today murli 3 january

TODAY MURLI 3 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 January 2019 :- Click Here

03/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, if you remember Alpha and beta, the Father and the inheritance, your mercury of happiness will remain high. This is an easy matter of just a second.
Question: Which children have limitless happiness? What is the way to keep your mercury of happiness constantly high?
Answer: Children who practise being bodiless, those who imbibe very well whatever the Father tells them and who inspire others to imbibe it experience limitless happiness. In order for your mercury of happiness to remain constantly high, continue to donate the imperishable jewels of knowledge. Bring benefit to many others. Always have the awareness that you are now going to the peak of happiness and peace and you will remain happy.

Om shanti. BapDada has the thought that He should get you children to write down in a second whose remembrance you are sitting in. It doesn’t take time to write this down. Each one of you can write it in a second and come and show it to Baba. (Everyone wrote it and showed it to Baba. Then Baba also wrote it down. No one had written what Baba wrote.) Baba wrote: Alpha and beta. It is so easy! Alpha means Baba and beta means the kingdom. Baba is teaching you and you are attaining your kingdom. There is no need to write anything more. You took more than two minutes to write this. To write Alpha and beta is a matter of a second. Sannyasis only remember Alpha. You also remember your sovereignty. You have to instil the habit of remembrance. When this sits in your intellect, your mercury of happiness remains high. The meaning of Alpha is that He is the h ighest peak. There is nothing higher than that. The place of residence is also the highest of all. No one knows the meaning of liberation or liberation-in-life in a second. That too must definitely have a meaning. When a child is born, they write: He was born at this hour, minute and second. The hand continues to tick away. In one tick, you can say: Alpha and beta. It doesn’t take even a second. There is even no need to say it; you remember it anyway. You children should have a very good stage. However, that can only happen when you have remembrance. While sitting here, you should remember the Father and the kingdom. When the intellect sees, it is called divine insight. The soul also sees. It is the soul that must be remembering the Father. When you remember the Father, you also remember the kingdom at the same time. How long does it take? Here, when you sit in remembrance, you would be overjoyed. Baba too is sitting here in this happiness. The father doesn’t remember anything of here. Baba remembers the things of there (the new world). It is as though Baba and the kingdom are standing on your doorstep. The Father says: I have brought the kingdom for you children. It is just that you don’t have remembrance and this is why your happiness doesn’t remain. While sitting and moving around, consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, and your inheritance. The place where you reside is so high. The world doesn’t know this. People beat their heads so much in order to go into liberation. However where is the land of liberation? You understand that a soul is a rocket. Those people go to the moon, but then, after that, there is just space. You go even beyond that space. The moon exists in this world. It is said: Beyond the sun and moon, beyond even sound. You have to shed your bodies. You come here from the sweet silence home. It doesn’t take time to come and go. That is your home. Here, wherever you go, it takes time When a soul sheds his body, he goes so far away in a second. A soul sheds one body and goes and enters another one. So, you have to consider yourselves to be souls. You are going to the very highest peak. People want peace. The highest peak of peace is the incorporeal world and the highest peak of happiness is heaven. The highest on high is called a tower. Your home is also so high. People of the world never think about these things. There is no one to explain these things to them. That is called the tower of peace. People continue to say that there should be peace in the world. However, they don’t know the meaning of it, that is, where there is peace. Lakshmi and Narayan exist in the tower of happiness; there is no greed or temptation there. Their food, drink and way of speaking etc. are all very royal and they experience the highest happiness. Look how much they are praised by having made a lot of effort. They are not the only ones; a whole rosary was created. In fact, nine jewels are remembered. Surely, they must have made incognito effort. Only when you remember the Father and the inheritance will your sins be absolved. However, Maya doesn’t allow you to stay in remembrance. Sometimes lust and sometimes anger bring many storms. You have to feel your own pulse. Narad too was told to look at his face in the mirror. So, you don’t have that stage now; it has to be created. Baba would definitely show you your aim and objective. Continue to make effort internally. As you make further progress, you will have that stage. You have to practise being bodiless. You now have to return home. Baba said: Remember Me. If you don’t remember Me, there will have to be a lot of punishment and the status will also be reduced. These matters are very subtle. Those people go so deep into science. Look at what they continue to create! Those sanskars are also needed so that they can go there and create those things. It is just that this world has to change. They will all go from here and take birth according to their sanskars of the present time. The intellects of those who fight in an army have sanskars of battling. So, they carry those sanskars with them; they cannot stay without fighting. An officer would always have a queue in front of him. At the time of registering everyone, they check that they don’t have any illness. They check that their eyes, ears etc. all function well. They have to function well to be in an army. Here, too, it is seen which ones will become the beads of the rosary of victory. You have to make effort and attain your karmateet stage. Souls came here bodiless and have to return home bodiless. There is no relationship with the body there. You now have to become bodiless. Souls come from there and enter a body here. So many souls continue to come. Each one of you has received your own part. New pure souls definitely receive happiness at first. This is why they are praised. The tree is big. There are so many very well-known people. All of you will be in a lot of happiness, according to your own strength. So, you children now have to make a lot of effort. You have to become pure and go back in your karmateet stage. You have to examine your own behaviour: Do I cause anyone sorrow? The Father is so sweet. He is the most b eloved. So, you children have to become the same. You children know that the Father is here. People don’t know that the Father is carrying out establishment here. Nevertheless, they continue to remember Him for birth after birth. They go to a Shiva Temple and worship Him so much. They go to such a high peak, to the temple of Badrinath etc. There are so many melas that take place (in His name) because He is very sweet. They sing: God is the Highest on High. They would only keep the incorporeal One in their intellects. There is always the incorporeal One and then there are Brahma, Vishnu and Shankar. They cannot be called God. You children now understand that you too were satopradhan deities. When you were the masters of the world, there weren’t so many human beings. It will be their kingdom in just Bharat. All the rest will go away to the land of peace. You continue to observe all of this. A very broad and unlimited intellect is needed for this. There, you won’t need to go to the mountains. There will be no accidents etc. there. That is the wonder of heaven. When it is not the wonder of heaven, it becomes the wonder of Maya. People of the world cannot understand these things. You are now making effort to go to heaven. That is the tower of happiness whereas this is the tower of sorrow. So many people die in battle every day, and so they must also take birth somewhere. It is remembered: You cannot reach the end of God. God is just a point. What end could you reach? The Father says: No one knows the beginning, middle or end of this creation. Sages and holy men cannot reach the end of the Creator or creation. The Father is teaching you. This is called a study. Only you children now come to know the secrets of the world cycle. Those people say: We do not know. Or, they speak of hundreds of thousands of years. The Father has explained that everything you see now will not exist there. Heaven is the tower of happiness, whereas here, there is nothing but sorrow. Death will suddenly come in such a way that everyone will die. To witness death is not like going to your aunty’s home! This is called the peak of sorrow and that is called the peak of happiness. There is no other word. Among you too, there are many who listen to this but are unable to imbibe it. Dharna can only take place when your intellect becomes golden aged. If there is no dharna, you cannot experience happiness. There are those who study at the highest level and there are also those who study at the lowest level; there is a difference in how they study. No matter how much the unlimited Father explains to them, they would never understand. You will never be able to become pure without having remembrance. The Father Himself is like a magnet. He is the One with the highest power. He can never become rusty. All others are covered in rust. You have to remove that and become satopradhan once again. The Father says: Constantly remember Me alone. Let there be no attachment to anyone else. Wealthy ones keep seeing their wealth in front of them throughout the day. Poor ones don’t have anything, but if they are sensible they can imbibe. How can the rubbish be removed without having remembrance? How can we become pure? You have come here to go to the highest peak. You know that by following the Father’s teachings, you will go to the highest peak of happiness. This requires effort. The Father comes here to take to you to the tower. So you have to follow shrimat. Lakshmi and Narayan are remembered as number one. They would be in the highest tower , and others would be lower than them. Only the new world is called the tower of happiness. There is nothing dirty there. There is no such dust or air as there is here which would spoil the buildings. There is a lot of praise of heaven. You have to make effort for that. Lakshmi and Narayan are so high. As soon as you see them, your hearts become happy. As you make further progress, many will continue to have visions. There were so many visions given in the beginning. Baba showed so much splendour. You used to be shown wearing crowns etc. You cannot find those things here. Baba was a jewel-merchant. Jewels that used to cost 50,000 in earlier days cannot be bought for even five million today. You are making effort for heaven. There is limitless happiness there. The Father teaches you so much, but there is still the difference of day and night between the children. There is a vast difference between the kings and queens and the maids and servants. Those who study well and teach others cannot remain hidden. They would instantly say: Baba, I am going to go to such-and-such a place to do service. There is a lot of service to be done. You have to change this jungle into a temple. Whether you have eaten a piece of bread or not, just run and do service. This is what businessmen do. When a good customer comes, they run, whether they have finished eating or not. They have an interest in earning money. Here, you receive limitless wealth from the unlimited Father. Even though there is still a little time, there is no guarantee about anything because you might leave your body tomorrow. Destruction has to take place. It is of you that it is said: Death for the prey and happiness for the hunter. There is no limit to your happiness. You should have limitless happiness. You have to benefit many others. At the end, you will reach your karmateet stage. By having remembrance, you will suddenly fly when you become bodiless. This requires a lot of effort. Some do a lot of service. They stand at the museum explaining all day long. They remain engaged in service day and night. Hundreds of museums will open. Hundreds of thousands of people will come and you won’t even have time. You will have the maximum number of shops of these imperishable jewels of knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to imbibe knowledge, first of all make your intellect golden aged. Do not have any attachment to anything except remembrance of the Father.
  2. In order to attain the karmateet stage and return home, practise being bodiless. Examine your behaviour to see that you do not cause sorrow for anyone. Have I become as sweet as the Father?
Blessing: May you be a master ocean of love who turns stone to water with the natural nature of your Brahmin life.
People of the world say that love can turn stone to water. In the same way, the natural nature of you Brahmins is to be master oceans of love. You have such a power of soul-conscious love and God’s love that you can transform different natures. Just as the Ocean of Love with His eternal natureof being the embodiment of love made you children belong to Him, in the same way, you become master oceans of love and also give souls of the world true selfless spiritual love so their nature s will then be transformed.
Slogan: Keep your specialities in your awareness and use them for service and you will continue to fly in the flying stage.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

To stay in the stage of introspection and then to come into extroversion – to practise this, you need to pay personal attention to yourself. When you remain in the introverted stage then the things of extroversion will not disturb you because you would be far away from body consciousness.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 3 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 January 2019

To Read Murli 2 January 2019 :- Click Here
03-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अल्फ और बे, बाप और वर्सा याद रहे तो खुशी का पारा चढ़ा रहेगा, यह बहुत सहज सेकेण्ड की बात है”
प्रश्नः- बेअन्त खुशी किन बच्चों को रहेगी? सदा खुशी का पारा चढ़ा रहे उसका साधन क्या है?
उत्तर:- जो बच्चे अशरीरी बनने का अभ्यास करते, बाप जो सुनाते हैं उसको अच्छी रीति धारण कर दूसरों को कराते हैं, उन्हें ही बेअन्त खुशी रह सकती है। खुशी का पारा सदा चढ़ा रहे इसके लिए अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करते रहो। बहुतों का कल्याण करो। सदा यह स्मृति रहे कि हम अभी सुख और शान्ति की चोटी पर जा रहे हैं तो खुशी रहेगी।

ओम् शान्ति। बापदादा का विचार है कि एक सेकेण्ड में बच्चों से लिखाकर लेवें कि किसकी याद में बैठे हो? इस लिखने में कोई टाइम नहीं लगता है। हरेक एक सेकेण्ड में लिखकर बाबा को दिखा जाये। (सबने लिखकर बापदादा को दिखाया फिर बाबा ने भी लिखा। बाबा ने जो लिखा सो कोई ने नहीं लिखा) बाबा ने लिखा अल्फ और बे, कितना सहज है। अल्फ माना बाबा, बे माना बादशाही। बाबा पढ़ाते हैं और तुम राजाई प्राप्त करते हो। और जास्ती लिखने की दरकार नहीं। तुमने तो लिखने में दो मिनट भी लगाया। अल्फ बे सेकेण्ड की बात है। सन्यासी सिर्फ अल्फ को याद करेंगे। तुमको बादशाही भी याद है। याद की आदत पड़ जाती है। बुद्धि में बैठता है तो खुशी का पारा चढ़ा रहता है। अल्फ का अर्थ कितना बड़ा हाइएस्ट चोटी है। उससे ऊपर और कोई चीज़ ही नहीं। रहने का स्थान भी ऊंचे ते ऊंचा है। सेकेण्ड में मुक्ति-जीवनमुक्ति का अर्थ भी कोई नहीं जानते। उसका भी ज़रूर अर्थ होगा। बच्चा पैदा होता है तो लिखते हैं इतने घण्टे, इतने मिनट, इतने सेकेण्ड हुए। टिक-टिक चलती रहती है। टिक हुई अल्फ बे, बस सेकेण्ड भी नहीं लगता। कहने की भी दरकार नहीं। याद तो है ही। तुम बच्चों की इतनी अच्छी अवस्था होनी चाहिए। परन्तु वह तब होगी जब याद रहेगी। यहाँ बैठे हो तो बाप और राजाई याद रहनी चाहिए। बुद्धि देखती है, जिसको दिव्य दृष्टि कहा जाता है। आत्मा भी देखती है। बाप को आत्मा ही याद करती होगी। तुम भी बाप को याद करो तो राजाई इक्ट्ठी याद आ जायेगी। कितनी देरी लगती है। यहाँ भी याद में बैठेंगे तो बहुत गद-गद हो जायेंगे। बाबा भी इस खुशी में बैठे हैं। बाप को यहाँ की कोई बात याद ही नहीं। बाबा याद करते हैं वहाँ की बातें। बाबा और राजाई जैसेकि दर पर खड़े हैं। बाप कहते हैं तुम बच्चों के लिए राजाई ले आया हूँ। तुम सिर्फ याद नहीं करते इसलिए खुशी नहीं ठहरती। तुम उठते बैठते अपने को आत्मा समझो और मुझ बाप और वर्से को याद करो। कितना ऊंचा स्थान है जहाँ तुम रहते हो। दुनिया थोड़ेही जानती है। मनुष्य मुक्ति में जाने के लिए कितना माथा मारते हैं। अभी मुक्तिधाम है कहाँ? तुम समझते हो आत्मा तो राकेट है। वो लोग चांद तक जाते हैं फिर है पोलार। तुम तो पोलार से भी बहुत ऊंच जाते हो। चन्द्रमा तो इस दुनिया का है। कहा जाता है सूर्य चांद से परे, आवाज से भी परे। इस शरीर को छोड़ देना है। तुम आते हो स्वीट साइलेन्स होम से। आने जाने में टाइम नहीं लगता है। अपना घर है। यहाँ तो कहाँ भी जाओ तो टाइम लगता है। आत्मा शरीर छोड़ती है तो सेकेण्ड में कहाँ का कहाँ चली जाती है। एक शरीर छोड़ दूसरे में जाकर प्रवेश करती है। तो अपने को आत्मा समझना है। तुम बहुत ऊंच चोटी पर जाते हो। मनुष्य शान्ति चाहते हैं। शान्ति की हाइएस्ट चोटी है निराकारी दुनिया और सुख की भी हाइएस्ट चोटी है स्वर्ग। ऊंचे ते ऊंच को टावर कहा जाता है। तुम्हारा घर भी कितना ऊंचा है। दुनिया वाले कभी इन बातों पर ख्याल नहीं करते। उनको यह बातें समझाने वाला कोई है नहीं। उसको कहा जाता है शान्ति का टावर। मनुष्य तो कहते रहते हैं विश्व में शान्ति हो। परन्तु इसका अर्थ नहीं जानते कि शान्ति कहाँ है। यह लक्ष्मी-नारायण सुख के टावर में हैं वहाँ कोई लोभ, लालच नहीं। वहाँ का खान पान, बोलना बड़ा रॉयल होता है और फिर सुख भी हाइएस्ट। उन्हों की महिमा देखो कितनी है क्योंकि उन्होंने बहुत मेहनत की है। यह एक नहीं है, सारी माला बनी हुई है। वास्तव में 9 रत्न गाये हुए हैं। ज़रूर उन्होंने गुप्त मेहनत की होगी। बाप और वर्से की याद रहे तब ही विकर्म विनाश होंगे। परन्तु माया याद करने नहीं देती। कभी काम, कभी क्रोध ..बहुत तूफानों में लाती है। अपनी नब्ज देखनी है। नारद को भी कहा शक्ल देखो। तो वह अवस्था अभी है नहीं, बनानी है। बाबा एम आबजेक्ट ज़रूर बतायेंगे। अन्दर में पुरूषार्थ करते रहो। आगे चलकर वह अवस्था तुम्हारी होगी। अशरीरी रहने की प्रैक्टिस करनी है। अब जाना है वापिस। बाबा ने कहा है मुझे याद करो। याद नहीं करेंगे तो सजायें भी बहुत खानी पड़ेगी और फिर पद भी कम। यह हैं बहुत सूक्ष्म बातें। वो लोग साइंस में कितना डीप जाते हैं। क्या-क्या बनाते रहते हैं। वह भी संस्कार तो चाहिए ना, जो फिर वहाँ भी जाकर यह चीज़ें बनायेंगे। सिर्फ यह दुनिया बदली होनी है। यहाँ के संस्कार अनुसार ही जाकर जन्म लेंगे। जैसे लड़ाई वालों की बुद्धि में लड़ाई के संस्कार रहते हैं, तो वह संस्कार ले जाते हैं। लड़ने बिगर रह नहीं सकते। आफीसर के पास क्यू लगी रहती है। भरती करते समय जांच करते हैं, कोई बीमारी तो नहीं है। ऑख – कान आदि सब ठीक हैं। लड़ाई में तो सब ठीक चाहिए। यहाँ भी देखा जाता है कि कौन-कौन विजय माला का दाना बनेंगे। तुम्हें पुरूषार्थ कर कर्मातीत अवस्था को पाना है। आत्मा अशरीरी आई है, अशरीरी बन जाना है। वहाँ शरीर का कोई सम्बन्ध नहीं। अब अशरीरी बनना है। आत्मायें वहाँ से आती हैं, आकर शरीर में प्रवेश करती हैं। ढेर की ढेर आत्मायें आती रहती हैं। सबको अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। जो नई पवित्र आत्मायें आती हैं, उनको ज़रूर पहले सुख मिलना है इसलिए उनकी महिमा होती है। बड़ा झाड़ है ना। कितने नामीग्रामी बड़े आदमी हैं। अपनी-अपनी ताकत अनुसार बहुत सुख में होंगे। तो अब बच्चों को मेहनत करनी है, कर्मातीत अवस्था में पवित्र होकर जाना है। अपनी चाल को देखना है किसको दु:ख तो नहीं देते हैं! बाप कितना मीठा है। मोस्ट बिलवेड है ना। तो बच्चों को भी बनना है। यह तो तुम बच्चे जानते हो कि बाप यहाँ है। मनुष्यों को थोड़ेही यह मालूम है कि बाप यहाँ स्थापना कर रहे हैं फिर भी जन्म-जन्मान्तर उनको याद करते रहते हैं। शिव के मन्दिर में जाकर कितनी पूजा करते हैं। कितनी ऊंची चोटी पर बद्रीनाथ आदि के मन्दिर में जाते हैं। कितने मेले लगते हैं क्योंकि बहुत मीठा है ना। गाते भी हैं ऊंचे ते ऊंचा भगवान। बुद्धि में निराकार ही याद आयेगा। निराकार तो है ही। फिर है ब्रह्मा-विष्णु-शंकर। उनको भगवान नहीं कहेंगे।

अभी तुम बच्चे समझते हो कि हम ही सतोप्रधान देवता थे, जब हम विश्व के मालिक थे तो इतने ढेर मनुष्य थे ही नहीं। सिर्फ भारत में ही इनका राज्य होगा। बाकी सब चले जायेंगे-शान्तिधाम में। यह सब तुम देखते रहेंगे, इसमें बड़ी विशालबुद्धि चाहिए। वहाँ तुमको पहाड़ी आदि पर जाने की दरकार नहीं। वहाँ कोई भी एक्सीडेंट आदि नहीं होते। वह है ही वन्डर ऑफ स्वर्ग। जब वह स्वर्ग का वन्डर नहीं है तो माया के वन्डर्स बनते हैं। यह बातें दुनिया वाले नहीं समझ सकते। अब तुम स्वर्ग में जाने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। वह है सुख का टावर। यह है दु:ख का टावर। लड़ाई में कितने मनुष्य रोज़ मरते हैं फिर जन्मते भी होंगे। गाया जाता है ईश्वर का अन्त नहीं पाया जाता। अब ईश्वर तो है बिन्दी, उनका अन्त क्या पायेंगे। बाप कहते हैं इस रचना के आदि मध्य अन्त को कोई नहीं जानते। साधू सन्त कोई रचता और रचना का अन्त नहीं पा सकते हैं। तुमको बाप पढ़ाते हैं, इसको पढ़ाई कहा जाता है। सृष्टि चक्र के राज़ को तुम बच्चे ही जानते जा रहे हो। वह तो कहते हैं हम नहीं जानते या तो लाखों वर्ष कह देते हैं।

अब बाप ने समझाया है यह जो कुछ तुम यहाँ देखते हो – ये वहाँ नहीं रहेगा। स्वर्ग है टॉवर आफ सुख। यहाँ है दु:ख ही दु:ख। अचानक मौत ऐसा आयेगा जो सब खत्म हो जायेंगे। मौत देखना मासी का घर नहीं है, इनको कहा जाता है दु:ख की चोटी। वह है सुख की चोटी। बस तीसरा कोई अक्षर नहीं। तुम्हारे में भी बहुत हैं जो सुनते हैं परन्तु धारणा नहीं होती है। धारणा तब हो जब बुद्धि गोल्डन एज हो। धारणा नहीं होती तो खुशी भी नहीं रहती। एकदम हाइएस्ट पढ़ाई वाले भी हैं तो लोएस्ट भी हैं। पढ़ाई में फ़र्क तो है ना। उन्हों को कितना भी बेहद का बाप समझाये परन्तु कभी भी नहीं समझेंगे। याद बिगर तो तुम पवित्र कभी नहीं बन सकेंगे। बाप ही चुम्बक है। वह एकदम हाइएस्ट पावर वाला है। उन पर कभी कट चढ़ नहीं सकती, बाकी सब पर कट चढ़ी हुई है, उनको उतार फिर सतोप्रधान बनना है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो और कोई में ममत्व न रहे। साहूकारों को तो सारा दिन धन दौलत ही सामने आता रहेगा। गरीबों को तो कुछ है नहीं परन्तु गरीब भी कुछ समझदार हों जो धारणा कर सकें। याद बिगर किचड़ा कैसे निकलेगा। हम पवित्र कैसे बनेंगे। तुम यहाँ आये हो ऊंच चोटी पर जाने। जानते हो बाप की शिक्षा पर चलने से हम ऊंच सुख की चोटी पर जायेंगे। इसमें मेहनत है। बाप आते हैं टावर पर ले जाने। तो श्रीमत पर चलना पड़े। पहले नम्बर में इन लक्ष्मी-नारायण का ही गायन है। वह एकदम टावर में होंगे। फिर कुछ न कुछ कम। नई दुनिया को ही टावर आफ सुख कहा जाता है। वहाँ कोई मैली चीज़ नहीं होती। ऐसी मिट्टी नहीं, ऐसी हवायें वहाँ लगती नहीं जो मकानों को खराब करें। स्वर्ग की तो बहुत महिमा है। उसके लिए पुरूषार्थ करना है। लक्ष्मी-नारायण कितने ऊंच हैं, उनको देखने से ही दिल खुश हो जाती है। आगे चलकर बहुतों को साक्षात्कार होते रहेंगे। शुरू में कितने साक्षात्कार होते थे। कितना बाबा ने जलवा दिखाया। ताज आदि पहनकर आते थे। वह चीज़ें तो यहाँ मिल न सकें। बाबा तो जौहरी है। आगे जो 50 हज़ार में मणी लेते थे वह अब 50 लाख में भी न मिले। तुम स्वर्ग के लिए पुरूषार्थ कर रहे हो। वहाँ अथाह सुख है। बाप इतना पढ़ाते हैं परन्तु बच्चों में रात दिन का फ़र्क पड़ जाता है। कहाँ राजा रानी कहाँ दास दासियाँ। जो अच्छी रीति पढ़ते और पढ़ाते हैं वह छिपे नहीं रह सकते हैं। झट कहेंगे बाबा हम फलानी जगह जाकर सर्विस करते हैं। सर्विस तो ढेर पड़ी है। तुम्हें इस जंगल को मंगल (मन्दिर) बनाना है। रोटी टुक्कड़ खाया न खाया, यह भागे सर्विस पर। धन्धे वाले लोग ऐसे करते हैं। अच्छा ग्राहक आ जाता है तो फिर खाया न खाया भागे। धन कमाने का शौक रहता है। यह तो बेहद के बाप से अथाह धन मिलता है। भल थोड़ा टाइम पड़ा है परन्तु कल शरीर छूट जाए, कोई भरोसा नहीं है। विनाश तो होना ही है। तुम्हारे लिए तो मिरूआ मौत मलूका शिकार। तुम्हारी खुशी का पारावार नहीं। तुमको बेअन्त खुशी होनी चाहिए। तुमको बहुतों का कल्याण करना है। पिछाड़ी को कर्मातीत अवस्था होनी है। तुम याद करते-करते अशरीरी बन जायेंगे तब अनायास ही उड़ेंगे। यह बड़ी मेहनत है। कोई तो बहुत सर्विस करते हैं। सारा दिन म्युजियम समझाने पर खड़े हैं। दिन रात सर्विस में तत्पर हैं। सैकड़ों म्युजियम खुल जायेंगे। लाखों लोग तुम्हारे पास आयेंगे, तुमको फुर्सत नहीं मिलेगी। सबसे जास्ती तुम्हारे दुकान निकलेंगे – इन अविनाशी ज्ञान रत्नों के। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान की धारणा करने के लिए पहले अपनी बुद्धि गोल्डन एज की बनाओ। बाप की याद के सिवाए और किसी भी चीज़ में ममत्व न रहे।

2) कर्मातीत अवस्था को प्राप्त कर घर जाने के लिए अशरीरी बनने का अभ्यास करो। अपनी चाल भी देखो कि किसको दु:ख तो नहीं देते हैं। बाप समान मीठे बने हैं।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन की नेचरल नेचर द्वारा पत्थर को भी पानी बनाने वाले मास्टर प्रेम के सागर भव
जैसे दुनिया वाले कहते हैं कि प्यार पत्थर को भी पानी कर देता है, ऐसे आप ब्राह्मणों की नेचुरल नेचर मास्टर प्रेम का सागर है। आपके पास आत्मिक प्यार, परमात्म प्यार की ऐसी शक्ति है, जिससे भिन्न-भिन्न नेचर को परिवर्तन कर सकते हो। जैसे प्यार के सागर ने अपने प्यार स्वरूप की अनादि नेचर से आप बच्चों को अपना बना लिया। ऐसे आप भी मास्टर प्यार के सागर बन विश्व की आत्माओ को सच्चा, नि:स्वार्थ आत्मिक प्यार दो तो उनकी नेचर परिवर्तन हो जायेगी।
स्लोगन:- अपनी विशेषताओं को स्मृति में रख उन्हें सेवा में लगाओ तो उड़ती कला में उड़ते रहेंगे।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

अन्तर्मुख स्थिति में रहकर फिर बाहरमुखता में आना, इस अभ्यास के लिए अपने ऊपर व्यक्तिगत अटेन्शन रखने की आवश्यकता है। जब आप अन्तर्मुख स्थिति में रहेंगे तो बाहरमुखता की बातें डिस्टर्ब नहीं करेंगी क्योंकि देह-अभिमान से गैर हाज़िर रहेंगे।

TODAY MURLI 3 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 January 2018 :- Click Here

03/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, continue to connect your intellects in yoga with the Father and you will complete the long journey with ease.
Question: What one thing do you have to renounce in order to sacrifice yourself to the Father?
Answer: Body consciousness. As soon as you become body conscious, you die and become adulterated. This is why some children’s hearts shrink at the thought of surrendering themselves to Baba. Since you have sacrificed yourself, there should only be remembrance of that One. You have to sacrifice yourself to Him and only follow His shrimat.
Song: O traveller of the night, do not become weary! The destination of dawn is not far off.

Om shanti. God speaks. God is teaching His children Raja Yoga and knowledge. This is not a human being. It is written in the Gita that God Krishna speaks. Now, it is not possible for Shri Krishna to liberate the whole world from Maya. Only the Father can come and explain to the children. Those who have made the Father belong to them are sitting face to face with the Father. Krishna cannot be called the Father. The Father is called the Supreme Soul, the One who resides in the supreme abode. The soul remembers God through this body. The Father sits here and explains: I am your Father, the One who resides in the supreme abode. I am the Father of all souls. I came a cycle ago and taught you children to connect your intellects in yoga to Me, your Supreme Father. He speaks to souls. Until a soul enters a body he cannot see with eyes or listen with ears. A body without a soul is non-living; the soul is the living being. When there is a baby in a womb, it is unable to move until a soul enters it. So, the Father speaks to such living souls. He says: I have taken this body on loan. I come and take all souls back. I teach Raja Yoga to the souls who are in front of Me. The whole world will not study Raja Yoga; only those from the previous cycle are studying Raja Yoga. Baba now explains: Continue to connect your intellects in yoga to the Father until the end; don’t stop this. A husband and wife do not know each other before getting married. However, after their engagement, some live together for 60 or 70 years and they only remember the body throughout their whole lives. The wife would say, “This is my husband”, and the husband would say, “This is my wife”. You are now engaged to the Incorporeal. It is the incorporeal Father who comes and arranges this engagement. He says: I betroth you children to Me, just as I did in the previous cycle. I, the Incorporeal, am the Seed of the human world tree. Everyone says that God, the Father, created this human world. Your Father always resides in the supreme abode. He now says: Remember Me. Because the journey is a long one, many children become tired and unable to keep their intellects fully occupied in yoga. They become tired because Maya makes them stumble around. Some even let go of Baba’s hand and die. The same thing happened a cycle ago. Here, for as long as you live, you must continue to stay in remembrance. When a man dies, his widow keeps remembering him. This Father and Husband will not leave you in that way. He says: I will take you brides back with Me. However, this does take time, so don’t become tired. There is a huge burden of sin on your heads, and it will only be removed with yoga. Your yoga should be such that, at the end, you remember no one but the Father, the Bridegroom. If you remember anyone else, you become adulterated and will have to experience punishment for that sin. This Father says: O travellers to the supreme abode, do not become weary! You understand that I am establishing the original eternal deity religion through Brahma and that I inspire the destruction of all religions through Shankar. They now continue to hold conferences for all religions to come together; they try to find ways to become united and live together in peace. It is impossible for that many religions to have one direction. It is through one direction that one religion is established. If all the religions were to become full of all the divine virtues and completely viceless, they could live together like milk and honey. In the kingdom of Rama, they are all like milk and honey. Even the animals don’t fight. Here, there is quarrelling in every home. They fight when they don’t belong to the Lord and Master. They do not know their Mother and Father. They even sing: You are the Mother and Father and we are Your children. Through Your mercy we receive the treasures of happiness. Because there are no treasures of happiness now, they say: We receive no mercy from the Mother and Father. They don’t know the Father, and so how could the Father have mercy on them? Only when they follow the Teacher’s directions can there be mercy. They say that God is omnipresent. In that case, who would give mercy and who would receive mercy? Both are needed – the One who gives mercy and those who need mercy. Students first have to come and study with the Teacher. One first has to have this mercy on oneself. Then one has to follow the Teacher’s directions. Someone is needed to inspire you to make effort. That One is the Father, the Teacher and also the Satguru. He is called the Supreme Father, the Supreme Teacher and the Supreme Satguru. The Father says: Every cycle, I carry out this task of establishment and purify the impure world. Baba is the World Almighty Authority. Therefore, the kingdom of the World Authority would be ruled constantly. There is the one kingdom of Lakshmi and Narayan over the whole world. They too have almighty authority. No one fights or quarrels there; Maya doesn’t exist there; it is the golden age and the silver age. Both the golden and silver ages are called heaven, Paradise. Everyone sings: Remember Radhe and Krishna and go to Vrindavan, heaven. However, none of them go; they simply remember them. Now, it is the kingdom of Maya and everyone is following the dictates of Ravan. Important people appear to be very good and they receive grand titles. If they show a little bit of physical courage or perform a good deed, they are given a title. Some receive the title of Doctor of Philosophy. They continue to give titles of something or other. You are now Brahmins. You are definitely serving Bharat. You are establishing the divine kingdom. You receive your titles after establishment has been accomplished, titles such as king or queen of the sun dynasty, king or queen of the moon dynasty. Then your kingdom begins. There, no one receives a title. There is nothing there that causes sorrow, so no one would have to remove sorrow or show courage and receive a title. The customs and systems that exist here cannot exist there, nor can Lakshmi and Narayan come into the impure world. At this time, there are no pure deities. This is the impure, devilish world. People are confused by the many different directions and opinions. Here, there is only one elevated direction through which the one kingdom is being established. However, while moving along, some are pricked by Maya’s thorns and those souls go lame. This is why the Father says: Constantly follow shrimat. By following the dictates of your own mind, you become deceived. By following the directions of the true Father, you earn a true income. By following your own directions, the boat sinks. Because of not following shrimat, many mahavirs became degraded. You children now have to attain salvation. Those who don’t follow shrimat and become degraded will have to repent a great deal. Shiv Baba will then sit in this body in the role of Dharmaraj and say: I explained so much to you through the body of this Brahma. I taught you and made so much effort on you. Some even wrote letters of their faith and said: I will follow shrimat, but they did not follow it. You must never stop following shrimat, no matter what happens. If you tell the Father about everything, you will be cautioned. It is only when you forget the Father that thorns prick you. You children then run miles away from the Father who grants salvation. They sing: I will sacrifice myself, I will surrender. However, to whom would they do this? It is not written: I surrender to a sannyasis. Or: I surrender to Brahma, Vishnu or Shankar. Or: I surrender to Krishna. You surrender yourselves to the Supreme Father, the Supreme Soul, not to a human being. You receive your inheritance from the Father. The Father also surrenders Himself to you children. That unlimited Father says: I have come here to surrender to you. However, some children’s hearts shrink at the thought of surrendering themselves to the Father. If you come into body consciousness, you die and become adulterated. There should be remembrance of that One. Surrender yourself to Him. The play is about to end. We now have to return home. All your friends and relatives etc. are to be buried in the graveyard, and so what is the point of remembering them? This requires a lot of practice. It is said: If a soul climbs up, he tastes nectar, but when a soul falls heavily he loses his status. This doesn’t mean that he won’t go to heaven, but there is a difference between being a king or queen and being a subject. Look at the natives here and at a minister; there is a difference. Therefore, make full effort. If someone falls, he becomes absolutely impure. If a soul is not able to follow shrimat, Maya gets hold of that soul by the nose and throws him into the gutter. To oppose BapDada after belonging to Him means to become a traitor. This is why the Father says: Be cautious at every step. Maya’s time is now coming to an end, so she makes many of you fall. Therefore, children, remain very alert. The road is a little long but the status is very great. If you become a traitor, there is severe punishment. When Dharamraj Baba punishes souls, they cry out in distress. That then becomes fixed for every cycle. Maya is very powerful. If there is even a little disregard for the Father, you die. It is said that someone who defames the Satguru cannot reach the destination. Some perform wrong actions under the influence of lust or anger and cause defamation of the Father, and so they experience punishment. Since there is a multimillion-fold income in every step, there is also a multimillion-fold loss. If your account is increased by doing service, then, by performing wrong, sinful actions, it also goes into deficit. Baba has the whole accounts. Now that Baba is teaching you personally, it is as though all of the accounts are on the palm of His hand. The Father says that He wants no child to disregard Shiv Baba, because a lot of sin is created by doing that. You have to give your bones in serving the yagya. There is the example of Dadichi Rishi. That too creates a status. Otherwise, there are many different levels of status among the subjects. Maids and servants are required for the subjects too. There will be no sorrow there, but the status is numberwise. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not become weary of the pilgrimage of remembrance. Practise having true remembrance so that, at the end, you remember no one but the Father.
  2. Follow the directions of the true Father and earn a true income. Don’t follow the dictates of your own mind. Do not cause defamation of the Satguru. Do not perform wrong actions under the influence of lust or anger.
Blessing: May you be an angel who resides in the subtle region and who remains in an constantly elevated stage by considering yourself to be an incarnation that has incarnated.
Just as the Father has incarnated, in the same way, you elevated souls have come down here from up above and incarnate in order to give the message. You are residents of the subtle region and the incorporeal world; the feet of your intellects cannot set foot on the earth, that is, on the mud of body consciousness. This is why the feet of angels are always shown in the sky. So, all of you are incarnations, who reside in the sky (subtle region), who remain in a constantly elevated stage. Continue to fly in the flying stage with this awareness.
Slogan: Only the children who make intense effort for self-transformation can receive congratulations of the blessings from the Father.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 3 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 January 2017

To Read Murli 2 January 2018 :- Click Here

03/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बुद्धि का योग बाप से लगाते रहो तो लम्बी मुसाफिरी को सहज ही पार कर लेंगे”
प्रश्नः- बाप पर कुर्बान जाने के लिए किस बात का त्याग जरूरी है?
उत्तर:- देह-अभिमान का। देह-अभिमान आया तो मरा, व्यभिचारी हुआ इसलिए कुर्बान होने में बच्चों का हृदय विदीरण होता है। जब कुर्बान हो गये तो उस एक की ही याद रहे। उन पर ही बलिहार जाना है, उनकी ही श्रीमत पर चलना है।
गीत:- रात के राही….

ओम् शान्ति। भगवानुवाच – भगवान अपने बच्चों को राजयोग और ज्ञान सिखला रहे हैं। यह कोई मनुष्य नहीं। गीता में लिखा हुआ है कृष्ण भगवानुवाच। अब श्रीकृष्ण सारी दुनिया को माया से लिबरेट करे, यह तो सम्भव नहीं है। बाप ही आकर बच्चों प्रति समझाते हैं। जिन्होने बाप को अपना बनाया है और बाप के सम्मुख बैठे हैं। कृष्ण को बाप नहीं कहा जा सकता। बाप को कहा जाता है परमपिता, परमधाम में रहने वाला। आत्मा इस शरीर द्वारा भगवान को याद करती है। बाप बैठ समझाते हैं कि मैं तुम्हारा बाप परमधाम में रहने वाला हूँ। मैं सभी आत्माओं का बाप हूँ। मैंने ही कल्प पहले भी बच्चों को आकर सिखाया था कि बुद्धि का योग मुझ परमपिता से लगाओ। आत्माओं से बात की जाती है। आत्मा जब तक शरीर में न आये तो आंखों द्वारा देख न सके। कानों द्वारा सुन न सके। आत्मा बिगर शरीर जड़ हो जाता है। आत्मा चैतन्य है। गर्भ में बच्चा है, परन्तु जब तक उसमें आत्मा ने प्रवेश नहीं किया है तब तक चुरपुर नहीं होती। तो ऐसी चैतन्य आत्माओं से बाप बात करते हैं। कहते हैं मैंने यह शरीर लोन पर लिया है। मैं आकर सभी आत्माओं को वापिस ले जाता हूँ। फिर जो आत्मायें सम्मुख होती हैं उन्हों को राजयोग सिखाता हूँ। राजयोग सारी दुनिया नहीं सीखेगी। कल्प पहले वाले ही राजयोग सीख रहे हैं।

अब बाबा समझाते हैं बुद्धि का योग बाप के साथ अन्त तक लगाते रहना है, इसमें अटकना नहीं है। स्त्री पुरुष होते हैं तो पहले एक दो को जानते भी नहीं हैं। फिर जब दोनों की सगाई होती है फिर कोई 60-70 वर्ष भी इकट्ठे रहते हैं, तो सारी जीवन जिस्म, जिस्म को याद करते रहते हैं। वह कहेगी यह मेरा पति है, वह कहेगा यह मेरी पत्नि है। अब तुम्हारी सगाई हुई है निराकार से। निराकार बाप ने ही आकर सगाई कराई है। कहते हैं कल्प पहले मुआफिक तुम बच्चों की अपने साथ सगाई कराता हूँ। मैं निराकार इस मनुष्य सृष्टि का बीजरूप हूँ। सभी कहेंगे यह मनुष्य सृष्टि गॉड फादर ने रची है। तो तुम्हारा बाप सदैव परमधाम में रहते हैं। अभी कहते हैं मुझे याद करो। मुसाफिरी लम्बी होने कारण बहुत बच्चे थक पड़ते हैं। बुद्धि का योग पूरा लगा नहीं सकते। माया की बहुत ठोकरें खाने से थक पड़ते हैं, मर भी पड़ते हैं। फिर हाथ छोड़ देते हैं। कल्प पहले भी ऐसे ही हुआ था। यहाँ तो जब तक जीना है, तब तक याद करना है। स्त्री का पति मर जाता है तो भी याद करती रहती है। यह बाप वा पति ऐसे छोड़कर जाने वाला तो नहीं है। कहते हैं मैं तुम सजनियों को साथ ले जाऊंगा। परन्तु इसमें समय लगता है, थकना नहीं है। पापों का बोझा सिर पर बहुत है, वो योग में रहने से ही उतरेगा। योग ऐसा हो जो अन्त में बाप वा साजन के सिवाए और कोई याद न पड़े। अगर और कुछ याद पड़ा तो व्यभिचारी हो गया, फिर पापों का दण्ड भोगना पड़े इसलिए बाप कहते हैं परमधाम के राही थक मत जाना।

तुम जानते हो मैं ब्रह्मा द्वारा आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना कर रहा हूँ और शंकर द्वारा सभी धर्मों का विनाश कराता हूँ। अभी कान्फ्रेन्स करते रहते हैं तो सभी धर्म मिलकर एक कैसे हो जाएं, सभी शान्त में कैसे रहें, उसका रास्ता निकालें। अब अनेक धर्मों की एक मत तो हो नहीं सकती। एक मत से तो एक धर्म की स्थापना होती है। वह सभी धर्म सर्वगुण सम्पन्न, सम्पूर्ण निर्विकारी हो तब आपस में क्षीरखण्ड हो सकते हैं। रामराज्य में सभी क्षीरखण्ड थे। जानवर भी लड़ते नहीं थे। यहाँ तो घर-घर में झगड़ा है। लड़ते तब हैं जब उनका कोई धनी-धोणी नहीं है। अपने मात-पिता को नहीं जानते हैं। गाते भी हैं तुम मात-पिता हम बालक तेरे.. तुम्हारी कृपा से सुख घनेरे.. सुख घनेरे तो अभी हैं नहीं। तो कहेंगे मात-पिता की कृपा नहीं है। बाप को जानते ही नहीं, तो बाप कृपा कैसे करे? फिर टीचर के डायरेक्शन पर चलें तब कृपा हो। वह तो कह देते सर्वव्यापी है, तो कौन कृपा करे और किस पर करे? कृपा लेने वाला और करने वाला दोनों चाहिए। स्टूडेण्ट पहले तो आकर टीचर के पास पढ़े। यह कृपा अपने ऊपर करे। फिर टीचर के डायरेक्शन पर चले। पुरुषार्थ कराने वाला भी चाहिए। यह बाप भी है, टीचर भी है तो सतगुरू भी है, उनको परमपिता, परमशिक्षक, परम सतगुरू भी कहा जाता है। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प यह स्थापना का कार्य कराता हूँ। पतित दुनिया को पावन दुनिया बनाता हूँ। वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी है ना। तो वर्ल्ड अथॉरिटी का राज्य कायम करते हैं। सारी सृष्टि पर एक ही लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। उन्हों की आलमाइटी अथॉरिटी थी। वहाँ कोई लड़ाई झगड़ा कर न सके। वहाँ माया है ही नहीं। है ही गोल्डन एज, सिलवर एज। सतयुग त्रेता दोनों को स्वर्ग अथवा वैकुण्ठ कहेंगे। सभी गाते भी हैं चलो बिन्द्रावन भजो राधे गोबिन्द.. जाते तो कोई हैं नहीं। सिर्फ याद जरूर करते हैं। अब तो माया का राज्य है। सभी रावण की मत पर हैं। देखने में तो बड़े-बड़े मनुष्य अच्छे आते हैं। बड़े-बड़े टाइटिल मिलते हैं। थोड़ी जिस्मानी हिम्मत दिखाते हैं वा अच्छा कर्म करते हैं तो टाइटिल मिलते हैं। कोई को डाक्टर ऑफ फिलासाफी, कोई को क्या.. ऐसे-ऐसे टाइटिल देते रहते हैं। अभी तुम तो हो ब्राह्मण। बरोबर भारत की सर्विस में हो। तुम दैवी राजधानी स्थापन कर रहे हो। जब स्थापना हो जायेगी तब तुमको टाइटिल्स मिलेंगे। सूर्यवंशी राजा रानी, चन्द्रवंशी राजा रानी… फिर तुम्हारा राज्य चलेगा। वहाँ कोई को टाइटिल नहीं मिलता। वहाँ दु:ख की कोई बात ही नहीं, जो कोई का दु:ख दूर करे वा बहादुरी दिखाये.. जो टाइटिल मिले। जो रसम-रिवाज यहाँ होती है वह वहाँ नहीं होती। न लक्ष्मी-नारायण इस पतित दुनिया में आ सकते हैं, इस समय कोई भी पावन देवता नहीं है। यह है ही पतित आसुरी दुनिया। अनेक मत-मतान्तर में मूँझ गये हैं। यहाँ तो एक ही श्रीमत है, जिससे राजधानी स्थापन हो रही है। हाँ चलते-चलते कोई को माया का कांटा लग जाता है तो लंगड़ाते रहते हैं इसलिए बाप कहते हैं सदैव श्रीमत पर चलो। अपनी मनमत पर चलने से धोखा खायेंगे। सच्ची कमाई होती है सच्चे बाप की मत पर चलने से। अपनी मत से बेड़ा गर्क हो जायेगा। कितने महावीर श्रीमत पर न चलने कारण अधोगति को पहुँच गये।

अभी तुम बच्चों को सद्गति को पाना है। श्रीमत पर न चला और दुर्गति को पाया तो फिर बहुत पश्चाताप करना पड़ेगा। फिर धर्मराजपुरी में शिवबाबा इस तन में बैठ समझायेंगे कि मैंने तुमको इस ब्रह्मा तन द्वारा इतना समझाया, पढ़ाया, कितनी मेहनत की। निश्चय पत्र लिखे कि श्रीमत पर चलेंगे। परन्तु नहीं चले। श्रीमत को कभी नहीं छोड़ना चाहिए। कुछ भी हो, बाप को बताने से सावधानी मिलती रहेगी। कांटा लगता ही तब है जब बाप को भूलते हैं। बच्चे सद्गति करने वाले बाप से भी 3 कोस दूर भागते हैं। गाते भी हैं वारी जाऊं, कुर्बान जाऊं। परन्तु किस पर? ऐसे तो नहीं लिखा है – सन्यासी पर वारी जाऊं! वा ब्रह्मा विष्णु शंकर पर वारी जाऊं! वा कृष्ण पर वारी जाऊं! कुर्बान जाना है परमपिता परमात्मा पर। कोई मनुष्य पर नहीं। वर्सा मिलता है बाप से। बाप बच्चों पर कुर्बान होता है। यह बेहद का बाप भी कहते हैं, मैं कुर्बान होने आया हूँ। परन्तु बाप पर कुर्बान होने में बच्चों का हृदय कितना विदीरण होता है। देह-अभिमान में आया तो मरा, व्यभिचारी हुआ। याद उस एक की रहनी चाहिए। उन पर बलिहार जाना चाहिए। अब नाटक पूरा होता है। अब हमको वापिस जाना है। बाकी मित्र-सम्बन्धी आदि तो सब कब्रदाखिल होने हैं। उनको क्या याद करेंगे, इसमें अभ्यास बहुत चाहिए। गाया भी हुआ है चढ़े तो चाखे अमृतरस,… जोर से गिरते हैं तो पद गँवा देते हैं। ऐसे नहीं स्वर्ग में नहीं आयेंगे। परन्तु राजा रानी बनने और प्रजा बनने में फ़र्क तो है ना। यहाँ का भील भी देखो, मिनिस्टर भी देखो। फ़र्क है ना इसलिए पुरुषार्थ पूरा करना है। कोई गिरते हैं तो एकदम पतित बन जाते हैं। श्रीमत पर चल नहीं पाते तो माया नाक से पकड़ एकदम गटर में डाल देती है। बापदादा का बनकर फिर ट्रेटर बनना, गोया उनका सामना करना है इसलिए बाप कहते हैं कदम-कदम सम्भाल कर चलो। अब माया का अन्त होने वाला है, तो माया बहुतों को गिराती है, इसलिए बच्चों को खबरदार रहना है। रास्ता जरा लम्बा है, पद भी बहुत भारी है। अगर ट्रेटर बना तो सजा भी भारी है। जब धर्मराज बाबा सजा देते हैं तो बहुत रड़ियां मारते हैं। जो कल्प-कल्प के लिए कायम हो जाती हैं। माया बड़ी प्रबल है। थोड़ा सा भी बाप का डिसरिगार्ड किया तो मरा। गाया हुआ है सतगुरू का निंदक ठौर न पाये। काम वश, क्रोध वश उल्टे काम करते हैं। गोया बाप की निंदा कराते हैं और दण्ड के निमित्त बन जाते हैं। अगर कदम-कदम पर पदमों की कमाई है तो पदमों का घाटा भी है। अगर सर्विस से जमा होता है तो उल्टे विकर्म से ना भी होती है। बाबा के पास सारा हिसाब रहता है। अब सम्मुख पढ़ा रहे हैं तो सारा हिसाब जैसे उनकी हथेली पर है। बाप तो कहेंगे शल कोई बच्चा शिवबाबा का डिसरिगार्ड न करे, बहुत विकर्म बनते हैं। यज्ञ सेवा में हड्डी-हड्डी देनी पड़ती है। दधीचि ऋषि का मिसाल है ना! उसका भी पद बनता है। नहीं तो प्रजा में भी भिन्न-भिन्न पद हैं। प्रजा में भी नौकर चाकर सभी चाहिए। भल वहाँ दु:ख नहीं होगा परन्तु नम्बरवार पद तो हैं ही। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) याद की यात्रा में थकना नहीं है। ऐसी सच्ची याद का अभ्यास करना है जो अन्त समय में बाप के सिवाए कोई भी याद न आये।

2) सच्चे बाप की मत पर चल सच्ची कमाई करनी है। अपनी मनमत पर नहीं चलना है। सद्गुरू की निंदा कभी भी नहीं करानी है। काम, क्रोध के वश कोई उल्टा काम नहीं करना है।

वरदान:- स्वयं को अवतरित हुए अवतार समझ सदा ऊंची स्थिति में रहने वाले अर्श निवासी फरिश्ता भव 
जैसे बाप अवतरित हुए हैं ऐसे आप श्रेष्ठ आत्मायें भी ऊपर से नीचे मैसेज देने के लिए अवतरित हुए हो, रहने वाले सूक्ष्मवतन वा मूलवतन के हो। देह-भान रूपी मिट्टी अथवा पृथ्वी पर आपके बुद्धि रूपी पांव नहीं पड़ सकते इसलिए फरिश्तों के पांव सदा फर्श से ऊपर दिखाते हैं। तो आप सब ऊंची स्थिति में स्थित रहने वाले अर्श निवासी अवतरित हुए अवतार हो, इसी स्मृति से उड़ती कला में उड़ते रहो।
स्लोगन:- स्व-परिवर्तन के तीव्र पुरुषार्थी बच्चों को ही बाप के दुआओं की मुबारक मिलती है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize