today murli 30 june

TODAY MURLI 30 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 June 2018 :- Click Here

30/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, continue to say “Baba, Baba” from your hearts and there will be unlimited happiness. This is not just something to say, but let there be this continual remembrance internally and all your sorrow and suffering will be removed.
Question: When some children say, “Baba, my mind is confused, I have problems”, what teaching does Baba give to show them how to stay in happiness?
Answer: Baba says: Children, these words that you say are wrong. It is wrong to say, “My mind is confused.” When the intellect’s yoga with the Father breaks, the intellect wanders and there is unhappiness. This is why Baba shows you a method: Keep your chart. Continue to say “Baba, Baba” internally. Take shrimat at every step and your confusion will finish.
Song: Dweller of the Forest, your name is the support of my life! 

Om shanti. Incorporeal God speaks to you incorporeal children. Through whom does incorporeal God speak? Through this body that He has taken on loan. It has been explained that the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, doesn’t have a bodily name. All human souls have bodily names and they are called by those names. Here, the incorporeal Father says to the incorporeal children: Forget those bodies. You souls have to shed those bodies and come to Me. You must no longer take birth in this land of death. Those physical parents bring you into relationships with bodies – “This one is your so-and-so” – whereas the Father from beyond says: I am the Incorporeal. I am called the Supreme Father, the Supreme Soul. You too are incorporeal souls. I have taken the support of this body, whereas you have your own bodies. This body I take is on loan. Now, remember Me, your Father. I am the incorporeal Father of you souls. Say, “Baba, Baba.” Sometimes, some children say: My mind is confused. My mind is unhappy. Oh! but why do you use the word ‘mind’? Say, “Why do I forget Baba? Why do I forget Baba who makes me worthy of heaven?” Renounce the consciousness of the body and become soul conscious. Baba says: You now have to return home. Remember Me. Incorporeal Baba says to incorporeal souls: Continue to say, “Baba, Baba.” That One is the Father whereas the mother is incognito. A mother is definitely needed with the Father. No one in the world knows that the Father creates the mouth-born creation through this one and that that is why He is called the Father. So, where is the mother? Jagadamba would not be called the mother. Jagadamba is the instrument to look after everyone because this one cannot look after everyone as he is a male. This is why there is Jagadamba. Her mother is also this one; Brahma is the senior mother. All of you are Brahma Kumars and Kumaris. They speak of the Mother and Father, and so the Father sits here and explains. This is not the task of a sage or holy man. The Father establishes heaven. Maya Ravan begins to change it into hell. The Father gives happiness and Maya causes sorrow. This is a play about happiness and sorrow, and it is about Bharat. Bharat was like a diamond. It has now become like a shell. There was the pure household religion in Bharat and there are its images. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan, but no one knows when it was established. They say that the duration of a cycle is hundreds of thousands of years. It has been explained to you children that 5000 years ago it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. There were Lakshmi and Narayan the First, the Second, the Third etc. There were eight in the dynasty. Then there were twelve in the moon dynasty. There are the dynasties : the dynasty of Mughals, the dynasty of Sikhs. It has been explained to you children that 5000 years ago there was just the one kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat. There used to be the World Almighty Authority Government. Only the Father creates that. This is what the people of Bharat ask for. Now, there is no kingdom; there is no king nor queen. This is the temporary rule of people over people. There is no happiness in this. As time goes by, there will continue to be more sorrow. This is called happiness like a mirage. In the scriptures there is the example of Draupadi and Duryodhan. In fact, it was not like that. They sat and made up all of those stories. This kingdom is like a mirage. They (the people of Bharat) got their kingdom and yet they continue to be even more unhappy. There wasn’t as much sorrow at the time of the British Government. Everything was very cheap. Everything now is so expensive! Famine, torrential rainfall, earthquakes etc. will all come in front of you. People will be desperate for water. You children are now sacrificing your bodies, minds and wealth in the service of making Bharat into heaven. You help the Father. The Father then establishes the o ne World Almighty Authority Government, the one kingdom. After the cries of distress, there will be cries of victory. You are to see with your eyes in a practical way the visions you had of destruction. The Father sits here and explains: Consider yourselves to be souls. You are the children of Baba. Therefore, continue to say “Baba, Baba!” When you say, “My mind is confused” or “My mind is unhappy”, remove the word ‘mind’. How can there be happiness if you don’t remember Baba? You become unhappy because of not knowing yourself. Why do you use the word ‘mind’? Oh! can you not remember the Father? Is it that you forget the Father? Do you ever say of your physical father that you can’t remember him? Even little children are taught: This is your mother and father. Here, the unlimited Father says: Remember Me and I will take you to heaven. You simply have to belong to Baba. The Father says: Continue to follow My directions. You have to show your account to the Father. A father is aware of how much his children earn. So, the Father, too, will only know when you tell Him. The Father quickly tells you: I am making you into the masters of Paradise. Baba says: I am the Bestower. I have come to give to you. Also use everything you have in a worthwhile way because this is how you now have to create your future. You will receive the huge sovereignty of Paradise to the extent that you use everything in a worthwhile way. There is the account of give and take; you exchange everything. In return for the old, He gives you everything new. He is a first-class Customer. Give with one hand and take with the other. There is a saying: Lord, let my first customer be such that the earning from that customer is enough. The Father comes to make you into a complete master of the world. The Father says: All of this wealth and property is to turn to dust. Therefore renounce it. Forget all your bodily relations, including your own body, and consider yourself to be a trustee. All of this has been given by God; it is all His. However, you have to perform actions for the livelihood of your body. If Baba is aware of everything He can continue to advise you. Some ask: “Baba, should I buy a car?” OK, if you have the money, you may buy a car. “Baba, I want to build a building.” OK, you may build it. Baba will continue to advise you. If you have money, build many buildings, travel by aeroplane; experience a lot of happiness. Baba only gives directions to the children. Some ask about getting their daughter married. If she is unable to follow the path of knowledge, get her married. The father (Brahma) would always give right directions. If he gives wrong directions, Shiv Baba is responsible. He is also Dharamraj. This is not a commonspiritual gathering. This is the God f atherly University. The Father advises you: Children, become the masters of heaven. Follow shrimat. Become soul conscious. The names there are so beautiful. There are no names such as ‘Mr. Basarmal’ etc. there. There, the names are those such as Ramachandra, Krishnachandra. They also receive the title Shri because they are elevated. Here, they continue to give the title Shri Shri to cats and dogs etc. The Father explains: This is a dirty old world. It is all to be destroyed. You now have to follow My shrimat. The Shrimad Bhagawad Gita is the main one. However, there are innumerable Vedas and scriptures. The Father establishes all three religions: Brahmin, deity and warrior. Then Abraham establishes his own religion. His scripture is such-and-such. Achcha, which religion are the Vedas a scripture of? They don’t know anything. The Vedas are not the scripture of the sannyas religion. If their scripture is the Vedas, they should just study that. So, why do they take up the Gita? Christians are sensible: they would never take up a scripture of another religion. The people of Bharat make many people their gurus. Baba has explained that when a group of four or five people come, you should explain to each one individually, just as you used to sit with each one individually in Pakistan. By explaining to each one individually, you would be able to feel each one’s pulse. Get each one to fill in a form because the illness of each one is different. A surgeon would call each patient individually, feel the pulse and give medicine after seeing each one. Have the faith: I am a soul. It is the soul that listens. It is the soul that becomes impure. To say that souls are immune to the effect of action is a lie. Whatever actions a soul performs, he receives the fruit of that accordingly. People say: This one has performed such actions. Now, Baba is teaching us such good actions that we will remain happy for 21 births. There is the philosophy of karma. In the golden age, actions become neutral. There are no sins committed there. Maya, who makes you commit sin, doesn’t exist there. The kingdom is being established and so you would definitely receive the inheritance. You have to reach your karmateet stage. There are the sins of many births on your head. Your sins cannot be absolved by your bathing in the Ganges or by chanting or doing tapasya. Sins can only be absolved with the fire of yoga. At the end, everyone’s karmic accounts will be settled, numberwise. If they are not settled, there will have to be punishment. They have to be settled by having remembrance of the Father. It is because you don’t remember the Father that you souls wilt. The Father says: If you don’t remember Me, Maya will attack you. Remember Me as much as possible. If you remember Me for a minimum of eight hours, you will pass. Keep your chart. Storms come when you don’t consider yourself to be a soul and remember the Father. It is remembered: Receive happiness by having constant remembrance. You have to remember internally. You have to remain silent. You don’t have to say “Rama, Rama” or “Shiva, Shiva”. Your sorrow and suffering will be removed by having remembrance and you will become free from disease. This is a straightforward matter. You are slapped by Maya when you forget the Father. The Father says: You may live at home with your family. Continue to ask Baba for advice at every step so that you don’t do anything sinful. If your daughter doesn’t follow the path of knowledge, you have to give something to her. If a son is unable to remain pure, he can earn his own income; he can go and get married. Some have big fights over their father’s property. They don’t give their full news. They are stepchildren, whereas real ones will definitely tell Baba. How can the Father know unless you give Him your news? If your face is cheerful here, you will remain constantly cheerful there too. In the Birla temple, there is a first-class picture of Lakshmi and Narayan. However, people don’t know when they came. Where did that kingdom of Bharat go? You can go and explain to them. At first, there was satopradhan, unadulterated devotion. Then, later, devotion became adulterated, rajo and then tamopradhan. Earlier, they used to say that God is infinite. Now they say that all are God. That is called a tamo intellect. Therefore, you shouldn’t say that you can’t focus your mind. Why do you say this? Your condition becomes like that when you forget the Father. Remember the Father and your mercury of happiness will remain high. By remembering the Father, there is a huge income. Remember the Father the whole night. Become conquerors of sleep. You have been singing: I will surrender to you. He says: I have come. Therefore constantly remember Me. He is the Father of me, the soul. You have to remember Him. All attachment to this one should be broken. Become a destroyer of attachment and connect your intellect to the One and you will become strong. I now have to go to the new home. Why should I have attachment to the old world? When a new house is being built, the heart is removed from the old one. The Father says: Everything, including this body, is old. Now remember the Father and your inheritance. Through this study, we will become princes and princesses in the golden age. Baba gives the practical fruit in a second. This is a college for becoming princes and princesses. It is not a college where princes and princesses study. You have to become that here. Then, having become princes, you will surely become kings. Achcha.

To the sweetest beloved long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from BapDada and sweetest Mama. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Sacrifice your body, mind and wealth in serving Bharat to make it into heaven. Become a full helper of the Father.
  2. Remain cheerful here. Don’t wilt in any situation. End all your sorrow and suffering through having remembrance of the Father.
Blessing: May you be a constant yogi and a constant server and serve with your activity and your face.
Constantly maintain the awareness that you are one out of a handful of multimillion souls who know the Father and who have found Him. Maintain this happiness and your face will become a mobile centre for service. People will continue to receive the Father’s introduction from your cheerful face. BapDada considers every child to be so worthy and capable. So, while moving along, while eating and drinking and by doing the service of giving the Father’s introduction through your behaviour and face, you will easily become a constant yogi and a constant server.
Slogan: Those who remain constantly unshakeable and immovable like Angad cannot be shaken even by the enemy, Maya.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 June 2018

To Read Murli 29 June 2018 :- Click Here
30-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – दिल से बाबा-बाबा कहते रहो तो अपार खुशी रहेगी, यह मुख से कहने की बात नहीं, अन्दर में सिमरण चलता रहे तो सब कलह-क्लेष मिट जायेंगे”
प्रश्नः- कई बच्चे कहते – बाबा, मेरा मन मूँझता है, उलझन रहती है, तो बाबा उन्हें कौनसी शिक्षा देते हुए खुशी में रहने की युक्ति बताते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे, तुम यह शब्द ही राँग बोलते हो। ‘मन मूँझता है’- यह कहना ही ग़लत है। बाप से बुद्धियोग टूटता है तब बुद्धि भटक जाती है। उदासी आ जाती है इसलिए बाबा युक्ति बताते – अपना चार्ट रखो, अन्दर में बाबा-बाबा सिमरण करते रहो। हर कदम पर श्रीमत लो तो उलझन समाप्त हो जायेगी।
गीत:- बनवारी रे, जीने का सहारा…….. 

ओम् शान्ति। निराकार भगवानुवाच, निराकार बच्चों प्रति। निराकार भगवानुवाच किस द्वारा? इस लोन लिए हुए तन द्वारा। समझाया गया है – निराकार परमपिता परमात्मा का कोई शारीरिक नाम नहीं है। बाकी जो भी मनुष्यमात्र हैं उनका शारीरिक नाम पड़ता है। उस नाम से बुलाया जाता है। यहाँ फिर निराकार बाप निराकार बच्चों को कहते हैं कि इस शरीर को भूल जाओ। तुम आत्माओं को यह शरीर छोड़ मेरे पास आना है। अभी तुमको इस मृत्युलोक में जन्म नहीं लेना है। वह लौकिक माँ-बाप शारीरिक सम्बन्ध में लाते हैं – यह तुम्हारा फलाना है… और पारलौकिक बाप कहते हैं – हम निराकार हैं, जिसको परमपिता परमात्मा कहा जाता है। तुम भी निराकार आत्मा हो। इस शरीर का आधार लिया है। तुम्हारा अपना शरीर है। हमारा यह शरीर उधार लिया हुआ है। अभी तुम मुझ बाप को याद करो। मैं तुम आत्माओं का निराकार बाप हूँ। ‘बाबा-बाबा’ अक्षर बोलो। कभी-कभी कोई बच्चे कहते हैं – हमारा मन मूँझता है, मन को खुशी नहीं है। अरे, मन अक्षर क्यों कहते हो? बोलो – बाबा, हमको क्यों भूल जाता है! बाबा जो हमको स्वर्ग के लिए लायक बनाते हैं, उनको हम क्यों भूलते हैं! शरीर का भान छोड़ देही-अभिमानी बनो। बाबा कहते हैं – अब तुमको वापिस आना है, मुझे याद करो। निराकार बाबा निराकार आत्माओं को कहते हैं – ‘बाबा-बाबा’ करते रहो। यह बाप है और माता फिर है गुप्त। फादर के साथ माता तो जरूर चाहिए ना। दुनिया में कोई को पता नहीं – बाप इनके द्वारा मुख वंशावली बनाते हैं, तब उनको फादर कहते हैं। फिर मदर कहाँ? जगत अम्बा को नहीं कहेंगे। जगत अम्बा तो निमित्त है सम्भालने लिए क्योंकि यह मेल होने के कारण सम्भाल न सके इसलिए जगत अम्बा है। उनकी भी माँ यह है। ब्रह्मा बड़ी माँ है। यह सब हैं – ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। वह कहते हैं मात-पिता। तो यह बाप बैठ समझाते हैं। यह कोई साधू-सन्त का काम नहीं।

बाप स्वर्ग की स्थापना करते हैं। माया रावण नर्क बनाने लग पड़ती है। बाप सुख देते हैं, माया दु:ख देती है। यह है ही सुख-दु:ख का खेल और है भारत के लिए। भारत हीरे जैसा था। अब कौड़ी जैसा बन पड़ा है। भारत में पवित्र गृहस्थ धर्म था, जिन्हों के चित्र हैं। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था परन्तु वह कब स्थापन हुआ – यह कोई जानते नहीं। कल्प की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं। तुम बच्चों को समझाया जाता है – 5 हजार वर्ष पहले इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। फिर लक्ष्मी-नारायण दी फर्स्ट, सेकेण्ड, थर्ड चलते हैं। आठ गद्दियाँ चलती हैं। फिर चन्द्रवंशी में 12 चलती हैं। डिनायस्टी होती है ना। मुगलों की डिनायस्टी, सिक्खों की डिनायस्टी….। बच्चों को समझाया जाता है – 5000 वर्ष पहले भारत में एक ही लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी गवर्मेन्ट थी। वह बाप ही बनाते हैं। भारतवासी माँगते भी यह हैं। अभी तो राजाई है नहीं, न किंग-क्वीन हैं। यह है ही प्रजा का प्रजा पर राज्य, क्षण-भंगुर का, इनमें कोई सुख नहीं। जितना समय पास होता जाता, दु:ख जास्ती होता जायेगा, इनको मृगतृष्णा समान सुख कहा जाता है। शास्त्रों में द्रोपदी और दुर्योधन का एक मिसाल भी है। वास्तव में ऐसे है नहीं। यह सब बातें बैठ बनाई हैं। है यह रूण्य (मरुस्थल) के पानी मिसल राज्य। राज्य मिला है तो और ही दु:खी होते जाते हैं। ब्रिटिश गवर्मेन्ट के समय इतना दु:ख नहीं था। बहुत सस्ताई थी। अभी तो हर चीज़ की कितनी महंगाई हो गई है! फैमन (अकाल), मूसलाधार बरसात, अर्थ-क्वेक आदि यह सब सामने आयेंगे। मनुष्य पानी के लिए हैरान होंगे। अभी तुम बच्चे अपना तन-मन-धन भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा में स्वाहा करते हो। बाप को मदद करते हो। बाप फिर वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी, वन गवर्मेन्ट, वन राज्य स्थापन करते हैं। हाहाकार के बाद फिर जयजयकार होना है। जो विनाश का साक्षात्कार किया है, वह प्रैक्टिकल इन आंखों से देखना है। तो बाप बैठ समझाते हैं – तुम अपने को आत्मा समझो। बाबा के बच्चे हैं, बाबा-बाबा करते रहो। मन मूँझता है, मन में खुशी नहीं है, यह ‘मन’ अक्षर निकाल दो। बाबा को याद नहीं करेंगे तो फिर खुशी कैसे होगी? अपने आपको न जानने के कारण ही दु:खी होते हैं। तुम ‘मन’ अक्षर क्यों कहते हो? अरे, तुमको बाप याद नहीं पड़ता! बाप को भूल जाते हो क्या! लौकिक बाप के लिए कभी कहते हो क्या – हमको याद नहीं पड़ता है? छोटे बच्चे को भी सिखलाया जाता है – यह माँ-बाप है। यह बेहद का बाप कहते हैं – मुझे याद करो तो मैं तुमको स्वर्ग में ले जाऊंगा। सिर्फ बाबा का बनना है। बाप कहते हैं मेरी मत पर चलते रहो। बाप को तो पोतामेल भी बताना पड़े ना। बाप को अपने बच्चों का पता रहता है ना – यह कितनी कमाई करता है? तो बाप को जब बतायेंगे तब तो पता पड़े। बाप तो झट बताते हैं – तुमको वैकुण्ठ का मालिक बनाता हूँ।

बाबा कहते हैं – मैं तो दाता हूँ, तुमको देने लिए आया हूँ। तुम भी अपना सब कुछ सफल करने वाले हो इसलिए भविष्य के लिए अब बनाना है। जो जितना सफल करेंगे उन्हें उतनी बड़ी वैकुण्ठ की बादशाही भी मिलेगी। लेन-देन का हिसाब है। एक्सचेन्ज करते हैं। पुराने के बदले सब नया देते हैं। यह तो फर्स्ट क्लास ग्राहक है। एक हाथ दो, दूसरे हाथ लो। एक कहावत है ना – सुबह का सांई…. बाप तो एकदम विश्व का मालिक बनाने आते हैं। बाप कहते हैं – यह सब कुछ धन माल आदि धूल में मिल जाना है। इनको छोड़ो। देह सहित देह के सभी सम्बन्धों को भूलो, अपने को ट्रस्टी समझो। यह सब ईश्वर का दिया हुआ है। उनका ही है। बाकी शरीर निर्वाह अर्थ कर्म तो करना ही है। बाबा को मालूम होगा तो राय देते रहेंगे। कहते हैं – बाबा मोटर लूँ? अच्छा, पैसा है तो भल मोटर लो। मकान बनाना है? अच्छा, भल बनाओ। राय देते रहेंगे। पैसा है तो खूब मकान बनाओ, एरोप्लेन में घूमो, भल सुख लो। बच्चों को ही मत देंगे ना। कन्या की शादी के लिए पूछते हैं। अगर ज्ञान में नहीं चल सकती तो भल करा दो। बाप (ब्रह्मा) हमेशा राइट डायरेक्शन देंगे। अगर राँग दिया तो रेस्पान्सिबुल बाबा (शिवबाबा) है। वह तो फिर धर्मराज भी है ना। यह कोई कॉमन सतसंग नहीं है। गॉड फादरली युनिवर्सिटी है। बाप राय देते हैं – बच्चे स्वर्ग के मालिक बनो, श्रीमत पर चलो, देही-अभिमानी बनो। वहाँ के नाम भी कितने सुन्दर होते हैं! बसरमल आदि नाम वहाँ होते नहीं। वहाँ रामचन्द्र, कृष्णचन्द्र आदि नाम होते हैं। श्री का टाइटिल भी मिलता है क्योंकि श्रेष्ठ हैं ना! यहाँ तो कुत्ते-बिल्ली सबको श्री-श्री का टाइटिल देते रहते हैं। तो बाप समझाते हैं – यह पुरानी छी-छी दुनिया है। यह सब खत्म हो जाना है। अभी तुम मेरी श्रीमत पर चलो। श्रीमत भगवत गीता है मुख्य। बाकी वेद-शास्त्र आदि तो अनेक हैं।

बाप ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय – तीनों धर्म स्थापन करते है। फिर इब्राहिम अपना धर्म स्थापन करते हैं। उनका शास्त्र फलाना। अच्छा, वेद किस धर्म का शास्त्र है? कुछ भी पता नहीं! सन्यास धर्म का शास्त्र कोई वेद नहीं है। अगर वेद शास्त्र है तो वही पढ़ें। फिर गीता क्यों उठाते? क्रिश्चियन लोग सयाने हैं। दूसरे धर्म का शास्त्र कभी नहीं लेंगे। भारत-वासी तो सबको गुरू करते रहेंगे। बाबा ने समझाया था – जब कोई 4-5 इकट्ठे आयें तो हरेक को अलग-अलग समझाना चाहिए। जैसे पाकिस्तान में तुम अलग-अलग बैठते थे। अलग-अलग समझाने से उनकी नब्ज का पता पड़ेगा। फार्म भराना है क्योंकि हरेक की बीमारी अलग-अलग है। सर्जन एक-एक को बुलाकर नब्ज देखकर दवा देते हैं।

निश्चय करना है हम आत्मा हैं। आत्मा ही सुनती है। आत्मा ही पतित बनती है। आत्मा को निर्लेप कहना – यह तो झूठ बात है। आत्मा जैसा कर्म करती है, वैसा फल मिलता है। कहते हैं ना – इनके कर्म ऐसे किये हुए हैं। अभी बाबा हमको कर्म ऐसा अच्छा सिखलाते हैं जो 21 जन्म हम सुखी रहेंगे। कर्मों की गति है ना। सतयुग में तो कर्म अकर्म हो जाता है। विकर्म कोई होता नहीं। विकर्म कराने वाली माया ही नहीं होती। राजधानी स्थापन होती है तो जरूर तुम वर्सा तो पायेंगे। कर्मातीत अवस्था को पाना है। जन्म-जन्मान्तर के पाप सिर पर हैं। गंगा स्नान वा जप-तप आदि करने से विकर्म विनाश नहीं हो सकते। विकर्म विनाश योग अग्नि से ही होते हैं। अन्त में सबका हिसाब-किताब चुक्तू होगा, नम्बरवार। चुक्तू नहीं होगा तो सजा खानी पड़ेगी। चुक्तू करना है बाप की याद से। याद नहीं करते हैं, तब आत्मा मुरझाती है। बाप कहते हैं – मेरे को याद नहीं करेंगे तो माया वार करेगी। जितना हो सके याद करो। कम से कम 8 घण्टे तक याद रहेगी तो तुम पास हो जायेंगे। चार्ट रखो। तूफान तब आते हैं जब अपने को आत्मा समझ बाप को याद नहीं करते हो। गाते भी हैं – सिमर-सिमर सुख पाओ। अन्दर सिमरना है। चुप रहना है। राम-राम वा शिव-शिव कहना नहीं है। याद से तुम्हारे कलह-क्लेष मिट जायेंगे। तुम निरोगी बन जायेंगे। सीधी बात है। बाप को भूलने से ही माया का थप्पड़ लगता है। बाप कहते हैं – रहो भी भल गृहस्थ व्यवहार में। कदम-कदम पर बाबा से राय पूछते रहो। कहाँ पाप का काम न हो जाये। कन्या ज्ञान में नहीं आती है तो उनको देना ही पड़े। बच्चा अगर पवित्र नहीं रह सकता तो अपना कमा सकते हैं। वो जाकर शादी करें। कई फिर बाप की मिलकियत पर बड़ा झगड़ा करते हैं। पूरा समाचार नहीं देते हैं। वह हुए सौतेले। मातेले जरूर बतायेंगे। बाप को समाचार नहीं देंगे तो बाप कैसे जानें?

यहाँ तुम्हारा चेहरा हर्षितमुख होगा तब वहाँ भी तुम सदा हर्षितमुख रहेंगे। बिरला मन्दिर में लक्ष्मी-नारायण का कितना फर्स्टक्लास चित्र है! परन्तु जानते नहीं कि यह कब आये थे? अभी वह भारत का राज्य कहाँ गया? तुम जाकर समझा सकते हो। पहले थी सतोप्रधान अव्यभिचारी भक्ति। फिर बाद में व्यभिचारी रजो, तमोप्रधान भक्ति होती है। आगे तो परमात्मा को बेअन्त कहते थे। अभी कहते हैं सब ईश्वर ही ईश्वर हैं, इसको तमो बुद्धि कहा जाता है।

तो ऐसे नहीं कहना चाहिए कि हमारा मन नहीं लगता। यह तुम क्या कहते हो! बाप को भूलने से ही यह हाल होता है। बाप को याद करो तो खुशी का पारा चढ़ा रहेगा। बाप को याद करने से बड़ी भारी कमाई है। सारी रात बाप को याद करो। नींद को जीतने वाले बनो। गाते आये हो – बलिहार जाऊं। अब कहते हैं – मैं आया हूँ, तो मामेकम् याद करो ना। मुझ आत्मा का बाप वह है, उनको याद करना है। इनसे ममत्व मिट जाना चाहिए। नष्टोमोहा बन एक के साथ बुद्धि लगानी है तो पक्के हो जायेंगे। मुझे अब नये घर जाना है। पुराने घर से क्या ममत्व रखें। नया मकान बनाया जाता है तो फिर पुराने से दिल हट जाती है ना। बाप कहते हैं – देह सहित सब कुछ यह पुराना है। अब बाप और वर्से को याद करो। इस पढ़ाई से हम प्रिन्स-प्रिन्सेज जाकर बनेंगे सतयुग में। सेकेण्ड में बाबा प्रत्यक्षफल देते हैं। यह है प्रिन्स प्रिन्सेज बनने का कॉलेज। प्रिन्स-प्रिन्सेज का कॉलेज नहीं। यहाँ बनना है। फिर प्रिन्स के बाद राजा तो जरूर बनेंगे। अच्छा।

बापदादा, मीठी-मीठी मम्मा का सिकीलधे बच्चों को याद, प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा में अपना तन-मन-धन स्वाहा करना है। बाप का पूरा पूरा मददगार बनना है।

2) यहाँ हर्षितमुख रहना है। किसी भी बात में मुरझाना नहीं है, बाप की याद से सब कलह-क्लेष मिटा देने हैं।

वरदान:- अपनी चलन और चेहरे द्वारा सेवा करने वाले निरन्तर योगी निरन्तर सेवाधारी भव
सदा इस स्मृति में रहो कि बाप को जानने और पाने वाली कोटों में कोई हम आत्मायें हैं, इसी खुशी में रहो तो आपके यह चेहरे चलते फिरते सेवाकेन्द्र हो जायेंगे। आपके हर्षित चेहरे से बाप का परिचय मिलता रहेगा। बापदादा हर बच्चे को ऐसा ही योग्य समझते हैं। तो चलते फिरते, खाते पीते अपनी चलन और चेहरे द्वारा बाप का परिचय देने की सेवा करने से सहज ही निरन्तर योगी, निरन्तर सेवाधारी बन जायेंगे।
स्लोगन:- जो अंगद समान सदा अचल अडोल एकरस रहते हैं, उन्हें माया दुश्मन हिला भी नहीं सकती।

TODAY MURLI 30 June 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 June 2017

Read Murli in Hindi :- Click Her

Read Bk Murli 29 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

30/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, after becoming Brahmins, don’t let there be any such behaviour that the Father’s name would be defamed. While at your business etc., simply continue to follow shrimat.
Question: Which words should not emerge from the lips of Godly students?
Answer: “We don’t have time to study.” These words should not emerge from your lips. The Father does not place any difficulty on the children’s heads. He simply says: Awaken in the early hours of the morning and remember Me and study for an hour or half an hour.
Question: What is the plan of human beings and what is the Father’s plan?
Answer: The plan of human beings is to unite and become one. Human beings desire one thing, but the Father’s plan is to change the land of falsehood into the land of truth. So, in order to go to the land of truth, you definitely do have to become truthful.
Song: What has happened to the human beings of today?

 

Om shanti. You children also say, “Om shanti”. Souls can say “Om shanti” through their bodies. The original religion of myself, the soul, is peace. You must not forget this. The Father comes and also says, “Om shanti”. The place where you children remain peaceful is also the place where the Father resides. That is our land of peace and our home. No scholar or pundit in the world outside knows this. They simply say that a soul is the same as the Supreme Soul. No one has knowledge of souls; they do not know what a soul is. All the billions of souls are like stars. An imperishable part is fixed in each soul and it emerges at its own time. The Father sits here and explains this. The Father cannot explain to human beings without entering a human body and becoming human. I too definitely need a body. A body is adopted when creation has to be created. Creation takes place through Prajapita Brahma. Incorporeal Shiva is the Creator. He explains to Brahma Kumars and Kumaris through Prajapita Brahma, not to shudras. This is now our Brahmin caste. Previously, we were in the shudra caste and, before that, we belonged to the merchant and warrior castes. People of the world do not understand these things. Brahmins definitely become deities who later become warriors, merchants and shudras. Brahmins are the topknot. Previously, Brahmins used to wear a topknot like a cow’s hoof. You play the game of a somersault; I do not play it. You go into the cycle of these castes. It is such an easy matter! Your very name is swadarshanchakradhari, but people have written all sorts of things in the scriptures. You understand that only you Brahmins become swadarshanchakradhari. However, the symbols of these ornaments have been given to the deities because they are complete. The symbols only suit them. By imbibing this knowledge , you once again become rulers of the globe. You are now personally sitting here. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Brahmins are definitely needed for a yagya. A shudra cannot create a yagya. Rudra Shiv Baba has created this sacrificial fire, and so Brahmins are definitely needed. The Father says: I only speak to the Brahmin children. This is such a huge sacrificial fire. As soon as the Father came, He created this sacrificial fire. This is known as the sacrificial fire in which the horse is sacrificed, that is, it is the sacrificial fire to establish self-sovereignty. Where? In Bharat. Baba creates the golden-aged self-sovereignty. So, you can call this the Shiva Gyan Yagya or Rudra Gyan Yagya. The temple at Somnath is also His. That One has been given many names. This is known as a yagya; it is not called a school. The Father has created the Rudra gyan yagya; a yagya (sacrificial fire) is not called a school. The yagya is created through the Brahmins. The Bestower, Bholanath (the Innocent Lord), is the One who gives alms to Brahmins. He is called Shiva, the Innocent Lord, the Master of all Treasures. You are now sitting face to face with Him. BapDada has adopted you children. This one is the senior mother. However, Mama is fixed to take care of the mothers. She is the cleverest of all. Her part is a main one. She is Jagadamba, the goddess of knowledge. Mahalakshmi cannot be called the goddess of knowledge. The name ‘Lakshmi’ means the goddess of wealth. They say, “So-and-so has Lakshmi in their home”, that is, they have a lot of wealth. They ask Lakshmi for only wealth. At the end of every 12 months they invoke Lakshmi. Jagadamba fulfils everyone’s desires. You children understand that Jagadamba is the daughter of Prajapita Brahma. Her name is Saraswati. Just one name is enough. There is the mother as well as the children. You are listening to knowledge from Shiv Baba. The Father has come and has adopted this one and named him Brahma. He also says: I enter an impure body. None of these things are written in the scriptures. You understand that you are making effort for the new world. You are becoming flowers from thorns. When you were shudras you were thorns. You have now become Brahmins, flowers. The Father changes Brahmins into flowers. He is the Master of the Garden and all of you are gardeners, numberwise. Those who are good gardeners make others the same as themselves; they continue to plant saplings. All are numberwise. This is called spiritual knowledge. God is the one who gives knowledge. It is human beings who speak all the scriptures etc. This spiritual knowledge is given by the Supreme Spirit to the spirits. No one else receives the knowledge of the Creator and His creation. They simply tell tall stories. This is the world of falsehood where everything is false. In the beginning, there was no artificial jewellery, but it has now become so artificial! There is now so much artificial jewellery; no one is able to keep real jewellery. The kingdom of Ravan is the land of falsehood. The land of truth is the kingdom established by Rama (God). This is the sacrificial fire created by Shiv Baba. It is a school, a sacrificial fire, as well as a home. You understand that you are personally sitting in front of the parlokik Father and Prajapita Brahma. How can the inheritance be received unless you become Brahmins? True Brahmins are needed to look after the yagya. Those who indulge in vice are not called Brahmins. What would the result be if one foot is in the boat of Ravan and the other in the boat of Rama? You would be split in two. Then, by performing such activity, you would defame the Father’s name. You call yourself the children of Prajapita Brahma but you perform the actions of a shudra! The Father says: By all means, carry on with your business etc., but if you do everything according to shrimat, it becomes Baba’s responsibility. You have come here to receive Godly directions. Those are devilish directions, whereas you follow shrimat in order to become elevated. The highest-on-high Father gives the highest directions. You understand that you receive elevated directions in order to change from human beings into deities. You even say: We will become the sun-dynasty rulers. This yagya is for becoming a ruler, not a subject. You become the kings and queens, and so subjects will also be created. Just as Mama and Baba made effort and became this, so you children should become the same. You children should have the same happiness in being Brahma Kumars and Kumaris, Shiv Baba’s grandchildren. Shiva is not called Prajapita. He is the Creator, whereas the deities are those who reside in heaven. The Father is the one who changes human beings into deities. Your bodies are being rejuvenated just as the kalpa tree is. He makes you souls who have become ugly pure and beautiful. Those bodies do not remain when you become completely pure. This is why the haystack, in which everyone is destroyed, is to be set ablaze. These are unlimited things. This is an unlimited island, those are limited. There are as many languages as there are names. There are many islands, but this entire world is an island (lanka). The kingdom of Ravan covers the entire world. You also heard in the song: What has the state of human beings become? There, they do not kill each other. It is said that as was Rama, so were his subjects, those who followed the highest code of conduct. There is no question of sorrow. It is a sin to cause sorrow for anyone. How can there be that Ravan and Hanuman etc? You can tell people the first main thing: Since you call Him ‘God , the Father’, how can He be omnipresent? Otherwise, it would be a Fatherhood. Not everyone can be the Father. You children now have to explain that for half a cycle you have been earning a false income. Now, in order to go the land of truth, you must earn a true income. They relate the scriptures too in order to earn an income. Shiv Baba did not study those scriptures etc. He is knowledge-full, the Ocean of Knowledge. He is the Truth and the Living Being. You children now understand that you are earning a true income from Baba in order to go to the land of truth. When the land of falsehood is destroyed, everything will be destroyed along with the bodies. All of you will see how the war takes place. They think that everyone should come together, but they become divided. Human beings desire one thing and God desires something else. All their plan are for destruction. What is God’s plan? You now know that. The Father has come in order to change the land of falsehood into the land of truth, to change humans into deities. Through the truthful Father you become truthful whereas you become false through Ravan. The Father is the one who gives true knowledge. You Brahmins will return with your hands full, whereas the hands of the shudras will remain empty. You understand that you are to become deities. Now the Father simply says: Stay in your household, become like a lotus flower and remember Me. Why should you forget to remember Baba? You forget the Father who makes you into the masters of heaven! This is something new; you have to be soul conscious here. A soul is imperishable; he sheds a body and takes on the next. The Father says: Be soul conscious because you are to return home. Shed the consciousness of the body. This is the decayed old shoe of 84 births. When clothes have been worn for a time, they wear out. You must also shed those old bodies. Now come down from the pyre of lust and sit on the pyre of knowledge. There are many who cannot refrain from vices. The Father says: Since the copper age, you have been becoming greatly diseased because of these vices. Now conquer these vices. Don’t indulge in the vice of lust; be pure. These bodies are impure. Therefore, become pure! Everyone here is born through vice. Vices do not exist in the golden and silver ages. If they were to exist there, why would that be called heaven and this be called hell? The Father says: There is no aim or object ive in the scriptures. Here, you have an aim and object ive. We are now changing from human beings into deities. The Father says: Forget all that you have studied. There is no essence in it. Your stage of ascending only takes place once; afterwards, it is the stage of descending. No matter how much you beat your heads, you have to descend and become impure. This is the dirty world. You children understand that our Bharat was heaven and that it is now hell. First, there was only the one original deity religion, but that no longer exists. That religion is being established once again. Baba comes and carries out establishment once again through Brahma. You also say that you are claiming the kingdom once again. After you have claimed the kingdom, this knowledge will disappear. Only impure ones receive this knowledge in order to become pure. So, why would this knowledge remain in the pure world? You also understand how many years it has been since there was the kingdom of Lakshmi and Narayan. You say: Baba, we have come once again after 5000 years to claim the kingdom. I, this soul, am a child of the Father. There is the example of a person who started calling himself a buffalo: he kept repeating that to himself, and thereby developed the faith that he was a buffalo and believed that he couldn’t leave through a window because he had horns! This example applies to you. You have the faith that you are the children of Baba. It is not that by saying “I am Chaturbhuj” (the four-armed image of Vishnu) you will become so. No, the One who can make you that is definitely needed. This knowledge is to change you from an ordinary human being into Narayan. Those who imbibe well and inspire others to do so are the ones who claim a high status. A student cannot say that he does not have time to study. In that case, you can go and sit at home. The inheritance cannot be claimed without studying. You are God f atherly students, and yet you say that you don’t have time! If, after belonging to the Father, you divorce Him, He would say that you are a great fool. Don’t you have time for an hour or half an hour? Sit in the early morning hours and remember Baba; no difficulties are placed on your head for this. Awaken in the early morning hours and simply remember the Father and spin the discus of self-realisation. If not others, at least benefit yourself! The more merciful you are and the more you bring benefit to yourself and then to others, the higher the status you claim. This is a very great income. Those who have a lot of wealth say that they do not have the time. The wealthy will be poor there, and the poor ones will be wealthy. The mothers cry the most. You have to make them laugh. Constantly stay on the pilgrimage of remembrance. There is peace in Madhuban, and so you can earn a great deal of income. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love and remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Earn a true income in order to go to the land of truth. Be soul conscious. Renounce of the arrogance of this decayed old shoe (body).
  2. Be merciful and bring benefit to yourself and to others. Awaken early in the morning, remember the Father and spin the discus of self-realisation.
Blessing: May you be equal to the Father and have vision of love for all souls and have feelings of love for all souls.
From the copper age onwards, all of you defamed the Father in many ways and the Father still only gave you love. F ollow the Father in the same way and become equal the Father. No matter what souls are like, let your vision and feelings be of love. This is known as being loving to all. Even if someone insults you or dislikes you, have love for everyone. No matter what your relatives say or do, let your feelings for everyone be pure and benevolent. This is known as being equal to the Father.
Slogan: A special soul is one who only sees and speaks of specialities.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_1]

 

Read Bk Murli 28 June 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 30 June 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 June 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 29 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

30/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ब्राह्मण बनकर कोई ऐसी चलन नहीं चलना जो बाप का नाम बदनाम हो, धन्धाधोरी करते सिर्फ श्रीमत पर चलते रहो”
प्रश्नः- गॉडली स्टूडेन्ट के मुख से कौन से शब्द नहीं निकलने चाहिए?
उत्तर:- हमें पढ़ाई पढ़ने की फुर्सत नहीं है, यह शब्द तुम्हारे मुख से नहीं निकलने चाहिए। बाप कोई बच्चों के सिर पर आपदा (बोझ-समस्या) नहीं डालते सिर्फ कहते हैं सवेरे-सवेरे उठ एक घड़ी, आधी घड़ी मुझे याद करो और पढ़ाई पढ़ो।
प्रश्नः- मनुष्यों का प्लैन क्या है और बाप का प्लैन क्या है?
उत्तर:- मनुष्यों का प्लैन है – सब मिलकर एक हो जाएं। नर चाहत कुछ और ..बाप का प्लैन है झूठ खण्ड को सचखण्ड बनाना। तो सचखण्ड में चलने के लिए जरूर सच्चा बनना पड़े।
गीत:- आज के इंसान को…

 

ओम् शान्ति। बच्चे भी कहते हैं ओम् शान्ति। आत्मायें कह सकती हैं इस शरीर द्वारा ओम् शान्ति। अहम् आत्मा का स्वधर्म है शान्त, यह भूलना नहीं है। बाप भी आकर कहते ओम् शान्ति। जहाँ तुम बच्चे भी शान्त रहते हो, वहाँ बाप भी रहते हैं। वह है हमारा शान्तिधाम वा घर। दुनिया में कोई भी विद्वान, आचार्य इन बातों को नहीं जानते। कह देते हैं आत्मा सो परमात्मा। आत्मा का भी किसको ज्ञान नहीं है कि आत्मा क्या है। इतनी करोड़ आत्मायें स्टार मिसल हैं। हर एक आत्मा में अपना-अपना अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है, जो समय पर इमर्ज होता है। यह बाप बैठ समझाते हैं। बाप भी जीव आत्मा बनने बिगर जीव आत्माओं को समझा न सके। मुझे भी जरूर शरीर चाहिए ना। शरीर तब लेना होता है जब रचना रचनी होती है। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा रचना करते हैं, रचयिता तो है निराकार शिव। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ब्रह्माकुमार कुमारियों को समझा रहे हैं, शूद्रों को नहीं। अब हमारा है ब्राह्मण वर्ण। पहले शूद्र वर्ण में थे। उनके आगे वैश्य वर्ण, क्षत्रिय वर्ण। दुनिया इन बातों को नहीं जानती है। बरोबर ब्राह्मण सो देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र… ब्राह्मणों की चोटी है। आगे ब्राह्मण गऊ के खुर जितनी चोटी रखाते थे। तुम बाजोली खेलते हो। मैं तो नहीं खेलता हूँ। इन वर्णो के चक्र में तुम आते हो। कितनी सहज बात है। तुम्हारा नाम ही है स्वदर्शन चक्रधारी। बाकी शास्त्रों में तो क्या-क्या बातें लिख दी हैं। तुम समझते हो – हम ब्राह्मण ही स्वदर्शन चक्रधारी बनते हैं। परन्तु यह अलंकारों की निशानी देवताओं को दी है क्योंकि वे सम्पूर्ण हैं। उन्हों को ही शोभते हैं। इस नॉलेज को धारण करने से तुम फिर चक्रवर्ती राजा बनते हो। अभी सम्मुख बैठे हो। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। यज्ञ में ब्राह्मण जरूर चाहिए। शूद्र यज्ञ रच नहीं सकते। रूद्र शिवबाबा ने यज्ञ रचा है तो ब्राह्मण जरूर चाहिए। बाप कहते हैं मैं ब्राह्मण बच्चों से ही बात करता हूँ। कितना बड़ा यज्ञ है जब से बाप आये हैं, आते ही यज्ञ रचा है। इसको कहा जाता है अश्वमेध अर्थात् स्वराज्य स्थापन करने अर्थ। कहाँ? भारत में। सतयुगी स्वराज्य रचते हैं। यह शिव ज्ञान यज्ञ कहो वा रूद्र ज्ञान यज्ञ कहो, सोमनाथ मन्दिर भी उनका ही है। एक के बहुत ही नाम हैं। इनको यज्ञ कहा जाता है, पाठशाला नहीं कहा जाता। बाप ने रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा है। यज्ञ को पाठशाला नहीं कहेंगे। ब्राह्मणों द्वारा यज्ञ रचा जाता है। ब्राह्मणों को दक्षिणा देने वाला दाता भोलानाथ है। उसको कहते ही हैं शिव भोलानाथ भण्डारी। अब तुम सम्मुख बैठे हो। बापदादा ने बच्चों को एडाप्ट किया है। यह है बड़ी मम्मा। फिर माताओं की सम्भाल के लिए मम्मा मुकरर की जाती है, वह सबसे तीखी जाती है। इनका पार्ट है मुख्य। वह है ज्ञान ज्ञानेश्वरी जगत अम्बा। महालक्ष्मी को ज्ञान ज्ञानेश्वरी नहीं कहेगे। लक्ष्मी माना धन देवी। कहते हैं ना – इनके घर लक्ष्मी है अर्थात् सम्पत्ति बहुत है। लक्ष्मी से सम्पत्ति ही मांगते हैं। 12 मास पूरा हुआ तो आह्वान करेंगे। जगत अम्बा सबकी मनोकामनायें पूरी करती है। बच्चे जानते हैं जगत अम्बा है – प्रजापिता ब्रह्मा की बेटी, इनका नाम है सरस्वती। एक ही नाम बस है। मम्मा है तो बच्चे भी हैं। तुम शिवबाबा द्वारा नॉलेज सुन रहे हो। इनको बाप ने आकर एडाप्ट किया है, नाम रखा है ब्रह्मा। कहते भी हैं मैं पतित शरीर में आता हूँ। शास्त्रों में भी यह कोई बातें नहीं हैं। तुम जानते हो नई दुनिया के लिए हम पुरूषार्थ कर रहे हैं। कांटे से फूल बन रहे हैं। शूद्र थे तो कांटे थे। अभी ब्राह्मण फूल बने हो। ब्राह्मणों को फूल बनाते हैं बाप। वह है बागवान। तुम नम्बरवार माली हो। जो अच्छे-अच्छे माली हैं वह औरों को भी आपसमान बनाते हैं। सैपलिंग लगाते रहते हैं। नम्बरवार हैं, इसको कहा जाता है प्रीचुअल ज्ञान। ईश्वर है ज्ञान देने वाला। शास्त्र आदि तो सब मनुष्य सुनाते हैं। यह रूहानी ज्ञान जो सुप्रीम रूह रूहों को देते हैं और कोई को रचयिता और रचना का ज्ञान मिलता ही नहीं। ऐसे ही गपोड़े मारते रहते हैं। यह है ही झूठी दुनिया। सब झूठ ही झूठ है। असल में पहले झूठे जवाहरात थे नहीं। अभी तो झूठे कितने हो गये हैं। सच्चे रखने नहीं देते। झूठ खण्ड में है रावण राज्य, सचखण्ड में है राम का स्थापन किया हुआ राज्य। यह है शिवबाबा का स्थापन किया हुआ यज्ञ। पाठशाला भी है, यज्ञ भी है, घर भी है। तुम जानते हो हम पारलौकिक बाप और फिर प्रजापिता ब्रह्मा के सम्मुख बैठे हैं। जब तक ब्राह्मण न बनें तो वर्सा कैसे मिल सके। यज्ञ को सम्भालने वाले सच्चे ब्राह्मण चाहिए। विकारों में जाने वाले को ब्राह्मण नहीं कहेंगे। एक टांग रावण की बोट में, दूसरी टांग राम की बोट में है तो नतीजा क्या होता है? चीर जायेंगे। ऐसी चलन से फिर नाम बदनाम कर देते हैं। कहलाते हैं प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान और कर्तव्य शूद्रों के। बाप कहते हैं धन्धाधोरी तो भल करो परन्तु श्रीमत पर चलने से फिर रेसपान्सिबिल्टी उन पर हो जाती है।

तुम यहाँ आये ही हो ईश्वरीय मत लेने के लिए। वह है आसुरी मत। तुम श्रीमत लेते हो श्रेष्ठ बनने के लिए। ऊंच ते ऊंच बाप ऊंची मत देते हैं। तुम जानते हो हमको ऊंची मत मिलती है मनुष्य से देवता बनने की। कहते भी हैं हम तो सूर्यवंशी राजा बनेंगे। यह है ही राजस्व, प्रजा स्व नहीं। तुम राजा-रानी बनते हो तो प्रजा भी जरूर बननी है। जैसे यह मम्मा बाबा पुरूषार्थ से बनते हैं तो बच्चों को भी बनना है। तुम बच्चों को भी खुशी होनी चाहिए। हम ब्रह्माकुमार कुमारियाँ शिवबाबा के पोत्रे-पोत्रियाँ हैं। शिव को प्रजापिता नहीं कहेंगे। वह है रचयिता। स्वर्ग में रहने वाले हैं देवी-देवतायें। बाप ही मनुष्य को देवता बनाते हैं। तुम्हारी काया कल्प वृक्ष समान बनती है, रिज्युवनेट होते हैं। तुम्हारी आत्मा जो काली हो गई है, उनको प्योर गोरा बनाते हैं। जब सम्पूर्ण पवित्र बन जाते हैं तो फिर शरीर नहीं रहता है इसलिए ही भंभोर को आग लगती है, जिसमें सबका विनाश हो जायेगा। यह हैं बेहद की बातें। यह बेहद का आइलैण्ड है, वह हैं हद के। जितनी भाषायें उतने नाम रख दिये हैं। अनेक टापू हैं। परन्तु यह सारी सृष्टि ही टापू है। सारी सृष्टि में रावण का राज्य है। गीत में भी सुना ना कि क्या हालत हो गई है। वहाँ एक दो को मारते नहीं हैं। वहाँ तो राम राजा, राम प्रजा… कहते हैं दु:ख की बात ही नहीं। किसको दु:ख देना भी पाप है। वहाँ फिर यह रावण हनूमान आदि कहाँ से आये? तुम कह सकते हो पहली मुख्य बात – गॉड फादर कहते हो तो वह सर्वव्यापी कैसे हो सकता है। फिर तो फादरहुड हो जाता है। सब फादर ही फादर तो हो न सकें।

अब तुम बच्चों को यह समझाना है – आधाकल्प तुमने झूठी कमाई की है। अब सचखण्ड के लिए सच्ची कमाई करनी है। वह भी शास्त्र आदि जो सुनाते हैं कमाई के लिए। शिवबाबा तो यह शास्त्र आदि कुछ भी पढ़ा हुआ नहीं है। वह है ही नॉलेजफुल, ज्ञान का सागर। वह सत् है, चैतन्य है। अभी तुम बच्चे जानते हो बाबा से हम सच्ची कमाई सचखण्ड के लिए कर रहे हैं। झूठ खण्ड विनाश होता है। देह सहित यह सब विनाश होना है। तुम सब देखेंगे कि कैसे लड़ाई लगती है। वह समझते हैं सब मिल जावें, परन्तु फूट पड़ती जाती है। नर चाहत कुछ और… उनका प्लैन है सब विनाश के लिए। ईश्वर का प्लैन क्या है? सो अब तुम जानते हो। बाप आये ही हैं झूठ खण्ड को सच खण्ड बनाने के लिए, मनुष्य को देवता बनाने। सत्य बाप द्वारा तुम सच्चे बनते हो और रावण द्वारा झूठे बनते हो। बाप ही सत्य ज्ञान देते हैं। तुम ब्राह्मणों का हाथ भरतू होगा। बाकी शूद्रों का हाथ खाली रहेगा।

तुम जानते हो हम सो देवी-देवता बनेंगे। अब बाप सिर्फ कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान बनो और मुझे याद करो। याद क्यों भूलनी चाहिए! जो बाप स्वर्ग का मालिक बनाते हैं, उनको तुम भूल जाते हो.. यह है नई बात, इसमें आत्म-अभिमानी बनना पड़े। आत्मा तो अविनाशी है, एक शरीर छोड़कर दूसरा लेती है। बाप कहते हैं – देही-अभिमानी बनो क्योंकि वापस जाना है। देह का भान छोड़ो। यह 84 जन्मों की सड़ी हुई जुत्ती है। कपड़ा पहनते-पहनते सड़ जाता है ना। तुमको भी यह पुराना शरीर छोड़ना है। अब काम चिता से उतरकर ज्ञान चिता पर बैठो। बहुत हैं जो विकारों बिगर रह नहीं सकते। बाप कहते हैं- द्वापर से लेकर तुम इन विकारों के कारण ही महान रोगी बन पड़े हो। अब इन विकारों को जीतो। काम विकार में मत जाओ। यह शरीर तो अपवित्र, पतित है ना। पावन बनो। यहाँ सभी विकार से पैदा होते हैं। सतयुग-त्रेता में यह विकार होते नहीं। वहाँ भी यह हो तो बाकी उनको स्वर्ग, इनको नर्क क्यों कहा जाए! बाप कहते हैं शास्त्रों में तो कोई एम आब्जेक्ट ही नहीं है। यहाँ तो एम आब्जेक्ट है। हम अभी मनुष्य से देवता बन रहे हैं। बाप कहते हैं तुमने जो कुछ पढ़ा है उसे भूलो। उसमें कोई सार नहीं है। तुम्हारी चढ़ती कला एक ही बार होती है। फिर है उतरती कला। कितना भी माथा मारो, नीचे उतरना ही है। पतित बनना ही है। यह छी-छी दुनिया है। तुम बच्चे जानते हो हमारा भारत स्वर्ग था। अभी नर्क है। पहले आदि सनातन एक ही धर्म था, जो अब नहीं है। फिर उस धर्म की स्थापना होती है। बाबा फिर से ब्रह्मा द्वारा आकर स्थापना करते हैं। तुम भी कहेंगे हम फिर से राज्य लेते हैं। राज्य लेने के बाद फिर यह नॉलेज गुम हो जायेगी। यह नॉलेज पतितों को ही मिलती है – पावन होने के लिए, फिर पावन दुनिया की नॉलेज क्यों रहेगी? लक्ष्मी-नारायण के राज्य को कितने वर्ष हुए, यह भी तुम जानते हो। कहते हो बाबा हम 5 हजार वर्ष बाद फिर से आये हैं राज्य लेने। हम आत्मा बाप के बच्चे हैं। मिसाल देते हैं एक आदमी कहने लगा मैं भैंस हूँ… तो वह निश्चय बैठ गया। कहने लगा इस खिड़की से कैसे निकलूँ… यह बात है तुम्हारे लिए। तुम निश्चय करते हो हम बाबा के बच्चे हैं, ऐसे तो नहीं मैं चतुर्भुज हूँ, यह कहने से बन जायेंगे। बनाने वाला जरूर चाहिए। यह है नर से नारायण बनाने की नॉलेज, जो अच्छी रीति धारण कर और करायेंगे वही ऊंच पद पायेंगे। स्टूडेन्ट्स ऐसे कह न सकें कि हमको फुर्सत नहीं है पढ़ने की। फिर तो जाकर घर बैठो। पढ़ाई बिगर वर्सा मिल न सके। गॉड फादरली स्टूडेन्टस फिर कहते हैं – फुर्सत नहीं। बाप का बनकर फिर फारकती दे देते हैं तो बाप कहेंगे तुम तो महान मूर्ख हो। एक घड़ी आधी घड़ी…. तुमको फुर्सत नहीं है, अच्छा सुबह को सवेरे बैठ बाबा को याद करो। कोई आपदा सिर पर नहीं डालते हैं। सिर्फ सवेरे उठ बाप को याद करो और स्वदर्शन चक्र फिराओ। औरों का नहीं तो अपना कल्याण करो। रहमदिल बन जितना औरों का कल्याण करेंगे तो ऊंच पद पायेंगे। बड़ी जबरदस्त कमाई है। जिसके पास बहुत धन है वह कहते हैं फुर्सत नहीं। साहूकारों को वहाँ गरीब बनना है और गरीबों को साहूकार बनना है। सबसे जास्ती मातायें रोती हैं, उनको हँसाने वाला बनना है। निरन्तर याद की यात्रा पर रहना है। मधुबन में शान्ति है तो बहुत कमाई कर सकते हो। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच खण्ड के लिए सच्ची कमाई करनी है। आत्म-अभिमानी होकर रहना है। इस सड़ी हुई जुत्ती (शरीर) का अभिमान छोड़ देना है।

2) रहमदिल बन अपना और दूसरों का कल्याण करना है। सवेरे-सवेरे उठ बाप को याद करते, स्वदर्शन चक्र फिराना है।

वरदान:- हर आत्मा के प्रति प्यार की दृष्टि, प्यार की भावना रखने वाले बाप समान भव 
जैसे द्वापर से आप लोगों ने बाप को अनेक गालियां दी फिर भी बाप ने प्यार किया। तो फालो फादर कर बाप समान बनो। कैसी भी आत्मायें हों लेकिन अपनी दृष्टि, अपनी भावना प्यार की हो-इसको कहा जाता है सर्व के प्यारे। कोई इनसल्ट करे या घृणा सबके प्रति प्यार हो। चाहे संबंधी क्या भी कहें, क्या भी करें लेकिन आपकी भावना शुद्ध हो, सर्व के प्रति कल्याण की हो – इसको कहते हैं बाप समान।
स्लोगन:- विशेष आत्मा वह है जो विशेषताओं को ही देखे और उनका ही वर्णन करे

 

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 28 June 2017 :- Click Here

Font Resize