today murli 4 February

TODAY MURLI 4 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 February 2019 :- Click Here

04/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become introverted and think about benefiting yourselves. When you go on tour, sit in solitude and churn the ocean of knowledge. Ask yourself: Do I always remain cheerful?
Question: In which respect should you children of the Merciful Father have mercy for yourselves?
Answer: Just as the Father has mercy in wanting His children to change from thorns into flowers, and He makes so much effort to make you children beautiful, so you children, too, should feel mercy for yourselves. You call out to Baba: O Purifier, come and make us into flowers. He has now come and so will you not become flowers? If you have mercy for yourselves, you will remain soul conscious and imbibe everything the Father tells you.

Om shanti. You children understand that that One is the Father, the Teacher and also the Satguru. So the Father asks you children: When you come here, do you look at those pictures of Lakshmi and Narayan and the ladder? When you look at those two, you see your aim and objective The whole cycle of how you became deities and then continued to come down this ladder enters your intellects. Only you children receive this knowledge. You are students. Your aim and objective is in front of you. When anyone comes, explain to him that this is your aim and objective. Through this study, you become deities. Then you come down the ladder of 84 births and you then have to repeat it. This knowledge is very easy but, in spite of that, why do people fail as they move along? This Godly study is absolutely easy compared to a worldly study. Your aim and objective and the cycle of 84 births are right in front of you. Both these pictures should also be put up in the visit ors  room. You also need materials for service in order to do service. All the knowledge is included in these. We are making this effort at this time. We have to make a lot of effort to become satopradhan. You have to become introverted and churn the ocean of knowledge. When you go on tour, this is what you should have in your intellects. Baba knows that this is numberwise. Some understand this very well and so they must definitely be making effort for their own benefit. Each student understands that so-and-so is studying well. If you do not study, you cause yourself a loss. You should make yourselves worthy to some extent. You are also students of the unlimited Father. This Brahma is also studying. That Lakshmi and Narayan is the status and the ladder is the cycle of 84 births. That is the first number birth and this is the last number birth. You are becoming deities. When people come in, explain to them the pictures of your aim and objective and the ladder. Come and sit in front of these every day and you will remember this. You have it in your intellects that the unlimited Father is explaining to you. You have the full knowledge of the whole cycle and so you should remain very cheerful. Ask yourself: Why am I not able to maintain that stage? What is the reason that there is a problem in remaining cheerful? Those who create these pictures would have it in their intellects that that is their future status, that it is their aim and objective and that is the cycle of 84 births. It is remembered that this is easy Raja Yoga. Baba continues to explain to you every day: You are the children of the unlimited Father, and so you should surely claim the inheritance of heaven and, because the secrets of the whole cycle have been explained to you, you should definitely remember them. You also need good manners when speaking to people. Your behaviour has to be very good. While moving along and doing all your work, it should remain in your intellects that you have come to the Father to study. You just have to take this knowledge with you. The study is easy. If students don’t study well, their teacher would think that there are many dull children in his class, that his name will be defamed and that he won’t receive a prize. The Government will not give him anything either. This too is a school. Here, there is no question of receiving a prize etc. Nevertheless, you are inspired to make effort. You have to reform your behaviour and imbibe divine virtues and you also have to have a good character. The Father has come to benefit you, but you are unable to follow the Father’s shrimat. If you are given shrimat to go somewhere and you don’t go there, you would say: It is hot there. Or: It is cold there. You don’t recognize the fact that it is the Father who is telling you to do that. You only have this ordinary chariot in your intellects. That Father doesn’t enter your intellects at all. Everyone is very much afraid of the big kings; they have great authority. Here, the Father says: I am the Lord of the Poor. No one knows Me, the Creator, or the beginning, middle and end of creation. There are so many people. Look at what they talk about! They don’t even know who God is. It is a wonder. The Father says: I enter an ordinary body and give you the introduction of Myself and the beginning, middle and end of creation. This ladder of 84 births is so clear. The Father says: I made you into that and I am now making you that once again. You had divine intellects. So, who then made you into those with stone intellects? For half the cycle you continued to fall in the kingdom of Ravan. You now definitely have to become satopradhan from tamopradhan. Your conscience also says that the Father is the Truth. He would definitely only tell you the truth. This Brahma is studying and you are also studying. He says: I am also a student and I too pay attention to the study. I have not yet reached the accuratekarmateet stage. Who would not pay attention to such a study to claim such a high status? Everyone would say: We should definitely claim such a status. We are the children of the Father and so we should definitely be the masters. However, there is always an up and a down in studying. You have now received the very essence of knowledge. At the beginning, there was only old knowledge. Gradually, you continued to understand. You now understand that it is only now that you truly receive knowledge. The Father also says: Today, I am telling you the deepest things of all. No one can receive liberation-in-life instantly; they cannot take all the knowledge at once. Earlier, you didn’t have this picture of the ladder. You now understand that you truly go around the cycle in that way. We are spinners of the discus of self-realisation. Baba has explained to us souls the secrets of the whole cycle. The Father says: Your religion is one that gives a lot of happiness. The Father Himself comes and makes you into the masters of heaven. The time of happiness for others is now when death is just ahead. Aeroplanes, electricity etc. did not exist previously. For those people, it is as though it is heaven now. They build so many big palaces. They think that they have a lot of happiness now. They are able to go to London so quickly. They consider this to be heaven. Someone has to explain to them that the golden age is called heaven. The iron age would not be called heaven. If someone sheds his body in hell, he would certainly also take rebirth in hell. Previously, you too didn’t understand these things. You now understand them. When the kingdom of Ravan begins, we begin to fall and we then have all the vices. You have now received all the knowledge and so your behaviour etc. should be very royal. You are even more valuable now than when you are in the golden age. The Father, who is the Ocean of Knowledge, gives you all the knowledge at this time. No human being can understand knowledge and devotion. They have mixed up the two. They think that reading the scriptures is knowledge and that worshipping is devotion. So, the Father is now making so much effort to make you beautiful. You children should also feel mercy because you call out to Baba to come and make the impure ones pure and into flowers. The Father has now come and so you should have mercy for yourselves. Can we not become such flowers? Why have we not yet climbed onto Baba’s heart throne? You don’t pay attention. The Father is so merciful. You call out to the Father to come into the impure world and make you pure. Therefore, just as the Father feels mercy, so you children should also feel mercy. Otherwise, those who defame the Satguru cannot claim a high status. No one would have even dreamt about who the Satguru is. People believe that their guru might curse them and there would be a loss. When they have a child, they believe that that was due to the blessing of their guru. That is a matter of temporary happiness. The Father says: Children, now have mercy for yourselves. Become soul conscious and you will also be able to imbibe. It is souls that do everything. I am teaching you souls. Also consider yourselves to be souls. Make this firm and remember the Father too. If you don’t remember the Father, how would your sins be absolved? People on the path of devotion too remember Him: O God, have mercy! The Father is the Liberatorand also the Guide. This is also His incognito praise. The Father comes and tells you everything: You used to remember Me on the path of devotion. When I come, I definitely have to come at My own time. It is not that I can come whenever I want. I come when it is fixed in the drama for Me to come. However, I do not have such thoughts. It is that Father who is teaching you. This one is also studying with Him. That One never makes any mistakes or causes sorrow for anyone. All teachers are numberwise. That true Father is teaching you the truth. The children of the Truth are true. Then, by becoming children of the false one, you become false for half the cycle. You even forget the true Father. First of all, ask whether this is the golden-aged, new world or the old world. People would then think that you ask very good questions. At this time, there are the five vices in everyone. The five vices don’t exist there. This is something very easy to understand. However, if some of you don’t understand it, how can you explain at the exhibitions? Instead of doing service, you would come back having done disservice. To go out and do service is not like going to your aunty’s home! Great understanding is required. Baba understands from everyone’s activities. The Father is the Father and the Father would then also say: This was fixed in the drama. When anyone comes, it is fine for a Brahma Kumari to explain. The very name is Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidhyalaya. It is the name of the Brahma Kumaris that will be glorified. At this time, all are completely engrossed in the five vices. It is so difficult to go and explain to them. They don’t understand anything. They would just say that this knowledge is very good. They themselves don’t understand anything. There continues to be obstacle after obstacle. Then you also have to create those tactics. Have the police on security guard and have the pictures insured. This is a sacrificial fire and so there will definitely be obstacles here. The whole of the old world is to be sacrificed into it. Why else would it be called a sacrificial fire? Everything has to be sacrificed into the sacrificial fire. This is called the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Knowledge is also called a study. This is a pathshala (study place) and also a sacrificial fire. You study in a pathshala (study place) and become deities and then everything will be sacrificed into this sacrificial fire. Only those who continue to practi s e this every day would be able to explain. If someone doesn’t practi s e this, what would he be able to explain? For some people of the world, it is now heaven for a temporary period. For you, there will be heaven for half the cycle. This drama is predestined. When you think about it, you are amazed by it. The kingdom of Ravan is now ending and the kingdom of Rama is being established. There is no question of a battle in this. When people see a picture of this ladder, they are very amazed at what the Father has explained to you. This Brahma has also learnt from the Father and so he continues to explain to others. Daughters also explain. Those who benefit many others will definitely receive more fruit. Those who haven’t studied will have to bow down in front of those who have studied. The Father tells you every day: Benefit yourselves. When you keep these pictures in front of you, you become intoxicated. This is why Baba has had these pictures put up in the rooms. The aim and objective is so easy. A very good character is needed for this. When your heart is clean, your desires can be fulfilled. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always have the awareness that you are students of the unlimited Father, that God is teaching you and that you therefore have to study well and glorify the Father’s name. Let your behaviour be very royal.
  2. Become merciful like the Father and make yourself into flowers from thorns and others into flowers. Become introverted and think about benefiting yourself and others.
Blessing: May you make the poisonous snake of the vices a garland around your neck and become an image of tapasya like Shankar.
The five vices are a poisonous snake for people, but the snake becomes a garland around the neck of you yogi souls who experiment with yoga. The memorial of you Brahmins and Father Brahma in the form of the bodiless, tapaswi form of Shankar is worshipped even today. Secondly, this snake becomes a stage for you to dance on in happiness. This spiritual stage is shown in the form of a physical stage. So, when you gain such victory over the vices you will then be said to be a soul who experiments with yoga and is an image of tapasya.
Slogan: Those who have a sweet and peaceful nature cannot be attacked by the evil spirit of anger.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 February 2019

To Read Murli 3 February 2019 :- Click Here
04-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अन्तर्मुखी हो अपने कल्याण का ख्याल करो, घूमने-फिरने जाते हो तो एकान्त में विचार सागर मंथन करो, अपने से पूछो – हम सदा हर्षित रहते हैं”
प्रश्नः- रहमदिल बाप के बच्चों को अपने पर कौन-सा रहम करना चाहिए?
उत्तर:- जैसे बाप को रहम पड़ता है कि मेरे बच्चे कांटे से फूल बनें, बाप बच्चों को गुल-गुल बनाने की कितनी मेहनत करते हैं तो बच्चों को भी अपने ऊपर तरस आना चाहिए कि हम बाबा को बुलाते हैं – हे पतित-पावन आओ, फूल बनाओ, अब वह आये हैं तो क्या हम फूल नहीं बनेंगे! रहम पड़े तो देही-अभिमानी रहें। बाप जो सुनाते हैं उसको धारण करें।

ओम् शान्ति। यह तो बच्चे समझते हैं – यह बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। तो बाप बच्चों से पूछते हैं कि तुम यहाँ जब आते हो तो इन लक्ष्मी-नारायण के और सीढ़ी के चित्र को देखते हो? जब दोनों को देखा जाता है तो एम ऑब्जेक्ट और सारा चक्र बुद्धि में आ जाता है कि हम देवता बनकर फिर ऐसे सीढ़ी उतरते आये हैं। यह ज्ञान तुम बच्चों को ही मिलता है। तुम हो स्टूडेन्ट। एम ऑब्जेक्ट सामने खड़ा है। कोई भी आये तो उनको समझाओ – यह एम ऑब्जेक्ट है। इस पढ़ाई से यह देवी-देवता जाकर बनते हैं। फिर 84 जन्म की सीढ़ी उतरते हैं, फिर रिपीट करना है। बहुत इज़ी नॉलेज है फिर भी पढ़ते-पढ़ते नापास क्यों हो पड़ते हैं? उस जिस्मानी पढ़ाई से भी यह ईश्वरीय पढ़ाई बिल्कुल सहज है। एम ऑब्जेक्ट और 84 जन्मों का चक्र बिल्कुल सामने खड़ा है। यह दोनों चित्र विजिटिंग रूम में भी होने चाहिए। सर्विस करने के लिए सर्विस का हथियार भी चाहिए। सारा ज्ञान इसमें ही है। यह पुरुषार्थ भी हम अभी करते हैं। सतोप्रधान बनने के लिए बहुत मेहनत करनी है। इसमें अन्तर्मुखी हो विचार सागर मंथन करना है। घूमने-फिरने जाते हो तो भी बुद्धि में यही होना चाहिए। यह तो बाबा जानते हैं कि नम्बरवार हैं। कोई अच्छी तरह समझते हैं तो जरूर पुरूषार्थ करते होंगे, अपने कल्याण के लिए। हर एक स्टूडेन्ट समझते हैं यह अच्छा पढ़ते हैं। खुद नहीं पढ़ते हैं तो अपने को ही घाटा डालते हैं। अपने को तो कुछ लायक बनाना चाहिए। तुम भी स्टूडेन्ट हो, सो भी बेहद बाप के! यह ब्रह्मा भी पढ़ते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण है मर्तबा और सीढ़ी है 84 जन्मों के चक्र की। यह पहले नम्बर का जन्म, यह लास्ट नम्बर का जन्म। तुम देवता बनते हो। अन्दर आने से ही सामने एम ऑब्जेक्ट और सीढ़ी पर समझाओ। रोज़ आकर इनके सामने बैठो तो स्मृति आये। तुम्हारी बुद्धि में है कि बेहद का बाप हमको समझा रहे हैं। सारे चक्र का ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में भरपूर है तो कितना हर्षित रहना चाहिए। अपने से पूछना चाहिए कि हमारी वह अवस्था क्यों नहीं रहती? क्या कारण है जो हर्षित रहने में रोला पड़ता है? जो चित्र बनाते हैं उन्हों की बुद्धि में भी होगा कि यह हमारा भविष्य पद है, यह हमारी एम ऑब्जेक्ट है और यह 84 का चक्र है। गायन भी है सहज राजयोग। सो तो बाबा रोज़ समझाते रहते हैं कि तुम बेहद बाप के बच्चे हो तो स्वर्ग का वर्सा जरूर लेना चाहिए और सारे चक्र का भी राज़ समझाया है तो जरूर वह याद करना पड़े और फिर बातचीत करने के मैनर्स भी अच्छे चाहिए। चलन बहुत अच्छी चाहिए। चलते-फिरते काम-काज करते बुद्धि में सिर्फ यही रहे कि हम बाप के पास पढ़ने के लिए आये हैं। यह ज्ञान ही तुमको साथ ले जाना है। पढ़ाई तो सहज है। परन्तु अगर पूरी रीति नहीं पढ़ेंगे तो टीचर को जरूर यह ख्याल रहेगा कि अगर क्लास में बहुत डल बच्चे होंगे तो हमारा नाम बदनाम होगा। इज़ाफा नहीं मिलेगा। गवर्मेन्ट कुछ नहीं देगी। यह भी स्कूल है ना। इसमें इज़ाफा आदि की बात नहीं। फिर भी पुरुषार्थ तो कराया जाता है ना। चलन को सुधारो, दैवीगुण धारण करो। कैरेक्टर अच्छे चाहिए। बाप तो तुम्हारे कल्याण के लिए आये हैं। परन्तु बाप की श्रीमत पर चल नहीं सकते। श्रीमत कहे यहाँ जाओ तो जायेंगे नहीं। कहेंगे यहाँ गर्मी है, यहाँ ठण्डी है। बाप को पहचानते नहीं कि कौन हमको कहते हैं? यह साधारण रथ ही बुद्धि में आता है। वह बाप बुद्धि में आता ही नहीं है। बड़े राजाओं का कितना सबको डर रहता है। बड़ी अथॉरिटी होती है। यहाँ तो बाप कहते हैं मैं गरीब निवाज़ हूँ। मुझ रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को कोई नहीं जानते हैं। कितने ढेर मनुष्य हैं। कैसी-कैसी बातें करते हैं, क्या-क्या बोलते हैं। भगवान् क्या चीज़ होती है, यह भी जानते नहीं। वन्डर है ना। बाप कहते हैं मैं साधारण तन में आकर अपना और रचना के आदि-मध्य-अन्त का परिचय देता हूँ। 84 की यह सीढ़ी कितनी क्लीयर है।

बाप कहते हैं मैंने तुमको यह बनाया था, अब फिर बना रहा हूँ। तुम पारसबुद्धि थे फिर तुमको पत्थरबुद्धि किसने बनाया? आधाकल्प रावण राज्य में तुम गिरते ही आते हो। अब तुमको तमोप्रधान से सतोप्रधान जरूर बनना है। विवेक भी कहता है बाप है ही सत्य। वह जरूर सत्य ही बतायेंगे। यह ब्रह्मा भी पढ़ते हैं, तुम भी पढ़ते हो। यह कहते हैं मैं भी स्टूडेन्ट हूँ। पढ़ाई पर अटेन्शन देता हूँ। एक्यूरेट कर्मातीत अवस्था तो अभी बनी नहीं है। ऐसा कौन होगा जो इतना ऊंच पद पाने के लिए पढ़ाई पर ध्यान नहीं देगा। सब कहेंगे ऐसा पद तो जरूर पाना चाहिए। बाप के हम बच्चे हैं तो जरूर मालिक होने चाहिए। बाकी पढ़ाई में उतराई-चढ़ाई तो होती ही है। अब तुमको एकदम ज्ञान का तन्त (सार) मिला है। शुरू में तो पुराना ही ज्ञान था। धीरे-धीरे तुम समझते ही आये हो। अभी समझते हैं ज्ञान तो सचमुच अभी हमको मिलता है। बाप भी कहते हैं आज मैं तुमको गुह्य-गुह्य बातें सुनाता हूँ। फट से तो कोई जीवनमुक्ति पा नहीं सकता। सारा ज्ञान उठा नहीं सकता। पहले यह सीढ़ी का चित्र थोड़ेही था। अब समझते हैं बरोबर हम ऐसे चक्र लगाते हैं। हम ही स्वदर्शन चक्रधारी हैं। बाबा ने हम आत्माओं को सारे चक्र का राज़ समझा दिया है। बाप कहते हैं तुम्हारा धर्म बहुत सुख देने वाला है। बाप ही आकर तुमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। औरों के सुख का टाइम तो अभी आया है, जबकि मौत सामने खड़ा है। यह एरोप्लेन, बिजलियाँ आदि पहले नहीं थी। उन्हों के लिए तो अभी जैसे स्वर्ग है। कितने बड़े-बड़े महल बनाते हैं। समझते हैं अभी तो हमको बहुत सुख है। लन्दन में कितना जल्दी पहुँच जाते हैं। बस, यही स्वर्ग समझते हैं। अब उन्हों को जब कोई समझाये कि स्वर्ग तो सतयुग को कहा जाता है, कलियुग को थोड़ेही स्वर्ग कहेंगे। नर्क में शरीर छोड़ा तो जरूर पुनर्जन्म भी नर्क में ही लेंगे। आगे तुम भी यह बातें नहीं समझते थे। अब समझते हो। रावण राज्य आता है तो हम गिरने लग जाते हैं, सब विकार आ जाते हैं। अभी तुमको सारा ज्ञान मिला है तो चलन आदि भी बहुत रॉयल होनी चाहिए। अभी तुम सतयुग से भी जास्ती वैल्युबुल हो। बाप जो ज्ञान का सागर है वह सारा ज्ञान अभी देते हैं। और कोई भी मनुष्य ज्ञान और भक्ति को समझ न सकें। मिक्स कर दिया है। समझते हैं शास्त्र पढ़ना – यह ज्ञान है और पूजा करना भक्ति है। तो अब बाप गुल-गुल बनाने के लिए कितनी मेहनत करते हैं। बच्चों को भी तरस आना चाहिए कि हम बाबा को बुलाते हैं पतितों को आकर पावन बनाओ, फूल बनाओ। अब बाप आये हैं तो अपने पर भी रहम करना चाहिए। क्या हम ऐसे फूल नहीं बन सकते! अब तक हम बाबा के दिल तख्त पर क्यों नहीं चढ़े हैं! अटेन्शन नहीं देते। बाप कितना रहम दिल है। बाप को बुलाते ही हैं पतित दुनिया में कि आकर पावन बनाओ। तो जैसे बाप को रहम पड़ता है, ऐसे बच्चों को भी रहम पड़ना चाहिए। नहीं तो सतगुरू के निदंक ठौर न पायें। यह तो किसको स्वप्न में भी नहीं होगा कि सतगुरू कौन? लोग गुरूओं के लिए समझ लेते हैं कि कहाँ श्राप न दे देवें, अकृपा न हो जाए। बच्चा पैदा हुआ, समझेंगे गुरू की कृपा हुई। यह है अल्पकाल के सुख की बात। बाप कहते हैं – बच्चे, अपने पर रहम करो। देही-अभिमानी बनो तो धारणा भी होगी। सब-कुछ आत्मा ही करती है। मैं भी आत्मा को पढ़ाता हूँ। अपने को आत्मा पक्का समझो और बाप को याद करो। बाप को याद ही नहीं करेंगे तो विकर्म विनाश कैसे होंगे। भक्ति मार्ग में भी याद करते हैं – हे भगवान् रहम करो। बाप लिबरेटर भी है तो गाइड भी है…… यह भी उनकी गुप्त महिमा है, बाप आकर सब बतलाते हैं कि भक्ति मार्ग में तुम याद करते हो। मैं आऊंगा तो जरूर अपने समय पर। ऐसे जब चाहूँ तब आऊं, यह नहीं। ड्रामा में जब नूँध है तब आता हूँ। बाकी ऐसे ख्यालात भी कभी नहीं आते हैं। तुमको पढ़ाने वाला वह बाप है। यह भी उनसे पढ़ते हैं। वह तो कभी भी कोई ख़ता (भूल) नहीं करते, किसको रंज नहीं करते। बाकी सब नम्बरवार टीचर हैं। वह सच्चा बाप तुमको सत्य ही सिखलाते हैं। सच्चे के बच्चे भी सच्चे। फिर झूठे के बच्चे बनने से आधाकल्प झूठे बन पड़ते हैं। सच्चे बाप को ही भूल जाते हैं।

पहले-पहले तो समझाओ कि यह सतयुगी नई दुनिया है या पुरानी दुनिया है? तो मनुष्य समझें यह प्रश्न बहुत अच्छा पूछते हैं। इस समय सभी में 5 विकार प्रवेश हैं। वहाँ 5 विकार होते नहीं। यह है तो बहुत सहज बात समझने की, परन्तु जो खुद ही नहीं समझते तो वह प्रदर्शनी में क्या समझायेंगे? सर्विस के बदले डिस सर्विस करके आयेंगे। बाहर में जाकर सर्विस करना मासी का घर नहीं है। बड़ी समझ चाहिए। बाबा हरेक की चलन से समझ जाते हैं। बाप तो बाप है फिर तो बाप भी कहेंगे यही ड्रामा में था। कोई भी आता है तो ब्रह्माकुमारी का समझाना ठीक है। नाम भी ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय है। नाम बाला भी ब्रह्माकुमारियों का होना है। इस समय सब 5 विकारों में हिरे हुए हैं। उन्हों को जाकर समझाना कितना मुश्किल होता है। कुछ भी समझते नहीं हैं सिर्फ इतना कहेंगे ज्ञान तो अच्छा है। खुद समझते नहीं हैं। विघ्न के पीछे विघ्न पड़ता रहता है। फिर युक्तियां भी रचनी पड़ती हैं। पुलिस का पहरा रखो, चित्र इनश्योर करा दो। यह यज्ञ है इसमें विघ्न जरूर पड़ेंगे। सारी पुरानी दुनिया इनमें स्वाहा होनी है। नहीं तो यज्ञ नाम क्यों पड़े। यज्ञ में स्वाहा होना है। इसका रूद्र ज्ञान यज्ञ नाम पड़ा है। ज्ञान को पढ़ाई भी कहा जाता है। यह पाठशाला भी है तो यज्ञ भी है। तुम पाठशाला में पढ़कर देवता बनते हो फिर यह सब-कुछ इस यज्ञ में स्वाहा हो जाता है। समझा वही सकेंगे जो रोज़ प्रैक्टिस करते रहेंगे। अगर प्रैक्टिस नहीं होगी तो वह क्या बात कर सकेंगे। दुनिया के मनुष्यों के लिए स्वर्ग अभी है, अल्पकाल के लिए। तुम्हारे लिए स्वर्ग आधाकल्प के लिए होगा। यह भी ड्रामा बना हुआ है। विचार किया जाता है तो बड़ा वन्डर लगता है। अब रावण राज्य ख़त्म हो रामराज्य स्थापन होता है। इसमें लड़ाई आदि की कोई भी बात नहीं। यह सीढ़ी देख लोग बड़ा वन्डर खाते हैं। तो बाप ने क्या-क्या समझाया है, यह ब्रह्मा भी बाप से ही सीखा है जो समझाते रहते हैं। बच्चियां भी समझाती हैं। जो बहुतों का कल्याण करते हैं उन्हों को जरूर जास्ती फल मिलेगा। पढ़े हुए के आगे अनपढ़े जरूर भरी ढोयेंगे। बाप रोज़-रोज़ समझाते हैं – अपना कल्याण करो। इन चित्रों को सामने रखने से ही नशा चढ़ जाता है इसलिए बाबा ने कमरे में यह चित्र रख दिये हैं। एम ऑब्जेक्ट कितनी सहज है, इसमें कैरेक्टर्स बहुत अच्छे चाहिए। दिल साफ तो मुराद हांसिल हो सकती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा स्मृति में रखना है कि हम बेहद बाप के स्टूडेन्ट हैं, भगवान् हमें पढ़ाते हैं, इसलिए अच्छी तरह पढ़कर बाप का नाम बाला करना है। अपनी चलन बड़ी रॉयल रखनी है।

2) बाप समान रहमदिल बन कांटे से फूल बनना और दूसरों को फूल बनाना है। अन्तर्मुखी बन अपने वा दूसरों के कल्याण का चिन्तन करना है।

वरदान:- विकारों रूपी जहरीले सांपों को गले की माला बनाने वाले शंकर समान तपस्वीमूर्त भव
यह पांच विकार जो लोगों के लिए जहरीले सांप हैं, यह सांप आप योगी वा प्रयोगी आत्मा के गले की माला बन जाते हैं। यह आप ब्राह्मणों वा ब्रह्मा बाप के अशरीरी तपस्वी शंकर स्वरूप का यादगार आज तक भी पूजा जाता है। दूसरा – यह सांप खुशी में नांचने की स्टेज बन जाते हैं – यह स्थिति स्टेज के रूप में दिखाते हैं। तो जब विकारों पर ऐसी विजय हो तब कहेंगे तपस्वीमूर्त, प्रयोगी आत्मा।
स्लोगन:- जिनका स्वभाव मीठा, शान्तचित है उस पर क्रोध का भूत वार नहीं कर सकता।

BRAHMA KUMARIS MURLI 4 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 February 2018

To Read Murli 3 February 2018 :- Click Here
04-02-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 27-04-83 मधुबन

दृष्टि-वृत्ति परिवर्तन करने की युक्तियाँ

आज बापदादा सर्व पुरूषार्थियों का संगठन देख रहे हैं। इसी पुरूषार्थी शब्द में सारा ज्ञान समाया हुआ है। पुरूषार्थी अर्थात् पुरूष प्लस रथी। किसका रथी है? किसका पुरूष है? इस प्रकृति का मालिक अर्थात् रथ का रथी। एक ही शब्द के अर्थ स्वरूप में स्थित हो जाओ तो क्या होगा? सर्व कमजोरियों से सहज पार हो जायेंगे। पुरूष प्रकृति के अधिकारी हैं न कि अधीन हैं। रथी रथ को चलाने वाला है, न कि रथ के अधीन हो चलने वाला। अधिकारी सदा सर्वशक्तिवान बाप की सर्वशक्तियों के अधिकारी अर्थात् वर्से के अधिकारी वा हकदार हैं। सर्वशक्तियाँ बाप की प्रापर्टी हैं और प्रापर्टी का अधिकारी हरेक बच्चा है। यह सर्व शक्तियों का राज्य भाग्य बापदादा सभी को जन्म-सिद्ध अधिकार के रूप में देते हैं। जन्मते ही यह स्वराज्य सर्व शक्तियों का, अधिकारी स्वरूप के स्मृति का तिलक और बाप के स्नेह में समाये हुए स्वरूप के रूप में दिलतख्त, सभी को जन्म लेते ही दिया है। जन्मते ही विश्व कल्याण के सेवा का ताज हर बच्चे को दिया है। तो जन्म के अधिकार का तख्त, तिलक, ताज और राज्य सबको प्राप्त है ना! ऐसे चारों ही प्राप्तियों की प्राप्ति स्वरूप आत्मायें कमजोर हो सकती हैं? क्या यह चार प्राप्तियाँ सम्भाल नहीं सकते हैं? कभी तिलक मिट जाता, कभी तख्त छूट जाता, कभी ताज के बदले बोझ उठा लेते। व्यर्थ कखपन की टोकरी उठा लेते। नाम स्वराज्य है लेकिन स्वयं ही राजा के बदले अधीन प्रजा बन जाते। ऐसा खेल क्यों करते हो? अगर ऐसा ही खेल करते रहेंगे तो सदा के राज्य भाग्य के अधिकार के संस्कार अविनाशी कब बनेंगे? अगर इसी खेल में चलते रहे तो प्राप्ति क्या होगी! जो अपने आदि संस्कार अविनाशी नहीं बना सकते वह आदिकाल के राज्य अधिकारी कैसे बनेंगे। अगर बहुतकाल के योद्धेपन के ही संस्कार रहे अर्थात् युद्ध करते-करते समय बिताया, आज जीत कल हार। अभी-अभी जीत अभी-अभी हार। सदा के विजयीपन के संस्कार नहीं तो इसको क्षत्रिय कहा जायेगा वा ब्राह्मण? ब्राह्मण सो देवता बनते हैं। क्षत्रिय तो फिर क्षत्रिय ही जाकर बनेगा। देवता की निशानी और क्षत्रिय की निशानी में देखो अन्तर है। यादगार चित्रों में उनको कमान दिखाया है, उनको मुरली दिखाई है। मुरली वाले अर्थात् मास्टर मुरलीधर बन विकारों रूपी सांप को विषैले बनने के बजाए विष समाप्त कर शैया बना दी। कहाँ विष वाला सांप और कहाँ शैया! इतना परिवर्तन किससे किया? मुरली से। ऐसे परिवर्तन करने वाले को ही विजयी ब्राह्मण कहा जाता है। तो अपने से पूछो मै कौन?

सभी ने अपनी-अपनी कमज़ोरियों को सच्चाई से स्पष्ट किया है। उस सच्चाई की मार्क्स तो मिल जायेंगी लेकिन बापदादा देख रहे थे कि अभी तक जबकि अपने संस्कारों को परिवर्तन करने की शक्ति नहीं आई है, विश्व परिवर्तक कब बनेंगे? अभी दृष्टि परिवर्तन, वृत्ति परिवर्तन यह अविनाशी कब तक बनेंगे! आप दृष्टा हो, दृष्टि द्वारा देखने वाले दृष्टा, दृष्टि क्यों विचलित करते? दिव्य नेत्र से देखते हो वा इस चमड़ी के नेत्रों से देखते हो? दिव्य नेत्र से सदा स्वत: ही दिव्य स्वरूप ही दिखाई देगा। चमड़े की आखें चमड़े को देखती। चमड़ी को देखना, चमड़ी का सोचना यह किसका काम है! फरिश्तों का? ब्राह्मणों का? स्वराज्य अधिकारियों का? तो ब्राह्मण हो या कौन हो? नाम बोलें क्या?

सदैव हरेक नारी शरीरधारी आत्मा को शक्ति रूप, जगत माता का रूप, देवी का रूप देखना – यह है दिव्य नेत्र से देखना। कुमारी है, माता है, बहन है, सेवाधारी निमित्त शिक्षक है, लेकिन है कौन? शक्ति रूप। बहन भाई के सम्बन्ध में भी कभी-कभी वृत्ति और दृष्टि चंचल हो जाती है इसलिए सदा शक्ति रूप हैं, शिव शक्ति हैं। शक्ति के आगे अगर कोई आसुरी वृत्ति से आते तो उनका क्या हाल होता है, वह तो जानते हो ना। हमारी टीचर नहीं शिव शक्ति है। ईश्वरीय बहन है, इससे भी ऊपर शिव शक्ति रूप देखो। मातायें वा बहनें भी सदा अपने शिव शक्ति स्वरूप में स्थित रहें। मेरा विशेष भाई, विशेष स्टूडेन्ट नहीं। वह शिव शक्ति है और आप महावीर हो। लंका को जलाने वाले पहले स्वयं के अन्दर रावण वंश को जलाना है। महावीर की विशेषता क्या दिखाते हैं? वह सदा दिल में क्या दिखाता है? एक राम दूसरा न कोई। चित्र देखा है ना। तो हर भाई महावीर है, हर बहन शक्ति है। महावीर भी राम का है, शक्ति भी शिव की है। किसी भी देहधारी को देख सदा मस्तक के तरफ आत्मा को देखो। बात आत्मा से करनी है वा शरीर से? कार्य व्यवहार में आत्मा कार्य करता है वा शरीर? सदा हर सेकेण्ड शरीर में आत्मा को देखो। नज़र ही मस्तक मणी पर जानी चाहिए। तो क्या होगा? आत्मा, आत्मा को देखते स्वत: ही आत्म-अभिमानी बन जायेंगे। है तो यह पहला पाठ ना! पहला पाठ ही पक्का नहीं करेंगे, अल्फ को पक्का नहीं करेंगे तो बे की बादशाही कैसे मिलेगी। सिर्फ एक बात की सदा सावधानी रखो। जो भी करना है श्रेष्ठ कर्म वा श्रेष्ठ बनना है। तो हर बात में दृढ़ संकल्प वाले बनो। कुछ भी सहन करना पड़े, सामना करना पड़े लेकिन श्रेष्ठ कर्म वा श्रेष्ठ परिवर्तन करना ही है। इसमें पुरूषार्थी शब्द को अलबेले रूप में यूज़ नहीं करो। पुरूषार्थी हैं, चल रहे हैं, कर रहे हैं, करना तो है, यह अलबेलेपन की भाषा है। उसी घड़ी पुरूषार्थी शब्द को अलबेले रूप में यूज़ नहीं करो। पुरूषार्थी हैं, चल रहे हैं, कर रहे हैं, करना तो है, यह अलबेलेपन की भाषा है। उसी घड़ी पुरूषार्थी शब्द के अर्थ स्वरूप में स्थित हो जाओ। पुरूष हूँ, प्रकृति धोखा दे नहीं सकती। यह सब प्रकार की कमजोरियाँ अलबेलेपन की निशानियां हैं। महावीर तो पहाड़ को भी सेकेण्ड में हथेली पर रख उड़ने वाला है अर्थात् पहाड़ को भी पानी के समान हल्का बनाने वाला है। छोटी-छोटी परिस्थितियाँ क्या बात हैं! फिर तो ऐसे महावीर को कहेंगे चींटी से घबराने वाले। क्या करें, हो जाता है। यह महावीर के बोल हैं? समझदार यह नहीं कहेंगे कि क्या करें चोर आ जाता है। समझदार बार-बार धोखा नहीं खाते। अलबेले बार-बार धोखा खाते हैं। सेफ्टी के साधन होते हुए अगर कार्य में नहीं लगाते तो उसको क्या कहेंगे? जानता हूँ कि नहीं होना चाहिए लेकिन हो रहा है, इसको कौन सी समझदारी कहेंगे!

दृढ़ संकल्प वाले बनो। परिवर्तन करना ही है, कल भी नहीं, आज। आज भी नहीं अभी। इसको कहा जाता है महावीर। राम के आज्ञाकारी। आज तो मिलने का दिन था फिर भी बच्चों ने मेहनत की है तो मेहनत का फल रेसपान्ड देना पड़ा। लेकिन इन कमजोरियों को साथ ले जाना है? दी हुई चीज़ फिर वापिस तो नहीं लेनी है ना! जबरदस्ती आ जावे तो भी आने नहीं देना। दुश्मन को आने दिया जाता है क्या? अटेन्शन, चेकिंग यह डबल लाक, याद और सेवा – यह दूसरा डबल लाक सबके पास है ना। तो सदा यह डबल लाक लगा रहे। दोनों तरफ लाक लगाना। समझा! एक तरफ नहीं लगाना। खातिरी तो स्थूल सूक्ष्म बहुत हुई है। डबल खातिरी हुई है ना। जैसे दीदी दादी वा निमित्त बनी हुई आत्माओं ने दिल से खातिरी की है तो उसके रिटर्न में सब दीदी दादी को खातिरी देकर जाना कि हम अभी से सदा के विजयी रहेंगे। सिर्फ मुख से नहीं बोलना, मन से बोलना। फिर एक मास के बाद इन फोटो वालों को देखेंगे कि क्या कर रहे हैं। किससे भी छिपाओ लेकिन बाप से तो छिपा नहीं सकेंगे। अच्छा!

सदा दृढ़ सकंल्प द्वारा सोचा और किया दोनों को समान बनाने वाले, सदा दिव्य नेत्र द्वारा आत्मिक रूप को देखने वाले, जहाँ देखें वहाँ आत्मा ही आत्मा देखें, ऐसे अर्थ स्वरूप पुरूषार्थी आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

अव्यक्त महावाक्य

बाप समान निराकारी, निरहंकारी और निर्विकारी बनो

ब्रह्मा बाप के लास्ट यह तीनों शब्द याद रखो – निराकारी, निरहंकारी और निर्विकारी। संकल्प में सदा निराकारी, सर्व से न्यारे और बाप के प्यारे, वाणी में सदा निरंहकारी अर्थात् सदा रुहानी मधुरता और निर्माणता सम्पन्न और कर्म में हर कर्मेन्द्रिय द्वारा निर्विकारी अर्थात् प्युरिटी की पर्सनैलिटी वाले बनो। अभ्यास करो – मैं निराकार आत्मा साकार आधार से बोल रहा हूँ। साकार में भी निराकार स्थिति स्मृति में रहे – इसको कहते हैं निराकार सो साकार द्वारा वाणी व कर्म में आना। असली स्वरूप निराकार है, साकार आधार है। यह डबल स्मृति ”निराकार सो साकार” शक्तिशाली स्थिति है।

अपने निराकारी वास्तविक स्वरूप को स्मृति में रखो तो उस स्वरूप के असली गुण शक्तियाँ स्वत: ही इमर्ज होंगे। संगमयुग पर निराकार बाप समान कर्मातीत, निराकारी स्थिति का अनुभव करो फिर भविष्य 21 जन्म ब्रह्मा बाप समान सर्वगुण सम्पन्न, सम्पूर्ण निर्विकारी श्रेष्ठ जीवन का समान अनुभव करते रहेंगे। ”बालक सो मालिक हूँ” – यह स्मृति सदा निरहंकारी, निराकारी स्थिति का अनुभव कराती है। बालक बनना अर्थात् हद के जीवन का परिवर्तन होना। जब ब्राह्मण बने तो ब्राह्मणपन की जीवन का पहला सहज ते सहज पाठ पढ़ा – बच्चों ने कहा ”बाबा” और बाप ने कहा ”बच्चा अर्थात् बालक”। इस एक शब्द का पाठ नॉलेजफुल बना देता है।

सेवा में निमित्त भाव ही सेवा की सफलता का आधार है। निराकारी, निर्विकारी और निरहंकारी – यह तीनों विशेषतायें निमित्त भाव से स्वत: ही आती हैं। निमित्त भाव नहीं तो अनेक प्रकार का मैं-पन, मेरा-पन सेवा को ढीला कर देता है इसलिए न मैं न मेरा। एक शब्द याद रखना कि मैं निमित्त हूँ। निमित्त बनने से ही निराकारी, निरंहकारी और नम्रचित, नि:संकल्प अवस्था में रह सकते हैं। जैसे निमित्त बनने से निराकारी, निरंहकारी, निरसंकल्प स्थिति होती है वैसे ही मैं मैं आने से मगरूरी, मुरझाइस, मायूसी आती है। उसकी फिर अन्त में यही रिजल्ट होती है कि चलते-चलते जीते हुए भी मर जाते हैं इसलिए इस मुख्य शिक्षा को हमेशा साथ रखना कि मैं निमित्त हूँ। निमित्त बनने से कोई भी अंहकार उत्पन्न नहीं होगा। मतभेद के चक्र में भी नहीं आयेंगे।

जितना निराकारी अवस्था में होंगे उतना निर्भय होंगे क्योंकि भय शरीर के भान में होता है। तो निर्भयता के गुण को धारण करने के लिए निराकारी बनो। जितना निराकारी और न्यारी स्थिति में रहेंगे उतना योग में बिन्दु रूप स्थिति का अनुभव करेंगे और चलते-फिरते अव्यक्त स्थिति में रहेंगे। जैसे स्थूल शरीर के हाथ-पांव डायरेक्शन प्रमाण चलते रहते हैं वैसे एक सेकेण्ड में साकारी से निराकारी अर्थात् अपने असली निराकारी स्वरूप में स्थित होने का अभ्यास करो तो अहंकार नहीं आयेगा। अहंकार अलंकारहीन बना देता है। जो निरहंकारी और निराकारी फिर अलंकारी स्थिति में स्थित रहते हैं वह सर्व आत्माओं के कल्याणकारी बन सकते हैं और जो सर्व के कल्याणकारी बनते हैं वही विश्व के राज्य अधिकारी बनते हैं।

साक्षात्कारमूर्त तब बनेंगे जब आकार में होते निराकारी अवस्था में होंगे। जैसे अनेक जन्म अपने देह के स्वरूप की स्मृति नेचुरल रही है वैसे ही अपने असली स्वरूप की स्मृति का अनुभव भी बहुतकाल का चाहिए। जब यह पहला पाठ कम्पलीट हो, आत्म-अभिमानी स्थिति में रहो तब सर्व आत्माओं को साक्षात्कार कराने के निमित्त बनेंगे। एक है निराकारी सोल कान्सेस वा आत्म-अभिमानी बनने का निशाना और दूसरी है निर्विकारी स्टेज जिसमें मन्सा की भी निर्विकारी-पन की स्टेज बनानी पड़ती है। जैसे सारा दिन योगी और पवित्र बनने का पुरुषार्थ करते हो ऐसे निर्विकारी और निराकारीपन का निशाना सामने हो तब फरिश्ता वा कर्मातीत स्टेज बनेंगी। फिर कोई भी इमप्युरिटी अर्थात् पांच तत्वों की आकर्षण आकर्षित नहीं करेगी। अभी-अभी आर्डर हो अपने सम्पूर्ण निराकारी, निरहंकारी, निर्विकारी स्टेज पर स्थित हो जाओ। तेरा, मेरा, मान-शान का जरा भी अंश न हो। अंश भी हुआ तो वंश आ जायेगा इसलिए संकल्प में भी कोई विकार का अंश ना हो तब यह तीनों स्टेज आयेंगी फिर उस प्रभाव से जो वारिस वा प्रजा निकलनी होगी वह फटाफट निकलेगी, क्वीक सर्विस दिखाई देगी।

अब अपने निराकारी घर जाना है तो जैसा देश वैसा अपना वेष बनाना है। तो अब विशेष पुरुषार्थ यही होना चाहिए कि वापिस जाना है और सबको ले जाना है। इस स्मृति से स्वत: ही सर्व-सम्बन्ध, सर्व प्रकृति के आकर्षण से उपराम अर्थात् साक्षी बन जायेंगे। साक्षी बनने से सहज ही बाप के साथी, बाप-समान बन जायेंगे। बीच-बीच में समय निकालकर इस देहभान से न्यारे निराकारी आत्मा स्वरूप में स्थित होने का अभ्यास करो, कोई भी कार्य करो, कार्य करते भी यह अभ्यास करो कि मैं निराकार आत्मा इस साकार कर्मेन्द्रियों के आधार से कर्म करा रही हूँ। निराकारी स्थिति करावनहार स्थिति है, कर्मेन्द्रियां करनहार हैं, आत्मा करावनहार है। तो निराकारी आत्म स्थिति से निराकारी बाप स्वत: याद आयेगा। सारे दिन में जितना बार मैं शब्द बोलो तो याद करो कि मैं निराकार आत्मा साकार में प्रवेश किया है। जब निराकार स्थिति याद होगी तो निरहंकारी स्वत: हो जायेंगे, देह-भान खत्म हो जायेगा। आत्मा याद आने से निराकारी स्थिति पक्की हो जायेगी। निराकारी, निरहंकारी और निर्विकारी भव का वरदान जो वरदाता द्वारा प्राप्त हो चुका है, अब इस वरदान को साकार रुप में लाओ! अर्थात् स्वयं को ज्ञान-मूर्त, याद-मूर्त और साक्षात्कार-मूर्त बनाओ। जो भी सामने आये, उसे मस्तक द्वारा मस्तक-मणि दिखाई दे, नैनों द्वारा ज्वाला दिखाई दे और मुख द्वारा वरदान के बोल निकलते हुए दिखाई दें तब प्रत्यक्षता होगी।

वरदान:- वाणी और मन्सा दोनों से एक साथ सेवा करने वाले सहज सफलतामूर्त भव 
वाचा के साथ-साथ संकल्प शक्ति द्वारा सेवा करना-यही पावरफुल अन्तिम सेवा है। जब मन्सा सेवा और वाणी की सेवा दोनों का कम्बाइन्ड रूप होगा तब सहज सफलता होगी, इससे दुगुनी रिजल्ट निकलेगी। वाणी की सेवा करने वाले तो थोड़े होते हैं बाकी रेख देख करने वाले, दूसरे कार्यों में जो रहते हैं उन्हें मन्सा सेवा करनी चाहिए, इससे वायुमण्डल योगयुक्त बनता है। हर एक समझे मुझे सेवा करनी है तो वातावरण भी पावरफुल होगा और सेवा भी डबल हो जायेगी।
स्लोगन:- सदा एकरस स्थिति के आसन पर विराजमान रहो तो अचल-अडोल रहेंगे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

TODAY MURLI 4 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 February 2018 :- Click Here

04-02-2018
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
27/04/83

Methods to transform your vision and attitude.

Today, BapDada is looking at the gathering of all the effort-makers. All the knowledge is merged in the word “effort-maker” (pursharathi). The word “pursharathi” means “purush” (being, master) and rathi (charioteer). Charioteer of what? Master of what? To be a master of matter, that is, the charioteer of the chariot. What would happen if you were to stabilise in the meaning of just this one word? You would easily be able to overcome all weaknesses. The master has all rights over matter and is not subservient to it. The charioteer drives the chariot; he does not move along whilst being subservient to the chariot. One who has all rights has all rights to all the powers of the Almighty Authority Father, that is, he has a right to the inheritance and has all rights over it. All the powers are the Father’s property and every child has a right to that property. BapDada gives all of you the fortune of the kingdom of all powers as your birthright. As soon as you took birth, you were given the self-sovereignty of all powers, the tilak of the awareness of being one with all rights and the heart-throne for having the form of one absorbed in love for the Father. As soon as you took birth, each of you was given the crown of service for world benefit. So, all of you have the birthright of the throne, the tilak, the crown and the kingdom, do you not? Can souls who are embodiments of the attainment of these four things be weak? Are you not able to look after these four attainments? Sometimes, the tilak is erased, sometimes you get off the throne and sometimes, instead of wearing your crown, you carry a burden. You carry a basket of useless, wasteful things. You are called self-sovereigns, but instead of being a sovereign of yourself, you become a subservient subject. Why do you play such games? If you continue with such games, when would your original sanskars of claiming the right to the fortune of the kingdom become imperishable? If you continue with such games, what is your attainment going to be? How can someone who is unable to make his original sanskars imperishable claim a right to the kingdom of the beginning? If you have the sanskars of a warrior for a long period of time, that is, if you spend your time battling, if you are victorious today but are defeated tomorrow, if you gain victory one moment but are defeated at the next moment, if you don’t have the sanskars of being victorious all the time, would you then be called a warrior or a Brahmin? It is Brahmins who become deities. Warriors will then go and become warriors. There is a difference between the symbol of deities and the symbol of warriors. In the memorial pictures, one has a bow and arrow and the other has a flute. The one with a flute became a master flute player (murlidhar), so that, instead of being poisoned by the snake of vices, he removed all the poison and made the snake into a bed. There is such a vast difference between a poisonous snake and a snake that becomes a bed. How was such transformation brought about? With the flute. Only those who bring about such transformation are called victorious Brahmins. So, ask yourself: Who am I?

All of you have revealed your weaknesses with honesty. You will receive marks for that honesty, but BapDada saw that, even now, you haven’t yet developed the power to transform your own sanskars. So, when will you become world transformers? When will the transformation of your vision and attitude become imperishable? You are observers who observe everything with your vision. So, why do you allow your vision to become mischievous? Do you look at everything with your divine eye or with gross eyes? When you look with your divine eye, you will constantly only see the divine form. Gross eyes will only see the skin. Whose job is it to look at the skin and to think about the skin? Is it the work of angels? Of Brahmins? Of self-sovereigns who have all rights? So, are you Brahmins? Who are you? Should Baba even speak that name?

Always see every embodied soul, every woman, in the form of a Shakti, a world mother or a goddess. This is what it means to see with divine vision. She may be a kumari, a mother, a sister or an instrument who is your teacher, a server, but who is she? She is a form of a Shakti. Even in the relationship between brother and sister, the attitude and vision can sometimes become mischievous. Therefore, always see her in the form of a Shakti, a Shiv-Shakti. What would the condition be of someone with a devilish intention who comes in front of a Shakti? You know that, do you not? She is not just your teacher, but a Shiv-Shakti. She is your spiritual sister. However, even beyond that, see her as a Shiv-Shakti. You mothers and sisters should also remain constantly stable in your form of a Shiv-Shakti. Don’t think, “This one is my special brother or my special student.” Sisters are Shiv-Shaktis and you are mahavirs. You are those who will burn Lanka, but you first of all have to burn the progeny of Ravan within yourself. What is the speciality of Mahavir (Hanuman) that they show? What does he constantly show in his heart? One Rama and no one else. You have seen the picture of this, have you not? So, every brother is a mahavir and every sister is a Shakti. Mahavir belongs to Rama and Shakti belongs to Shiva. Whilst looking at any bodily being, always look at the soul in the forehead. Are you going to speak to the soul or the body? Whilst carrying out any activity, is it the soul or the body that is doing it? Constantly see the soul in the body at every second. Let your vision fall on the jewel in the forehead. What will happen then? When the soul sees the soul, he will automatically become soul conscious. This is the first lesson, is it not? If you don’t make the first lesson of Alpha firm, how would you receive beta, the kingdom? Simply remain cautious about one thing. Whatever you have to do, you have to perform elevated actions and become elevated. So, become one who has determination about everything. No matter what you have to tolerate or face, you have to perform elevated actions and bring about elevated transformation. Don’t use the word “effort” in a careless way. “I am an effort-maker. I am moving along. I am doing what I can. I have to do it.” This is the language of carelessness. At that moment, stabilise in the meaning of the word “effort”. Matter cannot deceive its master. All these types of weakness are signs of carelessness. Mahavir holds a mountain on his palm and he flies with it in a second. That is, he makes a mountain as light as water. What are all those trivial matters? Such mahavirs would be called those who are even afraid of ants. “What can I do? This happens even against my wish.” Are these the words of a mahavir? A sensible person wouldn’t say, “What can I do? Thieves come.” A sensible person wouldn’t be deceived repeatedly. It is a careless person who would be deceived repeatedly. If you have the means of safety but don’t use them, what can be said? “I know that this shouldn’t happen, but it does happen.” What kind of sense would you say this is?

Be one with determination. I have to bring about transformation – not tomorrow, but today; not today, but now! This is called being a mahavir who obeys Rama. Today, it is the day for a meeting, but because you children have made effort, Baba has to give you the response of your efforts. However, are you going to take these weaknesses back with you? You are not going to take back anything you have already given away, are you? You mustn’t allow it to come back to you even if it comes back to you forcefully. Would you allow an enemy to come? Attention and checking are the double lock. Remembrance and service are the second double-lock. All of you have these, do you not? Therefore, constantly have these double lock s applied. Apply the lock on both sides. Do you understand? Don’t just apply it on one side. You have been offered a lot of hospitality in a physical and subtle way. You have received double hospitality. Just as Didi and Dadi and the instrument souls have offered you hospitality from their hearts, so, in return, all of you have to give a guarantee to Didi and Dadi that, from now on you will remain constantly victorious. Don’t just say this with your mouths, but say it from your hearts. We shall then see what everyone in this photo is doing after a month. You can hide things from anyone else but you can’t hide anything from the Father. Achcha.

To those who constantly make their thinking and their doing equal with determination, to those who constantly see the form of a soul with your divine eye so that, whoever they look at, they only see the soul, to those effort-making souls who stabilise in the meaning of the word “effort”, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Become incorporeal, egoless and viceless, the same as the father.

Remember these last three words of Father Brahma: incorporeal, egoless and viceless. Always be incorporeal in your thoughts, detached from all and loving to the Father. Always be egoless in your words, that is, let them always be filled with spiritual sweetness and humility. In your actions be viceless through your physical senses, that is, become those who have the personality of purity. Practise: I, the incorporeal soul, am speaking with the support of the corporeal. Even in the corporeal form, let there be the incorporeal form in your awareness. This is known as speaking and acting whilst being corporeal and incorporeal. Your original form is incorporeal and the corporeal is your support. This double awareness of “incorporeal and corporeal” is a powerful stage. Keep your real. incorporeal form in your awareness and the real virtues and powers of that form will automatically emerge. At the confluence age, experience the karmateet and incorporeal stages, like the father’s, and then you will continue to experience the stage of being equal to Father Brahma for the future 21 births, full of all virtues, completely viceless and with an elevated life. The awareness of being a master and a child constantly gives you the experience of the egoless and incorporeal stage. To become a child means that there is a transformation in your limited life. When you become a Brahmin, you learn the first and easiest of all lessons in Brahmin life – children say “Baba.” And the Father says “Child”. The lesson of this one word makes you knowledge-full.

The basis of success in service is the feeling of being an instrument for service. The three specialities of being incorporeal, egoless and viceless automatically come from being an instrument. When there isn’t the consciousness of being an instrument, many types of the consciousness of “I” and “mine” make service become slack. Therefore, let there not be any consciousness of “I” or “mine”. Remember one expression, “I am an instrument”. Only by being an instrument can you remain in the stage of being incorporeal, egoless, humble and free from any other thoughts. Just as by being an instrument, your stage becomes incorporeal, egoless and free from other thoughts, similarly, when you constantly say, “I, I”, there is arrogance, wilting and sadness. The end result of that is that whilst moving along you die, even though you are alive. Therefore, always keep this main teaching with you at all times: I am an instrument. By being an instrument, no type of arrogance will arise in you. You won’t even be caught in the spinning of any difference of opinion.

To the extent that you remain in the incorporeal stage, to that extent you will remain fearless, because fear arises out of the awareness of the body. In order to imbibe the virtue of fearlessness, become incorporeal. The more you remain detached in the incorporeal stage, the more you will experience the stage of a point in your yoga and you will experience the angelic stage whilst you move along. Just as your hands and feet continue to move according to your directions, in the same way, practise becoming incorporeal from corporeal in a second. That is, practise stabilising in your original, incorporeal form and there won’t be any arrogance. Arrogance makes you become one without ornaments. Those who remain stable in the egoless and incorporeal stage and then in the stage of holding all the ornaments can be benefactors for all souls, and those who are benefactors for all claim a right to the kingdom of the world.

You will become an embodiment that grants visions when you are in the incorporeal stage whilst in the physical form. Just as you have had the naturalawareness of the form of the body for many births, in the same way, you also need to experience the awareness of your original form over a long time. When this first lesson is complete d and you remain in the soul-conscious stage, you will become an instrument to give all souls visions. One is the target to become incorporeal and soul conscious and the other is the target to have a viceless stage, for which you have to make your stage viceless even in your mind. Just as you make effort throughout the day to be a yogi and to remain pure, in the same way, let the goal of being viceless and incorporeal remain constantly in front of you. Your stage will then become karmateet and angelic and no impurity, no attraction of the five elements, will attract you. Immediately order yourself to stabilise in your complete incorporeal, egoless and viceless stage. Let there be no trace of “mine”, “yours” or pride or honour, etc. If there is the slightest trace of those, all their progeny will come. Therefore, let there be no trace of vice even in your thoughts, for only then will these three stages come. The heirs and subjects that are then to emerge from impact of this will emerge quickly. Quick s ervice will be visible.

You now have to go to your incorporeal home. Therefore, as is your land, so should be your costume. So, let your special effort now be to return home and also take everyone else home. By having this awareness, you will easily be able to go beyond all relationships and attractions of all the elements of nature, that is, you will become a detached observer. By becoming a detached observer, you will easily become a companion of the Father and equal to the Father. Every now and then, make time to practise stabilising yourself in the stage of an incorporeal soul, detached from the awareness of the body. No matter what task you are performing, whilst performing that task, practise: I am an incorporeal soul and am performing actions with the support of the physical organs. The incorporeal stage is the stage of being one who gets things done and the physical organs are the doer. The soul is the one that inspires things to be done. So, with the incorporeal stage of soul consciousness, you will automatically remember the incorporeal Father. Throughout the whole day, however many times you say the word “I”, remember “I, the incorporeal soul, have entered the corporeal body.” When you remember your incorporeal stage, you will automatically become egoless and your body consciousness will finish. Remembering the soul makes the incorporeal stage firm. You have already attained the blessing of being incorporeal, egoless and viceless from the Bestower of Blessings. Now put this blessing into practice. That is, make yourself an embodiment of knowledge, an embodiment of remembrance and an image that grants visions. Let anyone who comes in front of you see the jewel in the forehead, the intense power of your eyes and hear words of blessings emerging from your lips. Only then will revelation take place.

Blessing: May you be an embodiment of easy success by serving through your words and thoughts at the same time.
To serve with the power of your thoughts at the same time as serving through words is the powerful final service. When you have the combined form of serving through your thoughts and also serving through your words, there will be easy success which will bring about double results. There are a few who serve through words, but all of those who look after things or are engaged in other matters have to serve with their minds. The atmosphere becomes yogyukt through this. Let each one feel, “I have to serve” and the atmosphere will then become powerful and there will be double service.
Slogan: Remain constantly seated on the seat of a stable stage and you will remain unshakeable and immovable.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize