today murli 29 october

TODAY MURLI 29 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 October 2018 :- Click Here

29/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become obedient. The Father’s first order is: Consider yourself to be a soul and remember the Father.
Question: Why have the vessels of souls become unclean? What is the way to clean them?
Answer: The vessels of souls have become unclean by listening to and speaking of wasteful matters. In order to clean them, the Father’s orders are: Hear no evil! See no evil! Listen to the one Father. Only remember the one Father and vessels of souls will become clean. Souls and bodies will both become pure.
Song: There are showers of rain on those who are with the Beloved. 

Om shanti. You children have understood the meaning of ‘Om shanti’. Points of knowledge are given to you children again and again, just as you are repeatedly told to remember the Father and the inheritance. Here, you do not remember human beings. Human beings only remind you of human beings or deities. Because no human being knows the parlokik Father, none of them can inspire you to remember Him. Here, you are told again and again: Consider yourself to be a soul and remember the Father. When a father has a son, everyone understands that his son has come to claim his inheritance from his father. The child would remember his father and his inheritance. It is the same here. Certainly the children don’t know the Father, which is why He has to come. This knowledge is showered on the children who are with the Father. The knowledge in the Vedas and scriptures is just the paraphernalia of the path of devotion. Chanting, donating, performing charity, evening prayers, mantras etc. – whatever people do is the paraphernalia of the path of devotion. Sannyasis are also devotees. No one can go to the land of peace without having purity. This is why they leave home and go off somewhere. However, not everyone in the whole world would do that. Their hatha yoga is fixed in the drama. I only come once every cycle to teach you children Raja Yoga. I do not incarnate in any other way. It is said: “Reincarnation of God”. He is the Highest on High. Then, there definitely has to be the reincarnation of the world mother and the world father. In fact, the word ‘reincarnation’ is only applied to the Father. Only the one Father is the Bestower of Salvation but, in fact, everything reincarnates again. Because there is now corruption, it would be said: Corruption has reincarnated; they became corrupt once again. Later, there will be righteousness. Everything reincarnates. It is now the old world, and then the new world will come again. It would be said that after the new world, the old world will come again. The Father sits here and explains all of these things. When you sit in remembrance, always think: I am a soul and I have received instructions from the Father to remember Him. No one, apart from you children, can receive instructions from the Father. Among you children too, some are obedient and others are disobedient. The Father says: O souls, connect your intellects in yoga to Me. The Father speaks to you souls. None of the scholars or pundits would say that they are speaking to souls. They consider each soul to be the Supreme Soul. That is wrong. You children know that Shiv Baba is explaining to you through this body. One cannot act without a body. First of all, you need faith. Unless you have faith, nothing will sit in your intellect. First of all, you need the faith that the Father of souls is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, and that Prajapita Brahma, the Father of People is in the corporeal form. You are Brahma Kumars and Kumaris. All souls are sons of Shiva and so they are called Shiv Kumars, not Shiv Kumaris. You have to imbibe all of these things. It is only when you continue to stay in constant remembrance that you are able to imbibe them. It is only by staying in remembrance that your intellects’ vessels can be cleansed. Because you have been listening to wasteful things, your vessels have become unclean. You have to make them clean. The Father’s instructions are: Remember Me and your intellect will be purified. Alloy has been mixed into souls. Therefore, you now have to become pure. Sannyasis say that souls are immune to the effect of action, whereas the Father says that alloy has been mixed into souls. Both the soul and the body of Shri Krishna are pure, but it is only in the golden age that both are pure; they cannot be pure here. You souls are becoming pure, numberwise. You have not become pure yet. No one has become pure yet. All of you are making effort for this. Everyone’s result will be given, numberwise, at the end. The Father comes and issues this order to all souls: Consider yourselves to be bodiless and remember Me. Become soul conscious. No one but the Father can explain this main thing. If you first of all have full faith in this, you can gain victory. If you do not have faith, you cannot gain victory. “A faithful intellect will be victorious, whereas a doubtful intellect will be led to destruction.” Some words in the Gita are very good. They are called a pinch of salt in a sackful of flour. The Father says: I explain to you the essence of all the Vedas and scriptures. All of those things are from the path of devotion. That too is fixed in the drama. The question of why the path of devotion was created doesn’t arise. This drama is eternally predestined. You have received your inheritance of becoming the masters of heaven from the Father many times in the drama, and you will continue to receive it; it can never end. This cycle rotates eternally. You children are now in the land of sorrow. You are soon to go to the land of peace, and you will go from there to the land of happiness. Then you will go to the land of sorrow. This cycle continues to rotate eternally. It takes you children 5000 years to go from the land of happiness to the land of sorrow and, while doing that, you take 84 births. Only you children take 84 births. Not everyone can take 84 births. The unlimited Father explains this to you children directly. Other children will simply listen to the murli being read, or will read the murli themselves or listen to the tape. Not everyone can listen to the tape. So, first of all, you children have to stay in remembrance as you sit and as you walk etc. People simply turn the beads of a rosary and chant the name of Rama. They speak of the rosary of Rudra. Rudra is God. Then there is the combined bead which represents the dual-form of Vishnu. Who is that? It is the mother and father who become the dual-form of Vishnu, Lakshmi and Narayan. This is why they are called the dual-bead. Shiv Baba is the Tassel, and then the dual-bead is Mama and Baba, who are called the mother and father. Vishnu wouldn’t be called mother and father. Only Lakshmi and Narayan’s children would call them mother and father. People nowadays go in front of anyone and say: You are the Mother and You are the Father. Once someone said this praise, everyone else started to follow it. This is an unrighteous world. The iron age is called the unrighteous world, whereas the golden age is called the righteous world. There, souls and bodies are both pure. In the golden age, Krishna is beautiful and then, by his last birth, that soul has become ugly. Brahma and Saraswati are impure at this time. The soul has become impure and so its jewellery (body) has also become impure (mixed). When gold has alloy mixed with it, the jewellery that is made from it also has alloy mixed with it. When the golden age is governed by the deities, there is nothing that is false or has alloy mixed with it. There, there will be palaces of real gold. Bharat was once the ‘Golden Sparrow’, but it has now become gilded (coated). Only the Father can make this Bharat into such a heaven once again. The Father explains: “Shrimat” means the versions of God. Krishna is a human being with divine virtues; he has two arms and two legs. Lakshmi is shown in those images with four arms and Narayan is also shown with four arms. People don’t understand anything. When they speak of the word “Om”, they say that it means “I am God. Wherever I look, I only see God.” However, that is wrong. “Om” means “I am a soul.” The Father says: I too am a soul, but, because I am the Supreme, I am called the Supreme Soul. I reside in the supreme abode. The Highest on High is God. Then, in the subtle region, there are the souls of Brahma, Vishnu and Shankar. Then, down here, there is this human world. That is the deity world and the other world is the world of souls which is also called the incorporeal world. These matters have to be understood. You children are receiving the donation of the imperishable jewels of knowledge through which you become prosperous and double-crowned in the future. Look at the picture of Shri Krishna: he has both crowns. Then, when that child goes into the moon dynasty, he has two degrees fewer. Then, when he goes into the merchant dynasty, he loses four more degrees and his crown of light no longer remains; only the crown of jewels remains. At that time, whoever gives a lot of donations or performs a lot of charity receives a very good kingdom for one birth. Then, in their next birth, if they donate a lot again, they can receive a kingdom once again. Here, you can claim a kingdom for 21 births, but you do have to make effort. So the Father gives His own introduction. He says: I am the Supreme Soul. This is why He is called the Supreme Father, the Supreme Soul, that is, God. You children remember that Supreme. You are saligrams and He is Shiva. People create a huge lingam of Shiva and saligrams out of clay. No one even knows which souls those memorials represent. Because you children of Shiv Baba make Bharat into heaven, you are worshipped in that form. Then, after you have become deities, you are also worshipped in that form. You do so much service with Shiv Baba that even you saligrams (of clay) are worshipped. It is those who perform the most elevated tasks who are worshipped. Those who perform good tasks in the iron age have memorials built to them. The Father comes every cycle and explains to you the secrets of the world cycle, that is, He makes you swadarshanchakradhari. Vishnu cannot have the swadarshanchakra. He would have become a deity. You are given all of this knowledge now, but when you become Lakshmi and Narayan, you will no longer have this knowledge. Everyone there will have received salvation. You children listen to this knowledge at this time and then claim your kingdom. Once heaven has been established, there is no longer any need for this knowledge. Only when the Father comes does He give the full introduction of the Creator and His creation. Sannyasis defame the mothers, but the Father comes and uplifts the mothers. The Father explains: If it were not for the sannyasis, Bharat would have turned to ashes because everyone is sitting on the pyre of lust. When the deities fall onto the path of sin, there are big earthquakes and everything is swallowed up. No other lands exist at that time. Only Bharat exists at that time. Those of Islam etc. come later on. The things of the golden age do not remain here. The Somnath Temple that you see was not built in heaven. It was built on the path of devotion and was looted by Mahmud Guznavi. However, the palaces of the deities etc. all vanish in the earthquakes. It is not that all the palaces go down below and that the things that have gone down below then come up again. No; they stay underground or disintegrate. If excavations were made at that time, something might be found, but nothing would be found now. These things are not mentioned in the scriptures. Only the one Father is the Bestower of Salvation. First of all, you need this faith. It is in faith that Maya creates obstacles. Some say: How can God come here? Since Shiv Jayanti is celebrated (festival of the birth of Shiva) He must surely have come. The Father has explained: I come at the confluence of the unlimited day and the unlimited night. No one except you children knows at what time I come. The Father has given you this knowledge and has had these pictures made by giving you divine visions. There is some mention of the kalpa tree in the Gita. He says to the children: You and I exist now. We also existed a cycle ago and we will continue to meet cycle after cycle. I will give you this knowledge every cycle. This too proves the cycle. However, only you, and no one else, can understand this. Look at this picture of the whole cycle. Someone must definitely have had it created. The Father explains this, but you children also have to use this picture and explain it. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In every aspect, the basis of victory is faith. Therefore, become those whose intellects have faith. Never doubt the Father, the Bestower of Salvation.
  2. In order to purify and cleanse your intellect, practise becoming bodiless. Do not speak of or listen to wasteful things.
Blessing: May you become volcanic in your Shakti form and give the experience of your spirituality.
Until now there has been the attraction of the Father, the Flame. His task and the children’s task is being carried out in an incognito way. However, when you stabilize yourselves in your Shakti form, the souls who come into contact with you will experience your spirituality. Those who say, “This is good, this is good”, will be inspired to become good when you all collectively become the volcanic form and lighthouse s. When you master almighty authorities come onto this stage, everyone will circle around you like moths.
Slogan: Those who heat their physical senses in the fire of yoga become completely pure.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 October 2018

To Read Murli 28 October 2018 :- Click Here
29-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – आज्ञाकारी बनो, बाप की पहली आज्ञा है – अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो”
प्रश्नः- आत्मा रूपी बर्तन अशुद्ध क्यों हुआ है? उसको शुद्ध बनाने का साधन क्या है?
उत्तर:- वाह्यात बातों को सुनते और सुनाते आत्मा रूपी बर्तन अशुद्ध बन गया है। इसको शुद्ध बनाने के लिए बाप का फ़रमान है हियर नो ईविल, सी नो ईविल…….. एक बाप से सुनो, बाप को ही याद करो तो आत्मा रूपी बर्तन शुद्ध हो जायेगा। आत्मा और शरीर दोनों पावन बन जायेंगे।
गीत:- जो पिया के साथ है……… 

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ तो बच्चों ने समझा हुआ है। बच्चों को घड़ी-घड़ी प्वाइन्ट्स दी जाती हैं। जैसे घड़ी-घड़ी कहा जाता है बाप और वर्से को याद करो। यहाँ कोई मनुष्य की याद नहीं है। मनुष्य, मनुष्य की वा किसी देवता की याद दिलायेंगे। पारलौकिक बाप की याद कोई दिला न सके क्योंकि बाप को कोई जानते नहीं। यहाँ तुमको घड़ी-घड़ी कहा जाता है अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। जैसे बाप को बच्चे होते हैं तो सब समझ सकते हैं यह बाप से वर्सा लेने आया है। फिर उनको बाप और वर्सा याद रहता है। यहाँ भी ऐसे है। जरूर बच्चे बाप को जानते नहीं हैं इसलिए बाप को आना पड़ता है। जो बाप के साथ हैं उन्हों के लिए यह ज्ञान बरसात है। वेद शास्त्रों में जो ज्ञान है वह सब है भक्ति मार्ग की सामग्री। जप, तप, दान, पुण्य, संध्या, गायत्री आदि जो कुछ करते हैं वह सब है भक्ति मार्ग की सामग्री। सन्यासी भी भक्त हुए। पवित्रता बिगर कोई शान्तिधाम में जा नहीं सकते इसलिए वह घरबार छोड़ जाते हैं। परन्तु सारी दुनिया तो ऐसे नहीं करेगी। उन्हों के इस हठयोग की भी ड्रामा में नूँध है। तुम बच्चों को राजयोग सिखलाने कल्प-कल्प एक ही बार आता हूँ। मेरा और कोई अवतार होता नहीं है। रीइनकारनेशन आफ गॉड। वह हुआ ऊंच ते ऊंच। फिर रीइनकारनेशन आफ जगत अम्बा और जगत पिता भी जरूर होने चाहिए। वास्तव में रीइनकारनेशन अक्षर सिर्फ बाप से ही लगता है। सद्गति दाता एक ही बाप है। यूँ तो हर एक चीज़ फिर से रीइनकारनेट होती है। जैसे अभी भ्रष्टाचार है तो कहेंगे भ्रष्टाचार रीइनकारनेट हुआ है। फिर से भ्रष्टाचार हुआ है, फिर से श्रेष्ठाचार आयेगा। रीइनकारनेट तो हर चीज़ का होता है। अभी पुरानी दुनिया है फिर नई दुनिया आयेगी। नई दुनिया के बाद कहेंगे फिर से पुरानी दुनिया आनी है। यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। जब यहाँ बैठते हो तो हमेशा ऐसे समझो – मैं आत्मा हूँ, मुझे बाप का फ़रमान मिला हुआ है मुझे याद करो। बच्चों के सिवाए तो और कोई को बाप का फ़रमान मिल न सके। फिर बच्चों में कोई तो आज्ञाकारी होते हैं, कोई आज्ञा न मानने वाले भी होते हैं। बाप कहते हैं – हे आत्मायें, तुम मेरे साथ बुद्धि का योग लगाओ। बाप आत्माओं से बात करते हैं, और कोई विद्धान-पण्डित आदि ऐसे नहीं कहेंगे कि मैं आत्माओं से बात करता हूँ। वह तो आत्मा सो परमात्मा समझ लेते हैं। वह है रांग। तुम बच्चे जानते हो कि शिवबाबा इस शरीर द्वारा हमें समझा रहे हैं। शरीर बिगर तो एक्ट हो न सके। पहले-पहले तो यह निश्चय चाहिए। निश्चय बिगर तो कुछ भी बुद्धि में नहीं बैठेगा। पहले निश्चय चाहिए कि हम आत्माओं का बाप वह निराकार परमपिता परमात्मा है और साकार में है प्रजापिता ब्रह्मा, हम हैं ब्रह्माकुमार-कुमारियां। शिव के तो सब आत्मायें बच्चे हैं इसलिए शिवकुमार कहेंगे, कुमारी नहीं। यह सब बातें धारण करनी है। धारणा तब होगी जब निरन्तर याद करते रहेंगे। याद करने से ही बुद्धि रूपी बर्तन शुद्ध होगा। वाह्यात बातें सुनते-सुनते बर्तन अशुद्ध बन गया है, उसको शुद्ध बनाना है। बाप का फ़रमान है मुझे याद करो तो तुम्हारी बुद्धि पवित्र होगी। तुम्हारी आत्मा में खाद पड़ गई है, अब पवित्र बनना है। सन्यासी कहते हैं आत्मा निर्लेप है। बाप कहते हैं आत्मा में ही खाद पड़ी है। श्रीकृष्ण की आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं। दोनों पवित्र सिर्फ सतयुग में ही होते हैं। यहाँ तो हो नहीं सकते। तुम आत्मायें नम्बरवार पवित्र होती जा रही हो। अभी पवित्र बनी नहीं है। कोई भी पवित्र नहीं है। सब पुरुषार्थ कर रहे हैं। अन्त में नम्बरवार सबकी रिजल्ट निकलेगी।

बाप आकर सभी आत्माओं को फ़रमान करते हैं कि मुझे याद करो, अपने को अशरीरी समझो, देही-अभिमानी बनो। मूल यह बात बाप बिगर कोई समझा नहीं सकते। पहले यह पूरा निश्चय होगा तो विजय पायेंगे, निश्चय नहीं होगा तो विजय नहीं पायेंगे। निश्चय बुद्धि विजयन्ती, संशय बुद्धि विनशयन्ती। गीता में कोई-कोई अक्षर बहुत अच्छे हैं। इसको कहा जाता है आटे में नमक। बाप कहते हैं मैं तुमको सभी वेदों शास्त्रों का सार समझाता हूँ कि इनमें क्या-क्या है? यह सब हैं भक्तिमार्ग के रास्ते। इनकी भी ड्रामा में नूँध है। यह प्रश्न नहीं उठ सकता कि यह भक्तिमार्ग क्यों बनाया हुआ है? यह तो अनादि बना बनाया ड्रामा है। तुमने भी इस ड्रामा में बाप से स्वर्ग के मालिक बनने का वर्सा अनेक बार लिया है और लेते रहेंगे। कभी अन्त नहीं हो सकता। यह चक्र अनादि फिरता ही रहता है। तुम बच्चे अभी दु:खधाम में हो फिर शान्तिधाम में जायेंगे, शान्तिधाम से सुखधाम में जायेंगे फिर दु:खधाम में आयेंगे – यह अनादि चक्र चलता ही रहता है। सुखधाम से दु:खधाम आने में तुम बच्चों को 5 हजार वर्ष लगते हैं। जिसमें तुम 84 जन्म लेते हो। सिर्फ तुम बच्चे ही 84 जन्म लेते हो, सब नहीं ले सकते। यह बेहद का बाप तुमको डायरेक्ट समझा रहे हैं, और बच्चे फिर मुरली सुनेंगे वा पढ़ेंगे या टेप सुनेंगे। टेप भी सब नहीं सुन सकते। तो पहले-पहले तुम बच्चों को उठते-बैठते इस याद में रहना है। मनुष्य तो माला फेरते राम-राम जपते हैं। रुद्राक्ष की माला कहते हैं ना। अब रुद्र तो है भगवान्। फिर इस माला में मेरु दाना इकट्ठा है। वह तो विष्णु के युगल स्वरूप हैं। वह कौन हैं? यह मात-पिता जो फिर विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बनते हैं इसलिए इनको मेरु कहा जाता है। फूल है शिवबाबा फिर मेरु यह मम्मा-बाबा जिनको मात-पिता कहते हो। विष्णु को मात-पिता नहीं कह सकेंगे। लक्ष्मी-नारायण को मात-पिता तो उनके बच्चे ही कहेंगे। आजकल तो सबके आगे जाकर कहते हैं त्वमेव माताश्च पिता….. बस, कोई एक ने महिमा की तो उनके पीछे फालो करने लग पड़ते। यह है ही अनराइटियस दुनिया। कलियुग को कहा जाता है अनराइटियस, सतयुग को कहा जाता है राइटियस। वहाँ आत्मा और शरीर दोनों पवित्र होते हैं। सतयुग में कृष्ण गोरा है, फिर अन्तिम जन्म में उनकी आत्मा सांवरी बनी है। यह ब्रह्मा-सरस्वती इस समय सांवरे हैं ना। आत्मा काली बन गई है तो उनका जेवर भी काला बन गया है। सोने में ही खाद पड़ती है, उससे जेवर भी जो बनता है वह खाद वाला। सतयुग में जब देवी-देवताओं की गवर्मेन्ट है तो यह झूठ (खाद) होती नहीं। वहाँ तो सोने के महल बनते है। भारत सोने की चिड़िया था, अभी तो मुलम्मा है। ऐसे भारत को फिर से स्वर्ग बाप ही बना सकते हैं।

बाप समझाते हैं, श्रीमत भगवानुवाच है ना। कृष्ण तो दैवीगुणों वाला है, दो भुजा, दो टांग वाला है। चित्रों में तो कहाँ नारायण को, कहाँ लक्ष्मी को 4 भुजायें दी हैं। समझते कुछ भी नहीं। ‘ओम्’ अक्षर भी कहते हैं, ओम् का अर्थ बताते हैं – ओम् माना मैं गॉड, जिधर देखता हूँ गॉड ही गॉड है। परन्तु यह तो रांग है। ओम् माना अहम् आत्मा। बाप भी कहते हैं अहम् आत्मा परन्तु मैं सुप्रीम हूँ इसलिए मुझे परमात्मा कहा जाता है। मैं परमधाम में रहता हूँ। ऊंचे ते ऊंच भगवान् फिर सूक्ष्मवतन में ब्रह्मा-विष्णु-शंकर की आत्मा है। फिर नीचे आओ तो यह मनुष्य लोक है। वह दैवी लोक, वह आत्माओं का लोक जिसको मूलवतन कहा जाता है। यह बातें समझने की हैं। तुम बच्चों को यह अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान मिलता है जिससे तुम भविष्य में मालामाल डबल सिरताज बनते हो। देखो, श्रीकृष्ण को दोनों ताज है ना। फिर वही बच्चा चन्द्रवंशी में आता है तो दो कला कम हो जाती हैं। फिर वैश्य वंशी में आयेंगे तो और 4 कला कम हो जायेगी। फिर लाइट का ताज उड़ जायेगा। बाकी रत्न जड़ित ताज रहेगा। फिर जो अच्छा दान-पुण्य करते हैं, उनको एक जन्म के लिये अच्छी राजाई मिलती है। फिर दूसरे जन्म में भी अच्छा दान-पुण्य किया तो फिर भी राजाई मिल सकती है। यहाँ तो तुम 21 जन्मों के लिए राजाई पा सकते हो, मेहनत करनी पड़ती है। तो बाप अपना परिचय देते हैं, कहते हैं – आई एम सुप्रीम सोल इसलिए उनको परमपिता परम आत्मा अर्थात् परमात्मा कहा जाता है। तुम बच्चे उस सुप्रीम को याद करते हो। तुम हो सालिग्राम, वह है शिव। शिव का बड़ा लिंग और सालिग्राम मिट्टी के बनाते हैं। यह कौन सी आत्माओं का यादगार बनाते हैं, यह भी कोई नहीं जानते। तुम शिवबाबा के बच्चे भारत को स्वर्ग बनाते हो इसलिए तुम्हारी पूजा होती है। फिर तुम देवता बनते हो तब भी तुम्हारी पूजा होती है। शिवबाबा के साथ तुम इतनी सर्विस करते हो इसलिए सालिग्रामों की भी पूजा होती है। जो उत्तम से उत्तम कर्तव्य करते हैं, उन्हों की पूजा होती है और कलियुग में जो अच्छा काम करते है उन्हों का यादगार बनाते हैं। कल्प-कल्प बाप तुम बच्चों को सारे सृष्टि चक्र का राज़ समझाते है अर्थात् तुमको स्वदर्शन चक्रधारी बनाते हैं। स्वदर्शन चक्र विष्णु को नहीं हो सकता, वह तो देवता बन गया। यह ज्ञान सारा तुमको है। फिर लक्ष्मी-नारायण बनेंगे तो यह ज्ञान नहीं रहेगा। वहाँ तो सब सद्गति में हैं। तुम बच्चे यह ज्ञान अभी ही सुनते हो फिर राजाई पा लेते हो। स्वर्ग की स्थापना हो गई फिर ज्ञान की दरकार नहीं रहती।

बाप ही आकर अपना और रचना का पूरा परिचय देते हैं। सन्यासियों ने माताओं की निंदा की है, परन्तु बाप आकर माताओं को उठाते हैं। बाप यह भी समझाते हैं कि यह सन्यासी न होते तो भारत काम चिता पर बैठ एकदम ख़ाक हो जाता। जब देवी-देवता वाम मार्ग में गिरते हैं तो उस समय अर्थक्वेक बड़ी जोर की होती है फिर सब नीचे चला जाता है। और खण्ड आदि तो होते नहीं, भारत ही होता है। इस्लामी आदि तो पीछे आते हैं तो फिर वह सतयुग की चीजें यहाँ रहती नहीं। तुम जो सोमनाथ का मन्दिर देखते हो वह कोई वैकुण्ठ का नहीं है। यह तो भक्ति मार्ग में बना है, जिसको मुहम्मद गज़नवी आदि ने लूटा। बाकी देवताओं के महल आदि सब अर्थक्वेक में गायब हो जाते हैं। ऐसे नहीं कि महल के महल नीचे गये हैं वही फिर ऊपर आ जायेंगे। नहीं, वह तो अन्दर ही टूट फूट सड़ जाते हैं। फिर उसी समय खोदते हैं तो कुछ न कुछ मिलता है। अभी तो कुछ भी नहीं मिलता है। शास्त्रों में कोई यह बातें नहीं हैं। सद्गति दाता है ही एक बाप। पहले-पहले तो यह निश्चय चाहिए। निश्चय में ही माया विघ्न डालती है। कहते हैं भगवान् कैसे आयेगा? अरे, शिव जयन्ती है तो जरूर आये होंगे। बाप ने समझाया है मैं बेहद के दिन और बेहद की रात के संगम पर आता हूँ। यह कोई नहीं जानते कि किस समय आता हूँ? तुम बच्चे जानते हो। बाप ने ही यह नॉलेज दी है और दिव्य दृष्टि से यह चित्र आदि बनवाये हैं। गीता में भी कल्प वृक्ष का कुछ वर्णन है। बच्चों को कहते हैं हम तुम अभी हैं, कल्प पहले भी थे और फिर कल्प-कल्प मिलते रहेंगे। मैं कल्प-कल्प तुमको यह ज्ञान दूँगा। तो चक्र भी सिद्ध होता है। परन्तु तुम्हारे सिवाए कोई समझ न सके। यह सारे सृष्टि चक्र का चित्र है, जरूर कोई ने बनवाया है। बाप भी इस पर, बच्चे भी इस पर समझाते है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हर बात में विजय का आधार निश्चय है इसलिए निश्चयबुद्धि जरूर बनना है। सद्गति दाता बाप में कभी संशय नहीं उठाना है।

2) बुद्धि को पवित्र वा शुद्ध बनाने के लिए अशरीरी बनने का अभ्यास करना है। वाह्यात (व्यर्थ) बातें न सुननी है, न सुनानी है।

वरदान:- अपने शक्ति स्वरूप द्वारा अलौकिकता का अनुभव कराने वाले ज्वाला रूप भव
अभी तक बाप शमा की आकर्षण है, बाप का कर्तव्य चल रहा है, बच्चों का कर्तव्य गुप्त है। लेकिन जब आप अपने शक्ति स्वरूप में स्थित होंगे तो सम्पर्क में आने वाली आत्मायें अलौकिकता का अनुभव करेंगी। अच्छा-अच्छा कहने वालों को अच्छा बनने की प्रेरणा तब मिलेगी जब संगठित रूप में आप ज्वाला स्वरूप, लाइट हाउस बनेंगे। मास्टर सर्वशक्तिमान् की स्टेज, स्टेज पर आ जाए तो सभी आपके आगे परवाने समान चक्र लगाने लग जायें।
स्लोगन:- अपनी कर्मेन्द्रियों को योग अग्नि में तपाने वाले ही सम्पूर्ण पावन बनते हैं।

TODAY MURLI 29 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 October 2017 :- Click Here

29/10/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
21/02/83

The Power of Silence

Today, at amrit vela, BapDada went on a tour to see all His children everywhere. Whilst on the tour, BapDada looked at the preparations made by the Shakti and Pandav armies to see to what extent the armies have become ever ready and powerful with all the weapons. Are you waiting for the time or are you making preparations to keep yourselves constantly full? Therefore, today, BapDada, the Army General, went to see the armies. The main thing is: The power of silence is victorious over the power of science Baba was seeing to what extent you have attained the power of silence both collectively and individually. With the practical fruit of the power of silence to what extent are you able to or have already transformed yourself, the atmosphere, your attitude and sanskars? Today, Baba checked the power of silence in the laboratory of all you soldiers in the armies to see how much you are able to experiment.

It is necessary to maintain self-awareness and also to speak knowledge but, according to the present time, all souls want to see some visible fruit. They want to see some visible fruit, which means the practical proof. Therefore, you experiment on your body using the power of silence. In the same way, souls of the world want to see to what percentage you are able to experiment with the mind, with actions, with relations and contacts. All Brahmin souls want to experience themselves to constantly be the most special of all special souls in the form of visible proof. The result, according to the importance of the power of silence, is that there is less systematic experimentation with this power. There is great desire and there is also knowledge, but you must now continue to move forward by experimenting. Whilst experiencing the refined attainment of the power of silence, and using it for yourself and others, you now have to pay more attention to this. Souls of the world and souls who come into contact and relationship with you have to realise that they are receiving rays of peace from this special soul or special souls. All of you should give the experience of being a mobile sacred place of peace (shantikund). Within your creation, a tiny firefly, is able to give the experience of light from a distance, so that anyone who sees it, even from a distance, would say that it is a firefly coming and going. In the same way, let their intellects experience an incarnation of peace coming to give them peace. All the peaceless souls everywhere should be drawn to the sacred place of peace on the basis of the rays of peace. Just as a thirsty person is automatically drawn to water, in the same way, let souls be drawn to you souls who are incarnations of peace. Now, experiment with this power of silence even more. The power of silence can enable your thoughts to reach other souls even faster than a wireless. The power of science is able to bring about transformation, growth, destruction, creation, upheaval and also give comfort. However, the special tool for the power of silence is a pure thought. With this tool, you are able to see the successful form of whatever you want. First of all, experiment with this on yourself. Experiment with any illness of the body. Then, with the power of silence, any form of karmic bondage will be transformed into the form of a sweet relationship. Bondage is always bitter, whereas a relationship is sweet. With the power of silence, this suffering of karma, the bitter bondage of karma, will be experienced as a line drawn on water. You won’t have any feeling of being one who is suffering, of being one who is going through that suffering, but you will continue to see that scene of karmic accounts as a detached observer. It is because of the double illness – that of the body together with the weakness of the mind – that it becomes visible as a very severe form of suffering. However, you will experience double power by becoming totally detached and loving to the Father. This double power will then enable you to be victorious over the power of any karmic account. No matter how severe the illness is, there won’t be any experience of pain or suffering. You refer to this in other words as experiencing a crucifix to be a thorn. Experiment in this way at such a time and see for yourself! Some children do do this. You should continue to experience this with your body, mind and sanskars and continue to move forward. Research it in this way. Don’t look at one another and ask: “What is this one doing?” “What did this one do?” Don’t look at whether the older ones are doing it or not, that the older ones don’t do it but the younger ones do – don’t look at any of that. Go ahead in the experience of “I first”, because this is a matter of your own internal efforts. When you engage yourself in experimenting in this way by yourself and continue to move forward, then the combined power of silence of each one will create an impact on the world. You have now taken the first step and given an invitation for the World Peace Conference. However, only when the treasure of the power of silence is revealed collectively will you receive invitations: “O incarnation of peace and incarnation of power, come to this place of peacelessness and give us peace!” Nowadays, in service, whenever there is an occasion of peacelessness (on someone’s death), people invite you to come and give peace. It is gradually becoming more and more well known that only the Brahma Kumaris can give peace. In this way, you will receive invitations for every situation of peacelessness. Just as during an illness you don’t remember anyone but your doctor, so too, no one, except you incarnations of peace, will be visible in any type of situation of peacelessness. Therefore, now, the Shakti Army and the Pandav Army, should especially experiment with the power of silence. Experiment with this and demonstrate it to others. Reveal the source of the power of silence. Do you understand what you have to do?

Nowadays, in the name of the double-foreign children, even all the other children continue to receive treasures. Wherever all of you children have come from, BapDada is pleased to see the deep love of all the children everywhere. BapDada is seeing all the children who have come from all the different countries of all five continents. All of you have performed wonders. You have all brought about the practical form of the effort that you aimed for. How many VIPs came from abroad in total? (75). And, how many VIPs came from Bharat? (700) Bharat has a very good speciality in the form of journalists, and, 75 coming from abroad is not a small thing! Many have come. Next year, many more will come. The gate for coming has now opened. Earlier, the teachers from abroad used to say that it was very difficult to bring VIPs from abroad; that no such people were visible. Now you have seen them. Let there be obstacles! If there were no obstacles (vighan) in the task of Brahmins, there couldn’t be that fire of love (lagan). Otherwise, you would become careless. This is why, according to the drama, obstacles come to increase your love. Many will now receive that enthusiasm when they hear the sound from each one individually.

Children have performed very good wonders. You have shown very good proof of service. You have become instruments to give them a chance for service. The sound of one has easily spread to others. Those from America have worked very hard. You maintained courage well. According to the drama, it was those from abroad who brought the instrument who would spread the most sound of all. The children from Bharat also made very good efforts and, as a result of those efforts, a good number of people have come. Now, the special souls of Bharat will also come. Achcha.

To all the children who have come from abroad and to all the children from everywhere in Bharat, to all those who have the one special pure thought of hoisting the flag of the Father’s revelation in every corner of the world, to those who have such pure thoughts, to the world-transformer, world-benefactor souls, to the most elevated souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

Having come to the land of blessings, have you taken blessings? To experience the self to be constantly with the Father is to receive the greatest blessing of all from the Father. To be constantly in remembrance of the Father means to stay constantly with Him. You will then be constantly happy. Whenever any thoughts about a situation come take the Father’s company and everything will end and you will continue to dance in happiness. Therefore, always remember this method of remaining constantly happy and also continue to show others this method. Also give others the means to remain happy. All souls will then consider you to be a deity of happiness because the world today needs happiness the most. Continue to give that. Remember your title of being a deity of happiness.

You will continue to receive blessings from the Father by having a balance of remembrance and service. Maintaining a balance is the greatest art. When you have a balance in everything you easily become number one. It is this balance that will give visions of a blissful life. By constantly being aware of keeping a balance, and experiencing all attainments, you yourself will move forward and you will also help others move forward. Constantly maintain the awareness that you are the souls who have been remembered as the handful out of multimillions, those who know the Father and have attained the Father. Stay in this happiness and your faces will become mobile service centres. Just as people come to a service centre to receive the Father’s introduction, so too, they will continue to receive the Father’s introduction from your cheerful face. BapDada considers every child to be worthy in this way. So many service centres have been created! Therefore, always remember that whilst walking, moving around, eating and drinking, you just have to do the Father’s service through your face and behaviour. You will then easily become constant yogis. You children have been giving co-operation with your zeal and enthusiasm for service from the beginning. BapDada will also give co-operation to you souls for 21 births and keep you comfortable. You will not have to make effort but will eat, drink and enjoy your fortune of the kingdom of heaven. For half the cycle, the word “effort” won’t exist. You have come to create such fortune!

BapDada meeting kumars:

Kumars have a lot of energy in their lives; they can do what they want. This is why BapDada is especially pleased to see the kumars, because you use your energy for the task of construction instead of for destruction. Each and every one of you kumars is using your energy for making the world new. You are carrying out such an elevated task! One kumar can carry out ten tasks. Therefore, BapDada is proud of you kumars for how you have made your kumar lives worthwhile. You are such special souls, are you not? You have made a decision for your life at a very good time. You haven’t made a mistake in taking this decision, have you? You are sure, are you not? What if someone were to pull you, saying that this is wrong? Even if the unlimited souls of the world stay on one side and only you are on the other side, what would happen? You say, “I am not alone, but the Father is with me!” BapDada is happy that you have created your lives and have become instruments for many others to create their lives.

Whilst giving a response of the letters, BapDada recorded a message for all the children. BapDada heard, not just the letters, but also all the sweet melodious sounds of the songs of the hearts of all the long-lost and now-found, loving, co-operative and serviceable children. The more you children remember Baba from your heart, so BapDada remembers you children multimillions times more. He makes you emerge and gives you love and feeds you toli. Even now, the toli is in front of you. Now, you children are in front of the Father, the cake is being cut, all of you children are eating that cake. BapDada heard all the news of the stage and of service of all the children. All of you have good zeal and enthusiasm for service. Whatever little obstacles of Maya you face now they are nothing new! Maya just comes to give you a test paper. Don’t be afraid of Maya. Consider her to be a toy and play with her and she won’t attack you. Instead, she will bid you farewell and go to sleep comfortably. Therefore, don’t think too much about what happened. It happened, and so put a full stop and whatever else remains to be done, fulfil that multimillion-fold. Continue to move forward and enable others to move forward. BapDada is with you, and Maya’s games will no longer work. Therefore, don’t be afraid. Dance and sing in happiness! Your kingdom is now about to come. O souls, who have a right to self-sovereignty, your fortune of the kingdom of the world is waiting for you! Achcha.

BapDada is giving all of you lots and lots of love and remembrance and a blessing for you to be free from obstacles. BapDada is also remembering the children who have not been able to come here due to a lack of money. Although you have little money, you are emperors because what the kings of today don’t have, you souls have accumulated eternally and that is for birth after birth. BapDada is giving lots of love and remembrance to such emperors of the land without sorrow and the emperors of the future world. Such children are here with their hearts and there with their bodies. This is why BapDada gives personal love and remembrances on seeing all the children to be personally in front of Him. Achcha. Om Shanti.

Blessing: May you be a world transformer who orders matter with your stage of perfection.
When you world-transformer souls collectively have the thought of world transformation with your complete and perfect stage, matter will then begin the dance of complete upheaval. The upheaval of air, earth, ocean and fire will cleanse everything. However, matter will accept your order swhen your own co-operative physical senses – the mind, intellect and sanskars – accept your orders. Along with this, have such a high stage of powerful tapasya that everyone has the collective thought for transformation – and matter will then become present in front of you.
Slogan: Constantly continue to remind others of God and create the fortune of others through your elevated fortune.

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 27 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 28 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
29/10/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
21-02-83

शान्ति की शक्ति

आज बापदादा अमृतवेले चारों ओर बच्चों के पास चक्कर लगाने गये। चक्कर लगाते हुए बापदादा आज अपनी शक्ति सेना वा पाण्डव सेना सभी की तैयारी देख रहे थे कि कहाँ तक सेना शक्तिशाली शस्त्रधारी एवररेडी हुई है। समय का इंतजार है वा स्वयं सदा ही सम्पन्न रहने का इंतजाम करने वाली है। तो आज बापदादा सेनापति के रूप में सेना को देखने गये। विशेष बात, साइन्स की शक्ति पर साइलेन्स के शक्ति की विजय है। तो साइलेन्स की शक्ति संगठित रूप में और व्यक्तिगत रूप में कहाँ तक प्राप्त कर ली है? वह देख रहे थे। साइलेन्स की शक्ति द्वारा प्रत्यक्ष फल रूप में स्व परिवर्तन वायुमण्डल परिवर्तन, वृत्ति परिवर्तन, संस्कार परिवर्तन कहाँ तक कर सकते हैं वा किया है? तो आज सेना के हरेक सैनिक की साइलेन्स के शक्ति की प्रयोगशाला चेक की, कि कहाँ तक प्रयोग कर सकते हैं?

स्मृति में रहना, वर्णन करना वह भी आवश्यक है लेकिन वर्तमान समय के प्रमाण सर्व आत्मायें प्रत्यक्षफल देखना चाहती हैं। प्रत्यक्षफल अर्थात् प्रैक्टिकल प्रूफ देखने चाहती हैं। तो तन के ऊपर साइलेन्स की शक्ति का प्रयोग करते हैं। ऐसे ही मन के ऊपर, कर्म के ऊपर, सम्बन्ध सम्पर्क में आने से सम्बन्ध सम्पर्क में क्या प्रयोग होता है, कितनी परसेन्टज में होता है – यह विश्व की आत्मायें भी देखने चाहती हैं। हरेक ब्राहमण आत्मा भी स्व में प्रत्यक्ष प्रूफ के रूप में सदा विशेष से विशेष अनुभव करने चाहती है। रिजल्ट में साइलेन्स की शक्ति का जितना महत्व है, उतना उसे विधि पूर्वक प्रयोग में लाने में अभी कम है। चाहना बहुत है, नॉलेज भी है लेकिन प्रयोग करते हुए आगे बढ़ते चलो। साइलेन्स शक्ति के प्राप्ति की महीनता अनुभव करते स्व प्रति वा अन्य प्रति कार्य में लगाना, उसमें अभी और विशेष अटेन्शन चाहिए। विश्व की आत्माओं वा सम्बन्ध, सम्पर्क में आने वाली आत्माओं को महसूसता हो कि शान्ति की किरणें इन विशेष आत्मा वा विशेष आत्माओं द्वारा मिल रही हैं। हरेक से चलता फिरता ”शान्ति यज्ञ कुण्ड” का अनुभव हो। जैसे आपकी रचना में छोटा सा फायरफ्लाई दूर से ही अपनी रोशनी का अनुभव कराता है। दूर से ही देखते सब कहेंगे यह फायरफ्लाई आ रहा है, जा रहा है। ऐसे इस बुद्धि द्वारा अनुभव करें कि यह शान्ति का अवतार शान्ति देने आ गया है। चारों ओर की अशान्त आत्मायें शान्ति की किरणों के आधार पर शान्ति कुण्ड की तरफ खिंची हुई आवें। जैसे प्यासा पानी की तरफ स्वत: ही खिंचता हुआ जाता है। ऐसे आप शान्ति के अवतार आत्माओं की तरफ खिंचे हुए आवें। इसी शान्ति की शक्ति का अभी और अधिक प्रयोग करो। शान्ति की शक्ति वायरलेस से भी तेज आपका संकल्प किसी भी आत्मा प्रति पहुंचा सकती है। जैसे साइन्स की शक्ति परिवर्तन भी कर लेती, वृद्धि भी कर लेती है, विनाश भी कर लेती, रचना भी कर लेती, हाहाकार भी मचा देती और आराम भी दे देती। लेकिन साइलेन्स की शक्ति का विशेष यंत्र है – ‘शुभ संकल्प’ इस संकल्प के यंत्र द्वारा जो चाहो वह सिद्धि स्वरूप में देख सकते हो। पहले स्व के प्रति प्रयोग करके देखो। तन की व्याधि के ऊपर प्रयोग करके देखो, तो शान्ति की शक्ति द्वारा कर्मबन्धन का रूप, मीठे सम्बन्ध के रूप में बदल जायेगा। बन्धन सदा कडुवा लगता है, सम्बन्ध मीठा लगता है। यह कर्मभोग – कर्म का कड़ा बन्धन साइलेन्स की शक्ति से पानी की लकीर मिसल अनुभव होगा। भोगने वाला नहीं, भोगना भोग रही हूँ यह नहीं, लेकिन साक्षी दृष्टा हो इस हिसाब किताब का दृश्य भी देखते रहेंगे इसलिए तन के साथ-साथ मन की कमजोरी, डबल बीमारी होने के कारण जो कड़े भोग के रूप में दिखाई देता है, वह अति न्यारा और बाप का प्यारा होने के कारण डबल शक्ति अनुभव होने से कर्मभोग के हिसाब की शक्ति के ऊपर वह डबल शक्ति विजय प्राप्त कर लेगी। बीमारी चाहे कितनी भी बड़ी हो लेकिन दु:ख वा दर्द का अनुभव नहीं करेंगे। जिसको दूसरी भाषा में आप कहते हो कि सूली से कांटे के समान अनुभव होगा। ऐसे टाइम में प्रयोग करके देखो। कई बच्चे करते भी हैं। इसी प्रकार से तन पर, मन पर, संस्कार पर अनुभव करते जाओ और आगे बढ़ते जाओ। यह रीसर्च करो, इसमें एक दो को नहीं देखो। यह क्या करते, इसने कहाँ किया है। पुराने करते वा नहीं करते, बड़े नहीं करते छोटे करते, यह नहीं देखो। पहले मैं इस अनुभव में आगे आ जाऊं क्योंकि यह अपने आन्तरिक पुरूषार्थ की बात है। जब ऐसे व्यक्तिगत रूप में इसी प्रयोग में लग जायेंगे, वृद्धि को पाते रहेंगे तक एक एक के शान्ति की शक्ति का संगठित रूप में विश्व के सामने प्रभाव पड़ेगा। अभी फर्स्ट स्टैप विश्व शान्ति की कानफ्रेंस कर निमंत्रण दिया लेकिन शान्ति की शक्ति का पुंज जब सर्व के संगठित रूप में प्रख्यात होगा तो आपको निमंत्रण आयेंगे कि हे शक्ति, शान्ति के अवतार इस अशान्ति के स्थान पर आकर शान्ति दो। जैसे सेवा में अभी भी जहाँ अशान्ति का मौका (मृत्यु) होता है तो आप लोगों को बुलाते हैं कि आओ आकर शान्ति दो। और यह धीरे-धीरे प्रसिद्ध भी होता जा रहा है कि ब्रहमाकुमारियाँ ही शान्ति दे सकती हैं। ऐसे हर अशान्ति के कार्य में आप लोगों को निमंत्रण आयेंगे। जैसे बीमारी के समय सिवाए डाक्टर के कोई याद नहीं आता, ऐसे अशान्ति के कोई भी बातों में सिवाए आप शान्ति अवतारों के और कोई दिखाई नहीं देगा। तो अभी शक्ति सेना, पाण्डव सेना, विशेष शान्ति की शक्ति का प्रयोग करो। प्रयोग करके दिखाओ। शान्ति की शक्ति का केन्द्र प्रत्यक्ष करो। समझा क्या करना है।

आजकल तो डबल विदेशी बच्चों के निमित्त सभी बच्चों को भी खजाना मिलता रहता है। जहाँ से भी जो सभी बच्चे आये हैं। बापदादा सभी तरफ के बच्चों की लगन को देख खुश होते हैं। पाँचों ही खण्डों के भिन्न-भिन्न देश से आये हुए बच्चों को बापदादा देख रहे हैं। सभी ने कमाल की है। जो सभी ने लक्ष्य रखा था उसी प्रमाण प्रैक्टिकल पुरुषार्थ का रूप भी लाया है। विदेश से टोटल कितने वी. आई. पी. आये हैं? (75) और भारत के कितने वी. आई. पी. आये? (700) भारत की विशेषता अखबार वालों की अच्छी रही। और विदेश से 75 भी आये यह कोई कम नहीं। बहुत आये। दूसरे वर्ष फिर बहुत आयेंगे। अभी गेट तो खुल गया ना आने का। पहले तो विदेश की टीचर्स कहती थीं वी. आई. पी. को लाना बड़ा मुश्किल है। ऐसा तो कोई दिखाई नहीं देता। अब तो दिखाई दिया ना। भले विघ्न पड़े यह तो ब्राह्मणों के कार्य में विघ्न न पड़े तो लगन भी लग न सके। अलबेले हो जायें इसलिए ड्रामा अनुसार लगन बढ़ाने के लिए विघ्न पड़ते हैं। अभी एक एक द्वारा आवाज़ सुनकर फिर अनेकों में उमंग आयेगा।

बच्चों ने अच्छी कमाल की है। सर्विस में सबूत अच्छा दिखाया है। सेवा का चांस दिलाने के निमित्त तो बन गये ना। एक द्वारा सहज ही अनेंको तक आवाज तो फैला ना। अमेरिका वालों ने अच्छी मेहनत की। हिम्मत अच्छी की, जयादा से ज्यादा आवाज़ फैलाने वाली निमित्त आत्मा को ड्रामा अनुसार विदेश वालों ने ही लाया ना। भारतवासी बच्चों ने भी मेहनत बहुत अच्छी की। उस मेहनत का फल संख्या अच्छी आई। अभी भारत की विशेष आत्मायें भी आयेंगी। अच्छा।

ऐसे सर्व विदेश से आये हुए बच्चों को और भारत के चारों तरफ के बच्चों को जो सब एक ही विशेष शुद्ध संकल्प में हैं कि विश्व के कोने-कोने में बाप की प्रत्यक्षता का झण्डा लहरायेंगे – ऐसे शुभ संकल्प लेने वाले, विश्व परिवर्तक विश्व कल्याणकारी, सर्वश्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों के साथ अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

1. वरदान भूमि पर आकर वरदान लिया? सबसे बड़े ते बड़ा वरदान है सदा अपने को बाप द्वारा बाप के साथ का अनुभव करना। सदा बाप की याद में अर्थात् सदा साथ में रहना। तो सदा ही खुश रहेंगे, कभी भी कोई भी बात संकल्प में आये तो बाप के साथ में सब समाप्त हो जायेगा और खुशी में झूमते रहेंगे। तो सदा खुश रहने का यह तरीका याद रखना और दूसरों को भी बताते रहना। दूसरों को भी खुशी में रहने का साधन देना। तो आपको सभी आत्मायें खुशी का देवता मानेंगी क्योंकि विश्व में आज सबसे ज्यादा खुशी की आवश्यकता है। वह आप देते जाना। अपना टाइटिल याद रखना कि मैं खुशी का देवता हूँ।

याद और सेवा इसी बैलन्स द्वारा बाप की ब्लैसिंग मिलती रहेगी। बैलेन्स सबसे बड़ी कला है। हर बात में बैलेन्स हो तो नम्बरवन सहज ही बन जायेंगे। बैलेन्स ही अनेक आत्माओं के आगे ब्लिसफुल जीवन का साक्षात्कार करायेगा। बैलेन्स को सदा स्मृति में रखते सर्व प्राप्तियों का अनुभव करते स्वयं भी आगे बढ़ो और औरों को भी बढ़ाओ।

सदा इसी स्मृति में रहो कि बाप को जानने वाली, बाप को पाने वाली कोटों में कोई जो गाई हुई आत्मायें हैं, वह हम हैं। इसी खुशी में रहो तो आपके यह चेहरे चलते फिरते सेवाकेन्द्र हो जायेंगे। जैसे सर्विस सेन्टर पर आकर बाप का परिचय लेते हैं, वैसे आपके हर्षित चेहरे से बाप का परिचय मिलता रहेगा। बापदादा हर बच्चे को ऐसा ही योग्य समझते हैं। इतने सब सेवाकेन्द्र बैठे हैं। तो सदा ऐसे समझो चलते फिरते खाते पीते हमको बाप की सेवा अपनी चलन से व चेहरे से करनी है तो सहज ही निरन्तर योगी बन जायेंगे। जो बच्चे आदि से सेवा में उमंग-उत्साह का सहयोग देते रहे हैं, ऐसी आत्माओं को बापदादा भी सहयोग देते हुए 21 जन्म आराम से रखेंगे। मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। खाओ, पिओ और स्वर्ग का राज्य भाग्य भोगो। आधाकल्प मेहनत शब्द ही नहीं होगा। ऐसी तकदीर बनाने आये हो।

कुमारों प्रति:- कुमार जीवन में एनर्जी बहुत होती है। कुमार जो चाहे वह कर सकते हैं इसलिए बापदादा कुमारों को देख विशेष खुश होते हैं कि अपनी एनर्जी डिस्ट्रक्शन के बजाए कनस्ट्रक्शन के कार्य में लगाया। एक-एक कुमार विश्व को नया बनाने में अपनी एनर्जी को लगा रहे हैं। कितना श्रेष्ठ कार्य कर रहे हैं। एक कुमार 10 का कार्य कर सकते हैं इसलिए कुमारों पर बापदादा को नाज़ है। कुमार जीवन में अपनी जीवन सफल कर ली। ऐसी विशेष आत्मायें हो ना। बहुत अच्छा समय पर जीवन का फैंसला किया। फैंसला करने में कोई गलती तो नहीं की है ना। पक्का है ना। कोई गलत कहकर खींचे तो? चाहे दुनिया की अक्षौणी आत्मायें एक तरफ हो जाएं, आप अकेले हो फिर क्या होगा? बोलो, मैं अकेला नही हूँगा, बाप मेरे साथ है। बापदादा खुश होते हैं – स्वयं की भी जीवन बनाई और अनेकों की जीवन बनाने के निमित्त बने हो। अच्छा!

पत्रों के उत्तर देते हुए, बापदादा ने सभी बच्चों प्रति टेप में याद प्यार भरी

चारों ओर के सभी सिकीलधे स्नेही, सहयोगी, सर्विसएबुल बच्चों के पत्र तो क्या लेकिन दिल के मीठे-मीठे साजों भरे गीत बापदादा ने सुने। जितना बच्चे दिल से याद करते हैं उससे पदमगुणा ज्यादा बापदादा भी बच्चों को याद करते, प्यार करते और इमर्ज करके टोली खिलाते। अभी भी सामने टोली रखी है। सभी बच्चे बाप के सामने हैं। केक काट रहे हैं और सभी बच्चे खा रहे हैं। जो भी बच्चों ने समाचार लिखा है, अपनी अवस्था व सर्विस का, बापदादा ने सुने। सर्विस का उमंग-उत्साह बहुत अच्छा है। अभी थोड़ा बहुत जो माया के विघ्न देखते हो, वह भी नथिंग न्यू। माया सिर्फ पेपर लेने आती है। माया से घबराओ मत। खिलौना समझकर खेलो तो माया वार नहीं करेगी। लेकिन आराम से विदाई ले सो जायेगी इसलिए ज्यादा नहीं सोचो यह क्या हुआ, हो गया फुलस्टाप लगाओ और आगे जाकर पदमगुणा जो कुछ रह गया, वह भर लो। बढ़ते चलो और बढ़ाते चलो। बापदादा साथ है, माया की चाल चलने वाली नहीं है इसलिए घबराओ नहीं। खुशी में नाचो, गाओ। अब तो अपना राज्य आया कि आया। हे स्वराज्य अधिकारी, विश्व का राज्य भाग्य आपका इंतजार कर रहा है। अच्छा!

सर्व को बहुत-बहुत यादप्यार और ‘निर्विघ्न भव’ का वरदान बापदादा दे रहे हैं। जो बच्चे स्थूल धन की कमी के कारण पहुंच नहीं सकते, उन्हें भी बापदादा याद दे रहे हैं। भल धन कम है लेकिन हैं बादशाह क्योंकि आजकल के राजाओं के पास जो नहीं है, वह इन्हीं के पास अविनाशी और जन्म-जन्म के लिए जमा है। बापदादा ऐसे वर्तमान बेगमपुर के बादशाह और भविष्य विश्व के बादशाहों को बहुत-बहुत यादप्यार देते हैं। ऐसे बच्चे दिल से यहाँ हैं शरीर से वहाँ हैं इसलिए बापदादा सम्मुख बच्चों को देख सम्मुख यादप्यार देते हैं। अच्छा। ओम् शान्ति।

वरदान:- सम्पूर्णता की स्थिति द्वारा प्रकृति को आर्डर करने वाले विश्व परिवर्तक भव 
जब आप विश्व परिवर्तक आत्मायें संगठित रूप में सम्पन्न, सम्पूर्ण स्थिति से विश्व परिवर्तन का संकल्प करेंगी तब यह प्रकृति सम्पूर्ण हलचल की डांस शुरू करेगी। वायु, धरती, समुद्र, अग्नि… इनकी हलचल ही सफाई करेगी। परन्तु यह प्रकृति आपका आर्डर तब मानेगी जब पहले आपके स्वयं के सहयोगी कर्मेन्द्रियां, मन-बुद्धि-संस्कार आपका आर्डर मानेंगे। साथ-साथ इतनी पावरफुल तपस्या की ऊंची स्थिति हो जो सबका एक साथ संकल्प हो ”परिवर्तन” और प्रकृति हाजिर हो जाए।
स्लोगन:- अपने श्रेष्ठ भाग्य द्वारा सबका भाग्य बनाते सदा भगवान की स्मृति दिलाते रहो।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 27 October 2017 :- Click Here
Font Resize