today murli 5 january

TODAY MURLI 5 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 January 2019 :- Click Here

05/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, consider yourselves to be souls and speak to your brother souls. Make your vision so firm that no evil spirits enter you. When you see that there is an evil spirit in someone, step away from that person.
Question: How do children become atheists and theists even after belonging to the Father?
Answer: 1) Theists are those who follow the Godly disciplines and who make effort to remain soul conscious. Atheists are those who are influenced by evil spirits against the Godly disciplines and fight and quarrel amongst themselves. 2) Theist children break their intellects’ yoga away from their bodies and bodily relations, including friends and relatives, and consider themselves to be brothers. Atheist children remain body conscious.

Om shanti. First of all, the Father explains to you children: O children, your intellects should always remember that Shiv Baba is your Supreme Father, SupremeTeacher and Supreme Satguru. This should definitely enter your intellects first. Each of you can know whether this has entered your intellect or not. If there is remembrance in your intellect you are a theist and if it doesn’t enter your intellect you are an atheist. It would instantly enter the intellects of students that their teacher has come. When you live at home, you forget this. Hardly anyone understands with that spiritual intoxication that their Supreme Baba has come. He is the Teacher and also the Satguru who takes you back home. When you remember this, the mercury of your happiness rises. Otherwise, you remain sitting in the various thoughts of the dirty world of pain and sorrow. Secondly, people ask you how long it is before destruction is to take place. Tell them: This is not a question to ask. First of all, know the One who explains this to us. First of all, give them the Father’s introduction. If you have this habit instilled in you, you will explain to them, otherwise you forget. The Father tells you so much to consider yourselves to be souls and to look at others with soul-conscious vision. However, you are unable to maintain that vision. This hardly sits in your intellects; not even a pennyworth out of a pound. It is as though it just doesn’t sit in your intellects. It is not that the Father is cursing you. The Father is explaining to you that this knowledge is very elevated. A kingdom is being established; from poor you are becoming wealthy. Only a few become wealthy, and the poor are numberwise. Nothing would ever sit in the intellects of those who are the last number. So, first of all, when you explain to anyone, first explain to them using the picture that shows the 32 virtues of Shiv Baba. It is also written on that, that the Supreme Father is also the Supreme Teacher and the Satguru. When you first have the faith that the One who is explaining to you is the Supreme Father, you won’t have any doubts. No one except the Father can carry out this establishment. When you explain that establishment is taking place, it should definitely enter their intellects that there is someone who is explaining all of this to you. No human being can say that a kingdom is being established. So, first of all, make them have firm faith in the Father. God, the Father, is teaching us. These are not human dictates; these are God’s directions. The new world would definitely be established by the Father. To bring about destruction of the old world is also the Father’s task. Until they have this faith, they will continue to ask: How does this take place? This is why you must first make the aspect of shrimat sit in their intellects, for only then can they understand anything further. Otherwise, they consider these to be the dictates of human beings. The dictates of every human being are different. There cannot be only one direction from human beings. At this time, it is only the One who gives you directions. It is very difficult to follow His shrimat accurately. The Father says: Become soul conscious. Consider yourself to be speaking to your brothers and there won’t then be any fighting or quarrelling. When someone becomes body conscious, consider that one to be an atheist. If someone isn’t soul conscious, he is an atheist. If someone becomes soul conscious, consider that one to be a theist. Body consciousness is very damaging. If there is the slightest fighting or quarrelling, consider that one to be an atheist. They don’t know the Father at all. If there is the evil spirit of anger, that one is an atheist. How could the children of the Father have evil spirits in them? They are not theists. No matter how much they say that they love the Father, if they speak in a way which is against the Godly disciplines, they should be considered to belong to the community of Ravan; they are body conscious. If you see an evil spirit in anyone, or if someone’s vision is evil, you should move away from that one. If you stand in front of an evil spirit, that evil spirit will enter you. Evil spirits fight amongst themselves. If an evil spirit enters someone, that one becomes a complete atheist. Deities are full of all virtues, whereas those who don’t have those virtues are atheists. Atheists will not claim the inheritance. There should not be the slightest defect, otherwise a lot of punishment will have to be experienced and you will have to become part of the subjects. You should remain distant from evil spirits. If you stand there facing the evil spirits, the evil spirits will come. You should never oppose an evil spirit. You mustn’t talk to them too much either. The Father says: This is the world of evil spirits. If the evil spirits haven’t left you, punishment will have to be experienced and you won’t be able to claim a status. There is just the one war. Some become wealthy and others become poor. There was the world of wealthy ones and it is now the world of poor ones. There is an evil spirit in everyone. You should make full effort to remove the evil spirits. Baba explains to you a great deal in the murli. There are all types of nature, don’t even ask! So, in the exhibition, you first of all have to give the Father’s introduction. The Father is so lovely. He is making us into such deities. It is sung: It didn’t take God long to change humans into deities. The deities existed in the golden age and so, surely, there was the iron age before that. You children now have the knowledge of the world cycle in your intellects. The deities there won’t have this knowledge. You are now becoming knowledge-full and then, when you have received a status, there will be no need for this knowledge. This is the unlimited Father from whom you receive the inheritance of heaven for 21 generations. So, you should remember such a Father so much. Baba always explains: Always think that it is Shiv Baba who is explaining to you. Shiv Baba is teaching us through this chariot. He is our Father, Teacher and Guru. This is an unlimited study. You understand that you previously had degraded intellects. No one knows about this college at all. Therefore, when you explain to others, explain it very clearly by grinding it into them. There is no question of Krishna in this. The Father has explained that there are no divine activities of Krishna. These are only Shiv Baba’s. There cannot be any divine activities of even Brahma, Vishnu or Shankar. The divine activities are those of only the One who changes human beings into deities. He makes the world into heaven. You are following the elevated directions of that Father; you are the Father’s helpers. If it weren’t for the Father you would not be able to do anything. You are now becoming worth a poundfrom being not worth a penny. You have now come to know everything, numberwise, according to the effort you make. So, first of all, there is the Father’s introduction. Krishna was a small child. In the golden age, there was his unlimited sovereignty. There was no one else or no other religion in his kingdom. It is now the iron age and there are so many religions. It is in no one else’s intellect when this one original eternal deity religion was established. This too is in the intellects of you children, numberwise, according to your efforts. So, first of all, you should explain the Father’s praise very clearly. We know that we have definitely received this recognition from the Father. The Father says: I am also the Bestower of Salvation for All. I advise you children every cycle: Consider yourselves to be souls and remember Me and you souls will become pure from impure. May you be soul conscious! By considering others to be souls, you will not have a criminal eye. It is the soul that performs actions through the body: I am a soul, that one is a soul. You have to make this firm. You know that you were 100% pure in the beginning and that you then became impure. It is souls that call out: O Baba, come! The awareness of the soul has to be firm and you should forget all other relations. I, the soul, am a resident of the sweet home. I have come here to play a part. Only you children understand this. You too are numberwise in remembering Him. God is teaching you and so there should be so much happiness. God is our Father, Teacher and also our Satguru. You say that you don’t remember anyone except Him. The Father says: Break away from your body and your bodily relations and constantly remember Me alone. All of you are brothers. Some believe this whereas others don’t. So, consider them to be atheists. We are Shiv Baba’s children and so we should be pure. You call out to the Father: Baba, come and make us into the masters of the pure world. In the golden age, there is no question of becoming pure. First of all, understand that that One is Shiv Baba and that the new world is being established through Him. If people ask when destruction is to take place, tell them: First of all, understand Alpha. If you don’t understand Alpha, how would anything else enter your intellect? We children of the true Father speak the truth. We are not children of human beings; we are Shiv Baba’s children. God speaks. God is the One who is the Father of all brothers. Human beings cannot call themselves God. God is incorporeal. He is the Father, Teacher and Satguru. No human being can be the Father, T eacher and Satguru. No human being can grant salvation to anyone. Human beings cannot be God. Baba is the Purifier. It is Ravan who makes you impure. All the rest of them are gurus of the path of devotion. You understand that those who come here become theists. They come to the unlimited Father and have the faith that that One is our Father, Teacher and Guru. When you have developed all the divine virtues completely, the war will begin. According to the time, you yourselves will understand that you are reaching the karmateet stage. You have not reached your karmateet stage yet. There is now a lot of work to do. You have to give the message to many. Everyone has the right to claim the inheritance from the Father. The war will begin very forcefully. Then these hospital s and doctors etc. will not remain at all. The Father is personally explaining to you children: You souls play your parts of 84 births through bodies. Some will take 70 or 80 births. Everyone has to go back. Destruction has to take place. Impure souls cannot return home. In order to become pure, you definitely have to remember the Father. This requires effort. You have to become residents of heaven for 21 births. This is not a small thing. People say that so-and-so has become a resident of heaven. Oh, really? But where is heaven? They don’t understand anything at all. You children should remain very happy: God is teaching us and making us into the masters of the world. One is permanent happiness and the other is temporary happiness. If you don’t study or teach others, how can there be happiness? You have to chase away the devilish traits. The Father explains so much. There is so much suffering of karma. For as long as there is the suffering of karma, it indicates that you haven’t yet reached your karmateet stage. You now have to make effort. No storms of Maya should come. You children have the faith that the Father has changed you from human beings into deities many times. Even if this much enters your intellect, it is great fortune. This is an unlimited school. Those other schools are small limited schools. The Father feels a lot of mercy: How can I explain to them? The evil spirits haven’t yet been removed from some. Instead of climbing on to the heart throne, they fall. Many daughters are becoming ready to bring benefit to many. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t do anything against the Godly disciplines. If there is an evil spirit in someone, or if he has evil vision, move away from that person. Don’t talk to that person too much.
  2. In order to experience permanent happiness, pay full attention to the study. Remove devilish traits, imbibe divine virtues and become theists.
Blessing: May you be a powerful soul who knows the importance of every second and every thought and thereby fills your account of accumulation.
At the confluence age, you have imperishable attainments from the imperishable Father at every moment. It is only at this one time out of the whole cycle that you receive such fortune and this is why your slogan is: “If not now, then never”. Whatever elevated tasks you have to carry out, you have to do those now. When you have this awareness, you will never waste your time, thoughts or actions. Through your powerful thoughts, your account of accumulation will become full and the soul will become powerful.
Slogan: The uniqueness of every word and every act is purity. Transform ordinariness into uniqueness.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Let there be the awareness of being alokik in the lokik. While living with the lokiks, we are different from others. In your soul-conscious form, consider yourself to be different. It is easy to be different in your actions – you will not be loved by the world through that, but when you become detached from the body and perform actions in soul-consciousness you will be loved by everyone. This is known as the alokik stage.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 January 2019

To Read Murli 4 January 2019 :- Click Here
05-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अपने को आत्मा समझ, आत्मा भाई से बात करो, ऐसी दृष्टि पक्की करो तो भूत प्रवेश नहीं करेंगे, जब कोई में भूत देखो तो उससे किनारा कर लो”
प्रश्नः- बाप का बनने के बाद भी आस्तिक और नास्तिक बच्चे हैं, वह कैसे?
उत्तर:- आस्तिक वह हैं जो ईश्वरीय कायदों का पालन करते, देही-अभिमानी रहने का पुरुषार्थ करते और नास्तिक वह हैं जो ईश्वरीय कायदों के खिलाफ भूतों के वश हो आपस में लड़ते झगड़ते हैं। 2- आस्तिक बच्चे देह सहित देह के सब सम्बन्धों से बुद्धियोग तोड़ अपने को भाई-भाई समझते हैं। नास्तिक देह-अभिमान में रहते हैं।

ओम् शान्ति। पहले-पहले बाप बच्चों को समझाते हैं कि हे बच्चे बुद्धि में सदा यह याद रखो कि शिवबाबा हमारा सुप्रीम बाप भी है, सुप्रीम शिक्षक भी है, सुप्रीम सतगुरू भी है। यह पहले-पहले बुद्धि में ज़रूर आना चाहिए। हर एक अपने को जान सकते हैं कि हमारी बुद्धि में आया वा नहीं। अगर बुद्धि में याद आता तो आस्तिक हैं, नहीं आता है तो नास्तिक हैं। स्टूडेन्ट की बुद्धि में फट से आना चाहिए कि टीचर आया है। घर में रहते हैं तो वह भूल जाता है। उस रूहाब से बहुत कोई मुश्किल समझते हैं कि हमारा सुप्रीम बाबा आया हुआ है। वह टीचर भी है और वापिस ले जाने वाला सतगुरू भी है। याद आने से खुशी का पारा चढ़ेगा। नहीं तो अपने ही दु:ख दर्द दुनिया की छी-छी बातों में, भिन्न-भिन्न ख्यालात में बैठे रहते हैं। दूसरी बात बहुत करके बच्चों से पूछते हैं कि विनाश में बाकी कितना समय है। बोलो, यह पूछने की बात नहीं है। पहले तो यह हमको किसने समझाया है, उनको जानो। पहले बाप का परिचय दो। आदत पड़ी हुई होगी तो समझायेंगे, नहीं तो भूल जायेंगे। बाप कितना कहते हैं अपने को आत्मा समझो। दूसरे को आत्मा की दृष्टि से देखो, परन्तु वह दृष्टि नहीं ठहरती। रूपये से एक आना भी मुश्किल बैठता। जैसे बुद्धि में ठहरता ही नहीं है। यह कोई बाप श्राप नहीं देते। यह तो बाप समझाते हैं कि ज्ञान बहुत ऊंचा है। राजाई स्थापन होती है। रंक से लेकर राव बनते हैं। राव थोड़े बनते हैं। बाकी रंक नम्बरवार होते हैं। लास्ट नम्बर वाले की बुद्धि में कभी कोई बात बैठ न सके। तो पहले जब किसको भी समझाते हो तो शिवबाबा का जो 32 गुणों वाला चित्र बनाया है उस पर समझाना चाहिए। उसमें भी लिखा हुआ है सुप्रीम फादर, सुप्रीम टीचर, सतगुरू है।

पहले जब यह निश्चय होगा कि समझाने वाला सुप्रीम फादर है तो फिर संशय नहीं लायेंगे। बाप बिगर यह स्थापना कोई कर न सके। तुम जब समझाते हो कि यह स्थापना हो रही है तो उन्हों की बुद्धि में यह जरूर आना चाहिए कि इन्हों को समझाने वाला कोई है। कोई मनुष्य मात्र तो ऐसे कह न सके कि यह राज्य स्थापन हो रहा है। तो पहले-पहले बाप का निश्चय पक्का कराना है। हमको परमात्मा बाप पढ़ाते हैं। यह कोई मनुष्य मत नहीं है, यह ईश्वरीय मत है। नई दुनिया तो ज़रूर बाप द्वारा ही स्थापन होगी। पुरानी दुनिया का विनाश, यह भी बाप का ही काम है। यह निश्चय जब तक नहीं होगा तो पूछते ही रहेंगे कि कैसे होता है इसलिए पहले-पहले तो श्रीमत की बात बुद्धि में बिठानी पड़े तब आगे समझ सकें। नहीं तो मनुष्य मत समझ लेते हैं। हर एक मनुष्य की मत अलग है। मनुष्यों की मत एक हो न सके। इस समय तुमको मत देने वाला एक ही है। उनकी श्रीमत पर कायदेसिर चलना वह भी बड़ा मुश्किल है। बाप कहते हैं देही-अभिमानी बनो। ऐसा समझो कि हम भाई-भाई से बात करते हैं तो फिर लड़ना झगड़ना कभी हो न सके। देह-अभिमान में आया समझो नास्तिक। देही-अभिमानी नहीं है तो वह नास्तिक है। देही-अभिमानी बनें तो समझो आस्तिक है। देह-अभिमान बहुत नुकसान कारक है। जरा भी लड़ते झगड़ते हैं तो समझो नास्तिक हैं। बाप को जानते ही नहीं। क्रोध का भूत है तो नास्तिक ठहरा। बाप के बच्चों में भूत कहाँ से आया। वह आस्तिक नहीं ठहरा। भल कितना भी कहे हमारा बाप में प्यार है। परन्तु ईश्वरीय कायदे के खिलाफ बात करते तो उन्हें रावण सम्प्रदाय का समझना चाहिए। देह-अभिमान में हैं। कोई में भूत देखो वा दृष्टि खराब देखो तो हट जाना चाहिए। भूत के आगे खड़ा रहने से भूत की प्रवेशता हो जायेगी। भूत, भूत में लड़ पड़ते हैं। भूत आये तो पूरा नास्तिक है। देवतायें तो सर्वगुण सम्पन्न होते हैं वह गुण नहीं हैं तो नास्तिक है। नास्तिक वर्सा थोड़ेही लेंगे। जरा भी खामी नहीं होनी चाहिए। नहीं तो बहुत सजा खाकर प्रजा में जाना पड़ेगा। भूत से दूर रहना चाहिए। भूत का सामना किया तो भूत आ जायेगा। भूत से कभी सामना नहीं किया जाता है। उनसे जास्ती बात भी नहीं करनी चाहिए। बाप कहते हैं – यह है भूतों की दुनिया। भूत जब तक निकले नहीं हैं तो सजायें भी खानी पड़ेंगी। पद भी पा नहीं सकेंगे। लड़ाई तो एक ही है। कोई राव बन जाते हैं, कोई रंक बन जाते हैं। राव की दुनिया थी, अभी रंकों की दुनिया है। सबमें भूत हैं। भूत निकालने का पूरा पुरुषार्थ करना चाहिए। बाबा मुरली में बहुत समझाते हैं। किसम-किसम के स्वभाव होते हैं। बात मत पूछो।

तो प्रदर्शनी आदि में पहले-पहले बाप का परिचय देना है। बाप कितना लवली है। वह हमको ऐसा देवता बनाते हैं। गायन भी है मनुष्य से देवता किये.. देवतायें थे सतयुग में तो ज़रूर उनसे पहले कलियुग था। यह सृष्टि चक्र का ज्ञान भी तुम बच्चों की बुद्धि में अब है। वहाँ यह ज्ञान इन देवताओं में नहीं रहेगा। अब तुम नॉलेजफुल बनते हो फिर पद मिल गया तो नॉलेज की दरकार नहीं। यह है बेहद का बाप, जिससे 21 पीढ़ी तुमको स्वर्ग का वर्सा मिलता है। तो ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए। बाबा सदैव समझाते हैं कि हमेशा समझो कि शिवबाबा हमको समझा रहे हैं। शिवबाबा इस रथ द्वारा हमको पढ़ा रहे हैं। वह हमारा बाप टीचर गुरू है। यह है बेहद की पढ़ाई। तुम समझते हो पहले हम तुच्छ बुद्धि थे। इस कालेज का कोई को ज़रा भी पता नहीं है इसलिए समझाने के समय अच्छी तरह से घोट-घोट कर समझाओ। कृष्ण की तो बात ही नहीं। बाप ने समझाया है कृष्ण का कोई चरित्र है ही नहीं। सिवाए शिवबाबा के। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर के भी चरित्र हो न सकें। चरित्र है ही एक का जो मनुष्य से देवता बनाते हैं। विश्व को हेविन बनाते हैं। तुम उस बाप की श्रीमत पर चलते हो। बाप के मददगार हो। बाप नहीं होता तो तुम कुछ भी कर नहीं सकते। तुम अभी वर्थ नाट ए पेनी से वर्थ पाउण्ड बन रहे हो। अब नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार तुम सब जान गये हो। तो पहले-पहले है बाप का परिचय। कृष्ण तो छोटा बच्चा है। सतयुग में उनकी बेहद की बादशाही है। उनके राज्य में और कोई था नहीं। अभी तो कलियुग है, कितने ढेर धर्म हैं। यह एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म कब स्थापन हुआ, यह कोई की बुद्धि में नहीं है। तुम बच्चों की भी बुद्धि में नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार है। तो पहले बाप की महिमा पर अच्छी तरह से समझाना चाहिए। हम जानते हैं ज़रूर बाप से हमको पहचान मिली है। बाप कहते हैं सर्व का सद्गति दाता भी मैं हूँ। कल्प-कल्प मैं तुम बच्चों को राय देता हूँ कि अपने को आत्मा समझो और मुझे याद करो। तो आत्मा पतित से पावन बन जायेगी। आत्म-अभिमानी भव। दूसरे को भी आत्मा समझने से तुम्हारी क्रिमिनल आई नहीं होगी। आत्मा ही शरीर द्वारा कर्म करती है – हम आत्मा हैं, यह आत्मा है – यह पक्का करना है। तुम जानते हो पहले-पहले हम 100 परसेन्ट पावन थे, फिर पतित बने। आत्मा ही बुलाती है कि बाबा आओ। आत्मा का अभिमान पक्का रहना चाहिए और सम्बन्ध सब भूल जाने चाहिए। हम आत्मा स्वीट होम में रहने वाली हैं। यहाँ पार्ट बजाने आये हैं। यह भी तुम बच्चे ही समझते हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं जिनको याद रहती है। भगवान पढ़ाते हैं, कितनी खुशी रहनी चाहिए। भगवान हमारा बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। तुम कहेंगे हम उनके सिवाए और कोई को याद नहीं करते। बाप कहते हैं देह सहित देह के सभी सम्बन्ध तोड़ मामेकम् याद करो। तुम सब ब्रदर्स हो। कोई मानते हैं, कोई नहीं मानते हैं तो समझो नास्तिक हैं। हम शिवबाबा के बच्चे हैं तो पावन होने चाहिए। बाप को बुलाते ही हैं बाबा आकर हमको पावन विश्व का मालिक बनाओ। सतयुग में तो पावन होने की बात ही नहीं है। पहले तो यह समझो कि यह शिवबाबा है, इनसे नई दुनिया स्थापन होती है। अगर पूछे कि विनाश कब होगा, तो बोलो पहले अल्फ को समझो। अल्फ को नहीं समझा तो पीछे की बात बुद्धि में कैसे आयेगी। हम सत्य बाप के बच्चे सत्य बोलते हैं। हम कोई मनुष्य के बच्चे नहीं हैं। हम शिवबाबा के बच्चे हैं। भगवानुवाच, भगवान उनको कहा जाता है जो सभी ब्रदर्स का बाप है। मनुष्य अपने को भगवान कहला न सकें। भगवान तो निराकार है। वह बाप टीचर सतगुरू है। कोई मनुष्य बाप, टीचर, सतगुरू हो न सके। कोई भी मनुष्य किसकी सद्गति कर नहीं सकते। भगवान हो न सकें।

बाबा है पतित-पावन। पतित बनाता है रावण। बाकी यह सब हैं भक्ति के गुरू। यह भी तुम समझते हो जो यहाँ आते हैं वह आस्तिक तो बनते हैं। बेहद के बाप पास आकर निश्चय करते हैं यह हमारा बाप टीचर गुरू है। जब कम्पलीट दैवीगुण आ जायेंगे तो लड़ाई भी लगेगी। समय अनुसार तुम खुद समझेंगे कि अब कर्मातीत अवस्था को पहुँच रहे हैं। अभी कर्मातीत अवस्था हुई कहाँ है। अभी बहुत काम है। बहुतों को पैगाम देना है। बाप से वर्सा लेने का तो सबको हक है। अब तो लड़ाई जोर से होगी। फिर यह हॉस्पिटल डाक्टर आदि कुछ नहीं रहेंगे। बाप बच्चों को सम्मुख समझा रहे हैं कि तुम आत्मायें 84 जन्म शरीर धारण कर अपना पार्ट बजाती हो। किसी के 70-80 जन्म भी होंगे। अभी जाना तो सबको है, विनाश होना ही है। अपवित्र आत्मा जा न सके। पावन होने लिए बाप को ज़रूर याद करना है, मेहनत है। 21 जन्मों के लिए स्वर्गवासी बनना है। कोई कम बात है क्या। मनुष्य तो कह देते फलाना स्वर्गवासी हुआ। अरे स्वर्ग है कहाँ? कुछ भी समझते नहीं। तुम बच्चों को बड़ी खुशी रहनी चाहिए कि भगवान हमको पढ़ाते हैं, विश्व का मालिक बनाते हैं। खुशी एक होती है स्थाई दूसरी होती है अल्पकाल की। पढ़ेंगे पढ़ायेंगे नहीं तो खुशी क्या होगी? आसुरी गुणों को भगाना है। बाप कितना समझाते हैं, कर्मभोग कितना है। जब तक कर्मभोग है तो यह निशानी है अभी तक कर्मातीत अवस्था हुई नहीं है। अभी मेहनत करनी है। कोई भी माया के तूफान न आयें। बच्चों को यह निश्चय है कि बाप ने हमको अनेक बार मनुष्य से देवता बनाया है। यह बुद्धि में आये तो भी अहो सौभाग्य। यह बेहद का बड़ा स्कूल है। वह होता है हद का छोटा। बाप को तो बहुत तरस पड़ता है, कैसे समझाऊं – कोई से तो अब तक भी भूत निकले नहीं हैं। दिल पर चढ़ने बदले गिर पड़ते हैं। कई बच्चियाँ तो तैयार हो रही हैं, अनेकों का कल्याण करने के लिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी बात ईश्वरीय कायदे के खिलाफ नहीं करनी है। किसी में भी अगर भूत की प्रवेशता है या दृष्टि खराब है तो उसके सामने से हट जाना है, उनसे जास्ती बात नहीं करनी है।

2) स्थाई खुशी में रहने के लिए पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना है। आसुरी गुणों को निकाल दैवीगुण धारण कर आस्तिक बनना है।

वरदान:- हर सेकण्ड के हर संकल्प का महत्व जानकर जमा का खाता भरपूर करने वाली समर्थ आत्मा भव
स्लोगन:- संगमयुग पर अविनाशी बाप द्वारा हर समय अविनाशी प्राप्तियां होती हैं। सारे कल्प में ऐसा भाग्य प्राप्त करने का यह एक ही समय है – इसलिए आपका स्लोगन है “अब नहीं तो कभी नहीं”। जो भी श्रेष्ठ कार्य करना है वह अभी करना है। इस स्मृति से कभी भी समय, संकल्प वा कर्म व्यर्थ नहीं गंवायेंगे, समर्थ संकल्पों से जमा का खाता भरपूर हो जायेगा और आत्मा समर्थ बन जायेगी।

स्लोगन:- हर बोल, हर कर्म की अलौकिकता ही पवित्रता है, साधारणता को अलौकिकता में परिवर्तन कर दो।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

लौकिक में अलौकिकता की स्मृति रहे। लौकिक में रहते हुए भी हम लोगों से न्यारे हैं। अपने को आत्मिक रूप में न्यारा समझना है। कर्तव्य से न्यारा होना तो सहज है, उससे दुनिया को प्यारे नहीं लगेंगे, लेकिन जब शरीर से न्यारी आत्मा रूप में कार्य करेंगे तो सबको प्यारे लगेंगे, इसे ही अलौकिक स्थिति कहा जाता है।

TODAY MURLI 5 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 January 2018 :- Click Here

05/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, here, you have to tolerate happiness and sorrow, respect and disrespect. Remove the happiness of the old world from your intellects. Don’t follow the dictates of your own minds.
Question: How is this birth even better than a deity birth?
Answer: At this time you children are eating from Shiv Baba’s bhandara. You earn a lot of income here. You have taken refuge with the Father. It is in this birth that you make yourself happy in this world (lok) and in (parlok) the world beyond. You give two handfuls of rice like Sudama did and claim the sovereignty for 21 births.
Song: Whether you are near or far, you are the image of my dreams

Om shanti. The meaning of the song is very good. The Father sits here and explains to you children that whether you are sitting close to this body or you are far away, He is personally giving you the teachings of yoga. He does not give them through inspiration. Whether I am close or whether I am far away, you still have to remember Me. People do devotion in order to go to God. The Father sits here and says: O living beings, souls who reside in those bodies. The Supreme Father, the Supreme Soul, sits here and speaks to souls. The Supreme Soul definitely has to meet souls. Therefore, because they are unhappy, souls remember God. No one in the golden age remembers Him. You children now know that you are very old devotees. You began to remember God Shiva from the time Maya caught hold of you because Shiv Baba had made you into the masters of the world. So, people create a memorial of Him and do devotion. You know that the Father has now personally come to you to take you back because you now have to go back with the Father. While you are here you have to remove old bodies and the old world from your intellects and stay in yoga. Your sins will be absolved with this fire of yoga. This requires effort. The status you receive is great. You have to become the masters of the world. People say that Shiv Baba is the Master of the World, but no; it is human beings who become the masters of the world. The Father sits here and makes you children into the masters of the world. He says: You were the masters of the world and then, having taken 84 births, you are no longer the masters of even shells. There is a vast difference of day and night between your first birth and this last birth. No one is able to remember this until the Father comes and gives you a vision. You can also have a vision through the intellect of knowledge (gyan buddhi). Those children who are sensible and who remember the Father every day enjoy themselves a great deal. Everything you listen to here is new. People don’t know anything at all. They continue to tell lies and wander from door to door. You have been liberated from wandering. The Father says: You souls have to remember Me, the Father. Let there be the thought in the intellects of you souls that you have to go to Baba. It is as though this world doesn’t exist for you. This old world is to end. We will then go to heaven and build new palaces. This should continue to spin around in your intellects day and night. The father tells you his own experience. When I go to sleep at night, these are the thoughts I have: This play is now coming to an end. I have to shed this old body. Yes, there is a lot of burden of sin. This is why I have to remember Baba constantly. Check your stage in the mirror: Is my intellect removed from everyone else? While engaged in your business etc. you can still use your intellect for this business. Baba has so many concerns; he has so many children, he has to think about all of them. He has to give refuge to some children. There are many who are unhappy. When there is upheaval, so many suffer and die. These times are very bad. Therefore, this building is being built in order to give refuge to the children. It is for all My children who will stay here. There is no fear and you also have the power of yoga. Some children have had visions. The Father protects those who remember Him very well. He shows a fearsome form to enemies and makes them run away. For as long as you have those bodies, you have to stay in yoga. Otherwise, there will have to be punishment. When the child of an eminent person is being sentenced, he has to look down. You too will have to look down. For the children, the punishment is even more severe. There are even such children who say: Well, let me take the happiness of Maya at this time. I will see about whatever is to happen later. Many find the happiness of this old world very sweet. Here, you have to tolerate happiness and sorrow, respect and disrespect. In order to achieve elevated attainments, you have follow the Mother and Father. You should follow the directions of the Mother and Father. Your own dictates mean the dictates of Ravan. They would only be those that cross out your fortune. If you ask the Father, Baba will quickly tell you: Those directions are devilish. That is not shrimat. You need shrimat at every step. You should check that you are not performing wrong actions and having the Father defamed. You will become deities when you have such qualifications. It isn’t that you will automatically have those qualifications when you go there. Your behaviour has to be very sweet here. Even if Brahma Baba, and not Shiv Baba, said something, it is that One who is responsible. Even if there is some damage, it doesn’t matter. That was fixed in the drama and so you cannot be blamed. A very good stage is needed. Although you are sitting here, let it remain in your intellects that you are the masters of Brahmand and also the residents of that place. Stay at home and continue to do your business in this way and you will continue to remain beyond. Just as sannyasis go beyond the household, so you also go beyond the whole of the old world. There is the difference of day and night between the renunciation of hatha yoga and this renunciation. The Father teaches this Raja Yoga. Sannyasis cannot teach it because the Bestower of Liberation and Liberation-in-Life is only the One. Everyone is now to have liberation because you now have to return home. Sages make spiritual endeavour to go back. You are unhappy here. Some then say that they want to merge into the light. There are innumerable opinions. Baba has explained that there are some children who still remember their relatives. When you want the happiness of this world, you die. In that case, their feet wouldn’t be able to stay here. Maya gives many temptations. There is a saying: “Remember God, otherwise the eagle will come.” Maya too will attack you like an eagle. Now that the Father has come, you should make effort to claim a high status. Otherwise, you won’t receive it cycle after cycle. Here, you don’t receive any sorrow from the Father. Therefore, you have to forget the old world of sorrow. You should check your chart for the whole day: For how long did I remember the Father? Did I give the donation of life to anyone? The Father also gave you the donation of life, did He not? You remain immortal in the golden and silver ages. When someone here dies, people weep and wail so much! There is no mention of sorrow in heaven. They would think that they are shedding their old skins and taking new ones. This example applies to you. No one else can give this example. They do not forget their old skin. They continue to save their money. Whatever you give to the Father here, He doesn’t use it or keep it for Himself; He sustains the children with it. Therefore, this is Shiv Baba’s true bhandara. Those who eat from this bhandara remain happy here and they remain happy for birth after birth. This birth of yours is invaluable. Here, you are even happier than in your deity birth because, you have taken refuge here with the Father. You earn a lot of income here which you will use for birth after birth. Sudama received a palace for 21 births in return for two handfuls of rice. He remained happy here, and also in the world beyond, for birth after birth. This is why this birth is very good. Some say that if destruction takes place soon we can go to heaven. However, you still have to take many treasures from the Father. The kingdom has not yet been created, so how could destruction be made to take place soon? You children have not yet become worthy. The Father still continues to come to teach you. Baba’s service is beyond limits. The Father’s praise is also limitless. To the extent that I am elevated, the service I do is also just as elevated. That is why there is My memorial. Baba’s gaddi is the highest on high. Whatever effort each of you makes, you create your own fortune accordingly. This income is that of the imperishable jewels of knowledge which becomes limitless wealth there. Therefore, you children should make very good effort. Remember the Father here and also there. There is this ladder. Look in the mirror of your heart: To what extent am I a worthy child of Father? Do I show the path to the blind? You experience happiness in talking to yourself. Baba shares his own experience: I speak to Baba even when I am sleeping: Baba, it is Your wonder. Then we will forget You on the path of devotion. We receive such an inheritance from You and we will then forget you in the golden age. Then we will build memorials to you on the path of devotion. However, we completely forget Your occupation at that time. It is as though we become ignorant buddhus. The Father has now made you so knowledgeable. There is the difference of day and night. To say that God is omnipresent is not knowledge. You need the knowledge of the world cycle. We are now completing the cycle of 84 births and are to return home and we will then have to go into liberation-in-life. We cannot come out of the drama. We are travellers to liberation-in-life. Achcha.

Night Class: 16/12/ 19 68

Baba calls some children daughters and some mothers, so there definitely must be a difference. From the service of some, there is fragrance whereas others are like uck flowers. The Father has explained: It is as though you are with Me. The Father has come from up above to purify the world. This is also your task. Those who come from there are at first pure. New ones who come must definitely be giving their fragrance. Comparison is also made to a garden. As is the service, so is the fragrance of the flowers. The conscience says: As soon as you are called a child of Shiv Baba, you claim a right. So, there should be that fragrance. It is because you have a right that Baba says Namaste to everyone. You definitely do become the masters of the world, but there is a lot of difference in how you study. There are both types of these. You children have the faith that this is Baba and you also have the cycle in your intellects. So, the Father says: What more can I tell you? No one except the Father can make you into spinners of the discus of self-realisation. You become that with just a signal. Those who became that in the previous cycle will become that again. Many children come here. There is so much assault because of purity. The one through whom the Father speaks the Gita is insulted so much. Shiv Baba is also insulted so much. To say that He incarnates in fish and crocodiles is also insulting Him, is it not? Because of not having knowledge, they accuse you so much! Children beat their heads so much. Some become very wealthy by studying; they earn so much; they receive two to four thousand for just one operation, whereas others are not even able to take care of their family. It is something to worry about. Some claim a sovereignty for birth after birth whereas others remain poor for birth after birth. The Father says: I am making you sensible. Now, you would say for everything: Drama! It is everyone’s part. Whatever happened in the past is the drama. Only that which is in the drama taken place. Whatever happens according to the drama is fine. No matter how much we explain, they do not understand. Very good manners are needed for this. Each one should check within the self: Do I have any defects? Maya is very strong. Maya has to be removed somehow. All defects have to be removed. The Father says: Those who are in bondage remember Me the most. They are the ones who claim a good status. The more they are beaten, the more they stay in remembrance. “O Shiv Baba”, emerges from them. They remember Shiv Baba with knowledge. Their chart s are also good. Those who come here having been beaten also do good service. They do very good service to make their lives good. If they don’t do service, their conscience would bite. The heart desires that they go out on service. Though they understand that they will have to leave their centre to go on service, there is a lot of service to be done at the exhibitions. Therefore, you should not be concerned about the centre, but run to do service. The more we donate, the more we will fill ourselves with power. You definitely have to donate. These are the imperishable jewels of knowledge. Those who have them will also donate them. You children should now be able to remember the knowledge of the beginning, the middle and the end of the whole world. The whole cycle should rotate in your intellects. The Father also knows the beginning, middle and end of this world. He is definitely the Ocean of Knowledge. He knows the world cycle. This knowledge is completely new for the world and it never becomes old. It is wonderful knowledge and only the Father tells it to us. No matter how much of a saint or great soul someone is, none of them is able to climb up the ladder. Only the Father, no human being, can grant liberation or salvation. Neither human beings nor deities can give this. Only the one Father can give this. There has to be expansion day by day. Baba has said: You should have the pictures of Lakshmi and Narayan and the ladder in a “translight” form in the touring exhibition. There should be something electrical through which there is always a light sparkling. Also continue to speak the slogans. Sannyasis can never teach Raja Yoga. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, teaches Raja Yoga through the lucky chariot. You will hear such sounds. Achcha. Good night to the sweetest children.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. This play is now coming to an end. Therefore, remain beyond this old world. Make your fortune elevated by following shrimat. Never perform wrong actions.
  2. Earn and inspire others to earn an income of the imperishable jewels of knowledge. Stay in remembrance of the one Father, become a worthy child and show the path to many others.
Blessing: May you be a lord of knowledge, an embodiment of knowledge, who travels to the three worlds with the vehicle of a divine intellect.
A divine intellect means a holy swan intellect. A swan means one who is able to distinguish between milk and water, pearls and stones and to take the pearls. This is why a holy swan is the vehicle of the confluence-aged goddess of knowledge, the embodiment of knowledge, Saraswati. All of you are embodiments of knowledge and this is why you are lords of knowledge or goddesses of knowledge. That vehicle is the sign of a divine intellect. With the vehicle of that divine intellect, you can travel to the three worlds. That vehicle is the fastest of all vehicles.
Slogan: To will all your powers to all souls is the most elevated service.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 January 2017

To Read Murli 4 January 2018 :- Click Here

05/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – यहाँ तुम्हें सुख-दु:ख, मान-अपमान.. सब सहन करना है, पुरानी दुनिया के सुखों से बुद्धि हटा देनी है, अपनी मत पर नहीं चलना है”
प्रश्नः- देवताई जन्म से भी यह जन्म बहुत अच्छा है, कैसे?
उत्तर:- इस जन्म में तुम बच्चे शिवबाबा के भण्डारे से खाते हो। यहाँ तुम अथाह कमाई करते हो, तुमने बाप की शरण ली है। इस जन्म में ही तुम अपना लोक-परलोक सुहेला (सुखी) करते हो। सुदामा मिसल दो मुट्ठी दे 21 जन्म की बादशाही लेते हो।
गीत:- चाहे पास हो चाहे दूर हो…

ओम् शान्ति। गीत का कितना अच्छा अर्थ है। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं – चाहे हम इस तन से नजदीक हैं वा दूर हैं क्योंकि सम्मुख योग की शिक्षा दे रहे हैं। प्रेरणा से तो नहीं देंगे ना। चाहे मैं नजदीक हूँ, चाहे दूर हूँ – याद तो मुझे ही करना है। भगवान के पास जाने के लिए ही तो भक्ति करते हैं। बाप बैठ समझाते हैं कि हे जीव की आत्मायें, इस शरीर में निवास करने वाली आत्मायें, आत्माओं से परमपिता परमात्मा बैठ बात करते हैं। परमात्मा को आत्माओं से मिलना है जरूर, इसलिए जीव आत्मायें भगवान को याद करती हैं क्योंकि दु:खी हैं। सतयुग में तो कोई याद नहीं करते। अभी तुम बच्चे जानते हो हम बहुत पुराने भक्त हैं। जबसे हमको माया ने पकड़ा है, तब से भगवान की, शिव की याद शुरू हुई है क्योंकि शिवबाबा ने हमको स्वर्ग का मालिक बनाया था, तो उनका यादगार बनाकर भक्ति करते हैं। अब तुम जानते हो बाप सम्मुख आये हैं लेने के लिए, क्योंकि अब बाप के पास जाना है। जब तक यहाँ हैं तब तक पुराने शरीर को, पुरानी दुनिया को बुद्धि से भूलना है और योग में रहना है। तो इस योग अग्नि से पाप भस्म होंगे। इसमें मेहनत लगती है। पद भी तो जबरदस्त है। विश्व का मालिक बनना है। मनुष्य कहते हैं कि विश्व का मालिक तो शिवबाबा है। परन्तु नहीं, विश्व का मालिक मनुष्य ही बनते हैं। बाप बैठ बच्चों को विश्व का मालिक बनाते हैं। कहते हैं तुम ही विश्व के मालिक थे, फिर 84 जन्म लेते-लेते अब कौड़ी के भी मालिक नहीं रहे हो। पहला नम्बर जन्म और अभी का अन्तिम जन्म देखो कितना रात दिन का फ़र्क है। कोई को भी याद नहीं आ सकता, जब तक बाप आकर साक्षात्कार न कराये। ज्ञान बुद्धि से भी साक्षात्कार होता है। जो सयाने बच्चे हैं, नित्य बाप को याद करते हैं, उन्हों को बहुत मजा आयेगा। यहाँ तुम सुनते हो सब नई बातें हैं। मनुष्य तो कुछ नहीं जानते हैं। वह तो गपोड़े लगाते रहते और दर-दर धक्के खाते रहते हैं। तुमको तो भटकने से छुड़ाया जाता है। बाप कहते हैं तुम आत्मा हो, मुझ बाप को याद करते रहो। बुद्धि में यही विचार रहे कि हम आत्माओं को बाबा के पास जाना है, यह सृष्टि जैसे हमारे लिए है नहीं। यह पुरानी सृष्टि तो खत्म हो जायेगी। फिर हम स्वर्ग में आकर नये महल बनायेंगे। दिन-रात बुद्धि में यह चलना चाहिए। बाप अपना अनुभव सुनाते हैं। रात को सोता हूँ, तो यही ख्यालात चलते हैं। यह नाटक अब पूरा होता है, यह पुराना चोला छोड़ना है। हाँ विकर्मों का बोझा बहुत है, इसलिए निरन्तर बाबा को याद करना है। अपनी अवस्था को दर्पण में देखना है – हमारी बुद्धि सबसे हटी हुई है? धन्धे आदि में रहते हुए भी बुद्धि से काम ले सकते हो। बाबा के ऊपर कितना ओना है। कितने ढेर बच्चे हैं। उन्हों का ख्याल रखना पड़ता है। बच्चों को पनाह (शरण) देनी है। दु:खी तो बहुत हैं ना! हंगामें में कितने दु:खी हो मरते हैं। यह समय बहुत खराब है। तो बच्चों को शरण देने के लिए यह मकान बन रहे हैं। यहाँ तो सब अपने बच्चे ही रहते हैं। कोई डर नहीं और फिर योगबल भी रहता है। बच्चों ने साक्षात्कार भी किया है, जो बाप को अच्छी रीति याद करते हैं तो बाप उन्हों की रक्षा भी करता है। दुश्मन को भयंकर रूप दिखाकर भगा देते हैं। तुमको जब तक शरीर है, तब तक योग में रहना है। नहीं तो सजायें खानी पड़ेंगी। बड़े आदमी का बच्चा सजा खाता है तो उनका काँध नीचे हो जाता है। तुमको भी काँध नीचे करना पड़ेगा। बच्चों के लिए तो और कड़ी सजायें हैं। कोई ऐसे भी हैं जो कहते अभी तो माया का सुख ले लेवें, जो होगा सो देखा जायेगा। बहुतों को इस पुरानी दुनिया के सुख मीठे लगते हैं। यहाँ तो सुख-दु:ख, मान-अपमान… सब सहन करना पड़ता है। ऊंच प्राप्ति अगर चाहते हो तो फालो करना चाहिए, माँ बाप के फरमान पर चलना चाहिए। अपनी मत माना रावण की मत। सो तो तकदीर को लकीर लगाने की ही निकलेगी। बाप से पूछेंगे तो बाबा झट कहेंगे – यह आसुरी मत है। श्रीमत नहीं है। कदम-कदम पर श्रीमत चाहिए। देखना है कहाँ उल्टा काम कर बाप की निंदा तो नहीं कराते? देवी-देवता तब बनेंगे जब ऐसे लक्षण होंगे। ऐसे नहीं वहाँ ऑटोमेटिकली लक्षण आ जायेंगे। यहाँ बहुत मीठी चलन चाहिए। अगर समझो शिवबाबा ने नहीं, ब्रह्मा बाबा ने कहा तो भी रेसपान्सिबुल यह रहेगा ना! अगर कुछ नुकसान भी हुआ तो हर्जा नहीं। यह ड्रामा में था तो तुम्हारे पर कोई दोष नहीं। अवस्था बहुत अच्छी चाहिए। भल तुम यहाँ बैठे हो, बुद्धि में यही रहे कि हम ब्रह्माण्ड के मालिक वहाँ के रहने वाले हैं। इस रीति घर में रहते, धन्धा करते, उपराम होते जायेंगे। जैसे सन्यासी गृहस्थ से उपराम हो जाते हैं। तुम तो सारी पुरानी दुनिया से उपराम होते हो। उस हठयोग सन्यास और इस सन्यास में रात दिन का फ़र्क है। यह राजयोग बाप सिखलाते हैं। सन्यासी सिखला न सकें क्योंकि मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता है ही एक। सभी की मुक्ति अब होनी है क्योंकि सब वापिस जाने हैं। साधू लोग साधना करते हैं कि हम वापिस जायें। यहाँ दु:खी हैं। कोई फिर कहते हैं हम ज्योति-ज्योत में समायें। अनेक मत हैं।

बाबा ने समझाया है कि कोई-कोई बच्चे हैं जिन्हों को पुराने सम्बन्धी भी याद आते हैं। उस दुनिया के सुखों की आश हुई और यह मरा। फिर उसका पैर यहाँ ठहर न सके। माया बहुत लालच देती है। एक कहावत है ”भगवान को याद करो नहीं तो बाज आ जायेगा” यह माया भी बाज मिसल वार करती है। अब जबकि बाप आये हैं तो अभी भी पुरुषार्थ कर ऊंच पद नहीं पाया तो कल्प-कल्पान्तर भी नहीं पायेंगे। यहाँ बाप के पास तो तुमको कोई दु:ख नहीं है, तो पुरानी दु:ख की दुनिया को भूलना चाहिए ना। सारे दिन का पोतामेल देखना चाहिए। कितना समय बाप को याद किया? किसको जीयदान दिया? बाप ने तुमको भी जीयदान दिया है ना। सतयुग त्रेता तक तुम अमर रहते हो। यहाँ कोई मरता है तो कितना रोते पीटते हैं। स्वर्ग में दु:ख का नाम नहीं। समझेंगे पुरानी खाल छोड़ नई लेते हैं। यह मिसाल भी तुमसे लगता है और कोई यह मिसाल दे नहीं सकते। वह थोड़ेही पुरानी खाल को भूलते हैं। वह तो पैसे इकट्ठे करते रहते। यहाँ तुम जो बाप को देते हो तो बाप खुद थोड़ेही खाते वा अपने पास रखते हैं। उनसे बच्चों की ही परवरिश करते हैं इसलिए यह सच्चा-सच्चा शिवबाबा का भण्डारा है, इस भण्डारे से खाने वाले यहाँ भी सुखी तो जन्म-जन्मान्तर सुखी रहते हैं।

तुम्हारा यह जन्म बहुत दुर्लभ है। देवताई जन्म से भी तुम यहाँ सुखी हो क्योंकि बाप की शरण में हो। यहाँ से ही तुम अथाह कमाई करते हो जो फिर जन्म-जन्मान्तर भोगेंगे। सुदामें को भी दो मुट्ठी के बदले 21 जन्मों के लिए महल मिल गये। यह लोक भी सुहैला (सुखी) तो परलोक भी सुहैला, जन्म-जन्मान्तर के लिए इसलिए यह जन्म बहुत अच्छा है। कोई कहते जल्दी विनाश हो तो हम स्वर्ग में चलें। परन्तु अभी तो बहुत खजाना बाप से लेना है। अभी राजधानी कहाँ बनी है। फिर जल्दी विनाश कैसे करायेंगे! बच्चे अभी लायक कहाँ बने हैं! अभी तो बाप पढ़ाने के लिए आते रहते हैं। बाबा की सर्विस तो अपरमअपार है। बाप की महिमा भी अपरमअपार है। जितना ऊंच हूँ, सर्विस भी उतनी ऊंच करता हूँ, तब तो मेरी यादगार है। ऊंच ते ऊंच बाबा की गद्दी है जो जितना पुरुषार्थ करते हैं, वह अपना भाग्य बनाते हैं। यह है अविनाशी ज्ञान रत्नों की कमाई, जो वहाँ अथाह धन बन जाता है। तो बच्चों को पुरुषार्थ बहुत अच्छा करना है। बाप को यहाँ भी याद करो तो वहाँ भी याद करो। सीढ़ी तो है ना। दिल दर्पण में देखना है मैं कितना बाप का सपूत बच्चा हूँ। अन्धों को रास्ता बताता हूँ। अपने से बातें करने में खुशी होती है। जैसे बाबा अनुभव बताते हैं – सोता हूँ तो भी बातें करता हूँ। बाबा आपकी तो कमाल है। भक्ति मार्ग में फिर हम आपको भूल ही जायेंगे। इतना वर्सा आपसे पाते हैं फिर सतयुग में यह भूल जायेंगे। फिर भक्ति मार्ग में आपका यादगार बनायेंगे। परन्तु आपका आक्यूपेशन बिल्कुल भूल जाते हैं। जैसे बुद्धू, अज्ञानी बन जाते हैं। अब बाप ने कितना ज्ञानी बनाया है। रात दिन का फ़र्क है। ईश्वर सर्वव्यापी है, यह कोई ज्ञान थोड़ेही है। ज्ञान तो सृष्टि चक्र का चाहिए। अब हम 84 का चक्र पूरा कर वापिस जाते हैं फिर हमको जीवनमुक्ति में आना है। ड्रामा से बाहर थोड़ेही निकल सकते हैं। हम हैं ही जीवनमुक्ति के राही। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास – 16-12-68

किसको बाबा बच्ची कहते हैं, किसको माइयाँ कहते हैं; ज़रूर कुछ फ़र्क होगा। कोई की सर्विस से खुशबू आती है, कोई तो जैसे अक के फूल हैं। यह तो बाप ने समझाया है तुम जैसे हमारे साथ आये हो। ऊपर से बाप भी आये हैं विश्व को पावन बनाने। तुम्हारा भी यह कर्तव्य है। वहाँ से जो पहले आते हैं वह है पवित्र। नये आते वह ज़रूर खुशबू देते होंगे। बगीचे से भी भेंट करते हैं। जैसी सर्विस वैसा खुशबूदार फूल। विवेक कहता है शिव बाबा का बच्चा कहलाया और हकदार बना। तो वह खुशबू आनी चाहिए। हकदार है तब तो सभी को नमस्ते करते हैं। तुम विश्व के मालिक बेशक रहते हो, परन्तु पढ़ाई में फर्क तो बहुत रहता है। यह होना भी है ज़रूर। बच्चों को निश्चय हो जाता है यह बाबा है, और चक्र भी बुद्धि में है। तो बाप कहते हैं और जास्ती क्यों बतायें। बाप बिगर स्वदर्शन चक्रधारी कोई बना न सके। बनते हैं इशारे से। जो कल्प पहले बने हैं वही बनते हैं। ढेर के ढेर बच्चे आते हैं। पवित्रता के ऊपर कितने अत्याचार होते हैं! जिस द्वारा बाप गीता सुनाते हैं उनको कितनी गालियाँ देते हैं। शिवबाबा को भी गाली देते हैं। कच्छ, मच्छ अवतार कहना भी तो गाली है ना! न जानने के कारण बाप पर, तुम्हारे पर कितने कलंक लगाते हैं! बच्चे कितना माथा मारते हैं। पढ़ाई से कोई तो बहुत साहूकार हो जाते हैं, कितना कमाते हैं! एक-एक आपरेशन के दो हज़ार, 4 हज़ार मिल जाते हैं। कोई तो कुटुम्ब की पालना भी नहीं कर सकते। फिक्र है ना। कोई जन्म-जन्मान्तर बादशाही लेते हैं। कोई जन्म-जन्मान्तर के लिये ग़रीब बनते हैं। बाप कहते हैं तुमको समझदार बनाते हैं। अभी तुम सभी बात में कहेंगे ड्रामा है। सभी का पार्ट है। जो पास्ट हुआ सो ड्रामा। होता वही है जो ड्रामा में है। ड्रामा अनुसार जो कुछ होता है ठीक है। तुम कितना भी समझाओ, समझते ही नहीं हैं, इसमें मैनर्स भी अच्छे चाहिए। हरेक अपने अन्दर में देखे कोई खामी तो नहीं है? माया बहुत कड़ी है। उनको कैसे भी निकालना है। सभी खामियाँ निकालनी है। बाप कहते हैं बाँधेलियाँ सभी से जास्ती याद में रहती हैं। वही अच्छा पद पाती हैं। जितना जास्ती मार खाती हैं उतना जास्ती याद में रहती हैं। हाय शिवबाबा निकलेगा। ज्ञान से शिवबाबा को याद करते हैं। उन्हों का चार्ट अच्छा रहता है। ऐसे जो मार खाकर आते हैं वह सर्विस में भी अच्छे लग जाते हैं। अपना जीवन ऊंच बनाने लिये अच्छी सर्विस करते हैं। सर्विस न करें तो दिल खाती है। दिल टपकती है हम जावें सर्विस पर। भल समझते हैं सेन्टर छोड़कर जाना पड़ता है, परन्तु प्रदर्शनी में सर्विस बहुत है तो सेन्टर की भी परवाह न कर यह भागना चाहिए। जितना हम दान करेंगे उतना बल भी भरता रहेगा। दान भी ज़रूर करना है ना। यह हैं अविनाशी ज्ञान रत्न, जिनके पास होंगे वही दान करेंगे। बच्चों को अब सारी सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त का ज्ञान याद आ जाना चाहिए। सारा चक्र फिरना चाहिए। बाप भी इस सृष्टि के आदि, मध्य, अन्त को जानने वाला है। ज़रूर ज्ञान का सागर है। सृष्टि के चक्र को जानने वाला है। यह दुनिया के लिए बिल्कुल नया ज्ञान है, जो कब पुराना बनता ही नहीं है। वण्डरफुल नॉलेज है ना जो बाप ही बताते हैं। कोई कितना भी साधू-महात्मा हो सीढ़ी चढ़कर ऊपर तो जाता ही नहीं। सिवाय बाप के मनुष्य गति-सद्गति दे न सके। न मनुष्य, न देवता दे सकते हैं। स़िर्फ एक बाप ही दे सकते हैं। दिन-प्रतिदिन वृद्धि होनी ही है। बाबा ने कहा था प्रभात-फेरी में यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र, सीढ़ी ट्रान्सलाइट का भी होना चाहिए। बिजली की ऐसी कोई चीज़ हो जिससे चमक आती रहे। स्लोगन भी बोलते जाओ। सन्यासी कब राजयोग सिखा नहीं सकते। राजयोग परमपिता परमात्मा ही सिखा रहे हैं भागीरथ द्वारा। ऐसे-ऐसे आवाज़ बहुत सुनेंगे। अच्छा! मीठे-मीठे बच्चों को गुडनाईट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) यह नाटक अब पूरा हो रहा है इसलिए इस पुरानी दुनिया से उपराम रहना है। श्रीमत पर अपनी तकदीर ऊंच बनानी है। कभी कोई उल्टा कर्म नहीं करना है।

2) अविनाशी ज्ञान रत्नों की कमाई करनी और करानी है। एक बाप की याद में रह सपूत बच्चा बन अनेकों को रास्ता बताना है।

वरदान:- दिव्य बुद्धि के वाहन द्वारा तीनों लोकों की सैर करने वाले ज्ञान स्वरूप विद्यापति भव 
दिव्य बुद्धि अर्थात् होलीहंस बुद्धि। हंस अर्थात् क्षीर और नीर को, मोती और पत्थर को पहचान मोती ग्रहण करने वाले। इसलिए होलीहंस संगमयुगी ज्ञान स्वरूप विद्या देवी, सरस्वती का वाहन है। आप सभी ज्ञान स्वरूप हो इसलिए विद्यापति या विद्या देवी हो। यह वाहन दिव्य बुद्धि की निशानी है। इस दिव्य बुद्धि के वाहन द्वारा आप तीनों लोकों का सैर करते हो। यह वाहन सभी वाहन से तीव्रगति वाला है।
स्लोगन:- अपनी सर्वशक्तियों को अन्य आत्माओं के प्रति विल करना ही सर्व श्रेष्ठ सेवा है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize