today murli 28 july

TODAY MURLI 28 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 July 2018 :- Click Here

28/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only by remembering the Father accurately will your sins be absolved. The soul will become pure from impure. The number one subject is remembrance.
Question: What request do human beings make and how does the Father fulfil that request?
Answer: Peoplemake a request to the Father: O God, the Father, liberate us from committing sin! O merciful Baba, have mercy on us! Having heard everyone’s request, Baba Himself comes and shows everyone the way to become liberated from committing sin. He says: Children, remember Me. There is no benefit in simply singing the Father’s praise. You don’t need to praise His divine activity; you have to study Raja Yoga and become those whose characters are divine.
Song: The Lord of Innocence is unique. 

Om shanti. Whose praise did you hear? The One who reforms that which has been spoilt. He is the highest-on-high One who speaks the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. Whenever someone comes here to understand, the first thing to explain is: God is praised as the Highest on High. His name is the highest; His place of residence is the highest. It is mentioned in the Granth too that the name of God is the highest and that His abode is also the highest. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the One who resides in the highest place. That is the incorporeal world, where the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, resides. Then, below that are the subtle and corporeal worlds. So, first of all, give His introduction. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Truth. He is the Creator, and then comes His creation. There is the Highest on High, the Seed. Then, below Him, there are Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region. They are the creation and the Creator is above everyone. That Creator is the Father; all the rest are His creation. All are children of the one Supreme Father, the Supreme Soul. Therefore, all of us souls are brothers. The Supreme Father resides in the supreme abode (Paramdham). He is called the Supreme Soul. There are many physical fathers. First of all, give the introduction of the spiritual Father. All are His creation. You also have to draw their attention to the pictures. First there is the highest-on-high, Supreme Father, the Supreme Soul, the One known as the living Seed of the human world tree. He is the Truth, the Living Being and the Embodiment of Bliss. He is the Truth, that is, the One who speaks the truth. Souls too are true; they don’t burn or die. The children of the Truth must also be true. You were true deities to begin with. The true Baba is the One who established the land of truth. It is not that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the land of falsehood; no. Bharat was the land of truth and it then became the land of falsehood. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Truth. The one who makes everyone impure cannot be called the truth. All the rest are false. Maya, Ravan, the five vices, makes souls false. Rama is Truth and Ravan is false. It is Ravan that makes Bharat false. The whole story is based on Bharat. You have to explain that Bharat was heaven and that it has now become hell. The Father is called the Creator of heaven, the One who brings about heaven. It is Bharat that is praised. He tells you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world through which you become knowers of the three aspects of time. This is known as the cycle of self-realisation. You souls understand that you are once again claiming your inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul. It has also been remembered that souls and the Supreme Soul were separated for a long period of time. That meeting now is very beautiful and auspicious. First of all, give the Father’s introduction. Saying that the Father, the Creator, is omnipresent doesn’t prove that we are all children. The children wouldn’t say that they are all the Supreme Father, the Supreme Soul. With the idea of omnipresence, they can neither have love for the Father nor can their intellects have yoga with Him. The ancient yoga of Bharat is famous. In fact, the intellect has to be linked in yoga to the Father. If He were omnipresent, then with whom would you have yoga? Would you have yoga with yourself? There is no meaning in that. Here, you understand the meaning of everything. The Father Himself tells you: By having yoga with Me, your sins will be absolved. Sinful actions continue to take place. You will reach your complete karmateet stage at the end. The results will be given when the time of knowledge has ended. In schools , too, some may be clever in one subject and others in another subject. The subject of remembrance is easy. The Father is remembered. By remembering the Father, the soul becomes good; the vessel becomes clean. Souls that have become impure continue to become pure. The highest-on-high Father comes and teaches you souls to enable you to claim the highest-on-high status. You change from humans into deities. You understand that the eternal, original deity religion definitely did exist. They should not be called Hindus. The name ‘Hindu religion’ doesn’t seem suitable. They have changed the name of Bharat to Hindustan. When it was the pure, original, eternal deity religion, it was called Paradise, that is, heaven. That is the golden age and it is called the new world. The Father is the One who creates it; He is incorporeal. Everyone says: O God , the Father! He resides in the highest place. Brahma, Vishnu and Shankar have subtle bodies. That is called the subtle region and the other is the land of peace, the world of silence. This is the physical world. Therefore, first of all, whenever anyone comes, get them to fill in a form: Who is the Father of souls? Only God can be called the Highest on High. Sages and holy men etc. all pray. Praying can also be called making requestsO God , the Father, we request You to incinerate our sins! O merciful Baba, have mercy! They call out in this way. Not everyone has mercy. It is only the one Father who has mercy for all. They call themselves Sarvodaya (one who has mercy for all). Now, what do they do? How many do they have mercy for? That too is fixed in the drama. You can compare that with all the things that are happening now. These aspects are not mentioned in the Gita or Bhagawad. The Gita has knowledge. However, there is no need for stories of anyone’s activity, etc. Do students sing the praise of their teacher’s activities?There is no benefit in sitting and singing the teacher’s praise. You do not receive anything by simply singing the praise of the Father, that He is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Happiness. You children now understand that Baba teaches you Raja Yoga and makes you into knowers of the three aspects of time, that is, He gives you the knowledge of the three aspects of time and the three worlds. Therefore, you are called master lords of the three worlds. You are also called knowers of the three aspects of time. We definitely become the lords who know the three worlds. This is Raja Yoga. We are becoming emperors. The Father is the one who makes us that. It is said: Lord of divinity. Lakshmi and Narayan are that. Even though there are temples to Lakshmi and Narayan, people do not know who they are. Lakshmi and Narayan are called the masters of the land of divinity. The golden age is called the land of divinity. You understand that Krishna definitely had palaces of diamonds and jewels; he was the lord of divinity. Therefore, first of all, ask them: Do you accept that the Father is the Creator of all? That He is also the Creator of Brahma, Vishnu and Shankar? First of all, have the faith that that Father is the Creator of heaven and that the people there belonged to the original eternal deity religion. When did they receive this knowledge? The Father says: I come every cycle, at the confluence age, in order to give knowledge. You are definitely going to become the lords of divinity at the beginning of the golden age. This is such first-class knowledge. While sitting here, you understand that you are claiming your inheritance of heaven from Baba and that you will become lords of divinity and masters of the land of divinity. Your intellects understand how wealthy the deities, Lakshmi and Narayan, were. They had a lot of jewellery etc.; they were very wealthy. So, first of all, recognise the Father and claim your inheritance from Him. You have to claim your inheritance by having remembrance. This is a subtle aspect. There were many huge palaces of diamonds and jewels, but they no longer exist. They will be constructed again at the right time. They existed and disappeared and they will definitely exist again. This is fixed in the drama. You have to use your intellects to understand these aspects. Everything gets destroyed in the war. Then the palaces will be built anew. They must have definitely built palaces. You also have visions of how the palaces came into existence. We are the ones who built them. It is not that they went beneath the sea and that they will now emerge from there, no. This cycle of the drama continues to turn. They think that Ravan’s Lanka and the golden Dwaraka were submerged and will emerge again. However, it is not like that. You are now becoming the masters of Dwaraka. You were so prosperous! You had everything – wealth and property. All of that has now vanished; it was all taken away. The same thing will happen again. First of all, give the Father’s introduction and then explain the secrets of how the cycle turns. It is the Father who will establish the golden age. Baba now sits here personally and tells you: Remember Me. It is through this fire of remembrance that you become pure from impure. There is no other way. It is through the fire of yoga that you souls become pure from impure. The Purifier Father comes and establishes the pure world. So, why do you then say that the Ganges is the Purifier? To do tapasya, penance and bathe in the Ganges etc. are all the paraphernalia of the path of devotion. The path of devotion was unadulterated to begin with, and then it became adulterated. It took half a cycle for it to become adulterated. From 16 celestial degrees it decreased to 14 celestial degrees and the degrees continued to decrease. The Father, the Ocean of Knowledge, explains this. Brahma, Vishnu and Shankar cannot be called the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world tree. By saying “Supreme Father” your intellects are not drawn to Brahma, Vishnu or Shankar. When souls experience sorrow they remember the Father – the Supreme Father, the Supreme Soul. There is happiness in the golden age. Therefore, no one there calls out to Him. You souls now understand that you have experienced sorrow for half a cycle and that you are now going to heaven once again. There is no sorrow in the golden age, and so there is no need there to remember Baba. According to the drama, Baba will return home only after giving us our inheritance of happiness. When people grow old, they go into the stage of retirement and adopt a guru. Here, the Father, Himself, comes and becomes your Satguru. He says: I will take you all back home with Me. No one else can say this. No one else can take you back with him. Everyone definitely has to take rebirth and play a part. I do not take birth again and again. If I too were to take birth again and again, I would become tamopradhan. It is the souls that become impure. Alloy is mixed into souls. The terms ‘golden age  and ‘silver age are used now. It is definitely now the iron age. It is now the confluence. Therefore, the Father definitely has to come. It is the Father’s task to transform the old world and make it new. The Father is the Purifier, that is, the One who transforms the world. He is not the Creator of the world, but the One who transforms it. By saying that He is the Creator, human beings think that a huge annihilation takes place. The word ‘Purifier’ is accurate. Sages sing: O Purifier, Sita Rama. They never sing: The Ganges is the Purifier. By saying ‘Purifier’, the intellects are drawn to the Supreme Soul. The Ganges is not the Purifier; that is just water and it also exists there as well. However, everything there is satopradhan; the Ganges is also satopradhan. Here, it is tamopradhan and it creates floods and drowns villages etc. The Brahmaputra River drowns so many villages. This is the land of sorrow. You will not experience sorrow in the golden age. There, these rivers will follow their course accurately according to the law of nature. Here, they leave their course and flow here, there and everywhere. Because the five elements of nature are satopradhan there, water never causes sorrow. Here, even water causes sorrow. First of all, you have to understand who gives the happiness of heaven. Surely, it must be the Father. It is now hell. Baba has come. You are children of Prajapita Brahma, Brahma Kumars and Kumaris. The new world can only be created when Prajapita Brahma exists. It is said that humans were changed into deities. Who changed them? The Supreme Father, the Supreme Soul. Krishna himself was a deity. Only the Father comes and changes humans into deities. It is now that you know this. Previously, you just used to sing the praise of human beings changing into deities. You didn’t know who created the golden age or who the Creator is or how the golden-aged world changes into the iron-aged world. You children have understood that this is a huge stage under the element of the sky. The play is performed on it. An open stage is needed. Light is also needed when human beings are playing their parts. Therefore, the sun and the moon serve you in this way. The stars also shine. When night falls, they give light, that is, happiness. This is why people say: Deity sun and deity moon. They give the happiness of light. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Understand the cycle of the drama accurately and make effort accordingly. Become as merciful as the Father and bestow mercy on everyone.
  2. The Father is establishing the land of truth. Therefore, remain true to Him. Clean the soul with remembrance of the Father.
Blessing: May you be introverted and finish all your old accounts even in your thoughts and sanskars.
BapDada now wishes to see all your account books clear. Let there not be the slightest form of your old accounts of extroversion remaining in your thoughts or sanskars. To be constantly free from bondage and to be yogyukt is known as being introverted. So, do a lot of service, but do it while being introverted and no longer extroverted. Glorify the Father’s name with your face of introversion. Make souls so happy that they belong to the Father.
Slogan: To achieve success in the transformation of your thoughts, words, relationships and connections is to be an embodiment of success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 July 2018

To Read Murli 27 July 2018 :- Click Here
28-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे-बच्चे – अर्थ सहित बाप को याद करने से ही तुम्हारे पाप नाश होंगे, आत्मा पतित से पावन बनेगी, नम्बरवन सब्जेक्ट है याद की”
प्रश्नः- मनुष्यों की अर्जी क्या है और बाप उस अर्जी को कैसे पूरा करते हैं?
उत्तर:- मनुष्य बाप से अर्जी करते हैं – ओ गॉड फादर, हमें पापों से मुक्त करो, ओ रहमदिल बाबा, रहम करो। बाबा सभी की अर्जी सुनकर स्वयं आते हैं और पापों से मुक्त होने की युक्ति बताते हैं – बच्चे, तुम मुझे याद करो। सिर्फ बाप की महिमा गाने से कोई फ़ायदा नहीं, चरित्र गाने नहीं हैं लेकिन राजयोग सीखकर चरित्रवान बनना है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…….. 

ओम् शान्ति। यह महिमा किसकी सुनी? बिगड़ी को बनाने वाले की। आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज सुनाने वाला वह है ऊंच ते ऊंच। जब कोई समझने के लिए आते हैं तो हमेशा उनको पहली बात समझानी है कि ऊंच ते ऊंच भगवान् गाया जाता है। ऊंच ते ऊंच उनका नाम भी है, ऊंच ते ऊंच उनका ठांव (रहने का स्थान) भी है। ग्रंथ में भी है ऊंचा जिसका नाम ऊंचा जिसका ठांव। ऊंच ते ऊंच रहने वाला है परमपिता परमात्मा। वह है निराकारी दुनिया, जहाँ निराकार परमपिता परमात्मा रहते हैं। फिर नीचे है आकारी और साकारी दुनिया। तो पहले-पहले परिचय उनका देना है। परमपिता परमात्मा तो है ही ट्रूथ। वह है रचयिता। फिर है उनकी रचना। ऊंच ते ऊंच बीजरूप, फिर उनके नीचे सूक्ष्मवतनवासी ब्रह्मा-विष्णु-शंकर। वह है रचना। रचयिता सबके ऊपर है। वह रचयिता है बाप, बाकी है रचना। सब एक परमपिता परमात्मा की सन्तान हैं, इसलिए हम आत्मायें सब भाई-भाई ठहरे। तो परमपिता परमधाम में रहते हैं। उनको ही परमात्मा कहा जाता है। शारीरिक पितायें तो बहुत हैं ना। पहले-पहले परिचय देना है रूहानी बाप का। उनकी है सब रचना। चित्रों पर भी ध्यान खिंचवाना है। पहले-पहले है ऊंच ते ऊंच परमपिता परमात्मा, जिसको मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का चैतन्य बीजरूप कहा जाता है। वह सतचित-आनंद स्वरूप है। सत अर्थात् सच कहने वाला। आत्मा भी सत है, वह भी जलती-मरती नहीं। सत के बच्चे भी सच्चे होने चाहिए। तुम पहले-पहले देवी-देवता सच्चे थे। सचखण्ड स्थापन करने वाला सच्चा बाबा है। ऐसे नहीं कि परमपिता परमात्मा झूठ खण्ड स्थापन करते हैं, नहीं। सचखण्ड था फिर यह भारत झूठ खण्ड बना है। सच्चा है परमपिता परमात्मा। पतित बनाने वाले को सच्चा नहीं कहेंगे। और सब हैं झूठे। 5 विकार रूपी माया रावण झूठा बनाती है। राम सच्चा, रावण झूठा। रावण ही भारत को झूठा बनाते हैं। कहानी सारी भारत पर है। समझाना है भारत स्वर्ग था अब नर्क है। बाप को स्वर्ग बनाने वाला वा स्वर्ग का रचयिता कहा जाता है। महिमा भी भारत की है। आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान तुमको सुनाते हैं, जिससे तुम त्रिकालदर्शी बनते हो। इसको कहा जाता है – स्वदर्शन चक्र। तुम जानते हो कि हम आत्मायें फिर से परमपिता परमात्मा से वर्सा ले रही हैं। गाया भी जाता है आत्मायें और परमात्मा अलग रहे बहुकाल। अभी यह मिलन बहुत सुन्दर मंगलकारी है। तुम पहले-पहले बाप का परिचय देते हो। रचयिता बाप को सर्वव्यापी कहने से फिर यह सिद्ध नहीं होता कि हम सब बच्चे हैं। बच्चे ऐसे नहीं कहेंगे कि हम सब परमपिता परमात्मा हैं। सर्वव्यापी कहने से बाप के साथ वह लव नहीं रहता, न बुद्धियोग रहता है। भारत का प्राचीन योग मशहूर है। वास्तव में बुद्धि का योग लगाना है बाप से। सर्वव्यापी है तो फिर योग किससे लगायें? क्या अपने आपसे लगायें? कोई अर्थ ही नहीं निकलता। यहाँ तो तुम अर्थ सहित जानते हो। बाप खुद कहते हैं मेरे साथ योग लगाने से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। विकर्म तो होते रहते हैं। सम्पूर्ण कर्मातीत अवस्था अन्त में होगी। जब ज्ञान का अन्त होगा तब रिजल्ट निकलेगी। स्कूल में भी कोई किस सब्जेक्ट में तीखे जाते हैं, कोई किसमें तीखे जाते हैं। सहज सब्जेक्ट है याद की। बाप को याद किया जाता है। याद से फिर आत्मा अच्छी होगी। बर्तन साफ होगा। आत्मा जो इमप्योर बनी है वह प्योर बनती जायेगी। ऊंच ते ऊंच बाप आकर पढ़ाते हैं और ऊंच ते ऊंच पद प्राप्त कराते हैं। तुम मनुष्य से देवता बनते हो। समझते हो कि बरोबर आदि सनातन देवता धर्म था। उनको हिन्दू नहीं कहेंगे। हिन्दू धर्म शोभा नहीं देता, भारत का नाम ही बदलकर हिन्दुस्तान नाम रख दिया है। आदि सनातन पवित्र देवी-देवता धर्म था, जिसको वैकुण्ठ अथवा स्वर्ग कहा जाता है। वह तो सतयुग है। उनको कहा जाता है नई दुनिया। उनको रचने वाला बाप है। वह है निराकार। सभी कहते भी हैं ओ गॉड फादर। वह ऊंच ते ऊंच रहते हैं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को सूक्ष्म देह मिली हुई है। उसको सूक्ष्म लोक कहा जाता है। और वह है शान्तिधाम, साइलेन्स वर्ल्ड। यह है स्थूलवतन। तो पहले-पहले जब कोई भी आते हैं तो उनसे फॉर्म भराना है। आत्मा का बाप कौन है? ऊंच ते ऊंच तो भगवान् को ही कहा जाता है। साधू सन्त आदि सब प्रार्थना करते हैं। प्रार्थना को रिक्वेस्ट भी कहा जाता है। ओ गॉड फादर, हम अर्जी करते हैं, हमारे पापों को दग्ध करो और रहमदिल बाबा रहम करो। ऐसे-ऐसे पुकारते हैं। रहम सभी तो नहीं करेंगे। सब पर रहम करने वाला तो एक ही बाप है। सर्वोदया कहते हैं ना। अब वह क्या करते हैं? कितने पर रहम करते होंगे। वह भी ड्रामा में नूँध है। इस समय जो कुछ चलता है उनसे तुम भेंट करते हो। गीता भागवत में यह बातें हैं नहीं। गीता है ज्ञान बाकी चरित्र आदि की तो कोई दरकार नहीं। स्टूडेन्ट टीचर के चरित्र गाते हैं क्या? मास्टर की बैठ महिमा करने से कोई भी फ़ायदा नहीं। बाप की सिर्फ महिमा करना – वह ज्ञान का सागर है, सुख का सागर है इससे कुछ भी मिलता नहीं है। अभी तुम बच्चे समझते हो कि बाबा हमको राजयोग सिखलाए त्रिकालदर्शी बनाता है अर्थात् तीनों कालों और तीनों लोकों की नॉलेज देता है। तो तुम मास्टर त्रिलोकी के नाथ भी कहला सकते हो। त्रिकालदर्शी भी कहला सकते हो। बरोबर हम तीनों लोकों को जानने वाले नाथ बनते हैं। यह राजयोग है। हम बादशाह बन रहे हैं। बनाने वाला बाप है। पारसनाथ कहते हैं ना। वह है लक्ष्मी-नारायण, भल उन्हों के मन्दिर हैं लेकिन मनुष्य जानते नहीं कि यह कौन हैं? लक्ष्मी-नारायण हैं पारसपुरी के नाथ। पारसपुरी सतयुग को कहा जाता है।

तुम यह जानते हो कि बरोबर कृष्ण के हीरों-जवाहरों के महल थे। पारसनाथ थे। तो पहले-पहले यह समझाओ कि यह मानते हो कि सभी का रचयिता बाप है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर का भी वह रचयिता ठहरा। पहले तो यह निश्चय करो कि वह बाप स्वर्ग का रचयिता है। स्वर्ग में आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले थे। उन्हों को यह नॉलेज कब मिली? बाप कहते हैं कि मैं कल्प-कल्प संगमयुगे आता हूँ नॉलेज देने। बरोबर तुम सतयुग आदि के पारसनाथ बन रहे हो। कितनी फर्स्टक्लास नॉलेज है। यहाँ बैठे हो, तुम समझते हो हम बाबा से स्वर्ग का वर्सा पाए पारसनाथ पारसपुरी के मालिक बनेंगे। बुद्धि जानती है कि लक्ष्मी-नारायण आदि देवी-देवतायें कितने धनवान थे। बहुत जेवर आदि थे। बड़े साहूकार होते हैं। तो पहले-पहले बाप को जान उनसे वर्सा लेना है। याद से वर्सा लेना है। सूक्ष्म बात यह है। हीरे जवाहरों के कितने बड़े-बड़े महल थे। अभी वह खत्म हो गये हैं। फिर अपने समय पर खड़े हो जायेंगे। पहले थे, फिर खत्म हुए, फिर होंगे जरूर, ड्रामा में नूँध है। यह बुद्धि से समझने की बात है। लड़ाई में भी सब टूट फूट जाते हैं। फिर नयेसिर महल बनाते हैं। महल जरूर बनाये होंगे। तुमको साक्षात्कार होता है कि बरोबर महल हैं। हमने बनाये थे। ऐसे नहीं कि सागर के नीचे चले गये जो अब निकलने हैं। नहीं। यह तो ड्रामा का चक्र फिरता रहता है। वह समझते है कि लंका रावण की अथवा सोने की द्वारिका नीचे चली गई है जो फिर निकलेगी। परन्तु ऐसे तो है नहीं। अभी तुम द्वारिका के मालिक बन रहे हो। कितने मालामाल थे! धन दौलत सब था। अब सब गायब हो गया है। सब ले गये। फिर ऐसे ही होगा। पहले-पहले बाप का परिचय देकर फिर चक्र का राज़ समझाना है कि यह कैसे फिरता है? सतयुग की स्थापना बाप ही करेंगे। अब बाबा सम्मुख बैठ कहते हैं कि मुझे याद करो। इस याद की योग अग्नि से ही तुम पतित से पावन बनते हो और कोई उपाय नहीं है। योग अग्नि से आत्मा पतित से पावन बनती है। पतित-पावन बाप ही आकर पावन दुनिया स्थापन करते हैं। फिर तुम गंगा के लिए क्यों कहते हो कि यह पतित-पावनी है। जप, तप, गंगा स्नान आदि करना यह सब भक्ति मार्ग की सामग्री है। भक्ति मार्ग पहले अव्यभिचारी था फिर व्यभिचारी बना है। आधाकल्प लगा है व्यभिचारी बनने में। 16 कला से 14 कला, फिर कलायें कम होती जाती हैं। यह ज्ञान सागर बाप समझाते हैं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को ज्ञान सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप नहीं कहा जाता। परमपिता कहने से बुद्धि ब्रह्मा-विष्णु-शंकर तरफ नहीं जाती है। आत्मायें परमपिता परमात्मा बाप को ही याद करती रहती हैं। जब उन्हों को दु:ख होता है। सतयुग में सुख है तो कोई भी पुकारता नहीं। अब आत्मायें जानती हैं कि आधाकल्प से दु:ख पाया है। अभी फिर स्वर्ग में जायेंगे। वहाँ कोई भी दु:ख नहीं इसलिए सतयुग में बाबा को याद करने की दरकार नहीं पड़ती। ड्रामा अनुसार बाबा हमको सुख का वर्सा देकर ही जायेंगे। मनुष्य जब बुढ़े होते हैं तो वानप्रस्थ में जाकर बैठते हैं। गुरू करते हैं। यहाँ तो बाप स्वयं आकर सतगुरू बनते हैं। कहते हैं कि तुम सबको साथ ले जाऊंगा। ऐसे और कोई भी कह न सकें। साथ में तो कोई भी नहीं ले जायेंगे। हर एक को पुनर्जन्म जरूर लेना पड़े। पार्ट में तो आना ही है। मैं तो घड़ी-घड़ी जन्म नहीं लेता हूँ। अगर मैं भी घड़ी-घड़ी जन्म लूँ तो तमोप्रधान बन जाऊं। आत्मा ही इमप्योर बनती है। आत्मा में खाद पड़ती है। गोल्डन एज, सिलवर एज अक्षर अभी है। बरोबर अभी आइरन एज हैं। अब संगम है। बाप को जरूर आना ही है। पुरानी सृष्टि को नया बनाना – यह बाप का ही काम है। बाप ही पतित-पावन है अर्थात् सृष्टि को बदलने वाला है। सृष्टि का रचयिता नहीं, बदलने वाला है। रचने वाला कहने से मनुष्य समझते हैं बड़ी प्रलय होती है। पतित-पावन अक्षर ठीक है। साधू लोग भी गाते हैं पतित-पावन सीताराम, ऐसे तो कभी नहीं कहते कि पतित-पावनी गंगा। पतित-पावन कहने से बुद्धि परमात्मा की तरफ चली जाती है। गंगा तो पतित-पावन है नहीं। यह तो पानी है सो तो वहाँ भी होता है। परन्तु वहाँ सब चीज़ें सतोप्रधान हो जाती हैं, गंगा भी सतोप्रधान। यहाँ तो तमोप्रधान है, फ्लड्स कर देती है, गांवड़ों को डुबो देती है। ब्रह्मपुत्रा कितने गांव को डुबो देती है। यह है ही दु:खधाम। सतयुग में थोड़ेही दु:ख भोगेंगे। वहाँ तो कायदेसिर अपना रास्ता लेकर चलेगी। यहाँ रास्ता छोड़ देती है। कभी किस तरफ चली जाती है। वहाँ 5 तत्व सतोप्रधान होने कारण जल भी कभी दु:ख नहीं देता। यहाँ जल भी दु:ख देता है। पहले तो यह समझना है कि स्वर्ग का सुख देने वाला कौन है? जरूर बाप ही होगा। अभी तो नर्क है। बाबा आया है। हम प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। प्रजापिता ब्रह्मा हो तब नई सृष्टि रचे। मनुष्य से देवता किये…….. किसने किया? परमपिता परमात्मा ने। कृष्ण तो स्वयं देवता है। बाप ही आकर मनुष्य को देवता बनाते हैं। यह तुम अभी जानते हो। आगे तो सिर्फ गाते थे मनुष्य से देवता किये…….. जानते नहीं थे कि सतयुग किसने स्थापन किया? रचयिता कौन है? सतयुगी सृष्टि फिर कलियुगी बन जाती है। तो तुम बच्चे समझ गये हो कि यह बड़ा माण्डवा है – आकाश तत्व का। इसमें खेल होता है, ओपेन स्टेज चाहिए ना। मनुष्य पार्ट बजाते हैं तो रोशनी भी चाहिए। इसके लिए फिर सूरज, चांद सेवा करते हैं। सितारे भी चमकते हैं। जब रात होती है तो रोशनी अर्थात् सुख देते हैं इसलिए सूर्य देवता, चांद देवता कहते हैं। रोशनी आदि का सुख देते हैं ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ड्रामा के चक्र को यथार्थ रीति समझकर पुरुषार्थ करना है। बाप समान रहमदिल बन सभी पर रहम करना है।

2) बाप सचखण्ड स्थापन कर रहे हैं इसलिए सच्चा होकर रहना है। बाप की याद से आत्मा को स्वच्छ बनाना है।

वरदान:- सर्व पुराने खातों को संकल्प और संस्कार रूप से भी समाप्त करने वाले अन्तर्मुखी भव
बापदादा बच्चों के सभी चौपड़े अब साफ देखने चाहते हैं। थोड़ा भी पुराना खाता अर्थात् बाह्यमुखता का खाता संकल्प वा संस्कार रूप में भी रह न जाए। सदा सर्व बन्धनमुक्त और योगयुक्त – इसी को ही अन्तर्मुखी कहा जाता है इसलिए सेवा खूब करो लेकिन बाह्यमुखी से अन्तर्मुखी बनकर करो। अन्तर्मुखता की सूरत द्वारा बाप का नाम बाला करो, आत्मायें बाप का बन जाएं – ऐसा प्रसन्नचित बनाओ।
स्लोगन:- अपने परिवर्तन द्वारा संकल्प, बोल, सम्बन्ध, सम्पर्क में सफलता प्राप्त करना ही सफलता-मूर्त बनना है।

TODAY MURLI 28 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 27 July 2017 :- Click Here

28/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to be liberated from the chains of Ravan for 21 births, follow the Father’s shrimat. The Father comes to liberate you from all sorrow.
Question: Which destination is the highest and most difficult and requires effort over a long period of time?
Answer: Only the one Father should be remembered in the final moments; no one else should be remembered. This is the highest and most difficult destination. If anyone else is remembered, you have to take birth in this world. Therefore, let there be the practice of remembrance of Shiv Baba over a long period of time.
Question: Why does the stage of some children fluctuate as they move along?
Answer: Because they do not have firm faith. When faith is lacking, their stage goes up and down and fluctuates like mercury. Sometimes there is a great deal of happiness and sometimes happiness is reduced.
Song: The Innocent Lord is unique.

Om shanti: You children understand that you are sitting personally in front of Shiv Baba, the Innocent Lord, and that you are being taught easy Raja Yoga through the mouth of Brahma. The Father explains the essence of all the Vedas, the scriptures, the Granth and the Upanishads. All of this only sits in the children’s intellects. It is also shown in the pictures that establishment takes place through Brahma. Baba explains through Brahma the essence of all the scriptures and the Vedas. Who is explaining all of this to you children? The Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, the Innocent Lord. He is incorporeal. This is why He explains everything through Brahma. Those to whom He explains understand and then they explain to others. If they are not able to explain to others, it means that they themselves have not understood, that is, they are senseless. Explanation is given to those who are senseless. The Father says to everyone: You are senseless. Do you know Me, your Father? You residents of Bharat claimed the inheritance of the golden-aged self-sovereignty. Then, because of the kingdom of Ravan, you lost the inheritance. Due to the kingdom of Ravan, you became impure, senseless and poverty-stricken. Everyone is now following devilish instructions. You understand that a cycle ago, the Father made us sensible, that is, we became the masters of the world. We have now become slaves to Maya: not slaves to wealth and possessions, but slaves to Maya, Ravan. We are tied by the chains of the five vices and are in the cottage of sorrow. The kingdom of Ravan is definitely over the entire world. The entire world and especially Bharat are tied in the bondage of the kingdom of Ravan; this is why whatever they do is wrong. The Father comes and tellsyou everything right. This is why the Supreme Father, the Supreme Soul, is known as the Righteous One. Ravan is known as the unrighteous one. For half a cycle there is the righteous kingdom and for the other half, the unrighteous kingdom. The kingdom of Ravan is called the world of falsehood. Only you children understand that Shiva, the Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge, explains to us through Brahma. It is said: Liberation-in-life can be claimed in a second. There are many who say that liberation-in-life can be claimed in a second. At this time, everyone, but especially Bharat, is in a life of bondage. The people of Bharat claim the inheritance of liberation-in-life in a second. You children now understand that you belong to God. God Himself says: You are My children. You know that God establishes the new world, so He needs to come into the old world. The old world is known as the impure, corrupt world. Everyone calls out to God and says, “L iberate us from sorrow!” People do not know when there is the kingdom of sorrow or who establishes it. They may study many scriptures; they may be scholars or pundits, but they have a lot of arrogance. However, there is no one who can grant liberation-in-life in a second. No one can say that he can grant liberation-in-life or he can grant salvation to all. I alone grant salvation to the entire world and especially to Bharat. It is said that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Bestower of Salvation for all. He is the Liberator for all. He liberates everyone from sorrow. Does anyone liberate anyone from happiness? The Father liberates you from sorrow. Achcha. Who liberates you from happiness? Bharat was happy. Who liberated it from happiness and took it into sorrow? Ravan liberates you from happiness. Now, by following the shrimat of Rama, you are becoming liberated for 21 births. That is called liberation-in-life or salvation. It is now in the intellects of you children that when Bharat was liberated in life, it was definitely the land of happiness. Bharat is now the land of sorrow, in a life of bondage. It is a question of the unlimited. Therefore, the Father explains all of these unlimited things which limited human beings do not understand. Neither do they know heaven nor do they know hell. They say that all of this is your imagination, that no one can become liberated in life. This is an eternally predestined drama. Nothing can change in this. Shiv Baba is the main one. He is known as the Creator and the Director. Brahma, Vishnu and Shankar also have part s. Jagadamba (World Mother) and Jagadpita (World Father) have part s as well. The deities too have part s. Then those of Islam, the Buddhists, etc. play their own part s ; everyone has to play their same part again and then there will be the part of one religion. Later, those of other religions will repeat their part s at their own time. You now know that the part of the Brahmin family also repeats. The Brahmin clan is being established through Prajapita Brahma. It is known as the community of Brahmins. The community of Christians is created through Christ. The Supreme Father, the Supreme Soul, created Brahma and then created the Brahmin community through Brahma. So, surely, as there are so many of them, they must be mouth-born progeny; they cannot be born through sin. They say: You are our Mother and Father, and so all are adopted children. This is an adoption. Brahma was adopted first. Then, through Brahma, you Brahmins are adopted. You understand that you are the grandchildren of Shiv Baba and the children of Brahma. Firstly, it is the clan of Brahmins. It is the most important clan. You are only adopted now. This adoption does not take place again. Sannyasis also adopt; they adopt their followers. They should say to people, “You cannot be called our followers. Only when you leave your families and businesses and put on saffron robes can you be called followers.” Here, you are Brahmins. You have to show this easy path of true Raja Yoga to everyone. You must explain something or other. You receive the inheritance from the Father in a second. You will definitely receive the inheritance of liberation and liberation-in-life from the Supreme Father, the Supreme Soul. You must only remember Shiv Baba. The Father of all souls is Shiva. By remembering Him you will become the masters of heaven. You will not become the masters of heaven by remembering your lokik fathers. You may stay in a household, but remember Shiv Baba. I, the soul, am Shiv Baba’s child. Have this firm faith. When you do not have full faith, your stage fluctuates like mercury. One minute the mercury of happiness will be high and the next minute it will be forgotten. The Father says that you now have to return home and that you will then come and take on a new skin. You understand that we have been taking rebirth. It is not a question of rebirth for snakes: they shed their old skins and take on new ones. In the same way, you also have to change them. When a person gets old he understands that he has to depart. He has a vision that he is then to become a child. The soul knows that he will shed his body and become a child and receive a satopradhan body. An old body is known as a decayed body. The world is new to begin with; later on, the celestial degrees decrease. This is why it is divided into four parts. They say that the duration of the cycle is very long and that the soul has to transmigrate into 8.4 million species and that you have reduced the duration of the cycle. However, look how much sorrow there is! By increasing the duration of the cycle, they think that souls have to take 8.4 million births. The Father sits here and explains this. You must never forget this. A student never forgets the teacher. You understand that you are studying in the Godly class. Those at all the centreslisten to the murli and the one who teaches is the Ocean of Knowledge. He alone is called the Ocean of Knowledge, the Purifier and the Bestower of Salvation for All. ‘All’ means Bharat and all other lands. You are Godly children. The more you study from God, the higher your status will be. The study is very easy. Simply remember two words. You can tell anyone to remember the Supreme Father, the Supreme Soul, the unlimited Father, and you will receive the unlimited happiness of heaven; that is all. Just remember the one Father. It is said that if anyone else is remembered in your final moments or if a man remembers his wife at the final moment, his birth would also be accordingly. The Father says: This destination is very high and difficult. Be cautious when climbing the ladder and also caution one another. Continue to remember Shiv Baba. The Father sits here and explains to the children: I have to uplift even those gurus through you mothers. Without you mother gurus, no one would be uplifted. The mothers are the instruments. The World Mother is the main one. She has a lot of influence. Brahma does not have as much influence. He is only shown at Pushkar (a place where there is a temple to Brahma). Mostly men go there. There is a lot of respect for Amba (the Mother). Gatherings take place at many places where there are her temples. By following the instructions of gurus you have been stumbling. What benefit was there? None whatsoever!

[wp_ad_camp_3]

 

The stage of descending has to come about. Bharat has to become impure. No one can return home. You have understood that all human beings are impure; they are in their decayed stage. Everyone is included in that. People experience so much sorrow in this world. Sorrow increases at every step. You children understand that people outside are absolutely senseless. No one knows the Father. They even say: You are our Mother and Father. So, surely, He creates heaven. Those who have been and gone are praised. You now understand that heaven is being established once again. No other religions existed when there was heaven. Now that there are other religions, this one does not exist; its foundation does not exist. The original eternal deity religion that used to exist is now being established once again. Then, for half a cycle, there will be no other religions. Only the one religion will remain. For half a cycle there was the sun dynasty and the moon dynasty kingdom of self-sovereignty. This is your Godly birthright. This is your heavenly , God f atherly birthright. We are establishing our heaven; we are becoming worthy of ruling the kingdom. He is the One who is teaching us and making us worthy. He explains every day in order to reinforce these things. He explains that Maya will not allow you to stay in remembrance. No matter how hard you try to remember Baba, the battle continues. The Father sits here and shows you what to do. You are karma yogis. Yes, your children do distress you because this is the very depths of hell. Children here cause sorrow. There, children give happiness because that is the land of happiness. There, there is nothing that would cause sorrow or impurity. Here, there is so much sorrow and the sicknesses are also very dirty. Some sicknesses never used to exist. There was no sickness called cancer. In heaven, there is no sickness etc. When it is the devilish kingdom, all of these dirty sicknesses begin. This drama is predestined. There are beautiful cows in heaven. People say that Krishna had such beautiful cows. So they made him into a cowherd. Krishna was not really a cowherd. You say that Shiv Baba takes these living human cows to graze. He gives them the grass of knowledge. The urn of knowledge is placed on the mothers. Baba says: Listen to what I say! First of all, Manmanabhav! Remember Me and your sins will be incinerated. This is a very easy method. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. According to the shrimat of the Father, do the service of liberating everyone from the chains of Ravan and of giving them the inheritance of liberation-in-life.
  2. Only listen to the one Father. Forget anything else that you have heard. This destination is very high and difficult. Therefore, caution one another and remind each other of the Father and make progress in this way.
Blessing: May you be courageous and constantly experience the flying stage on the basis of your zeal and enthusiasm.
In order to experience the flying stage you need the wings of courage and zeal and enthusiasm. To be successful in any task, zeal and enthusiasm are essential. If there is no zeal or enthusiasm, you will not be successful in your task because when there is no zeal or enthusiasm, there will be tiredness and those who are tired can never be successful. So, be courageous and continue to fly with your zeal and enthusiasm and you will reach your destination.
Slogan: Give blessings and receive blessings: this is elevated effort.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Brahma kumaris murli 28 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 July 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 27 July 2017 :- Click Here

Brahma Kumaris Murli 28 July 2017 - Bk Daily Murli 28/7/2017

28/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – 21 जन्मों के लिए रावण की जंजीरों से लिबरेट होना है तो बाप की श्रीमत पर चलो, बाप आते ही हैं तुम्हें सब दु:खों से लिबरेट करने”
प्रश्नः- सबसे भारी मंजिल कौन सी है? जिसका पुरुषार्थ बहुतकाल से चाहिए!
उत्तर:- अन्तकाल में एक बाप की ही याद रहे और कोई याद न आये, यह बहुत भारी मंजिल है। अगर कोई याद आया तो इसी दुनिया में जन्म लेना पड़े, इसलिए बहुतकाल से शिवबाबा की याद में रहने का अभ्यास करो।
प्रश्नः- कई बच्चों की अवस्था चलते-चलते डांवाडोल क्यों हो जाती है?
उत्तर:- क्योंकि पक्का निश्चय नहीं है। जब निश्चय में कमी आती है तब पारे की तरह अवस्था नीचे ऊपर डांवाडोल होती है। कभी बहुत खुशी रहती, कभी खुशी कम हो जाती।
गीत:- भोलेनाथ से निराला….

ओम् शान्ति। बच्चे समझते हैं कि हम भोलानाथ शिवबाबा के सम्मुख बैठे हैं और ब्रह्मा मुख द्वारा यह सहज राजयोग भी सीख रहे हैं। सब वेदों ग्रंथों शास्त्रों उपनिषदों का सार बाप बैठ समझाते हैं। यह बच्चों की ही बुद्धि में बैठा है। चित्रों में भी है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। तो ब्रह्मा द्वारा ही सभी वेद शास्त्रों का सार सुनाया है। तुम बच्चों को यह सब कौन समझाते हैं? परमपिता परमात्मा भोलानाथ शिव। वह निराकार है इसलिए हर बात ब्रह्मा द्वारा समझाते हैं। जिसको समझाते हैं वह फिर औरों को समझाते हैं। अगर नहीं समझा सकते तो गोया वह खुद नहीं समझे हैं अर्थात् बेसमझ हैं। बेसमझ को समझाया जाता है। बाप सबको कहते हैं तुम बेसमझ हो। तुम मुझ बाप को जानते हो? तुम भारतवासियों ने वर्सा लिया था। सतयुगी स्वराज्य था फिर रावण राज्य होने से तुमने वर्सा गंवा दिया। रावण राज्य के कारण तुम पतित, बेसमझ, कंगाल बन पड़े हो। सभी आसुरी मत पर ही चलते हैं। तुम समझते हो कल्प पहले हमको बाप ने समझदार बनाया था। हम विश्व के मालिक बने थे, अभी हम माया के गुलाम बन पड़े हैं। सम्पत्ति के गुलाम नहीं, माया रावण के गुलाम। 5 विकारों की जंजीरों में हम बंधे हुए हैं और शोक वाटिका में हैं। बरोबर रावण का राज्य सारे विश्व पर है। भारतवासी खास, सारी दुनिया आम सब रावण की जंजीरों में बंधे हुए हैं इसलिए जो कुछ करते हैं, रांग करते हैं। बाप आकर सब राइट बताते हैं इसलिए परमपिता परमात्मा को राइटियस कहेंगे। रावण को अनराइटियस कहेंगे। आधाकल्प राइटियस राज्य चलता है। आधाकल्प अनराइटियस राज्य चलता है। रावण राज्य को झूठी दुनिया कहा जाता है। तुम बच्चे ही जानते हो। ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा शिव हमें समझा रहे हैं ब्रह्मा द्वारा। गाया भी हुआ है सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। ऐसे बहुत कहते हैं – सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। परन्तु इस समय सब जीवनबंध में हैं, खास भारत। भारतवासी ही एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति का वर्सा लेते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो हम भगवान के बने हैं। भगवान खुद कहते हैं तुम हमारे बच्चे हो, जानते हो ईश्वर ही नई दुनिया की स्थापना करते हैं तो जरूर पुरानी दुनिया में आना पड़े। पुरानी दुनिया को पतित भ्रष्टाचारी कहा जाता है। सभी भगवान को बुलाते हैं कि हमारे जीवन को मुक्त करो। दु:ख से लिबरेट करो। मनुष्य जानते नहीं कि दु:ख का राज्य कब और कौन स्थापन करते हैं। भल शास्त्र बहुत पढ़े हुए हैं। विद्वान पण्डित आदि हैं जिन्हें घमण्ड बहुत है। परन्तु कोई ऐसा नहीं जो सेकेण्ड में जीवनमुक्ति किसको दे सके। कोई कह भी नहीं सकते कि हम जीवनमुक्ति दे सकते हैं या सबकी सद्गति कर सकते हैं। मैं ही खास भारत, आम सबकी सद्गति करता हूँ। गाया भी जाता है परमपिता परमात्मा सर्व का सद्गति दाता है। सर्व का लिबरेटर है, दु:ख से लिबरेट करते हैं। सुख से कोई लिबरेट करते हैं क्या? दु:ख से लिबरेट तो बाप करते हैं। अच्छा सुख से लिबरेट कौन करते हैं? भारत सुखी था ना। फिर सुख से लिबरेट कर दु:ख में कौन लाया? सुख से लिबरेट करने वाला है रावण। अब राम की श्रीमत पर चलने से तुम 21 जन्मों के लिए लिबरेट होते हो। उसको कहा जाता है जीवनमुक्ति या सद्गति। बच्चों की बुद्धि में अब बैठा है। बरोबर भारत जीवनमुक्त था तब सुखधाम था। अब भारत दु:खधाम है, जीवनबन्ध में है। बेहद का क्वेश्चन हो जाता है। तो बाप बेहद की ही यह सब बातें सुनायेंगे, जो हद में मनुष्य तो जानते ही नहीं। न स्वर्ग को, न नर्क को जानते हैं। वह तो यह सब कल्पना समझ लेते हैं। जीवनमुक्त तो कोई बन नहीं सकेंगे। यह तो अविनाशी बना बनाया ड्रामा है, इसमें कोई चेंज नहीं हो सकती। मुख्य है शिवबाबा। उसको क्रियेटर, डायरेक्टर भी कहते हैं। ब्रह्मा विष्णु शंकर का भी पार्ट है। जगत अम्बा, जगत पिता का भी पार्ट है। देवी-देवताओं का भी पार्ट है। फिर इस्लामी, बौद्धी आदि-आदि अपना-अपना पार्ट बजाते हैं, वही पार्ट फिर सबको बजाना है। फिर पार्ट में एक धर्म हो जायेगा। फिर दूसरे धर्म वाले अपने समय पर अपना पार्ट रिपीट करेंगे।

अभी तुम जानते हो इस समय ब्राह्मण कुल की रिपीटीशन है। प्रजापिता ब्रह्मा से ब्राह्मण कुल की स्थापना होती है। उनको ब्राह्मण सम्प्रदाय कहा जाता है। क्राइस्ट से क्रिश्चियन सम्प्रदाय की रचना हुई। परमपिता परमात्मा ने ब्रह्मा और ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण सम्प्रदाय रची तो फिर वह इतने सब मुख वंशावली होंगे। कुख वंशावली तो हो न सकें। कहते हैं ना – तुम मात-पिता… तो यह सब एडाप्टेड चिल्ड्रेन हैं। यह है ही एडाप्शन। पहले ब्रह्मा को एडाप्ट किया फिर ब्रह्मा द्वारा तुम ब्राह्मण ब्राह्मणियां एडाप्ट होते हो। तुम जानते हो हम शिवबाबा के पोत्रे ब्रह्मा के बच्चे हैं। पहले एक ब्राह्मणों का कुल है। बड़ा भारी कुल है। अभी ही एडाप्ट करते हैं। फिर कभी यह एडाप्शन होती ही नहीं। सन्यासियों की होती है। वह अपने जिज्ञासुओं को एडाप्ट करते हैं। कहेंगे तुम हमारे फालोअर्स कहला न सको। घरबार छोड़ कफनी पहनें तब फालोअर्स कहा जाए। यहाँ तुम हो ब्राह्मण, तुमको यही सच्चा सहज राजयोग का रास्ता सबको बताना है। कुछ न कुछ समझाना है। एक सेकेण्ड में बाप से वर्सा मिलता है। परमपिता परमात्मा से जरूर मुक्ति जीवनमुक्ति का ही वर्सा मिलेगा। शिवबाबा को ही याद करना है। सब आत्माओं का बाप है शिव, उनको याद करने से तुम स्वर्ग का मालिक बनेंगे। लौकिक बाप को याद करने से स्वर्ग के मालिक नहीं बनेंगे। भल घर में रहो परन्तु शिवबाबा को याद करो। हम आत्मा शिवबाबा की सन्तान हैं, इसी निश्चय में रहना है।

पूरा निश्चय न होने से ही अवस्था डांवाडोल होती है। जैसे पारा होता है ना। अभी-अभी खुशी का पारा चढ़ता है। अभी-अभी भूल जायेंगे। अभी बाप कहते हैं तुमको घर वापिस जाना है। फिर आकर नई खाल लेंगे। तुम जानते हो हम पुनर्जन्म लेते आये हैं। सर्प के लिए पुनर्जन्म की बात नहीं होती। वह एक पुरानी खाल छोड़ दूसरी नई ले लेते हैं। वैसे तुमको भी बदलना है। मनुष्य जब बूढ़े होते हैं तो कहते हैं, अब जाना है। झट साक्षात्कार होता है। अभी हम बालक बनने वाले हैं। उनको पता है कि अभी हम शरीर छोड़ बालक बनेंगे, फिर सतोप्रधान शरीर मिलेगा। पुराने शरीर को जड़जड़ीभूत कहा जाता है। दुनिया भी पहले नई होती है फिर कला कम होती जाती है इसलिए 4 भाग रखा गया है। कहते हैं कल्प की आयु तो बहुत बड़ी है। कल्प में 84 लाख योनियां लेनी पड़ती हैं। तुमने तो कल्प को छोटा कर दिया है। फिर दु:ख देखो कितना है। लाखों वर्ष आयु लगाने से समझते हैं 84 लाख जन्म होते होंगे। यह बाप बैठ समझाते हैं। यह कभी भूलना नहीं चाहिए, स्टूडेन्ट टीचर को कभी भूलते नहीं हैं। तुम भी जानते हो हम पढ़ने आते हैं ईश्वरीय क्लास में। मुरली सब सेन्टर्स वाले सुनते हैं। पढ़ाने वाला तो एक ज्ञान का सागर ही ठहरा। उनको ही ज्ञान का सागर पतित-पावन, सर्व का सद्गति दाता कहा जाता है। सर्व अर्थात् भारत और सभी खण्ड आ जाते हैं। तुम हो ईश्वरीय सन्तान, तुम ईश्वर द्वारा जितना पढ़ेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। पढ़ाई भी बड़ी सहज है, सिर्फ दो अक्षर याद करने हैं। तुम कोई को भी कह सकते हो परमपिता परमात्मा बेहद के बाप को याद करो तो तुमको स्वर्ग में बेहद का सुख मिलेगा। बस एक बाप को याद करो। अन्तकाल में अगर कोई दूसरा याद आया तो अन्तकाल जो स्त्री सिमरे… ऐसे जन्म में जायेंगे। बाप कहते हैं मंजिल बहुत भारी है। सावधानी से सीढ़ी पर सम्भाल कर चलना है। एक दो को सावधान करते रहना है। शिवबाबा को याद करते रहो। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं बच्चे इन गुरूओं का भी मुझे उद्धार करना है, तुम माताओं द्वारा। तुम माता गुरू बिगर कोई का भी उद्धार नहीं होना है। माता को ही निमित्त रखा जाता है। जगत अम्बा मुख्य है ना। उनका देखो कितना प्रभाव है। ब्रह्मा का इतना नहीं है। सिर्फ पुश्कर में मन्दिर है। वहाँ पर बहुत करके पुरुष ही जाते हैं। अम्बा का बहुत मान है। जहाँ तहाँ देवियों के मन्दिर पर बहुत मेले लगते हैं। गुरुओं की मत पर चलते-चलते बहुत धक्के खाये हैं। फायदा क्या हुआ? कुछ भी नहीं। उतरती कला होने से भारत को पतित तो बनना ही है। वापिस कोई जा नहीं सकते। तुम समझ गये हो जो भी मनुष्य मात्र हैं सब पतित हैं। जड़जड़ीभूत अवस्था में हैं, उसमें सब आ जाते हैं। इस दुनिया में मनुष्यों को कितना दु:ख है। कदम-कदम पर दु:ख बढ़ता ही जाता है।

[wp_ad_camp_3]

 

तुम बच्चे समझते हो बाहर तो बिल्कुल बेसमझ हैं, बाप को ही नहीं जानते। कहते भी हैं तुम मात पिता… जरूर वह स्वर्ग रचने वाला है, जो होकर जाते हैं फिर उनका गायन चलता है। अब तुम जानते हो कि फिर से स्वर्ग की स्थापना हो रही है। जब स्वर्ग था तो दूसरे कोई नहीं थे। अब दूसरे सब हैं तो यह धर्म नहीं हैं, फाउन्डेशन है नहीं। अब वह जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म था उसकी फिर से स्थापना हो रही है। आधाकल्प तक फिर और कोई धर्म निकलते नहीं, एक ही धर्म रहेगा। आधाकल्प सूर्यवंशी चन्द्रवंशी स्वराज्य। यह है तुम्हारा ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार, हेविनली गॉड फादरली बर्थ राइट है। हम अपने स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। राज्य करने के लिए लायक बन रहे हैं। वही हमको पढ़ाते हैं, लायक बनाते हैं। रोज़-रोज़ समझाते हैं, पक्का करने लिए। समझाते हैं – माया तुम्हें याद नहीं करने देगी, तुम कितनी भी कोशिश करो, बाबा को याद करने लिए तो युद्ध चलती है ना। बाप बैठ रास्ता बताते हैं कि क्या करो, तुम कर्मयोगी भी हो। हाँ बच्चे आदि तंग करने लगते हैं, रौरव नर्क है ना। दु:ख देने वाली सन्तान हैं। वहाँ होते हैं सुखदायी सन्तान क्योंकि सुखधाम है ना। वहाँ कोई ऐसी चीज़ होती नहीं जिससे दु:ख हो वा मैलापन हो। यहाँ तो कितना दु:ख है। बीमारियाँ भी कैसी-कैसी गन्दी निकलती हैं। आगे थोड़ेही थी, कैंसर की बीमारी का नाम भी नहीं सुना था। स्वर्ग में कोई बीमारी होती ही नहीं। जब आसुरी राज्य शुरू होता है तब ये गन्दी बीमारियाँ शुरू होती हैं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। स्वर्ग में कितनी सुन्दर गायें होती हैं, कहते हैं कृष्ण के पास ऐसी-ऐसी अच्छी गायें थी, तो उनको भी ग्वाला बना दिया है। कृष्ण कोई ग्वाला थोड़ेही था। तुम कहेंगे शिवबाबा ने यह चैतन्य ह्युमन गायें चराई हैं। ज्ञान घास खिलाते हैं। ज्ञान का कलष माताओं पर रखा है। बाबा कहते हैं अब मैं जो सुनाता हूँ वह सुनो। पहली बात मनमनाभव। मुझे याद करो तो विकर्म भस्म होंगे। यह है बहुत सहज उपाय। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की श्रीमत पर सबको रावण की जंजीरों से मुक्त कर जीवनमुक्ति का वर्सा दिलाने की सेवा करनी है।

2) एक बाप से ही सुनना है। बाकी जो सुना उसे भूल जाना है। मंजिल भारी है इसलिए एक दो को सावधान करते बाप की याद दिलाते उन्नति को पाना है।

वरदान:- उमंग-उत्साह के आधार पर सदा उड़ती कला का अनुभव करने वाले हिम्मतवान भव 
उड़ती कला का अनुभव करने के लिए हिम्मत और उमंग-उत्साह के पंख चाहिए। किसी भी कार्य में सफलता प्राप्त करने के लिए उमंग-उत्साह बहुत जरूरी है। अगर उमंग-उत्साह नहीं तो कार्य सफल नहीं हो सकता क्योंकि उमंग-उत्साह नहीं तो थकावट होगी और थका हुआ कभी सफल नहीं होगा, इसलिए हिम्मतवान बन उमंग और उत्साह के आधार पर उड़ते रहो तो मंजिल पर पहुंच जायेंगे।
स्लोगन:- दुआयें दो और दुआयें लो यही श्रेष्ठ पुरूषार्थ है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 26 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 25 July 2017 :- Click Here

Font Resize