today murli 4 december

TODAY MURLI 4 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 December 2018 :- Click Here

04/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your spiritual yoga is for becoming ever pure because you have yoga with the Ocean of Purity in order to establish the pure world.
Question: Which faith should the children who have firm faith in their intellects have first of all? What are the signs of that faith?
Answer: First and foremost, you need to have the firm faith that you are children of the one Father and that you receive the deity sovereignty from Him. When you have this faith, it will instantly enter your intellects that the devotion you have been performing has now ended and that you have now found God Himself. Only the children whose intellects have firm faith become heirs.
Song: O traveller from the faraway land.

Om shanti. The Father sits here and explains that all are travellers from the faraway land. All souls are residents of the supreme abode which is far, far away. This is also mentioned in the scriptures. Souls reside far away where the light of the sun or the moon doesn’t exist. There isn’t a drama in the incorporeal world or the subtle region. There is the drama of the corporeal world which is called the human world. There isn’t a cycle of 84 births in the incorporeal world or in the subtle region. The cycle is shown in the human world. What is the human world and what are human beings made of? A human being is made of a soul and a body. A puppet (body) is created of the five elements and a soul enters that and plays his part. So, all are residents from the faraway land. However, you do have faith. Human beings don’t have faith. The Father has explained: You call Me the Resident of the faraway land, but the residence of all of you souls is the same. Those who play parts in other plays all have their own homes. They come from there to perform their parts. Here, you children understand that you are all children of the one Father and that you are all residents of the one home, the supreme abode. That is the great element of brahm and this is the element of the sky. You play your parts here. There is also night and day and this is why there are the sun and moon. There is no day or night in the incorporeal world. The sun and moon are not deities; they are lights to light up the stage. The sun gives light during the day and there is moonlight at night. Now, all human beings want to go to the land of liberation. You know that God resides up above. When people remember God and say, “O Supreme Father, Supreme Soul!”, their intellects go up above. You souls understand but there is ignorance everywhere. You know that you are not residents of this place. That One is our Father. They say: “O God, the Father !” with their mouths, and then they say, “All are the FatherGod is omnipresent.” It has been explained to you children that not all are the Father. All souls are brothers of one another. They continue to fight and quarrel among themselves because of not knowing this. You souls are brothers and you have become children of the one Father. Those whose intellects have faith are numberwise. In a worldly relationship you always have the faith that you are going to receive your inheritance from your father. Here, Maya repeatedly turns your face away from the Father. You belong to the Almighty Authority Father and so Maya, too, as an almighty authority, fights with you. This is the war of gaining victory over the five vices. The war is very well known, but there is nothing like the Kauravas and Pandavas that they have shown in the scriptures. This war with Ravan is very fierce. We souls want to stay in remembrance of the Father and become complete and pure. There is no way to do this other than with yoga. All others who study yoga do not do that for observing purity. All of that is physical yoga for a temporary period whereas this is spiritual yoga for becoming ever pure. By having yoga with the Ocean of Purity we become pure. The Father says: Your sins of many births are burnt with this fire of yoga. Your intellects also say that this world is impure. Ask anyone if this is the golden age or the iron age. No one would call this the golden age. The golden age is in the new world. That is called the golden age and this is called the iron age. The old world is called the iron age and the new world is called the golden age. You cannot say that it is now the golden age as well as the iron age; no. A resident of hell means a resident of hell. The old world is called the impure world and the new world is called the pure world. This explanation is for human beings. Animals would not say: O Purifier, come! Ask anyone and he would say that this is hell. Bharat was the new world, heaven, and Bharat is now the old world, hell. Continue to emphasise Bharat. All others come in the middle period. We don’t have any connection with them. Our religion which has now disappeared is separate. You have now become those whose intellects have faith. You know that you are the children of the one Father. You receive self-sovereignty from the Father. First of all, you need to have this firm faith. You listen to knowledge and that is fine; subjects are created. However, you also have to have the faith that you are children of the unlimited Father. You understand that you were performing devotion in order to meet God. That devotion has now come to an end. God Himself has now come and met us. We receive the sun-dynasty status of self-sovereignty from Him. We claim such a high status. Wealthy people adopt a child, and they only adopt one child, whereas, here, the unlimited Father wants innumerable children. He says: Those who become My children will receive the inheritance of heaven. Those who don’t belong to Me cannot claim the inheritance. They don’t even follow shrimat. Those who have faith say: Baba, You have come once again and we shall now never let go of Your hand. The Father explains to the children. Children then explain to others that they have become the children of the parlokik Father. We are following His shrimat. The Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us. So many have become BKs and they definitely have faith and so why should we not become that too? You should write: I now belong to You, and send it to Baba. The Father would say: I am not far away. I am sitting here. I am present here. I am sitting here in a practical way. It is said of the President that he is present on this earth. It doesn’t mean that the President is omnipresent. In the same way, the Supreme Father, the Supreme Soul, who is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, cannot be omnipresent. Since not a single person stays unhappy in the absence of the Father (in heaven), how can human beings be so unhappy in His presence? The Father creates a nest for you children. Just as birds create a nest for their little ones, so the Father too creates a nest for you children. He has the nest made for you through you. The nest of heaven is being made for you to stay in. The Father says: If you follow My directions, you will rule in heaven. If you have firm faith, you will catch hold of this tightly. It isn’t that you just have to sit here. You mustn’t leave your homes and families. Those people leave their homes and families. They consider their guru to be their god. They don’t die alive. You have to die alive and then live in the golden age. You are claiming your unlimited inheritance from the Father. You have faith that the unlimited Father is teaching you and giving you the inheritance for 21 births, and so you should follow His directions. When you become a child of the Father He gives directions. First of all, sit in a bhatthi for a week. You will continue to receive knowledge every day. Not everyone understands to the same extent. Each one takes it according to his or her efforts and fortune. Everything depends on your efforts and fortune. You can tell what is in your fortune and what status you will claim. After belonging to the Father, you still have to live at home with your family. Achcha, if you don’t have a household, then become a stick for the blind. You definitely have to go to relate the story of the true Narayan. Look, daughter Prem has gone on service. Those who invited her welcomed her with honour andintroduced her to many others and they were quite impressed. However, the Father says: Not a single one of them has an intellect with the faith that it is the unlimited Father who teaches all of you and that it is from Him that you then receive the inheritance for 21 births. They do become impressed, but they don’t have the faith that it truly is the Father, the Ocean of Knowledge, who is teaching you. Yes, they say that this is very good but, as soon as they go outside, everything ends. Hardly anyone makes this effort. Although they have spiritual gatherings among themselves, those who gather together don’t have that faith in their intellects. They are called half-castes. There is faith and doubt. One minute, they say that the Father is teaching them, and the next minute they ask: How is this possible? Yes, it is good to become pure, but it is very difficult to remain pure. First of all, there has to be faith and they should write with that happiness inside them. Those who are free from bondage never write such letters as the gopikas who are in bondage do. Baba writes: You haven’t made the intellect of even one person have faith. Yes, you have created ordinary subjects but you haven’t created heirs. Not a single person has become one whose intellect has faith. Only those whose intellects have faith become heirs. Although the intellects of some do have faith, they don’t take knowledge and so they go into that dynasty and become maids and servants. As you progress further, you will receive accurate visions. You will also know which number maids and servants you will become. Then, there will be great repentance. “I did not follow shrimat and that is why I have reached this condition. Nevertheless, in every situation, it would be said to be the drama. This one has this part in the drama for cycle after cycle. You will definitely have visions. The result has to be announced at the end. It would then be said to be destiny. This was in my fortune. The result of your studies will be announced. This is a very high school. The One who is teaching is only the One. There is only the one study and only the one examination. The T eacher knows what the students are like. Everyone continues to gallop. As you progress further, you will come to know a great deal. You will repeatedly go into trance just as you used to in the beginning. You continue to understand and the Father continues to explain. You make mistakes by not following shrimat. By moving along in that way, you develop that habit. You may ask: Shiv Baba, am I following Your shrimat? Baba would tell you: You do not follow it and this is why your fortune is seen to be as it is. It is understood that you have bad omens at the moment. However, when you make more progress, they will be removed. Some fall into a slight intoxication of lust. Bharat was pure and elevated and it is now corrupt. There is praise of those elevated deities. The Father says: This is the devilish community. I have come to establish the deity community. This deity religion is the highest of all. The Father alone is the Purifier, but people don’t understand anything. All of those who come to establish a religion are definitely pure. In every situation, there are the good and the bad. There are those with less fortune and those with good fortune. This kingdom of Ravan is now to end. This city of Ravan has to be set on fire. You, Rama’s army, are sitting here. Those who belong to this religion will continue to understand. You understand, numberwise. Some are shot with just one arrow like King Janak and they surrender. They never make excuses. Excuses don’t work here. However, there are also many storms of Maya. She makes you forget your own clan, and that you are the children of God. Therefore, you children have to become very sweet. There mustn’t be the slightest intoxication of lust. Lust is the greatest enemy. This is the most important examination. Baba says: Children, live together and remain pure and demonstrate this. The Father knows the stage of the children. Those whose intellects have faith give their news to the Father: Baba, I remember You and I am also doing service. Only when they write their service news do I have faith in them. It is only when they give the proof of service that Baba feels great hope for them. It should then also be understood that Baba is alone and that there are many of us children. Don’t think that Baba has to respond to you every day; no. The Father is the Lord of the Poor. Donations are given to the poor. This land of Bharat is poor. From being wealthy Bharat has become poor. No one knows this. This Bharat is the imperishable land where God incarnates. Bharat was the Golden Sparrow, that is, it was the treasure-store of total happiness and we are all making effort to go to that land of happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t make excuses but continue to follow the Father’s shrimat. Give the proof of service.
  2. Don’t forget that you are the children of God and that your clan is the highest of all. Let your intellect have faith and also inspire others to have faith.
Blessing: May you serve as a detached observer while keeping the speciality and uniqueness of Brahmin birth in your awareness.
This Brahmin birth is a divine birth. Ordinary souls celebrate their birthdays, marriage day, friends  day separately, but your birthday, marriage day, M other’s day, Father’s day, engagement day are all the same because all of you have promised to belong to the one Father and none other. So, play your part in doing service while keeping the speciality and uniqueness of this birth in your awareness. Be one another’s companion in service, but be a companion while remaining a detached observer. Let there not be the slightest subservience to anyone.
Slogan: A carefree emperor is one who has a balance of humility and authority in his life.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 4 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 December 2018

To Read Murli 3 December 2018 :- Click Here
04-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारा रूहानी योग है एवर प्योर बनने के लिए क्योंकि तुम पवित्रता के सागर से योग लगाते हो, पवित्र दुनिया स्थापन करते हो”
प्रश्नः- निश्चयबुद्धि बच्चों को पहले-पहले कौन-सा निश्चय पक्का होना चाहिए? उस निश्चय की निशानी क्या होगी?
उत्तर:- हम एक बाप के बच्चे हैं, बाप से हमको दैवी स्वराज्य मिलता है यह पहले-पहले पक्का निश्चय चाहिए। निश्चय हुआ तो फौरन बुद्धि में आयेगा कि हमने जो भक्ति की है वह अब पूरी हुई, अब स्वयं भगवान् हमें मिला है। निश्चयबुद्धि बच्चे ही वारिस बनते हैं।
गीत:- ओ दूर के मुसाफिर…….. 

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं दूर के मुसाफ़िर तो सब हैं। सब आत्मायें दूर से दूर परमधाम की रहने वाली हैं। यह भी शास्त्रों में है। आत्मा दूर रहती है, जहाँ सूर्य चांद की रोशनी नहीं रहती। मूल-वतन और सूक्ष्मवतन में कोई ड्रामा नहीं है। ड्रामा इस स्थूलवतन का है, जिसको ही मनुष्य सृष्टि कहा जाता है। मूलवतन और सूक्ष्मवतन में कोई 84 जन्मों का चक्र नहीं है। चक्र मनुष्य सृष्टि में दिखाया जाता है। मनुष्य सृष्टि क्या चीज़ है, मनुष्य किसका बना हुआ है? मनुष्य में एक तो आत्मा है, दूसरा शरीर है। 5 तत्वों का पुतला बनता है। उसमें आत्मा प्रवेश कर पार्ट बजाती है। तो दूर के वासी तो सब हैं। परन्तु तुम निश्चय करते हो। मनुष्यों में निश्चय नहीं है। बाप ने समझाया है मुझे दूरदेश का रहने वाला कहते हो परन्तु तुम सब आत्माओं का निवास स्थान एक है। उस नाटक में जो पार्ट बजाते हैं उसमें तो हर एक का अपना-अपना घर होता है ना। वहाँ से आकर पार्ट बजाते हैं। यहाँ तुम बच्चे समझते हो हम सब एक ही बाप के बच्चे हैं, एक ही घर परमधाम में रहने वाले हैं। वह है ब्रह्म महतत्व, यह है आकाश तत्व। यहाँ पार्ट बजाते हैं, रात-दिन होता है इसलिए सूर्य-चांद भी हैं। मूलवतन में तो दिन-रात नहीं होता है। यह सूर्य-चांद कोई देवता नहीं हैं। यह तो माण्डवे को रोशन करने वाली बत्तियां हैं। दिन में सूर्य रोशनी देता है, रात में चांद की रोशनी होती है। अभी सब मनुष्य चाहते हैं मुक्तिधाम में जायें। जानते हैं भगवान् ऊपर में रहता है। भगवान् को भी याद करेंगे – हे परमपिता परमात्मा, तो बुद्धि ऊपर चली जायेगी। आत्मा समझती है परन्तु अज्ञान छाया हुआ है। यह भी जानते हैं हम यहाँ के रहने वाले नहीं हैं। हमारा बाप वह है। मुख से ओ गॉड फादर कहते भी हैं। फिर कह देते हैं सब फादर हैं, गॉड सर्वव्यापी है। बच्चों को समझाया है सब तो फादर हैं नहीं। सब आत्मायें आपस में ब्रदर्स हैं। यह न जानने कारण लड़ते-झगड़ते रहते हैं। तुम आत्मायें ब्रदर्स हो, एक बाप की सन्तान बने हो। निश्चयबुद्धि भी नम्बरवार हैं। लौकिक सम्बन्ध में निश्चय रहता ही है कि बाप से वर्सा पाना है। यहाँ बाप से माया घड़ी-घड़ी मुंह फेर देती है। सर्वशक्तिमान बाप के बनते हो तो माया भी सर्वशक्तिमान होकर लड़ती है। पांच विकारों पर जीत पाने की युद्ध है। युद्ध तो मशहूर है। बाकी शास्त्रों में जो कौरव-पाण्डव दिखाये हैं वह बात है नहीं। यह रावण के साथ युद्ध बड़ी भारी है। हम चाहते हैं कि बाप की याद में रहकर हम सम्पूर्ण बनें, आत्मा प्योर बनें। और तो कोई भी रास्ता है नहीं सिवाए योग के। और जो भी योग सीखते हैं वह कोई प्योरिटी के लिए नहीं है। वह तो सब स्थूल योग हैं, अल्पकाल के लिए और यह रूहानी योग है एवर प्योर होने के लिए। पवित्रता के सागर के साथ हम योग लगाने से पवित्र बनते हैं। बाप कहते हैं इस योग अग्नि से तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म होते हैं। बुद्धि भी कहती है यह पतित दुनिया है। कोई से भी पूछो – यह सतयुग है या कलियुग? तो इसको सतयुग कोई भी नहीं कहेंगे। सतयुग तो नई दुनिया थी। उसको गोल्डन एज, इसको आइरन एज कहा जाता है। पुरानी दुनिया को कलियुग और नई दुनिया को सतयुग कहा जाता है। ऐसे कह नहीं सकते कि अभी सतयुग भी है तो कलियुग भी है। नहीं, नर्कवासी माना ही नर्कवासी। पुरानी दुनिया को पतित, नई दुनिया को पावन दुनिया कहेंगे। मनुष्यों के लिए ही समझाया जाता है, जानवर थोड़ेही कहेंगे पतित-पावन आओ। कोई से भी पूछो तो कहेंगे यह नर्क है। भारत ही नई दुनिया स्वर्ग था, भारत ही पुरानी दुनिया नर्क है। भारत पर ही जोर देते रहो। दूसरे सब तो बीच में आते हैं। उससे हमारा तैलुक नहीं। हमारा धर्म ही अलग है, जो अब प्राय: लोप हो गया है।

अभी तुम निश्चयबुद्धि बने हो। जानते हो हम एक बाप के बच्चे हैं। बाप से हमको स्वराज्य मिलता है। पहले तो यह पक्का निश्चय चाहिए। ज्ञान सुनते हैं, वह तो ठीक है। प्रजा बन जाती है। बाकी हम बेहद बाप के बच्चे हैं – यह निश्चय हो जाए, समझें हमने भक्ति की है भगवान् से मिलने के लिये। अभी भक्ति पूरी होती है। अब भगवान् स्वयं आकर मिला है। उनसे सूर्यवंशी स्वराज्य पद मिलता है। हम इतना ऊंच पद पाते हैं। जैसे साहूकार लोग बच्चे को गोद में लेते हैं ना। वह तो एक बच्चा लेते हैं। यहाँ तो बेहद के बाप को अनेक बच्चे चाहिए। कहते हैं जो मेरा बच्चा बनेगा उनको स्वर्ग का वर्सा मिलेगा। जो मेरा नहीं बनते तो वर्सा ले न सकें। श्रीमत पर ही नहीं चलते। जिनको निश्चय हो जाता है वह तो कहते बाबा आप फिर से आये हो, बस, हम तो आपका हाथ नहीं छोड़ेंगे। बाप बच्चों को समझाते हैं, बच्चे फिर दूसरों को समझाते हैं कि हम पारलौकिक बाप के बच्चे बने हैं। उनकी श्रीमत पर हम चलते हैं, हमको परमपिता परमात्मा पढ़ाते हैं। इतने सब बी.के. बने हैं तो जरूर निश्चय है, तो हम भी क्यों न बनें। लिख करके भेज दें कि हम आपके बने हैं। बाप कहेंगे हम कोई दूर थोड़ेही हैं। हम तो यहाँ बैठे हैं, हाजिर हैं। यहाँ प्रैक्टिकल में बैठे हैं। जैसे प्रेजीडेन्ट के लिए कहेंगे कि इस सृष्टि पर हाज़िर है तो इसका मतलब यह नहीं है कि प्रेजीडेन्ट सर्वव्यापी है। ऐसा परमपिता परमात्मा, जिसको सुख कर्ता दु:ख हर्ता कहा जाता है वह सर्वव्यापी नहीं हो सकता। उनकी हाज़िरी में मनुष्य इतने दु:खी कैसे हो सकते? जबकि बाप की गैरहाज़िरी (स्वर्ग) में भी कोई दु:खी नहीं रहता।

बाप ने बच्चों के लिए घोंसला बनाया है। जैसे चिड़िया बच्चों के लिए घोंसला बनाती है, तो बाप भी तुम्हारे लिए तुम्हारे द्वारा ही आखेरा (घोंसला) बनवाते हैं। तुम्हारे ही रहने के लिए स्वर्ग का आखेरा बन रहा है। बाप कहते हैं तुम मेरी मत पर चलेंगे तो स्वर्ग मे राज्य करेंगे। अगर पूरा निश्चय हो तो एकदम पकड़ लेवें। ऐसे भी नहीं कि यहाँ बैठ जाना है। घरबार तो छोड़ना नहीं है। वह तो घरबार छोड़ते हैं। गुरू को भगवान् समझते हैं। वह कोई जीते जी मरते नहीं हैं। तुमको तो जीते जी मरकर फिर सतयुग में जीना है। तुम बाप से बेहद का वर्सा लेते हो। जब निश्चय हुआ कि बेहद का बाप पढ़ाते हैं 21 जन्मों का वर्सा देते हैं तो उनकी श्रीमत पर चलना पड़े। बच्चा बना तो बाप डायरेक्शन देंगे। पहले तो एक हफ्ता भट्ठी में बैठो। तुमको रोज़ नॉलेज मिलती रहेगी। सब तो एक जैसे नहीं समझते हैं, हर एक अपने पुरूषार्थ और तकदीर अनुसार पाते हैं। पुरूषार्थ और तकदीर के ऊपर ही होता है। पता लग जाता है कि तकदीर में क्या है? क्या पद पायेंगे? बाप का बनकर फिर गृहस्थ व्यवहार में भी रहना है। अच्छा, गृहस्थ व्यवहार नहीं है तो जाकर अन्धों की लाठी बनो। सत्य नारायण की कथा सुनाने जरूर जाना है।

