today murli 5 February

TODAY MURLI 5 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 February 2019 :- Click Here

05/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to change thorns into flowers. The Father has love for the thorns as well as the flowers. He makes effort to change the thorns into flowers.
Question: What are the signs of the children who have imbibed knowledge?
Answer: They perform wonders. They are not able to stay without benefiting themselves and others. When they are shot by the arrow, they become destroyers of attachment and become engaged in doing spiritual service. Their stage is constant, stable, unshakeable and immovable. They never perform senseless acts. They never cause anyone sorrow. They continue to remove the thorns of defects.

Om shanti. You children know that the Father is a big lever clock. He comes at the accurate time to change thorns into flowers. It cannot be any less or more by even a second; there cannot be the slightest difference. You sweetest children also know that, at this time, this is the iron-aged forest of thorns. Therefore, those who are to become flowers should feel that they are becoming flowers. Previously, we were all thorns: some small and others big. Some cause a lot of sorrow and others cause a little sorrow. The Father has love for everyone. There is the song: I have love for flowers and also for thorns. Whom does He love first? He definitely loves the thorns. He has so much love that He makes effort on them and changes them into flowers. In fact, He comes into the world of thorns. There cannot be the idea of omnipresence in this. There is praise of just the One. Praise of a soul is sung when that soul takes a body and plays his part. It is the soul that becomes elevated and the soul that becomes corrupt. As a soul adopts a body and performs actions, accordingly, it is said whether a soul is one who performs sinful actions or one who performs pure actions. It is the soul that performs good or bad actions. Ask yourself: Am I a golden-aged, divine flower or an iron-aged, devilish thorn? There is a vast difference between the golden age and the iron age. There is a lot of difference between deitiesand devils. Those who are thorns cannot call themselves flowers. There are flowers in the golden age; they don’t exist in the iron age. This is now the confluence age when you are changing from thorns into flowers. When the T eacher gives you a lesson, it is the duty of you children to refine it and show it to the Teacher. In that, you should also write: If you want to become a flower, then consider yourself to be a soul and remember the Supreme Father, the Supreme Soul, who makes you into flowers. Your defects will then be removed and you will become satopradhan. Baba gives you an essay, and it is the duty of you children to correct it and get it printed so that all the people then think about it. This is a study. Baba is teaching you unlimited history and geography. In those schools, they teach the history and geography of the old world. No one knows the history and geography of the new world. So, this is a study and also an explanation. To perform a dirty action is senselessness. Then, it is explained that you mustn’t perform those vicious acts that cause sorrow. There is praise of the Father who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Here, you are learning that you mustn’t cause anyone sorrow. The Father gives you the teaching: Always continue to give happiness. This stage is not created that quickly. You can claim your inheritance from the Father in a second but it does take time to become worthy. You understand that the inheritance from the unlimited Father is the sovereignty of heaven. You explain that Bharat received the sovereignty of the world from the parlokik Father. All of you were the masters of the world. You children should have that happiness inside you. It is only a matter of yesterday when you were the masters of the world. People speak of hundreds of thousands of years. They say that the duration of every age is hundreds of thousands of years, whereas you say that the duration of the whole cycle is 5000 years: there is a lot of difference. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. You should imbibe divine virtues from Him. People of the world continue to become tamopradhan day by day, they continue to learn more and more defects. Previously, there wasn’t as much corruption or adulteration. It is now increasing. You are now continuing to become satopradhan with the power of remembrance of the Father. Just as you come down, so you also have to return. First of all, you have the happiness that you have found the Father. Your connection is forged and there is the pilgrimage of remembrance. Those who have performed greater devotion would have a greater pilgrimage of remembrance. Many children say: Baba, I am unable to have remembrance. The same thing happens on the path of devotion. When they sit down to listen to a religious story, their intellects wander in other directions. The one who is relating the story watches them and would then suddenly ask them a question: “What did I just ask you?” Then they look confused, whereas others would be able to reply instantly. Not all are the same: although they are sitting here, they don’t imbibe anything at all. If they were to imbibe knowledge, they would show wonders. They would not be able to stay without benefiting themselves and others. Although some have a lot of happiness in their home – they may have a mansion and a car etc. – once the arrow hits them, that’s it. She would tell her husband: I want to do this spiritual service. However, Maya is very powerful. She doesn’t allow her to do that: there is attachment. How could she renounce all those mansions and all that happiness? Ah! but what about all the happiness that you experienced at first? Some belonged to big families of millionaires and multimillionaires and they renounced everything and came here. Their fortune shows that they don’t have the courage to let go of everything. They are caught by the chains of Ravan; those chains are of the intellect. The Father explains: Ah! but you are becoming worthy-of-worship masters of the world. The Father guarantees that you will never fall ill for 21 births. You will remain ever healthy for 21 births. You may live with your husband, but simply get permission to remain pure and make others pure. It is your duty to remember the Father from whom you receive limitless happiness. By remembering Him you will become satopradhan from tamopradhan. This is a matter of great understanding. There is no guarantee for the body. At least belong to the Father! There is nothing lovelier than He is. The Father makes you into the masters of the world and He says: Become as satopradhan as you want. You will see limitless happiness. Baba has the gates to heaven opened through you mothers. He has placed the urn of knowledge on the mothers. Baba made mothers the trustees: You mothers look after everything. He had the urn placed on them through this one and then those people wrote that the ocean was churned and the urn of nectar was given to Lakshmi. You now know that Baba is opening the gates to heaven. So, why should we not claim our inheritance from Baba? Why should we not become mahavirs and be threaded in the rosary of victory? The unlimited Father takes you children into His lap. What for? In order to make you into the masters of heaven. He sits here and gives teachings to those who are complete thorns. So, He still loves the thorns. That is why He makes them into flowers. You invoke the Father to come into the impure world and an impure body: Leave Your land of nirvana and come here. The Father says: According to the drama, I have to come into the world of thorns. So, He surely loves you. How could He make you into flowers without Him having love? You now have to change from iron-aged thorns into golden-aged, satopradhan masters of the world. It is explained to you with so much love. A kumari is a flower and this is why everyone bows down at her feet. When she becomes a thorn (impure), she has to bow down to everyone. So, what should you do? You should remain a flower so that you become ‘ever flower . A kumari is viceless even though she has taken birth through vice, just as sannyasis take birth through vice. They get married and then leave their homes and families. People then call them great souls. There is a vast difference between the masters of the world of the golden age and the great souls of the iron age. This is why Baba has said: Ask them the question: Are you an iron-aged thorn or a golden-aged flower? Are you corrupt or elevated? Since this is the kingdom of Ravan, it is a corrupt world. It is said that it is the devilish kingdom, the kingdom of devils. However, none of them understand themselves to be that. When you children ask these questions tactfully, they will understand by themselves that they are lustful, angry and greedy people. Write these things in the exhibitions so that they feel that they are iron-aged thorns. You are now becoming flowers. Baba is constantly the Flower. He never becomes a thorn. However, all the rest become thorns. So, the Flower says: I am changing you thorns into flowers. Therefore, remember Me. Maya is so powerful. So, do you want to belong to Maya? The Father pulls you to Him and Maya pulls you to her. This is an old shoe. A soul takes a new shoe at first, and he then takes an old shoe. At this time, all shoes are tamopradhan. I make you like velvet. There, because souls are pure, they receive velvet bodies, nodefects. There are many defects here. Look how beautiful the features are there. No one can create those features here. The Father Himself says: I make you so elevated. While living at home with your family, become pure. There is the fire of yoga to remove the rust that has been accumulating on you for birth after birth. Your sins will be burnt by this. You will become real gold. You are given a very good method to remove the alloy: Constantly remember Me alone. You have this knowledge in your intellects. A soul is very tiny. If he were any bigger, he could not enter. How would he enter? Doctors beat their heads so much to be able to see a soul. However, they cannot be seen. You can have a vision, but there is no benefit in having visions. For instance, if you have a vision of Vaikunth (Paradise), what is the benefit in that? Only when the old world ends can you become a resident of Paradise. You have to practise yoga for that. The Father explains: Children, I first have love for thorns. The Father is the Ocean of Love to the maximum extent. You children are also continuing to become sweet. The Father says: Consider yourself to be a soul and see others as brothers and all criminal thoughts will then completely end. Your intellects cause mischief even with the relationship of brother and sister and you therefore have to see all as brothers. There, there is no consciousness of the body for there to be that awareness or that attachment. The Father only teaches souls. Therefore, you too must consider yourselves to be souls. Those bodies are perishable and so you mustn’t attach your hearts to them. In the golden age, you don’t have love for them. You have heard the story of the king who conquered attachment. It is said: The soul will shed one body and go and take another. He has received his part, so why should you have attachment? This is why Baba also says: Remain cautious. Eat halva even if your mother or your wife dies. Promise that, no matter who dies, you will not cry. Remember your Father and become satopradhan. There is no other way to become satopradhan. Only by making effort will you become a bead of the rosary of victory. You can become whatever you want by making effort. The Father understands that you will make the same effort that you made in the previous cycle. The Father is the Lord of the Poor. Donations are made to the poor. The Father Himself says: I enter an ordinary body, neither poor nor wealthy. Only you children know the Father, whereas the rest of the world calls Him omnipresent. The Father is establishing such a religion that there will be no mention of sorrow there. On the path of devotion, people ask for blessings. Here, there is no question of receiving mercy. Whom would you bow down to? He is just a point. You could bow down if He were something large. You cannot bow down to something so tiny. To whom would you put your palms together when you pray? All of those signs of the path of devotion will disappear. To put your palms together becomes the path of devotion. Do brothers and sisters put their palms together in front of one another at home? People ask to have a son in order to make him their heir. The child is the master and this is why the Father says namaste to the children. The Father is the children’s Servant. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not attach your heart to perishable bodies. Become a conqueror of attachment. Promise that, no matter who leaves the body, you will not cry.
  2. Become as sweet as the Father. Give happiness to everyone. Do not cause sorrow for anyone. Do the service of changing thorns into flowers. Bring benefit to yourself and others.
Blessing: May you be seated on a lotus seat and experience God’s love by being detached from any awareness of the body.
A lotus seat is a symbol of the elevated stage of Brahmin souls. Souls who are seated on such a lotus seat are automatically detached from any awareness of the body; no awareness of the body pulls them. Father Brahma always had the angelic form and the deity form in his awareness while walking and moving around. In the same way, when you have a natural, soul-conscious stage you are said to be detached from any awareness of the body. Those who stay beyond any awareness of the body are loved by God.
Slogan: Your specialities and virtues have been given by God as Prabhu Prasad and to consider them to be your own is arrogance of the body.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 February 2019

To Read Murli 4 February 2019 :- Click Here
05-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप आये हैं काँटों को फूल बनाने, बाप का प्यार काँटों से भी है, तो फूलों से भी है। काँटों को ही फूल बनाने की मेहनत करते हैं”
प्रश्नः- जिन बच्चों में ज्ञान की धारणा होगी उनकी निशानी सुनाओ?
उत्तर:- वह कमाल करके दिखायेंगे। वह अपना और दूसरों का कल्याण करने के बिगर रह नहीं सकते। तीर लग गया तो नष्टोमोहा बन रूहानी सर्विस में लग जायेंगे। उनकी अवस्था एकरस अचल-अडोल होगी। कभी कोई बेसमझी का काम नहीं करेंगे। किसी को भी दु:ख नहीं देंगे। अवगुण रूपी काँटों को निकालते जायेंगे।

ओम् शान्ति। यह तो बच्चे जानते हैं बाप बड़ी लीवर घड़ी है। बिल्कुल एक्यूरेट टाइम पर काँटों को फूल बनाने आते हैं। सेकण्ड भी कम जास्ती नहीं हो सकता। जरा भी फर्क नहीं पड़ सकता। यह भी मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं कि इस समय है कलियुगी काँटों का जंगल। तो फूल बनने वालों को यह महसूसता आनी चाहिए कि हम फूल बन रहे हैं। पहले हम सब काँटें थे, कोई छोटे, कोई बड़े। कोई बहुत दु:ख देते हैं, कोई थोड़ा। अब बाप का प्यार तो सबसे है। गायन भी है काँटों से भी प्यार, फूलों से भी प्यार। पहले किससे प्यार है? जरूर काँटों से प्यार है। इतना प्यार है जो मेहनत कर उनको काँटों से फूल बनाते हैं। आते ही हैं काँटों की दुनिया में। इसमें सर्वव्यापी की बात नहीं हो सकती। एक की ही महिमा होती है। महिमा होती है आत्मा की। जब आत्मा शरीर धारण कर पार्ट बजाती है। श्रेष्ठाचारी भी आत्मा बनती है तो भ्रष्टाचारी भी आत्मा बनती है। आत्मा शरीर धारण कर जैसे-जैसे कर्म करती है, उस अनुसार कहा जाता है यह कुकर्मी है, यह सुकर्मी है। आत्मा ही अच्छा वा बुरा कर्म करती है। अपने से पूछो सतयुगी दैवी फूल हो व कलियुगी आसुरी काँटें हो? कहाँ सतयुग, कहाँ कलियुग! कहाँ डीटी, कहाँ डेविल! बहुत फ़र्क है। काँटे जो होते हैं वह अपने को फूल कह न सकें। फूल होते हैं सतयुग में, कलियुग में होते नहीं। अब यह है संगमयुग, जब तुम काँटे से फूल बनते हो। टीचर लेसन देते हैं, बच्चों का काम है उनको रिफाइन कर बताना। उसमें यह भी लिखो कि अगर फूल बनने चाहते हो तो अपने को आत्मा समझो और फूल बनाने वाले परमपिता परमात्मा को याद करो तो तुम्हारे अवगुण निकल जायेंगे और तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। बाबा निबन्ध देते हैं। बच्चों का काम है करेक्ट कर छपाना। तो सभी मनुष्य सोच में पड़ जायें। यह पढ़ाई है। बाबा तुम्हें बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ाते हैं। उन स्कूलों में तो पुराने वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ाई जाती है। नई दुनिया की हिस्ट्री-जॉग्राफी तो कोई जानते ही नहीं। तो यह पढ़ाई भी है, समझानी भी है। कोई छी-छी काम करना बेसमझी है। फिर समझाया जाता है यह विकारी काम दु:ख देने का नहीं करना है। दु:ख हर्ता, सुखकर्ता बाप की महिमा है ना। यहाँ तुम भी सीख रहे हो किसको दु:ख नहीं देना है। बाप शिक्षा देते हैं – सदैव सुख देते रहो। यह अवस्था कोई जल्दी नहीं बनती है। सेकण्ड में बाप का वर्सा तो ले सकते हो। बाकी लायक बनने में टाइम लगता है। समझते हैं बेहद के बाप का वर्सा है स्वर्ग की बादशाही। तुम समझाते भी होंगे कि पारलौकिक बाप से भारत को विश्व की बादशाही मिली थी। तुम सब विश्व के मालिक थे। यह तो तुम बच्चों को अन्दर में खुशी होनी चाहिए। कल की बात है, जब तुम स्वर्ग के मालिक थे। मनुष्य कह देते लाखों वर्ष। कहाँ एक-एक युग की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं, कहाँ सारे कल्प की आयु 5 हजार वर्ष है। बहुत फ़र्क है।

ज्ञान का सागर एक ही बेहद का बाप है। उनसे दैवीगुण धारण करने चाहिए। यह दुनिया के मनुष्य दिन-प्रतिदिन तमोप्रधान बनते जाते हैं। जास्ती अवगुण सीखते जाते हैं। आगे इतना करप्शन, एडलट्रेशन, भ्रष्टाचार नहीं था, अब बढ़ता जाता है। अभी तुम बाप की याद के बल से सतोप्रधान बनते जा रहे हो। जैसे उतरते हो, फिर जाना भी ऐसे ही है। पहले तो बाप मिला उसकी खुशी होगी, कनेक्शन जुटा फिर है याद की यात्रा। जिसने जास्ती भक्ति की होगी उनकी जास्ती याद की यात्रा होगी। बहुत बच्चे कहते हैं बाबा याद ठहरती नहीं है। भक्ति में भी ऐसे होता है। कथा सुनने बैठते हैं तो बुद्धि और-और तरफ भाग जाती है। सुनाने वाला देखता रहता है फिर अचानक पूछते हैं हमने क्या सुनाया तो वायरे हो जाते हैं। (मूंझ जाते हैं) कोई झट बतायेंगे। सब तो एक जैसे नहीं होते हैं। भल यहाँ बैठे हैं परन्तु धारणा कुछ भी नहीं। अगर धारणा होती तो कमाल कर दिखाते। वह अपना और दूसरों का कल्याण करने बिना रह नहीं सकते। भल किसको घर में बहुत सुख है, महल मोटरें आदि हैं परन्तु एक बार तीर लग गया तो बस, पति को कहेंगे हम यह रूहानी सर्विस करने चाहते हैं। परन्तु माया बड़ी जबरदस्त है, करने नहीं देती। मोह है ना। इतने महल, इतने सुख कैसे छोड़े। अरे, यह इतने सब पहले जो भागे। बड़े-बड़े लखपति, करोड़पति घर की थी, सब छोड़कर चली आई। यह तकदीर दिखाती है, इतनी ताकत नहीं है छोड़ने की। रावण की जंजीरों में जकड़े हुए हैं। यह हैं बुद्धि की जंजीरें। बाप समझाते हैं – अरे, तुम स्वर्ग के मालिक पूज्य बनते हो! बाप गैरन्टी करते हैं 21 जन्म तुम कभी बीमार नहीं पड़ेंगे। एवर हेल्दी 21 जन्मों तक रहेंगे। तुम भल रहो पति के पास सिर्फ उनकी छुट्टी लो – पवित्र बनूँगी और बनाऊंगी। यह तुम्हारा फ़र्ज है बाप को याद करना, जिससे अपार सुख मिलते हैं। याद करते-करते तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। कितनी समझ की बात है। शरीर पर भरोसा नहीं है। बाप का तो बन जाओ। उन जैसी प्यारी वस्तु कोई और नहीं है। बाप विश्व का मालिक बनाते हैं, कहते हैं जितना चाहो उतना सतोप्रधान बनो। तुम अपार सुख देखेंगे। बाबा स्वर्ग का द्वार इन नारियों से खुलवाते हैं। माताओं पर ही ज्ञान का कलष रखा जाता है। बाबा ने माताओं को ही ट्रस्टी बनाया है, सब-कुछ तुम मातायें ही सम्भालो। इनके द्वारा कलष रखा ना। फिर उन्होंने लिख दिया है सागर मंथन किया, अमृत का कलष लक्ष्मी को दिया। अभी तुम जानते हो – बाबा स्वर्ग का द्वार खोल रहे हैं। तो क्यों न हम बाबा से वर्सा लें। क्यों न विजय माला में पिरो जायें, महावीर बनें। बेहद का बाप बच्चों को गोद में लेते हैं – किसलिए? स्वर्ग का मालिक बनाने के लिए। एकदम काँटों को बैठ शिक्षा देते हैं। तो काँटों पर भी प्यार है ना तब तो उनको फूल बनाते हैं। बाप को बुलाते ही हैं पतित दुनिया और पतित शरीर में, निर्वाणधाम छोड़कर यहाँ आओ। बाप कहते हैं ड्रामा अनुसार मुझे कांटों की ही दुनिया में आना पड़ता है। तो जरूर प्यार है ना। बिगर प्यार फूल कैसे बनायेंगे? अभी तुम कलियुगी काँटे से सतयुगी देवता सतोप्रधान विश्व के मालिक बनो। कितना प्यार से समझाया जाता है। कुमारी फूल है तब तो सब उनके चरणों में गिरते हैं। वह जब काँटा (पतित) बनती है तो सबको माथा टेकना पड़ता है। तो क्या करना चाहिए? फूल का फूल रहना चाहिये तो एवरफूल बन जायेंगे। कुमारी तो निर्विकारी है ना, भल जन्म विकार से लिया है। जैसे सन्यासी जन्म तो विकार से लेते हैं ना। शादी कर फिर घर-बार को तलाक देते हैं। उन्हें फिर महान् आत्मा कहते हैं। कहाँ वह सतयुग के महान् आत्मा विश्व के मालिक, कहाँ यह कलियुग के! तब बाबा ने कहा – प्रश्न लिखो कि कलियुगी काँटे हो वा सतयुगी फूल हो? भ्रष्टाचारी हो या श्रेष्ठाचारी?

यह है भ्रष्टाचारी दुनिया जबकि रावण का राज्य है। कहते हैं आसुरी राज्य, राक्षस राज्य है। परन्तु अपने को कोई समझते थोड़ेही हैं। अब तुम बच्चे युक्ति से प्रश्न पूछते हो तब वह आपेही समझते हैं बरोबर हम तो कामी, क्रोधी, लोभी हैं। प्रदर्शनी में भी ऐसे लिखो तो उनको फीलिंग आये कि मैं तो कलियुगी काँटा हूँ। अभी तुम फूल बन रहे हो। बाबा तो एवरफूल है। वह कभी काँटा बनते नहीं। बाकी सब काँटे बनते हैं। वह फूल कहते हैं – तुमको भी काँटे से फूल बनाता हूँ। तुम मुझे याद करो। माया कितनी प्रबल है। तो क्या तुमको माया का बनना है? बाप तुमको अपनी तरफ खींचते हैं, माया अपनी तरफ खींचती है। यह है पुरानी जुत्ती। आत्मा को पहले नई जुत्ती मिलती है फिर पुरानी होती है। इस समय सब जुत्तियाँ तमोप्रधान हैं। मैं तुमको मखमल का बना देता हूँ। वहाँ आत्मा प्योर होने के कारण शरीर भी मखमल का होता है। नो डिफेक्ट। यहाँ तो बहुत डिफेक्ट हैं। वहाँ के फीचर्स तो देखो कितने सुन्दर हैं। वो फीचर तो यहाँ कोई बना न सके। अब बाप भी कहते हैं हम कितना ऊंच बनाते हैं। घर गृहस्थ में कमल समान पवित्र बनो और जन्म-जन्मान्तर की जो कट चढ़ी हुई है, उनको निकालने के लिए योग अग्नि है। इसमें सब पाप भस्म हो जायेंगे। तुम पक्का सोना बन जायेंगे। खाद निकालने की युक्ति बहुत अच्छी बताते हैं, मामेकम् याद करो। तुम्हारी बुद्धि में यह ज्ञान है। आत्मा भी बहुत छोटी है। बड़ी हो तो इनमें प्रवेश कर न सके। कैसे करेगी? आत्मा को देखने के लिए डॉक्टर बहुत माथा मारते हैं, परन्तु देखने में नहीं आती है। साक्षात्कार होता है। परन्तु साक्षात्कार से तो कोई फायदा नहीं होता। समझो तुमको वैकुण्ठ का साक्षात्कार हुआ लेकिन इससे फायदा क्या! वैकुण्ठवासी तो तब बनेंगे जब पुरानी दुनिया खत्म हो। इसके लिए तुम योग का अभ्यास करो।

तो बाप समझाते हैं बच्चे, पहले काँटों से प्यार होता है। सबसे जास्ती प्यार का सागर है बाप। तुम बच्चे भी मीठे बनते जाते हो। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ भाई-भाई को देखो तो क्रिमिनल ख्यालात बिल्कुल निकल जायेंगे। भाई-बहन के सम्बन्ध से भी बुद्धि चलायमान होती है इसलिए भाई-भाई को देखो। वहाँ तो शरीर ही नहीं जो भान आये या मोह जाये। बाप आत्माओं को ही पढ़ाते हैं। तो तुम भी अपने को आत्मा समझो। यह शरीर विनाशी है, इनसे थोड़ेही दिल लगानी है। सतयुग में इनसे प्रीत नहीं होती है। मोह जीत राजा की कथा सुनी है ना। बोला आत्मा एक शरीर छोड़ जाकर दूसरा लेगी। पार्ट मिला हुआ है, मोह क्यों रखें? इसलिए बाबा भी कहते हैं ख़बरदार रहना। अम्मा मरे, बीबी मरे हलुआ खाना। यह प्रतिज्ञा करो कोई भी मरे हमको रोना नहीं है। तुम अपने बाप को याद करो, सतोप्रधान बनो। और कोई रास्ता नहीं है सतोप्रधान बनने का। पुरुषार्थ से ही विजय माला का दाना बनेंगे। पुरुषार्थ से जो चाहे सो बन सकते हो। बाप तो समझते हैं जितना पुरुषार्थ कल्प पहले किया होगा वही करेंगे। बाप तो है ही गरीब निवाज। दान भी गरीबों को ही दिया जाता है। बाप खुद कहते हैं मैं भी साधारण तन में आता हूँ। न गरीब, न साहूकार। तुम बच्चे ही बाप को जानते हो, बाकी सारी दुनिया तो सर्वव्यापी कह देती है। बाप ऐसा धर्म स्थापन करते हैं जो वहाँ दु:ख का नाम भी नहीं रहेगा।

भक्ति मार्ग में मनुष्य आशीर्वाद माँगते हैं। यहाँ तो कृपा की कोई बात नहीं। माथा किसको टेकेंगे? बिन्दी है ना। बड़ी चीज़ हो तो माथा भी टेकें। छोटी चीज को माथा भी नहीं टेक सकते। हाथ किसको जोड़ेंगे। यह भक्ति मार्ग की निशानियाँ सब गुम हो जाती हैं। हाथ जोड़ना भक्ति मार्ग हो जाता है। बहन-भाई हैं, घर में हाथ जोड़ते हैं क्या? बच्चा माँगते ही हैं वारिस बनाने के लिए। बच्चा मालिक ठहरा ना इसलिए बाप बच्चों को नमस्ते करते हैं। बाप तो बच्चों का सर्वेन्ट है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विनाशी शरीर से दिल नहीं लगानी है। मोहजीत बनना है, प्रतिज्ञा करो कि कोई भी शरीर छोड़े, हम कभी रोयेंगे नहीं।

2) बाप समान मीठा बनना है, सबको सुख देना है। किसको दु:ख नहीं देना है। काँटों को फूल बनाने की सेवा करनी है। अपना और दूसरों का कल्याण करना है।

वरदान:- देह-भान से न्यारे बन परमात्म प्यार का अनुभव करने वाले कमल आसनधारी भव
कमल आसन ब्राह्मण आत्माओं के श्रेष्ठ स्थिति की निशानी है। ऐसी कमल आसनधारी आत्मायें इस देहभान से स्वत: न्यारी रहती हैं। उन्हें शरीर का भान अपनी तरफ आकर्षित नहीं करता। जैसे ब्रह्मा बाप को चलते फिरते फरिश्ता रूप वा देवता रूप सदा स्मृति में रहा। ऐसे नेचुरल देही-अभिमानी स्थिति सदा रहे इसको कहते हैं देह-भान से न्यारे। ऐसे देह-भान से न्यारे रहने वाले ही परमात्म प्यारे बन जाते हैं।
स्लोगन:- आपकी विशेषतायें वा गुण प्रभु प्रसाद हैं, उन्हें मेरा मानना ही देह-अभिमान है।

TODAY MURLI 5 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 5 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 4 February 2018 :- Click Here

05/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at this time, Ravan, the five vices, has made everyone bankrupt of happiness and prosperity. You are now gaining victory over Ravan, your enemy, and becoming conquerors of the world.
Question: Due to knowing which secrets in the drama do you children have elevated thoughts?
Answer: 1) You know that, according to the drama, the impact will continue to be made automatically. Then, when there is a big crowd of devotees, you will not be able to do service. 2) Baba’s children who have been converted into other religions will emerge and you therefore have very elevated thoughts that someone would emerge from somewhere who would become Baba’s child and claim his inheritance from the unlimited Father. You do not think that someone who would give Baba money should emerge; the faith should be instilled that Shiv Baba is teaching and they run to claim their inheritance from Baba.
Song: Take blessings from the Mother and Father!

Om shanti. “Seva” is also called service. First of all, the Mother and Father serve. Look, they are doing that now in a practical way. The Supreme Father, the Supreme Soul, has come to establish all the laws and regulations from now on. You children come here and say, “Mama”, “Baba”, and so Mama and Baba serve you. Limited parents also serve their children. All of those mothers, fathers and gurus are worldly whereas this is the One from beyond. Everyone knows the worldly. A father gives you birth. A teacher teaches you, that is, he gives you teachings. Then, in your stage of retirement, you adopt a guru. When did this custom and system start? It starts now. It is only at this time that the Satguru comes and explains: I am your Father, Teacher and Satguru. You have become children of the Father. You are receiving teachings from Him, the Teacher. At the end, He becomes your Satguru and sends you to the land of truth. He does all three tasks in a practical way. You children say “Mother and Father” and so the Father accepts that. You know that not all children can become worthy to the same extent. Here, too, the unlimited Father says: Not all children are worthy. You know this. It is now Ravan’s kingdom. None of the scholars or pandits etc. know this. When someone comes, first of all, ask him: What do you want? Some look for a guru because they are searching for peace. No one in the golden age looks for a guru etc. because there is no sorrow there; there is nothing lacking there. Here, they go to a guru with a desire for one thing or another. When they hear of someone’s desires being fulfilled by a particular guru, they too would go there. Sannyasis become pure and so their praise definitely has to increase. Many become their followers. Reason says that the Father definitely would have to have praised those who became pure. You become pure and so you are praised so much. There is benefit for human beings for 21 births through you. All desires are fulfilled for 21 births. Only you know this. No one in the world knows when God comes or who Jagadamba is, the one through whom all our desires are fulfilled. Everyone is now in extreme // immense darkness: as are the king and queen, so the subjects. At first, there is a little darkness, and then, in the iron age, there is extreme darkness. The kingdom of Maya is called extreme darkness. The Father says: The biggest of all the enemies of Bharat is Maya, the five vices. You know that this Maya, Ravan, has abducted the Sitas, that is, he has imprisoned them in his chains. The Father comes to liberate you from the biggest of all enemies. No one knows who made Bharat that was so prosperous become so poverty-stricken. This Ravan is a big enemy. The condition of Bharat became like this when Ravan came into existence. It is said: You have the evil spirit of anger. However, people don’t know that the five vices are called evil spirits. These evil spirits, that is, Ravan, is the greatest enemy of all. It isn’t that the Muslims or Christians made Bharat poverty-stricken; no. It was this Ravan who made everyone bankrupt of happiness and prosperity. No one knows these things. It is now 1,500 years since the sannyas religion was established. The number of them has increased a lot. While the number of them has gradually been increasing, they have now reached the state of total decay. Your tree is now new and satopradhan. You are now battling with Ravan. There is no mention of Ravan in the Gita. They have shown a violent war. The Father says: You will become conquerors of the world by conquering Ravan, the five vices. Those of all other religions have to go back because there will only be one religion and one kingdom in the golden age. Those who claimed it in the previous cycle, those who became part of the sun dynasty will become that and they will rule in the number one satopradhan kingdom. In the golden age, there was just the one religion. Now, after taking rebirth, there has been a lot of growth. Just as there has been a lot of growth in all the many religions, in the same way, now there are so many who belong to the Brahm Samaji, Arya Samaji, sannyasis etc. It is a wonder! They are all residents of Bharat, those of the one original, eternal, deity religion. The same genealogical tree has continued from the top. The land of Bharat is the land of truth where the Father comes and transfersyou to the deity religion. You know this. First of all, you have to be put in a bhatthi (Yoga furnace) for seven days and made into Brahmins from Sudras. Sannyasis have disinterest and so they go away to the forests. Their path is separate. They leave their homes and families; they don’t have any difficulties. Yes, there will be storms in their minds. They become liberated from the vice of lust but, yes, they do have anger and they are numberwise in that. Some are the highest, some mediocre and some the lowest; some are totally dirty. Although everyone in the golden age is happy, the status there is numberwise. There are the sun-dynasty king, queen and subjects, the moon-dynasty king, queen and subjects: there are the highest, middle and lowest. This happens in all religions. The Father sits here and explains all the secrets to you. There is a lot of difficulty on this path. There isn’t as much difficulty on the path of renunciation. They have disinterest, they take up renunciation and that’s all. Some even fail. However, for those who are very firm, it is difficult for them to go back (into the world). Here, you have to remain pure while living at home with families. The Father explains: A courageous couple are those who live together with the sword of knowledge and yoga between them. There is a story in which a woman asked a man to put an urn of water on her head, but that he shouldn’t touch her at all. This means that there should be no intention of vice. They have then taken that physically. Everything is about vice, that is, you mustn’t be stripped. You mustn’t burn in the fire of lust. The destination is high but the attainment is also high. Sannyasis become pure and so they also have so much attainment. Some have become great mahamandleshwars and live in palaces. Many people go and place money there. People wash their feet and drink that water. They are praised a lot. However, the number one praise is of God. He alone is the Creator of heaven. There is no name or trace of Maya there. Even sannyasis don’t understand that Maya is the five vices; they simply remain pure. That is their part in the drama. Theirs is hatha yoga renunciation, whereas yours is Raj Yoga renunciation. They cannot teach Raj Yoga. That one is Shankaracharya and this one is Shivacharya. (Shiva the Teacher) You give His introduction, saying that God comes and teaches you. He would definitely make you into the masters of heaven. He would not make you into the masters of hell. He is the Creator of heaven. So, there is effort in living at home and remaining pure. Some don’t let their daughters remain without getting them married. Earlier, people used to get married for vice. You have now cancelled the marriage for vice and sit on the pyre of knowledge and become a pure couple. Therefore, you have to check yourselves to see that Maya doesn’t cause mischief. Are there any storms in your minds? Although you may have storms in your minds, you mustn’t perform sinful actions through your physical senses. By your considering yourselves to be brother and sister and by staying on the pyre of knowledge, there won’t be any fire of lust. If there were a fire, there would be degradation. In fact, the whole world is of brothers and sisters and when the Father comes we belong to Him. You are now the mouth-born creation of Brahma in a practical way. Your memorial is also here. There is the Adhar Kumari Temple too. Those who get off the pyre of lust and sit on the pyre of knowledge are called Adhar Kumaris. You can also explain to the sannyasis. You mustn’t beat your head with anyone uselessly. A worthy seeker will come alone and listen with a lot of love. Some just come to make fun of you. This is why you should check their pulse and give them medicine accordingly. The Father has told you to donate to those who are worthy of it. Nowadays, the world is very bad. Sannyasis wear saffron robes and live separately. They receive something or other. They continue to eat and drink with pleasure. Nowadays, they have a lot of influence. When those among you who do very good service are praised, others too are praised along with them. Everyone would say of the children who do good service that their mother and father would also be like them. You definitely have to make effort. Sannyasis have disinterest while sitting at home, and so they go away to Haridwar; they adopt a guru there. The systems here are unique. They are not mentioned anywhere else. They have falsified the Gita. If this one secret were to be revealed, all the BKs would become very well known. They would all surrender themselves to you, there would be your influence. Now, many people oppose you. First, members of your family become your enemies. So many became enemies of this Baba too. They have even alleged that Krishna abducted women. They have made so many false allegations against him. This too is fixed in the drama. According to the drama, your influence will automatically be felt. There will then be crowds of devotees. However, service can’t take place in crowds. When sannyasis have crowds of people, they become happy. Here, you know that only a handful out of multimillions will emerge. Sannyasis only think about those emerging who would give them money. You would think that someone from them should emerge who can become a child and claim his inheritance. Therefore, there is so much difference! You give lectures and so those who were children here and have been converted into other religions will emerge. Some come from the Arya Samaj, others from elsewhere. So, when people hear that someone from their religion has gone to the Brahma Kumaris, they feel that their noses have been cut off. You need good clear ways to explain to them. First of all, you have to give the Father’s introduction. Some even put it in writing: Truly, Shiv Baba is teaching us. However, you mustn’t become happy with just that. They don’t have any faith at all. Even though some children write letters, Baba writes back to them: You don’t have any faith at all. If you had faith, you wouldn’t wait for even a second to receive the inheritance from the most beloved Father. Reason says that the poor would quickly come running here. Scarcely any wealthy ones would emerge. A few ordinary ones emerge. Tell anyone who comes: This is a study place (pathshala) for Raja Yoga. Just as there is yoga to become a doctor, so this is Raja Yoga for becoming a king of kings. Our aim and objective is to change from human beings into deities. Achcha.

To the sweetest, beloved long-lost and now-found children, BapDada’s love and remembrance, numberwise, according to the effort you make. Those who make effort and make others equal to themselves are the ones who are able to climb into the heart. The Father loves everyone anyway. Achcha. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t perform any sinful actions through your physical organs. With the powers of knowledge and yoga, gain victory over the storms of the mind.
  2. Do such service that you glorify the name of the Mother and Father and also continue to receive everyone’s blessings.
Blessing: May you be a master almighty authority, one with all powers, who experiences receiving touchings from God with the power of your divine intellect.
A divine intellect is referred to as the power of the intellect and it is with this power of the intellect that you are able to catch all powers from the Father and become a master almighty authority. There is the power of a scientific intellect which is a worldly intellect and it can therefore only think of this world and its matter. You have the power of a divine intellect which enables you to experience Godly attainment. When you have a divine intellect, you can feel pure Godly touchings and experience success. With the power of a divine intellect, you can defeat Maya when she attacks you.
Slogan: Only those who become master suns of knowledge and give the light and might of knowledge to everyone are true servers.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 5 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 5 February 2018

To Read Murli 4 February 2018 :- Click Here
05-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – इस समय सभी के सुख सम्पत्ति का देवाला रावण पांच विकारों ने निकाला है, तुम अभी रावण रूपी दुश्मन पर जीत पाकर जगतजीत बनते हो”
प्रश्नः- ड्रामा के किस राज़ को जानने के कारण तुम बच्चों के ख्यालात बड़े ऊंचे रहते हैं?
उत्तर:- तुम जानते हो ड्रामा अनुसार आटोमेटिक प्रभाव निकलता जायेगा। फिर भक्तों की भीड़ लगेगी उस समय सर्विस नहीं हो सकेगी। 2. जो बाबा के बच्चे दूसरे धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं वो निकल आयेंगे इसलिए तुम्हारे ख्यालात बहुत ऊंचे रहते कि कहाँ से कोई निकले जो बच्चा बन बेहद बाप से अपना वर्सा ले। तुम्हें यह ख्याल नहीं रहता कि कोई निकले जो पैसा दे। लेकिन शिवबाबा पढ़ाते हैं यह निश्चय बैठे और बाबा से वर्सा लेने के लिए भागे।
गीत:- ले लो दुआयें माँ बाप की…

ओम् शान्ति। सेवा को सर्विस भी कहते हैं। पहले मात-पिता सेवा करते हैं। अब देखो प्रैक्टिकल में कर रहे हैं ना। अभी से ही सभी कायदे कानून परमपिता परमात्मा आकर स्थापन करते हैं। तुम बच्चे आते हो, मम्मा बाबा कहते हो तो मम्मा बाबा भी तुम्हारी सेवा करते हैं। हद के माँ बाप भी बच्चों की सेवा करते हैं। माँ, बाप, गुरू, वह सब हैं लौकिक, यह है पारलौकिक। लौकिक को तो सब जानते हैं, बरोबर बाप जन्म देते हैं। टीचर पढ़ाते हैं अर्थात् शिक्षा देते हैं। फिर वानप्रस्थ अवस्था में गुरू किया जाता है। यह रसम-रिवाज़ कब से शुरू हुई? अभी से ही यह आरम्भ होती है। इस समय ही सतगुरू आते हैं, समझाते हैं मैं तुम्हारा बाप भी हूँ, टीचर भी हूँ, सतगुरू भी हूँ। बाप के तो बच्चे बने हो। टीचर रूप में इनसे शिक्षा पा रहे हो। अन्त में सतगुरू बन तुमको सचखण्ड में ले जायेंगे। तीनों काम प्रैक्टिकल में करते हैं। तुम बच्चे मात-पिता कहते हो तो बाप भी स्वीकार करते हैं। यह तो जानते हैं सभी बच्चे एक समान सपूत नहीं हो सकते हैं। यहाँ भी बेहद का बाप कहते हैं – सब बच्चे सपूत नहीं हैं। यह तो तुम भी जानते हो। अभी है रावण राज्य। यह कोई विद्वान, पण्डित आदि नहीं जानते हैं। जब कोई आते हैं तो पहले तो उनसे पूछना है तुम क्या चाहते हो? फिर कोई शान्ति चाहते हैं इसलिए गुरू ढूंढते हैं। सतयुग में तो कोई गुरू आदि नहीं ढूँढते क्योंकि वहाँ दु:खी नहीं हैं। वहाँ कोई अप्राप्त वस्तु नहीं है। यहाँ तो कोई न कोई वस्तु की लालसा रख गुरू के पास जाते हैं। कोई का सुनेंगे कि उनकी मनोकामना पूरी हुई तो खुद भी उनके पिछाड़ी में जायेंगे। सन्यासी पवित्र बनते हैं तो उन्हों की महिमा तो बढ़नी ही है। बहुत शिष्य बन जाते हैं। विवेक भी कहता है जो पवित्र बनते हैं, उनकी महिमा जरूर बाप को करानी है। तुम पवित्र बनते हो तो तुम्हारी कितनी महिमा होती है। तुम्हारे द्वारा मनुष्यों का 21 जन्मों के लिए कल्याण हो जाता है। सर्व मनोकामनायें 21 जन्मों के लिए पूरी हो जाती हैं। यह भी तुम जानते हो, दुनिया में यह भी कोई नहीं जानते हैं कि परमात्मा कब आते हैं, जगत अम्बा कौन है, जिस द्वारा हमारी सभी मनोकामनायें पूरी हो जाती हैं। अब सब घोर अन्धियारे में हैं। यथा राजा रानी तथा प्रजा…. पहले कम अन्धियारा होता है फिर कलियुग में घोर अन्धियारा होता है। माया के राज्य को घोर अन्धियारा कहा जाता है। बाप कहते हैं भारत का बड़े ते बड़ा दुश्मन भी माया रूपी 5 विकार हैं। तुम जानते हो इस माया रावण ने सीताओं को हरण किया अर्थात् अपनी जंजीरों में कैद किया। बाप आते हैं इस बड़े ते बड़े दुश्मन से लिबरेट करने। यह भी कोई को पता नहीं कि भारत जो इतना मालामाल था, उनको इतना कंगाल किसने बनाया? यही रावण बड़ा दुश्मन है। इनकी प्रवेशता के कारण भारत का यह हाल हो गया है। कहा जाता है ना तुम्हारे में क्रोध का भूत है। परन्तु मनुष्य समझते नहीं हैं कि 5 विकारों को भूत कहा जाता है। यह भूत अर्थात् रावण ही सबसे बड़ा दुश्मन है। ऐसे नहीं कि मुसलमानों वा क्रिश्चियन ने भारत को कंगाल बनाया। नहीं, सबके सुख सम्पत्ति का देवाला इसी रावण ने निकाला है। यह बात कोई नहीं जानते हैं। अब सन्यास धर्म को 1500 वर्ष हुए हैं। उन्हों की संख्या बहुत वृद्धि को पाई हुई है। वृद्धि को पाते-पाते अभी आकर जड़जड़ीभूत अवस्था को पहुँचे हैं। तुम्हारा तो अब सतोप्रधान नया झाड़ है।

तुम अभी रावण के साथ युद्ध कर रहे हो। गीता में रावण का नाम नहीं है। उन्होंने फिर हिंसक युद्ध दिखा दी है। बाप कहते हैं तुम इन 5 विकार रूपी रावण पर जीत पाने से जगतजीत बनेंगे। अन्य सभी धर्मों को तो वापिस जाना है क्योंकि सतयुग में तो होगा ही एक धर्म, एक राज्य। सो जिन्होंने कल्प पहले लिया था, जो सूर्यवंशी बने थे वही सतोप्रधान नम्बरवन राज्य करेंगे। सतयुग में था ही एक धर्म। फिर पुनर्जन्म लेते-लेते अभी तो बहुत वृद्धि हो गई है। जैसे अन्य धर्मों में भी अनेक प्रकार की वृद्धि हो गई है। वैसे इसमें भी ब्रह्म समाजी, आर्य समाजी, सन्यासी आदि कितने हैं, वन्डर है। हैं तो सभी भारतवासी, एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म के ना। सिजरा तो ऊपर से वही चला आता है ना। भारतखण्ड है सचखण्ड, जहाँ बाप आकर देवी-देवता धर्म में ट्रांसफर करते हैं। यह तुम जानते हो। पहले 7 रोज़ भट्ठी में रख शूद्र से ब्राह्मण बनाना पड़ता है। सन्यासियों को तो वैराग्य आता है, जो जंगल में चले जाते हैं। उन्हों का रास्ता ही अलग है। घर-बार छोड़ जाते हैं। उन्हों को कोई तकलीफ नहीं है। हाँ, मन्सा में तो संकल्प आयेंगे। काम विकार से तो छूट ही जाते हैं। बाकी क्रोध आता है, उनमें भी नम्बरवार तो होते हैं ना। कोई उत्तम, कोई मध्यम, कोई कनिष्ट, कोई तो एकदम डर्टी भी होते हैं। सतयुग में भी भल सुखी तो सब होते हैं परन्तु नम्बरवार मर्तबा तो है ना। सूर्यवंशी राजा रानी, प्रजा, चन्द्रवंशी राजा रानी, प्रजा….. उत्तम, मध्यम, कनिष्ट तो होते हैं। यह सभी धर्मों में होते हैं। तो बाप सभी राज़ बैठ समझाते हैं। इस मार्ग में डिफीकल्टी बहुत है, सन्यास मार्ग में इतनी नहीं है। उन्हों को तो वैराग्य आया, सन्यास लिया खलास। कोई-कोई फेल होते हैं। बाकी जो पक्के होते हैं उन्हों का वापिस आना मुश्किल है। यहाँ तो यह है गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र रहना। बाप समझाते हैं बहादुर वह जो दोनों इकट्ठे रहो और बीच में ज्ञान योग की तलवार हो। ऐसे एक कहानी भी है कि उसने कहा कि घड़ा भल सिर पर रखो परन्तु तेरा अंग मेरे अंग से न लगे अर्थात् विकार की भावना न हो। उन्होंने फिर शरीर समझ लिया है। बात सारी विकार की है अर्थात् नंगन नहीं होना है। काम अग्नि में जलना नहीं है। बड़ी मंजिल है तो प्राप्ति भी बहुत बड़ी है। सन्यासी पवित्र बनते हैं तो उन्हों को भी कितनी प्राप्ति है। बड़े-बड़े महामण्डलेश्वर बन बैठे हैं, महलों में रहते हैं। बहुत लोग जाकर पैसा रखते हैं। चरण धोकर पीते हैं। बहुत महिमा होती है। परन्तु नम्बरवन महिमा है ईश्वर की। वही स्वर्ग का रचयिता है। वहाँ माया का नाम निशान नहीं रहता। सन्यासी भी यह नहीं समझते कि माया 5 विकार हैं, सिर्फ पवित्र रहते हैं। उन्हों का ड्रामा में यही पार्ट है। उन्हों का है ही हठयोग सन्यास। तुम्हारा है राजयोग सन्यास। वह राजयोग तो सिखला न सके। वह है शंकराचार्य, यह है शिवाचार्य। तुम भी परिचय देते हो हमको भगवान आकर पढ़ाते हैं। वह तो जरूर स्वर्ग का मालिक बनायेगा। नर्क का तो नहीं बनायेंगे। वह रचता ही स्वर्ग का है। तो गृहस्थ में रहकर पवित्र रहना – इसमें ही मेहनत है। कन्याओं को शादी बिगर रहने नहीं देते हैं। आगे विकार के लिए शादी करते थे। अब विकारी शादी कैन्सिल कर ज्ञान चिता पर बैठ पवित्र जोड़ा बनते हैं। तो अपनी जांच करनी होती है कि माया कहाँ चलायमान तो नहीं करती है? मन में तूफान तो नहीं आते हैं? भल मन में संकल्प आते हो परन्तु कर्मेन्द्रियों से विकर्म कभी नहीं करना। भाई-बहन समझने से, ज्ञान चिता पर रहने से काम अग्नि नहीं लगेगी। अगर आग लगी तो अधोगति को पा लेंगे। यूँ तो सारी दुनिया भाई-बहन है। परन्तु जब बाप आते हैं तो हम उनके बनते हैं। अभी तुम प्रैक्टिकल में ब्रह्मा मुख वंशावली हो, तुम्हारा यादगार भी यहाँ है। अधरकुमारी का मन्दिर भी है ना। जो काम चिता से उतर ज्ञान चिता पर बैठते हैं – उनको अधर कुमारी कहा जाता है। तुम सन्यासियों को भी समझा सकते हो। बाकी कोई से फालतू माथा नहीं मारना चाहिए। पात्र जिज्ञासु होगा, वह तो अकेला आकर प्रेम से समझेगा। कई हंसी उड़ाने के लिए भी आते हैं इसलिए नब्ज देख ऐसी दवाई देनी चाहिए। बाप ने कहा है पात्र को दान देना है।

आजकल दुनिया बहुत खराब है। सन्यासी लोग तो कफनी पहन लेते हैं और जाकर अलग रहते हैं। कुछ न कुछ मिल जाता है। मजे से खाते पीते रहते हैं। आजकल उन्हों का प्रभाव है ना। तुम्हारे में भी जो अच्छी सर्विस करते हैं तो उन्हों की महिमा से औरों की भी महिमा निकल पड़ती है। जो बच्चे अच्छी सर्विस करते हैं तो सब कहेंगे इनके माँ बाप भी ऐसे होंगे। मेहनत जरूर करनी है। सन्यासियों को तो घर बैठे वैराग्य आ जाता है तो हरिद्वार चले जाते। वहाँ कोई गुरू कर लेते। यहाँ की रसम ही निराली है। इनका कहाँ वर्णन है ही नहीं। गीता को ही झूठा बना दिया है। यह पहली बात खुल जाये तो सब बी.के. बहुत नामीग्रामी हो जाओ। सब तुम्हारे पर सदके जायें (बलिहार जायें)। प्रभाव निकलना तो है ना। अभी तो तुम्हारा बहुत सामना करते हैं। पहले तो घर के ही दुश्मन बनते हैं। इस बाबा के भी कितने दुश्मन बनें। कृष्ण के लिए भी कहते हैं ना – भगाता था। कितने कलंक लगाये हैं। यह भी ड्रामा में नूँध है। ड्रामा अनुसार आटोमेटिकली प्रभाव निकलता जायेगा। फिर भक्तों की भीड़ आकर होगी। परन्तु भीड़ में फिर सर्विस हो नहीं सकेगी। सन्यासियों के पास भीड़ होती है तो वह खुश होते हैं। यहाँ तुम जानते हो कोटो में कोई निकलेगा। सन्यासी तो यही सोचेंगे कि इनसे कोई निकलेंगे जो पैसे देंगे। तुम्हारा ख्याल चलता है कि इनसे कोई निकले जो बच्चा बन वर्सा लेवे। तो कितना फ़र्क है। तुम भाषण करते हो तो जो अपने बच्चे और धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं वह निकलेंगे। कोई आर्य समाज से, कोई कहाँ से निकल आते हैं। तो जब फिर लोग सुनते हैं यह हमारे धर्म का ब्रह्माकुमार-ब्रह्माकुमारियों के पास भाग गया है तो समझते हैं हमारी नाक कट गई। इसमें समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। पहले तो बाप का परिचय देना है। भल कोई लिखकर भी देते हैं। बरोबर शिवबाबा पढ़ाते हैं परन्तु उसमें खुश नहीं होना है। निश्चय बिल्कुल नहीं बैठा है। भल कई बच्चे पत्र भी लिखते हैं। परन्तु बाबा लिख देते हैं – तुमको निश्चय बिल्कुल नहीं है। निश्चय बैठे – मोस्ट बिलवेड बाप से वर्सा मिलता है तो एक सेकेण्ड भी ठहरे नहीं। विवेक कहता है कि गरीब झट भागेंगे। साहूकार कोई बिरला निकलेगा। साधारण कुछ निकलेंगे। कोई भी आये बोलो यह राजयोग की पाठशाला है। जैसे डॉक्टरी योग वैसे यह राजयोग है, जिससे राजाओं का राजा बनना है। हमारा एम आब्जेक्ट है ही मनुष्य से देवता बनना। अच्छा।

बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार यादप्यार। दिल पर वह चढ़ते हैं जो पुरुषार्थ कर आप समान बनाते हैं। बाकी बाप सभी को प्यार तो करेंगे ही। अच्छा-रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कर्मेन्द्रियों से कोई भी विकर्म नहीं करना है। ज्ञान और योगबल से मन के तूफानों पर विजय प्राप्त करनी है।

2) सेवा ऐसी करनी है जिससे मात-पिता का नाम बाला हो। सबकी दुआयें मिलती रहें।

वरदान:- दिव्य बुद्धि के बल द्वारा परमात्म टचिंग का अनुभव करने वाला मास्टर सर्वशक्तिमान भव 
दिव्य बुद्धि को बुद्धिबल कहा जाता है इस बुद्धिबल द्वारा ही बाप से सर्वशक्तियां कैच कर मास्टर सर्वशक्तिमान बनते हो। जैसे साइंस बुद्धिबल है लेकिन वह संसारी बुद्धि है इसलिए इस संसार के प्रति, प्रकृति के प्रति ही सोच सकते हैं। आपके पास दिव्य बुद्धि का बल है जो परमात्म प्राप्ति की अनुभूति कराता है। दिव्य बुद्धि द्वारा हर कर्म में परमात्म प्योर टचिंग का अनुभव कर सफलता का अनुभव कर सकते हो। दिव्य बुद्धि के बल से माया के वार को हार खिला सकते हो।
स्लोगन:- मास्टर ज्ञान सूर्य बन सर्व को ज्ञान की लाइट माइट देने वाले ही सच्चे सेवाधारी हैं।

 

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize