today murli 3 december

TODAY MURLI 3 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 December 2018 :- Click Here

03/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, together with having knowledge and yoga, your behaviour also has to be very good. Let there not be any evil spirits inside you because you are exorcists who remove evil spirits.
Question: Which intoxication can the worthy and obedient children experience permanently?
Answer: We are claiming from Baba our inheritance of becoming double-crowned masters of the world. Only worthy and obedient children can experience this intoxication permanently. However, if there is an evil spirit of lust or anger inside you, there cannot be this intoxication. Such children cannot even have regard for the Father. This is why you first of all have to chase away the evil spirits and make your stage strong.
Song: Who has come to the door of my mind with the sound of ankle-bells? 

Om shanti. No one, except you children, can understand the meaning of this. It is also numberwise, according to the effort you make, because there is neither a physical nor a subtle image of the Supreme Father, the Supreme Soul. The deities are subtle and there are just three of them, but even very much more subtle than them is God. Now, who says: O Supreme Father, Supreme Soul? Souls. The Supreme Father, the Supreme Soul, is called God. A soul cannot call his physical father the Supreme Father. When you remember the parlokik Supreme Father, the Supreme Soul, that is called being soul conscious. You remember the father with the relationship of the body. The other is the Baba with the relationship of the soul. He has now come here. The soul knows with the intellect because each soul has an intellect. Therefore, the Supreme Father, the Supreme Soul, is surely the parlokik Father. He is called God. Baba has now had this questionnaire made. It will be easy for you children to explain with it. Just as forms are filled in, in the same way, you can get them to fill in the questionnaire. Definitely, the one who asks these questions would be knowledge-full and so would surely be a teacher. It is the soul that takes a body and explains with the organs. Therefore, this questionnaire has been created so that it is easy for you children to explain. However, the stage of the children who relate knowledge also has to be very good. Although the knowledge some of you have may be very good and your yoga too is very good, together with that, very good behaviour is also required. The behaviour of those who don’t have the evil spirits of lust, anger, greed, ego or attachment would be divine. Those are very big evil spirits. You children should not have any evil spirits in you. We are exorcists who remove evil spirits. Impure souls that wander around are called ghosts. The exorcists who remove those ghosts are very clever. No one, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, can remove the evil spirits of the five vices. Only the One removes the evil spirits from everyone. There is just the One who grants salvation to all. The one who liberates you from Ravan is only the One. Those are big evil spirits. It is said: This one has the evil spirit of lust; this one has the evil spirit of attachment or impure arrogance. The Liberator, the Supreme Father, the Supreme Soul, is the only One who can liberate everyone from those evil spirits. You know that, at this time, the Christians are the most powerful. The words of their English language are also very good. Whoever the king is, he uses his own language. No one knows the language of the deities. My daughters would go and come back and tell us everything (they saw in trance). They used to stay in trance for two to four days. There should be a clever trance messenger who would be able to speak the language that she sees there. You children should tell everyone the story of Bharat. Bharat was satopradhan but it has now become tamopradhan: worshippers from worthy of worship. In Bharat, there are many images of the deities. People worship them with blind faith because they don’t know their biograph ies. We are all actors, and so we should know the Director etc. of the drama. This is why the questionnaire has been prepared. You should also write to the Pope: You are telling your follow ers to stop manufacturing those things for destruction. So, why don’t they all listen to you? You are everyone’s guru and you are praised a great deal, so why don’t they all listen to you? You don’t know the reason for this and so we will tell you why they do not follow your directions. They are manufacturing everything according to God’s directions. Heaven is being established through Adam and Eve. God is knowledgefull and He is incognito. Surely His army would be following His directions. You should explain in this way. However, children don’t have such broad and unlimited intellects. Therefore, the screw has to be tightened. When an engine cools down, they put in more coal to heat it up. These are the coals of knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the greatest of all and everyone will come to salute Him. Everyone considers the Pope to be powerful. People don’t give as much regard to anyone else as they do to the Pope. They don’t know the Father. He is incognito. Only you children know Him and give Him that importance. However, Maya is such that she doesn’t even allow His children to have regard for such a Father. As soon as you go outside, the intoxication you have of Baba making you into the masters of the world ends. Why would we not claim our inheritance of becoming doubl e crowned? This is the intoxication of worthy and obedient children. However, there are many children who have the evil spirits of lust, anger or greed. Baba speaks the murli and you then feel inside: I still have a slight influence of lust inside. If one side is strong, then nothing can happen. Sometimes, the wife is strong and sometimes the husband is strong. Baba receives all types of news. Some write with an honest heart. There has to be great honesty and cleanliness internally and externally. Some are honest externally, but are false within. Many experience storms. They write: Baba, today, I experienced the storm of lust, but I was saved. If they don’t write, then, firstly, punishment is experienced and, secondly, that habit increases. Eventually, they fall. Baba has these hopes in the children. Even when there are a few bad omens, they can be removed. There are many children who are moving along fine today, but they would become unconscious tomorrow or their throats would choke. Definitely, they are disobedient about something. You should remain honest in every situation, for only then will you become the masters of the land of truth. If you tell lies, the illness will increase and cause harm. You children should write the questionnaire very tactfully: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? Since He is the Father, there is no question of omnipresence. He is the Bestower of Salvation for All, the Purifier and the God of the Gita. Therefore, He would surely have come at some time and given knowledge. If this is right, then, do you know His biography? If you don’t know it, you cannot receive the inheritance. You would definitely receive the inheritance from the Father. Then, ask the second question: Do you know Prajapita Brahma and his mouth-born creation? The one who is called Saraswati is the goddess of knowledge. She is called the goddess of knowledge. This one is Jagadamba. So, surely, there would be her children and also her Father. He is the One who gives knowledge. So, who are this Prajapita and Jagadamba? She is also called the goddess of wealth. At that time, she is not the goddess of knowledge. This Brahma and Saraswati then become the king and queen. Therefore, their children must surely also become the masters of heaven. This is now the confluence, the kumbh. Look at what happens at that Kumbha mela! There is the difference of night and day between its meaning on the path of devotion and its meaning here. That is the confluence of the waters of the river and the ocean. This is the mela of the human Ganges who emerge from the Ocean of Knowledge. This question can also be asked: Who is the One who makes you pure from impure? This is something to know and this is why we are asking you. You can become kings and queens by receiving knowledge from this Mother and Father. Would your mouth be sweetened by saying that God is omnipresent? You are now receiving knowledge, the fruit of devotion. God is now teaching you and so you have stopped stumbling around. Baba says: Children, may you be bodiless! Souls have received knowledge. Souls now say: We now have to return home to Baba. Then there is the reward. The kingdom is being established. These matters have to be understood. This questionnaire is very good. It should remain in everyone’s pocket. Only serviceable children would think about these things. Baba has to make so much effort for you children. Baba says: Children, make your future elevated. Otherwise, your status will be reduced for cycle after cycle. Just as this Baba and Mama become the emperor and empress, so you children should also become the same. However, there has to be faith in the self. A king has a lot of power. There, there is nothing but happiness. Others who become kings become that by making donations and performing charity in the name of God. All the subjects live under the orders of the king. At this time, the people of Bharat have no kings. It is the rule of the people over the people so they have become so weak. Baba knows that many children experience storms, but they don’t give this news to Baba. You should write to Baba: I experience such storms, so please give me some advice! Baba would advise you according to your situation. You don’t write and your companion doesn’t write either and say: Baba, this is the condition of my companion. The news should be given to Baba. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night C lass: 11 /01/ 69

The unlimited Father comes and explains to you. He makes you belong to Him, He gives you teachings for a royal status and also makes you pure. The Father gives you the introduction of Himself and the inheritance in a very easy way. You would not be able to understand it by yourself. You would surely receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. Only those with very good intellects would understand what inheritance the Father gives. He gives you the inheritance of the home, the study and the sovereignty of heaven. Those who become the pure deity community are the ones who enter the kingdom. Those who study and teach others will accordingly claim a high status. There are so many children and they are claiming their inheritance from the Father. The Father makes you into the masters of heaven, into Narayan from an ordinary man. This one is the master of the kingdom. So, the unlimited Father is the Creator of heaven and we, His children, will claim the sovereignty of heaven from Him. As are the king and queen, so the subjects. You will claim a high status to the extent that you make effort. This is effort for the kingdom. Not everyone receives a kingdom in the golden age. To the extent that you make effort, accordingly, you will receive a high status. Your reward depends on the efforts you make. You children know that you will receive sovereignty according to how much effort you make. If you consider yourself to be a soul and you remember the Father, you will become satopradhan from tamopradhan and become pure gold. You will also receive a kingdom. Here, people say that they are the masters of Bharat. All of you will become the masters, but what status will you then claim? What will your status in heaven be after you study? You are now studying at the confluence age. You will then rule in the golden age. The Father teaches you yoga and also teaches the study. You understand that we are studying Raja Yoga. We also become pure by having remembrance of the Father. Then our rebirth will not be in the kingdom of Ravan, but in the kingdom of Rama. We are now studying: Manmanabhav, madhyajibhav. It is now the end of the iron age and then the golden age, heaven, will definitely come. The Father only comes at the confluence age and opens this unlimited school where there is the unlimited study to claim the unlimited sovereignty. You know that you will become the masters of the new world. The new world is called heaven. You feel intoxicated about this, do you not? Truly, after the old world, there is the new world. Children, remember this! It is in the hearts of all the children that the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us in order to make us into the masters of heaven. You children should remember that God is teaching you. We are becoming the highest-on-high kings and queens of heaven. We receive the kingdom by studying Raja Yoga and there is purity, peace and happiness in that; there is everything. Shiv Baba has now entered this Baba. He is the Highest on High. The soul carries that experience with himself. When he goes there, the way of sitting there will be royal. All the students will have individual seats. A student wouldn’t sit in another student’s place. No two souls can have the same part. The Father has explained: Souls have a record recorded in them. Our efforts are continuing according to the drama plan. Some will become kings and others will become queens. At the end, the result s of effort will be announced so that the rosary will be created. Those who are to claim a high number will definitely know. When someone dies, you can understand that the soul will go and take another body according to his karma. Those who have performed good actions will receive a good birth with the power of yoga. If one doesn’t make effort, one receives a low status. Happiness will be experienced by thinking in this way. As are the maharathis, so their praise. Not everyone’s way of speaking knowledge is the same. Each one’s way of speaking knowledge is also different. This play is predestined. You children now pay attention to how you act. Whatever the father or mother does, children learn that. You are now performing elevated actions. One can understand this from the service you do. The efforts that the maharathis make cannot remain hidden. You can understand who is making effort to claim a high status. All the children have a chance. In order to claim a high status, you have also received the lesson of “Manmanabhav” together with its meaning. You children understand that the k nowledge-full Father Himself comes and gives you the knowledge of the Gita, and so He would surely give you accurate knowledge. Then however much you continue to put the things you hear into a practical form depends on how much you imbibe them. It is not difficult. You have to remember the Father and know the cycle. This is the study of your final birth. You will pass and then go to the new world of the golden age. It is remembered: There is victory in faith. So, you children have understood with your loving intellects that God is teaching you. You children know that you are souls and that you are imbibing this. The soul is studying through this body. He is doing a job. These matters have to be understood. You remember the Father and then Maya, Ravan, breaks your intellect’s yoga. You have to remain cautious of Maya. The more progress you make, the more your influence will spread and the more the mercury of your happiness will also rise. When you take a new birth, you will show this very clearly. Achcha.

To the sweetest spiritual children, love, remembrance and good night from spiritual BapDada.

Essence for dharna:

  1. Remain honest and clean internally and externally. Give the Father your news with an honest heart. Do not hide anything.
  2. You now have to return home. Therefore practise remaining bodiless. Remain in silence.
Blessing: May you renounce any consciousness of “mine” and do service as a trustee and become a constantly contented soul.
While living with your family and doing service, always remember that you are a trustee and a server. While doing service, let there not be the slightest consciousness of “mine” for only then will you be able to remain content. When there is the consciousness of “mine” you become distressed and think, “My son does this.” So where there is the consciousness of “mine” you become distressed whereas when everything is “Yours”, you begin to swim. To say “Yours” means to maintain your self-respect and to say “mine, mine” means to have arrogance.
Slogan: Let your intellect always have the awareness of the Father and shrimat and you will then be called a soul whose heart is surrendered.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 3 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 December 2018

To Read Murli 2 December 2018 :- Click Here
03-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज्ञान और योग के साथ-साथ तुम्हारी चलन भी बहुत अच्छी चाहिए, कोई भी भूत अन्दर न हो क्योंकि तुम हो भूतों को निकालने वाले”
प्रश्नः- सपूत बच्चों को कौन-सा नशा स्थाई रह सकता है?
उत्तर:- बाबा से हम डबल सिरताज, विश्व के मालिक बनने का वर्सा ले रहे हैं। यह नशा सपूत बच्चों को ही स्थाई रह सकता है। परन्तु काम-क्रोध का भूत अन्दर होगा तो यह नशा नहीं रह सकता। ऐसे बच्चे फिर बाप का रिगार्ड भी नहीं रख सकते इसलिए पहले भूतों को भगाना है। अपनी अवस्था मजबूत बनानी है।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारा…. 

ओम् शान्ति। इसका अर्थ तो कोई समझ न सके सिवाए तुम बच्चों के। सो भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार क्योंकि परमपिता परमात्मा का स्थूल या सूक्ष्म चित्र तो है नहीं। सूक्ष्म हैं देवतायें, वह तो सिर्फ 3 हैं। उनसे भी अति सूक्ष्म है परमात्मा। अब हे परमपिता परमात्मा – यह कौन कहते हैं? आत्मा। परमपिता परमात्मा को परम आत्मा कहते हैं। लौकिक बाप को आत्मा परमपिता नहीं कह सकती है। जब पारलौकिक परमपिता परमात्मा को याद करते हैं तो उसको देही-अभिमानी कहा जाता है। जब देह अभिमान में हैं तो देह के साथ सम्बन्ध रखने वाला बाबा याद आ जाता है। वह फिर है आत्मा के साथ सम्बन्ध रखने वाला बाबा। वह अब आये हुए हैं। आत्मा बुद्धि से जानती है, आत्मा में बुद्धि है ना। तो परमपिता परमात्मा जरूर पारलौकिक पिता ठहरा। उनको ईश्वर कहा जाता है। अब बाबा ने यह प्रश्नावली बनाई है। इस पर तुम बच्चों को समझाने में सहज होगा। जैसे फॉर्म भराया जाता है वैसे प्रश्न भी पूछ सकते हो। जरूर जो पूछते हैं वह नॉलेजफुल है तो जरूर टीचर ही ठहरा। आत्मा ही शरीर धारण करती है और आरगन्स से समझाती है। तो बच्चों को सहज कर समझाने के लिए यह बनाया गया है। परन्तु ज्ञान सुनाने वाले बच्चों की अवस्था भी बहुत अच्छी चाहिए। भल किसमें ज्ञान बहुत अच्छा हो, योग भी अच्छा हो परन्तु साथ-साथ चलन भी अच्छी चाहिए। दैवी चलन उनकी होगी जिनमें काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार का भूत नहीं होगा। यह बड़े-बड़े भूत हैं। तुम बच्चों में कोई भी भूत नहीं होना चाहिए। हम हैं भूत निकालने वाले। वह अशुद्ध आत्मायें जो भटकती हैं उन्हें भूत कहा जाता है। उस भूत को निकालने वाले भी उस्ताद होते हैं। यह जो 5 विकारों रूपी भूत हैं यह तो परमपिता परमात्मा के सिवाए कोई निकाल न सके। सर्व के भूतों को निकालने वाला एक। सर्व की सद्गति करने वाला एक। रावण से लिबरेट कराने वाला भी एक। यह हैं बड़े भूत। कहा भी जाता है इसमें क्रोध का भूत है, इसमें मोह का और अशुद्ध अहंकार का भूत है। सभी को इन भूतों से छुड़ाने वाला लिबरेटर, परमपिता परमात्मा एक ही है। तुम जानते हो इस समय सबसे पावरफुल यह क्रिश्चियन लोग हैं। उनकी अंग्रेजी भाषा के अक्षर भी बहुत अच्छे हैं। जो राजायें होते हैं वह अपनी भाषा चलाते हैं। देवताओं की भाषा कोई जानते नहीं। हमारी बच्चियाँ आगे सब कुछ आकर बतलाती थी। दो-चार दिन ध्यान में रहती थी। अब कोई बुद्धिवान सन्देशी हो जो वहाँ की भाषा देखकर सुनाये।

तुम बच्चे सबको भारत की कहानी सुनाओ। भारत सतोप्रधान था, अभी तमोप्रधान, पूज्य से पुजारी बना है। भारत में देवताओं के चित्र बहुत हैं, अन्धश्रद्धा से पूजते हैं। बायोग्राफी को जानते नहीं। हम सब एक्टर हैं तो ड्रामा के डायरेक्टर आदि का मालूम होना चाहिए इसलिए प्रश्नावली बनाई है। पोप को भी लिखना चाहिए, तुम फालोअर्स को कह रहे हो यह विनाश की चीज़ें बन्द करो, फिर तुम्हारा यह सब मानते क्यों नहीं हैं? तुम तो सबके गुरू हो, तुम्हारी तो बहुत महिमा है फिर भी यह मानते क्यों नहीं हैं? कारण तुम नहीं जानते हो तो हम आपको बताते हैं। यह कोई तुम्हारी मत पर नहीं हैं। यह ईश्वरीय मत पर बना रहे हैं। स्वर्ग की स्थापना एडम-ईव द्वारा हो रही है। नॉलेजफुल गॉड है, वह है गुप्त। जरूर उनकी सेना, उनकी मत पर चलने वाली होगी। ऐसे-ऐसे समझाना चाहिए। परन्तु बच्चे इतना विशाल बुद्धि नहीं हैं, इसलिए स्‍क्रू को टाइट करना पड़ता है। जैसे इंजन ठण्डी होती है तो उसे तेज करने के लिए कोयले डालते हैं। यह भी ज्ञान के कोयले हैं। परमपिता परमात्मा सबसे बड़ा है, सब उनको सलाम करने आयेंगे। पोप को भी सब पॉवरफुल समझते हैं। पोप को जितना मान देते हैं उतना और किसी को नहीं देते। बाप को जानते नहीं। वह तो है गुप्त। उनको सिर्फ बच्चे ही जानते हैं और मर्तबा देते हैं। परन्तु माया ऐसी है जो बच्चों को भी ऐसे बाप का रिगार्ड रखने नहीं देती है। बाबा विश्व का मालिक बनाते हैं, यह नशा बाहर निकलने से खत्म हो जाता है। हम बाबा से डबल सिरताज का वर्सा क्यों नहीं लेंगे, यह है सपूत बच्चों का नशा। परन्तु बहुत बच्चे ऐसे हैं जिन्हें काम, क्रोध, लोभ का भूत आ जाता है। बाबा मुरली चलाते हैं तो अन्दर आता है कि अभी तक हमारे में काम का हल्का नशा है। अगर एक तरफ मजबूत है तो कुछ हो नहीं सकता। कहाँ स्त्री मजबूत रहती हैं, कहाँ पुरुष। बाबा के पास सब किस्म के समाचार आते हैं। कोई सच्ची दिल से लिखते हैं, अन्दर-बाहर बड़ी सफाई चाहिए। कोई बाहर के सच्चे, अन्दर के झूठे हैं। तूफान बहुतों को आता है। लिखते हैं बाबा आज मेरे को काम का तूफान आया परन्तु बच गया। अगर नहीं लिखते तो एक दण्ड दूसरा आदत बढ़ती जायेगी। आखिर गिर पड़ेंगे। बाबा की बच्चों में उम्मीदें तो रहती हैं ना। थोड़ी ग्रहचारी होती है तो वह उतर जाती है। कई हैं जो आज अच्छे चल रहे हैं, कल मूर्छित हो जाते हैं वा गला घुट जाता है। जरूर कोई अवज्ञा करते हैं। हर बात में सच्चा रहना चाहिए तब ही सचखण्ड के मालिक बनेंगे। झूठ बोलेंगे तो बीमारी वृद्धि को पाते नुकसान कर देगी।

बच्चों को बड़ी युक्ति से प्रश्नावली लिखना चाहिए – परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? जब पिता है तो सर्वव्यापी की बात नहीं। वह सर्व का सद्गति दाता है, पतित-पावन है, गीता का भगवान् है तो जरूर कभी आकर ज्ञान दिया होगा। अगर यह बात है तो उनकी जीवन कहानी को जानते हो? नहीं जानते तो वर्सा मिल न सके। पिता से जरूर वर्सा मिलेगा। फिर दूसरा प्रश्न पूछो – प्रजापिता ब्रह्मा और उनकी मुख वंशावली को जानते हो? जिसका नाम सरस्वती है, वह है ज्ञान ज्ञानेश्वरी। उनको गॉडेज ऑफ नॉलेज कहते हैं। यह है जगत अम्बा। तो जरूर उनके बच्चे भी होंगे। बाप भी होगा। नॉलेज देने वाला तो वह ठहरा। अब यह प्रजापिता और जगत अम्बा कौन है? उनको धन लक्ष्मी भी कहते हैं, तब ज्ञान ज्ञानेश्वरी नहीं है। यह ब्रह्मा-सरस्वती राज-राजेश्वरी बनते हैं। तो उनके बच्चे भी जरूर स्वर्ग के मालिक बनते होंगे। अब यह है संगम, कुम्भ। उस कुम्भ के मेले में देखो क्या होता है, भक्ति मार्ग के अर्थ और इसमें रात-दिन का फर्क है। वह है पानी की नदी और सागर का मेला। यह हैं ह्युमन गंगायें जो ज्ञान सागर से निकलती हैं, उनका मेला। यह प्रश्न भी पूछा जाता है पतित से पावन बनाने वाला कौन है? यह तो जानने की बातें है ना तब तो पूछते हैं। इस मात-पिता के ज्ञान से तुम राज राजेश्वरी बन सकते हो। ईश्वर सर्वव्यापी कहने से मुख क्या मीठा होगा? अभी तुम्हें भक्ति का फल ज्ञान मिलता है। अभी भगवान पढ़ाते हैं तो धक्का खाना बन्द हो जाता है। बाबा कहते हैं – बच्चे, अशरीरी भव। आत्मा को ज्ञान मिला, अब आत्मा कहती है – हमको वापिस जाना है बाबा के पास। फिर है प्रालब्ध। राजधानी स्थापन हो जाती है। कितनी समझने की बाते हैं। यह प्रश्नावली बहुत अच्छी है। सबके पॉकेट में पड़ी रहे, सर्विसएबुल बच्चे ही इन बातों पर गौर करेंगे। बच्चों के लिए बाबा को कितनी मेहनत करनी पड़ती है। बाबा कहते हैं – बच्चे, अपना भविष्य ऊंच बनाओ। नहीं तो कल्प-कल्प पद कम हो जायेगा। जैसे यह बाबा महाराजा-महारानी बनते हैं ऐसे बच्चे भी बनें। परन्तु अपने में निश्चय होना चाहिए। राजा में भी बहुत ताकत रहती है। वहाँ तो है सुख ही सुख। और जो राजा बनते हैं वह भी ईश्वर अर्थ दान-पुण्य करने से। राजा के ऑर्डर में सारी प्रजा चलती है। इस समय तो भारतवासियों का कोई राजा नहीं, पंचायती राज्य है, तो कितने कमजोर बने हैं।

बाबा जानते हैं बहुत बच्चों को तूफान आता है परन्तु समाचार नहीं देते। बाबा को लिखना चाहिए कि ऐसे तूफान आते हैं, आप राय बताओ। बाबा परिस्थिति देख राय बतायेंगे। लिखते नहीं हैं, न कोई उनका साथी ही समाचार देते हैं कि बाबा हमारे साथी का यह हाल है। बाबा को तो समाचार देना चाहिए। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास 11.1.69

बेहद का बाप आकर समझाते हैं, अपना बनाते हैं, राजाई पद के लिए शिक्षा देते हैं, पवित्र भी बनाते हैं। बाप बड़ा सहज रीति अपना और वर्से का परिचय समझाते हैं। आपेही समझ नहीं सकेंगे। बेहद के बाप से जरूर बेहद का वर्सा मिलेगा – यह भी अच्छे बुद्धिवान ही समझेंगे। बाप क्या वर्सा देते हैं? घर का, पढ़ाई का और स्वर्ग की बादशाही का वर्सा दे देते हैं। जो पवित्र दैवी सम्प्रदाय बनते हैं वही राजधानी में आते हैं। जो जितना पढ़ेंगे, पढ़ायेंगे वही ऊंच पद पायेंगे। इतने बच्चे हैं, बाप से वर्सा लेते हैं। बाप स्वर्ग का मालिक, नर से नारायण बनाते हैं। यह राजाई के मालिक हैं। तो बेहद का बाप जो स्वर्ग का रचयिता है हम उनके बच्चे स्वर्ग की बादशाही लेंगे, यथा राजा रानी तथा प्रजा.. जितना पुरूषार्थ करेंगे उतना ही ऊंच पद पायेंगे। यह राजाई के लिए पुरूषार्थ है। सतयुग की राजाई सभी को नहीं मिलनी है। जितना जो पुरूषार्थ करेंगे उतना ही ऊंच पद पायेंगे। पुरूषार्थ पर प्रारब्ध का मदार रहता है। यह तो बच्चे जानते हैं जितना पुरूषार्थ करेंगे। पुरुषार्थ से ही बादशाही मिलती है। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करेंगे तो तमोप्रधान से सतोप्रधान, प्युअर सोना बन जायेंगे। राजाई भी मिलेगी। जैसे यहाँ कहते हैं भारत के हम मालिक हैं। मालिक तो सभी बनेंगे। फिर पद क्या पायेंगे? पढ़ाई के बाद स्वर्ग में हमारा पद क्या रहेगा। तुम अभी संगम पर पढ़ते हो, सतयुग में राजाई करेंगे। बाप योग भी सिखलाते हैं, पढ़ाते भी हैं। तुम समझते हो हम राजयोग सीखते हैं। बाप की याद से पावन भी बनते हैं। फिर हमारा पुनर्जन्म रावण राज्य में नहीं, राम राज्य में होगा। अभी हम पढ़ रहे हैं – मन्मनाभव, मध्याजीभव। अभी कलियुग का अन्त है, फिर सतयुग स्वर्ग जरूर आयेगा। बाप संगमयुग पर ही आकर बेहद का स्कूल खोलते हैं, जहाँ बेहद की पढ़ाई है, बेहद की बादशाही पाने लिए। तुम जानते हो हम अभी नई दुनिया के मालिक बनेंगे। नई दुनिया को स्वर्ग कहा जाता है, खुमारी चढ़ती है ना। बरोबर पुरानी दुनिया के बाद है नई दुनिया। बच्चों को याद आता है। सभी बच्चों के दिल में है – स्वर्ग का मालिक बनाने के लिए हमको परमपिता परमात्मा पढ़ाते हैं। बच्चों को यह याद रहे हमको भगवान पढ़ाते हैं, ऊंच ते ऊंच सतयुग के राजा-रानी बनते हैं। राजयोग द्वारा राजाई मिलती है, उसमें पवित्रता, सुख, शान्ति सब है। इस बाबा में अभी शिवबाबा पधारे हैं। वह है ऊंच ते ऊंच। आत्मा अनुभव लेती जाती है। वहाँ जायेंगे तो वहाँ की बैठक ऊंची होगी। स्टूडेन्टस सभी की बैठक अपनी-अपनी होगी। एक की जगह दूसरा नहीं बैठ सकता। एक का पार्ट दो से मिल नहीं सकता। बाप ने समझाया है आत्मा में रिकार्ड भरा हुआ है। ड्रामा के प्लैन अनुसार हमारा पुरूषार्थ चल रहा है, कोई राजा कोई रानी बनेंगे। अन्त में पुरूषार्थ की रिजल्ट निकलेगी, जो फिर माला बनेगी। ऊंच नम्बर वाले को जरूर मालूम पड़ेगा। मरने के बाद समझा जाता है – आत्मा जाकर कर्मों अनुसार दूसरा शरीर लेगी। अच्छे कर्म वालों को अच्छा जन्म मिलेगा, योगबल से। पुरूषार्थ नहीं करते हैं तो कम पद पायेंगे। ऐसे-ऐसे विचार करने से खुशी होगी। जो जैसा महारथी होगा उनकी ऐसी महिमा होगी। सभी की मुरली भी एक जैसी नहीं चलती। हरेक की मुरली भी अलग-अलग; यह बना बनाया खेल है ना। अभी बच्चों का कर्मों पर ध्यान है। बाप या माँ जैसे करेंगे बच्चे सीखेंगे। अभी तुम श्रेष्ठ कर्म करते हो। सर्विस से मालूम पड़ता है, महारथियों की मेहनत छिपी नहीं रहती है। समझ सकते हैं कौन ऊंच पद पाने की मेहनत कर रहे हैं। सभी बच्चों को चान्स भी है। ऊंच पद पाने के लिए मन्मनाभव का लेसन अर्थ सहित मिला हुआ है। बच्चे समझते हैं यह गीता का ज्ञान नॉलेजफुल बाप खुद आकर देते हैं तो जरूर एक्युरेट नॉलेज ही देंगे। फिर मदार है धारणा पर, जो सुनते हो वह प्रैक्टिकल में आता रहे। डिफीकल्ट नहीं है। बाप को याद करना और चक्र को जानना है। यह है अन्तिम जन्म की पढ़ाई, जो पास करके नई दुनिया सतयुग में चले जायेंगे।

गायन है निश्चय में विजय। तो प्रीत बुद्धि बच्चों ने समझा है – हमको भगवान पढ़ाते हैं। बच्चे जानते हैं हमारी आत्मा धारणा करती है। आत्मा इस शरीर द्वारा पढ़ती है, नौकरी करती है। यह समझने की बातें हैं। बाप को याद करते हैं फिर माया रावण बुद्धि का योग तोड़ देती है, माया से सावधान रहना है। जितना आगे जायेंगे उतना तुम्हारा प्रभाव भी निकलेगा और खुशी का पारा भी चढ़ेगा। नया जन्म लेंगे तो बहुत शो करेंगे। अच्छा! मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बापदादा का याद-प्यार गुडनाईट।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्दर-बाहर साफ रहना है। सच्ची दिल से बाप को अपना समाचार देना है, कुछ भी छिपाना नहीं है।

2) अब वापस जाना है इसलिए अशरीरी बनने का अभ्यास करना है, चुप रहना है।

वरदान:- मेरे पन को छोड़ ट्रस्टी बन सेवा करने वाले सदा सन्तुष्ट आत्मा भव
लौकिक परिवार में रहते, सेवा करते सदा याद रहे कि मैं ट्रस्टी हूँ, सेवाधारी हूँ। सेवा करते जरा भी मेरापन न हो तब सन्तुष्ट रहेंगे। जब मेरापन आता है तब तंग होते हो, सोचते हो मेरा बच्चा ऐसे करता है…तो जहाँ मेरापन है वहाँ तंग होते और जहाँ तेरा-तेरा आया वहाँ तैरने लगेंगे। तेरा-तेरा कहना माना स्वमान में रहना, मेरा-मेरा कहना माना अभिमान में आना।
स्लोगन:- बुद्धि में हर समय बाप और श्रीमत की स्मृति हो तब कहेंगे दिल से समर्पित आत्मा।

TODAY MURLI 3 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 3 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 2 December 2017 :- Click Here

03/12/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
03/04/83

The first and last effort.

Today, the unlimited Father has come to meet the elevated children who remain stable in an unlimited stage, those who have an unlimited intellect, unlimited vision, and an unlimited attitude, who are unlimited servers in the corporeal form, in the unlimited place of the corporeal world. The main essence of all four subjects of the whole knowledge of this study is just this one thing: “unlimited”. To stabilise in the meaning of the word “unlimited” is the first and last effort. First of all, to belong to the Father means to die alive. The basis of this is to go beyond my limited consciousness of the body and stabilise in the unlimited form of soul consciousness. The last thing is to become the angelic form, that is, to go beyond all limited relationships and to become an angel. So, what else is significant about these pairs? The beginning and the end, the effort and the reward, the aim and its qualifications, awareness and power? Unlimited. From the beginning to the end, what types of limitation have you gone beyond or do you still have to go beyond? You know this list very well, do you not? Only when you become an embodiment of the unlimited, beyond all limitations, in your unlimited home, an unlimited server, a victorious jewel who has gained victory over all limitations, can you become the form of the experience of the final karmateet stage.

Limitations are many, whereas unlimited is one. There are many types of limit, that is, many types of the consciousness of “mine”. All the different types of the consciousness of “mine” become merged in the unlimited consciousness of “mine is one Baba and none other”. The expansion then becomes the form of its essence. Is the expansion difficult or is the essence difficult? So, what is the lesson of the beginning and the end? Unlimited! Check how close you have come to this final destination. Whilst keeping the list of limited things in front of you, check how many things you have gone beyond. There is no need to mention this list. All of you have noted down in your notebooks this list that you have heard so many times! All of you have the maximum amount of treasures in your diaries and notebooks. All of you know this and you also speak about it very well. You know about it and you also do this. So, what else is there? BapDada also listens to the lectures of all the teachers and students. Does BapDada not have a video? This has only recently been invented in your world. However, BapDada has been seeing everything from the subtle region from the beginning. He continues to hear everything. Seeing your elevated way of giving knowledge through words, BapDada congratulates you, because you relate one point of BapDada’s in many entertaining ways. For example, it is remembered that the Father is the Father, but the children are the crown on His head. In the same way, you are the crown on the Father’s head, even in terms of relating everything. What else do you have to follow? The third stage is to go beyond. Whilst going beyond one or another type of barrier of limitations, some become attached to those limitations; some become stuck to them. Others have gone beyond and can be seen to be close to their destination. What would be the visible sign and what would be the experience of your going beyond any form of limitation? The sign of going beyond any limitation is that you go beyond and you go up above. To go up above is the sign of going beyond any limitation. The stage of going beyond is the flying stage. You become a flying bird and then land on the branch of the kalpa tree of action. You act in your powerful form of the flying stage and then fly off. You do not get trapped on the branch by any bondage of action. To get trapped in a karmic bondage means to get trapped in the cage of limitations. Instead of being free, it means that you are dependent. A caged bird would not be called a flying bird. Sometimes, flying birds, the elevated souls who belong to the Father, clutch onto the bondage of the different actions of the branch of the kalpa tree with the claws of their weaknesses. What do they do then? You have heard the story, have you not? This is known as lacking the power to go beyond limitations. There are four types of branch of this kalpa tree. But the fifth type is more attractive. There are the golden, silver, copper and iron branches, but the branch of the confluence age is that of diamonds. However, instead of becoming a hero, you hang on to the diamond (hira) branch. The actions of the confluence age are the most elevated. These elevated actions are the diamond branches. No matter how elevated the actions of the confluence age are, you still get trapped in the bondage of elevated actions, which you refer to in other words as golden chains. Limited desires in elevated actions are also golden chains. Even if it is a diamond branch or a golden chain, a bondage is still a bondage! BapDada is reminding all of you flying birds: Go beyond all bondages, that is, go beyond all limitations.

Today’s special gathering is of the mothers of Gaupal (in devotion, referred to as cowherd). Seeing such a huge gathering, Gaupal (the Father) is also pleased. BapDada salutes you sweet mothers because even Brahma Baba surrendered everything to the mother guru for the task of establishing the new world. The speciality and newness of this Godly knowledge is to keep the incarnations of Shaktis at the front. To establish the system of a having a mother as a guru is the newness here. This is why, in the memorial, there is also the worship and praise of Gaumukh (cow’s mouth). You are not limited mothers, but unlimited world mothers. You have this intoxication, do you not? You are the ones who benefit all the people of the world, you are world benefactors. You are not those who benefit just your homes. Have you ever heard the praise sung of “home benefactors”? You have heard the praise of world benefactors. So, the gathering of such unlimited mothers is an elevated gathering, is it not? Mothers are images of experience. Training has to be given to kumaris to protect them from being deceived. Because mothers are experienced, they cannot be deceived by anything limited. The majority of you are new. There is more love for new, young children. BapDada welcomes all of you mothers and says: “You are welcome!” Achcha.

To those who remain constantly stable in an unlimited stage, to the constantly flying birds who fly in the flying stage, to those who constantly experience the final angelic form, to those who are constantly karmateet, beyond any bondage of karma, equal to the Father, to such elevated souls who are close to the destination, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting a group of servers:

In what form does BapDada constantly see all of you instrument children? Instrument servers means those who follow the Father. The Father too comes here as the Server. All the different forms are for service, are they not? So the Father’s special form is also for service. Therefore, to be an instrument server means to follow the Father. BapDada sees every child with this vision. You are the original jewels in BapDada’s task of service, are you not? What did Baba give you as a gift as soon as you took birth? He just gave you service, did He not? You are the original jewels who have received the gift of service. BapDada knows everyone’s specialities. To receive a blessing from birth is also to have a hero part in the drama. In fact, all of you are servers, but to receive a blessing for service as soon as you take birth and become an instrument at a time of need is a speciality of only some. There is always a need for souls who are constant companions and servers at a time of need. Achcha.

All of you have your own specialities. If Baba were to speak about each one’s speciality, we would need so much time. But, each one’s speciality is constantly in front of BapDada. Each of you has so many specialities. Have you ever looked at yourself? Each one of you has your own specialities. However, BapDada repeatedly and constantly reminds you special souls of one thing. What is that? When any of you go on to the field of service or plan something and then make it practical, first plan it while remaining constantly stable in the stage of being equal to the Father and then put it into practice. The Father belongs to everyone. No one says: He is the Father of So-and-so or He is not the Father of So-and-so. Everyone says: He is “My Baba”. In the same way, the speciality of the instrument servers is that everyone needs to feel that they (the instrument servers) belong to them. No one should feel that they belong to some and not to others. Even if the sound that they belong to them doesn’t emerge from their lips, let the thought emerge in their minds that they belong to them. This is known as “following the Father”. Everyone should have a feeling of belonging. This is the Father’s first step. This is the Father’s speciality. It emerges in everyone’s mind: My Baba! Does anyone say: Your Baba? So, this one belongs to me, this one is my unlimited brother or sister, didi or dadi. These pure blessings should emerge in everyone’s mind. No matter where you live, all of you special souls belong to everyone in an unlimited way. You may be living anywhere as instrument servers, but you are unlimited servers. Do you make unlimited plans for the world or do you each make plans for your own place? You don’t do that, do you? You make unlimited plans. You make plans for this land and abroad. Therefore, to have unlimited feelings and unlimited, elevated desires is to follow the Father.

Now experience this in a practical way. All of you are now mature. To be mature means to be experienced. You are experienced in many things, are you not? How experienced are you? Firstly, you have your own experience. Secondly, you also become experienced on the basis of the experiences of others. To be an experienced soul means to be a mature soul. Generally, in the world today, when someone is mature, then he is called “father” or “uncle” (pitaji or kakaji). In the same way, become one with unlimited experience, that is, give everyone the feeling of belonging.

BapDada constantly gives love to the co-operative souls in return for their co-operation. You are co-operative, that is, you are constantly worthy of love. So, what would you give? You would only give everyone love. Let everyone have the feeling that you are a treasure-store of love. Let love be experienced at every step and in everyone’s vision. This is the speciality. Make a plan like this of what you now have to do. What is the special duty of special souls? What is the special activity of theirs that is, of necessity, other than ordinary? Even though you feel that you are equal to everyone, you still have to have the speciality of being seen as special souls. Let speciality be experienced in your every step. Others would then accept that you are special souls, that you are the special souls who do something special. You are not only those who talk about something, but also those who do it.

Mahavir children are constantly healthy because their minds are healthy. Bodies continue to play games. If there is some illness of the mind, the mind is said to be ill. When the mind is free from illness you are constantly healthy. Simply churn knowledge whilst lying on a bed of snakes, like Vishnu, and remain cheerful. This is a game. Just as sakar Baba used to play Vishnu whilst sitting in the lotus position, in the same way, when anything happens, that too is just a game. Churn, because by using the power of churning, you get a chance to go to the bottom of the ocean. If you go into the depth of the ocean you would definitely be missed on the surface. So, you are not in the room, but at the bottom of the ocean. You have gone to the bottom of the ocean to bring up new jewels.

To gain victory over the suffering of karma and to stay in the stage of a karma yogi is known as being a victorious jewel. Always have the awareness that it is not suffering but planning for the new world. You do have time, do you not? When you are free, what else do you have to do? Just make new plans. Your bed also becomes a place for planning.

BapDada meeting a group of mothers:

Do all of you experience your star of fortune to be now sparkling? On seeing you sparkling stars, other souls are also inspired. You are such stars, are you not? The sparkle of you stars never fades, does it? You are the imperishable stars of the eternal Father, are you not? Are you always constant or are you sometimes flying and sometimes at a standstill? This is the age of the constantly flying stage. At the time of the flying stage, if someone is still in the climbing stage, that is not nice. If you were to have a plane ride, would you like any other mode of travel? So those who are in the period of the flying stage mustn’t come down. Stay constantly up above! You are not caged birds. The cage is broken and just a few bars now remain.

If even one string is left, it pulls you to itself. If you have broken ten strings and just one remains, then that too would pull you. Unlimited flying birds, who break all strings and go beyond all boundaries must not become trapped in limitations. You have kept getting trapped for 63 births. So now, in this one birth, go beyond all limitations. This one birth is for going beyond all limitations and you have to do everything according to the time. Is it good if it is time to wake up and someone is still asleep? So, constantly go beyond all limits, into the unlimited. Mothers have a tilak of the imperishable suhaag (symbol of being married) applied. Just as in the physical world, a tilak is a sign of constantly being married (suhaag), in the same way, have the tilak of constant remembrance. Such married women are constantly fortunate. You are the fortunate souls of every cycle. You have such fortune that no one can snatch it from you. You are souls who constantly have a right. You are the masters of the world, for the kingdom of the world belongs to you. The kingdom is yours, the fortune is yours and God is yours. This is known as being a soul who has all rights. When you have all rights, there is no dependence.

Question: In what way is the income of you children infinite and imperishable?

Answer: You are earning such an income that no one can snatch it away from you. There can be no complications. There is fear about any other income. If anyone wanted to snatch this income of yours away, you would be happy, because that person would also become one with an income. If someone comes to loot you, you would be even happier and would ask him to take it from you. This will do even more service. You are elevated souls who earn such an income! Achcha. Om shanti.

Blessing: May you be constantly happy-hearted and remain ever healthy, wealthy and happy by eating the instant fruit of service.
People today say: Eat fresh fruit and you will stay healthy. They show fruit as a means of staying healthy and you children are those who eat instant fruit at every second. This is why when someone asks you how you are, you tell them: I am happy and I move in the way that angels do. I am healthy, wealthy and happy. Brahmins can never get upset.
Slogan: A pure soul is a mirror of cleanliness and truth.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 3 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 3 December 2017

To Read Murli 2 December 2017 :- Click Here
03/12/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
03-04-83

प्रथम और अन्तिम पुरूषार्थ

आज बेहद का बाप बेहद की स्थिति में स्थित रहने वाले, बेहद की बुद्धि, बेहद की दृष्टि, बेहद की वृत्ति, बेहद के सेवाधारी ऐसे श्रेष्ठ बच्चों से साकार स्वरूप में, साकार वतन में बेहद के स्थान पर मिलने आये हैं। सारे ज्ञान का वा इस पढ़ाई की चारों ही सबजेक्ट का मूल सार यही एक बात ”बेहद” है। बेहद शब्द के स्वरूप में स्थित होना, यही फर्स्ट और लास्ट का पुरूषार्थ है। पहले बाप का बनना अर्थात् मरजीवा बनना। इसका भी आधार है देह की हद से बेहद देही स्वरूप में स्थित होना। और लास्ट में फरिश्ता स्वरूप बन जाना – इसका भी अर्थ है सर्व हद के रिश्ते से परे फरिश्ता बनना। तो आदि और अन्त पुरूषार्थ और प्राप्ति, लक्षण और लक्ष्य, स्मृति और समर्थी दोनों ही स्वरूप में क्या रहा? ”बेहद”। आदि से लेकर अन्त तक किन-किन प्रकार की हदें पार कर चुके हो वा करनी हैं। इस लिस्ट को तो अच्छी तरह से जानते हो ना! जब सर्व हदों से पार बेहद स्वरूप में, बेहद घर, बेहद के सेवाधारी, सर्व हदों के ऊपर विजय प्राप्त करने वाले विजयी रत्न बन जाते तब ही अन्तिम कर्मातीत स्थिति के अनुभव स्वरूप बन जाते।

हदें हैं अनेक, बेहद है एक। अनेक प्रकार की हदें अर्थात् अनेक मेरा मेरा। एक मेरा बाबा, दूसरा न कोई इस बेहद के मेरे में अनेक मेरा समा जाता है। विस्तार सार स्वरूप बन जाता है। विस्तार मुश्किल होता है या सार मुश्किल होता है? तो आदि और अन्त का पाठ क्या हुआ? बेहद। इसी अन्तिम मंजिल पर कहाँ तक समीप आये हैं, इसको चेक करो। हद की लिस्ट सामने रख देखो कहाँ तक पार किया है! लिस्ट का वर्णन करने की तो आवश्यकता नहीं है। सबके पास कितने बार की सुनी हुई यह लिस्ट कापियों में तो बहुत नोट है। सबके पास ज्यादा से ज्यादा माल डायरियॉ वा कापियाँ होंगी। जानते तो सभी हो, वर्णन भी बहुत अच्छा कर सकते हो। ज्ञाता भी हो, वक्ता भी हो। बाकी क्या रहा? बापदादा भी सभी टीचर्स अथवा स्टूडेन्ट्स सबके भाषण सुनते हैं। बापदादा के पास वीडियों नहीं है क्या? आपकी दुनिया में तो अभी निकला है। बापदादा तो शुरू से वतन में देखते रहते हैं। सुनते रहते हैं। वर्णन करने का श्रेष्ठ रूप देखकर बापदादा मुबारक भी देते हैं क्योंकि बापदादा की एक प्वाइंट को भिन्न-भिन्न रमणीक रूप से सुनाते हो। जैसे गाया हुआ है बाप तो बाप है लेकिन बच्चे बाप के भी सिरताज हैं। ऐसे सुनाने में बाप से भी सिरताज हो। बाकी क्या फालो करना है? तीसरी स्टेज है – पार कर्ता। इसमें कोई न कोई हद की दीवार को पार करने में, कोई तो उस हद में लटक जाते हैं, कोई अटक जाते हैं। पार करने वाले कोई-कोई मंजिल के समीप दिखाई देते हैं। किसी भी हद को पार करने की निशानी क्या दिखाई देगी वा अनुभव होगी? पार करने की निशानी है पार किया, उपराम बना। तो उपराम बनना ही पार करने की निशानी है। उपराम स्थिति अर्थात् उड़ती कला की निशानी। उड़ता पंछी बन कर्म के इस कल्प वृक्ष की डाली पर आयेगा। उड़ती कला के बेहद के समर्थ स्वरूप से कर्म किया और उड़ा। कर्म रूपी डाली के बन्धन में नहीं फँसेगा। कर्म बन्धन में फँसा अर्थात् हद के पिंजरे में फँसा। स्वतत्र से परतत्र बना। पिंजरे के पंछी को उड़ता पंछी तो नहीं कहेंगे ना। ऐसे कल्प वृक्ष के भिन्न-भिन्न कर्म की डाली पर बाप के उड़ते पंछी श्रेष्ठ आत्मायें कभी-कभी कमज़ोरी के पंजों से डाली के बन्धन में आ जाते हैं। फिर क्या करते? कहानी सुनी है ना! इसको कहा जाता है हद को पार करने की शक्ति कम है। इस कल्प वृक्ष के अन्दर चार प्रकार की डालियाँ हैं। लेकिन पाँचवीं डाली ज्यादा आकर्षण है। गोल्डन, सिलवर, कॉपर, आयरन और संगम है हीरे की डाली। फिर हीरो बनने के बजाए हीरे की डाली में लटक जाते हैं। संगमयुग का ही सर्व श्रेष्ठ कर्म है ना। यह श्रेष्ठ कर्म ही हीरे की डाली है। चाहे संगमयुगी कैसा भी श्रेष्ठ कर्म हो लेकिन श्रेष्ठ कर्म के भी बन्धन में फँस गया, जिसको दूसरे शब्दों में आप सोने की जंजीर कहते हो। श्रेष्ठ कर्म में भी हद की कामना, यह सोने की जंजीर है। चाहे डाली हीरे की है, जंजीर भी सोने की है लेकिन बन्धन तो बन्धन है ना! बापदादा सर्व उड़ते पंछियों को स्मृति दिला रहे हैं, सर्व बन्धनों अर्थात् हदों को पार कर्ता बने हो!

आज का विशेष संगठन गऊपाल की माताओं का है। इतने बड़े संगठन को देख गऊपाल भी खुश हो रहे हैं। बापदादा भी मीठी-मीठी माताओं को ”वन्दे मातरम्” कहते हैं क्योंकि नई सृष्टि की स्थापना के कार्य में ब्रह्मा बाप ने भी माता गुरू को सब समर्पण किया। इस ईश्वरीय ज्ञान की विशेषता वा नवीनता है ही शक्ति अवतार को आगे रखना। माता गुरू का सिलसिला स्थापन करना, यही नवीनता है इसलिए यादगार में भी गऊ मुख का गायन पूजन है। ऐसे हद की मातायें नहीं लेकिन बेहद की जगत मातायें हो, नशा है ना! जगत का कल्याण करने वाली हो, जग कल्याणकारी अर्थात् विश्व कल्याणकारी हो। सिर्फ घर कल्याणी तो नहीं हो ना। कब घर कल्याणी का गीत सुना है क्या? विश्व कल्याणी का सुना है। तो ऐसी बेहद की माताओं का संगठन, श्रेष्ठ संगठन हुआ ना। मातायें तो अनुभवी मूर्त हो ना! कुमारियों को धोखे से बचने की ट्रेनिंग देनी पड़ती है। मातायें तो अनुभवी होने के कारण हद के धोखे में नहीं आने वाली हो ना! मैजारटी नये-नये हैं। नये-नये छोटे बच्चों पर ज्यादा ही स्नेह होता है। बापदादा भी सभी माताओं का ”भले पधारे” कहकर के स्वागत करते हैं। अच्छा।

ऐसे सदा बेहद की स्थिति में स्थित रहने वाले, सदा उड़ता पंछी, उड़ती कला में उड़ने वाले, सदा अन्तिम फरिश्ता स्वरूप का अनुभव करने वाले, सदा बाप समान कर्मबन्धनों से कर्मातीत, ऐसे मंजिल के समीप श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

सेवाधारियों के प्रति:-

बापदादा सभी निमित्त सेवाधारी बच्चों को किस रूप में देखते हैं? निमित्त सेवाधारी अर्थात् फालो फादर करने वाले। बाप भी सेवाधारी बन करके ही आते हैं ना। जो भी भिन्न-भिन्न रूप हैं, वह हैं तो सेवा के लिए ना! तो बाप का भी विशेष रूप सेवा का है। तो निमित्त सेवाधारी अर्थात् फालो फादर करने वाले। बापदादा हरेक बच्चे को इसी नज़र से देखते हैं। बापदादा के सेवा के कार्य में आदि रत्न हो ना! जन्मते ही बाप ने क्या गिफ्ट में दिया? सेवा ही दी है ना। सेवा की गिफ्ट के आदि रत्न हो। बापदादा सभी की विशेषताओं को जानते हैं। जन्म से वरदान मिलना, यह भी ड्रामा में हीरो पार्ट है। वैसे तो सभी सेवाधारी हैं लेकिन जन्मते ही सेवा का वरदान और आवश्यकता के समय में निमित्त बनना – यह भी किसी-किसी की विशेषता है। जो हैं ही आवश्यकता के समय पर सेवा के साथी, ऐसी आत्मा की आवश्यकता सदा है। अच्छा – सभी में अपनी-अपनी विशेषतायें हैं, अगर एक-एक की विशेषता का वर्णन करें तो कितना समय चाहिए। लेकिन बापदादा के पास हरेक की विशेषता सदा सामने है। कितनी हरेक में विशेषतायें हैं, कभी अपने आपको देखा है? विशेषतायें सबमें अपनी-अपनी हैं लेकिन बापदादा विशेष आत्माओं को एक ही बात बार-बार स्मृति में दिलाते हैं, कौन-सी? जब भी कोई भी सेवा के क्षेत्र में आते हो, प्लैनिंग बनाते हो वा प्रैक्टिकल में आते हो तो सदा बाप समान स्थिति में स्थित होकर फिर कोई भी प्लैन बनाओ और प्रैक्टिकल में आओ। जैसे बाप सबका है, कोई भी नहीं कहेगा कि यह फलाने का बाप है, फलाने का नहीं, सब कहेंगे मेरा बाबा। ऐसे जो निमित्त सेवाधारी हैं, उन्हों की विशेषता यही है कि हरेक महसूस करे, अनुभव करे कि यह हमारे हैं। 4-6 का है, हमारा नहीं, यह नहीं। हमारे हैं, हरेक के मुख से यह आवाज न भी निकले तो भी संकल्प में इमर्ज हो कि यह हमारे हैं – इसको ही कहा जाता है फालो फादर। सबको हमारे-पन की फीलिंग आये। यही पहला स्टैप बाप का है। यही तो बाप की विशेषता है ना। हरेक के मन से निकलता है ”मेरा बाबा।” तेरा बाबा कोई कहता है? तो यह मेरा है बेहद का भाई है या बहन है वा दीदी है दादी है, यही सबके मन से शुभ आशीर्वाद निकले। यह मेरा है क्योंकि चाहे कहीं भी रहते हो लेकिन विशेष आत्मायें तो बेहद की हो ना! निमित्त सेवार्थ कहीं भी रहो लेकिन हो तो बेहद सेवा के निमित्त ना। प्लैन भी बेहद का, विश्व का बनाते हो या हरेक अपने-अपने स्थान का बनाते हो! यह तो नहीं करते ना! बेहद का प्लैन बनाते, देश विदेश सबका बनाते हो ना! तो बेहद की भावना, बेहद की श्रेष्ठ कामना – यह है फालो फादर। अभी यह प्रैक्टिकल अनुभव करो। अभी सब बुजुर्ग हो। बुजुर्ग का अर्थ ही है अनुभवी। अनेक बातों के अनुभवी हो ना! कितने अनुभव हैं! एक तो अपना अनुभव। दूसरा अनेकों के अनुभवों से अनुभवी। अनुभवी आत्मा अर्थात् बुजुर्ग आत्मा। वैसे भी कोई बुजुर्ग होता है तो हद के हिसाब से भी उसको पिताजी, काका जी कहते हैं। ऐसे बेहद के अनुभवी अर्थात् सबको अपनापन महसूस हो।

सहयोगी आत्माओं को तो बापदादा सदा ही सहयोग के रिटर्न में स्नेह देते हैं। सहयोगी हो अर्थात् सदा स्नेह के पात्र हो इसलिए देंगे क्या, सबको स्नेह ही देंगे। सबको फीलिंग आये कि यह स्नेह का भण्डार हैं। हर कदम में, हर नज़र में स्नेह अनुभव हो। यही तो विशेषता है ना! ऐसा कोई प्लैन बनाओ कि हमें क्या करना है। विशेष आत्माओं का विशेष फर्ज क्या है? विशेष कर्म क्या है? जो साधारण से भिन्न हो। चाहे भावना तो समानता की रखनी है लेकिन दिखाई दे यह विशेष आत्मायें हैं। हर कदम में विशेषता अनुभव हो तब कोई मानेंगे विशेष आत्मायें हैं। विशेष आत्मायें अर्थात् विशेष करने वाली। कहने वाली नहीं लेकिन करने वाली। अच्छा।

महावीर बच्चे सदा ही तन्दुरूस्त हैं क्योंकि मन तन्दुरूस्त है, तन तो एक खेल करता है। मन में कोई रोग होगा तो रोगी कहा जायेगा, अगर मन निरोगी है तो सदा तन्दुरूस्त है। सिर्फ शेश शैया पर विष्णु के समान ज्ञान का सिमरण कर हर्षित होते। यही खेल है। जैसे साकार बाप विष्णु समान टांग पर टांग चढ़ाए खेल करते थे ना। ऐसे कुछ भी होता है तो यह भी निमित्त मात्र खेल करते। सिमरण कर मनन शक्ति द्वारा और ही सागर के तले में जाने का चांस मिलता है। जब सागर में जायेंगे तो जरूर बाहर से मिस होंगे। तो कमरे में नहीं हो लेकिन सागर के तले में हो। नये-नये रत्न निकालने के लिए तले में गये हो।

कर्मभोग पर विजय प्राप्त कर कर्मयोगी की स्टेज पर रहना इसको कहा जाता है विजयी रत्न। सदा यही स्मृति रहती कि यह भोगना नहीं लेकिन नई दुनिया के लिए योजना है। फुर्सत मिलती है ना, फुर्सत का काम ही क्या है? नई योजना बनाना। पलंग भी प्लैनिंग का स्थान बन गया।

माताओं के ग्रुप से:-

सभी ऐसा अनुभव करते हो कि तकदीर का सितारा चमक रहा है? जिस चमकते हुए सितारे को देख और आत्मायें भी ऐसा बनने की प्रेरणा लेती रहें, ऐसे सितारे हो ना! कभी सितारे की चमक कम तो नहीं होती है ना! अविनाशी बाप के अविनाशी सितारे हो ना! सदा एक रस हो या कभी उड़ती कला कभी ठहरती कला? सदा उड़ती कला का युग है। उड़ती कला के समय पर कोई चढ़ती कला भी करे तो भी अच्छा नहीं लगेगा। प्लेन की सवारी मिले तो दूसरी सवारी अच्छी लगेगी? तो उड़ती कला के समय वाले नीचे नहीं आओ। सदा ऊपर रहो। पिंजरे के पंछी नहीं, पिंजरा टूट गया है या दो चार लकीरें अभी रही हैं।

तार भी अगर रह जाती है तो वह अपनी तरफ खींचेगी। 10 रस्सी तोड़ दी, एक रस्सी रह गई तो वह भी अपनी तरफ खींचेगी। तो सर्व रस्सियाँ तोड़ने वाले, सब हदें पार करने वाले ऐसे बेहद के उड़ते पंछी, हद में नहीं फंस सकते। 63 जन्म तो हद में फँसते आये। अब एक जन्म हद से निकलो, यह एक जन्म है ही हद से निकलने का, तो जैसा समय वैसा काम करना चाहिए ना। समय हो उठने का और कोई सोये तो अच्छा लगेगा? इसलिए सदा हदों से पार बेहद में रहो। माताओं को अविनाशी सुहाग का तिलक तो लगा हुआ है ना। जैसे लौकिक में सुहाग की निशानी तिलक है, ऐसे अविनाशी सुहाग अर्थात् सदा स्मृति का तिलक लगा हुआ हो। ऐसी सुहागिन सदा भागिन (भाग्यवान) है। कल्प-कल्प की भाग्यवान आत्मायें हो। ऐसा भाग्य जो कोई भाग्य को छीन नहीं सकता। सदा अधिकारी आत्मायें हो, विश्व का मालिक, विश्व का राज्य ही आपका हो गया। राज्य अपना, भाग्य अपना, भगवान अपना इसको कहा जाता है अधिकारी आत्मा। अधिकारी हैं तो अधीनता नहीं।

प्रश्न:- आप बच्चों की कमाई अखुट और अविनाशी है कैसे?

उत्तर:- आप ऐसी कमाई करते हो जो कभी कोई छीन नहीं सकता। कोई गड़बड़ हो नहीं सकती। दूसरी कमाई में तो डर रहता है, इस कमाई को अगर कोई छीनना भी चाहे तो भी आपको खुशी होगी क्योंकि वह भी कमाई वाला हो जायेगा। अगर कोई लूटने आये तो और ही खुश होंगे, कहेंगे लो। तो इससे और ही सेवा हो जायेगी। तो ऐसी कमाई करने वाली श्रेष्ठ आत्मायें हो। अच्छा ! ओम् शान्ति।

वरदान:- सेवा का प्रत्यक्ष फल खाते एवरहेल्दी, वेल्दी और हैपी रहने वाले सदा खुशहाल भव 
जैसे साकार दुनिया में कहते हैं कि ताजा फल खाओ तो तन्दरूस्त रहेंगे। हेल्दी रहने का साधन फल बताते हैं और आप बच्चे तो हर सेकण्ड प्रत्यक्ष फल खाने वाले हो इसलिए यदि आपसे कोई पूछे कि आपका हालचाल क्या है? तो बोलो – हाल है खुशहाल और चाल है फरिश्तों की, हम हेल्दी भी हैं, वेल्दी भी हैं तो हैपी भी हैं। ब्राह्मण कभी उदास हो नहीं सकते।
स्लोगन:- पवित्र आत्मा ही स्वच्छता और सत्यता का दर्पण है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize