today murli 6 august

TODAY MURLI 6 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 5 August 2018 :- Click Here

06/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become fragrant flowers. Shri Krishna is the number one fragrant flower. This is why he is loved by everyone. Everyone places him on their eyes (has deep regard for him).
Question: Which worldly relationship is sweet and which do you call the sweetest?
Answer: In worldly relationships, it is the father who is said to be sweet. You children also say that your Father is extremely sweet and most lovely and that you are His lovely children. The Teacher is then said to be the sweetest because the Teacher teaches you. Knowledge is your source of income. You also receive knowledge first. While living at home with the family, you have to imbibe this knowledge and inspire others to imbibe it.
Song: To live in Your lane and to die in Your lane. 

Om shanti. You children heard the song. When a person dies, he takes birth to another set of parents and the father is congratulated. You children now know that souls are imperishable. That song refers to the bodies. You shed a body and take another, that is, you leave one father and go to another father. You have had 84 corporeal fathers. In fact, you are the children of the incorporeal Father. You souls are residents of the land of nirvana, the land of peace, where everyone resides with the Father. That is called the world of souls. You souls reside there and the Father also resides there. Here, you forget Him because you become children of worldly fathers. In the golden age, no one remembers the Father; their intellects are already down here. Here, when people remember Him, they say: O Baba! This one is also called Baba. This one is also a father. You see the worldly father here. When you call out to the Father from beyond, you look upward. You now belong to that Baba. You know that, at first, you were pure and had your fortune of the kingdom and that your 84 births are now coming to an end. You have become unhappy and this is why you remember the Father. This costume (body) has now become tamopradhan by being worn all the time. At first, both souls and bodies were satopradhan. Then the souls went through the stages of sato, rajo and tamo. At first they were golden, and then they went through the stages of silver, copper and iron. They are also called jewellery. Alloy is mixed into gold. The Father explains: You souls have now become impure and the gold has become tarnished. You have become ugly and impure. At first, you souls were pure and you had pure bodies. How will you now receive pure bodies? Is it by bathing? Nothing happens just by bathing. The souls call out: O Purifier Baba! The word ‘Baba’ is so sweet. It is very good. The word ‘Baba’ is only used in Bharat. You children continue to say, “Baba! Baba!” You children know that you have now become soul conscious and that you belong to the Father. The Father says: I first of all sent you to heaven. Having played your part s, you have now reached the end. Continue to say “Baba! “Baba!” internally. You children know that Baba has come. Everyone remembers Him: O Purifier Baba, come! Come and make us impure ones pure! They all call out in their own language. When the world becomes old, they call out, so He would surely come at the confluence age. Only you know this. They have written many confusing things in the scriptures. You children have the firm faith that Baba is your most belovedmost lovely Baba. Baba too says: Sweet childrenSweet, sweetersweetest ; who is sweet? In worldly relationships it is the father who is sweet. Then the teacher is said to be the sweetest. The teacher is good because he teaches you. It is said: Knowledge is a source of income. Therefore, this knowledge is also your source of income. Yoga is called remembrance and gyan is called knowledge. You children know that you were made into the masters of heaven. This is why people celebrate the birthday of Shiva. However, no one knows how Shiv Baba came. The Trimurti is shown in the pictures and Shiva is shown up above. “Establishment through Brahma”: who carries out establishment through Brahma? Shiv Baba is Karankaravanhar. Shiva is above Brahma, Vishnu and Shankar. That is the creation and their Creator is Shiva. He is incorporeal and this is the corporeal world. The world cycle continues to repeat. The subtle region is not called the world cycle. It is the human world that goes around, but there is no question of a cycle in the subtle region or the incorporeal world. It is now the iron age, hell, whereas the golden age is heaven. Who would make the residents of hell into residents of heaven? As soon as they go on to the path of sin, they become impure. Day by day, they continue to become unhappy from being happy. When the world becomes tamopradhan, it is said: This is a completely tamoguni (degraded) intellect. That is a completely satopradhan intellect, just like those of the deities. In fact, deities should be worshipped. However, no one at this time is a deity because no one has divine virtues. Christians know Christ and worship him. The people of Bharat cannot call themselves deities. Many people have the name, “Deity so-and-so”, “Deity so-and-so”, but they don’t have those virtues. It is sung: I am without virtue, I do not have any virtues. In front of whom do souls say this? They should say this in front of the Father. They have forgotten the Father and chase after the brothers. Brahma, Vishnu and Shankar are also brothers. You are not going to receive anything from them. They continue to worship brothers and continue to fall. You are to receive your inheritance from the Father. No one knows the Father. They call the Father omnipresent but what is the Father’s name? They say: He is beyond name and form. On the one hand, you say that He is a constant form of light, and so how can you say that He is beyond name and form? You understand that, according to the law, everyone has to become tamopradhan. Then, only when the Father comes can He make everyone satopradhan. Souls definitely have to become pure. All souls are going to reside with the Father. The new world had to become the old world. You know that you now belong to Baba and that Baba has come. He is carrying out establishment through Brahma. The Father says: I take the support of the body of Brahma. I ride in the lucky chariot. There would definitely be a soul in the chariot. It is said that Bhagirath brought the Ganges. How could the Ganges flow through locks of hair? That is just sweet water that flows from the mountains. Clouds fill themselves from the ocean and then rain. Nowadays, science has the power to make water sweet. Clouds rain so much naturally. So much water comes from them that there are even floods. Where does so much water come from? The clouds draw up that water. There is no Indra, no God of Rain, etc. Those are just the clouds that fill themselves and then rain. In fact, this is the rain of knowledge. This is knowledge, is it not? What happens through it? Impure ones become pure. The Rivers Ganges and Jamuna will also exist in the golden age. It is said that Krishna used to play games there. In fact, there was nothing like that. There, they sustain Krishna with a lot of care. He is a very good flower. A flower is so lovely. People receive fragrance from a flower. Would anyone take fragrance from thorns? This is the forest of thorns. The incorporeal Father says: I come and create the garden of flowers. This is why He is also called Babulnath (Lord of Thorns), the One who changes thorns into flowers. Babul changes the thorns into flowers. This is why His praise is sung: The Lord who changes thorns into flowers. So, there should be so much love for Baba. Even though souls have physical fathers, they remember the Father from beyond because they are very unhappy. This is also a game. You have been remembering the Father for half the cycle. It is because He comes that people celebrate the birthday of Shiva. You know that you have now become children of the unlimited Father. Your relationship is with that One as well as your physical fathers. The unlimited Father says: You will become pure by remembering Me. Each soul knows that this one is a physical father and that that One is the Father from beyond. Souls only call out to their Father from beyond. Souls say: O God! O, God, the Father! If the f ather were sitting at home, why would they call out: O Father? Souls remember that eternal Father. It is now that you understand when He comes and makes the world new. It is said that He surely comes at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. People have then said that the duration of the iron age is hundreds of thousands of years. People wander around so much in order to attain God. Who does the most devotion? They should meet the Father first, should they not? The Father has explained: You are the ones who begin devotion first. You should receive knowledge first. Formerly, you were those who had devilish traits. You are now becoming deities with divine virtues. You are becoming the masters of such an elevated heaven. There, everything is firstclass. You become very important people. Palaces studded with diamonds and jewels will be built for you there. You cannot receive the inheritance from Shiv Baba until you become Brahmins. Shudras cannot claim the inheritance. This is the sacrificial fire in which Brahmins are definitely needed. A sacrificial fire is always conducted by a brahmin priest. Shiva is also called Rudra. Therefore, this is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Rudra Shiv Baba has created this sacrificial fire of knowledge. When devotion comes to an end, the sacrificial fire is created. Human beings create sacrificial fires on the path of devotion. In the golden age, deities never create sacrificial fires. However, this is the imperishable sacrificial fire of the knowledge of Rudra in which the horse is sacrificed to attain self-sovereignty. It has been remembered by this name even in the scriptures. Devotion and knowledge are half and half: devotion is the night and knowledge is the day. Baba explains this. Always continue to say, “Baba, Baba!” Baba is the One who makes us into the masters of the world. Baba is the most beloved. There cannot be anyone in the world lovelier than He is. You have been remembering the Father for half the cycle. You now know that you belong to that Father. The Father says: While living at home with your family, remember the Father. Not everyone can stay here. Yes, you can all stay with that Baba. Where? Which Baba? What is His name? Where will you stay with Shiv Baba? In the supreme abode. All souls can stay there. They cannot all stay here. Only a few would remain here. You children have to take knowledge here. This is a study. When you meet anyone, you should tell him: There are two fathers: the physical father and the Father from beyond. Everyone remembers the Father from beyond when they experience sorrow. That Father has now come. Shiv Baba is the most beloved. Krishna is also everyone’s most beloved. However, Shiv Baba is incorporeal whereas Krishna is corporeal. Krishna cannot be called the Father of everyone. He is a master of the world. It was Shiva who made him that. Both are lovely, but which one is the lovelier of the two? It would be said to be Shiva. Shiva Himself makes Krishna like that, but what does Krishna do? Nothing at all! Only the Father comes and makes the tamopradhan souls satopradhan. Therefore, He would be praised. Krishna is a child and they show his dance. What dance would Shiv Baba perform? The Father explains: All of you are Parvatis. Shiva, the Lord of Immortality, is telling you the story. There is no other Parvati. There isn’t just one Arjuna; all of you are Arjunas. All of you are Draupadis. It is Dushashan who strips women. This is why they call out: Baba, protect us! Baba says: Children, never be stripped. It is shown that when Draupadi was going to be stripped, Shri Krishna provided her with 21 sarees. Would anyone be able to wear 21 sarees? That is just a play they have shown where Krishna is giving her sarees from up above. How could anyone wear 21 sarees? In fact, the meaning of it is that the Father protects you from being stripped and you are therefore never stripped for 21 births. Achcha.

To the sweetest, sweet, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Continue to say internally, “Baba! Baba!” and become as sweet as Baba. Remain soul conscious. Pay full attention to the study.
  2. Remember the most lovely Father and definitely become pure. Remove the alloy of vices with the fire of remembrance and become pure gold.
Blessing: May yoube a victorious jewel who goes into the first division and claims a close seat through your equality.
As time comes closer, make yourself equal to the Father. To become equal to the Father in your thoughts, words, deeds, sanskars and service means to come close. Experience the Father’s company, His co-operation and His love in every thought. Constantly experience the Father’s company and your hand in His hand and you will go into the first division. Let there be constant remembrance of the Father and complete love for the one Father and you will become a victorious jewel in the rosary of victory. You still have a chance, the board of “too late ”, has not yet been put up.
Slogan: To be a bestower of happiness and do the service of liberating souls from sorrow and peacelessness is to be Sukhdev; a deity of happiness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 6 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 August 2018

To Read Murli 5 August 2018 :- Click Here
06-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – खुशबूदार फूल बनो, श्रीकृष्ण है नम्बरवन खुशबूदार फूल इसलिये सभी को बहुत प्यारा लगता है, सभी नयनों पर रखते हैं”
प्रश्नः- लौकिक में स्वीट सम्बन्ध कौन-सा है और स्वीटेस्ट किसे कहेंगे?
उत्तर:- लौकिक में भी स्वीट फादर को ही कहा जाता है। तुम बच्चे भी कहते हो हमारा अति मोस्ट लवली स्वीट फादर है, हम उसके लवली बच्चे हैं। स्वीटेस्ट फिर टीचर को कहेंगे क्योंकि टीचर पढ़ाई पढ़ाते हैं। नॉलेज सोर्स ऑफ इनकम है। तुमको भी पहले नॉलेज मिलती है। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए इस नॉलेज को धारण करना और दूसरों को कराना है।
गीत:- मरना तेरी गली में….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। जब कोई मरते हैं तो दूसरे माँ-बाप के पास जन्म लेते हैं। बाप को बधाई दी जाती है। अब तुम बच्चे जानते हो हम आत्मायें अविनाशी हैं। वह शरीर की बात है। एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं अर्थात् एक बाप को छोड़ दूसरे बाप के पास जाते हैं। तुमने 84 साकारी बाप लिये हैं। वास्तव में हो निराकार बाप के बच्चे। तुम आत्मायें रहने वाली भी निर्वाणधाम-शान्तिधाम की हो। जहाँ बाप के साथ सभी निवास करते हैं। उसे आत्माओं की दुनिया कहेंगे। तुम आत्मायें भी वहाँ रहती हो तो बाप भी वहाँ रहते हैं। यहाँ लौकिक बाप के बच्चे बनते हो तो उनको भूल जाते हो। सतयुग में तो बाप का कोई सिमरण नहीं करते हैं। बुद्धि नीचे आ जाती है। उनको याद करेंगे तो कहेंगे – ओ बाबा। इनको भी बाबा कहते हैं। वह भी फादर है। लौकिक बाप को यहाँ देखते हैं। पारलौकिक बाप को बुलाते हैं तो नज़र ऊपर जाती है। अभी तुम उस बाबा के बने हो। तुम जानते हो पहले हम पवित्र थे, राज्य-भाग्य किया, अब 84 जन्म पूरे हुए हैं। दु:खी हुए हैं इसलिये बाप को याद करते हैं। यह वस्त्र (शरीर) पहनते-पहनते अब तमोप्रधान बन गया है। पहले आत्मा और शरीर – दोनों सतोप्रधान थे। फिर आत्मा सतो, रजो, तमो में आती है। पहले गोल्डन थी फिर सिल्वर, कॉपर, आइरन में आये हैं। इसको जेवर भी कहा जाता है। सोने में खाद डालते हैं ना। बाप समझाते हैं अब तुम आत्मायें पतित हो गई हो। सोना काला हो गया है। तुम काले इमप्योर बन गये हो। पहले तुम आत्मा प्योर थी, शरीर भी प्योर था, अब फिर प्योर शरीर कैसे लेंगे? क्या स्नान करने से? स्नान करने से तो कुछ होता नहीं है। आत्मा पुकारती है – हे पतित-पावन बाबा। ‘बाबा’ अक्षर कितना मीठा है! बड़ा अच्छा है। भारत में ही ‘बाबा’ अक्षर है। बच्चे ‘बाबा-बाबा’ करते रहते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो हम आत्म-अभिमानी बन बाप के बने हैं। बाप कहते हैं हमने पहले-पहले तुमको स्वर्ग में भेजा था। पार्ट बजाते-बजाते अभी अन्त में आकर पहुँचे हो। अन्दर में सदैव बाबा-बाबा कहते रहो। तुम बच्चे जानते हो बाबा आया हुआ है। उनको ही सभी याद करते हैं कि हे पतित-पावन बाबा आओ, हम पतितों को आकर पावन बनाओ। सभी अपनी-अपनी भाषा में पुकारते हैं। जब दुनिया पुरानी होती है तब पुकारते हैं। तो जरूर संगम पर ही आयेंगे। यह भी तुम जानते हो। शास्त्रों में तो अगड़म बगड़म बहुत लिख दिया है। तुम बच्चों को पक्का निश्चय है कि हमारा मोस्ट बिलवेड बाबा है, मोस्ट लवली बाबा है। बाबा भी कहते हैं स्वीट चिल्ड्रेन। स्वीट, स्वीटर, स्वीटेस्ट। अब स्वीट कौन है? लौकिक सम्बन्ध में भी फादर ही स्वीट होता है। फिर स्वीटेस्ट कहेंगे टीचर को। टीचर अच्छा होता है। फिर भी पढ़ाते हैं। कहा भी जाता है – नॉलेज इज सोर्स ऑफ इनकम। तो यह नॉलेज भी सोर्स ऑफ इनकम है।

योग को याद, ज्ञान को नॉलेज कहा जाता है। तुम बच्चे जानते हो – तुमको स्वर्ग का मालिक बनाया था। तब तो शिवजयन्ती मनाते हैं। परन्तु शिवबाबा कैसे आया – यह किसको भी पता नहीं है। चित्रों में त्रिमूर्ति है, शिव है ऊपर में। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, स्थापना कौन कराते हैं? करनकरावनहार शिवबाबा है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर के ऊपर है शिव। वह हुई रचना। उनका रचता है शिव। वह निराकार है। यह है साकार सृष्टि। सृष्टि चक्र है, जो रिपीट होता है। सूक्ष्मवतन को सृष्टि का चक्र नहीं कहेंगे। यह मनुष्य सृष्टि ही चक्र लगाती है। बाकी न सूक्ष्मवतन में, न मूलवतन में चक्र की बात है। अभी है कलियुग नर्क। सतयुग है स्वर्ग। अब नर्कवासियों को स्वर्गवासी कौन बनावे? वाम मार्ग में जाने से ही पतित हो जाते हैं। दिन-प्रतिदिन सुख से दु:ख में आते जाते हैं। दुनिया तमोप्रधान बन जाती है, तब कहते हैं यह बिल्कुल ही तमोगुणी बुद्धि है। यह बहुत सतोप्रधान बुद्धि हैं, जैसे देवता समान हैं। वास्तव में पूजा देवताओं की होनी चाहिये। परन्तु देवता तो इस समय कोई हैं नहीं क्योंकि दैवीगुण उनमें हैं नहीं। क्रिश्चियन लोग क्राइस्ट को जानते हैं। उनको पूजते हैं। भारतवासी अपने को देवी-देवता कह नहीं सकते। नाम तो बहुतों के हैं – फलानी देवी, फलाना देवता। परन्तु वह गुण तो हैं नहीं। गाते भी हैं – मैं निर्गुण हारे में कोई गुण नाहीं…… आत्मा किसके सामने कहती है? बाप के सामने कहना चाहिये ना। बाप को भूल भाइयों के पीछे जाकर पड़े हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर भी ब्रदर्स हैं ना। उनसे कुछ भी मिलने का नहीं है। ब्रदर्स की पूजा करते रहते, नीचे गिरते जाते हैं। अब तुमको तो फादर से वर्सा मिलता है। फादर को कोई जानते नहीं। फादर को सर्वव्यापी कह देते हैं। अरे, फादर का नाम? कह देते हैं वह तो नाम-रूप से न्यारा है। अरे, तुम एक ओर अखण्ड ज्योति स्वरूप कहते हो फिर न्यारा कैसे कहते? यह भी समझते हैं – लॉ मुजीब सबको तमोप्रधान बनना ही है। फिर जब बाप आये तब सबको सतोप्रधान बनाये। आत्मा को प्योर जरूर होना है। सब आत्मायें बाप के साथ रहने वाली हैं। नई दुनिया सो पुरानी दुनिया होनी है।

तुम जानते हो अभी हम बाबा के बने हैं। बाबा आया हुआ है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना कराते हैं। बाप कहते हैं मैं ब्रह्मा तन का आधार लेता हूँ। भाग्यशाली रथ में सवार होता हूँ। रथ में जरूर आत्मा तो होगी ना। कहते हैं भागीरथ ने गंगा लाई। अब गंगा जटाओं से कैसे आयेगी? यह तो पहाड़ों से मीठा पानी आता है। सागर से बादल भरकर फिर बरसते हैं। आजकल साइन्स की ताकत से पानी को मीठा बना देते हैं। नेचरल बादल कितने बरसते हैं। कितना पानी आ जाता है। बाढ़ हो जाती है। कहाँ से इतना पानी आता है? बादल ही खींचते हैं। बाकी इन्द्र आदि कुछ है नहीं। यह तो बादल भरकर फिर बरसते हैं। वास्तव में यह है ज्ञान की वर्षा। यह नॉलेज है ना। इनसे क्या होता है? पतित से पावन बनते हैं। गंगा-जमुना नदी सतयुग में भी तो होगी ही। कहते हैं कृष्ण वहाँ खेलपाल आदि करते थे। वास्तव में ऐसी कोई बात है नहीं। वहाँ तो कृष्ण की बहुत सम्भाल से पालना करते हैं। बहुत अच्छा फूल है ना। फूल कितना प्यारा लगता है। फूल से ही सुगन्ध लेते हैं। कांटे से कब सुगन्ध लेते हैं क्या? यह है ही कांटों का जंगल। निराकार बाप कहते हैं मैं आकर गॉर्डन ऑफ फ्लावर बनाता हूँ, इसलिए बबुलनाथ नाम भी रखते हैं। बबुल कांटों को फ्लावर बनाते हैं इसलिए महिमा गाई जाती है – कांटों को फूल बनाने वाला नाथ। तो बाबा से कितना लव होना चाहिए। लौकिक बाप होते भी आत्मा पारलौकिक बाप को याद करती है, क्योंकि दु:खी है। यह भी खेल है। तुम आधा कल्प से याद करते आये हो। वह आते हैं तब तो शिव जयन्ती मनाते हो। तुम जानते हो अभी हम बेहद के बाप के बच्चे बने हैं। हमारा सम्बन्ध उनसे भी है। लौकिक से भी है। बेहद का बाप कहते हैं मुझे याद करने से तुम पावन बन जायेंगे। आत्मा जानती है यह लौकिक बाप है, वह पारलौकिक बाप है। आत्मा पारलौकिक बाप को ही पुकारती है। आत्मा कहती है – हे भगवान्, ओ गॉड फादर। जब फादर घर में बैठा है तो फिर ओ फादर कह क्यों पुकारते हैं? आत्मा उस अविनाशी बाप को याद करती है। वह कब आकर नई दुनिया रचते हैं – यह भी तुम अभी समझते हो। जरूर कहेंगे कि कलियुग अन्त और सतयुग आदि के संगम पर आयेगा। कलियुग की आयु फिर लाखों वर्ष कह देते हैं। मनुष्य भगवान् को पाने के लिये कितना भटकते हैं। सबसे जास्ती भक्ति कौन करते हैं? उनको तो पहले मिलना चाहिए ना। बाप ने समझाया है पहले-पहले भक्ति तुम ही शुरू करते हो। तुमको ही पहले ज्ञान मिलना चाहिए। तुम पहले आसुरी गुणों वाले थे। अब तुम दैवी गुणवान देवता बनते हो। इतने ऊंचे स्वर्ग के तुम मालिक बनते हो। वहाँ की हर चीज फर्स्टक्लास होती है। तुम बहुत बड़े आदमी बनते हो। तुम्हारे लिये वहाँ हीरे-जवाहरों के महल बनेंगे।

जब तक ब्राह्मण न बने तब तक शिवबाबा से वर्सा मिल न सके। शूद्र वर्सा ले न सकें। यह यज्ञ है ना। इसमें ब्राह्मण जरूर चाहिये। यज्ञ हमेशा ब्राह्मणों का ही होता है। शिव को रुद्र भी कहा जाता है। तो यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। रुद्र शिवबाबा ने यह ज्ञान यज्ञ रचा हुआ है। भक्ति पूरी होती है तो यज्ञ रचा जाता है। मनुष्य यज्ञ रचते हैं भक्ति मार्ग में। सतयुग में देवतायें कभी यज्ञ आदि नहीं रचते। परन्तु यह है राजस्व अश्वमेध अविनाशी रुद्र ज्ञान यज्ञ। इस नाम से शास्त्रों में भी गायन है। भक्ति और ज्ञान आधा-आधा है। भक्ति है रात, ज्ञान है दिन। यह बाबा समझाते हैं। सदैव बाबा-बाबा करते रहो। बाबा हमको विश्व का मालिक बनाने वाला है। मोस्ट बिलवेड बाबा है। उनसे जास्ती प्यारा दुनिया में कोई हो नहीं सकता। आधाकल्प बाप को याद किया है। अब जानते हो उस बाप के हम बने हैं। बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते बाप को याद करो। सब तो यहाँ रह न सकें। हाँ, उस बाबा के पास रह सकते हो। कहाँ? कौन सा बाबा? उसका नाम? शिवबाबा पास कहाँ रहेंगे? परमधाम में। वहाँ सभी आत्मायें रह सकती हैं। यहाँ तो नहीं रह सकती। यहाँ तो थोड़े ही रहेंगे। यहाँ तो तुम बच्चों को नॉलेज लेनी है। यह पढ़ाई है ना।

कोई भी मिलते हैं तो उनको यह बताना चाहिए कि दो बाप हैं – लौकिक और पारलौकिक। दु:ख में पारलौकिक बाप को ही याद करते हैं। वह बाप अब आया हुआ है। मोस्ट बिलवेड शिवबाबा है। कृष्ण भी सबका मोस्ट बिलवेड है। परन्तु शिवबाबा है निराकार और कृष्ण है साकार। कृष्ण को सबका बाप नहीं कहेंगे। वह है विश्व का मालिक। उनको भी बनाने वाला शिव है। दोनों ही प्यारे हैं। परन्तु दोनों में जास्ती प्यारा कौन है? कहेंगे शिव। शिव ही कृष्ण को ऐसा बनाते हैं। बाकी कृष्ण क्या करते हैं? कुछ भी नहीं। तमोप्रधान आत्माओं को बाप ही आकर सतोप्रधान बनाते हैं। तो गायन उनका ही होगा ना। कृष्ण तो बच्चा है, उनका डांस आदि दिखाते हैं। शिवबाबा क्या डांस करेंगे? बाप समझाते हैं तुम सब पार्वतियां हो। शिव अमरनाथ तुमको कथा सुना रहे हैं। दूसरी कोई पार्वती है नहीं। अर्जुन भी एक नहीं, तुम सब अर्जुन हो। द्रोपदियां भी तुम सब हो। वह दुशासन हैं जो नंगन करते हैं। तब पुकारते हैं बाबा हमारी रक्षा करो। बाबा कहते हैं – बच्चे, नंगन कभी नहीं होना। दिखाते हैं ना जब द्रोपदी को नंगन कर रहे थे तो फिर कृष्ण ने उनको 21 चीर दिये। अब 21 साड़ी पहनी जाती हैं क्या? यह भी जैसे एक खेल दिखाते हैं। कृष्ण ऊपर से साड़ियां देते जाते हैं। अब 21 साड़ियां कैसे पहन सकेंगे? वास्तव में अर्थ यह है – बाप नंगन होने से ऐसा बचाते हैं जो तुम 21 जन्म कभी नंगन नहीं होते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे स्वीट चिल्ड्रेन प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्दर में बाबा-बाबा कहते बाबा समान स्वीट बनना है। आत्म-अभिमानी होकर रहना है। पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना है।

2) मोस्ट लवली बाप को याद कर पावन जरूर बनना है। याद की अग्नि से विकारों की खाद निकाल सच्चा सोना बनना है।

वरदान:- समानता द्वारा समीपता की सीट ले फर्स्ट डिवीजन में आने वाले विजयी रत्न भव
समय की समीपता के साथ-साथ अब स्वयं को बाप के समान बनाओ। संकल्प, बोल, कर्म, संस्कार और सेवा सबमें बाप जैसे समान बनना अर्थात् समीप आना। हर संकल्प में बाप के साथ का, सहयोग का स्नेह का अनुभव करो। सदा बाप के साथ और हाथ में हाथ की अनुभूति करो तो फर्स्ट डिवीजन में आ जायेंगे। निरन्तर याद और सम्पूर्ण स्नेह एक बाप से हो तो विजय माला के विजयी रत्न बन जायेंगे। अभी भी चांस है, टूलेट का बोर्ड नहीं लगा है।
स्लोगन:- सुखदाता बन अनेक आत्माओं को दु:ख अशान्ति से मुक्त करने की सेवा करना ही सुखदेव बनना है।

TODAY MURLI 6 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 6 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 5 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 06/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

06/08/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
02/05/82

The basis of creating a special life story is to have a constantly flying stage.

Today, BapDada is looking at the life story of every child and seeing the line of fortune in each one’s life story. Have you constantly and steadily been progressing or have you been fluctuating while moving along? Both types of line, that is, both activities of life were visible. After ascending, if for any reason you go from the stage of ascent into the stage of descent, then the impact of coming down pulls you to itself. For instance, the impact of the stage of ascent for a long period of time enables you to have attainment for a long period of time. Those who have an easy yogi life are constantly close to the Father and experience His company. By constantly considering yourself to be a master of all powers, you easily become an embodiment of remembrance. Although adverse situations and tests may come, you constantly experience yourself to be a destroyer of obstacles. Even if you experience the stage of ascent and a powerful stage for a long time, if there is the stage of descent after that stage of ascent, you won’t be able to have that experience naturally and easily. You would only be able to have that experience after paying special attention and making special effort. To have the stage of ascent constantly means to be one who has already attained all attainments. Those who fluctuate after being in a constantly ascending stage, those who lose something and then regain it, souls who continue to fluctuate, experience having attained something but then lose it. Then, because they have already experienced having attained it, they cannot stay without attaining that stage again. And so, after paying special attention, they experience it again. However, instead of being in the list of those who constantly and easily experience this, they go into the list of those who are the second number. They don’t come in the list of those who pass with honours but in the list of those who pass. You can consider for yourselves what the life story of the third category would be! You wouldn’t want to be in the third number, would you?

Make your life story so elevated that there is constant progress in the stage of ascent, that you are full of all specialities and a constant embodiment of attainment. Don’t play the game of going up and coming down, going up one moment and coming down the next, or of going up above for some time and then coming down for some time, and tin that way let go of your rights for all time. Today, BapDada is seeing each one’s life story. So, how many are there who constantly have the ascending stage – and who are they? You can know for yourself which list you are in. Situations and tests come to everyone of you to bring you down; no one can pass without taking an exam! However, 1) there is a difference between fully passing a test by being an embodiment of the awareness of a detached observer and a companion, and just passing or to pass under compulsion. 2) the difference is created by considering a difficult test to be a trivial thing and to consider a trivial matter to be a big thing. 3) some think and speak about even something trivial and spread it into the atmosphere and make it into a very big thing. Others check a big thing and, at the same time, change it and put a ful stop to that weak situation for all time. To put a full stop means to accumulate once again a full stock for the future, and to claim a right to passing fully in the future. Such ones become fortunate in having the ascending stage for a long time. So, do you understand what speciality you have to keep in your life story? Through this you will constantly have a special life story. The life stories of some give special inspiration and increase your enthusiasm and courage. They make you experience the path of life to be clear. In the same way, let the life story of each of you special souls, that is, let every action of your life, give many souls this experience. Let the sound emerge from everyone’s mouth and mind: “Since the instrument soul is able to do that, I shall also do it. I shall also move forward. I shall also enable everyone to move forward.” Constantly create such a life story that it becomes worthy of inspiring others. Do you understand what you have to do? Achcha.

Today is the day of meeting the double foreigners. On the one hand, it is the meeting of those from abroad and on the other hand, it is the meeting of those who are very close (Madhuban residents). It is the special meeting of both of you. All others have come into the gallery just to observe. Therefore, BapDada maintained regard for all of those who have come and He spoke the murli for those who have come. Achcha.

To those who constantly put the essence of the meetings into their lives, to those who consider the special signals to be a blessing in their lives for all time, to those who become bestowers of blessings, to those who are constantly embodiments of awareness of the slogan, “To listen means to become and to meet means to become equal”, to those who give the return of love and constantly co-operate to make everyone free from obstacles, to those who are constant embodiments of experience and fill others with the speciality of experience, to those who are constantly complete and equal to the Father, to such elevated souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting Didiji:

Are all of you, who have become instruments to act as the Father’s arms, doing your work accurately? All of you are the arms, are you not? Are all of you right hands , or are some of you left hands? You call yourselves Brahmins; are all of you right hands? Or, even amongst Brahmins, are some of you left hands and some of you right hands? (Brahmins sometimes become right hands and sometimes left hands.) So, do the arms also change? They actually they show Ravan’s heads being chopped off one moment and being replaced by others. However, amongst Brahmins too, do the arms of Brahma keep changing? That would then mean that the arms change every day!

In fact, all of you call yourselves Brahma Kumars and Kumaris, but you yourselves realise inside that you are not those who eat instant, visible fruit, but those who eat the fruit of labour. There is this difference, is there not? Some eat instant, visible fruit whereas others eat the fruit of labour. There is no need for a lot of labour. Simply continue to create every thought and perform every act on the basis of determination and shrimat and there won’t be any question of having to labour. Because of not following these two things, it is as though the train becomes derailed and it then becomes very difficult to move forward. When the train is on the rails, there is no need to labour. The engine makes the train move and it moves along. Therefore, pay a lot of attention in both – having determination and also following shrimat – for if there is anything lacking in your determination, what would the result be? You would eat the fruit of labour. Those who eat such fruit of labour go into the line of warriors. Whenever you ask them anything, they would only tell you about something laborious or difficult. As you were told earlier, when you remove one thing, it is replaced by something else. When you remove the mouse, the cat comes; when you remove the cat, the dog comes and so on. You then remain constantly engaged in just removing them. Three religions are being established at the same time: Brahmin, deity and warrior. So, all three types would be visible, would they not? Some have taken birth with a lot of labour (effort). Some had to labour a lot since childhood. These, too, are different types of lines of fortune. If you ask some, they say that, from the beginning, they haven’t had to labour at all. They say: “I have to follow shrimat and become a yogi.” They have become embodiments of this aim naturally. It isn’t that they are careless, but they move along having become natural embodiments of that. Those who are careless do not experience having to labour, but that is in the wrong way. Their future is not created; they don’t experience the attainment of becoming equal to the Father. From the moment of their birth they are careless; they just eat, drink and lead a life of purity and follow the disciplines (timetable), but they don’t imbibe anything in their lives. They are worshipped here as lords of discipline. They are just lords of discipline. They are the first ones for yoga and class, but what do they attain? They say that they have heard everything. They don’t have the aim to move forward or help others move forward. They listen and enjoy themselves, and that is fine! They just come and go; they eat and then leave. Such souls are called lords of discipline. Nevertheless, even such souls are worshipped. At least they do everything according to the disciplines. As a result of that they become worthy of worship. When it rains, other special souls may not come, but such souls definitely come. They do nevertheless remain pure and they therefore definitely become worthy of worship. Such ones are also needed. They may have been coming here for 10 years, but when you ask them a question, then, even after 10 years, they give the same reply that they gave on their first day. Achcha.

Now Bap and Dada chit-chat a lot in the subtle region. Both are independent souls. They do service in a second and give everyone an experience, but what do they do between the two of them? They continue to have heart-to-heart conversations. Ever since the first day of his birth, Brahma Baba had a desire. What was that? He constantly had the spiritual concern and intoxication of definitely becoming equal to the Father. Do you remember the words of Brahma from the beginning? “I am coming, I am merging.” He constantly spoke these words of intoxication in his thoughts and words from the time he took birth. Then, as per his words from the beginning, having finished all the work, he became merged in the form of the aim that he had had. At first he didn’t understand it, but the predestined destiny was being foretold. What did you see at the end? How did he let go of the bondage of the corporeal form and become equal to the Father? He shed the old skin just as a snake does. And how long did that game take? It was a game of just a few moments, was it not? This is known as becoming equal to the Father and easily letting go of gross feelings and becoming a destroyer of attachment and an embodiment of remembrance. Did he have such thoughts as, “I am going. What is happening?” The children were in front of him, but, while seeing them he didn’t see them. He was just light and might and, having given the drishti of being equal he flew away like a flying bird. This was what you experienced, was it not? His flight was so easy that those who were watching simply remained watching and he, who was flying, flew away. This is known as speaking those words in the beginning and becoming the form of them at the end. Follow the f ather in the same way. Achcha.

[wp_ad_camp_5]

 

BapDada meeting double foreigners:

You are all loving and co-operative souls, are you not? You recognised the Father because of love and you became co-operative souls. Therefore, you are loving and co-operative. You constantly have zeal and enthusiasm for service, but what else remains? Together with being loving and co-operative, constantly be an embodiment of power. A powerful soul is constantly a destroyer of obstacles, and those who are destroyers of obstacles are automatically seated on the Father’s heart throne. It is one or other of Maya’s obstacles that takes you off the throne. So, if Maya didn’t come, you would be constantly seated on the throne. To overcome this, constantly consider yourself to be combined. Experience the Father’s company in every different relationship, in every action. You will then constantly be in His company, you will be constantly powerful and will also experience yourself to be feeling constantly entertaining. You will not experience any type of loneliness, because those who stay with the Father in different relationships constantly experience being entertaining and happiness. In any case, if something is the same every day, if you listen to or do the same thing every day, the heart becomes unhappy. Therefore here, too, when you experience different relationships with the Father, there will be constant zeal and enthusiasm. Don’t just experience the relationship of the Father and child, but experience all the different relationships. When you come to Madhuban, you experience entertainment within yourself and you also experience the company. Similarly, you will find that you are not even aware of how day changes into night and night changes into day. In any case, those from abroad like change. Therefore, here, too, you have a very good chance to have different experiences from One.

Meeting a group:

The speciality of a mahavir is constantly to belong to the one Father and none other.

Do you constantly consider yourself to be a mahavir? The speciality of Mahavir (Hanuman) was that he constantly remembered one Rama alone and no one else. Those who constantly have the awareness of belonging to the one Father and none other are constantly mahavirs. Let the tilak of victory be constantly applied. When you belong to the one Father and none other, the tilak will become imperishable. The Father has become the whole world. There are just people and things in the world. Therefore, all relationships are with the Father – and people are included in this – and, when it comes to things, you have received all attainments from the Father. You have received all the attainments of happiness, peace, knowledge, bliss, love, etc. Since nothing else remains, where else would the intellect go? How could it go anywhere else? Achcha.

Blessing: May you die alive in the right way by dying alive to any attraction of the old world and old sanskars.
To die alive in the right way means constantly to die to the old world and the old sanskars in your thoughts and in your dreams. To die means to transform. No attraction can attract such souls to itself. Such souls can never say, “What can I do? I didn’t want to do that, but it happened.” Some children die alive and then become alive again; you cut off one head of Ravan and another one comes. But when you finish the foundation, Maya cannot then change her form and attack you.
Slogan: Those who remain constantly busy in remembrance and service are the luckiest of all.


*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Bk Murli 4 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 6 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 6 August 2017

 August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 5 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 06/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

06/08/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
02-05-82

विशेष जीवन कहानी बनाने का आधार – सदा चढ़ती कला

बापदादा हरेक बच्चे की जीवन कहानी देख रहे हैं। हरेक की जीवन कहानी में क्या-क्या तकदीर की रेखायें रही हैं। सदा एकरस उन्नति की ओर जाते रहे हैं वा उतराई और चढ़ाई में चल रहे हैं! ऐसे दोनों प्रकार की लकीर अर्थात् जीवन की लीला दिखाई दी। जब चढ़ाई के बाद किसी भी कारणवश चढ़ती कला के बजाए उतरती कला में आते हैं तो उतरने का प्रभाव भी अपनी तरफ खींचता है। जैसे बहुतकाल की चढ़ती कला का प्रभाव बहुतकाल की प्राप्ति कराता है। सहज योगी जीवन वाले, सदा बाप के समीप और साथ की अनुभूति करते हैं। सदा स्वयं को सर्व शक्तियों में मास्टर समझने से सहज स्मृति स्वरूप हो जाते हैं। कोई भी परिस्थितयाँ वा परीक्षायें आते हुए सदा अपने को विघ्न-विनाशक अनुभव करते हैं। तो जैसे बहुतकाल की चढ़ती कला का, बहुतकाल ऐसी शक्तिशाली स्थिति का अनुभव करते हैं ऐसे चढ़ती कला के बाद फिर उतरती कला होने से स्वत: और सहज यह अनुभव नहीं होते। लेकिन विशेष अटेन्शन, विशेष मेहनत करने के बाद यह सब अनुभव करते हैं। सदा चढ़ती कला अर्थात् सदा सर्व प्राप्ति को पाई हुई मूर्ति। और चढ़ने के बाद उतरने और फिर चढ़ने वाले गँवाई हुई वस्तु को फिर पाने वाले, ऐसे उतरने-चढ़ने वाली आत्मायें अनुभव करती हैं कि पाया था लेकिन खो गया। और पाने के अनुभवी होने के कारण फिर से उसी अवस्था को पाने के बिना रह भी नहीं सकते, इसलिए विशेष अटेन्शन देने से फिर से अनुभव को पा लेते हैं लेकिन सदाकाल और सहज की लिस्ट के बजाए दूसरे नम्बर की लिस्ट में आ जाते हैं। पास विद आनर नहीं लेकिन पास होने वालों की लिस्ट में आ जाते हैं। तीसरे नम्बर की तो बात स्वयं ही सोच सकते हो कि उसकी जीवन कहानी क्या होगी। तीसरा नम्बर तो बनना ही नहीं है ना?

अपनी जीवन कहानी को सदा उन्नति की ओर बढ़ने वाली सर्व विशेषताओं सम्पन्न, सदा प्राप्ति स्वरूप ऐसा श्रेष्ठ बनाओ। अभी-अभी ऊपर, अभी-अभी नीचे वा कुछ समय ऊपर कुछ समय नीचे ऐसे उतरने-चढ़ने के खेल में सदा का अधिकार छोड़ नहीं देना। आज बापदादा सभी की जीवन कहानी देख रहे थे। तो सदा चढ़ती कला वाले कितने होंगे और कौन होंगे? अपने को तो जान सकते हो ना कि मैं किस लिस्ट में हूँ! उतरने की परिस्थितियाँ, परीक्षायें तो सबके सामने आती हैं, बिना परीक्षा के तो कोई भी पास नहीं हो सकता लेकिन 1. परीक्षा में साक्षी और साथीपन के स्मृति स्वरूप द्वारा फुल पास होना वा पास होना वा मजबूरी से पास होना इसमें अन्तर हो जाता है। 2. बड़ी परीक्षा को छोटा समझना वा छोटी-सी बात को बड़ा समझना इसमें अन्तर हो जाता है। 3. कोई छोटी-सी बात को ज्यादा सिमरण, वर्णन और वातावरण में फैलाए इससे भी छोटे को बड़ा कर देते हैं। और कोई फिर बड़ी को भी चेक किया तो साथ-साथ चेन्ज किया और सदा के लिए कमजोर बात को फुल स्टाप लगा देते हैं! फुल स्टाप लगाना अर्थात् फिर से भविष्य के लिए फुल स्टाक जमा करना। आगे के लिए फुल पास के अधिकारी बनना। तो ऐसे बहुतकाल की चढ़ती कला के तकदीरवान बन जाते हैं। तो समझा जीवन कहानी की विशेषता क्या रखनी है! इससे सदा आपकी विशेष जीवन कहानी हो जायेगी! जैसे कोई की जीवन कहानी विशेष प्रेरणा दिलाती है, उत्साह बढ़ाती है, हिम्मत बढ़ाती है, जीवन के रास्ते को स्पष्ट अनुभव कराती है, ऐसे आप हर विशेष आत्मा की जीवन कहानी अर्थात् जीवन का हर कर्म अनेक आत्माओं को ऐसे अनुभव करावे। सबके मुख से, मन से यही आवाज निकले कि जब निमित्त आत्मा यह कर सकती है तो हम भी करें। हम भी आगे बढ़ेंगे। हम भी सभी को आगे बढ़ायेंगे, ऐसी प्रेरणा योग्य विशेष जीवन कहानी सदा बनाओ। समझा – क्या करना है? अच्छा।

आज तो डबल विदेशियों के मिलने का दिन है। एक तरफ है विदेशियों का और दूसरे तरफ है फिर बहुत नजदीक वालों (मधुबन निवासियों) का। दोनों का विशेष मिलन है। बाकी तो सब गैलरी में देखने के लिए आये हैं इसलिए बापदादा ने आये हुए सब बच्चों का रिगार्ड रख मुरली भी चलाई। अच्छा।

सदा मिलन-जीवन के सार को जीवन में लाने वाले, विशेष इशारों को अपने जीवन का सदाकाल का वरदान समझ, वरदानी मूर्त बनने वाले, सुनना अर्थात् बनना, मिलना अर्थात् समान बनना – इसी स्लोगन को सदा स्मृति स्वरूप में लाने वाले, स्नेह का रिटर्न सदा निर्विघ्न बनाने का सहयोग देने वाले, सदा अनुभवी मूर्त बन सर्व में अनुभवों की विशेषता भरने वाले, ऐसे सदा बाप समान सम्पन्न, श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

दीदी जी के साथ:- सभी बाप की निमित्त बनी हुई भुजायें अपना-अपना कार्य यथार्थ रूप में कर रहीं हैं? यह सभी भुजायें हैं ना? तो सभी राइटहैण्ड हैं वा कोई लेफ्ट हैण्ड भी हैं? जो स्वयं को ब्राह्मण कहलाते हैं, ऐसे ब्राह्मण कहलाने वाले सब राइट हैण्ड हैं या ब्राह्मणों में ही कोई लेफ्ट हैण्ड हैं, कोई राइट हैण्ड हैं? (ब्राह्मण कभी राइट हैण्ड बन जाते कभी लेफ्ट हैण्ड) तो भुजायें भी बदली होती हैं क्या। वैसे तो रावण के शीश दिखाते हैं – अभी-अभी उड़ा, अभी-अभी आ गया। लेकिन ब्राह्मणों में भी ब्रह्मा की भुजायें बदली होती रहती हैं क्या? ऐसे तो फिर रोज़ भुजायें बदलती होंगी?

वास्तव में ब्रह्माकुमार और ब्रह्माकुमारी कहलाते तो सब हैं लेकिन अन्दर में वह स्वयं महसूस करते हैं कि हम प्रत्यक्षफल खाने वाले नहीं हैं, मेहनत का फल खाने वाले हैं। यह भी अन्तर है ना। कोई प्रत्यक्षफल खाने वाले हैं और कोई मेहनत का फल खाने वाले हैं। बहुत मेहनत की आवश्यकता नहीं है। सिर्फ दृढ़ संकल्प और श्रीमत – इसी आधार पर हर संकल्प और कर्म करते चलो तो मेहनत की कोई बात ही नहीं। इन दोनों ही आधार पर न चलने के कारण जैसे गाड़ी पटरी से उतर जाती है फिर बहुत मुश्किल होता है। अगर गाड़ी पटरी पर चल रही है तो कोई मेहनत नहीं, इंजन चला रहा है, वह चल रही है। तो इन दोनों आधार में से, चाहे दृढ़ संकल्प, चाहे श्रीमत पर चलें, बहुत अटेन्शन रखें लेकिन दृढ़ संकल्प की कमजोरी हो तो इसकी रिज़ल्ट क्या होगी? मेहनत का फल खायेंगे। ऐसे मेहनत का फल खाने वाले भी क्षत्रिय की लाइन में आ गये। जब भी उनसे कोई बात पूछो तो मेहनत या मुश्किल की बात ही सुनायेंगे। जैसे सुनाया था एक बात को निकालते तो दूसरी आ जाती, चूहे को निकालो तो बिल्ली आ जाती, बिल्ली को निकालते तो कुत्ता आता…. ऐसे निकालने में ही लगे रहते हैं। तीन धर्म साथ-साथ स्थापन हो रहे हैं ना, ब्राह्मण, देवता और क्षत्रिय। तो तीनों ही प्रकार के दिखाई देंगे ना। कईयों का तो जन्म ही बहुत मेहनत से हुआ है। और कइयों ने बचपन से ही मेहनत करना आरम्भ किया है। यह भी भिन्न-भिन्न प्रकार तकदीर की लकीरें हैं। कोई से पूछेंगे तो कहेंगे हमने शुरू से कोई मेहनत नहीं की। श्रीमत पर चलना है, योगी बनना है यह स्वत: लक्ष्य स्वरूप हो गया। ऐसे नहीं अलबेले होंगे लेकिन स्वत: स्वरूप बन करके चलते हैं। अलबेले भी मेहनत नहीं महसूस करते हैं लेकिन वह है उल्टी बात। उसका फिर भविष्य नहीं बनता है। बाप समान प्राप्ति का अनुभव नहीं करते हैं। बाकी जन्म से अलबेले बस खाया, पिया और अपनी पवित्र जीवन बिताई, नियम-प्रमाण चलने वाले लेकिन धारणा को जीवन में लाने वाले नहीं। उनका भी यहाँ नेमीनाथ के रूप में गायन होता है। तो कई सिर्फ नेमीनाथ भी हैं। योग में, क्लास में आयेंगे सबसे पहले। लेकिन पाया क्या? कहेंगे हाँ सुन लिया। आगे बढ़ना-बढ़ाना वह लक्ष्य नहीं होगा। सुन लिया मजा आ गया, ठीक है। आया, गया, चला, खाया – ऐसे को कहेंगे नेमीनाथ। फिर भी ऐसों की भी पूजा होती है। इतना तो करते हैं कि नियम प्रमाण चल रहे हैं। उसका भी फल पूज्य बन जाते हैं। बरसात में अनन्य नहीं आयेंगे लेकिन वह जरूर आयेंगे। फिर भी पवित्र रहते हैं इसलिए पूज्य जरूर बन जाते हैं। ऐसे भी तो चाहिए ना। दस वर्ष भी हो जायेंगे – तो भी अगर उनसे कोई बात पूछो तो पहले दिन का जो उत्तर होगा वही 10 वर्ष के बाद भी देंगे। अच्छा।

अभी बापदादा वतन में बहुत चिटचैट करते हैं। दोनों स्वतंत्र आत्मायें हैं। सेवा तो सेकण्ड में किया, सर्व को अनुभव कराया फिर आपस में क्या करेंगे? रूहरिहान करते रहते हैं। ब्रह्मा बाप की यही जन्म के पहले दिन की आशा थी। कौन-सी? सदा यह फ़खुर और नशा रहा कि मैं भी बाप समान जरूर बनूँगा। आदि के ब्रह्मा के बोल याद हैं? आ रहा हूँ, समा रहा हूँ, यही सदा नशे के बोल जन्म के संकल्प और वाणी में रहे। तो यही आदि के बोल अब कार्य समाप्त कर जो लक्ष्य रखा है उसी लक्ष्य रूप में समा गये। पहले अर्थ मालूम नहीं था लेकिन बनी हुई भावी पहले से बोल रही थी। और लास्ट में क्या देखा? बाप समान व्यक्त के बन्धन को कैसे छोड़ा! सांप के समान पुरानी खाल छोड़ दी ना! और कितने में खेल हुआ? घड़ियों का ही खेल हुआ ना। इसको कहा जाता है बाप समान व्यक्त भाव को भी सहज छोड़ नष्टोमोहा स्मृति स्वरूप। यह संकल्प भी उठा – मैं जा रहा हूँ, क्या हो रहा है! बच्चे सामने हैं लेकिन देखते भी नहीं देखा। सिर्फ लाइट माइट, समानता की दृष्टि देते उड़ता पंछी उड़ गया। ऐसे ही अनुभव किया ना! कितनी सहज उड़ान हुई, जो देखने वाले देखते रहे और उड़ने वाला उड़ गया। इसको कहा जाता है आदि में यही बोल और अन्त में वह स्वरूप हो गया। ऐसे ही फालो फादर। अच्छा।

[wp_ad_camp_5]

 

डबल विदेशियों के साथ:- सभी स्नेही और सहयोगी आत्मायें हो ना! स्नेह के कारण बाप को पहचाना और सहयोगी आत्मा हो गये। तो स्नेही और सहयोगी हो, सेवा का उमंग-उत्साह सदा रहता है लेकिन बाकी क्या रह गया? स्नेही-सहयोगी के साथ सदा शक्ति स्वरूप। शक्तिशाली आत्मा सदा विघ्न-विनाशक होगी और जो विघ्न-विनाशक होंगे वह स्वत: ही बाप के दिलतख्तनशीन होंगे। तख्त से नीचे लाने वाला है ही माया का कोई-न-कोई विघ्न। तो जब माया ही नहीं आयेगी तो फिर सदा तख्तनशीन रहेंगे। उसके लिए सदा अपने को कम्बाइन्ड समझो। हर कर्म में भिन्न-भिन्न सम्बन्ध से साथ का अनुभव करो। तो सदा साथ में रहेंगे, सदा शक्तिशाली भी रहेंगे और सदा अपने को रमणीक भी अनुभव करेंगे। किसी भी प्रकार का अकेलापन नहीं महसूस करेंगे क्योंकि भिन्न-भिन्न सम्बन्ध में साथ रहने वाले सदा रमणीक और खुशी का अनुभव करते हैं। वैसे भी जब सदा एक ही बात होती है, एक ही बात रोज़-रोज़ सुनो वा करो तो दिल उदास हो जाती है। तो यहाँ भी बाप के साथ भिन्न-भिन्न सम्बन्धों का अनुभव करने से सदा उमंग-उत्साह बना रहेगा। सिर्फ बाप है, मैं बच्चा हूँ – यह नहीं, भिन्न-भिन्न सम्बन्ध का अनुभव करो। तो जैसे मधुबन में आने से ही अपने को मनोरंजन में अनुभव करते हो और साथ का अनुभव करते हो, ऐसे ही अनुभव करेंगे कि पता नहीं दिन से रात, रात से दिन कैसे हुआ। वैसे भी विदेशी लोग चेन्ज पसन्द करते हैं। तो यहाँ भी एक द्वारा भिन्न-भिन्न अनुभव करने का बहुत अच्छा चांस है।

(पार्टियों से)

महावीर की विशेषता – सदा एक बाप दूसरा न कोई

सदा अपने को महावीर समझते हो? महावीर की विशेषता – एक राम के सिवाए और कोई याद नहीं! तो सदा एक बाप दूसरा न कोई, ऐसी स्मृति में रहने वाले सदा महावीर। सदा विजय का तिलक लगा हुआ हो। जब एक बाप दूसरा न कोई तो अविनाशी तिलक रहेगा। संसार ही बाप बन गया। संसार में व्यक्ति और वस्तु ही होती, तो सर्व सम्बन्ध बाप से, तो व्यक्ति आ गये और वस्तु, वह भी सर्व प्राप्ति बाप से हो गई। सुख-शान्ति-ज्ञान-आनन्द-प्रेम.. सर्व प्राप्तियाँ हो गई। जब कुछ रहा ही नहीं तो बुद्धि और कहाँ जायेगी, कैसे? अच्छा।

वरदान:- पुराने संसार और संस्कारों की आकर्षण से जीते जी मरने वाले यथार्थ मरजीवा भव 
यथार्थ जीते जी मरना अर्थात् सदा के लिए पुराने संसार वा पुराने संस्कारों से संकल्प और स्वप्न में भी मरना। मरना माना परिवर्तन होना। उन्हें कोई भी आकर्षण अपनी ओर आकर्षित कर नहीं सकती। वह कभी नहीं कह सकते कि क्या करें, चाहते नहीं थे लेकिन हो गया…कई बच्चे जीते जी मरकर फिर जिंदा हो जाते हैं। रावण का एक सिर खत्म करते तो दूसरा आ जाता, लेकिन फाउन्डेशन को ही खत्म कर दो तो रूप बदल करके माया वार नहीं करेगी।
स्लोगन:- सबसे लकी वो हैं जो याद और सेवा में सदा बिजी रहते हैं।

[wp_ad_camp_3]

 

To Read Murli 4 August 2017 :- Click Here

 

Font Resize