अब देखो, प्रेम बच्ची सेवा पर गई है। जिन्होंने निमंत्रण दिया उन्होंने आजयान की, बहुतों से मुलाकत कराई, प्रभावित हुए। परन्तु बाबा कहे – निश्चयबुद्धि एक भी नहीं हैं कि इन्हों को बेहद का बाप पढ़ाता है, जिससे 21 जन्मों का वर्सा मिलता है। प्रभावित होते हैं परन्तु ऐसे थोड़ेही निश्चय हुआ कि बरोबर ज्ञान का सागर बाप पढ़ा रहे हैं। हाँ, सिर्फ कहेंगे बहुत अच्छा है। जैसे ही बाहर गये फिर ख़लास। कोई बिरला ही पुरूषार्थ करेंगे। भल आपस में सतसंग करेंगे परन्तु जो करेंगे वह भी निश्चयबुद्धि नहीं। हाफ कास्ट कहा जाता है। निश्चय और संशय। अभी कहेंगे बाप पढ़ाते हैं, अभी कहेंगे कि यह कैसे हो सकता है? हाँ, पवित्र बनना अच्छा है परन्तु पवित्रता में रहना बड़ा मुश्किल है। पहले तो निश्चय चाहिए। गदगद होकर लिखे। जैसे बांधेली गोपिकायें पत्र लिखती हैं वैसे छुटेले कभी लिखते थोड़ेही हैं। बाबा लिख देते हैं कि एक को भी निश्चयबुद्धि नहीं बनाया है। हाँ, साधारण प्रजा बनाई, वारिस नहीं बनाया। एक भी निश्चयबुद्धि नहीं बना है। निश्चयबुद्धि ही वारिस बनते हैं। कोई भल निश्चयबुद्धि हैं परन्तु ज्ञान नहीं उठाते हैं तो उसी घराने के अन्दर जाकर दास-दासी बनते हैं। आगे जाकर एक्यूरेट साक्षात्कार होगा। पता भी पड़ेगा कि हम दास-दासी कौन-से नम्बर में बनेंगे? फिर बहुत पछतायेंगे। हम तो श्रीमत पर चले नहीं तब यह हाल हुआ। फिर भी हर हालत में कहेंगे ड्रामा। इनका ड्रामा में ऐसे ही कल्प-कल्पान्तर का पार्ट है। साक्षात्कार होना ही है। पिछाड़ी में रिजल्ट निकलनी है। फिर कहेंगे भावी। हमारी तकदीर में यह था, तुम्हारी पढ़ाई की रिजल्ट आयेगी। यह तो बड़ा भारी स्कूल है। पढ़ाने वाला एक ही है, एक ही पढ़ाई है, एक ही इम्तहान है। टीचर जानते हैं यह स्टूडेण्ट कैसा है, सब गैलप करते रहते हैं। आगे चलकर बहुत कुछ पता लग जायेगा। घड़ी-घड़ी तुम ध्यान में चले जायेंगे। जैसे शुरू में जाते थे। आप भी समझते रहते हो, बाप भी समझाते रहते हैं। तुम ग़फलत करते हो, श्रीमत पर नहीं चलते हो। ऐसे चलते-चलते आदत पड़ जाती है। भल तुम पूछो – शिवबाबा हम आपकी श्रीमत पर चलते हैं? बाबा बता देंगे तुम नहीं चलते हो तब तुम्हारी तकदीर ऐसे दिखाई पड़ती है। समझा जाता है अभी दशा खराब है, आगे चलकर खुल भी जाए। कोई काम के हल्के नशे में गिरते हैं। भारत पावन था, श्रेष्ठाचारी था जो अब भ्रष्टाचारी है। उन श्रेष्ठ देवताओं की महिमा तो है ना। बाप कहते हैं यह है ही आसुरी सम्प्रदाय, मैं आया हूँ दैवी सम्प्रदाय स्थापन करने। यह देवी-देवता धर्म है ऊंच ते ऊंच। बाप ही पतित-पावन है। परन्तु मनुष्य कुछ भी समझते नहीं हैं। जो भी धर्म स्थापन करने आते हैं – पवित्र जरूर बनते हैं। हर एक बात में अच्छे और बुरे होते हैं। कम तकदीर और अच्छी तकदीर वाले हैं। अब यह रावण राज्य ख़त्म होना है। इस रावण की नगरी को आग लगनी है। तुम राम की सेना बैठे हो। जो इस धर्म के होंगे वह समझते जायेंगे। नम्बरवार समझते हैं। कोई को एक ही तीर जनक मुआफ़िक लगने से सरेन्डर हो जाते हैं। वह कोई भी बहाना नहीं करेंगे। बहाना इसमें चल न सके। परन्तु माया के तूफान भी बहुत आते हैं। अपने घराने को ही भुला देते हैं कि हम ईश्वरीय सन्तान हैं। तो बच्चों को बहुत मीठा बनना है। काम का जरा भी नशा नहीं चाहिए। काम बड़ा ही महाशत्रु है। यही सबसे बड़ी भारी परीक्षा है। बाबा कहते – बच्चे, इकट्ठे रह पवित्र बनकर दिखाओ। बाप बच्चों की अवस्था को जानते हैं। निश्चयबुद्धि वाले बाप को अपना समाचार देंगे कि बाबा मैं आपको याद करता हूँ, यह आपकी सेवा करता हूँ। सर्विस का समाचार लिखें तब विश्वास रखूँ। सर्विस का सबूत दिखाये तब बाबा समझे इसमें उम्मीद अच्छी दिखाई पड़ती है और फिर यह भी समझना चाहिए कि बाबा अकेला है, हम बच्चे बहुत हैं। ऐसे नहीं, बाबा को रोज़-रोज़ रेसपान्स देना पड़ेगा। नहीं, बाप है ही गरीब निवाज़। दान गरीब को दिया जाता है। यह भारत खण्ड गरीब है। भारत ही साहूकार से गरीब हुआ है। यह किसको भी पता नहीं पड़ता है। यह भारत ही अविनाशी खण्ड है, जहाँ भगवान् अवतार लेते हैं। भारत सोने की चिड़िया था अर्थात् सर्व सुखों का भण्डार था। जिस सुखधाम में जाने के लिए हम सब पुरूषार्थ कर रहे हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी बहाना न कर बाप की श्रीमत पर चलते रहना है। सर्विस का सबूत देना है।

2) हम ईश्वरीय सन्तान हैं, हमारा ऊंच ते ऊंच घराना है, यह भूलना नहीं है। निश्चयबुद्धि बनना और बनाना है।

वरदान:- ब्राह्मण जन्म की विशेषता और विचित्रता को स्मृति में रख सेवा करने वाले साक्षी भव
यह ब्राह्मण जन्म दिव्य जन्म है। साधारण जन्मधारी आत्मायें अपना बर्थ डे अलग मनाती, मैरेज डे, फ्रैन्डस डे अलग मानती, लेकिन आपका बर्थ डे भी वही है, तो मैरेज डे, मदर डे, फादर डे, इंगेजमेंट डे सब एक ही है क्योंकि आप सबका वायदा है – एक बाप दूसरा न कोई। तो इस जन्म की विशेषता और विचित्रता को स्मृति में रख सेवा का पार्ट बजाओ। सेवा में एक दो के साथी बनो, लेकिन साक्षी होकर साथी बनो। जरा भी किसी में विशेष झुकाव न हो।
स्लोगन:- बेपरवाह बादशाह वह है जिसके जीवन में निर्माणता और अथॉरिटी का बैलेन्स हो।

TODAY MURLI 4 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 4 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 3 December 2017 :- Click Here

04/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, always remain aware that this is the last of your 84 births. You now have to return home and then go into your kingdom.
Question: How is the Father the true Businessman?
Answer: Baba says to those who are wealthy at this time and have the intoxication of their money: Look after your kingdom here! The Father doesn’t accept anything of theirs. It is the poor that Baba makes the highest on high. He uses every penny of the poor in a worthwhile way and makes them wealthy. This is why the Father is called the true Businessman.
Question: Which laziness should you children not have at all?
Answer: Some children are lazy in reading or listening to the murli; they miss the murli. Baba says: Children, don’t become lazy in this. You mustn’t miss a single murli.

Om shanti. The unlimited Father asks you children. None of the gurus etc. would call their followers ‘children’. Nowadays, even very good young scholars give lectures and even when older men and women give lectures, none of them would have the courage to call anyone ‘child’. Only those who live in a household can say this word. The word ‘children’ belongs to a family. A father can say it. Those sannyasis etc. don’t belong to a family ; they belong to the path of isolation. Therefore, they don’t have thoughts of household interaction in their intellects. Surely, it is only a mother or father who would say ‘children’. You also understand that the unlimited Father sits here and explains to you children. He asks: Children, where is your home? (The Supreme Land) No one would understand anything by ‘supreme land’. You should say: The land of peace, the land beyond sound. You have to remember your home. You know that Baba has come to decorate us and take us back home. We will then go to the land of happiness. This is now the land of sorrow; you now have to renounce it. No one, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, can teach you this unlimited renunciation. Those people make you have limited renunciation, that is, they make you renounce your home and family. This is the Mother and Father. How could the Mother and Father make you leave your home? Their religion is that of the path of isolation, just as there are other religions: Arya Samaj, Radha Swami etc. Now, who was the Swami (Lord) of Radha? No one knows this. In fact, Radhe and Krishna were a princess and prince ; the two of them were friends. He would not be called Radha’s Swami. When he becomes Radha’s Swami (Lord), their names change and they become Lakshmi and Narayan. Shri Narayan is the Swami. Yes, he cannot be called Swami until he gets married. This is something to understand. The Father asks you children: Do you remember your land of peace and land of happiness? This is the land of Ravan, the land of sorrow. A land is where one resides. Rama and Sita do not live in the land of Ravan. In fact, all of you are Sitas. The Father says: I am Rama. I have to liberate you Sitas from Ravan’s jail. The whole world is in the middle of the ocean and Ravan’s kingdom is over the whole world. The kingdom of Rama was in the golden age when Lakshmi and Narayan ruled. Their kingdom was in Bharat. However, because there were no other lands at that time, it is said that they were the masters of the world. They were the masters of Bharat and there was no name or trace of any other lands. So, they were the masters of the whole world. Your kingdom there is by the sweet waters. It should remain in the intellects of you children that the play has now come to an end and that you have to return home. We have been around the cycle of 84 births. Nothing enters the intellects of human beings. They simply repeat the things they have heard. You know that you have now completed the cycle of 84 births. We now have to return home. Then the cycle will begin anew. It cannot begin anew from the iron age of the old world. The new cycle begins from the golden age. All of these things are only explained to you children. However, children you forget so many things! Because of not being able to imbibe them, your mercury of happiness doesn’t rise. This is the last of our 84 births. We will then go home. None of you can return home until you become pure. You have to take rebirth. Those of you who existed at the beginning are here at the end. Those of all religions are here now at the end in a different name, form, place and time. Where is the Guru Nanak soul who established the Sikh religion? He is here in a different name and form. Everyone has to play their full part s. You are now making effort to go to the new world. At the end, everyone has to settle their karmic accounts and return home. The Guru Nanak soul will come again at his own time. He cannot come in the golden, silver or copper age; he comes in the iron age. He will come at his own time and establish that religion. Incarnations come down, numberwise, and establish their religions. The first number incarnation is that of God. How does the incorporeal One incarnate? He tells you: I have taken the support of this costume. This one doesn’t know his own births. It is his body. It is remembered: God came into a foreign land. All others go into their own lands and their own bodies. Yes, the founders of religions can come in the bodies of others, and then their names are glorified. A pure soul would come and enter another. The soul that is already down here would not establish a religion. The new soul who enters would establish that religion. It is the soul of the person who is already here that has to tolerate the suffering. For instance, when the Christ soul came, he was satopradhan, and so he didn’t have to tolerate anything. He first has to enter the sato stage. Therefore, the soul that already exists here has to tolerate everything. It is the soul that feels the suffering when he is in a body. Dharamraj will also give punishment by making you adopt a body. The soul would feel that he is being punished. This is why it is said: A sinful soul, a charitable soul. It is not said: A sinful body, a charitable body. Sannyasis say that the soul is immune to the effect of action and that it is the body that accumulates sin. There are so many types of guru. Baba has experienced many gurus. Baba used to ask each one of them: Why have you taken up renunciation? Why did you leave your home and family? They would never tell him. Therefore, I would ask them: How can I tell whether I will be able to do it or not? Baba would speak to them very shrewdly in this way. You now understand that it is now the stage of total decay of this whole human world tree. It now has to begin anew. Annihilation doesn’t take place. They have shown a great annihilation in the scriptures. That doesn’t take place. It is said that Shri Krishna came floating on the ocean on a pipal leaf. All of those things are lies. The Father says: I come to establish the original eternal deity religion. You must always say: Establishment, then destruction and then sustenance. You mustn’t say: Establishment, then sustenance and then destruction. Sensible people who hear you would then say that you are just repeating things like a parrot. How could it be establishment, sustenance and then destruction? This is why you must speak the correct words properly. Establishment, destruction and then sustenance. You are now receiving shrimat from the highest-on-high Father. He gives it to you through the body of Brahma. This Baba’s body is fixed. When sensible children want advice, they ask for shrimat. By following shrimat you will never be deceived. Shrimat is that of Shiv Baba. Baba is not far away. The Father sees whether you children are moving along in the right way or the wrong way. Each of you can receive the Surgeon’s advice. That one is the greatest Surgeon. If there is difficulty about anything, Baba is sitting here. Continue to follow shrimat. For instance, when a poor child imbibes knowledge well and is serviceable but unable to come and meet Baba because he is poor, he can be given a ticket. The Father is the Lord of the Poor. The Father wants children who are the poorest of all and who study and climb very high. Nowadays, all are poor. One or two million is nothing! If someone has 10 or 20 million, he can then be called wealthy. Baba has explained that millionaires cannot claim this inheritance. They cannot surrender themselves, nor would Baba allow it. It is the pennies of the poor that are used in a worthwhile way. He is not in desperate need. He is also the true Businessman. This is why wealthy ones don’t come here. The Father says to them: Just continue to look after your kingdom. You children now know that Baba comes and explains the essence of all the Vedas and scriptures to you. Baba has explained all of those. It takes Vishnu 5000 years to become Brahma and it takes Brahma a second to become Vishnu. No one else would be able to understand these things. Baba is explaining such a good account to you. Brahma has now emerged from the navel of Vishnu after 84 births. Brahma and Saraswati will then become Lakshmi and Narayan. They will become the sun dynasty and then the moon dynasty. You have the whole cycle in your intellects. The topic of how Brahma becomes Vishnu and how Vishnu becomes Brahma is very good. The significance of the whole cycle is included in that. Sensible children should be able to imbibe all of these things very well. They should continue to write down the points and also correct them. When those who are giving a lecture are unable to remember everything, they keep a paper in front of them. You children have to explain everything orallyBarristerspractise this a great deal. Then, when the opposing barrister argue s about something, he would open his books and refer to that. Then he would say: Look Judge, it says this in such-and-such a book. The other one would say: It says this in such-and-such a book. They have many points with them. The intellects of engineers also work well and they think of the plans they have to make. You too should think about these things. You should make a list of topics. I will explain these points on this topic. Then all the knowledge will enter your intellects. You will then give accurate lectures. If you suddenly gave a lecture without preparation, you would make a mess of it. This practice is also numberwise. This is why the clever ones are invited to go and give lectures. They consider that person to be a senior sister. Among the brothers, Jagdish is clever. They say: He is a senior brother and so he should be given full regard. It is the duty of older ones to teach the younger ones. At school, they also teach manners. Here, too, you need to have good manners. You have to imbibe divine virtues. You mustn’t become moody. Those who are sometimes sweet and sometimes something else cannot do service. You have to become very sweet. Explain to others with a lot of love, because only then can you receive a good status. You have to make everyone happy. You know that Baba comes and makes all human beings happy. He is the Bestower of Salvation for All, the One who gives everyone peace and happiness. He is the Ocean of Love and the Ocean of Happiness. He is your Father and so you have to become as sweet as the Father. You reveal the Father every cycle. You, the Shiv Shakti Pandava Army, establish heaven. It takes time for devilish traits to be removed and for divine virtues to be imbibed. How can the rust on the soul be removed? With the power of yoga. The more you stay in remembrance of Baba, the more the rust will be removed. You children should not miss a single murli. Many children are so lazy that they don’t even read the murli. Very good points emerge in the murli. Therefore, you should never miss a murli. However, Baba knows that even very good BKs don’t care about the murlis. They believe themselves to be clever. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make everyone happy. Don’t become moody. Become very, very sweet. Learn and teach others good manners.
  2. Take advice from the Supreme Surgeon at every step. Continue to follow shrimat. Become sensible and imbibe every point of knowledge.
Blessing: May you be a victorious soul and a conqueror of Maya and always experience being under the canopy of protection by staying within the line of the code of conduct.
Remembrance of the Father is the canopy of protection. To the extent that you stay in remembrance, you will accordingly experience His company. To stay under the canopy means to remain constantly safe. Those who step out from under the canopy even in their thoughts are attacked by Maya. By your staying under the canopy and within the line of the code of conduct, no one would have the courage to enter. However, if you step outside the line, Maya is very clever. Therefore, become a conqueror of Maya with the Father’s company.
Slogan: The practice of being bodiless is the basis of bringing the time of completion close.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 4 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 4 December 2017

To Read Murli 3 December 2017 :- Click Here
04/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सदा यह स्मृति में रहे कि हमारा यह अन्तिम 84 वाँ जन्म है, अब वापिस घर जाना है, फिर अपने राज्य में आना है”
प्रश्नः- बाप पक्का सौदागर है, कैसे?
उत्तर:- जो अभी साहूकार हैं, जिन्हें पैसे का नशा है, बाबा कहते हैं, तुम यहाँ की अपनी राजाई सम्भालो। उनका बाप स्वीकार नहीं करता है। गरीबों को ही बाबा ऊंच ते ऊंच बनाते हैं। गरीबों की पाई-पाई सफल कर उन्हें साहूकार बना देते इसलिए बाप को पक्का सौदागर कहा जाता है।
प्रश्नः- बच्चों में कौन सी सुस्ती बिल्कुल नहीं होनी चाहिए?
उत्तर:- कई बच्चे मुरली सुनने वा पढ़ने में सुस्ती करते हैं। मुरली मिस कर देते हैं। बाबा कहते हैं बच्चे इसमें सुस्त मत बनो। तुम्हें एक भी मुरली मिस नहीं करनी है।

ओम् शान्ति। बच्चों से बेहद का बाप पूछते हैं और जो भी गुरू गोसांई आदि हैं वह अपने फालोअर्स को बच्चे नहीं कहेंगे। आजकल तो अच्छे-अच्छे जवान विद्वान भी भाषण करते हैं वा बुजुर्ग मातायें अथवा पुरुष हैं, उनमें हिम्मत ही नहीं आयेगी जो कहें कि हे बच्चों। यह अक्षर वह कह सकते हैं जो गृहस्थ व्यवहार में हों। बच्चा अक्षर फैमली का है। बाप कह सकते हैं। वह सन्यासी आदि तो फैमली के नहीं हैं। वह हैं निवृत्ति मार्ग वाले। तो गृहस्थ व्यवहार के ख्यालात बुद्धि में नहीं आते। यह तो मात-पिता है तो जरूर बच्चे-बच्चे कहेंगे। तुम भी समझते हो बेहद का बाप हम बच्चों को बैठ समझाते हैं। पूछते हैं बच्चों तुम्हारा घर कौन सा है? (परमधाम)। परमधाम से कोई समझेंगे नहीं। कहना चाहिए शान्तिधाम, निर्वाणधाम। तुमको याद करना है अपने घर को। जानते हो बाबा आया हुआ है, हमको श्रृंगार कर घर ले जायेंगे। फिर हम सुखधाम में आयेंगे। अभी तो यह है दु:खधाम। इनका तुमको सन्यास करना है। यह बेहद का सन्यास सिवाए परमपिता परमात्मा के और कोई सिखला न सके। वह तो हद का अर्थात् घरबार का सन्यास करते हैं। यह तो मात-पिता है ना। मात-पिता घरबार कैसे छुड़ायेंगे? उनका तो धर्म ही है निवृत्ति मार्ग का। जैसे और-और धर्म हैं। आर्य समाजी, राधा स्वामी… अभी राधा का स्वामी कौन है? यह कोई भी नहीं जानते हैं। वास्तव में राधे-कृष्ण तो प्रिन्स-प्रिन्सेज़ हैं। आपस में दोनों सखा-सखी ठहरे। उनको राधा का स्वामी नहीं कहेंगे। जब राधा का स्वामी बनता है फिर नाम बदलकर लक्ष्मी-नारायण नाम पड़ेगा। श्री नारायण स्वामी है। हाँ, जब तक शादी नहीं की है तब तक स्वामी नहीं कहेंगे। यह समझने की बातें हैं।

बाप ने बच्चों से पूछा अपना शान्तिधाम, सुखधाम याद है? यह रावणपुरी दु:खधाम है। पुरी रहने की होती है। रावणपुरी में राम-सीता हैं नहीं। यूँ तो तुम सब सीतायें हो और बाप कहते हैं – मैं हूँ राम। मुझे तुम सीताओं को रावण की जेल से छुड़ाना है। जो सारी दुनिया समुद्र के बीच में है, उन पर रावण का राज्य है। रामराज्य तो सतयुग में था, जिसमें लक्ष्मी-नारायण राज्य करते थे। था भारत पर राज्य। परन्तु उस समय और कोई खण्ड न होने कारण कहा जाता है, यह भी विश्व के मालिक थे। हैं भारत के मालिक और कोई खण्डों का नाम निशान नहीं रहता। तो सारी दुनिया के मालिक ठहरे ना, और वहाँ तुम्हारा मीठे पानी पर राज्य चलता है। तो यह तुम बच्चों की बुद्धि में रहना चाहिए कि अब नाटक पूरा हुआ है, अभी वापिस घर जाना है। हमने 84 का चक्र लगाया है। मनुष्यों की बुद्धि में कुछ नहीं आता। ऐसे ही सुनी-सुनाई बात कह देते हैं। तुम जानते हो – हम 84 का चक्र लगाकर आये हैं। अभी हमको वापिस जाना है। फिर नयेसिर चक्र शुरू होगा। पुरानी दुनिया कलियुग से नयेसिर शुरू नहीं हो सकता। परन्तु नया चक्र सतयुग से शुरू होगा। यह सब बातें तुम बच्चों को ही समझाई जाती हैं, परन्तु कितनी बातें बच्चे भूल जाते हैं। धारणा न होने कारण फिर वह खुशी का पारा नहीं चढ़ सकता। हमारा यह 84 वाँ अन्तिम जन्म है। फिर हम अपने घर जायेंगे। जब तक पवित्र नहीं बने हैं तब तक कोई वापिस नहीं जा सकते। जन्म लेना ही है। जो तुम पहले-पहले थे अब पिछाड़ी में हो। सब धर्म वाले अभी अन्त में भिन्न नाम, रूप देश, काल में हैं। गुरूनानक जिसने सिक्ख धर्म स्थापन किया, उसकी आत्मा कहाँ है? यहाँ ही भिन्न नाम-रूप में है। सबको पूरा पार्ट बजाना ही है। अभी तुम पुरुषार्थ कर रहे हो – नई दुनिया में जाने के लिए। पिछाड़ी में सबको हिसाब-किताब चुक्तू कर फिर जाना है। गुरूनानक की आत्मा फिर अपने समय पर आयेगी। सतयुग, त्रेता, द्वापर में वह आ न सके। वह आती ही है कलियुग में। अपने समय पर आकर धर्म स्थापन करेगी। नम्बरवार अवतार आते हैं, जो आकर अपना धर्म स्थापन करते हैं। पहला नम्बर अवतार है भगवान का। अब निराकार कैसे अवतार ले? बताते हैं मैंने इस चोले का आधार लिया है। यह अपने जन्मों को नहीं जानते। शरीर तो इनका है ना। गाया भी जाता है – आये देश पराये। और सब अपने देश, अपने शरीर में आते हैं। हाँ धर्म स्थापक दूसरे के शरीर में आ सकते हैं, फिर उनका नाम होता है। पवित्र आत्मा आकर प्रवेश करेगी। जो पहली आत्मा है वह धर्म स्थापन नहीं करेगी, जो आत्मा प्रवेश करेगी वही स्थापना करेगी। सितम आदि पहले वाली आत्मा सहन करती है। जैसे क्राइस्ट की आत्मा आई वह तो सतोप्रधान थी, उनको कुछ सहन नहीं करना है। उनको तो पहले सतो में ही आना है। तो जो पहली आत्मा है, वह सहन करती है। दु:ख तो आत्मा को ही होता है ना, जब शरीर के साथ है। धर्मराज भी शरीर धारण कराए सज़ा देंगे। आत्माओं को फील होता है कि हम सज़ा खा रहे हैं इसलिए कहा जाता है पाप आत्मा, पुण्य आत्मा। पाप शरीर, पुण्य शरीर नहीं कहा जाता है। सन्यासी तो कह देते हैं आत्मा निर्लेप है, शरीर पर पाप लगता है। अनेक प्रकार के गुरू लोग हैं। बाबा ने बहुत गुरूओं का अनुभव किया है। बाबा हर एक से पूछते रहते थे – क्यों सन्यास किया? घरबार कैसे छोड़ा? बतलाते नहीं थे। तो मैं कहता था कि मैं कैसे समझूँ कि मैं भी कर सकूँगा वा नहीं? ऐसी-ऐसी बातें बड़े शुरूडनेस (समझदारी) से करते थे। अभी समझते हैं कि यह सारा जो मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ है इनकी जड़जड़ीभूत अवस्था है। अभी फिर से नया शुरू होना है। प्रलय तो होती नहीं। शास्त्रों में महाप्रलय दिखाई है। वह तो होती नहीं। कहते हैं श्रीकृष्ण सागर में पीपल के पत्ते पर आया। यह सब हैं गपोड़े।

बाप कहते हैं – मैं तो आता हूँ आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करने। हमेशा पहले स्थापना फिर विनाश, पालना.. ऐसे कहना चाहिए। ऐसे नहीं कि पहले स्थापना, पालना, पीछे विनाश कहो। तो कोई सेन्सीबुल सुनेगा तो कहेगा यह तोते मुआफिक पढ़े हुए हैं। स्थापना, पालना फिर विनाश कैसे होगा! इसलिए कायदेमुज़ीब करेक्ट अक्षर बोलने हैं। स्थापना, विनाश, पालना। अभी ऊंचे ते ऊंच बाप की तुमको श्रीमत मिलती है। देते हैं ब्रह्मा के तन द्वारा, यह बाबा का शरीर मुकरर है। सेन्सीबुल बच्चे जो होंगे उनको कोई राय पूछनी होगी तो श्रीमत लेंगे। श्रीमत पर चलने से कभी धोखा नहीं खायेंगे। शिवबाबा की ही श्रीमत है। बाबा दूर थोड़ेही है। बाप देखते हैं बच्चे रांग चलते हैं वा राइट चलते हैं। हर एक को सर्जन से राय मिल सकती है। यह है सबसे बड़ा सर्जन। कोई भी बात में तकलीफ हो तो बाबा बैठा है। श्रीमत पर चलते रहो। समझो कोई गरीब बच्चा है, धारणा अच्छी है, सर्विसएबुल है, परन्तु गरीब है इसलिए आकर मिल नहीं सकता। ऐसे को टिकट भी मिल सकती है। बाप तो गरीबनिवाज़ है ना। ऐसे तो बाप को बच्चे चाहिए जो गरीब से गरीब हो और पढ़कर ऊंचे ते ऊंचा चढ़ जाये। आजकल सब गरीब हैं। 10-20 लाख तो कुछ भी नहीं हैं। 10-20 करोड़ हो तो साहूकार कहा जाए। बाबा ने समझाया है – पदमपति यह वर्सा ले नहीं सकेंगे। वह अर्पण हो न सकें। न बाबा एलाउ करेंगे। गरीबों की पाई-पाई सफल होती है। ऐसी क्या पड़ी है, यह भी पक्का सौदागर है इसलिए साहूकार आते ही नहीं हैं। बाप कहते हैं तुम अपनी राजाई सम्भालते रहो।

अब तुम बच्चे जानते हो – बाबा आकर सब वेदों, शास्त्रों का सार समझाते हैं। यह भी बाबा ने समझाया है – विष्णु को ब्रह्मा बनने में 5 हजार वर्ष लगते हैं और ब्रह्मा से विष्णु को निकलने में एक सेकण्ड… और कोई यह बातें समझ न सके। बाबा कितना अच्छा हिसाब समझाते हैं। विष्णु की नाभी कमल से 84 जन्मों बाद अभी ब्रह्मा निकला है। अभी ब्रह्मा सरस्वती सो फिर लक्ष्मी-नारायण बन जाते हैं। सूर्यवंशी बनेंगे फिर चन्द्रवंशी बनेंगे। यह सारा चक्र बुद्धि में है। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा यह टापिक बहुत अच्छी है। सारे चक्र का राज़ इसमें आ जाता है। यह सब बातें सेन्सीबुल बच्चे अच्छी रीति धारण कर सकेंगे और प्वाइंट्स लिखते करेक्ट करते रहेंगे। भाषण जब करते हैं, कोई को याद नहीं रहता तो कागज सामने रखते हैं। तुम बच्चों को ओरली समझाना है। बैरिस्टर लोग बहुत अभ्यास करते हैं। फिर दूसरा वकील आरग्यू करेंगे तो किताब खोलकर देखेंगे। फिर बोलेंगे जज साहेब देखो फलानी लॉ बुक में यह है। वह फिर कहेंगे फलाने बुक में यह है। उन्हों के पास बहुत प्वाइंटस रहती हैं। इंजीनियर की भी बुद्धि चलती रहती है। तो हमको ऐसे-ऐसे प्लैन्स बनाने हैं। तुमको भी विचार चलाना है। टापिक की लिस्ट बनानी चाहिए। इस पर यह-यह प्वाइंट्स समझायेंगे। फिर सारी नॉलेज बुद्धि में आ जायेगी, फिर एक्यूरेट भाषण करेंगे। अचानक भाषण करेंगे तो गड़बड़ होगी। यह भी नम्बरवार प्रैक्टिस है। तब तो जो तीखे हैं उनको बुलाते हैं, आकर भाषण करो। समझते हैं यह बड़ी बहन है। भाईयों में जगदीश होशियार है। तो कहेंगे यह बड़ा भाई है तो फिर रिगार्ड पूरा रखना चाहिए। फिर बड़े का काम है छोटों को सिखाना। स्कूल में मैनर्स भी सिखलाते हैं। इसमें भी मैनर्स अच्छे चाहिए। दैवीगुण धारण करने हैं। मूडी नहीं बनना है। कभी मीठा, कभी कैसा वह फिर सर्विस नहीं कर सकते। बहुत मीठा बनना चाहिए। बहुत प्यार से किसको समझाना है तब अच्छा पद मिल सकता है। सभी को राज़ी करना है। यह तो जानते हो बाबा आकर सभी मनुष्य मात्र को खुश करते हैं। सर्व के सद्गति दाता, सर्व को सुख-शान्ति देने वाला है। प्रेम का सागर, सुख का सागर है। तुम्हारा बाप है तो बाप जैसा मीठा बनना पड़े। तुम कल्प-कल्प बाप का शो निकालते हो। शिव शक्ति पाण्डव सेना तुम स्वर्ग की स्थापना करते हो, टाइम लगता है। जब तक आसुरी गुण बदल दैवीगुण बन जायें। आत्मा पर जो जंक चढ़ी हुई है वह कैसे निकलेगी? योगबल से। जितना बाबा की याद में रहेंगे उतना कट उतरेगी। बच्चों को मुरली एक भी मिस नहीं करनी चाहिए। बहुत बच्चे सुस्त हैं जो कभी मुरली भी नहीं पढ़ते हैं। मुरली में बहुत अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स निकलती हैं। तो कभी भी मुरली मिस नहीं होनी चाहिए। परन्तु बाबा जानते हैं अच्छे-अच्छे बी.के. भी मुरली की परवाह नहीं करते। समझते हैं हम होशियार हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सभी को राज़ी करना है। मूडी दिमाग वाला नहीं बनना है। बहुत-बहुत मीठा बनना है। अच्छे मैनर्स सीखने और सिखलाने हैं।

2) हर कदम पर सुप्रीम सर्जन से राय लेनी है। श्रीमत पर चलते रहना है। सेन्सीबुल बन हर प्वाइंटस स्वयं में धारण करनी है।

वरदान:- मर्यादा की लकीर के अन्दर सदा छत्रछाया की अनुभूति करने वाले मायाजीत, विजयी भव 
बाप की याद ही छत्रछाया है, जितना याद में रहते उतना साथ का अनुभव होता है। छत्रछाया में रहना अर्थात् सदा सेफ रहना। जो संकल्प से भी छत्रछाया से बाहर निकलते हैं उन पर माया का वार होता है। छत्रछाया के नीचे, मर्यादा की लकीर के अन्दर रहने से कोई की हिम्मत नहीं अन्दर आने की। लेकिन यदि लकीर से बाहर निकले तो माया है ही होशियार, इसलिए साथ के अनुभव से मायाजीत बनो।
स्लोगन:- अशरीरी बनने का अभ्यास ही समाप्ति के समय को समीप लाने का आधार है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize