today murli 28 december

TODAY MURLI 28 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 December 2018 :- Click Here

28/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, renounce your attachment to the old world and have zeal and enthusiasm for service. Never become tired of service.
Question: What are the signs of children who have intoxication of knowledge?
Answer: They have a lot of interest in doing serv i ce. They remain constantly engaged in service through their minds and words. They give everyone the Father’s introduction and give the proof of it. While establishing the kingdom, if they have to tolerate anything, they do so. They are complete helpers of the Father and do the service of making Bharat into heaven.
Song: Mother, o mother, you are the bestower of fortune for all!

Om shanti. You children now know the mother, numberwise, according to the effort you make. You know the mother and so you would also surely know the father. This mother and father are the bestowers of one hundred-fold fortune and bestowers of fortune. The ones with one hundred-fold fortune are those who make effort and create their full fortune. They claim their inheritance in the sun and moon dynasties, and that, too, is numberwise. There are many who are like the natives; they will go and take birth among the very ordinary subjects; they cannot claim a status. The Father definitely tells you: Children, don’t have attachment to this old world. The poor world is crying out. You children have to have the interest and enthusiasm to do service. Although some do have enthusiasm to do service, they don’t have the art of doing service. You receive many directions. The writing has to be very refined. The pictures of the Trimurti and the tree should be 30″ x 40″. These are very useful things. However, some children have little value for them. Although there is a lot of respect for Sanjay, that praise is of the end. It is said, “Ask the gopes and gopis about supersensuous joy”. So that praise too is of the final stage. No one has that happiness now. They now continue to cry and fall; Maya slaps them. Although some come every day, they don’t have that intoxication. You receive many chances to do service. People now continue to say that there should be one religion. There used to be one Government in Bharat. It was called heaven, but no one knows that. It was 5000 years ago when there was the one G overnment. You can even say that until 2500 years ago, there was one G overnment because even in the kingdom of Rama there was one G overnment. For 2500 years, in the golden and silver ages, there was the one G overnment. There weren’t two for there to be any conflict. Here, they continue to say that the Chinese and Hindus are brothers, and then look what they continue to do! They continue to shoot each other. The world is such. Even husband and wife fight between themselves. A wife doesn’t take long to slap her husband. There is a lot of fighting in every home. The people of Bharat have forgotten that it is only a matter of 2,500 years ago when there was one g overnment. Now there are many g overnments and many religions and so there would definitely be fighting. You tell them that there was one g overnment in Bharat. That was called the Government of gods and goddesses. The path of devotion came later. There is no devotion in the golden and silver ages. People show their arrogance a great deal, but the knowledge they have isn’t worth a shell. They have a lot of other knowledge; knowledge for becoming a doctor, knowledge for becoming a barrister The Father says: Those who call themselves Doctors of Philosophy don’t have this knowledge at all. They don’t even understand what is called philosophy. Therefore, you children should have an interest in doing serv i ce and become helpers in establishment. You have to make something good and give that. As is the status of a person, so the invitation given to him. For example, there are many officers in the Government. There is the Education Minister and the Chief Minister. There should be an office here too. You should put whatever directions are given into practice. They have now written the Gorakhpuri Gita and they are all ready to distribute it free of charge. All the institutions have many f unds. When the Maharaja of Kashmir died, the Arya Samaj received all his property because he belonged to the Arya Samaj. Even sannyasis have a lot of money. You are using all the money you have for this service so that Bharat can become heaven. You are helping to make it into heaven. There is the difference of day and night. Day by day, those people continue to become residents of hell whereas the Father is now making you into residents of heaven. All are poor. It isn’t that we continue to accumulate money. You say: Baba, use these few pennies I have for the yagya, for service. At this time, all continue to fight and quarrel among themselves. There cannot be one government. So you should tell the Government that there definitely was the one sun and moon dynasty Government. You also desire that and it will definitely happen. The Father is establishing heaven. He is Heavenly God the Father. We are establishing the one deity Government. The devilish Government doesn’t exist there. All of them will be destroyed. You have very good knowledge and a lot can be achieved with that. Delhi is the h ead office. They can do a lot of service. The children there are very good too. There is Jagdish, Sanjay. However, all are Sanjay; there isn’t just one Sanjay. Each one of you is Sanjay. Your duty is to show everyone the path. The Father continues to explain to you very well, but some children are trapped in their own businesses and in looking after their children etc. While living at home with their families, they don’t become helpers of the Father. Here, you have to demonstrate this by doing service. How is the on e G overnment being established? This cycle and drama are showing you the time. Just as the picture of Ravan has been created, in the same way, make a big picture of the cycle and write on it: The hand has now reached the time. There now has to be the one Government once again. Baba gives you directions. Shiv Baba will not go into the streets and stumble around. If this one goes, it means that Shiv Baba has to stumble around. You should have regard for Baba. It is the children’s duty to do service. You should write: The one G overnment that existed in Bharat is once again being established. This sacrificial fire was created many years ago. All the rubbish of this world is to become merged in it. It is very easy, but it takes time to explain to everyone. There are no kings now. No one will believe just one person. Previously, when a new invention was created, they would get the word spread by the king because the king had that power. One becomes a king either through Raja Yoga or by donating a lot of wealth. Here, it is rule of the people. There isn’t the one Government (party). There is even a party of poor soldiers; they don’t take long to dishonour anyone. Many such activities continue to take place. Give them a little money and they will even kill big ministers. So, you children have to take the chance of doing service and not go to sleep. Just as people go to hear stories at religious gatherings and then go back home and become the same as they were and don’t have any enthusiasm, similarly, children too lack that enthusiasm. Government gardens would have many very good, first-class flowers. Their department is separate. When anyone goes there, they are first of all given first  class flowers. This too is the Father’s flower garden. If someone were to come here, what would you show them while taking them around? You would tell them the names. These are very good flowers. Tanger and uck flowers are also sitting here. They don’t sparkle; they don’t do any service. Every day, you definitely have to give someone the Father’s introduction. You are incognito and you have so many obstacles. You haven’t become worthy of doing service. Baba repeatedly tells you to go to the temples, to go to the cremation grounds. You should go and give lectures. You children have to give the proof of service. A few will emerge out of hundreds. You should also explain this to your friends and relatives. When people are afraid to come here, you should go to their homes and explain. They will become very happy when they receive the Father’s introduction. Baba says: There shouldn’t be any tiredness while doing service. Out of a hundred, one will emerge. You definitely have to tolerate something while establishing a kingdom. Until you have taken insults, you cannot become Kalangidhar (one who is worshipped because of having taken insults). Your intoxication of knowledge is high. However, where is the result? OK, you gave knowledge to 10 or 20, so if one or two awaken from that, you should tell Baba. Only when you have an interest in doing serv i ce will Baba give you a prize. Give the Father’s introduction: Who is your Father? Only then can the intoxication of the inheritance rise. You can give a lecture: No one in the whole world, apart from the Brahma Kumars and Kumaris, knows the history and geography of the world. Issue this challenge. Baba has mentioned the cremation grounds and so you should go there and do service. You do your business etc. for six to eight hours. So, where does the rest of your time go? You won’t be able to claim a high status just like that. Baba would say: You have come to marry Lakshmi or Narayan, but first of all look at your own face. What Baba explains is right. Just take up the one topic: Come and understand how the history and geographyof the world repeat. Print this in the newspapers. Try and hire a hall. You don’t even receive three square feet of land. They don’t recognise you. You are foreigners from the supreme abode. Souls have all come from the supreme abode. Therefore, all of you are foreigners. However, no one understands your language. Here, in the corporeal form, you are not told to touch anyone’s feet or to do things like that, such as kissing the feet of sages and great souls and then washing the feet and drinking that water! That is called worship of the elements. Bodies are made of the five elements. Look what the condition of Bharat has become! Therefore, the Father says: Give the proof of service. Give everyone happiness. Here, you should have just the one concern: to connect your intellects in yoga to the Father.

Song: Mother, you are the bestower of fortune for all.

Mother Jagadamba is the bestower of fortune. It is the mother who attains her status. She too says: Remember Shiv Baba. I imbibe knowledge from Him and then also inspire others to imbibe it. I make you fortunate. You are bestowers of fortune for Bharat, so you should have so much intoxication. Whatever is Mama’s praise is praise of the Father and also of Dada. You children should do physical service of the sacrificial fire and definitely do spiritual service too. Give everyone the mantra of “Manmanabhav”. “Manmanabhav” means to serve through the mind and “Madhyajibhav” means to serve through words. Serving through deeds is also included in that. You kumaris should become engaged in service. Very good service takes place in the villages. There is a lot of fashion in the big cities. There is a lot of temptation and so what can they do? Should we leave out the big cities? We can’t do that. The sound will spread in the big cities through the wealthy ones. However, the world has to be made into heaven with the magic of “Manmanabhav”. The Father sits here and explains who this Jagadamba is. She is the bestower of one hundred-fold fortune for Bharat. Her Shiv Shakti Army is also well known. Jagadamba is the head, that is, she is the head who establishes the one Government in Bharat. The incarnation of Shaktis, the mothers of Bharat, established the one Government in Bharat by following shrimat. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep your intellect connected in yoga to the one Father. Make this world into heaven with the magic of the mantra of “Manmanabhav”.
  2. Never become tired of doing service. Together with physical service, also do spiritual service. Remind everyone of the mantra of “Manmanabhav”.
Blessing: May you be an embodiment of success who achieves success in service with the powers to discern and decide.
Those who recognise the Father, themselves, the time, the Brahmin family and their elevated task with the power of discernment and then decide what they want to become and what they have to do are the ones who always achieve success in their service, in the things they do and in coming into connection and relationship with others. The basis of being an embodiment of success in service through mind, words and deeds, is the power to discern and decide.
Slogan: Become filled with the light and might of knowledge and yoga and you will overcome any adverse situation in a second.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 December 2018

To Read Murli 27 December 2018 :- Click Here
28-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – पुरानी दुनिया से ममत्व छोड़ सर्विस करने का उमंग रखो, हुल्लास में रहो, सर्विस में कभी थकना नहीं है”
प्रश्नः- जिन बच्चों को ज्ञान का नशा चढ़ा होगा, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उन्हें सर्विस का बहुत-बहुत शौक होगा। वह सदा मन्सा और वाचा सेवा में तत्पर रहेंगे। सबको बाप का परिचय दे सबूत देंगे। बादशाही स्थापन करने निमित्त सहन भी करना पड़े तो सहन करेंगे। बाप के पूरे-पूरे मददगार बन भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करेंगे।
गीत:- माता ओ माता तू सबकी भाग्य विधाता …….. 

ओम् शान्ति। अब नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार बच्चे माता को जानते हैं। माँ को जानते हैं तो जरूर बाप को भी जानेंगे। यह माँ-बाप सौभाग्य विधाता और भाग्य विधाता हैं। सौभाग्य विधाता उन्हें कहेंगे जो पुरुषार्थ कर अपना पूरा सौभाग्य बनाते हैं, सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी घराने में वर्सा लेते हैं सो भी नम्बरवार। बहुत तो ऐसे भी हैं जैसे भील होते हैं ना। बहुत साधारण प्रजा में जाकर जन्म लेंगे। वह मर्तबा नहीं पा सकते। बाप तो जरूर समझायेंगे – बच्चे, इस पुरानी दुनिया से ममत्व मत रखो। दुनिया बिचारी तो चिल्लाती रहती है। बच्चों में सर्विस करने का शौक और उमंग चाहिए। किन्हों को भल उमंग आता है, परन्तु सर्विस करने का ढंग नहीं आता है। डायरेक्शन तो बहुत मिलते हैं। लिखत भी बड़ी रिफाइन चाहिए। त्रिमूर्ति और झाड़ के चित्र 30X40” के होने चाहिए। यह बहुत यूज़फुल चीज़ें हैं। परन्तु इनका कदर बच्चों में कम है। भल संजय का बहुत मान है परन्तु वह गायन पिछाड़ी का है। जैसे कहते हैं अतीन्द्रिय सुख गोप-गोपियों से पूछो, वह भी पिछाड़ी की अवस्था का गायन है। अभी वह सुख किसको थोड़ेही है। अभी तो रोते गिरते रहते हैं। माया थप्पड़ मार देती है। भल रोज़ आते हैं परन्तु वह नशा थोड़ेही चढ़ता है। तुमको सर्विस के चांस बहुत मिलते हैं।

अब कहते रहते हैं वन रिलीजन हो। वन गवर्मेन्ट भारत में थी। उनको ही स्वर्ग कहा जाता था। परन्तु कोई जानते नहीं। 5 हजार वर्ष पहले की बात है जबकि एक गवर्मेन्ट थी। 2500 वर्ष भी कह सकते हैं क्योंकि राम के राज्य में भी एक गवर्मेन्ट थी। 2500 वर्ष आगे सतयुग-त्रेता में वन गवर्मेन्ट थी। दो थी ही नहीं, जो ताली बजे। यहाँ भी कहते रहते हैं हिन्दू चीनी भाई-भाई फिर देखो क्या करते रहते हैं! गोली चलाते रहते हैं। यह दुनिया ही ऐसी है। स्त्री-पुरुष भी आपस में लड़ पड़ते हैं। स्त्री पति को भी थप्पड़ मारने में देर नहीं करती। घर-घर में बहुत झगड़े रहते हैं। भारतवासी भी भूले हुए हैं कि 2500 वर्ष पहले की बात है जबकि वन गवर्मेन्ट थी। अभी तो अनेक गवर्मेन्ट, अनेक धर्म हैं तो जरूर झगड़ा रहेगा। तुम बतलाते हो भारत में एक गवर्मेन्ट थी। उसको कहा जाता है भगवान् भगवती की गवर्मेन्ट। भक्ति मार्ग होता ही बाद में है। सतयुग त्रेता में भक्ति होती नहीं। मनुष्य अपना अहंकार बहुत दिखाते हैं परन्तु ज्ञान कौड़ी का भी नहीं है। यूं ज्ञान तो बहुत है ना। डॉक्टरी का ज्ञान, बैरिस्टरी का ज्ञान….। बाप कहते हैं जो डॉक्टर ऑफ फिलासाफी कहलाते हैं उनके पास यह ज्ञान जरा भी नहीं है। फिलासाफी किसको कहा जाता है – यह भी समझते नहीं। तो तुम बच्चों को सर्विस का शौक रखना है, स्थापना में मददगार बनना है। अच्छी चीज़ बनाकर देनी है। जैसे मनुष्य वैसा निमंत्रण दिया जाता है। जैसे गवर्मेन्ट में बहुत ऑफीसर्स हैं, एज्यूकेशन मिनिस्टर है, चीफ मिनिस्टर है, यहाँ भी ऑफिस होनी चाहिए। डायरेक्शन निकलें वह फिर अमल में लावें। अब देखो गोरखपुरी गीतायें निकलती हैं सब फ्री देने के लिए तैयार रहते हैं। जो भी संस्थायें हैं उनको फन्ड्स बहुत है। कश्मीर का महाराजा मरा तो सारी मिलकियत आर्य समाजियों को मिली क्योंकि आर्य-समाजी था। सन्यासियों आदि के पास भी बहुत पैसे रहते हैं। तुम्हारे पास भी जो पैसा आदि है वह सब इस सेवा में लगा रहे हो ताकि भारत स्वर्ग बनें। तुम स्वर्ग बनाने में मदद करते हो। रात-दिन का फ़र्क है। वह दिन प्रतिदिन नर्कवासी बनते जाते हैं तुमको अब बाप स्वर्गवासी बनाते हैं। हैं तो सब गरीब, ऐसे नहीं कि हम पैसे इकट्ठे करते हैं। तुम तो कहते हो बाबा यह पाई पैसा सब यज्ञ में, सर्विस में लगा दो। इस समय तो सब आपस में लड़ते रहते हैं। वन गवर्मेन्ट तो हो नहीं सकती। तो गवर्मेन्ट को बताना चाहिए कि सूर्यवशी चन्द्रवंशी बरोबर वन गवर्मेन्ट थी। तुम भी चाहते हो तो वह होगी जरूर। बाप स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। वह है ही हेविनली गॉड फादर। हम वन डीटी गवर्मेन्ट स्थापन कर रहे हैं। वहाँ डेविल गवर्मेन्ट होती नहीं। उन सबका विनाश हो जाता है। तुम्हारे पास नॉलेज बहुत अच्छी है, बहुत काम हो सकता है। देहली हेड आफिस है। बहुत सेवा कर सकते हैं। वहाँ बच्चे भी बहुत अच्छे हैं। जगदीश संजय भी है। परन्तु संजय तो सब हैं ना, एक नहीं। तुम हर एक संजय हो। तुम्हारा काम है – सबको रास्ता बताना। बाप तो अच्छी राति समझाते रहते हैं, परन्तु बच्चे अपने ही धन्धेधोरी में, बच्चों आदि की सम्भाल में फँसे हुए हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते बाप के मददगार बनें, वह नहीं हैं। यहाँ तो सर्विस कर दिखाना है। वन गवर्मेन्ट कैसे स्थापन हो रही है, यह पा, ड्रामा देखो समय दिखा रहा है। जैसे रावण का चित्र बनाया है, वैसे बड़ा चक्र बनाकर लिखना चाहिए – अब कांटा आकर पहुँचा है। फिर वन गवर्मेन्ट होनी है। बाबा डायरेक्शन देते हैं। शिवबाबा तो गलियों में जाकर धक्के नहीं खायेंगे। अगर यह जाए तो गोया शिवबाबा को धक्के खाने पड़े। बच्चों को रिगार्ड रखना चाहिए। यह सर्विस करना बच्चों का काम है। लिखना चाहिए वन गवर्मेन्ट, जो भारत में थी, वह फिर से स्थापन हो रही है। कितने वर्षो से यह यज्ञ रचा हुआ है! सारी दुनिया का जो कचरा है वह इसमें समा जाना है। है बहुत सहज, परन्तु सभी को समझाने में समय चाहिए। राजा तो कोई है नहीं। किसी एक को सभी थोड़ेही मानेंगे। पहले कोई भी नई इनवेन्शन निकलती थी तो राजाओं द्वारा उसका विस्तार कराते थे क्योंकि राजा में ताकत रहती है। किंग बनते हैं या तो राजयोग से या बहुत धन दान करने से। यहाँ तो है ही प्रजा का राज्य। एक गवर्मेन्ट नहीं है। एक फ़कीर सिपाही भी गवर्मेन्ट है, किसका पटका उतारने में देरी नहीं करते। ऐसे बहुत काम होते रहते हैं। दो पैसा दो तो बड़े मिनिस्टर को भी मार डालते हैं।

तो तुम बच्चों को सेवा का चांस लेना है, सोना नही है। जैसे सतसंग में कथा सुनकर फिर घर में जाकर वैसे ही बन जाते, कोई हुल्लास नहीं रहता। ऐसे बच्चों में भी हुल्लास कम है। गवर्मेन्ट का बगीचा होता है तो उसमें बहुत अच्छे फर्स्टक्लास फूल होते हैं, उनकी डिपार्टमेन्ट ही अलग होती है। कोई भी जायेंगे तो पहले फर्स्टक्लास फूल लाकर देंगे। बाप की भी यह फुलवाड़ी है, कोई आयेंगे तो हम क्या सैर करायेंगे? नाम बतायेंगे-यह अच्छे-अच्छे फूल हैं। टांगर, अक के भी फूल बैठे हैं, चमकते नहीं हैं, सर्विस नहीं करते। रोज़ कोई न कोई को बाप का परिचय अवश्य देना चाहिए। तुम तो हो गुप्त, कितने विघ्न पड़ते हैं। सर्विस लायक बने नहीं हैं। बाबा बार-बार कहते हैं मन्दिरों में जाओ, शमशान में जाओ, भाषण जाकर करना चाहिए। बच्चों को सर्विस का सबूत देना है। सैकड़ों से कोई निकलेंगे। मित्र-सम्बन्धियों आदि को भी समझाना चाहिए। यहाँ आने से डरते हैं तो घर में जाकर समझा सकते हो। बाप का परिचय मिलने से बहुत खुश हो जायेंगे। बाबा कहते सर्विस में थकावट नही होनी चाहिए। 100 में से एक निकलेंगे। बादशाही स्थापन करने में सहन जरूर करना पड़े। जब तक गाली नहीं खाई है तब तक कलंगीधर नहीं बनेंगे। ज्ञान का नशा चढ़ा हुआ है। परन्तु रिजल्ट कहाँ! अच्छा, 10-20 को ज्ञान दिया, उनसे एक-दो जागे वह भी बतलाना चाहिए ना। सर्विस का शौक चाहिए तब बाबा इनाम देंगे। बाप का परिचय दो – तुम्हारा बाप कौन है? तब ही फिर वर्से का नशा चढ़े। तुम भाषण करो – वर्ल्ड में सिवाए ब्रह्माकुमार-ब्रह्माकुमारियों के वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कोई भी नहीं जानते। चैलेन्ज करो। बाबा ने शमशान की बात उठाई तो तुमको शमशान में जाकर सर्विस करनी चाहिए। धन्धाधोरी तो फिर भी 6-8 घण्टा करेंगे, बाकी समय कहाँ चला जाता है? ऐसे फिर ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। बाबा कहेंगे तुम आये हो नारायण को वा लक्ष्मी को वरने परन्तु अपनी शक्ल तो देखो। बाबा समझाते तो ठीक हैं ना। एक ही टॉपिक उठाओ वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी आकर समझो-कैसे रिपीट होती है। अखबार में डालो। हाल लेने की कोशिश करो। तुमको तीन पैर पृथ्वी नहीं मिलती। पहचानते नहीं हैं।

तुम हो परमधाम के फारेनर्स। आत्मायें सब परमधाम से आई हैं, तो यहाँ सब फारेनर्स हुए ना। परन्तु तुम्हारी यह भाषा कोई समझते नहीं। यहाँ साकार में नहीं बताया जाता कि पांव छुओ, यह करो। जैसे साधू-महात्माओं के पांव चूमकर धोकर पीते हैं, उसको तत्व पूजा कहा जाता है। 5 तत्वों का शरीर है ना। भारत का क्या हाल हो गया है। तो बाप कहते हैं सर्विस का सबूत दो, सभी को सुख दो। यहाँ तो बस यह तात लगी रहे, यह चिंता रहे। बुद्धियोग बाप के साथ हो।

गीत:- माता तू सबकी भाग्य विधाता…..

माता जगत अम्बा भाग्य विधाता है। पद माता पाती है। वह भी कहती शिवबाबा को याद करो, मैं भी उनसे धारण करके औरों को धारण कराती हूँ, सौभाग्य बनाती हूँ। तुम हो भारत के सौभाग्य विधाता। तो कितना नशा होना चाहिए। जो मम्मा की महिमा सो बाप की महिमा, सो दादे की। तुम बच्चों को यज्ञ की स्थूल सेवा भी करनी चाहिए तो रूहानी सेवा भी जरूर करनी चाहिए। मनमनाभव का मंत्र सबको देना है। मनमनाभव यह है मन्सा, मध्याजी भव यह है वाचा। इसमें कर्मणा भी आ गई। कन्याओं को सर्विस में लग जाना चाहिए।

गांवों में सर्विस अच्छी होती है। बड़े शहरों में बहुत फैशन है। टैम्पटेशन बहुत है तो क्या करें? क्या बड़े शहरों को छोड़ दें? ऐसे भी नहीं। बड़े शहरों से, साहूकारों से आवाज़ निकलेगा। बाकी दुनिया को तो इस मनमनाभव के छू मंत्र से स्वर्ग बनाना है। बाप बैठ समझाते हैं यह जगदम्बा कौन है, यह है भारत की सौभाग्य विधाता, इनकी शिव शक्ति सेना भी मशहूर है। हेड है जगदम्बा अर्थात् भारत में वन गवर्मेन्ट की स्थापना करने वाली हेड। भारत माता शक्ति अवतारों ने भारत में वन गवर्मेन्ट स्थापन की है, श्रीमत के आधार पर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धियोग एक बाप से रखना है, मनमनाभव के छू मंत्र से इस दुनिया को स्वर्ग बनाना है।

2) सर्विस में कभी थकना नहीं है। स्थूल सेवा के साथ-साथ रूहानी सेवा भी करनी है। मनमना-भव का मंत्र सबको याद दिलाना है।

वरदान:- परखने वा निर्णय करने की शक्ति द्वारा सेवा में सफलता प्राप्त करने वाले सफलता-मूर्त भव
जो परखने की शक्ति द्वारा बाप को, अपने आपको, समय को, ब्राह्मण परिवार को और अपने श्रेष्ठ कर्तव्य को पहचान कर फिर निर्णय करते हैं कि क्या बनना है और क्या करना है, वही सेवा करते, कर्म वा संबंध सम्पर्क में आते सदा सफलता प्राप्त करते हैं। मन्सा-वाचा-कर्मणा हर प्रकार की सेवा में सफलतामूर्त बनने का आधार है परखने और निर्णय करने की शक्ति।
स्लोगन:- ज्ञान योग की लाइट माइट से सम्पन्न बनो तो किसी भी परिस्थिति को सेकेण्ड में पार कर लेंगे।

TODAY MURLI 28 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 December 2017 :- Click Here

28/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, imbibe good sanskars and serve to make impure ones pure. Become sticks for the blind.
Question: What stage will you have in the final period?
Answer: In the final period you will constantly be on the spiritual pilgrimage. You will have visions while just sitting down somewhere. You will continue to remember the Father and your inheritance. You will continue to see heaven: “We will soon receive this reward!” You will remain cheerful. However, if you haven’t made good effort, there will be repentance. There will also be visions of punishment.
Song: O traveller of the night, do not become weary! The destination of dawn is not far off.

Om shanti. This is a spiritual pilgrimage. This spiritual pilgrimage has the greatest importance. This is Godly language, it is a lecture. You too give lectures. The Father says: I give the most lectures because I am the Ocean of Knowledge and I am also the Purifier and the Bestower of Salvation. Salvation is received through knowledge. The Father says: In fact, I only have one name. Only the One is called the Ocean of Knowledge and the Bestower of Salvation. There cannot be many who are called this. Other people understand that this is a drama. They still show a cycle, but they have shown various durations for it. Knowledge of the cycle is also required. By saying that it has a duration of hundreds of thousands of years, they are unable to think about anything. The Father is called the Bestower of Salvation for All and the Liberator. So many souls that have come from up above were not here before and they will definitely not remain here. So, who will come and take all of them back? Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is the Guide. A guide means one who leads the way. They sing that He is the Purifier, the Guide and the Bestower of Salvation for All. A guru is one who gives liberation. A guru is kept at the front and the followers follow behind him. It is not like that here. Here, the Father says: Children, you go ahead of Me because this is also a cowshed. The cowherd remains behind the cows. Otherwise, the cows would wander off somewhere. The Father too stays behind you. Nowadays, devotees think that their mahatma should be at the front. They consider it disrespectful to go ahead of him. Baba says: Children, you are at the front. The Father has to keep an eye on everything from the rear so that no one can eat you up. There is the example of the boy who cried wolf, but there was no wolf. Similarly, people say about you that the BKs are saying that destruction will take place, but it doesn’t happen. However, it definitely will happen. As you progress further, people will understand that this truly is the time for destruction. You children know why there will be destruction. The world doesn’t know anything about this. OK, what happened after the Mahabharat War? No one knows. You children also know, numberwise, according to the efforts you make. We have Baba’s help. You know that Baba has come to purify the impure. So you children also have to do this service and claim a high status: you have to purify the impure and become sticks for the blind. You are shown the path to Alpha and beta. Then the study is very easy. The tree is standing just in front of you. The picture of the Trimurti, with Shiva in it, isnumber one. The Trimurti is very well known. Shiva, the Supreme Soul, is higher than they are. Those are subtle beings. The Supreme Soul is higher than they are, but people don’t know His name, form, land or time; nor did you children know this at first. Day by day, everything is being explained to you. You have now understood that you are souls. Sanskars are recorded in the soul. Good and bad sanskars are in the soul. At this time, there are very few good sanskars. The rest are bad sanskars that make you fall. At this time, it wouldn’t be said that anyone has good sanskars. This is Ravan’s kingdom. In this world of Maya, some people are good and others are bad. If someone commits a sin, it would be said: That one’s sanskars are not good. Those with bad sanskars go in front of the idols of the deities who had good sanskars and sing their praise. Bharat had completely good sanskars. It now has bad sanskars. People don’t even know this. The Father explains that new souls who came down from up above had good sanskars at first; they then became bad. They are the ones who have to become satopradhan from tamopradhan. The picture of Bharat is in front of you. Those who have bad sanskars sit and speak about the deities because they had divine virtues. Those people have devilish traits. They understand that it is devilish nature to indulge in vice. That is why sannyasis run away. People then say: I am a follower of such-and-such a sannyasi. However, not everyone follows them. You know that those deities belonged to the pure family path. They are the ones who have now become impure. The Father explains: You have taken the full 84 births. The deity world and the devilish world have been remembered. You now understand that it is because of Ravan that there has been so much sorrow. The Father explains to you face to face that you were worthy of worship and that you have now become worshippers. I have now come to make you worthy of worship. The Father is ever worthy of worship. Brahma cannot be called ever worthy ofworship. Only the one Father who is ever worthy of worship says: I come and make you worthy of worship for 21 births. There are so many goddesses. Many of you together made Bharat pure. Your intellects now have first-class knowledge of how the world cycle turns. The Father alone explains all the secrets and takes you on the spiritual pilgrimage with Him. He is the spiritual Father, the Father of souls. It is in praise of Him that they sing: O Purifier, come! Many people do believe that it is the soul that becomes impure. Some don’t understand this. Good and bad sanskars are in the soul. It is the soul that takes sorrow. The Father says: Children, do service. Make sinful souls pure and charitable. The praise of Bharat is that there aren’t as many charitable souls anywhere else as there are in Bharat. It is in Bharat that people sacrifice themselves to Shiva, but they don’t understand the meaning of that. They believe that they will go to the land of Shiva, the land of liberation. It isn’t that they receive liberation in a second. Yes, they are liberated from the sins they have committed but none of them can go back to the sweet home. The sweet home is the home of the Mother and Father. People don’t know anything at all. They simply speak of God with blind faith. If God is One, then why do they speak of the Mother and Father? He is the Creator and so there would surely also be the Mother. How else would He create creation? “You are the Mother and Father and we are Your children.” Therefore, the children are physical. Shiv Baba makes you belong to Him through the mouth of Brahma. He enters this one and adopts you. You are now listening to the Father face to face. You will then listen to Him again after 5000 years. Everything that you now write will end. Then, who will tell you these things? For example, sometimes old papers are dug up from which they make scriptures. Then the same scriptures of the path of devotion will emerge again; they are not created anew. According to the drama plan, the same scriptures emerge from down below. There will be the same Gita, Bhagawad, Mahabharata, Ramayana, etc. There will be the same things in heaven as there were in the previous cycle. We now understand that we will go to heaven and build such palaces. You children should have permanent happiness that you will go and become princes. If you don’t have faith, that is like sitting in a school but not understanding anything. Here, too, if you understand the knowledge but are unable to explain to others, you would be called senseless. There will be kings, but some will be the sun dynasty and others will be the moon dynasty. There is a lot of difference in how you study. The Father continues to explain to you very well: Children, you have to make effort very well. What else would the Father do? He would explain that you should remain on the spiritual pilgrimage. If you are unable to explain anything else, then simply explain the pictures. It has been seen that those to whom you explain these things go ahead. Those of other religions also come. Baba has already granted visions of Abraham, Buddha and Christ coming. All of these things are very easy to understand. It is very easy to understand the world cycle. The difficult thing is to stay in remembrance of the Father and to become pure. It is the spiritual pilgrimage in which you become tired that is difficult. If you stayed in remembrance throughout the whole day, you would reach your karmateet stage. You pass in school when your results are announced. The main thing is the pilgrimage of remembrance. The term ‘spiritual pilgrimage’ is very good. There is effort required for yoga. There are many who teach hatha yoga, but this is spiritual yoga. No one, apart from you, can explain this. It is only through this Raja Yoga that people can become pure from impure. Only Baba and you children can teach this yoga. When all the people outside hear these things, they will say that our yoga is right and that all the other types of yoga are false. You children have to go out there. No one knows this yoga. Theirs is called hatha yoga. This is Raja Yoga. God speaks: I teach you Raja Yoga whereas human beings teach hatha yoga. Now, who is God? Krishna claimed such a high status by having yoga. God is the highest-on-high, incorporeal One. The knowledge of the Seed and the tree is very easy. However, they are unable to stay in remembrance. It is very easy to explain the secrets of the tree to anyone. Some children explain this very well, but it requires effort to stay in yoga. If you continue to repeatedly caution one another, that too is great fortune. You understand that this is easy and also difficult. Many fail in this. Therefore, they say, “Let us sit in yoga; we would like to remain in peace”, because they have heard of peace. Some say that they experience peace when they have specially conducted meditation. That is a lie. To sit in yoga for half an hour and then go away is not real peace. That is just temporary peace. Only when you live at home with your family, remain pure and stay on the spiritual pilgrimage can you receive peace. You can continue on the pilgrimage while sitting in your office or at home. You will have this stage at the end. You will continue to have visions while just sitting down somewhere. You will continue to remember the Father and your inheritance. You will continue to see Paradise: “We will now receive this reward”. You will have many visions at the end. It is here that there will be repentance when you see what so-and-so has become and what you have become. There will also be a lot of punishment. The Father will say: I continued to explain to you, but you didn’t understand. No one can receive punishment without proof. Punishment will be given after you are granted those visions. So, everything is explained to you children very well. If you don’t make effort now, you will make effort in the same slack way every cycle. You can understand that so-and-so can claim a higher status than you because he has a lot of interest in doing service. He is eager to show the path to anyone who comes. He has so much happiness to take across those who are drowning. Those who know how to swim dive in instantly to save someone. It is sung: Take my boat across. The Father is showing us the true path. We have received the order to explain our aim to anyone who comes here. However, all the scriptures etc. belong to devotion cult s. The Purifier is only the one Father who comes and gives you the knowledge of the Gita. The rosary of Shri Shri 108 is the rosary of Rudra, that is, of incorporeal Shiva. The Incorporeal comes here and teaches us. This is not the knowledge of any scriptures. The Father is speaking knowledge to us. There is praise of the Father. He is the Ocean of Knowledge. Explain in such a way that they are unable to interrupt. We are studying with the unlimited Father. That Father is the Bestower of Salvation for all. You should emphasise this. If they don’t understand it, then leave them and tell them: You are not souls of the deity religion. Leave this path. However, you need courage to tell them. Even some sannyasis come here. As you progress further, there will be expansion. So many people go to bathe in the Ganges at the Kumbha mela. Day by day, devotion continues to become tamopradhan. This is called the Fall of Pomp. There is also a play in which they show how the world was destroyed. It is now their p omp. You children should always have the intoxication that Baba is teaching you. Baba is showing us the path to the land of happiness. If we don’t show the path to others, how can we be called children? By having wrong behaviour we lose our honour. Many children think that the Father doesn’t know about it when they commit sin. Oh! but even on the path of devotion I am aware of everything and this is why you receive the fruit of it. The Father feels compassion because, even now, children hide things and continue to make mistakes. They don’t understand. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to stay on the spiritual pilgrimage, continue to caution one another. In order to reach the karmateet stage, make effort to stay in remembrance throughout the day.
  2. Don’t have any wrong behaviour. Show everyone the path to the land of happiness. Have an interest in doing service.
Blessing: May you renounce even any subtle traces of body consciousness and arrogance and become subtle to incorporeal.
Some do not have any attachment to physical bodies nor do they have arrogance, but they do have ego in relation to their bodies. This means they have ego, intoxication and bossiness about having special sanskars, special intellects, special virtues, special talents or special powers. This is subtle ego of the body. This ego will never allow you to become a subtle angel or incorporeal. So, renounce even the slightest trace of that and you will easily be able to become subtle to incorporeal.
Slogan: Be co-operative at a time of need and you will receive a multimillion-fold return.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 December 2017

To Read Murli 27 December 2017 :- Click Here
28/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें अच्छे संस्कार धारण कर पतितों को पावन बनाने की सर्विस करनी है, अंधों की लाठी बनना है”
प्रश्नः- पिछाड़ी के समय कौन सी अवस्था आनी है?
उत्तर:- पिछाड़ी के समय निरन्तर रूहानी यात्रा करते रहेंगे। बैठे-बैठे साक्षात्कार होंगे। बाप और वर्सा याद आता रहेगा। वैकुण्ठ देखते रहेंगे, बस अभी हम यह प्रालब्ध पायेंगे। हर्षित होते रहेंगे। परन्तु अच्छा पुरुषार्थ नहीं किया तो पछताना भी होगा। सज़ाओं का भी साक्षात्कार करेंगे।
गीत:- रात के राही…

ओम् शान्ति। यह है रूहानी यात्रा। सबसे जास्ती महत्व इस रूहानी यात्रा का है। यह है ईश्वरीय भाषा अथवा भाषण। तुम भी भाषण करते हो ना। बाप कहते हैं – सबसे जास्ती तो मैं भाषण करता हूँ क्योंकि मैं ज्ञान का सागर हूँ और फिर पतित-पावन सद्गतिदाता हूँ। ज्ञान से सद्गति होती है। बाप कहते हैं – वास्तव में मेरा नाम भी एक ही है। ज्ञान का सागर और सद्गति दाता तो एक को ही कहेंगे। बहुतों को तो नहीं कह सकते। दूसरे मनुष्य यह भी समझते हैं कि यह ड्रामा है। चक्र भी दिखाते हैं। परन्तु चक्र की आयु भिन्न-भिन्न दिखाते हैं। चक्र का भी ज्ञान चाहिए। लाखों वर्ष कह देने से कोई बात का विचार भी नहीं कर सकते। बाप को कहते हैं सर्व का सद्गति दाता, लिबरेटर। इतनी आत्मायें जो ऊपर से आई हैं, पहले यहाँ नहीं थी फिर जरूर नहीं होंगी। तो इतने सबको कौन आकर वापिस ले जायेंगे। गाइड तो है ही एक परमपिता परमात्मा। गाइड अर्थात् जो आगे रास्ता दिखाता चले। गाते भी हैं पतित-पावन, गाइड है। सर्व का सद्गति दाता है। गुरू होता ही है गति करने वाला। गुरू को आगे, फालोअर्स को पीछे रखा जाता है। यहाँ ऐसी बात नहीं है। यहाँ तो बाप कहते हैं बच्चे तुम आगे चलो क्योंकि गऊशाला भी है ना। गऊओं के पीछे-पीछे ग्वाला रहता है, नहीं तो गऊएं इधर-उधर चली जायें। बाप भी पिछाड़ी में रहते हैं। आजकल भगत लोग समझते हैं – आगे महात्मा जी हों। उनसे आगे जाना बेइज्जती समझते हैं। बाबा कहेंगे बच्चे तुम आगे हो। बाप को तो पिछाड़ी में सारी नज़र करनी पड़ती है कि कोई खा न जाये। मिसाल है ना शेर रे शेर.. परन्तु शेर था नहीं। तुम्हारे लिए भी कहते हैं कि यह बी.के. तो कहती हैं विनाश होगा, होता नहीं है। परन्तु होना तो जरूर है। आगे चल मनुष्य समझ जायेंगे बरोबर विनाश का समय है। तुम बच्चे जानते हो विनाश किसलिए है? दुनिया को कुछ मालूम नहीं। अच्छा महाभारत लड़ाई के बाद क्या हुआ? किसको पता नहीं। तुम बच्चे भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते हो। हमको बाबा की मदद है। तुम जानते हो बाबा आया है पतितों को पावन बनाने। तो बच्चों को भी यही सर्विस कर ऊंच पद पाना है, पतितों को पावन बनाना है। अन्धों की लाठी बनना है। रास्ता बताया जाता है, अल्फ और बे का। बस फिर पढ़ाई बहुत सहज है। झाड़ सामने खड़ा है। त्रिमूर्ति तो नम्बरवन है शिव के साथ। त्रिमूर्ति मशहूर है। शिव परमात्मा तो उनसे भी ऊंच है। वह तो फिर भी सूक्ष्म है। उनसे ऊंच है परमात्मा। परन्तु उनका नाम, रूप, देश, काल कुछ भी नहीं जानते। तुम बच्चे भी पहले नहीं जानते थे। दिन-प्रतिदिन सब कुछ समझाया जा रहा है। अभी तुम समझ चुके हो हम आत्मा हैं। संस्कार आत्मा में भरते हैं। अच्छे वा बुरे संस्कार आत्मा में हैं। इस समय अच्छे संस्कार बहुत कम हैं। बाकी हैं बुरे गिरने के संस्कार। इस समय कोई के भी अच्छे संस्कार नहीं कहेंगे। जबकि है ही रावणराज्य। मायावी दुनिया में भी कोई अच्छे, कोई बुरे तो होते ही हैं। कोई पाप करते होंगे तो कहेंगे इनके संस्कार अच्छे नहीं हैं। बुरे संस्कार वाले अच्छे संस्कार वाले देवताओं के आगे जाकर उनकी महिमा गाते हैं। भारत बिल्कुल अच्छे संस्कार वाला था। अब बुरे संस्कार वाला है। मनुष्य को यह भी पता नहीं है। बाप समझाते हैं जो ऊपर से नई आत्मायें आती हैं, पहले अच्छे संस्कार वाली होती हैं फिर बुरी हो जाती हैं। फिर उन्हों को ही तमोप्रधान से सतोप्रधान जरूर होना है। भारत के ही चित्र सामने हैं। बुरे संस्कार वाले बैठ देवताओं का वर्णन करते हैं क्योंकि वह हैं दैवीगुण वाले। यह हैं आसुरी गुण वाले। समझते भी हैं विकार में जाना आसुरी स्वभाव है इसलिए सन्यासी भाग जाते हैं। फिर कहते हैं मैं फलाने सन्यासी का फालोअर्स हूँ। परन्तु सब तो फालो करते नहीं।

तुम जानते हो यह देवी-देवता पवित्र प्रवृत्ति मार्ग के थे, वही अब अपवित्र बने हैं। बाप समझाते हैं – तुमने पूरे 84 जन्म लिए हैं। दैवी दुनिया और आसुरी दुनिया गाई जाती है। अभी तुम समझते हो रावण के कारण ही इतना दु:ख हुआ है। बाप सम्मुख समझाते हैं तुम ही पूज्य थे सो अब पुजारी बने हो। फिर मैं आकर पूज्य बनाता हूँ। बाप तो सदा पूज्य है ब्रह्मा को एवर पूज्य नहीं कहेंगे। एवर पूज्य एक बाप ही है जो कहते हैं मैं आकर तुमको 21 जन्मों के लिए पूज्य बनाता हूँ। बहुत ढेर के ढेर देवियाँ हैं। तुम बहुतों ने मिलकर भारत को पावन बनाया है। अब तुम्हारी बुद्धि में फर्स्टक्लास नॉलेज है कि सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। बाप ही सारा राज़ समझाकर अपने साथ रूहानी यात्रा पर ले जाते हैं। वह है प्रीचुअल फादर, आत्माओं का बाप। उनकी ही महिमा गाते हैं – हे पतित-पावन आओ। बहुत मनुष्य समझते हैं कि आत्मा पतित होती है। कई फिर नहीं भी समझते हैं। बुरे वा अच्छे संस्कार आत्मा में ही हैं, आत्मा ही दु:ख उठाती है। तो बाप समझाते हैं बच्चे सर्विस करो। पाप आत्माओं को पावन पुण्य आत्मा बनाओ। भारत का गायन है कि भारत जैसा पुण्य आत्मा कोई नहीं। शिव पर बलि भी भारत में चढ़ते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। समझते थे हम शिवपुरी मुक्तिधाम में चले जायेंगे। ऐसे नहीं कि सेकण्ड में उन्हों को मुक्ति मिलती है। हाँ जो पाप किये हुए हैं उनसे मुक्ति मिलती है। बाकी वापिस स्वीट होम में तो कोई जा नहीं सकते। स्वीट होम है मात-पिता का घर। मनुष्य तो कुछ भी जानते नहीं। अन्धश्रधा से सिर्फ ईश्वर कह देते हैं। जब ईश्वर एक है फिर मात-पिता क्यों कहते हो? वह है रचता तो जरूर माता भी होगी, नहीं तो रचना कैसे हो? तुम मात-पिता हम बालक तेरे…. तो बालक जिस्मानी ठहरे ना। शिवबाबा ब्रह्मा मुख द्वारा तुमको अपना बनाते हैं, इनमें प्रवेश कर एडाप्ट करते हैं। अभी तुम बाप द्वारा सम्मुख सुन रहे हो। फिर 5 हजार वर्ष के बाद सुनेंगे। अभी जो तुम लिख रहे हो वह सब खत्म हो जायेगा। फिर यह बातें बताये कौन? समझो कोई नीचे से पुराने कागज आदि निकलते हैं, जिससे शास्त्र बैठ बनाते हैं फिर भी भक्ति मार्ग वाले वही शास्त्र निकलेंगे। कोई नये नहीं बनाये हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार नीचे से वही निकले होंगे। गीता, भागवत, महाभारत, रामायण आदि फिर भी वही बनेंगे। स्वर्ग की सामग्री भी वही बननी है जो कल्प आगे थी। हम अभी समझते हैं स्वर्ग में जाकर ऐसे-ऐसे महल बनायेंगे।

तुम बच्चों को स्थाई खुशी रहनी चाहिए। हम जाकर प्रिन्स बनेंगे। अगर निश्चय नहीं है तो स्कूल में जैसा बेसमझ बैठा हो। यहाँ भी अगर नॉलेज समझकर किसको समझाते नहीं तो बेसमझ हुए ना। राजायें तो बनने हैं फिर कोई सूर्यवंशी में बनेंगे कोई चन्द्रवंशी में। पढ़ाई में बहुत-बहुत फ़र्क पड़ जाता है। बाप तो अच्छी रीति समझाते रहते हैं। बच्चों को अच्छी रीति पुरुषार्थ करना पड़े। बाप और क्या करेंगे? समझायेंगे रूहानी यात्रा पर रहो। और कुछ नहीं समझा सकते हो तो चित्रों पर समझाओ। यह भी देखते हो जिनको समझाते हैं वह तीखे हो जाते हैं। और धर्म वाले भी आते हैं। बाबा ने साक्षात्कार तो पहले ही कराये हैं कि यह इब्राहम, बौद्ध, क्राइस्ट भी आयेंगे। यह सब समझने की बातें बिल्कुल ही सहज हैं। सृष्टि चक्र को समझना बहुत सहज है। मुश्किल बात है – बाप की याद में रहना। पवित्र भी बन जायें। डिफीकल्ट है रूहानी यात्रा, जिसमें थक जाते हैं। अगर सारा दिन याद ठहर जाये फिर तो कर्मातीत अवस्था ही हो जाये। स्कूल में पास तो तब होंगे जब रिजल्ट निकलेगी। मुख्य है रूहानी यात्रा की बात। रूहानी यात्रा, यह अक्षर बहुत अच्छा है। योग में ही मेहनत है। हठयोग सिखलाने वाले तो बहुत हैं परन्तु यह है रूहानी योग। तुम्हारे सिवाए कोई समझा नहीं सकते। इस राजयोग से ही मनुष्य पतित से पावन हो सकते हैं। यह योग बाबा और तुम बच्चे ही सिखला सकते हो। बाहर में जब सभी सुनेंगे तो कहेंगे कि हमारा योग ठीक है और सभी झूठे योग हैं। बाहर में भी बच्चों को जाना तो है ना। इस योग को कोई जानते नहीं हैं। उसका नाम ही है हठयोग। यह है राजयोग। भगवानुवाच, मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ, वह हठयोग मनुष्य सिखाते हैं। अब भगवान कौन? कृष्ण ने तो योग से इतना पद पाया। भगवान तो ऊंचे ते ऊंच निराकार है। तो बीज और झाड़ का ज्ञान बहुत सहज है। बाकी याद में नहीं रह सकते। झाड़ आदि का राज़ बहुत सहज है किसको समझाना। बच्चे बहुत अच्छी रीति समझाते भी हैं, बाकी योग में मेहनत है। घड़ी-घड़ी एक दो को सावधानी देते रहें तो भी अहो भाग्य। समझते हैं सहज भी है तो मुश्किल भी है। बहुत फेल होते हैं इसलिए कहते हैं हमको योग में बिठाओ, हमको शान्ति पसन्द आती है। शान्ति का नाम सुना है ना। कोई कहते हैं नेष्ठा में हमको शान्ति मिलती है। यह भी गपोड़ा है। आधा घण्टा योग में बैठकर चले गये वह कोई शान्ति नहीं, वह अल्पकाल की हो गई। शान्ति तब मिल सकती है जब गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बन रूहानी यात्रा पर रहें। ऑफिस में बैठे, घर में बैठे यात्रा करते रहे। जो अवस्था तुम्हारी पिछाड़ी में आनी है। बैठे-बैठे साक्षात्कार करते रहेंगे। बाप और वर्सा याद आता रहेगा। वैकुण्ठ देखते रहेंगे। बस अभी हम यह प्रालब्ध पायेंगे। पिछाड़ी में बहुत साक्षात्कार होंगे, पछताना भी यहाँ होगा। जब देखेंगे फलाने-फलाने क्या बनते हैं, हम क्या बनते हैं। सजायें भी बहुत खायेंगे। बाप कहेंगे हम तो तुमको समझाते रहे। तुमने समझा नहीं। सिवाए प्ऱूफ किसको सज़ा नहीं मिल सकती। साक्षात्कार कराकर फिर सज़ा देते हैं। तो बच्चों को अच्छी रीति समझाया जाता है। अभी पुरुषार्थ नहीं करेंगे तो कल्प-कल्प ऐसा ही ढीला पुरुषार्थ होगा। अभी तुम समझ सकते हो हमसे फलाने ऊंच पद पायेंगे, सर्विस का बहुत शौक है। कोई आये तो रास्ता बतायें। इतना हर्ष रहता है। डूबे हुए को पार कराना है, तैरने वाले जो होते हैं वह झट कूद पड़ते हैं, गाते हैं नईया मेरी पार लगा दो। बाप हमको सच्चा रास्ता बता रहे हैं। हमको फरमान मिला है कोई भी आये तो उनको अपना लक्ष्य बताना है। बाकी यह शास्त्र आदि सब भक्ति कल्ट के हैं। पतित-पावन एक बाप ही है जो आकर गीता ज्ञान सुनाते हैं। श्री-श्री 108 यह रूद्र अर्थात् शिव निराकार की माला है। निराकार आकर पढ़ाते हैं। यह कोई शास्त्र का ज्ञान नहीं है। हमको तो बाप ज्ञान सुनाते हैं। महिमा ही बाप की है। ज्ञान का सागर वह है। ऐसा समझाना चाहिए जो वह कोई बात बीच में कर न सके। हम बेहद के बाप से पढ़ते हैं। सर्व का सद्गति दाता वह बाप है। इस पर जोर देना चाहिए। नहीं समझते तो छोड़ दो। बोलो, तुम देवता धर्म के ही नहीं हो। यह रास्ता छोड़ दो। परन्तु समझाने की हिम्मत चाहिए। सन्यासी भी कोई-कोई आ जाते हैं। आगे चल वृद्धि को पायेंगे। कुम्भ मेले पर कितने ढेर आते हैं स्नान करने। दिन-प्रतिदिन भक्ति भी तमोप्रधान होती जाती है। इसको फाल ऑफ पाम्प कहा जाता है। यह भी एक खेल है, जिसमें दिखाते हैं दुनिया विनाश कैसे होती है। अभी उनकी पाम्प है। तुम बच्चों को सदैव नशा रहना चाहिए कि बाबा हमको पढ़ाते हैं। बाबा हमको सुखधाम का रास्ता बताते हैं। अगर हम औरों को रास्ता न बतायें तो बच्चे कैसे कहलायें। उल्टी चलन से इज्जत गँवा देते हैं। बहुत बच्चे समझते हैं हम पाप करते हैं, बाप को मालूम थोड़ेही पड़ता है। अरे भक्ति मार्ग में भी मुझे सब मालूम पड़ता है तब तो तुमको फल मिलता है। बाप को तो तरस पड़ता है – बच्चे अभी तक छिपाकर भूलें करते रहते हैं। समझते नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूहानी यात्रा पर रहने के लिए एक दो को सावधान करते रहना है। कर्मातीत अवस्था में जाने के लिए सारा दिन याद में रहने की मेहनत करनी है।

2) कोई भी उल्टी चलन नहीं चलनी है। सबको सुखधाम का रास्ता बताना है। सर्विस का शौक रखना है।

वरदान:- देह-अंहकार वा अभिमान के सूक्ष्म अंश का भी त्याग करने वाले आकारी सो निराकारी भव 
कईयों का मोटे रूप से देह के आकार में लगाव वा अभिमान नहीं है लेकिन देह के संबंध से अपने संस्कार विशेष हैं, बुद्धि विशेष है, गुण विशेष हैं, कलायें विशेष हैं, कोई शक्ति विशेष है-उसका अभिमान अर्थात् अंहकार, नशा, रोब – ये सूक्ष्म देह-अभिमान है। तो यह अभिमान कभी भी आकारी फरिश्ता वा निराकारी बनने नहीं देगा, इसलिए इसके अंश मात्र का भी त्याग करो तो सहज ही आकारी सो निराकारी बन सकेंगे।
स्लोगन:- समय पर सहयोगी बनो तो पदमगुणा रिटर्न मिल जायेगा।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize