today murli 29 november

TODAY MURLI 29 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 November 2018 :- Click Here

29/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, knowledge is butter and devotion is buttermilk. The Father gives you butter in the form of knowledge and makes you into the masters of the world. This is why they show butter in the mouth of Shri Krishna.
Question: How can you recognize someone whose intellect has faith? What attainment is there on the basis of faith?
Answer: 1. The children whose intellects have faith are the true moths who surrender themselves to the Flame, not those who simply circle around. Only those who surrender themselves to the Flame come into the kingdom. Those who simply circle around become part of the subjects. 2. The promise of the children whose intellects have faith is: “Even in the most adverse situations, I will not let go of my religion.” Their intellects have true love and so they forget all their bodily religions and their bodies and stay in remembrance of the Father.
Song: Leave Your throne of the sky and come down to earth.

Om shanti. God speaks. The incorporeal Supreme Father is called God. Who said: God speaks? That incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. The incorporeal Father sits here and explains to you incorporeal souls. You incorporeal souls listen through the physical organs of your bodies. A soul is not called male or female; a soul is called a soul. The soul himself says through these organs: I leave one body and take another. All human beings are brothers. As children of the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, you are brothers and when you become the children of Prajapita Brahma, you are brothers and sisters. Always continue to explain this to everyone. God is the Protector, the One who gives devotees the fruit of their devotion. The Father explains: I alone am the Bestower of Salvation for All. I become the Teacher of all of you and give you shrimat and then I am also the Satguru of everyone. He doesn’t have a Father, Teacher or Guru. That Father, not Krishna, is the One who teaches the ancient Raja Yoga of Bharat. Krishna cannot be called the Father. He is said to be the prince of heaven who has divine virtues. Only the One is called the Purifier and the Bestower of Salvation. All souls are now unhappy, impure and corrupt. Bharat itself is divine and elevated in the golden age. When it then becomes the corrupt, devilish kingdom, everyone says: O Purifier, come! Come and establish the kingdom of Rama. Therefore, it is now the kingdom of Ravan. People burn Ravan, but none of the scholars, teachers or pundits know what Ravan is. The golden age and the silver age are the kingdom of Rama whereas the copper age and the iron age are the kingdom of Ravan. The day of Brahma is the day of the Brahma Kumars and Kumaris. The night of Brahma is the night of the Brahma Kumars and Kumaris. The night is now to end and the day is to come. It is remembered: There are those who have non loving intellects at the time of destruction. There are also the three armies. The Supreme Father is called m ost b eloved God, the Father, the Ocean of Knowledge. So He must surely be giving you knowledge. He is the Living Seed of the world. He is the Supreme Soul, that is, He is God, the Highest on High. It isn’t that He is omnipresent. To say that He is omnipresent is to defame the Father. The Father says: By My being defamed, there has been defamation of religion and Bharat has become poverty-stricken and corrupt. I have to come at such a time. Bharat itself is My birthplace. The Somnath Temple and the temples to Shiva are here. I make My birthplace into heaven and then Ravan makes it into hell. This means that by following the dictates of Ravan, people have become residents of hell, the devilish community. Then, I change them and make them elevated and into the divine community. This is the ocean of poison and that is the ocean of milk; rivers of ghee flow there. In the golden and silver ages, Bharat was constantly happy and solvent and there were palaces of diamonds and jewels. Bharat is now 100% insolvent. I alone come and make it 100% solvent and elevated. People have now become so corrupt that they have forgotten their divine religion. The Father sits here and explains: The path of devotion is buttermilk and the path of knowledge is butter. They show butter in the mouth of Krishna. That means he had the kingdom of the world. Lakshmi and Narayan were the masters of the world. The Father Himself comes and gives you the unlimited inheritance, that is, He makes you into the masters of the world. He says: I do not become the Master of the world. If I were to become the Master, I would then also have to be defeated by Maya. You are the ones who are defeated by Maya. So, you then have to gain victory. You are trapped in the five vices. I am now making you worthy of living in a temple. The golden age is a big temple and it is called Shivalaya which is established by Shiva. The iron age is called the brothel; all are vicious. The Father now says: Renounce the religions of the body, consider yourself to be a soul and remember Me, your Father. You children now have love for the Father. You don’t remember anyone else. You are those who have loving intellects at the time of destruction. You know that only the Supreme Father, the Supreme Soul, is called Shri Shri 108. They turn the beads of the rosary of 108. Up above is Shiv Baba, then the mother and father, Brahma and Saraswati, and then their children who make Bharat pure. The rosary of Rudraksh has also been remembered. This is called the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. This is also such a big imperishable sacrificial fire of knowledge in which the horse is sacrificed to receive self-sovereignty. It has been continuing for so many years. All the innumerable religions are to be sacrificed into this sacrificial fire because only then will this sacrificial fire end. This is the imperishable sacrificial fire of imperishable Baba. Everything material is to be sacrificed into this. Children ask: When will destruction take place? Oh, but those who establish something then have to sustain it. This is Shiv Baba’s chariot. Shiv Baba is the Charioteer in this, but there aren’t any horse chariots etc., here. They have just sat and made up paraphernalia for the path of devotion. Baba says: I take the support of this matter. The Father explains: At first, there is unadulterated devotion but it then becomes completely adulterated by the end of the iron age. Then the Father comes and gives the butter to Bharat. You are studying to become the masters of the world. The Father comes and feeds you butter. Buttermilk begins in Ravan’s kingdom. All of these matters have to be understood. New children cannot understand these things. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Ocean of Knowledge. The Father says: No one on this path of devotion can find Me. Only when I come do I give the devotees the fruit of their devotion. I become the Liberator , I remove their sorrow and take them to the land of peace and the land of happiness. Faith in the intellect leads to victory and doubt in the intellect leads to destruction. The Father is the Flame. Some moths completely surrender themselves whereas others simply circle around and go away; they don’t understand anything. Children who surrender themselves know that they truly receive the unlimited inheritance from the unlimited Father. Those who simply circle around and go away will then become part of the subjects, numberwise. Those who surrender themselves claim their inheritance, numberwise, according to the efforts they make. The reward received is according to the efforts made. Only the one Father is the Ocean of Knowledge. This knowledge then disappears. You would have received salvation then. There are no gurus etc. in the golden and silver ages. Everyone now remembers that Father because He is the Ocean of Knowledge. He grants salvation to everyone; the cries of distress end and there is the joy of victory. You know the beginning, middle and end of the world. You have now become trikaldarshi and trinetri. You are now receiving all the knowledge of the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. This is not a tall story. The Gita is spoken by God, but they have falsified it by inserting Krishna’s name. You children now have to benefit everyone. You are the Shiv Shakti Army. It is remembered: Salutations to the mothers! Salutations are given to those who are pure. When a kumari is pure, everyone bows down to her. As soon as she goes to her in-laws and becomes impure, she continues to bow down to everyone. Everything depends on purity. Bharat had the pure household religion; it is now the impure household religion. There is nothing but sorrow. It is not like that in the golden age. The Father brings heaven on the palms of His hands for you children. While living at home, you can claim your inheritance of liberation-in-life from the Father. There is no question of leaving your home and family. The path of isolation of the sannyasis is separate. You now promise the Father: Baba, I will definitely become pure and become a master of the pure world and “Whatever happens I will never leave my religion.” Donate the five vices so that you are freed from the eclipse of Maya and you will then become sixteen celestial degrees full. In the golden age, they are sixteen celestial degrees full, fully viceless. You now have to follow shrimat and once again become like that. God is the Lord of the Poor. Wealthy ones are unable to take this knowledge because they think that they are now sitting in heaven because they have a lot of wealth etc. This is why only the innocent, the weak and those with stone intellects take this knowledge. Bharat is poor. Among them too, the Father only makes those who are ordinary and poor belong to Him. Only they have it in their fortune. The example of Sudama is remembered. The wealthy don’t have time to understand these things. Some daughters used to go to Rajendra Prasad (former President of India). They told him: Know the unlimited Father and you will become worth a diamond. Do this seven days’ course. He used to say: Yes, what you say is very good. I will take the course after I have retired. When he retired, he said: I am now ill. Eminent people don’t have time. Only when they first complete the seven days’ course can they have the intoxication of becoming Narayan. They cannot be coloured just like that. It is only after seven days that you can tell whether someone is worthy or not. If he is worthy, he will become busy making effort to study. Unless someone is very firmly coloured in the furnace (bhatthi), the colour fades as soon as he goes outside and this is why you first have to colour them very firmly. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a Shiv Shakti and benefit the world. On the basis of purity, change human beings who are worth shells and make them worth diamonds.
  2. According to shrimat, donate the vices and become fully viceless, 16 celestial degrees full. Become the moths who surrender themselves to the Flame.
Blessing: May you remain yogyukt and beyond any awareness of the body by always considering yourself to be a co-charioteer and a detached observer.
The easy way to remain yogyukt is always to move around while considering yourself to be a co-charioteer and a detached observer. “I, the soul, am a co-charioteer who makes this chariot move.” This awareness automatically makes you detached from the chariot, that is, the body and any type of awareness of the body. When there isn’t any awareness of the body, you easily become yogyukt and every action is yuktiyukt. By considering yourself to be a co-charioteer, all your physical senses remain under your control. Such a soul cannot be influenced by any of the physical senses.
Slogan: In order to become a victorious soul, make attention and practise your natural sanskars.

*** Om Shanti ***

Sweet elevated versions from Mateshwari

There is no benefit in just chanting the mantra of “om”.

To chant “om” means to sing this constantly. When we say the word “om”, it does not mean that we have to say it out loud. There is no benefit in life by simply saying “om”. However, by being stable in the meaning of “om” and by knowing the meaning of that word “om”, human beings can have peace in their lives. People definitely want to have peace, and they have many conferences to establish that peace. However, the result seen is that there is greater peacelessness and causes of sorrow. The main reason is that there cannot possibly be peace on earth until human beings have destroyed the five vices. So first, every human being has to control their five vices and connect the string of their souls with the Supreme Soul; only then can there be peace. So, let each person ask the self: Have I destroyed the five vices in me? Have I made the effort to conquer them? If they ask, “How can I control the five vices in me?” show them this method. First of all, give the dhoop (smoke from incense sticks) of knowledge and yoga. Then along with that tell them the elevated versions of the Supreme Soul: Connect the yoga of your intellect with Me, take power from Me and by remembering Me, Almighty Authority God, the vices will continue to be removed. We now have to make this much spiritual endeavour so that God Himself comes and teaches us. Achcha.

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 November 2018

To Read Murli 28 November 2018 :- Click Here
29-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान है मक्खन, भक्ति है छांछ, बाप तुम्हें ज्ञान रूपी मक्खन देकर विश्व का मालिक बना देते हैं, इसलिए कृष्ण के मुख में मक्खन दिखाते हैं”
प्रश्नः- निश्चयबुद्धि की परख क्या है? निश्चय के आधार पर क्या प्राप्ति होती है?
उत्तर:- 1. निश्चयबुद्धि बच्चे शमा पर फिदा होने वाले सच्चे परवाने होंगे, फेरी लगाने वाले नहीं। जो शमा पर फिदा हो जाते हैं वही राजाई में आते हैं, फेरी लगाने वाले प्रजा में चले जाते। 2. धरत परिये धर्म न छोड़िये – यह प्रतिज्ञा निश्चयबुद्धि बच्चों की है। वे सच्चे प्रीत बुद्धि बन देह सहित देह के सब धर्मों को भूल बाप की याद में रहते हैं।
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन…. 

ओम् शान्ति। भगवानुवाच। भगवान् कहा जाता है निराकार परमपिता को। भगवानुवाच किसने कहा? उस निराकार परमपिता परमात्मा ने। निराकार बाप निराकार आत्माओं को बैठ समझाते हैं। निराकार आत्मा इस शरीर रूपी कर्मेन्द्रियों से सुनती है। आत्मा को न मेल, न फीमेल कहा जाता है। उनको आत्मा ही कहा जाता है। आत्मा स्वयं इन आरगन्स द्वारा कहती है – मैं एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। जो भी मनुष्य मात्र हैं वह सब ब्रदर्स हैं। जब निराकार परमपिता परमात्मा की सन्तान हैं तो आपस में सब भाई-भाई हैं, जब प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान हैं तो भाई-बहन हैं। यह हमेशा सबको समझाते रहो। भगवान् रक्षक है, भक्तों को भक्ति का फल देने वाला है।

बाप समझाते हैं सर्व का सद्गति दाता एक मैं हूँ। सर्व का शिक्षक बन श्रीमत देता हूँ और फिर सर्व का सतगुरू भी हूँ। उनको कोई बाप, टीचर, गुरू नहीं। वही बाप प्राचीन भारत का राजयोग सिखलाने वाला है, कृष्ण नहीं। कृष्ण को बाप नहीं कह सकते। उनको दैवीगुणधारी स्वर्ग का प्रिन्स कहा जाता है। पतित-पावन सद्गति दाता एक को कहा जाता है। अभी सब दु:खी, पाप आत्मा, भ्रष्टाचारी हैं। भारत ही सतयुग में दैवी श्रेष्ठाचारी था। फिर वह भ्रष्टाचारी आसुरी राज्य होता है। सब कहते हैं पतित-पावन आओ, आकर रामराज्य स्थापन करो। तो अब रावण राज्य है। रावण को जलाते भी हैं लेकिन रावण को कोई भी विद्वान, आचार्य, पण्डित नहीं जानते। सतयुग से त्रेता तक रामराज्य, द्वापर से कलियुग तक रावणराज्य। ब्रह्मा का दिन सो ब्रह्माकुमार-कुमारियों का दिन। ब्रह्मा की रात सो बी.के. की रात। अभी रात पूरी हो दिन आना है। गाया हुआ है विनाश काले विपरीत बुद्धि। तीन सेनायें भी हैं। परमपिता को कहा जाता है बीलव्ड मोस्ट गॉड फादर, ओशन ऑफ नॉलेज। तो जरूर नॉलेज देते होंगे ना। सृष्टि का चैतन्य बीजरूप है। सुप्रीम सोल है अर्थात् ऊंच से ऊंच भगवान् है। ऐसे नहीं कि सर्वव्यापी है। सर्वव्यापी कहना यह तो बाप को डिफेम करना है। बाप कहते हैं ग्लानि करते-करते धर्म ग्लानि हो गई है, भारत कंगाल, भ्रष्टाचारी बन गया है। ऐसे समय पर ही मुझे आना पड़ता है। भारत ही मेरा बर्थप्लेस है। सोमनाथ का मन्दिर, शिव का मन्दिर भी यहाँ है। मैं अपने बर्थ प्लेस को ही स्वर्ग बनाता हूँ, फिर रावण नर्क बनाता है अर्थात् रावण की मत पर चल नर्कवासी, आसुरी सम्प्रदाय बन पड़ते हैं। फिर उन्हों को बदलकर मैं दैवी सम्प्रदाय, श्रेष्ठाचारी बनाता हूँ। यह विषय सागर है। वह है क्षीर सागर। वहाँ घी की नदियाँ बहती हैं। सतयुग-त्रेता में भारत सदा सुखी सालवेन्ट था, हीरे जवाहरों के महल थे। अभी तो भारत 100 परसेन्ट इनसालवेन्ट है। मैं ही आकर 100 परसेन्ट सालवेन्ट, श्रेष्ठाचारी बनाता हूँ। अब तो ऐसे भ्रष्टाचारी बन गये हैं जो अपने दैवी धर्म को भूल गये हैं।

बाप बैठ समझाते हैं कि भक्ति मार्ग है छांछ, ज्ञान मार्ग है मक्खन। कृष्ण के मुख में मक्खन दिखलाते हैं यानि विश्व का राज्य था, लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे। बाप ही आकर बेहद का वर्सा देते हैं अर्थात् विश्व का मालिक बनाते हैं। कहते हैं मैं विश्व का मालिक नहीं बनता हूँ। अगर मालिक बनूँ तो फिर माया से हार भी खानी पड़े। माया से हार तुम खाते हो। फिर जीत भी तुमको पानी है। यह 5 विकारों में फँसे हुए हैं। अभी मैं तुमको मन्दिर में रहने लायक बनाता हूँ। सतयुग बड़ा मन्दिर है, उसको शिवालय कहा जाता है, शिव का स्थापन किया हुआ। कलियुग को वेश्यालय कहा जाता है, सब विकारी हैं। अब बाप कहते हैं देह के धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। तुम बच्चों की अब बाप से प्रीत है। तुम और कोई को याद नहीं करते हो। तुम हो विनाश काले प्रीत बुद्धि। तुम जानते हो कि श्री श्री 108 परमपिता परमात्मा को ही कहा जाता है। 108 की माला फेरते हैं। ऊपर में है शिवबाबा फिर मात-पिता ब्रह्मा-सरस्वती, फिर उनके बच्चे जो भारत को पावन बनाते हैं। रुद्राक्ष की माला गाई हुई है, उसको रूद्र यज्ञ भी कहा जाता है। कितना बड़ा राजस्व अश्वमेध अविनाशी ज्ञान यज्ञ है। कितने वर्षों से चला आता है। जो भी अनेक धर्म आदि हैं, सब इस यज्ञ में खत्म हो जाने हैं तब यह यज्ञ पूरा होगा। यह है अविनाशी बाबा का अविनाशी यज्ञ। सब सामग्री इसमें स्वाहा हो जानी है। पूछते हैं विनाश कब होगा? अरे, जो स्थापना करते हैं, उनको ही फिर पालना करनी होती है। यह है शिवबाबा का रथ। शिवबाबा इसमें रथी है। बाकी कोई घोड़े-गाड़ी आदि नहीं हैं। वह तो भक्तिमार्ग की सामग्री बैठ बनाई है। बाबा कहते हैं मैं इस प्रकृति का आधार लेता हूँ।

बाप समझाते हैं – पहले अव्यभिचारी भक्ति है फिर कलियुग अन्त में पूरी व्यभिचारी बन जाती है। फिर बाप आकर भारत को मक्खन देते हैं। तुम विश्व के मालिक बनने लिए पढ़ रहे हो। बाप आकर मक्खन खिलाते हैं। रावण राज्य में छांछ शुरू हो जाती है। ये सब समझने की बातें हैं। नये बच्चे तो इन बातों को समझ न सकें। परमपिता परमात्मा को ही ज्ञान का सागर कहा जाता है। बाप कहते हैं मैं इस भक्ति मार्ग से किसी को भी नहीं मिलता हूँ। मैं जब आता हूँ तब ही आकर भक्तों को भक्ति का फल देता हूँ। मैं लिबरेटर बनता हूँ, दु:ख से छुड़ाकर सबको शान्तिधाम, सुखधाम ले जाता हूँ। निश्चय बुद्धि विजयन्ति, संशय बुद्धि विनशन्ति।

बाप शमा है। उस पर परवाने कोई तो एकदम फिदा हो जाते हैं, कोई फेरी पहनकर चले जाते हैं। समझते कुछ नहीं हैं। फिदा होने वाले बच्चे जानते हैं बरोबर बेहद के बाप से हमको बेहद का वर्सा मिलता है। जो सिर्फ फेरी पहनकर चले जाते हैं वह तो फिर प्रजा में ही नम्बरवार आ जायेंगे। जो फिदा होते हैं वह वर्सा लेते हैं नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। पुरुषार्थ से ही प्रालब्ध मिलती है। ज्ञान का सागर एक ही बाप है। फिर ज्ञान प्राय: लोप हो जाता है। तुम सद्गति को पा लेते हो। सतयुग-त्रेता में कोई गुरू-गोसाई आदि नहीं होते। अभी सब उस बाप को याद करते हैं क्योंकि वह है ओशन ऑफ नॉलेज। सबकी सद्गति कर देते हैं। फिर हाहाकार बन्द हो जयजयकार हो जाती है, तुम सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। तुम अब त्रिकालदर्शी, त्रिनेत्री बने हो। तुमको रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त की सारी नॉलेज मिल रही है। यह कोई दन्त कथा नहीं है। गीता है भगवान् की गाई हुई परन्तु कृष्ण का नाम डाल खण्डन कर दिया है। तुम बच्चों को अब सबका कल्याण करना है। तुम हो शिव शक्ति सेना। वन्दे मातरम् गाया हुआ है। वन्दना पवित्र की ही की जाती है। कन्या पवित्र है तो सब उनकी वन्दना करते हैं। ससुर घर गई और विकारी बनी तो सबको माथा टेकती रहती है। सारा मदार पवित्रता पर है। भारत पवित्र गृहस्थ धर्म था। अभी अपवित्र गृहस्थ धर्म है। दु:ख ही दु:ख है। सतयुग में ऐसे नहीं होता। बाप बच्चों के लिए तिरी (हथेली) पर बहिश्त ले आते हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते बाप से जीवनमुक्ति का वर्सा ले सकते हो। घर-बार छोड़ने की कोई बात नहीं। सन्यासियों का निवृत्ति मार्ग अलग है। अब बाप से प्रतिज्ञा करते हैं – बाबा, हम पवित्र बन, पवित्र दुनिया के मालिक जरूर बनेंगे। फिर धरत परिये धर्म न छोड़िये। 5 विकारों का दान दो तो माया का ग्रहण छूटे, तब 16 कला सम्पूर्ण बनेंगे। सतयुग में हैं 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी…., अब श्रीमत पर चलकर फिर से ऐसा बनना है।

भगवान् है ही गरीब निवाज़। साहूकार इस ज्ञान को उठा नहीं सकते क्योंकि वह तो समझते हैं हमको धन आदि बहुत है, हम तो स्वर्ग में बैठे हैं इसलिए अबलायें, अहिल्यायें ही ज्ञान लेती हैं। भारत तो गरीब है। उनमें भी जो गरीब साधारण हैं, उन्हों को ही बाप अपना बनाते हैं। उन्हों की ही तकदीर में है। सुदामा का मिसाल गाया हुआ है ना। साहूकारों को समझने की फुर्सत नहीं। राजेन्द्र प्रसाद (भारत के प्रथम राष्ट्रपति) के पास बच्चियाँ जाती थी, कहती थी बेहद के बाप को जानो तो तुम हीरे तुल्य बन जायेंगे। 7 रोज़ का कोर्स करो। कहता था – हाँ, बात तो बहुत अच्छी है, रिटायर होने के बाद कोर्स उठाऊंगा। रिटायर हुआ तो बोले, बीमार हूँ। बड़े-बड़े आदमियों को फुर्सत नहीं है। पहले जब 7 रोज़ का कोर्स पूरा करे तब नारायणी नशा चढ़े। ऐसे थोड़ेही रंग चढ़ेगा। 7 रोज के बाद पता चलता है – यह लायक है वा नहीं है? लायक होगा तो फिर पढ़ने के लिए पुरुषार्थ में लग जायेगा। जब तक भट्ठी में पक्का रंग नहीं लगा है तब तक बाहर जाने से रंग ही उड़ जाता है, इसलिए पहले पक्का रंग चढ़ाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शिव शक्ति बन विश्व कल्याण करना है। पवित्रता के आधार पर कौड़ी तुल्य मनुष्यों को हीरे तुल्य बनाना है।

2) श्रीमत पर विकारों का दान दे सम्पूर्ण निर्विकारी 16 कला सम्पूर्ण बनना है। शमा पर फिदा होने वाला परवाना बनना है।

वरदान:- सदा अपने को सारथी और साक्षी समझ देह-भान से न्यारे रहने वाले योगयुक्त भव
योगयुक्त रहने की सरल विधि है – सदा अपने को सारथी और साक्षी समझकर चलना। इस रथ को चलाने वाली हम आत्मा सारथी हैं, यह स्मृति स्वत: इस रथ अथवा देह से वा किसी भी प्रकार के देह-भान से न्यारा (साक्षी) बना देती है। देह-भान नहीं तो सहज योगयुक्त बन जाते और हर कर्म भी युक्तियुक्त होता है। स्वयं को सारथी समझने से सर्व कर्मेन्द्रियां अपने कन्ट्रोल में रहती हैं। वह किसी भी कर्मेन्द्रिय के वश नहीं हो सकते।
स्लोगन:- विजयी आत्मा बनना है तो अटेन्शन और अभ्यास – इसे निज़ी संस्कार बना लो।

मातेश्वरी जी के मधुर महावाक्य

“सिर्फ ओम् के शब्द के उच्चारण से कोई फायदा नहीं”

ओम् रटो माना ओम् जपो, जिस समय हम ओम् शब्द कहते हैं तो ओम् कहने का मतलब यह नहीं कि ओम् शब्द का उच्चारण करना है सिर्फ ओम् कहने से कोई जीवन में फायदा नहीं। परन्तु ओम् के अर्थ स्वरूप में स्थित होना, उस ओम् के अर्थ को जानने से मनुष्य को वो शान्ति प्राप्त होती है। अब मनुष्य चाहते तो अवश्य हैं कि हमें शान्ति प्राप्त होवे। उस शान्ति स्थापन के लिये बहुत सम्मेलन करते हैं परन्तु रिजल्ट ऐसे ही दिखाई दे रही है जो और अशान्ति दु:ख का कारण बनता रहता है क्योंकि मुख्य कारण है कि मनुष्यात्मा ने जब तक 5 विकारों को नष्ट नहीं किया है तब तक दुनिया पर शान्ति कदाचित हो नहीं सकती। तो पहले हरेक मनुष्य को अपने 5 विकारों को वश करना है और अपनी आत्मा की डोर परमात्मा के साथ जोड़नी है तब ही शान्ति स्थापन होगी। तो मनुष्य अपने आपसे पूछें मैंने अपने 5 विकारों को नष्ट किया है? उन्हों को जीतने का प्रयत्न किया है? अगर कोई पूछे तो हम अपने 5 विकारों को वश कैसे करें, तो उन्हों को यह तरीका बताया जाता है कि पहले उन्हों को ज्ञान और योग का वास धूप लगाओ और साथ में परमपिता परमात्मा के महावाक्य हैं – मेरे साथ बुद्धियोग लगाए मेरे बल को लेकर मुझ सर्वशक्तिवान प्रभु को याद करने से विकार हटते रहेंगे। अब इतनी चाहिए साधना, जो खुद परमात्मा आकर हमें सिखाता है। अच्छा – ओम् शान्ति।

TODAY MURLI 29 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 November 2017 :- Click Here

29/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t forget the Father who always gives you happiness, teaches you every day and gives you treasures of knowledge. Constantly continue to follow shrimat.
Question: What is the Father’s magic which human beings cannot perform?
Answer: To change this forest of thorns into a beautiful garden of flowers and to make impure human beings into pure deities is the magic of the Father and not any human being. The Father alone is the greatest Social Worker. He enters an impure body in the impure world and makes the whole impure world pure.
Song: Do not forget the days of your childhood!

