today murli 30 october

TODAY MURLI 30 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 October 2018 :- Click Here

30/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the happiness of knowledge continues for 21 generations. That is the constant happiness of heaven. On the path of devotion, when they do intense devotion, they receive momentary happiness.
Question: By following which shrimat can you children attain salvation?
Answer: The Father’s shrimat is: Forget this old world and remember Me alone. This is known as surrendering yourself or dying alive. By following this shrimat, you become the most elevated of all. You then receive salvation. Corporeal human beings cannot grant salvation to human beings. The Father alone is the Bestower of Salvation for all.
Song: Salutations to Shiva. 

Om shanti. You children heard the song. It is sung: God is the Highest on High. Human beings don’t know God’s name. Devotees cannot know God until God comes and gives the devotees His own introduction. It has been explained that there is knowledge and devotion. The golden and silver ages are the reward of knowledge. You are now receiving knowledge from the Ocean of Knowledge and, by making effort, you are creating your reward of constant happiness. Then, in the copper and iron ages, there will be devotion. The reward of knowledge continues through the golden and silver ages. The happiness of knowledge continues for 21 generations. That is the constant happiness of heaven. In hell, there is momentary happiness. It is explained to you children that when there were the golden and silver ages, the path of knowledge, there was the new world, new Bharat. That is called heaven. Bharat has now become tamopradhan hell. There are many types of sorrow. In heaven, there is no name or trace of sorrow. There is no need to adopt a guru. It is God alone who has to uplift the devotees. It is now the end of the iron age and destruction is just in front of you. The Father comes, gives you knowledge through Brahma and establishes heaven. He inspires destruction through Shankar and sustenance through Vishnu. No one understands the acts of God. Human beings are said to be sinful souls or charitable souls. It is not said: Sinful Supreme Soul or Charitable Supreme Soul. A great soul would be called a great soul; he wouldn’t be called a great Supreme Soul. Souls become pure. The Father has explained: First of all, the main religion is the deity religion. At that time, it was just the sun dynasty that ruled the kingdom; there wasn’t the moon dynasty. There was just the one religion. There were palaces of gold and silver in Bharat. All the roofs and walls were decorated with diamonds and jewels. Bharat was like a diamond. That same Bharat has now become like shells. The Father says: I come at the end of the cycle. I come at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. I make Bharat into heaven once again through you mothers. You are the Shiv Shaktis, the Pandava Army. Pandavas have love for the one Father. The Father is teaching them. All the scriptures etc. are the paraphernalia of the path of devotion. Those are the devotion cult s. The Father now comes and gives everyone knowledge, the fruit of devotion, through which you go into salvation. The Bestower of Salvation, the Father of all, is just the One. The Father alone is called the Ocean of Knowledge. Human beings cannot grant liberation or liberation-in-life to human beings. This knowledge is not in any of the scriptures. The Father alone is called the Ocean of Knowledge. You claim your inheritance from Him and you will then become full of all virtues, 16 celestial degrees full. This is the praise of the deities. Lakshmi and Narayan are 16 celestial degrees full and Rama and Sita are 14 degrees. This is a study. This is not a common spiritual gathering. Only the One is the Truth. He alone comes and explains the truth. This is the impure world. There are no impure beings in the pure world and no pure beings in the impure world. Only the one Father is the One who makes you pure. The soul says: Salutations to Shiva. The soul said salutations to his Father. If someone says that Shiva exists in him, in that case, to whom is he bowing down? This ignorance has spread. The Father is now making you children trikaldarshi. You know that the place where all souls reside is the land of nirvana, your sweet home. Everyone remembers liberation where we souls reside with the Father. You are now remembering the Father. When you go to the land of happiness, you will not remember the Father. This is the land of sorrow; everyone is in degradation. There was new Bharat in the new world. That was the land of happiness. There were the sun dynasty and the moon dynasty kingdoms. People don’t know what the connection is between Lakshmi and Narayan and Radhe and Krishna. That princess and prince are each from separate kingdoms. It isn’t that they are brother and sister. She was in her separate kingdom and Krishna was a prince in his own kingdom. When they married, they became Lakshmi and Narayan. In the golden age, everything gives happiness whereas in the iron age, everything causes sorrow. In the golden age, no one has untimely death. You children know that you study easy Raja Yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul, in order to change from an ordinary man into Narayan and an ordinary woman into Lakshmi. This is a school. There is no aim or objective in those spiritual gatherings. They simply continue to relate the Vedas and scriptures etc. You have now come to know the human world cycle from the Father. The Father alone is called the Knowledgefull One, the Blissful and Merciful One. You sing: O Baba, come and have mercy! Only Heavenly God, the Father , comes and establishes heaven at the confluence age. There are very few human beings in heaven. Where will all the rest of the people go? The Father takes everyone to the land of liberation. There was just Bharat in heaven, and later on, too, just Bharat will remain. Bharat, the land of truth, is remembered here. At present, Bharat has become poverty-stricken. It continues to beg for every penny. Bharat was like a diamond and is now worth a shell. This secret of the drama has to be understood. You know the Father, the Creator, and the beginning, middle and end of His creation. The Congress people sing: Salutations to the mothers. However, it is only pure ones who are praised. God Himself comes and begins to say: Salutations to the mothers. Shiv Baba Himself came and said: Women are the gateway to heaven. There is the Shakti Army. They are the ones who will bring about the kingdom of heaven. That is called the World Almighty Authority Kingdom. You Shaktis established self-sovereignty and it is now once again being established. The golden age is called the kingdom of Rama. Even now, they say: There should be the kingdom of Rama. However, no human being can do this. Incorporeal God , the Father , Himself comes and teaches you. He too definitely needs a body. He definitely has to enter the body of Brahma. Shiv Baba is the Father of all of you souls. Prajapita has also been remembered. Pita is the Father. Brahma is called the great-great-grandfather. Both Adi Dev and Adi Devi are sitting here doing tapasya. You too are doing tapasya. This is Raja Yoga. Sannyasis have hatha yoga; they can never teach Raja Yoga. The scriptures and the Gita etc. are the paraphernalia of the path of devotion. They have been studying those but have continued to become impure. This is the same Mahabharat War through which destruction is to take place. There is no science in the Vedas. There are things of knowledge in that. It is the wonder of a scientific intellect that it invents inventions. They invent vimans (planes) etc. for happiness. Then, later, destruction takes place through them. Skills for happiness will remain in Bharat, and the skills for sorrow and for killing one another will end. The wisdom of science will continue. These bombs etc. were manufactured in the previous cycle too. The new world has to be established and the impure world then has to be destroyed. The Father says: You have completed your 84 births. Now renounce the arrogance of those bodies and remember Me, your Father, and your sins will be absolved in the fire of the yoga of remembrance. Ravan has made you perform many sinful actions. There is just one way to become pure. You are souls anyway. You say: I am a soul. You would not say that you are the Supreme Soul. You say: Do not upset my soul! It is a very big mistake to say that the soul is the Supreme Soul. Devotion is now tamopradhan and adulterated. They just sit and worship whoever comes in front of them. The remembrance of One is called unadulterated. Adulterated devotion is now to end. The Father comes and gives you your unlimited inheritance. It is the Father and none other who gives everyone happiness. The Father says: By connecting your intellects in yoga to Me alone, your final thoughts will lead you to your destination. I am the Creator of heaven. This is the world of thorns. They continue to fight and quarrel among themselves. This old world is now changing. The urn of the nectar of knowledge is placed on the mothers. This is knowledge but, in comparison to poison, it is called nectar. It is said: Why should I renounce nectar and drink poison? You will become elevated by following shrimat. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes and gives shrimat. Krishna also became that by following shrimat. These matters have to be understood. You have to forget the whole of the old world and remember the one Father. It is now that you have to surrender yourselves. This is known as dying alive. The things of the path of devotion are separate. Those are the devotion cult s. There are many gurus of devotion. However, only the one incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is the Bestower of Salvation. Corporeal human beings cannot grant salvation to human beings. They cannot give happiness for all time. It is the Father who gives happiness for all time. This is a school. The Father tells you the aim and objective. He says: You are to receive your inheritance of the happiness of heaven. All the rest will go to the land of liberation. There is the land of peace, the land of happiness and this is the land of sorrow. This cycle continues to turn. This is called the discus of self-realisation. No one can be liberated from the cycle of this drama. Each one has a predestined, imperishable part. The Father is teaching you and changing you from human beings into deities. Then, it depends on how much each one of you studies. Some will become kings and others will become subjects. There is the sun dynasty. When there was the sun dynasty in the golden age, there wasn’t anyone else. The land of Bharat was the highest-on-high land of truth. It has now become the land of falsehood. This is called the extreme depths of hell. There is so much violence over money. There, nothing is lacking for which they would have to commit sin. The Father Himself is making this degraded world elevated through you mothers. The Father says to them: Salutations to the mothers. Sannyasis do not say: Salutations to the mothers. Their renunciation is limited. This is unlimited renunciation. The whole world has to be renounced by the intellect. You have to remember the land of silence and the land of happiness. Forget the land of sorrow. This is the Father’s order. The Father is explaining to you souls and you are listening through your ears. Shiv Baba is explaining to you through these organs. He is the Ocean of Knowledge. That One is not a sage, saint or great soul. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Surrender yourself totally to the Father. Renounce the arrogance of the body and have your sins absolved in the fire of yoga.
  2. Study while keeping your aim and objective in your intellect. Keeping the predestined drama in your intellect, become a spinner of the discus of self-realisation.
Blessing: May you be a contented idol who attains the throne of a future kingdom with the certificate of contentment.
“I have to remain content and make everyone content”. Let this slogan be written on the board of your forehead because those who have this certificate will claim the certificate of the fortune of the future kingdom. So, every morning at amrit vela, bring this slogan into your awareness. Just as you write slogans on boards, in the same way, let this slogan always be written on the board of your forehead and you will all become contented idols. Those who are content are always happy.
Slogan: Those who have loving and contented interaction with everyone become images of success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 October 2018

To Read Murli 29 October 2018 :- Click Here
30-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज्ञान का सुख 21 पीढ़ी चलता है, वह है स्वर्ग का सदा सुख, भक्ति में तीव्र भक्ति से अल्पकाल क्षण भंगुर सुख मिलता है”
प्रश्नः- किस श्रीमत पर चलकर तुम बच्चे सद्गति को प्राप्त कर सकते हो?
उत्तर:- बाप की तुम्हें श्रीमत है – इस पुरानी दुनिया को भूल एक मुझे याद करो। इसी को ही बलिहार जाना अथवा जीते जी मरना कहा जाता है। इसी श्रीमत से तुम श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बनते हो। तुम्हारी सद्गति हो जाती है। साकार मनुष्य, मनुष्य की सद्गति नहीं कर सकते। बाप ही सबका सद्गति दाता है।
गीत:- ओम् नमो शिवाए……… 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। गाया जाता है ऊंचे ते ऊंचा भगवान्। अब भगवान् का नाम तो मनुष्यमात्र नहीं जानते। भक्त भगवान् को नहीं जानते, जब तक कि भगवान् आकर भक्तों को अपनी पहचान न दे। यह तो समझाया गया है – ज्ञान और भक्ति। सतयुग त्रेता है ज्ञान की प्रालब्ध। अभी तुम ज्ञान सागर से ज्ञान पाकर पुरुषार्थ से अपनी सदा सुख की प्रालब्ध बना रहे हो फिर द्वापर-कलियुग में भक्ति होती है। ज्ञान की प्रालब्ध सतयुग-त्रेता तक चलती है। ज्ञान का सुख तो 21 पीढ़ी चलता है। वह हैं स्वर्ग के सदा सुख। नर्क का है अल्पकाल क्षण भंगुर सुख। बच्चों को समझाया जाता है सतयुग-त्रेता ज्ञान मार्ग था, नई दुनिया, नया भारत था। उसको स्वर्ग कहा जाता है। अभी तमोप्रधान भारत नर्क हो गया है। अनेक प्रकार के दु:ख हैं। स्वर्ग में दु:ख का नाम-निशान नहीं रहता। गुरू करने की दरकार ही नहीं। भक्तों का उद्धार भगवान् को ही करना है। अभी कलियुग का अन्त है, विनाश सामने खड़ा है। बाप आकर ब्रह्मा द्वारा ज्ञान देकर स्वर्ग की स्थापना करते हैं और शंकर द्वारा विनाश, विष्णु द्वारा पालना कराते हैं। परमात्मा के कर्तव्य को कोई समझते नहीं। मनुष्य को पाप आत्मा, पुण्य आत्मा कहा जाता है, पाप परमात्मा, पुण्य परमात्मा नहीं कहा जाता। महात्मा को भी महान् आत्मा कहेंगे, महान् परमात्मा नहीं कहेंगे। आत्मा पवित्र बनती है। बाप ने समझाया है – पहले-पहले मुख्य है देवी देवता धर्म, उस समय सूर्यवंशी ही राज्य करते थे, चन्द्रवंशी नहीं थे, एक धर्म था। भारत में सोने-चांदी के महल थे, हीरे जवाहरों से छतें-दीवारें सब सजी हुई थी। भारत हीरे जैसा था, वही भारत अब कौड़ी मिसल बना है। बाप कहते हैं मैं कल्प के अन्त में, सतयुग आदि के संगम पर आता हूँ। भारत को माताओं द्वारा फिर से स्वर्ग बनाता हूँ। यह है शिव शक्ति, पाण्डव सेना। पाण्डवों की प्रीत एक बाप से है। उन्हों को बाप पढ़ाते हैं। शास्त्र आदि हैं सब भक्ति मार्ग की सामग्री। वह है भक्ति कल्ट। अभी बाप आकर सबको भक्ति का फल ज्ञान देते हैं, जिससे तुम सद्गति में जाते हो। सद्गति दाता सबका बाप एक ही है। बाप को ही ज्ञान सागर कहा जाता है। बाकी मनुष्य, मनुष्य को मुक्ति-जीवनमुक्ति दे नहीं सकते। यह ज्ञान कोई शास्त्रों में नहीं है। ज्ञान सागर एक बाप को ही कहा जाता है, उनसे तुम वर्सा लेते हो फिर सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण बन जायेंगे। यह देवताओं की महिमा है। लक्ष्मी-नारायण हैं 16 कला सम्पूर्ण, राम-सीता हैं 14 कला। यह पढ़ाई है। यह कोई कॉमन सतसंग नहीं है। सत है ही एक, वही आकर सत समझाते हैं। यह है ही पतित दुनिया। पावन दुनिया में पतित होते ही नहीं, पतित दुनिया में पावन होते नहीं। पावन बनाने वाला एक ही बाप है। आत्मा कहती है शिवाए नम:, आत्मा ने अपने बाप को कहा नमस्ते। अगर कोई कहते शिव मेरे में है तो फिर नमस्कार किसको करते हैं। यह अज्ञान फैला हुआ है। अब तुम बच्चों को बाप त्रिकालदर्शी बनाते हैं। तुम जानते हो सब आत्मायें जहाँ रहती हैं वह है निर्वाणधाम, स्वीट होम। मुक्ति को तो सभी याद करते हैं, जहाँ हम बाप के साथ रहते हैं। अभी तुम बाप को याद करते हो। सुखधाम में जायेंगे तो बाप को याद नहीं करेंगे। अभी यह है ही दु:खधाम, सभी दुर्गति में हैं। नई दुनिया में भारत नया था, सुखधाम था, सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राज्य था। मनुष्यों को तो यह पता नहीं है कि लक्ष्मी-नारायण और राधे-कृष्ण का क्या कनेक्शन है? वह राजकुमारी, वह राजकुमार अलग-अलग राज्य के हैं। ऐसे नहीं कि दोनों ही आपस में भाई-बहिन हैं। वह अलग अपनी राजधानी में थी, कृष्ण अपनी राजधानी का राजकुमार था। उन्हों का स्वयंवर होता है तो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। सतयुग में हर चीज सुख देने वाली है, कलियुग में हर चीज दु:ख देने वाली है। सतयुग में किसी की अकाले मृत्यु नहीं होती। तुम बच्चे जानते हो हम अपने परमपिता परमात्मा बाप से सहज राजयोग सीखते हैं – नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनने के लिये। यह स्कूल है। उन सतसंगों आदि में तो कोई एम आब्जेक्ट नहीं होती। वेद-शास्त्र आदि सुनाते रहते हैं। बाप के द्वारा तुम इस मनुष्य सृष्टि चक्र को अब जान गये हो। बाप को ही नॉलेजफुल, ब्लिसफुल, रहमदिल कहा जाता है। गाते हैं – ओ बाबा, आकर रहम करो। हेविनली गॉड फादर ही आकर हेविन स्थापन करते हैं संगम पर।

हेविन में बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। बाकी इतने सभी कहाँ जायेंगे? बाप सभी को मुक्तिधाम में ले जाते हैं। स्वर्ग में सिर्फ भारत ही था, फिर भी भारत ही रहेगा। भारत सचखण्ड यहाँ गाया हुआ है। अभी तो भारत कंगाल बन गया है। पैसे-पैसे के लिए भीख मांगते रहते हैं। भारत हीरे जैसा था, अब कौड़ी मिसल है। यह ड्रामा के राज़ को समझना है। तुम रचयिता बाप को और उनकी रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। कांग्रेसी लोग गाते भी हैं वन्दे मातरम्। परन्तु वन्दना पवित्र की ही की जाती है। परमात्मा ही आकर वन्दे मातरम् कहना शुरू करते हैं। शिवबाबा ने ही आकर कहा है – नारी स्वर्ग का द्वार है। शक्ति सेना है ना। यह स्वर्ग का राज्य दिलाने वाली है। जिसको ही वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी राज्य कहा जाता है। तुम शक्तियों ने स्वराज्य स्थापन किया था, अब फिर से स्थापन हो रहा है। रामराज्य कहा जाता है सतयुग को। अभी भी कहते हैं रामराज्य हो। परन्तु वह कोई मनुष्य तो कर न सके। इनकारपोरियल गॉड फादर ही आकर पढ़ाते हैं। उनको भी जरूर शरीर चाहिए। जरूर ब्रह्मा तन में आना पड़े। शिवबाबा तो तुम सब आत्माओं का बाप है। प्रजापिता भी गाया हुआ है। पिता तो बाप ठहरा ना। ब्रह्मा को ग्रेट ग्रेट ग्रैन्ड फादर कहा जाता है। आदि देव और आदि देवी दोनों बैठे हैं, तपस्या कर रहे हैं। तुम भी तपस्या कर रहे हो। यह है राजयोग। सन्यासियों का है हठयोग। वह कभी राजयोग सिखला नहीं सकते। गीता आदि जो भी शास्त्र हैं वह सब हैं भक्ति मार्ग की सामग्री। पढ़ते आये हैं परन्तु तमोप्रधान बन गये हैं। यह वही महाभारत लड़ाई है जिससे विनाश होना है। साइन्स कोई वेदों में नहीं है। उनमें तो ज्ञान की बातें हैं। यह साइन्स बुद्धि का चमत्कार है जो इन्वेन्शन निकालते रहते हैं। विमान आदि बनाते हैं सुख के लिए। फिर पिछाड़ी में इनके द्वारा ही विनाश होता है। यह सुख का हुनर भारत में रह जायेगा। दु:ख का हुनर, मारने आदि का ख़लास हो जायेगा। साइन्स का अक्ल चला आता है। यह बाम्ब्स आदि कल्प पहले भी बने थे। पतित दुनिया का विनाश फिर नई दुनिया की स्थापना होनी है। बाप कहते हैं तुमने 84 जन्म पूरे किये हैं, अब इस देह का अहंकार छोड़ मुझ बाप को याद करो तो याद की योग अग्नि से विकर्म विनाश होंगे। रावण ने तुमसे बहुत विकर्म कराये हैं। पावन बनने का तो एक ही उपाय है। तुम आत्मा तो हो ही। कहते भी हो मैं आत्मा, ऐसे नहीं कहेगे मैं परमात्मा हूँ। कहते हो मेरी आत्मा को रंज (नाराज) मत करो। आत्मा सो परमात्मा कहना यह तो बहुत बड़ी भूल है। अभी है तमोप्रधान व्यभिचारी भक्ति। जो आया उनको बैठ पूजते हैं। अव्यभिचारी एक की याद को कहा जाता है। अब व्यभिचारी भक्ति का भी अन्त होना है। बाप आकर बेहद का वर्सा देते हैं। सभी को सुख देने वाला एक बाप है, दूसरा न कोई। बाप कहते हैं मुझ एक के साथ बुद्धियोग जोड़ने से ही अन्त मती सो गति हो जायेगी। मैं हूँ ही स्वर्ग का रचयिता। यह कांटों की दुनिया है। एक-दो में लड़ते-झगड़ते रहते हैं। अभी यह पुरानी दुनिया बदल रही है। ज्ञान अमृत का कलष माताओं पर रखते हैं। यह है नॉलेज। परन्तु विष की भेंट में अमृत कहा गया है। कहा भी जाता है अमृत छोड़ विष काहे को खाए…..। श्रीमत से ही तुम श्रेष्ठ बनेंगे। परमपिता परमात्मा आकर श्रीमत देते हैं। कृष्ण भी श्रीमत से ऐसा बना है। यह समझने की बातें हैं। इस सारी पुरानी दुनिया को भूल एक बाप को याद करना है। बलिहार भी अभी जाना होता है। इनको ही जीते जी मरना कहा जाता है। भक्ति मार्ग की बातें अलग हैं। वह है भक्ति कल्ट। भक्ति के तो ढेर गुरू हैं। परन्तु सद्गति दाता एक ही निराकार परमपिता परमात्मा है। साकार मनुष्य, मनुष्य की सद्गति कर नहीं सकते। सदा के लिए सुख दे नहीं सकते। सदा सुख देने वाला बाप है। यह पाठशाला है। एम आब्जेक्ट भी बाप बतलाते हैं। कहते हैं तुमको स्वर्ग के सुख का वर्सा मिलेगा। बाकी सब मुक्तिधाम में चले जायेंगे। शान्तिधाम, सुखधाम और यह है दु:खधाम। यह चक्र फिरता रहता है। इसको स्वदर्शन चक्र कहा जाता है। इस ड्रामा के चक्र से कोई छूट नहीं सकता है। बना बनाया अविनाशी पार्ट है हरेक का। बाप तुमको पढ़ाकर मनुष्य से देवता बना रहे हैं। फिर जितना जो पढ़ेंगे, तो कोई राजा बनेंगे, कोई प्रजा बनेंगे। सूर्यवंशी डिनायस्टी है ना। सतयुग में सूर्यवंशी थे तो और कोई नहीं थे। भारत खण्ड ही ऊंच ते ऊंच सचखण्ड था, अब झूठ खण्ड बना है, इसको रौरव नर्क कहा जाता है। पैसे के लिए कितनी मारामारी होती है। वहाँ तो कोई अप्राप्त वस्तु नहीं रहती, जिसकी प्राप्ति के लिए कोई पाप करना पड़े। बाप ही इस भ्रष्टाचारी दुनिया को श्रेष्ठाचारी बना रहे हैं, इन माताओं द्वारा। इन्हों को बाप वन्दे मातरम् कहते हैं। सन्यासी नहीं कहते वन्दे मातरम्। उनका है हद का सन्यास। यह है बेहद का सन्यास। सारी दुनिया का बुद्धि से सन्यास करना है। शान्तिधाम, सुखधाम को याद करना है। दु:खधाम को भूल जाना है। बाप का यह फ़रमान है। बाप आत्माओं को समझाते हैं, तुम इन कानों से सुनते हो। शिवबाबा इन आरगन्स द्वारा तुमको समझाते हैं। वह है ज्ञान सागर। यह कोई साधू, सन्त, महात्मा नहीं है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप पर पूरा बलिहार जाना है। देह का अहंकार छोड़ योग अग्नि से विकर्म विनाश करने हैं।

