल से विश्व की राजाई लेनी है, पवित्रता की राखी बांधी है तो सहन भी करना है। पतित कभी नहीं बनना है।

वरदान:- एक ही संकल्प में स्थित हो महातीर्थ की प्रत्यक्षता करने वाले जिम्मेवार आत्मा भव 
यह आबू विश्व के लिए लाइट हाउस है। इस महातीर्थ की प्रत्यक्षता करने के लिए सर्व ब्राह्मण बच्चों का एक ही संकल्प हो कि हर आत्मा को यहाँ से ठिकाना मिले। सबका कल्याण हो। जब यह शुभ आशाओं का दीपक हर एक के अन्दर जगे, सबका सहयोग हो तब कार्य में सफलता हो। सबके मन से यह आवाज निकले कि यह मेरी जिम्मेवारी है। जब हर एक स्वयं को ऐसा जिम्मेवार समझेंगे तब प्रत्यक्षता की किरण अब्बा के घर से चारों ओर फैलेगी।
स्लोगन:- अन्तर्मुखता की विशेषता को धारण कर लो तो सर्व की दुआयें मिलती रहेंगी।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize