today murli 6 February

TODAY MURLI 6 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 February 2019 :- Click Here

06/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to become bodiless and return home. Therefore, whenever you speak to anyone, consider yourself to be a soul speaking to your brother soul. Make effort to remain soul conscious.
Question: What is the basis of claiming the tilak of the future sovereignty?
Answer: How you study. Each one of you has to study and claim the tilak of sovereignty. The Father has the duty to teach you; there is no question of blessings in this. If you have full faith, then continue to follow shrimat. Don’t make mistakes. If you have a conflict of opinion and stop studying, you will fail. Therefore, Baba says: Sweet children, have mercy on yourselves. You mustn’t ask for blessings, but you must pay attention to studying.

Om shanti. The Supreme Teacher is teaching you children. You children know that the Supreme Father is the Father and also the Teacher. He teaches you things that no one else can teach you. You say that Shiv Baba is teaching you. That Baba does not belong to just one person. He explains to you the meaning of “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”: Remember Me. You children have now become sensible. The unlimited Father says: You have the inheritance anyway. You must never forget this. The Father is speaking to you souls. You are now living beings. The unlimited Father is incorporeal. You know that He is teaching us through this body. You would not think this about anyone else. When a teacher is teaching in a school, it is said that a worldly teacher is teaching worldly children. That One is the parlokik, Supreme Teacher who is teaching you parlokik children. You are residents of the world beyond, the incorporeal world. The Father also resides in the world beyond. The Father says: I am the Resident of the land of peace and you too are residents of that place. Both you and I are residents of the same place. You consider yourselves to be souls. I am the Supreme Soul. You are now playing your parts here. While playing your parts, you have now become impure. This is the unlimited stage on which the play is acted out. This whole world is the field of action and the play is being performed on it. Only you know that this is an unlimited play. There is day and night in this too. The sun and moon give unlimited light. This is a matter of the unlimited. You also have knowledge at this time. The Creator Himself comes and gives you the introduction of the Creator and the beginning, middle and end of creation. The Father says: I have come to tell you the secrets of the beginning, middle and end of creation. This is a school. The One who is teaching you is Abhogta (beyond the effect of experience). No one else would say: I am abhogta. In Ahmedabad, a sage used to say this, but he was later caught cheating. At this time, there is a lot of cheating. There are many who have adopted different costumes. That One doesn’t have a costume. People think that Krishna spoke the Gita. Therefore, so many people have now become Krishna. There cannot be so many Krishnas. Shiv Baba comes here and teaches you. He speaks to you souls. You have repeatedly been told: Consider yourselves to be souls and relate this knowledge to your brothers. It should be in your intellects that you are giving Baba’s knowledge to your brothers. Both males and females are brothers. This is why the Father says: All of you have a right to the inheritance from Me. Generally, females do not receive an inheritance because they have to go to their in-laws. Here, all are souls. You have to return home bodiless. The jewels of knowledge that you receive now become imperishable jewels. It is the soul that becomes an ocean of knowledge. It is the soul that does everything. However, because people have body consciousness, they do not become soul conscious. You now have to become soul conscious and remember the one Father. Some effort is required. People remember their worldly guru so much. They even keep an image of him. There is a big difference between the image of Shiva and the image of a human being; there is the difference of day and night. Those people wear a locket with a picture of their guru. Their husbands don’t like it when they wear a portrait of someone else. Yes, if you wear an image of Shiva, everyone will like that because He is the Supreme Father. You should have His image. He is the One who makes you a garland around His neck. You will become a pearl (bead) of the rosary of Rudra. In fact, the whole world belongs to the rosary of Rudra, and there is also the rosary of Prajapita Brahma. Up above, there is the genealogical tree. This is a limited genealogical tree and that is the unlimited one. There is a rosary of all human beings. A soul is the tiniest point of all; it is an extremely tiny point. Continue to count the points and they will be countless. You would even become tired counting them. However, look how small the tree of souls is. The brahm element exists in a very tiny space. Those souls then come here to play their parts. So, the world here is so big and complicated. They travel to other places by aeroplane. There, there is no need for aeroplanes etc. There is just the small tree of souls. Here, the tree of human beings is so big. All of them are children of Prajapita Brahma who is called Adam by some people and Adi Dev by others. There are definitely male s and female s. Yours is the family path. There cannot be a play of the path of isolation. What would happen with just one hand? Both wheels are needed; if there are two, they can race with one another. If the second wheel does not accompany the first one, the first one becomes slack. However, you must not stop because of one. At first, there was the pure family path, and it then became impure; you continued to fall. You have all the knowledge in your intellects of how this tree grows and how addition s continue to take place. No one else can make such a tree. No one has the knowledge of the Creator or the beginning, the middle and the end of creation in his intellect. This is why Baba has said: Write that you have received the end of the knowledge of the Creator and creation from the Creator. Those people neither know the Creator nor the creation. If this knowledge had continued from time immemorial, someone should have been able to give it to you. No one, apart from you Brahma Kumars and Kumaris, can give this knowledge. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, only teaches you Brahmins. We Brahmins have the highest religion of all. You definitely have to show them the pictures; nothing can sit in their intellects without the pictures. There should be very big pictures. It has also been explained to you how the tree of the varietyof religions grows. Previously, they used to say that each soul is the Supreme Soul and that the Supreme Soul is the soul. The Father has now also told you the meaning of that. At this time, you are Brahmins and you will then become deities in the new world. We are now at the most auspicious confluence age, that is, this is the confluence age for becoming the most elevated human beings. You can explain the meaning of the Creator and creation and the meaning of ‘hum so’. ‘Om’ means I am first a soul and then there is this body. The soul is imperishable and this body is perishable. We adopt these bodies and play our parts. This is called being soul conscious. I, the soul, am playing such-and-such a part. I, the soul, am doing this. I, the soul, am a child of the Supreme Soul. This knowledge is so wonderful. Only the Father has this knowledge and this is why you only call out to the Father. The Father is the Ocean of Knowledge. Compared to that, there is the ocean of ignorance. For half the cycle there is knowledge and for half the cycle there is ignorance. No one knows about knowledge. Knowledge means to know the creation from the Creator. So, surely, the Creator would have this knowledge. That is why He is called the Creator. People think that the Creator created this creation. The Father explains: This play is eternally predestined. They say: O Purifier, come! So, how could He be called the Creator? He could only be called the Creator if He created it after annihilation. The Father makes the impure world pure. So, only you sweetest children know the beginning, middle and end of the world tree. Just as a gardener knows every seed and tree and, on his seeing a seed, the whole tree enters his intellect, so this is the Seed of humanity. No one knows Him. It is said: The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Seed of the World. He is the Truth, the Living Being and the Embodiment of Bliss, the Ocean of Happiness, Peace and Purity. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, is giving you all this knowledge through this body. So, He would surely have to come here. How could He make impure ones pure through inspiration? Therefore, the Father comes here, purifies everyone and takes them back home. That Father is teaching you this lesson. This is the most auspicious confluence age. You can give a lecture on how a human being can become elevated and satopradhan from tamopradhan. You have many topics. It is worth understanding how this impure and tamopradhan world becomes satopradhan. As you make further progress, people will listen to this knowledge of yours. Even though they might leave it, they will come back because there is only the one shop for liberation and salvation. You can say: The Bestower of Salvation for All is only the one Father. He is called Shri Shri. The most elevated of all is the Supreme Father, the Supreme Soul. He is making us elevated. The golden age is elevated and the iron age is corrupt. They say that there is a lot of corruption, but they don’t consider themselves to be like that. In the impure world, not a single being is elevated. When Shri Shri comes, He can make you Shri. The deities had the title Shri at the beginning of the golden age. Here, they call everyone ‘Shri’ ‘Shri’. In fact, Shri is a word for purity. Those of other religions don’t call themselves Shri. Would you say “Shri Pope”? Here, they call everyone Shri. There is a vast difference between swans who pick up pearls and storks who eat rubbish. There is a difference. Those deities are flowers; that is the Garden of Allah. The Father is making you into flowers. There is variety in flowers. The best flower is the king flower. Lakshmi and Narayan would be called the king and queen flower s of the new world. You children should have internal happiness. You don’t have to do anything external here. There has to be a meaning to igniting these lights etc. Should you ignite them on Shiv Jayanti or on Diwali? People invoke Lakshmi at Diwali and ask her for money, even though it is Shiva, the Innocent Treasurer, who is the One who fills your treasury. You know that your unending treasury becomes filled by Shiv Baba. These jewels of knowledge are wealth. There, too, you have a lot of wealth. You will become prosperous in the new world. In the golden age, there are so many jewels and diamonds. Then, there will be the same ones again. People become confused and wonder where more of that would come from when all of it has finished. The mines will be empty and the mountains will have fallen, so how would they become the same again? Tell them: History repeats. Whatever existed before will repeat. You children are making effort to become the masters of heaven. The history and geography of heaven will repeat. It says in the song: You gave us the whole world, the earth, sea and sky and no one could snatch that away from us. In comparison, what is there now? People continue to fight over land, water and languages. The birthday of Baba, the Creator of heaven, is celebrated. He must definitely have given you the sovereignty of heaven. The Father is now teaching you. You have to become detached from the name and form of this body and consider yourselves to be souls. You either have to become pure through the power of yoga or through punishment. In that case, the status would be reduced. It is in the intellects of students that they will receive that much status and that their teacher has taught them that much. Then, they even give a gift to their teacher. Here, the Father is making you into the masters of the world, and so you continue to remember Him on the path of devotion. However, what gift would you give the Father? Whatever you see here will not remain. This is the dirty old world and this is why you call out to Me. The Father is making you pure from impure. You should remember this play. I have the knowledge of the beginning, middle and end of creation which I tell you. You listen to it and then you forget it. The cycle will end after 5000 years. Your parts are so lovely. You become satopradhan and lovely. Then you are the ones who also become tamopradhan. You are the ones who call out: O Baba, come! I have now come. If you have faith, you should follow shrimat. You mustn’t make any mistakes. When some children have a conflict of opinion, they stop studying. If you don’t follow shrimat and do not study, you become those who fail. The Father says: Have mercy for yourselves. Each one of you has to study and give yourself the tilak of sovereignty. The Father has the duty to teach you. There is no question of blessings in this. If that were the case, He would have to give blessings to everyone. It is on the path of devotion that they ask for mercy etc. That doesn’t apply here. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While living at home with your families, race among yourselves. However, if one wheel becomes slack due to any reason, you mustn’t stop because of that one. Become worthy of giving yourself the tilak of sovereignty.
  2. Celebrate Shiv Jayanti with a lot of splendour because through the jewels of knowledge that Shiv Baba gives you now you will become prosperous in the new world. All your treasure-stores will become full.
Blessing: May you be free from temptation and remain beyond any attraction of the comforts of matter and become a conqueror of matter.
If any of the comforts of matter disturb your physical senses, that is, if you have any feeling of attraction, you will not be able to become detached. Desires are a form of attraction. Some say that they do not have any desires (ichcha) but that they do find something to be good (achcha). This is also a subtle attraction. C heck it in a subtle way as to whether that physical comfort which is a means of temporary happiness, attracts you. That physical comfort is a facility of matter and when you become free from its attraction and become detached, you will then become a conqueror of matter.
Slogan: Put aside the confusion of “mine, mine” and stay in the unlimited and you will then be said to be a world benefactor.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 6 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 February 2019

To Read Murli 5 February 2019 :- Click Here
06-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अब अशरीरी होकर घर जाना है इसलिए जब किसी से बात करते हो तो आत्मा भाई-भाई समझ बात करो, देही-अभिमानी रहने की मेहनत करो”
प्रश्नः- भविष्य राज तिलक प्राप्त करने का आधार क्या है?
उत्तर:- पढ़ाई। हरेक को पढ़कर राज तिलक लेना है। बाप की है पढ़ाने की ड्युटी, इसमें आशीर्वाद की बात नहीं। पूरा निश्चय है तो श्रीमत पर चलते चलो। ग़फलत नहीं करनी है। अगर मतभेद में आकर पढ़ाई छोड़ी तो नापास हो जायेंगे, इसलिए बाबा कहते – मीठे बच्चे, अपने ऊपर रहम करो। आशीर्वाद मांगनी नहीं है, पढ़ाई पर ध्यान देना है।

ओम् शान्ति। सुप्रीम टीचर बच्चों को पढ़ाते हैं। बच्चे जानते हैं परमपिता परमात्मा, पिता भी है, टीचर भी है। ऐसा तुमको पढ़ाते हैं जो और कोई पढ़ा न सके। तुम कहते हो शिवबाबा हमको पढ़ाते हैं। अब यह बाबा कोई एक का नहीं है। मन्मनाभव, मध्याजीभव, इसका अर्थ समझाते हैं मुझे याद करो। बच्चे तो अब समझदार हुए हैं। बेहद का बाप कहते हैं तुम्हारा वर्सा तो है ही – यह कभी भूलना नहीं चाहिए। बाप आत्माओं से ही बातें करते हैं। अभी तुम जीव आत्मायें हो ना। बेहद का बाप भी निराकार है। तुम जानते हो इस तन द्वारा वह हमको पढ़ा रहे हैं और कोई ऐसे नहीं समझेंगे। स्कूल में टीचर पढ़ाते हैं तो कहेंगे लौकिक टीचर, लौकिक बच्चों को पढ़ाते हैं। यह है पारलौकिक सुप्रीम टीचर जो पारलौकिक बच्चों को पढ़ाते हैं। तुम भी परलोक, मूलवतन के निवासी हो। बाप भी परलोक में रहते हैं। बाप कहते हैं हम भी शान्तिधाम के निवासी हैं और तुम भी वहाँ के ही निवासी हो। हम दोनों एक धाम के रहवासी हैं। तुम अपने को आत्मा समझो। मै परम आत्मा हूँ। अभी तुम यहाँ पार्ट बजा रहे हो। पार्ट बजाते-बजाते तुम अभी पतित बन गये हो। यह सारा बेहद का माण्डवा है, जिसमें खेल होता है। यह सारी सृष्टि कर्मक्षेत्र है, इसमें खेल हो रहा है। यह भी सिर्फ तुम ही जानते हो कि यह बेहद का खेल है, इसमें दिन और रात भी होते हैं। सूर्य और चांद कितनी बेहद की रोशनी देते हैं, यह है बेहद की बात। अभी तुमको ज्ञान भी है। रचता ही आकर रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का परिचय देते हैं। बाप कहते हैं तुमको रचना के आदि-मध्य-अन्त का राज़ सुनाने आया हूँ। यह पाठशाला है, पढ़ाने वाला अभोक्ता है। ऐसे कोई नहीं कहेंगे कि हम अभोक्ता हैं। अहमदाबाद में एक साधू ऐसे कहता था, परन्तु बाद में ठगी पकड़ी गई। इस समय ठगी भी बहुत निकल पड़ी है। वेषधारी बहुत हैं। इनको तो कोई वेष है नहीं। मनुष्य समझते हैं कृष्ण ने गीता सुनाई तो आजकल कितने कृष्ण बन पड़े हैं। अब इतने कृष्ण तो होते नहीं। यहाँ तो तुमको शिवबाबा आकर पढ़ाते हैं, आत्माओं को सुनाते हैं।

