today murli 5 july

TODAY MURLI 5 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 July 2018 :- Click Here

05/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, forget everything including your bodies and become complete beggars. Connect your intellects in yoga to the land of Shiva and the land of Vishnu.
Question: In which aspect do you children have to become generous hearted like the Father?
Answer: Just as Baba becomes generous hearted and takes everything worth straws from you and gives you the sovereignty of the world, in the same way, you too have to become generous hearted. Open this Godly U niversit y everywhere. If even three or four people claim a good status, that is great fortune. Become worthy and reveal the Satguru. Never ask anyone for money.
Song: Do not forget the days of your childhood. 

Om shanti. All of these songs are to entertain the children. BapDada and Mama: there are two Mamas – the dadi (grandmother) and the mother. This one is your grandmother as well. You are the daughters of Brahma and the granddaughters of Shiva. Mama is Saraswati, a daughter of Brahma and granddaughter of Shiv Baba. Jagadamba has become the instrument to look after you children. Shiv Baba has many forms. He plays with you and entertains you a great deal. Festivities are for entertainment. When an engagement takes place, they celebrate with a lot of festivity. Then, before they get married, they both wear torn clothes. Oil is also applied on them. That custom is of this time. Baba explains to you children: You have to become complete beggars. If you don’t have anything, you will receive everything. Nothing should remain: not even your body should remain. Connect your intellects in yoga to the land of Shiva and the land of Vishnu. You should not be attracted to anything else. Look how Baba entertains you! These are the many secrets of Baba. Look how much Meera too is praised. She threw away concern for society just for purity. She became so glorified, but she didn’t even receive nectar. She just had love for Krishna. She thought she would go to the land of Krishna just as a wife sacrifices herself when her husband dies; that was why she renounced poison. It wasn’t that Meera went to the land of Krishna by remembering him. There was no land of Krishna then. It must be about 500 to 700 years since Meera existed. She was a very good devotee and so she must have taken birth to a very good devotee. She has become so famous. She was Meera, a devotee. You become the true Meeras of knowledge. You have come here to become the sun and moon-dynasty empresses. Although the uneducated first bow down to the educated, they will still become empresses. If you forget your childhood and let go of Baba’s hand, you will never become an empress. You will receive an even lower status among the subjects. You will go to Paradise, but you will receive a low status. Baba has explained that you should ask those who perform devotion: What do you want? Why do you worship Krishna? You must surely desire to go to his kingdom, but how can you go there? Many people say that they want peace. However, there is peacelessness throughout the whole world. What would happen by just you yourself receiving peace? I can make you constantly happy for 21 births. Deities were constantly happy in just Bharat alone. That kingdom is now being established. Here, it is the kingdom of Maya, and so you cannot receive peace. There is a separate place for peace and a separate place for happiness. The land of happiness means everyone is happy. Not a single person remains unhappy there whereas not a single person in the land of sorrow remains happy. As are the kings and queens, so the subjects. Here, all are unhappy. In the land of happiness, even the animals are never unhappy. The land of peace, which is also called the land of nirvana, is separate. They say Buddha went beyond, to the land of nirvana, but no one has gone there. If he did go there, what did he achieve before he went? All are unhappy here; they are all fighting. Burma and Ceylon belong to the Buddhists. They say that the Hindus should leave their land. They are unable to tolerate them. Baba also sees that there are now many religions and that this is why they are unable to tolerate anything. Therefore, they immediately get rid of everyone. In the golden age there is just the one religion. You children have all of this knowledge in your intellects. You should take the pictures with you and go and do service for those in the stage of retirement. You should push your way into the temples and have a chit-chat with them. A Shiva lingam is shown in front of Shankar. Therefore, He must definitely be greater than Shankar. If Shankar is a form of God, what is the need to place a Shiva lingam in front of him? All of that has been spread by the sannyasis. They call themselves those who have knowledge of the brahm element and the five elements. They don’t even know about Shiva. The brahm element is the place of residence. Those people don’t even consider the brahm element and the element to be one and the same. Achcha, if they are those who have knowledge of the brahm element or knowledge of the elements, why do they call themselves Shiva? They believe Shiva and the brahm element to be one. If there is just the one, why are three separate names given? Shiva is worshipped in the form of a lingam (oval shape). In what form have they shown the worship of the brahm element, that is, the element of light? That is the place of residence. People are very confused. You children now have to become clever. Among the sannyasis, those who originally belonged to the deity religion would emerge and quickly take this knowledge. Those who have been converted to other religions three or four births earlier will not emerge as quickly. Those who have recently been converted will emerge quickly. Baba has that attraction (pull). Souls are the needle and Baba is the Magnet. Needles have now become rusty. How can a rusty needle go up above? Rusty objects are dipped in kerosene. Baba removes everyone’s rust with the nectar of knowledge. Then we will become real gold. You are now changing from lords of stone to lords of divinity. Bharat was the land of divinity. Look how expensive gold has now become. It will then become very cheap there. This Bharat has now become the land of stone and it will then become the land of divinity. This cycle continues to turn in our intellects. Only when the cycle turns in your intellects throughout the day will you become kings and queens who are rulers of the globe. No one in the world knows these things. You know that those who rule in the golden age take 84 births and that those who come in the silver age surely take fewer births. There is such a vast difference between 84 births and 8.4 million births that people have portrayed. In that case, for you to take that many births, the cycle would also have to be just as long. All of those things are lies. You should always first of all place the picture in front of them. You must never ask for money for it. Your duty is to give it to them. Whatever they want to give, they will give that by themselves. If anyone asks you the cost of it, tell them that Baba is the Lord of the Poor and that it is free for the poor but, however much money a wealthy person gives, we can then print many more pictures with that money. We don’t use the money given to us for ourselves. Whatever we receive is used to serve others. It is the wealthy people who will build dharamshalas etc. Yes, the poor can also build them. There is no expense in that. Similarly, the mothers of the village of Kakod say that they want to open a centre. If even three or four people claim a good status from such a Godly U niversity, it is their great fortune. You have to be generous hearted in this. Look how generous hearted Baba is. He takes everything worth straws from you and gives you the sovereignty. Only worthy children can do Baba’s service. What would unworthy ones do? The Father does not give the inheritance to unworthy ones. You have to reveal the Satguru. If you become lustful or angry, it means you have defamed the Satguru and you won’t be able to receive a status. A lot of care has to be taken. You have to explain to people of all religions. Also explain to the Muslims: You pray to Khuda (God) and so you are definitely His devotees. So, where is Khuda? Khuda alone can give you the knowledge of the Creator and creation. He resides in the land of peace. By remembering Him, you can claim the inheritance of peace. By claiming your inheritance, your sins will be absolved and you will then go to Khuda. This knowledge is for those of all religions. This is something completely new. Your boat goes across with knowledge and you don’t need to go anywhere else. Therefore, sweet children, you are now going to heaven and so you definitely need to become pure. Look, there isn’t purity in Bharat and so they continue to stumble around. There is so much chaos. Whatever Gandhiji taught before he departed, people are following him in that. When the road sweepers, labourers and drivers etc. go on strike, they cause so many problems for the Government. The Government asks them very clearly: How can we cover the expenses for so many? People then reply: You enjoy yourselves very much and just continue to accumulate wealth. What crime have we committed? We need a wage. When they go on strike, their work comes to a halt. All of this has to happen. Sometimes, you won’t be able to get vegetables or grain or even milk. There is conflict everywhere. After all of this chaos, there will be peace. Arjuna was granted a vision of destruction and of the land of Vishnu. You too are now having those visions. Look, you are such beloved children. You have come and met Baba at the end of your many births and so, claim your full fortune. (There was a lot of heavy rainfall.) Look, there has been a lot of rain of Baba’s knowledge and there has also been a lot of physical rain. People create sacrificial fires for rain and also for peace, but only the one God is peaceful. Only when He comes can He give knowledge for peace. He is the One who gives knowledge. Good children are called tollput (sweet children). Sweet toli is given. That is a physical sweet whereas this is the spiritual sweet that the spiritual Father gives you. It is a high destination to remain soul conscious. Effort is required for that. Baba says: Be soul conscious for eight hours. Then you can also do your work for your own livelihood. If you stay awake at night, you will be able to have very good yoga. This is an income. O children, who are conquerors of sleep, remember Me in every breath. Churn the ocean of knowledge. The more you stay in yoga day and night, the more your sins will be absolved. The more you churn knowledge, the more income you will earn. However, there is also a lot of serviceto be done. If you ask Baba, Baba would say: You may just sit here! Have a rest! There is no need to ask about this. Was Baba concerned about what people or society would say? Oh! but you are receiving the sovereignty. However, each one does have his own part to play. Then you can ask Baba. Each one has to ask for advice because each one’s karmic bondages are different. If you have money, use it in a worthwhile way for spiritual service. You children have to become mahavirs. It is remembered: Mine is one Shiv Baba and none other. He is the Father of everyone. Shiv Baba says: I have come to take everyone back. The Father says: Not a single human being in this world is trikaldarshi or a theist. All are atheists: they don’t know the Father. However, there are many with occult powers. Maya too is no less. You have to conquer this Maya. This is why you should always wear your armour. Armour means “Manmanabhav”. Remember Shiv Baba and become soul conscious. Only once, in this final birth, do you become soul conscious. Then, from the golden age to the iron age no one will give you teachings to become soul conscious. It is only at this time that you have to become soul conscious because you now have to shed your bodies and come to Me. Why should deities become soul conscious? They don’t have to return home. You receive this knowledge at this time. You came bodiless and you then adopted bodies and played your part s and you now have to shed your bodies and return home. You have to make your stage firm and conquer Maya. You have to live at home with your families. When swans and storks live together, there are obstacles. A great many assaults from devils have to be tolerated. While sitting at home, you have to make the firm promise: Baba, no matter what happens I will definitely claim my inheritance from You. Some experience so much beating. According to the drama, those part s were also enacted in the previous cycle. Those who tolerate a lot of beating have great fortune. At least, you have still come and met Baba! Therefore, your reward is created. Yes, it does require effort to change from devils to deities. For as long as you live, continue to drink the nectar of knowledge. Baba continues to explain new things. He continues to show you methods. This is called churning the ocean of knowledge. You should use the churning stick of the intellect. Remember Shiv Baba at night before going to sleep. If you are interested in doing service, you won’t be able to sleep. You will continue to have thoughts about it: What should I explain about this point? You have to grind the knowledge very well into you. Only when you ‘rub’ knowledge will you become worthy of claiming the tilak of sovereignty (sandalwood paste). You should follow the clever children. The income is huge. Those who have hundreds of thousands and millions will all be destroyed. In just a short time, see what will happen! People will then awaken. Rehearsals for war will continue to take place. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t be attracted to anything. Remain soul conscious. Always wear the armour of remembrance.
  2. Conquer sleep and remember the Father in every breath. Churn knowledge and accumulate an income. Use the churning stick of the intellect.
Blessing: May you be filled with all attainments and always remain free from having to work hard in your Brahmin life.
In this Brahmin life, you become complete with the three relationships of the Bestower, the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings so that you stay in spiritual pleasure without having to make any effort. Remember the Father in the form of the Bestower and you will have the intoxication of having spiritual rights. Remember Him in the form of the Teacher and you will have the intoxication of the fortune of being a Godly student. The Satguru is making you move along with blessings at every moment. The elevated directions for everything you do are blessings from the Bestower of Blessings. Remain filled with all attainments and you will become free from having to work hard.
Slogan: Lightness and subtlety of the intellect form is the most beautiful personality .

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 July 2018

To Read Murli 4 July 2018 :- Click Here
05-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – देह सहित सब कुछ भूल पूरा बेगर बनो, शिवपुरी और विष्णुपुरी से अपना बुद्धि-योग लगाओ”
प्रश्नः- किस बात में तुम बच्चों को बाप समान फ्राकदिल बनना है?
उत्तर:- जैसे बाबा फ्राकदिल बन तुम बच्चों से कखपन ले तुम्हें विश्व की बादशाही देते हैं। ऐसे तुम्हें भी फ्राकदिल बनना है। जगह-जगह पर गाडली युनिवर्सिटी खोल दो। 3-4 ने भी अच्छा पद पाया तो अहो सौभाग्य। सपूत बन सतगुरू का शो करो। कभी भी किसी से पैसा आदि नहीं मांगो।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना… 

ओम् शान्ति। बच्चों को बहलाने के लिए यह सब गीत हैं। बापदादा और मम्मा। मम्मायें दो होती हैं। दादी (ग्रैन्ड मदर) और माता। यह तुम्हारी दादी भी है। तुम ब्रह्मा की बच्चियां हो और शिव की पोत्रियां हो। मम्मा भी ब्रह्मा की बच्ची सरस्वती है। शिवबाबा की पोत्री है। बच्चों को सम्भालने के लिए जगत अम्बा निमित्त बनी हुई है। शिवबाबा है बहुरूपी। वह बहुत खेलपाल करते हैं। स्वहेज़ (मनोरंजन) होते हैं ना। जब सगाई होती है तो बहुत स्वहेज़ करते हैं और जब शादी का समय होता है तो दोनों ही फटे हुए कपड़े पहनते हैं। तेल लगाते हैं। यह रसम भी यहाँ की है। तुम बच्चों को भी बाबा समझाते हैं पूरा बेगर बनना है। कुछ भी नहीं होगा तो सब कुछ मिल जायेगा। देह सहित कुछ भी न रहे। शिवपुरी, विष्णुपुरी तरफ ही बुद्धियोग लगाना है। और कोई चीज़ में आसक्ति नहीं हो, तो देखो बाबा बच्चों को बहलाते हैं। यह भी बाबा के अनेक राज़ हैं। देखो मीरा का कितना गायन है। लोकलाज़ खोई सिर्फ इस पवित्रता के कारण। कितना नाम निकला है। उनको तो अमृत भी नहीं मिला। सिर्फ कृष्ण से प्रीत थी। कृष्णपुरी में जाऊंगी इसलिए विष को छोड़ा। जैसे पति के पिछाड़ी स्त्री सती बनती है ना। अब ऐसे तो नहीं मीरा याद करते-करते कृष्णपुरी में गई। कृष्णपुरी तो है नहीं। मीरा को 5-7 सौ वर्ष हुआ होगा। भक्तिन बहुत अच्छी थी इसलिए कोई अच्छे भक्त के घर जन्म लिया होगा। उनका नामाचार कितना चला आता है। यह तो भक्त मीरा थी, तुम सच्ची ज्ञान मीरायें बनती हो। तुम आई ही हो सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी महारानी बनने के लिए। भल पहले अनपढ़े पढ़े आगे भरी ढोते हैं। परन्तु महारानी तो बनेंगी ना। अगर बचपन को भूल हाथ छोड़ दिया फिर तो कभी नहीं महारानी बनेंगी और ही प्रजा में भी कम पद पायेंगी। वैकुण्ठ में तो आयेंगे परन्तु कम पद। बाबा ने समझाया है भक्ति करने वालों से भी पूछना चाहिए कि तुम क्या चाहते हो? कृष्ण की भक्ति क्यों करते हो? जरूर दिल होगी उनकी राजधानी में जायें। परन्तु वहाँ जायेंगे कैसे? बहुत मनुष्य कहते हैं हमको शान्ति चाहिए। परन्तु अशान्ति तो सारी दुनिया में है ना। तुम एक को शान्ति मिलने से क्या होगा। हम तुमको 21जन्मों के लिए सदा सुखी बना सकते हैं। देवतायें इस भारत में ही सदा सुखी थे। अब वह राजधानी स्थापन हो रही है। यहाँ तो है ही माया का राज्य। शान्ति मिल नहीं सकती। शान्ति के लिए अलग जगह है, सुख के लिए अलग जगह है। सुखधाम माना सब सुखी। कोई एक भी दु:खी नहीं रहता। और दु:खधाम में फिर एक भी सुखी नहीं रहता। यथा राजा रानी तथा प्रजा यहाँ सब दु:खी ही दु:खी हैं। सुखधाम में तो जानवर भी कभी दु:खी नहीं होते। शान्ति की दुनिया अलग है, जिसको निर्वाणधाम कहते हैं। बुद्ध पार निर्वाण गया। परन्तु गया कोई भी नहीं है। अगर खुद चला गया फिर क्या करके गया। सब दु:खी ही दु:खी हैं। सब लड़ रहे हैं। बर्मा, सीलान बौद्धियों की है। वह भी कहते हिन्दू निकल जाएं। सहन नहीं कर सकते। अब बाबा भी देखते हैं अनेक धर्म हो गये हैं तो सहन नहीं कर सकते हैं, इसलिए सबको एकदम निकाल देते। सतयुग में सिर्फ एक धर्म रहता है। यह सब ज्ञान तुम बच्चों की बुद्धि में है। चित्र हाथ में उठाए वानप्रस्थियों की सर्विस करनी चाहिए। मन्दिरों में घुस जाना चाहिए। उन्हों से जाकर चिटचैट करनी चाहिए। शंकर के आगे शिवलिंग दिखाते हैं। तो जरूर वह शंकर से बड़ा हुआ ना! अगर शंकर भगवान का रूप है तो फिर उनके सामने शिवलिंग रखने की क्या दरकार है! यह सब सन्यासियों का फैलाव है, वह अपने को ब्रह्म ज्ञानी तत्व ज्ञानी कहलाते हैं। शिव का तो उन्हें पता भी नहीं है। ब्रह्म तत्व तो रहने का स्थान है। वे तो ब्रह्म और तत्व को एक नहीं मानते हैं। अच्छा ब्रह्म ज्ञानी, तत्व ज्ञानी हैं फिर अपने को शिव क्यों कहलाते हैं? वह तो समझते शिव भी एक ही है, ब्रह्म भी एक ही है। अगर एक ही है तो भला तीन नाम अलग-अलग क्यों किये हैं? शिव की तो लिंग रूप में पूजा होती है। ब्रह्म अथवा तत्व की पूजा किकस रूप में दिखलाई है? वह तो है रहने का स्थान। मनुष्य तो बहुत मूँझे हुए हैं। तुम बच्चों को अब होशियार होना है। सन्यासियों से भी कोई निकलेंगे, जो असुल देवी-देवता धर्म के होंगे वह झट उठा लेंगे। कोई 3-4 जन्मों से कनवर्ट हुए होंगे तो इतना जल्दी नहीं निकलेंगे। ताजे गये हुए होंगे तो झट निकलेंगे। बाबा में कशिश है ना। आत्मायें हैं सुई, बाबा है चुम्बक। अब सुईयों पर कट चढ़ी हुई है। कट वाली सुई ऊपर जाये कैसे। जंक वाली चीज़ घासलेट में डाली जाती है। बाबा इस ज्ञान अमृत से सबकी कट निकालते हैं, फिर हम सच्चा सोना बन जायेंगे। तुम पत्थरनाथ से अब पारसनाथ बनते हो। भारत पारसपुरी थी। अब सोने का दाम कितना चढ़ गया है। फिर वहाँ बहुत सस्ता हो जायेगा। अब यह भारत पत्थरपुरी बना है। फिर पारसपुरी बनेगा। हमारी बुद्धि में वह चक्र फिरता रहता है। सारा दिन चक्र बुद्धि में फिरेगा तब ही चक्रवर्ती राजे-रानी बनेंगे। दुनिया में इन बातों को कोई भी नहीं जानते हैं। तुम जानते हो सतयुग में जो राज्य करते उनके 84 जन्म, फिर त्रेता वालों के जरूर कम होंगे। कहाँ 84जन्म कहाँ 84 लाख दिखलाते हैं। फिर तो कल्प भी इतना लम्बा चाहिए, जो इतने जन्म हों। हैं सब गपोड़े। हमेशा पहले तो चित्र सामने दे देना चाहिए। पैसा तुम कभी नहीं मांगो। तुम्हारा काम है उनको देना। कुछ भी देना होगा तो आपेही देगा। कोई दाम पूछे तो बोलो बाबा तो गरीबनिवाज है। गरीबों के लिए तो फ्री है। बाकी साहूकार जितना देंगे उतना हम और भी छपायेंगे। पैसा कोई हम अपने काम में नहीं लगाते हैं। जो मिलता है वह औरों के ही काम में लगाया जाता है। साहूकार ही तो धर्मशाला आदि बनायेंगे ना। हाँ गरीब भी बना सकते हैं, इसमें खर्चा कुछ नहीं है। जैसे ककोड़ गांव की माता कहती है मैं सेन्टर खोलूँ। ऐसी गाडली युनिवर्सिटी में 3-4 ने भी अच्छा पद पा लिया तो अहो भाग्य उनका। इसमें फ्राकदिल होना चाहिए। बाबा देखो कितना फ्राकदिल है। कखपन ले और बादशाही दे देते हैं। सपूत बच्चे ही बाबा की सर्विस कर सकते हैं। कपूत क्या करेंगे। कपूत को थोड़ेही बाप वर्सा देंगे। तुमको भी सतगुरू का शो करना है। काम अथवा क्रोध में आये तो गोया सतगुरू की निंदा कराई फिर पद पा नहीं सकेंगे। बहुत सम्भाल करनी चाहिए।

तुमको सब धर्म वालों को समझाना है। मुसलमानों को भी समझाओ – तुम खुदा की बन्दगी करते हो तो जरूर बन्दे ठहरे। भला खुदा कहाँ है? खुदा ही रचयिता और रचना का नॉलेज बता सकते हैं। वह तो रहते हैं शान्तिधाम में। उनको याद करने से तुम शान्ति का वर्सा ले सकते हो। वर्सा लेते-लेते विकर्म विनाश हो जायेंगे और फिर तुम खुदा के पास चले जायेंगे। यह ज्ञान सब धर्मो के लिए है। यह है बिल्कुल नई बात। ज्ञान से तुम्हारा बेड़ा पार हो जाता है और कहीं जाने की दरकार ही नहीं रहती। तो मीठे बच्चे अब तुम स्वर्ग में चलते हो तो पवित्र जरूर बनना है। देखो भारत में पवित्रता नहीं है तो धक्के खाते रहते हैं। कितने हंगामें हैं – जो गांधी सिखलाकर गये हैं, प्रजा फॉलो कर रही है। मेहतर, मजदूर, ड्राइवर आदि स्ट्राइक करते हैं तो गवर्मेन्ट का दम ही नाक में चढ़ा देते हैं। गवर्मेन्ट उन्हों को साफ कह देती इतना खर्चा हम लायें कहाँ से। तो वह कहते तुम तो मौज उड़ाते हो, धन ही धन इकट्ठा करते रहते हो। हमने गुनाह थोड़ेही किया है, हमको तलब (पघार) चाहिए। स्ट्राइक कर लेते तो धंधा ठहर जाता है। यह सब होना ही है। कहाँ अनाज सब्जी नहीं मिलेगी, दूध नहीं मिलेगा। जहाँ तहाँ खिटपिट है। यह सब हंगामा होकर शान्ति होगी। अर्जुन को विनाश का और विष्णुपुरी का साक्षात्कार कराया है ना। तुमको भी अब हो रहा है। देखो तुम कितने लाडले बच्चे हो। बहुत जन्मों के अन्त में आकर मिले हो तो पूरा सौभाग्य लो।

(बारिश बहुत तेज पड़ रही थी) देखो बाबा की भी ज्ञान वर्षा बहुत हुई है तो उस बारिश की भी बहुत वर्षा हुई है। बारिश के लिए भी यज्ञ रचते हैं तो पीस के लिए भी यज्ञ रचते हैं, परन्तु पीसफुल तो एक भगवान है। वह जब आये तो शान्ति का ज्ञान देवे। देने वाला तो वही है ना। अच्छे बच्चों को टोलपुट कहा जाता है। मिठाई खिलाई जाती है वह जिस्मानी मिठाई, यह है रूहानी मिठाई जो रूहानी बाप देते हैं। देही-अभिमानी हो रहना बड़ी मंजिल है, इसमें मेहनत है। बाबा कहते 8 घण्टा तो देही-अभिमानी बनो। फिर भल शरीर निर्वाह अर्थ काम भी करो। रात को जागो तो बहुत अच्छी लगन लगेगी। कमाई है ना। हे नींद को जीतने वाले बच्चे मुझे श्वाँसों श्वाँस याद करो। विचार सागर मंथन करो। रात दिन जितना योग में रहेंगे, विकर्म विनाश होंगे। जितना-जितना ज्ञान का सिमरण करेंगे उतनी कमाई होगी। बाकी सर्विस तो बहुत है। बाबा से पूछेंगे तो बाबा कहेंगे बैठे रहो। आराम करो। इसमें पूछने की दरकार नहीं। बाबा ने लोकलाज कुल का कुछ ख्याल किया क्या! अरे बादशाही मिलती है। बाकी हाँ हरेक का अपना-अपना पार्ट है। फिर बाबा से पूछना है। हरेक को अपनी-अपनी राय पूछनी है क्योंकि हरेक का कर्मबन्धन अलग है। पैसे हैं तो अलौकिक सर्विस में सफल करने हैं। बच्चों को महावीर बनना है। गाया भी हुआ है मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई। वही सबका बाप है। शिवबाबा कहते हैं मैं सभी को वापिस ले जाने आया हूँ। बाप कहते हैं इस दुनिया में एक भी मनुष्य त्रिकालदर्शी आस्तिक नहीं हैं। सब नास्तिक हैं। बाप को न जानने वाले। बाकी रिद्धि सिद्धि वाले बहुत हैं। माया भी कोई कम नहीं है, इस माया पर ही जीत पानी है इसलिए कवच पड़ा रहे। कवच का अर्थ ही है मनमनाभव। शिवबाबा को याद करो, देही-अभिमानी बनो। इस अन्तिम जन्म में तुम एक ही बार देही-अभिमानी बनते हो। फिर सतयुग से कलियुग तक यह देही-अभिमानी बनने की शिक्षा कोई देता ही नहीं। इस समय ही देही-अभिमानी बनना पड़ता है क्योंकि अब शरीर छोड़ मेरे पास आना है। देवतायें देही-अभिमानी क्यों बनें, उनको वापिस थोड़ेही जाना है। यह ज्ञान अभी तुमको मिलता है। तुम अशरीरी थे फिर यह शरीर धारण कर पार्ट बजाया, अब फिर शरीर छोड़ वापिस जाना है। अपनी अवस्था को जमाना है। माया पर जीत पानी है। गृहस्थ व्यवहार में तो रहना है। हंस बगुले इक्ट्ठे रहते हैं तो विघ्न पड़ते हैं। असुरों के सितम भी बहुत सहन करने हैं। घर बैठे प्रण कर लेते हैं, बाबा कुछ भी हो जाए हम आपसे वर्सा तो जरूर लेंगे। कितनी मार खाते हैं। ड्रामा अनुसार यह पार्ट कल्प पहले भी चला था। जो बहुत सितम सहन करते हैं वही सौभाग्यशाली हैं। फिर भी आकर मिले हैं ना! उनकी प्रालब्ध तो बन गई ना। हाँ इसमें मेहनत है, असुर से देवता बनना है। जब तक जीते हैं ज्ञान अमृत पीना ही है। बाबा नई-नई बातें समझाते रहते हैं। युक्तियां बताते रहते हैं। इसको विचार सागर मंथन कहा जाता है। बुद्धि की मथानी चलानी चाहिए। रात को भी शिवबाबा को याद कर सो जाओ, सर्विस का शौक होगा तो उनको नींद थोड़ेही आयेगी। ख्यालात चलता रहेगा। इस प्वाइंट पर क्या-क्या समझायें। ज्ञान को अच्छी रीति अन्दर घोटना है। जब ज्ञान घिसेंगे तब ही राजतिलक लेने के लायक बनेंगे। जो तीखे-तीखे बच्चे हैं उन्हों को फॉलो करना चाहिए, बड़ी जबरदस्त कमाई है, जिनके पास लाख करोड़ हैं वे सब खलास हो जायेंगे। थोड़े टाइम में देखना क्या होता है। फिर मनुष्य जागेंगे। लड़ाई आदि की रिहर्सल होती रहेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी चीज़ में आसक्ति नहीं रखनी है। देही-अभिमानी होकर रहना है। याद का कवच सदा पहनकर रखना है।

2) नींद को जीत श्वाँसों श्वाँस बाप को याद करना है, ज्ञान का सिमरण कर कमाई जमा करनी है। बुद्धि की मथानी चलानी है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में सदा मेहनत से मुक्त रहने वाले सर्व प्राप्ति सम्पन्न भव
इस ब्राह्मण जीवन में दाता, विधाता और वरदाता – तीनों संबंध से इतने सम्पन्न बन जाते हो जो बिना मेहनत रूहानी मौज में रह सकते हो। बाप को दाता के रूप में याद करो तो रूहानी अधिकारीपन का नशा रहेगा। शिक्षक के रूप में याद करो तो गॉडली स्टूडेन्ट हूँ, इस भाग्य का नशा रहेगा और सतगुरू हर कदम में वरदानों से चला रहा है। हर कर्म में श्रेष्ठ मत-वरदाता का वरदान है। ऐसे सर्व प्राप्तियों से सम्पन्न रहो तो मेहनत से मुक्त हो जायेंगे।
स्लोगन:- बुद्धि का हल्कापन व महीनता ही सबसे सुन्दर पर्सनालिटी है।

TODAY MURLI 5 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 4 July 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_1]

 

 

05/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, break away from everyone else and have yoga with Me alone, the Supreme Soul, and you will come to My land and your final thoughts will lead you to your destination.
Question: What would those who make effort to stay in the stage of silence not like?
Answer: They would not even like the sound of a clock because there is no sound in your original world (the incorporeal world). This is why you make effort to go beyond sound. You have to become bodiless and stabilize yourself in your original religion. Together with remembering Baba, you have to remember Baba’s land.
Song: Listen to the complaint of the devotees!

 

Om shanti. God speaks: This is the yoga ashram and you are sitting here to accumulate yoga. The Supreme Soul is speaking to you souls through these organs. In remembrance of whom are you souls now sitting? The soul says: I am a soul and you are the same. All of us souls are sitting in remembrance of that Supreme Father, the Supreme Soul. Who taught this yoga? God speaks: I am the Father of all souls. I have become the Teacher in order to teach you yoga through this body. This is explained easily. It is said that when there is extreme defamation of religion, it is then that I come. These are the same versions of the previous cycle and are being repeated through a very ordinary body. It is said: These versions were spoken in the previous cycle too, and the Gita is written from these. So, when there is defamation of religion and when many other religions are also present and the name and trace of the deity religion has disappeared completely, those of the deity religion begin to call themselves Hindus. Though they worship the deities, they call themselves Hindus. It is as though the deity religion is replaced by the Hindu religion. This is known as defamation of religion. When the name and trace of that one deity religion disappears, many other religions, sects and cults emerge and replace it. This is the same Gita of the previous cycle that is being repeated. No one else can speak these versions of God. That same One comes once again and repeats these same elevated versions of the Gita. These elevated versions are not mentioned in any other scripture. God’s versions are mentioned in the Gita. God Himself explains. He says: When there are many religions and it is the end of the iron age, I come at the confluence of the cycles because the iron age is said to be tamopradhan and the golden age is said to be satopradhan. There, it is the kingdom of gods and goddesses established by the Supreme Father, the Supreme Soul, that is, it is the kingdom ruled by gods and goddesses. That too is on this stage. Vaikunth (paradise) is not another place somewhere else. There was the kingdom of deities in this same Bharat and it has now disappeared. It is said of the Supreme Soul: God is k nowledge-full. He alone is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Bliss and the Ocean of Happiness. No one, apart from Him, has this Godly knowledge. So, how can anyone else be called knowledgeable? He says: I have to come here to give this knowledge. Until He Himself comes and gives knowledge, no one can become knowledge-full. This Godly knowledge is called the philosophy through which souls are purified. Now, the question arises: Why have you come here? You have come here once again exactly as you did a cycle ago to receive Godly knowledge from God in order to be purified. In order to receive this knowledge, you will have to join this Godly school. No one else can give this Godly knowledge. They say that all of us have Godly knowledge in us. Which knowledge is that? They say that God is omnipresent. However, God says: That is false knowledge. I am not omnipresent. Whatever I am, however I am, I am revealed in front of you children. No one can know Me nor can anyone reach Me until I come and speak My knowledge to you. This is why I have to come and I come at the confluence of the cycles. That is all. When I come, there are many doctors of philosophy, holy men and great souls who give their knowledge. They all give knowledge, saying that they are God. On the one side, they say that God is one and on the other side, there are so many opinions of theirs; so whom should you believe? God has not given them directions, has He? On the one side, there is the one direction from God and on the other side, there are so many directions and this is when God says: I have to come and finish all the many directions there are and establish the one direction. This programme of every cycle is eternally fixed for Me. Other kings have a programme of perhaps eight to ten days, but God’s programme is eternally fixed in the Gita for cycle after cycle. He comes in the incognito form of Brahma, in the body of Brahma, and says: I establish that same land of Krishna where the holy gods and goddesses, king, queen and subjects live. He establishes that and then he (Brahma) takes birth there in the form of Krishna. He is telling you very clearly: Children, that same episode of the Gita is now repeating. Death is just ahead and you must therefore break away from everyone else, have yoga with Me, the Supreme Soul, alone and your final thoughts will lead you to your destination and you will come to My land. God sits in this body and says to His children, the souls: Sweet children, I have now come according to My eternal programme. Destruction is just ahead. Therefore, have yoga with Me, your Father, and forget all other relationships, that is, extinguish all other lamps (deepaks) and ignite the one deepak and I will liberate you from your sins and make you sit with Me. God Himself is speaking through this body and explaining so easily. He says: You can go home and have yoga; everyone has to return home. It is not that only those who are old will return; all the children will also go back. Look, when the bomb was dropped on Japan, young, old, animals and birds were all killed. Or, was it just the old people who died? That was just a small rehearsal. Now, many improvements are being made. You see that, do you not? The bombs are readyHistory will definitely repeat. So, remember Me, God, and no one else, just as Meera only remembered one Girdhar (Krishna). She renounced the opinion of society and her clan. You have to remember Me, God, in the same way. Renounce remembering your maternal and paternal uncles etc. All of those are bondages of the iron age. Only by having yoga with Me can you meet Me. When you consider yourself to be a child and have yoga with Baba, you will then have that happiness. However, if you have any wrong type of yoga, you cannot have that happiness. Many come here and say that they cannot control their minds or that they cannot experience bliss. The Supreme Soul is the Ocean of Bliss, and so how could you experience bliss if you do not have yoga with Him? Everyone has received an intellect according to their past karma. What can God do about that? God is teaching everyone at the same time. Some study here and then begin to teach at the same time. Some are just confused in the first lesson and so this too is a miracle of the intellect. In the same class, some claim the first number and others fail. Why? Because everything depends on the intellect. What can God do about that? If He were to give a sharp intellect to everyone, everyone would claim number one. When there are bad omens over someone, then, no matter how much medicine you give him, it has no effect; yet when it is time for the omens to be removed, the illness will then be cured with very little medicine. So, when the time comes, the intellects of some will be touched by these points. At the moment, some do not listen, but, as you progress further, they will begin to listen. We have to remain content with this. God’s coming and going and His method of telling you knowledge is unique.

Second murli: Om shanti. There mustn’t even be the sound of a clock because it is now our stage of retirement, that is, it is our stage of being beyond sound. We go beyond sound to the incorporeal world where souls reside. There are no words there. There is supreme silence there. So, we are making effort to reach that stage of silence and we therefore do not like sound. There is no sound in that original land and we are therefore making effort to go into the stage of retirement, that is, the stage beyond sound. Retirement means to go to the land of nirvana where the souls of myself, you and the whole world reside. This corporeal world is the stage for us to play our part s. However, we go and reside there in the sweet silence home without a part. This corporeal play takes place under the element of the sky whereas the world of us souls is the great element which is a world very far away. Those who sit and have yoga with that world of silence do not like the sound of even a clock. This is known as being stable in your original religion of the self, that is, to remain bodiless. This means to remember the land of your Baba together with Baba because our Baba is the Resident of that faraway place. He comes from there into this foreign land. Why does He come to the foreign land? He comes to establish His kingdom and He comes in an incognito form. His part is incognito. Just as your body is old, similarly, the Supreme Father, the Supreme Soul, says: I too have to enter this old body to destroy this old world and to establish the new deity world. Those who come into the old home will also definitely have to take old bodies. How can there be new divine bodies here? So, that One is also in this one’s old body and He establishes the kingdom of Shri Krishna through this body. So, whoever first comes to this one has a vision of that Vaikunth (Paradise). You see the divine activities and dancing of Vaikunth, that is, you have a vision of Vishnu because if you were to have a vision of the Supreme Soul, you would not be able to understand what that is because no one knows that Father or that He is God. Although people worship Him, no one knows Him. They say that God is omnipresent and that everyone is God. No one knows the occupation of a Shivalingam, that that is our Supreme Father who adopts the three forms in order to carry out the three tasks of creation, sustenance and destruction. He comes at this time and tells us His occupatio n. He says: Those who want to become heirs to the kingdom of Vaikunth should come to Me and become My children. I will make them completely viceless and take them to My kingdom. He comes here to purify all the dirty souls and even matter becomes pure through this. There, the souls as well as the five elements are pure. That is the deity world and so what can you say? At this time, the philosophy of deityism has disappeared. No one knows that the deity world existed here. They believe that the deities used to reside somewhere up in the sky, but their images are here, their history is here and so they must definitely have existed here. This world continues all the time; annihilation never takes place. When destruction takes place, all souls go back, and the deity religion is established here. When you have grain, you don’t eat all of it, you eat most of it but keep some behind for sowing again. Where else would you get the seeds from? If annihilation were to take place, then all the grain would also finish. Then, from where would you get grain to sow for the next crop? So, just as grains are eternal, so human beings are the same. So, it is as though God saves some seeds and takes everyone back home through which the world then grows. God also says: I destroy the innumerable religions and establish the one religion. He doesn’t say that He brings about annihilation. This is the final birth of everyone and no one will then take birth in the land of death. Everyone will return home and a few seeds will be left and they will gradually increase, then there will be 330million gods and goddesses by the end of the silver age. Then the other religions continue to come, numberwise. They too continue to increase gradually. It is Almighty Baba who comes and tells you the secrets of this drama and this is therefore called Godly knowledge. Nowhere else will you get this knowledge. No matter how much you tour around, no one has this knowledge. It is only here that you can receive this knowledge at this time when God is creating His deity genealogical tree. God says: If you wish to come into My royal clan, then surrender that body to Me. I will then purify you to be like Me and take you to Vaikunth. You know that Baba has come at this time and that He will come again after a cycle. He will not come again and again. He says: Children, I have come to make you clean and holy. Those who are viceless are said to be holy. Those who continue to drink and smoke cannot be called holy. Baba becomes the Guru and teaches you and He becomes the Father and looks after you. You receive double bless ings, that is, blessings from that One –from the Guru and from the Father. You are receiving the inheritance from both. That Almighty Baba is carrying out your physical and subtle sustenance through this body and He therefore says: Surrender yourself to this One. He will purify you with the nectar of knowledge and take you back. This is known as dying alive, but this is a very sweet death because you go into the lap of your true Baba. He explains so well! How much more can He explain! Even then, He finally says: Manmanabhav! Madhyajibhav! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become an heir to the kingdom of Vaikunth, you have to become a child here and become completely viceless.
  2. In order to enter the royal clan, surrender that body to God and become as pur e as the Father.
Blessing: May you be a true Vaishnav and experience the elevated stage of purity by becoming completely pure.
The definition of “complete purity” is very elevated and easy. “Complete purity” means impurity does not touch your mind or intellect even in your dreams. This is known as being a true Vaishnav. You may be numberwise effort-makers but the aim of effort is to be completely pure and this too is easy because you have with you the Almighty Authority Father who makes the impossible possible.
Slogan: An easy yogi is one who makes effort in an entertaining way instead of using force or laboring.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 3 July 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 5 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 July 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 4 July 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_1]

 

05/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सभी संग तोड़ मुझ एक परमात्मा से योग लगाओ तो तुम मेरी पुरी में आ जायेंगे, अन्त मते सो गति हो जायेगी”
प्रश्नः- जो साइलेन्स अवस्था में जाने का पुरुषार्थ करते हैं, उन्हें क्या अच्छा नहीं लगता?
उत्तर:- उन्हें घड़ी का आवाज भी अच्छा नहीं लगता क्योंकि स्वदेश (इनकारपोरियरल वर्ल्ड) में कोई भी आवाज नहीं है इसलिए तुम वाणी से परे जाने का पुरुषार्थ करते हो। तुम्हें अशरीरी हो अपने स्वधर्म में टिकना है। बाबा के देश को बाबा सहित याद करना है।
गीत:- भक्तों की फरियाद सुनो…

ओम् शान्ति। भगवानुवाच यह है योग आश्रम, तुम यहाँ बैठे हो योग कमाने – यह परमात्मा तुम आत्माओं से इन आरगन्स द्वारा बात कर रहे हैं। तुम आत्मायें अभी किसकी याद में बैठे हो? आत्मा कहती हैं अहम् आत्मा ततत्वम्, हम सब आत्मायें उस परमपिता परमात्मा की याद में बैठे हैं, यह योग किसने सिखाया?

भगवानुवाच मैं सभी आत्माओं का पिता हूँ अथवा फादर हूँ, मैं इस शरीर द्वारा तुमको योग सिखलाने के लिये टीचर बना हूँ। यह तो सहज समझाते हैं कहते हैं जब जब अति धर्म ग्लानि होती है तब मैं आता हूँ, यह वही कल्प पहले वाले महावाक्य अति साधारण शरीर द्वारा रिपीट हो रहे हैं। कहते हैं कल्प पहले भी यही महावाक्य उच्चारे थे जिसकी गीता बनी हुई है। तो जब धर्म ग्लानि होती है अथवा अनेक धर्म आए उपस्थित होते हैं और देवता धर्म का एकदम नाम निशान गुम हो जाता है, देवता धर्म वाले अपने को हिन्दू कहलाने लग पड़ते हैं। भल पूजते देवताओं को हैं लेकिन कहलाते अपने को हिन्दू हैं, जैसे देवता धर्म के बदले हिन्दू धर्म रिप्लेस हो जाता है, इसको कहते हैं धर्म ग्लानि। जब वह एक दैवी धर्म का नाम निशान गुम हो जाता है उसके बदले अनेक धर्म, मठ, पंत निकल पड़ते हैं। यह वही कल्प पहले वाली गीता रिपीट हो रही है… यह भगवानुवाच दूसरा तो कोई कह नहीं सकता। वही आकर फिर वही गीता के महावाक्य रिपीट कर रहे हैं। यह महावाक्य और कोई शास्त्रों में नहीं हैं। गीता में है भगवानुवाच, भगवान खुद समझाते हैं कहते हैं जब अनेक धर्म हो जाते हैं, कलियुग की अन्त आकर पहुँचती है तब कल्प के संगम पर मैं आता हूँ क्योंकि कलियुग को कहा जाता है तमोप्रधान, सतयुग है सतोप्रधान। जहाँ परमपिता परमात्मा का गॉड गॉडेज राज्य अथवा देवी देवताओं का राज्य चलता है। वह भी इस ही स्टेज पर चलता है, वैकुण्ठ कोई दूसरी जगह नहीं है। इस ही भारत में देवी देवताओं का राज्य था जो अब प्राय: लोप हो गया है। परमात्मा को कहते हैं गॉड इज़ नॉलेजफुल, वह एक ही ज्ञान का सागर, आनंद का सागर, सुख का सागर है उसके सिवाए और कोई में गॉडली ज्ञान है ही नहीं। तो दूसरा कोई को ज्ञानी कैसे कह सकते हैं? वह कहते हैं कि यह नॉलेज देने के लिये मुझे ही आना पड़ता है। जब तक वह स्वयं आकर नॉलेज न देवे तब तक कोई नॉलेजफुल बन नहीं सकता। उस गॉडली नॉलेज को ही फिलासॉफी कहा जाता है, जिससे सोल को प्यूरिफाय बनाते हैं।

अब प्रश्न उठता है कि तुम यहाँ किसलिए आते हो? तुम वही कल्प पहले मुआफिक फिर आये हो गॉड से गॉडली नॉलेज प्राप्त कर प्यूरीफाइड बनने के लिये। यह नॉलेज प्राप्त करने के लिये इस गॉडली स्कूल में ज्वाइन्ट होना पड़ेगा, दूसरा कोई तो गॉडली नॉलेज दे नहीं सकता। वो कहते हैं हम सबमें गॉडली नॉलेज है, कौनसी नॉलेज है? कह देते ईश्वर सर्वव्यापी है। लेकिन परमात्मा कहते हैं कि यह मिथ्या ज्ञान है, मैं तो सर्वव्यापी नहीं हूँ। मैं तो जो हूँ, जैसा हूँ तुम बच्चों के आगे प्रत्यक्ष होता हूँ, जब तक मैं अपना ज्ञान स्वयं आकर न सुनाऊं तब तक मुझे कोई जान नहीं सकता और न कोई मेरे पास पहुँच सकता इसलिए मुझे आना पड़ता है और मैं आता हूँ कल्प के संगम पर, बस। और जब मैं आता हूँ तब यह ज्ञान देने वाले डॉक्टर ऑफ फिलासाफी साधू महात्मा बहुत हैं, वह भी यही ज्ञान देते हैं कि हम सब परमात्मा हैं। अब एक तरफ कहते हैं परमात्मा एक है, दूसरे तरफ उन्हों की अनेक मतें अब किसको मानना चाहिए? उन्हों को गॉड ने तो मत नहीं दी ना! एक तरफ है गॉड की एक मत, दूसरे तरफ इतनी अनेक मतें, तब परमात्मा कहता है इतने सब अनेक मत को खलास कर एक मत स्थापन करने मुझे आना पड़ता है। कल्प कल्प का यह प्रोग्राम मेरा अनादि नूँधा हुआ है। दूसरे किंग आदि का तो 8-10 दिन का प्रोग्राम रखते हैं लेकिन परमात्मा का तो कल्प कल्प का प्रोग्राम अनादि गीता में नूँधा हुआ है। ब्रह्मा के गुप्त वेष में, ब्रह्मा तन में आकर कहते हैं कि मैं वही कृष्णपुरी स्थापन करता हूँ, जहाँ होली गॉड गॉडेज राजा रानी तथा प्रजा होते हैं, तो वह स्थापन कर फिर कृष्ण के रूप में वहाँ जन्म लेते हैं। यह तो बिल्कुल साफ बता रहे हैं बच्चे, अब वही गीता का एपीसोड रिपीट हो रहा है। मौत है सामने इसलिये सभी संग तोड़ मुझ एक परमात्मा से योग लगाओ तो अन्त मते सो गते होगी, तुम मेरी पुरी में आ जाओगे। परमात्मा इस तन में बैठ अपने बच्चों आत्माओं को कहता है मीठे बच्चे, मैं अपने अनादि प्रोग्राम प्रमाण आया हूँ। अब विनाश सामने है इसलिए मुझ बाप से योग लगाओ और सभी सम्बन्धियों को भूल जाओ अथवा सब दीवे बुझाकर एक दीवा जगाओ तो मैं तुमको पापों से मुक्त कर अपने पास बिठा दूँगा। इस तन द्वारा स्वयं परमात्मा बोल रहे हैं, कैसा सहज समझाते हैं, कहते हैं भल घर में जाकर योग लगाओ, वापस तो सबको जाना है, ऐसे तो नहीं कि सिर्फ बूढ़े जायेंगे, बच्चे बच जायेंगे। देखा, जापान में बॉम्ब छोड़ा तो छोटे बड़े जानवर पंछी सब मर गये, या सिर्फ बूढ़े मर गये? वह तो छोटी रिहर्सल थी, अभी तो बहुत इप्रुवमेन्ट हो रही है, देख रहे हो ना! बॉम्बस तैयार हैं, हिस्ट्री रिपीट अवश्य होगी। तो तुम मुझ परमात्मा को याद करो, दूसरा न कोई। जैसे मीरा को एक गिरधर ही याद था और सब लोकलाज कुल की मर्यादा छोड़ दी, वैसे ही तुम मुझ परमात्मा को याद करो दूसरे जो मामा, चाचा याद पड़ते हैं, उसका सन्यास करो। यह सब कलियुग के बन्धन है। तुम मेरे से योग लगाने से ही मेरे से मिल सकते हो। जब अपने को बच्चा समझें, बाबा से योग लगायें तब वो खुशी आवे लेकिन उल्टा योग लगाते तो वह खुशी नहीं आती। यहाँ बहुत आते हैं कहते हैं हमारा मन वश नहीं होता, वह आनंद नहीं आता। अब आनंद का सागर तो परमात्मा है उनसे योग लगाते नहीं तो आनंद कैसे आयेगा! पास्ट कर्मों अनुसार सबको अपनी-अपनी बुद्धि मिली हुई है, इसमें परमात्मा क्या करे? परमात्मा तो सबको इकट्ठा पढ़ाते हैं, कोई तो यहाँ ही पढ़कर फिर पढ़ाने लग पड़ते हैं, कोई तो पहली पोथी में ही मूँझे हुए हैं तो यह भी बुद्धि का चमत्कार है, क्लास में भी कोई पहला नम्बर आते, कोई फेल होते हैं, क्यों? क्योंकि बुद्धि पर सारा मदार रहता है। इसमें परमात्मा क्या करे? सबकी तीक्ष्ण बुद्धि करे तो सभी पहला नम्बर आ जायें।

जब कोई पर ग्रहचारी होती है तो कितनी भी दवाई करो उसका असर नहीं होता, और जब उतरने का टाइम आता है तो मिट्टी-चपटी से भी बीमारी ठीक हो जाती है। तो जब समय आयेगा तो यह प्वाइंटस भी किसकी बुद्धि को टच हो जायेंगी, अभी कई नहीं सुनते हैं, आगे चल सुनने लग पड़ेंगे इसमें हमको राज़ी रहना पड़ता है। परमात्मा के आने जाने, ज्ञान सुनाने की गति ही न्यारी है।

दूसरी मुरली – ओम शान्ति। घड़ी का भी आवाज़ नहीं चाहिए, क्योंकि अभी हमारी वानप्रस्थ अर्थात् वाणी से परे अवस्था है। हम वाणी से परे जाते हैं इनकारपोरियल वर्ल्ड जहाँ आत्मायें रहती हैं, वहाँ वाणी नहीं है, सुप्रीम साइलेंस है तो इस साइलेंस अवस्था में पहुंचने का पुरुषार्थ करते हैं इसलिए आवाज़ अच्छा नहीं लगता। उस स्वदेश में आवाज़ नहीं होता है इसलिये वानप्रस्थ अर्थात् वाणी से परे जाने के लिये हम पुरुषार्थ करते हैं। वानप्रस्थ का अर्थ ही है निर्वाण देश में जाना। जहाँ हम तुम और सारी दुनिया की सोल्स निवास करती हैं। यह कार्पोरियल वर्ल्ड तो है पार्ट बजाने के लिये स्टेज। बाकी बिगर पार्ट वहाँ स्वीट साइलेंस होम में जाकर निवास करते हैं। यह साकार खेल चलता है आकाश तत्व में और हम अहम् आत्माओं का देश है महतत्व में, वह बहुत दूर देश है। तो जो उस साइलेंस देश से योग लगाए बैठते हैं, उनको घड़ी का आवाज़ भी अच्छा नहीं लगता, इसको कहा जाता है अपने असली स्वधर्म में टिकना अथवा अशरीरी हो रहना अर्थात् अपने बाबा के देश को बाबा सहित याद करना क्योंकि अपना बाबा है उस दूर देश का रहने वाला, वहाँ से आता है इस पराये देश में, पराये देश में क्यों आता है? अपनी बादशाही स्थापन करने और गुप्त वेश में आता है। उनका पार्ट है इनकागनीटो, जैसे तुम्हारा यह पुराना शरीर है, परमपिता परमात्मा कहता है मुझे भी पुराने शरीर में इस पुरानी सृष्टि का विनाश कर नई दैवी सृष्टि स्थापन करने आना पड़ता है। तो पुराने घर में जो आयेगा तो जरूर शरीर भी पुराना लेना पड़ेगा ना। यहाँ नया दिव्य शरीर आये कहाँ से, तो वो भी है इनका पुराना तन, जिस तन से श्रीकृष्ण की राजधानी स्थापन करते हैं। तो इनके पास जो आते हैं उनको पहले साक्षात्कार भी उस वैकुण्ठ का होता है। वैकुण्ठ की बाल-लीला रास-लीला देखते हैं अथवा विष्णु का साक्षात्कार करते हैं क्योंकि अगर सुप्रीम सोल का साक्षात्कार कराए तो वह समझ नहीं सकेंगे कि यह क्या चीज़ है क्योंकि उस बाप का तो कोई को पता नहीं है कि यह कोई परमात्मा है। भल पूजा करते हैं लेकिन जानते कोई नहीं। वो तो कहते हैं परमात्मा सर्वव्यापी है, तो सब परमात्मा हो गये। बाकी शिवलिंग के आक्यूपेशन का तो कोई को पता नहीं कि यह हमारा परमपिता है जो आकर स्थापना विनाश पालना करने अर्थ तीन रूप धारण करते हैं। वह तो इसी समय आकर अपना आक्यूपेशन बताते हैं और कहते हैं जिसको वैकुण्ठ की बादशाही का वारिस बनना हो वो यहाँ आकर मेरा बच्चा बनें। मैं उनको सम्पूर्ण निर्विकारी बनाए अपनी राजधानी में ले जाऊंगा। यह आता ही है सभी मैली सोल्स को प्यूरीफाई बनाने, इससे प्रकृति भी पवित्र बन जाती है। वहाँ तो सोल्स भी प्युअर तो पाँच तत्व भी प्युअर होते हैं। है ही डीटी वर्ल्ड तो फिर क्या, इस समय वह डिटीज्म की फिलोसॉफी गुम हो गयी है। कोई को पता नहीं कि डीटी वर्ल्ड भी यहाँ थी। वो समझते हैं कि ऊपर आकाश में कहाँ देवतायें रहते हैं लेकिन उनके चित्र यहाँ हैं, हिस्ट्री यहाँ है तो जरूर यहाँ हो गये हैं। यह दुनिया तो सदा चलती रहती है। प्रलय तो कब होती नहीं है, जब विनाश हो जाता तो सभी सोल्स चली जाती हैं, बाकी दैवी धर्म यहाँ स्थापन हो जाता है। जैसे अनाज होता है तो सब नहीं खाया जाता है, बहुत खाया जाता है थोड़ा बहुत बचाया जाता है, बोने के लिये। नहीं तो बीज कहाँ से आवे? अगर प्रलय हो जाये तो अनाज भी खलास हो जावे। फिर बोने के लिये अनाज कहाँ से आवे जो दूसरा निकलें। तो अनाज भी जैसे अनादि है ही तो मनुष्य भी हैं ही। तो परमात्मा जैसे कुछ बीज बचाए बाकी सबको ले जाते हैं जिससे फिर सृष्टि की वृद्धि होती है। परमात्मा भी कहता है मैं अनेक धर्म विनाश कर एक धर्म स्थापन करता हूँ, ऐसे तो कहते नहीं कि मैं प्रलय कर देता हूँ। यह सबका अन्तिम जन्म है फिर मृत्युलोक में कोई का जन्म नहीं होगा। सब चले जायेंगे। उसमें थोड़े बीज बच जाते हैं जिससे धीरे-धीरे बढ़कर त्रेता के अन्त तक 33 करोड़ देवी-देवतायें होते हैं। फिर दूसरे धर्म नम्बरवार आते जाते हैं, उनमें भी ऐसे ही धीरे-धीरे वृद्धि होती जाती है, यह ड्रामा का राज़ भी तुमको आलमाइटी बाबा ही आकर बताते हैं इसलिये इसको कहा जाता है गॉडली नॉलेज। दूसरा कहीं भी यह नॉलेज तुमको नहीं मिलेगी। भल कितना भी घूमो, किसको इस नॉलेज का पता ही नहीं है। वो बस, इसी समय ही तुमको यहाँ मिल सकता है। जहाँ परमात्मा अपना दैवी सिजरा बना रहे हैं, परमात्मा कहते हैं अगर मेरे रॉयल घराने में आना है तो इस तन को मेरे हवाले कर दो। तो मैं आप समान प्युरीफाई बनाए वैकुण्ठ ले जाऊंगा। यह तो जानते हो बाबा अभी आये हैं फिर कल्प बाद आयेंगे। घड़ी घड़ी तो नहीं आयेंगे कहते हैं बच्चे, हम आये हैं तुमको स्वच्छ होली बनाने लिये। वाइसलेस को ही होली कहा जाता है। बाकी यह जो बीड़ी, शराब आदि पीते रहते हैं उनको होली नहीं कह सकते। तुमको तो बाबा गुरू बनकर पढ़ाते भी हैं, तो बाप बनकर सम्भाल भी करते हैं, तुमको इनसे डबल आशीर्वाद मिलती है – गुरू की भी तो बाप की भी, दोनों का वर्सा तुम ले रहे हो। वो आलमाइटी बाबा इस तन द्वारा तुम्हारी स्थूल सूक्ष्म परवरिश करते रहते हैं इसलिए कहते कि इसके हवाले कर दो। तो ज्ञान अमृत से प्युरीफाई बनाए ले चलेगा, इसको कहा जाता है जीते जी मरना लेकिन यह तो बहुत मीठा मौत है जो अपने असली बाबा की गोद में आ जाता है। कितना अच्छा समझाए कितना समझायें। फिर भी कह देते हैं मनमनाभव मध्याजीभव। अच्छा! मीठे मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात पिता बापदादा का याद प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) वैकुण्ठ की बादशाही का वारिस बनने के लिए यहाँ बच्चा बन सम्पूर्ण निर्विकारी बनना है।

2) रॉयल घराने में आना है तो यह तन परमात्म हवाले कर बाप समान प्युरीफाई बनना है।

वरदान:- सच्चे वैष्णव बन पवित्रता की श्रेष्ठ स्थिति का अनुभव करने वाले सम्पूर्ण पवित्र भव 
सम्पूर्ण पवित्रता की परिभाषा बहुत श्रेष्ठ और सहज है। सम्पूर्ण पवित्रता का अर्थ है स्वप्न-मात्र भी अपवित्रता मन और बुद्धि को टच नहीं करे-इसी को कहा जाता है सच्चे वैष्णव। चाहे अभी नम्बरवार पुरूषार्थी हो लेकिन पुरूषार्थ का लक्ष्य सम्पूर्ण पवित्रता है और यह सहज भी है क्योंकि असम्भव से सम्भव करने वाले सर्वशक्तिमान् बाप का साथ है।
स्लोगन:- सहजयोगी वह है जो हठ वा मेहनत करने के बजाए रमणीकता से पुरूषार्थ करे।

 

[wp_ad_camp_1]

 

To Read Murli 3 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 1 July 2017 :- Click Here

 
Font Resize