today murli 5 october

TODAY MURLI 5 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 October 2018 :- Click Here

05/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never miss the study. There will be an interest in studying when there is unbroken faith in the Father who is teaching you. Only the children whose intellects have faith are able to do service.
Question: On hearing what news of the children does BapDada become very pleased?
Answer: When children write their service news: “Baba, today I explained to so-and-so and gave him the introduction of the two fathers and did this type of service,” Baba becomes very pleased to read such letters. Baba’s stomach doesn’t become full on receiving letters of just love and remembrance and your well-being. Baba is pleased to see His helper children. This is why you should do service and write that news to Baba.
Song: Come mother, let us go. 

Om shanti. You children know that you have to go from the world of thorns to the world of flowers. The golden-aged world would be called one of divine flowers. In the iron age, human beings are like thorns. They distress and continue to cause sorrow for one another. You children are now happy: Come, let us now go to our land of happiness, of divine flowers. You also have to understand the secret of how you go there. You will go there when you study very well. First of all, you need to have faith as to who it is who is teaching you. These things are not written in the Vedas or scriptures, although Raja Yoga is mentioned in the Gita. There is the study for a kingdom and so, surely, the kingdom would be given in the golden age. First of all, there has to be faith in the One who is teaching you. That One is not a sage, holy man or human being. That One is the Incorporeal. The Father of all souls is the Supreme Father, the Supreme Soul. Only those who are to have faith as they did in the previous cycle will have that faith. You can see that, in order to go to the heavenly world of flowers, each one of you has to make your own effort. Only when you first have this faith will you engage yourselves immediately in the study. They have written in the scriptures: God Krishna speaks. Together with that, they have also written: The sacrificial fire of the knowledge of Rudra. These are matters of knowledge. People have then given a bamboo flute to Krishna. There is also the praise: There is Godly magic in your flute. There cannot be Godly magic in a bamboo flute. That murli can be played with the mouth. They only show the childhood of Krishna, and how they play games among themselves. These things are worth understanding. You children have understood that this truly is Raja Yoga, that is, it is yoga with the One who teaches you the study of how to claim the kingdom. He personally comes here and teaches you. There is no question of a bamboo flute in this. These things are unique. No one knows that incorporeal God, Himself, comes and teaches us. They say of Krishna too, that there is Godly magic in his flute. So Khuda (God) must be someone else. Krishna would not be called Khuda. Khuda is Khuda; He alone is called the Magician. The Magician Himself comes and shows you His magic and grants you visions. Even then, He teaches you to claim a high status. Meera too saw Paradise and danced there, but she didn’t study Raja Yoga. The things of Raja Yoga are not mentioned in any of the scriptures. There was no one to teach Meera. Meera’s name is mentioned in the rosary of devotees. This is the rosary of knowledge; there is the difference of day and night. You have understood that you will become elevated to the extent that you take knowledge. There truly is also the rosary of devotees and that is numberwise. Their names are very well known. No one has this knowledge. So you should explain to them: It is the Father who is the Authority who gives you this knowledge. It is said of Him that He created Brahmins through the lotus mouth of Brahma and told them the essence of all the Vedas and scriptures. Because Shiv Baba is incorporeal, so He explains the scriptures through Brahma. This method has been created. However, it is only that One who explains all of these things. It is shown that all the essence is related through Brahma, and so there must surely be someone else who explains all of this. You are now seeing in a practical way that Shiv Baba, who is the Ocean of Knowledge, is also our Baba and that He is now personally sitting in front of you. He only comes in Bharat and He definitely enters someone’s body. It is the body of Brahma. It is necessary for there to be Prajapita Brahma. The Father truly comes and establishes the Brahmin religion through Prajapita Brahma. How is the religion created? You know this too. You are the children of Brahma in a practical way. You say that you are Brahmins and that you are claiming your inheritance from the Father. Followers can never claim the inheritance. It is children who claim the inheritance from the Father. You have come and become His unlimited children. They are said to be followers of Christ, not his children. Buddha and Guru Nanak also have followers and not children. Here, you are children. Prajapita is the father and Shiv Baba is also the Father. That One is incorporeal and this one, the corporeal one, is separate. Shiv Baba has created you children through this corporeal one. Among you too, some have firm faith, whereas others don’t. The lottery is very big. You have to act for the livelihood of your bodies and also study this knowledge. You have to make a lot of effort in those studies. Here, too, the Father says: Definitely study for an hour or half an hour. Achcha, if, for any reason, you cannot study every day, first study for seven days and then continue your studies on the basis of the murli. Once you have understood the aim, you then have to understand the branches, twigs, leaves etc. All of those are included in the cycle. The secret of 84 births has also been explained to you. The picture of the tree has the details whereas the picture of the cycle shows everything in a nutshell. It is also explained to you that these are the religions of the variety human world. At first there is one religion and then expansion takes place. How the foundation emerges is also shown in the tree. This is such an easy secret. You have to understand the dramaand the tree. Your intellect should imbibe this and then you explain to others. You definitely have to explain the point of the two fathers. You receive self-sovereignty from the unlimited Father and you therefore definitely have to study Raja Yoga. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes heaven, and that is also called the land of Krishna. The land of Krishna cannot be established in the land of Kans (the devil), and this is why there is the confluence age. This is the confluence age for you children whereas for everyone else it is the iron age. You are the only ones who will go from the confluence age to the golden age. You have to have this faith. We are now at the confluence age. If you remember the confluence age, you will also remember the golden age and also the Father who establishes the golden age. However, you repeatedly forget this. You understand that you are now at the confluence age. The unlimited Father comes at the confluence age of the cycle. They have made a mistake in the Gita. It is only the Bhagawad and the Mahabharata that have a connection with the Gita. The Father explains: All of you are Sitas and I am Rama. You are in the Lanka of the kingdom of Ravan, not the other Lanka. It isn’t that there was the kingdom of Ravan there. There is no Lanka etc. in the golden age. Over there (in Shri Lanka), they have the Buddhist religion. The Buddhist religion has now spread a lot. It has been explained to you children that Bharat was totally pure; there was peace and happiness. There was just the one deity religion. First of all, there has to be the firm faith that He is our unlimited Father and that we have to claim our inheritance from Him. You must never miss out on making effort. How can you make effort if you don’t have faith? It is certain that the Father is teaching us and that we are receiving our inheritance of heaven and constant happiness from Him. You would not sit in a school without faith or an aim and objective, would you? There are many subjects there and so there is a margin. Here, there is just the one subject. Such a big kingdom is established through just the one subject. Those who don’t study will have to bow down in front of those who did study. Among the subjects too, those with a low status will have to bow down in front of the good subjects. The subjects are also numberwise. Some are poor and others are wealthy; one cannot be the same as another. Such is this drama! The features of all human beings are fixed in the drama for them to play their parts. These are such deep matters. They have to be imbibed and explained accurately. Not everyone can explain them. Such good things are explained to you. There is victory through faith. Only when there is faith will you study. The intellects of some develop doubt and they stop studying. Maya is so great that she immediately creates storms and brings doubts. Those whose intellects have doubt are led to destruction. Those who ascend taste the nectar of heaven, whereas those who fall are totally crushed to pieces. There is a lot of difference. If someone falls, he becomes a cremator whereas if he ascends, he becomes an emperor. Everything depends on how you study. Did you ever hear before how the Incorporeal becomes the Teacher? You are now listening to Shiv Baba. You have the faith that I am your Father, the Purifier, and also the Knowledgefull One. You have to have the faith that you have to become the rulers of the globe through this knowledge. It is in your having faith that Maya creates obstacles. Your enemy is standing in front of you. You know that Maya is your enemy. She repeatedly deceives you. She makes you have doubts in the study. Many children develop doubts and then stop studying. When you stop studying, it means that you leave the Father, Teacher and Satguru. Those gurus continue to change. They have many gurus. This One is the only Satguru. This One doesn’t praise Himself. The Father gives His own introduction. Devotees sing: Salutations to Shiva. You are the Mother and Father. However, they don’t know anything. They simply continue to say this and to worship Him. You now know who Shiva is. After Shiva, there is Brahma and Saraswati. Lakshmi and Narayan come after them. First is Shiv Baba and then Brahma, Vishnu and Shankar. The Father says: I first of all enter Brahma. I create him first. Establishment takes place through Brahma and then Brahma becomes Vishnu and sustains it. You should note down all of these points, and you should then try and explain them to others. Some explain very well. It is a completely different matter for Baba. Sometimes, Shiv Baba explains and sometimes this one explains. You must always think that it is Shiv Baba who is explaining to you. Your sins are absolved by remembering Shiv Baba. Just consider it to be Shiv Baba who is giving you new points through this one. He explains with great tact. So you children should also understand. First of all, you have to have faith. Even in seven days someone can be coloured very well. However, Maya too is very clever. First of all, there has to be the faith that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Creator of heaven, and so He would surely have taught us Raja Yoga. Krishna cannot teach it. He has to come in the golden age. Shiv Baba is the Creator of heaven. Someone may say that He entered the body of Krishna. However, Krishna cannot come in that form at this time. He has to come in the golden age. Baba doesn’t take birth through anyone’s womb. He enters the body of this one and gives his introduction as to why He named him Brahma. He plays his part from the beginning to the end. You too were given very good names. So many children’s names came. It was a wonder that the names of 200 to 250 names came instantly. Even the Brahmins here cannot give that many names. The trance messenger instantly brought those names. The unlimited Father gave you those names. It was a wonder. The Father is wonderful and your aim and objective is wonderful. You will become the kings of kings. The picture of Lakshmi and Narayan is very clear. Above them, the picture of the Trimurti is very accurate. They definitely have to take 84 births. At the end of the iron age, they are impure and at the beginning of the golden age, they are pure. You children have to give the proof of your service: Baba, we have also had these small leaflets printed. At the top should be Shiva and then the introduction of the Trimurti and the two fathers. This point should definitely be there. Have such leaflets printed, do a lot of service and give Baba the news, for only then will you be able to climb into the Father’s heart. Don’t just write a letter about your well being to Baba, but do service and write that service news: Baba, I did this and this service. Baba’s stomach will not become full by your just sending your love and remembrance. Today, I explained to so-and-so. Today, I served my husband and he became very happy. You should write news of such service to Baba. The point of the two fathers is the main one. The unlimited Father is the One who gives you your fortune of the kingdom of heaven. You are such sweet children. The Father explains: All of you are adopted children. All of you many children can only be adopted children. Those people are followers of that religion. Here, you are children. The Father is also pleased to see such children. All of you are My children. You are now playing the final part. You have become My companions to help Me establish heaven. This is Rudra Shiv Baba’s sacrificial fire of knowledge in which the horse is sacrificed for receiving a kingdom. How does Shiv Baba carry out the establishment of heaven? First of all, He creates the sacrificial fire of the knowledge of Rudra through Brahma and the Brahmins and then heaven is established through them. So, it is surely you Brahmins who have to look after this sacrificial fire. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have faith in the intellect and definitely study. Never have any doubts about any situation. Victory is guaranteed when there is faith.
  2. Become a companion of the Father and a complete helper in establishing heaven. Become a true Brahmin who looks after the sacrificial fire.
Blessing: May you be detached and become immune to bondage with the practice of “coming and going”.
The essence of the whole study and of knowledge is “coming and going”. Your intellects have the happiness of going home and then going into your kingdom. However, only those who constantly practise “coming and going” will go with happiness. Stabilise yourself in the bodiless stage whenever you want and become karmateet whenever you want. The practice of this has to be very strong. For this, let no bondage attract you. It is bondage that makes the soul tight and there is a great pull when trying to take off tight clothes. So, always remain detached, and learn the lesson of being immune to bondage.
Slogan: Keep your account of happiness full and everyone will continue to experience happiness from your every step.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 October 2018

To Read Murli 4 October 2018 :- Click Here
05-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – पढ़ाई कभी भी मिस नहीं करना, पढ़ाई का शौक तब रहेगा जब पढ़ाने वाले बाप में अटूट निश्चय होगा, निश्चय बुद्धि बच्चे ही सर्विस कर सकेंगे”
प्रश्नः- बापदादा को बच्चों की कौन-सी बात सुनकर बहुत खुशी होती है?
उत्तर:- जब बच्चे सर्विस समाचार का पत्र लिखते हैं – बाबा, आज हमने फलाने को समझाया, उसको दो बाप का परिचय दिया…. ऐसे-ऐसे सेवा की। तो बाबा उन पत्रों को पढ़कर बहुत खुश होते हैं। याद-प्यार वा खुश ख़ैराफत का पत्र लिखने से बाबा का पेट नहीं भरता। बाबा अपने मददगार बच्चों को देख खुश होते हैं इसलिए सर्विस करके समाचार लिखना है।
गीत:- चलो चले माँ…… 

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं कांटों से फूलों की दुनिया में जाना है। सतयुगी दुनिया को दैवी फूल ही कहेंगे। कलियुग में मनुष्य हैं कांटें मिसल। एक-दो को तंग करते, दु:ख देते रहते हैं। तुम बच्चे अब खुश होते हो कि चलो, अब हम अपने उस दैवी फूलों के सुखधाम में चलें। चलने का भी राज़ समझना है। चलेंगे तब, जब अच्छी रीति पढ़ेंगे। पहले तो निश्चय चाहिए – पढ़ाने वाला कौन है? यह बातें कोई वेद-शास्त्र आदि में लिखी हुई नहीं हैं। भल गीता में राजयोग लिखा हुआ है, राजाई के लिए पढ़ाई है तो जरूर राजाई सतयुग में देंगे। पहले तो पढ़ाने वाले का निश्चय चाहिए। यह कोई साधू, सन्त, मनुष्य तो है नहीं। यह तो है निराकार। सब आत्माओं का बाप है – परमपिता परमात्मा। जिन्हों को कल्प पहले मुआफिक निश्चय होना होगा, उन्हों को ही होगा। तुम देखते हो फूलों की दुनिया स्वर्ग में चलने के लिए हरेक का अपना-अपना पुरुषार्थ है। पहले जब निश्चय हो तो झट पढ़ाई में लग पड़े। शास्त्रों में कृष्ण भगवानुवाच लिख दिया है – साथ-साथ लिखा भी है रुद्र ज्ञान यज्ञ। अब यह तो ज्ञान की बातें हो गई। मनुष्यों ने फिर कृष्ण को काठ की मुरली दे दी है। गायन भी है ना तेरी मुरली में जादू है खुदाई। अब काठ की मुरली में तो खुदाई जादू हो न सके। वह तो मुख से मुरली बजा सकते हैं। कृष्ण का बचपन ही दिखाते हैं, आपस में खेलते-कूदते रहते हैं। यह बातें बड़ी समझने लायक हैं। यह तो बच्चे समझ गये हैं कि यह बरोबर राजयोग है अर्थात् राजाई प्राप्त करने की पढ़ाई कराने वाले के साथ योग। वह सम्मुख आकर पढ़ाते हैं। इसमें काठ के मुरली की कोई बात नहीं। यह बातें ही निराली हैं। यह किसको भी पता नहीं है कि निराकार भगवान् स्वयं आकर पढ़ाते हैं। कृष्ण के लिए भी कहते हैं, उनकी मुरली में खुदाई जादू है। तो खुदा और हो गया ना। कृष्ण को खुदा नहीं कहेंगे। खुदा तो खुदा ही है, उनको ही जादूगर कहते हैं। जादूगर स्वयं आकर जादूगरी दिखलाते हैं, साक्षात्कार कराते हैं। फिर भी ऊंच पद प्राप्त कराने लिए पढ़ाते हैं। मीरा ने भी वैकुण्ठ देखा और डांस की, परन्तु वह राजयोग नहीं सीखी। राजयोग की बात कोई भी शास्त्र में नहीं है। मीरा को पढ़ाने वाला तो कोई नहीं था। मीरा का नाम भी भक्त माला में है। यह है ज्ञान माला। रात-दिन का फ़र्क है। तुम समझ गये हो – हम जितना ज्ञान उठायेंगे, उतना ऊंच बनेंगे। बरोबर भक्त माला भी है, उनमें भी नम्बरवार हैं। उन्हों के नाम तो मशहूर हैं। यह ज्ञान कोई में भी नहीं है। तो समझाना चाहिए – यह ज्ञान देने वाला वह अथॉरिटी बाप है, जिसके लिए कहा जाता है ब्रह्मा मुख कमल से ब्राह्मण रच उन्हों को सभी वेदों-शास्त्रों का सार सुनाते हैं। शिवबाबा को तो शास्त्र दे न सकें, क्योंकि वह तो है निराकार। तो ब्रह्मा द्वारा समझाते हैं। यह युक्ति रची है। परन्तु यह सब बातें समझाने वाला वह एक है। दिखलाते भी हैं ब्रह्मा द्वारा सार बतलाते हैं तो जरूर समझाने वाला कोई दूसरा है ना। अभी तुम प्रैक्टिकल में देखते हो शिवबाबा जो ज्ञान सागर है, हमारा बाबा भी है, वह सम्मुख बैठे हैं। भारत में ही आते हैं और जरूर कोई के शरीर में आते हैं। यह ब्रह्मा का शरीर है। प्रजापिता ब्रह्मा होना भी जरूरी है। बरोबर प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ही बाप आकर ब्राह्मण धर्म रचते हैं। धर्म कैसे रचा जाता है? यह भी तुम जानते हो। तुम प्रैक्टिकल में ब्रह्मा की सन्तान हो। कहते हो हम ब्राह्मण ब्राह्मणियां हैं। बाप से वर्सा ले रहे हैं। फालोअर तो कभी वर्सा ले न सके। बच्चे ही बाप से वर्सा लेते हैं। तुम आकर बेहद के बच्चे बने हो। क्राइस्ट के फालोअर कहेंगे, बच्चे नहीं। बुद्ध के, गुरुनानक के फालोअर ही कहेंगे, बच्चे नहीं। यहाँ तुम बच्चे हो। प्रजापिता वह भी बाप ठहरा और शिवबाबा भी बाप हो गया। वह निराकार है, यह साकार अलग है। इस साकार द्वारा ही शिवबाबा ने बच्चों को रचा है। अब तुम्हारे में भी कोई को तो पक्का निश्चय है, कोई को नहीं है। लॉटरी है बहुत बड़ी।

तुमको अपने शरीर निर्वाह अर्थ कर्म भी करना है और फिर यह ज्ञान भी सीखना है। उस पढ़ाई में बहुत मेहनत करनी पड़ती है। यहाँ भी बाप कहते हैं एक घड़ी, आधी घड़ी, पढ़ो जरूर। अच्छा, कोई कारण से रोज़ नहीं पढ़ सकते हो तो पहले 7 रोज़ पढ़कर फिर मुरली के आधार पर चल सकते हो। लक्ष्य पकड़ लिया, बाकी है टाल, डाल, पत्ते आदि को समझना, वह सब भी चक्र में आ जाता है। तुमको 84 जन्मों का राज़ भी समझाया है। झाड़ में डीटेल है, चक्र में नटशेल है। समझाया भी है यह वैराइटी मनुष्य सृष्टि के धर्म हैं। पहले एक धर्म रहता है फिर वृद्धि होती है। झाड़ भी दिखाया है – कैसे फाउन्डेशन निकलता है। कितना सहज राज़ है! ड्रामा और झाड़ को समझना है, बुद्धि में धारण करना है और दूसरों को समझाना है। दो बाप की प्वाइन्ट तो जरूर समझानी है। बेहद के बाप से स्वराज्य मिलता है इसलिए राजयोग जरूर सीखना पड़े। परमपिता परमात्मा ही स्वर्ग की स्थापना करते हैं, जिसको कृष्णपुरी भी कहते हैं। कंसपुरी में तो कृष्णपुरी स्थापन हो न सके, इसलिए संगम रखा हुआ है। तुम बच्चों के लिए यह संगमयुग है, बाकी और सबके लिए कलियुग है। तुम ही संगम से फिर सतयुग में जाने वाले हो, यह निश्चय चाहिए। अभी हम संगम पर हैं। संगमयुग याद रहे तो सतयुग भी याद रहे और सतयुग स्थापन करने वाला भी याद रहे। परन्तु घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। तुम समझते हो अभी हम संगम पर हैं, बेहद का बाप आते ही हैं कल्प के संगमयुगे। गीता में भूल कर दी है। गीता से तैलुक रखने वाले सिर्फ भागवत, महाभारत आदि हैं।

बाप समझाते हैं – तुम सब सीतायें हो, मैं राम हूँ। तुम रावण राज्य रूपी लंका में पड़े हो, वह लंका नहीं। ऐसे नहीं, वहाँ कोई रावण राज्य था। सतयुग में लंका आदि होती नहीं। उस तरफ बौद्ध धर्म है। अभी बौद्ध धर्म बहुत फैला हुआ है। अब यह तो बच्चों को समझाया गया है भारत पहले बिल्कुल पवित्र था, सुख-शान्ति थी, एक ही देवी-देवता धर्म था। पहले-पहले तो यह निश्चय पक्का रहना चाहिए कि यह हमारा बेहद का बाप है, उनसे वर्सा लेना है, पुरुषार्थ में कभी चूकना नहीं है। निश्चय बिगर पुरुषार्थ भी कैसे करेंगे? बाप पढ़ाते हैं, उनसे स्वर्ग का, सदा सुख का वर्सा मिल रहा है, यह तो सर्टेन है। स्कूल में बिगर निश्चय अथवा एम ऑब्जेक्ट थोड़ेही बैठेंगे। वहाँ तो सब्जेक्ट बहुत होती हैं, मार्जिन होती है। यहाँ तो एक ही सब्जेक्ट है। एक ही सब्जेक्ट से कितनी बड़ी राजधानी स्थापन हो जाती है। जो नहीं पढ़ते हैं तो पढ़े हुए के आगे भरी ढोयेंगे। प्रजा में भी जो अच्छी प्रजा होंगे उनके आगे कम दर्जे वाली प्रजा भरी ढोयेगी। प्रजा भी नम्बरवार तो है ना। कोई गरीब, कोई साहूकार, एक न मिले दूसरे से। कैसा यह ड्रामा है! सभी मनुष्यों के फीचर्स ड्रामा में नूँध हैं पार्ट बजाने के लिए। कितनी गुह्य बातें हैं जो धारण कर यथार्थ रीति समझाना है। सब तो नहीं समझा सकते। कितनी अच्छी बातें समझाते हैं। निश्चय में ही विजय है। निश्चय होगा तब ही पढ़ेंगे। कोई तो संशयबुद्धि हो पढ़ाई को छोड़ देते हैं। अहो माया, झट तूफान लगाए संशय में डाल देती है। संशयबुद्धि विनशयन्ती। चढ़े तो चाखे वैकुण्ठ रस, गिरे तो चकनाचूर। फ़र्क तो बहुत है। गिरे तो एकदम चण्डाल, चढ़े तो एकदम बादशाह। सारा पढ़ाई पर मदार है। आगे कभी सुना कि निराकार शिक्षक कैसे होता है! अभी शिवबाबा द्वारा तुम सुनते हो। तुमको निश्चय हुआ है – मैं तुम्हारा बाप हूँ, पतित-पावन भी हूँ, नॉलेजफुल भी कहते हो। नॉलेज से चक्रवर्ती राजा बनना है, यह निश्चय होना चाहिए ना। निश्चय में ही माया विघ्न डालती है। दुश्मन सामने खड़ा है। तुम जानते हो माया हमारी दुश्मन है, घड़ी-घड़ी धोखा देती है, पढ़ाई में संशय डाल देती है। संशय में आकर बहुत बच्चे पढ़ाई को छोड़ देते हैं। पढ़ाई को छोड़ा गोया बाप, टीचर, सतगुरू को भी छोड़ दिया। वह तो गुरू बदलते रहते हैं। अनेक गुरू करते हैं। यह तो एक ही सतगुरू है। यह अपनी महिमा नहीं करते हैं। बाप अपना परिचय देते हैं। भक्त लोग गाते हैं ना शिवाए नम:, तुम मात-पिता…….. लेकिन जानते कुछ भी नहीं, सिर्फ कहते रहते हैं, पूजा करते रहते हैं। तुम अभी जान गये हो शिव कौन है? शिव के बाद फिर आते हैं ब्रह्मा-सरस्वती। लक्ष्मी-नारायण बाद में आते हैं। पहले शिवबाबा फिर ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। बाप कहते हैं मैं पहले-पहले ब्रह्मा में प्रवेश करता हूँ, इनको पहले रचता हूँ। ब्रह्मा द्वारा स्थापना फिर ब्रह्मा ही विष्णु बन पालना करते हैं। यह सब प्वाइन्ट्स नोट करनी चाहिए। फिर किसको समझाने की कोशिश करनी चाहिए। कोई तो बहुत अच्छा समझाते हैं। बाबा की तो बात ही अलग है। कभी शिवबाबा समझाते, कभी यह भी समझाते हैं। तुम हमेशा समझो – शिवबाबा समझाते हैं। शिवबाबा को याद करने से विकर्म विनाश होते हैं। तुम समझो – शिवबाबा इन द्वारा नई-नई प्वाइन्ट्स सुनाते हैं, बड़ा युक्ति से समझाते हैं। तो बच्चों को समझना भी चाहिए। पहले तो निश्चय करना है। 7 रोज़ में भी रंग अच्छा लग सकता है। परन्तु माया भी बहुत तीखी है ना। पहले-पहले तो निश्चय बैठे कि बाप परमपिता परमात्मा स्वर्ग का रचयिता है, तो जरूर उसने ही राजयोग सिखाया होगा। कृष्ण सिखला न सके। उनका आना ही सतयुग में होता है। स्वर्ग का रचयिता शिवबाबा है। अगर कोई कहे कृष्ण के तन में आया परन्तु कृष्ण तो उस रूप में आ न सके। उनका आना ही सतयुग में होता है। बाबा किसी के गर्भ से तो जन्म नहीं लेता। इनके तन में प्रवेश कर इनका भी परिचय देता है कि इनका नाम ब्रह्मा हमने क्यों रखा? यही शुरू से लेकर अन्त तक पार्ट बजाते हैं। तुम्हारे भी बहुत अच्छे-अच्छे नाम रखे थे। कितने बच्चों के नाम आये। वन्डर है ना, फट से दो अढ़ाई सौ के नाम आ गये। इतने नाम तो यहाँ के ब्राह्मण लोग दे न सकें। सन्देशी फट से नाम ले आई। बेहद के बाप ने नाम रखे। वन्डर है। वन्डरफुल बाप, वन्डरफुल एम ऑब्जेक्ट।

तुम सो राजाओं के राजा बनेंगे। लक्ष्मी-नारायण का चित्र बड़ा क्लीयर है। ऊपर में त्रिमूर्ति का चित्र बड़ा एक्यूरेट है। 84 जन्म भी जरूर लेने हैं। कलियुग का अन्त पतित, सतयुग की आदि पावन। बच्चों को सर्विस का सबूत देना चाहिए – बाबा, हमने भी यह छोटे-छोटे पर्चे छपवाये। ऊपर में शिव, त्रिमूर्ति और दो बाप का परिचय हो। यह प्वाइन्ट जरूर होनी चाहिए। ऐसे-ऐसे पर्चे छपवाकर खूब सर्विस करके समाचार देना चाहिए, तब बाप की दिल पर चढ़ेंगे। चिट्ठी सिर्फ खुश-ख़ैराफत की नहीं, सर्विस करके समाचार लिखना है कि बाबा यह-यह सर्विस की। सिर्फ याद-प्यार लिखने से बाबा का पेट क्या भरेगा। आज फलाने को समझाया, आज पति की सर्विस की, बहुत अच्छा खुश हुआ, ऐसे-ऐसे सर्विस की, समाचार बाबा को लिखना है। दो बाप की प्वाइन्ट मुख्य है। बेहद का बाप है ही स्वर्ग का राज्य-भाग्य देने वाला। तुम कितने मीठे-मीठे बच्चे हो। बाप समझाते हैं यह सब एडाप्टेड चिल्ड्रेन हैं। इतने सब तो धर्म के बच्चे ही हो सकते हैं। वह धर्म के फालोअर्स होते हैं। यहाँ तुम बच्चे हो, बाप भी ऐसे बच्चों को देख खुश होते हैं। यह सब हमारे बच्चे हैं। अभी अन्त का पार्ट बजा रहे हैं। स्वर्ग की स्थापना में मदद करने लिए मेरे साथी बने हैं। यह है रुद्र शिवबाबा का राजस्व अश्वमेध ज्ञान यज्ञ। शिवबाबा स्वर्ग की स्थापना कैसे करते हैं? पहले ब्रह्मा और ब्राह्मणों द्वारा रुद्र ज्ञान यज्ञ रचते हैं जिससे स्वर्ग की स्थापना होती है। तो जरूर ब्राह्मणों को ही यज्ञ सम्भालना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) निश्चय बुद्धि बन पढ़ाई करनी है। कभी भी किसी बात में संशय नहीं उठाना है। निश्चय में ही विजय है।

2) बाप का साथी बन स्वर्ग की स्थापना में पूरा मददगार बनना है। यज्ञ की सम्भाल करने वाला पक्का ब्राह्मण बनना है।

वरदान:- आने और जाने के अभ्यास द्वारा बन्धनमुक्त बनने वाले न्यारे, निर्लिप्त भव
सारे पढ़ाई अथवा ज्ञान का सार है – आना और जाना। बुद्धि में घर जाने और राज्य में आने की खुशी है। लेकिन खुशी से वही जायेगा जिसका सदा आने और जाने का अभ्यास होगा। जब चाहो तब अशरीरी स्थिति में स्थित हो जाओ और जब चाहो तब कर्मातीत बन जाओ – यह अभ्यास बहुत पक्का चाहिए। इसके लिए कोई भी बंधन अपनी तरफ आकर्षित न करे। बंधन ही आत्मा को टाइट कर देता है और टाइट वस्त्र को उतारने में खिंचावट होती है इसलिए सदा सदा न्यारे, निर्लिप्त रहने का पाठ पक्का करो।
स्लोगन:- सुख के खाते से सम्पन्न रहो तो आपके हर कदम से सबको सुख की अनुभूति होती रहेगी।

TODAY MURLI 5 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 4 October 2017 :- Click Here

05/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Bharat that was very wealthy has now become poor. Only the Father makes this poor Bharat wealthy once again.
Question: Who are the most fortunate of you gopes and gopis and how?
Answer: The most fortunate are those who perform the Godly dance of knowledge. They are the ones who will go to the golden age and dance with the princes and princesses. Such fortunate children surrender themselves to the Father completely at this time and say: Baba, I belong to You. Nothing is mine. You make me into a master of heaven and so why would I not surrender myself to You?

Om shanti. The Father is giving patience to the children: O children, residents of Bharat. Which children? Those who are worshippers of the deities. They believe that their special, beloved gods and goddesses were great deities. Christians worship Christ. Buddhists worship Buddha. Jains worship Mahavir. They all worship or remember the head of their own religion. There are temples to the deities. The Shiva Temple is also included in that. He is incorporeal. Brahma, Vishnu and Shankar are subtle beings whereas Lakshmi and Narayan, Rama and Sita, Jagadamba and Jagadpita are corporeal. People of the world don’t know these things. Therefore, Baba says to the worshippers of the deities: Have patience! Heaven is now being established. Bharat was heaven. The kingdom of Lakshmi and Narayan was called heaven. It has now been 5000 years since it became the kingdom of Lakshmi and Narayan. The kingdom of Sita and Rama began 3,750 years ago. Only you mouth-born creation of Brahma, the decoration of the Brahmin clan, know this. Because everyone in the world is in darkness, they are completely without an intellect. Explain to them that one is your worldly father and the other is the Father from beyond this world. He is the Creator of the new world. A father builds a new home. The unlimited Father is creating a new world. The people of Bharat have now become corrupt in their religion. They sing praise of the deities: You are full of all virtues…. This praise is not for those of other religions. None of those other religions sings this praise of their special, beloved God. You will find devotees of the deities in Lakshmi and Narayan Temples. You will find devotees of Shri Krishna in the Krishna Temples. You know that Lakshmi and Narayan were the masters of Bharat in the golden age. That means that the people of Bharat were the masters in the golden age. Bharat was very wealthy and prosperous when there was the original eternal deity religion. This is the ancient, easy Raja Yoga and easy knowledge of Bharat. The deity religion is now old and people have forgotten who established the deity religion. Baba has explained that you are the Brahmins who belong to the confluence age. Those brahmins of the iron age also say that they belong to the dynasty of Prajapita Brahma, but they don’t know when Brahma came. You are now the practical form. You know that Lakshmi and Narayan existed and ruled in Bharat in the past. There have been no human beings more elevated than they were. People don’t know how many years it has been since the golden age. They say that the duration of the golden age is millions of years. Those who wrote the scriptures have written their own opinions. The Father is now explaining to you children who were of the original deity religion of Bharat. You definitely have to come here at the end of the last of your many births. This clan is that of the people of Bharat of the deity religion. It isn’t the clan of those of the other religions who come later. You have now become Brahmins of the Brahma clan. You are now changing from worshippers to being worthy of worship. You mothers are called the mothers of Bharat who are incarnations of Shakti (power). You would also say that there is the reincarnation of Jagadamba. Shiv Baba has taken an incarnation at the confluence age. He has made you His children. You children know that the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Father of all souls, is the Master of Brahmand. He cannot be called the Master of this world. He is the Father, but He is not the Master. This too is a deep matter. He is the Creator and so He should be the Master of creation but Baba says: I don’t become the Master of the heaven that I establish. I make you children the masters. Everyone in the world says that God is the Master of the World. However, He is just the Master to create it; He makes you into the masters of heaven. It is the Father’s duty to make the children higher than Himself. The Father is the Servant. He gives everything to you children and then departs. The Father says: I make you worthy; I create a new world and make you the masters of it and then I retire. You would be called the masters of Brahmand because you are the children of the Master of Brahmand. You too will go to the great element of brahm and you would therefore be called the masters of Brahmand. Although you souls are in the living form there, too, you don’t have any organs. When you are in the supreme abode, you are the masters of Brahmand. You then become the masters of the world. You then have to lose your fortune of the kingdom. Neither deities nor shudras can have this knowledge. Only you Brahmins have this knowledge. Baba is explaining such deep things. He says: Only you have hero part s. Jagadamba is the goddess of knowledge. She then becomes a princess and the same applies to you; it isn’t that only two or four people have their part s there. To claim the kingdom of the world and then to lose it is a play for the people of Bharat. The people of Bharat were the masters of the world, whereas today they have become bankrupt. There isn’t even a kingdom of impure kings anymore; it is now the rule of the people. It is said: Religion is might. The Almighty Authority Father is establishing the deity religion. He gives us so much might that we become the masters of the world. There are innumerable religions in Bharat. Those who live in Gujarat say that they are Gujaratis. There was just one religion in the golden age. The Father says: I am once again giving you the knowledge of the Gita. You will continue to drink the nectar of knowledge for as long as you live. There is a burden of innumerable births that has to be removed. They have portrayed a battlefield and put Krishna’s name. God says: I enter this chariot and make you stand on the battlefield in order for you to conquer Maya. I also make the children stand there. You know that you will become the conquerors of Maya and then become the masters of heaven. Those people say this to soldiers etc. There is the difference of day and night. You should go to the temples and do service there. Tell them that only Lakshmi and Narayan were the masters of Bharat. Make slogans such as, “The people of Bharat were the masters of heaven. You have now lost all your property.” In the scriptures they have shown Krishna and the Mahabharat War. People in devotion make spiritual endeavour to attain God. They call out to God for Him to come and liberate them from Maya, Ravan. There is so much upheaval everywhere. When the war takes place, you won’t receive food or clothes etc. They call Bombay, “The Queen of India,” because they don’t know about the happiness of heaven. We know all about that and so we continue to dance internally. Knowledge is said to be salvation. Which knowledge? That of the beginning, the middle and the end of the world. Now use your intellects and see how you can explain to others! The deities who were pure have now become impure and so you have to look for them. You will soon find them in temples and they too would become happy. The Jagadamba Temple is below, down the mountain. In fact, they should both be together. You know that the daughter of Brahma will become the number one princess. You can tell them the biography of the 84 births of Jagadamba. You know Shiv Baba’s biography. It isn’t that He is in the pebbles and stones. Previously, we too used to think that. Even this one now says: Previously, I used to consider myself to be very elevated. The highest business is that of jewellery. Even higher than that is this business of the imperishable jewels of knowledge. People wear a ring of nine jewels. That too is compared to this. Previously, you didn’t know anything. Today, the main thing being explained to you is that the Supreme Soul is the Master of Brahmand and the Creator of the World. He doesn’t rule the kingdom. He gives us children the kingdom. We have to claim the kingdom and then lose it. You should know how many births you took in the kingdom that you lost and also how many births you take in your own kingdom. What else would you want? Because of being body conscious, human beings are dangling upside-down. You have now been put the right way up. When a person dies, his face is turned the other way. Our faces are now towards the supreme abode. We will shed our bodies and go straight there. Achcha, the Father says: Manmanabhav! By remembering Me, you will come to Me. To have class outside here in the unlimited is very good. Inside the room, Baba feels it’s like the jail of a womb. The unlimited Father wants everything unlimited. Such a great Master of the unlimited comes and sits in this limit (body) in order to serve you. He has to enter an impure body in the impure world. He says: I make you children pure from impure, the masters of heaven and then I go away. There will now be upheaval. Those who are weak will die just seeing such things. Some have such a great shock on seeing someone die that they themselves also die. You have to become very strong. It is remembered: Happiness for the hunter and death for the prey. We are now becoming worthy of heaven. The Father says: The gates open through the War. Now, let’s go back! The play has now ended. Baba is the spiritual Guide. He takes you to the spiritual land. This is why you now have to remember the Father so that your final thoughts will lead you to your destination. Some have a very short life here; they experience a lot of punishment in a womb. As soon as a baby is born, he dies and then goes elsewhere to experience further suffering for his actions. The Father says: Sweetest children, imbibe these jewels of knowledge in your intellects. Go to the temples and do service ! This is called making effort. Don’t be afraid! Those who belong to your religion will be struck by the arrow. You should also go to the sannyasis. If you see that they are like stone, then don’t bite them. (Example of a scorpion not stinging a rock). You should give it a try. By gradually trying, you will eventually become successful. You haven’t yet developed the strength of knowledge and yoga and this is why you haven’t yet explained to the sannyasis and kings etc. Janak, Parikshit, the sannyasis etc. all come at the end. If you gave them knowledge now, their influence would be reduced. At that time (when they come later), you will say: Too late! Baba came to fill your aprons but you didn’t come. Constantly think about how to do service. Print invitations! Create new ideas !Service takes place according to the drama. We watch everything as detached observers. God speaks to you children, the gopes and gopikas. God is Gopi Vallabh, the Father of the gopes and gopis. He is the Father. All the gopes and gopis are here. They will not be there in the golden age. This is the Godly danceof knowledge. Then you will go there and dance with the princes and princesses. You children are very fortunate. Simply surrender yourselves: “Baba, I belong to You. Why would I not surrender myself to You? You are making me into a master of heaven. This is such a great income.” Everyone is to be buried in the graveyard. There will be the graveyard (kabristan) and then the land of angels (Paristhan). Delhi was Paristhan; the deities are said to be the angels of Paristhan. It is now the graveyard. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always maintain the intoxication that you are becoming the masters of Brahmand and of the world. You Brahmins will then become deities.
  2. Make your stage strong. Don’t even be afraid of death. Stay in remembrance of the Father. Imbibe this knowledge and serve others.
Blessing: May you be a charitable soul who transforms sorrow into happiness and defamation into praise.
A charitable soul is one who never causes sorrow for anyone nor accepts sorrow from anyone, but accepts sorrow in the form of happiness instead. When someone considers defamation to be praise, that one is called a charitable soul. Always make this lesson firm: See any soul who insults you or causes you sorrow with your merciful form and your look of mercy, not with a look of defamation. That one may insult you, but if you shower that one with flowers, you would then be called a charitable soul.
Slogan: Those who merge BapDada in their eyes are the lights of the world; elevated souls who grant visions of BapDada.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 3 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 4 October 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 05/10/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
[Web-Dorado_Zoom]
05/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – भारत जो साहूकार था वही अब गरीब बना है, बाप ही इस गरीब भारत को फिर से साहूकार बनाते हैं”
प्रश्नः- तुम गोप-गोपियों में सबसे खुशनसीब कौन और कैसे?
उत्तर:- सबसे खुशनसीब वह हैं जो गॉडली ज्ञान डांस करते हैं, वही फिर सतयुग में जाकर प्रिन्स-प्रिन्सेज के साथ डांस करेंगे। ऐसे खुशनसीब बच्चे अभी बाप पर पूरा-पूरा बलि चढ़ते हैं, कहते हैं बाबा मैं तेरा, मेरा कुछ भी नहीं। आप हमको स्वर्ग का मालिक बनाते हो तो मैं क्यों नहीं बलिहार जाऊं।

ओम् शान्ति। बाप बच्चों को धीरज दे रहे हैं कि हे भारतवासी बच्चे, कौन से बच्चे? जो देवताओं के पुजारी हैं। वह मानते हैं हमारे ईष्ट देव बड़े देवतायें थे। क्रिश्चियन क्राइस्ट की पूजा करेंगे। बौद्धी बुद्ध की पूजा करेंगे। जैन महावीर की पूजा करेंगे। हर एक अपने-अपने धर्म के बड़े की पूजा करेंगे अथवा याद करेंगे। देवी देवताओं के मन्दिर हैं। उनमें शिव का मन्दिर भी आ जाता है। वह है निराकार। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर आकारी हैं और लक्ष्मी-नारायण, सीता-राम, जगत अम्बा, जगत पिता है साकार। इन बातों को दुनिया वाले नहीं जानते हैं। तो जो देवताओं के पुजारी हैं उनके लिए बाबा कहते हैं कि धीरज धरो, अभी स्वर्ग की स्थापना हो रही है। भारत स्वर्ग था, लक्ष्मी-नारायण के राज्य को स्वर्ग कहा जाता है। लक्ष्मी-नारायण के राज्य को 5 हजार वर्ष हुए। सीताराम के लिए कहेंगे 3750 वर्ष हुए। यह तुम ब्रह्मा मुख वंशी ब्राह्मण कुल भूषण ही जानते हो। दुनिया में सब अंधकार में होने के कारण बुद्धिहीन हैं। उनको समझाना है कि तुम्हारा एक है लौकिक बाप, दूसरा है पारलौकिक बाप। वह है नई दुनिया का रचयिता। बाप नया घर बनाते हैं ना। बेहद का बाप नई सृष्टि बनाते हैं। अभी वह भारतवासी धर्म भ्रष्ट बन पड़े हैं। देवताओं की महिमा गाते हैं – सर्वगुण सम्पन्न… यह महिमा और कोई धर्म वाले की नहीं है। कोई भी धर्म वाले अपने ईष्ट देव की ऐसी महिमा नहीं गाते हैं। उनको देवताओं के भक्त मिलेंगे भी लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में। श्रीकृष्ण के भगत कृष्ण के मन्दिर में मिलेंगे। तुम जानते हो लक्ष्मी-नारायण सतयुग में भारत के मालिक थे। गोया भारतवासी सतयुग के मालिक थे। भारत बहुत साहूकार मालामाल था। जब आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। यह है भारत का प्राचीन सहज राजयोग और सहज ज्ञान। देवी-देवता धर्म है पुराना। परन्तु मनुष्य भूल गये हैं कि देवी-देवता धर्म की स्थापना किसने की। बाबा ने समझाया है तुम हो संगमयुगी ब्राह्मण। वह कलियुगी ब्राह्मण भी कहते हैं कि हम प्रजापिता ब्रह्मा वंशी हैं। परन्तु वह यह नहीं जानते कि ब्रह्मा कब आये थे। तुम अब प्रैक्टिकल में हो। तुम जानते हो लक्ष्मी-नारायण इस भारत में ही राज्य करके गये हैं। उनसे ऊंच मनुष्य कोई है नहीं। मनुष्यों को यह मालूम ही नहीं कि सतयुग को कितने वर्ष हुए! वह तो सतयुग की आयु कितने अरब कह देते हैं। शास्त्र बनाने वालों ने अपनी मत डाल दी है। अब बाप तुम बच्चों को समझाते हैं जो भारत के असुल देवी-देवता धर्म के थे, उन्हें बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में यहाँ आना है जरूर। यह वर्ण हैं ही भारतवासी देवी-देवता धर्म वालों के। पिछाड़ी वाले और धर्मो के नहीं हैं। तुम अभी ब्रह्मा वंशी ब्राह्मण बने हो। तुम पुजारी से पूज्य बन रहे हो। तुम माताओं को भारत माता शक्ति अवतार कहा जाता है। जगत अम्बा का भी रीइनकारनेशन कहेंगे। शिवबाबा ने इस संगमयुग में अवतार लिया है। तुमको अपना बच्चा बनाया है।

तुम बच्चे जानते हो परमपिता परमात्मा जो सभी आत्माओं का बाप है वह है ब्रह्माण्ड का मालिक। उनको सृष्टि का मालिक नहीं कह सकते। भल पिता है परन्तु मालिक नहीं बनता है। यह भी गुह्य बात है। वह क्रियेटर है तो क्रियेशन का मालिक होना चाहिए। परन्तु बाबा कहता है मैं जो स्वर्ग स्थापन करता हूँ, उनका मालिक नहीं बनता हूँ। मालिक तुम बच्चों को बनाता हूँ। दुनिया में सब कहेंगे कि भगवान सृष्टि का मालिक है, परन्तु वह मालिक है रचने के लिए। बाकी स्वर्ग का मालिक तो तुमको ही बनाते हैं। बाप का काम है बच्चों को सिर पर चढ़ाना। बाप सेवाधारी है ना। बच्चों को सब कुछ देकर चला जाता हूँ। बाप भी कहते हैं तुमको लायक बनाए नई सृष्टि रचवाकर उनका मालिक बनाए मैं रिटायर हो जाता हूँ। तुम ब्रह्माण्ड के भी मालिक कहलायेंगे क्योंकि तुम ब्रह्माण्ड के मालिक के बच्चे हो। तुम भी ब्रह्म महतत्व में जायेंगे तो ब्रह्माण्ड के मालिक कहलायेंगे। वहाँ भल तुम आत्मायें चैतन्य हो परन्तु आरगन्स नहीं हैं। जब परमधाम में हो तो ब्रह्माण्ड के मालिक हो फिर तुम सृष्टि के मालिक बनेंगे। फिर तुमको राज्य भाग्य गँवाना पड़ेगा। यह ज्ञान न देवताओं को, न शूद्रों को हो सकता है। यह ज्ञान सिर्फ तुम ब्राह्मणों को है। बाबा कितनी गुह्य बातें समझाते हैं। कहते हैं तुम्हारा ही हीरो पार्ट है। जगत अम्बा ज्ञान ज्ञानेश्वरी है। फिर राज-राजेश्वरी बनती है, ततत्वम्। ऐसे नहीं सिर्फ 2-4 का पार्ट है। सृष्टि का राज्य लेना और गँवाना यह भारतवासियों का खेल है। भारतवासी ही सृष्टि के मालिक थे, आज कंगाल बने हैं। अपवित्र राजाओं का भी राज्य नहीं है, पंचायती राज्य है। कहा जाता है रिलीजन इज माइट, सर्वशक्तिमान बाप बैठ देवी-देवता धर्म की स्थापना कर रहे हैं। कितनी माइट देते हैं, जो हम सृष्टि के मालिक बन जाते हैं। भारत में तो अनेक धर्म हैं। गुजरात में रहने वाले कहते हैं हम गुजराती हैं। सतयुग में एक ही धर्म था। बाप कहते हैं तुमको फिर से गीता का ज्ञान सुनाता हूँ। जब तक जियेंगे तब तक ज्ञान अमृत पियेंगे। अनेक जन्मों का बोझा है, वह उतरने का है। उन्होंने तो युद्ध का मैदान दिखलाए कृष्ण का नाम डाल दिया है। भगवान कहते हैं तुम्हारे रथ में प्रवेश कर माया पर जीत पहनाने के लिए युद्ध के मैदान में खड़ा करता हूँ। साथ-साथ बच्चों को भी खड़ा करता हूँ। तुम जानते हो माया जीत बन स्वर्ग के मालिक बनेंगे। वह लोग फिर सिपाहियों को कहते हैं, कितना रात-दिन का फ़र्क है। तुमको मन्दिरों में जाकर सर्विस करनी चाहिए। उनको बताओ यह लक्ष्मी-नारायण ही भारत के मालिक थे। फिर ऐसे स्लोगन बनाओ कि भारतवासी स्वर्ग के मालिक थे। अब मिलकियत गँवा दी है। शास्त्रों में कृष्ण और महाभारत लड़ाई दिखा दी है। भक्ति में भगवान से मिलने के लिए साधना करते हैं। पुकारते हैं कि आकर माया रावण से लिबरेट करो। कितना हाहाकार मचा हुआ है। लड़ाई लगेगी तो अन्न, कपड़ा, कुछ भी नहीं मिलेगा। बाम्बे को क्वीन आफ इण्डिया कहते हैं क्योंकि उन्हें स्वर्ग के सुखों का पता नहीं है। हमको मालूम हैं तो हम अन्दर डांस करते रहते हैं। ज्ञान को सद्गति कहा जाता है। ज्ञान कौन सा? सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का। तुम अब बुद्धि से काम लो कि हम कैसे सबको समझायें। देवतायें जो पावन थे वही अब पतित बन गये हैं, उन्हों को ढूँढना पड़े। वह मन्दिरों में जल्दी मिलेंगे और वह भी खुश होंगे। जगत अम्बा का मन्दिर नीचे है वास्तव में दोनों का इकट्ठा होना चाहिए। तुम जानते हो ब्रह्मा की बेटी नम्बरवन प्रिन्सेज़ बनेगी। तुम जगत अम्बा के 84 जन्मों की बायोग्राफी बता सकते हो। तुम शिवबाबा की बायोग्राफी को जानते हो। ऐसे नहीं वह पत्थर-भित्तर में है। आगे हम भी ऐसे समझते थे। यह भी अभी कहते हैं। आगे तो अपने को बहुत ऊंचा समझते थे। सबसे ऊंचा जवाहरात का धन्धा है, उनसे ऊंचा यह अविनाशी ज्ञान रत्नों का धन्धा है। तुम 9 रत्न की अंगूठी भी पहनते हो। वह भी इनसे भेंट है। आगे तो कुछ पता नहीं था।

आज मुख्य बात समझाई कि ब्रह्माण्ड का मालिक सृष्टि का रचयिता परमात्मा है। वह राज्य नहीं करते। राज्य हम बच्चों को देते हैं। हमको ही राज्य लेना और गंवाना है। यह भी तो मालूम होना चाहिए ना। गँवाये हुए राज्य में कितना जन्म लेते हैं? फिर अपने राज्य में कितने जन्म लेते हैं? और बाकी क्या चाहिए। मनुष्य तो देह अभिमानी होने कारण उल्टे लटके हुए हैं। तुम अभी सुल्टे हुए हो। मनुष्य जब मरते हैं तो फिर उनका मुँह फेर देते हैं। अब हमारा मुँह है परमधाम तरफ। हम यह शरीर छोड़ सीधे चले जायेंगे। अच्छा, बाप कहते हैं मनमनाभव। मेरे को याद करने से तुम मेरे पास आ जायेंगे। यहाँ बेहद में क्लास अच्छा है। अन्दर कमरे में बाबा को जैसे गर्भजेल भासता है। बेहद के बाप को बेहद चाहिए। इतना बड़ा बेहद का मालिक इस हद (शरीर) में आकर बैठते हैं, तुम्हारी सर्विस करने। इनको आना ही है पतित शरीर, पतित दुनिया में। कहते हैं तुम बच्चों को पतित से पावन बनाए, स्वर्ग का मालिक बनाए फिर मैं चला जाता हूँ। अभी उथल-पाथल होगी। तो कई जो कच्चे हैं उनके तो देखकर ही प्राण निकल जायेंगे। किसको मरता हुआ देखकर भी कईयों को बड़ा शॉक आ जाता है और मर जाते हैं। तुमको तो बहुत मजबूत होना चाहिए। गाया भी जाता है कि मिरूआ मौत मलूका शिकार। स्वर्ग के लायक तो अब हम बन रहे हैं। बाप कहते हैं इस लड़ाई द्वारा ही गेट खुलते हैं। अब चलो वापिस, खेल पूरा हुआ। बाबा है रूहानी गाइड, रूहानी धाम में ले जाते हैं इसलिए अब बाप को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। कोई-कोई का तो यहाँ बहुत छोटा जन्म होता है। गर्भ में बहुत सजायें खाते हैं। बाहर आया और बच्चा मर गया फिर दूसरा हिसाब-किताब भोगने जाता है। बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चे इन ज्ञान रत्नों को बुद्धि में धारण करो। मन्दिरों में जाकर सर्विस करो, इसको मेहनत कहा जाता है। डरो मत। जो अपने धर्म के होंगे उनको तीर लगेगा। सन्यासियों के पास जाकर देखना चाहिए। (बिच्छू के डंक का मिसाल) देखो पत्थर है तो डंक नहीं लगाओ। ट्राई करनी चाहिए। कोशिश करते-करते सक्सेसफुल हो ही जायेंगे। अभी अजुन वह ज्ञान और योग की ताकत आई नहीं है इसलिए अभी सन्यासियों, राजाओं आदि को कहाँ समझाया है। जनक, परिच्छित, सन्यासी आदि सब पिछाड़ी में ही आते हैं। उनको ज्ञान देंगे तो फिर प्रभाव निकल जायेगा। फिर उस समय तुम कहेंगे टू लेट। बाबा आया था झोली भरने, परन्तु तुम आये ही नहीं। हमेशा विचार करो कि कैसे सर्विस करनी चाहिए। निमंत्रण छपाओ। आइडिया निकालो। सर्विस भी ड्रामा अनुसार ही होती है। हम साक्षी हो देखते हैं। भगवानुवाच बच्चों प्रति, गोप गोपियों प्रति। गोपी बल्लभ भगवान है। वह है बाप। गोप गोपियाँ सब तो यहाँ ही हैं। सतयुग में थोड़ेही होंगे। यह है गाडली ज्ञान का डांस। फिर वहाँ जाकर प्रिन्स प्रिन्सेज के साथ डांस करेंगे। तुम बच्चे बड़े ही खुशनसीब हो, सिर्फ बलि चढ़ जाओ। बाबा मैं तेरी हूँ, क्यों नही बलिहार जाऊंगी। आप हमको स्वर्ग का मालिक बनाते हो। बड़ी जबरदस्त कमाई है। बाकी सब तो कब्रदाखिल होने हैं। कब्रिस्तान फिर परिस्तान होगा। देहली परिस्तान थी, परियों का स्थान था। देवी-देवताओं को परिस्तान की परियां कहा जाता है। अब कब्रिस्तान है। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा इस नशे में रहना है कि हम ब्रह्माण्ड और विश्व के मालिक बन रहे हैं। हम ब्राह्मण ही फिर देवता बनेंगे।

2) अपनी अवस्था मजबूत बनानी है। मौत से भी डरना नहीं है। बाप की याद में रहना है। धारणा कर औरों की सर्विस करनी है।

वरदान:- दु:ख को सुख, ग्लानि को प्रशंसा में परिवर्तन करने वाले पुण्य आत्मा भव 
पुण्य आत्मा वह है जो कभी किसी को न दुख दे और न दुख ले, ब्लिक दुख को भी सुख के रूप में स्वीकार करे। ग्लानि को प्रशंसा समझे तब कहेंगे पुण्य आत्मा। यह पाठ सदा पक्के रहे कि गाली देने वाली व दुख देने वाली आत्मा को भी अपने रहमिदल स्वरूप से, रहम की दृष्टि से देखना है। ग्लानि की दृष्टि से नहीं। वह गाली दे और आप फूल चढ़ाओ तब कहेंगे पुण्य आत्मा।
स्लोगन:- बापदादा को नयनों में समाने वाले ही जहान के नूर, बापदादा का साक्षात्कार कराने वाली श्रेष्ठ आत्मा हैं।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 3 October 2017 :- Click Here

Font Resize