today murli 28 october

TODAY MURLI 28 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 October 2018 :- Click Here

28/10/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
22/02/84

The experience of the four combined form s of the confluence age.

Today, BapDada is seeing the combined forms of all the children. Does each of you children know your combined form very well? Firstly, you elevated souls are combined with your last old bodies, but bodies that make you extremely valuable. All of you elevated souls are carrying out an elevated task with the support of those bodies and are also experiencing a meeting with BapDada through them. Each one has an old body, but the greatness of that final body is that you elevated souls have an alokik experience through it. Therefore, the soul and body are combined. You mustn’t have any consciousness of it being an old body, but be the master of it and make it work. Therefore, become soul conscious and a karma yogi and enable the physical organs to work.

Secondly, there is the combined form of your alokik form and the Form without an image. Out of the whole cycle, it is only now that you can experience this combined form. This is the experience of the combined form of you and the Father. By always remaining a master almighty authority, always being victorious, always being a destroyer of obstacles for everyone, always having good wishes and elevated feelings, elevated words, elevated drishti and elevated actions, you give others the experience of your being a world benefactor. This makes you an embodiment of solutions to all problems in a second. It makes you a bestower and master bestower of blessings for yourself and for others. Simply remain constantly stable in this combined form and you will easily become an embodiment of success in remembrance and service. The method will just be in name and success will always be with you. At this time, a lot more time is taken up following the method. Success is experienced according to your capacity. However, the more you constantly remain in this alokik, powerful, combined form, the more success you will experience through the method. You will then experience greater attainment than the effort you make. The meaning of being an embodiment of success is that success is already guaranteed for every task. Let this be your practical experience.

The third combined form is: “I, the Brahmin, who am an angel” – the Brahmin form and the final karmateet angelic form. The experience of this combinedform will make you into an image that grants this world visions. By having the awareness of being a Brahmin and an angel as you walk and move around and as you play your part in the corporeal world through your physical body, you will experience yourself to be a companion of Father Brahma, an angel of the subtle region, who has come to the corporeal world into a body for world service. You will experience yourself to be beyond corporeal feelings and one who has adopted an avyakt form. These avyakt feelings, that is, feelings of being an angel, will automatically make you avyakt, that is, they will easily transform the sanskars of gross words and behaviour, of a gross nature and gross feelings. When feelings change, everything changes. Let there always be such avyakt feelings in your form. Let your awareness be that you are Brahmins who are angels. Let that awareness now take a practical form. The form is constantly easily and automatically maintained. To put it into a practical form means that you are always an avyakt angel. To stay in the awareness of sometimes forgetting and sometimes remembering is the first stage. To become the form is the elevated stage.

Fourthly, the future four-armed image – the combined form of Lakshmi and Narayan – because, at this time, you souls are being filled with the sanskars of becoming like both Lakshmi and Narayan. Sometimes, you will become Lakshmi and sometimes, you will become Narayan. Let the combined form of the future reward be just as clear. Today an angel and tomorrow a deity. One moment an angel and the next moment a deity. Your kingdom and your royal form are about to come. They are almost ready. Let your thoughts be clear and powerful in this way, because when your clear and powerful thoughts emerg e, your kingdom will come close. When your thoughts have emerged, they will create the new world, that is, they will bring it into this world. When your thoughts are merged, the new world cannot be made to emerge. The thought of Brahma, along with that of Brahmins too, will reveal the new world on this earth. Father Brahma is still waiting to play the first part in the new world with you Brahmin children because of his promise to go with you. If Brahma alone were simply to become Krishna, then what would he do by himself? He also needs those who are to play with him and study with him. This is why Father Brahma says to the Brahmins: Become equal to me, the father who has adopted the avyakt form, that is, be those with an avyakt form and an angelic stage. Angels will become deities. Do you understand? Only by remaining stable in all these combined forms, will you become complete and perfect. You will become equal to the Father and easily experience success in your deeds.

Double foreigners have a deep desire to have a conversation and to celebrate a meeting with BapDada. You all feel that you should meet Baba today. However, everything has to be considered in this corporeal world. It is the world under the sun, moon and stars. Come to the world beyond all of this and you can sit there all the time. BapDada also loves every child for his or her speciality. Some of you think that certain ones are loved more and that you yourselves are not loved as much. It is not like that. Maharathis are loved because of their own speciality and, in front of the Father, each of you is a maharathi in your own way. You are great souls and therefore maharathis. In order to carry on with the task, someone has to be made an instrument with love. Otherwise, you have all received your own places for the sake of the task. Would anything work if everyone were to become a Dadi? Someone has to be made an instrument. In fact, in your own way, all of you are Dadis. Everyone is called Didi or Dadi. Nevertheless, all of you together have made one an instrument. Did all of you make her the instrument or was it just the Father who made her an instrument? Someone has to be made an instrument for the sake of the activities and according to each one’s task. This doesn’t mean that all of you are not maharathis. You too are maharathis. You are mahavirs. If those who challenge Maya are not maharathis, then what are they?

For BapDada, even the children who do the seven days’ course are maharathis because they only do the weekly course and they then understand that they want to make their lives this elevated. They have issued a challenge and so they are maharathis and mahavirs. BapDada constantly reminds all of you children to put a slogan into practice. One thing is to maintain your original stage and the other is to interact with others. In your original stage, all of you are big, none of you are small. In business activity, someone has to be made an instrument. Therefore, in order to remain constantly successful in your business and activity, the slogan is: Give regard and receive regard. To give regard to others is to receive regard. Receiving is merged in the giving. Give regard and you will receive regard. The way to receive regard is to give it. It is not possible not to receive regard when you give regard. However, give it from your heart, not just superficially for your own gain. Those who give regard from their hearts receive regard in their hearts. If you give superficial regard, you will receive superficial regard. Always give from your heart and receive with your heart. With this slogan, you will always remain free from obstacles, free from waste thoughts and carefree. You won’t then have the worry: What will happen to me? Everything to do with me is already accomplished. It is already guaranteed. You will remain carefree, and the elevated reward of the present and the future is already fixed for such elevated souls. No one can change this. No one can take anyone else’s seat; it is fixed. It is fixed and you are therefore carefree. This is called being equal to the Father and being one who follows the Father. Do you understand?

Baba has special love for the double-foreign children – not superficial love, but love from the heart. BapDada has told you that there is an old song: I came having crossed very high barriers of the world. This is the song of the double foreigners. You crossed all the high barriers of the ocean, religions, countries and languages and belonged to the Father. This is why you are loved by the Father. The people of Bharat were worshippers of the deities anyway; they have not crossed high barriers. However, you double-foreigners have crossed the high barriers so easily. This is why BapDada sings songs from His heart of this speciality of you children. Do you understand? Baba is not telling you this just to please you. Some children playfully say that BapDada pleases everyone. However, Baba pleases each one meaningfully. Ask yourselves whether BapDada is saying this just for the sake of it or whether it is practical. You have crossed high barriers and come here, have you not? You get your ticket with so much effort. As soon as you leave here, you start to save money for it. BapDada sees the love of you children, and the methods you adopt to come here with so much love, and how you actually arrive here, then, seeing the methods of love and the deep love of you loving souls, BapDada is pleased. Ask those from far away how they come here. Even though they have to make effort, at least they arrive here. Achcha.

To those who remain constantly stable in the combined form, to those who remain constantly stable in the avyakt feeling, the same as the Father, to those who constantly experience being an embodiment of success, to those who grant a vision through their powerful equal form, to those who are constantly carefree and are guaranteed to be victorious, to such children, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada speaking to the group from San Francisco:

Do all of you experience yourselves to be special souls of the whole world? This is because, out of all the souls of the world, you special souls have received the fortune of recognising the Father. To recognise the highest-on-high Father is such great fortune! You recognised Him, forged a relationship with Him and experienced benefit. Now, do you experience yourselves to be the masters of all of the Father’s treasures? Since you are always His children, then to be a child of His means always to have a right. Revise this awareness again and again: “Who am I? Whose child am I?” Only those who experience a powerful form of awareness at amrit vela remain powerful. If amrit vela is not powerful, then many obstacles will come throughout the day. Therefore, let amrit vela always be powerful. At amrit vela, the Father Himself comes to give you children special blessings. Those who take these blessings at that time are able to have the stage of an easy yogi throughout the day. So let the combination of study and amrit vela always remain especially powerful. You will then always remain safe.

Speaking to the German group:

Do you always consider yourselves to be world benefactor souls, children of the World Benefactor Father? This means to be full of all treasures. Only when you yourself are full of all treasures can you give to others. Therefore, you are souls who are always full of all treasures, children and so masters. Do you experience this? To say “Father” means to be a child and a master. This awareness automatically makes you a world benefactor, and this awareness makes you constantly fly in happiness. This Brahmin life means to remain full, to fly with happiness and always to have the intoxication of having a right to the Father’s treasures. You are such elevated Brahmin souls. Achcha.

Blessing: May you be a master teacher who gives teachings through your every act and word while you walk and move around.
Just as they have mobile libraries nowadays, similarly, you too are walking and moving master teachers. Always see your students in front of you; you are not alone, your students are always in front of you. You are constantly studying and also teaching. Worthy teachers are never careless in front of their students, they pay attention. When you go to sleep, when you wake up, when you walk and when you eat, think at every moment that you are in a big college and that your students are watching you.
Slogan: To purify your sanskars completely with faith in the self (soul) is elevated yoga.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 October 2018

To Read Murli 27 October 2018 :- Click Here
28-10-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 22-02-84 मधुबन

संगम पर चार कम्बाइन्ड रूपों का अनुभव

आज बापदादा सभी बच्चों के कम्बाइन्ड रूप को देख रहे हैं। सभी बच्चे भी अपने कम्बाइन्ड रूप को अच्छी रीति जानते हो? एक – श्रेष्ठ आत्मायें, इस अन्तिम पुराने लेकिन अति अमूल्य बनाने वाले शरीर के साथ कम्बाइन्ड हो। सभी श्रेष्ठ आत्मायें इस शरीर के आधार से श्रेष्ठ कार्य और बापदादा से मिलन का अनुभव कर रही हो। है पुराना शरीर लेकिन बलिहारी इस अन्तिम शरीर की है जो श्रेष्ठ आत्मा इसके आधार से अलौकिक अनुभव करती है। तो आत्मा और शरीर कम्बाइन्ड है। पुराने शरीर के भान में नहीं आना है लेकिन मालिक बन इस द्वारा कार्य कराने हैं इसलिए आत्म-अभिमानी बन, कर्मयोगी बन कर्मेन्द्रियों द्वारा कर्म कराते हैं।

दूसरा-अलौकिक विचित्र कम्बाइन्ड रूप। जो सारे कल्प में इस कम्बाइन्ड रूप का अनुभव सिर्फ अब कर सकते हो। वह है ”आप और बाप”। इस कम्बाइन्ड रूप का अनुभव। सदा मास्टर सर्वशक्तिवान सदा विजयी सदा सर्व के विघ्न-विनाशक। सदा शुभ भावना, श्रेष्ठ कामना, श्रेष्ठ वाणी, श्रेष्ठ दृष्टि, श्रेष्ठ कर्म द्वारा विश्व कल्याणकारी स्वरूप का अनुभव कराता है। सेकण्ड में सर्व समस्याओं का समाधान स्वरूप बनाता है। स्वयं के प्रति वा सर्व के प्रति दाता और मास्टर वरदाता बनाता है। सिर्फ इस कम्बाइन्ड रूप में सदा स्थित रहो तो सहज ही याद और सेवा के सिद्धि स्वरूप बन जाओ। विधि निमित्त मात्र हो जायेगी और सिद्धि सदा साथ रहेगी। अभी विधि में ज्यादा समय लगता है। सिद्धि यथा शक्ति अनुभव होती है। लेकिन जितना इस अलौकिक शक्तिशाली कम्बाइन्ड रूप में सदा रहेंगे तो विधि से ज्यादा सिद्धि अनुभव होगी। पुरुषार्थ से प्राप्ति ज्यादा अनुभव होगी। सिद्धि स्वरूप का अर्थ ही है हर कार्य में सिद्धि हुई पड़ी है। यह प्रैक्टिकल में अनुभव हो।

तीसरा कम्बाइन्ड रूप – हम सो ब्राह्मण सो फरिश्ता। ब्राह्मण रूप और अन्तिम कर्मातीत फरिश्ता स्वरूप। इस कम्बाइन्ड रूप की अनुभूति विश्व के आगे साक्षात्कार मूर्त बनायेगी। ब्राह्मण सो फरिश्ता इस स्मृति द्वारा चलते-फिरते अपने को व्यक्त शरीर, व्यक्त देश में पार्ट बजाते हुए भी ब्रह्मा बाप के साथी अव्यक्त वतन के फरिश्ते, व्यक्त देश और देह में आये हैं विश्व सेवा के लिए। ऐसे व्यक्त भाव से परे अव्यक्त रूपधारी अनुभव करेंगे। यह अव्यक्त भाव अर्थात् फरिश्तेपन का भाव स्वत: ही अव्यक्त अर्थात् व्यक्तपन के बोल-चाल, व्यक्त भाव के स्वभाव, व्यक्त भाव के संस्कार सहज ही परिवर्तन कर लेंगे। भाव बदल गया तो सब कुछ बदल जायेगा। ऐसा अव्यक्त भाव सदा स्वरूप में लाओ। स्मृति में है कि ब्राह्मण सो फरिश्ता। अब स्मृति को स्वरूप में लाओ। स्वरूप निरन्तर स्वत: और सहज हो जाता है। स्वरूप में लाना अर्थात् सदा हैं ही अव्यक्त फरिश्ता। कभी भूले, कभी स्मृति में आवे – इस स्मृति में रहना पहली स्टेज है। स्वरूप बन जाना यह श्रेष्ठ स्टेज है।

चौथा है – भविष्य चतुर्भुज स्वरूप। लक्ष्मी और नारायण का कम्बाइन्ड रूप क्योंकि आत्मा में इस समय लक्ष्मी और नारायण दोनों बनने के संस्कार भर रहे हैं। कब लक्ष्मी बनेंगे, कब नारायण बनेंगे। भविष्य प्रालब्ध का यह कम्बाइन्ड स्वरूप इतना ही स्पष्ट हो। आज फरिश्ता, कल देवता। अभी-अभी फरिश्ता, अभी-अभी देवता। अपना राज्य, अपना राज्य स्वरूप आया कि आया। बना कि बना। ऐसे संकल्प स्पष्ट और शक्तिशाली हों क्योंकि आपके इस स्पष्ट समर्थ संकल्प के इमर्ज रूप से आपका राज्य समीप आयेगा। आपका इमर्ज संकल्प नई सृष्टि को रचेगा अर्थात् सृष्टि पर लायेगा। आपका संकल्प मर्ज है तो नई सृष्टि इमर्ज नहीं हो सकती। ब्रह्मा के साथ ब्राह्मणों के इस संकल्प द्वारा नई सृष्टि इस भूमि पर प्रत्यक्ष होगी। ब्रह्मा बाप भी नई सृष्टि में नया पहला पार्ट बजाने के लिए आप ब्राह्मण बच्चों के लिए, साथ चलेंगे के वायदे कारण इन्तजार कर रहे हैं। अकेला ब्रह्मा सो कृष्ण बन जाए, तो अकेला क्या करेगा? साथ में पढ़ने वाले, खेलने वाले भी चाहिए ना इसलिए ब्रह्मा बाप ब्राह्मणों प्रति बोले, कि मुझ अव्यक्त रूपधारी बाप समान अव्यक्त रूपधारी, अव्यक्त स्थितिधारी फरिश्ता रूप बनो। फरिश्ता सो देवता बनेंगे। समझा। इन सब कम्बाइन्ड रूप में स्थित रहने से ही सम्पन्न और सम्पूर्ण बन जायेंगे। बाप समान बन सहज ही कर्म में सिद्धि का अनुभव करेंगे।

डबल विदेशी बच्चों को बापदादा से रूह-रूहान करने वा मिलन मनाने की इच्छा तीव्र है। सभी समझते हैं कि हम आज ही मिल लेवें। परन्तु इस साकार दुनिया में सब देखना पड़ता है। सूर्य चांद के अन्दर की दुनिया है ना। उनसे परे की दुनिया में आ जाओ तो सारा समय बैठ जाओ। बापदादा को भी हर बच्चा अपनी-अपनी विशेषताओं से प्रिय है। कोई समझे यह प्रिय है, हम कम प्रिय हैं। ऐसी बात नहीं है। महारथी अपनी विशेषता से प्रिय हैं और बाप के आगे अपने-अपने रूप से सब महारथी हैं। महान आत्मायें हैं इसलिए महारथी हैं। यह तो कार्य चलाने के लिए किसको स्नेह से निमित्त बनाना होता है। नहीं तो कार्य के निमित्त अपना-अपना स्थान मिला हुआ है। अगर सभी दादी बन जाएं तो काम चलेगा? निमित्त तो बनाना पड़े ना। वैसे अपनी रीति से सब दादियां हो। सभी को दीदी वा दादी कहते तो हैं ना। फिर भी आप सबने मिलकर एक को निमित्त तो बनाया है ना। सभी ने बनाया वा सिर्फ बाप ने बनाया। या सिर्फ निमित्त कारोबार अर्थ अपने-अपने कार्य अनुसार निमित्त बनाना ही पड़ता है। इसका यह मतलब नहीं कि आप महारथी नहीं हो। आप भी महारथी हो। महावीर हो। माया को चैलेन्ज करने वाले महारथी नहीं हुए तो क्या हुए!

बापदादा के लिए सप्ताह कोर्स करने वाला बच्चा भी महारथी है क्योंकि सप्ताह कोर्स भी तब करते जब समझते हैं कि यह श्रेष्ठ जीवन बनानी है। चैलेन्ज किया तो महारथी, महावीर हुआ। बापदादा सदैव एक स्लोगन सभी बच्चों को कार्य में लाने लिए याद दिलाते रहते। एक है अपनी स्वस्थिति में रहना, दूसरा है कारोबार में आना। स्वस्थिति में तो सभी बड़े हो कोई छोटा नहीं। कारोबार में निमित्त बनाना ही पड़ता है इसलिए कारोबार में सदा सफल होने का स्लोगान है – रिगार्ड देना, रिगार्ड लेना। दूसरे को रिगार्ड देना ही रिगार्ड लेना है। देने में लेना भरा हुआ है। रिगार्ड दो तो रिगार्ड मिलेगा। रिगार्ड लेने का साधन ही है देना। आप रिगार्ड दो और आपको नहीं मिले, यह हो नहीं सकता। लेकिन दिल से दो, मतलब से नहीं। जो दिल से रिगार्ड देता है उसको दिल से रिगार्ड मिलता है। मतलब का रिगार्ड देंगे तो मिलेगा भी मतलब का। सदैव दिल से दो और दिल से लो। इस स्लोगन द्वारा सदा ही निर्विघ्न, निरसंकल्प, निश्चिन्त रहेंगे। मेरा क्या होगा यह चिन्ता नहीं रहेगी। मेरा हुआ ही पड़ा है, बना ही पड़ा है, निश्चिन्त रहेंगे। और ऐसी श्रेष्ठ आत्मा की श्रेष्ठ प्रालब्ध वर्तमान और भविष्य निश्चित ही है। इसको कोई बदल नहीं सकता। कोई किसकी सीट ले नहीं सकता, निश्चित है। निश्चित है इसलिए निश्चिंत है, इसको कहा जाता है बाप समान फालो फादर करने वाले। समझा।

डबल विदेशी बच्चों पर तो विशेष स्नेह है। मतलब का नहीं। दिल का स्नेह है। बापदादा ने सुनाया था एक पुराना गीत है – ऊंची-ऊंची दीवारें… यह डबल विदेशियों का गीत है। समुद्र पार करते हुए, धर्म, देश, भाषा सब ऊंची-ऊंची दीवारें पार करके बाप के बन गये, इसलिए बाप को प्रिय हो। भारतवासी तो थे ही देवताओं के पुजारी। उन्होंने ऊंची दीवारें पार नहीं की। लेकिन आप डबल विदेशियों ने यह ऊंची-ऊंची दीवारें कितना सहज पार की इसलिए बापदादा दिल से बच्चों की इस विशेषता का गीत गाते हैं। समझा। सिर्फ खुश करने के लिए नहीं कह रहे हैं। कई बच्चे रमत-गमत में कहते हैं कि बापदादा तो सभी को खुश कर देते हैं। लेकिन खुश करते हैं अर्थ से। आप अपने से पूछो बापदादा ऐसे ही कहते हैं या यह प्रैक्टिकल है! ऊंची-ऊंची दीवारें पार कर आ गये हो ना! कितनी मेहनत से टिकेट निकालते हो। यहाँ से जाते ही पैसे इकट्ठे करते हो ना। बापदादा जब बच्चों का स्नेह देखते हैं, स्नेह से कैसे पहुँचने के लिए साधन अपनाते हैं, किस तरीके से पहुँचते हैं, बापदादा स्नेही आत्माओं का स्नेह का साधन देख, लगन देख, खुश होते हैं। दूर वालों से पूछो कैसे आते हैं? मेहनत करके फिर भी पहुँच तो जाते हैं ना। अच्छा।

सदा कम्बाइन्ड रूप में स्थित रहने वाले, सदा बाप समान अव्यक्त भाव में स्थित रहने वाले, सदा सिद्धि स्वरूप अनुभव करने वाले, अपने समर्थ समान स्वरूप द्वारा साक्षात्कार कराने वाले, ऐसे सदा निश्चिन्त, सदा निश्चित विजयी बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

सानफ्रंसिसको ग्रुप से:- सभी स्वयं को सारे विश्व में विशेष आत्मायें हैं – ऐसे अनुभव करते हो? क्योंकि सारे विश्व की अनेक आत्माओं में से बाप को पहचानने का भाग्य आप विशेष आत्माओं को मिला है। ऊंचे ते ऊंचे बाप को पहचानना यह कितना बड़ा भाग्य है! पहचाना, सम्बन्ध जोड़ा और प्राप्ति हुई। अभी अपने को बाप के सर्व खजानों के मालिक अनुभव करते हो? जब सदा बच्चे हैं तो बच्चे माना ही अधिकारी। इसी स्मृति से बार-बार रिवाइज़ करो। मैं कौन हूँ! किसका बच्चा हूँ! अमृतवेले शक्तिशाली स्मृति स्वरूप का अनुभव करने वाले ही शक्तिशाली रहते हैं। अमृतवेला शक्तिशाली नहीं तो सारे दिन में भी बहुत विघ्न आयेंगे इसलिए अमृतवेला सदा शक्तिशाली रहे। अमृतवेले स्वयं बाप बच्चों को विशेष वरदान देने आते हैं। उस समय जो वरदान लेता है उसका सारा दिन सहजयोगी की स्थिति में रहता है। तो पढ़ाई और अमृतवेले का मिलन यह दोनों ही विशेष शक्तिशाली रहें। तो सदा ही सेफ रहेंगे।

जर्मनी ग्रुप से:- सदा अपने को विश्व कल्याणकारी बाप के बच्चे विश्व कल्याणकारी आत्मायें समझते हो? अर्थात् सर्व खजानों से भरपूर। जब अपने पास खजाने सम्पन्न होंगे तब दूसरों को देंगे ना! तो सदा सर्व खजानों से भरपूर आत्मायें बालक सो मालिक हैं! ऐसा अनुभव करते हो? बाप कहा माना बालक सो मालिक हो गया। यही स्मृति विश्व कल्याणकारी स्वत: बना देती है। और यही स्मृति सदा खुशी में उड़ाती है। यही ब्राह्मण जीवन है। सम्पन्न रहना, खुशी में उड़ना और सदा बाप के खजानों के अधिकार के नशे में रहना। ऐसे श्रेष्ठ ब्राह्मण आत्मायें हो। अच्छा।

वरदान:- अपने हर कर्म और बोल द्वारा चलते फिरते हर आत्मा को शिक्षा देने वाले मास्टर शिक्षक भव 
जैसे आजकल चलती-फिरती लाइब्रेरी होती है, ऐसे आप भी चलते-फिरते मास्टर शिक्षक हो। सदा अपने सामने स्टूडेन्ट देखो, अकेले नहीं हो, सदा स्टूडेन्ट के सामने हो। सदा स्टडी कर भी रहे हो और करा भी रहे हो। योग्य शिक्षक कभी स्टूडेन्ट के आगे अलबेले नहीं होंगे, अटेन्शन रखेंगे। आप सोते हो, उठते हो, चलते हो, खाते हो, हर समय समझो हम बड़े कालेज में बैठे हैं, स्टूडेन्ट देख रहे हैं।
स्लोगन:- आत्म निश्चय से अपने संस्कारों को सम्पूर्ण पावन बनाना ही श्रेष्ठ योग है।

TODAY MURLI 28 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 October 2017 :- Click Here

28/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, wake up early in the morning and sit in remembrance. Even at meal times, remind one another of the Father. By continuing to have remembrance you will pass with honours.
Question: Of which one weakness does the Father receive reports about the children?
Answer: Even now, many children have not yet become embodiments of love. They continue to speak words that cause sorrow for others and this is why the Father receives report s about them. You children have to interact with a lot of love. If you yourselves have defects, that is, if you have evil spirits, how would you remove the evil spirits of others? Therefore, you have to become embodiments of love like the deities. Remove the evil spirits!
Song: At last the day for which we had been waiting has come.

Om shanti. You children know the Father, the Lord of the Poor, and you continue to sit in remembrance of the Father. Although you may be seeing someone with your physical eyes and you may be acting through your physical organs, it is remembered: Continue to work with your hands and let your heart be engaged with the Beloved. The decoration of the Brahmin clan know Him and it is to them that the Father says: For half the cycle, you have been remembering the Father. According to the drama, you have now been reminded by the Father of how the world cycle turns. The whole world has forgotten this. No one knows the Father’s creation or His task of purifying the impure and bestowing salvation on everyone. You know the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. You have now remembered how the world cycle turns and how you go around the cycle of 84 births. Those who have played their part sfrom the golden age to the end of the iron age will play the same parts again. While taking rebirth from the golden age to the iron age, you have continued to come down. Now, at the end of the iron age, it is your stage of ascent. It is said: Because of the stage of ascent, there is benefit for everyone. You have now remembered everything. This is called being an embodiment of remembrance, a conqueror of attachment. From whom have you received this awareness? From the Father. You yourselves didn’t have this awareness. You souls know that you are children of the Supreme Father, the Supreme Soul. A physical father gave you that body. The Father from beyond now says: you have to remove any awareness of that old body, just as a snake sheds its old skin and takes a new one. That refers to the golden age. So, you will also begin to shed your skins from the golden age. It is now your final birth. The Father says: Very little time remains. You have been given patience. You are now happy that you are once again claiming your inheritance of happiness from the Father. You will take your inheritance of happiness from the Father, will you not? These things do not enter the intellects of human beings. When those people go to a Lakshmi and Narayan temple, who they were wouldn’t enter their intellects. It is on the path of devotion that they put their palms together and continue to sing: You are the Mother and Father. Shiv Baba is the greatest One of all. Shiv Baba is also the Master of the Garden because He is planting the sapling of the new deity garden. He Himself is the Gardener and He holds your hands and takes you back with Him. Only you children know how Baba is the Master of the Garden, the Gardener and the Boatman. These are all His names. He is also called the Liberator. It is Him you have to remember. Baba says: When you come here, remember Shiv Baba before you come: I have made Shiv Baba belong to me. Brahma has also made Him belong to him. So, why should we not remember Him? It is also shown in the pictures how everyone believes in Shiva. Baba is speaking to souls. You would not be called souls, but living souls, because when a soul is alone he cannot speak. A soul without a body cannot speak to another soul. Would God speak to souls in the supreme abode? Although they say that God sent Christ, God doesn’t speak there. There are no signals there either. According to the drama, souls automatically come down by themselves to play their part s. A part is recorded in each soul. Therefore, a soul comes down and takes a body and plays his part. The name of everyone’s body is different. The name of a soul is soul. We souls shed bodies, take others and play our part s. We have now become aware that we mustn’t remember anyone else because we will leave our old part s and our old bodies in the old world and go to the new world. There, we will receive new bodies. So this means that we now have to renounce the five vices. This is such a great difficulty. Look! Children write that storms of lust and anger come to them. Baba says: Children, make a donation and the bad omens will be removed. Souls experience the omens at this time. At first, you were 16 celestial degrees full and now there are no degrees. After the night of the full moon, the degrees gradually continue to decrease. At the end a slight line remains. Your stage is now the same. Baba says: Make a donation and the bad omens will be removed. If you donate the vices and then take them back, you won’t be able to claim a high status. This refers to the vices; it is not a question of money. There is the example of Harishchandra. After donating money, you mustn’t take it back. Actually, it refers to the vices. After donating the vices you mustn’t take them back. Continue to look into your heart: Is my heart attached to Baba, through whom my bad omens of many births are being removed? It takes time; the bad omens are not removed instantly. A sign that the suffering of karma remains is illness. Storms also come. The reason for this is that there isn’t full yoga. The Father says: Break away from everyone else and connect yourself to Me alone. In other spiritual gatherings, they don’t know the Beloved. They don’t even know that an imperishable part of 84 births is recorded in the soul. Previously, it wasn’t in our intellects, so how could it be in the intellects of others? Those of us who belonged to the deity clan didn’t know this. You have now remembered that you are Brahmins. Then, in the golden age, the reward will begin; they will again repeat the actions they performed in the golden age. Sanskars will continue to emerge. We sing the praise of Baba of how He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Love. We are also learning about love. Our mouths should not speak words that would cause sorrow for others. If you cause sorrow for another person, then, understand that there is an evil spirit in you and that you won’t be able to marry Lakshmi. Since you belong to the Father you have to become worthy of marrying Lakshmi. If any evil spirits remain within you, you will end up in the silver age. You children should not have anger. You should interact with a lot of love. Look! Baba has so many children. Nevertheless, Baba doesn’t get angry with them. Therefore, you too have to become embodiments of love. As yet, many children have not become embodiments of love. Sometimes, Baba receives reportsabout them and so He understands that there is an evil spirit in someone. How would those who have evil spirits in them remove the evil spirits of others? You have to become embodiments of love and you have to become that here. Deities are embodiments of love. Look how the picture of Lakshmi and Narayan attracts you so much! Therefore, you have to become like them. Even if your husband becomes angry with you, you still have to speak to him with love. It should not be that because he has an evil spirit in him, it should also enter you; no. If I have defects, then, no matter how, I definitely have to remove them. Become very, very sweet. Someone said that his father gets angry with him. I said: When he becomes angry, shower him with very good flowers. He will then be amazed and will cool down. You have to explain with great tact because this is Ravan’s kingdom. We are Rama’s community. If you yourself don’t become this, how would you make others this? This is why establishment is being delayed. Firstly, you have to interact with love and secondly, maintain your awareness. Become spinners of the discus of self-realisation. You have to carry on with your business. This is why the early morning time is very good. It is said: Early to bed, early to rise. Therefore, wake up early in the morning and come and sit here and you will be able to sit in remembrance for at least five minutes. Then, by your gradually developing that habit, remembrance will become firm. When you are eating your meals, check for how long you are able to eat in remembrance of Baba. If you remember Baba the whole time, that is very brave of you. At meal times you have to signal to one another to remember the Father. Remind one another with every mouthful. Ours is easy yoga. We now have the knowledge in our intellects that the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Almighty Authority. So, what power does He have? It isn’t that He has the power to create bombs. No; by remembering Him, your sins are absolved. This is His power. Look! He is so innocent and He has so much power! It requires effort to remember Him accurately. Therefore, you have to make effort. The morning time is good. People in devotion, wake up early. In knowledge as well, the early morning time is very good. The Father says: I only come once in a cycle to take you back with Me. Therefore, you have to go in complete happiness. You have to remove yourself from the land of sorrow. If you have this awareness, you won’t be afraid. No matter how many tests come, there should be this firm awareness. You have to create such a stage. The meaning of “Hum so, so hum” has been explained to you children. We souls are not the Supreme Soul, but we are the children of the Supreme Soul. This is a glimpse (darshan) of the cycle of “hum so”. Only by your having this remembrance will the alloy be removed. The time to have the alloy removed is at amrit vela. In order to pass with honours, remember the Father who makes you into the masters of the land of Krishna. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While carrying on with your business etc., continue to spin the discus of self-realisation. Remind one another of the Father. No matter how many tests come, you must definitely maintain awareness.
  2. After donating the vices, never take them back. Never cause sorrow for anyone. Don’t become angry. Remove any evil spirits from within you.
Blessing: May you be a jewel of contentment with happiness in the heart who flies in the plane of blessings.
A jewel of contentment is one who is content with the self, content in service and content with everyone. To receive contentment as the fruit of tapasya is the success of tapasya. A jewel of contentment is one whose heart is constantly happy. Happiness means that your heart and head are constantly restful and you have a stage of happiness and comfort. Such jewels of contentment will experience themselves to be flying in the plane of everyone’s blessings.
Slogan: Only those with true hearts who please the Bestower, the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings can have spiritual pleasure.

*** Om Shanti ***

Invaluable versions of Mateshwari

What is the basis of being unfortunate or fortunate?

Unfortunate and fortunate – what are these two words based on? We know that it is God who makes us fortunate and human beings themselves who become unfortunate. When people are completely happy, it is said that they have good fortune and when people consider themselves to be unhappy, they consider themselves to be unfortunate. We cannot say that we have received misfortune or fortune from God, no. It is foolishness to think in that way. God makes us fortunate but it depends on our own karma whether we make our fortune or spoil our fortune. All of this depends on the sanskars of human beings. Then, just as we create sanskars of sin and charity, similarly, fortune is created, but because people do not understand this secret, they blame God. Just look, in order to keep themselves happy, people have invented so many ways of Maya. Some consider themselves to be happy with Maya whereas others renounce that same Maya and consider themselves to be happy having left that Maya. They try so many different things, but even after trying so many different things, the end result still leads them to sorrow. When there is great sorrow on earth, it is then that God Himself comes and has the deity world established with His incognito Godly yoga power and makes human souls fortunate.

Soundless (Ajapa jaap) chant , that is, constant yoga, unbroken yoga.

When we say “om shanti”, it means “I, the soul, the saligram, am a child of that God who is a form of light.” Just as the Father is a point of light, so I too have the same form. We saligrams are the children and so we have to have yoga with God, the form of light. We have to have yoga with Him and claim our inheritance of light and might from Him. This is why the elevated versions of God in the Gita say: Stabilise yourself in My form of light. This is called the soundless chant. “Soundless” means without chanting any mantra, to stay naturally in remembrance of that Supreme Soul. This is said to be true yoga. Yoga means to stay in remembrance of the one Yogeshwar (God of yoga), the Supreme Soul. The souls who stay in remembrance of that Supreme Soul are said to be yogis or yoginis. Only when you stay in that yoga, that is, in remembrance, constantly, will the sinful actions and the burden of sin be destroyed and souls will become pure and then take the reward of their deity births in the future. This knowledge is needed, for only then can you have complete yoga. So, you have to consider yourself to be a soul and stay in remembrance of God. This is true knowledge. Achcha. Om shanti.

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 26 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 27 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
28/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सवेरे-सवेरे उठ याद में बैठने का अभ्यास डालो, भोजन पर भी एक दो को बाप की याद दिलाओ, याद करते-करते तुम पास विद ऑनर हो जायेंगे”
प्रश्नः- किस एक कमी के कारण बच्चों की रिपोर्ट बाप के पास आती है?
उत्तर:- कई बच्चे अभी तक प्रेम स्वरूप नहीं बने हैं। मुख से दु:ख देने वाले बोल बोलते रहते हैं इसलिए बाप के पास रिपोर्ट आती है। बच्चों को बहुत प्रेम से चलना है। अगर स्वयं में ही कोई अवगुण रूपी भूत होगा तो दूसरों का कैसे निकलेगा, इसलिए देवताओं जैसा प्रेम स्वरूप बनना है, भूत निकाल देना है।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज…..

ओम् शान्ति। बच्चे गरीब-निवाज़ बाप को जान चुके हैं और बाप की याद में बैठे रहते हैं। भल ऑखों से किसको भी देखें, कर्मेन्द्रियों से कर्म भी करें परन्तु गाया जाता है हाथों से कर्म करते रहो, दिल माशूक तरफ लगाते रहो। ब्राह्मण कुल भूषण जानते हैं और उनसे ही बाप बात करते हैं कि आधाकल्प तुमने बाप को याद किया। ड्रामा अनुसार अब तुमको बाप की स्मृति आई है कि सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। सारी दुनिया विस्मृति में है। बाप की रचना को और बाप के पतित से पावन बनाने वा सर्व की सद्गति करने के कर्तव्य को कोई भी नहीं जानते। तुम रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। तुमको स्मृति आई कि सृष्टि चक्र कैसे फिरता है, हम 84 का चक्र कैसे लगाते हैं, जिन्होंने सतयुग से लेकर कलियुग के अन्त तक पार्ट बजाया है, वही अभी भी बजायेंगे। सतयुग से लेकर कलियुग तक जन्म लेते नीचे उतरते आये हैं। अब कलियुग अन्त में तुम्हारी चढ़ती कला है। कहते हैं चढ़ती कला तेरे भाने सर्व का भला। तो तुमको सारी स्मृति आई है, इसको कहा जाता है स्मृतिर्लब्धा, नष्टोमोहा। किस द्वारा स्मृति आई है? बाप द्वारा। अपने आप स्मृति नहीं आई। तुम जानते हो हम आत्मा परमपिता परमात्मा की सन्तान हैं। यह शरीर तो लौकिक बाप ने दिया। अब पारलौकिक बाप कहते हैं यह पुराने शरीर का भान छोड़ो, जैसे सर्प पुरानी खाल छोड़ता है और नई लेता है। यह बात सतयुग से लगती है। तो तुम भी सतयुग से लेकर खाल छोड़ना शुरू करेंगे। अब तुम्हारा अन्तिम जन्म है। बाप कहते हैं – बाकी थोड़ा समय है। तुमको धीरज मिला है, तुम खुशी में हो कि हम फिर से बाप द्वारा सुख का वर्सा पा रहे हैं। सुख का वर्सा तो बाप द्वारा मिलेगा ना। यह बात कोई मनुष्यों की बुद्धि में नहीं आती। वह लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जायेंगे तो उनकी बुद्धि में यह नहीं आयेगा कि यह कौन हैं! यह तो भक्ति मार्ग में हाथ जोड़कर कहते रहते हैं तुम मात-पिता….. शिवबाबा तो सबसे बड़ा ठहरा। शिवबाबा बागवान भी है क्योंकि नये दैवी बगीचे का कलम लगाते हैं। तो खुद माली भी है और हाथ पकड़ कर साथ ले जाते हैं। तो बाबा माली, बागवान और खिवैया कैसे है – यह सब तुम बच्चे ही जानते हो। यह सब अनेक नाम हैं, उनको लिबरेटर भी कहते हैं। याद भी उनको करना है। बाबा कहते हैं यहाँ आते हो तो शिवबाबा को याद करके आओ। हमने तो शिवबाबा को अपना बनाया है। ब्रह्मा ने भी उनको अपना बनाया है। तो हम उनको ही क्यों न याद करें। चित्र में भी दिखाया है – सभी शिव को मानते हैं। बाबा आत्माओं से बात करते हैं। आत्मा न कह जीवात्मा कहेंगे क्योंकि जब आत्मा अकेली है तो बोल नहीं सकती। शरीर बिगर आत्मा, आत्मा से बात नहीं करती। परमधाम में क्या परमात्मा आत्मा से बात करेंगे? भल कह देते क्राइस्ट को परमात्मा ने भेजा परन्तु वहाँ परमात्मा बोलता नहीं है, वहाँ इशारा भी नहीं होता। ड्रामा अनुसार आत्मा आपेही पार्ट बजाने नीचे आ जाती है। आत्मा में पार्ट भरा हुआ है। तो आत्मा नीचे आकर शरीर धारण कर पार्ट बजाती है। शरीर का नाम तो सबका अलग है। आत्मा का नाम तो आत्मा ही है। हम आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा ले पार्ट बजाते हैं। अब हमको स्मृति आई है और कोई की याद नहीं होनी चाहिए क्योंकि पुरानी दुनिया में पुराना पार्ट, पुराना शरीर छोड़ नई दुनिया में जाना है। वहाँ नया शरीर हमको मिलना है। तो इससे मतलब निकलता है कि अभी 5 विकारों को छोड़ना है, तो कितनी मुश्किलात होती है।

देखो, बच्चे लिखते हैं – काम, क्रोध का तूफान आता है। तो बाबा कहते हैं बच्चे दे दान तो छूटे ग्रहण। इस समय आत्मा पर ग्रहण लगा हुआ है। पहले तुम 16 कला सम्पूर्ण थे, अब नो कला है। जैसे चन्द्रमा की भी पूर्णमासी के बाद धीरे-धीरे कला कम होती जाती है। अन्त में जरा सी लकीर रह जाती है। तुम्हारी भी अभी वही अवस्था है। बाबा कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। अगर विकारों का दान देकर फिर वापिस लिया तो ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। यहाँ विकारों की ही बात है। पैसे की बात नहीं। हरिश्चन्द्र का मिसाल……धन दान में देकर वापिस नहीं लेना चाहिए। वास्तव में है विकारों की बात। विकार दान में देकर वापिस नहीं लेने चाहिए। दिल अन्दर देखते रहो कि हमारी दिल बाबा से लगी हुई है, जिससे हमारा जन्म-जन्मान्तर का ग्रहण छूटा है। समय तो लगता है, एकदम तो नहीं छूटता। जो कर्मभोग रहा हुआ है उसकी निशानी है बीमारी। तूफान आते हैं, इसका कारण पूरा योग नहीं है। बाप कहते हैं और संग तोड़ मुझ एक संग जोड़ो। और सतसंगों में माशुक को जानते नहीं। यह भी नहीं जानते कि आत्मा में 84 जन्मों का अविनाशी पार्ट नूंधा हुआ है। पहले हमारी बुद्धि में भी नहीं था तो औरों की बुद्धि में कैसे होगा! जो हम देवता घराने के थे, वह भी नहीं जानते थे। अब तुमको स्मृति आई है कि हम ब्राह्मण हैं फिर सतयुग में प्रालब्ध शुरू हो जायेगी फिर जो कर्म हर एक ने सतयुग में किये थे वही रिपीट करेंगे। संस्कार इमर्ज होते जायेंगे। यह जब बाबा की महिमा करते हैं – ज्ञान का सागर, प्रेम का सागर…. तो हम भी प्रेम सीख रहे हैं। हमारे मुख से ऐसे शब्द नहीं निकलने चाहिए जो किसको दु:ख मिले। अगर किसी को दु:ख दिया तो समझना चाहिए – हमारे अन्दर भूत है फिर लक्ष्मी को वर नहीं सकेंगे। बाप के बने हैं तो लक्ष्मी को वरने लायक बनना चाहिए। अगर कोई भूत रह गया तो त्रेता में चले जायेंगे। बच्चों में क्रोध नहीं होना चाहिए। बड़े प्रेम से चलना चाहिए। देखो, बाबा के कितने बच्चे हैं तो भी बाबा क्रोध थोड़ेही करते हैं। तो तुमको भी बड़ा प्रेम स्वरूप बनना है। अभी कई बच्चे प्रेम स्वरूप नहीं बने हैं। कभी-कभी रिपोर्ट आती है तो वह भी समझ जाते हैं कि इनमें भूत है, जिसमें खुद भूत है वह औरों का क्या निकालेंगे। बड़ा प्रेम स्वरूप बनना है और यहाँ ही बनना है। देवता प्रेम स्वरूप हैं ना। देखो, लक्ष्मी-नारायण का चित्र कितना खींचता है तो हमको भी ऐसा बनना है। तुमको पति क्रोध करता है तो भी प्रेम से बात करनी है, यह नहीं उनमें भूत हैं तो मुझ में भी आ जाए। नहीं, मेरे में जो अवगुण हैं कैसे भी करके अवगुणों को निकालना है। बहुत-बहुत मीठा बनना है। किसी ने कहा लौकिक बाप गुस्सा करता है, तो मैंने कहा कि जब वह क्रोध करता है तो तुम अच्छे-अच्छे फूल चढ़ाओ। तो वह वन्डर खाये, फिर वह ठण्डा हो जायेगा। बड़ा युक्ति से समझाना है क्योंकि रावणराज्य है ना। हम हैं राम की सम्प्रदाय। खुद न बनें तो दूसरों को क्या बनायेंगे इसलिए स्थापना में देरी पड़ती है। एक तो प्रेम से चलना है, दूसरा स्मृति में रहना है, स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। धन्धा तो करना ही है इसलिए सुबह का समय बहुत अच्छा है। कहते हैं ना सवेरे सोना… सवेरे उठना… इसलिए सवेरे-सवेरे उठ यहाँ आकर बैठो तो 5 मिनट भी याद ठहरेगी। फिर धीरे-धीरे आदत पड़ने से याद पक्की हो जायेगी। अच्छा खाना खाते हो तो देखो कि कितना समय बाबा की याद में खाया! अगर सारा समय याद किया तो वह भी बड़ी बहादुरी है। भोजन पर एक दो को इशारा देना है कि बाप को याद करो। एक-एक गिट्टी पर याद दिलाओ। हमारा है ही सहजयोग। अभी बुद्धि में ज्ञान आया है परमपिता परमात्मा को सर्व शक्तिमान् कहते हैं तो उनमें भला क्या शक्ति है। यह नहीं कि बाम्ब्स बनाने की शक्ति है। नहीं, उनको याद करने से विकर्म विनाश हो जाते हैं। यह शक्ति है ना। देखो है कितना भोला और शक्ति कितनी है। यथार्थ रीति याद करने में मेहनत है ना। तो मेहनत करनी चाहिए। सुबह का समय अच्छा होता है। भक्ति में भी सवेरे-सवेरे उठते हैं, ज्ञान में भी सवेरे का समय बहुत अच्छा है। बाप कहते हैं मैं कल्प में एक ही बार आता हूँ, तुमको साथ ले जाने के लिए तो बिल्कुल खुशी खुशी से जाना है। दु:खधाम से निकलना है। ऐसी स्मृति होगी तो डरेंगे नहीं। कितनी भी परीक्षायें आये तो भी स्मृति पक्की रहनी चाहिए। ऐसी अवस्था जमानी है। अब तुम बच्चों को हम सो, सो हम का अर्थ भी समझाया है। हम सो परमात्मा नहीं, लेकिन परमात्मा का बच्चा हूँ। यह हो गया हम सो के चक्र का दर्शन। इस याद से ही खाद निकलेगी। खाद निकालने का समय ही है अमृतवेला। तो पास विद आनर बनने के लिए कृष्णपुरी का मालिक बनाने वाले बाप को याद करना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) धन्धा आदि करते भी स्वदर्शन चक्रधारी बनकर रहना है। एक दो को बाप की याद दिलानी है। कितनी भी परीक्षायें आ जायें तो भी स्मृति में जरूर रहना है।

2) विकारों का दान देकर फिर कभी वापस नहीं लेना। किसी को भी दु:ख नहीं देना है। क्रोध नहीं करना है। अन्दर जो भूत हैं उन्हें निकाल देना है।

वरदान:- चित की प्रसन्नता द्वारा दुआओं के विमान में उड़ने वाले सन्तुष्टमणी भव 
सन्तुष्टमणि उन्हें कहा जाता जो स्वयं से, सेवा से और सर्व से सन्तुष्ट हो। तपस्या द्वारा सन्तुष्टता रूपी फल प्राप्त कर लेना – यही तपस्या की सिद्धि है। सन्तुष्टमणि वह है जिसका चित सदा प्रसन्न हो। प्रसन्नता अर्थात् दिल-दिमाग सदा आराम में हो, सुख चैन की स्थिति में हो। ऐसी सन्तुष्टमणियां स्वयं को सर्व की दुआओं के विमान में उड़ता हुआ अनुभव करेंगी।
स्लोगन:- सच्चे दिल से दाता, विधाता, वरदाता को राज़ी करने वाले ही रुहानी मौज में रहते हैं।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

1) ‘बदनसीब और खुशनसीब बनने का फाउण्डेशन क्या है?’

बदनसीबी और खुशनसीबी, अब यह दो शब्दों का मदार किस पर चलता है? यह तो हम जानते हैं कि खुशनसीब बनाने वाला परमात्मा और बदनसीब बनाने वाला खुद ही मनुष्य है। जब मनुष्य सर्वदा सुखी है तो उन्हों की अच्छी किस्मत कहते हैं और जब मनुष्य अपने को दु:खी समझते हैं तो वो अपने को बदनसीब समझते हैं। हम ऐसे नहीं कहेंगे कि बदनसीबी वा खुशनसीबी कोई परमात्मा द्वारा मिलती है, नहीं। यह समझना बड़ी मूर्खता है। परमात्मा तो हमें खुशनसीब बनाता है परन्तु तकदीर को बिगाड़ना वा बनाना यह सब कर्मों के ऊपर ही मदार है। यह सब मनुष्यों के संस्कारों के ऊपर ही है। फिर जैसे पाप और पुण्य का संस्कार भरता है वैसे तकदीर बनती है परन्तु मनुष्य इस राज़ न जानने के कारण परमात्मा के ऊपर दोष रखते हैं। अब देखो मनुष्य अपने को सुखी रखने के लिये कितनी माया के तरीके निकालते हैं फिर उस ही माया से कोई अपने को सुखी समझते हैं और कोई फिर उस ही माया का सन्यास कर माया को छोड़ने से अपने को सुखी समझते हैं, मतलब तो कई प्रकार के प्रयत्न करते हैं परन्तु इतने तरीके करते भी रिजल्ट दु:ख के तरफ जा रही है। जब सृष्टि पर भारी दु:ख होता है तब उसी समय स्वयं परमात्मा आए गुप्त रूप में अपने ईश्वरीय योग पॉवर से दैवी सृष्टि की स्थापना कराए सभी मनुष्य आत्माओं को खुशकिस्मत बनाते हैं।

2) ‘अजपाजाप अर्थात् निरंतर योग अटूट योग’

जिस समय ओम् शान्ति कहते हैं तो उसका यथार्थ अर्थ है मैं आत्मा सालिग्राम उस ज्योति स्वरूप परमात्मा की संतान है हम भी वही पिता ज्योतिर्बिन्दू परमात्मा के मुआफिक आकार वाली हैं। बाकी हम सालिग्राम बच्चे हैं तो इन्हों को अपने ज्योति स्वरूप परमात्मा के साथ योग रखना है जिससे ही अपने को योग रखना और लाइट माइट का वर्सा लेना है। तभी तो गीता में स्वयं भगवान के महावाक्य है मुझ ज्योति स्वरूप आकारी रूप में स्थित हो जाओ, इसको ही अजपाजाप कहा जाता है। अजपाजाप माना कोई भी मंत्र जपने के सिवाए नेचुरल उस परमात्मा की याद में रहना, इसको ही पूर्ण योग कहते हैं, योग का मतलब है एक ही योगेश्वर परमात्मा की याद में रहना। तो जो आत्मायें उस परमात्मा की याद में रहती हैं, उन्हों को योगी अथवा योगिनियां कहा जाता है। जब उस योग अर्थात् याद में निरंतर रहें तब ही विकर्मों और पापों का बोझ नष्ट होता है और आत्मायें पवित्र बन जिससे फिर भविष्य जन्म देवताई प्रालब्ध पाते हैं। अब यह चाहिए नॉलेज तब ही योग पूरा लग सकता है तो अपने को आत्मा समझ परमात्मा की याद में रहना, यह है सच्चा ज्ञान। अच्छा। ओम् शान्ति।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 26 October 2017 :- Click Here
Font Resize