2) एम ऑब्जेक्ट को बुद्धि में रखकर पढ़ाई करनी है। बने बनाये ड्रामा को बुद्धि में रखकर स्वदर्शन चक्रधारी बनना है।

वरदान:- सन्तुष्टता के सर्टीफिकेट द्वारा भविष्य राज्य-भाग्य का तख्त प्राप्त करने वाले सन्तुष्ट मूर्ति भव
स्लोगन:- सन्तुष्ट रहना है और सर्व को सन्तुष्ट करना है -यह स्लोगन सदा आपके मस्तक रूपी बोर्ड पर लिखा हुआ हो क्योंकि इसी सर्टीफिकेट वाले भविष्य में राज्य-भाग्य का सर्टीफिकेट लेंगे। तो रोज़ अमृतवेले इस स्लोगन को स्मृति में लाओ। जैसे बोर्ड पर स्लोगन लिखते हो ऐसे सदा अपने मस्तक के बोर्ड पर यह स्लोगन दौड़ाओ तो सभी सन्तुष्ट मूर्तियां हो जायेंगे। जो सन्तुष्ट हैं वह सदा प्रसन्न हैं।

स्लोगन:- आपस में स्नेह और सन्तुष्टता सम्पन्न व्यवहार करने वाले ही सफलता मूर्त बनते हैं।

TODAY MURLI 30 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 October 2017 :- Click Here

30/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father is giving you the musk of knowledge. Therefore, you should surrender yourself to such a Father. Follow the mother and Father and serve to make everyone pure.
Question: What are the signs of fortunate children?
Answer: Fortunate children study and teach others very well. Their intellects have firm faith; they never let go of the Father’s hand. While doing their business etc., they also follow this course. They remain very happy. However, even if those who don’t have it in their fortune were given a lottery ,they would lose everything.
Song: No one is unique like the Innocent Lord.

Om shanti. Those who don’t know anything are said to be innocent. You children now know that you human beings were truly so innocent! Maya makes you so innocent. You don’t even know who the Father is. You call out to the Father, but you don’t know Him. You don’t even know what property you receive from the Father. So, that would be called innocent, would it not? Whether you call someone innocent or a buddhu, it is the same thing. At this time, everyone has become senseless and they are even proud of their lack of sense. Children, you know the Father and you are listening to Him. However, you souls have to make effort to become soul conscious. Baba Himself sits here and teaches you souls to become soul conscious. Have the faith that you are the children of the Father from beyond. You know your worldly father, and yet you are so innocent that you don’t know your Father from beyond this world. It is now in the intellects of you children that the Supreme Father, the Supreme Soul, explains these things. You are not little children; your organs are large. The Father explains: If you consider yourself to be a body, you won’t be able to remember the Father. Consider yourself to be soul conscious. The Father doesn’t say “Child, child” to the body but to the soul, and all of you children, souls, call Shiva: the Supreme Soul, Baba. You don’t call any other soul or Brahma this. This one (Brahma) is also His child. You know that your unlimited Father has now entered this one. Therefore, you have to remember the Father. You also have to remember the cycle of 84 births. This is an unlimited play of 5000 years and you are actors. You now know the beginning, the middle and the end of the drama. Therefore, the whole cycle should turn around in your intellects. Your name is very well known. You are spinners of the discus of self-realisation and then you become rulers of the globe in the future. The story of 84 births can be proven through the picture of the cycle. You now belong to the Father. Keep this in your awareness. The more you become sticks for the blind the more the Father will consider you to be merciful. People say: Have mercy! Have compassion! You know what compassion the Father has. You have found the Father and so you should have so much happiness. You now have to stand on your own feet. It is also said that each centre is self-sufficient. Therefore, you also have to stand on your own feet. You have to make the highest-on-high effort. Follow the Father and mother. In the world, children follow their father and become impure. When it is said, “Follow His shrimat”, it relates to the Father from beyond. Look what business Baba and Mama are doing: they are making impure ones pure. After the founders of other religions come, the souls of their religions also come down from up above. It is not a question of converting souls there. It is here that they are converted. Shudras have to be converted to Brahmins. You have to make effort for this. You give away so much literature. People just look at it and then tear it up. You children are rup and basant. As is the Father, so are you children: you have to shower knowledge. These pictures are very good. The picture of the Trimurti is essential. Both the Father and the inheritance are included in that. How would you receive the Grandfather’s inheritance without the father? Everyone loves the picture of Krishna, but they don’t like the writing about 84 births. They like the picture, the image, whereas you like the One without an image because the Father has told you: May you be soul conscious! You consider yourselves to be without an image and you also remember the Supreme Soul who is without an image. He is the Creator and He therefore definitely creates the new world. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan there. The picture of Lakshmi and Narayan has been created and it is also written on it: Full of all virtues, 16 celestial degrees full. Lakshmi and Narayan are the empress and emperor. They have the intoxication that they are becoming that by remembering the Father. So, constantly continue to say, “Baba, Baba” and also remember your future status and you will go to the golden age. There is the example of how someone kept repeating to himself, “I am a buffalo, I am a buffalo”, and so he began to think that he was a buffalo, but no one becomes something just by saying it. However, you souls know that you are changing from ordinary humans into Narayan. It is a wonderthat you are now beggars. It isn’t just one person who rules the kingdom; his dynasty continues. There would also be his children. In 1250 years, it wouldn’t be just one Lakshmi and Narayan who rule there. They say that the duration of the golden age is very long, but there still have to be subjects there. Your intellects should have the enlightenment of knowledge. You can place the picture in front of anyone and explain to him that Bharat was heaven. It is now the old world of hell. Therefore, understand firmly that you were the residents of heaven and that you are now the residents of hell and that you are once again becoming the residents of heaven. In the golden age it is the kingdom of Lakshmi and Narayan and in the silver age it is the kingdom of Rama and Sita. All were residents of heaven. The cycle of 84 births is proven through the picture of this cycle. The picture of the tree shows how you were worthy of worship and how you then came down and became worshippers. You say that all are atheists at this time because they don’t know the Father. You now know that everyone is in a graveyard. You children are incognito. In English, they say ‘underground’. There, no one is underground. You are underground; no one knows you. Here, you personally sit in front of the Father and so you enjoy yourself. The unlimited Father comes from the supreme abode, enters this one and teaches you. He explains to you the secrets of the cycle, but He doesn’t remain in this one throughout the whole day. The Father says: I do service. In order to glorify the name of the children, I enter. The Father says: Children, may you become spinners of the discus of self-realisation! May you be the ones who blow the conch shell! You have to blow the conch shell of knowledge. Whether you call it a conch shell or a flute (murli), it is the same thing. They have shown Krishna with a flute. Krishna plays a diamond-studded flute for pleasure. There is no murli of knowledge there. You children now have to keep it in your intellects that you will play your part s in the golden age as you played them in the previous cycle. At least claim your inheritance from Baba! However, some children forget when they go back home. The Father says: Become firm and strong here. You may do your business, but also continue to remember the Father. Take the course of one second. Many people study even after they marry. You can also do your business and study at the same time. It is very easy for kumars and kumaris. Let it remain in your intellects: Mine is one Shiv Baba and none other. This is not said of Brahma. Baba asks: Since when have you had faith? If you have faith, you must not leave such a Father until the Father tells you to study and go and teach others. You children should have a lot of happiness. When poor people win a lottery, they sometimes go crazy. However, here, children go to their businesses and forget Baba. Baba then understands that you were given such a big lottery but you went crazy. It was not in your fortune and that is why it is said: If you want to see the most fortunate ones, see them here! Baba says that you have found Baba after a cycle. Continue to say, “Baba, Baba!” Wake up early in the morning and remember Him. You surrender yourself to someone you love. We too surrender ourselves to Baba. This is the musk of knowledge. We are those who take the boat of Bharat across. We are the true Brahmin children of the true Father who tells the story of the true Narayan, the story of the Lord of Immortality and the story of the third eye. So, there shouldn’t be any defect inside. If there is a defect, you won’t be able to claim a high status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class – 28/3/68

The Father has explained: Have such a practice that, while seeing everything and playing your part s, your intellects remains connected to the Father. You know that this old world is going to finish. We have to leave this world and go to our home. This thought cannot enter anyone else’s intellect. No one else understands this. They believe that this world is going to continue a lot longer. You children know that you are now going to your new world and that you are learning Raja Yoga. In just a short while we will go to the golden-aged new world, that is, to the land of immortality. You are now changing; you are changing from devilish beings to divine human beings. The Father is changing you into deities from human beings. Deities have divine virtues. They too are human beings, but they have divine virtues whereas the human beings here have devilish traits. You know that this devilish kingdom of Ravan is not going to remain. We are now imbibing divine virtues. We are also having our sins of many births absolved with the power of yoga. Whether we actually do that or not – each one of you knows your own state. Each of you has to bring yourself from degradation to salvation, that is, you have to make effort to go to the golden age. You have the sovereignty of the world in the golden age. There is just one kingdom there. Lakshmi and Narayan were the emperors of the world. The world does not know about these things. Their kingdom begins from 1.1.1. You know that you are becoming that. The Father makes you children even higher than Himself and this is why Baba says “Namaste”. There are the Sun of Knowledge, the moon of knowledge and the lucky stars of knowledge. You are lucky. You understand that Baba says “Namaste” accurately and meaningfully. The Father comes and gives you lots of happiness. This knowledge is so wonderful. Your kingdom too is wonderful. You souls are also wonderful. You have all the knowledge of the Creator and the beginning, middle and end of the creation in your intellects. You children have to make so much effort to make others the same as yourselves. Each one’s fortune is the same as in the previous cycle, but, nevertheless the Father inspires you to make effort. He cannot tell you which ones are going to be the eight jewels. It is not in His part to tell you. As you progress further, each of you will come to know your part. Whatever effort each one of you makes, so you will make your fortune. The Father is the One who shows you the way and it depends on how much each one follows that. You see that one (Vishnu) in the subtle region; Prajapita Brahma is sitting with Him. It is a matter of a second to become Vishnu from Brahma and it takes 5000 years to become Brahma from Vishnu. Your intellects feel that that is right. Although people create the Trimurti of Brahma, Vishnu and Shankar, no one understands this. You now understand it. You are such multimillion times fortunate children. They portray multimillions at the feet of the deities. The names of multimillionaires are remembered. It is the poor and ordinary ones who become multimillionaires. None of the millionaires come here. Those who have five to seven hundred thousand are said to be ordinary. At present, 20, 40 thousand is nothing. If some are millionaires, that would only be for one birth. Perhaps they may take a little knowledge; they would not surrender everything after understanding this knowledge. Those who came at the beginning were the ones who surrendered everything. Everyone’s wealth was immediately put to use. The wealth of the poor is definitely used. The wealthy ones are told to do service. If you want to do Godly service, then open a centre. Make effort too. Imbibe divine virtues. The Father is also called the Lord of the Poor. At this time, Bharat is the poorest of all. Bharat has the greatest population because it has existed from the beginning. Those who were in the golden age are now in the iron age. They have become completely poor; they have spent their wealth and they have finished everything. The Father explains: You are now once again becoming deities. Incorporeal God is only One. The greatness is only of the One. You make so much effort to explain to others. You make so many pictures. As you progress further, people will understand very well. The drama continues to tickaway. You know the tick, tick of this drama. The act of the whole world repeats accurately and identically every cycle; it continues second by second. The Father explains all these things and then says, “Manmanabhav”! Remember the Father! What is the benefit of someone going across water or fire? His lifespan cannot increase by doing that. Achcha.

Love, remembrance and good night to the sweetest, beloved, long-lost and now-found, spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become true Brahmins. Don’t have any defect inside you. Become a spinner of the discus of self-realisation and blow the conch shell. While doing your business, also do this course.
  2. Become as merciful as the Father and become a stick for the blind. Make the elevated effort of following the mother and Father. Stand on your own feet and don’t make anyone your support.
Blessing: May you follow Father Brahma constantly in your every thought and deed and become close and equal.
Father Brahma attained success in every task with determination. He demonstrated practically belonging to the one Father and none other through his actions. He never became disheartened and was always victorious with the lesson of “nothing new”. He made a situation as big as the Himalayas into something like cotton wool and found a solution to it and was never afraid. Always have a big heart in the same way and remain happy hearted. Follow Father Brahma in every deed and you will become close and equal.
Slogan: In order to experience supersensuous joy, become a true gopika of Gopi Vallabh.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 28 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 29 October 2017 :- Click Here
30/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप तुम्हें ज्ञान की कस्तूरी देते हैं तो ऐसे बाप पर तुम्हें कुर्बान जाना है, मात-पिता को फालो कर पावन बनाने की सेवा करनी है”
प्रश्नः- जो तकदीरवान बच्चे हैं उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- तकदीरवान अर्थात् बख्तावर बच्चे अच्छी रीति पढ़ेंगे और पढ़ायेंगे। वह पक्के निश्चय बुद्धि होंगे। कभी भी बाप का हाथ नहीं छोड़ेंगे। धन्धे आदि में रहते यह कोर्स भी उठायेंगे। बहुत खुशी में रहेंगे। परन्तु जिनकी तकदीर में नहीं है, वह लाटरी मिलते हुए भी गँवा देंगे।
गीत:- भोलेनाथ से निराला……

ओम् शान्ति। भोला कहा जाता है उनको जो कुछ भी नहीं जानते हैं। अभी बच्चे जानते हैं कि बरोबर हम मनुष्य कितना भोले थे, माया कितना भोला बना देती है। यह भी नहीं जानते कि बाप कौन है। बाप कहकर पुकारना और जानना नहीं, फिर यह भी मालूम नहीं हो कि बाप से क्या प्रापटी मिलती है! तो भोला कहेंगे ना। भोला कहो, बुद्धू कहो, बात एक ही है। इस समय सब बेअक्ल बन पड़े हैं उनको फिर बेअक्ली का भी घमण्ड है। बच्चे, तुम बाप को जानते हो और उनसे सुन रहे हो। बाकी आत्मा को देही-अभिमानी बनने की मेहनत करनी है। बाबा खुद बैठ सिखाते हैं कि हे आत्मा देही-अभिमानी बनो। अपने को पारलौकिक बाप के बच्चे निश्चय करो। लौकिक बाप को तो जानते हो बाकी तुम इतने भोले हो जो पारलौकिक बाप को नहीं जानते। अब तुम बच्चों की बुद्धि में बैठा है कि यह बातें परमपिता परमात्मा समझाते हैं। तुम छोटे बच्चे नहीं हो, तुम्हारे आरगन्स तो बड़े हैं। बाप समझाते हैं – अगर अपने को देह समझेंगे तो बाप को याद नहीं कर सकेंगे। अपने को देही-अभिमानी समझो। बच्चे-बच्चे बाप शरीर को नहीं, आत्मा को कहते हैं। और बच्चे, आत्मायें सब शिव को (परमात्मा को) बाबा कहते हैं, किसी आत्मा को वा ब्रह्मा को नहीं कहते। यह भी उनका बच्चा है। अब तुम जानते हो कि हमारा बेहद का बाप इनमें आया है। तो बाप को याद करना पड़े। 84 के चक्र को भी याद करना पड़े। यह बेहद का 5 हजार वर्ष का नाटक है। तुम एक्टर हो। अब तुमको ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त का मालूम पड़ा है। तो सारा चक्र बुद्धि में फिरना चाहिए। तुम्हारा नाम कितना बाला है। स्वदर्शन चक्रधारी फिर भविष्य में तुम चक्रवर्ती राजा बन जाते हो। 84 जन्मों की कहानी चक्र में सिद्ध होती है। तुम अब बाप के बने हो, यह स्मृति में रखना है। जितना अन्धों की लाठी बनेंगे उतना बाप समझेंगे यह रहमदिल हैं। कहते हैं रहम करो, मेहर करो। तुम जानते हो बाप कौन सी मेहर करते हैं। बाप मिला है तो कितनी खुशी होनी चाहिए। अब तुमको पैरों पर खड़ा रहना है। जैसे कहते हैं सेन्टर अपने पाँव पर खड़ा हो तो तुमको भी अपने पांव पर खड़ा रहना है। ऊंचे ते ऊंचा पुरुषार्थ करना है, फालो फादर मदर। लौकिक में बच्चे बाप को फालो कर पतित बन जाते हैं। यह तो पारलौकिक बाप के लिए कहा जाता है – उनकी श्रीमत पर चलना है। बाबा मम्मा को देखो धन्धा क्या है? पतितों को पावन बनाने का। और धर्म पितायें जब आते हैं तो उनके धर्म की आत्मायें ऊपर से आती हैं। वहाँ कनवर्ट करने की बात नहीं। यहाँ कनवर्ट करना है, शूद्र को ब्राह्मण बनाना है। इसके लिए तुमको मेहनत करनी पड़ती है। तुम कितना लिटरेचर देते हो। वह देखकर फाड़ देते हैं।

तुम बच्चे हो रूप-बसन्त। जैसे बाप वैसे तुम बच्चे। तुमको ज्ञान की वर्षा करनी है। यह चित्र बड़े अच्छे हैं। त्रिमूर्ति का चित्र बड़ा जरूरी है, इसमें बाप और वर्सा दोनों ही आ जाते हैं। बाप के बिगर दादे का वर्सा कैसे मिलेगा। कृष्ण का चित्र सबको अच्छा लगता है। बाकी 84 जन्मों की लिखत अच्छी नहीं लगती। उन्हों को चित्र अच्छा लगता है, तुमको विचित्र अच्छा लगता है क्योंकि तुमको बाप ने कहा है ”आत्म-अभिमानी भव।” तुम अपने को विचित्र समझते हो तो याद भी विचित्र परमात्मा को करते हो। बाप रचयिता है तो जरूर नई दुनिया ही रचते हैं। उसमें लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। लक्ष्मी-नारायण का चित्र भी बनाया है और लिखा हुआ है सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण… लक्ष्मी-नारायण महाराजा महारानी तो नशा रहता है कि हम बाप को याद कर यह बन रहे हैं। तो सदैव बाबा-बाबा कहते रहो और भविष्य पद को भी याद करो तो सतयुग में चले जायेंगे। जैसे एक मिसाल देते हैं – मैं भैंस हूँ, मैं भैंस हूँ… कहने से भैंस समझने लगा। परन्तु कहने से कोई बन नहीं जाता है। बाकी तुम जानते हो – मैं आत्मा नर से नारायण बन रहा हूँ। अब बेगर हूँ, यह वन्डर है। वहाँ एक तो राज्य नहीं करेंगे। उनकी डिनायस्टी चलती है। उनके बच्चे होंगे। 1250 वर्ष सिर्फ लक्ष्मी-नारायण थोड़ेही राज्य करेंगे। कहते हैं सतयुग की आयु बड़ी है फिर भी प्रजा तो चाहिए। तुम्हारी बुद्धि में ज्ञान की पराकाष्ठा चाहिए।

तुम किसके आगे भी चित्र रखकर समझाओ कि भारत स्वर्ग था। अब पुरानी दुनिया नर्क है, तो यह पक्का होना चाहिए कि हम स्वर्गवासी थे, अब नर्कवासी हैं फिर स्वर्गवासी बन रहे हैं। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण, त्रेता में राम-सीता का राज्य था, तो सब स्वर्गवासी थे। इस चक्र में 84 का चक्र सिद्ध होता है। झाड़ में फिर कैसे पूज्यनीय से गिरते हैं और पुजारी बनते हैं, यह सिद्ध होता है। तुम कहते हो इस समय सभी नास्तिक हैं क्योंकि बाप को नहीं जानते हैं। अब तुम जानते हो कि सब कब्रिस्तान में पड़े हैं। तुम बच्चे गुप्त हो। अंग्रेजी में अन्डरग्राउण्ड कहते हैं। वहाँ कोई अन्डरग्राउण्ड नहीं, अन्डरग्राउण्ड तुम हो। परन्तु तुमको कोई जानते नहीं। यहाँ सम्मुख बैठे हो तो मजा आता है। बेहद का बाप परमधाम से आकर इनमें प्रवेश कर पढ़ाते हैं। चक्र का राज़ समझाते हैं। बाकी सवारी सारा दिन नहीं होती है। बाप कहते हैं मैं सर्विस करता हूँ, बच्चों का नाम निकालने के लिए मैं प्रवेश करता हूँ। तो बाप कहते हैं बच्चे स्वदर्शन चक्रधारी भव, शंखधारी भव। तुमको ज्ञान का शंख बजाना है। शंख कहो, मुरली कहो, एक ही बात है। उन्होंने कृष्ण को मुरली दिखाई है। कृष्ण तो रत्न जड़ित मुरली बजाते हैं – खेलपाल करने के लिए। वहाँ ज्ञान की मुरली नहीं है। तुम बच्चों को बुद्धि में रखना है कि जैसे कल्प पहले सतयुग में पार्ट बजाया था वैसे अब बजायेंगे। बाकी बाबा से तो वर्सा ले लेवें। परन्तु बच्चे घर में जाते हैं तो भूल जाते हैं। बाप कहते हैं यहाँ से पक्के हो जाओ। धन्धा भल करो परन्तु याद करते रहो। एक सेकेण्ड का कोर्स उठाओ। जैसे बहुत शादी करके भी पढ़ते हैं। तुम भी धन्धे में रहते पढ़ो। कुमार कुमारी के लिए तो बहुत सहज है। सिर्फ यह बुद्धि में रहे मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई। ब्रह्मा के लिए नहीं कहा जाता है।

बाबा पूछते हैं कब से निश्चय हुआ? अगर निश्चय है तो ऐसे बाप को कभी नहीं छोड़ना चाहिए। जब तक बाप न कहे कि पढ़कर पढ़ाओ। तुम बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए। जैसे गरीब को लॉटरी मिलती है तो पागल भी हो जाते हैं। परन्तु यहाँ तो बच्चे धन्धे में जाकर भूल जाते हैं। तो बाबा समझते हैं इतनी बड़ी लॉटरी दी परन्तु पागल हो गये। तकदीर में नहीं है, तब कहा जाता है बख्तावर देखना हो तो यहाँ देखो, .. बाबा तो कहते हैं कल्प के बाद बाबा मिला है। बाबा-बाबा कहते रहो, सवेरे उठकर याद करो, जो प्यारी वस्तु होती है उन पर कुर्बान जाते हैं। हम भी बाबा पर कुर्बान जाते हैं। यह ज्ञान कस्तूरी है। हम हैं भारत का बेड़ा पार करने वाले। सत्य नारायण, अमरनाथ की कथा, तीजरी की कथा सुनाने वाले, सच्चे बाप के सच्चे ब्राह्मण बच्चे, तो अन्दर कोई खोट नहीं होनी चाहिए। खोट होगी तो ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास 28-3-68

बाप ने समझाया है ऐसी प्रेक्टिस करो, जहाँ सभी कुछ देखते हुए पार्ट बजाते हुए बुद्धि बाप की तरफ लगी रहे। जानते हैं यह पुरानी दुनिया खत्म हो जानी है। इस दुनिया को छोड़ हमको अपने घर जाना है। यह ख्याल और कोई की बुद्धि में नहीं होगा। और कोई भी यह समझते नहीं। वह तो समझते हैं यह दुनिया अभी बहुत चलनी है। तुम बच्चे जानते हो हम अभी अपनी नई दुनिया में जा रहे हैं। राजयोग सीख रहे हैं। थोड़े ही समय में हम सतयुगी नई दुनिया में अथवा अमरपुरी में जायेंगे। अभी तुम बदल रहे हो। आसुरी मनुष्य से बदल दैवी मनुष्य बन रहे हो। बाप मनुष्य से देवता बना रहे हैं। देवताओं में दैवीगुण होते हैं। वह भी हैं मनुष्य, परन्तु उनमें दैवीगुण नहीं हैं। यहाँ के मनुष्यों में है आसुरी गुण। तुम जानते हो यह आसुरी रावणराज्य फिर न रहेगा। अभी हम दैवीगुण धारण कर रहे हैं। अपने जन्म-जन्मान्तर के पाप भी योगबल से भस्म कर रहे हैं। करते हैं या नहीं वह तो हरेक अपनी गति को जानते। हरेक को अपने को दुर्गति से सद्गति में लाना है अर्थात् सतयुग में जाने लिये पुरुषार्थ करना है। सतयुग में है विश्व की बादशाही। एक ही राज्य होता है। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के महाराजन हैं ना। दुनिया को इन बातों का पता नहीं है। वन-वन से इन्हों की राजाई शुरू होती है। तुम जानते हो हम यह बन रहे हैं। बाप अपने से भी बच्चों को ऊंच ले जाते हैं इसलिये बाबा नमस्ते करते हैं। ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा, ज्ञान लक्की सितारे। तुम लक्की हो। समझते हो बाबा बिल्कुल ठीक अर्थ सहित नमस्ते करते हैं। बाप आकर बहुत सुख घनेरे देते हैं। यह ज्ञान भी बड़ा वन्डरफुल है। तुम्हारी राजाई भी वन्डरफुल है। तुम्हारी आत्मा भी वन्डरफुल है। रचयिता और रचना के आदि मध्य अन्त का सारा नॉलेज तुम्हारी बुद्धि में है। तुमको आप समान बनाने लिये कितनी मेहनत करनी पड़ती है। है कल्प पहले वाली हरेक की तकदीर, फिर भी बाप पुरुषार्थ कराते रहते हैं। यह नहीं बता सकते कि आठ रत्न कौन बनेंगे। बताने का पार्ट ही नहीं। आगे चल तुम अपने पार्ट को भी जान जायेंगे। जो जैसा पुरुषार्थ करेगा ऐसा भाग्य बनायेंगे। बाप है रास्ता बताने वाला, जितना जो उस पर चलेंगे। इनको तो सूक्ष्म वतन में देखते ही है। प्रजापिता ब्रह्मा साथ में बैठा है। ब्रह्मा से विष्णु बनना सेकण्ड का काम। विष्णु सो ब्रह्मा बनने में 5,000 वर्ष लगते हैं। बुद्धि से लगता है बात तो बरोबर ठीक है। भल त्रिमूर्ति बनाते हैं – ब्रह्मा-विष्णु-शंकर। परन्तु यह कोई नहीं समझते होंगे। अभी तुम समझते हो। तुम कितने पदमापदम भाग्यशाली बच्चे हो। देवताओं के पांव में पदम दिखाते हैं ना। पदमपति नाम भी बाला है। पदमपति बनते भी गरीब साधारण ही हैं। करोड़पति तो कोई आते ही नहीं। 5-7 लाख वाले को साधारण कहेंगे। इस समय 20-40 हजार तो कुछ है नहीं। पदमपति कोई है सो भी एक जन्म के लिये। करके थोड़ा ज्ञान लेंगे। समझ कर स्वाहा तो नहीं करेंगे ना। सभी कुछ स्वाहा करने वाले थे जो पहले आये। फट से सभी का पैसा काम में लग गया। गरीबों का तो लग ही जाता है। साहूकारों को कहा जाता है अभी सर्विस करो। ईश्वरीय सर्विस करनी है तो सेन्टर खोलो। मेहनत भी करो। दैवीगुण भी धारण करो। बाप भी गरीब निवाज कहलाते हैं। भारत इस समय सभी से गरीब है। भारत की ही सभी से जास्ती आदमसुमारी है क्योंकि शुरू में आये हैं ना। जो गोल्डेन एज में थे वही आयरन एज में आये हैं। एकदम गरीब बन पड़े हैं। खर्चा करते करते सभी खत्म कर दिया है। बाप समझाते हैं अभी तुम फिर से देवता बन रहे हो। निराकार गाड तो एक ही है। बलिहारी एक की है दूसरों को समझाने में तुम कितनी मेहनत करते हो। कितने चित्र बनाते हो। आगे चलकर अच्छी रीति समझते जायेंगे। ड्रामा की टिक टिक तो चलती रहती है। इस ड्रामा की टिक टिक को तुम जानते हो। सारी दुनिया की एक्ट हूबहू एक्यूरेट कल्प कल्प रिपीट होती रहती है। सेकण्ड व सेकण्ड चलती रहती है। बाप यह सभी बातें समझाते फिर भी कहते हैं मन्मनाभव। बाप को याद करो। कोई पानी वा आग से पार हो जाते हैं उससे फायदा क्या। इससे कोई आयु थोड़ेही बड़ी हो जाती है।

अच्छा, मीठे मीठे सिकीलधे रूहानी बच्चों को बाप दादा का याद प्यार गुडनाईट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चा ब्राह्मण बनना है। अन्दर में कोई खोट नहीं रखनी हैं। स्वदर्शन चक्रधारी बन शंखध्वनि करनी है। धन्धा करते भी यह कोर्स उठाना है।

2) बाप समान रहमदिल बन अन्धों की लाठी बनना है। मात-पिता को फालो करने का ऊंच पुरुषार्थ करना है। अपने पांव पर खड़े होना है, किसी को भी आधार नहीं बनाना है।

वरदान:- सदा हर संकल्प और कर्म में ब्रह्मा बाप को फालो करने वाले समीप और समान भव 
जैसे ब्रह्मा बाप ने दृढ़ संकल्प से हर कार्य में सफलता प्राप्त की, एक बाप दूसरा न कोई – यह प्रैक्टिकल में कर्म करके दिखाया। कभी दिलशिकस्त नहीं बनें, सदा नथिंगन्यु के पाठ से विजयी रहे, हिमालय जैसी बड़ी बात को भी पहाड़ से रूई बनाए रास्ता निकाला, कभी घबराये नहीं, ऐसे सदा बड़ी दिल रखो, दिलखुश रहो। हर कदम में ब्रह्मा बाप को फालो करो तो समीप और समान बन जायेंगे।
स्लोगन:- अतीन्द्रिय सुख का अनुभव करना है तो गोपी वल्लभ की सच्ची-सच्ची गोपिका बनो।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 28 October 2017 :- Click Here
Font Resize