today murli 29 june —

TODAY MURLI 29 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 June 2018 :- Click Here

29/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the sweetest Father has come to make you sweet. You have to become as sweet as the deities and make others sweet.
Question: Which children receive the blessing of remaining constantly happy?
Answer: Those who value the jewels of knowledge. Each jewel is one that makes you a multimillionaire. You children have to imbibe these jewels and become rup and basant. If only jewels constantly continue to emerge from your lips, you can become constantly happy. The Father is pleased to see the children who become sweet and He gives them the blessing of remaining constantly happy. You children become ever wealthy and everhealthy through this blessing.
Song: You have come into my heart. 

Om shanti. This is such a sweet song. Although the film industry composed this song, they don’t know anything. You sweet children are playing part s in this unlimited play. The unlimited Father is now playing a part in the unlimited drama, personally in front of you. You children only see sweet Baba in front of you. Souls see one another with their eyes (organs of the body). The souls that are sitting personally in front and for whom Baba says: “Sweet children” also know that. Baba says: I have come to make all the children very sweet. Maya has made you very bitter. Only the Father comes and explains this. You used to be so sweet. When you go to the temples, you consider the deities to be so sweet. You look at the deities with such sweet vision. You wait in anticipation for the temple to open so that you can have a sight of the sweet deities. Although they are made of stone, you understand that they were sweet when they existed. You go to the Shiva Temple. He is the sweetest. He definitely also existed in the past. The sweetest of all, the sweetest Father of all, must definitely have come in Bharat. All those who are in the temples existed in the past. They must definitely have done something when they existed. It would only be the children who know the sweetest Father. Therefore, it would definitely be said that the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is the sweetest of all. There is a lot of praise of Shiv Baba in Bharat in particular and the whole world in general. Many say: Shiva Kashi Vishwanath Ganga (Shiva, the One who resided at Kashi, the Lord of the World who brought the Ganges). They even go and reside there. This Baba has also gone around everywhere. People praise Shiva so much. The Father knows that all of you are sweet children. You are children of the family. Each one of you receives your part , numberwise. However, everyone’s vision would go to the hero and heroine. They sing: “You are the mother and father” to those who are the hero and heroine in this drama . You children know that you are sitting personally in front of that mother and father. You are not in front of the world. This is incognito. They have completely lost all name and trace of this one. They just have the image, but you can’t tell anything from that. There are many worshippers of Shiva, but they don’t have the full introduction. You know that Shiv Baba is the sweetest and that no one can be as sweet as He is. If that sweetest Father didn’t come, how would this impure world become pure? At this time, no one except you children are sweet. They say “Shivohum” (I am God). However, God is the sweetest. He is the Resident of the supreme abode. How can you say “Shivohum” (I am God) in this impure world? God is the Creator and the Purifier. All devotees remember God. It isn’t that all devotees are God. Only incorporeal Shiva is said to be the sweetest. You will go to sweetest heaven through sweetest Baba. A dynasty is being created. Sweetest Baba is making us most beloved and sweet. Whatever someone is like, he will make others the same as himself. He says: I am incorporeal. You souls are also incorporeal. A Shivalingam is worshipped in the Shiva Temple. When they create a sacrificial fire, they create saligrams and Shiva. They then worship those. Big merchants create sacrificial fires. They make a lingam of Rudra Shiva and also make saligrams. Brahmin priests carry out the worship. Now, you Brahmins were worthy of worship and then became worshippers. They make a big lingam of Shiva and small saligrams and worship those. That is called the sacrificial fire of Rudra. So, that is worshipping clay. They make idols etc. of clay as a memorial. The worshippers then sit and worship them. Bharat was worthy of worship. There was no worshipping in the golden and silver ages. For half the cycle there is knowledge and for half the cycle there is devotion. It is remembered: You are worthy of worship and you are a worshipper. Then, they say: All are God. They believe that God was worthy of worship and that God became a worshipper. That is called the Ganges flowing backwards. Everyone calls out to the Father: Oh God! Oh Purifier! Oh Merciful One! To call out means to invoke. For half the cycle on the path of devotion, devotees make invocations. In heaven, you will be the masters. The Father says: I am making you the sweetestGod, the Father, is so sweet, so lovely. Shiva is the Innocent Lord. They would not even mention the name of Shankar. Shiva is incorporeal and Shankar is subtle and so saying that both of them are one and the same is wrong. When human beings go to anyone’s temple, they only worship the incorporeal One. They have mixed everyone up. They sing praise of Rama and Narayan. There is a vast difference between Rama and Narayan. They have put all of them together. No one knows who Vyas was. In fact, you are the true Vyas, the children of Sukhdev. Baba sits here and gives you the knowledge of easy yoga and tells us that we are the true Vyas, the children of Sukhdev. We are Brahmins. He sits here and teaches us easy Raja Yoga in a practical way through which we change from human beings into deities. They go in front of the deities and sing: “We are sinners, degraded and bitter”. They are very sweet. This Lakshmi and Narayan have taken 84 births. The same applies to you. Only you receive this knowledge. Lakshmi and Narayan will not have this knowledgethere. There, we don’t make anyone into deities through this knowledge. So, what will we do there? Here, you are so useful. We are now the children of sweetest Baba. We will then become Shri Lakshmi and Narayan. You know that we are becoming the sweetest through the sweetest Father. Shiv Baba is Shri Shri, the sweetest of all. We also become sweet through Him. We cannot call ourselves Shri Shri. This is something to be understood. To the extent that you become bodiless and soul conscious and remember the sweet Father, to that extent you will become sweet. Become soul conscious and remember the Father and the inheritance. Don’t forget this main thing. If you remember Me, you will become as sweet as I am. So, how much should you remember such a Father who makes you like this! It is as though Baba is a mountain of sweetness. It is said: Receive happiness by remembering Him. This is not a rosary of which you have to turn the beads. You don’t have to turn the beads of a rosary. You simply have to remember Me. No one knows in whose memory the rosary is created. They simply continue to say, “Rama, Rama!” and turn the beads of a rosary. You now understand that you are the children of Rama, Shiv Baba, and that this is why we remember Him. To turn the beads of a rosary is a sign of being a worshipper. We remember Baba a great deal. We become ever healthy and free from disease by having remembrance. Baba repeatedly tells you: Consider yourself to be bodiless and remember Me and your boat will go across. There aren’t any human beings with 10 or 20 arms or an elephant’s trunk, nor can deities be born by someone sneezing. When you hear all of those things now, you wonder what all of that is. All of that is the paraphernalia of the path of devotion. In the golden age, none of those things will exist. Devotion lasts for half the cycle. Knowledge doesn’t last for half the cycle. Only the reward of knowledge lasts for half the cycle. You receive the inheritance for 21 births through knowledge, just as you receive the inheritance of devotion. Devotion is at first satopradhan and it then goes through the stages of sato, rajo and tamo. That too is like an inheritance you receive from the Father. So, first of all, you are satopradhan, and then you go through the stages of sato, rajo and tamo. The inheritance of knowledge is also satopradhan, sato, rajo and tamo. These things have to be understood. First of all, you souls have to understand that you are children of the most beloved Father. The Father has entered this body. How could He speak the murli without a body? The incorporeal world is the silence world. Then there is the ‘movie  (subtle region) and then this is the ‘talkie . There are the three worlds. You listen to everything new. No one else in the world can know this. You souls know that you come from the silence world. That place is called Brahmand because we are residents of that place. Souls reside there in an egg-shaped form. However, they are not like that. If you say that He is a s tar, how could a star be worshipped? How could you place fruit, flowers or milk on it? The name “Shiva” is fine. It isn’t that because He is the Father, He is big and we souls are small. “Supreme” means the Soul that resides in the supreme abode and is the most beloved. You know that you now have to follow the Father’s shrimat. Baba, the sweetest of the sweet, comes and makes us most sweet. When a soul becomes sweet, he receives a sweet body. The Father says: Simply remember the Seed and the tree. The Father, the Seed, is up above. He is the Seed of the tree. This is the foundation. Other twigs and branches emerge from this. This isn’t in the intellect of anyone in the whole world. Baba says: Beloved children, the incorporeal Father is speaking through this body. You listen with those ears. It is souls that imbibe. When the Sun of Knowledge rises, the darkness of ignorance is dispelled. There is the dark night. Human beings think that it will get darker still. However, this is extreme darkness. Human beings don’t know this. You now know the Creator and the beginning, the middle and the end of creation, whereas sannyasis say that He is infinite. God, Your ways and means are unique! You understand that God Himself comes and grants liberation and salvation. You know that you will become Narayan from an ordinary man and Lakshmi from an ordinary woman by following shrimat. The intoxication is so great! There is one aim and objective. You might become a barrister, but you would become that, numberwise. This is why you have to follow the mother and father. You know that the mother and father make effort and claim number one, and so you should also make effort. You also become just as sweet. Children gain the throne of their parents. When the children have grown up and become seniors, the parents come down. That is like you gaining the throne of your parents. You children have to become very lovely and very sweet. Only jewels should always emerge from your lips. You are rup and basant. They sat and made up a story. These are jewels of knowledge. Baba knows the jewellery business very well. The jewellery business is considered to be the highest of all. These are jewels of knowledge. Each jewel is imbibed. Through these, you become multimillionaires countless times over. Your palaces will be built of golden bricks and studded with diamonds and jewels. You will remain very happy there. You will become ever healthy and ever wealthy. It is as though Baba is giving you a blessing. The sweeter you become, the happier the Father will be. In a schoolteachers know the students. That One is the unlimited Father, Teacher and Satguru. You children are now sitting in front of Baba and so the murli that emerges is likewise. However, Baba doesn’t let knowledgeable souls remain here. He says: Go outside and serve to change human beings into deities. Make those who have become the most bitter and most diseased free from disease. The average lifespan now is 40 to 45 years. The lifespan of a yogi soul is very long. Krishna is called a great soul, Yogeshwar. When it was his kingdom, the average lifespan was 150 years. Now people have become diseased. There is an account, but people don’t know this. The vessel of the intellect that was golden has reached this condition because it is filled with poison. Baba is now pouring the nectar of knowledge into it and making it golden. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become the sweetest like the Father. Never let bitter words emerge from your lips. Always speak sweetly.
  2. Understand the value of the invaluable jewels of knowledge that the Father gives us and imbibe them very well.
Blessing: May you grant a vision of your blissful life with your balance and become worthy of receiving everyone’s blessings.
Balance is the greatest art. When you have a balance of remembrance and service, you will continue to receive the Father’s blessings. With a balancein every aspect, you will easily become number one. It is your balance that will grant many souls a vision of your blissful life. While keeping a balancein your awareness at all times, continue to experience all attainments and you yourself will continue to move forward and also enable all souls to move forward.
Slogan: A mahavir is one who makes all difficulties easy and turns a mountain into a mustard seed (rai) or cotton wool (rui).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 June 2018

To Read Murli 28 June 2018 :- Click Here
29-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – स्वीटेस्ट बाप आया है, स्वीट बनाने, तुम्हें देवताओं समान स्वीट बनना और बनाना है
प्रश्नः- सदा सुखी बनने का वरदान किन बच्चों को प्राप्त होता है?
उत्तर:- जिन्हें ज्ञान रत्नों की वैल्यू है। एक-एक रत्न पद्मपति बनाने वाला है। तुम बच्चे इन रत्नों को धारण कर रूप बसन्त बनो। मुख से सदैव रत्न निकलते रहें तो सदा सुखी बन जायेंगे। जो बच्चे मीठा बनते हैं, उन्हें बाप भी देखकर खुश होते हैं और सदा सुखी बनने का वरदान देते हैं। तुम बच्चे इसी वरदान से एवरहेल्दी, एवरवेल्दी बन जाते हो।
गीत:- आ गये दिल में तू … 

ओम् शान्ति। कितना मीठा गीत है। भल बनाया फिल्म वालों ने है, परन्तु वे तो कुछ भी जानते नहीं। तुम मीठे बच्चे इस बेहद के नाटक में पार्ट बजा रहे हो। बेहद के ड्रामा में बेहद का बाप भी अब पार्ट बजा रहे हैं सम्मुख। तुम बच्चों को स्वीट बाबा ही नज़र आता है। आत्मा इन नयनों से (शरीर के आरगन्स से) एक-दो को देखती है। आत्मा भी जो सम्मुख बैठी है, वह जानती है, जिसके लिए बाबा कहते हैं स्वीट चिल्ड्रेन। बाबा कहते हैं मैं सब बच्चों को बहुत स्वीट बनाने आया हूँ। माया ने तुमको बहुत कड़ुआ बना दिया है। यह बाप ही आकर समझाते हैं, तुम कितने स्वीट थे। बरोबर तुम जब मन्दिरों में जाते हो तो देवताओं को कितना स्वीट समझते हो। देवताओं को कितनी मीठी नज़र से देखते हो। कहाँ मन्दिर खुले तो स्वीट देवताओं का दर्शन करें। बनावट तो भल पत्थर की है, परन्तु समझते हैं यह स्वीट होकर गये हैं। शिव के मन्दिर में जाते हैं, वो भी बहुत स्वीटेस्ट हैं। जरूर होकर गये हैं। स्वीटेस्ट ते स्वीटेस्ट, मीठे से मीठा बाप जरूर भारत में ही आया होगा। मन्दिरों में जो भी हैं वो सब होकर गये हैं। जरूर कुछ करके गये हैं। स्वीटेस्ट बाप को जानने वाले बच्चे ही होंगे। तो जरूर कहेंगे निराकार परमपिता परमात्मा सबसे स्वीटेस्ट है।

भारत में खास, दुनिया में आम शिवबाबा की महिमा तो बहुत है। शिव काशी विश्व नाथ गंगा – ऐसे बहुत कहते हैं। वहाँ जाकर रहते भी हैं। यह बाबा भी सब तरफ चक्र लगाकर आये हैं। मनुष्य शिव की कितनी महिमा करते हैं! बाप जानते हैं यह सब स्वीट चिल्ड्रेन हैं। घर के बच्चे हैं। सबको नम्बरवार अपना पार्ट मिलता है, परन्तु सबकी नज़र हीरो-हीरोइन पर ही जायेगी। अब इस ड्रामा में जो हीरो-हीरोइन हैं उन्हों के लिए गाते हैं तुम मात-पिता….। अभी तुम बच्चे जानते हो उस मात-पिता के सम्मुख बैठे हैं। दुनिया के सम्मुख तो नहीं हैं। यह है गुप्त। इनका नाम-निशान बिल्कुल ही गुम कर दिया है। सिर्फ चित्र हैं परन्तु उनसे कोई पता नहीं पड़ता। शिव के पुजारी तो बहुत होते हैं। लेकिन पूरा परिचय नहीं है। तुम जानते हो शिवबाबा है स्वीटेस्ट, उन जैसा स्वीट कोई हो नहीं सकता। वह स्वीटेस्ट बाप न आये तो यह पतित दुनिया पावन कैसे बनें। इस समय तुम बच्चों के सिवाए कोई भी स्वीट नहीं है। भल अपने को शिवोहम्, भगवान कहते रहते हैं। लेकिन भगवान तो इतना स्वीटेस्ट है, वह तो परमधाम में रहने वाला है, तुम फिर इस पतित दुनिया में कैसे कहते हो – शिवोहम्, हम भगवान हैं! भगवान तो रचयिता, पतित-पावन है। भगवान को सभी भक्त याद करते हैं। ऐसे नहीं, सब भक्त भगवान हैं। निराकार शिव को ही स्वीटेस्ट कहेंगे। स्वीटेस्ट बाबा द्वारा ही स्वीटेस्ट स्वर्ग में जायेंगे। यह डिनायस्टी रची जा रही है। स्वीटेस्ट बाबा हमको मोस्ट बिलवेड स्वीट बना रहे हैं। जो जैसा होगा ऐसा बनायेगा ना। कहते हैं मैं निराकार हूँ। तुम आत्मायें भी निराकार हो। शिव के मन्दिर में शिवलिंग की पूजा होती है ना। यज्ञ रचते तो सालिग्राम और शिव बनाते हैं। उनकी पूजा करते हैं। बहुत बड़े-बड़े सेठ लोग यज्ञ रचते हैं। रुद्र शिव का भी लिंग बनाते हैं और सालिग्राम भी बनाते हैं। ब्राह्मण लोग पूजा करते हैं। तुम ब्राह्मण ही पूज्य थे फिर पुजारी बने हो। शिव का लिंग बड़ा, सालिग्राम छोटा बनाकर पूजा करते हैं। उसका नाम ही है रुद्र यज्ञ। तो यह हो गई मिट्टी की पूजा। बुत आदि मिट्टी के बनाते हैं यादगार के लिए। फिर पुजारी बैठ पूजा करते हैं। भारत पूज्य था। सतयुग-त्रेता में पुजारीपन नहीं था। आधा कल्प है ज्ञान, आधा कल्प है भक्ति। गाया भी जाता है आप-ही पूज्य और आप-ही पुजारी। फिर कहते हैं सब भगवान हैं। समझते हैं भगवान ही पूज्य था, भगवान ही पुजारी बनता है, इसको उल्टी गंगा कहा जाता है। बाप को तो सब बुलाते हैं – हे भगवान, हे पतित-पावन, हे रहमदिल, पुकारना माना आह्वान करना। भक्ति मार्ग में आधा कल्प भक्त लोग आह्वान करते हैं। स्वर्ग में तो तुम मालिक होंगे। बाप कहते हैं तुमको बहुत स्वीटेस्ट बना रहा हूँ। गॉड फादर कितना मीठा, कितना प्यारा शिव भोला भगवान है। शंकर का तो नाम ही नहीं डालेंगे। शिव निराकार, शंकर आकारी – दोनों को मिलाना तो ग़लत है ना। मनुष्य कोई के भी मन्दिर में जायेंगे तो पूजा एक ही निराकार की करेंगे। सबको मिला देते हैं। अचतम् केशवम्, श्री राम नारायणम्…. अब राम कहाँ, नारायण कहाँ। सबको इकट्ठा कर दिया है।

व्यास कौन था – यह कोई भी नहीं जानते। वास्तव में सच्चे व्यास सुखदेव के तुम बच्चे हो। बाबा बैठ सहज योग की नॉलेज सुनाते हैं और उस सुखदेव के हम बच्चे हैं सच्चे-सच्चे व्यास। हम ब्राह्मण हैं। हमको प्रैक्टिकल में बैठ सहज राजयोग सिखलाते हैं, जिससे हम मनुष्य से देवता बनते हैं। देवताओं के आगे जाकर गाते हैं हम पापी, नीच, कड़ुवे हैं। वह तो बहुत मीठे हैं ना। इन लक्ष्मी-नारायण ने ही 84 जन्म लिए हैं। ततत्वम्। यह नॉलेज तुमको ही मिलती है। लक्ष्मी-नारायण में वहाँ यह नॉलेज नहीं होगी। हम वहाँ यह नॉलेज देकर किसी को देवता नहीं बनाते हैं। तो बाकी क्या काम करें? यहाँ तो कितने काम हैं। अभी हम स्वीटेस्ट बाबा के बच्चे हैं, फिर श्री लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। तुम जानते हो हम स्वीटेस्ट फादर से स्वीटेस्ट बनते हैं। शिवबाबा है श्री श्री मीठे ते मीठा। उनसे हम भी मीठे बनते हैं। हम अपने को श्री श्री नहीं कह सकते। यह समझने की बातें हैं। तुम जितना अशरीरी, देही-अभिमानी बनेंगे और मीठे बाप को याद करेंगे उतना मीठा बनेंगे। देही-अभिमानी बन बाप और वर्से को याद करना है। यह एक मुख्य बात न भूलो। मुझे याद करेंगे तो मेरे जैसा मीठा बन जायेंगे। तो ऐसा बनाने वाले बाप को कितना याद करना चाहिए। बाबा मिठास का तो जैसे एक पहाड़ है। कहते हैं ना – सिमर-सिमर सुख पाओ। कोई सिमरणी नहीं सिमरनी है। माला नहीं फेरनी है। सिर्फ याद करना है। कोई को भी यह पता नहीं है कि यह माला किसकी याद में बनी हुई है। सिर्फ राम-राम करते रहते, माला फेरते रहते हैं। अभी तुम समझते हो राम शिव बाबा के हम बच्चे हैं इसलिए सिमरण करते हो। माला फेरना तो पुजारीपन का चिन्ह है। हम बाबा को बहुत याद करते हैं। याद से ही हम एवरहेल्दी, निरोगी बन जाते हैं। बाबा बार-बार कहते हैं अपने को अशरीरी समझ मुझे याद करो तो बेड़ा पार है। बाकी कोई 10-20 भुजा या सूंढ़ वाला मनुष्य नहीं होता। न कोई छींकने से देवता निकल आयेंगे। यह बातें अब सुनते हैं तो समझते हैं यह सब क्या है! यह सब है भक्तिमार्ग की सामग्री। सतयुग में यह कुछ भी होगी नहीं। भक्ति आधा कल्प चलती है। ज्ञान कोई आधा कल्प नहीं चलता है। ज्ञान की प्रालब्ध आधा कल्प चलती है। ज्ञान से 21 जन्म का वर्सा मिलता है। तो जैसे वह भक्ति का वर्सा मिलता है। भक्ति पहले सतोप्रधान थी। फिर सतो, रजो, तमो हो जाती है। जैसे यह भी बाप से वर्सा मिलता है। तो फिर पहले सतोप्रधान, फिर सतो, रजो, तमो में आते हैं। ज्ञान का वर्सा भी सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो होता है। यह समझने की बातें हैं। पहले तो समझना है – हम आत्मा मोस्ट बिलवेड बाप के बच्चे हैं। बाप इस जिस्म में आये हैं। जिस्म बिगर मुरली कैसे सुना सकेंगे। निराकारी दुनिया तो है साइलेन्स वर्ल्ड फिर है मूवी, यह टाकी। तीन लोक हैं ना। एक-एक बात तुम नई सुनते हो। दुनिया में और कोई जान न सके। तुम जानते हो हम आत्मायें साइलेन्स वर्ल्ड से आती हैं। वहाँ की रहवासी हैं, इसलिए उनका नाम ब्रह्माण्ड रखा हुआ है। अण्डे मिसल आत्मायें रहती हैं। परन्तु ऐसे है थोड़ेही। अगर स्टार कहें तो स्टार की पूजा कैसे हो! फल, फूल, दूध आदि उन पर कैसे ठहर सके। नाम तो शिव ठीक है। ऐसे नहीं कि वह बाप बड़ा, हम आत्मायें छोटी हैं। परम माना परमधाम की रहने वाली आत्मा जो मोस्ट बिलवेड है।

तुम जानते हो अब हमको बाबा की श्रीमत पर चलना है। बहुत मीठे ते मीठा बाबा आकर हमको मोस्ट स्वीट बनाते हैं। आत्मा स्वीट बनेंगी तो शरीर भी स्वीट मिलेगा। बाप कहते हैं सिर्फ बीज और झाड़ को याद करो। बीज बाप ऊपर में है। वह है वृक्षपति। यह है फाउण्डेशन। फिर इनसे और टाल टालियाँ निकलती हैं। दुनिया में कोई की बुद्धि में यह नहीं है। बाबा कहते हैं – लाडले बच्चे, निराकार बाप इस शरीर द्वारा बोलते हैं। तुम इन कानों से सुनते हो। आत्मा ही धारण करती है। ज्ञान सूर्य प्रगटा, अज्ञान अंधेर विनाश। अंधियारी रात होती है ना। मनुष्य समझते हैं इससे भी अजुन अंधियारा होगा। यह है ही घोर अंधियारा। मनुष्य यह नहीं जानते। अभी तुम रचयिता और रचना के आदि, मध्य, अन्त को जान गये हो। जिसके लिए सन्यासी कहते हैं बेअन्त है। ईश्वर तुम्हारी गत मत न्यारी है। तुम तो समझते हो ईश्वर ही आकर गति सद्गति करते हैं। तुम जानते हो श्रीमत से हम सो नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनेंगे। कितना भारी नशा है! एम ऑब्जेक्ट तो एक होती है ना। बैरिस्टर बनेंगे, परन्तु नम्बरवार तो बनेंगे ना इसलिए फालो फादर मदर। जानते हो मदर फादर पुरुषार्थ कर नम्बरवन में जाते हैं तो हम भी पुरुषार्थ करें। हम भी इतना स्वीटेस्ट बनें। बच्चे माँ-बाप के तख्त पर जीत पाते हैं ना। वह बड़े हो जायेंगे तो मात-पिता नीचे उतरेंगे। तो जैसे तुम मात-पिता के तख्त पर जीत पाते हो।

तुम बच्चों को बहुत प्यारा, बहुत मीठा बनना है। तुम्हारे मुख से सदैव रत्न निकलने चाहिए। रूप बसन्त तुम हो। उन्होंने तो एक कहानी बैठ बनाई है। यह है ज्ञान रत्न। जवाहरात को तो बाबा अच्छी रीति जानते हैं। सबसे ऊंच जवाहरात का धन्धा गिना जाता है। यह भी ज्ञान रत्न हैं। एक-एक रत्न की धारणा होती है। इससे तुम अनगिनत पदमपति बनते हो। तुम्हारे महलों में कैसे सोने की ईटें, हीरे जवाहरात लगते हैं! बड़े सुखी रहेंगे। एवर हेल्दी, एवर वेल्दी बनेंगे। यह जैसे बाबा वरदान देते हैं। जितना मीठा बनेंगे, उतना बाप खुश होगा। स्कूल में टीचर स्टूडेण्ट को जानते हैं ना। यह तो बेहद का बाप-टीचर-सतगुरू है। अभी तुम बच्चे सामने बैठे हो तो मुरली भी ऐसी निकलती है। परन्तु फिर ज्ञानी तू आत्मा को बाबा यहाँ रहने नहीं देते। कहते हैं – जाओ, जाकर मनुष्य से देवता बनाने की सेवा करो। जो कड़ुवे ते कड़ुवे, प्लेगी बहुत रोगी हो गये हैं, उनको निरोगी बनाओ। अभी तो एवरेज आयु 40-45 वर्ष होगी। योगी की आयु बहुत बड़ी होती है। कृष्ण को महात्मा, योगेश्वर कहते हैं। उनका जब राज्य था तब एव-रेज आयु 150 वर्ष थी। अब रोगी बन गये हैं। हिसाब तो है ना। परन्तु मनुष्य जानते नहीं। बुद्धि रूपी बर्तन जो सोने का था, उसमें विष (जहर) भरने से यह हाल हो गया है। अब बाबा ज्ञान अमृत डाल सोने का बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान स्वीटेस्ट बनना है। मुख से कभी कड़ुवे वचन नहीं निकालने हैं, सदैव मीठा बोलना है।

2) बाप हमको जो अमूल्य ज्ञान रत्न दे रहे हैं, उनकी वैल्यू को समझ अच्छी रीति धारण करना है।

वरदान:- बैलेन्स द्वारा ब्लिसफुल जीवन का साक्षात्कार कराने वाले सर्व की ब्लैसिंग के पात्र भव
बैलेन्स सबसे बड़ी कला है। याद और सेवा का बैलेन्स हो तो बाप की ब्लैसिंग मिलती रहेगी। हर बात के बैलेन्स से सहज ही नम्बरवन बन जायेंगे। बैलेन्स ही अनेक आत्माओं के आगे ब्लिसफुल जीवन का साक्षात्कार करायेगा। बैलेन्स को सदा स्मृति में रखते हुए सर्व प्राप्तियों का अनुभव करते रहो तो स्वयं भी आगे बढ़ते रहेंगे और अन्य आत्माओं को भी आगे बढ़ायेंगे।
स्लोगन:- महावीर वह है जो हर मुश्किल को सहज कर, पहाड़ को राई व रुई बना दे।

TODAY MURLI 29 June 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 June 2017

Read Murli in Hindi :- Click Her

Read Bk Murli 28 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

29/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, always have the intoxication that you are being showered with the rain of knowledge by the Father, the Ocean of Knowledge, and that you will become pure by this and return to your great home.
Question: On what basis will the faith of you children continue to become even stronger?
Answer: As chaos increases in the world and your divine tree continues to grow, the more your hearts will move away from the old world and the stronger your faith will continue to become. Service will happen at a very fast pace. If you continue to pay attention to dharna, the enthusiasm will increase in your intellects and you will stay in limitless happiness.

 

Om shanti. It is not necessary to tell the children every day to remember Shiv Baba. You children understand that you are Shiv Baba’s children; there is no need to tell you. Shiv Baba is teaching us through this one. This is the rain of knowledge from the Ocean of Knowledge. It is in the children’s intellects that there is now the rain of knowledge over them. I shower the rain of knowledge over only those who become Brahmins. I come face-to-face with the children and the children are now sitting face-to-face with Me. Baba repeatedly increases your intoxication of sitting face-to-face with Him. Maya then brings the intoxication down. She reduces the intoxication of some a little and that of others completely. You children understand that you have come to the Ocean to be refreshed, that is, to imbibe points from the murlis and take directions. We are sitting in front of Him. The rain of this Ocean of Knowledge only occurs once. The Father comes to purify the impure. People also sing this praise: O Purifier, come! You will not call out in this way in the golden age. There, you will have already become pure through the rain of knowledge from the Ocean of Knowledge. Together with knowledge, there is disinterest. Disinterest in what? The intellect has disinterest in the old, impure world. The intellects of you children understand that you are now going to the new world and that you must renounce the old world. People have used the word ‘disinterest’, for this. When Baba builds a new home, the intellect’s yoga is removed from the old and attached to the new. You feel that the old one should be finished so that you can go to the new one. You children also feel inside that heaven should be established soon so that you can go home quickly and then be happy. First of all, we will return home with the Bridegroom. This is the parents’ home; it is the small home. That one is the great home of the Great Father. You know that that is the home of all souls. This is in the intellects of only you children, not in anyone else’s intellect. Previously, there was darkness and now there is light. You also understand that not everyone will take this knowledge. Everyone will definitely return home. It is in the intellects of you children that you are now returning to your home. You are becoming worthy by following shrimat. You have to become worthy to go to heaven. Firstly, remember Me so that your sins can be absolved, and secondly, spin the discus. How does the world cycle turn? What is its duration? Who comes at what time? The Father sits here and explains all of this. When they say that human beings take 8.4 million births, does that mean that everyone takes that many births? You now understand that there are only 84 births and that there is this calculation. Not everyone will take 84 births. Souls continue to take rebirth from the beginning. At the end, there are even those who only take one or two births. Those who come at the beginning take 84 births: for instance, Lakshmi and Narayan. People go to their temple, but they do not know anything. They simply say they are going to have a glimpse of the god and goddess. They do not even know how their kingdom is established, nor do they know the occupation of those they worship; so of what use is that worship? This is why it is called blind faith. They do penance, tapasya and go on pilgrimages, etc., thinking that they will find the path to meet God, but no one can find God through any of that. Some come here and also go to the Jagadamba Temple for a glimpse, and so Baba understands that nothing has entered their intellects. All of your desires are now being fulfilled. The part of Jagadamba is now being played accurately. Definitely, the part of Jagadamba is very high. First is Lakshmi and then Narayan. This is your last birth and the karmic accounts are being settled here. You have to become free by settling all karma and also stay in remembrance of the Father. In fact, you children should only remember the one Father. If you remember a bodily being, your time is wasted. It is not possible for anyone to remember Baba constantly. There are no such things that could be remembered constantly. Even a wife cannot remember her husband constantly. Surely, when she is preparing food or taking care of the children, she is not remembering her husband. However, here, you have to practise being in constant remembrance so that your stage will be such at the end that you only remember the One. This is an important examination. There is great praise of the eight jewels: when people experience bad omens, they wear a ring of eight jewels. At the end, there should be remembrance of only the one Father. For that, the line of your intellect has to be absolutely clear and no one else should be remembered, for only then will you be able to become a bead of the rosary. There is a lot of praise of the nine jewels. So, now, let there be the practice of constant remembrance. At the moment, scarcely anyone remembers Baba for even two or three hours. As the chaos in the world increases, to that extent you will continue to have faith and your hearts will continue break away from the old world. Many will die. The intellect says that Maya is a very old enemy. There is no place where there are no enemies. You children are now changing from dirty to clean. You have the understanding that you must not eat food cooked by impure people. It is also said: As is the food, so the mind. Sin accumulates in those who buy bad things, for those who prepare it and also for those who eat it. The Father explains everything very clearly. You children return after being refreshed here. Throughout the day, the world cycle should turn around in your intellects and you should also remember your home. When you return from here to your worldly homes, your stage is affected because you receive such company. Even while sitting here, the intellect’s yoga of some wanders outside and this is why they are unable to have dharna fully. The unlimited Father sits here and explains to you souls: You are a soul and you are performing actions through the body. You understand that you are taking shrimat from Baba and claiming your fortune of the kingdom once again. So, how happy you should be! It is remembered: Ask the children of the Lord of the gopis about supersensuous joy. As your stage becomes higher, as expansion continues, the mercury of your happiness will continue to rise and your faith will continue to become stronger. As you continue to pay attention to your dharna, the enthusiasm in your intellects will continue to increase. As time goes by, service will move at a very fast pace. You have to create such methods that someone will be struck by an arrow. The main thing is to give the Father’s introduction. You receive an unlimited inheritance from the unlimited Father. He is also the Ocean of Knowledge. It is only with knowledge that human beings become pure. That same Father is the Purifier. Just take up the one point of how devotion cannot continue with the notion of omnipresence. This has to be explained very clearly. Those people say that destruction takes place through our knowledge. You also say that the flames of destruction will emerge from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Therefore, they are also right! However, even if they do not understand, what else would there be other than destruction? Destruction took place a cycle ago too. God speaks: All of this will be sacrificed into the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Those people think that your knowledge is like this, and that is why they oppose you. They believe that they will find God by doing a lot of devotion. We also say that those who have done a lot of devotion have found God. However, people need a lot of effort made on them to understand these things. A cycle ago, too, you children changed hell into heaven with the Father’s help, and so the destruction of hell must also have taken place. Only when hell is destroyed can heaven be established. You can also explain that Bharat truly was pure. People of all religions would agree that there definitely was heaven. ‘Ancient’ means that which is the oldest, and so that must have been heaven. That which has become old also has to become new; this is in the intellects of you children. There was definitely the kingdom of deities, but it no longer exists. They are once again carrying out establishment of the original deity religion. With whose help? Of the One who is the incorporeal Bapuji (Father) of all souls. He is the Father of all souls. You understand all of these things. You are so ordinary! The Father says: I am also the Lord of the Poor. You are poor. What do you have? You have sacrificed everything for Bharat. Your war with Ravan is so great! You are the Shakti Army. It is also sung: Salutations to the mother. Impure ones praise the pure ones, so which mother are they referring to? They think that it is Mother Earth, but it refers to those who live on earth. There is Jagadamba, and so there are also her children. The Dilwala Temple is the memorial that has been built. There are kumaris and also half-kumaris, who are also called mothers. You say: Baba, we are Brahma Kumars and Kumaris, so call us Your children, not mothers. We are kumaris. These are deep things that require understanding, but people are not able to take them in. The consciousness of previous births is instilled and does not break. It is in your intellects that Shiv Baba is sitting in front of you and is speaking to you souls. The Father has entered this body. Baba comes and performs divine, alokik activity. He teaches in order to purify impure ones. There has to be accurate remembrance. Shiv Baba, the Purifier, is teaching us. The Purifier is the highest of all, He is the Father and also the Teacher. The first word that emerges should be ‘Purifier’. People remember Him and say: O God, the Father, come! Come and teach us Raja Yoga once again! The Father also says: I am teaching you easy knowledge once again. There is no question of books etc. in this. However, people have mentioned these names. The Father is now teaching you to make you worthy. You are given new points every day. The Gita and Granth etc. do not contain any addition or editing; they say the very same things. Here, however, there are additions and some things are also edited. You are given new points every day. This knowledge is very wonderful! It is not contained in any scriptures. Lust is the greatest enemy. God speaks: Forget everyone as well as your own body and only remember the One! I will take all of you souls back home. I am the Immortal Image, the Death of all Deaths. I have come to take all the children home, so you should be happy. You understand that you are now to return home. Become clever quickly and claim your inheritance from Baba. The war will not begin until then. The Baba says: I cannot do anything. Rehearsals will take place first. As yet, the rulers have not come. You can also explain about Rajasthan (Land of Kings). Ask them: Do you know why this term Rajasthan is used? It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat. That Rajasthan (Land of Kings) has to be established once again, and so it is being established now. We know this, but only when this enters your intellects will the mercury of happiness rise. On the path of devotion, they build temples to those deities. There was so much wealth in Bharat. We are once again making it into the divine land of kings. Come and understand these matters. Let there be such enthusiasm in explaining this. This is also a seminar. Baba has explained how you should do service. The kumaris, the mothers and also the brothers all listen together. One God, not Krishna, is the Highest on High. So, you can explain about Rajasthan. Definitely, there was Rajasthan, the land of kings, and temples have been built to them. We are creating that once again. The Father is teaching us Raja Yoga. You must also try this. Then, for half a cycle, you will not need to cry. By following Rama’s shrimat you are conquering Ravan. If they listen to such words it will touch them and those who are struck by the arrow will come to understand. Baba holds this unlimited seminar every day. This is the seminar between souls and the Supreme Soul. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become free from the suffering of karma, stay in remembrance of the one Father. Don’t waste time by remembering any bodily being. Keep the line of your intellect very clear.
  2. Eat very pure food. As is the food, so the mind. Therefore, do not eat food prepared by impure people. You must make your intellect clean.
Blessing: May you know the deep philosophy of karma and experience alokik pleasure in Brahmin life.
Brahmin life is a life of pleasure but staying in pleasure does not mean that you can do whatever you want and remain intoxicated. The pleasure of temporary happiness and pleasure of temporary relationships and connections are different from the pleasure of a constant stage of happiness. “I say whatever I want, I do whatever I want; I am always in pleasure”. Do not please yourself with temporary pleasure in this way. Stay permanently spiritual and alokik pleasure: this is the real Brahmin life. Together with this pleasure, also be aware of the deep philosophy of karma.
Slogan: Instead of being caught up in the ego of “I” (Ahem) and doubts (veham), have mercy (reham) for everyone.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_1]

 

 

Read Bk Murli 27 June 2017 :- Click Here

Read Bk Murli 26 June 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 29 June 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 June 2017

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 28 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

29/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सदा इसी नशे में रहो कि ज्ञान सागर बाप की ज्ञान वर्षा हमारे ऊपर हो रही है, जिससे हम पावन बन अपने बड़े घर में जायेंगे”
प्रश्नः- तुम बच्चों का निश्चय किस आधार से और भी पक्का होता जायेगा?
उत्तर:- दुनिया में जितने हंगामें बढ़ेंगे, तुम्हारे दैवी झाड़ की वृद्धि होगी, उतना पुरानी दुनिया से दिल हटती जायेगी और तुम्हारा निश्चय पक्का होता जायेगा। विहंग मार्ग की सर्विस होती जायेगी, धारणा पर अटेन्शन देते जायेंगे तो बुद्धि का हौंसला बढ़ता जायेगा। अपार खुशी में रहेंगे।

 

ओम् शान्ति। बच्चों को रोज़ यह कहने की दरकार नहीं रहती है कि शिवबाबा को याद करो। बच्चे जानते हैं हम शिवबाबा की सन्तान हैं। कहने की दरकार नहीं रहती। शिवबाबा हमको इस द्वारा पढ़ाते हैं, यह है ज्ञान सागर के ज्ञान की वर्षा। बच्चों की बुद्धि में है कि ज्ञान सागर की अब हमारे ऊपर ज्ञान वर्षा हो रही है। जो आकर ब्राह्मण बनते हैं उन पर ही मैं ज्ञान की वर्षा करता हूँ, बच्चों के सम्मुख होता हूँ। अभी बच्चे सम्मुख बैठे हैं। बाबा घड़ी-घड़ी सम्मुख होने का नशा चढ़ाते हैं। माया फिर नशा उतार देती है। किसका पूरा उतार देती, किसका कम। बच्चे जानते हैं – हम आये हैं सागर के पास रिफ्रेश होने अर्थात् मुरली की प्वाइंट धारण कर डायरेक्शन लेने। हम उनके सामने बैठे हैं। इस ज्ञान सागर की वर्षा एक ही बार होती है। बाप आते ही हैं पतितों को पावन बनाने। महिमा भी ऐसे गाते हैं हे पतित-पावन… सतयुग में तो ऐसे नहीं पुकारेंगे। वहाँ तो ज्ञान सागर की ज्ञान वर्षा से पावन बने हुए हैं, ज्ञान के साथ फिर वैराग्य भी है। किस चीज़ का? पुरानी पतित दुनिया का बुद्धि से वैराग्य आता है। बच्चे बुद्धि से जानते हैं कि अभी हम नई दुनिया में जाते हैं। पुरानी दुनिया को छोड़ना है – इसको वैराग्य अक्षर कह दिया है। जैसे बाबा नया मकान बनाते हैं तो पुराने से बुद्धियोग हटकर नये से लग जाता है। समझते हैं पुराना खलास हो तो हम नये में जावें। बच्चे भी अन्दर में कहते होंगे जल्दी-जल्दी स्वर्ग की स्थापना हो जाये, तब हम अपने घर जायें, सुखी होवें। पहले-पहले हम साज़न के साथ घर जायेंगे। यह पियरघर है, यह छोटा, वह बड़े बाबा का घर बड़ा घर है। तुम जानते हो वह तो सभी आत्माओं का घर है। यह तुम बच्चों की बुद्धि में है और किसकी बुद्धि में नहीं है। आगे तो अन्धियारा था, अब सोझरा है। यह भी समझते हो कि ज्ञान तो सब नहीं लेंगे। घर तो सब जायेंगे जरूर। तुम बच्चों की बुद्धि में है कि अब हम अपने घर जा रहे हैं। श्रीमत पर लायक बन रहे हैं। स्वर्ग के लायक बनना है। एक तो मुझे याद करो तो विकर्म विनाश हो जाएं, दूसरा चक्र को फिराओ। सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है, इनकी आयु कितनी है। कौन कब आते हैं, यह सारा बाप बैठ समझाते हैं। यह जो कहते हैं मनुष्य 84 लाख जन्म लेते हैं तो क्या सभी लेते हैं? अभी तुम जानते हो 84 जन्म होते हैं, उनका भी हिसाब है। सब तो 84 जन्म भी नहीं लेंगे। शुरू से लेकर पुनर्जन्म में आते रहते हैं। पिछाड़ी में किसके एक दो जन्म भी होते हैं। पहले-पहले जो आयेंगे वह 84 जन्म लेंगे। जैसे मिसाल यह लक्ष्मी-नारायण हैं, मनुष्य भल इन्हों के मन्दिरों में जाते हैं परन्तु कुछ भी पता नहीं है। बस कहेंगे भगवान भगवती का दर्शन करने जाते हैं। परन्तु इन्हों की यह राजधानी कैसे स्थापन हुई, यह कुछ भी नहीं जानते। जिसकी पूजा करते उनके आक्यूपेशन को ही नहीं जानते तो वह पूजा क्या काम की! इसलिए इनको कहा जाता है अन्धश्रद्धा। जप तप तीर्थ आदि करते हैं, समझते हैं इनसे भगवान को पाने का रास्ता मिलता है। परन्तु इनसे कोई को भगवान मिल नहीं सकता। समझो यहाँ भी कोई-कोई आते हैं, जगत अम्बा के मन्दिरों में आते हैं दर्शन करने। बाबा समझेंगे इनकी बुद्धि में कुछ बैठा नहीं है। तुम्हारी तो सब मनोकामनायें पूरी हो रही हैं ना। जगत अम्बा का पार्ट एक्यूरेट चल रहा है। बरोबर जगत अम्बा का पार्ट ऊंचा है। पहले लक्ष्मी पीछे नारायण। तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है। हिसाब-किताब यहाँ से चुक्तू होता है। कर्म का भोग भोगकर छूटना है और बाप की याद में रहना है। वास्तव में बच्चों को याद करना एक बाप को ही है। देहधारी को याद किया तो वह टाइम वेस्ट हो जायेगा। ऐसा तो हो नहीं सकता कि कोई निरन्तर याद करे। ऐसी कोई चीज़ नहीं जिसे निरन्तर याद किया जाए। स्त्री पति को भी निरन्तर याद कर न सके। जरूर खाना बनायेगी, बच्चों की सम्भाल करेगी तो पति थोड़ेही याद आयेगा। यहाँ तो तुमको निरन्तर याद करने का अभ्यास करना है। ताकि पिछाड़ी में ऐसी अवस्था हो कि एक की ही याद रहे, बड़ा भारी इम्तहान है। 8 रत्नों की भी बड़ी महिमा है। किसको गृहचारी बैठती है तो 8 रत्नों की अंगूठी पहनते हैं। पिछाड़ी के समय एक बाप की ही याद रहे, वह भी बुद्धि की लाइन एकदम क्लीयर हो और किसकी भी याद न आये – तब माला का दाना बन सकेंगे। 9 रत्नों की महिमा बहुत भारी है। तो अब निरन्तर याद करने का अभ्यास करना है। अभी तो दो तीन घण्टा कोई मुश्किल याद करते हैं। जितना दुनिया में हंगामें बढ़ते जायेंगे उतना तुमको निश्चय होता जायेगा, पुरानी दुनिया से दिल टूटता जायेगा। मरेंगे तो बहुत, बुद्धि भी कहती है माया बहुत पुराना दुश्मन है। ऐसी कोई जगह नहीं जहाँ दुश्मन न हों।

तुम बच्चे अभी मलेच्छ से स्वच्छ बन रहे हो। तुमको ज्ञान है – मलेच्छ के हाथ का हम खा नहीं सकते। गाया हुआ भी है जैसा अन्न वैसा मन। जो खराब चीज़ खरीद करता है, जो बनाता है, जो खाता है – उन सबके ऊपर पाप पड़ जाता है। बाप तो सब बातें अच्छी रीति समझाते हैं। तुम बच्चे यहाँ से रिफ्रेश होकर जाते हो। सारा दिन बुद्धि में सृष्टि चक्र फिरता रहे और अपना घर याद रहे। यहाँ से तुम अपने लौकिक घर में जाते हो तो अवस्था में फर्क पड़ जाता है क्योंकि संग ऐसा हो जाता है। यहाँ बैठे भी कोई-कोई का बुद्धियोग बाहर चला जाता है, इसलिए पूरी धारणा नहीं कर सकते हैं। तुम आत्माओं को बेहद का बाप बैठ समझाते हैं। तुम आत्मा हो, तुम इस शरीर द्वारा कार्य कर रहे हो। तुम जानते हो हम बाबा से श्रीमत ले अपना राज्य भाग्य ले रहे हैं। कितनी खुशी होनी चाहिए। गायन भी है अतीन्द्रिय सुख गोपी वल्लभ के बच्चों से पूछो। जितना जास्ती अवस्था बनेगी और वृद्धि को पायेंगे तो खुशी का पारा भी चढ़ता रहेगा और निश्चय भी पक्का होता जायेगा। धारणा पर अटेन्शन देते जायेंगे तो तुम्हारी बुद्धि का हौंसला बढ़ता जायेगा। आगे चलकर तुम्हारी विहंग मार्ग की सर्विस होती जायेगी। युक्ति निकालनी होती है, जिससे कोई को अच्छी रीति तीर लगे। मुख्य तो है ही बाप का परिचय देना। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा मिलता है। ज्ञान-सागर भी वह है। ज्ञान से ही मनुष्य पावन होते हैं। पतित-पावन वही बाप है। तुम एक ही प्वाइंट उठाओ कि सर्वव्यापी की बात से भक्ति भी चल न सके। यह बात अच्छी रीति समझानी है। वो लोग कहते हैं कि इन्हों के ज्ञान से विनाश होगा। तुम भी कहते हो इस रूद्र ज्ञान यज्ञ से विनाश ज्वाला निकली है। वह भी सच कहते हैं। कोई बात नहीं मानेंगे तो विनाश ही होगा और क्या! यह तो कल्प पहले भी विनाश हुआ था। भगवानुवाच रूद्र ज्ञान यज्ञ में यह सब स्वाहा होंगे। वो लोग समझते हैं इन्हों का ज्ञान ऐसा है, इसलिए सामना करते हैं। समझते हैं कि बहुत भक्ति करने से भगवान मिलता है। हम भी कहते हैं जिन्होंने भक्ति बहुत की है, उनको ही भगवान मिला है। परन्तु इन बातों को समझने में मनुष्यों को बहुत मेहनत लगती है। कल्प पहले भी तुम बच्चों ने बाप की मदद से नर्क को स्वर्ग बनाया था। तो जरूर नर्क का विनाश भी हुआ होगा। जब नर्क का विनाश हो तब स्वर्ग की स्थापना हो। यह भी तुम समझा सकते हो भारत बरोबर पावन था। यह तो कोई भी धर्म वाला कहेगा – बरोबर स्वर्ग था। प्राचीन माना सबसे पुराना। सो तो स्वर्ग ही होगा ना, जो पुराना हो गया है वह फिर नया होना है। यह तुम बच्चों की बुद्धि में है। बरोबर इन देवी-देवताओं का राज्य था, अब नहीं है। फिर से आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करा रहे हैं। किसकी मदद से? जो सर्व का निराकार बापू जी है। सर्व आत्माओं का बाप। इन बातों को तुम जानते हो। तुम कितने साधारण हो। बाप कहते हैं मैं भी गरीब निवाज़ हूँ, तुम गरीब हो ना। तुम्हारे पास क्या है। तुमने सब कुछ भारत के ऊपर स्वाहा किया है, तुम्हारी कितनी बड़ी रावण से लड़ाई है। शक्ति सेना है ना। वन्दे मातरम् गाया जाता है। अपवित्र, पवित्र की वन्दना करते हैं। कौन सी माता? वह धरती माता समझ लेते हैं। परन्तु यह तो धरती पर रहने वालों की बात है। जगत अम्बा है तो बच्चे भी हैं। यह दिलवाला मन्दिर यादगार बना हुआ है। कुमारियां, अधर कुमारियां भी हैं। इनको माता भी कह देते हैं। तुम कहते हो बाबा हम तो बी.के. हैं। हमको माता न कह बेटी कहो, हम कुमारी हैं। कितनी गुह्य समझ की बात है। परन्तु उठा नहीं सकते हैं। पुराना जन्म-जन्मान्तर का भान बैठा हुआ है, वह टूटता ही नहीं है। तुम्हारी बुद्धि में है कि बाबा हमारे सामने बैठे हैं। आत्माओं से बात कर रहे हैं। बाप की इस शरीर में प्रवेशता है। बाबा आकर अलौकिक दिव्य कर्तव्य करते हैं। पतित को पावन बनाने के लिए पढ़ाते हैं। पूरी याद रहनी चाहिए। हमको पतित-पावन शिवबाबा पढ़ाते हैं। पतित-पावन सबसे ऊंचा हुआ, फिर बाप टीचर भी है। पहले-पहले अक्षर ही आना चाहिए पतित-पावन। उनको याद करते हैं ओ गॉड फादर आओ। आकर फिर से हमें राजयोग सिखलाओ। बाप भी कहते हैं फिर से तुम बच्चों को सहज ज्ञान, योग सिखला रहा हूँ, इसमें पुस्तक आदि की कोई बात नहीं। यह तो उन्होंने नाम रख दिया है। अब तो बाप तुमको लायक बनने की शिक्षा दे रहे हैं। नित्य नई प्वाइंट मिलती हैं। और गीतायें, ग्रंथ आदि जो बनाते हैं उनमें कोई एडीशन व कटकूट नहीं करते हैं, वही सुनाते हैं। यहाँ एडीशन किया जाता है, कटकुट भी किया जाता है। रोज़ नई-नई प्वाइंट्स मिलती हैं। नॉलेज बड़ी वन्डरफुल है जो और कोई शास्त्रों में नहीं है। काम महाशत्रु है, भगवानुवाच देह सहित सबको भूल जाओ, एक को याद करो। मैं तुम सब आत्माओं को वापिस ले जाऊंगा। मैं अकाल मूर्त, कालों का काल हूँ। मैं सब बच्चों को लेने आया हूँ, तो तुमको खुशी होनी चाहिए ना।

तुम जानते हो अभी हम घर जाते हैं। जल्दी होशियार हो जायें, बाबा से वर्सा तो ले लेवें। तब तक लड़ाई ना लगे। बाबा कहेंगे मैं थोड़ेही कुछ कर सकता हूँ। पहले रिहर्सल होगी। अभी तो राजायें आदि भी नहीं आये हैं, राजस्थान पर भी समझा सकते हो। बोलो तुमको पता है कि राजस्थान नाम क्यों पड़ा है? भारत में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। फिर से वह राजस्थान होना चाहिए, सो अब फिर से स्थापन हो रहा है। हम जानते हैं परन्तु बुद्धि में जब बैठे तब खुशी का पारा चढ़े। भक्ति मार्ग में इन देवताओं के मन्दिर बनाते हैं। भारत में कितना धन था। हम फिर से इनको दैवी राजस्थान बनाते हैं। इन बातों को आकर समझो। समझाने का भी उमंग होना चाहिए। यह भी सेमीनार है ना। कैसे सर्विस करनी चाहिए। बाबा ने समझाया है कुमारियां, मातायें, गोप सब इकट्ठे सुनते हैं। ऊंच ते ऊंच एक भगवान है, कृष्ण नहीं। तो राजस्थान पर तुम समझा सकते हो। बरोबर राजस्थान था जिन्हों के मन्दिर बने हुए हैं फिर से हम बना रहे हैं। बाप हमको राजयोग सिखा रहे हैं। तुम भी ट्राई करो – आधाकल्प के लिए। फिर कभी रोना नहीं पड़ेगा। हम राम की श्रीमत से रावण पर जीत पा रहे हैं। अक्षर सुनेंगे तो अन्दर जंचेगा। जिनको तीर लगेगा वह समझने के लिए आ जायेंगे। यह बेहद का सेमीनार रोज़ बाबा करते हैं। यह है आत्माओं का परमात्मा के साथ सेमीनार। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कर्मभोग से छूटने के लिए एक बाप की याद में रहना है। देहधारी की याद से टाइम वेस्ट नहीं करना है। बुद्धि की लाइन बहुत क्लीयर रखनी है।

2) भोजन बहुत शुद्ध खाना है। जैसा अन्न वैसा मन इसलिए किसी भी मलेच्छ के हाथ का भोजन नहीं खाना है। बुद्धि को स्वच्छ बनाना है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में अलौकिक मौजों का अनुभव करने वाले कर्मो की गुह्य गति के ज्ञाता भव
ब्राह्मण जीवन मौज की जीवन है लेकिन मौज में रहने का अर्थ यह नहीं कि जो आया वह किया, मस्त रहा। यह अल्पकाल के सुख की मौज वा अल्पकाल के सम्बन्ध-सम्पर्क की मौज सदाकाल की प्रसन्नचित स्थिति से भिन्न है। जो आया वह बोला, जो आया वह किया-हम तो मौज में रहते हैं, ऐसे अल्पकाल के मनमौजी नहीं बनो। सदाकाल की रूहानी अलौकिक मौज में रहो-यही यथार्थ ब्राह्मण जीवन है। मौज के साथ कर्मो की गुह्य गति के ज्ञाता भी बनो।
स्लोगन:- अहम् और वहम् में आने के बजाए सर्व पर रहम करो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 27 June 2017 :- Click Here

 

Font Resize