today murli 4 november

TODAY MURLI 4 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 November 2018 :- Click Here

04/11/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
24/02/84

Brahmin birth is the birth of incarnation.

BapDada comes into sound to take everyone into the stage beyond sound. He comes to the corporeal world and enters a corporeal body to make you avyakt. Are you always incarnated in your corporeal bodies whilst being in the avyakt stage and considering yourselves to be subtle angels? All of you are incarnations that incarnate. By performing every deed in this awareness, you become the karmateet incarnations who are free from any bondage of karma. An incarnation means someone who comes down here from up above in order to perform elevated deeds. All of you too with your high stage from up above, take the support of a body, enter an old body in the old world in order to perform actions for service. However, your stage remains that of up above and this is why you are incarnations. An incarnation always brings a message from God. All of you confluence-aged, elevated souls have also incarnated in order to give God’s message and to enable everyone to meet God. That body is now no longer yours. You have given even your body to the Father. You said: Everything is Yours and therefore nothing is mine. The Father has given you that body on loan for service. You can have no right to something that you have taken on loan. Since that body is not yours, how could there be body consciousness? The soul belongs to the Father and the body also belongs to the Father. So, where did “I” and “mine” come from? There is now just the unlimited consciousness of “I”. “I” belong to the Father. As is the Father, so am I the master. Therefore, this is the unlimited consciousness of “I”. A limited consciousness of “I” brings obstacles. The unlimited consciousness of “I” makes you free from obstacles and a destroyer of obstacles. In the same way, a limited consciousness of “I” brings you into the spinning of “mine,” whereas the unlimited consciousness of “I” liberates you from all spinning for many births.

The unlimited consciousness of “mine” is “My Baba”. So the limited is renounced. Become an incarnation, take the support of a body and come to perform actions for service. The Father has given you a loan, that is, He has entrusted you with something for service. You cannot do it for anything wasteful. Otherwise, that would create an account of dishonesty with regard to the treasures entrusted to you. An incarnation doesn’t create an account of waste. An incarnation comes, gives a message and leaves. All of you have taken this Brahmin birth for the sake of service and to give a message. The Brahmin birth is the birth in which you have incarnated; it is not an ordinary birth. Therefore, always consider yourself to have incarnated in order to be a world benefactor, a constantly elevated, incarnated soul. Maintain this faith and intoxication. You have come here for a temporary period and you then also have to go back. Now, do you always remember that you have to go back? You are an incarnation. You have now come and you then have to return. This awareness will give you the experience of going beyond and having limitless attainment. On the one hand, beyond and on the other hand, limitless attainment; the two experiences are simultaneous. You are such images of experience, are you not? Achcha.

Now, put into a practical form everything you have heard. To listen means to become. Today, Baba has especially come to meet His equals. You are all equals, are you not? The true Teacher has come to meet the instrument teachers. He has come to meet His service companions. Achcha.

To those who are always embodiments of the awareness of the unlimited consciousness of “I”, to those who remain constantly stable in the unlimited powerful form of “Mine is the one Father alone”, to the children who remain stable in an elevated stage, those who take the support of bodies and incarnate as incarnations, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting teachers:

This is the gathering of those who are constantly serviceable souls, is it not? Do you always consider yourselves to be unlimited world servers? You are not limited servers, are you? Are all of you unlimited? If any of you were to be sent from one place to somewhere else, are you ready? Are all of you flying birds? Are you flying birds despite the branch of body consciousness. The branch that pulls you to itself the most is this consciousness of the body. The slightest attraction towards old sanskars means that there is the consciousness of the body. “My nature is like this. My sanskars are like this. My way of living is like this. My habits are like this.” All of these are signs of body consciousness. So, have you birds flown even from this branch? This is called the karmateet stage, no bondage at all. Karmateet doesn’t mean that you become free from performing actions, but free from any bondage of action. So, actions of the body; this means, for instance, some have the nature of living comfortably, of eating comfortably at the right time, and of doing everything at the right time. This bondage of karma also pulls you to itself. Go beyond this bondage, that is, the habit of even this karma, because you are instruments.

Until all of you instrument souls become free from any bondage of karma and sanskars and nature of the body, how would you free others? For instance, illness of the body is the suffering of karma. In the same way, if any bondage of karma pulls you to itself, that suffering of karma also creates obstacles. When a physical illness, some suffering of karma, repeatedly pulls you, it is pain that pulls you, isn’t it? Then, you say: What can I do? Otherwise, I am fine, but there is severe suffering of karma. In the same way, if any particular old sanskar, nature or habit pulls you, that is also the suffering of karma. Any type of suffering of karma will not allow you to become a karma yogi. Therefore, go beyond this too. Why? All of you are souls who are going to claim number one. The meaning of number one is: those who win in everything. Nothing is then lacking. The meaning of teacher s is to be those who with their own image constantly give the experience of karmateet Father Brahma and loving and detached Father Shiva. So you have this speciality, do you not? You are friends, are you not? How do you become friends? You cannot be friends with someone without being equal. Therefore, all of you are the Father’s friends. You are God ly friends. To be equal is to have friendship. You are those who place your footsteps in the Father’s steps because you are friends and also lovers of the Beloved. So the lovers always place their footsteps in the steps of their Beloved. This is the system, is it not? What do they make a couple do when they are getting married? This is what they make them do, is it not? So where was this system created? It was created by you people. Yours is the foot of the intellect but they have understood it to be physical feet. You are the instrument souls with special relationships who fulfil the responsibility of every relationship.

The instrument teachers have a much easier method than that of others. Others still have to maintain their relationships, whereas your relationship is always with service and the Father. Even when you are carrying out a worldly task, you always remember when it is the time, for you to go on service. Whoever you are carrying out worldly work for, you automatically have the awareness of that one. For instance, in the world, parents earn an income for their children and so they automatically remember them. Therefore, when you are doing your worldly work, who are you doing that for? Are you doing that for yourself or for service? The more you use for service, the more happiness you have. Never work while thinking that you are doing worldly work. This too is a means of service. It has a different form, but it is still a form of service. Otherwise, if it were worldly service and you didn’t have the facilities to serve, you would think about where you could obtain something from, how would you obtain something. “I am unable to manage. I don’t know when it will happen.” Do these thoughts not waste your time? Therefore, never say that you are doing a worldly job. It is a non-worldly job. It is for the sake of service. You will then never feel it to be a burden. Otherwise, you sometimes become heavy: “For how long do I have to do this? What will happen?” This is the way for all of you to create your reward easily.

There are the three things: body, mind and wealth. If you are using all three things for service, then who will receive the fruit of all those three? Will you receive it or will the Father receive it? To be able to create your reward in all three ways is an additional reward to that of others. Therefore, never get heavy about this. Simply change your motives. It is not for worldly but for non-worldly service. Change this motive. Do you understand? You then become doubly surrendered. You surrendered with your wealth. Everything is for the Father. What is the meaning of surrender? Whatever you have is for the Father, that is, it is for service. This is surrender. Those who are not surrendered, raise your hands! We will have a ceremony for them. You have also created children and you are saying that you are not surrendered. You celebrate your wedding anniversary, so don’t say that you are not married. What do you think: the whole group is surrendered, is it not?

BapDada praises a great deal the double-foreign children and the teachers who are instruments at the double-foreign places. He isn’t praising you just for the sake of it, but you do make special effort with a lot of love. You have to make a lot of effort but, because of love, you don’t feel that to be effort. Look, you prepare the groups and bring them here from so very far away. Therefore, BapDada surrenders Himself to you children because of the efforts you make. The double-foreign instrument servers have one very good speciality. Do you know what that speciality is? (Many specialities emerged.) Whatever specialities emerged, check yourself and if they are missing, then fill yourself with them because many good things emerged. BapDada is telling you that He saw one speciality of you double-foreign servers: whatever directions BapDada gives, you do it and put it into a practical form. No matter how much effort you have to make, you definitely have to make it practical. This practical aim is very good. Just as BapDada says that they have to bring a group, so they bring groups.

BapDada said that you have to serve VIPs and, initially, you used to say that it was very difficult, but you maintained the courage of having had to do that. So, now, for two years, groups have been coming. You used to say that it was very difficult for VIPs to come here from London. However, you have now shown the practical example. This time, even those from Bharat brought the President here. Nevertheless, the enthusiasm you double foreigners have of definitely having to carry out whatever direction you receive and the love you have for doing it is very good. Seeing the practical result, BapDada sings praise of your speciality. To open centres is a thing of the past. You will continue to open them because you easily have all the facilities there. You can go from here and then open them there. Bharat doesn’t have these facilities. Therefore, to open centres is not a big thing, but you now have to prepare such very good heir-qualitysouls. One is to prepare heir-quality souls and the other is to prepare those who are powerful in spreading the sound; both are necessary. Heir quality – for instance, with the zeal and enthusiasm for doing service, you have surrendered your body, mind and wealth with your intellect – this is known as heir quality. So you also have to make heir-quality souls emerge. Let there be special attention paid to this. At every centre, let there be such heir quality souls. That centre will then become number one of all the centres.

One is to be co-operative in service and the other is to surrender yourself completely. How many such heirs are there? Are there such heirs at every centre? There is a long list that you have created of Godly students and of those who are co-operative in service, but only some are heirs. Whoever receives a directionat any moment, whatever shrimat you continue to receive, continue to move along according to that. So keep both aims. You have to create this type and also that type. One such heir-quality soul can become an instrument to open many centres. This will continue to happen in a practical way when you have the aim. You have now understood your speciality, have you not? Achcha.

You are content anyway, or do you need to be asked? You are those who make others content. So, those who make others content would be content themselves anyway, would they not? You do not fluctuate when you see that there is very little service sometimes, do you? When there are obstacles at the centre, you do not then become afraid on seeing the obstacles, do you? For instance, if the biggest of all obstacle comes or a good hand becomes anti and causes a disturbance in your service, what would you do then? Will you become afraid? One is to have mercy for that one while having benevolent feelings – that is a different matter. However, if your stage fluctuates or you have waste thoughts, then that is fluctuation. So, do not create a world with your thoughts. Do not let those thoughts make you fluctuate. This is known as an unshakeable and immovable stage. Let it not be that you become careless by thinking that it is nothing new. Do service, be merciful towards that one and do not fluctuate. So, do not be careless and do not start having any type of feeling. You can always be in any type of atmosphere or environment, but remain unshakeable and immovable. When an instrument person advises you, do not get confusedby that. Do not wonder why that person is telling you or how it would happen. Those who are instruments are experienced and out of those who are moving along practically, some are new, whereas others are a little older. So, when any situation comes in front of them, then, because of that situation, they do not have such clear intellects to understand the beginning, middle and end. They can only know the present and so, just seeing the present, the beginning and middle are not as clear to them and so they become confused. At any time, even if a direction is not clear, do not become confused. Just say with patience that you will try to understand it and give that person a little time. At that time, do not be confused and say, “Do not do this” or “Do not do that”, because doubleforeigners have a free mind to a greater extent, and they can even say “No” with a free mind Therefore, whenever anything comes your way, first of all think about it with maturity for there is definitely some significance hidden in it. They can ask, “What is the significance of this?” What would be the benefit of this? Explain to us more clearly. You can tell them this. However, never refuse any direction. It is because you refuse it that you become confused This little extra attention is given to the double foreigners. Otherwise, what will happen is that they will not try to understand the directions of you instrument sisters and will start to fluctuate. These sanskars will be filled in those for whom you are the instruments when they see you. Sometimes, some will then sulk and at other times, others will sulk and these games will then continue at the centre. Understand? Achcha.

Blessing: May you be a mahavir who passes through every adverse situation in a second with the powers of knowledge and yoga.
A mahavir means to be a constant light-and-mighthouse . Knowledge is light and yoga is might. Those who are full of these powers are able to passthrough every adverse situation in a second. If you develop the sanskar of not passing on time, that sanskar will then not allow you to pass fully in the final moments. Those who pass fully on time are said to have passed with honours. Even Dharamraj honours that soul.
Slogan: Burn the seed of vices in the fire of yoga and you will not be deceived at that time.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 4 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 November 2018

To Read Murli 3 November 2018 :- Click Here
04-11-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 24-02-84 मधुबन

ब्राह्मण जन्म – अवतरित जन्म

बापदादा आवाज में आते सभी को आवाज से परे की स्थिति में ले जाने के लिए, व्यक्त देश में व्यक्त शरीर में प्रवेश होते हैं अव्यक्त बनाने के लिए। सदा अपने को अव्यक्त स्थिति वाले सूक्ष्म फरिश्ता समझ व्यक्त देह में अवतरित होते हो? सभी अवतरित होने वाले अवतार हो। इसी स्मृति में सदा हर कर्म करते, कर्म के बन्धनों से मुक्त कर्मातीत अवतार हो। अवतार अर्थात् ऊपर से श्रेष्ठ कर्म के लिए नीचे आते हैं। आप सभी भी ऊंची ऊपर की स्थिति से नीचे अर्थात् देह का आधार ले सेवा के प्रति कर्म करने के लिए पुरानी देह में, पुरानी दुनिया में आते हो। लेकिन स्थिति ऊपर की रहती है, इसलिए अवतार हो। अवतार सदा परमात्म पैगाम ले आते हैं। आप सभी संगमयुगी श्रेष्ठ आत्मायें भी परमात्म पैगाम देने के लिए, परमात्म मिलन कराने के लिए अवतरित हुए हो। यह देह अब आपकी देह नहीं रही। देह भी बाप को दे दी। सब तेरा कहा अर्थात् मेरा कुछ नहीं। यह देह सेवा के अर्थ बाप ने लोन में दी है। लोन में मिली हुई वस्तु पर मेरे-पन का अधिकार हो नहीं सकता। जब मेरी देह नहीं तो देह का भान कैसे आ सकता। आत्मा भी बाप की बन गई, देह भी बाप की हो गई तो मैं और मेरा कहाँ से आया! मैं-पन सिर्फ एक बेहद का रहा – “मैं बाप का हूँ”, जैसा बाप वैसा मैं मास्टर हूँ। तो यह बेहद का मैं-पन रहा। हद का मैं-पन विघ्नों में लाता है। बेहद का मैं-पन निर्विघ्न, विघ्नविनाशक बनाता है। ऐसे ही हद का मेरा पन मेरे-मेरे के फेरे में लाता है और बेहद का मेरा-पन जन्मों के फेरों से छुड़ाता है।

बेहद का मेरा-पन है – “मेरा बाबा”। तो हद छूट गई ना। अवतार बन देह का आधार ले सेवा के कर्म में आओ। बाप ने लोन अर्थात् अमानत दी है सेवा के लिए। और कोई व्यर्थ कार्य में लगा नहीं सकते। नहीं तो अमानत में ख्यानत का खाता बन जाता है। अवतार व्यर्थ खाता नहीं बनाता। आया, सन्देश दिया और गया। आप सभी भी सेवा-अर्थ, सन्देश देने अर्थ ब्राह्मण जन्म में आये हो। ब्राह्मण जन्म अवतरित जन्म है, साधारण जन्म नहीं। तो सदा अपने को अवतरित हुई विश्व कल्याणकारी, सदा श्रेष्ठ अवतरित आत्मा हैं – इसी निश्चय और नशे में रहो। टैप्रेरी समय के लिए आये हो और फिर जाना भी है। अब जाना है, यह सदा याद रहता है? अवतार हैं, आये हैं, अब जाना है। यही स्मृति उपराम और अपरमअपार प्राप्ति की अनुभूति कराने वाली है। एक तरफ उपराम, दूसरे तरफ अपरमअपार प्राप्ति। दोनों अनुभव साथ-साथ रहते हैं। ऐसे अनुभवी मूर्त हो ना! अच्छा!

अब सुनने को स्वरूप में लाना है। सुनना अर्थात् बनना। आज विशेष हमजिन्स से मिलने आये हैं। हमशरीक हो गये ना। सत शिक्षक निमित्त शिक्षकों से मिलने आये हैं। सेवा के साथियों से मिलने आये हैं। अच्छा!

सदा बेहद के मैं-पन के स्मृति स्वरूप, सदा बेहद का मेरा बाप इसी समर्थ स्वरूप में स्थित रहने वाले, सदा ऊंची स्थिति में स्थित रह, देह का आधार ले अवतरित होने वाले अवतार बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

टीचर्स के साथ:- सदा सेवाधारी आत्माओं का यह संगठन है ना। सदा अपने को बेहद के विश्व सेवाधारी समझते हो? हद के सेवाधारी तो नहीं हो ना। सब बेहद के हो? किसी को भी किसी स्थान से किसी भी स्थान पर भेज दें तो तैयार हो? सभी उड़ते पंछी हो? अपने देह के भान की डाली से भी उड़ते पंछी हो? सबसे ज्यादा अपने तरफ आकर्षित करने वाली डाली – यह देह का भान है। जरा भी पुराने संस्कार, अपने तरफ आकर्षित करते माना देह का भान है। मेरा स्वभाव ऐसा है, मेरा संस्कार ऐसा है, मेरी रहन-सहन ऐसी है, मेरी आदत ऐसी है, यह सब देह भान की निशानी है। तो इस डाली से उड़ते पंछी हो? इसको ही कहा जाता है कर्मातीत स्थिति। कोई भी बन्धन नहीं। कर्मातीत का अर्थ यह नहीं है कि कर्म से अतीत हो लेकिन कर्म के बन्धन से न्यारे। तो देह के कर्म, जैसे किसका नेचर होता है – आराम से रहना, आराम से समय पर खाना, चलना यह भी कर्म का बन्धन अपने तरफ खींचता है। इस कर्म के बन्धन अर्थात् आदत से भी परे क्योंकि निमित्त हो ना।

जब तक आप सभी निमित्त आत्मायें कर्म के बन्धनों से, देह के संस्कार-स्वभाव से न्यारे नहीं होंगे तो औरों को कैसे करेंगे! जैसे शरीर की बीमारी कर्म का भोग है, इसी रीति से अगर कोई भी कर्म का बन्धन अपने तरफ खींचता है, तो यह भी कर्म का भोग विघ्न डालता है। जैसे शारीरिक व्याधि कर्म भोग अपनी तरफ बार-बार खींचता है, दर्द होता है तो खींचता है ना। तो कहते हो क्या करें, वैसे तो ठीक है लेकिन कर्मभोग कड़ा है। ऐसे कोई भी विशेष पुराना संस्कार-स्वभाव वा आदत अपने तरफ खींचती है तो वह भी कर्मभोग हो गया। कोई भी कर्मभोग कर्मयोगी बना नहीं सकेगा। तो इससे भी पार। क्यों? सभी नम्बरवन जाने वाली आत्मायें हो ना। वन नम्बर का अर्थ ही है – हर बात में विन करने वाली। कोई भी कमी नहीं। टीचर्स का अर्थ ही है सदा अपनी मूर्त द्वारा कर्मातीत ब्रह्मा बाप और न्यारे तथा प्यारे शिव बाप की अनुभूति कराने वाले। तो यह विशेषता है ना। फ्रैन्डस हो ना आप! फ्रैन्डस कैसे बनते हैं? बिना समान के फ्रैन्डस नहीं बन सकते। तो आप सब बाप के फ्रैन्डस हो, गाडली फ्रैन्डस हो। समान होना ही फ्रैन्डशिप है। बाप के कदम पर कदम रखने वाले क्योंकि फ्रैन्डस भी हो और फिर माशूक के आशिक भी हो। तो आशिक सदा माशूक के पांव के ऊपर पांव रखते हैं। यह रसम है ना। जब शादी होती है तो क्या कराते हैं! यही कराते हैं ना। तो यह सिस्टम भी कहाँ से बनी? आप लोगों से बनी है। आपका है बुद्धि रूपी पांव और उन्होंने स्थूल पांव समझ लिया है। हर सम्बन्ध से विशेषता का सम्बन्ध निभाने वाली निमित्त आत्मायें हो।

निमित्त शिक्षकों को औरों से बहुत सहज साधन हैं। दूसरों को तो फिर भी सम्बन्ध में रहना पड़ता है और आपका सम्बन्ध सदा सेवा और बाप से है। चाहे लौकिक कार्य भी करते हो तो भी सदा यही याद रहता है कि टाइम हो और सेवा पर जाएं। और लौकिक कार्य जिसके लिए किया जाता है, उसकी स्मृति स्वत: आती है। जैसे लौकिक में माँ-बाप कमाते हैं बच्चे के लिए। तो उनकी स्वत: याद आती है। तो आप भी जिस समय लौकिक कार्य करते हो तो किसके प्रति करते हो? सेवा के लिए करते हो – या अपने लिए? क्योंकि जितना सेवा में लगाते उतनी खुशी होती है। कभी लौकिक सेवा समझकर नहीं करो। यह भी एक सेवा का तरीका है, रूप भिन्न है लेकिन है सेवा के प्रति। नहीं तो देखो अगर लौकिक सेवा करके सेवा का साधन नहीं होता तो संकल्प चलता है कि कहाँ से आवे! कैसे आवे! चलता नहीं है। पता नहीं कब होगा! यह संकल्प व्यर्थ समय नहीं गंवाता? इसलिए कभी भी लौकिक जॉब (धन्धा) करते हैं, यह शब्द नहीं बोलो। यह अलौकिक जॉब है। सेवा निमित्त है। तो कभी भी बोझ नहीं लगेगा। नहीं तो कभी-कभी भारी हो जाते हैं, कब तक होगा, क्या होगा! यह तो आप लोगों के लिए प्रालब्ध बहुत सहज बनाने का साधन है।

तन-मन-धन तीन चीज़ें हैं ना! अगर तीनों ही चीज़ें सेवा में लगाते हैं तो तीनों का फल किसको मिलेगा? आपको मिलेगा या बाप को! तीनों ही रीति से अपनी प्रालब्ध बनाना, तो यह औरों से एडीशन प्रालब्ध हो गई इसलिए कभी भी इसमें भारी नहीं। सिर्फ भाव को बदली करो। लौकिक नहीं अलौकिक सेवा के प्रति ही है। इसी भाव को बदली करो। समझा – यह तो और ही डबल सरेन्डर हुए। धन से भी सरेन्डर हो गये, सब बाप के प्रति है। सरेन्डर का अर्थ क्या है? जो कुछ है बाप के प्रति है अर्थात् सेवा के प्रति है। इसे ही सरेन्डर कहा जाता है। जो समझते हैं हम सरेन्डर नहीं हैं, वह हाथ उठाओ! उनकी सरेमनी मना लेंगे! बाल बच्चे भी पैदा हो गये और कहते हो सरेन्डर नहीं हुए। अपना मैरेज डे भले मनाओ लेकिन मैरेज हुई नहीं यह तो नहीं कहो। क्या समझते हो, सारा ही ग्रुप सरेन्डर ग्रुप है ना!

बापदादा तो डबल विदेशी वा डबल विदेश के स्थान पर निमित्त बनी हुई टीचर्स की बहुत महिमा करते हैं। ऐसे ही नहीं महिमा करते हैं लेकिन मुहब्बत से विशेष मेहनत भी करते हो। मेहनत तो बहुत करनी पड़ती है लेकिन मुहब्बत से मेहनत महसूस नहीं होती, देखो, कितने दूर-दूर से ग्रुप तैयार करके लाते हैं, तो बापदादा बच्चों की मेहनत पर बलिहार जाते हैं। एक विशेषता डबल फारेन के निमित्त सेवाधारियों की बहुत अच्छी है। जानते हो कौन-सी विशेषता है? (अनेक विशेषतायें निकली) जो भी बातें निकाली वह स्वयं में चेक करके कम हो तो भर लेना क्योंकि बातें तो बहुत अच्छी-अच्छी निकाली हैं। बापदादा सुना रहे हैं – एक विशेषता डबल विदेशी सेवाधारियों में देखी कि जो बापदादा डायरेक्शन देते हैं – यह करके लाना, वह प्रैक्टिकल में लाने के लिए हमेशा कितना भी प्रयत्न करना पड़े लेकिन प्रैक्टिकल में लाना ही है, यह लक्ष्य प्रैक्टिकल अच्छा है। जैसे बापदादा ने कहा कि ग्रुप लाने हैं तो ग्रुप्स भी ला रहे हैं।

बापदादा ने कहा वी.आई.पीज की सर्विस करनी है, पहले कितना मुश्किल कहते थे, बहुत मुश्किल – लेकिन हिम्मत रखी करना ही है तो अभी देखो दो साल से ग्रुप्स आ रहे हैं ना। कहते थे लण्डन से वी.आई.पी. आना बहुत मुश्किल है। लेकिन अभी देखो प्रत्यक्ष प्रमाण दिखाया ना। इस बारी तो भारत वालों ने भी राष्ट्रपति को लाकर दिखाया। लेकिन फिर भी डबल विदेशियों का यह उमंग डायरेक्शन मिला और करना ही है, यह लगन अच्छी है। प्रैक्टिकल रिजल्ट देख बापदादा विशेषता का गायन करते हैं। सेन्टर खोलते हो वह तो पुरानी बात हो गई। वह तो खोलते ही रहेंगे क्योंकि वहाँ साधन बहुत सहज हैं। यहाँ से वहाँ जा करके खोल सकते हो, यह भारत में साधन नहीं है इसलिए सेन्टर खोलना कोई बड़ी बात नहीं लेकिन ऐसे अच्छे-अच्छे वारिस क्वालिटी तैयार करना। एक है वारिस क्वालिटी तैयार करना और दूसरा है बुलन्द आवाज वाले तैयार करना। दोनों ही आवश्यक हैं। वारिस क्वालिटी – जैसे आप सेवा के उमंग-उत्साह में तन-मन-धन सहित रहते हुए भी सरेन्डर बुद्धि हो, इसको कहते हैं वारिस क्वालिटी। तो वारिस क्वालिटी भी निकालनी है। इसके ऊपर भी विशेष अटेन्शन। हरेक सेवाकेन्द्र में ऐसे वारिस क्वालिटी हों तो सेवाकेन्द्र सबसे नम्बरवन में जाता है।

एक है सेवा में सहयोगी होना, दूसरे हैं पूरा ही सरेन्डर होना। ऐसे वारिस कितने हैं? हरेक सेवाकेन्द्र पर ऐसे वारिस हैं? गाडली स्टूडेन्ट बनाना, सेवा में सहयोगी बनना – वह लिस्ट तो लम्बी होती है लेकिन वारिस कोई-कोई होते हैं। जिसको जिस समय जो डायरेक्शन मिले, जो श्रीमत मिले उसी प्रमाण चलता रहे। तो दोनों ही लक्ष्य रखो, वह भी बनाना है और वह भी बनाना है। ऐसा वारिस क्वालिटी वाला एक अनेक सेन्टर खोलने के निमित्त बन सकता है। यह भी लक्ष्य से प्रैक्टिकल होता रहेगा। विशेषता तो अपनी समझी ना। अच्छा।

सन्तुष्ट तो हैं ही, या पूछना पड़े। हैं ही सन्तुष्ट करने वाले। तो जो सन्तुष्ट करने वाला होगा वह स्वयं तो होगा ना। कभी सर्विस थोड़ी कम देख करके हलचल में तो नहीं आते हो? सेवाकेन्द्र पर जब कोई विघ्न आता है तो विघ्न को देख घबराते हो? समझो, बड़े ते बड़ा विघ्न आ गया – कोई अच्छा अनन्य एन्टी हो जाता है और डिस्टर्ब करता है आपकी सेवा में तो क्या करेंगे? क्या घबरायेंगे? एक होता है उसके प्रति कल्याण के भाव से तरस रखना वह दूसरी बात है लेकिन स्वयं की स्थिति नीचे-ऊपर हो या व्यर्थ संकल्प चले इसको कहते हैं हलचल में आना। तो संकल्प की सृष्टि भी नहीं रचें। यह संकल्प भी हिला न सकें! इसको कहते हैं अचल अडोल स्थिति। ऐसे भी नहीं कि अलबेले हो जाएं कि नथिंग न्यु। सेवा भी करें, उसके प्रति रहमदिल भी बनें लेकिन हलचल में नहीं आयें। तो न अलबेले, न फीलिंग में आने वाले। सदा ही किसी भी वातावरण में, वायुमण्डल में हो लेकिन अचल-अडोल रहो। कभी कोई निमित्त बने हुए राय देते हैं, उनमें कनफ्यूज़ नहीं हो। ऐसे नहीं सोचो कि यह क्यों कहते हैं या यह कैसे होगा! क्योंकि जो निमित्त बने हुए हैं वह अनुभवी हो चुके हैं, और जो प्रैक्टिकल में चलने वाले हैं कोई नये हैं, कोई थोड़े पुराने भी हैं लेकिन जिस समय जो बात उसके सामने आती है, तो बात के कारण इतनी क्लीयर बुद्धि आदि मध्य अन्त को नहीं जान सकती है। सिर्फ वर्तमान को जान सकती है इसलिए सिर्फ वर्तमान देख करके, आदि मध्य उस समय क्लीयर नहीं होता तो कनफ्यूज़ हो जाते हैं। कभी भी कोई डायरेक्शन अगर नहीं भी स्पष्ट हो तो कनफ्यूज़ कभी नहीं होना। धैर्य से कहो इसको समझने की कोशिश करेंगे। थोड़ा टाइम दो उसको। उसी समय कनफ्यूज़ होकर यह नहीं, वह नहीं, ऐसे नहीं करो क्योंकि डबल विदेशी फ्री माइन्ड ज्यादा हैं इसलिए ना भी फ्री माइन्ड से कह देते हैं इसलिए थोड़ा-सा जो भी बात मिलती है – उसको गम्भीरता से पहले सोचो, उसमें कोई न कोई रहस्य अवश्य छिपा होता है। उससे पूछ सकते हो इसका रहस्य क्या है? इससे क्या फायदा होगा? हमें और स्पष्ट समझाओ। यह कह सकते हो। लेकिन कभी भी डायरेक्शन को रिफ्यूज़ नहीं करो। रिफ्यूज़ करते हो इसलिए कनफ्यूज़ होते हो। यह थोड़ा विशेष अटेन्शन डबल विदेशी बच्चों को देते हैं। नहीं तो क्या होगा जैसे आप निमित्त बने हुए, बहनों के डायरेक्शन को जानने का प्रयत्न नहीं करेंगे और हलचल में आ जायेंगे तो आपको देखकर जिन्हों के निमित्त आप बने हो, उन्हों में यह संस्कार भर जायेंगे। फिर कभी कोई रुसेगा, कभी कोई रुसेगा। फिर सेन्टर पर यही खेल चलेगा। समझा!। अच्छा।

वरदान:- ज्ञान और योग की शक्ति से हर परिस्थिति को सेकण्ड में पास करने वाले महावीर भव 
महावीर अर्थात् सदा लाइट और माइट हाउस। ज्ञान है लाइट और योग है माइट। जो इन दोनों शक्तियों से सम्पन्न हैं वह हर परिस्थिति को सेकण्ड में पास कर लेते हैं। अगर समय पर पास न होने के संस्कार पड़ जाते हैं तो फाइनल में भी वह संस्कार फुल पास होने नहीं देते। जो समय पर फुल पास होता है उसको कहते हैं पास विद ऑनर। धर्मराज भी उसको ऑनर देता है।
स्लोगन:- योग अग्नि से विकारों के बीज को भस्म कर दो तो समय पर धोखा मिल नहीं सकता।

TODAY MURLI 4 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 November 2017 :- Click Here

04/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, devotees cannot feel as much happiness when they say “Bhagwan” or “Ishwar” as you feel when you say “Baba”.
Question: What desires do worldly children have due to greed, which you children cannot have?
Answer: Worldly children who are greedy wonder when their father will die so that they can become the masters of his property. You children can never have such thoughts about the unlimited Father because the Father is bodiless. Here, you receive the imperishable inheritance from the eternal Father.
Song: Look at your face in the mirror of your heart!

Om shanti. Om shanti. When it is said twice, first it is Baba saying it and the second time it is Dada saying it. One is called a soul and the other is called the Supreme Soul, that is, the One who resides in the supreme abode. That is why He is called the Supreme Soul (Paramatma). What is the relationship between souls and the Supreme Soul? The Father is one whereas the children are innumerable. When human beings call out in English, they say, “O God, the Father“. Therefore, He is the Father. By simply saying “Paramatma”, “Prabhu” or “Ishwar” there isn’t as much pleasure. By saying “Father” you receive happiness. The Father from beyond is the One who gives you happiness and that is why He is remembered so much on the path of devotion. God, the Father, means He is our Father. It is said: We are all brothers. It is also called a brotherhood. When the people of Bharat say that they are all brothers, their attention is not drawn to souls; it is drawn to body consciousness. They don’t understand that they are souls who are brothers. The Father of all of us is One. If God were omnipresent, you wouldn’t say that you are brothers. It is only when you consider yourselves to be souls that you say you are brothers. You children are now sitting personally in front of the Father and He is teaching you. You souls say: We have now found the Father. You have found the Father, which means that you have found everything. You receive the inheritance from the Father. As soon as a son is born, it is understood that an heir is born. As soon as the child says “Baba” it proves that he is an heir. Generally, daughters say “Ma, Ma”. They have greater love for their mother. A son would say “Ba, Ba”. A son would have greater lovefor the father. An inheritance cannot be received from the mother. An inheritance is received from the father. Here, all of you souls are brothers. All of you are claiming your inheritance from the Father. The Father’s shrimat is: Each one of you has to consider yourself to be a child of the Father and continue to give everyone the Father’s introduction and also explain the secrets of the world cycle. Only from the Father do you receive the inheritance of heaven. The unlimited Father says: You were residents of heaven, so how did you become residents of hell? How did you go around the cycle of 84 births? These are matters of detail. However, the Father has given you recognition of Himself and you will definitely receive the inheritance of the golden age from the Father. Achcha, who received it? There is that picture of Lakshmi and Narayan; they received the Father’s inheritance. So, where did it go? This is a matter of the cycle. You are now receiving the inheritance of the golden age and then you definitely have to take rebirth and take 84 births. You now have the cycle of 84 births in your intellects, numberwise, according to the effort you make and you also have the faith that this is your last birth. You have been around the cycle of 84 births and completed it. Now, when you go back, everyone else will follow you back. You children have already claimed your inheritance from the Father. You have already learnt Raja Yoga. Therefore, you know that you will come back to rule in the new world. At that time, none of those religions etc. will exist there; everyone will have gone back. Then we, who belong to deityism, have to come first. We belonged to the shudra clan and we now belong to the Brahmin clan. We will then belong to the sun and moon-dynasty clans. We are claiming our inheritance of the Brahmin, sun and moon dynasty clans – all three clans – from the one Father. In the golden and silver ages, no one comes to establish a religion. There is just the one religion of Bharat at that time. Then those of Islam and the Buddhists come later. Bharat is a very ancient land. At first there are just the deities. They have now been converted to other religions. There are so many different languages. Among the Europeans they have different languages. Americans have their own language and the French have their own language, even though all of them are Christians. Similarly, look at the Chinese. They all belong to the one Buddhist religion, but the language of the Chinese is different from that of the Japanese. They all belong to the Buddhist religion, but when growth takes place, they all become separate. They even have enmity for each other. Bharat has no enemies. It is those of other religions who come and fight here. They create conflict amongst the people of Bharat and makethem fight. Otherwise, war never took place between the people of Bharat. It was others who made them fight because of greed. This too is a play. The people of Bharat have forgotten that they were the masters of the world and that the Father had given them the kingdom. In the golden age you don’t have any knowledge of how you claimed your kingdom. You now know how you are claiming that kingdom. This Father sits here and explains to you. It is very easy, but people’s intellects are locked in such a way that they don’t even know who gave Lakshmi and Narayan their kingdom or when. They don’t even know how many children they had. In the golden age it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. How long is the duration of the golden age? They say that it is hundreds of thousands of years old. Then, how many dynasties were there in those hundreds of thousands of years? How much expansion took place? How many emperors and empresses would there have been? In hundreds of thousands of years, there would have been countless. A hundred thousand years of the golden age and then hundreds of thousands of years of the silver age and they say that even the iron age has another 40,000 years. No one’s intellect works on these things. They have given them all such a long duration. You should know the CreatorDirector and the duration etc. However, no one knows this. It is said that 3,000 years before Christ, Bharat was heaven and that it used to be a kingdom of gods and goddesses. How many years did it last and how did it continue? They don’t know any of this. If Radhe and Krishna were the prince and princess of the golden age, they must have received their status from someone. If Krishna related the Gita, then when did he do that? Only the Father explains all of these things. At school, you are first taught alpha and beta. Then, you gradually passhigher examinations. So there is so much difference between the study of alpha and beta and the study later on. It is the same here. What is explained to you now is even easier than that which was explained to you earlier. As you progress further, even easier things will be explained to you. When a new person comes, he is first asked to fill in a form and then everything is explained to him. He is asked: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? He is definitely the Father of all. Only those who are to understand these things will understand them. This is when they have the deep faith in their bones that they can claim their inheritance from only the unlimited Father. The Father creates heaven. Therefore, He would definitely give you the inheritance of heaven. These things will sit in the intellects of those who had faith in the previous cycle. You can see how some children are unable to wake up in the morning. They have been making effort for 10 to 15 years and, in spite of that, they are unable to wake up on time. At least wake up at 3.00 or 4.00 am! Even devotees wake up early and sit in meditation. They chant something in the name of Hanuman or Shiva, but there is no benefit in that. Although some develop a good character through that, they cannot receive liberation or liberation-in-life through that. It is their stage of descent. Lakshmi and Narayan, who used to rule in the golden age, then continued to come down in their second and third births etc. It continued to be their stage of descent. Then, when half the cycle was over, they went onto the path of sin and the path of devotion began. So many temples were built. Even now, there are so many temples. Some have even been demolished. There are the images of their going onto the path of sin. They are wearing the costume of deities. In fact, their dress was different and it continued to change later. Some would have one type of turban and others would have another type. Some would have one type of crown and others another type. The way the crowns were worn was also different. The style of dress of the sun-dynasty kings was their own. That is the turban of so-and-so. Baba has had visions. Dwarikadhish (an emperor) wore his turban at an angle. The whole drama that takes place will repeat in the same way from the beginning to the end. You will go onto the path of sin and there will be differences of opinion between everyone. The customs and systems will be different; those of the sun dynasty will be different from those of the moon dynasty. This play is predestined and has to repeat. You know that you are the ones who are receiving liberation and salvation from the unlimited Father once again. The old world has to be destroyed. The unlimited Father is teaching you Raja Yoga. The world doesn’t know that He is teaching us Raja Yoga. You children know this very well and you also love the Father. Not everyone can have the same love. Even on the path of ignorance, not everyone has the same love. Out of greed, some say: Let my father die so that I can receive his property. Here, Shiv Baba doesn’t have a body. Baba is imperishable. He has taken this body on loan. You know that you have taken the full 84 births. Baba doesn’t take rebirth. He enters this body when He comes. Otherwise, should He enter the body of Lakshmi or Narayan? However, they are masters of the pure world. This is the impure world and an impure body because it has been created out of poison. Baba tells you in exactly the same way that He did in the previous cycle: I enter an ordinary body. I definitely need an experienced chariot. Good actors receive good prizes. This chariot of Baba’s has also been remembered. It is said that establishment takes place through Brahma. They have portrayed Brahma as old. The forms of Prajapita Brahma, Vishnu and Shankar are all different. The form of Brahma is absolutely accurate. The Father has named this one Prajapita Brahma. He has taken the full 84 births. You would say that all of you have also taken the full 84 births. This is why you have come and met the Father first. Our kingdom is being established once again. You also have to explain: You say “Supreme Father, Supreme Soul! O God!” Therefore, the Father must surely be considered to be God. However, people are unable to understand that the Father of all souls is the incorporeal One. It is because He is the Father that everyone remembers Him on the path of devotion. It is because souls received happiness that they remember Him at times of sorrow. You too have been remembering the Father for half the cycle. The Somnath Temple is built at the beginning. Therefore they would definitely remember the Father. You know that that is the Father’s temple. The Father Himself gave you the inheritance. Therefore, they first of all built a temple to the Father. You have now become the Father’s heirs. The Father is the Creator of the world. Only from Him do you receive that inheritance. What did all the rest do? Why do we worship them? They take 84 births. However, devotion also has to become adulterated. All the paraphernalia of devotion is required for half the cycle. There is no need for that paraphernalia in the golden and silver ages. All of this has to be imbibed by your intellects. In fact, there is no need to write anything down. If the intellect is solvent, you are able to imbibe very quickly. However, you take notes in order to relate it to others. There is also no need to keep books etc. Who would study our books later on? The scriptures of others continue after them. There are people who read them. You don’t have to study any of that; you will have received your reward. There is nothing of any of the scriptures for half the cycle. This knowledge vanishes. All the scriptures are destroyed. First of all, explain to everyone that you have two fathers. You have your physical fathers and they too remember that Father. It is remembered that everyone remembers God at a time of sorrow. This applies to Bharat. The Father only comes in Bharat; there is the birthday of Shiva. You would also say that you are celebrating such-and-such a birthday of your Father. Since there are Brahma Kumars and Kumaris, the Father must definitely have come. This is the sacrificial fire of the knowledge of Shiva. So Brahmins are definitely needed. Where did Brahma come from? Brahma is adopted and then, when children are born, they are created through his lotus lips. First of all, give everyone the Father’s introduction. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Wake up early in the morning and instil the firm habit of remembering the Father with a lot of love. Wake up in the morning at least at 3.00 am or 4.00 am.
  2. Have true love for the unlimited Father. Follow shrimat and claim your full inheritance.
Blessing: May you be a master almighty authority filled with all powers and use each power in your tasks.
The children who are always filled with all the powers are master almighty authorities, ones with all the powers. If any power is not being used at the right time, you cannot be called a master almighty authority, one with all powers. If even one power is missing, you will then be deceived when the time comes and you will fail. Do not think that you have all the powers anyway and so what does it matter if you lack one power? Even one matters, because that would be the one that will fail you. So, do not lack even one power for when each power is used at the right time, you can then be called a master almighty authority, one with all powers.
Slogan: To forget your attainments is to get tired. Therefore, always keep your attainments in front of you.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 2 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 4 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 November 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 3 November 2017 :- Click Here
04/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – तुम्हें जितना बाबा कहने से सुख फील होता है, उतना भक्तों को भगवान वा ईश्वर कहने से नहीं फील हो सकता।
प्रश्नः- लोभ के वश लौकिक बच्चों की भावना क्या होती जो तुम्हारी नहीं हो सकती?
उत्तर:- लौकिक बच्चे जो लोभी होते वह सोचते हैं कि कब बाप मरे तो प्रापर्टी के हम मालिक बनें। तुम बच्चे बेहद के बाप के प्रति ऐसा कभी सोच ही नहीं सकते क्योंकि बाप तो है ही अशरीरी। यहाँ तुमको अविनाशी बाप से अविनाशी वर्सा मिलता है।
गीत:- मुखड़ा देख ले प्राणी…..

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति। जब दो बारी कहें तो एक बाबा कहते हैं, एक दादा कहते हैं। एक को आत्मा, दूसरे को परम आत्मा कहा जाता है अर्थात् परमधाम में निवास करने वाले हैं इसलिए उनको परम आत्मा (परमात्मा) कहा जाता है। अब आत्मा और परमात्मा का सम्बन्ध क्या है? एक बाप और अनेक बच्चे हैं। मनुष्य जब पुकारते हैं तो अंग्रेजी में भी कहते हैं ओ गॉड फादर। तो पिता हुआ ना। सिर्फ परमात्मा वा प्रभु, ईश्वर आदि कहने से इतना मज़ा नहीं आता। बाप कहने से सुख मिलता है। पारलौकिक बाप है ही सुख देने वाला तब तो भक्ति मार्ग में इतना याद करते हैं। गॉड फादर अर्थात् वह हमारा पिता है। यह भी कहते हैं हम सब ब्रदर्स हैं। ब्रदरहुड कहते हैं। यह भारतवासी जब कहते हैं हम सब भाई-भाई हैं तो आत्मा की तरफ ध्यान नहीं जाता। देह-अभिमान में चले जाते हैं। यह समझते नहीं कि हम आत्मायें आपस में भाई-भाई हैं। हम सबका बाप एक है। अगर परमात्मा सर्वव्यापी होता तो भाई-भाई नहीं कहते। आत्मा ही समझकर भाई-भाई कहते हैं। अभी तुम बच्चे बाप के सम्मुख बैठे हो और बाप तुमको पढ़ाते हैं। अब आत्मा कहती है हमको बाप मिला है। बाप मिला गोया सब कुछ मिला। बाप द्वारा वर्सा मिलता है। बच्चा पैदा हुआ और समझते हैं वारिस आया। बाबा कहने से ही बच्चे का वारिसपना सिद्ध हो जाता है। अक्सर करके बच्चियां माँ, माँ कहती हैं। माँ तरफ जास्ती लव रहता है। बच्चा होगा तो बा,बा कहता रहेगा। बच्चे का बाप की तरफ लॅव जाता है, माँ से वर्सा नहीं मिल सकता। बाप से वर्सा मिलता है। अब यहाँ तो तुम सब आत्मायें भाई-भाई हो। तुम हर एक बाप से वर्सा ले रहे हो। बाप की श्रीमत है हर एक अपने को बाप का बच्चा समझ और सबको बाप का परिचय देते रहें और सृष्टिचक्रका राज़ भी समझायें। बाप से ही स्वर्ग का वर्सा मिलता है। बेहद का बाप कहते हैं तुम स्वर्गवासी थे फिर तुम नर्कवासी कैसे बनें, 84 जन्मों का चक्र कैसे लगाया – यह है डिटेल की बातें। बाकी बाप ने पहचान तो दी है और बाप से जरूर सतयुग का वर्सा मिलेगा। अच्छा किसको मिला हुआ है? यह लक्ष्मी-नारायण के चित्र खड़े हैं। इन्हों को बाप का वर्सा मिला था फिर कहाँ गया? यह है चक्र की बात। तुमको अभी सतयुग का वर्सा मिलता है फिर पुनर्जन्म लेते-लेते 84 जन्म तो भोगने ही हैं। अब तुमको नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार 84 का चक्र बुद्धि में है और यह भी निश्चय है कि हमारा अन्तिम जन्म है। 84 जन्मों का चक्र लगाकर पूरा किया है। अब तुम जायेंगे तो तुम्हारे पीछे सब चले जायेंगे। तुम बच्चे तो बाप से अपना वर्सा पा चुके हो, राजयोग सीख चुके हो। तो तुम जानते हो हम फिर नई दुनिया में राज्य करने आयेंगे। फिर यह सब इतने धर्म वहाँ होंगे नहीं, सब वापिस चले जायेंगे। फिर पहले-पहले हमको यानी डिटीज्म को आना है। हम शूद्र कुल के थे, अब ब्राह्मण कुल के बने हैं। फिर सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी कुल के बनेंगे। हम ब्राह्मण कुल, सूर्यवंशी कुल और चन्द्रवंशी कुल के तीनों वर्से एक ही बाप से ले रहे हैं। सतयुग त्रेता में कोई धर्म स्थापन करने आता ही नहीं है। भारत का एक ही धर्म रहता है। पीछे बाहर वाले इस्लामी, बौद्धी आदि आते हैं। भारत बहुत प्राचीन देश है। पहले देवी-देवता ही थे, अभी और धर्मो में कनवर्ट हो गये हैं। कितनी भिन्न-भिन्न भाषायें हैं। जैसे यूरोपियन हैं तो अमेरिका की भाषा अलग, फ्रान्स की अलग। हैं तो सब क्रिश्चियन लोग। वैसे चीन की देखो। एक ही बौद्ध धर्म के हैं, परन्तु चीन की भाषा और, जापान की भाषा और। हैं तो सब बौद्ध परन्तु वृद्धि हो जाने से अलग-अलग हो जाते है। आपस में दुश्मन भी बन जाते हैं, भारत का दुश्मन कोई नहीं है। यह तो दूसरे धर्म वाले आकर लड़ते हैं। आपस में फूट डाल भारत को भी लड़ा देते हैं, नहीं तो भारतवासियों की आपस में लड़ाई ऐसे कभी हुई नहीं है। दूसरों ने लड़ाया, लोभ के कारण। यह भी खेल है। भारतवासी यह भी भूल गये हैं कि हम ही विश्व के मालिक थे। हमको बाप ने राज्य दिया था। सतयुग में यह नॉलेज रहती नहीं कि यह राज्य हमने कैसे पाया। अभी तुम जानते हो हम यह राज्य कैसे पा रहे हैं। यह बाप बैठ समझाते हैं। है भी बहुत सहज। परन्तु मनुष्यों की बुद्धि को ऐसा ताला लगा हुआ है जो यह नहीं जानते कि इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य किसने और कब दिया? इन्हों के बच्चे कितने हुए, कुछ नहीं जानते। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। सतयुग की आयु कितनी है? कह देते लाखों वर्ष फिर लाखों वर्ष में गद्दियां कितनी हुई? वृद्धि कितनी हुई होगी? कितने महाराजा महारानी होंगे। लाखों वर्ष में तो अनगिनत हो जाएं। लाखों वर्ष सतयुग के, फिर त्रेता के लाखों वर्ष, कलियुग के भी अभी 40 हजार वर्ष और कह देते हैं। इन बातों में किसकी बुद्धि नहीं चलती। इतनी लम्बी आयु दे दी है। क्रियेटर, डायरेक्टर, समय आदि सबका मालूम होना चाहिए। परन्तु किसको भी पता नहीं है। कहते हैं क्राइस्ट से 5 हजार वर्ष पहले भारत स्वर्ग था। गॉड गॉडेज का राज्य था। कितना वर्ष चला, कैसे चला? यह कुछ भी जानते नहीं। अगर राधे-कृष्ण सतयुग के प्रिन्स प्रिन्सेज हैं तो उन्होंने भी कोई द्वारा पद पाया होगा? अगर कृष्ण ने गीता सुनाई तो कब? यह सब बातें बाप ही समझाते हैं। स्कूल में पहले अल्फ बे पढ़ाया जाता है। फिर धीरे-धीरे बड़ा इम्तहान पास करते हैं। तो अल्फ बे की पढ़ाई और पिछाड़ी की पढ़ाई में कितना फ़र्क होगा। यहाँ भी ऐसे है। जितना पहले समझाते थे, उससे सहज अभी समझाते हैं, उससे जास्ती आगे समझायेंगे। कोई नया आता है तो पहले उनसे फार्म भराया जाता है, फिर समझाते हैं। परमपिता परमात्मा के साथ आपका क्या सम्बन्ध है? जरूर सबका बाप हुआ ना। इन बातों को समझने वाले ही समझते हैं। जब तक हड्डी निश्चय हो कि बेहद के बाप से वर्सा लेना है। बाप स्वर्ग रचते हैं तो जरूर स्वर्ग का वर्सा देंगे। यह उन्हों की बुद्धि में बैठेगा – जिन्होंने कल्प पहले निश्चय किया होगा।

तुम देखते हो कई बच्चे सवेरे उठ नहीं सकते। 10-15 वर्ष मेहनत करते आये हैं तो भी समय पर उठ नहीं सकते। कम से कम 3-4 बजे उठो। भक्त लोग भी सवेरे उठकर ध्यान करते हैं। जाप करते हैं हनुमान का, शिव का। परन्तु उनसे कोई फायदा नहीं। भल करके कोई के लक्षण अच्छे होते हैं परन्तु उनसे कोई को मुक्ति-जीवनमुक्ति नहीं मिल सकती है। उतरती कला होती है। लक्ष्मी-नारायण जो सतयुग में राज्य करते थे। वह भी दूसरे तीसरे जन्म में नीचे आते जाते हैं, उतरती कला होती जाती है। आधाकल्प पूरा होगा तो वाम मार्ग में चले जायेंगे। फिर भक्तिमार्ग शुरू होगा, कितने ढेर मन्दिर बनते हैं। अभी भी कितने मन्दिर हैं। कोई टूट भी गये हैं। वाम मार्ग में जाने के चित्र भी हैं। ड्रेस देवताओं की पड़ी है। वास्तव में ड्रेस उन्हों की अलग थी। पीछे बदलती आई है। कोई की पाग कैसी, कोई की कैसी, कोई का ताज कैसा, अलग-अलग ताज पहनने का भी अलग-अलग नमूना होता है। सूर्यवंशी राजायें जो हैं उनकी पहरवाइस अपनी-अपनी होती है। यह फलाने की पगड़ी है। बाबा ने साक्षात्कार भी किया है। द्वारिकाधीश की टेढ़ी पगड़ी थी। यह सब ड्रामा आदि से अन्त तक जो कुछ हो रहा है, वह फिर भी ऐसे ही होगा। फिर वाम मार्ग में जायेंगे, सबका मतभेद हो जायेगा। रसम-रिवाज अलग हो जायेगा। सूर्यवंशी अलग, चन्द्रवंशियों का अलग…. यह बना बनाया खेल है जो फिर रिपीट होना है।

तुम जानते हो हम भी बेहद के बाप से फिर से गति सद्गति को पाते हैं। पुरानी दुनिया का विनाश होना है। बेहद का बाप राजयोग सिखला रहे हैं। यह दुनिया नहीं जानती कि राजयोग सिखाते हैं। तुम बच्चे अच्छी रीति जानते हो और तुम्हारा बाप से लव है। सबका एक जैसा तो हो नहीं सकता। अज्ञान में भी सबका एक जैसा लव नहीं होता। कोई लोभ वश कहते हैं बाप मरे तो प्रापर्टी मिले..यहाँ शिवबाबा का शरीर तो है नहीं। बाबा तो अविनाशी है। यह शरीर लोन पर लिया है। तुम जानते हो हमने पूरे 84 जन्म लिए हैं। बाबा तो पुनर्जन्म नहीं लेते, इस शरीर में प्रवेश कर आते हैं। नहीं तो क्या लक्ष्मी-नारायण के तन में आये? वह तो हैं ही पावन दुनिया के मालिक। यह तो है ही पतित दुनिया, पतित शरीर क्योंकि विष से पैदा होते हैं। बाबा कल्प पहले मुआफिक कहते हैं मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। मुझे जरूर अनुभवी रथ चाहिए। कोई अच्छे एक्टर होते हैं तो उनको अच्छा इनाम मिलता है। यह भी बाबा का रथ गाया हुआ है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना, ब्रह्मा को बूढ़ा भी दिखाते हैं। प्रजापिता ब्रह्मा, विष्णु और शंकर का रूप ही अलग है। ब्रह्मा का रूप बिल्कुल ठीक है। बाप ने ही इनका नाम रखा है प्रजापिता ब्रह्मा, इसने पूरे 84 जन्म लिए हैं। तुम भी कहेंगे हम सबने पूरे 84 जन्म लिए हैं तब पहले-पहले बाप से मिले हैं । हमारी राजाई फिर से स्थापन हो रही है। समझाना भी पड़ता है हे परमपिता परमात्मा, हे भगवान। तो भगवान जरूर बाप को समझना चाहिए। परन्तु मनुष्यों की समझ में नहीं आता है कि सभी आत्माओं का बाप निराकार है। पिता है तब तो भक्ति मार्ग में सब याद करते हैं। आत्माओं को सुख मिला था तब दु:ख में याद करते हैं। तुम भी आधाकल्प बाप को याद करते आये हो। शुरू-शुरू में ही सोमनाथ का मन्दिर बनता है। तो जरूर बाप को ही याद करेंगे। जानते हैं यह बाप का मन्दिर है। बाप ने ही वर्सा दिया है। तो पहले-पहले मन्दिर भी बाप का बना है। तुम अभी बाप के वारिस बने हो। बाप विश्व का रचयिता है। उनसे ही वर्सा मिलता है। बाकी जो भी हैं उन्होंने क्या किया? हम उनकी पूजा क्यों करते हैं? 84 जन्म वह लेते हैं। परन्तु भक्ति भी व्यभिचारी होनी ही है। आधाकल्प के लिए सामग्री चाहिए। सतयुग त्रेता में सामग्री की दरकार नहीं होती। यह सब बुद्धि में धारण करना है। वास्तव में कुछ भी लिखने की दरकार नहीं है। अगर सालवेंट बुद्धि हैं तो झट धारणा हो जाती है। बाकी किसको सुनाने लिए नोट्स लेते हैं। किताबें आदि रखने की जरूरत नहीं। हमारे किताब पिछाड़ी में कौन पढ़ेगा? औरों के शास्त्र तो पिछाड़ी में चले आते हैं। पढ़ने वाले हैं। तुमको तो पढ़ना ही नहीं है, प्रालब्ध मिल गई। आधाकल्प तो शास्त्र आदि की कोई बात नहीं। यह ज्ञान प्राय:लोप हो जाता है। शास्त्र सब खत्म हो जाते हैं। पहले सबको यह समझाओ कि तुमको दो बाप हैं। जिस्मानी बाप तो है, वह भी उस बाप को याद करते हैं। गाया जाता है – दु:ख में सिमरण सब करें… यह भारत की बात है। बाप भी भारत में आते हैं। शिव जयन्ती आती है। तुम कहेंगे हम अपने बाप का फलाना जन्म मना रहे हैं। भल पूछें ब्रह्माकुमार कुमारियां हैं तो जरूर बाप आया होगा। यह है शिव का ज्ञान यज्ञ। तो ब्राह्मण जरूर चाहिए। ब्रह्मा कहाँ से आया? ब्रह्मा को एडाप्ट किया फिर बच्चे पैदा होते हैं तो भी इनके मुख कमल से रचते हैं। पहले सबको बाप का परिचय देना है। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सवेरे-सवेरे उठकर बाप को प्यार से याद करने की आदत पक्की डालनी है। कम से कम 3-4 बजे जरूर उठना है।

2) बेहद बाप से सच्चा लव रखना है। श्रीमत पर चल पूरा वर्सा लेना है।

वरदान:- सर्व शक्तियों से सम्पन्न बन हर शक्ति को कार्य में लगाने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान् भव 
जो बच्चे सर्व शक्तियों से सदा सम्पन्न हैं वही मास्टर सर्वशक्तिमान् हैं। कोई भी शक्ति अगर समय पर काम नहीं आती तो मास्टर सर्वशक्तिमान् नहीं कह सकते। एक भी शक्ति कम होगी तो समय पर धोखा दे देगी, फेल हो जायेंगे। ऐसे नहीं सोचना कि हमारे पास सर्व शक्तियां तो हैं, एक कम हुई तो क्या हर्जा है! एक में ही हर्जा है, एक ही फेल कर देगी इसलिए एक भी शक्ति कम न हो और समय पर वह शक्ति काम में आये तब कहेंगे मास्टर सर्वशक्तिमान्।
स्लोगन:- प्राप्तियों को भूलना ही थकना है इसलिए प्राप्तियों को सदा सामने रखो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 2 November 2017 :- Click Here

Font Resize