तुमको बार-बार कहा गया है कि अपने को आत्मा समझ भाई-भाई को सुनाओ। बुद्धि में रहे – बाबा की नॉलेज हम भाइयों को सुनाते हैं। मेल अथवा फीमेल दोनों भाई-भाई हैं इसलिए बाप कहते हैं तुम सब मेरे वर्से के हकदार हो। वैसे फीमेल को वर्सा नहीं मिलता है क्योंकि उनको ससुरघर जाना है। यहाँ तो हैं ही सब आत्मायें। अशरीरी होकर जाना है घर। अभी जो तुमको ज्ञान रत्न मिलते हैं यह अविनाशी रत्न बन जाते हैं। आत्मा ही ज्ञान का सागर बनती है ना। आत्मा ही सब कुछ करती है। परन्तु मनुष्यों को देह-अभिमान होने के कारण, देही-अभिमानी बनते नहीं हैं। अब तुमको देही-अभिमानी बन एक बाप को याद करना है। कुछ तो मेहनत चाहिए ना। लौकिक गुरु को कितना याद करते हैं। मूर्ति रख देते हैं। अब कहाँ शिव का चित्र, कहाँ मनुष्य का चित्र। रात-दिन का फ़र्क है। वह गुरु का फोटो पहन लेते हैं। पति लोगों को अच्छा नहीं लगता कि दूसरों का फोटो पहनें। हाँ, शिव का पहनेंगे तो वह सबको अच्छा लगेगा क्योंकि वह तो परमपिता है ना। उनका चित्र तो होना चाहिए। यह है गले का हार बनाने वाला। तुम रुद्र माला का मोती बनेंगे। यूँ तो सारी दुनिया रुद्र माला भी है, प्रजापिता ब्रह्मा की माला भी है, ऊपर में सिजरा है। वह है हद का सिजरा, यह है बेहद का। जो भी मनुष्य-मात्र हैं, सबकी माला है। आत्मा कितनी छोटे से छोटी बिन्दी है। बिल्कुल छोटी बिन्दी है। ऐसे-ऐसे बिन्दी देते जाओ तो अनगिनत हो जायेगी। गिनती करते-करते थक जायेंगे। परन्तु देखो, आत्मा का झाड़ कितना छोटा है। ब्रह्म तत्व में बहुत थोड़ी जगह में रहती है। वह फिर यहाँ आती है पार्ट बजाने। तो यहाँ फिर कितनी लम्बी-चौड़ी दुनिया है। कहाँ-कहाँ एरोप्लेन में जाते हैं। वहाँ फिर एरोप्लेन आदि की दरकार नहीं। आत्माओं का छोटा-सा झाड़ है। यहाँ मनुष्यों का कितना बड़ा झाड़ है।

यह सब हैं प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान। जिसको कोई एडम, कोई आदि देव कहते हैं। मेल-फीमेल तो जरूर हैं। तुम्हारा है प्रवृत्ति मार्ग। निवृति मार्ग का खेल होता नहीं। एक हाथ से क्या होगा। दोनों पहिये चाहिए। दो हैं तो आपस में रेस करते हैं। दूसरा पहिया साथ नहीं देता है तो ढीले पड़ जाते हैं। परन्तु एक के कारण ठहर नहीं जाना चाहिए। पहले-पहले पवित्र प्रवृत्ति मार्ग था। फिर होता है अपवित्र। गिरते ही जाते हैं। तुम्हारी बुद्धि में सारा ज्ञान है। यह झाड़ कैसे बढ़ता है, कैसे एडीशन होती जाती है। ऐसा झाड़ कोई निकाल न सके। कोई की बुद्धि में रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का नॉलेज है ही नहीं इसलिए बाबा ने कहा था – यह लिखो कि हमने रचता द्वारा रचता और रचना की नॉलेज का अन्त पाया है। वह तो न रचता को जानते, न रचना को। अगर परम्परा यह ज्ञान चला आता तो कोई बतावे ना। सिवाए तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियों के कोई बता न सके। तुम जानते हो हम ब्राह्मणों को ही परमपिता परमात्मा पढ़ाते हैं। हम ब्राह्मणों का ही ऊंचे से ऊंचा धर्म है। चित्र भी जरूर दिखाना पड़ता है। चित्र बिगर कब बुद्धि में बैठेगा नहीं। चित्र बहुत बड़े-बड़े होने चाहिए। वैरायटी धर्मों का झाड़ कैसे बढ़ता है, यह भी समझाया है। आगे तो कहते थे हम आत्मा सो परमात्मा, परमात्मा सो हम आत्मा। अब बाप ने इसका भी अर्थ बताया है। इस समय हम सो ब्राह्मण हैं फिर हम सो देवता बनेंगे, नई दुनिया में। अभी हम पुरूषोत्तम संगमयुग पर हैं अर्थात् यह है पुरूषोत्तम बनने का संगमयुग। यह सब तुम समझा सकते हो – रचता और रचना का अर्थ, हम सो का अर्थ। ओम् अर्थात् मैं आत्मा फर्स्ट, फिर यह शरीर है। आत्मा अविनाशी और यह शरीर विनाशी है। हम यह शरीर धारण कर पार्ट बजाते हैं। इसको कहा जाता है आत्म अभिमानी। हम आत्मा फलाना पार्ट बजाती हैं, हम आत्मा यह करती हैं, हम आत्मा परमात्मा के बच्चे हैं। कितना वण्डरफुल ज्ञान है। यह ज्ञान बाप में ही है, इसलिए बाप को ही बुलाते हैं।

बाप है ज्ञान का सागर। उनकी भेंट में फिर हैं अज्ञान के सागर, आधा कल्प है ज्ञान, आधा कल्प है अज्ञान। ज्ञान का किसको पता ही नहीं है। ज्ञान कहा जाता है रचता द्वारा रचना को जानना। तो जरूर रचता में ही ज्ञान है ना, इसलिए उनको क्रियेटर कहा जाता है। मनुष्य समझते हैं क्रियेटर ने यह रचना रची है। बाप समझाते हैं यह तो अनादि बना-बनाया खेल है। कहते हैं पतित-पावन आओ, तो रचता कैसे कहेंगे? रचता तब कहें जब प्रलय हो फिर रचे। बाप तो पतित दुनिया को पावन बनाते हैं। तो यह सारे विश्व का जो झाड़ है उनके आदि-मध्य-अन्त को तो मीठे-मीठे बच्चे ही जानते हैं। जैसे माली हरेक बीज को और झाड़ को जानते हैं ना। बीज को देखने से सारा झाड़ बुद्धि में आ जाता है। तो यह है ह्युमेनिटी का (मनुष्य सृष्टि का) बीज। उन्हें कोई नहीं जानते। गाते भी हैं परमपिता परमात्मा सृष्टि का बीजरूप है। सत, चित, आनन्द स्वरूप है, सुख, शान्ति, पवित्रता का सागर है। तुम जानते हो यह सारा ज्ञान परमपिता परमात्मा इस शरीर द्वारा दे रहे हैं। तो जरूर यहाँ आयेंगे ना। पतितों को पावन प्रेरणा से कैसे बनायेंगे। तो बाप यहाँ आकर सबको पावन बनाकर ले जाते हैं। वह बाप ही तुमको पाठ पढ़ा रहे हैं। यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। इस पर तुम भाषण कर सकते हो कि कैसे पुरूष तमोप्रधान से श्रेष्ठ सतोप्रधान बनते हैं। तुम्हारे पास टॉपिक तो बहुत हैं। यह पतित तमोप्रधान दुनिया सतोप्रधान कैसे बनती है – यह भी समझने लायक है। आगे चलकर तुम्हारा यह ज्ञान सुनेंगे। भल छोड़ भी देंगे फिर आयेंगे क्योंकि गति-सद्गति की हट्टी एक ही है। तुम कह सकते हो कि सर्व का सद्गति दाता एक बाप ही है। उनको श्री श्री कहते हैं। श्रेष्ठ से श्रेष्ठ है परमपिता परमात्मा। वो हमें श्रेष्ठ बनाते हैं। श्रेष्ठ है सतयुग। भ्रष्ट है कलियुग। कहते भी हैं भ्रष्टाचारी हैं। परन्तु अपने को नहीं समझते। पतित दुनिया में एक भी श्रेष्ठ नहीं। श्री श्री जब आये तब आकर श्री बनाये। श्री का टाइटिल सतयुग आदि में देवताओं का था। यहाँ तो सबको श्री श्री कह देते हैं। वास्तव में श्री अक्षर है ही पवित्रता का। दूसरे धर्म वाले कोई भी अपने को श्री नहीं कहते। श्री पोप कहेंगे क्या? यहाँ तो सबको कहते रहते हैं। कहाँ हंस मोती चुगने वाले, कहाँ बगुले गन्द खाने वाले। फ़र्क तो है ना। यह देवतायें हैं फूल, वह है गॉर्डन आफ अल्लाह। बाप तुमको फूल बना रहा है। बाकी फूलों में वैरायटी है। सबसे अच्छा फूल है किंग फ्लावर। इन लक्ष्मी-नारायण को नई दुनिया का किंग क्वीन फ्लावर कहेंगे।

तुम बच्चों को आन्तरिक खुशी होनी चाहिए। इसमें बाहर का कुछ करना नहीं होता। यह बत्तियां आदि जलाने का भी अर्थ चाहिए। शिव जयन्ती पर जलानी चाहिए या दीवाली पर? दीवाली पर लक्ष्मी का आह्वान करते हैं। उनसे पैसे मांगते हैं। जबकि भण्डारा भरने वाला तो शिव भोला भण्डारी है। तुम जानते हो शिवबाबा द्वारा हमारा अखुट खजाना भर जाता है। यह ज्ञान रत्न धन है। वहाँ भी तुम्हारे पास अथाह धन रहता है। नई दुनिया में तुम मालामाल हो जायेंगे। सतयुग में ढेरों के ढेर हीरे जवाहर थे। फिर वो ही होंगे। मनुष्य मूँझते हैं। यह सब खत्म होगा, फिर कहाँ से आयेगा? खानियां खुद गई, पहाड़ियां टूट गई फिर कैसे होंगी? बोलो, हिस्ट्री रिपीट होती है ना, जो कुछ था सो फिर रिपीट होगा। तुम बच्चे पुरूषार्थ कर रहे हो, स्वर्ग का मालिक बनने का। स्वर्ग की हिस्ट्री-जॉग्राफी फिर रिपीट होगी। गीत में है ना – आपने सारी सृष्टि, सारा समुद्र, सारी पृथ्वी हमको दे दी है जो कोई हमसे छीन नहीं सकता। उसकी भेंट में अब क्या है! जमीन के लिए, पानी के लिए, भाषा के लिए लड़ते हैं।

स्वर्ग के रचता बाबा का जन्म मनाया जाता है। जरूर उसने स्वर्ग की बादशाही दी होगी। अब तुमको बाप पढ़ा रहे हैं। तुमको इस शरीर के नाम रूप से न्यारा हो अपने को आत्मा समझना है। पवित्र बनना है – या तो योगबल से या तो सजायें खाकर। फिर पद भी कम हो जाता है। स्टूडेण्ट की बुद्धि में रहता है ना – हम इतना मर्तबा पाते हैं। टीचर ने इतना पढ़ाया है। फिर टीचर को भी सौगात देते हैं। यह तो बाप तुमको विश्व का मालिक बनाते हैं। तो तुम फिर भक्ति मार्ग में उनको याद करते रहते हो। बाकी बाप को आप सौगात क्या देंगे? यहाँ तो जो कुछ देखते हो वह तो रहना नहीं है। यह तो पुरानी छी-छी दुनिया है तब तो मुझे बुलाते हैं। बाप तुमको पतित से पावन बनाते हैं। इस खेल को याद करना चाहिए। मेरे में रचना के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज है, जो तुमको सुनाता हूँ, तुम अब सुनते हो फिर भूल जाते हो। पांच हजार वर्ष के बाद फिर चक्र पूरा होगा। तुम्हारा पार्ट कितना लवली है। तुम सतोप्रधान व लवली बनते हो। फिर तमोप्रधान भी तुम ही बनते हो। तुम ही बुलाते हो बाबा आओ। अब मैं आया हूँ। अगर निश्चय है तो श्रीमत पर चलना चाहिए। ग़फलत नहीं करनी चाहिए। कई बच्चे मतभेद में आकर पढ़ाई छोड़ देते हैं। श्रीमत पर नहीं चलेंगे, पढ़ेंगे नहीं तो नापास भी तुम ही होंगे। बाप तो कहते हैं अपने पर रहम करो। हरेक को पढ़कर अपने को राज तिलक देना है। बाप को तो है पढ़ाने की ड्युटी, इसमें आशीर्वाद की बात नहीं। फिर तो सभी पर आशीर्वाद करनी पड़े। यह कृपा आदि भक्ति मार्ग में मांगते हैं। यहाँ वह बात नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) प्रवृत्ति में रहते आपस में रेस करनी है। परन्तु अगर किसी कारण से एक पहिया ढीला पड़ जाता है तो उसके पीछे ठहर नहीं जाना है। स्वयं को राजतिलक देने के लायक बनाना है।

2) शिव जयन्ती बड़ी धूम-धाम से मनानी है क्योंकि शिवबाबा जो ज्ञान रत्न देते हैं, उससे ही तुम नई दुनिया में मालामाल बनेंगे। तुम्हारे सब भण्डारे भरपूर हो जायेंगे।

वरदान:- सर्व पदार्थो की आसक्तियों से न्यारे अनासक्त, प्रकृतिजीत भव
अगर कोई भी पदार्थ कर्मेन्द्रियों को विचलित करता है अर्थात् आसक्ति का भाव उत्पन्न होता है तो भी न्यारे नहीं बन सकेंगे। इच्छायें ही आसक्तियों का रूप हैं। कई कहते हैं इच्छा नहीं है लेकिन अच्छा लगता है। तो यह भी सूक्ष्म आसक्ति है – इसकी महीन रूप से चेकिंग करो कि यह पदार्थ अर्थात् अल्पकाल सुख के साधन आकर्षित तो नहीं करते हैं? यह पदार्थ प्रकृति के साधन हैं, जब इनसे अनासक्त अर्थात् न्यारे बनेंगे तब प्रकृतिजीत बनेंगे।
स्लोगन:- मेरे-मेरे के झमेलों को छोड़ बेहद में रहो तब कहेंगे विश्व कल्याणकारी।

TODAY MURLI 6 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 February 2018 :- Click Here

06/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have found God, the Father, while sitting at home. You have to maintain limitless happiness. Do not suppress your happiness under the influence of the vices.
Question: Who among you children would you say are lucky and who are unlucky?
Answer: Those who do the service of making others equal to themselves and give happiness to everyone are lucky. Those who simply eat and sleep are unlucky. They continue to cause sorrow for one another. When something is lacking in their efforts, they become unlucky.
Question: What are the signs of children whose operation of the third eye is successful?
Answer: They do not repeatedly fall in the storms of Maya. They do not stumble around. Their behaviour is divine and they imbibe knowledge well.
Song: Leave Your throne of the sky and come down to earth.

Om shanti. God Shiva speaks. Or, it can even be said: God Shiva, the God of the Gita, speaks. The name of the Gita is mentioned because it is the Gita that has been falsified. Everything depends on the fact that it was not the corporeal deity Shri Krishna who spoke the Gita, that Krishna did not teach Raja Yoga and that the original eternal deity religion was not established by Krishna. Krishna cannot be called incorporeal God. The image of Krishna is completely different from the form of the incorporeal One. He is the Supreme Soul. He doesn’t have a body of His own. People call out: O God, change Your form and come down here. He would not take the form of an animal. Human beings have said that He takes the form of an animal, that He incarnates in a fish, an alligator, a boar. However, He Himself says: I don’t take any of those forms. I have to make the world new. Krishna doesn’t have to create a world. It is Brahma who creates the Brahmin clan. There is a lot of difference between Brahma and Krishna. Brahmins have been created through the mouth of Brahma. It has not been written anywhere that deities were created through the mouth of Krishna. You children now know that there is no one in the world whose intellect is aware that incorporeal God enters a corporeal form and gives knowledge to souls. Those who take knowledge are souls and the One who gives knowledge is also a soul. For half the cycle, all bodily beings in different forms, such as mothers, fathers, gurus saints etc., have been giving various directions to one another. Now, the song, “You are the Mother and You are the Father and we receive blessings through Your mercy”, is being explained to you. This praise is only sung of One. The Father says: Renounce the directions of your physical parents, gurus saints etc. I alone come and become your Father, Teacher, Guru, Friend and Brother etc. Everyone’s directions are included in the directions I give you. Therefore, it is good to follow the directions of Me alone. Surely, only at this time would the Supreme Father, the Supreme Soul, give directions. That Supreme Soul gives directions to you souls, whereas there, those who give directions are all human beings. In fact, those are also souls who give directions through their organs, but people are trapped in the name and form and so they don’t know this secret. It is said that Buddha went beyond, to the land of nirvana. Buddha is the name of the body. The body cannot go anywhere. Or, they would say so-and-so went to the land of Paradise, and they would mention the name of the body. They would not say that he left his body and the soul went. No one knows this. You know that it is souls that have to go to heaven. It isn’t that souls come here from heaven. All of them come from the supreme abode. You children have this knowledge in your intellects. You know that, first in this world, there are the deity souls, those who play their part s in the golden age. Your intellects have the full introduction of souls and the Supreme Soul but you repeatedly forget and become body conscious. No one is able to make full effort. Maya is such that she doesn’t allow you to make effort. You are already lazy and Maya makes you even more lazy. The Master of the World Himself sits here and teaches you. He has the power of all the relationships such as the Mother, the Father, the Brother, the Friend, the Guru etc. This praise is of only the one Supreme Father, the Supreme Soul, but people don’t understand this. They sing this praise in front of Lakshmi and Narayan etc. You souls know that you have been around the cycle of 84 births, that it is now your final birth. Your intellects should repeatedly recall this. This knowledge brings great happiness. That One is such an unlimited Father and yet He doesn’t meet anyone except you children. Reason also says that the happiness of those who become the children of the Supreme Father, the Supreme Soul, should have no limits. However, when the vices of greed and attachment etc. come, they suppress your happiness. It is these vices that have suppressed the happiness of the whole world. You have found the Father while sitting at home. He has come in Bharat. Bharat is the home of the people of Bharat. However, He would definitely come in one home. It isn’t that He would come in every home. In that case, He would be omnipresent. Surely, He would come and make impure ones pure. People of the world think that Krishna will come, but you know that the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Purifier and the Ocean of Knowledge has come. In fact, His name is Rudra. This is the biggest mistake of all. When they understand that He is the unlimited Father, the Creator of the whole world, their mercury of happiness will rise. You would surely receive the inheritance from such a Father. You cannot receive the inheritance from Krishna. No one’s intellect works on these things. The whole world is the shudra community. The brahmins there are just in name only. When you Brahmins churn the ocean of knowledge, you can also give the introduction to others. Everyone knows Krishna. Some say that Radhe and Krishna belong to heaven whereas others have taken them to the copper age. They have created this confusion. God is the Ocean of Knowledge. Only you, the Godly community, can have knowledge. How could the devilish community have knowledge? Although they sing “O Purifier” they don’t consider themselves to be impure. They don’t know heaven at all. They simply say it for the sake of saying it. They don’t even understand that deities are residents of heaven. Their eyes open when you explain to them. Maya has completely closed their eyes. Ancient Bharat was heaven. They don’t even know that it used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. We didn’t know that either. You can understand that all the other religions came later. Those religions didn’t exist at the time of the deities. Therefore, there would definitely only be happiness there. The Father creates children to give them happiness. It isn’t that He gives them both happiness and unhappiness. A physical father too would ask for a child in order to give him his wealth and property, not to give him unhappiness. It is only now we explain that, from the copper age onwards, physical fathers have only been giving unhappiness. They don’t give you unhappiness in the golden and silver ages. Here, a mother and father give you a lot of love, but they then put you under the sword of lust. Therefore, sorrow begins. It isn’t like that in the golden age. There is no question of sorrow there. The Father sits here and explains this. You, too, understand everything, numberwise. You are now being operated on with knowledge and yoga. However, the operation for some is successful, but not for others. For instance, when people have an eye operation, it is successful for some and they become fine whereas others still have some defects left in their eyes. Some people’s eyes become completely bad. You are now each receiving a third eye of knowledge. So, the eye of the intellect opens and you begin to make very good effort. The eye of some people doesn’t open fully and so they are unable to imbibe. Their behaviour too is not divine; they repeatedly continue to fall in the storms of Maya. On the one side is the Master who gives you happiness for 21 births and on the other side is Ravan who gives you unhappiness. He too is called a master. The Father says: I don’t give anyone unhappiness. I am well known for giving happiness. In the golden and silver ages, everyone is happy. The One who gives happiness is someone else. No one knows when Ravan’s kingdom begins. For half the cycle, it is the kingdom of Rama and for half the cycle, it is the kingdom of Ravan. This is the story of the kingdoms of Rama and Ravan. However, it is with great difficulty that this sits in anyone’s intellect. Some are in a state of total decay and so they don’t understand anything. The more someone studies, the more manners he develops, there is this splendour, but for us it is incognito. If you have the internal intoxication of becoming Narayan, you will also speak about it and explain to others. This study is one that makes you into the kings of kings. The CongressParty become very annoyed when they hear the names of kings, because the kings of later times began to live lives of great comfort. However, they have forgotten that the deities of the original eternal religion were kings and queens. You are now once again receiving power from the Father and claiming your fortune of the kingdom for 21 generations. This story of the true Narayan is very well known, but even scholars and teachers don’t know it. They have made so much show of the Gita. Hundreds of thousands of people listen to it, but none of them understands anything. Now, who would awaken those poor people? This is the duty of you children. However, there are very few people who can awaken others. To the extent that you make others equal to yourself, accordingly you will claim a high status. The Father says: Consider the past to be the past; it is fixed like that in the drama. Make effort for the future. Write your chart :How much did I imbibe in this much time? Some are 25 to 30 years old and others are children of one month or even seven days. However, these new ones are galloping ahead of those who have been here for 15 to 20 years. It is a wonder ! They either say that Maya is very powerful or that the drama is like that. However, when you leave it to the drama, your efforts grow cold. You then believe that it is not in your fortune. All of you are lucky stars. You can be compared to the stars of the sky. You are the stars of the earth. Those stars simply give light. You serve to awaken people. You make unhappy ones happy. People call those stars astral deities, but it is you who become true deities. Those stars are called deities because they reside up above. However, deities don’t reside up above. They reside on this earth, but they are definitely more elevated than human beings. They give everyone happiness. Those who give unhappiness to one another cannot be called lucky starsLucky and unlucky exist at this time. Those who make others equal to themselves are called lucky. Those who simply sleep and eat are called unlucky. It is also like that at school. This too is a study. You have to use your intellect for everything. Radhe and Krishna are called 16 celestial degrees lucky. Rama and Sita are two degrees less; they failed. The luckiest of all are Lakshmi and Narayan. They too became that by studying this. When something is lacking in your efforts, you become unlucky. The Father Himself teaches you. You students are gopes and gopis. In fact, those words emerged from the golden age. There, the princes and princesses play with one another and so the loving names of gopes and gopis is given to them. They are shown with Krishna. When they grow older, they are not called gopes and gopis. All of them would be princes. He would not play with maids and servants or with people from the villages outside. People from outside cannot enter the palace. Krishna doesn’t go to the River Jamuna outside. He plays inside his own palace. They have written useless stories in the Bhagawad such as that he broke an earthenware pot etc. It was nothing like that. There, there is great discipline. The Father explains so much. He says: Follow shrimat! At this time, you receive nothing but happiness. There is so much praise of Him. He cancelseveryone’s sorrow and gives everyone happiness. He says: Constantly remember Me alone. If the Father didn’t come and teach us this, would we have been able to study? No. This is the most lovely Father. The best directions of all that He gives are: “Manmanabhav! Remember Me! Remember heaven! Remember the cycle!” All of the knowledge is included in these. They simply show Vishnu with the discus of self-realisation, but they don’t know the meaning of that. We now know that the conch shell is of knowledge which the incorporeal Father gives us. Vishnu doesn’t give that. He gives it to human beings who then become deities or Vishnu. This knowledge is so sweet. Therefore, you should remember the Father with so much happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, who are the decoration of the Brahmin clan and spinners of the discus of self-realisation, love and remembrance. However, children spin the discus very little. Some of you don’t spin it at all. The Father says to you every day: Children who are spinners of the discus of self-realisation: these too are blessings that you receive. Achcha. The spiritual Father says namaste to the sweetest, spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The directions of the Father, the Teacher, the Guru, the Brother etc. are all merged in the directions of the one Father. Therefore, only follow His directions. Don’t follow the dictates of human beings.
  2. Let the past be the past and gallop in your efforts. Don’t become slack, saying, “If it is in the drama .” Do the service of making others equal to yourself.
Blessing: May you be an image of success in serving yourself and others with the original sanskar of paying attention and practicing.
An original sanskar of Brahmin souls is “Paying attention and practicing”. Therefore, never have any tension in paying attention. Always serve yourself and others at the same time. Those who put service of the self aside and remain engaged in serving others cannot achieve success. So, keep a balance between the two and move forward. Do not become weak. You are an instrument soul who has been victorious many times. For a victorious soul, nothing is hard work or difficult.
Slogan: Become merciful with knowledge and your heart will be able to have disinterest in weaknesses.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 6 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 February 2018

To Read Murli 5 February 2018 :- Click Here
06-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें घर बैठे भगवान बाप मिला है तो तुम्हें अपार खुशी में रहना है, विकारों के वश खुशी को दबा नहीं देना है”
प्रश्नः- तुम बच्चों में लकी किसको कहेंगे और अनलकी किसको कहेंगे?
उत्तर:- लकी वह है जो बहुतों को आप समान बनाने की सेवा करते, सबको सुख देते हैं और अनलकी वह हैं जो सिर्फ सोते और खाते हैं। एक दो को दु:ख देते रहते हैं। पुरुषार्थ में कमी होने से ही अनलकी बन जाते हैं।
प्रश्नः- जिन बच्चों के तीसरे नेत्र का आपरेशन सक्सेसफुल होता है, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह माया के तूफानों में घड़ी-घड़ी गिरेंगे नहीं, ठोकर नहीं खायेंगे। उनकी दैवी चलन होगी। धारणा अच्छी होगी।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन….

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच वा ऐसे भी कह सकते हैं कि गीता के भगवान शिव भगवानुवाच। गीता का नाम लिया जाता है क्योंकि गीता को ही खण्डन किया गया है। सारा मदार इस पर है कि गीता श्रीकृष्ण साकार देवता ने नहीं गाई है अर्थात् कृष्ण ने राजयोग नहीं सिखाया है वा कृष्ण द्वारा आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना नहीं हुई है। कृष्ण को निराकार भगवान तो नहीं कह सकते। कृष्ण का चित्र ही अलग है। निराकार का रूप अलग है, वह है परम आत्मा। उनका कोई शरीर नहीं है। पुकारते ही हैं हे भगवान रूप बदलकर आओ। वह कोई जानवर का रूप तो नहीं धरेगा। मनुष्यों ने तो जानवर का भी रूप दे दिया है। कच्छ मच्छ अवतार, वाराह अवतार.. परन्तु खुद कहते हैं मैंने यह रूप धरे ही नहीं है। मुझे तो नई सृष्टि रचनी है। कृष्ण को सृष्टि नहीं रचनी है। ब्राह्मण कुल को रचने वाला ब्रह्मा। ब्रह्मा और कृष्ण में तो बहुत फर्क है। ब्रह्मा के मुख से ब्राह्मण रचे गये। कृष्ण के मुख से देवतायें रचे गये – ऐसे तो कहाँ भी नहीं लिखा हुआ है। अभी तुम बच्चे जानते हो दुनिया में ऐसा कोई नहीं जिसकी बुद्धि में यह हो कि निराकार परमात्मा साकार में आकर आत्माओं को ज्ञान देते हैं। ज्ञान लेने वाली भी आत्मा है तो देने वाली भी आत्मा है। अब आधाकल्प से भिन्न-भिन्न रूप से मात-पिता, गुरू गोसाई आदि सब देहधारी एक दो को कुछ न कुछ मत देते आये हैं। अभी इस समय त्वमेव माताश्च पिता…. पर समझाया जाता है। यह महिमा एक की ही गाई जाती है। बाप कहते हैं तुम्हारे जो भी लौकिक माँ बाप बन्धु गुरू गोसाई हैं, इन सभी की मत को छोड़ो। मैं ही आकर तुम्हारा बाप टीचर गुरू बन्धु आदि बनता हूँ। मेरी मत में सभी की मत समाई हुई है इसलिए मुझ एक की मत पर चलना अच्छा है। परमपिता परमात्मा जरूर अभी ही मत देंगे ना। यह परम आत्मा तुम आत्माओं को मत देते हैं और वह सभी मनुष्य मत देते हैं। वास्तव में तो वह भी आत्मायें आरगन्स द्वारा मत देती हैं परन्तु मनुष्य नाम रूप में फँसे हुए हैं तो इस राज़ को नहीं जानते हैं। जैसे कहते हैं बुद्ध पार निर्वाण गया। अब बुद्ध तो शरीर का नाम हो गया। वह शरीर तो कहाँ जाता नहीं वा कहेंगे फलाना वैकुण्ठ गया, वह नाम शरीर का लेंगे। ऐसे नहीं कहेंगे कि वह शरीर छोड़ उनकी आत्मा गई। ऐसे कोई जाते ही नहीं। तुम समझते हो आत्मा को ही स्वर्ग में जाना है। आत्मा कोई स्वर्ग से यहाँ नहीं आती, आते सब परमधाम से हैं। यह नॉलेज तुम बच्चों की बुद्धि में है। तुम जानते हो इस सृष्टि पर पहले देवी-देवताओं की आत्मायें थी, जिन्होंने सतयुग में पार्ट बजाया। तुम्हारी बुद्धि में आत्मा और परमात्मा का पूरा परिचय है। भल तुम घड़ी-घड़ी भूल जाते हो, देह-अभिमान में आ जाते हो, पूरी रीति कोई से मेहनत होती नहीं। माया ऐसी है जो पुरुषार्थ करने नहीं देती। खुद भी सुस्त हैं तो माया और ही सुस्त बना देती है। विश्व का मालिक खुद बैठ पढ़ाते हैं, जिसमें मात-पिता, बन्धु सखा, गुरू आदि सभी सम्बन्धों की ताकत आ जाती है। यह महिमा है ही एक निराकार परमात्मा की, परन्तु मनुष्य समझते नहीं। लक्ष्मी-नारायण आदि सबके आगे जाकर महिमा गाते रहते हैं।

तुम जानते हो हम आत्मायें 84 जन्मों का चक्र लगाकर आई हैं। अब यह अन्तिम जन्म है। यह घड़ी-घड़ी बुद्धि में याद रहना चाहिए। यह नॉलेज बड़ी खुशी की है। ऐसा बेहद का बाप स्वयं तुम बच्चों के और कोई को मिलता नहीं है। विवेक भी कहता है परमपिता परमात्मा का जो बच्चा बना है उनकी खुशी का पारावार नहीं होना चाहिए। परन्तु लोभ मोह आदि विकार आने से खुशी को दबा देते हैं। इन विकारों ने ही सारी दुनिया की खुशी को दबा दिया है। तुमको तो घर बैठे बाप आकर मिला है। भारत में आये हैं। भारतवासियों का तो भारत घर है ना। परन्तु आयेंगे तो जरूर एक घर में। ऐसे तो नहीं घर-घर में आयेंगे। फिर तो सर्वव्यापी हो गया। वह आयेंगे तो जरूर आकर पतितों को पावन बनायेंगे। दुनिया तो समझती है कृष्ण आयेगा। परन्तु तुम जानते हो परमपिता परमात्मा आया हुआ है, जो पतित-पावन, ज्ञान का सागर है, उनका नाम वास्तव में रूद्र है। यह बड़े से बड़ी भूल है। जब यह समझें कि वह बेहद का बाप सारी सृष्टि का रचयिता है तो खुशी का पारा चढ़ जाये। ऐसे बाप से तो जरूर वर्सा मिलेगा। कृष्ण से तो वर्सा मिल न सके। इन बातों पर भी किसकी बुद्धि नहीं चलती। दुनिया तो सारी शूद्र सम्प्रदाय है। ब्राह्मण भी सिर्फ कहलाने मात्र हैं। तुम ब्राह्मण जब विचार सागर मंथन करो तब औरों को भी परिचय दे सको। कृष्ण को तो सब जानते हैं। सिर्फ कोई कहते राधे-कृष्ण स्वर्ग के हैं, कोई फिर द्वापर में ठोक देते, यह भी मूँझ कर दी है। ईश्वर तो ज्ञान का सागर है। तुम ईश्वरीय सम्प्रदाय में ही ज्ञान आ सकता है। आसुरी सम्प्रदाय में ज्ञान कहाँ से आया? भल गाते भी हैं पतित-पावन.. परन्तु अपने को पतित समझते नहीं। स्वर्ग को तो बिल्कुल जानते ही नहीं। सिर्फ नाम मात्र कहते हैं, यह भी नहीं समझते हैं कि देवतायें स्वर्गवासी हैं। तुम जब समझाते हो तब आंखे खुलती हैं। माया ने आंखें ही बन्द कर दी हैं। प्राचीन भारत स्वर्ग था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था यह भी नहीं जानते। हम भी नहीं मानते थे। यह तो समझ सकते हैं कि अन्य धर्म तो बाद में आये हैं। देवताओं के समय यह धर्म नहीं थे। तो जरूर वहाँ सुख ही सुख होगा। बाप बच्चों को रचते ही हैं सुख के लिए। ऐसे नहीं सुख दु:ख दोनों देते हैं। लौकिक बाप भी बच्चा मांगता है तो उनको धन सम्पत्ति देने लिए, न कि दु:ख देने लिए। यह तो अभी हम समझाते हैं कि द्वापर से लेकर लौकिक बाप भी दु:ख ही देते आये हैं। सतयुग त्रेता में तो दु:ख नहीं देते। यहाँ माँ बाप प्यार तो बहुत करते हैं, परन्तु उनको फिर काम कटारी नीचे डाल देते हैं। तो दु:ख आरम्भ हो जाता है। सतयुग में तो ऐसे नहीं होता। वहाँ तो दु:ख की बात नहीं। यह बाप बैठ समझाते हैं। तुम्हारे में भी नम्बरवार समझते हैं। तुम्हारा यह ज्ञान योग से आपरेशन हो रहा है। परन्तु कोई का सक्सेसफुल होता है, कोई का नहीं होता है। जैसे आंखों का आपरेशन कराते हैं तो कोई की ठीक हो जाती हैं, कोई में थोड़ी खराबी रह जाती है, कोई की आंखें बिल्कुल खराब हो जाती हैं। तुमको भी अभी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिल रहा है। तो बुद्धि रूपी नेत्र खुल जाता है तो अच्छा पुरुषार्थ करने लग पड़ते हैं। कोई का पूरा नहीं खुलता है, धारणा नहीं होती, दैवी चलन भी नहीं होती। माया के तूफान में घड़ी-घड़ी गिरते रहते हैं। एक तरफ है 21 जन्मों का सुख देने वाला उस्ताद, दूसरे तरफ है दु:ख देने वाला रावण। उसे भी उस्ताद कहेंगे। बाप कहते हैं मैं तो कोई को दु:ख नहीं देता। मैं तो सुख देने वाला नामीग्रामी हूँ। सतयुग त्रेता में सब सुखी हैं, सुख देने वाला और है। यह भी किसको पता नहीं है कि रावण राज्य कब आरम्भ होता है। आधाकल्प रामराज्य, आधाकल्प रावण राज्य। यह है राम राज्य और रावण राज्य की कहानी। परन्तु यह भी कोई की बुद्धि में मुश्किल बैठता है। कोई तो बिल्कुल जड़जड़ीभूत अवस्था में हैं, जो कुछ भी नहीं समझते। जितना मनुष्य पढ़ते हैं उतना मैनर्स भी आते हैं। दबदबा रहता है। हमारा फिर गुप्त दबदबा है। आन्तरिक नारायणी नशा चढ़ा होगा तो वर्णन भी करेंगे, औरों को समझायेंगे। यह पढ़ाई तो राजाओं का राजा बनाने वाली है। कांग्रेसी लोग तो राजाओं का नाम सुनकर गर्म हो जाते हैं क्योंकि पिछाड़ी के राजायें ऐशी बन गये थे। परन्तु यह भूल गये हैं कि आदि सनातन देवी-देवतायें राजा रानी थे। अभी तुम फिर बाप से शक्ति ले 21 पीढ़ी राज्य भाग्य लो। यह सत्य नारायण की कथा तो मशहूर है। परन्तु विद्वान, आचार्य भी नहीं जानते। गीता का कितना आडम्बर बनाया है। लाखों सुनते हैं, परन्तु समझते कुछ भी नहीं हैं। अब इन विचारों को कौन सुजाग करे। यह तुम बच्चों का काम है। परन्तु बहुत थोड़े बच्चे हैं जो औरों को सुजाग कर सकते हैं, जो जितना आप समान बनायेंगे उतना पद भी ऊंच पायेंगे। बाप कहते हैं बीती सो बीती देखो। ड्रामा में ऐसे था। आगे के लिए पुरुषार्थ करो। अपना चार्ट देखो – इतने समय में क्या धारणा की है? कोई 25-30 वर्ष के हैं। कोई एक मास, कोई 7 रोज़ के बच्चे हैं। परन्तु 15-20 वर्ष वालों से गैलप कर रहे हैं। वन्डर है ना। या तो कहेंगे माया प्रबल है या तो ड्रामा पर रखेंगे। परन्तु ड्रामा पर रखने से पुरुषार्थ ठण्डा हो जाता है। समझते हैं हमारे भाग्य में नहीं है।

तुम सब लकी स्टार्स हो। तुम्हारी भेंट ऊपर के स्टार्स से की जाती है। तुम सृष्टि के सितारे हो। वह तो सिर्फ रोशनी देते हैं। तुम तो मनुष्यों को जगाने की सेवा करते हो। दु:खियों को सुखी बनाते हो। मनुष्य इन सितारों को नक्षत्र देवता कहते हैं, सच्चे देवता तो तुम बनते हो। उन सितारों को देवता कहते हैं क्योंकि वह ऊपर रहते हैं। परन्तु देवतायें कोई ऊपर नहीं रहते। रहते तो इसी सृष्टि पर हैं परन्तु मनुष्यों से ऊंच जरूर हैं। सबको सुख देते हैं, जो एक दो को दु:ख देते हैं उनको थोड़ेही लकी स्टार कहेंगे। लकी और अनलकी इस समय हैं। जो आप समान बनाते हैं उन्हें लकी कहेंगे। जो सिर्फ सोते और खाते हैं उनको अनलकी कहेंगे। स्कूल में भी ऐसे होते हैं। यह भी पढ़ाई है। बुद्धि से काम लेना पड़ता है। राधे-कृष्ण को 16 कला लकी कहेंगे। राम-सीता दो कला कम हो गये। नापास हुए। सबसे नम्बरवन लकी लक्ष्मी-नारायण हैं। वह भी इस पढ़ाई से ऐसे बने हैं। पुरुषार्थ में कमी करने से अनलकी बन पड़ते हैं। तुमको तो बाप खुद पढ़ाते हैं। तुम स्टूडेन्ट ही गोप-गोपियां हो। वास्तव में यह अक्षर सतयुग से निकला है। वहाँ प्रिन्स प्रिन्सेज खेलपाल करते हैं तो प्रिय नाम गोप गोपियां रखा है। कृष्ण के साथ दिखाते हैं। बड़े हो जाते हैं तो गोप गोपियां नहीं कहा जाता है। होंगे तो सभी प्रिन्स ना। कोई दास दासियां वा बाहर के गांवड़े के लोगों से तो नहीं खेलेंगे। महल में बाहर वाले तो आ न सकें। कृष्ण बाहर जमुना आदि पर नहीं जाते हैं। अपने महल में ही अन्दर खेलते हैं। भागवत में तो कई फालतू बातें बैठ लिखी हैं। मटकी फोड़ी आदि… है कुछ भी नहीं। वहाँ तो बड़े कायदे हैं। तो बाप कितना समझाते हैं, कहते हैं श्रीमत पर चलो। इस समय तुमको सुख ही सुख मिलता है। उनकी कितनी महिमा है। सबके दु:ख कैन्सिल कराए सभी को सुख देते हैं। कहते हैं मामेकम् याद करो। यह बाप आकर न पढ़ाते तो हम क्या पढ़ सकते? नहीं। यह मोस्ट लवली बाप है। सबसे अच्छी मत देते हैं – मनमनाभव। मुझे याद करो। स्वर्ग को याद करो, चक्र को याद करो। इसमें सारा ज्ञान आ जाता है। वह तो सिर्फ विष्णु को स्वदर्शन चक्र दिखाते हैं, परन्तु अर्थ का पता नहीं। हम अभी जानते हैं कि शंख है ज्ञान का, जो निराकार बाप देते हैं। विष्णु थोड़ेही देते हैं। और देते हैं मनुष्यों को। जो फिर देवता अथवा विष्णु बनते हैं। कितना मीठा ज्ञान है। तो कितना खुशी से बाप को याद करना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे ब्राह्मण कुल भूषण स्वदर्शन चक्रधारी बच्चों को यादप्यार। परन्तु बच्चे स्वदर्शन चक्र चलाते बहुत थोड़ा है। कोई तो बिल्कुल नहीं फिराते। बाप तो रोज़ कहते हैं स्वदर्शन चक्रधारी बच्चे.. यह भी आशीर्वाद मिलती है। अच्छा – मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप की नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार :-

1) एक बाप की मत में बाप, टीचर, गुरू, बन्धु आदि की सब मतें समाई हुई हैं, इसलिए उनकी मत पर ही चलना है। मनुष्य मत पर नहीं।

2- बीती को बीती कर पुरुषार्थ में गैलप करना है। ड्रामा कहकर ठण्डा नहीं होना है। आप समान बनाने की सेवा करनी है।

वरदान:- अटेन्शन और अभ्यास के निज़ी संस्कार द्वारा स्व और सर्व की सेवा में सफलतामूर्त भव 
ब्राह्मण आत्माओं का निज़ी संस्कार ”अटेन्शन और अभ्यास” है इसलिए कभी अटेन्शन का भी टेन्शन नहीं रखना। सदा स्व सेवा और औरों की सेवा साथ-साथ करो। जो स्व सेवा छोड़ पर सेवा में लगे रहते हैं उन्हें सफलता नहीं मिल सकती, इसलिए दोनों का बैलेन्स रख आगे बढ़ो। कमजोर नहीं बनो। अनेक बार के निमित्त बने हुए विजयी आत्मा हो, विजयी आत्मा के लिए कोई मेहनत नहीं, मुश्किल नहीं।
स्लोगन:- ज्ञानयुक्त रहमदिल बनो तो कमजोरियों से दिल का वैराग्य आयेगा।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize