today murli 29 july

TODAY MURLI 29 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 July 2018 :- Click Here

29/07/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
25/12/83

The days of the confluence age are days f or celebrating in the greatest pleasure of all.

Today, the greatest Father is giving congratulations for the greatest day to the greatest children of all. Baba is giving greetings for Christmas to all the children who are even sweeter than raisins (kismis). The greatest days are the days of the confluence age. Bad days have now ended and it is now the day of happiness of the confluence age,to be celebrated with enthusiasm. This is the day when the Seed of the tree tells the story of the kalpa tree. On this great day of the confluence age, sparkling, elevated Brahmin souls sparkle at the foundation of the kalpa tree and make the whole tree sparkle. The lucky and lovely stars make the tree extremely beautiful. The living sparkling stars are the decoration of the tree. Sparkling white and light angels make the tree sparkle. People decorate a Christmas tree for this day as a memorial of this. During this great day of the confluence age, of celebrating the festival with enthusiasm, you change night into day; you transform darkness into light. The Brahmin family meets on this great day and eats food for the soul, Brahma Bhojan, with a lot of love. This is why, as a memorial, families all get together and eat, drink and celebrate with pleasure. Out of the whole cycle, the day and the age to celebrate with pleasure is the confluence age, and you can celebrate with pleasure to your heart’s content, as much as you want, at this confluence age. The intoxication of the nectar of knowledge makes you become absorbed in love. People especially experience this spiritual intoxication on a great day. At the brahm-muhurat of the confluence age, at amrit vela, you opened your eyes to your elevated birth and what did you receive? How many gifts did you receive? You opened your eyes and you saw the old Baba. You saw the white Baba. You also saw the red in the white, did you not? Whom did you see? You saw the Father who brings peace. How many gifts did He give you? He gave you so many gifts that you will continue to be sustained by those gifts for birth after birth. You won’t have to buy anything. The biggest gift of all that He gave you was the bracelet of love, which is even more valuable than diamonds. He gave you the bracelet of God’s magic. With this, you can attain whatever you want, whenever you want, as soon as you have the thought and you invoke it. There is nothing lacking in the treasure store of Brahmins. All of you children received such a gift as soon as you opened your eyes. All of you have received it, have you not? Was anyone left out? This is the importance of the great day. The signs of the memorial of the first Brahmins have continued through to the last religion, because all of you elevated Brahmin souls are the foundation of the whole tree. You are the grandfathers and great-grandfathers of all souls. All of them are your branches. All of you very great Brahmins are the foundation of the tree. This is why, even today, souls of all religions celebrate in one form or another the memorial of you souls and the customs and systems of your confluence age. You are such worthy-of-worship souls from time immemorial. In comparison to the Supreme Soul, you are doubly worthy-of-worship. You are celebrating the days of pleasure whilst considering yourselves to be the greatest and most elevated of all, are you not? The days of celebration are so few. Bearing in mind the cycle, celebrate just the one great day a great deal. Dance in happiness! Eat Brahma Bhojan and sing songs of happiness. Do you have any other worries? What do carefree emperors do all day long? They celebrate in pleasure, do they not? Celebrate with pleasure of the mind. Don’t celebrate the pleasure of the limited day. Celebrate the unlimited day and the pleasure of remaining free from sorrow in an unlimited way. Do you understand? Why have you come to the Brahmin world? To celebrate in pleasure. Achcha.

Special congratulations to all the double-foreign children everywhere for celebrating in pleasure the greatest day of all. BapDada has especially come to give you the gift of a meeting. There are very few of you now and yet you have to sit far away. When expansion takes place, everything will be just for the sake of having a glimpse. At that time, there won’t be any chance of having a personal meeting. You will just have a glimpse. Receiving drishti will be changed into simply having a glimpse. The drishti that you receive at the end will be changed on the path of devotion and they will simply use the word “darshan” (glimpse). What is the special intoxication that double foreigners have? There is a song: The high walls of the world… There are the barriers of high walls, big oceans and countries of the world. So, you have come, having crossed the high barriers of countries, the barriers of religion, the barriers of knowledge, the barriers of beliefs and the barriers of customs and systems. Even the people from Bharat meet Baba. Even the people of Bharat have received the inheritance, but they are in the same country. They haven’t had to cross such big barriers. They have simply crossed the barrier of devotion. However, the double-foreign children have crossed many types of high barrier and this is why they have double intoxication. You have passed through the many types of curtains of the world. Therefore, double love and remembrance to the children who have passed through them. You have made that effort, but the Father’s love has made you forget the effort. Achcha.

To all the most elevated, worthy-of-worship souls, to all the greatest of all children who give light and might to everyone, to those who constantly celebrate in spiritual pleasure in the world of pleasure, to those who maintain enthusiasm and celebrate every day as a festival, to those who attain the unlimited gift of God, to the elevated sparkling stars of the kalpa tree, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Meeting a U K group:

Do all of you consider yourselves to be long-lost and now-found ones? Baba selected you from all over with so much love and put you in the bouquet. By becoming part of the bouquet all of you have become spiritual roses. “Spiritual roses” mean those who give everlasting fragrance. Do you consider yourselves to be this? All of you have the intoxication of the Father loving you, do you not? Each of you would say that no one else is as loving to the Father as you are. Just as there is no one else as loving as the Father, so too, you children would also say the same because the Father has special love for each one of you according to your speciality. Although you are numberwise, all of you are especially loved. Only the Father and you know the value of you children; no one else can know it. All others consider you to be ordinary. However, you, whom the Father has made belong to Him, are a selected few out of millions and a handful out of that selected few. As soon as you belonged to the Father, you received all attainments. The Father gave all of you the keys to all treasures. He didn’t keep them for Himself. He has so many keys that He gave them to all of you. This master key is such that you can use it for any treasure and attain that treasure. You don’t have to make any effort. London is, in any case, the place where there’s a monarchy. You are not those who are going to become subjects. All of you are those who will move forward in service. Where there is attainment, you cannot stay without doing service. To do less service means you have less attainment. Those who are embodiments of attainment cannot stay without doing service. Look, all of you left this country and went abroad, yet the Father found you abroad and made you belong to Him. No matter how far away you ran, the Father still caught you. Achcha.

Meeting a group from Australia:

All of you are Mahavirs, are you not? “A Mahavir group  means those who bid farewell to Maya for all time. Have you celebrated such a ceremony? BapDada always says that Australia is the place of the brave, courageous ones. So, the residents of Australia are those who bid farewell to Maya for all time, because the Father is with you and Maya cannot come to you while you are in the Father’s company. The Father is always with you and so you have bidden farewell to Maya. Those who bade farewell are constant jewels of contentment. You are content with yourselves, you are content with service and you are content with your connections. You are content with everything. Such jewels of contentment are constantly seated on the heart throne. Those who are seated on the throne are always happy and intoxicated. BapDada is looking at the jewels of contentment, the Mahavir group, which is also a group of conquerors of Maya. All of you are, visibly, experienced souls. You are also servers. Just as London has a special part in the speciality of service, Australia too has a special part. BapDada gives the residents of Australia the certificate of those who are always ever ready for service and who are going to expand service. Achcha.

At the time of farewell:

All of you are still awake. There is always a jagran (staying awake through the night for special deities) taking place for all of you somewhere or other. Since your devotees stay awake for you, what is the big deal if you stay awake now? Everything begins at the confluence age. Whatever you do in knowledge, those people do in devotion. The foundation of devotion is also laid at the confluence age. Those are feelings and this is knowledge. All of you are going on service. It isn’t that you are going back home. To go means to bring back the proof of service. Don’t come back empty-handed. At least a bouquet is given as a present! So, bring a bouquet or a buttonhole. The question of how many you have prepared in a year also has to be added to the form. Don’t give a certificate a second time to those who have come empty-handed. In one year, at least prepare one person and bring him back with you. Achcha.

Avyakt Elevated Versions – Make the atmosphere powerful through your attitude

The fastest service of all is to spread vibrations through your attitude. Your attitude is even faster than the fastest rocket. An atmosphere can be transformed through your attitude. You can reach wherever you want and as many souls as you want with your attitude while sitting here. With your attitude you can transform your vision and the world. Simply let there be good wishes and pure feelings in your attitude for everyone. For world benefit, let your attitude, vision and stage always be unlimited. In your attitude, let there not be the slightest negative or wasteful feelings for anyone. It is a different matter to make a negative situation positive, but those who have a negative attitude themselves are not able to change the negative of others into positive.

At the beginning of establishment, they were not short of facilities, but they were all in a furnace of the unlimited attitude of disinterest. The 14 years of tapasya that they did was in an atmosphere of an attitude of unlimited disinterest. BapDada has now given many facilities, there is no shortage of facilities, but you have to have an attitude of disinterest while having everything. Without the atmosphere of an attitude of disinterest, souls cannot be happy, peaceful or free from distress. So, use all the necessary facilities, but as much as possible, use them with an attitude of disinterest from your heart, not while being influenced by the facilities. Now create an atmosphere of spiritual endeavour in all directions. According to the closeness of time, true tapasya and spiritual endeavour is now unlimited disinterest.

In the world, at present, on the one hand, there is the fire of corruption and on the other hand, there is a need for the powerful yoga of you children, that is, the need for the fire of love in the volcanic form. The volcanic fire will finish the fire of corruption and give co-operation to all souls. Let the fire of your deep love be volcanic, that is, let it be powerful yoga, let there be benevolent feelings in your attitude for all and then this fire of love will finish that fire. On the other side, it will give souls God’s message and the experience of the form of coolness. For this, underline even more the purity in your vision and attitude. However, the main foundation for this is to become embodiments of knowledge and power and to make your thoughts pure. Then, with your vibrations, attitude and pure feelings, the Maya of others will easily go away. If you get caught up in “Why?” and “What?” then, neither will your Maya go nor will the Maya of others go away.

Now, you children have to carry out two types of tasks. One is to make souls worthy (capable) and yogi and secondly, you have to prepare the field. For this, along with words, you especially need to transform your attitude at a fast speed because the atmosphere will be created through your attitude and the atmosphere will then influence matter – for only then will it be ready. Be engaged in serving with your words and your attitude simultaneously. Experience lightness in your words, deeds and attitude. Let it not be that you say that you are light but that others do not understand you or recognise you. If they do not recognise you, then, with your own will power, you can give your recognition to them. Become liked by everyone at least 95%. Let your actions and attitude transform them. For this, you simply need to imbibe the power of tolerance. If you have elevated wishes and elevated feelings in your attitude, then with a second’s thought and drishti, and with a smile from your heart, you can give anyone a lot in just a second. Give a gift to anyone who comes, let them not go away empty-handed.

See, listen to and think about every person and every situation with a positive attitude and there will never be any force or anger. You are master oceans of love and so there cannot be any other intentions – even slightly – in your eyes, features, attitude and drishti. So, no matter what happens, even if the whole world gets angry with you, you master oceans of love, do not be concerned about the world. Become carefree emperors and a powerful atmosphere will then be created through your elevated attitude. Nowadays, with the facilities of science, they are able to transform rough material into something very beautiful. So, let your elevated attitude transform the negative, that is, the wastefulinto positive. Let your mind and intellect become such that nothing negative can touchthem and transformation happens in a second. Achcha.

Blessing: May you be a world benefactor who does everything accurately by setting your daily timetable and being in the company of the Father.
Important people in the world have a set daily timetable. Any task is accurate when the timetable is set. By setting everything, your time and energyare saved and one person can carry out 10 tasks. So, in order to achieve success in every task, you world benefactor, responsible souls have to setyour timetables and always remain combined with the Father. The Father with 1000 arms is with you and so, instead of one task, you can accuratelycarry out 1000 tasks.
Slogan: To have pure thoughts for all souls is to be an image that grants blessings.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 July 2018

To Read Murli 28 July 2018 :- Click Here
29-07-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 25-12-83 मधुबन

संगमयुग के दिन बड़े ते बड़े मौज मनाने के दिन

आज बड़े ते बड़ा बाप बड़े ते बड़े बच्चों को बड़े दिन की बधाई दे रहे हैं। सभी किसमिस से भी मीठे बच्चों को क्रिसमिस की बधाई दे रहे हैं। बड़े ते बड़े दिन संगमयुग के दिन हैं। बुरे दिन खत्म हो खुशी के, उत्साह में रहने के उत्सव का दिन संगमयुग है। जिस दिन वृक्षपति कल्प-वृक्ष की कहानी सुनाते हैं। इसी संगमयुग के बड़े दिन पर कल्प वृक्ष के फाउन्डेशन में चमकती हुई श्रेष्ठ ब्राह्मण आत्माएं जगमगाती हुई सारे वृक्ष को जगमगाती हैं। लकी सितारे, लवली सितारे, वृक्ष को अति सुन्दर बना देते हैं। वृक्ष के डेकोरशन चैतन्य जगमगाते सितारे हैं। वृक्ष में व्हाइट और लाइट फरिश्ते चमकते हुए वृक्ष को चमकाते हैं। इसी का यादगार आज के दिन क्रिसमस ट्री के रूप में सजाते हैं। संगम के बड़े दिन में उत्साह के उत्सव के दिन में, रात को दिन बना देते हैं। अंधकार को रोशनी में बदल लेते हैं। ब्राह्मण परिवार संगम के बड़े दिन पर मिलकर आत्मा का भोजन, ब्रह्मा भोजन प्यार से खाते हैं इसलिए यादगार रूप में भी सपरिवार मिलकर खाते-पीते मौज मनाते हैं। सारे कल्प में मौज मनाने का दिन वा मौजों का युग संगमयुग है, जिस संगमयुग में जितना चाहें दिल भरकर मौज मना सकते हैं। ज्ञान अमृत का नशा लवलीन बना देता है। इस रूहानी नशे का अनुभव विशेष बड़े दिन पर करते हैं। संगमयुग के ब्रह्म-महूर्त में अमृतवेले में श्रेष्ठ जन्म की आंख खोली और क्या मिला! कितनी सौगातें मिली? आंख खोली बूढ़ा बाबा देखा। सफेद-सफेद बाबा देखा। सफेद में लाल देखा ना! कौन देखा? शान्ति कर्ता बाप देखा। कितनी सौगातें दी? इतनी सौगातें दी जो जन्म-जन्म उन सौगातों से ही पलते रहेंगे। कुछ खरीद नहीं करना पड़ेगा। सबसे बड़ी से बड़ी सौगात हीरे से भी मूल्यवान स्नेह का कंगन, ईश्वरीय जादू का कंगन दिया। जिस द्वारा जो चाहो जब चाहो संकल्प से आह्वान किया और प्राप्त हुआ। अप्राप्त कोई वस्तु नहीं ब्राह्मणों के खज़ाने में। ऐसी सौगात ऑख खोलते ही सभी बच्चों को मिली। सबको मिली है ना। कोई रह तो नहीं गया ना। यह है बड़े दिन का महत्व। फर्स्ट ब्राह्मण आत्माओं का यादगार, लास्ट धर्म तक भी निशानी अब तक चल रही है क्योंकि आप ब्राह्मण श्रेष्ठ आत्माएं सारे वृक्ष के फाउन्डेशन हो। सर्व आत्माओं के दादे परदादे तो आप ही हो ना। आपकी यह शाखायें हैं। वृक्ष का फाउन्डेशन आप बड़े ते बड़े ब्राह्मण हो इसलिए हर धर्म की आत्मायें किसी न किसी रूप में आप आत्माओं को और आपके संगमयुगी रीति रसम को अभी तक भी मनाते रहते हैं। ऐसी परमपरा की पूज्य आत्माएं हो। परम आत्मा से भी डबल पूज्य आप हो। ऐसे स्वयं को बड़े ते बड़े, श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ समझते हुए मौजों के दिन मना रहे हो ना! मनाने के दिन कितने थोड़े से हैं। कल्प के हिसाब से एक ही बड़ा दिन खूब मनाओ। खुशी में नाचो। ब्रह्मा भोजन खाओ और खुशी के गीत गाओ। और कोई फिकर है क्या! बेफिकर बादशाह सारा दिन क्या करते हैं? मौज मनाते हैं ना। मन की मौज मनाओ। हद के दिन की मौज नहीं मनाना। बेहद के दिन की, बेहद के बेगम की मौज मनाओ। समझा! ब्राह्मण संसार में आये हो, किसलिए? मौज मनाने के लिए। अच्छा।

आज विशेष चारों ओर के डबल विदेशी बच्चों को मौजों के दिन बड़े ते बड़े दिन मनाने की विशेष मुबारक हो। बापदादा विशेष मिलन की सौगात देने के लिए आये हैं। अभी तो बहुत थोड़े हो फिर भी इतना दूर बैठना पड़ता है। जब वृद्धि को प्राप्त होंगे तो फिर दर्शन मात्र रह जायेंगे। फिर मिलने का चान्स नहीं होगा। सिर्फ दर्शन करने का। दृष्टि, दर्शन में बदल जायेगी। अन्त में जो सिर्फ दृष्टि मिलेगी वह भक्ति में दर्शन शब्द में बदल जायेगी। डबल विदेशियों को विशेष नशा कौन सा है? एक गीत है ना – ऊंची-ऊंची दीवारें, ऊंचे-ऊंचे समुद्र, दुनिया के देशों की दीवारें तो हैं। तो ऊंचे-ऊंचे देशों की दीवारें, धर्म की दीवारें, नॉलेज की दीवारें, मान्यताओं की दीवारें, रसम-रिवाज की दीवारें, सब पार करते आ गये हो ना। मिलते तो भारतवासी भी हैं, भारतवासियों को भी वर्सा मिला लेकिन देश का देश में मिला। इतनी ऊंची दीवारें पार नहीं करनी पड़ी। सिर्फ भक्ति की दीवार क्रास की। लेकिन डबल विदेशी बच्चों ने अनेक प्रकार की ऊंची दीवारें पार की, इसलिए डबल नशा है। अनेक प्रकार के पर्दों की दुनिया को पार किया इसलिए पार करने वाले बच्चों को डबल याद-प्यार। मेहनत तो की है ना। लेकिन बाप की मुहब्बत ने मेहनत भुला दी। अच्छा।

सर्वश्रेष्ठ पूज्य आत्माओं को, सर्व को लाइट माइट देने वाले बड़े ते बड़े बच्चों को, मौजों के संसार में सदा रूहानी मौज मनाने वाले, हर दिन उत्सव समझते उत्साह में रहने वाले, बेहद की ईश्वरीय सौगात प्राप्त करने वाले, ऐसे कल्पवृक्ष के चमकते हुए, जगमगाते हुए श्रेष्ठ सितारों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

विदेशी भाई-बहनों से पर्सनल मुलाकात

1) सभी अपने को सिकीलधे समझते हो ना? कितने सिक व प्रेम से बाप ने कहाँ-कहाँ से चुनकर एक गुलदस्ते में डाला है। गुलदस्ते में आकर सभी रूहे गुलाब बन गये। रूहे गुलाब अर्थात् अविनाशी खुशबू देने वाले। ऐसे अपने को अनुभव करते हो? हरेक को यही नशा है ना कि हम बाप को प्रिय हैं! हरेक कहेगा कि मेरे जैसा प्यारा बाप को और कोई नहीं है। जैसे बाप जैसा प्रिय और कोई नहीं। वैसे बच्चे भी कहेंगे क्योंकि हरेक की विशेषता प्रमाण बाप को सभी से विशेष स्नेह है। नम्बरवार होते हुए भी सभी विशेष स्नेही हैं। बच्चों के मूल्य को सिर्फ बाप जाने और आप जानों और कोई नहीं जान सकता। दूसरे तो आप लोगों को साधारण समझते हैं, लेकिन कोटों में कोई और कोई में भी कोई आप हो, जिसको बाप ने अपना बना लिया। बाप का बनते ही सर्व प्राप्तियाँ हो गई। खजानों की चाबी बाप ने आप सबको दे दी। अपने पास नहीं रखी। इतनी चाबियाँ हैं जो सबको दी है। यह मास्टर की (चाबी) ऐसी है जो जिस खजाने को लगाना चाहो लगाओ और खजाना प्राप्त करो। मेहनत नहीं करनी पड़ती। वैसे भी लण्डन राज्य का स्थान है ना। प्रजा बनने वाले नहीं। सभी सेवा में आगे बढ़ने वाले। जहाँ प्राप्ति है, वहाँ सेवा के सिवाए रह नहीं सकते। सेवा कम अर्थात् प्राप्ति कम। प्राप्ति स्वरूप बिना सेवा के रह नहीं सकते। देखो, आप लोग कितना भी देश छोड़कर विदेश चले गये, तो भी बाप ने विदेश से भी ढूँढकर अपना बना लया। कितना भी भागे फिर भी बाप ने तो पकड़ लिया ना। अच्छा।

आस्ट्रेलिया ग्रुप से:- सभी महावीर हो ना। महावीर ग्रुप अर्थात् सदा के लिए माया को विदाई देने वाले। ऐसी सेरीमनी मनाई है? आस्ट्रेलिया को सदा बापदादा बहादुरों का स्थान कहते हैं। तो आस्ट्रेलिया निवासी सदा ही माया को विदाई देने वाले क्योंकि जब बाप साथ है तो बाप के साथ होते माया आ नहीं सकती। सदा बाप साथ है तो विदाई हो गई ना। विदाई देने वाले सदा सन्तुष्टमणि। स्वयं भी सन्तुष्ट, सेवा से भी सन्तुष्ट, सम्पर्क में भी सन्तुष्ट। सबमें सन्तुष्ट। ऐसी सन्तुष्ट मणियाँ सदा दिलतख्तनशीन हैं। तो जो तख्तनशीन होगा वह सदा खुशी और नशे में रहेगा। बापदादा सन्तुष्ट मणियाँ, महावीर, मायाजीत ग्रुप देख रहे हैं। सभी अनुभवी आत्मायें दिखाई दे रही हैं। सेवाधारी भी हैं। जैसे सेवा की विशेषता में लण्डन का विशेष पार्ट है वैसे आस्ट्रेलिया का भी विशेष पार्ट है। बापदादा आस्ट्रेलिया निवासियों को सदा सेवा में एवररेडी और सदा सेवा में वृद्धि को पाने वाले, ऐसा सर्टीफिकेट देते हैं। अच्छा-

विदाई के समय:- अभी आप सब जाग रहे हो, आप सभी के लिए कहाँ न कहाँ जागरण होता रहता है। जब आपके भक्त जागरण करते हैं तो आपने किया तो क्या बड़ी बात है। सभी शुरू संगम से ही होता है। जो आप ज्ञान से करते उसे वह भक्ति से करते हैं। भक्ति का फाउन्डेशन भी संगम पर ही पड़ता है। वह भावना और यह ज्ञान। सभी सेवा पर जा रहे हो, घर में जा रहे हो, नहीं, जाना अर्थात् सेवा का सबूत फिर से ले आना। खाली हाथ नहीं आना। कम से कम गुलदस्ता तो भेंट किया जाता है। गुलदस्ता लाओ या बटन। फार्म में यह भी क्वेश्चन एड करना कि एक साल में कितने तैयार किये! जो खाली आये उसको दूसरी बार सर्टीफिकेट नहीं देना। एक साल में एक तो तैयार करके साथ में लेकर आओ। अच्छा।

अव्यक्त महावाक्य – वृत्ति द्वारा वायुमण्डल को शक्तिशाली बनाओ

सबसे तीव्रगति की सेवा है – ”वृत्ति द्वारा वायब्रेशन फैलाना”। वृत्ति बहुत तीव्र राकेट से भी तेज है। वृत्ति द्वारा वायुमण्डल को परिवर्तन कर सकते हो। जहाँ चाहो, जितनी आत्माओं के प्रति चाहो वृत्ति द्वारा यहाँ बैठे-बैठे पहुंच सकते हो। वृत्ति द्वारा दृष्टि और सृष्टि परिवर्तन कर सकते हो। सिर्फ वृत्ति में सर्व के प्रति शुभ भावना, शुभ कामना हो। विश्व कल्याण करने के लिए आपकी वृत्ति, दृष्टि और स्थिति सदा बेहद की हो। वृत्ति में ज़रा भी किसी आत्मा के प्रति निगेटिव या व्यर्थ भावना नहीं हो। निगेटिव बात को परिवर्तन कराना, वह अलग चीज़ है। लेकिन जो स्वयं निगेटिव वृत्ति वाला होगा वह दूसरे के निगेटिव को पॉजेटिव में चेंज नहीं कर सकता।

जैसे स्थापना के आदि में साधन कम नहीं थे, लेकिन बेहद के वैराग्य वृत्ति की भट्ठी में पड़े हुए थे। यह 14 वर्ष जो तपस्या की, वह बेहद के वैराग्य वृत्ति का वायुमण्डल था। बापदादा ने अभी साधन बहुत दिये हैं, साधनों की कोई कमी नहीं है लेकिन होते हुए बेहद का वैराग्य हो। आपके वैराग्य वृत्ति के वायुमण्डल के बिना आत्मायें सुखी, शान्त बन नहीं सकती, परेशानी से छूट नहीं सकती, तो सब आवश्यक साधन यूज़ करो लेकिन जितना हो सकता है उतना दिल के वैराग्य वृत्ति से, साधनों के वशीभूत होकर नहीं। अभी साधना का वायुमण्डल चारों ओर बनाओ। समय समीप के प्रमाण अभी सच्ची तपस्या वा साधना है ही ”बेहद का वैराग्य।”

वर्तमान समय विश्व में एक तरफ भ्रष्टाचार, अत्याचार की अग्नि है, दूसरे तरफ आप बच्चों का पावरफुल योग अर्थात् लगन की अग्नि ज्वाला रूप में आवश्यक है। यह ज्वाला रूप इस भ्रष्टाचार, अत्याचार के अग्नि को समाप्त कर सर्व आत्माओं को सहयोग देगा। आपकी लगन ज्वाला रूप की हो अर्थात् पावरफुल योग हो, वृत्ति में सबके कल्याण की भावना हो, तो यह लगन की अग्नि, उस अग्नि को समाप्त करेगी और दूसरे तरफ आत्माओं को परमात्म सन्देश की, शीतल स्वरूप की अनुभूति करायेगी। इसके लिए अभी दृष्टि-वृत्ति में पवित्रता को और भी अण्डरलाइन करो लेकिन मूल फाउण्डेशन – अपने संकल्प को शुद्ध बनाओ, ज्ञान स्वरूप बनाओ, शक्ति स्वरूप बनाओ। तो आपके वायब्रेशन से, वृत्ति से, शुभ भावना से दूसरे की माया सहज भाग जायेगी। अगर क्यों, क्या में जायेंगे, तो न आपकी माया जायेगी न दूसरे की जायेगी।

अभी आप बच्चों को दो प्रकार के कार्य करने हैं – एक तो आत्माओं को योग्य और योगी बनाना है, दूसरा धरणी को भी तैयार करना है। इसके लिए विशेष वाणी के साथ-साथ वृत्ति को और तीव्र गति देनी पड़ेगी क्योंकि वृत्ति से वायुमण्डल बनेगा और वायुमण्डल का प्रभाव प्रकृति पर पड़ेगा, तब तैयार होंगे। वाणी और वृत्ति दोनों साथ-साथ सेवा में लगे रहें। आपके बोल, कर्म और वृत्ति से हल्केपन का अनुभव हो। ऐसे नहीं, मैं तो हल्का हूँ लेकिन दूसरे मेरे को नहीं समझते, पहचानते नहीं। अगर नहीं पहचानते तो आप अपने विल पॉवर से उन्हों को भी पहचान दो। 95 परसेन्ट सबके दिलपसन्द बनो। आपके कर्म, वृत्ति उसको परिवर्तन करें। इसमें सिर्फ सहनशक्ति को धारण करने की आवश्यकता है। अगर आपकी वृत्ति में श्रेष्ठ भावना, श्रेष्ठ कामना है तो सेकण्ड के संकल्प से, दृष्टि से अपने दिल के मुस्कराहट से सेकण्ड में भी किसी को बहुत कुछ दे सकते हो। जो भी आवे उसको गिफ्ट दो, खाली हाथ नहीं जाये।

हर व्यक्ति को, बात को पॉजिटिव वृत्ति से देखो, सुनो या सोचो तो कभी जोश या क्रोध नहीं आयेगा। आप मास्टर स्नेह के सागर हो तो आपके नयन, चैन, वृत्ति, दृष्टि में ज़रा भी और कोई भाव नहीं आ सकता, इसलिए चाहे कुछ भी हो जाये, सारी दुनिया क्यों नहीं आप पर क्रोध करे लेकिन मास्टर स्नेह के सागर दुनिया की परवाह नहीं करो। बेपरवाह बादशाह बनो, तब आपकी श्रेष्ठ वृत्तियों से शक्तिशाली वायुमण्डल बनेगा। जैसे आजकल साइन्स के साधनों द्वारा ऱफ माल को भी बहुत सुन्दर रूप में बदल देते हैं तो आपकी श्रेष्ठ वृत्ति निगेटिव अथवा व्यर्थ को पॉजिटिव में बदल दे। आपका मन और बुद्धि ऐसा बन जाये जो निगेटिव टच नहीं करे, सेकण्ड में परिवर्तन हो जाये। अच्छा।

वरदान:- दिनचर्या की सेटिंग और बाप के साथ द्वारा हर कार्य एक्यूरेट करने वाले विश्व कल्याणकारी भव 
दुनिया में जो बड़े आदमी होते हैं उनकी दिनचर्या सेट होती है। कोई भी कार्य एक्यूरेट तब होता है जब दिनचर्या की सेटिंग हो। सेटिंग से समय, एनर्जी सब बच जाते हैं, एक व्यक्ति 10 कार्य कर सकता है। तो आप विश्व कल्याणकारी जिम्मेवार आत्मायें, हर कार्य में सफलता प्राप्त करने के लिए दिनचर्या को सेट करो और बाप के साथ सदा कम्बाइन्ड होकर रहो। हजार भुजाओं वाला बाप आपके साथ है तो एक कार्य के बजाए हजार कार्य एक्यूरेट कर सकते हो।
स्लोगन:- सर्व आत्माओं प्रति शुद्ध संकल्प करना ही वरदानी मूर्त बनना है।

TODAY MURLI 29 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 28 July 2017 :- Click Here

29/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t spend your invaluable time in wasteful matters. Become prosperous by having remembrance of the Father.
Question: What advice do both Bap and Dada give the children with humility for their benefit?
Answer: Children, always be aware that Shiv Baba is teaching you. Although Brahma Baba also teaches you, you only benefit by having remembrance of Shiv Baba. That is why this Dada is egoless and says: I do not teach you; only the one Father teaches you, so remember Him alone. Only by remembering Him, not me, will you become conquerors of sinful actions and your sins be absolved.

Om shanti. You children are now sitting in front of the Father. It is definitely in the intellects of you children that the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge, is teaching you through the body of Brahma. The intellect will first go to your land of peace and then come down here. Shiv Baba has come into the body of Brahma in order to teach you Raja Yoga. The intellects of students are aware who is teaching them. When they go to school,they are aware that such and such a teacher is teaching them; they are aware of their names and they also see them with their eyes. There are various spiritual gatherings that take place. There, they say that a particular mahatma (great soul) is relating such and such a scripture. They relate various scriptures. You have been listening to them for birth after birth. Now, while sitting here, you remember Shiv Baba. You understand that your Baba, the Purifier, is Shiva. He now comes and teaches you through Brahma. This Brahma is teaching you as well. If Brahma Kumars and Kumaris can teach you, can Brahma too not teach you? However, you must have the consciousness that Shiv Baba is teaching you, not Brahma. There is benefit for you in this. This is known as the stage of humility. Bap and Dada are both egoless. This one, himself, says: Although I teach you, have the consciousness that Shiv Baba is teaching you. The more you remember Shiv Baba, the more you will become conquerors of sinful actions. Always think that Shiv Baba, the Purifier, the Ocean of Knowledge, is teaching you. As much as possible, do not forget Shiv Baba. You are to claim the inheritance from Him. Shiv Baba says: Constantly remember Me. He also tells the Brahma soul: You have to come to Me. While sitting or moving, make effort to stay in remembrance. There is a great deal of income in this, and you will also have good health. Don’t ever waste timeHear no evil, speak no evil, see no evil. Only speak of things of knowledge and yoga; do not speak of anything useless. If there is no knowledge, there is definitely ignorance. They will continue to gossip, but you must never listen to such things. If anyone speaks about wasteful matters to you, understand that that one is your enemy. Time is wasted by listening to wasteful matters. The Father says: Don’t listen to such wasteful things. Some will defame others, and some will say wrong things about others. This is why you are told: Neither listen to nor speak of such things. Those who do not have knowledge speak in that way and cause damage. This is why it is explained again and again: Remain busy in service. The more you explain these pictures to others, the more knowledge you will imbibe. While sitting here, look at these pictures and have the thought: This is Shiv Baba and this is Dada; we receive the inheritance through this one and this impure world is then destroyed. You can entertain yourself with such thoughts. This is better than gossiping, otherwise you become sinful souls. The Father says: Children, do not become sinful souls. Those who listen to the news of the world and who relate such things as “So and so is like this”, or, “They do this”, waste time needlessly. You are becoming very prosperous. You are becoming the masters of the world. Definitely, Bharat was very prosperous. It has now become ruined. You are now becoming prosperous through the Father. It is very easy to remember the Father and the world cycle. No one knows about this confluence age. Everyone in the iron age is impure, whereas everyone in the golden age is pure. The Father says: I come at the confluence of every cycle in order to purify the impure ones. There are also sinners such as Ajamil. This is the world of sin, the world without comfort. The world of pure, charitable souls is the world of comfort. No one else can explain these things. Where comfort can be attained is not in the intellect of anyone. You explain that there is happiness in the land of happiness. This is the world of sorrow and, even though people have built huge palaces etc., all of those paths make you impure. Otherwise, why would Bharat be in such a state of degradation? Only the one Father brings about the stage of ascent; all others make you fall. This has to be understood clearly; there is no question of blind faith. If a teacher says, “I teach you to become a BA ,  it cannot be a lie. The unlimited Father says: I teach you easy Raja Yoga and make you into the kings of kings. I make you the kings of heaven. The contrast between the kings of heaven and the kings of hell is like that of day and night. Those who become kings and queens in hell do so by giving donations and performing charity; they receive temporary happiness. The kings and queens of heaven are created by them studying. You also understand what Baba’s plan is: that of changing the entire world,the land of sorrow into the land of happiness and peace. You know that Bharat was the land of happiness and that, at that time, all other souls were in the land of peace. Everyone is now in the land of sorrow, but later we will go to the land of peace and then to the land of happiness. Those who study Raja Yoga are the ones who go to the land of happiness while all others will settle their karmic accounts and return to the land of peace. No one in the world knows what the land of peace and the land of happiness are. This Baba says: I too did not know. The one who was himself the master had forgotten, and so what would anyone else know? According to the drama, all have to descend. It is now time to ascend once again. The Father says: I have come to take everyone to the land of peace and the land of happiness. Many will come to you. They will say: we want peace of mind! No one can talk about the land of happiness. Sannyasis belong to the path of isolation, so they can never show the path to happiness. Just as the Father has mercy in taking these souls to the land of peace and the land of happiness, in the same way, you children should feel that you have to give the Father’s introduction. The people of Bharat should definitely receive the inheritance from the Father. Why are we in hell? We were the ones in heaven and we are now in hell. However, people do not understand these things at all. Maya has locked their intellects so completely that they are not even able to understand such an easy thing. Since God is the Creator of heaven, surely we should be the masters of heaven. We are no longer that because it is the kingdom of Ravan. This kingdom of Ravan is now about to be destroyed, and the same Mahabharat War is standing just ahead for this. It is very easy when this sits in someone’s intellect, but, because it does not sit in their intellects, they keep gossiping among themselves and wasting time. You must not allow yourself to listen to such things. You must remain busy with your studies, for only then will you claim a high status. Good students in a school study very well. During the days of their examinations, they especially go into solitude to study in order not to fail. Those who fail continue to stumble. The Father says: As much as possible, stay in remembrance of the one Father. As soon as a girl becomes engaged to her future bridegroom, that becomes imprinted. Achcha, if, today, a woman gets married and, tomorrow, her husband dies, she continues to remember him for the rest of her life. However, those husbands make you impure. The Father says: I make you into the masters of heaven, so how much should you remember such a Father? Maya will try very hard to break your yoga, but you must be very courageous. Your thoughts will bring many storms that would not have come even when you were in ignorance. Herbalists say that all the sickness will emerge but you must not be afraid; you must not be afraid and start taking some other medicine; no. Baba also says: Do not be afraid. Many storms will come in the mind, but do not perform sinful actions through the sense organs. Speak knowledge to one another and bring benefit to one another. The Father explains: You must remain intoxicated. Open a Gita pathshala in your home. Charity begins at home. Let your children become the masters of heaven. A man takes a wife and creates children with her in order to give them happiness. You also understand that you are earning an income for the future, so why not enable your wife and children to do the same? Tell them again and again: By all means, continue with your business etc., but simply continue to remember the Father. This practice should be instilled to such an extent that, at the end, at the time of destruction, only one Baba is remembered. The Father says: All of you are now in your stage of retirement. Everyone has to return to Me. I have come to take you back. Your wings are broken. Sannyasis cannot remember the Father; they remember the brahm element. Yes, those who belong to the deity religion will accept all of this and begin to remember Shiv Baba. You cannot become a deity without first becoming a Brahmin. This is the somersault of the different castes. You belonged to the shudra clan, but you have now become Brahmins through Brahma and are claiming the inheritance from the Grandfather. You have changed from shudras into Brahmins, and you will later become the masters of the new world. Brahmins are the most elevated; Brahmins are the topknot. We play the game of somersaulting. We receive this knowledge of 84 births in a second. They go on pilgrimages while playing the game of somersaulting. They give so much importance to that; they go with such feelings.

[wp_ad_camp_3]

 

However, nowadays, they drink alcohol etc., and, even when they go on a pilgrimage, they hide a bottle in their pocket out of habit. Baba has experienced all of those things. Baba has taken a completely experienced chariot. The Father says to this one: You have adopted many gurus and attended many spiritual gatherings, but now forget everything; now listen to what I am telling you. God spoke to Arjuna, but, this is in fact the chariot. Shiv Baba is the Charioteer in the chariot. All of you are Arjuna. However, there is no question of horses and chariots etc., nor is there any question of an army. That is the path of devotion and this is the path of knowledge. The department of devotion is completely separate. Only the one Father gives knowledge; all others are devotees. Souls of all human beings of the world say: O God the Father! Souls understand that He is the Father of souls. They know that they have a lokik father, so why do they not remember H eavenlyGod, the Father? Why do they only remember Him at a time of sorrow? The Father says: I give so much happiness and peace that I am the one who is remembered at a time of sorrow. So, you should talk about the things of knowledge among yourselves. You must also go to your friends, relatives and officers. Stay in connection with everyone. You must give them the donation of the jewels of knowledge with great tact. You should also go to weddings etc. for the sake of service. You are the incognito, non-violent army. You cannot commit any kind of violence; you must not cause sorrow. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love and remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim a high status, remain busy with your studies. Don’t listen to wasteful things. Do not waste your time.
  2. Give knowledge and bring benefit to one another. Do not perform any sinful actions with the sense organs under the influence of storms in the mind.
Blessing: May you become supreme and elevated and finish ordinariness by considering yourself to be a special actor.
Just as the Father is the Supreme Soul, similarly, children who play special part s are also supreme, that is, they are elevated in every aspect. You simply have to play your part on the stage as a special actor while walking and moving around and while eating and drinking. Constantly pay attention to your action, that is, your part Special actors can never be careless. If a hero actor were to perform an ordinary act, everyone would laugh at him. So, let your every step, every thought and every moment be special, not ordinary.
Slogan: Make your attitude powerful and service will automatically increase.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 27 July 2017 :- Click Here

 

 

Brahma kumaris murli 29 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 July 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 28 July 2017 :- Click Here

29/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – वाह्यात (व्यर्थ) बातों में तुम्हें अपना अमूल्य समय बरबाद नहीं करना है, बाप की याद से आबाद होना है”
प्रश्नः- बापदादा दोनों ही निरंहकारी बन बच्चों के कल्याण के लिए कौन सी राय देते हैं?
उत्तर:- बच्चे, सदैव समझो हमें शिवबाबा पढ़ाते हैं। भल ब्रह्मा बाबा भी तुम्हें पढ़ा सकते हैं लेकिन शिवबाबा को याद करने में ही तुम्हारा कल्याण है इसलिए यह दादा निरहंकारी बन कहते हैं मैं तुम्हें नहीं पढ़ाता हूँ। पढ़ाने वाला एक बाप है, उसे ही याद करो। उनकी याद से ही तुम विकर्माजीत बनेंगे, विकर्म विनाश होंगे। मेरी याद से नहीं।

ओम् शान्ति। अब बच्चे सामने बैठे हैं, बच्चों की बुद्धि में जरूर होगा कि पतित-पावन परमपिता परमात्मा जो ज्ञान का सागर है वह इस ब्रह्मा तन द्वारा हमको पढ़ा रहे हैं। बुद्धि तो पहले जायेगी अपने शान्तिधाम में, फिर आयेगी यहाँ। शिवबाबा आये हैं इस ब्रह्मा तन में हमको राजयोग सिखाने। स्टूडेन्ट की बुद्धि में यह होगा ना कि हमको कौन पढ़ाते हैं। स्कूल में जायेंगे तो समझेंगे ना कि फलाना टीचर हमको पढ़ाते हैं। उनका नाम भी ख्याल में रहता है। ऑखों से देखते भी हैं। सतसंग भी किसम-किसम के होते हैं। वहाँ कहेंगे फलाना महात्मा हमको फलाना शास्त्र सुनाते हैं। भिन्न-भिन्न अनेकानेक शास्त्र सुनाते हैं। जन्म-जन्मान्तर ऐसे सुनते ही आये हो। अभी तुम यहाँ बैठे-बैठे याद करते हो शिवबाबा को। तुम समझते हो हमारा पतित-पावन बाबा वह शिव है। वही आकर ब्रह्मा द्वारा हमको पढ़ाते हैं। यह ब्रह्मा भी पढ़ाते हैं। जब ब्रह्माकुमार कुमारियाँ भी पढ़ा सकते हैं, तो क्या ब्रह्मा नहीं पढ़ा सकते हैं! फिर भी तुम ऐसे ही समझो कि हमको शिवबाबा ही पढ़ाते हैं, न कि ब्रह्मा। इसमें तुम्हारा बहुत फायदा होगा। इसको ही निरहंकारीपना कहा जाता है। बाप और दादा दोनों ही निरंहकारी हैं। यह खुद कहते हैं भल मैं भी पढ़ाता हूँ परन्तु समझो कि शिवबाबा पढ़ाते हैं। जितना शिवबाबा को याद करेंगे उतना विकर्माजीत बनते जायेंगे। हमेशा समझो कि शिवबाबा पतित-पावन ज्ञान का सागर हमको पढ़ाते हैं। जितना हो सके शिवबाबा को भूलना नहीं है। वर्सा भी उनसे ही पाना है। शिवबाबा कहते हैं निरन्तर मुझे याद करो। ब्रह्मा की आत्मा को भी कहते हैं तुमको मेरे पास आना है। उठते बैठते मेरे को याद करने का पुरुषार्थ करो, इसमें कमाई बहुत है। हेल्थ भी बहुत अच्छी मिलेगी। कभी भी टाइम वेस्ट नहीं करो। हियर नो ईविल, टॉक नो ईविल….. सिवाए ज्ञान और योग के कोई भी वाह्यात बातें नहीं करनी है। जिसमें ज्ञान कम है तो जरूर अज्ञान ही होगा। झरमुई झगमुई करते रहेंगे। ऐसी बातें कभी नहीं सुनना। जब ऐसे देखो कि वह वाह्यात बातें सुनाते हैं तो समझो यह हमारा दुश्मन है। फालतू बातें सुनाकर टाइम वेस्ट करते हैं। बाप कहते हैं ऐसी फालतू बातें नहीं सुनो। कोई की ग्लानी करेंगे, कोई के लिए कुछ बोलेंगे। कहेंगे ऐसी बातें कभी नहीं सुनना, न कभी सुनाना। जिसमें ज्ञान नहीं है वही ऐसी बातें सुनाकर और ही नुकसान करते रहेंगे इसलिए बार-बार समझाया जाता है कि सर्विस में तत्पर रहो। इन चित्रों पर जितना एक दो को समझायेंगे उतना धारणा भी होगी। यहाँ बैठ चित्र देखो – यह ख्याल करो, यह शिवबाबा है, यह दादा है। इन द्वारा हमको वर्सा मिलता है। फिर इस पतित दुनिया का विनाश हो जायेगा। ऐसी-ऐसी बातें करते अपने को भी बहला सकते हो। वह अच्छा होगा। झरमुई झगमुई की तो पाप आत्मा बन जायेंगे। बाप कहते हैं बच्चे पाप आत्मा नहीं बनना। दुनिया का समाचार, फलानी ऐसी है, उसने यह किया, ऐसी बातें जो सुनते और सुनाते हैं वह मुफ्त समय बरबाद करते हैं। तुम तो बहुत आबाद हो रहे हो। विश्व के मालिक बन रहे हो। बरोबर भारत आबाद था। अब बरबाद है। बाप द्वारा आबाद हो रहे हो। बाप और सृष्टि चक्र को याद करना यह तो बड़ा ही सहज है। इस संगमयुग का कोई को पता नहीं है। कलियुग में सब पतित हैं, सतयुग में सब पावन थे। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प के संगमयुग पर आता हूँ, पतितों को पावन बनाने। अजामिल जैसे पापी भी हैं। यह है ही पाप की दुनिया, इसमें कोई चैन नहीं है। वह पुण्य आत्माओं की चैन पाने की दुनिया है। यह बातें कोई समझा न सके। किसी की भी बुद्धि में नहीं है कि चैन कहाँ मिलता है। यह तुम समझाते हो कि सुखधाम में सुख मिलता है। यह है ही दु:खधाम। भल बड़े-बड़े महल बनाकर बैठे हो परन्तु रास्ता सारा पतित बनाने का ही है। नहीं तो भारत की इतनी उतरती कला क्यों होती। चढ़ती कला करने वाला एक ही बाप है। बाकी सब गिराने वाले हैं, इसमें बहुत समझ की बात है। अन्धश्रधा की कोई बात नहीं है। टीचर कहते तुमको बी.ए. पढ़ाते हैं, तो झूठ थोड़ेही हो सकता। यह बेहद का बाप भी कहते हैं मैं तुमको सहज राजयोग सिखाकर राजाओं का राजा बनाता हूँ। स्वर्ग का राजा बनाता हूँ। स्वर्ग का राजा और नर्क का राजा बनने में रात दिन का फर्क है। नर्क में जो राजा रानी बनते हैं, वह दान पुण्य से बनते हैं। अल्पकाल का सुख मिलता है। और स्वर्ग के राजा रानी बनते हैं पढ़ाई से। यह भी तुम जानते हो – बाबा का प्लैन क्या चल रहा है। सारी सृष्टि जो दु:खधाम है, उनको सुखधाम, शान्तिधाम बनाना है। जानते हो भारत सुखधाम था। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में थी। अभी तो सब दु:खधाम में हैं।

फिर शान्तिधाम, सुखधाम में जाना है। जो राजयोग सीखते हैं वही सुखधाम में आयेंगे, बाकी हिसाब-किताब चुक्तू कर शान्तिधाम में चले जायेंगे। शान्तिधाम-सुखधाम क्या है, यह दुनिया में किसको पता नहीं है। यह बाबा भी कहते हैं हम नहीं जानते थे। जो खुद मालिक था वह भूल गया है, तो बाकी मनुष्य क्या जानते होंगे। ड्रामा अनुसार सबको गिरना ही है। अब फिर चढ़ने का समय है। बाप कहते हैं मैं आया ही हूँ सबको सुखधाम, शान्तिधाम ले चलने। तुम्हारे पास बहुत आयेंगे, कहेंगे मन को शान्ति चाहिए। सुखधाम का वार्तालाप तो कोई करने वाला है नहीं। सन्यासी तो निवृत्ति मार्ग वाले हैं, वह तो कभी सुख का रास्ता बता नहीं सकते। तो जैसे बाप को तरस पड़ता है कि इन्हों को सुखधाम शान्तिधाम में ले जाऊं। बच्चों को भी आना चाहिए कि बाप का परिचय देना है। बाप से जरूर भारतवासियों को वर्सा मिलना चाहिए। हम नर्क में क्यों हैं, हम ही स्वर्ग में थे। अब नर्क में हैं। परन्तु इन बातों को बिल्कुल ही समझ नहीं सकते हैं। माया ने बुद्धि का ताला बिल्कुल ही बन्द कर दिया है, जो इतनी सहज बात भी समझ नहीं सकते हैं। भगवान जब स्वर्ग का रचयिता है तो जरूर हम स्वर्ग के मालिक होने चाहिए। अब नहीं हैं क्योंकि रावणराज्य है। इस रावण राज्य का विनाश तो अब होना ही है। इनके लिए वही महाभारत लड़ाई सामने खड़ी है। बड़ा सहज है। परन्तु जब किसकी बुद्धि में बैठे। बुद्धि में न बैठने के कारण आपस में झरमुई झगमुई बहुत करते हैं। टाइम बरबाद करते हैं। ऐसी बातें कानों से कभी नहीं सुनना। तुम अपनी पढ़ाई में तत्पर रहो, तब ही पद मिलेगा। पाठशाला में जो अच्छे स्टूडेन्ट होते हैं वह बहुत अच्छी रीति पढ़ते हैं। इम्तहान के दिनों में खास एकान्त में जाकर पढ़ते हैं कि कहाँ नापास न हो जाएं। नापास होने वाले धक्के खाते रहेंगे। बाप कहते हैं जितना हो सके एक बाप की याद में रहो। सजनी की साजन से सगाई हुई और बस छाप लगी। अच्छा-आज शादी की, कल पति मर गया। सारी आयु उसको याद करती रहेगी। अब वह तो पतित बनाने वाले हैं, बाप कहते हैं मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। तो ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए। माया तुम्हारा योग तोड़ने की बहुत कोशिश करेगी, परन्तु तुमको बहादुर रहना है। संकल्प बहुत तूफान लायेंगे। जो अज्ञान काल में भी नहीं आते थे, जैसे वैद्य लोग कहते हैं – इनसे डरना नहीं है। ऐसे नहीं डरकर जाए दूसरी दवाई करो। नहीं। बाबा भी कहते हैं – डरना नहीं है। मन्सा के तूफान बहुत आयेंगे लेकिन कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म नहीं करना। एक दो को ज्ञान सुनाकर कल्याण करना। बाबा बहुत समझाते हैं कि तुम अपनी मस्ती में मस्त रहो। घर में गीता पाठशाला खोलो। चैरिटी बिगन्स एट होम। बच्चों को भी स्वर्ग का मालिक बनाओ। बाप स्त्री को, बच्चों को रचते हैं सुख के लिए। तुम भी जानते हो हम भविष्य के लिए कमाई करते हैं। तो क्यों नहीं स्त्री बच्चों आदि को भी करायें। उनको घड़ी-घड़ी बोलो धन्धा धोरी भल करो, सिर्फ बाप को याद करते रहो। यह प्रैक्टिस ऐसी पड़ जाए जो पिछाड़ी में विनाश के समय एक बाबा की ही याद रहे।

[wp_ad_camp_3]

 

बाप कहते हैं – तुम सब अभी वानप्रस्थ अवस्था में हो। सबको मेरे पास आना है। हम आये हैं ले जाने के लिए। तुम्हारे पंख टूटे हुए हैं। सन्यासी तो ब्रह्म तत्व को याद करेंगे, वह बाप को याद कर न सकें। हाँ जो देवता धर्म वाला होगा वह मानेगा और शिवबाबा को याद करने लग पड़ेगा। ब्राह्मण बनने बिगर देवता तो बन न सकें। वर्णों की बाजोली है ना। शूद्र वर्ण के थे। अब ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण बन दादे का वर्सा पा रहे हैं। शूद्र से ब्राह्मण बने हैं। फिर हम नई दुनिया के मालिक बन जायेंगे। ब्राह्मण हैं सबसे ऊंच। ब्राह्मणों की चोटी है ना। हम बाजोली खेलते हैं। इसमें 84 जन्म का ज्ञान सेकेण्ड में मिलता है। जैसे बाजोली खेलते-खेलते तीर्थों पर जाते हैं, इतना महत्व रहता है। बड़ी भावना से जाते हैं। आजकल तो तीर्थों पर भी शराब आदि पीते हैं। आदत होती है तो छिपाकर जेब में बोतल ले जाते हैं। बाबा सब बातों का अनुभवी है। रथ भी बाबा ने पूरा अनुभवी लिया है। इनको भी बाप कहते हैं, तुमने बहुत गुरू किये हैं, सतसंग किये हैं। परन्तु अब वह सब भूल जाओ। अभी जो मैं सुनाता हूँ, वह सुनो। भगवान ने अर्जुन को कहा, रथ तो वास्तव में यह है। रथ में रथी है शिवबाबा। तुम सब अर्जुन हो गये। बाकी घोड़े गाड़ी की तो बात ही नहीं। न सेना की कोई बात है। वह है भक्तिमार्ग। यह है ज्ञान मार्ग। भक्ति की डिपार्टमेंट ही अलग है। ज्ञान देने वाला एक बाप है, बाकी तो सब भगत हैं। सारी दुनिया के जो भी मनुष्य हैं सबकी आत्मा कहती है ओ गॉड फादर। आत्मायें समझती हैं, वही आत्माओं का बाप है। जानती भी हैं हमारा लौकिक फादर भी है। फिर क्यों नहीं हेविनली गॉड फादर को याद करते हैं। सिर्फ दु:ख के समय क्यों याद करते हो। बाप कहते हैं मैं इतना सुख शान्ति देता हूँ, जो फिर दु:ख में मुझे ही याद करते हो। तो आपस में तुमको यह ज्ञान की बातें करनी हैं। मित्र सम्बन्धियों के पास अथवा आफीसर्स के पास भी जाना है, सबसे तैलुक रखना है। बड़ी युक्ति से उनको ज्ञान रत्नों का दान भी देना है। शादी में भी जाना है तो सेवा अर्थ। तुम गुप्त अहिंसक सेना हो, तुम्हें किसी भी प्रकार की हिंसा नहीं करनी है। दु:ख नहीं देना है। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऊंच पद पाने के लिए अपनी पढ़ाई में तत्पर रहना है। झरमुई झगमुई की व्यर्थ बातें नहीं सुननी है। अपना समय व्यर्थ नहीं गॅवाना है।

2) एक दो को ज्ञान सुनाकर कल्याण करना है। कभी भी मन्सा तूफानों के वश हो कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म नहीं करना है।

वरदान:- स्वयं को विशेष पार्टधारी समझ साधारणता को समाप्त करने वाले परम व श्रेष्ठ भव 
जैसे बाप परम आत्मा है, वैसे विशेष पार्ट बजाने वाले बच्चे भी हर बात में परम यानी श्रेष्ठ हैं। सिर्फ चलते-फिरते, खाते-पीते विशेष पार्टधारी समझकर ड्रामा की स्टेज पर पार्ट बजाओ। हर समय अपने कर्म अर्थात् पार्ट पर अटेन्शन रहे। विशेष पार्टधारी कभी अलबेले नहीं बन सकते। यदि हीरो एक्टर साधारण एक्ट करें तो सब हंसेंगे इसलिए हर कदम, हर संकल्प हर समय विशेष हो, साधारण नहीं।
स्लोगन:- अपनी वृत्ति को पावरफुल बनाओ तो सेवा में वृद्धि स्वत: होगी।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 27 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 26 July 2017 :- Click Here

Font Resize