Om shanti. You children heard the song that was sung to you. You are the sweet children of the Mother and Father. The Father tells you sweet children: After saying “Mama, Baba”, don’t forget them tomorrow. If you forget them you lose your inheritance, but some children forget this even though they hear Baba saying it. Nevertheless, the Father shows you an easy path. He doesn’t make you leave your home or the family path. He says: Whether you are householders, or even if you are bachelor s, simply make effort to follow shrimat. Never forget such a Father. The Father complains that some children say “Mama and Baba” and then never even write their news to Baba. You claim the sovereignty of heaven from the Father and you then forget Him, whereas you very happily write a letter to the father who gives you the property of hell. If a letter doesn’t come, the parents get worried and think that perhaps you are ill. So, the unlimited Father also thinks: I don’t know what the condition of the children is. He waits for their letters. Worldly children even cause sorrow and yet attachment is not removed from them. Here, look at the wonder of the One you call the Mother and Father and who is sitting in front of you! In fact, all the children will hear Him through the murli. The Father knows how many children are worthy and how many are unworthy, numberwise, according to the efforts they make. Even after saying “Mama, Baba” they leave Him. The song also says: Why do you forget such a Father? You should write a letter to such a Father every day. The Father gives you treasures every day; He teaches you every day. He also gives you love. He is the Father, Teacher and Satguru. He is all three. Children write letters to their physical fathers. They even remember their gurus. However, you forget the Father who gives constant happiness and makes you into the masters of the land of truth. You don’t even write a letter to Him. The Father is worried about what has happened: Has Maya killed you or pushed you into vice? Baba would caution you children through the murli. Baba would advise you: Continue to protect yourself in this way. This one is the Father’s eldest child and is moving ahead of everyone else. This one experiences all sorts of storms. He is called Mahavir, Hanuman. Because a powerful one is standing at the front, Maya would also become powerful and fight with that one first. Baba says: Whatever storms you experience, I experience them first. Baba even shares his experiences of this. You would say: Baba, how would you experience storms? You are elderly. Baba says: Everything comes to me. How else would I be able to caution you? However, children don’t tell Baba. They choke in the storms and die and destroy their status. This is why the Father says: Continue to remind one another. At least write a letter to Baba! Caution one another in every aspect. Maya is very clever; she punches you. You children are the true social workers of the whole world. Those people are limited social workers who do limited service. This Father is the Social Worker for the whole world. It is up to the Father to make the whole impure world pure. You call out to the Father. You call such a Father ‘Father’ and then you children forget Him! This song has been composed by someone who was especially touched just as some very good scriptures have been created which people keep with themselves. Here, there are no scriptures or pictures etc. These pictures have been made by us. All of those other pictures make your intellects develop doubt whereas all of these pictures make your intellects have faith. The world doesn’t know that Bharat was heaven. They have so much regard for Bharat. It is here that Shiv Baba comes. You call Shiva ‘Baba’ and then there is Brahma Baba. You wouldn’t call Vishnu ‘Baba’. You children know these things. People of the world say: O Purifier, come! We are impure, so come and purify us! However, they don’t know how He would make impure ones pure or where He would take them. They simply continue to speak like parrots without understanding the meaning of what they say. They don’t know anything and yet they call Him God, the Father. A Father means property. No one else can be called the Father. Neither Vishnu nor Shankar can be called Father, so how can anyone else be called that? Everyone understands that it is the incorporeal One who is God, the Father. A soul enters this body and calls out: O God, the Father The Father comes and makes you soul conscious. You say to the Father: Baba, make us pure and take us to the pure world. Shiv Baba enters Bharat to create the pure family path. The Father says: You, who belonged to the family path, were pure. You have the desire to become pure. You remember heaven. When you speak of Paradise, you remember Krishna. You don’t think that you should remember the empress and emperor Lakshmi and Narayan of the family path. People now want peace. This is a question of the whole world. The responsibility for this is with the Father. When Bharat becomes hell, the Father comes to make it into heaven. No one knows who then makes it into hell or when. The Father says: I make you into residents of heaven. I take you to the sweet world and then send you to the sweetsovereignty. You should study with such a Father day and night and claim your full inheritance. In fact, no one is taught day and night. The Father says: Study regularly every day for an hour in the morning and an hour in the evening. Everyone has time in the morning. It is a matter of a second. You simply have to remember Baba and the inheritance. Nevertheless, you forget Him and then you say: Baba, what can I do? Remembrance is very easy. The knowledge of the world cycle is also very easy. This is the world of sinful souls. You have to go to the world of charitable souls. Remember Shiv Baba. This is also very easy for those who live at home with their families. The Father definitely remembers you children: I haven’t received a letter from so-and-so. What has happened to him? Then, when the child comes in front of Him, He asks: You didn’t become unconscious, did you? You don’t have that much love for the Father and your love is drawn to someone who only earns a few pennies. You should give your news to Baba and tell Him that you are still alive and happy and that you are continuing to give the Father’s introduction to others. Baba sends love and remembrance through the murli every day. However, He cannot write the name of each one. Therefore, you children should also give your news. At this time, the face of everyone in the world has become dirty. Baba comes and makes them beautiful. Baba comes and changes the face of Bharat. He changes the forest of thorns into a garden of flowers. He is such a Magician. In the garden of heaven there is just Bharat. There, you are not aware of who is going to come after you. There, you feel that only you are the masters of the world. The golden age is called the garden of Allah. It isn’t that God creates a jungle. It is Ravan who creates that. Ravan is the old enemy whom no one knows. Baba asks: Whose children are you? Baba, we are the children of Brahma and the grandchildren of Shiv Baba. Shiv Baba gives you the inheritance through Brahma. He is establishing heaven through Brahma. You have become Baba’s children in order to claim your inheritance. Baba says: Remember this! Don’t forget it! You say: Baba, I repeatedly forget You. Oh! So you remember the one who makes you into a resident of hell and you forget the Father who makes you into a resident of heaven! If you don’t forget the Father, you won’t even forget your inheritance. At this time Baba is ever present in front of you. It is said: The Lord is present everywhere. He is incognito. You cannot say that you can see Him. Souls are incognito and the Father is also incognito. A soul enters a body and speaks. I too need a body. How else would I come? If I entered a womb, I would have to enter the jail of a womb. Why should I enter the jail of a womb? What crime have I committed? The palace of a womb exists in heaven. What would I do if I entered heaven? I make only you children into the masters of heaven. By sitting here personally and listening to Baba, all of you enjoy yourselves a great deal. As soon as you leave here, you forget everything. There is a lot of difference between claiming a kingdom for 21 births and claiming a status among the ordinary subjects. Natives only eat thick chappatis whereas wealthy people eat rich food. There is a difference in the status. Here, however, both are unhappy. In heaven, all are happy, but their status is numberwise. You have to make effort and claim a high status. You have to follow Mama and Baba. You are receiving shrimat at this time. Therefore, you have to follow the mother and father. The mother and father have to exist in the corporeal form. Shiv Baba doesn’t have to make effort. Mama and Baba make effort and claim their fortune of the kingdom for 21 births. Then, those who make good effort will be seated on the throne. Eight pass with honours. You should be one of them. If not that, then at least in the 108. There is also a margin for the 16,108. The rosary of 16,108 is very long. They sit and pull the beads of the rosary. Here, there is no question of turning the beads of a rosary. The Father says: Follow Me! This old Brahma studies and passes with the first number. Mama who was young also claimed number one. So, why do you not make effort? Why do you make mistakes? You don’t write a letter to the Father and you don’t even remember Him! You make a promise and then, as soon as you go outside, everything is finished. I even tell you that you will forget everything as soon as you go outside. You say: Baba, we will not forget You, and then you forget. It is a wonder. This study is completely new and it is not in any of the scriptures. No one can understand it. Baba has now given you drishti in this last birth. This Baba tells you that he used to study the Gita. I also used to worship Narayan. I would place a picture of Narayan on the gaddi and then I liberated Lakshmi (from massaging the feet of Narayan). You have to interact with the people of the world very tactfully. Continue to give Baba’s introduction in an incognito way: Remember the Father and the inheritance. The deities are in heaven and that is why the picture of Lakshmi and Narayan was created. The picture of the Trimurti was not used at first because people used to get upset when they saw a picture of Brahma. However, how would anything get done without Brahma? If the BKs don’t see their father, how would anything get done? The Father says: It is written in the Gita: “Manmanabhav, madhyajibhav”. Whether it is liberation or liberation-in-life, only I, and no one else, can give you the inheritance of both of these. These matters have to be understood very well. Definitely wake up at amrit vela and churn the ocean of knowledge. You may do your work during the day, but at amrit vela, from 4.00 am to 5.00 am, sit in remembrance and you will feel a lot of happiness. Baba comes from the sweet home in order to teach us children and then goes away again. He says: Remember Me, and the alloy will be removed. When you have become real gold, you will pass with honours. If you want to claim a high status, what cannot be achieved by making effort? Nevertheless, the Father says: Don’t forget this Godly childhood. You should remember such a Father again and again. By having this remembrance you become pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t make any type of mistake. Caution one another, remind one another of the Father and continue to make progress. Don’t forget your Godly childhood.
  2. Continue to follow the mother and father. Don’t be afraid of the storms of Maya. At amrit vela sit in remembrance of the Father and experience happiness.
Blessing: May you become a great soul and transform your attitude by making a determined vow.
The basis of becoming a great soul is to make a vow of purity. To make a determined vow means to transform your attitude. A determined vow changes your attitude. The meaning of making a vow is to have a thought and to observe that precaution in a physical way. All of you made the vow of purity to make your attitude elevated. It is by having an attitude of brotherhood towards all souls that you become a great soul.
Slogan: To spread the sparkle of your pure and elevated vibrations into the world is to become a real diamond.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 28 November 2017 :- Click Here
29/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप जो सदा सुख देते हैं, रोज़ पढ़ाते हैं, ज्ञान खजाना देते हैं, ऐसे बाप को तुम भूलो मत, श्रीमत पर सदा चलते रहो”
प्रश्नः- बाप की जादूगरी कौन सी है जो मनुष्य नहीं कर सकते हैं?
उत्तर:- कांटों के इस जंगल को बदलकर सुन्दर फूलों का बगीचा बना देना, पतित मनुष्यों को पावन देवता बना देना – यह जादूगरी बाप की है। किसी मनुष्य की नहीं। बाप ही सबसे बड़ा सोशल वर्कर है जो पतित शरीर, पतित दुनिया में आकर सारी पतित दुनिया को पावन बनाते हैं।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना…

ओम् शान्ति। बच्चों ने अपने लिए गीत सुना। तुम हो मात-पिता के क्षीर (मीठे) बच्चे। बाप क्षीर बच्चों को कहते हैं कि मम्मा बाबा कहकर कल भूल न जाना। अगर भूले तो वर्सा गँवा देंगे। परन्तु बच्चे सुनते हुए भी भूल जाते हैं। तो भी बाप सहज रास्ता बताते हैं। घरबार, गृहस्थ-व्यवहार आदि कुछ भी छुड़ाते नहीं हैं। कहते हैं गृहस्थी हो, चाहे बैचलर (कुमार) हो सिर्फ श्रीमत पर चलने का पुरुषार्थ करो। ऐसे बाप को कभी भूल न जाओ। बाप उल्हना देते हैं कि कोई-कोई बच्चे मम्मा बाबा कहकर फिर कभी अपना समाचार भी नहीं देते हैं। बाप से स्वर्ग की बादशाही लेते हैं फिर उनको भूल जाते हैं और नर्क की जायदाद देने वाले बाप को बहुत खुशी से चिट्ठी लिखते हैं, चिट्ठी न आये तो माँ बाप भी मूँझ जाते हैं, सोचते हैं पता नहीं बीमार है क्या? तो बेहद का बाप भी ऐसे समझते हैं कि पता नहीं बच्चों का क्या हाल है? इन्तज़ार होता है ना। वो लौकिक बच्चे तो दु:ख देने वाले भी निकल पड़ते हैं, तो भी उनसे मोह नहीं जाता। यहाँ फिर वन्डर देखो जिस बाप को कहते हैं तुम मात-पिता… सामने भी बैठे हैं। यूँ तो सब बच्चे मुरली द्वारा भी सुनेंगे। बाप जानते हैं नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार कितने सपूत हैं, कितने कपूत हैं। बाबा मम्मा कहकर फिर भी छोड़ देते हैं। गीत भी कहता है ऐसे बाप को क्यों भूल जाते हो? ऐसे बाप को रोज़ चिट्ठी लिखनी चाहिए। बाप भी रोज़ खज़ाना देते हैं। रोज़ पढ़ाते भी हैं, प्यार भी देते हैं। बाप, टीचर, सतगुरू तीनों ही हैं। लौकिक बाप को तो बच्चे चिट्ठी लिखते हैं। गुरू को भी याद करते हैं। परन्तु जो सदा सुख देने वाला, सचखण्ड का मालिक बनाने वाला बाप है उनको भूल जाते हैं। चिट्ठी भी नहीं लिखते हैं। बाप को ]िफकर रहता है कि क्या हुआ? माया ने मार डाला वा विकार में ढकेल दिया। बाबा तो मुरली में ही बच्चों को सावधान करेंगे ना। बाबा राय देंगे कि ऐसे-ऐसे अपने को बचाते रहो क्योंकि यह है बाप का सबसे बड़ा बच्चा। सबसे आगे चल रहा है। इनके पास सब प्रकार के तूफान आदि आते हैं। महावीर, हनूमान इनको ही कहेंगे। आगे रूसतम होने के कारण माया भी रूसतम हो पहले इनसे ही लड़ेगी। बाबा कहते हैं तुमको जो तूफान आते हैं वह पहले मुझे आयेंगे। जो बाबा अनुभव भी बताते हैं। तुम कहेंगे बाबा आपको तूफान कैसे आयेंगे? आप तो बुजुर्ग हो। बाबा कहते हैं हमारे पास सब आते हैं। नहीं तो हम तुमको सावधान कैसे करें? परन्तु बच्चे बाबा को बताते ही नहीं हैं। तूफान में घुटका खाकर डूब मर जाते हैं। अपना पद भ्रष्ट कर देते हैं इसलिए बाप कहते हैं एक दो को याद दिलाते रहो – बाबा को पत्र तो लिखो। हर बात में एक दो को सावधान करो। माया बड़ी तीखी है। घूसा मार देती है।

तुम बच्चे सारी दुनिया के सच्चे सोशल वर्कर्स हो। वह हद के सोशल वर्कर हद की सेवा करते हैं, यह बाप तो सारी दुनिया का सोशल वर्कर है। सारी पतित दुनिया को पावन बनाना यह बाप के ऊपर है। बाप को ही बुलाते हैं। ऐसे बाप को बाप कह फिर बच्चे भूल जाते हैं। यह गीत भी कोई का टच किया हुआ है। जैसे कोई-कोई शास्त्र भी अच्छे बने हुए हैं जो मनुष्य अपने पास रखते हैं। यहाँ तो शास्त्र, चित्र आदि कुछ भी नहीं हैं। यह चित्र भी अपने ही बनाये हुए हैं। वह सब चित्र हैं संशयबुद्धि बनाने वाले। यह चित्र हैं निश्चयबुद्धि बनाने वाले।

दुनिया को तो यह मालूम ही नहीं कि भारत स्वर्ग था। भारत का कितना मान है। यहाँ ही शिवबाबा आते हैं। शिव को बाबा कहते हैं फिर है ब्रह्मा बाबा। विष्णु को बाबा नहीं कहेंगे। यह भी तुम बच्चे जानते हो। दुनिया के मनुष्य तो कहते हैं हे पतित-पावन आओ, हम पतित हैं आकर पावन बनाओ। परन्तु यह नहीं जानते कि वह पतित से पावन कैसे बनायेंगे। कहाँ ले जायेंगे? बस तोते के मुआफिक बोलते हैं। बिगर अर्थ कुछ भी नहीं जानते। अरे गॉड फादर कहते हो, फादर माना प्रापर्टी और किसको फादर नहीं कहा जाता। विष्णु और शंकर को भी फादर नहीं कह सकते, तो और किसी को कैसे कहेंगे। सब समझते हैं कि गॉड फादर निराकार ही है। आत्मा इस देह में आकर पुकारती है ओ गॉड फादर। बाप आकर देही-अभिमानी बनाते हैं। तुम बाप को कहते हो बाबा हमको पावन बनाओ और पावन दुनिया में ले चलो। शिवबाबा आते हैं – भारत में पवित्र प्रवृत्ति मार्ग बनाने।

बाप कहते हैं तुम प्रवृत्ति मार्ग वाले पावन थे। तुम ही चाहते हो हम पावन बनें। स्वर्ग को याद करते हो। वैकुण्ठ कहने से कृष्ण याद आता है। यह नहीं समझते कि प्रवृत्ति मार्ग के महाराजा-महारानी, लक्ष्मी-नारायण को याद करें। अब मनुष्य चाहते हैं शान्ति। यह सारी दुनिया का क्वेश्चन है। उसकी जवाबदारी बाप के ऊपर है। जब भारत नर्क हो जाता है तो उसको स्वर्ग बनाने बाप ही आते हैं। नर्क फिर कौन बनाते, कब बनाते हैं? यह कोई नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको स्वर्गवासी बनाता हूँ। स्वीट वर्ल्ड में ले जाए फिर तुमको स्वीट बादशाही में भेज देंगे। ऐसे बाप से तो रात दिन पढ़कर पूरा वर्सा लेना चाहिए। वास्तव में रात दिन कोई पढ़ाया नहीं जाता है। बाबा कहते हैं सवेरे और रात को एक घण्टा रेग्युलर पढ़ो। सवेरे का समय तो सबको मिलता है। एक सेकेण्ड की बात है। सिर्फ बाबा और वर्से को याद करना है। फिर भी तुम भूल जाते हो। फिर कहते हो बाबा हम क्या करें – याद भी बड़ी सहज है। सृष्टि चक्र का ज्ञान भी बड़ा सहज है। यह है पाप आत्माओं की दुनिया, तुमको पुण्य की दुनिया में जाना है। शिवबाबा को याद करो। गृहस्थ व्यवहार में रहने वालों के लिए भी बहुत सहज है। तो बाप बच्चों को जरूर याद करते हैं। फलाने की कभी चिट्ठी नहीं आती है, क्या हो गया है? वा जब सामने आते हैं तो पूछता हूँ – क्या बेहोश तो नहीं हो गये थे? बाप के साथ इतना लव नहीं, पाई पैसा कमाने वाले में लव चला जाता है। बाबा को समाचार देना चाहिए, बाबा हम जीते हैं, खुश हैं। औरों को भी परिचय देते रहते हैं। बाबा तो रोज़ मुरली में याद-प्यार भेजते हैं। बाकी एक-एक का नाम तो नहीं लिख सकते हैं, तो बच्चों को भी अपना समाचार देना चाहिए।

इस समय सारी दुनिया का मुँह काला हो गया है। उनको बाबा आकर गोरा बनाते हैं। बाबा भारत का मुँह फेर देते हैं। कांटों के जंगल को फूलों का बगीचा बनाते हैं। कैसा जादूगर है, स्वर्ग के बगीचे में भारत ही होता है। वहाँ यह पता नहीं रहता कि हमारे पीछे और कौन-कौन आने वाले हैं। समझते हैं बस हम ही विश्व के मालिक हैं। सतयुग को कहा जाता है गार्डन ऑफ अल्लाह। फिर जंगल कोई गॉड नहीं बनाते। वह तो रावण बनाते हैं। रावण पुराना दुश्मन है, जिसको कोई नहीं जानते हैं। बाबा पूछते हैं तुम किसकी सन्तान हो? बाबा हम ब्रह्मा के बच्चे हैं, शिवबाबा के पोत्रे हैं। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा वर्सा देते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। तुम बाबा के बच्चे बने ही हो वर्सा लेने के लिए। बाबा कहते हैं याद रखना, भूलना नहीं। कहते हैं बाबा घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। अरे तुमको जो नर्कवासी बनाते हैं उनको याद करते हो और स्वर्गवासी बनाने वाले बाप को भूल जाते हो? बाप को नहीं भूलेंगे तो वर्से को भी नहीं भूलेंगे। इस समय तो बाबा हाज़िर नाज़िर है। कहते भी हैं हाजिराहजूर…वह भी गुप्त है। ऐसे नहीं कहेंगे कि हम उनको देखते हैं। आत्मा गुप्त तो बाप भी गुप्त। आत्मा शरीर में आकर बोलती है, मुझे भी शरीर चाहिए। नहीं तो आऊं कैसे? गर्भ में आऊं तो गर्भ जेल में आना पड़े। मैं गर्भ जेल में क्यों आऊं, मैंने कौन सा गुनाह किया है? गर्भ महल तो होता है स्वर्ग में। हम स्वर्ग में आकर क्या करेंगे? स्वर्ग का मालिक तो तुम बच्चों को ही बनाता हूँ। यहाँ सम्मुख बैठकर सुनने से सबको मजा आता है। यहाँ से बाहर जाने से सब कुछ भूल जाते हैं। 21 जन्मों की राजाई लेना और साधारण प्रजा में पद पाना फ़र्क तो बहुत है ना। भील लोग रोटला खाते हैं। साहूकार माल खाते हैं। फ़र्क है मर्तबे का। परन्तु दु:खी तो दोनों ही होते हैं। स्वर्ग में फिर सब सुखी होते हैं, परन्तु मर्तबा नम्बरवार है। हमको पुरुषार्थ करके ऊंच पद पाना है। मम्मा-बाबा को फालो करना है। इस समय श्रीमत मिलती है। तो मात-पिता को फालो करना पड़े। मात-पिता तो साकार में चाहिए। शिवबाबा को तो पुरुषार्थ करना नहीं है। मम्मा बाबा पुरुषार्थ कर 21 जन्मों का राज्य भाग्य लेते हैं। फिर जो अच्छा पुरुषार्थ करते हैं, वह गद्दी पर बैठते हैं। 8 पास विद आनर होते हैं। उनमें आना चाहिए। उनमें नहीं तो 108 में आओ। मार्जिन तो 16108 की भी है। 16108 की बहुत बड़ी माला होती है। उनको बैठ खींचते हैं। यहाँ माला जपने की बात नहीं है। बाप तो कहते हैं फालो करो। यह ब्रह्मा बूढ़ा पढ़कर पास हो नम्बरवन में जाता है। मम्मा जवान भी नम्बरवन में जाती है। तो तुम पुरुषार्थ क्यों नहीं करते हो। ग़फलत क्यों करते हो? बाप को पत्र भी नहीं लिखते, याद भी नहीं करते हैं। प्रण भी कर जाते हैं परन्तु बाहर गये खलास। हम कह भी देते हैं – तुम बाहर जाने से भूल जायेंगे। कहते हैं बाबा हम नहीं भूलेंगे। फिर भूल जाते हैं। वन्डर है ना। यह है बिल्कुल नई पढ़ाई जो कोई शास्त्र में नहीं है। कोई समझ नहीं सकते। अब बाबा ने दृष्टि दी है – इस अन्तिम जन्म में। बाबा सुनाते हैं – हम गीता भी पढ़ते थे। नारायण का भी पूजन करते थे। गद्दी पर भी नारायण का चित्र रखते थे (हिस्ट्री सुनाना) लक्ष्मी को कैसे मुक्त कर दिया। दुनिया वालों से बड़ा युक्ति से चलना पड़ता है। तुम भी गुप्त रीति बाबा का परिचय देते रहो कि बाप और वर्से को याद करो। स्वर्ग के हैं देवी-देवता, इसलिए लक्ष्मी-नारायण का चित्र बनाया है। पहले त्रिमूर्ति नहीं डाला था क्योंकि ब्रह्मा को देख बिगड़ जाते हैं। परन्तु ब्रह्मा बिगर काम कैसे हो। बी.के. बाप को नहीं देखेंगे तो काम कैसे होगा? बाप कहते हैं गीता में लिखा हुआ है – मनमनाभव, मध्याजी भव। चाहे मुक्ति का वा जीवन मुक्ति का दोनों वर्सा मैं दे सकता हूँ और कोई नहीं। बहुत समझने की बातें हैं। अमृतवेले उठकर विचार सागर मंथन करना है जरूर। दिन में भल काम करो परन्तु अमृतवेले 4 बजे से 5 बजे तक बैठकर याद करो तो बहुत सुख फील होगा। बाबा स्वीट होम से हम बच्चों को पढ़ाने आते हैं, फिर चले जाते हैं। कहते हैं मुझे याद करो तो खाद निकलेगी। जब सच्चा सोना बन जायेंगे तब पास विद आनर होंगे। अगर ऊंच पद पाना है तो पुरुषार्थ से क्या नहीं हो सकता है? बाप फिर भी कहते हैं – इस ईश्वरीय बचपन को नहीं भूलना। ऐसे बाप को घड़ी-घड़ी याद करना चाहिए। याद से तुम कंचन बनते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी प्रकार की ग़फलत नहीं करनी है। एक दो को सावधान कर, बाप की याद दिलाए उन्नति को पाना है। अपने ईश्वरीय बचपन को भूलना नहीं है।

2) मात-पिता को फालो करते रहना है। माया के तूफानों से डरना नहीं है। अमृतवेले बाप की याद में बैठकर सुख का अनुभव करना है।

वरदान:- दृढ़ संकल्प रूपी व्रत द्वारा अपनी वृत्तियों को परिवर्तन करने वाले महान आत्मा भव 
महान आत्मा बनने का आधार है – ”पवित्रता के व्रत को प्रतिज्ञा के रूप में धारण करना” किसी भी प्रकार का दृढ़ संकल्प रूपी व्रत लेना अर्थात् अपनी वृत्ति को परिवर्तन करना। दृढ़ व्रत वृत्ति को बदल देता है। व्रत का अर्थ है मन में संकल्प लेना और स्थूल रीति से परहेज करना। आप सबने पवित्रता का व्रत लिया और वृत्ति श्रेष्ठ बनाई। सर्व आत्माओं के प्रति आत्मा भाई-भाई की वृत्ति बनने से ही महान आत्मा बन गये।
स्लोगन:- अपने पवित्र श्रेष्ठ वायब्रेशन की चमक विश्व में फैलाना ही रीयल डायमण्ड बनना है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize