today murli 30 december

TODAY MURLI 30 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 December 2018 :- Click Here

30/12/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
02/04/84

The importance of the Point (Zero).

Today, the Father, the Bestower of Fortune, has come to meet all His fortunate children. The Father, the Bestower of Fortune, is showing all of you children the extremely easy way to make your fortune. Simply know the account of the point. The calculation of zero is the easiest of all. Know the importance of the point and become great. All of you know very well the account of the easiest and the most significant point (zero), do you not? To speak of zero and to become a point. Become a point and remember the Father, the Point. You were a point and you must now remain stable in the stage of a point, become like the Father, the Point and celebrate meeting with Him. This age of celebrating a meeting is said to be the age of the flying stage. Brahmin life is for meeting and celebrating. Whilst doing everything with this method and whilst constantly performing actions, you always experience the karmateet stage of being free from any bondage of action (karma). You don’t enter any bondage of action but always stay in all relationships with the Father. The Karavanhar Father makes you into instruments and makes you do everything. Therefore, you yourselves become detached observers and this is how the awareness of this relationship makes you free from bondage. When you do everything in a relationship, there is no bondage. When you think “I did this” you have forgotten the relationship and created a bondage. The confluence age is the age of experiencing the stage of freedom from bondage, of having all relationships with the Father and of being liberated-in-life. Therefore, check whether you maintain all relationships or whether you enter into bondage. Where there is love in a relationship, there is attainment, whereas there is a tug of war in any bondage and, because of that tension, there is the upheaval of sorrow and peacelessness. Therefore, since the Father has taught you the easy account of the point, any bondage of the body has ended. The body is not yours. You have given it to the Father and it is therefore His. Your original bondage of “my body” has also ended. Would you say “my body”? Do you have that right now? How can you have a right over something you have given away? Have you given it or have you still kept it as yours? It isn’t that you say “It is Yours” and yet you still believe it belongs to you, is it?

When you say “Yours”, the bondage of any consciousness of “mine” would end. Any limited “mine” is a thread of attachment. Whether you call it a thread, a chain or a string, it ties you in bondage. When you say, “Everything is Yours”, you forge a relationship, the bondage breaks and it becomes a relationship. Any type of bondage, whether it is of the body, nature, sanskars or subservience of the mind proves that there is something lacking in your having all relationships with the Father at all times. Some children remain free from bondage all the time by having all relationships with the Father, whereas some children forge a relationship according to the time, for their own motives, and this is why they are deprived of receiving the unique spiritual pleasure of Brahmin life. Neither are they content with themselves nor are they able to receive the blessings of contentment from others. Brahmin life, the life of elevated relationships, is the life of receiving blessings from the Father and the whole Brahmin family. “Blessings” means good wishes and pure feelings. You Brahmins have taken birth on the basis of BapDada’s blessings and good wishes. The Father said: You are a fortunate, elevated, special soul. It was with your awareness of these blessings and boons, that is, with these good wishes and pure feelings, that you Brahmins took a new life and a new birth. Always continue to receive blessings. This is the speciality of the confluence age. However, the basis of all of this is the most elevated relationship. The relationship finishes the chains and bondages of any consciousness of “mine” in a second. The first form of a relationship is the easy aspect: the Father is a Point, I am point and all souls are points. Therefore, it is an account of a point. The Ocean of Knowledge is merged in this point. According to worldly calculation too, a point (zero) makes 10 into 100 and 100 into 1000. Continue to increase the zeroes and continue to increase the number. So, what is important? It is the point, is it not? Similarly, in Brahmin life, the basis of all attainments is the point.

Even uneducated people are easily able to understand a zero. No matter how busy or unwell someone is, or how weak his intellect is, anyone can know the account of a zero. Mothers are clever at calculating, aren’t they? So, always remember the account of a zero. Achcha.

You have reached your sweet home from all the different places. BapDada congratulates all of you children for making your fortune. You have come to your home. This home of yours is the home of the Bestower. Your own home is a place that gives rest and comfort to both the soul and the body. You are receiving rest and comfort, are you not? You have double attainment. You receive rest and comfort (aaram) and you also find Rama. So it is double attainment, is it not? Children are the decoration of the Father’s home. BapDada is looking at the children who are the decoration of the home. Achcha.

To those who are always free from bondage by having all relationships with One, to those who experience the karmateet stage, to those who always know the importance of the point and become great, to those who constantly receive the blessings of good wishes and pure feelings of contentment from all souls, to those who give such blessings to everyone, to those who always consider themselves to be detached observers and perform every action as instruments, to those who constantly experience such unique spiritual pleasure, to those who live lives of constant pleasure, to those who end all burdens, to such constantly fortunate souls, love, remembrance and namaste from the Father, the Bestower of Fortune.

BapDada meeting Dadis:

Time is going by at a very fast speed. Just as time is going by at a fast speed, similarly, all Brahmins are flying fast. Have you become so light, double light? There is now the special service to do of making others fly. Do you make others fly in this way? With which method are you going to make everyone fly? By listening to the classes, they have become those who conduct classes. With whatever topic you begin, they will all have points about that topic even before you begin! Therefore, have you made a plan as to which method you will use to make everyone fly? A method is now required to make everyone light. It is these burdens that make you go up and down. Some have one type of burden and others have another type of burden. Even if it is the burden of your own sanskars or of the gathering, no burden will allow you to fly. Now, even if some are able to fly, it is with the power of others. For instance, when you make a toy fly, what happens? It goes up and then comes down. It definitely flies, but it doesn’t fly all the time. Now, only when all Brahmin souls fly can they make all other souls fly and enable them to come close to the Father. There is no other method apart from making others fly and also flying yourself. The speed of flying is determined by the method. How many tasks have to be accomplished and how much time do you have?

Now, at least 900,000 Brahmins are needed at first. In fact, the number will be greater, but when you rule over the whole world, there will have to be at least 900,000. An elevated method is required according to the time. The elevated method is the method of making others fly. Make a plan for this. Prepare small gatherings. It has been so many years since the avyakt part began. So much time has gone by in taking sustenance from the corporeal form and also from the avyakt form. You now have to do something new. Make a plan. The cycle of flying and then coming down has now ended. There are 84 births and the cycle of 84 is remembered. Therefore, in the year 1984, only when you end this cycle will the discus of self-realisation bring distant souls close. What have they shown as a memorial? He sent the discus whilst sitting somewhere and the discus of self-realisation itself brought souls close. He didn’t go himself, but he just used his discus. Therefore, only when all that spinning has finished can you spin the discus of self-realisation. So, now, in the year 1984, use this method so that all limited cycles finish. This is what you have thought of, is it not? Achcha.

BapDada meeting teachers:

Teachers are those who are in the flying stage anyway. To become an instrument is the method to use for the flying stage. So, to become an instrument means that, according to the drama, you have found the method to use for the flying stage. You are the elevated souls who always attain success by using this method. To become an instrument is to have a lift. Therefore, those who go somewhere in a second by lift are those in the flying stage. You are not in the stage of descent, you are not those who fluctuate, but you are those who save others from fluctuating. You are not those who are affected by the heat of a fire, but you are those who extinguish the fire. So, attain success by using the method of being an instrument. To be a teacher means to have the feeling of being an instrument. This feeling of being an instrument enables you to attain all fruit automatically. Achcha.

Avyakt elevated versions –

Be free from the bondage of karma and become karmateet and bodiless.

In order to experience the bodiless or karmateet stage, become free from the body consciousness of any limited “mine, mine”. Become free from selfish intentions in both lokik (worldly) and alokik (spiritual) actions and relationships. Become free from the karmic accounts of the actions of your past births and from being influenced by any wasteful nature and sanskars due to the weakness of your present efforts. If any adverse situation of service, the gathering or matter makes your original or elevated stage shake then that is not a stage of being free from bondage. Become free from even this bondage. Let no type of illness of your old final body in this old world make your elevated stage fluctuate; become free from even this. It is destined for the illness to come, but for your stage to fluctuate – that is a sign of being trapped in a bondage. Have thoughts of the self, thoughts of knowledge and be a well-wisher. Become free from having thoughts about the illness of the body. This is said to be the karmateet stage.

Be a karma yogi and constantly be detached from any bondage of karma and always be loving to the Father: this is the karmateet and bodiless stage. To be karmateet does not mean to go beyond performing actions. Do not go beyond performing actions, but be detached from being trapped in any bondage of action. No matter how big a task may be, let it not feel like you are working, but as if you are playing a game. No matter what adverse situation arises, no matter if a soul comes in front of you to settle karmic accounts, even if any suffering of karma through the body continues to come in front of you, remain free from any limited desires, for this is the bodiless stage. While you have that body and are playing your part on the field of action with your physical senses, you cannot stay without performing actions for even a second. However, to remain beyond the bondage of action while performing action is the karmateet and bodiless stage. So, come into the relationship of karma through the physical senses, but do not get tied by any bondage of karma. Do not be influenced by any desire for some perishable fruit of karma. “Karmateet” means not be to influenced by karma, but to be a master, to be an authority and to have a relationship with your physical senses and make your physical senses act while you remain detached from short-term desires. You, the soul, the master, must not be dependent on actions, but as the authority, continue to have actions performed. Enable actions to be performed as the one performing actions. This is known as having a relationship of karma. A karmateet soul has a relationship, not a bondage.

“Karmateet” means to be beyond, that is, detached from the body, relations of the body, possessions connected with both lokik and alokik relations and bondages. Though the word “relationship” is used, if there is any dependency in relation to the body or relationships of the body, then that becomes a bondage. In the karmateet stage, because of knowing the secrets of relationship of karma and bondage of karma, you always remain happy in every situation. You would never get upset. Such a soul will be free from the bondage of any karmic account of his past births. Even if as a consequence of the karmic accounts of the past births, there is some illness of the body or even if the mind is in conflict with the sanskars of other souls, a karmateet soul would not be influenced by the suffering of karma, but would be a master and enable the account to be settled. To be a karma yogi and to settle the suffering of karma is the sign of becoming karmateet. With yoga, with a smile he would change the suffering of karma from being like a crucifix to a thorn and destroy it, that is, he would finish the suffering of karma. To be able to transform the suffering of karma with your stage of karma yoga is the karmateet stage. Wasteful thoughts are the subtle strings of some bondage of karma. A karmateet soul would experience goodness even in something bad. Such a soul would say that whatever is happening is good. I am good, the Father is good and the drama is good. This thought works like scissors to cut the bondages. When the bondages are cut away you will become karmateet.

In order to experience the bodiless stage, become free from the knowledge of desires. Such a soul who is free from any limited desires will be a kamdhenu, equal to the Father, who fulfils everyone’s desires. Just as all the Father’s treasure-stores are always full with treasures and there is no mention of any attainment that is missing, in the same way, always be full of all treasures like the Father. While playing your part in the world cycle, to remain free from the many spinnings of sorrow is the stage of liberation in life. In order to experience such a stage, be one who has all rights, one who is a master who makes all your physical senses act. Act and as soon as the deed is done, become detached. This is the practice of the bodiless stage.

Blessing: May you transform “mine” into “Yours”, be double light and experience the flying stage.
That perishable body and wealth and old mind are not yours, you have given them to the Father. The first thought you had was: Everything is “Yours”. The Father does not benefit by this, but you benefit, because when you say “mine”, you become trapped, whereas when you say “Yours”, you become detached. By saying “mine” you have a burden but by saying “Yours” you become double light and a trustee. Until someone becomes light, he cannot reach the highest stage. Only those who remain light can experience bliss through their flying stage. There is pleasure in remaining light.
Slogan: A powerful soul is one who cannot be influenced by any person or by matter.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 December 2018

To Read Murli 29 December 2018 :- Click Here
30-12-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 02-04-84 मधुबन

बिन्दू का महत्व

आज भाग्य-विधाता बाप सर्व भाग्यवान बच्चों से मिलने आये हैं। भाग्य विधाता बाप सभी बच्चों को भाग्य बनाने की अति सहज विधि बता रहे हैं। सिर्फ बिन्दु के हिसाब को जानो। बिन्दु का हिसाब सबसे सहज है। बिन्दु के महत्व को जाना और महान बने। सबसे सहज और महत्वशाली बिन्दु का हिसाब सभी अच्छी तरह से जान गये हो ना! बिन्दु कहना और बिन्दु बनना। बिन्दु बन बिन्दु बाप को याद करना है। बिन्दु थे और अब बिन्दु स्थिति में स्थित हो बिन्दु बाप समान बन मिलन मनाना है। यह मिलन मनाने का युग, उड़ती कला का युग कहा जाता है। ब्राह्मण जीवन है ही मिलने और मनाने के लिए। इसी विधि द्वारा सदा कर्म करते हुए कर्मों के बन्धन से मुक्त कर्मातीत स्थिति का अनुभव करते हो। कर्म के बन्धन में नहीं आते लेकिन सदा बाप के सर्व सम्बन्ध में रहते हो। करावन-हार बाप निमित्त बनाए करा रहे हैं। तो स्वयं साक्षी बन गये, इसलिए इस सम्बन्ध की स्मृति बन्धनमुक्त बना देती है। जहाँ सम्बन्ध से करते वहाँ बन्धन नहीं होता। मैंने किया, यह सोचा तो सम्बन्ध भूला और बन्धन बना! संगमयुग बन्धन-मुक्त, सर्व सम्बन्ध युक्त, जीवन-मुक्त स्थिति के अनुभव का युग है। तो चेक करो सम्बन्ध में रहते हो या बन्धन में आते? सम्बन्ध में स्नेह के कारण प्राप्ति है, बन्धन में खींचातान, टेन्शन के कारण दु:ख और अशान्ति की हलचल है इसलिए जब बाप ने बिन्दु का सहज हिसाब सिखा दिया तो देह का बन्धन भी समाप्त हो गया। देह आपकी नहीं है। बाप को दे दिया तो बाप की हुई। अब आपका निजी बन्धन, मेरा शरीर या मेरी देह – यह बन्धन समाप्त हुआ। मेरी देह कहेंगे क्या, आपका अधिकार है? दी हुई वस्तु पर आपका अधिकार कैसे हुआ? दे दी है वा रख ली है? कहना तेरा और मानना मेरा, यह तो नहीं है ना!

जब तेरा कहा तो मेरे-पन का बन्धन समाप्त हो गया। यह हद का मेरा, यही मोह का धागा है। धागा कहो, जंजीर कहो, रस्सी कहो, यह बन्धन में बांधता है। जब सब कुछ आपका है, यह सम्बन्ध जोड़ लिया तो बन्धन समाप्त हो सम्बन्ध बन जाता है। किसी भी प्रकार का बन्धन चाहे देह का, स्वभाव का, संस्कार का, मन के झुकाव का.. यह बन्धन सिद्ध करता है बाप से सर्व सम्बन्ध की, सदा के सम्बन्ध की कमजोरी है। कई बच्चे सदा और सर्व सम्बन्ध में बन्धन मुक्त रहते, और कई बच्चे समय प्रमाण मतलब से सम्बन्ध जोड़ते हैं, इसलिए ब्राह्मण जीवन का अलौकिक रूहानी मजा पाने से वंचित रह जाते हैं। न स्वयं, स्वयं से सन्तुष्ट और न दूसरों से सन्तुष्टता का आशीर्वाद ले सकते। ब्राह्मण जीवन श्रेष्ठ सम्बन्धों का जीवन है ही बाप और सर्व ब्राह्मण परिवार का आशीर्वाद लेने का जीवन। आशीर्वाद अर्थात् शुभ भावनायें, शुभ कामनायें। आप ब्राह्मणों का जन्म ही बापदादा की आशीर्वाद कहो, वरदान कहो, इसी आधार से हुआ है। बाप ने कहा आप भाग्यवान श्रेष्ठ विशेष आत्मा हो, इसी स्मृति रूपी आशीर्वाद वा वरदान से शुभ भावना, शुभ कामना से आप ब्राह्मणों का नया जीवन, नया जन्म हुआ है। सदा आशीर्वाद लेते रहना। यही संगमयुग की विशेषता है! लेकिन इन सबका आधार सर्व श्रेष्ठ सम्बन्ध है। सम्बन्ध मेरे-मेरे की जंजीरों को, बन्धन को सेकण्ड में समाप्त कर देता है। और सम्बन्ध का पहला स्वरूप वो ही सहज बात है – बाप भी बिन्दु, मैं भी बिन्दु और सर्व आत्मायें भी बिन्दु। तो बिन्दु का ही हिसाब हुआ ना। इसी बिन्दु में ज्ञान का सिन्धु समाया हुआ है। दुनिया के हिसाब में भी बिन्दु 10 को 100 बना देता और 100 को हजार बना देता है। बिन्दु बढ़ाते जाओ और संख्या बढ़ाते जाओ। तो महत्व किसका हुआ? बिन्दु का हुआ ना। ऐसे ब्राह्मण जीवन में सर्व प्राप्ति का आधार बिन्दु है।

अनपढ़ भी बिन्दु सहज समझ सकते हैं ना! कोई कितना भी व्यस्त हो, तन्दरूस्त न हो, बुद्धि कमजोर हो लेकिन बिन्दु का हिसाब सब जान सकते। मातायें भी हिसाब में तो होशियार होती हैं ना। तो बिन्दु का हिसाब सदा याद रहे। अच्छा!

सर्व स्थानों से अपने स्वीट होम में पहुँच गये। बापदादा भी सभी बच्चों को अपने भाग्य बनाने की मुबारक देते हैं। अपने घर में आये हैं। यही अपना घर दाता का घर है। अपना घर आत्मा और शरीर को आराम देने का घर है। आराम मिल रहा है ना! डबल प्राप्ति है। आराम भी मिलता, राम भी मिलता। तो डबल प्राप्ति हो गई ना! बाप के घर का बच्चे श्रृंगार हैं। बापदादा घर के श्रृंगार बच्चों को देख रहे हैं। अच्छा!

सदा सर्व सम्बन्ध द्वारा बन्धन मुक्त, कर्मातीत स्थिति का अनुभव करने वाले, सदा बिन्दु के महत्व को जान महान बनने वाले, सदा सर्व आत्माओं द्वारा सन्तुष्टता की शुभ भावना, शुभ कामना की आशीर्वाद लेने वाले, सर्व को ऐसी आशीर्वाद देने वाले, सदा स्वयं को साक्षी समझ निमित्त भाव से कर्म करने वाले, ऐसे सदा अलौकिक रूहानी मौज मनाने वाले, सदा मजे की जीवन में रहने वाले, बोझ को समाप्त करने वाले, ऐसे सदा भाग्यवान आत्माओं को भाग्य विधाता बाप की याद प्यार और नमस्ते।

दादियों से:- समय तीव्रगति से जा रहा है। जैसे समय तीव्रगति से चलता जा रहा है – ऐसे सर्व ब्राह्मण तीव्रगति से उड़ते हैं। इतने हल्के डबल लाइट बने हैं? अभी विशेष उड़ाने की सेवा है। ऐसे उड़ाती हो? किस विधि से सबको उड़ाना है? क्लास सुनते-सुनते क्लास कराने वाले बन गये। जो भी विषय आप शुरू करेंगे उसके पहले उस विषय की प्वाइंट्स सबके पास होंगी। तो कौन-सी विधि से उड़ाना है, इसका प्लैन बनाया है? अभी विधि चाहिए हल्का बनाने की। यह बोझ ही नीचे ऊपर लाता है। किसको कोई बोझ है, किसको कोई बोझ है। चाहे स्वयं के संस्कारों का बोझ, चाहे संगठन का… लेकिन बोझ उड़ने नहीं देगा। अभी कोई उड़ते भी हैं तो दूसरे के जोर से। जैसे खिलौना होता है उसको उड़ाते हैं, फिर क्या होता? उड़कर नीचे जा जाता। उड़ता जरूर है लेकिन सदा नहीं उड़ता। अभी जब सर्व ब्राह्मण आत्मायें उड़ें तब और आत्माओं को उड़ाकर बाप के नजदीक पहुँचा सकें। अभी तो उड़ाने के सिवाए, उड़ने के सिवाए और कोई विधि नहीं है। उड़ने की गति ही विधि है। कार्य कितना है और समय कितना है?

अभी कम से कम 9 लाख ब्राह्मण तो पहले चाहिए। ऐसे तो संख्या ज्यादा होगी लेकिन सारे विश्व पर राज्य करेंगे तो कम से कम 9 लाख तो हों। समय प्रमाण श्रेष्ठ विधि चाहिए। श्रेष्ठ विधि है ही उड़ाने की विधि। उसका प्लैन बनाओ। छोटे-छोटे संगठन तैयार करो। कितने वर्ष अव्यक्त पार्ट को भी हो गया! साकार पालना, अव्यक्त पालना कितना समय बीत गया। अभी कुछ नवीनता करनी है ना। प्लैन बनाओ। अब उड़ने और नीचे आने का चक्र तो पूरा हो। 84 जन्म हैं, 84 का चक्र गाया हुआ है। तो 84 में जब यह चक्र पूरा होगा तब स्वदर्शन चक्र दूर से आत्माओं को समीप लायेगा। यादगार में क्या दिखाते हैं? एक जगह पर बैठे चक्र भेजा और वह स्वदर्शन चक्र स्वयं ही आत्माओं को समीप ले आया। स्वयं नहीं जाते, चक्र चलाते हैं। तो पहले यह चक्र पूरे हों तब तो स्वदर्शन चक्र चलें। तो अभी 84 में यह विधि अपनाओ जो सब हद के चक्र समाप्त हों, ऐसे ही सोचा है ना। अच्छा!

टीचर्स से:- टीचर्स तो हैं ही उड़ती कला वाली! निमित्त बनना – यही उड़ती कला का साधन है। तो निमित्त बने हो अर्थात् ड्रामा अनुसार उड़ती कला का साधन मिला हुआ है। इसी विधि द्वारा सदा सिद्धि को पाने वाली श्रेष्ठ आत्मायें हो। निमित्त बनना ही लिफ्ट है। तो लिफ्ट द्वारा सेकण्ड में पहुँचने वाले उड़ती कला वाले हुए। चढ़ती कला वाले नहीं, हिलने वाले नहीं, लेकिन हिलाने से बचाने वाले। आग की सेक में आने वाले नहीं लेकिन आग बुझाने वाले। तो निमित्त की विधि से सिद्धि को प्राप्त करो। टीचर्स का अर्थ ही है निमित्त भाव। यह निमित्त भाव ही सर्व फल की प्राप्ति स्वत: कराता है। अच्छा!

अव्यक्त महावाक्य – कर्मबन्धन मुक्त कर्मातीत, विदेही बनो

विदेही व कर्मातीत स्थिति का अनुभव करने के लिए हद के मेरे-मेरे के देह-अभिमान से मुक्त बनो। लौकिक और अलौकिक, कर्म और सम्बन्ध दोनों में स्वार्थ भाव से मुक्त बनो। पिछले जन्मों के कर्मों के हिसाब-किताब वा वर्तमान पुरूषार्थ की कमजोरी के कारण किसी भी व्यर्थ स्वभाव-संस्कार के वश होने से मुक्त बनो। यदि कोई भी सेवा की, संगठन की, प्रकृति की परिस्थिति स्वस्थिति को वा श्रेष्ठ स्थिति को डगमग करती है – तो यह भी बन्धनमुक्त स्थिति नहीं है, इस बन्धन से भी मुक्त बनो। पुरानी दुनिया में पुराने अन्तिम शरीर में किसी भी प्रकार की व्याधि अपनी श्रेष्ठ स्थिति को हलचल में न लाये – इससे भी मुक्त बनो। व्याधि का आना, यह भावी है लेकिन स्थिति हिल जाना – यह बन्धनयुक्त की निशानी है। स्वचिन्तन, ज्ञान चिन्तन, शुभचिन्तक बनने का चिन्तन बदल शरीर की व्याधि का चिन्तन चलना – इससे मुक्त बनो – इसी को ही कर्मातीत स्थिति कहा जाता है।

कर्मयोगी बन कर्म के बन्धन से सदा न्यारे और सदा बाप के प्यारे बनो – यही कर्मातीत विदेही स्थिति है। कर्मातीत का अर्थ यह नहीं है कि कर्म से अतीत हो जाओ। कर्म से न्यारे नहीं, कर्म के बन्धन में फँसने से न्यारे बनो। कोई कितना भी बड़ा कार्य हो लेकिन ऐसे लगे जैसे काम नहीं कर रहे हैं लेकिन खेल कर रहे हैं। चाहे कोई भी परिस्थिति आ जाए, चाहे कोई आत्मा हिसाब-किताब चुक्तू करने वाली सामना करने भी आती रहे, चाहे शरीर का कर्म-भोग सामना करने आता रहे लेकिन हद की कामना से मुक्त रहना ही विदेही स्थिति है। जब तक यह देह है, कर्मेन्द्रियों के साथ इस कर्मक्षेत्र पर पार्ट बजा रहे हो, तब तक कर्म के बिना सेकण्ड भी रह नहीं सकते लेकिन कर्म करते हुए कर्म के बन्धन से परे रहना यही कर्मातीत विदेही अवस्था है। तो कर्मेन्द्रियों द्वारा कर्म के सम्बन्ध में आना है, कर्म के बन्धन में नहीं बंधना है। कर्म के विनाशी फल की इच्छा के वशीभूत नहीं होना है। कर्मातीत अर्थात् कर्म के वश होने वाला नहीं लेकिन मालिक बन, अथॉरिटी बन कर्मेन्द्रियों के सम्बन्ध में आये, विनाशी कामना से न्यारा हो कर्मेन्द्रियों द्वारा कर्म कराये। आत्मा मालिक को कर्म अपने अधीन न करे लेकिन अधिकारी बन कर्म कराता रहे। कराने वाला बन कर्म कराना – इसको कहेंगे कर्म के सम्बन्ध में आना। कर्मातीत आत्मा सम्बन्ध में आती है, बन्धन में नहीं।

कर्मातीत अर्थात् देह, देह के सम्बन्ध, पदार्थ, लौकिक चाहे अलौकिक दोनों सम्बन्ध से, बन्धन से अतीत अर्थात् न्यारे। भल सम्बन्ध शब्द कहने में आता है – देह का सम्बन्ध, देह के सम्बन्धियों का सम्बन्ध, लेकिन देह में वा सम्बन्ध में अगर अधीनता है तो सम्बन्ध भी बन्धन बन जाता है। कर्मातीत अवस्था में कर्म सम्बन्ध और कर्म बन्धन के राज़ को जानने के कारण सदा हर बात में राज़ी रहेंगे। कभी नाराज़ नहीं होंगे। वे अपने पिछले कर्मों के हिसाब-किताब के बन्धन से भी मुक्त होंगे। चाहे पिछले कर्मों के हिसाब-किताब के फलस्वरूप तन का रोग हो, मन के संस्कार अन्य आत्माओं के संस्कारों से टक्कर भी खाते हों लेकिन कर्मातीत, कर्म-भोग के वश न होकर मालिक बन चुक्तू करायेंगे। कर्मयोगी बन कर्मभोग चुक्तू करना – यह है कर्मातीत बनने की निशानी। योग से कर्मभोग को मुस्कराते हुए सूली से कांटा कर भस्म करना अर्थात् कर्मभोग को समाप्त करना। कर्मयोग की स्थिति से कर्मभोग को परिवर्तन कर देना – यही कर्मातीत स्थिति है। व्यर्थ संकल्प ही कर्मबन्धन की सूक्ष्म रस्सियां हैं। कर्मातीत आत्मा बुराई में भी अच्छाई का अनुभव करती है। वह कहेगी – जो होता है वह अच्छा है, मैं भी अच्छा, बाप भी अच्छा, ड्रामा भी अच्छा। यह संकल्प बन्धन को काटने की कैंची का काम करता है। बन्धन कट गये तो कर्मातीत हो जायेंगे।

विदेही स्थिति का अनुभव करने के लिए इच्छा मात्रम् अविद्या बनो। ऐसी हद की इच्छा मुक्त आत्मा सर्व की इच्छाओं को पूर्ण करने वाली बाप समान ‘कामधेनु’ होगी। जैसे बाप के सर्व भण्डारे, सर्व खजाने सदा भरपूर हैं, अप्राप्ति का नाम निशान नहीं है; ऐसे बाप समान सदा और सर्व खजानों से भरपूर बनो। सृष्टि चक्र के अन्दर पार्ट बजाते हुए अनेक दु:ख के चक्करों से मुक्त रहना – यही जीवनमुक्त स्थिति है। ऐसी स्थिति का अनुभव करने के लिए अधिकारी बन, मालिक बन सर्व कर्मेन्द्रियों से कर्म कराने वाले बनो। कर्म में आओ फिर कर्म पूरा होते न्यारे हो जाओ – यही है विदेही स्थिति का अभ्यास।

वरदान:- मेरे को तेरे में परिवर्तन कर उड़ती कला का अनुभव करने वाले डबल लाइट भव 
यह विनाशी तन और धन, पुराना मन मेरा नहीं, बाप को दे दिया। पहला संकल्प ही यह किया कि सब कुछ तेरा ..इसमें बाप का फ़ायदा नहीं, आपका फ़ायदा है क्योंकि मेरा कहने से फंसते हो और तेरा कहने से न्यारे हो जाते हो। मेरा कहने से बोझ वाले बन जाते और तेरा कहने से डबल लाइट, ट्रस्टी बन जाते। जब तक कोई हल्का नहीं बनते तब तक ऊंची स्थिति तक पहुंच नहीं सकते। हल्का रहने वाले ही उड़ती कला द्वारा आनंद की अनुभूति करते हैं। हल्का रहने में ही मजा है।
स्लोगन:- शक्तिशाली आत्मा वह है जिस पर कोई भी व्यक्ति वा प्रकृति अपना प्रभाव न डाल सके।

TODAY MURLI 30 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 December 2017 :- Click Here

30/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come on to the field of action to play your part s. You definitely have to perform actions. The original religion of souls is peace. Therefore, you mustn’t ask for peace but must remain stable in your original religion.
Question: Knowing the predestined drama, what does the Father not tell you? What is the reason for that?
Answer: The Father knows what is to happen tomorrow and yet He doesn’t tell you. It isn’t that He would tell you today that an earthquake is to take place tomorrow. If He were to tell you this, the drama wouldn’t be real. You have to observe everything as detached observers. If you were to know in advance, you would forget to have remembrance of the Father at that time. In order to see the final scenes, you have to become mahavirs. You have to remain unshakeable and immovable. In order to shed your bodies while in remembrance of the Father, you have to make your stage very strong.

Om shanti. The meaning of ‘Om shanti’ has been explained to you children. People say that they want peace of mind. How can we receive that? Perhaps there is a book written about it. The Father has explained to you children. You also say: Om shanti. What is the meaning of that? Some think that the meaning of ‘Om’ is God. The Father too says: Om shanti. Om means ‘I’. (I, the soul). Afterwards, you say: My body. So the soul himself says: Om shanti. My original religion is peace and my residence is the land of nirvana, the land of peace. The soul himself gives his own introduction: I am an embodiment of peace. In that case, there is no need to ask how there can be peace of mind. The Father also says: Om shanti. I am the Supreme Soul, the Father of all you children. I too am the Resident of the land of peace. You souls have adopted bodies here in order to play your part s. Therefore, the question of peace of mind cannot arise. No one understands the meaning of ‘Om’ and this is why they continue to wander around searching for peace of mind. When a soul is bodiless, he is peaceful. When he enters a body, the physical organs will definitely start to function. You definitely have to work on the field of action. So there is no need to write a book about peace. It is a matter of a second to understand this. The soul himself says: Om shanti. So what else do you need? Where would peace come from? The land of souls is the land of peace. You will not go and sit there now. You definitely have to play your part s. In the same way, there is no need for a book in order to claim liberation-in-life from the Supreme Father, the Supreme Soul. This is a matter of a seco nd. They write books on the path of devotion, not on the path of knowledge. Nevertheless, in order to explain to the people outside, you have to write the real explanation of ‘True Peace of Mind’ and ‘The True Gita’. Otherwise, the intellect says: Consider yourself to be a soul and remember the land of peace and the land of happiness and your final thoughts will lead you to your destination. However, there cannot be peace of mind here. The land of peace is the land of nirvana where the Father and we souls reside. They speak of the rosary of Rudra. So there is only the one sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Only the Father, the Ocean of Knowledge, can speak this knowledge. However, there are many types of knowledge. There is knowledge of science, knowledge of various skills, but that is in respect of interaction. People become very clever with knowledge. You children have now received the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. This is a study place and you are taught here. The Father is the Ocean of Knowledge and He has all the knowledge. He knows all the Vedas and scriptures. Only I explain what is wrongand what is right; what is true and what is false. Now, tell Me what is the truth? Is it true to say that God is omnipresent? I am your Father. You could not receive any knowledge from someone who is omnipresent. You couldn’t then make effort. What would He do if He were omnipresent? He Himself is the Master. God never becomes impure. He can depart whenever He wants. Here, souls are impure and this is why no one can go back home. All the knowledge disappears when you become impure; the intellect becomes dirty. You’re unable to have yoga. There are obstacles in remembrance. Therefore, you mustn’t perform sinful actions. You definitely do have to remember the Father. Your past sins cannot be cut away without the Father. It isn’t that your sins will be cut away by your living at Haridwar; no. People continue to commit sin. If the sages and holy men knew that their home was the land of peace, they would go there and come back. Baba gives you visions of everything. That is, you have been there. On the path of devotion too, people have visions through divine vision. When you are in the golden age you will see Lakshmi and Narayan with your physical eyes; they will also see you. Now you see them in visions. Baba has the key to divine vision. No one else can have that. Baba has explained that He doesn’t give this key to anyone else. In return, I don’t rule the kingdom of heaven. He keeps the balance equal. You become the masters of the world. I don’t become that. On the path of devotion, when they have visions, that idol doesn’t have any power. Baba says: I give them visions in order to fulfil their desires. Whomever they worship, Ganesh or Hanuman etc., it is I who grant them a vision of that one. However, those people think that God is in everyone and this is why they say that I am omnipresent. They have taken knowledge wrongly. In fact, all are brothers ; there is a soul in each one. Not everyone can be the Father. All souls call out: O God, the Father, have mercy! So, all are the children. When children claim their inheritance from the Father, they have to renounce the arrogance of the body. I, the soul, am claiming my inheritance from the Father, that is all! A soul cannot be called male or female. Although he may have the costume of a female, it is right to say: I am claiming my inheritance. Everyone has a right to claim his inheritance from the Father. “I am a Christian, I am so-and-so” are all religions of the body. There is just one soul; it is the body that changes. That is why it is said: This one is a Muslim; this one is a Hindu. The name of the soul doesn’t change; the name of the body changes. The Father is the Purifier, the Ocean of Knowledge. The praise of the Father is separate. He is the Ocean of Peace and the Ocean of Knowledge. By having yoga with Him, we will go to the land of peace. That will be at this time. No one else can ever have such yoga. You know the land of peace, but you remember Shiv Baba. Sannyasis say that they are those who have knowledge of the brahm element. They have yoga with the brahm element, but sins cannot be absolved through that; that yoga is wrong. Brahm is a place of residence. Whether you say “brahm gyani” or “tattwa gyani” it is the same thing. The Father says: This is their illusion. Brahma cannot be the Purifier. The Father of souls is Shiva. He alone can be called the Purifier. However, no one can return home. Everyone has to become tamopradhan from satopradhan. When the first number Shri Narayan becomes this, everyone else would also surely become tamopradhan; they would continue to take rebirth. This is also kept in your intellect. You know how many births those of all the other religions take. It is said of the deities that they take the full 84 births. You cannot tell accurately about the births of others. If you were to make a calculation you could tell, but there is no need. We are only concerned with our own efforts; we mustn’t get involved with other matters. If you want liberation and liberation-in-life, then become “Manmanabhav”. I am the Purifier. I come and teach you Raja Yoga. The Purifier would definitely come at the end of the iron age, not in the copper age. There is no meaning in just writing “Shiv Ratri”. You should write ‘Trimurti Shiv Ratri’. There is extreme darkness in devotion and this is why they say, “When the Sun of Knowledge rises….” It would definitely be at the end of the iron age. There is enlightenment in the golden age. The Father would definitely come at the confluence age. It is only when everyone has become impure that the Father comes and purifies you, because everyone has a connection. Many sannyasis also ask: How can there be peace of mind? The original religion of souls is peace. Just as the people of Bharat have forgotten the deities, in the same way, souls have forgotten their original religion. The soul knows that Ravan has made him peaceless. You received this knowledge at this time. You can never receive peace here. Peace can only be received in the land of peace. Everyone has to go there. We will go to the land of peace and then go to the land of happiness. Those of other religions receive a lot of peace and we receive a lot of happiness. They do not receive as much happiness or as much sorrow. These are detailed matters. Some have a very clear aim, that is enough. While living at home, continue to remember the Father and the inheritance. However, you won’t be able to create subjects. Those who create subjects will become kings, queens and masters. This requires effort. It is easy to explain using projectors. Invite eminent people and explain to them. You children can benefit many. Many new methods are being invented. You can also create projector slides in English and show them to people abroad. When they see this cycle etc. they will think that this is the philosophy of Bharat. Only the Father can give this knowledge. This is spiritual knowledge. Only from the Spirit do you receive spiritual knowledge. You are real doctors of philosophy. The Father is the spiritual Surgeon. He injects the spirits. Everything of yours is incognito. Those people sit and read the scriptures etc. and so they are given a lot of regard. They don’t consider souls to be impure. They say that souls are immune. Therefore, only you can give true knowledge. It has also been explained that that renunciation is limited whereas yours is unlimited renunciation which only the unlimited Father explains to you. That is hatha yoga and this is Raja Yoga. Those people try to control their physical senses with hatha yoga. You control your physical senses with Raja Yoga. There is a lot of difference. You now continue to become knowledgefull through the Father. However, you will become that numberwise, according to the effort you make. How much love you should have for such a Father! This love is incognito. The soul is incognito. The soul knows that he has found the Father. He is liberating you from sorrow. Baba, You have performed wonders! You come and give us knowledge every cycle and then we forget it. The Father says: Yes, children, I told you that this knowledge would disappear. This knowledge will not remain in the golden age. The whole drama is created; there cannot be the slightest difference. This drama is predestined. Whatever happens, continue to observe it as detached observers. Destruction has to take place. Establishment has to take place. Continue to observe that with detachment. For instance, if an earthquake is to happen tomorrow it isn’t that I would tell you in advance what is going to happen. In that case you would make all arrangements. Continue to observe everything as detached observers. The main thing is: Remember Me. Otherwise, you would even forget Me. You children have to become mahavirs. Mahavirs and mahavirnis (female mahavirs) are called gods of knowledge and goddesses of knowledgeGod alone teaches you yoga and makes you into mahavirs, at the end, at the time when earthquakes take place, you will need to be mahavirs. At present you are effort-makers. You have to remain unshakeable and immovable. Together with that, if you die in remembrance of Baba, that is very good. Those who are unshakeable and immovable in knowledge will shed their bodies while just sitting somewhere and then go and serve through their karmateet stage. You children have to shed your bodies in a firm stage and go to the subtle region and then come back into the new world. Achcha. You children always have to check your chart in order to claim your full inheritance from Baba. You mustn’t develop doubt about anything and thereby stop studying. Baba repeatedly tells you: Remember Me and your sins will be absolved. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t develop doubt about anything and thereby stop studying. Make your stage unshakeable and immovable. Have true love for the one Father.
  2. Don’t waste your time in detailed matters. Pay full attention to your intellect not becoming dirty through any action.
Blessing: May you be free from any bondage of the body and remain stable in your original form with the awareness of the word “I”.
The one word “I” can make you fly and the same word “I” can bring you down. When you say “I”, remember your original incorporeal form. Let this become natural. Let the “I” of body consciousness finish and you will then become free from any bondage of the body because the word “I” takes you into ego of the body and ties you in the bondage of karma. However, when you have the awareness that “I am an incorporeal soul”, you can then go beyond the consciousness of the body and go into a relationship not bondage of karma.
Slogan: In order to experience guaranteed victory and a carefree stage, let your intellect have complete faith.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 December 2017

To Read Murli 29 December 2017 :- Click Here
30/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम कर्मक्षेत्र पर आये हो पार्ट बजाने, तुम्हें कर्म जरूर करने हैं, आत्मा का स्वधर्म शान्ति है, इसलिए शान्ति नहीं मांगनी है, स्वधर्म में टिकना है”
प्रश्नः- बने बनाये ड्रामा को जानते हुए भी बाप तुम्हें कौन सी बात नहीं बतलाते? कारण क्या?
उत्तर:- बाप जानते हैं – कल क्या होने वाला है तो भी बतायेंगे नहीं। ऐसे नहीं कल अर्थक्वेक होगी – यह आज ही बता दें। अगर बतला दें तो ड्रामा रीयल न रहे। तुम्हें सब कुछ साक्षी होकर देखना है। अगर पहले से ही पता हो तो उस समय तुम्हें बाप की याद भी भूल जायेगी। पिछाड़ी की सीन देखने के लिए तुम्हें महावीर बनना है। अचल-अडोल रहना है। बाप की याद में शरीर छोड़ें, इसके लिए परिपक्व अवस्था बनानी है।

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ बच्चों को समझाया है। मनुष्य कहते हैं मन की शान्ति चाहिए, वह कैसे मिले? इस पर शायद एक किताब छपी हुई है। बाप ने बच्चों को समझाया है, तुम भी कहते हो ओम् शान्ति। अब इसका अर्थ क्या है? कोई तो ओम् का अर्थ भगवान समझते हैं। बाप भी कहते हैं ओम् शान्ति। ओम् अर्थात् अहम् (मैं आत्मा)। पीछे फिर कहते हैं मेरा शरीर। तो आत्मा खुद ही कहती है ओम् शान्ति। मेरा स्वधर्म है ही शान्त और रहने का स्थान भी निर्वाणधाम, शान्तिधाम है। आत्मा खुद अपना परिचय देती है कि मैं शान्त स्वरूप हूँ फिर पूछने की दरकार ही नहीं रहती कि मन की शान्ति कैसे मिले? बाप भी कहते हैं – ओम् शान्ति। मैं भी परम आत्मा हूँ, तुम सब बच्चों का बाप हूँ। शान्तिधाम में रहने वाला हूँ। तुम आत्माओं ने यहाँ शरीर धारण किया है पार्ट बजाने। फिर मन की शान्ति का तो प्रश्न ही नहीं उठ सकता। ओम् का अर्थ भी कोई नहीं जानता, इसलिए धक्के खाते रहते हैं – मन की शान्ति के लिए। आत्मा जब अशरीरी है तो है ही शान्त। शरीर में आने से कर्मेन्द्रियाँ जरूर काम करेंगी। कर्मक्षेत्र पर जरूर काम करना पड़ता है तो शान्ति पर कोई किताब बनाने की दरकार नहीं। यह तो सेकण्ड की बात है समझने की। आत्मा खुद ही कहती है ओम् शान्ति। बाकी क्या चाहिए? कहाँ से शान्ति आयेगी? आत्मा का देश शान्तिधाम है। अभी तो वहाँ जाकर बैठेंगे नहीं। पार्ट जरूर बजाना है। वैसे ही परमपिता परमात्मा से जीवनमुक्ति पाने के लिए कोई किताब आदि की दरकार नहीं। यह तो सेकण्ड की बात है। किताब भक्ति मार्ग में बनाते हैं, न कि ज्ञान मार्ग में। फिर भी बाहर वालों को समझाने के लिए रीयल्टी की जो समझानी है – सच्चे मन की शान्ति पर, सच्ची गीता पर लिखना पड़ता है। नहीं तो बुद्धि कहती है – अपने को आत्मा निश्चय करो, सुखधाम और शान्तिधाम को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। बाकी यहाँ थोड़ेही मन की शान्ति हो सकती है। शान्तिधाम तो है निर्वाणधाम, जहाँ बाप भी रहते हैं और हम आत्मायें भी रहती हैं। रूद्र माला भी कहते हैं तो रूद्र ज्ञान यज्ञ भी एक ही है। ज्ञान सागर बाप ही यह ज्ञान सुना सकते हैं। बाकी ज्ञान तो बहुत प्रकार का है। साइन्स का भी ज्ञान, कारीगरी का भी ज्ञान होता है। परन्तु वह है व्यवहार की बातें। ज्ञान से मनुष्य बहुत अक्लमंद बनते हैं। अभी तुम बच्चों को सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज मिली है। यह पाठशाला है, यहाँ पढ़ाया जाता है। बाप है ज्ञान का सागर, उनको सब नॉलेज है। सब वेद-शास्त्र आदि को जानते हैं। रांग-राइट, झूठ-सच क्या है, वह मैं समझाता हूँ। अब बताओ सच क्या है? सर्वव्यापी कहना यह सच है? मैं तो तुम्हारा बाप हूँ। सर्वव्यापी से तो कोई ज्ञान मिल न सके। पुरुषार्थ हो न सके। सर्वव्यापी होकर क्या करे? खुद मालिक है, भगवान तो कभी पतित होता नहीं। वह तो जब चाहे तो वापिस चला जाए। यहाँ तो पतित हैं इसलिए वापिस कोई जा न सके। पतित बनने से सारा ज्ञान उड़ जाता है, बुद्धि मलीन हो जाती है। योग नहीं लगता, याद में विघ्न पड़ जाते हैं इसलिए कोई भी पाप कर्म नहीं करना चाहिए। याद भी जरूर करना है। बाप के बिगर पुराने पाप कट नहीं सकते। ऐसे नहीं हरिद्वार में रहने से कोई पाप कट सकते हैं, नहीं। पाप तो करते रहते हैं। साधू-सन्तों को अगर पता होता कि हमारा घर शान्तिधाम है तो वहाँ से होकर आते। बाबा तुमको सब साक्षात्कार कराते हैं। गोया तुम होकर आये हो। भक्ति मार्ग में भी साक्षात्कार होता है – दिव्य दृष्टि से। तुम जब सतयुग में हो तो इन आंखों से लक्ष्मी-नारायण को देखेंगे। वह भी तुमको देखेंगे। अभी साक्षात्कार में देखते हो। बाबा के पास दिव्यदृष्टि की चाबी है, वह और किसको मिल न सके। बाबा ने समझाया है यह चाबी मैं किसको भी नहीं देता हूँ। इनकी एवज में मैं फिर स्वर्ग की राजाई नहीं करता हूँ। तराजू इक्वल रखते हैं। तुम विश्व के मालिक बनते हो, मैं नहीं बनता हूँ। भक्ति मार्ग में जो साक्षात्कार करते हैं वह भी मूर्ति में थोड़ेही ताकत है।

बाबा कहते हैं – मैं मनोकामना पूर्ण करने के लिए साक्षात्कार कराता हूँ। गणेश, हनूमान आदि जिसकी पूजा करते हैं तो साक्षात्कार मैं कराता हूँ। परन्तु वो लोग समझते हैं परमात्मा सबमें हैं इसलिए मुझे सर्वव्यापी कह दिया, उल्टा ज्ञान ले लिया। वास्तव में सब ब्रदर्स हैं। सबमें आत्मा है। सब फादर तो हो न सकें। सभी आत्मायें पुकारती हैं हे गाड फादर रहम करो, तो सब बच्चे हो गये। बच्चे बाप से वर्सा लेते हैं तो देह का अभिमान छोड़ना पड़े। बस मैं आत्मा बाप से वर्सा ले रही हूँ। आत्मा को मेल वा फीमेल नहीं कहते। भल चोला फीमेल का है परन्तु यह कहना ठीक है कि वर्सा ले रहा हूँ। बाप से वर्सा लेने का सबको हक है। मैं क्रिश्चियन हूँ, मैं फलाना हूँ। यह सब शरीर के धर्म हैं। आत्मा एक ही है। शरीर बदलता है, तब कहते हैं यह मुसलमान है, यह हिन्दू है। आत्मा का नाम नहीं बदलता, शरीर का बदलता है। बाप तो है ही पतित-पावन, ज्ञान का सागर। बाप की महिमा अलग हो जाती है। वह शान्ति का सागर, ज्ञान का सागर है। उनके साथ योग लगाने से हम शान्तिधाम चले जायेंगे, सो भी अभी। ऐसा योग कभी कोई लगा नहीं सकते। तुम शान्तिधाम को जानते हो। बाकी याद शिवबाबा को करते हो। सन्यासी कहते हैं हम ब्रह्म ज्ञानी हैं। ब्रह्म से योग लगाते हैं परन्तु उनसे विकर्म विनाश नहीं हो सकते। वो योग ही रांग है। ब्रह्म अर्थात् रहने का स्थान। ब्रह्म ज्ञानी अथवा तत्व ज्ञानी बात एक ही है। बाप कहते हैं यह इन्हों का भ्रम है। पतित-पावन ब्रह्मा नहीं हो सकता। आत्माओं का बाप शिव है, उनको ही पतित-पावन कहा जाता है। बाकी वापिस तो कोई जा नहीं सकते। सभी को सतोप्रधान से तमोप्रधान बनना ही है। जबकि पहला नम्बर श्री नारायण ही बनता है तो और सभी भी जरूर तमोप्रधान बनेंगे। पुनर्जन्म लेते आयेंगे। यह भी बुद्धि में रखा जाता है।

तुम जानते हो हर एक धर्म वाले कितने जन्म लेते होंगे? देवताओं को कहेंगे पूरे 84 जन्म लेते हैं। औरों के जन्म एक्यूरेट नहीं बता सकते। कोई हिसाब करे तो निकाल सकते हैं। परन्तु जरूरत नहीं है। हमारा अपने पुरुषार्थ से काम है और जास्ती बातों में नहीं जाना है। तुमको मुक्ति, जीवनमुक्ति चाहिए तो मनमनाभव। मैं हूँ ही पतित-पावन, आकर राजयोग सिखलाता हूँ। पतित-पावन जरूर कलियुग अन्त में आयेगा, ना कि द्वापर में। सिर्फ शिवरात्रि लिखने से अर्थ नहीं निकलता है। त्रिमूर्ति शिवरात्रि लिखना चाहिए। भक्ति में घोर अन्धियारा है तब कहते हैं ज्ञान सूर्य प्रगटा… जरूर कलियुग का अन्त होगा। रोशनी है सतयुग में। बाप जरूर संगम पर आयेगा। सब पतित बनें तब तो बाप आकर पावन बनाये क्योंकि सबका कनेक्शन है ना। बहुत सन्यासी लोग भी कहते हैं मन की शान्ति कैसे होगी। आत्मा का स्वधर्म ही शान्त है। जैसे भारतवासी देवी-देवताओं को भूले हुए हैं, वैसे आत्मा भी अपने स्वधर्म को भूली हुई है। आत्मा ही जानती है – मुझे रावण ने अशान्त किया है। यह ज्ञान अभी मिला है। यहाँ तो शान्ति कभी मिल नहीं सकती। शान्तिधाम में ही शान्ति मिल सकती है। वहाँ तो सबको जाना है। हम शान्तिधाम में जायेंगे फिर आयेंगे सुखधाम में। दूसरे धर्म वालों को शान्ति अधिक मिलती है, हमको सुख अधिक मिलता है। उन्हों को न इतना सुख, न दु:ख मिलेगा। यह हैं डीटेल की बातें। कोई ने लक्ष्य को अच्छी रीति पकड़ लिया है, वह भी काफी है। घर में रहते बाप और वर्से को याद करते रहो। परन्तु प्रजा नहीं बना सकेंगे। जो प्रजा बनायेंगे वही राजा-रानी, मालिक बनेंगे। मेहनत है ना। प्रोजेक्टर पर समझाना सहज है। बड़े-बड़े आदमियों को निमंत्रण दे उन्हों को समझाना चाहिए। तुम बच्चे बहुतों का कल्याण कर सकते हो। यह भी नये तरीके निकल रहे हैं। अंग्रेजी में भी प्रोजेक्टर स्लाईड्स विलायत में जाकर दिखला सकते हो। यह गोला आदि जब देखेंगे तो समझेंगे कि यह है भारत की फिलॉसाफी। यह नॉलेज बाप ही दे सकते हैं। यह है रूहानी ज्ञान। रूह से ही रूहानी ज्ञान मिलता है। सच्चे डॉक्टर आफ फिलॉसाफी भी तुम हो। बाप है रूहानी सर्जन। रूहों को इन्जेक्शन लगाते हैं। तुम्हारा है सब गुप्त। वो लोग तो बैठ शास्त्र आदि पढ़ते हैं तो उन्हों का बहुत मान होता है। वह रूहों को पतित समझते नहीं, निर्लेप कह देते हैं। तो सच्ची-सच्ची नॉलेज तुम ही दे सकते हो। यह भी समझाया है वह है हद का सन्यास, तुम्हारा है बेहद का सन्यास, जो बेहद का बाप ही सिखलाते हैं। वह है हठयोग, यह है राजयोग। वो हठयोग से कर्मेन्द्रियों को वश करने चाहते हैं। तुम राजयोग से कर्मेन्द्रियों को वश करते हो। बहुत फ़र्क है। अब बाप द्वारा तुम नॉलेजफुल बनते जा रहे हो। परन्तु बनेंगे नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। ऐसे बाप के साथ कितना लव रहना चाहिए। यह है गुप्त लव। आत्मा भी गुप्त है। आत्मा जानती है कि हमको बाबा मिला है। दु:ख से छुड़ा रहे हैं। बाबा आपने तो कमाल की है। कल्प-कल्प आप हमको ज्ञान देते हो फिर हम भूल जाते हैं। बाप कहते हैं – हाँ बच्चे, हमने तो कहा था यह ज्ञान प्राय:लोप हो जायेगा। सतयुग में यह नॉलेज नहीं रहेगी। यह सब ड्रामा बना हुआ है। ज़रा भी फर्क नहीं पड़ सकता। बना बनाया ड्रामा है, जो कुछ होता है साक्षी होकर देखते चलो। विनाश होना है, स्थापना होनी है, साक्षी होकर देखना है। समझो कल अर्थक्वेक होती है तो ऐसे नहीं मैं बताऊंगा कि यह होना है। फिर तो सब प्रबन्ध कर लें। साक्षी होकर देखते चलो। मूल बात है मुझे याद करो। नहीं तो मुझे भी भूल जायेंगे। तुम बच्चों को महावीर बनना है। महावीर-महावीरनी को गॉड आफ नॉलेज, गॉडेज ऑफ नॉलेज कहा जाता है। गॉड ही योग सिखलाए महावीर बनाते हैं। पिछाड़ी में जब अर्थक्वेक आदि होंगी उस समय महावीरपना चाहिए। अभी तो तुम पुरुषार्थी हो। अचल-अडोल रहना पड़े और साथ-साथ बाबा की याद में मरें तो बहुत अच्छा। जो ज्ञान में अचल-अडोल होंगे वह बैठे-बैठे शरीर छोड़ेंगे। फिर कर्मातीत अवस्था में जाकर सर्विस करेंगे। बच्चों को परिपक्व अवस्था में शरीर छोड़ सूक्ष्मवतन में जाकर फिर नई दुनिया में आना है।

अच्छा – बच्चों को सदैव अपना चार्ट देखना है जो हम बाबा से पूरा वर्सा पायें। कोई भी बात के संशय में आकर पढ़ाई कभी नहीं छोड़नी चाहिए। बाबा बार-बार कहते हैं – मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी बात में संशयबुद्धि बन पढ़ाई नहीं छोड़नी है। अपनी स्थिति अचल, अडोल बनानी है। एक बाप से सच्चा लव रखना है।

2) अपना टाइम विस्तार की बातों में वेस्ट नहीं करना है। बुद्धि किसी भी कर्म में मलीन न हो, इसका पूरा ध्यान रखना है।

वरदान:- ‘मैं’ शब्द की स्मृति द्वारा अपने ओरीज्नल स्वरूप में स्थित होने वाले देह के बंधन से मुक्त भव 
एक ‘मैं’ शब्द ही उड़ाने वाला है और ‘मैं’ शब्द ही नीचे ले आने वाला है। मैं कहने से ओरीज्नल निराकार स्वरूप याद आ जाये, यह नेचुरल हो जाए, देह भान का मैं समाप्त हो जाए तो देह के बंधन से मुक्त बन जायेंगे क्योंकि यह मैं शब्द ही देह-अहंकार में लाकर कर्म-बंधन में बांध देता है। लेकिन मैं निराकारी आत्मा हूँ, जब यह स्मृति आती है तो देहभान से परे हो, कर्म के संबंध में आयेंगे, बंधन में नहीं।
स्लोगन:- निश्चित विजय और निश्चिंत स्थिति का अनुभव करने के लिए सम्पूर्ण निश्चयबुद्धि बनो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize