today murli 30 july

TODAY MURLI 30 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 July 2018 :- Click Here

30/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, promise that you will not sleep peacefully until the golden-aged self-sovereignty is established, that you will become pure and enable others to become pure.
Question: Which death in the drama is the system of the confluence age?
Answer: Very good children who make effort to become part of the rosary of victory are amazed by the knowledge. They listen to it, they speak about it and then run away, that is, they die. It is as though this type of death has become a system of the confluence age. When you don’t follow shrimat, Maya defeats you. After belonging to the Father, if you let go of His hand, it means you have died. Your fortune is then crossed out.
Song: I have come to Your doorstep having taken an oath. 

Om shanti. Sweetest children who have died alive, who have sacrificed themselves while alive, heard this song. Not all of them have sacrificed themselves. They all die alive, numberwise, according to the effort they make. When someone goes into the lap of someone else, that is, when someone is adopted, he leaves one family and becomes a member of another family. You children know that you have died to the devilish family and have now become part of God’s family. God has come and adopted you. No one on the path of ignorance is adopted by God. They are adopted by religious gurus. There are Vallbhacharis who hand over the children to Shri Krishna in the Shri Krishna Temple. However, those images are non-living. Therefore, it is the brahmin priests who takes them in their laps to make them into Vaishnavs. There are many who adopt children. You children know that they are adopted in the name of those who have been and gone. Some are adopted by Christ and others are adopted by Abraham. Only you children know when they existed in the past and when they will come again. You have now died alive. You have to stay in remembrance of the one Father. Physical children are adopted and when their father dies the children remain. Here, you are adopted by such a Father that He takes you from the land of death to the land of immortality, that is, from degradation into salvation. There is only the one Bestower of Salvation for human beings. It isn’t that only you receive salvation. Everyone definitely receives salvation but, according to the drama, some receive satopradhan salvation, some sato, some rajo, and others receive tamo salvation. Although they come at the time of the tamo stage, they don’t experience sorrow as soon as they come. They definitely have to experience happiness first. At the end, everyone experiences sorrow. The Father says: I alone am the Bestower of Salvation, the Purifier. When souls come down, they first experience happiness and then sorrow. You too first come into the satopradhan stage, numberwise, according to the efforts you make, and you then go through the sato, rajo and tamo stages. You too receive salvation, numberwise. Eight beads are considered to be the main ones. All of you are Draupadis. You now belong to the Father and so you must never leave the Father. However, if you don’t remember Him according to shrimat, Maya will make you let go of His hand. Some came and were adopted and continued to follow this path in the beginning. Very good sweet children who were placed in the third and fourth number of the rosary of victory, also became those who were amazed and then ran away. This is a custom or system of the confluence age. There continues to be those who are amazed by the knowledge as they listen to it, who speak about it and then die. It would be said that they were meant to die in that way in the drama. Having belonged to the Father, if you then let go of His hand it means you have died. Although they are in this world, they have left this place while alive and gone into the devilish world. There has to be some reason, even though you would say that it is the drama. However, because of not following shrimat, they are defeated by Maya; their fortune is crossed out. After belonging to God, there is a war with Maya. There wasn’t a war between the deities and devils. Maya is a devil and gains victory. Achcha. Children have written asking what to do on the festival of Raksha Bandhan. Preparations are made for all the festivals. In advance of the festival of Raksha Bandhan, you go and tie a rakhi on people. You should have the full significance of this in your intellects. In earlier days, brahmin priests would tie the rakhis. Now they have a system where a sister ties a rakhi on her brother’s wrist. Originally, those brahmins used to tie the rakhi because the brahmin caste is remembered as the highest and the purest. In fact, brahmins are even higher than sannyasis, but, according to the drama, sannyasis have become higher at this time. Earlier, brahmins used to tie rakhis, and they would then untie the rakhis at Janamashtami. Just as they have said that Draupadi left her hair loose, rishis too always keep their locks (hair) undone. A married woman would always have her hair tied. Draupadi said she would keep her hair loose until they received their kingdom back, that she would not tie her hair. The meaning of that has now been explained to you children. Until we claim our self-sovereignty, we will not sleep peacefully. It is said that it is a sin to rest. Internally, you have the enthusiasm that there can not be happiness until you claim your self-sovereignty. You have to receive happiness in the future and, for that, you have to make effort now. You now know that Raksha Bandhan means you make a promise to remain pure. Rakhi means it is a matter of making a promise. When did these festivals start? Why did they start? Who emerged to give the advice of Raksha Bandhan? One person gives this advice and then his name is glorified. Therefore, this is a symbol of purity. A sister is a kumari. The kumaris tie them. We also go and tie them on householders. Kumars are kumars. A sister ties a rakhi on her brother, whether he is a kumar or married. It would be very difficult for a married person to remain pure. God says: Become pure in this final birth, and yet they don’t become pure. A sister should tie a rakhi on a kumar brother and ask him to promise: I will never drink poison. Those who are already indulging in vice will not let go of vice. They don’t obey God’s orders. Therefore, this system of kumars and kumaris continues. You now understand that this festival belongs to the confluence age. In the golden age, all are pure. There is no need to tie rakhis there. It isn’t that this system has continued from the golden age. All the festivals generally refer to the confluence age. The festival of Lakshmi and Narayan is also celebrated at this time, but it has no importance. They celebrate the birth of Krishna but, first of all, tell us who made Krishna like that? The helpless people don’t know this. This should also be written clearly. All the festivals are of this time. Such things don’t exist in the golden age. They begin after some time in the copper age. The festival of Deepmala that people celebrate here is not celebrated in the same way in the golden age. The celebration here has a different meaning. One has to understand the importance of the time of that festival. It has been explained to you children that that festival is of this time when there is the birth of Shiva. After the birth of Shiva, there is the Rakhi festival. You make a promise to remain pure, that you will remain pure in this final birth in order to make Bharat, the world, pure. This Raksha Bandhan has great significance for you children. You make a promise that you will never become impure. You are now becoming pure and so only you pure kumaris have a right to tie rakhis. You have to tie rakhis on the brothers for them to remain always pure, and you also have to make the householders promise that they will remain pure. They do say: Purifier, come! So, you are inspiring them to do what has been remembered: to become pure from impure. The Father comes and makes you make this promise. After Shiva Jayanti, there is Raksha Bandhan. Holi is also connected with knowledge. Holi and Dhuriya (day after Holi when coloured water is sprayed) are both of this time. Holi means to become pure and Dhuriya means to imbibe knowledge. Those people then make so many things of stones, clay and cowdung etc. and do all sorts of things. Therefore, the Purifier Father, Himself, comes and explains to you children. Among those who die alive, there are real children and stepchildren. The Father would definitely have the account of those who are real children. A father would surely know all about the business activities and property etc. of his children. Real children are those who have total love for the Father. Real children are numberwise and stepchildren are also numberwise; some are worthy and others are unworthy. The birth of Shiva is at the confluence age. The confluence age has to be given a time. Just as they have a leap month, in the same way there is also the leapcentury of 100 years. The leap century is a very high century. It is said: The 20th Century. Here, too, this century, when the Father comes, is called the centuryof the confluence. It takes time for upheaval to take place. Deepmala is also of this time. You children know that, after the birth of Shiva, there is the matter of purity. There has been quarrelling because of purity from the beginning. Together with purity, Holi and Dhuriya are connected with knowledge and yoga. You also need to remember the Father very well. The Dhuriya of knowledge also continues. There will continue to be the rain of knowledge on you. The quarrelling is because of purity. Everyone asks: Who has come and said that you have to remain pure while living at home? Sannyasis themselves leave their homes and families. There is the story of King Gopichanda. He was asked: Why did you renounce the fortune of your kingdom? He replied: In order to meet God. People sing very good devotional songs based on this. Here, you have to live at home with your family and remain pure. All the conflict is because of purity. Raksha Bandhan is the memorial of the festival to become pure and make others pure. Look, here, even little children have visions. What devotion would little children have performed? Baba gave instant visions to everyone, and so they thought there was magic here. This is called the divine activities of Shiv Baba. They would disappear while just sitting somewhere. This too is said to be the drama. They would just look at one another and go into trance. All of these are the divine activities of the Supreme Father, the Supreme Soul, not of Krishna. They have mentioned Krishna’s name and caused a lot of defamation. Look what they have written in the Bhagawad, that Shri Krishna, the prince of the golden age, stole the clothes of the gopies and did this and that. Such activities should not be remembered. People of the world think that Krishna really did do all of that. Then they say that a soul entered the body of Krishna and related knowledge. However, that is not possible; he was a well-known prince. They also show the chariot. They show Krishna in the chariot. Would someone run a school sitting in a horse carriage? This is the school of Raja Yoga. There is such a vast difference between the battlefield they have shown and this war of yours! This is the war to conquer Maya. You children have to explain Raksha Bandhan. Raksha Bandhan means the Supreme Father, the Supreme Soul, Himself, has come to make impure ones pure. You, who are remembered, are Brahma Kumaris. A kumari is one who uplifts 21 generations. This is an aspect of the confluence age. These festivals do not continue in the golden age. After Raksha Bandhan, there is the birth of Krishna because the first birth in the golden age is that of Shri Krishna. There is his kingdom. He promises at this time to go into the clan of Shri Krishna. This is Raja Yoga. You are becoming Narayan from an ordinary man. There is no biography of Lakshmi and Narayan. The Father has explained: The biography of Radhe and Krishna is the biography of Lakshmi and Narayan. People celebrate the birthday of Krishna. OK, so what about the birth of Narayan? There must be a reason. They have shown Rama of the silver age as more elevated than Krishna. One (Krishna) is 16 celestial degrees and the other one is 14 degrees. They have mixed up the whole play. All the importance is of this time. Don’t think that Deepmala begins in the golden age. The golden age is the pure world. All souls are awakened. All the festivals refer to this time. You now know the biography of everyone. Shiv Baba Himself comes and tells you children to become pure. You souls have become dirty. Sannyasis say that souls are immune to the effect of action. This is why many people say that there is nothing wrong with eating eggs, fish, etc. They all have their own customs and systems. Earlier, human beings were sacrificed to Kali. Neither Shiva nor Shankar would be called ugly. Yes, the two forms of Brahma and Vishnu become ugly and beautiful. The Father sits here and explains all of this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have total love for the Father and become real children. Give your full news to the Father. Never become unworthy.
  2. Keep the accurate meaning of Raksha Bandhan in your intellect and definitely become pure. Never be defeated by Maya. With the power of purity, promise to claim your self-sovereignty.
Blessing: May you be a highest being following the highest code of conduct and maintain spirituality and an entertaining nature.
Some children joke and laugh a lot and consider that to be an entertaining nature. Generally, the virtue of being entertaining is considered to be good, but this is good when it is according to the persons, time, gathering, place and the atmosphere. If, out of all of these things, even one thing is not right, then that form of being entertaining would be considered to be wasteful; the certificate you receive would be that you make people laugh a lot, but that you also speak too much. So, a laughing and joking nature considered to be good is that in which there is spirituality and also benefit for that soul. Words should be within the boundary and you would then be said to be a highest being following the highest code of conduct.
Slogan: In order to remain constantly healthy, increase the power of the soul.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 July 2018

To Read Murli 29 July 2018 :- Click Here
30-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – प्रतिज्ञा करो – जब तक सतयुगी स्वराज्य स्थापन नहीं हुआ है तब तक हम सुख की नींद नहीं सोयेंगे, पवित्र बनकर सबको पवित्र बनायेंगे”
प्रश्नः- ड्रामा में कौन-सी मौत होना भी जैसे संगमयुग की रस्म है?
उत्तर:- विजय माला में आने का पुरुषार्थ करने वाले अच्छे-अच्छे बच्चे भी आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती फिर भागन्ती हो जाते अर्थात् मर जाते हैं। ऐसी मौत भी संगमयुग की जैसे रस्म बन गई है। श्रीमत पर न चलने से माया हरा देती है। बाप का बनकर हाथ छोड़ा तो गोया मर गया। तकदीर पर लकीर लग जाती है।
गीत:- दर पर आये हैं कसम ले के…….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे जीते जी मरने वाले बच्चों ने यह गीत सुना जो जीते जी कुर्बान गये हैं। सब तो कुर्बान नहीं गये हैं। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जीते जी मरते हैं। जब कोई गोद में लेते हैं या एडाप्ट करते हैं तो एक परिवार को छोड़कर दूसरे परिवार का बनते हैं। बच्चे जानते हैं हम आसुरी परिवार से मरकर अभी ईश्वरीय परिवार के बने हैं। ईश्वर ने आकर गोद में लिया है। अज्ञान काल में कोई ईश्वर की गोद नहीं लेते हैं। धर्म के गुरू की गोद ले लेते हैं। जैसे वल्लभाचारी श्रीकृष्ण के मन्दिर में बच्चे को श्रीकृष्ण की गोद में देते हैं। परन्तु वह तो है जड़ चित्र इसलिए फिर ब्राह्मण पुजारी गोद में ले लेते हैं – वैष्णव बनाने के लिए। ऐसे गोद में तो बहुत लेते हैं। बच्चे जानते हैं – बरोबर उनकी गोद लेते हैं जो होकर गये हैं। कोई क्राइस्ट की गोद लेते, कोई इब्राहम की गोद लेते। कब होकर गये हैं, वह फिर कब आयेंगे – यह सिर्फ तुम बच्चे जानते हो। अभी तुम जीते जी मरे हो। तुमको एक बाप की याद में रहना है। लौकिक बाप के बच्चे गोद में आते हैं, बाप मर जाता है, बाकी बच्चे रह जाते हैं। यहाँ तुम ऐसे बाप की गोद में आये हो जो बाप तुमको इस मृत्युलोक से अमरलोक में अथवा दुर्गति से सद्गति में ले जाने वाला है। मनुष्य मात्र का सद्गति दाता एक ही है। ऐसे नहीं कि सद्गति सिर्फ तुमको मिलती है। सद्गति तो सबको जरूर मिलती है परन्तु ड्रामा अनुसार किसको सतोप्रधान, किसको सतो, किसको रजो, तमो सद्गति मिलती है। भल तमो में आते हैं तो भी पहले आने से दु:ख नहीं भोगते। पहले सुख जरूर भोगना है। अन्त में तो सभी दु:ख भोगते हैं।

बाप कहते हैं कि सद्गति दाता पतित-पावन मैं एक ही हूँ। पहले-पहले जो आत्मायें आती हैं वह सुख भोगती हैं फिर दु:ख में आती हैं। तुम भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार पहले सतोप्रधान फिर सतो, रजो, तमो में आते हो। तुम भी नम्बरवार सद्गति को पाते हो। मुख्य 8 दाने गिने जाते हैं ना। अब तुम सब द्रोपदियां हो। बाप के बने हो तो बाप को कभी छोड़ना नहीं है। परन्तु श्रीमत पर याद नहीं करते हैं तो फिर माया हाथ छुड़ा देती है। गोद तो ली, शुरू में चलते आये। अच्छे-अच्छे बड़े मीठे बच्चे जिनको विजय माला में तीन-चार नम्बर में रखते थे वह भी आश्चर्यवत् भागन्ती हो गये। यह भी इस संगमयुग की रस्म-रिवाज है। आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती, मरन्ती – यह होता रहेगा। कहेंगे ड्रामा में इनका यह मौत था। बाप का बनकर फिर हाथ छोड़ा तो गोया मर गया। है तो भल इस दुनिया में परन्तु जीते जी यहाँ से निकलकर आसुरी दुनिया में चला गया। कोई कारण तो बनता है ना। भल कहेंगे ड्रामा! परन्तु श्रीमत पर न चलने से माया से हार खा लेते हैं। तकदीर पर लकीर लग जाती है। ईश्वर का बनने से फिर होती है माया से लड़ाई। बाकी देवताओं और असुरों की लड़ाई नहीं होती है। माया असुर है जो जीत पा लेती है।

अच्छा, अब बच्चे लिखते हैं कि राखी बन्धन के त्योहार पर क्या करें? हर त्योहार पर तैयारियाँ तो करते हैं ना। रक्षाबन्धन पर्व के उपलक्ष्य में इनएडवांस जाकर राखी बांधते हैं। इसका पूरा रहस्य भी बुद्धि में होना चाहिए। आगे तो ब्राह्मण-ब्राह्मणियां राखी बांधते थे। अब यह रिवाज़ निकला है कि बहन भाई को राखी बांधती है। असल में ब्राह्मण राखी बांधते थे क्योंकि ब्राह्मण जाति ऊंच, स्वच्छ गाई हुई है। ब्राह्मण असुल सन्यासियों से भी ऊंच है। परन्तु ड्रामा अनुसार इस समय सन्यासी ऊंच बन गये हैं। आगे ब्राह्मण राखी बांधते थे। फिर जन्माष्टमी पर वह राखी खोलते थे। जैसे द्रोपदी के लिए कहते हैं कि जटायें खोल दी थी। ऋषि लोगों की जटायें भी हमेशा खुली रहती हैं। पतिव्रता स्त्री होती है तो चोटी बांधती है। द्रोपदी ने खोल दिया था कि जब तक हम अपना राज्य नहीं लेंगे तब तक चोटी नहीं करुँगी। अब तुम बच्चों को सिर्फ अर्थ समझाया जाता है। जब तक हम स्वराज्य नहीं लेंगे तब तक सुख से सोयेंगे नहीं। गाते हैं ना – आराम हराम है। अन्दर में यह जोश रहता है कि जब तक स्वराज्य नहीं लिया है तब तक सुख कहाँ? सुख तो भविष्य में पाना है, इसके लिए पुरुषार्थ अब करना है। अब तुम जानते हो रक्षा बन्धन अर्थात् पवित्र रहने के लिए हम प्रतिज्ञा करते हैं। राखी अर्थात् प्रतिज्ञा की बात है। अब यह त्योहार कब से शुरू हुए? क्यों शुरू हुए? कौन निकला जिसने राखी बंधन की राय निकाली? कोई एक राय निकालते हैं फिर उसका नाम बाला हो जाता है। तो यह पवित्रता की निशानी है। बहन तो हुई कुमारी। कुमारियां बांधती हैं। तुम गृहस्थी को भी जाकर बांधती हो। कुमार तो हैं ही कुमार। बहन भाई को बांधती हैं, कुमार हो वा शादी किया हुआ हो। शादी किया हुआ फिर पवित्र रहे यह तो बड़ा मुश्किल है। भगवान् कहते हैं कि यह अन्तिम जन्म पवित्र बनो तो भी नहीं बनते हैं। तो बहन द्वारा कुमार भाई को राखी बांधनी चाहिए कि प्रतिज्ञा करो – हम कभी विष नहीं पियेंगे। जो हैं ही विकारी वह तो कभी विकार को छोड़ेंगे नहीं। भगवान् का फ़रमान भी नहीं मानते हैं। तो यह कुमार-कुमारियों की रस्म चली आती है। अब तुम समझते हो कि यह त्योहार भी संगमयुग का है। सतयुग में तो हैं ही सब पवित्र। वहाँ राखी बांधने की दरकार ही नहीं। ऐसे नहीं कि यह सतयुग से लेकर रिवाज चला आया है। उत्सव बहुत करके संगमयुग के हैं। लक्ष्मी-नारायण का उत्सव भी अभी मनाते हैं परन्तु उनका महत्व नहीं। कृष्ण जयन्ती मनाते हैं परन्तु पहले तो कृष्ण को ऐसा किसने बनाया – वह बताओ? बिचारों को मालूम नहीं। यह भी क्लीयर कर लिखना है। उत्सव सब हैं इस समय के। सतयुग में ऐसी बात होती नहीं। यह तो द्वापर में कुछ समय बाद फिर शुरू होते हैं। दीपमाला का उत्सव भी सतयुग में नहीं मनाया जाता, जैसे यहाँ मनाते हैं। यहाँ मनाने का अर्थ दूसरा है। उत्सव का महत्व कब का है – यह समझने की बात है। बच्चों को समझाया जाता है – यह उत्सव इस समय के हैं जबकि शिव जयन्ती होती है। शिव जयन्ती के बाद फिर होती है राखी। पवित्र बनने की प्रतिज्ञा करते हैं कि यह अन्तिम जन्म हम पवित्र बनेंगे – भारत को अथवा विश्व को पवित्र बनाने के लिए।

तुम बच्चों के लिये इस रक्षाबन्धन का बड़ा महत्व है। प्रतिज्ञा की जाती है – हम कभी पतित नहीं बनेंगे। अब तुम पावन बनते हो तो सिर्फ तुम पावन कुमारियों को ही हक है राखी बांधने का। भाइयों को सदैव पवित्र रहने के लिए राखी बांधनी है और इन गृहस्थियों से प्रतिज्ञा करानी है पवित्र रहने की। कहते हैं ना – पतित-पावन आओ। तो जो गायन है वो ही प्रतिज्ञा कराते हैं – पतित से पावन बनो। बाप आकर प्रतिज्ञा कराते हैं। शिव जयन्ती के बाद है रक्षाबन्धन। होली भी ज्ञान की है। धुरिया और होली – दोनों इस समय के हैं। होली अर्थात् पवित्र बनो, धुरिया माना ज्ञान धारण करो। वह फिर पत्थर ठिक्कर, गोबर आदि-आदि बनाकर क्या-क्या करते हैं! तो पतित-पावन बाप ही आकर बच्चों को समझाते हैं।

जो जीते जी मरते हैं उनमें भी मातेले और सौतेले होते हैं। मातेले का हिसाब-किताब जरूर बाप के पास होगा। बाप जरूर बच्चे की सब कारोबार, मिलकियत आदि को जानते होंगे। मातेले वह हैं जिनका बाप से पूरा लॅव रहता है। मातेले भी नम्बरवार होते हैं। सौतेले भी नम्बरवार हैं। कोई कपूत, कोई सपूत तो होते ही हैं। शिव जयन्ती भी संगमयुग पर होती है। संगम को भी टाइम देना चाहिए। जैसे लीप मास कहते हैं फिर लीप सेन्चुरी 100 वर्ष की। यह बहुत ऊंची है लीप सदी। 20वीं सदी कहते हैं ना। इनमें भी यह सदी, जिसमें बाप आते हैं, इसको संगम सेन्चुरी कहेंगे। उथल-पुथल होने में टाइम लगता है। दीपमाला भी यहाँ की है। तुम बच्चे जानते हो शिव जयन्ती के बाद फिर है पवित्रता की बात। शुरू से लेकर पवित्रता पर झगड़ा चला आया है। पवित्रता के साथ ज्ञान और योग की होली-धुरिया साथ-साथ है। बाप की याद भी अच्छी रीति चाहिए। ज्ञान का धुरिया भी चलता रहता है। ज्ञान बरसात तुम पर होती ही रहेगी। पवित्रता पर ही झगड़ा चलता है। सब कहते हैं कि यह कौन आया है जो कहते हैं घर-गृहस्थ में रहते पवित्र रहकर दिखाओ। सन्यासी तो खुद घरबार छोड़ जाते हैं। गोपीचन्द राजा की भी कहानी है। उनसे पूछा गया – तुमने राज्य-भाग्य क्यों छोड़ा? बोला – प्रभू-मिलन के लिए छोड़ा है। इस पर गीत भी अच्छे-अच्छे गाते हैं। यहाँ तो गृहस्थ व्यवहार में रहकर पवित्र रहना है। पवित्रता पर ही सारी खिटपिट होती है।

अब रक्षाबन्धन है पवित्र बनने-बनाने का यादगार पर्व। यहाँ देखो, छोटे-छोटे बच्चों को भी साक्षात्कार होते हैं। अब छोटे बच्चे ने क्या भक्ति की? बाबा ने झट सबको साक्षात्कार करा दिया, तो समझते थे जादू है। इसको कहा जाता है – शिवबाबा के चरित्र। बैठे-बैठे गुम हो जाते थे – यह भी ड्रामा ही कहेंगे। एक-दो को देखा और ध्यान में चले गये। यह सब चरित्र परमपिता परमात्मा के हैं, कृष्ण के नहीं। कृष्ण का नाम ले सारी बदनामी की है। भागवत में क्या-क्या लिख दिया है! श्रीकृष्ण सतयुग का प्रिन्स उसने चीर हरे……. यह किया……. ऐसे चरित्र तो गाये नहीं जाते। दुनिया वाले समझते हैं बरोबर कृष्ण ने यह सब किया होगा। फिर कहते हैं कि कृष्ण के शरीर में आत्मा आई होगी, जिसने ज्ञान सुनाया होगा। परन्तु ऐसे तो नहीं हो सकता। वह तो प्रिन्स नामीग्रामी था फिर रथ दिखाते हैं। रथ में कृष्ण दिखाते हैं। घोड़े गाड़ी पर बैठ पाठशाला चलाई जाती है क्या? यह है राजयोग की पाठशाला। कहाँ उन्होंने युद्ध का मैदान दिखाया है और कहाँ तुम्हारी यह युद्ध! यह है माया पर जीत पाने की युद्ध। तो तुम बच्चों को रक्षाबन्धन पर समझाना है। रक्षाबन्धन अर्थात् पतितों को पावन बनाने के लिए स्वयं परमपिता परमात्मा आये हैं। तुम ब्रह्माकुमारियां हो जो गाई हुई हो। कुमारी वह जो 21 कुल का उद्धार करे। संगम की ही बात है। फिर यह उत्सव सतयुग आदि में नहीं चलता। राखी बंधन के बाद फिर है कृष्ण जयन्ती क्योंकि सतयुग में पहला नम्बर जन्म है श्रीकृष्ण का। उनकी भी राजधानी है। वह इस समय प्रतिज्ञा करते हैं – श्रीकृष्ण के कुल में जाने के लिए। यह राजयोग है। तुम नर से नारायण बनते हो। लक्ष्मी-नारायण की जीवन कहानी है नहीं। बाप ने समझाया है राधे-कृष्ण सो लक्ष्मी-नारायण की जीवन कहानी। कृष्ण का जन्म दिन मनाते हैं। अच्छा, नारायण जयन्ती कहाँ? कारण होगा ना। राम को कृष्ण से ऊपर त्रेता में दिखाया है। वह 16 कला, वह 14 कला। सारा खेल ही मुँझा दिया है। महत्व सारा यहाँ का है। ऐसे भी मत समझो कि दीपमाला कोई सतयुग से शुरू होती है। सतयुग में तो है ही पवित्र दुनिया। सभी की आत्मायें जगी हुई है। उत्सव सब इस समय के हैं। अभी तुम सबकी बायोग्राफी को जानते हो। शिवबाबा स्वयं आकर के बच्चों को कहते हैं कि अब पवित्र बनो। तुम आत्मायें मैली हो गई हो। सन्यासी तो कहते हैं आत्मा निर्लेप है इसलिए बहुत लोग कह देते हैं अण्डा मछली आदि खाने में कोई हर्जा नहीं है। सबकी अपनी-अपनी रस्म-रिवाज है ना। आगे काली पर मनुष्यों की बलि चढ़ाते थे। शिव को तो काला नहीं कहेंगे, न शंकर को कहेंगे। हाँ, ब्रह्मा और विष्णु के दो रूप गोरे से काले बनते हैं। यह सब बाप बैठ समझाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से पूरा-पूरा लव रख मातेला बनना है। अपना पूरा समाचार बाप को देना है। कभी भी कपूत नहीं बनना है।

2) रक्षा बन्धन का यथार्थ रहस्य बुद्धि में रख पवित्र जरूर बनना है। माया से कभी हार नहीं खानी है। पवित्रता के बल से स्वराज्य लेने की प्रतिज्ञा करनी है।

वरदान:- रूहानियत के साथ रमणीकता में आने वाले मर्यादा पुरूषोत्तम भव
कई बच्चे हंसी-मजाक बहुत करते हैं और उसे ही रमणीकता समझते हैं। वैसे रमणीकता का गुण अच्छा माना जाता है लेकिन व्यक्ति, समय, संगठन, स्थान, वायुमण्डल के प्रमाण रमणीकता अच्छी लगती है। यदि इन सब बातों में से एक बात भी ठीक नहीं तो रमणीकता भी व्यर्थ की लाइन में गिनी जायेगी और सर्टीफिकेट मिलेगा कि यह हंसाते बहुत अच्छा हैं लेकिन बोलते बहुत हैं इसलिए हंसीमजाक अच्छा वह है जिसमें रूहानियत हो और उस आत्मा का फ़ायदा हो, सीमा के अन्दर बोल हों, तब कहेंगे मर्यादा पुरुषोत्तम।
स्लोगन:- सदा स्वस्थ रहना है तो आत्मिक शक्ति को बढ़ाओ।

TODAY MURLI 30 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 29 July 2017 :- Click Here

30/07/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
30/04/82

Merge all expansion into a point.

BapDada comes into this corporeal body and world in order to take you all far away from your bodies and this world. The Resident of the faraway land comes to make everyone a resident of the far-away land. Those bodies will not go to the far-away land. Pure souls will go to their land with their Father. Are you ready to go with Him or is there still something remaining for you to pack up? When you move from one place to another, you pack up all the expansion and transform everything. So, what preparations do you need to make to go to the far-away land, your sweet home? All expansion has to be merged into a point. Have you imbibed the powers to accommodate and to pack up to this extent? According to the time, if you receive BapDada’s direction to go with Him in a second, would you be able to merge the expansion in a second? Are you able to become detached from all the different households of your body, your worldly households, the household of service, the household of your thoughts and sanskars of your own weaknesses that still remain and become loving in order to go with the Father? Or, would some households pull you to themselves? Have you moved away from all sides of all the different households or will some of those sides become your temporary support and distance you from the Father’s support and His company? When you have the thought that you now have to go or you receive the direction that you now have to go, then would you be able to fly by stabilising yourself on a double-light flying seat? Have you made such preparations or would you think that you still have to do this and that? Are you able to use the power to pack-up? Or will you remember the expansion of “my service”, “my centre“, “my students”, “my worldly family” or “my worldly work”? You won’t have this thought, will you? You present a drama in which you have different thoughts about the things that you have to do before you return. Just as in that drama, you won’t be deprived of the right to a seat to return back home with the Father, will you? At present, you are going into a lot of expansion. What is the sign of going into expansion? After a tree has grown fully, it merges into a seed. So, service now is growing very fast and it has to grow. However, to the extent that it is grows do not forget to become detached from the growth and be loving to the One they are going to go back with. Make sure that no strings of attachment still remain on any side. The strings on all sides should always be loose; that is, take leave from everyone in advance. For instance, before they die, people here arrange the final ceremonies that they want carried out. So, they have bidden farewell. In the same way, bid farewell to the bondages of your households in advance. Celebrate the final ceremony in advance. Keep the flying seat of the flying stage constantly ready. In today’s world, when a war starts in any country, they have everything in place for the king or president of that country to leave the country. At that time, there’s no margin even to issue an order to get something ready. As soon as they receive a signal of war, they run. What would happen otherwise? Instead of being a king or president, they would become jailbirds. Souls who are instruments and have temporary rights also have everything prepared in advance. So, who are you? You are the hero actors of this confluence age, that is, you are special souls. You also need to have all preparations ready before-hand, do you not? Or, will you make preparations at that time? You are only going to receive a margin of one second. So, what will you do at that time? You won’t even have any margin to think. Those who think, “Should I do this or not? I should do this… I should do that…”, will become part of the procession rather than companions. Therefore, is the stage of your vehicle of the subtle body ready? That is, is the vehicle of the stage of being free from the bondage of karma – karmateet – the final vehicle with which you will fly with the Father in a second, readyOr, are you counting how much time you still have? “This is still to happen, that will happen and, after that, this will happen.” You do not think in this way, do you? Make all your preparations. You may also adopt facilities for service. You may even make new plans. However, don’t tie strings to the sides and then leave them there. Whilst being involved in all the households, don’t forget to become a lotus! Don’t forget your preparations for returning home! When it comes to the facilities for service, don’t forget the vehicle of your final stage, that is, the elevated means of becoming loving and detached. Do plenty of service but don’t let go of the speciality of being detached. There is now a need to practise this. You either become completely detached or you become completely loving. Therefore, maintain a balance of being loving and detached. Do service but do it whilst being detached from the consciousness of “mine”. Do you understand what you have to do? You are now preparing new strings whilst the old ones are being broken. Even though you understand everything, you are tying new strings because they are sparkling strings. So, what do you have to do this year? BapDada sees, as the detached Observer, the children’s games. You are going ahead of each other in the race of the bondage of strings. So, in the midst of the expansion, maintain the form of the essence.

At present, the quantity of the result of service is very good, but now let the quantity also be full of qual ityQuantity is needed in the task of establishment. However, would you like it if there were an expanse of leaves on a tree but no fruit? Should there be fruit and flowers or just leaves? The leaves are the decoration of the tree and the fruit is the source of life for all time. So, make every soul into a form of instant and practical fruit, that is, pay special attention to making them into embodiments of the experience of virtues and powers. The growth is good but pay special attention to teaching them the method of become constantly powerful souls who are destroyers of obstacles. As well as enabling growth, also pay special attention to teaching them the way to become embodiments of success. They will become loving and co-operative according to their capacity, but you have to increase the special attention you pay to them, so that they become powerful souls who are able to face their obstacles and old sanskars and become mahavirs. Now increase the quantity of heir-qualitysouls who have a right to self-sovereignty and so world-sovereignty. Many have become servers, but now bring on to the world stage souls who are full of all powers and specialities.

This year, especially become an embodiment of experience and a mine of experiences and give the great donation of making all souls into embodiments of experience so that every soul becomes like Angad on the basis of their experience. Not that they are just moving along, just doing, listening, sharing etc. but, instead, let them sing songs of having attained the treasure of experience and swing in the swing of happiness.

This year, as well as enthusiasm for service, let enthusiasm for the flying stage also increase. Together with enthusiasm for service, celebrate such a festival that your enthusiasm remains unsuppressible. Do you understand? Constantly have enthusiasm for the flying stage and increase everyone’s enthusiasm.

This year, each one of you has to keep the aim of serving souls of different professions and make each one of them belong to the Father, and bring a bouquet of souls of the variety of professions in front of the Father. However, all of them have to be spiritual roses. The tree can be of a variety in which there are VIPs, souls of different occupations, ordinary people and also villagers. However, with the mine of experiences, make everyone into an embodiment of experience and attainment and bring them to the Father. Such ones are called spiritual roses. Make a bouquet, but don’t allow there to be any consciousness of “mine”. “My bouquet is the best of all.” They would not then be able to become spiritual roses. When you have any consciousness of “mine”, the bouquet wilts. Therefore consider them to be Baba’s children. Forget that they are yours. If you make them yours, you will distance those souls from their unlimited rights. No matter how great a soul is, a soul cannot be said to be omniscient (one who knows everything). They are not called oceans. So, don’t deprive any souls of their unlimited inheritance. Otherwise, later on, those souls will complain that those who made them belong to them in so doing deprived them of it! At that time, you won’t be able to bear their cries of sorrow. Their cries of sorrow will be coming from hearts filled with sorrow. So, pay special attention to understanding this special aspect. You may do special service. Use whatever powers you have – the power of your body, the power of your mind, the power of your wealth, the power of co-operating, even the power of time – for a powerful task. Don’t think about the future. You accumulate however much you use. Do you understand what you have to do? Use all your powers! Constantly fly in the flying stage and also take others into the flying stage. You have also received a slogan for enthusiasm, have you not?

This year, celebrate a double festival and all of you also prepare a bouquet of spiritual roses. Those who have come here today are also a variety bouquet. Souls have come from everywhere. This is now a variety bouquet from this land and abroad, is it not? Double foreigners have also claimed a share in the last dip. BapDada is congratulating you for coming here. All of you have received congratulations and so all of you have met, have you not? Have all of you met? You have received congratulations, so what else remains? Toli! Therefore, all of you make a line and take your toli! Such a time will also come. Since you are building such a big hall, what will the condition then be? The same system cannot continue for all time. This time, Baba especially satisfied the complaint of the children from Bharat. Every season has its own customs and systems. Just see what will happen next year. If Baba were to tell you now, there would be no pleasure in it. All of you will come with a bouquet, will you not? Bring quality because, together with quantity , you will be given a number on the basis of the quality. Even the politicians are very clever at gathering a crowd. Let there be quantity, but with quality. Bring such a bouquet. Don’t bring a bouquet of just leaves. Achcha.

[wp_ad_camp_3]

 

To those who are ever ready with their final vehicles, to those who are great donors when it comes to making all souls into embodiments of experience, to the souls who are constant instruments to give others the unlimited inheritance from the unlimited Father, the Bestower of Blessings and the Bestower of Fortune, to those who, as well as making souls into servers, also make them powerful, to those who achieve success and expansion by using the right method, to those who do service equal to that of the Father and are detached from service and loving and who will go back with the Father, to such close and equal souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Meeting servers:

There are instrument servers who give souls the Father’s introduction and enable them to claim a right to their inheritance, and there are servers of the yagya. At this time, all of you are playing a part in serving the yagya. You know very well that the importance of serving the yagya is so great! How much importance is there in each grain of the yagya? Each grain is as valuable as a gold coin. If someone does as much as a grain of service, he earns and accumulates an income as valuable as a gold coin. So, you didn’t do service, but accumulated an income. Firstly, you servers who are present received the chance to stay in Madhuban, the land of blessings and, secondly, you received the fortune of being in a constantly elevated atmosphere, and, thirdly, you received the fortune of constantly accumulating an income. You servers automatically receive so many types of fortune! Do you souls do service considering yourselves to be such fortunate servers? Does your awareness have such spiritual intoxication, or do you forget this whilst you are serving? Servers with their own elevated fortune can become instruments for making others enthusiastic. All the servers remained free from obstacles for as long they remained engaged in service – free from obstacles even in their minds. When there is no type of obstacle or upheaval, that’s what it is to be an embodiment of success in service. No matter how much upheaval of sanskars and situations there may be, those who are constantly with the Father and who constantly follow and see the Father, remain constantly free from obstacles. However, if you look at other souls or follow other souls, there will be fluctuation. The basis of attaining success in the service that servers do is to see the Father and follow the Father. So, did all of you serve with an honest heart? How was your chart of remembrance whilst serving? Achcha, you made your fortune elevated. The result is good. You are very fortunate souls because you received the chance to serve the yagya. Therefore, perform such a task that your memorial is created and that, whenever there is a need, only you are called. Those who serve tirelessly accumulate fruit for the present and also the future. All of you played your part s very well.

Blessing: May you be an image that attracts and with the awareness of constant victory, stay happy and give happiness to others.
“I am a victorious soul every cycle”. Let the tilak of victory constantly sparkle on your forehead for this tilak of victory will also give happiness to others because the face of a victorious soul is always cheerful. Everyone who sees a cheerful face is attracted by that happiness. At the end when no one will have time to listen to anyone, your image that attracts others and your cheerful face will serve many souls.
Slogan: To spread the light of the avyakt stage everywhere is to be a lighthouse.

 

*** Om Shanti ***
 [wp_ad_camp_5]

Read Bk Murli 28 July 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 30 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 July 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 29 July 2017 :- Click Here

30/07/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
30-04-82

विस्तार को बिन्दी में समाओ

बापदादा इस साकारी देह और दुनिया में आते हैं सभी को इस देह और दुनिया से दूर ले जाने के लिए। दूर-देश वासी सभी को दूर-देश निवासी बनाने के लिए आते हैं। दूर-देश में यह देह नहीं चलेगी। पावन आत्मा अपने देश में बाप के साथ-साथ चलेगी। तो चलने के लिए तैयार हो गये हो वा अभी तक कुछ समेटने के लिए रह गया है? जब एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते हो तो विस्तार को समेट परिवर्तन करते हो। तो दूर-देश वा अपने स्वीट होम में जाने के लिए क्या तैयारी करनी पड़ेगी? सर्व विस्तार को बिन्दी में समाना पड़े। इतनी समाने की शक्ति, समेटने की शक्ति धारण कर ली है? समय प्रमाण बापदादा का डायरेक्शन मिले कि सेकण्ड में अब साथ चलो तो सेकण्ड में विस्तार को समा सकेंगे? शरीर की प्रवृत्ति, लौकिक प्रवृत्ति, सेवा की प्रवृत्ति, अपने रहे हुए कमजोरी के संकल्प की और संस्कार की प्रवृत्ति, सर्व प्रकार की प्रवृत्तियों से न्यारे और बाप के साथ चलने वाले प्यारे बन सकते हो? वा कोई प्रवृत्ति अपने तरफ आकर्षित करेगी? सब तरफ से सर्व प्रवृत्तियों का किनारा छोड़ चुके हो वा कोई भी किनारा अल्पकाल का सहारा बन बाप के सहारे वा साथ से दूर कर देंगे? संकल्प किया कि जाना है, डायरेक्शन मिला अब चलना है तो डबल लाइट के उड़न आसन पर स्थित हो उड़ जायेंगे? ऐसी तैयारी है? वा सोचेंगे कि अभी यह करना है, वह करना है? समेटने की शक्ति अभी कार्य में ला सकते हो वा मेरी सेवा, मेरा सेन्टर, मेरा जिज्ञासु, मेरा लौकिक परिवार या लौकिक कार्य – यह विस्तार तो याद नहीं आयेगा? यह संकल्प तो नहीं आयेगा? जैसे आप लोग एक ड्रामा दिखाते हो, ऐसे प्रकार के संकल्प अभी यह करना है, फिर वापस जायेंगे… ऐसे ड्रामा के मुआफिक साथ चलने की सीट को पाने के अधिकार से वंचित तो नहीं रह जायेंगे – अभी तो खूब विस्तार में जा रहे हो, लेकिन विस्तार की निशानी क्या होती है? वृक्ष भी जब अति विस्तार को पा लेता तो विस्तार के बाद बीज में समा जाता है। तो अभी सेवा का विस्तार बहुत तेजी से बढ़ रहा है और बढ़ना ही है लेकिन जितना विस्तार वृद्धि को पा रहा है, उतना विस्तार से न्यारे और साथ चलने वाले प्यारे, यह बात नहीं भूल जाना। कोई भी किनारे में लगाव की रस्सी न रह जाए। किनारे की रस्सियाँ सदा छूटी हुई हों अर्थात् सबसे छुट्टी लेकर रखो। जैसे आजकल यहाँ पहले से ही मरण मना लेते हैं ना – तो छुट्टी ले ली ना। ऐसे सब प्रवृत्तियों के बन्धनों से पहले से ही विदाई ले लो। समाप्ति-समारोह मना लो। उड़ती कला का उड़न आसन सदा तैयार हो। जैसे आजकल के संसार में भी जब लड़ाई शुरू हो जाती है तो वहाँ के राजा हो वा प्रेजीडेन्ट हो, उन्हों के लिए पहले से ही देश से निकलने के साधन तैयार होते हैं। उस समय यह तैयार करो, इसी आर्डर करने की भी मार्जिन नहीं होती। लड़ाई का इशारा मिला और भागा। नहीं तो क्या हो जाए? प्रेजीडेन्ट वा राजा के बदले जेल बर्ड बन जायेगा। आजकल की निमित्त बनी हुई अल्पकाल की अधिकारी आत्मायें भी पहले से अपनी तैयारी रखती हैं। तो आप कौन हो? इस संगमयुग के हीरो पार्टधारी अर्थात् विशेष आत्मायें। तो आप सबकी भी पहले से तैयारी चाहिए ना कि उस समय करेंगे? मार्जिन ही सेकण्ड की मिलनी है फिर क्या करेंगे? सोचने की भी मार्जिन नहीं मिलनी है। करूँ न करूँ, यह करूँ, वह करूँ, ऐसे सोचने वाले साथी के बजाए बराती बन जायेंगे इसलिए अन्त:वाहक स्थिति अर्थात् कर्मबन्धन मुक्त, कर्मातीत – ऐसी कर्मातीत स्थिति का वाहन अर्थात् अन्तिम वाहन, जिस द्वारा ही सेकण्ड में साथ में उड़ेंगे। वाहन तैयार है? वा समय को गिनती कर रहे हो? अभी यह होना है, यह होना है, उसके बाद होगा, ऐसे तो नहीं सोचते हो? तैयारी सब करो। सेवा के साधन भी भल अपनाओ। नये-नये प्लैन भी भले बनाओ। लेकिन किनारों में रस्सी बांधकर छोड़ नहीं देना। प्रवृत्ति में आते कमल बनना भूल न जाना। वापिस जाने की तैयारी नहीं भूल जाना। सदा अपनी अन्तिम स्थिति का वाहन – न्यारे और प्यारे बनने का श्रेष्ठ साधन सेवा के साधनों में भूल नहीं जाना। खूब सेवा करो लेकिन न्यारेपन की खूबी को नहीं छोड़ना। अभी इसी अभ्यास की आवश्यकता है। या तो बिल्कुल न्यारे हो जाते या तो बिल्कुल प्यारे हो जाते, इसलिए न्यारे और प्यारेपन का बैलेन्स रखो। सेवा करो लेकिन मेरेपन से न्यारे होकर करो। समझा क्या करना है? अब नई-नई रस्सियाँ भी तैयार कर रहे हैं। पुरानी टूट रही हैं। समझते भी नई रस्सियाँ बांध रहे हैं क्योंकि चमकीली रस्सियाँ हैं। तो इस वर्ष क्या करना है? बापदादा साक्षी होकर के बच्चों का खेल देखते हैं। रस्सियों में बंधने की रेस में एक दो से बहुत आगे जा रहे हैं, इसलिए सदा विस्तार में जाते सार रूप में रहो।

वर्तमान समय सेवा की रिजल्ट में क्वान्टिटी बहुत अच्छी है लेकिन अब उस क्वान्टिटी में क्वालिटीज़ भरो। क्वान्टिटी की भी स्थापना के कार्य में आवश्यकता है। लेकिन वृक्ष के पत्तों का विस्तार हो और फल न हो तो क्या पसन्द करेंगे? पत्ते भी हों और फल भी हों या सिर्फ पत्ते हों? पत्ते वृक्ष का श्रृंगार हैं और फल सदाकाल के जीवन का सोर्स हैं इसलिए हर आत्मा को प्रत्यक्षफल स्वरूप बनाओ अर्थात् विशेष गुणों के, शक्तियों के अनुभवी मूर्त बनाओ। वृद्धि अच्छी है लेकिन सदा विघ्न-विनाशक, शक्तिशाली आत्मा बनने की विधि सिखाने के लिए विशेष अटेन्शन दो। वृद्धि के साथ-साथ विधि सिखाने का, सिद्धि स्वरूप बनाने का भी विशेष अटेन्शन। स्नेही, सहयोगी तो यथाशक्ति बनने ही हैं लेकिन शक्तिशाली आत्मा, जो विघ्नों का, पुराने संस्कारों का सामना कर महावीर बन जाए, इस पर और विशेष अटेन्शन। स्वराज्य अधिकारी सो विश्व राज्य अधिकारी, ऐसे वारिस क्वालिटी को बढ़ाओ। सेवाधारी बहुत बने हो लेकिन सर्व शक्तियों धारी ऐसी विशेषता सम्पन्न आत्माओं को विश्व की स्टेज पर लाओ।

इस वर्ष हरेक आत्मा प्रति विशेष अनुभवी मूर्त बन विशेष अनुभवों की खान बन, अनुभवी मूर्त बनाने का महादान करो, जिससे हर आत्मा अनुभव के आधार पर अंगद समान बन जाए। चल रहे हैं, कर रहे हैं, सुन रहे हैं, सुना रहे हैं, नहीं। लेकिन अनुभवों का खजाना पा लिया – ऐसे गीत गाते खुशी के झूले में झूलते रहें।

इस वर्ष – सेवा के उत्सवों के साथ उड़ती कला का उत्साह बढ़ता रहे। तो सेवा के उत्सव के साथ-साथ उत्साह अविनाशी रहे, ऐसे उत्सव भी मनाओ। समझा। सदा उड़ती कला के उत्साह में रहना है और सर्व का उत्साह बढ़ाना है।

इस वर्ष- हर एक को यह लक्ष्य रखना है कि हरेक को भिन्न-भिन्न वर्ग के आत्माओं की सेवा कर वैरायटी वर्गों की हर आत्मा को बाप का बनाकर वैरायटी वर्ग का गुलदस्ता तैयार कर बाप के आगे लाना है। लेकिन हों सभी रूहानी रूहे गुलाब। वृक्ष भल वैरायटी हो, वी.आई.पी. भी हों तो अलग-अलग आक्यूपेशन वाले भी हों, साधारण भी हों, गांव वाले भी हों लेकिन सबको अनुभवों की खान द्वारा अनुभवी मूर्त बनाकर प्राप्ति स्वरूप बनाकर सामने लाओ – इसको कहा जाता है रूहानी रूहे गुलाब। गुलदस्ता बनाना लेकिन मेरापन नहीं लाना। मेरा गुलदस्ता सबसे अच्छा है – तो रूहे गुलाब नहीं बन सकेंगे। “मेरापन लाया तो गुलदस्ता मुरझाया” इसलिए समझो – बाबा के बच्चे हैं, मेरे हैं इसको भूल जाओ। अगर मेरे बनायेंगे तो उन आत्माओं को भी बेहद के अधिकार से दूर कर देंगे। आत्मा चाहे कितनी भी महान् हो लेकिन सर्वज्ञ नहीं कहेंगे। सागर नहीं कहेंगे इसलिए किसी भी आत्मा को बेहद के वर्से से वंचित नहीं करना। नहीं तो वो ही आत्मायें आगे चल मेरे बनाने वालों को उल्हनें देंगी कि हमें वंचित क्यों बनाया! उन्हों के विलाप उस समय सहन नहीं कर सकेंगे। इतने दु:खमय दिल के विलाप होंगे इसलिए इस विशेष बात को विशेष ध्यान से समझना। विशेष सेवा भल करो। तन की शक्ति, मन की शक्ति, धन की शक्ति, सहयोग देने की शक्ति, जो भी शक्तियाँ हैं, समय की भी शक्ति है – इन सबको समर्थ कार्य में लगाओ। आगे का नहीं सोचो। जितना लगाया उतना जमा हुआ। तो समझा क्या करना है! सर्व शक्तियों को लगाओ। स्वयं को सदा उड़ती कला में उड़ाओ और औरों को भी उड़ती कला में ले जाओ। उत्साह का स्लोगन भी मिला ना!

इस वर्ष डबल उत्सव मनाने हैं और रूहानी रूहों का गुलदस्ता हरेक को तैयार करना है। आज आये हुए भी वैरायटी गुदलस्ता ही हैं। चारों ओर के आ गये हैं ना। देश-विदेश का वैरायटी गुलदस्ता हो गया ना! डबल विदेशियों ने भी लास्ट नहान में हिस्सा ले लिया है। बापदादा भी आने की बधाई देते हैं। बधाई भी सबको मिल गई तो मिलना हो गया ना! सबने मिल लिया! बधाई ले ली बाकी क्या रहा? टोली। तो लाइन लगाते आना और टोली लेते जाना। ऐसा ही समय आने वाला है। जब इतना बड़ा हाल बना रहे हो तो बताओ क्या हाल होगा? सदा एक रसम तो नहीं चलती है ना! इस बार तो विशेष भारतवासी बच्चों का उल्हना पूरा किया। हर सीज़न का अपना-अपना रसम-रिवाज होता है। अगले वर्ष क्या होता सो देखना। अभी ही बता दें तो फिर मजा नहीं आयेगा। सभी गुदलस्तों सहित आयेंगे ना। क्वालिटी बनाकर लाना – क्योंकि नम्बर तो क्वालिटी सहित क्वान्टिटी पर मिलेगा। ऐसे तो भीड़ इकट्ठी करने में तो नेतायें भी होशियार हैं। क्वान्टिटी हो लेकिन क्वालिटी सहित। ऐसा गुलदस्ता लाना। सिर्फ पत्तों का गुलदस्ता नहीं ले आना। अच्छा।

[wp_ad_camp_3]

 

ऐसे सदा अन्तिम वाहन के एवररेडी, सर्व आत्माओं को अनुभवी मूर्त बनाने के महादानी, सदा वरदाता, विधाता, बेहद के बाप से बेहद का वर्सा दिलाने के निमित्त बनने वाली आत्मायें, सदा सेवाधारी के साथ-साथ शक्तिशाली आत्मायें बनाने वाले, वृद्धि के साथ विधि द्वारा प्राप्तियों की सिद्धि प्राप्त करने वाले, ऐसे बाप समान सेवा करते, सेवा से न्यारे और बाप साथ चलने वाले प्यारे, ऐसे समीप और समान आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

सेवाधारियों से:-

एक हैं आत्माओं को बाप का परिचय दे बाप के वर्से के अधिकारी बनाने के निमित्त सेवाधारी और दूसरे हैं यज्ञ सेवाधारी। तो इस समय आप सभी यज्ञ सेवा का पार्ट बजाने वाले हो। यज्ञ सेवा का महत्व कितना बड़ा है – उसको अच्छी तरह से जानते हो। यज्ञ के एक-एक कणे का कितना महत्व है? एक-एक कणा मुहरों के समान है। अगर कोई एक कणें जितना भी सेवा करते हैं तो मुहरों के समान कमाई जमा हो जाती है। तो सेवा नहीं की लेकिन कमाई जमा की। सेवाधारियों को वर्तमान समय एक तो मधुबन वरदान भूमि में रहने के चांस का भाग्य मिला और दूसरा सदा श्रेष्ठ वातावरण उसका भाग्य और तीसरा सदा कमाई जमा करने का भाग्य। तो कितने प्रकार के भाग्य सेवाधारियों को स्वत: प्राप्त हो जाते हैं। इतने भाग्यवान सेवाधारी आत्मायें समझकर सेवा करते हो? इतना रूहानी नशा स्मृति में रहता है या सेवा करते-करते भूल जाते हो? सेवाधारी अपने श्रेष्ठ भाग्य द्वारा औरों को भी उमंग-उल्लास दिलाने के निमित्त बन सकते हैं। सभी सेवाधारी जितना भी समय जिस भी सेवा में रहे – निर्विघ्न रहे! मन्सा में भी निर्विघ्न। किसी भी प्रकार का कभी भी विघ्न वा हलचल न आये इसको कहा जाता है सेवा में सफलतामूर्त। चाहे कितना भी संस्कार वा परिस्थितियाँ नीचे-ऊपर हों लेकिन जो सदा बाप के साथ हैं, साथ फालो फादर हैं, सदा सी फादर हैं, वह सदा निर्विघ्न रहेंगे और अगर कहाँ भी किसी आत्माओं को देखा, आत्माओं को फालो किया तो हलचल में आ जायेंगे। तो सेवाधारी के लिए सेवा में सफलता पाने का आधार – सी फादर वा फालो फादर। तो सभी ने सच्ची दिल से सेवा की ना? सेवा करते याद का चार्ट कैसे रहा! अच्छा अपना श्रेष्ठ भाग्य बना लिया। रिजल्ट अच्छी है। बड़ी भाग्यवान आत्मायें हो जो यज्ञ सेवा का चांस मिला है। तो ऐसा कर्तव्य करके जाओ – जो आपका यादगार बन जाये और फिर कभी आवश्यकता पड़े तो आपको ही बुलाया जाए। अथक होकर जो सेवा करते हैं उनका फल वर्तमान और भविष्य दोनों जमा हो जाता है। तो सभी ने अपना-अपना अच्छा पार्ट बजाया। अच्छा।

वरदान:- सदा विजय की स्मृति से हर्षित रहने और सर्व को खुशी दिलाने वाले आकर्षण मूर्त भव 
हम कल्प-कल्प की विजयी आत्मा हैं, विजय का तिलक मस्तक पर सदा चमकता रहे तो यह विजय का तिलक औरों को भी खुशी दिलायेगा क्योंकि विजयी आत्मा का चेहरा सदा ही हर्षित रहता है। हर्षित चेहरे को देखकर खुशी के पीछे स्वत: ही सब आकर्षित होते हैं। जब अन्त में किसी के पास सुनने का समय नहीं होगा तब आपका आकर्षण मूर्त हर्षित चेहरा ही अनेक आत्माओं की सेवा करेगा।
स्लोगन:- अव्यक्त स्थिति की लाइट चारों ओर फैलाना ही लाइट हाउस बनना है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 28 July 2017 :- Click Here

Font Resize