today murli 28 august

TODAY MURLI 28 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 August 2018 :- Click Here

28/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have now become like diamonds from shells. To attain God’s lap means to become like a diamond. Shrimat makes you become like diamonds.
Question: What is the reason why some receive a royal status in the golden age whereas others receive the status of a servant or a subject?
Answer: Those who study the knowledge of the Ocean of Knowledge very well and imbibe it, those who donate the jewels of knowledge to others and make them similar to themselves at the confluence age receive a royal status in the golden age. Those who are careless or create chaos by coming into body consciousness claim the status of a subject. Those who do not pay attention to this study become servants.

Om shanti. Those who are becoming like diamonds from shells, who are My long-lost and now-found effort-making children, know that they can be attacked by storms of Maya. You children make effort to become like diamonds from shells. However, by not following shrimat, you are attacked again by the storms of Maya and your lights are blown out. There is also a song about this. You children have now come to know that you used to be worthy-of-worship deities. The soul hears this from the most beloved, unlimited Father. It is the praise of Him being God, the Highest on High, that is sung. Everyone in the world remembers Him because there is definitely nothing but sorrow in this world. Don’t think that all human beings are senseless. They understand that ancient Bharat was very elevated and that there were no other lands or religions at that time. This is why Bharat is called the ancient land. They understand this much, but how and when that happened or how and when Bharat will become like a diamond again, they do not know. You children are now sitting personally in front of Baba and those who live abroad or at other centres also listen. The unlimited Father, who makes you like a diamond, says: This is your last Godly birth in which God sits here and teaches you to become like diamonds. Therefore, you should have so much regard for such a Father. Regard is given to the true Father, the true Teacher and the Satguru. The Father says: I am the One who gives you children happiness. I come at this time and give you children instructions to make you happy. The shrimat that God gave was later written by human beings in the Gita. However, it was not written accurately. He is now making you the highest on high, like diamonds. Although all souls of the whole world are children of the Father, it is only you who go into the golden age. There is also Brahma, the Father of Humanity. At this time, you are called the grandchildren of Shiv Baba and you are also called the great, great-grandchildren. Expansion continues to take place. In fact, I, the Father, am the Creator of everyone. If you ask people who created you, they would reply: Allah or Khuda (God). They do understand this much, but how He creates them or how the population increases, they don’t know any of that. It is you who understand that the creation is very small in the golden age. There must surely be the Creator who creates the new world. He enables you to attain a deity status in the new world, and so He must definitely have the old world destroyed. No one knows this. People write many books and scriptures. They think that those are scriptures of philosophy. Knowledge is called philosophy. However, no one knows that only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. You attain knowledge from that One and become like diamonds. To attain God’s lap means to have a birth like a diamond. The Father who makes everyone become like diamonds is making us like diamonds. His greatness is remembered. There is no question of greatness in the golden age. This thought doesn’t even arise there. You now understand that, at this time, you are neither shudras nor deities, but that you are Brahmins. You are called spinners of the discus of self-realisation. You become spinners of the discus of self-realisation here and you then go and rule in the kingdom of the clan of Vishnu. It is here that you have to become spinners of the discus of self-realisation and like a lotus flower. Here, there is effort whereas there, you have the reward. No one in the world knows about these things. The Father says: Maya has made you into those with degraded intellects. You were deities, like diamonds. At first, you didn’t know this. There are many opinions in the world; some say one thing and others say something else. Some say that when human beings die, they are reborn. Others say that whatever your thoughts are, that is what you become. There are people with many different opinions. You are the ones who follow shrimat. By following shrimat, your ideas become elevated. Only you understand these aspects; not everyone can understand them. Although someone may be a millionaire or billionaire, he finds it difficult to accept this knowledge. Hardly any come because the wealthy have a lot of complications. It is fixed in the drama that only the poor come into God’s lap. This chariot belongs to that One. Bap and Dada are both together. Only you know this. Incorporeal God does not have a body of His own, and so He surely has to take a body on loan, because only then can God speak. There cannot be the versions of God Krishna. People would instantly recognise him. This One is incorporeal which is why no one knows Him. Nowadays, many human beings change their clothes and dress up as Krishna in order to earn money. They have all become followers of Maya. You have now become the followers of God. Some become 100% followers of God and seek asylum with Him, whereas everyone else is trapped in the asylum of Maya, Ravan. Baba has explained that the people of Bharat in particular are all in the cottage of sorrow. The whole world is Lanka. People have only written limited things in the scriptures. The unlimited Father speaks unlimited things. You understand that you are now in the lap of God and that you will become deities, masters of the new world. Maya does not exist there. Those who belong to the sun dynasty and the moon dynasty are very wealthy. Then, when you go into the merchant clan, you build temples of gold and diamonds. The first ones to build such temples of gold and diamonds used to live in such palaces. This is why it is remembered that Bharat was like a diamond. Now it is like a shell. This is an impure world. Bharat was the pure land of truth. Bharat is now an impure land; we couldn’t call Bharat pure now. We are now becoming pure. That world was completely viceless. Krishna’s praise is very high. People swing an image of him in a swing, but they do not know his biography. You understand that it is now the iron age. Bharat was the golden age. It is only the people of Bharat who can take 84 births. People accept these things when you explain to them properly. The people of Bharat become like diamonds by going into God’s lap. As are the king and queen, so the subjects. The subjects, too, are said to be like diamonds. Now kings, queens and subjects are like shells. The Father who makes you become like diamonds has now come, and so you should make full effort. You have to have full yoga with the Father who makes you into diamonds. You understand that you are being made into the masters of Paradise by Shiv Baba. Everything depends on how you study. Everyone should have the thought of studying. Even while doing work at home, consider yourselves to be student s of God, the Father. Your study is very easy. It is necessary to come and listen even for a moment. Such very good points continue to emerge so that someone can be struck by an arrow at any time. Therefore, no matter what happens, you definitely have to listen to the murli. If you cannot listen to the murli, you should study this knowledge in whatever way you can; arrangements can be made. First, you should spend a week understanding these things very well. After that, you have to study in order to understand the new points. Baba continues to teach you. Many points continue to emerge. You should also write on the boardoutside: Brothers and sisters, come in for Yoga. We can enable you to become like diamonds through this easy knowledge and easy Raja Yoga. You have all the posters. It is very easy to explain them, just as little children are shown toys and taught, “This is an elephant, this is what an elephant does and this is a camel etc.” Human beings don’t know the Supreme Soul or what He does. If they don’t know what tasks He performs, He then has no importance left. Therefore, you have to use the pictures to explain to them: This is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. He is the One who makes everyone become like a diamond. We receive our inheritance from Him through Brahma. Shiv Baba teaches Brahma Kumars and Kumaris and makes them into deities. It is because you have been taught, that you can explain to others. Previously, you did not know that the Supreme Father, the Supreme Soul, comes and teaches. The explanation of how Bharat was like a diamond and how it has now become like a shell is very easy. Therefore, why do you chase after shells? All of that wealth etc. is going to turn to dust. You should now earn a true income for the land of truth. If you don’t earn a full income, you will become ordinary subjects. You will become servants of the subjects. You belong to the Father and you then divorce Him! Therefore, Baba explains: Children, you can ask for a murli and read it at home. You will continue to receive murlis. Wherever you are, you definitely have to study the murli. Study and teach others. You can do service even while living abroad. You have to give the Father’s introduction. It is only at the end that your influence will spread. They will understand that ancient Bharat used to be heaven. A great deal of wealth was looted from here. In the golden age, you become the living masters of the world, that is, you rule the kingdom. Then, on the path of devotion, you keep non-living images in a little corner of a room and make a memorial. Equipment for worship is also needed. You have now come to know everything about how you were worthy of worship and how you have now become worshippers. How long does it take us to become worthy of worshipfrom worshippers? How were the temples created? We are the ones who got those temples built. We created non-living images of ourselves and started worshipping ourselves. These are such wonderful things! The Father explains: Children, now don’t be careless! It is by becoming soul conscious that you will become like diamonds. Don’t become body conscious. By becoming body conscious, you create a great deal of chaos and you not only destroy yourselves, but you also destroy others. By studying with just the one Ocean of Knowledge, some claim the peacock throne, whereas others become maids and servants. Just look, Lakshmi and Narayan were the emperors of heaven. They are praised and worshipped a great deal. Temples are built to them. You understand that you are now once again becoming Lakshmi and Narayan of the sun dynasty. Then, from the sun dynasty, you will go into the moon dynasty. To claim a kingdom means to attain such a high status. You have to make such effort and inspire others. If you do not know how to inspire others, it means you have not learnt to make effort yourself. You cannot become a king or queen if you cannot make others similar to yourself. You have to donate the imperishable jewels of knowledge. Very few have this intoxication. By remaining soul conscious, your degree of happiness will rise. Just look how much concern Mama and Baba have. The Father feels compassion when a daughter is being beaten; he thinks about how she can be saved. There is a great deal of chaos created when asylum is given. Bharat receives a lottery from the Almighty Authority Shiv Baba, in order to become like a diamond. You are now listening personally and you enjoy it. Baba continues to inject a dose into you. You children should follow shrimat at every step. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Definitely have regard for the Father, the Teacher and the Satguru, who gives you happiness. To follow His instructions means to have regard for Him.
  2. While doing your housework consider yourself to be a student of God, the Father. Pay full attention to this study. Never miss a murli. Earn a true income for the land of truth.
Blessing: May you become an embodiment of success and receive everyone’s blessings by keeping a balance between remembrance and service.
The children who serve while staying in remembrance do not need to work as hard and yet they receive greater success because, by keeping a balance of the two, you receive blessings. The souls whom you serve while staying in remembrance give blessings of “Wah, Wah!” from their minds: Wah elevated soul! Wah soul who has changed my life. Those who constantly receive such blessings have natural happiness without having to work hard for it and easily they experience success while moving forward.
Slogan: Those who have coolness in their lives are able to conquer the burning hearts of others.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 August 2018

To Read Murli 27 August 2018 :- Click Here
28-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अभी तुम कौड़ी से हीरे जैसा बने हो, ईश्वर की गोद पाना ही हीरे जैसा बनना है, श्रीमत तुम्हें हीरे जैसा बना देती है”
प्रश्नः- सतयुग में किसी को तो ताउसी-तख्त (बादशाही) और किसी को दास-दासी या प्रजा पद मिलता है, इसका कारण क्या है?
उत्तर:- सतयुग में ताउसी तख्त उन्हें मिलता जो संगम पर ज्ञान सागर की पढ़ाई को अच्छी रीति पढ़ते हैं और धारण करते हैं, ज्ञान रत्नों का दान कर बहुतों को आप समान बनाते हैं और जो ग़फलत करते, देह-अभिमान में आकर हंगामें मचाते, उन्हें प्रजा पद मिल जाता है। पढ़ाई पर ध्यान न देने वाले ही दास-दासी बन जाते हैं।

ओम् शान्ति। कौड़ी से हीरे जैसा बनने वाले सिकीलधे, पुरुषार्थी बच्चे यह जानते हैं कि माया का तूफान लगता है। बच्चे कौड़ी से हीरे जैसा बनने का पुरुषार्थ करते हैं, परन्तु श्रीमत पर न चलने के कारण फिर से माया का तूफान लगने से ज्योत बुझ जाती है। इस पर भी गीत है। बच्चों को अब मालूम पड़ा है कि हम सो पूज्य देवी-देवता थे। यह आत्मा सुनती है बेहद के मोस्ट बिलवेड बाप द्वारा। उनकी यह महिमा गाई जाती है। वह ऊंच ते ऊंच भगवान् है। सारी सृष्टि में उनको ही याद करते हैं क्योंकि इस दुनिया में तो बरोबर दु:ख ही दु:ख है। ऐसा मत समझो कि सब मनुष्य बेसमझ हैं। समझते भी हैं कि प्राचीन भारत बहुत ऊंच था और सभी खण्ड अथवा धर्म थे नहीं इसलिए भारत को प्राचीन कहते हैं। इतना समझते हैं परन्तु वह कैसे हुआ, कब हुआ? भारत फिर हीरे जैसा कब और कैसे बनेगा – यह नहीं जानते। अभी तुम बच्चे सम्मुख बैठे हो और जो परदेश अर्थात् बाहर सेन्टर पर रहते हैं, वह भी सुनते हैं। हीरे जैसा बनाने वाला बेहद का बाप कहते हैं – यह तुम्हारा अन्तिम ईश्वरीय जन्म है जबकि भगवान् बैठ हीरे जैसा बनाने लिए तुमको पढ़ाते हैं, तो ऐसे बाप का कितना न रिगार्ड रखना है। सत बाप, सत टीचर, सतगुरू का रिगार्ड रखा जाता है। बाप कहते हैं बच्चों को सुख देने वाला मैं ही हूँ। इस समय तुम बच्चों को सुख देने के लिए आकर अपनी मत देता हूँ। भगवान् ने जो श्रीमत दी थी वह फिर मनुष्यों ने गीता में लिखा है, परन्तु यथार्थ नहीं। अब यह तुमको ऊंच ते ऊंच हीरे जैसा बनाते हैं। स्वर्ग में तो तुम ही आ सकते हो ना। यूँ तो सारी दुनिया की आत्मायें बच्चे हैं बाप के। प्रजापिता ब्रह्मा तो है ना। इस समय शिवबाबा के पोत्रे कहलाते हो। फिर पर-पोत्रे, तर-पोत्रे भी कहलाते हो। वृद्धि तो होती जाती है ना। वास्तव में सभी का रचयिता मैं बाप ही हूँ। पूछते हैं ना कि तुमको किसने पैदा किया? तो कहते हैं अल्लाह वा खुदा ने। इतना समझते हैं परन्तु कैसे पैदा करते हैं, कैसे इतना सब वृद्धि को पाते हैं – यह कुछ भी पता नहीं है। यह तो तुम जानते हो कि सतयुग में बहुत थोड़ी रचना होती है। जरूर रचयिता भी होगा जो नई दुनिया रचते हैं। नई दुनिया में देवी-देवता पद प्राप्त कराते हैं तो जरूर पुरानी दुनिया का विनाश भी कराते होंगे – यह कोई भी नहीं जानते। अथाह किताब शास्त्र आदि लिखते हैं। समझते हैं यह फिलॉसाफी के शास्त्र हैं। फिलॉसाफी ज्ञान को कहते हैं। परन्तु यह किसको पता नहीं है कि ज्ञान का सागर तो एक ही परमपिता परमात्मा है। तुम इस द्वारा नॉलेज पाकर हीरे जैसा बनते हो। ईश्वर की गोद पाना ही हीरे जैसा जन्म है। हीरे जैसा बनाने वाला बाप हमको हीरे जैसा बना रहा है। बलिहारी इनकी गाई जाती है। सतयुग में तो बलिहारी की बात ही नहीं। वहाँ तो यह ख्याल भी नहीं रहता।

तुम अभी जानते हो हम अभी न शूद्र हैं, न देवता हैं। अभी हम ब्राह्मण हैं। तुमको ही स्वदर्शन चक्रधारी कहा जाता है। यहाँ तुम स्वदर्शन चक्रधारी बन विष्णु कुल में जाकर राज्य करेंगे। स्वदर्शन चक्रधारी, कमल फूल समान तुमको यहाँ ही बनना है। यहाँ है पुरुषार्थ, वहाँ है प्रालब्ध। ऐसी बातें दुनिया में कोई नहीं जानते। बाप कहते हैं – माया ने तुमको तुच्छ बुद्धि बनाया है। तुम हीरे जैसे देवी-देवता थे। पहले तुमको पता नहीं था। दुनिया में तो अनेक मतें हैं – कोई क्या कहते, कोई क्या कहते। कोई कहते हैं मनुष्य मरते हैं फिर नये पैदा होते हैं। कोई कहते हैं कि जैसा संकल्प करते वैसा बन जाते हैं। अनेक प्रकार की मत वाले हैं। तुम हो श्रीमत पर चलने वाले। श्रीमत से तुम्हारी भी श्रेष्ठ मत बनती है। तुम ही जानते हो, सब तो नहीं जानेंगे। भल कोई लखपति, पद्मपति हैं परन्तु इस ज्ञान में आना बड़ा मुश्किल है। कोटों में कोई ही आता है क्योंकि साहूकारों पर लफड़े बहुत हैं। ड्रामा में नूँध ही ऐसी है जो गरीब ही ईश्वर की गोद लेते हैं। यह रथ तो उनका है ना। बापदादा दोनों इकट्ठे हैं – यह तुम ही समझते हो। निराकार भगवान् को अपना शरीर नहीं है तो जरूर लोन पर शरीर लेना पड़े, तब तो भगवानुवाच हो ना। कृष्ण भगवानुवाच हो नहीं सकता। उनको तो झट सब जान लेते। यह है निराकार, इसलिए इनको कोई जानते नहीं। आजकल बहुत मनुष्य वेष बदलकर कृष्ण का रूप धारण करते हैं। पैसे कमाते हैं। सब माया के मुरीद बन गये हैं। अभी तुम ईश्वर के मुरीद बनते हो। कोई तो 100 प्रतिशत ईश्वर के मुरीद बने हैं, उनकी शरण ली है। बाकी सब माया रावण की शरण में फँसे हुए हैं। बाबा ने समझाया है कि ख़ास भारतवासी सब शोकवाटिका में हैं। सारी दुनिया ही लंका है। उन्होंने तो शास्त्रों में हद की बातें लिख दी हैं। बेहद का बाप बेहद की बातें सुनाते हैं। तुम जानते हो कि अभी हम ईश्वर की गोद में हैं। फिर हम नई दुनिया के मालिक देवी-देवता बनेंगे। वहाँ तो माया होती नहीं। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी बड़े साहूकार होते हैं। फिर जब वैश्य वंशी बनते तब हीरे जवाहरात के मन्दिर बनाते हैं। पहले-पहले जो हीरे जवाहरात के मन्दिर बनाते हैं वे ऐसे महलों में रहते हैं इसलिए गाया जाता है कि भारत हीरे जैसा था। अब तो कौड़ी मिसल हैं। यह है ही पतित दुनिया। भारत ही सचखण्ड पावन था। भारत ही अभी पतित खण्ड है, भारत को अभी हम पावन नहीं कहेंगे। अभी हम पावन बन रहे हैं। वहाँ तो है ही सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। कृष्ण की कितनी भारी महिमा है! उनको झूले में झुलाते हैं परन्तु उनकी बायोग्राफी को नहीं जानते।

तुम जानते हो अभी कलियुग है। भारत ही सतयुग था। बरोबर 84 जन्म भारतवासी ले सकते हैं। तुम जब अच्छी रीति समझाते हो तो मान लेते हैं। इस ईश्वरीय गोद से भारत हीरे जैसा बनता है। यथा राजा-रानी तथा प्रजा। प्रजा को भी हीरे जैसा कहेंगे। अभी यथा राजा-रानी तथा प्रजा कौड़ी मिसल है। अब हीरे जैसा बनाने वाला बाप आया है तो पूरा पुरुषार्थ करना है। हीरे जैसा बनाने वाले बाप से ही पूरा योग लगाना है। तुम जानते हो शिवबाबा से हम वैकुण्ठ का मालिक बनते हैं। पढ़ाई पर ही सारा मदार है। पढ़ाई का ख्याल तो सबको करना चाहिए ना। घर में काम-काज करते भी ऐसा समझो कि हम गॉड फादर के स्टूडेंट हैं। हमारी पढ़ाई बिल्कुल ही सहज है। एक घड़ी भी आकर सुनना जरूर है। प्वाइंट्स ऐसी अच्छी-अच्छी निकलती हैं जो कोई समय अचानक ही किसको तीर लग जाता है इसलिए मुरली तो कैसे भी जरूर सुननी है। नहीं सुन सकते हैं तो कैसे भी करके पढ़ाई पढ़नी है। प्रबन्ध हो सकता है। पहले तो एक हफ्ता भी अच्छी रीति समझना है फिर नई-नई प्वाइंट्स समझने लिए पढ़ना भी जरूर है। बाबा पढ़ाते रहते हैं। प्वाइंट्स निकलती रहती हैं। बोर्ड पर भी लिख सकते हो कि बहनों और भाइयों, आओ, तुम सबको इस सहज ज्ञान और सहज राजयोग से हीरे जैसा बनावें। तुम्हारे पास तो चित्र भी सब हैं। उन पर समझाना बहुत सहज है। जैसे छोटे बच्चे को खिलौने दिखाकर बताया जाता है, पढ़ाते हैं – यह हाथी है, ऐसे-ऐसे करता है; यह ऊंट है…..। मनुष्य को भी परमात्मा का पता नहीं है, न ही यह जानते कि वह क्या करते हैं। उनके कर्तव्य को न जानें तो बाकी महत्व क्या रहा? तो चित्र पर समझाना होता है – यह परमपिता परमात्मा शिव है, यह हीरे जैसा बनाने वाला है, इनसे वर्सा मिलता है ब्रह्मा द्वारा। ब्रह्माकुमार-कुमारियों को शिवबाबा पढ़ाकर ऐसा देवी-देवता बनाते हैं। पढ़ाया है तब तो हम समझा सकते हैं ना। आगे नहीं जानते थे कि परमपिता परमात्मा आकर पढ़ाते हैं। समझानी तो बड़ी सहज है कि भारत हीरे जैसा था, अब कौड़ी जैसा है। फिर कौड़ी पिछाड़ी धक्के क्यों खाते हो? यह सब धन माल आदि मिट्टी में मिल जाना है। अब तुम सचखण्ड के लिए सच्ची कमाई करो। पूरी कमाई न करने के कारण बिल्कुल साधारण प्रजा में चले जाते हैं। प्रजा के भी नौकर बन जाते हैं। बाप का बनकर फिर बाप को फारकती दे देते हैं। तो बाबा समझाते हैं कि बच्चे घर में भी मुरली मंगाकर पढ़ सकते हो। मुरली मिलती रहेगी। कहाँ भी हो तुमको पढ़ना जरूर है। पढ़ो और पढ़ाओ। विलायत में भी रहते तुम सर्विस कर सकते हो। बाप का परिचय देना है। प्रभाव तो अन्त में ही निकलना है। समझेंगे कि बरोबर प्राचीन भारत हेविन था। कितना धन यहाँ से लूटकर ले गये हैं!

सतयुग में चैतन्य में सारी सृष्टि के तुम मालिक बनते हो, यानी राज्य करते हो। फिर भक्ति मार्ग में जड़ चित्रों को एक कोठरी में बन्द कर रखते हो, यादगार बनाते हो। पूजा का सामान भी तो चाहिए ना। अब तुम सब कुछ जान गये हो कि हम सब पूज्य थे, अब पुजारी बन गये हैं। पूज्य से पुजारी बनने में हमको कितना समय लगता है? कैसे मन्दिर बनें? हमने ही तो मन्दिर बनवाये हैं। हमने अपने जड़ चित्र बनाकर अपनी ही पूजा शुरू की। कितनी वन्डरफुल बातें हैं! बाप समझाते हैं – बच्चे, अब कोई ग़फलत न करो। देही-अभिमानी बनने से ही तुम हीरे जैसे बनेंगे। देह-अभिमान में नहीं आना है। देह-अभिमान में आकर बड़े-बड़े हंगामें मचाते हैं तो अपनी भी सत्यानाश और औरों की भी सत्यानाश करते हैं। एक ही ज्ञान सागर से कोई तो पढ़कर ताउसी तख्त पर बैठते हैं और कोई दास दासी। देखो, लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के बादशाह थे। कितनी उन्हों की महिमा, पूजा होती है, मन्दिर बनाते हैं। अब तुम जानते हो कि हम फिर से सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण बन रहे हैं। फिर सूर्यवंशी से चन्द्रवंशी में आयेंगे। राजाई लेना कितना ऊंच पद है। पुरुषार्थ ऐसा करना और कराना है। अगर कराना नहीं जानते तो गोया पुरुषार्थ करना ही नहीं सीखे हैं। आप समान नहीं बना सकते हो तो राजा-रानी बन नहीं सकते। अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करना है। यह नशा बहुत थोड़ों को रहता है। देही-अभिमानी हो रहने से खुशी का पारा चढ़ेगा। मम्मा बाबा को देखो कितने ख्यालात रहते हैं। बाप को तरस पड़ता है कि इस बच्ची को मार मिलती है तो कैसे बचाया जाये? एशलम देने में कितने हंगामें हैं। सर्वशक्तिमान शिवबाबा द्वारा भारत को हीरे जैसा बनने की लॉटरी मिलती है। यहाँ तुम सम्मुख सुनते हो, अच्छा लगता है। बाबा डोज़ चढ़ाते रहते हैं। बच्चों को कदम-कदम श्रीमत पर चलना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सुख देने वाले बाप, टीचर, सतगुरू का रिगार्ड जरूर रखना है। उनकी मत पर चलना ही उनका रिगार्ड है।

2) घर का कामकाज करते स्वयं को गॉड फादर का स्टूडेन्ट समझना है। पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना है, मुरली मिस नहीं करनी है। सचखण्ड के लिए सच्ची कमाई करनी है।

वरदान:- याद और सेवा के बैलेन्स द्वारा सर्व की ब्लैसिंग प्राप्त करने वाले सफलतामूर्त भव
जो बच्चे याद में रहकर सेवा करते हैं उन्हें मेहनत कम और सफलता अधिक मिलती है क्योंकि दोनों का बैलेन्स रखने से ब्लैसिंग मिलती हैं। याद में रहकर जिन आत्माओं की सेवा करते हो उनके मन से वाह श्रेष्ठ आत्मा, वाह मेरी जीवन को बदलने वाली आत्मा…यह वाह-वाह की आशीर्वाद निकलती है। जिन्हें ऐसी आशीर्वाद सदा मिलती है उन्हें बिना मेहनत के नेचुरल खुशी रहती है और सहज आगे बढ़ते सफलता का अनुभव करते हैं।
स्लोगन:- जिनके जीवन में शीतलता है वे दूसरों के जलते हुए चित पर विजय प्राप्त कर सकते हैं।

Brahma kumaris murli 28 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 27 August 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 28/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
28/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – तुम उठते-बैठते सब कुछ करते चुप रहो, बाप को याद करो तो वर्सा मिल जायेगा, इसमें गीत कविता आदि की भी दरकार नहीं है”
प्रश्नः- बाप को लिबरेटर कहने से कौन सी एक बात सिद्ध हो जाती है?
उत्तर:- जब बाप दु:खों से अथवा 5 विकारों से लिबरेट करने वाला है तो जरूर उसमें फँसाने वाला कोई दूसरा होगा। लिबरेटर कभी फँसा नहीं सकता। उसको कहा जाता है दु:ख हर्ता सुख कर्ता तो वह कभी किसी को दु:ख कैसे दे सकते। जब बच्चे दु:खी होते हैं तब उस बाप को याद करते हैं। दु:ख देने वाला है रावण। रावण माया श्रापित करती। बाप आते हैं वर्सा देने।
गीत:- जो पिया के साथ है…

ओम् शान्ति। इस ज्ञान मार्ग में गीतों, कविताओं, डायलागों आदि की जरूरत नहीं है। यह सब भक्ति मार्ग में चलता है। यहाँ तो है समझ की बातें। हर बात बुद्धि से समझना है और है भी बहुत सहज। यानी यह ज्ञान बहुत सहज है। एक भी प्वाइंट से मनुष्य पुरूषार्थ करने लग पड़ते हैं। गीत सुनने की वा कविता बनाने की कोई जरूरत नहीं है। गृहस्थ व्यवहार में रहना है, धन्धा धोरी करना है। बाप कहते हैं वह सब करते तुम मेरे से वर्सा कैसे ले सकते हो। वह समझाते हैं उठते बैठते सब कुछ करते चुप रहना है। अन्दर में विचार चलता रहे, बाप ने समझाया है बात बिल्कुल सहज है समझने की। नई दुनिया को पुरानी दुनिया होने में समय लगता है। फिर पुराने से नई बनने में इतना समय नहीं लगता है। बच्चों को समझाया गया है – बाप नई सृष्टि रचते हैं, फिर पुरानी होती है। सुख और दु:ख की दुनिया बनी हुई जरूर है परन्तु सुख कौन देते हैं, दु:ख कौन देते हैं। यह किसको पता नहीं है। बनी बनाई भी जरूर है। इस चक्र से हम निकल नहीं सकते। उसको कहा जाता है ड्रामा। नाटक के बदले ड्रामा कहना अच्छा लगता है। नाटक जो होता है उसमें बदल सदल हो सकती है। कोई को निकाल सकते हैं, कोई को एड कर सकते हैं। आगे नाटक थे, बाइसकोप तो अब निकले हैं। बाइसकोप में जो फिल्म शूट हुई वही रिपीट होगी। यह बाइसकोप निकाला है – इस ज्ञान को भी इस द्वारा पूरा समझने के लिए। नाटक में फ़र्क हो जाता है। बाइसकोप में फर्क नहीं हो सकता। यह एक स्टोरी है नई पावन दुनिया और पुरानी पतित दुनिया की। सिर्फ मनुष्यों को यह पता नहीं है कि ड्रामा की आयु कितनी है। बहुत लम्बी चौड़ी आयु दे दी है। मनुष्य तो कुछ भी समझ नहीं सकते। नई दुनिया में कितने समझदार, धनवान पवित्र थे, सर्वगुण सम्पन्न थे। बाबा आज ऐसे क्यों समझा रहे हैं? कि बच्चे भी जाकर ऐसे भाषण करें। भारत की पहले-पहले महिमा करनी चाहिए। भारत को ऐसा किसने बनाया? वह भी महिमा निकलेगी परमपिता परमात्मा की, जिसको सब याद करते हैं। याद क्यों करते हैं? क्योंकि पुरानी दुनिया में दु:ख बहुत है। दु:ख देने वाले 5 विकार ही हैं। सतयुग त्रेता को सुखधाम कहा जाता है। वह है ही ईश्वरीय स्थापना। यह फिर है आसुरी स्थापना, जिसमें मनुष्य 5 विकारों में फँस पड़ते हैं। समझते भी हैं बाप ही लिबरेट करते हैं। जो लिबरेटर है, वह फँसाने वाला थोड़ेही होगा। उनका नाम ही है दु:ख हर्ता सुख कर्ता। उनके लिए हम दु:ख कर्ता कह नहीं सकते। यह किसको पता नहीं है कि यह दु:ख देने वाले 5 विकार ही हैं, जिससे ही बाप आकर छुड़ाते हैं। बड़ी समझ की बात है। सारी दुनिया में इस समय रावण राज्य है। सिर्फ लंका की बात नहीं है। मनुष्यों के अपने-अपने विचार हैं। जिसको बुद्धि में जो आया वह लिख देंगे। वैसे ही यह शास्त्र हैं। अपना-अपना शास्त्र बना देते हैं। मनुष्यों को कुछ पता नहीं है। भगवानुवाच – यह वेद शास्त्र पढ़ना, यज्ञ तप आदि करना जो कुछ तुम करते आये हो वह सब उतरती कला के हैं। जो कुछ तुमने बनाया है वह अपने को गिराने के लिए। तुमको मत मिलती ही है गिरने की क्योंकि है ही उतरती कला। पावन दुनिया थी, अब पतित दुनिया है। आधाकल्प है नई दुनिया, आधाकल्प है पुरानी दुनिया। जैसे 24 घण्टे होते हैं, 12 घण्टे बाद दिन पूरा हो फिर रात होती है। वैसे यह ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात गाई जाती है। विष्णु का दिन रात नहीं कहेंगे। यह कितनी गुह्य बातें हैं। सिवाए बाप के और कोई समझा न सके। बाप समझाते हैं अभी तमोप्रधान से सतोप्रधान में जाना है। अभी अजुन अपनी बादशाही थोड़ेही स्थापन हुई है। बाप कितना सहज बच्चों को समझाते रहते हैं, सिर्फ शिवबाबा को याद करना है। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। यह बातें भी तुम अबलायें ही समझ सकती हो। नई दुनिया और पुरानी दुनिया। नई दुनिया को रचने वाला बाप है। नई दुनिया स्वर्ग थी फिर नर्क किसने बनाया? रावण ने। रावण कौन है? यह राज़ भी तुमको समझाया है। कोई भी विद्वान पण्डित आदि नहीं समझ सकते वह तो कह देते जगत मिथ्या है। सब कुछ कल्पना है। तुम समझा सकते हो अगर जगत बना ही नहीं है तो तुम बैठे कहाँ हो? यह जो वर्ल्ड रिपीट होती है, उसकी पूरी नॉलेज चाहिए ना। नॉलेज न होने के कारण कह देते हैं सब कुछ मिथ्या है, जिसने जो सुनाया सो सत। तुम तो एक बात में ही खुश होते हो। बाप तो बहुत अच्छी रीति समझाते हैं। बाप ने तो आधाकल्प का वर्सा दिया है, फिर रावण से हराया है। यह खेल बना हुआ है।

तुम बच्चे जानते हो हम अभी ईश्वर के बने हैं और उनकी श्रीमत पर चल रहे हैं। यह चित्र तो बड़े अच्छे हैं, सबके पास बड़े चित्र होने चाहिए। बड़े चित्रों पर समझाना अच्छा होता है। चक्र सामने खड़ा है। संगमयुग भी सामने लगा हुआ है। कलियुग है काला, पतित। उनमें लोहे की खाद पड़ने से काले हो गये हैं। भारत कितना गोल्डन एजड था। अब फिर इनको आइरन एज से चेन्ज होना है। उनकी स्थापना इनका विनाश होना चाहिए। गाया भी जाता है परमपिता परमात्मा त्रिमूर्ति है। त्रिमूर्ति का अर्थ भी कोई समझते नहीं हैं। रोड पर भी त्रिमूर्ति नाम रखे हुए हैं। वास्तव में त्रिमूर्ति है ब्रह्मा विष्णु शंकर, यह तीनों देवतायें हैं अलग-अलग। इन सबसे ऊंच ते ऊंच है परमपिता परमात्मा शिव, करन-करावनहार। उनको गुम कर दिया है। देवताओं से भी ऊपर तो वह निराकार भगवान ही है। जैसे बाप निराकार है वैसे हम आत्मायें भी निराकार हैं। हम यहाँ आये हैं पार्ट बजाने। लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी थी। एक दो के पिछाड़ी राज्य करते आते हैं। तो स्वर्ग की महिमा सुनानी पड़े। भारत कितना धनवान था। प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी थी। कभी अकाले मृत्यु नहीं होती थी, नई दुनिया थी। बाप ने ही नई दुनिया रची थी। बाप 16 कला बनाते हैं। कहते हैं बच्चे मनमनाभव, मामेकम् याद करो। यह है भगवानुवाच। उनको पतित-पावन कहा जाता है। कृष्ण को ज्ञान सागर नहीं कहेंगे। फिर गीता में कृष्ण का नाम क्यों डाला है! कोई द्वारा साक्षात्कार हुआ, कहेंगे बस यह कृष्ण का रूप है। दुनिया में तो अनेक प्रकार के मनुष्य हैं। किसी में भाव बैठ जाता है फिर उनका लाकेट बनाए गले में डाल देते हैं। गुरू का लाकेट पहन गुरू को याद करते हैं। बस ईश्वर सर्वव्यापी है फिर तो गुरू और ईश्वर में फ़र्क नहीं रहा। ऐसे ढेर हैं। बाप ने तुम बच्चों को पुरानी दुनिया और नई दुनिया का राज़ भी समझाया है। बाप बैठ नई दुनिया रचते हैं। अभी सब बाप को बुलाते रहते हैं। आकर पावन दुनिया स्थापन करो या हमको पावन बनाए ले चलो। धाम हैं दो – निर्वाणधाम और सुखधाम। सन्यासी तो मुक्ति के लिए नॉलेज देते हैं, जीवनमुक्ति के लिए दे नहीं सकते। तुम देवी-देवता धर्म वाले हो, जो पुजारी बने हो फिर पूज्य बनना है। श्रीकृष्ण सतयुग का प्रिन्स है, उनकी महिमा होती है। कुमार-कुमारी की ही महिमा होती है क्योंकि पवित्र हैं ना। नहीं तो कृष्ण से राधे की महिमा ज्यादा होनी चाहिए परन्तु यह किसको मालूम नहीं। पहले राधे फिर कृष्ण क्यों! कहते हैं राधे कृष्ण। कृष्ण राधे मुश्किल कोई कहेंगे। समझते हैं बच्चा वर्से का हकदार बनते हैं इसलिए कृष्ण की महिमा जास्ती है। यहाँ तुम सब हो बच्चे।

[wp_ad_camp_5]

 

बाप कहते हैं – जितना पुरूषार्थ करेंगे उतना अपने लिए ही ऊंच पद पायेंगे – कल्प-कल्पान्तर के लिए। बाप आत्माओं से बात कर रहे हैं। पुरूषार्थ से तुम ऊंच पद पा सकते हो। विलायत में बच्ची पैदा होती है तो खुशी मनाते हैं। यहाँ बच्चा पैदा हो तो खुश होते हैं। हर एक की रसम अपनी-अपनी है। तो बच्चों की बुद्धि में अब बैठा है कि बाप वर्सा देते हैं, फिर श्राप माया देती है। वह गॉड फादर स्वर्ग का रचयिता है। कृष्ण के लिए कभी कह न सकें, परमात्मा ही नर्क को स्वर्ग बनाते हैं। सहज ज्ञान और योग वही सिखलाते हैं। ऐसे ऐसे भाषण तुम कर सकते हो। गीता में कृष्ण का नाम डाल खण्डन कर दिया है। गीता का भगवान निराकार परमात्मा है न कि कृष्ण। श्रीकृष्ण तो रचना है। उनको भी वर्सा बाप से मिला। वह कैसे, आओ तो समझायें। कोई भी बात उठाकर उन पर समझाने लग जाओ। पुरानी दुनिया, नई दुनिया पर समझाने से उसमें सब आ जाता है। अभी अनेक धर्म हैं। उनके बीच आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। कितना समझाया जाता है, इन 5 विकारों को छोड़ो। घर में भी किस पर क्रोध नहीं करो। ख्यालात आने चाहिए कि जैसा कर्म हम करेंगे, हमको देख फिर और करेंगे। मैं विकारी बनूँगा तो मुझे देख और भी विकारी बनेंगे। बाप फरमान करते हैं अब पवित्र बनो। स्त्री को भी पवित्र बनाओ। कोई पर क्रोध मत करो। तुमको देख वह भी करने लग पड़ेंगे। मेल तो रचयिता है तो स्त्री को भी समझाना चाहिए फिर अगर तकदीर में ही नहीं होगा तो क्या कर सकेंगे। समझाना है कि पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। बाप समझाते हैं तुमने 84 जन्म कैसे लिये हैं। पहले तुम सतोप्रधान पावन थे। फिर रजो तमो बने हो। अब फिर तुम मुझे याद करो तो पावन बनेंगे। गीता के वरशन्स ही भगवान कह रहे हैं। गीता में कृष्ण का नाम डालने से उनकी सारी जीवन कहानी खत्म हो जाती है। समझाने की भी हिम्मत चाहिए। बाबा समझाते रहते हैं बहुत बच्चे समझते हैं हम तो शिवबाबा को ही मानते हैं, उनसे ही कल्याण होना है। भूल करते हैं तो बाबा ईशारा देते हैं। परन्तु कई बच्चे लून-पानी हो जाते हैं, लून-पानी थोड़ेही बनना है। समझाया जाता है कि ऐसे नहीं करो। कोई तो ऐसे हैं जो एक दो का रिगार्ड भी नहीं रखते हैं। अपने से बड़ों को तो तुम-तुम करके बात करते हैं। सेन्सीबुल बच्चों को सर्विस का बहुत शौक होना चाहिए। फलाना सेन्टर खुला है हम उन पर जाकर सर्विस करें। बिगर कहे जो करे सो देवता। कहने से करे वह मनुष्य, कहने से भी न करे तो…अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा यह बात याद रखना है कि जो कर्म हम करेंगे, हमें देख और भी करने लग पड़ेंगे इसलिए कभी भी श्रीमत के विपरीत विकारों के वश हो कोई भी कर्म नहीं करना है।

2) सर्विस का शौक रखना है। बिगर कहे सेवा में लग जाना है। कभी भी आपस में लून-पानी नहीं होना है।

वरदान:- अपने भरपूर स्टॉक द्वारा खुशियों का खजाना बांटने वाले हीरो हीरोइन पार्टधारी भव 
संगमयुगी ब्राह्मण आत्माओं का कर्तव्य है सदा खुश रहना और खुशी बांटना लेकिन इसके लिए खजाना भरपूर चाहिए। अभी जैसा नाज़ुक समय नजदीक आता जायेगा वैसे अनेक आत्मायें आपसे थोड़े समय की खुशी की मांगनी करने के लिए आयेंगी। तो इतनी सेवा करनी है जो कोई भी खाली हाथ नहीं जाये। इसके लिए चेहरे पर सदा खुशी के चिन्ह हों, कभी मूड आफ वाला, माया से हार खाने वाला, दिलशिकस्त वाला चेहरा न हो। सदा खुश रहो और खुशी बांटते चलो-तब कहेंगे हीरो हीरोइन पार्टधारी।
स्लोगन:- एक दो की राय को रिगार्ड देना ही संगठन को एकता के सूत्र में बांधना है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 26 August 2017 :- Click Here

TODAY MURLI 28 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 27 August 2017 :- Click Here

28/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, while sitting or moving around and doing everything, remain silent. Remember the Father and you will receive your inheritance. There is no need for songs or poetry.
Question: Which particular aspect is proven by the Father being called the Liberator?
Answer: If the Father is the One who liberates us from sorrow, that is, from the five vices, then it must surely be someone else who traps us in them. The Liberator can never trap you. He is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Therefore, how could He cause sorrow for anyone? Children remember that Father when they are unhappy. Ravan is the one who causes you sorrow. Ravan, Maya, curses you whereas the Father comes to give you your inheritance.
Song: The shower of knowledge is for those who are with the Beloved.

Om shanti. On this path of knowledge, there is no need for songs, poetry or dialogues etc. All of that is for the path of devotion. Here, it is a question of understanding. Everything has to be understood with the intellect; it is very easy, that is, this knowledge is very easy. You can start making effort with any one point. There is no need to listen to a song or to write poetry. You have to stay at home and also carry on with your business. The Father says: While doing all of that, how can you claim your inheritance from Me? He explains: While sitting or moving around and doing everything, just remain silent. Continue to have these internal thoughts. The Father has already explained: It is very easy to understand. It takes time for the new world to become the old world, but it doesn’t take that long for the old world to become new. It has been explained to you children that the Father makes the world new and that it then becomes old. This world is definitely made of happiness and sorrow, but no one knows who gives happiness and who causes sorrow. The world is already made. We cannot come out of this cycle. This is called the drama. It is better to say ‘dr ama’ than to say ‘play’. It is possible to change something in a play; it is possible to remove someone or add someone. Previously, there only used to be plays; it is only recently that bioscopes have emerged. Whatever film is shot in a bioscope, it is repeated. This bioscope has been created so that, knowledge can be understood accurately through it. There can be a change in a play but not in a bioscope. This is the story of the new, pure world and the old, impure world. People do not know the duration of the drama. They have given it a very long time span. Human beings cannot understand anything. In the new world, people were so sensible, wealthy and pure; they were full of all virtues. Why is Baba explaining in this way today? So that you children can go and give lectures. You should first of all praise Bharat. Who made Bharat like this? The praise of the Supreme Father, the Supreme Soul, whom everyone remembers, will also emerge. Why do they remember Him? Because there is a lot of sorrow in the old world. It is the five vices that cause sorrow. The golden and silver ages are called the land of happiness. That is God’s establishment. This is the devilish establishment where human beings get trapped in the five vices. They also understand that only the Father liberates them. How could the One who liberates you also be the one who traps you? His name is ‘The Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness’. We wouldn’t say that He is the Bestower of Sorrow. No one knows that it is the five vices that cause sorrow and that the Father comes and liberates you from them. This is a matter of great understanding. It is now Ravan’s kingdom throughout the whole world; it is not a question of Lanka alone. Human beings have their own ideas. They just write whatever enters their intellects. The same applies to the scriptures: they have all made their own scriptures. Human beings do not know anything. God speaks: All that studying of the Vedas and scriptures, the sacrificial fires and the penance etc., that you have been doing, are all of the stage of descent. Whatever you have made has been to bring you down. The instructions you receive are for coming down because it is the stage of descent. It was a pure world, but it is now impure. For half a cycle, there is the new world and for half a cycle, there is the old world. It is just as there are 24 hours: when 12 hours have passed, day comes to an end and night comes. The day of Brahma and the night of Brahma have been remembered in the same way. You wouldn’t say: The day and night of Vishnu. These are such deep points. No one, except the Father, can explain these things to you. The Father explains: You now have to go from the tamopradhan stage into the satopradhan stage. Your kingdom is not established as yet. The Father explains to you children so easily. You simply have to remember Shiv Baba and change from tamopradhan to satopradhan. Only you innocent ones can understand these things. There is the new world and the old world, and the Father is the One who creates the new world. The new world was heaven. Then, who made it into hell? Ravan. It has been explained to you what Ravan is. No scholars or pundits will understand this. They just say that the world is false, that all of this is imagination. You can explain to them: If the world has not been created, then where are you sitting? This world repeats; you must have the full knowledge of it. Because they do not have this knowledge, they say that everything is false. They believe that whatever anyone related is the truth. You become happy with only one thing. The Father explains very clearly. The Father gave you your inheritance for half a cycle and then Ravan defeated you. This play is predestined. You children know that we now belong to God and that we are following His shrimat. These pictures are very good. Everyone should have large pictures. It is good to explain using large pictures. The cycle is in front of you. The confluence age is also in front of you. The iron age is ugly and impure. Due to the alloy of iron, it has become ugly. Bharat was so golden aged ! It now has to change from the iron age. That has to be established and this has to be destroyed. It is sung that the Supreme Father, the Supreme Soul, is Trimurti. No one understands the meaning of the Trimurti. They have even named roads, ‘Trimurti’. In fact, the Trimurti is Brahma, Vishnu and Shankar. Each of the three deities is distinct. Above them is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, Karankaravanhar (the One who acts and acts through others) who is the highest of all. They have removed Him. Even higher than the deities is incorporeal God. We souls are incorporeal just as the Father is incorporeal. We have come here to play our parts. It used to be the dynasty of Lakshmi and Narayan. They ruled one after another. Therefore, you have to tell people the praise of heaven: Bharat was so wealthy! There was purity, peace and prosperity. There was no untimely death. It was the new world. The Father created the new world. He makes you 16 celestial degrees full. He says: Children, manmanabhav! Constantly remember Me alone. These are God’s versions. He is called the Purifier. You cannot call Krishna ‘The Ocean of Knowledge’; so why have they put Krishna’s name in the Gita? They have a vision of Krishna through someone, and they say: This is the image of Krishna. There are many types of people in the world. They develop faith in someone and then wear locket s of that one around their necks. They wear locket s of their guru and remember him. They say “God is omnipresent”, and so there is no difference between their guru and God. There are many like them. The Father has explained to you children the significance of the old world and the new world. He sits here and makes the world new. Everyone now continues to call out to Him: Come and establish the pure world! Or: Make us pure and take us with You! There are two lands: the land of nirvana and the land of happiness. Sannyasis give knowledge of liberation; they cannot give knowledge for liberation-in-life. You belonged to the deity religion and then became worshippers. You again have to become worthy of being worshipped. Shri Krishna is the first prince of the golden age. There is his praise. There is the praise of kumars and kumaris because they remain pure. Otherwise, there should be greater praise of Radhe than of Krishna. No one knows why they put Radhe before Krishna. They say: Radhe-Krishna. Scarcely anyone says: Krishna-Radhe. They understand that the son has the right to the inheritance. Therefore, there is greater praise of Krishna. Here, all of you are children. The Father says: To the extent that you make effort, accordingly you will claim a high status for yourself, cycle after cycle. The Father is talking to souls. By making effort, you can claim a high status. In foreign lands, when a daughter is born they celebrate in happiness, whereas here, they become happy when a son is born. All have their own customs and traditions. It is now in the intellects of you children that the Father gives you the inheritance and that Maya then curses you. God, the Father, is the Creator of heaven; you would not say this of Krishna. Only the Supreme Soul changes hell into heaven. Only He teaches easy gyan and yoga. You can give lectures in this way: They have falsified the Gita by putting Krishna’s name in it. The God of the Gita is incorporeal God and not Shri Krishna. Shri Krishna is the creation. He received the inheritance from the Father. Come and we will explain to you. Take up any subject and start explaining it. Everything is included in the explanation of the old world and the new world. At present, there are numerous religions and, in the midst of them all, the original eternal deity religion is being established. It has been explained to you so much that you must renounce the five vices. Do not get angry with anyone at home. You should have this thought: Whatever others see me do, they will do the same. If I become full of vices, anyone who sees me will also become full of vices. The Father issues this ordinance: Become pure and make your wife pure as well. Do not get angry with anyone. By seeing you, they too would get angry. Males are the creators, and so they should explain to their wives. However, if it is not in their fortune, what can be done? You have to explain: If you become pure, you become the masters of the pure world. The Father explains how you have taken 84 births. At first, you were satopradhan, pure, then you became rajo and then tamo. Now, if you remember Me, you will become pure. God is speaking the versions of the Gita. By Krishna’s name being inserted in the Gita, his whole life story becomes meaningless. You must have the courage to explain. Baba continues to explain. Many children think that they will only believe in Shiv Baba, that there is benefit only through Him. If they make mistakes, Baba gives them a signal. However, some children become like salt water. You should not become like salt water. It is explained to you that you must not become like that. Some children are such that they don’t have regard for one another. They are very impolite to their seniors. Sensible children should be very interested in doing service. “Such and such a centre has opened, and so let me go and do some service there.” Those who act without being asked are deities; those who act after being asked are humans and those who do not do anything even after being asked are… Achcha.

[wp_ad_camp_5]

 

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always remember: When others see you doing something, they will do the same. Therefore, never perform any act under the influence of the vices against shrimat.
  2. You have to be interested in doing service. Engage yourself in service without being asked. Never become like salt water with one another.
Blessing: May you be a hero/heroine actor who shares the treasures of happiness with your overflowing stock.
The duty of confluence-aged Brahmin souls is to remain constantly happy and to share happiness, but for this, your treasures have to be overflowing. Now, as delicate times continue to come closer, many souls will come to you to ask for happiness for even a short time. So, you have to do so much service that no one goes back empty handed. For this, let there always be the sign of happiness on your face. Let your face not be of an off-mood, of being defeated by Maya or of being disheartened. Remain constantly happy and continue to share happiness and you will then be called a hero/heroine actor.
Slogan: To give regard to the advice of one another is to tie the gathering in the thread of unity.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 26 August 2017 :- Click Here

Font Resize