today murli 4 january

TODAY MURLI 4 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 January 2019 :- Click Here

04/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, stay in remembrance of the Father and remain constantly cheerful. Those who stay in remembrance of the Father are very entertaining and sweet. They remain happy and do service.
Question: Together with having the intoxication of knowledge, which checking is it most essential to have?
Answer: Together with the intoxication of knowledge, also check to what extent you have become soul conscious. Knowledge is very easy, but it is in yoga that Maya creates obstacles. While living at home with your family, you have to remain free from attraction. It should not be that Maya, the mouse, continues to bite you inside and you remain unaware of it. Continue to check your own pulse to see if you have deep love for Baba. For how long do you stay in remembrance?
Song: Why should the moth not burn itself?

Om shanti. You sweetest children heard one line of the song. Since the Father shows so much splendour and you become so beautiful, why should you not belong to such a Father who makes you beautiful from ugly? You children understand that you become beautiful from ugly. It is not a question of just one becoming this. Those people refer to Krishna as Shyam-Sundar. They also create pictures of him as that: in some pictures he is fair and in others he is shown a shade of blue. People don’t understand how this is possible. Prince Krishna of the golden age cannot be a shade of bluish. Everyone says that they would like to have a child or a husband like Shri Krishna. So how could he be a shade of blue. People don’t understand anything at all. There has to be a reason why they have made Krishna a shade of blue. They have portrayed Krishna dancing on a snake, but there cannot be anything like that. They have heard such things from the scriptures and so they speak of them. In fact, there isn’t anything like that. In the pictures, they show Narayan sitting on the bed of a snake. There is no snake bed. Could a snake have hundreds of mouths? Just look at the types of pictures they have sat and created. The Father explains: There is nothing in any of them. All of them are pictures of the path of devotion. However, that too is fixed in the drama. For however long the play has been shot from the beginning until now, it has to repeat. It is simply explained to you what people do on the path of devotion. They spend so much money. They make so many different types of pictures. Previously, when you would see all of those, you would not have been amazed. Now that the Father has explained to you, it enters your intellects that those things are truly of the path of devotion. Whatever happens on the path of devotion will definitely take place again. No one apart from you can understand these things. You know that whatever is fixed in the drama from before will continue to take place. There is to be destruction of innumerable religions and establishment of the one religion. There is great benefit in this. You don’t now pray etc. People do all of that in order to receive fruit from God. The fruit is liberation-in-life. So, all of this is explained to you. Here, it is the rule of the people. It says in the Gita: O people of Bharat, Kauravas and Pandavas, what are you doing? Truly, the Yadavas invented the missiles; they destroyed their own clan. All of them are enemies of one another. You don’t listen to the news etc. Those who listen to it are able to understand very well. Day by day, there is a lot of conflict among them. All of them are Christians, but there is a lot of conflict among them. While sitting at home, people kill one another. You are studying Raja Yoga and so the old world definitely has to be cleansed for the kingdom. Then everything will be new in the new world. Even the five elements there will be satopradhan. The ocean won’t have the power to overflow and cause damage. At present, the five elements cause so much damage. All of those elements will become your servants there and there will therefore be no question of sorrow. This is the play of the predestined drama. The golden age is called heaven. Christians also say that first there was heaven. Bharat is the imperishable land. It is just that they don’t know the Father who liberates them and that He comes in Bharat. They celebrate the birthday of Shiva but they don’t understand anything. You now explain that the birthday of Shiva is celebrated in Bharat, and so Shiv Baba must surely have come in Bharat and established heaven, and that He is now doing that once again. None of this will sit in the intellects of those who are to become subjects. Those who belong to the kingdom will understand that they truly are Shiv Baba’s children. There is also Prajapita Brahma. Baba Himself is the Liberator and the Ocean of Knowledge. Brahma would not be called that. Even Brahma is liberated by that One. The one Father liberates everyone because all are tamopradhan. Such churning of the ocean of knowledge should continue within. We should give the knowledge in such a way that people are quickly able to understand. Children are numberwise. This is knowledge. You have to study this every day. Not to study because of fear is not right. It would then be said that it is your karmic bondage. Look how so many became free and came here and then how some went away. In Sindh so many daughters came and then, because of the upheaval, they became enemies. At first, they liked the knowledge very much. They used to think that all of you had received a gift from God. Even now, they understand that there is some power here. They don’t understand that it is God Himself who has incarnated. Nowadays, many people have occult powers in them. They take up the Gita and continue to relate that. The Father says: All of those books are of the path of devotion. I am the Ocean of Knowledge. It is I whom everyone remembers on the path of devotion. According to the drama plan, this is fixed in the drama. They even have visions. He pleases those on the path of devotion too. If some people don’t take knowledge, devotion is still good for them because they are at least able to reform themselves; they would not steal etc. No one would do anything wrong to those who are engaged in singing devotional songs of God (performing devotion). They are, after all, devotees. Nowadays, even if someone is a devotee, he can still go bankrupt. It isn’t that because you have become Shiv Baba’s child, you won’t go bankrupt. There are the actions of the past and so some would go bankrupt. Some go bankrupt even after coming into knowledge, but that has no connection with knowledge. You children are now engaged in service. You know that by engaging yourself in service according to shrimat you will receive the fruit of that. We have to transfereverything there. We have to transfer everything, including our bags and baggage. Baba enjoyed himself a great deal in the beginning. When he came from there, he composed a song: The first one found Allah and the second one found a kingdom. He had visions of Shri Krishna and the four-armed image of Vishnu and understood that he would become the Emperor of Dwaraka. He used to feel so intoxicated. What am I going to do with this perishable money? So, you children should also have that happiness. Baba is giving us the sovereignty of heaven, but some children don’t make that much effort. They fall down while moving along. Very good children who used to invite Baba never remember Baba. Baba should receive letters saying: Baba, I am very happy. I remain intoxicated in having remembrance of You. There are many who never remember Baba. It is only by having the pilgrimage of remembrance that your happiness will rise. No matter how intoxicated you remain with knowledge, there is still so much body consciousness. Where is that stage of soul consciousness? Knowledge is very easy. It is in yoga that Maya causes obstacles. While living at home, you have to remain free from attraction. It should not be that Maya shoots you. Maya bites you like a mouse; a mouse bites you in such a way that even if starts bleeding, you wouldn’t be aware of it. Some children are unaware of how much damage is caused when they become body conscious. You won’t be able to claim a high status. You have to claim your full inheritance from the Father. You too should become seated on the throne like Mama and Baba. The Father is the One who wins your heart. There is the complete memorial in the Dilwala Temple. Inside, the maharathis are sitting on elephants. Among you too, there are the elephant riders, the horse riders and the infantry. Each one of you has to check your own pulse. Why should Baba check it? You should check yourself to see whether you remember Baba and do service like Baba. Do I have yoga with Baba? Do I stay awake at night and remember Baba? Am I serving many others? You should keep your chart : How deeply do I remember the Father within? Some think that they constantly remember the Father, but that is not possible. Some think that they have become Baba’s children and so that’s all! However, you have to consider yourselves to be souls and remember the Father. If you do anything without having remembrance of Baba, it means that you do not remember Baba. You should always remain cheerful in remembrance of Baba. Those who stay in remembrance are always entertaining and cheerful. They explain to others with great happiness and in an entertaining way. There are very few who have a keen interest in serving. It is very easy to explain using the pictures. This is God, the Highest on High, and then there are His creation, we souls, who are all brothers. This is a brotherhood. Those people have spoken about Fatherhood. First of all, you have to explain Shiv Baba’s picture. This is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, the Father of all souls. We souls are also incorporeal. We each reside in the centre of a forehead. Shiv Baba too is a s tar, but how could a s tar be worshipped? This is why they made a big image. However, a soul doesn’t take 8.4 million births. The Father explains that souls first come down bodiless and adopt bodies and then play their parts. Satopradhan souls take rebirth and come into the iron age. Those who come later do not take 84 births. Not everyone can take 84 births. A soul sheds a body and takes another. His name, form, time and place all change. You should give such lectures. They speak of self-realisation , but who can give you that? Is it self-realisation to say that a soul is the Supreme Soul? This is new knowledge. The Father, who is the Ocean of Knowledge, is also the Purifier and the Bestower of Salvation for All. He sits here and explains to you. Then, praise Him a great deal! You heard His praise. You have heard the introduction of the soul, and now we will give you God’s introduction. He is called the Father of all souls. He cannot be any smaller or larger. The Supreme Father, the Supreme Soul, means the Supreme SoulSoul means atma. God is the One who resides beyond. He never takes rebirth and this is why He is called the Supreme Father. A part is recorded in such a tiny soul. He alone is called the Purifier. His name is always Shiv Baba. It is not Rudra Baba. On the path of devotion, He has been given many names. Everyone remembers Him and says: O Purifier, come and make us pure! So, He surely has to come. He comes when the one religion, the original eternal deity religion, has to be established. It is now the iron age and there are so many human beings. There will be very few human beings in the golden age. It is remembered that establishment takes place through Brahma, destruction takes place through Shankar… The original eternal religion was established through the Gita. It is just that they have made a mistake in that and put Krishna’s name. The Father says: He (Krishna) enters into rebirth. I am beyond rebirth. So now judge: Is the Supreme Father, the Supreme Soul, incorporeal Shiva or is it Shri Krishna? Who is the God of the Gita? Only one is called God. Then, if they don’t believe these things, you should understand that they don’t belong to your religion. Those who are to go to the golden age will quickly believe these things and begin to make effort. This is the main thing. There is victory for you in this, but where is that stage of soul consciousness? You become trapped in one another’s name and form. On the path of devotion, you used to sing: They were concerned for the Supreme Soul who lived in the element beyond, the brahm element. So, why should you be afraid of anything? A lot of courage is needed. Those who give lectures should give the knowledge about souls with great intoxication. They should then also explain who is called the Supreme Soul. The praise of the Father is: The Ocean of Love, the Ocean of Knowledge. In fact, this is also the praise of you children. To get angry with someone means to take the law into your own hands. Baba is so sweet. If some children say “No” when asked to do something, they cannot become like Krishna. You have to become very sweet. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Transfer all your bags and baggage and remain very intoxicated and happy. Become seated on the throne, like Mama and Baba. Stay in deep remembrance from the heart.
  2. Never stop studying due to being afraid of someone. Lighten your karmic bondage with remembrance. Never get angry or take the law into your own hands. Don’t say “No” when asked to do any type of service.
Blessing: May you be a special soul who experiences and enables others to experience the property and personality of Brahmin life.
BapDada reminds all you Brahmin children that it is your great fortune that you became Brahmins. However, the inheritance and property of Brahmin life is contentment and the personality of Brahmin life is happiness. Never be deprived of this experience. You have a right. Since the Bestower and the Bestower of Blessings is giving you the treasures of attainment with an open heart, then experience them and also enable others to experience them and you would then be said to be a special soul.
Slogan: Instead of thinking about the last moments, think about your last stage.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

In order to show the practical fruit of service, just as Father Brahma served through his spiritual stage, in the same way, you children also now have to reveal your spiritual stage. The soul is said to be the “ruh” (spirit) and it is also said to be the essence. So, by staying in your spiritual (ruhani) stage, you will become both. The attraction of divine virtues, that is, the essence is the spirit and the soul-conscious form will also be visible.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 January 2019

To Read Murli 3 January 2019 :- Click Here
04-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप की याद में रह सदा हर्षित रहो। याद में रहने वाले बहुत रमणीक और मीठे होंगे। खुशी में रह सर्विस करेंगे।”
प्रश्नः- ज्ञान की मस्ती के साथ-साथ कौन सी चेकिंग करना बहुत जरूरी है?
उत्तर:- ज्ञान की मस्ती तो रहती है लेकिन चेक करो देही-अभिमानी कितना बने हैं? ज्ञान तो बहुत सहज है लेकिन योग में माया विघ्न डालती है। गृहस्थ व्यवहार में अनासक्त हो रहना है। ऐसा न हो माया चूही अन्दर ही अन्दर काटती रहे और पता भी न पड़े। अपनी नब्ज़ आपेही देखते रहो कि बाबा के साथ हमारा हड्डी प्यार है? कितना समय हम याद में रहते हैं?
गीत:- जले क्यों न परवाना….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत की लाइन सुनी। जबकि बाप इतना जलवा दिखाते हैं, तुम इतने हसीन बन जाते हो तो क्यों न ऐसे बाप का बन जाना चाहिए़ जो बाप श्याम से सुन्दर बनाते हैं। बच्चे समझते हैं हम सांवरे से गोरे बनते हैं। एक की बात नहीं है। वो लोग कृष्ण को श्याम-सुन्दर कह देते हैं। चित्र भी ऐसा बनाते हैं। कोई सुन्दर तो कोई श्याम। मनुष्य समझते नहीं कि यह हो कैसे सकता है। सतयुग का प्रिन्स कृष्ण सांवरा हो न सके। कृष्ण के लिए तो सब कहते हैं कृष्ण जैसा बच्चा मिले, पति मिले। फिर वह श्याम कैसे हो सकता है। कुछ भी समझते नहीं हैं। कृष्ण को सांवरा (श्याम) क्यों बनाया है, कारण चाहिए। यह जो दिखाते हैं सर्प पर डांस किया – ऐसी बात तो हो न सके। शास्त्रों में ऐसी-ऐसी बातें सुनकर कह देते हैं। वास्तव में ऐसी कोई बातें हैं नहीं। जैसे चित्रों में दिखाते हैं शेषनाग की शैया पर नारायण बैठा है, ऐसी कोई सर्प की शैया आदि होती नहीं। इतने सैकड़ों मुख होते हैं क्या? कैसे-कैसे चित्र बैठ बनाये हैं। बाप समझाते हैं इनमें कुछ भी रखा नहीं है, यह सब भक्ति मार्ग के चित्र हैं। परन्तु यह भी ड्रामा में नूँध है। शुरू से लेकर इस समय तक जो नाटक शूट हुआ है उनको फिर रिपीट करना है। यह सिर्फ समझाया जाता है कि भक्ति में क्या-क्या करते हैं। कितना खर्च करते हैं। कैसे कैसे चित्र आदि बनाते हैं। आगे जब यह सब देखते थे तो इतना वन्डर नहीं खाते थे। अब जब बाप ने समझाया है तो बुद्धि में आता है बरोबर यह सब भक्ति मार्ग की बातें हैं। भक्ति में जो कुछ होता है वह फिर भी जरूर होगा। सिवाए तुम्हारे और कोई भी यह समझ न सके। यह तो जानते हो ड्रामा में जो पहले से नूँध है, वही होता रहता है। अनेक धर्मों का विनाश एक धर्म की स्थापना होती है। इसमें बड़ा कल्याण है।

अभी तुम यह प्रार्थना आदि कुछ नहीं करते हो। वह सब करते हैं भगवान से फल लेने के लिए। फल है जीवन-मुक्ति, तो यह सब समझाया जाता है। यहाँ है प्रजा का प्रजा पर राज्य। गीता में है भारतवासी कौरव पाण्डव क्या करत भये। बरोबर यादवों ने मूसल निकाले। अपने कुल का विनाश किया। यह सब आपस में दुश्मन हैं। तुम न्युज़ आदि सुनते नहीं हो, जो सुनते हैं वह अच्छी तरह से समझ सकते हैं। दिनप्रतिदिन अन्दर खिटपिट बहुत है। हैं तो सब क्रिश्चियन परन्तु अन्दर खिटपिट बहुत है, घर बैठे ही एक दो को उड़ा देंगे। तुम राजयोग सीख रहे हो तो राजाई करने के लिए पुरानी दुनिया की स़फाई जरूर चाहिए। फिर नई दुनिया में सब कुछ नया होगा। 5 तत्व भी वहाँ सतोप्रधान होंगे। समुद्र की ताकत नहीं जो उछलकर नुकसान कर दे। अभी तो 5 तत्व कितना नुकसान करते हैं। वहाँ सारी प्रकृति दासी हो जायेगी इसलिए दु:ख की कोई बात नहीं। यह भी बना बनाया ड्रामा का खेल है। स्वर्ग कहा जाता है सतयुग को, क्रिश्चियन लोग भी कहते हैं पहले-पहले हेविन था। भारत अविनाशी खण्ड है। सिर्फ उन्हों को पता नहीं कि हमको लिबरेट करने वाला बाप भारत में आता है। शिव जयन्ती भी मनाते हैं तो भी समझ नहीं सकते हैं। अभी तुम समझाते हो कि भारत में शिव जयन्ती मनाई जाती है, जरूर शिवबाबा ने भारत में आकर हेविन बनाया है, अब फिर बना रहे हैं। जो प्रजा बनने वाले होंगे उन्हों की बुद्धि में कुछ भी बैठेगा नहीं। जो राजधानी वाले होंगे वह समझेंगे बरोबर हम शिवबाबा के बच्चे हैं। प्रजापिता ब्रह्मा भी है। लिबरेटर, ज्ञान का सागर खुद बाबा है। ब्रह्मा को नहीं कहेंगे। ब्रह्मा भी उनसे लिबरेट होता है। लिबरेट सबको एक बाप ही करते हैं क्योंकि सब तमोप्रधान हैं। ऐसे अन्दर में विचार सागर मंथन चलना चाहिए। हम ऐसी मुरली चलायें जो मनुष्य झट समझ जायें। बच्चे नम्बरवार तो हैं ही। यह है नॉलेज, इनकी रोज़ स्टड़ी करनी चाहिए। डर के मारे पढ़ाई न पढ़ना यह तो ठीक नहीं है। फिर कहेंगे कर्मबन्धन है। देखो, शुरू में कितने छूटकर आये फिर कई चले भी गये। सिन्ध में बहुत बच्चियाँ आई फिर हंगामे के कारण कितने दुश्मन बन पड़े। पहले उन्हों को ज्ञान बहुत अच्छा लगता था। समझते थे इनको डॉत (भगवान की देन) मिली हुई है। अब भी ऐसे समझते हैं कि कोई शक्ति है, यह नहीं समझते कि परमात्मा की प्रवेशता है। आजकल रिद्धि सिद्धि की ताकत तो बहुतों में है। गीता उठाकर सुनाते रहते हैं। बाप कहते हैं यह सब भक्ति मार्ग की पुस्तके हैं। ज्ञान का सागर तो मैं हूँ। मुझे ही भक्ति मार्ग में सब याद करते हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार यह भी ड्रामा में नूँध है। साक्षात्कार भी होते हैं। भक्ति मार्ग वालों को भी राज़ी करते हैं। ज्ञान नहीं उठाते तो उनके लिए भक्ति भी अच्छी फिर भी मनुष्य सुधरते तो हैं ना। चोरी आदि नहीं करेंगे। भगवान का भजन करने वालों के लिए कभी भी उल्टी बातें नहीं करेंगे। फिर भी भक्त हैं। आजकल तो भल भक्त हैं फिर भी बहुत देवाला मार देते हैं। ऐसे नहीं कि शिवबाबा का बच्चा बना तो देवाला नहीं मारेंगे। पास्ट का कर्म है तो देवाला मारते हैं। ज्ञान में आने से भी देवाला मार देते हैं, इसमें ज्ञान का कोई तैलुक नहीं।

तुम बच्चे अब सर्विस पर लगे हुए हो। समझते हो श्रीमत पर सर्विस में लगने से फल पायेंगे। हमको सब कुछ वहाँ ट्रॉन्सफर करना है। बैग बैगेज सब कुछ ट्रॉन्सफर कर देना है। बाबा को शुरू में बहुत मजा आया था। वहाँ से जब निकला तो गीत बनाया-अल्फ को मिला अल्लाह, बे को मिली बादशाही…. श्रीकृष्ण का, चतुर्भुज का साक्षात्कार हुआ समझा द्वारिका का बादशाह बनूँगा। ऐसा नशा चढ़ता था। अब यह विनाशी पैसा क्या करेंगे। तो तुम बच्चों को भी खुशी होनी चाहिए। हमको बाबा स्वर्ग की बादशाही देते हैं। परन्तु बच्चे इतना पुरुषार्थ ही नहीं करते हैं। चलते-चलते गिर पड़ते हैं। अच्छे-अच्छे बच्चे, बाबा को निमंत्रण देने वाले कभी बाबा को याद नहीं करते। बाबा के पास पत्र आना चाहिए कि बाबा हम बहुत खुश हैं। आपकी याद में मस्त रहते हैं। बहुत हैं जो कभी याद नहीं करते। याद की यात्रा से ही खुशी जोर से चढ़ेगी। ज्ञान में भल कितना भी मस्त रहते हैं परन्तु देह-अभिमान कितना है। देही-अभिमानी-पना कहाँ है? ज्ञान तो बड़ा इजी है। योग में ही माया विघ्न डालती है। गृहस्थ व्यवहार में भी अनासक्त हो रहना है। ऐसा न हो जो माया अंगूरी लगा दे। माया काटती ऐसे है जैसे चूहा। चूहा ऐसे काटता है जो भल खून निकल आये पर पता न पड़े। बच्चों को पता नहीं पड़ता कि देह-अभिमान आने से कितना नुकसान होता है। ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। बाप से पूरा वर्सा लेना चाहिए। मम्मा बाबा मुआफिक हम भी तख्तनशीन बनें। बाप है दिल लेने वाला। देलवाड़ा मन्दिर में भी पूरा यादगार है, अन्दर हाथियों पर महारथी बैठे हैं। तुम्हारे में भी महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे हैं। हर एक को अपनी-अपनी नब्ज़ देखनी है। बाबा क्यों देखे। तुम अपने को देखो हम बाबा को याद करते हैं और बाबा मिसल सर्विस करते हैं! हमारा बाबा के साथ योग है! रात को जागकर बाबा को याद करते हैं? हम बहुतों की सर्विस करते हैं? चार्ट रखना चाहिए – बाबा को हड्डी (जिगरी) कितना याद करते हैं? कोई समझते हैं हम निरन्तर याद करते हैं, यह नहीं हो सकता। कई समझते हैं हम बाबा के बच्चे बन गये, बस। परन्तु अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। बाबा की याद बिगर कुछ काम किया गोया बाबा को याद नहीं करते। बाबा की याद में सदैव हर्षित रहना चाहिए। याद में रहने वाला सदैव रमणीक रहेगा, हर्षितमुख रहेगा। किसको बहुत खुशी से और रमणीकता से समझायेंगे। बहुत थोड़े हैं जिनको सर्विस का बहुत शौक है। चित्रों पर समझाना बहुत सहज है। यह है ऊंचे ते ऊंचा भगवान फिर उनकी रचना हम सब आत्मायें भाई-भाई हैं। ब्रदरहुड है, उन्होंने फादरहुड कह दिया है। पहले शिवबाबा के चित्र पर समझाना है कि यह है सब आत्माओं का बाप परमपिता परमात्मा निराकार। हम आत्मा भी निराकार हैं, भ्रकुटी के बीच में रहती हैं। शिवबाबा भी स्टॉर है परन्तु स्टॉर की पूजा कैसे हो इसलिए बड़ा बनाते हैं। बाकी आत्मा कभी 84 लाख जन्म नहीं लेती है। बाप समझाते हैं आत्मा पहले अशरीरी आती है फिर शरीर धारण कर पार्ट बजाती है। सतोप्रधान आत्मा पुनर्जन्म लेते-लेते आइरन एज में आ जाती है। बाद में आने वाले तो 84 जन्म नहीं लेंगे। सब तो 84 जन्म ले नहीं सकते। आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। नाम रूप देश काल सब बदल जाता है। ऐसे भाषण करना चाहिए। कहते हैं सेल्फ रियलाइजेशन। परन्तु कराये कौन? आत्मा सो परमात्मा कहना-यह कोई सेल्फ रियलाइजेशन हुआ क्या। यह नई नॉलेज है। बाप जो ज्ञान का सागर है, पतित-पावन है, सर्व के सद्गति दाता हैं, वही बैठ समझाते हैं। फिर उनकी खूब महिमा करो, उनकी महिमा सुनी। आत्मा का परिचय बताया, अब परमात्मा का भी बताते हैं। उनको कहा जाता है सभी आत्माओं का बाप। वह छोटा बड़ा हो न सके। परमपिता परमात्मा माना सुप्रीम सोल। सोल माना आत्मा। परमात्मा तो परे ते परे रहने वाला है। वह पुनर्जन्म में नहीं आते हैं इसलिए उनको परमपिता कहा जाता है। इतनी छोटी आत्मा में पार्ट भरा हुआ है। पतित-पावन भी उनको ही कहते हैं। उनका नाम हमेशा शिवबाबा है। रूद्र बाबा नहीं। भक्ति मार्ग में अनेक नाम रखे हैं, उनको सभी याद करते हैं कि पतित-पावन आकर पावन बनाओ। तो जरूर आना पड़े। वह आते तब हैं जब एक धर्म की स्थापना करनी होती है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म। अभी है कलियुग, ढेर मनुष्य हैं। सतयुग में बहुत थोड़े मनुष्य हैं। गाया भी हुआ है ब्रह्मा द्वारा स्थापना, शंकर द्वारा विनाश…. गीता द्वारा ही आदि सनातन धर्म की स्थापना हुई थी। सिर्फ उसमें भी भूल कर कृष्ण का नाम डाल दिया है। बाप कहते हैं वह तो पुनर्जन्म में आने वाला है। मैं तो पुनर्जन्म रहित हूँ। तो अब जज करो कि परमपिता परमात्मा निराकार शिव या श्रीकृष्ण। गीता का भगवान कौन? भगवान तो एक को कहा जाता है फिर अगर इन बातों को कोई मानता नहीं है तो समझना चाहिए यह अपने धर्म का नहीं है। सतयुग में आने वाला झट मानेगा और पुरुषार्थ करने लग पड़ेगा। मूल बात ही यह है। इसमें तुम्हारी विजय है। परन्तु देही-अभिमानी अवस्था कहाँ है? एक दो के नाम रूप में फँसते हैं। भक्ति मार्ग में भी कहते थे परवाह थी पार ब्रह्म में रहने वाले परमात्मा की, बाकी डर किसका। बहुत हिम्मत चाहिए। भाषण करने वालों को आत्मा का ज्ञान बहुत मस्ती से देना चाहिए। फिर परमात्मा किसको कहा जाता है – इस पर भी समझाना चाहिए। बाप की महिमा है प्रेम का सागर, ज्ञान का सागर …वैसे बच्चों की भी महिमा है। किसको गुस्सा करना माना लॉ हाथ में उठाना। बाबा कितना मीठा है। बच्चे कोई काम में नटाते (मना करते) हैं तो नटवर नहीं बनेंगे। बहुत मीठा बनना है। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपना बैग बैगेज सब ट्रांसफर कर बहुत खुशी और मस्ती में रहना है। मम्मा बाबा समान तख्तनशीन बनना है। जिगरी याद में रहना है।

2) किसी के डर से पढ़ाई कभी नहीं छोड़नी है। याद से अपने कर्मबन्धन हल्के करने हैं। कभी क्रोध में आकर लॉ हाथ में नहीं उठाना है। किसी सेवा में ना नहीं करनी है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन की प्रापर्टी और पर्सनालिटी का अनुभव करने और कराने वाली विशेष आत्मा भव
बापदादा सभी ब्राह्मण बच्चों को स्मृति दिलाते हैं कि ब्राह्मण बने – अहो भाग्य! लेकिन ब्राह्मण जीवन का वर्सा, प्रापर्टी सन्तुष्टता है और ब्राह्मण जीवन की पर्सनालिटी प्रसन्नता है। इस अनुभव से कभी वंचित नहीं रहना। अधिकारी हो। जब दाता, वरदाता खुली दिल से प्राप्तियों का खजाना दे रहे हैं तो उसे अनुभव में लाओ और औरों को भी अनुभवी बनाओ तब कहेंगे विशेष आत्मा।
स्लोगन:- लास्ट समय का सोचने के बजाए लास्ट स्थिति का सोचो।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

सेवा का प्रत्यक्षफल दिखाने के लिए जैसे ब्रह्मा बाप ने अपनी रूहानी स्थिति द्वारा सेवा की, ऐसे आप बच्चे भी अब अपनी रूहानी स्थिति को प्रत्यक्ष करो। रूह आत्मा को भी कहते हैं और रूह इसेन्स को भी कहते हैं। तो रूहानी स्थिति में रहने से दोनों ही हो जायेंगे। दिव्य गुणों की आकर्षण अर्थात् इसेन्स वह रूह भी होगा और आत्मिक स्वरूप भी दिखाई देगा।

TODAY MURLI 4 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 January 2018 :- Click Here

04/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father, the Master, has taught you the art of changing yourselves from human beings into deities. So then, on the basis of shrimat, serve others so that they too can change into deities.
Question: What elevated act do you children perform now, an act that becomes a custom and system on the path of devotion?
Answer: On the basis of shrimat, you surrender your minds, bodies and wealth, not just to benefit Bharat, but the whole world. Human beings on the path of devotion have the custom and system of donating in the name of God. In return, they take their next birth in a royal family. However, you children become the Father’s helpers at the confluence age and change from humans into deities.
Song: You spent the night in sleeping and the day in eating.

Om shanti. The Father explains to you children and, when you children understand, you are able to explain to others. If you do not understand, you’re unable to explain to others. If you say that you do understand but are not able to explain to others, it means that you haven’t understood anything at all. When people learn some form of art, they are able to show others. This art of changing human beings into deities is only learnt from the Father, the Master. There are images of the deities. God changes human beings into deities. It means that they don’t exist at this time. Deities are praised as those who are full of all divine virtues. No human being here can be praised like that. People go to the temples and sing praise of the deities. Although sannyasis remain pure, people do not sit and sing praise of them in the same way. Those sannyasis etc. even recite scriptures. Deities do not relate anything in that way; they experience the reward. They made effort in their previous birth and changed from human into deities. Sannyasis do not have the virtues that deities have. Where there are no virtues, there must definitely be defects. In the golden age, in this same Bharat, the king, the queen and all the subjects were full of divine virtues; they had all the virtues. The virtues of those deities are praised. At that time, there was no other religion. Virtuous deities exist in the golden age whereas defective human beings exist in the iron age. Now, who can change human beings with such defects into deities? It is remembered that it didn’t take God long to change human beings into deities. This praise is only given of Supreme Father, the Supreme Soul. Although deities too are human beings, they are virtuous whereas human beings here have defects. Virtues are received from the Father, the One who is known as the Satguru. Defects are received from Maya, Ravan. After being so virtuous, how did they develop defects? How did those who were full of all the divine virtues become those full of all defects? Only you children know this. People sing: We are virtueless, we have no virtues. They sing praise of the deities. No one at this time has those qualities. Their food and drink etc. are so dirty. Deities belonged to the Vaishnav community (completely pure and vegetarian), whereas human beings of this time belong to Ravan’s community. Their food and drink etc. have changed so much. It isn’t only the way they dress that has to be considered; their diet and their viciousness have to be taken into consideration as well. The Father Himself says: I have to come into Bharat in order to bring about establishment through Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. This is the sacrificial fire (yagya) of Brahmins. Those brahmin priests are born through sin, whereas you are a mouth-born creation. There is a lot of difference. Wealthy people create sacrificial fires and invite brahmin priests. This is the unlimited Father, the Wealthiest of the Wealthy and the King of Kings. Why is He called the Wealthiest of the Wealthy? Because even wealthy people say that God gave them wealth. They donate in the name of God and thereby become wealthy in their next birth. At this time, you surrender everything – your bodies, minds and wealth – to Shiv Baba, and so you then claim a high status. On the basis of shrimat, you are learning to perform elevated actions, and so you must definitely receive the fruit of that. You surrender your minds, bodies and wealth. Those people also give through someone in the name of God. This system only exists in Bharat, and so the Father teaches you very good actions. You perform this act, not just to benefit Bharat, but also to benefit the whole world. You then receive the return of that by changing from humans into deities. Whatever acts you perform on the basis of shrimat, you receive the fruit of those accordingly. Baba becomes the Observer and observes those who serve to change human beings into deities on the basis of shrimat, and to what extent they have transformed their lives. Brahmins are the ones who follow shrimat. The Father says: Through you Brahmins, I teach Raja Yoga to shudras. It is a question of 5000 years. The kingdom of deities existed in Bharat. You should show people these pictures. Unless they see the pictures, they will wonder what new religion this is and think that perhaps you have come from abroad. Simply by being shown the pictures they will understand that you people do believe in the deities. Therefore, you should explain to them that, at the time of Shri Narayan’s final and 84th birth, the Supreme Father, the Supreme Soul, enters this one and teaches Raja Yoga. In this way, the aspect of Krishna will disappear. This is the last of his 84 births. The deities, who belonged to the sun dynasty, must come once again and study Raja Yoga. According to the drama, they will definitely make effort. You children are now listening personally, face to face. Some children also listen to a tape and they have the consciousness at that time that they too are changing into deities once again with the mother and father. At this time, during your 84th birth, you have to become complete beggar s. The soul surrenders everything to the Father. This body is like a horse which is sacrificed. The soul himself says: I belong to the Father and no one else. I, the soul, am doing service through this body according to the directions of the Supreme Father, the Supreme Soul. The Father says: Teach yoga and also explain how the cycle of the world turns. Those who have been around the whole cycle will very quickly understand these aspects. Those who have not been around the whole cycle will not stay here. It isn’t that the whole world will come. Many subjects will come, but there will only be one king and queen. There will only be one Lakshmi and Narayan. There will only be one Rama and Sita. There will be other princes and princesses, but these will be the main ones. Therefore, in order to become such kings and queens, you must make a great deal of effort. By becoming an observer you can understand whether someone belongs to a wealthy family or to a royal family or to a poor family. Some are defeated by Maya and run away. Maya swallows them raw. This is why Baba continues to ask: Are you happy? Are you content? You haven’t been slapped by Maya and become unconscious or ill, have you? Children, when anyone becomes ill, go and give him or her the life-giving herb of knowledge and yoga and revive them. Because souls do not remain in knowledge and yoga, Maya destroys everything. They stop following shrimat and begin to follow the dictates of their own minds. Maya makes them completely unconscious. In fact, the life-giving herb is knowledge. This removes the unconsciousness of Maya. All of these aspects apply to this time. You are the ones who are Sitas. Rama comes and liberates you from Ravan’s jail, just as children in Sindh were liberated. Ravan’s people then abducted them again. You now have to liberate everyone from the clutches of Maya. Baba has mercy. It is seen that Maya slaps souls and turns their intellects completely in the other direction. She turns intellects away from Rama and turns them towards Ravan. There is a toy that has Ravan on one side and Rama on the other. These souls are known as the ones who become amazed and belong to the Father and then belong to Ravan again. Maya is very powerful. She bites you like a mouse and spoils all your income. This is why you must never stop following shrimat. The climb is very steep. To follow your own dictates means to follow Ravan’s dictates. If you follow those, you choke a great deal and this causes defamation. There are such souls at all the centres who cause themselves harm. Those who do service, who are rup-basant (an embodiment of yoga who showers knowledge) cannot remain hidden. The divine kingdom is now being established and everyone will definitely play their individual part s in that. If you race ahead, you benefit yourself. To benefit oneself means to become a master of heaven. Just as the mother and father sit on the throne, so you children must also become the same. Follow the father, otherwise your status will be reduced. Baba has not had these pictures made just to be stored. You have to do a great deal of service with them. Many wealthy people build temples to Lakshmi and Narayan, but none of them knows when they came or how they made Bharat happy, for which everyone remembers them. You understand that there has to be the Dilwala Temple (One who conquers your heart). This one temple is enough. What would happen through the Lakshmi and Narayan Temple? They are not benefactors. When people build temples to Shiva, that too is without meaning. No one knows His occupation. What would be said if you built a temple to someone whose occupation you didn’t know? When deities exist in heaven, there are no temples. You should ask those who build the temples: When did Lakshmi and Narayan come? What happiness did they give you? They will not be able to explain anything. This proves that those who are virtueless build temples to those who are virtuous. Therefore, you children should have a lot of interest in doing service. Baba has a lot of interest in service, for this is why He creates such pictures. Even though it is Shiv Baba who has these pictures made, both intellects are working. Achcha.

Night C lass: 28/06/ 19 68

All of you sitting here understand that you are souls and that the Father is sitting here. This is known as sitting in soul consciousness. Not everyone is sitting with the awareness that we are souls and that we are sitting in front of Baba. Baba has now reminded you and so you will have that awareness and will pay attention. There are many whose intellects wander outside. While sitting here, it is as though their ears are closed. Their intellects wander around outside somewhere or other. Children who are sitting in remembrance of the Father are earning an income. The intellects’ yoga of many remains outside. It is as though they are not on the pilgrimage. Time is wasted. You remember Baba when you see the father. Of course, it is numberwise according to your efforts. Some develop the firm habit: I am a soul, not a body. The Father is knowledge-full and so you children also develop that knowledge. We now have to return home. The cycle is ending and we now have to make effort. A lot of time has gone by and only a little remains…. Many study a great deal in the days of their exams. They feel that they would otherwise fail and receive a low status. Children, continue to make effort. Because of body consciousness, sinful actions are performed. This will bring one hundred-fold punishment because you defame Me. You must not perform any actions that would defame the Father’s name and this is why it is sung: Those who defame the Satguru cannot receive salvation. Salvation means sovereignty. It is the Father who is teaching you. There isn’t any aim or object ive in any other spiritual gatherings. This is our Raja Yoga. No one else can say that they are teaching Raja Yoga. They feel that there is happiness in peace. There, there is no question of sorrow or happiness; there is just peace and peace. It is then understood that that one has very little in his fortune. The highest fortune is of those who play their part s from the beginning. There, they do not have this knowledge. There, there would be no thoughts. You children know that you all incarnate; you adopt different names and forms. This is the drama. We souls adopt bodies and play our part s through them. The Father sits and explains all of these secrets. You children experience supersensous joy inside yourselves; you have happiness within. It would be said: This one is soul conscious. The Father explains that you are students. You know that you are going to become deities, the masters of heaven; not just deities, you are also going to become the masters of the world. This stage will remain permanent when you reach your karmateet stage. It will definitely happen according to the drama plan. You understand that you are in God’s family. You are definitely going to receive the sovereignty of heaven. Those who do a lot of serviceand bring benefit to many will definitely claim a high status. Baba has explained that you can sit in yoga here. It is not possible like that at the centres outside. To come at 4.00 am and then to sit in meditation: how can that be possible there? No. Those who are living at the centres can stay. You must not tell this to the people outside even by mistake. This is not the time. You are fine here. You are sitting at home. There, you have to come from outside. This is only for those who are here. Your intellects should imbibe this knowledge. We are souls. This is that one’s immortal throne. You should develop this habit. We are brothers: We are speaking to our brothers. Consider yourself to be a soul and remember the Father and your sins will be absolved. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, the spiritual Father says good night, love, remembrance and namaste.

Essence for dharna:

  1. Save yourself from the unconsciousness of Maya with the life-giving herb of knowledge and yoga. Don’t follow the dictates of your own mind.
  2. Become rup-basant and do serviceFollow the mother and father and become worthy of sitting on the throne.
Blessing: May you be an elevated effort-maker who claims number one with the blessing of a divine intellect and spiritual drishti.
Each and every Brahmin child receives at birth the blessing of a divine intellect and spiritual drishti. This blessing is the foundation of Brahmin life. It is on the basis of these two things that number s are created for the confluence-aged effort-makers. To the extent that they use these in their thoughts, words and deeds, they claim a number accordingly. One’s attitude and acts automatically change through spiritual drishti. By taking accurate decisions with a divine intellect, oneself, service and relations and connections truly become powerful.
Slogan: There will be spirituality in your features when there is the inculcation of purity in your thoughts, words and deeds.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 4 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 January 2017

To Read Murli 3 January 2018 :- Click Here

04/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप उस्ताद ने तुम्हें मनुष्य से देवता बनने का हुनर सिखलाया है, तुम फिर श्रीमत पर औरों को भी देवता बनाने की सेवा करो”
प्रश्नः- अभी तुम बच्चे कौन सा श्रेष्ठ कर्म करते हो जिसका रिवाज भक्ति में भी चला आता है?
उत्तर:- तुम अभी श्रीमत पर अपना तन-मन-धन भारत तो क्या विश्व के कल्याण अर्थ अर्पण करते हो इसी का रिवाज़ भक्ति में मनुष्य ईश्वर अर्थ दान करते हैं। उन्हें फिर उसके बदले दूसरे जन्म में राजाई घर में जन्म मिलता है। और तुम बच्चे संगम पर बाप के मददगार बनते हो तो मनुष्य से देवता बन जाते हो।
गीत:- तूने रात गंवाई…

ओम् शान्ति। बाप बच्चों को समझाते हैं, जब बच्चे समझते हैं तब फिर औरों को समझाते हैं। नहीं समझते तो औरों को समझा नहीं सकते। अगर खुद समझते औरों को समझा नहीं सकते तो गोया कुछ भी नहीं समझते। कोई हुनर सीखता है तो उसको फैलाता है। यह हुनर तो बाप उस्ताद से सीखा जाता है कि मनुष्य से देवता कैसे बनाया जाए। देवतायें जिनके चित्र भी हैं, मनुष्य को देवता बनाते हैं तो गोया वह देवता अभी नहीं हैं। देवताओं के गुण गाये जाते हैं। सर्वगुण सम्पन्न…. यहाँ कोई मनुष्य के तो ऐसे गुण नहीं गाये जाते। मनुष्य मन्दिरों में जाकर देवताओं के गुण गाते हैं। भल पवित्र तो सन्यासी भी हैं परन्तु मनुष्य उन्हों के ऐसे गुण नहीं गाते। वह सन्यासी तो शास्त्र आदि भी सुनाते हैं। देवताओं ने तो कुछ नहीं सुनाया है। वह तो प्रालब्ध भोगते हैं। अगले जन्म में पुरुषार्थ कर मनुष्य से देवता बने थे। तो सन्यासियों आदि कोई में भी देवताओं जैसे गुण नहीं हैं। जहाँ गुण नहीं वहाँ जरूर अवगुण हैं। सतयुग में इसी भारत में यथा राजा रानी तथा प्रजा सर्वगुण सम्पन्न थे। उनमें सभी गुण थे। उन देवताओं के ही गुण गाये जाते हैं। उस समय और धर्म थे नहीं। गुण वाले देवतायें थे सतयुग में, और अवगुण वाले मनुष्य हैं कलियुग में। अब ऐसे अवगुण वाले मनुष्य को देवता कौन बनावे। गाया भी हुआ है मनुष्य से देवता… यह महिमा तो है परमपिता परमात्मा की। हैं तो देवतायें भी मनुष्य, परन्तु उनमें गुण हैं, उनमें अवगुण हैं। गुण प्राप्त होते हैं बाप से, जिसको सतगुरू भी कहते हैं। अवगुण प्राप्त होते हैं माया रावण से। इतने गुणवान फिर अवगुणी कैसे बनते हैं। सर्वगुण सम्पन्न और फिर सर्व अवगुण सम्पन्न कौन बनाते हैं! यह तुम बच्चे जानते हो। गाते भी हैं मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। देवताओं के कितने गुण गाते हैं। इस समय तो वह गुण किसी में नहीं हैं। खान-पान आदि कितना गंदा है। देवतायें हैं वैष्णव सम्‍प्रदाय और इस समय के मनुष्य हैं रावण सम्‍प्रदाय। खान-पान कितना बदल गया है। सिर्फ ड्रेस को नहीं देखना है। देखा जाता है खान-पान और विकारीपन को। बाप खुद कहते हैं मुझे भारत में ही आना पड़ता है। ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण ब्राह्मणियों द्वारा स्थापना कराता हूँ। यह ब्राह्मणों का यज्ञ है ना। वह विकारी ब्राह्मण कुख वंशावली, यह हैं मुख वंशावली। बहुत फ़र्क है। वो साहूकार लोग जो यज्ञ रचते हैं उसमें जिस्मानी ब्राह्मण होते हैं। यह है बेहद का बाप साहूकारों से साहूकार, राजाओं का राजा। साहूकारों का साहूकार क्यों कहा जाता है? क्योंकि साहूकार भी कहते हैं हमको ईश्वर ने धन दिया है, ईश्वर अर्थ दान करते हैं तो दूसरे जन्म में धनवान बनते हैं। इस समय तुम शिवबाबा को सब कुछ तन-मन-धन अर्पण करते हो। तो कितना ऊंच पद पाते हो।

तुम श्रीमत पर इतने ऊंच कर्म सीखते हो तो तुमको जरूर फल मिलना चाहिए। तन-मन-धन अर्पण करते हो। वह भी ईश्वर अर्थ करते हैं, कोई के थ्रू। यह रिवाज़ भारत में ही है। तो बाप तुमको बहुत अच्छे कर्म सिखलाते हैं। तुम यह कर्तव्य सिर्फ भारत तो क्या, परन्तु सारी दुनिया के कल्याण अर्थ करते हो तो उसका एवजा मिलता है – मनुष्य से देवता बनने का। जो श्रीमत पर जैसा कर्म करते हैं, ऐसा फल मिलता है। हम साक्षी हो देखते रहते हैं। कौन श्रीमत पर चल मनुष्य को देवता बनाने की सेवा करते हैं। कितना जीवन परिवर्तन हो जाता है। श्रीमत पर चलने वाले ब्राह्मण ठहरे। बाप कहते हैं ब्राह्मणों द्वारा शूद्रों को बैठ राजयोग सिखलाता हूँ – 5 हजार वर्ष की बात है। भारत में ही देवी-देवताओं का राज्य था। चित्र दिखाने चाहिए। चित्रों बिगर समझेंगे पता नहीं यह कौनसा नया धर्म है, जो शायद विलायत से आता है। चित्र दिखाने से समझेंगे यह देवताओं को मानते हैं। तो समझाना है कि श्रीनारायण के अन्तिम 84 वें जन्म में परमपिता परमात्मा ने प्रवेश किया है और राजयोग सिखला रहे हैं। तो कृष्ण की बात उड़ जाती है। यह उनके 84 वें जन्म का भी अन्त है। जो सूर्यवंशी देवता थे उन सभी को आकर फिर से राजयोग सीखना है। ड्रामा अनुसार पुरुषार्थ भी जरूर करेंगे। तुम बच्चे अभी सम्मुख सुन रहे हो और बच्चे फिर इस टेप द्वारा सुनेंगे तो समझेंगे हम भी मात-पिता के साथ फिर सो देवता बन रहे हैं। इस समय 84 वें जन्म में पूरे बेगर जरूर बनना है। आत्मा बाप को सब कुछ सरेन्डर करती है। यह शरीर ही अश्व है, जो स्वाहा होता है। आत्मा खुद बोलती है हम बाप के बने हैं। दूसरा न कोई। मैं आत्मा इस जीव द्वारा परमपिता परमात्मा के डायरेक्शन अनुसार सेवा कर रहा हूँ।

बाप कहते हैं योग भी सिखाओ और सृष्टि चक्र कैसे फिरता है वह भी समझाओ। जिसने सारा चक्र पास किया होगा – वह इन बातों को झट समझेंगे। जो इस चक्र में आने वाला नहीं होगा वह ठहरेगा नहीं। ऐसे नहीं सारी सृष्टि आयेगी! इसमें भी प्रजा ढेर आयेगी। राजा रानी तो एक होता है ना। जैसे लक्ष्मी-नारायण एक गाया जाता है, राम सीता एक गाया जाता है। प्रिन्स प्रिन्सेज तो और भी होंगे। मुख्य तो एक होगा ना। तो ऐसा राजा रानी बनने के लिए बहुत मेहनत करनी है। साक्षी हो देखने से पता पड़ता है – यह साहूकार राजाई कुल का है या गरीब कुल का है। कोई माया से कैसे हारते हैं, जो भागन्ती भी हो जाते हैं। माया एकदम कच्चा खा जाती है इसलिए बाबा पूछते हैं राजी-खुशी हो? माया के थप्पड़ से बेहोश वा बीमार तो नहीं पड़ते हो! ऐसे कोई बीमार हो पड़ते हैं फिर बच्चे उनके पास जाते हैं ज्ञान-योग की संजीवनी बूटी देकर सुरजीत कर देते हैं। ज्ञान और योग में न रहने कारण माया एकदम कला-काया चट कर देती है। श्रीमत छोड़ मनमत पर चल पड़ते हैं। माया एकदम बेहोश कर देती है। वास्तव में संजीवनी बूटी यह ज्ञान की है, इससे माया की बेहोशी उतर जाती है। यह बातें सभी इस समय की हैं। सीतायें भी तुम हो। राम आकर माया रावण से तुमको छुड़ाते हैं। जैसे बच्चों को सिन्ध में छुड़ाया। रावण लोग फिर चुरा ले जाते थे। अभी तुमको फिर माया के चम्बे से सबको छुड़ाना है। बाबा को तो तरस पड़ता है, देखते हैं कैसे माया थप्पड़ लगाए बच्चों की बुद्धि ही एकदम फिरा देती है। राम से बुद्धि फेर रावण की तरफ कर देती है। जैसे एक खिलौना होता है। एक तरफ राम, एक तरफ रावण। इसको कहा जाता है आश्चर्यवत बाप का बनन्ती, फिर रावण का बनन्ती। माया बड़ी दुस्तर है। चूहे मुआफिक काट कर खाना खराब कर देती है, इसलिए श्रीमत कभी छोड़नी नहीं है। कठिन चढ़ाई है ना। अपनी मत माना रावण की मत। उस पर चले तो बहुत घुटका खायेंगे। बहुत बदनामी कराते हैं। ऐसे सभी सेन्टर्स पर हैं। नुकसान फिर भी अपना करते हैं। सर्विस करने वाले रूप-बसन्त छिपे नहीं रहते। दैवी राजधानी स्थापन हो रही है, इसमें सभी अपना-अपना पार्ट जरूर बजायेंगे। दौड़ी लगायेंगे तो अपना कल्याण करेंगे। कल्याण भी एकदम स्वर्ग का मालिक। जैसे माँ बाप तख्तनशीन होते हैं तो बच्चों को भी होना है। बाप को फालो करना है। नहीं तो अपना पद कम कर देंगे। बाबा ने यह चित्र कोई रखने लिए नहीं बनाये हैं। इनसे बहुत सर्विस करनी है। बड़े-बड़े साहूकार लोग लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर बनवाते हैं परन्तु यह किसको पता नहीं है कि यह कब आये, इन्हों ने भारत को कैसे सुखी बनाया, जो सभी उन्हों को याद करते हैं।

तुम जानते हो कि मन्दिर होना चाहिए एक दिलवाला का। यह एक ही काफी है। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर से भी क्या होगा! वह कोई कल्याणकारी नहीं हैं। शिव का मन्दिर बनाते हैं, वह भी अर्थ रहित। उनका आक्यूपेशन तो जानते ही नहीं। मन्दिर बनावे, आक्यूपेशन को न जानें तो क्या कहेंगे? जब स्वर्ग में देवतायें हैं तो मन्दिर होते नहीं। जो मन्दिर बनाते हैं, उन्हों से पूछना चाहिए लक्ष्मी-नारायण कब आये थे? उन्हों ने क्या सुख दिया था? कुछ समझा नहीं सकते। इससे सिद्ध है कि जिनमें अवगुण हैं वह गुणवान के मन्दिर बनाते हैं। तो बच्चों को बहुत सर्विस का शौक होना चाहिए। बाबा को सर्विस का बहुत शौक है तब तो ऐसे-ऐसे चित्र बनवाते हैं। भल चित्र शिवबाबा बनवाते हैं परन्तु बुद्धि दोनों की चलती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास – 28-6-68

यहाँ सभी बैठे हैं समझते हैं कि हम आत्मायें हैं, बाप बैठा है। आत्म अभिमानी हो बैठना इसको कहा जाता है। सभी ऐसे नहीं बैठे हैं कि हम आत्मा हैं बाबा के सामने बैठे हैं। अब बाबा ने याद दिलाया है तो स्मृति आयेंगी अटेन्शन देंगे। ऐसे बहुत हैं जिनकी बुद्धि बाहर भागती है। यहाँ बैठे भी जैसे कि कान बन्द हैं। बुद्धि बाहर में कहाँ न कहाँ दौड़ती रहती है। बच्चे जो बाप की याद में बैठे हैं वे कमाई कर रहे हैं। बहुतों का बुद्धि योग बाहर में रहता है, वह जैसे कि यात्रा में नहीं हैं। टाइम वेस्ट होता है। बाप को देखने से भी बाबा याद पड़ेगा। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार तो है ही। कोई कोई को पक्की आदत पड़ जाती है। हम आत्मा हैं, शरीर नहीं हैं। बाप नॉलेजफुल है तो बच्चों को भी नॉलेज आ जाती है। अभी वापिस जाना है। चक्र पूरा होता है अभी पुरुषार्थ करना है। बहुत गई थोड़ी रही……इम्तिहान के दिनों में फिर बहुत पुरुषार्थ करने लग पड़ेंगे। समझेंगे अगर हम पुरुषार्थ नहीं करेंगे तो नापास हो जायेंगे। पद भी बहुत कम हो जायेगा। बच्चों का पुरुषार्थ तो चलता ही रहता है। देह अभिमान कारण विकर्म होंगे। इसका सौ गुणा दण्ड हो जायेगा क्योंकि हमारी निन्दा कराते हैं। ऐसा कर्म नहीं करना चाहिए जो बाप का नाम बदनाम हो इसलिए गाते हैं सद्गुरु के निन्दक ठौर न पावें। ठौर माना बादशाही। पढ़ाने वाला भी बाप है। और कहाँ भी सत्संग में एम आब्जेक्ट नहीं है। यह है हमारा राजयोग। और कोई ऐसे मुख से कुछ कह न सके कि हम राजयोग सिखलाते हैं। वह तो समझते हैं शान्ति में ही सुख है? वहाँ तो न दु:ख, न सुख की बात है। शान्ति ही शान्ति है। फिर समझा जाता है इनकी तकदीर में कम है। सभी से तकदीर ऊंची उनकी है जो पहले से पार्ट बजाते हैं। वहाँ उनको यह ज्ञान नहीं रहता। वहाँ संकल्प ही नहीं चलेगा। बच्चे जानते हैं हम सभी अवतार लेते हैं। भिन्न भिन्न नाम रूप में आते हैं। यह ड्रामा है ना। हम आत्मायें शरीर धारण कर इसमें पार्ट बजाती हैं। वह सारा राज़ बाप बैठ समझाते हैं। तुम बच्चों को अन्दर में अतीन्द्रिय सुख रहता है। अन्दर में खुशी रहती है। कहेंगे यह देही-अभिमानी है। बाप समझाते भी हैं तुम स्टूडेन्ट हो। जानते हो हम देवता स्वर्ग के मालिक बनने वाले हैं। सिर्फ देवता भी नहीं। हम विश्व के मालिक बनने वाले हैं। यह अवस्था स्थाई तब रहेगी जब कर्मातीत अवस्था होगी। ड्रामा प्लैन अनुसार होनी है ज़रूर। तुम समझते हो हम ईश्वरीय परिवार में हैं। स्वर्ग की बादशाही मिलनी है ज़रूर। जो जास्ती सर्विस करते हैं, बहुतों का कल्याण करते हैं तो ज़रूर ऊंच पद मिलेगा। बाबा ने समझाया है यह योग की बैठक यहाँ हो सकती है। बाहर सेन्टर पर ऐसे नहीं हो सकती है। चार बजे आना, नेष्टा में बैठना, वहाँ कैसे हो सकता है। नहीं। सेन्टर में रहने वाले भल बैठे। बाहर वाले को भूले चुके भी कहना नहीं है। समय ऐसा नहीं है। यह यहाँ ठीक है। घर में ही बैठे हैं। वहाँ तो बाहर से आना पड़ता है। यह सिर्फ यहाँ के लिये है। बुद्धि में ज्ञान धारण होना चाहिए। हम आत्मा हैं। उनका यह अकाल तख्त है। टेव पड़ जानी चाहिए। हम भाई-भाई हैं, भाई से हम बात करते हैं। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हो जायें। अच्छा!

मीठे मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बापदादा का यादप्यार, गुडनाईट और नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार

1) ज्ञान-योग की संजीवनी बूटी से स्वयं को माया की बेहोशी से बचाते रहना है। मनमत पर कभी नहीं चलना है।

2) रूप-बसन्त बन सर्विस करनी है। मात-पिता को फालो कर तख्तनशीन बनना है।

वरदान:- दिव्य बुद्धि और रूहानी दृष्टि के वरदान द्वारा नम्बर वन लेने वाले श्रेष्ठ पुरुषार्थी भव 
हर एक ब्राह्मण बच्चे को दिव्य बुद्धि और रूहानी दृष्टि का वरदान जन्म से ही प्राप्त होता है। यह वरदान ही ब्राह्मण जीवन का फाउण्डेशन है। इन्हीं दोनों बातों के आधार पर संगमयुगी पुरुषार्थियों का नम्बर बनता है। इन्हें हर संकल्प, बोल और कर्म में जो जितना यूज़ करता है उतना ही नम्बर आगे लेता है। रूहानी दृष्टि से वृत्ति और कृति स्वत: बदल जाती है। दिव्य बुद्धि द्वारा यथार्थ निर्णय करने से स्वयं, सेवा, संबंध सम्पर्क यथार्थ शक्तिशाली बन जाता है।
स्लोगन:- फीचर्स में रूहानियत की झलक तब आयेगी जब संकल्प, बोल और कर्म में पवित्रता की धारणा होगी।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize