today murli 28 june

TODAY MURLI 28 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 June 2018 :- Click Here

28/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, just as the Father has mercy for everyone and doesn’t feel dislike for anyone, in the same way, you children, too, mustn’t dislike anyone. Become merciful.
Question: What one plan does the merciful Father have for the whole world?
Answer: To make all human souls and the elements pure from impure and give the inheritance of liberation and liberation-in-life is the only plan the Father has. You children are the Father’s helpers. You first have to have mercy on yourselves. Follow shrimat and make yourselves pure. Then serve to remove everyone from the rubbish of all the vices.
Song: Who has come to the door of my mind with the sound of ankle-bells? 

Om shanti. Who has come? The Father has come. To whom? To the children. To whom have the children come? The Father says: To Me. You are now personally sitting in front Him. You know that the Father is very merciful. The Father knows that Maya has made His children very unhappy and impure. Children don’t know this. The Father knows this and He therefore feels mercy. He doesn’t have dislike. The Father says: I sent you into relationships of happiness. It is a matter of 5000 years. Then, according to the drama, Maya made you unhappy. At first you were satopradhan and you then went through the stages of sato, rajo and tamo. I know that you are My children. I Myself have to come to make you children pure and to give you your fortune of the kingdom. You children also understand that the Father truly has come. He is the Ocean of Love and the Ocean of Peace. He takes us to the world of happiness and peace. The Father knows that it is this Maya that is the greatest enemy of all. This is why I have come. However, because I am without an image, no one recognises Me. Previously, you used to believe that Krishna came and taught you Raja Yoga and made you into the masters of the world. However, no one knows when or how he made you that. The Father now feels a lot of mercy because He knows that children are now influenced by Maya, that is, by the five vices. You are under an external influence and so I liberate you from that. The Father says: Children, for My sake, for the sake of Bharat and for the whole universe , now follow My directions! Remember Me and also become merciful. Give everyone the Father’s introduction. Judges make people take the oath in the name of God , but why? No one knows who God is. They simply speak of God. There is also the term ‘Fathe r’. When they make a person take the oath, they don’t understand anything. They say: Take the oath in the name of God, the Father. However, they don’t know the Father. You children now know that He is God, the Father. People take the oath because they understand that if they performed wrong actions, the Father would punish them just as when children do something wrong at home they become afraid that perhaps their father would slap them. People take the oath in the name of God, but they don’t know who God is or how He would give punishment. Christians take the oath on the Bible. Others would swear on the Gita. They believe that Krishna was the God of the Gita; so they ask for forgiveness, keeping Krishna in front of them. They believe that if they lied, they would be punished. However, the Father is called the Truth. The whole world would not accept Christ as the TruthGod, the Father, is the One who is always truthful, but no one knows Him. It is when the Father comes and gives birth to the children that the children can know the Father. You children now know that Baba has made you belong to Him. He has created you through this mother. He is called Adi Dev. In fact, this one is also Adi Devi. If Mama is called Adi Devi, then this one becomes a greater Adi Devi than her. These are very deep things. Only those who have broad and unlimited intellects can understand these things. They say that the Father is the One who makes impure ones pure. Achcha, which one is the pure world? Should liberation be called the pure world or should liberation-in-life be called the pure world? No one knows this. They sing a great deal, but they only have in their intellects that God comes. However, they don’t know His form etc. They call Him omnipresent. The Father is very merciful. He is the Ocean of Love. Therefore, children, you too should have mercy; you should have love. The Father has a lot of mercy and this is why He is called merciful. The Father says: I am merciful to the elements and the whole world. I am knowledge-full. I am also full of love. I make you very lovely. Just as Shri Krishna is lovely, so everyone in his dynasty is lovely. In fact, you would use the word dynasty for a king. It would be said: The kingdom of King Edward. You wouldn’t call it the kingdom of the Prince of Wales. The prince then becomes the king. It is the same here. The Christians have a lot of connection with the kingdom of Krishna. Those Christians earn a lot from the kingdom of Krishna. They first take over the kingdom of Krishna and then give it back. It can be called the kingdom of Krishna or the kingdom of Lakshmi and Narayan. Those Christians will now give the kingdom of the world to Krishna. This is such a wonderful secret! They are the ones who help the kingdom of Krishna. Eventually, they will give the whole kingdom to Krishna. This is why butter has been shown in Krishna’s mouth. It isn’t that there is a ball of butter. Two monkeys fight between themselves and Krishna takes the butter. It isn’t brothers that fight, but monkeys that fight. The five vices of monkeys are very well known. You are now creating the dynasty of Krishna. You are to receive the butter of being the masters of the world. Look what the exchange or the account of karma is! Look at the actions of the Christians: they take the kingdom but they have to give it back again. They fight so much among themselves. Nevertheless, you are going to receive the butter of the kingdom; you will become princes and princesses. You children have to become very merciful oceans of love. You mustn’t have dislike like people in the world have dislike for one another. As are the kings and queens, so the people too have dislike for others, numberwise. They fight among themselves and kill one another. The Father explains to you very clearly: There is no question of dislike in this. The drama is predestined. Each human being calls himself a degraded sinner. They go to the temples and have dislike for themselves. They consider the mahatmas to be pure and fall at their feet. They say: You are pure and we are impure. Only the Father knows all of these things. People ask others to take the oath in the name of God, the Father, but that too is a false oath because they don’t know God, the Father. When they take the oath in the name of God, the Father, it should enter their intellects that they have to receive the inheritance from Him. No one knows what heaven is, but they say that when so-and-so died, he became a resident of heaven. So, where did he go? They don’t understand anything at all! The Father doesn’t dislike anyone. He has love for everyone. You children are now personally in front of Him. He explains to the children in particular and to everyone else in general. I teach you children and give you liberation-in-life and take everyone else to the land of liberation. I have love for everyone. That Government continues to make many plans. Baba says: I just have the one plan of making impure human beings into pure deities. Human beings call out: O Purifier, come! Then, because of not knowing Him, they say that they themselves are the Purifier. The Father explains: First of all, serve the biggest ChiefJustice. Ask him: The Father of souls is One, and so why do you ask people to take the oath in His name? Do you remember Krishna while taking the oath? Ask the Christians whether they remember Christ or God, the Father. You know that if you do something sinful, punishment would have to be experienced for that, but the Father never gives punishment. He is Karankaravanhar. He enables punishment to be given by Dharamraj. God is the most beloved Father. Those people falsely accuse the Father of giving happiness and sorrow. So, is He merciless? People sing: He is merciful. The Father says: How could I be merciless? Maya has been merciless to you. I liberate you from her. Maya has cursed you. This too is in the play. The land of happiness had to become the land of sorrow: Bharat was the land of happiness and it is now the land of sorrow. Baba once again makes you into the masters of the land of happiness. However, it isn’t that He Himself would also make you into the masters of the land of sorrow. Children say: Baba, you are the Ocean of Love. Baba, I will follow Your shrimat and make myself pure. I will have mercy on myself. To the extent that you study with the T eacher, accordingly, you have mercy on yourselves. Otherwise, you will fail. You now have this knowledge clearly in your intellects. You know that only the one Father is knowledge-full, merciful and the One to make you pure from impure. Therefore, you have to follow His directions. Your own directions means Ravan’s directions. When you don’t follow shrimat but follow your own directions instead or the directions of other human beings, you become deceived. If you follow shrimat at every step, your boat goes across. The climb is very steep. Many types of Maya’s storms also come. However, the Father doesn’t dislike anyone. You children too have to become the same. All are sinners like Ajamil. Just as you say that you are a one month old child, so there is also a song: I am a small child. You have many children who came earlier whom You are purifying. So, also make me, Your small child, pure. He says: Follow shrimat and you will be able to go well ahead of the ones who came earlier. You also receive a lift. When you come later, you receive the donation of yoga from the Shaktis. Shaktis are also numberwise. It isn’t said: Connect your intellects in yoga to us Shaktis. No, listen to the conch shell from the Shaktis, but connect your intellects in yoga to Baba. Remember Baba and your sins will be absolved. You have to beat the drums about this. This is not a question of blind faith. There cannot be any blind faith in a college. This is the God f atherly University. Knowledge-full God, the Father, sits here and teaches us. Your aim and objective is to become deities from human beings. Those people become barristersfrom human beings. Therefore, their intellects yoga is connected to their barrister, not to their doctor. This is a college, not blind faith. There is an aim and objectiveGod, the Father , continues to teach us. “God speaks” is mentioned in the Gita, but who is God? Even those who study the Gita don’t know this. This Brahma also used to say: I too studied the Gita. Human beings of today don’t believe in the scriptures. By taking up the Gita, their intellects go to Krishna. Not everyone of all religions would believe in him. The Gita spoken by Shiv Baba is the jewel of all the scriptures. God, the Father , says: I am the Creator of heaven. Therefore, you should receive your inheritance of heaven from the Father. Or, you will have to go to the Father’s home. Everyone wants to go to God. Everyone wants liberation. What do those people know of liberation-in-life? The Father says: I teach you, so how could I be omnipresent? Your mouths are not sweetened by calling Me omnipresent. Therefore, children, imbibe these things very well and become very sweet. Don’t dislike anyone. No matter how bad is the illness that someone has, surgeons still feel mercy for that patient and try to cure him. You understand that that is the suffering of karma for the bad actions he has performed. The Father says: When Maya enters human beings, they perform sinful actions and become impure. They consider the five vices to be very bad. This is why even sannyasis run away. A lot of respect is given to purity. You understand that you first of all bowed down to the deity idols and that you then bowed down to the sannyasis because they too became pure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Study very well, follow shrimat, become pure and have mercy for yourself. Never become merciless.
  2. Don’t dislike anyone. Become an ocean of love, like the Father.
Blessing: May you be seated on BapDada’s heart-throne while living at home with your family by being surrendered and having the concern for service.
With the co-operation of the children who are surrendered while living with their families, the tree of service becomes fruitful. Their co-operation becomes the water for tree. Just as a tree bears good fruit when it receives water, in the same way, with the co-operation of the elevated co-operative souls, the tree becomes fruitful. Those who have the concern for service in this way and who are surrendered while living with their families become seated on BapDada’s heart-throne.
Slogan: Learn the art of steering your thoughts and applying a brake to them in the least time and the energy of your intellect will not be wasted.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 June 2018

To Read Murli 27 June 2018 :- Click Here
28-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जैसे बाप को सभी पर तरस आता, ऩफरत नहीं आती, ऐसे तुम बच्चे भी किसी से नफरत मत करो, रहमदिल बनो।”
प्रश्नः- रहमदिल बाप का सारे विश्व के प्रति एक ही प्लैन है, वह कौन सा?
उत्तर:- सभी मनुष्य आत्माओं को तत्वों सहित पतित से पावन बनाना, मुक्ति और जीवन्मुक्ति का वर्सा देना। यह एक ही प्लैन बाप का है। तुम बच्चे बाप के मददगार हो। तुम्हें पहले अपने पर रहम करना है। श्रीमत पर चल अपने को पावन बनाना है। फिर सभी को विकारों रूपी गन्दगी से निकालने की सेवा करनी है।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे… 

ओम् शान्ति। कौन आया? बाप आया। किसके पास? बच्चों के पास। बच्चे किसके पास आये हैं? बाप कहते हैं मेरे पास। अब तुम सम्मुख बैठे हो। जानते हो बाप बहुत रहमदिल है। बाप जानते हैं कि इन हमारे बच्चों को माया ने बहुत दु:खी पतित किया है। यह बच्चे नहीं जानते। बाप जानते हैं तो बाप को तरस पड़ता है ना। ऩफरत नहीं आयेगी। बाप कहते हैं मैंने तुमको सुख के सम्बन्ध में भेजा था। पांच हजार वर्ष की बात है। फिर ड्रामा अनुसार माया ने तुमको दु:खी किया। पहले तुम सतोप्रधान थे, फिर रजो, तमो में आये हो। यह मैं जानता हूँ। तुम मेरे बच्चे हो। मुझे ही आना होता है तुम बच्चों को पावन बनाने, राज्य-भाग्य देने। बच्चे भी समझते हैं बरोबर बाप आया है। प्रेम का सागर, शान्ति का सागर है। हमको सुख-शान्ति की दुनिया में ले जाते हैं। बाप जानते हैं यह माया ही सबका बड़े ते बड़ा दुश्मन है इसलिए मैं आया हूँ। परन्तु हूँ मैं विचित्र इसलिए मुझे पहचानते नहीं। आगे समझते थे कि कृष्ण ने आकर राजयोग सिखाया, स्वर्ग का मालिक बनाया था। परन्तु कब और कैसे बनाया – यह नहीं जानते। अभी बाप को बहुत रहम आता है क्योंकि जानते हैं बच्चे माया अर्थात् 5 भूतों के वश हो पड़े हैं। परवश हैं, उनको अब लिबरेट करता हूँ। बाप कहते हैं बच्चे अब मेरे कारण वा इस भारत अथवा सारे युनिवर्स के कारण तुम मेरी मत पर चलो। मुझे याद करो और रहम दिल भी बनो। सबको बाप का परिचय दो। जज लोग भी गॉड का कसम उठवाते हैं। परन्तु क्यों? यह कोई नहीं जानते। गॉड है कौन? सिर्फ गॉड कह देते हैं। फादर शब्द भी है। जब कसम उठवाते हैं तो उनको समझ में ही नहीं आता है। कह देते हैं गॉड फादर का कसम उठाओ। परन्तु फादर को तो जानते ही नहीं। अब तुम बच्चे जानते हो वह गॉड फादर है। कसम उठाते हैं क्योंकि समझते हैं अगर हम कुछ उल्टा कर्म करेंगे तो बाप सज़ा देंगे। जैसे घर में बच्चे उल्टा काम करते हैं तो उनको डर रहता है बाप थप्पड़ न मारे। वह कसम गॉड का उठाते हैं। परन्तु जानते नहीं कि गॉड कौन है? कैसे सज़ा देंगे? क्रिश्चियन लोग बाइबिल उठायेंगे। कोई गीता उठायेंगे। समझते हैं गीता का भगवान कृष्ण था। तो कृष्ण को सामने रख क्षमा मांगते हैं। समझते हैं अगर हम झूठ बोलेंगे तो वह दण्ड देंगे। अब ट्रूथ तो बाप को कहेंगे। क्राइस्ट को सारी दुनिया ट्रूथ नहीं कहती। सदा ट्रूथ तो है गॉड फादर परन्तु उसको जानते नहीं। जब बाप आये बच्चों को जन्म दे, तब बच्चे बाप को जानें। अभी तुम बच्चे जानते हो बाबा ने अपना बनाया है। इस माता द्वारा रचा है। उनको आदि देव भी कहा जाता है। वास्तव में आदि देवी भी है। अगर मम्मा को आदि देवी कहें तो उनसे बड़ी आदि देवी यह हो जाती है। यह बड़ी गुह्य बातें हैं। जो विशालबुद्धि हैं वही इन बातों को समझ सकते हैं। कहते भी हैं बाप पतित को पावन बनाने वाला है। अच्छा, पावन दुनिया कौन सी है? क्या मुक्ति को पावन दुनिया कहें वा जीवन्मुक्ति को पावन दुनिया कहें? यह कोई जानते नहीं हैं। गाते तो बहुत हैं। उन्हों की बुद्धि में सिर्फ यह है कि परमात्मा आता है। परन्तु उनका रूप आदि नहीं जानते। फिर कहते हैं सर्वव्यापी है।

बाप बहुत रहमदिल है, प्यार का सागर है। तो बच्चों को भी रहम करना चाहिए। प्यार करना चाहिए। बाप बहुत रहम करते हैं, उनको कहा जाता है मर्सीफुल। बाप कहते हैं तत्वों सहित सारी सृष्टि पर मैं मर्सीफुल हूँ। नॉलेजफुल हूँ। प्यार में भी फुल हूँ। बहुत प्यारा बनाता हूँ। जैसे श्रीकृष्ण कितना प्यारा है! उनके घराने में सब प्यारे हैं। वास्तव में डिनायस्टी हमेशा राजा की कही जाती है। किंग एडवर्ड की राजाई कहेंगे। प्रिन्स आफ वेल्स की नहीं कहेंगे। प्रिन्स फिर किंग हो जाता है। तो यह भी ऐसे है। क्रिश्चियन का कनेक्शन कृष्ण की राजधानी से बहुत है। वह क्रिश्चियन लोग कृष्ण की राजधानी से बहुत कमाते हैं। पहले कृष्ण की राजधानी को अपने हाथ में ले लेते हैं। फिर देते हैं। कृष्ण की कहें अथवा लक्ष्मी-नारायण की राजधानी थी ना। अब वे क्रिश्चियन कृष्ण को विश्व की राजधानी दे देंगे। कितना वण्डरफुल राज़ है! अब वो ही कृष्ण की राजधानी को मदद भी दे रहे हैं। आखरीन सारी राजधानी कृष्ण को देकर जाते हैं इसलिए कृष्ण के मुख में मक्खन दिया है। ऐसे नहीं, मक्खन का कोई गोला है। दो बन्दर आपस में लड़ते हैं तो माखन कृष्ण को मिल जाता है। भाई नहीं लड़ते हैं, बन्दर लड़ते हैं। पांच विकार भी बन्दर में मशहूर हैं। अभी तुम कृष्ण की डिनायस्टी बना रहे हो। विश्व के मालिकपने का माखन तुमको मिलना है। लेन-देन का अथवा कर्मों का हिसाब-किताब कैसा है! क्रिश्चियन के भी कर्म देखो, राजधानी लेकर फिर वापस देना है। आपस में कितना लड़ते हैं! राजाई का मक्खन फिर भी तुमको मिलना है। तुम प्रिन्स-प्रिन्सेज बन जाते हो। तुम बच्चों को भी बड़ा रहमदिल प्यार का सागर बनना है। ऩफरत नहीं लानी है। दुनिया में तो एक दो के लिए ऩफरत रखते हैं। यथा राजा-रानी तथा प्रजा नम्बरवार ऩफरत रखते हैं। आपस में लड़ेंगे-मरेंगे।

बाप बहुत अच्छी रीति समझाते हैं, इसमें घृणा की कोई बात नहीं। यह तो ड्रामा बना हुआ है। हर एक मनुष्य अपने को नीच पापी कहते हैं। मन्दिरों में जाकर अपने ऊपर ऩफरत करते हैं। महात्मा को पवित्र समझ उनके चरणों में गिरते हैं। आप पावन हो हम पतित हैं। इन सब बातों को तो बाप ही जानते हैं।

मनुष्य गॉड फादर के नाम पर कसम उठवाते हैं लेकिन वह भी झूठा कसम हो जाता क्योंकि गॉड फादर को जानते नहीं। अगर गॉड फादर कह कसम उठायें तो बुद्धि में आये कि उनसे तो हमको वर्सा मिलना चाहिए। स्वर्ग क्या होता है, यह किसी को पता नहीं है। अरे तुम तो कहते हो फलाना मरा, स्वर्गवासी हुआ। तो कहाँ गया। कुछ भी समझते नहीं। बाप को कोई के लिए भी ऩफरत नहीं है। सबके लिए प्यार है।

अभी तुम बच्चे सम्मुख हो। बच्चों को ख़ास, बाकी जनरल समझाते हैं। तुम बच्चों को पढ़ाकर जीवन्मुक्ति देता हूँ और सबको मुक्तिधाम में ले जाते हैं। मेरा सब पर प्यार है। उस गवर्मेन्ट के तो अनेक प्लैन्स बनते रहते हैं। बाबा कहते हैं मेरा एक ही प्लैन है। पतित मनुष्य को पावन देवी-देवता बनाना। मनुष्य कहते भी हैं पतित-पावन आओ। फिर उनको न जानने के कारण कह देते हम ही पतित-पावन हैं। तो बाप समझाते हैं पहले तो बड़े ते बड़े चीफ जस्टिस की सर्विस करो। उन्हें समझाना चाहिए आत्मा का बाप तो एक है, उनका कसम तुम क्यों उठवाते हो? क्या कसम उठाने समय कृष्ण याद आता है? क्रिश्चियन से पूछो कि क्राइस्ट याद आता है या गॉड फादर? जानते हो कि पाप करेंगे तो दण्ड भोगना पड़ेगा। परन्तु बाप दण्ड कभी नहीं देता। वह करनकरावनहार है। धर्मराज द्वारा सजा दिलाते हैं। गॉड तो मोस्ट बिलवेड बाप है। वह झूठे कलंक लगाते हैं कि बाप ही सुख-दु:ख देते हैं। तो क्या बेरहम हैं? गाते भी हैं मर्सीफुल। बाप कहते हैं मैं कैसे बेरहमी करुँगा। माया ने तुम्हारे पर बेरहमी की है। मैं तो उनसे छुड़ाता हूँ। माया ने तुमको श्रापित किया है। यह भी खेल है। सुखधाम को दु:खधाम होना ही है। भारत ही सुख-धाम था, अब दु:खधाम है। बाबा फिर सुखधाम का मालिक बनाते हैं। परन्तु ऐसे थोड़ेही दु:खधाम का मालिक खुद ही बनायेंगे। बच्चे कहते हैं बाबा प्यार का सागर है। बाबा आपकी श्रीमत पर चल हम अपने को पावन बनायेंगे। अपने पर रहम करेंगे। जितना टीचर से पढ़ेंगे उतना अपने ऊपर रहम करेंगे। नहीं तो नापास हो पड़ेंगे। अब तुम्हारी बुद्धि में अच्छी रीति नॉलेज है। तुम जानते हो नॉलेजफुल, मर्सीफुल, पतित से पावन बनाने वाला एक ही बाप है। तो उनकी मत पर चलना पड़े। अपनी मत माना रावण की मत। श्रीमत पर न चल अपनी मत पर वा किसी मनुष्य की मत पर चलते हैं तो धोखा खा लेते हैं। श्रीमत पर कदम-कदम चलें तो बेड़ा पार है। चढ़ाई बहुत ऊंची है। माया के तूफान किस्म-किस्म से आते हैं। परन्तु बाप को कोई पर ऩफरत नहीं है। बच्चों को भी ऐसा बनना चाहिए। अजामिल जैसे पापी तो सभी हैं। एक गीत में भी है ना कि मैं एक छोटा सा बच्चा हूँ। जैसे कहते हैं ना कि मैं एक मास का बच्चा हूँ। पुराने बच्चे तो आपके बहुत हैं जिनको आप पावन बना रहे हो। तो मुझ छोटे बच्चे को भी पावन बनाओ। तो कहते हैं कि श्रीमत पर चलो तो पुराने से भी अच्छी रीति आगे जा सकते हो। लिफ्ट भी तो मिलती है। देरी से आने से तुमको शक्तियों से योगदान मिलता है। शक्तियाँ भी नम्बरवार हैं। ऐसे नहीं कहा जाता है कि तुम शक्तियों से बुद्धियोग लगाओ। नहीं, शक्तियों से तुम शंखध्वनि सुनो। बुद्धियोग बाबा से लगाना है। बाबा को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। ढिंढोरा पिटवाना है। यहाँ कोई अन्धश्रद्धा की बात नहीं। कॉलेज में कोई अन्धश्रद्धा नहीं हो सकती। यह है गॉड फादरली युनिवर्सिटी। नॉलेजफुल गॉड फादर बैठ बच्चों को पढ़ाते हैं। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट है कि हम मनुष्य से देवता बनेंगे। वह मनुष्य से बैरिस्टर बनते हैं तो बुद्धियोग बैरिस्टर के साथ रहता है। डॉक्टर के साथ नहीं रहता। यह भी कॉलेज है, न कि अन्धश्रद्धा। एम ऑब्जेक्ट है। गॉड फादर हमको पढ़ाते रहते हैं। गीता में भी भगवानुवाच है परन्तु भगवान कौन है? – यह गीता वाले भी नहीं जानते। यह ब्रह्मा भी कहते हैं – हम भी गीता पढ़ते थे। अभी के मनुष्य शास्त्रों को मानते नहीं। गीता को उठाने से उनकी बुद्धि चली जाती है कृष्ण की तरफ। उनको सब धर्म वाले नहीं मानेंगे। गीता है सर्वशास्त्रमई शिरोमणी शिवबाबा की गाई हुई। गॉड फादर कहते हैं वह है स्वर्ग का रचयिता। तो बाप से तुमको स्वर्ग का वर्सा मिलना चाहिए या फादर के घर जाना है! भगवान पास जाना चाहते हैं। सब मुक्ति ही चाहते हैं। वह लोग जीवन्मुक्ति से क्या जानें। बाप कहते हैं मैं तो पढ़ाता हूँ। मैं फिर सर्वव्यापी कैसे होऊंगा। सर्वव्यापी कहने से मुख ही मीठा नहीं होता। तो बच्चे, यह बातें अच्छी रीति धारण करो और बहुत मीठे बनो। कोई से ऩफरत नहीं करनी चाहिए। सर्जन लोग होते हैं, किसको कैसी भी गन्दी बीमारी होती है तो भी उनको तरस पड़ता है और शफा देते हैं। समझते भी हैं कुछ खराब काम किया है, उसका यह कर्मभोग है। बाप कहते हैं माया की प्रवेशता होने से मनुष्यों से विकर्म ही होते हैं और पतित बन जाते हैं। पांच विकारों को खराब समझते हैं तब तो सन्यासी भी भागते हैं। पवित्रता का मान बहुत है। यह तो समझते हो हम पहले देवताओं को नमन करते हैं, पीछे सन्यासियों को किया है क्योंकि वे भी पावन बनते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अच्छी रीति पढ़कर, श्रीमत पर चल पावन बन अपने आप पर रहम करना है। कभी भी बेरहमी नहीं बनना है।

2) किसी से भी ऩफरत या घृणा नहीं करनी है। बाप समान प्यार का सागर बनना है।

वरदान:- प्रवृत्ति में रहते भी समर्पित हो सेवा की धुन में रहने वाले बापदादा के दिलतख्तनशीन भव
जो बच्चे प्रवृत्ति में रहते भी समर्पित हैं उनके सहयोग से सेवा का वृक्ष फलीभूत हो जाता है। उनका सहयोग ही वृक्ष का पानी बन जाता है। जैसे वृक्ष को पानी मिलने से अच्छा फल निकलता है ऐसे श्रेष्ठ सहयोगी आत्माओं के सहयोग से वृक्ष फलीभूत होता है। ऐसे सेवा की धुन में सदा रहने वाले, प्रवृत्ति में रहते समर्पित हो चलने वाले बच्चे बापदादा के दिलतख्त नशीन बनते हैं।
स्लोगन:- कम से कम समय में संकल्पों को मोड़ने और ब्रेक लगाने की युक्ति सीख लो तो बुद्धि की शक्ति व्यर्थ नहीं जा सकती।

TODAY MURLI 28 June 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 June 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 27 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

28/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you will go from the Brahmin clan into the elevated clan of Vishnu, so you must become true Vaishnavs. Do not eat anything impure such as onions etc.
Question: Which examination should you children not be afraid or confused about?
Answer: If, while moving along, something happens to that old shoe (body), if there is any difficulty or you become ill, you must not be afraid or confused but, you should be even happier, because you understand that it is the suffering of karma, that your old karmic accounts are being settled. If we are not able to settle them with the power of yoga, then they are settled through the suffering of karma. It is good if they are settled quickly.
Song: Our pilgrimage is unique.

 

Om shanti. Incorporeal God Shiva speaks. He only has one name. “God Shiva speaks”. You have to say this in order to explain and in order to instil firm faith in them. The Father has to say: I am as I am. My name never changes. The deities of the golden age take rebirth. The Father explains to you children through this body. You are on a spiritual pilgrimage. The Father is incognito and Dada is also incognito. No one understands that the Supreme Father, the Supreme Soul, enters the body of Brahma. The children are also incognito. You all say: We are the children of Shiv Baba and we must claim our inheritance from Him. We must follow His shrimat. You have the faith that He is our Supreme Father, Teacher and Satguru. These are such sweet things! We are students of incorporeal Shiv Baba; He teaches us Raja Yoga. God speaks: O children, I teach you Raja Yoga. A mayor would not say: O children. Even a sannyasi would not say that. It is only the Father’s duty to say “children”. You children also understand that you are the children of the incorporeal Father and that you are personally sitting in front of Him. You are Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. People become confused if you do not use the name Prajapita. They think that Brahma is a deity, a resident of the subtle region and they wonder how he can be here. They say: Salutations to the deity Brahma, salutations to the deity Shankar, but then they also call them gurus: Guru Brahma, Guru Vishnu, but Vishnu and Shankar are not gurus. They think that he spoke the story to Parvati and is therefore a guru. Vishnu is not a guru either. In the golden age, Lakshmi and Narayan do not become gurus. People have also made Krishna the great guru, the God of the Gita. However, God is only one. You children have to prove this matter. You are the incognito army. You conquer Ravan, that is, you become conquerors of Maya, and so conquerors of the world. Wealth is not called Maya; wealth is called prosperity. So, the Father explains: Children, death is just ahead. These are the same words that were spoken 5000 years ago. Instead of the words, ‘Incorporeal God speaks’, they have inserted the name of corporeal Krishna. The Father says: The knowledge you receive at this time is for your future reward. Once you receive the reward, there is no need for knowledge. This knowledge is for changing from impure to pure. There is no need for anyone to adopt a guru in the pure world. In fact, only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is the Guru. People call out: O Purifier come! Therefore, you should also explain that He alone is the Supreme Guru. Rama is remembered as the one who grants salvation to all. So, He would surely come when everyone has become degraded. There, it is the ocean of milk, the ocean of happiness; the river of poison does not exist there. If Vishnu lives in the ocean of milk, then surely, his children would live there with him. You now belong to the Brahmin clan, you will belong to the Vishnu clan in the future. They are complete Vaishnavs. People do not offer impure things like onions etc. to the deities. You are to become such deities once again, and so you must renounce all of that. This is the confluence age. It has been explained that you Brahmins are at the confluence and that the rest are in the iron age. Until you become Brahmins, you will not understand this. The Father says: I come at the confluence of the cycles. They do not understand that this is the confluence, that the world is being transformed. People even speak about this, but they do not understand how it changes. They simply speak through the lips. You understand very well that only by following shrimat will you become elevated. You must remember the Father. Together with the body, forget all bodily relations. Baba sent us here without bodies. We have to return in the same way. You came here to play your part s. This is incognito effort: Remember the Father and the inheritance. You repeatedly forget this. By forgetting Baba, you are slapped by Maya. There is the play about Aladdin’s lamp. Allah (God) established the first religion and established Paradise. He clapped and received heaven. Who is establishing this religion? God established the first number religion. There is also the play of Hatamtai; Maya comes to you when you do not put a bead in your mouth. This is also your state. You forget the Father and continue to remember everyone else. You children now understand that you are returning to the land of peace and that you will then go to the land of happiness. Make effort to forget the land of sorrow. All of this is to be destroyed. It should not remain in the intellect that you are a millionaire or that you are this. You came naked, bodiless. That is an old body. That old shoe has caused you a lot of sorrow. The greater the illness, the greater should be your happiness. You should be dancing. It is the suffering of karma; the karmic accounts have to be settled. Do not be afraid of this. You should understand that, since we are not able to have our sins absolved through the power of yoga, we have to settle them through the suffering of karma. There is nothing to be confused about. This body is old, it is good if it finishes quickly. Your bhatthi of seven days is also very well known. Understand everything clearly for seven days and enable your intellect to imbibe it and you can then go anywhere. You will continue to receive murlis; that is enough. Remember the Father and continue to spin the cycle. Become swadarshanchakradhari within seven days. People have readings of the scriptures for seven days; seven days are well known. They have also given seven days for the Granth. A bhatthi is also for seven days. It should not be that you ask anyone who comes, to come for seven days; you should also feel the pulse of the person. Some become afraid when they hear about a course of seven days. They think: What will happen if we are not able to keep it up? And so they go away. Therefore, look at the person. Feel the pulse of everyone. First, find out for how many days they will come. If you tell them about the seven days straight away, they get frightened. Some are not able to give seven days. Some surgeons and herbalists simply feel your pulse and then diagnose what illness you have. This is your imperishable Surgeon of knowledge. You children are master surgeons. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. You say that a person can claim liberation-in-life in a second. Some people even ask: Since liberation-in-life can be claimed in a second, why do you ask for seven days? Just tell something of a second. They get frightened and say that they will not be able to stay. This is why you should first feel their pulse. The same things do not apply to everyone. Many children cause disservice. Feel the pulse when they are filling in the form and ask them: For how long will you be able to come? You must ask this. Achcha. Is there one God for everyone? What relationship do you have with the Supreme Father? First you have to explain about this. He is the Father and we are His children. The Father gives the inheritance. He is the Creator of heaven, so you should receive the inheritance of heaven. It is now hell. Bharat was heaven, the master of the world. It was then the kingdom of the deities, but Maya snatched the kingdom away. Now, once again, you must conquer Maya and reclaim the kingdom. The destruction of the old impure, iron-aged world is just ahead of you, so the pure world surely has to be established. A little signal should be given and then, as they progress further, they will understand these things. If not today, they will come tomorrow. Where else would they go? There is only the one shop to receive salvation. There is only one shop of Shiv Baba, the Supreme Father, the Supreme Soul. Liberation-in-life is received in a second. See how the shop is! You are the salesm a n of such a shop. If a salesman is good, he also claims a good status. Sense is needed in order to be able to sell. What service can anyone who does not have sense do? Firstly, instil faith in them, and then speak about seven days. Oh! The Father has come to give the inheritance! Bharat was the land of happiness, but it has now become the land of sorrow. Then, how does it become the land of happiness? Who creates it? You first have to show the path. We souls are residents of the land of peace, and later we come to play our part s. Now, the Father says: Children, you have to return home. By remembering the Father, your sins are absolved. Your wings for flying have been broken, they are being mended and you will return to Me. The Father is the One who comes and changes us from shells into diamonds. This is a very great income. By remembering the Father, you will become free from disease for 21 births. By remembering the cycle, you will become ever healthy and wealthy. You are neither of those now. You are numberwise; Maya eats up weak ones very quickly. Then, as you go further, you will remember. The rulers come at the end and the sannyasis etc. also come. You daughters and mothers have shot the arrows. Accurate temples have been created here. There is a temple to the kumaris. They do not understand the meaning of ‘half-kumari’. Those who remain in a household and become Brahma Kumaris are called half-kumaris. A kumari is a kumari! A complete temple has been built as your memorial. A cycle ago too, you did service in this way. You should be so happy that your examination is so great! God is the one who is teaching you. (A party from Delhi took leave from Baba.) All the children are returning well refreshed. However, it is numberwise. Those who understand well will explain to others very well. The children understand that Baba is incognito and that Dada is also incognito. You too are incognito. No one else understands this. Brahmins (priests) too do not understand. You can explain: You are born through vice, whereas we are mouth-born progeny. You are impure and we are becoming pure. We are the children of the Father of People, so we surely belong to the new world. Do the deities of the golden age belong to the new world or do those brahmins belong to the new world? Brahmins are the topknot. Is the topknot (Brahmin clan) higher or is the head (deity clan) higher? They have made Shiv Baba disappear from that image. You children understand that the Father is the Master of the garden of flowers. Ravan is not called the Master of the garden. Ravan creates thorns, whereas Baba creates flowers. This is the jungle of thorns. They keep causing sorrow for one another. The Father explains: Do not cause sorrow for anyone. If you speak in anger, there is one hundred-fold punishment; you become sinful souls. Severe punishment will be received. If, after giving a guarantee that you will become a helper of the Father, you do disservice, there will be very severe punishment. If you perform any sinful act after becoming a child of Baba’s, you receive one hundred-fold punishment. Therefore, if you have courage, follow shrimat. Become Narayan from an ordinary man. Don’t have the consciousness: It’s OK if we become subjects. No, this is a huge rosary. There is a large margin. You should not become disheartened. You might fall, but be cautious next time. Don’t allow yourself to become disheartened. This is the one and only shop where you can claim liberation-in-life from Shiv Baba in a second. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim a high status, be a good salesman in Shiv Baba’s shop. Feel the pulse of each one before giving knowledge.
  2. Do not speak harmful words under the influence of anger. Having given a guarantee that you will become a helper of the Father, do not perform any act that might cause disservice.
Blessing: May you accurately follow shrimat at every second and be honest and faithful at every step.
Only those who move along according to the signals of shrimat in every action are said to be honest, that is, trustworthy and faithful souls. Honest souls, every second, every step move along accurately according to BapDada’s shrimat with which their divine intellects are filled from the moment they take their Brahmin birth. Some things work automatically with just a signal with the power of science, you don’t have to make it work – whether it is with light or through vibrations, as soon as you switch it on it continues to work. Similarly, honest souls always continue to move naturally with the power of silence.
Slogan: Where there is worry, there cannot be rest or comfort.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 26 June 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 28 June 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 June 2017

 

July 2017 all murlis :- Click Here

To Read Murli 27 June 2017 :- Click Here

 

[wp_ad_camp_5]

 

28/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम ब्राह्मण कुल श्रेष्ठ, विष्णुकुल का बनने वाले हो, इसलिए तुम्हें पक्का वैष्णव बनना है, कोई भी बेकायदे चीज़ें प्याज़ आदि भी नहीं खाना है”
प्रश्नः- तुम बच्चों को किस परीक्षा से डरना व मूँझना नहीं है?
उत्तर:- अगर चलते-चलते इस पुरानी जुत्ती (शरीर) को कोई तकलीफ होती है, बीमारी आदि आती है तो इससे डरना व मूंझना नहीं है और ही खुश होना है, क्योंकि तुम जानते हो – यह कर्म भोग है। पुराना हिसाब-किताब चुक्तू हो रहा है। हम योगबल से हिसाब-किताब नहीं चुक्तू कर सके तो कर्म भोग से चुक्तू हो रहा है। यह जल्दी खत्म हो तो अच्छा है।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं….

ओम् शान्ति। निराकार भगवानुवाच। उनका तो एक ही नाम है – शिव भगवानुवाच, यह कहना पड़ता है समझाने के लिए, पक्का निश्चय कराने के लिए। बाप को कहना पड़ता है मैं जो हूँ, मेरा नाम कभी नहीं बदलता। सतयुग के जो देवी-देवतायें हैं, वह तो पुनर्जन्म में आते ही हैं। बाप इस तन से बच्चों को समझा रहे हैं। तुम रूहानी यात्रा पर हो, बाप भी गुप्त है, दादा भी गुप्त है। कोई भी नहीं जानते ब्रह्मा तन में परमपिता आते हैं। बच्चे भी गुप्त हैं। सब कहते हैं हम शिवबाबा की सन्तान हैं, तो उनसे वर्सा लेना है। उनकी श्रीमत पर चलना है। यह तो निश्चय है ही कि वह हमारा सुप्रीम बाप, टीचर, सतगुरू है। कितनी मीठी-मीठी बातें हैं। हम निराकार शिवबाबा के स्टूडेन्ट हैं, वह हमको राजयोग सिखलाते हैं। भगवानुवाच हे बच्चे, मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। मेयर तो ऐसे नहीं कहेंगे, हे बच्चे। सन्यासी भी ऐसे कह न सकें। बच्चे कहना तो बाप का ही फ़र्ज है। बच्चे भी जानते हैं हम निराकार बाप के बच्चे हैं, उनके सम्मुख बैठे हैं। प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। प्रजापिता अक्षर न डालने से मनुष्य मूँझते हैं। समझते हैं ब्रह्मा तो सूक्ष्मवतनवासी देवता है। वह फिर यहाँ कहाँ से आया? कहते हैं ब्रह्मा देवताए नम:, शंकर देवताए नम:, फिर गुरू भी कहते गुरू ब्रह्मा, गुरू विष्णु। अब विष्णु वा शंकर तो गुरू हैं नहीं। समझते हैं शंकर, पार्वती को कथा सुनाते हैं तो गुरू ठहरा। गुरू विष्णु भी नहीं है। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण गुरू बनते नहीं हैं। कृष्ण को भी बड़ा गुरू गीता का भगवान बना दिया है। लेकिन भगवान एक है, यह बात तुम बच्चों को सिद्ध करना है।

तुम गुप्त सेना हो। रावण पर जीत पाते हो अर्थात् माया जीते जगतजीत बनते हो। माया धन को नहीं कहा जाता। धन को सम्पत्ति कहा जाता है। तो बाप बच्चों को समझाते हैं बच्चे, अब मौत सामने खड़ा है। यह वही 5 हजार वर्ष पहले वाले अक्षर हैं। सिर्फ निराकार भगवानुवाच के बदले साकार कृष्ण का नाम लिख दिया है। बाप कहते हैं – यह नॉलेज जो तुमको अभी मिलती है, यह है भविष्य प्रालब्ध के लिए। प्रालब्ध मिल गई फिर नॉलेज की दरकार नहीं। यह नॉलेज है ही पतित से पावन बनने की। पावन दुनिया में फिर किसी को गुरू करने की दरकार नहीं। वास्तव में गुरू तो एक ही परमपिता परमात्मा है। पुकारते भी हैं हे पतित-पावन आओ, तो समझाना चाहिए ना। वही सुप्रीम गुरू है। सर्व का सद्गति दाता राम गाया जाता है। तो वह जरूर तब आयेंगे जब सभी दुर्गति में हैं। वहाँ तो है क्षीर सागर, सुख का सागर। विषय वैतरणी नदी वहाँ होती नहीं। विष्णु क्षीरसागर में रहेंगे तो जरूर उनके बच्चे भी साथ रहेंगे। अभी तुम ब्राह्मण कुल के हो फिर विष्णु कुल के बनेंगे। वह कम्पलीट वैष्णव हैं ना। देवताओं के आगे कभी बेकायदे चीज़ प्याज़ आदि नहीं रखेंगे। फिर से ऐसा देवता बनना है तो यह सब छोड़ना पड़ेगा। यह है संगमयुग। समझाया गया है तुम ब्राह्मण ही संगम पर हो, बाकी सब कलियुग में हैं। जब तक ब्राह्मण न बनें तब तक समझ नहीं सकेंगे। बाप कहते हैं मैं कल्प के संगम पर आता हूँ। वह समझते ही नहीं – यह कोई संगम है। दुनिया बदलती है ना। गाते भी हैं परन्तु कैसे बदलती है, यह कोई भी नहीं जानते। ऐसे ही सिर्फ मुख से कह देते हैं। तुम अच्छी रीति समझते हो श्रीमत पर चलने से ही श्रेष्ठ बनेंगे। बाप को याद करना है। देह सहित देह के सभी सम्बन्धों को भूल जाना है। बाबा ने बिगर शरीर भेजा था, फिर वैसे ही जाना है। यहाँ आये हैं पार्ट बजाने। यह है गुप्त मेहनत, बाप और वर्से को याद करना है। तुम घड़ी-घड़ी यह भूल जाते हो। बाबा को भूलने से माया की चमाट लग जाती है। यह भी खेल है, अल्लाह अवलदीन का… दिखाते हैं ना। अल्लाह ने अवल धर्म स्थापन किया। ठका किया और बहिस्त मिला। यह धर्म कौन स्थापन कर रहे हैं? अल्लाह ने पहला नम्बर धर्म स्थापन किया। हातमताई का भी खेल दिखाते हैं। मुख में मुहलरा न डालने से माया आ जाती है। तुम्हारा भी यह हाल है। बाप को भूलकर और सभी को याद करते रहते हो।

अब तुम बच्चे जानते हो हम शान्तिधाम जा रहे हैं, फिर सुखधाम में आयेंगे। दु:खधाम को भूल जाने का पुरूषार्थ करो। यह तो सब खत्म हो जाने का है। हम लखपति हैं, ऐसे हैं… यह बुद्धि में नहीं रखना है। हम तो हैं ही नंगे (अशरीरी) यह तो पुरानी चीज़ है। इस पुरानी जुत्ती ने बड़ा दु:ख दिया है। जितना बीमारी जास्ती हो खुशी होनी चाहिए। नाचना चाहिए। कर्मभोग है, हिसाब-किताब तो चुक्तु करना ही है, इससे डरना नहीं है। समझना चाहिए हम योगबल से विकर्म विनाश नहीं कर सकते हैं तो कर्म भोगना से चुक्तू करना पड़े, इसमें मूँझने की बात ही नहीं है। यह तो शरीर पुराना है। यह जल्दी खत्म हो तो अच्छा है। और फिर तुम्हारी 7 रोज़ की भट्ठी भी मशहूर है। 7 रोज़ अच्छी रीति समझकर बुद्धि में धारण कर फिर भल कहाँ भी चले जाओ। मुरली तो मिलती रहेगी, वही बस है। बाप को याद करते चक्कर फिराते रहो। 7 रोज़ में स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। 7 रोज़ का पाठ भी रखते हैं। 7 रोज़ मशहूर हैं। ग्रंथ भी 7 रोज़ रखते हैं। भट्ठी भी 7 दिन की है। ऐसे नहीं जो आवे उनको 7 दिन के लिए कहना है। मनुष्य की रग भी देखनी होती है। पहले ही 7 रोज़ का कोर्स कहने से कोई तो डर जाते हैं। समझते हैं हम रह नहीं सकते तो क्या करेंगे, चले जाते हैं इसलिए मनुष्य को देखना पड़ता है। हर एक की नब्ज देखनी चाहिए। पहले तो जांच करनी चाहिए। कितने दिन के लिए आये हैं। फट से 7 दिन कहने से डर जाते हैं। 7 दिन कोई दे नहीं सकते। सर्जन (वैद्य) कोई ऐसे होते हैं जो नब्ज देखकर झट बताते हैं कि यह – यह तुमको बीमारी है। यह भी तो तुम्हारा अविनाशी ज्ञान सर्जन है। तुम बच्चे भी मास्टर सर्जन हो। यह है रूद्र ज्ञान यज्ञ। तुम कहते हो एक सेकेण्ड में मनुष्य को जीवनमुक्ति मिल सकती है, तो कोई भी कहते हैं जब एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिल सकती है, तो 7 रोज़ क्यों कहते हो? सेकेण्ड की बात बताओ। डर जाते हैं। हम तो नहीं रह सकते, इसीलिए पहले नब्ज देखनी चाहिए। सबके लिए एक ही बात नहीं हो सकती। बहुत बच्चे डिस-सर्विस कर देते हैं। फार्म भराने समय नब्ज देखकर पूछना होता है। कितना दिन ठहर सकेंगे, वह भी पूछना होता है। अच्छा यह तो बताओ सबका भगवान एक है ना। परमपिता से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है। पहले तो इस बात पर समझाना होता है कि वह बाप है, हम बच्चे हैं। बाप तो वर्सा देते हैं। स्वर्ग का वर्सा मिलना चाहिए। स्वर्ग का रचयिता है। अभी तो नर्क है। भारत स्वर्ग था, विश्व के मालिक थे। देवी-देवताओं का राज्य था। तो माया ने राज्य छीन लिया है। अब फिर माया पर जीत पाकर राज्य लेना है। पुरानी पतित कलियुगी दुनिया का विनाश सामने खड़ा है तो जरूर पावन दुनिया स्थापन करनी होगी। थोड़ा इशारा देना चाहिए। फिर आगे चलकर उन बातों को समझते जायेंगे। आज नहीं तो कल आ आयेंगे। जायेंगे कहाँ? एक ही हट्टी है, सद्गति मिलने की। परमपिता परमात्मा शिवबाबा की एक ही हट्टी है। एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिलनी है। हट्टी देखो कैसी है, जिसके तुम सेल्समैन हो। जो अच्छा सेल्समैन होगा तो पद भी अच्छा पायेगा। सेल करने का भी अक्ल चाहिए। अगर अक्ल नहीं होगा तो वह क्या सर्विस करेगा। पहले तो निश्चय बिठाओ। फिर 7 रोज की बात। अरे बाप तो वर्सा देने आये हैं। भारत सुखधाम था, अभी भारत दु:खधाम है। फिर सुखधाम कैसे बनता है, कौन बनाते हैं? पहले रास्ता बताना है – हम आत्मायें शान्तिधाम की रहवासी हैं फिर आते हैं पार्ट बजाने।

अभी बाप कहते हैं बच्चे वापिस घर आना है। बाप को याद रखने से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। तुम्हारे उड़ने के पंख जो टूट गये हैं वह मिलते रहेंगे। तुम चले आयेंगे मेरे पास। बाप ही आकर कौड़ी से हीरे जैसा बनाते हैं। यह कमाई बड़ी जबरदस्त है। बाप को याद करने से 21 जन्म के लिए तुम निरोगी बनते हो। चक्र को याद करने से तुम एवरहेल्दी, वेल्दी बनेंगे। अभी तो दोनों नहीं हैं। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं, कच्चों को माया झट खा जायेगी। फिर भी आगे चल स्मृति आयेगी। पिछाड़ी में राजायें भी आते हैं, सन्यासी आदि भी आते हैं। तुम कन्याओं, माताओं ने ही बाण मारे हैं। यहाँ मन्दिर भी एक्यूरेट बने हुए हैं। कुवांरी कन्या का भी मन्दिर है। अधर कुमारी का अर्थ थोड़ेही समझते हैं। जो गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए बी.के. बनते हैं, उनको ही अधर कहा जाता है। कुमारी तो कुमारी ही है। तुम्हारे यादगार में पूरा मन्दिर बना हुआ है। कल्प पहले भी तुमने सर्विस की थी। तुमको कितनी खुशी होनी चाहिए। तुम्हारा कितना भारी जबरदस्त इम्तहान है। पढ़ाने वाला है भगवान।

(देहली की पार्टी बाबा से छुट्टी ले अपने स्थान पर जा रही थी) बच्चे अच्छा ही रिफ्रेश होकर जा रहे हो। नम्बरवार तो हैं ही। जो अच्छा समझते हैं वह अच्छा समझाते भी हैं। यह तो बच्चे समझते हैं बाबा भी गुप्त है, दादा भी गुप्त है। हम भी गुप्त हैं। कोई भी जानते नहीं हैं। ब्राह्मण लोग भी नहीं जानेंगे। तुम समझा सकते हो कि तुम हो कुख वंशावली, हम हैं मुख वंशावली। तुम पतित हो हम पावन बन रहे हैं। प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान हैं तो जरूर नई दुनिया के हुए ना। सतयुग के देवतायें नई दुनिया के हैं या ब्राह्मण नई दुनिया के हैं? ब्राह्मणों की चोटी है ना। चोटी (ब्राह्मण कुल) ऊपर या माथा (देवता कुल) ऊपर है? उसमें फिर शिवबाबा को भी गुम कर दिया है। तुम बच्चे जानते हो बाप है फूलों के बगीचे का बागवान। रावण को बागवान थोड़ेही कहेंगे। रावण तो कांटा बनाते हैं, बाबा फूल बनाते हैं। यह सारा कांटों का जंगल है। एक दो को दु:ख दे रहे हैं। बाप समझाते हैं, किसको भी दु:ख नहीं देना है। क्रोध से बोलने से सौ गुणा दण्ड पड़ जाता है। पाप-आत्मा बन जाते हैं। उनके लिए सजायें भी बहुत कड़ी हैं। बाप के साथ मददगार बनने की गैरन्टी कर और फिर डिस-सर्विस करते हैं तो उनके लिए बहुत कड़ी सजा है। बच्चा बन और फिर विकर्म किया तो सौ गुणा दण्ड मिल पड़ेगा इसलिए अगर हिम्मत हो तो श्रीमत पर चलो। नर से नारायण बनना है। ऐसे नहीं अच्छा, प्रजा तो प्रजा ही सही। नहीं, यह तो बहुत बड़ी माला है। मार्जिन बहुत है। इसमें हार्टफेल नहीं होना है, गिरना है फिर सम्भलना है, हार्टफेल नहीं होना है। शिवबाबा से एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति पाने की यह एक ही हट्टी है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऊंच पद पाने के लिए शिवबाबा की हट्टी (दुकान) का अच्छा सेल्समैन बनना है। हर एक की नब्ज देखकर फिर उसे ज्ञान देना है।

2) क्रोध के वश हो मुख से दु:खदाई बोल नहीं बोलने हैं। बाप का मददगार बनने की गैरन्टी कर कोई भी डिस-सर्विस का काम नहीं करना है।

वरदान:- हर सेकण्ड, हर कदम श्रीमत पर एक्यूरेट चलने वाले ईमानदार, वफादार भव
हर कर्म में, श्रीमत के इशारे प्रमाण चलने वाली आत्मा को ही ऑनेस्ट अर्थात् ईमानदार और वफादार कहा जाता है। ब्राह्मण जन्म मिलते ही दिव्य बुद्धि में बापदादा ने जो श्रीमत भर दी है, ऑनेस्ट आत्मा हर सेकण्ड हर कदम उसी प्रमाण एक्यूरेट चलती रहती है। जैसे साइन्स की शक्ति द्वारा कई चीजें इशारे से ऑटोमेटिक चलती हैं, चलाना नहीं पड़ता, चाहे लाइट द्वारा, चाहे वायब्रेशन द्वारा स्विच आन किया और चलता रहता है। ऐसे ही ऑनेस्ट आत्मा साइलेन्स की शक्ति द्वारा सदा और स्वत: चलते रहते हैं।
स्लोगन:- जहाँ चिंता है वहाँ चैन नहीं हो सकता है।

 

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 26 June 2017 :- Click Here

 

To Read Murli 25 June 2017 :- Click Here

Font Resize