today murli 27 june

TODAY MURLI 27 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 June 2018 :- Click Here

27/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to renounce the entire old world, including your body, because you have now found the true path through the Guide.
Question: According to God’s plan, what task is filled with benefit?
Answer: The task of great destruction, through which the entire unlimited old world will be destroyed, is filled with benefit. Human beings consider this task to be most harmful, but the Father says: The entire world will be sacrificed in the sacrificial fire of knowledge that I have created and then the new world will come.
Song: Salutations to Shiva!

Om shanti. You children heard the song. Whose praise was this? That of the Mother and Father, that is, of the Supreme Father, the Supreme Soul. He is God, the Highest on High. He is God , the Father, the Highest on High. God is called the Father. Whose Father? The Father of all the human beings of the world. He is the unlimited Father. Since He is called the Father, He is also the Creator. He is the Creator of the human world. In fact, all human beings have two fathers: one worldly and the other the Father from beyond the world of souls. A worldly father creates the physical body for a soul. Souls are incorporeal. The place where souls reside is the incorporeal world, which is also called the world of brahm. Here, all souls have received bodies in order to play their part s. The secrets of the drama have to be understood very clearly. You know that the praise of God, the Father, is unique. They also sing: O h God the Father! He is the Seed of the human world. This tree is inverted. The Father, the Seed, is up above. When they say “Oh God the Father!” their vision goes upwards. The Father of all souls is the one Supreme Father, the Supreme Soul. His praise is the highest of all, but human beings do not understand anything at all. The Father of all souls is the incorporeal Father, and the corporeal father is Prajapita Brahma, who is also called Adi Dev, Mahavir and Adam. It is through him that the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, creates the human world. A father can never be infinite. A worldly father creates a creation; he adopts a wife and they create children. Therefore, he is called a father. A father can never be omnipresent or infinite. Children receive an inheritance from their father. Therefore, the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, is the unlimited Father of all souls. This has to be understood: God is one ; the Father is one. Souls have now forgotten their Father. By forgetting the Father , all human beings have become orphans. Because of not knowing the Father , they remember Paradise, that is, His creation, and the brothers and sisters. Having forgotten the Father they fight and quarrel among themselves. They have become orphans. The inheritance can only be received from that Father. Brahma, Vishnu and Shankar are also His creation. Brahma, Vishnu and Shankar are residents of the subtle region. The supreme region where the Supreme Father, the Supreme soul, resides is above the subtle region. We souls are also residents of that place. The soul says: That incorporeal world is the sweet God f atherly home. You have to know these worlds. There are three worlds: the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world. The Father is the Highest on High. The Supreme Father, the Supreme Soul, is Karankaravanhar, the Creator and the Director. He first createsBrahma, Vishnu and Shankar. Then, through Brahma, He adopts the mouth-born creation, the Brahma Kumars and Kumaris. Adi Dev is shown in the Dilwala Temple. Your memorial also shows you sitting down and doing tapasya. That is the memorial of those who changed Bharat from impure to pure. There is only the one Bridegroom of all the brides. Jagadamba and Jagadpita are definitely sitting in the temple and doing the tapasya of Raja Yoga. God speaks: I sit and teach you Raja Yoga through the body of Brahma. Jagadamba is also there. There is Prajapita Brahma along with the Brahma Kumars and Kumaris. There are also the half-kumaris. Those who look after the temple don’t know who the kumaris or the half-kumaris are. Surely, they must be the children of Jagadamba and Jagadpita. He sits and teaches them all Raja Yoga. He also explains how He first creates Brahma. I enter an ordinary body at his stage of retirement. Therefore, this one is Adi Dev. Whose child is Prajapita Brahma, the one who is called Mahavir? Baba sits here and explains: I enter the body of this Brahma. My name is Shiva. It is not that Baba doesn’t come at all. It has been remembered that God comes at the time when there is defamation of religion. At this time the world is impure. You have to understand how the world becomes pure. Baba explains: I am the One who grants salvation. The River Ganges cannot be called the Bestower of Liberation or Salvation. It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Purifier. That Heavenly God, the Father, establishes heaven Himself. Since we are His children, why should we not receive our inheritance of heaven from God, the Father? This is something that has to be understood. The memorial of this is accurately portrayed in the Dilwala Temple. You are sitting down in tapasya and above is the memorial of heaven. The deities existed in Bharat. The Father definitely comes to purify the impure. He says: I come at the confluence of every cycle. The confluence age is the auspicious age. It is at the end of the iron age that I come and establish the golden age. The Father sits here and explains that He is beyond birth and death. Human beings are not God. Human beings take 84 births. You children know that this is the land of death. The golden age is called the land of immortality. This is the very depths of hell, where all human beings continue to bite one another. Bharat was pure and the deities used to rule there. The Father comes into the impure world and an impure body. Surely, the Father would have come in the body of the last birth of the one who came at the beginning of the golden age. It has been remembered that souls and the Supreme Soul have been separated for a long period of time. There is a full calculation of this. In the beginning, there were those who belonged to the original, eternal deity religion. They are the ones who take 84 births. Those of Islam and the Buddhists cannot take 84 births. Bharat is the birthplace of the Supreme Father, the Supreme Soul. Of all the lands, Bharat is the highest land. However, it is now the iron age. Baba has explained that this is the imperishable world drama which can never be destroyed. The history and geography of the world repeat. Those who understand this knowledge and spin the discus of self-realisation are the ones who become the rulers of the globe. There were no other religions when there was the kingdom of the deities in Bharat. There was only the new kingdom of the deities in new Bharat. It was the kingdom of the World Almighty Authority. No one could conquer them. Shri Lakshmi and Narayan were the masters of the whole world. The One who made them into the masters of the world must surely have been the Creator of the world. He is the Supreme Father, the Supreme Soul, God the Father. At this time there is no name or trace of the deities. There are simply images of the deities, but no one knows their occupation. At this time the G overnment has no power left. They don’t know their religion. It is said, “Religion is might”. The Father establishes religion. He is called the Almighty Authority. Therefore, God, the Father , is the Father and, because He is knowledge-full, He is also called the Teacher and, because He is the Purifier, He is also the Satguru. He doesn’t have a father of His own. He is the Supreme Father, the Supreme Teacher because He is k nowledge-full. No human being has the knowledge of the beginning, the middle or the end of the drama. There is only the One who grants salvation to all. He does not have a guru. He is the unlimited Father, the unlimited Teacher and the unlimited Satguru. Baba explains that Bharat has now become poverty-stricken and impure. It is Maya, Ravan, that makes it impure. Bharat is now the devilish kingdom. In the golden age, it used to be the divine kingdom; it was called heaven. Bharat is the highest-on-high, imperishable land. It is the birthplace of the imperishable Father. The land of Bharat will never be destroyed; all others will be destroyed. Therefore, the Father has the part in this drama of purifying the impure world and of creating the original, eternal religion. He inspires the destruction of innumerable religions through Shankar. This destruction is not harmful. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra, from which the flames of destruction are ignited. The Father says: I, the incorporeal One, am the Creator of the Gita, the Supreme Father, the Supreme Soul. People have put Shri Krishna’s name. God speaks: I teach you Raja Yoga. You are Raja Yogis. You have to renounce the entire old world, everything, including your bodies. I become the Guide and take everyone back. The Father is the One who liberates everyone from sorrow. For half a cycle there is devotion, the kingdom of Ravan, and for half a cycle it is the kingdom of Rama. It is the Father, not a human being, who sits here and explains this. The Father is now talking to you souls. He explains: Children, this is your household path. When there was purity in Bharat, there was also peaceand prosperity. Now there is no purity and so there is no peace or prosperity either. All are diseased and unhappy. Bharat is now the land of sorrow. Bharat was once the land of happiness. Now the Father says: Children, have yoga with Me. First, you should have the faith that you are souls and not the Supreme Soul. God is not omnipresent as the sannyasis say. The Supreme Soul’s praise is extremely great. All of you were also pure in the golden age and you have now become impure. There are the castes: Brahmins, deities, warriors, merchants and shudras. You are Brahmins, children of Prajapita Brahma. Who gave birth to Adi Dev, Brahma? The Father says: I entered this one and named him Brahma. I have adopted this one. This one is ‘The Lucky Chariot’. It is through this one that I enable you to gain victory over Maya. However, there is no other battlefield. You are non-violent. There are two types of violence: one is the violence of the sword of lust and the other is the violence of wounding or killing. Baba says: Lust is the greatest enemy. Through it you have received sorrow from its beginning through the middle to the end. The kingdom of Ravan begins in the copper age, when the night of Brahma begins. This confluence age is the most benevolent age. Later, you begin to descend – from deities to warriors, from warriors to merchants and you then have to go into the shudra clan. Those who belonged to the Brahmin religion will again become Brahma Kumars and Brahma Kumaris. The Father explains: Bharat was the land of liberation-in-life and it is now the land of bondage-in-life. Baba comes and grants liberation-in-life in a second. Bharat receives the inheritance of unlimited happiness from the Father every cycle. No human being can give another human being the inheritance of liberation or liberation-in-life. There is only the one Satguru who takes you beyond. You are becoming the masters of the world through the Father, the Creator of the world. The Father says: I am altruistic. I make you into the masters of the world through Brahma and I then go and sit in retirement. It has been remembered that everyone remembers God at the time of suffering and that no one remembers Him at the time of happiness. All the devotees now remember one God. They then say that He is omnipresent, and so how can they be devotees? That knowledge is wrong! The Father creates the mouth-born creation. You are the mouth-born children of Prajapita Brahma. Those brahmins take birth through sin. They are physical guides whereas you are spiritual guides. The Father now says to all souls: Remember Me, your Father. The Father must never be forgotten. How would you receive your inheritance if you forget the Father? The Father says: Remember Me alone. All the rest are creation; you cannot receive the inheritance from them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Understand the significance of the drama very clearly and play your part accordingly. You now belong to the Father, the Lord and Master. Therefore, you must never fight or quarrel among yourselves.
  2. The Father becomes the Guide to take everyone back home. Now forget everything, including your body, and only remember the one Father.
Blessing: May you be a courageous soul who makes Maya lose her courage with your thoughts of courage.
When you children constantly have one Strength and one Support and have thoughts of courage that you have to be victorious, when you children have courage, they always experience the Father’s help. With courage, they become worthy of receiving help. Maya loses her courage in front of thoughts of courage. Those who have weak thoughts and wonder whether it will happen or not, whether they will be able to do it or not – such thoughts invoke Maya. Therefore, always have thoughts filled with zeal, enthusiasm and courage and you will be said to be a courageous soul.
Slogan: To sit on the throne of humility and to wear the crown of responsibility is greatness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 June 2018

To Read Murli 26 June 2018 :- Click Here
27-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें देह सहित इस सारी पुरानी दुनिया का त्याग करना है, क्योंकि तुम्हें गाइड द्वारा सच्चा रास्ता मिल गया है”
प्रश्नः- ईश्वरीय प्लैन के अनुसार किस कर्त्तव्य में कल्याण समाया हुआ है?
उत्तर:- यह महाविनाश का जो कर्त्तव्य है, जिसमें सारी बेहद की पुरानी दुनिया खत्म होनी है, इसमें कल्याण समाया हुआ है। मनुष्य समझते यह बहुत बड़ा अकल्याण है, लेकिन बाप कहते मैंने यह ज्ञान यज्ञ जो रचा है, इसमें सारी पुरानी दुनिया की आहुति पड़ेगी, फिर नई दुनिया आयेगी।
गीत:- ओम् नमो शिवाए ….

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। यह महिमा किसकी थी? तुम मात-पिता अर्थात् परमपिता परमात्मा की महिमा। ऊंच ते ऊंच भगवान, वही है ऊंच ते ऊंच गॉड फादर। ईश्वर को फादर कहा जाता है। किसका फादर? सारी मनुष्य सृष्टि का फादर। वह है बेहद का बाप। जब उनको बाप कहा जाता है तो रचयिता भी है। मनुष्य सृष्टि का रचयिता है। वास्तव में सभी मनुष्य मात्र के दो बाप हैं – एक लौकिक, दूसरा पारलौकिक हुआ आत्माओं का बाप। आत्मा को जिस्म देने वाला है लौकिक बाप। आत्मा तो निराकार ही है। आत्माओं का निवास स्थान निराकारी दुनिया में है, जिसको ब्रह्मलोक भी कहा जाता है। यहाँ सभी आत्माओं को यह शरीर मिला हुआ है पार्ट बजाने। ड्रामा के राज़ को भी अच्छी रीति समझना है। तुम जानते हो कि गॉड फादर की महिमा सभी से न्यारी है। गाते भी हैं ओ गाड फादर। मनुष्य सृष्टि का बीज रूप है। यह है उल्टा झाड़। बीज बाप ऊपर में है। जब कहते हैं – ओ गाड फादर, तो ऊपर में नज़र जाती है। सभी आत्माओं का फादर एक परमपिता परमात्मा है। उनकी महिमा है सभी से ऊंची। परन्तु मनुष्य बिल्कुल नहीं जानते हैं। सभी आत्माओं का फादर वह निराकार बाप और फिर साकार बाप प्रजापिता ब्रह्मा, जिसको आदि देव, महावीर, एडम भी कहते हैं। जिस द्वारा निराकार परमपिता परमात्मा मनुष्य सृष्टि रचते हैं। फादर को तो कभी बेअन्त नहीं कहा जा सकता। जैसे लौकिक फादर रचना रचते हैं, स्त्री को एडाप्ट कर फिर उनसे बच्चे पैदा करते हैं, तो उसको फादर कहा जाता है। फादर को कभी सर्वव्यापी वा बेअन्त नहीं कहेंगे। बाप से ही बच्चों को वर्सा मिलता है। तो निराकार परमपिता परमात्मा है सभी आत्माओं का बेहद का बाप। यह समझना है। गॉड इज वन, फादर इज वन। अभी आत्मा अपने फादर को भूल गई है। फादर को भूलने कारण सभी मनुष्य-मात्र आरफन बन गये हैं। फादर को न जानने कारण बहिश्त को यानी रचना को अथवा भाई-बहन को याद करते रहते हैं। फादर को भूल आपस में ही लड़ते-झगड़ते रहते हैं। निधण के बन पड़े हैं। वर्सा मिलता ही है उस बाप से। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर भी उनकी रचना हैं। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर हैं सूक्ष्मवतनवासी। सूक्ष्मवतन के ऊपर है मूल-वतन, जहाँ परमपिता परमात्मा रहते हैं। हम आत्मा भी वहाँ की रहवासी हैं। आत्मा कहेगी वह है स्वीट गॉड फादरली होम, निराकारी दुनिया। इन वतनों को जानना है। तीन लोक कहते हैं। मूलवतन, सूक्ष्मवतन और स्थूल-वतन। ऊंच ते ऊंच है बाप। करनकरावनहार, क्रियेटर, डायरेक्टर परमपिता परमात्मा है। पहले ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को क्रियेट करते हैं। फिर ब्रह्मा द्वारा ब्रह्मा मुखवंशावली ब्रह्माकुमार-कुमारियों को एडाप्ट करते हैं। देलवाड़ा मन्दिर में भी आदि देव दिखाया है। नीचे तपस्या कर रहे हैं। तुम्हारा ही यादगार खड़ा है। जिन्होंने भारत को पतित से पावन बनाया है, उन्हों का यादगार खड़ा है। सभी सजनियों का साजन एक ही है। बरोबर मन्दिर में जगत अम्बा और जगतपिता बैठे हैं। राजयोग की तपस्या कर रहे हैं। भगवानुवाच – मैं ब्रह्मा तन द्वारा बैठ तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। जगत अम्बा भी है। प्रजापिता ब्रह्मा भी है और ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ भी हैं। अधर कुमारियाँ भी हैं। मन्दिर वाले खुद नहीं जानते कि कुमारियाँ कौन, अधरकुमारियाँ कौन हैं? जरूर जगत अम्बा, जगत पिता के बच्चे होंगे। उन सबको बैठ राजयोग सिखाते हैं। पहले-पहले ब्रह्मा को कैसे रचते हैं? वह भी बताते हैं। साधारण तन में, वानप्रस्थ अवस्था में प्रवेश करता हूँ। तो यह आदि देव हुआ ना। प्रजापिता ब्रह्मा जिसको महावीर कहते हैं – वह किसका बच्चा है? बाप बैठ समझाते हैं कि मैं इस ब्रह्मा तन में प्रवेश करता हूँ। मेरा नाम है शिव। ऐसे नहीं, बाबा आते ही नहीं है। गाया हुआ है यदा यदाहि…. इस समय यह है ही पतित दुनिया। पावन दुनिया कैसे बनती है – वह समझना चाहिए। बाबा समझाते हैं – मैं ही सद्गति दाता हूँ। गंगा नदी को गति-सद्गति दाता नहीं कह सकते। पतित-पावन परमपिता परमात्मा ही है। वह हेविनली गॉड फादर ही स्वर्ग की स्थापना करते हैं। जबकि उनकी सन्तान हैं तो फिर क्यों नहीं गॉड फादर से स्वर्ग का वर्सा मिलना चाहिए। समझ की बात है ना। देलवाड़ा मन्दिर में भी पूरा यादगार है। नीचे तपस्या में बैठे हैं, ऊपर में स्वर्ग का यादगार है। देवी-देवतायें भारत में ही थे। जरूर बाप आते हैं पतितों को पावन बनाने। कहते हैं – मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे-युगे आता हूँ। संगमयुग है आस्पीशियस युग। जबकि कलियुग के अन्त में मैं आकर सतयुग की स्थापना करता हूँ। यह बाप बैठ समझाते हैं। वह जन्म-मरण रहित है। मनुष्य को भगवान नहीं कहा जा सकता। मनुष्य तो 84जन्म लेते हैं।

तुम बच्चे जानते हो यह है मृत्युलोक। सतयुग को कहा जाता है अमरलोक। यह है रौरव नर्क। मनुष्यमात्र सब एक दो को काटते रहते हैं। भारत ही पावन था, जिसमें देवी-देवतायें राज्य करते थे। बाप आते ही हैं पतित दुनिया, पतित शरीर में। जरूर जो पहले सतयुग में आये होंगे, उनके ही अन्तिम जन्म के तन में बाप आये होंगे। गाया भी जाता है आत्मा-परमात्मा अलग रहे बहुकाल…पूरा हिसाब हो गया ना। पहले-पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले ही थे। 84 जन्म भी उन्हों के ही हैं। इस्लामी, बौद्धी आदि 84 जन्म नहीं ले सकते हैं। भारत है ही परमपिता परमात्मा का बर्थ प्लेस। सब खण्डों से ऊंच है भारत खण्ड। परन्तु अभी है कलियुग। बाबा ने समझाया है वह है अविनाशी वर्ल्ड ड्रामा। इसका कभी विनाश नहीं होता। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है। जो इस नॉलेज को जान स्वदर्शन चक्रधारी बनते हैं, वो ही चक्रवर्ती राजा बनेंगे। भारत में जब देवी-देवताओं का राज्य था तो और कोई धर्म नहीं था। नये भारत में नई राजधानी देवी-देवताओं की थी। वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी का राज्य था। उन पर कोई जीत पा न सके। श्री लक्ष्मी-नारायण सारे विश्व के मालिक थे। उन्हों को विश्व का मालिक बनाने वाला जरूर विश्व का रचयिता ही होगा। वह है परमपिता परमात्मा, गॉड फादर। इस समय देवी-देवताओं का नाम-निशान नहीं है। देवी-देवताओं के सिर्फ चित्र हैं। परन्तु उनके आक्यूपेशन को कोई भी जानते नहीं। इस समय गवर्मेन्ट में भी कोई ताकत नहीं रही है। अपने धर्म का पता नहीं है। कहा जाता है रिलीजन इज माइट। रिलीजन स्थापन करने वाला है बाप। उनको ही सर्वशक्तिमान कहा जाता है। तो गॉड फादर, फादर भी है, फिर उनको नॉलेजफुल कहा जाता है तो टीचर भी है और फिर उनको पतित-पावन कहा जाता है तो सतगुरू भी है। उनका कोई फादर नहीं। वह है सुप्रीम फादर, सुप्रीम टीचर क्योंकि नॉलेजफुल है। और कोई भी मनुष्य ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज को नहीं जानते। सद्गति दाता भी सबका वह एक है। उनका कोई गुरू नहीं। वही बेहद का बाप, बेहद का टीचर और बेहद का सतगुरू है।

बाप समझाते हैं भारत अब कंगाल पतित है। पतित बनाती है माया रावण। अभी भारत आसुरी राजस्थान है। सतयुग में दैवी राजस्थान था, जिसको स्वर्ग, हेविन कहा जाता है। भारत ही ऊंच से ऊंच अविनाशी खण्ड है। अविनाशी बाप का यह बर्थ प्लेस है। भारत खण्ड कभी विनाश को नहीं पायेगा और सब खत्म हो जायेंगे। तो बाप का भी इस ड्रामा में पार्ट है, जो इस पतित सृष्टि को पावन बनाकर आदि सनातन धर्म की स्थापना करते हैं। शंकर द्वारा अनेक धर्मो का विनाश। यह विनाश कोई अकल्याणकारी नहीं है। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ, जिससे विनाश ज्वाला प्रज्जवलित हुई है। बाप कहते हैं गीता का रचयिता मैं निराकार परमपिता परमात्मा हूँ। मनुष्यों ने फिर श्रीकृष्ण का नाम डाल दिया है। भगवानुवाच – मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। तुम राजयोगी हो। तुम्हें सारी पुरानी सृष्टि का, देह सहित जो कुछ है सबका त्याग करना है। मैं गाइड बन सबको वापिस ले चलने आया हूँ। बाप ही दु:खों से लिबरेट करते हैं। आधा कल्प है भक्ति अर्थात् रावण राज्य और आधा कल्प है राम राज्य। यह बाप बैठ समझाते हैं। कोई मनुष्य नहीं समझाते। अभी बाप आत्माओं से बात करते हैं। समझाते हैं – बच्चे, तुम्हारा यह है प्रवृत्ति मार्ग। भारत में प्योरिटी थी तो पीस प्रासपर्टी भी थी। अभी प्योरिटी नहीं तो पीस प्रासपर्टी भी नहीं। सब रोगी, दु:खी हैं। अभी भारत दु:खधाम है। भारत ही सुखधाम था। अब बाप कहते हैं – बच्चे, मेरे साथ योग लगाओ। पहले तो निश्चय होना चाहिए कि हम आत्मा हैं, न कि परमात्मा। जैसे सन्यासी कहते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है। परमात्मा की तो महिमा बहुत भारी है। तुम भी सतयुग में सब पवित्र थे। अब अपवित्र बन गये हो। ब्राहमण, देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र – यह वर्ण हैं ना। तुम हो प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद ब्राह्मण। अदि देव ब्रह्मा को किसने जन्म दिया? बाप कहते हैं मैंने इसमें प्रवेश कर इनका नाम ब्रह्मा रखा। इनको एडाप्ट किया। यह भागीरथ है। इनके द्वारा मैं तुम्हें माया पर जीत प्राप्त कराता हूँ। बाकी कोई युद्ध आदि का मैदान नहीं है। तुम हो अहिंसक। हिंसा डबल होती है – एक तो काम कटारी की हिंसा, दूसरी फिर एक दो को मारने की हिंसा। बाबा कहते हैं यह काम महाशत्रु है, इनसे तुमने आदि-मध्य-अन्त दु:ख पाया है। रावण राज्य द्वापर से शुरू होता है। जबकि ब्रह्मा की रात शुरू होती है। यह संगमयुग ही सबसे कल्याणकारी है। पीछे तो नीचे उतरते जाते हैं। देवता से क्षत्रिय, क्षत्रिय से वैश्य, शूद्र वर्ण में आना ही है। जो ब्राह्मण धर्म के होंगे वो ही आकर ब्रह्माकुमार, ब्रह्माकुमारियाँ बनेंगे। बाप समझाते हैं – भारत जीवन्मुक्त था, अभी जीवनबन्ध है। बाबा आकर सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति देते हैं। बाप से भारत को कल्प-कल्प बेहद सुख का वर्सा मिलता है। मुक्ति-जीवन्मुक्ति का वर्सा मनुष्य, मनुष्य को दे न सके। पार ले जाने वाला एक ही सतगुरू है। तुम विश्व के रचयिता बाप द्वारा विश्व के मालिक बन रहे हो। बाप कहते हैं मैं तो निष्काम हूँ। ब्रह्मा द्वारा तुमको विश्व का मालिक बनाकर मैं वानप्रस्थ में बैठ जाता हूँ। गाया जाता है दु:ख में सिमरण सब करें, सुख में करे न कोई…. अब सब भक्त एक भगवान को याद करते हैं। फिर सर्वव्यापी कह देते हैं, तो भक्त कैसे ठहरे? यह उल्टा ज्ञान है। बाप तो रचते हैं मुख वंशावली। तुम हो प्रजापिता ब्रह्मा की मुखवंशावली। वह ब्राह्मण हैं कुख वंशावली। वे जिस्मानी पण्डे, तुम हो रूहानी पण्डे।

बाप सब आत्माओं को कहते हैं – अब तुम मुझ बाप को याद करो। बाप को थोड़े-ही भूलना चाहिए। बाप को भूला तो वर्सा कैसे मिलेगा। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। बाकी सब हैं रचना, उनसे वर्सा नहीं मिल सकता। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ड्रामा के राज़ को अच्छी रीति जानकर पार्ट बजाना है। अभी हम धणी बाप के बने हैं, कब आपस में लड़ना-झगड़ना नहीं है।

2) बाप गाइड बन सबको लेने आया है, अब देह सहित सब कुछ भूल एक बाप को ही याद करना है।

वरदान:- हिम्मत के संकल्प द्वारा माया को हिम्मतहीन बनाने वाले हिम्मतवान आत्मा भव
जो बच्चे एक बल एक भरोसे में रहते हैं, हिम्मत का संकल्प करते हैं कि हमें विजयी बनना ही है तो हिम्मते बच्चे मददे बाप का सदा अनुभव होता है। हिम्मत से मदद के पात्र बन जाते हैं। हिम्मत के संकल्प के आगे माया हिम्मतहीन बन जाती है। जो कमजोर संकल्प करते कि पता नहीं होगा या नहीं, मैं कर सकूंगा या नहीं, ऐसे संकल्प ही माया का आह्वान करते हैं इसलिए सदा उमंग-उत्साह सम्पन्न हिम्मत के संकल्प करो तब कहेंगे हिम्मतवान आत्मा।
स्लोगन:- निर्माणचित के तख्त पर बैठ, जिम्मेवारी का ताज धारण करना ही श्रेष्ठता है।

TODAY MURLI 27 June 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 June 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 26 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_1]

 

 

27/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to be saved from sinful actions, practise being bodiless again and again. It is this practice that will make you into conquerors of Maya and enable your yoga to remain constantly connected.
Question: Which aspect of faith should be so firm that your yoga does not break?
Answer: We were pure in the golden and silver ages and we became impure during the copper and iron ages. We now have to become pure once again. If this faith is firm, your yoga will not break. Maya will not defeat you.
Song: The rain of knowledge is for those who are with the Beloved.

 

Om shanti. You sweetest children have understood the meaning of this song. It is not a question of physical rain: that applies to the ocean and the rivers, whereas this is the Ocean of Knowledge. When He comes and showers the rain of knowledge, the darkness of ignorance is removed. Who is able to understand this? Those who consider themselves to be Prajapita Brahma Kumars or Kumaris. You children understand that Shiva is your Father, that He is the Grandfather of all the Brahma Kumars and Kumaris and that He is incorporeal. Since you have the faith that you are Prajapita Brahma Kumars and Kumaris, you should not forget this. All the children are with the Beloved; not only you, they all listen to the murli. The shower of knowledge is only for the children; it is the knowledge with which the immense darkness is removed. You understand that you were in immense darkness and that you have now received light. You are coming to know everything. You know the biography of the Supreme Father, the Supreme Soul. Those who do not know the biography of Shiv Baba, raise your hands! Everyone knows the life story of God, not only of this birth. Do you know how many births there are in Shiv Baba’s biography? Do you know what part Shiv Baba has in this drama? You know Him and His biography from the beginning through the middle until the end. I definitely have to give the return of the faith with which people perform devotion on the path of devotion. Those images do not exist in the living form now. I alone grant visions. You understand that devotion continues for half the cycle and that your desires of devotion are now finished. You have now become the children, so you definitely receive the inheritance. A father gives an inheritance to his children; this is a law. Your faces are now turned towards salvation. You know about the incorporeal world, the subtle region and the corporeal region and who the main Actor of this unlimited drama is. He is the Creator, then the Director and Karankaravanhar. He gives directions and He also teaches. He says: I have come to teach you Raja Yoga. This is action and I also inspire others to act. For half the cycle you have been performing false actions under the influence of Maya. This is a play about victory and defeat. Maya makes you perform false actions. How could someone who makes you perform false actions be called God? God says: I am the only One who teaches everyone how to perform true actions. It is now the time of settlement for everyone. Everyone has to be awakened from the grave. Everyone is buried in the graveyard. The Father comes and awakens everyone. Death is just ahead. Shiv Baba explains everything to us through the body of Brahma. You now know the biography of everyone including that of Shiv Baba, so you are elevated. Those who do not know anything bow their heads in front of those who recite the scriptures. You must not bow your heads. This is a very easy thing. You children understand that you will become residents of the incorporeal world, the land of peace and that you will then go to the land of happiness. You are now Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. You are the grandchildren of Shiv Baba. By remembering Shiv Baba you will receive the inheritance of happiness. You children have this faith: We were pure, we became impure and we have to become pure once again. If there isn’t this faith, you are not able to have yoga and you will not receive a good status. A pure life is good. There is great regard for kumaris, because you kumaris do a great deal of service at this time. You remain pure; the purity of this time is worshipped on the path of devotion. This world is very dirty. There is a story of Kichak (a villain from the Mahabharata). People come with very dirty thoughts and they are called Kichak. This is why Baba says: Be very careful! This is a very dirty world of thorns. You should have the great happiness: that we will go to the land of peace and then go to the land of happiness. We were the masters of the land of happiness, and we then went around the cycle. You should have this faith. You must instil in yourselves the habit of becoming bodiless. Otherwise, Maya will eat you up, your yoga will break and your sins will not then be absolved. You should make so much effort to stay in remembrance. You will only become ever healthy by remembering Baba. Become bodiless as much as possible and remember the Father. The Father of us souls, the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us. He teaches us cycle after cycle and gives us our fortune of the kingdom. You are establishing your kingdom through the power of yoga. A king rules a kingdom, and his army fights for his kingdom whereas you here are making effort for yourselves, not for the Father. Baba says: I don’t even rule the kingdom. I show you the way to claim the kingdom. All of you are in your age of retirement. It is the time of death for everyone; there is no question of young or old. Don’t think that a young child will receive an inheritance from his father. This world will no longer exist for them to claim an inheritance. People are in immense darkness. They have a desire to earn a lot of money because they think that their grandchildren will be able to use it. However, that desire will not be fulfilled for any of them. Everything will turn to dust. This world itself will be destroyed. Everything will be destroyed by just one bomb being dropped. There will be no one to save anyone. Gold mines etc. have now become completely empty. They will all become full again in the new world. Everything in the new world will be new. The cycle of the drama is now being completed and it will start once again. Enlightenment has now come. It is also said that when the sun of knowledge emerges, the darkness of ignorance is dispelled. It is not a question of that sun. People offer water to the sun. Although it is the sun that enables water to spread over the entire world, they offer water to the sun. It is a wonder of devotion! They then say: Salutations to the sun deity, salutations to the moon deity. How can they be deities? People here change from devils into deities. They cannot be called deities; they are the sun, the moon and the stars. People hoist a flag with an image of the sun. In Japan, they speak of the sun dynasty but, in fact, everyone belongs to the dynasty of the Sun of Knowledge. However, they do not have knowledge. There is such a difference between the Sun of Knowledge and that sun. They create inventions of science here but, in spite of that, what is the result? Nothing at all! Destruction will definitely take place. S ensible ones understand that they will destroy themselves with that science. Theirs is science and yours is silence. They bring about destruction through science and you establish heaven through silence. This is hell and everyone’s boat has sunk. On that side, there are those armies, and you are the army on this side with the power of yoga. You salvage them. You have such a great responsibility, so you should become complete helpers. This old world is going to be destroyed. You have now understood the drama. It is now the time of the confluence. The Father has come to take our boats across. You understand that when the kingdom is fully established, destruction will take place. However, rehearsals will take place in between. Many wars are taking place; this is a dirty world. You understand that Baba will send us to the beautiful world. We have to shed these old costumes and put on new costumes. The Father gives a guarantee: I take you all back home cycle after cycle. This is why My name is the Death of all Deaths. I am also known as the Purifier, the Merciful One. You understand that you are making effort to go to heaven by following shrimat. Baba says: If you remember Me, I will send you to heaven but, as well as that, you also have to earn your livelihood. No one can stay without performing actions. It is not possible to renounce action. Having a bath etc. is also performing action. Everyone will receive the full knowledge by the end. They will understand that when they say that Shiv Baba is teaching them, that is right. Incorporeal God speaks. God is only one. This is why Baba continues to say: Ask everyone what relationship they have with incorporeal Shiva. All are brothers, so, surely, brothers must have a father! Otherwise, where would they come from? People sing: You are our Mother and Father. This is the Father’s praise. The Father says: I am the One who teaches you, and you then become the masters of the world. Even while sitting here, you have to remember Shiv Baba. You only see the body through those eyes, but you understand with your intellects that Shiv Baba is the One who is teaching us. This Raja Yoga and rain of knowledge are for those who are with the Father. It is the Father’s task to purify the impure. He is the Ocean of Knowledge. You understand that you are the grandchildren of Shiv Baba and the children of Brahma, and that Shiva is Brahma’s Father. The inheritance is received from Shiv Baba and He is the One who has to be remembered. You are now to go to the land of Vishnu. You are raising your anchors from here. The boat s of the shudras are standing still, whereas your boat s have moved. You will return straight home. You have to leave the old clothes behind. The play is now about to be completed, you have to shed your costumes and return home. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not perform any false actions. Death is just ahead. It is the time of settlement and you must therefore awaken everyone from the grave. Do the service of becoming pure and making others pure.
  2. Do not have any desires in this dirty world. Become the Father’s complete helpers in salvaging everyone’s sunken boat.
Blessing: May you constantly give and receive happiness in Brahmin life and claim a right to supersensuous happiness.
Those who have claimed a right to supersensuous happiness constantly swing in the swing of happiness with the Father. They never have the thought: So and so has caused me a lot of sorrow. They promise that they will not cause sorrow or take sorrow. Even if by force, someone tries to cause them sorrow, they do not accept it. Brahmin souls means those who are constantly happy. The duty of Brahmins is to give happiness and receive happiness. They are the souls who constantly stay in the world of happiness and are embodiments of happiness.
Slogan: Be humble and people will bow down to you and co-operate with you.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_1]

 

Read Bk Murli 25 June 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 27 June 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 June 2017

To Read Murli 26 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_1]

 

 

 

27/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – विकर्मों से बचने के लिए घड़ी-घड़ी अशरीरी बनने की प्रैक्टिस करो, यह प्रैक्टिस ही माया जीत बनायेगी, स्थाई योग जुटा रहेगा”
प्रश्नः- कौन सा निश्चय यदि पक्का हो तो योग टूट नहीं सकता?
उत्तर:- सतयुग त्रेता में हम पावन थे, द्वापर कलियुग में पतित बने, अब फिर हमें पावन बनना है, यह निश्चय पक्का हो तो योग टूट नहीं सकता। माया हार खिला नहीं सकती।
गीत:- जो पिया के साथ है…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे इस गीत का अर्थ समझ गये। उस बरसात की तो बात नहीं है। वह जो सागर वा नदियां हैं उनकी बात नहीं है। यह है ज्ञान सागर, वह आकर ज्ञान बरसात बरसाते हैं, तो अज्ञान अन्धियारा दूर हो जाता है। यह कौन समझते हैं? जो अपने को प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारी समझते हैं। बच्चे जानते हैं हमारा बाप शिव है, वह हो गया हम सब बी.के. का दादा, सो भी निराकार। जबकि तुम निश्चय करते हो हम प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारियां हैं तो फिर यह भूलने की बात ही नहीं। सभी बच्चे पिया के साथ हैं। ऐसे नहीं कि सिर्फ तुम हो, मुरली तो सब सुनेंगे। बच्चों के लिए ही ज्ञान बरसात है, जिस ज्ञान से घोर अन्धियारे का विनाश हो जाता है। तुम जानते हो हम घोर अन्धियारे में थे, अब रोशनी मिली है तो सब जानते जा रहे हो। परमपिता परमात्मा की बॉयोग्राफी को तुम जानते हो। जो शिवबाबा की बॉयोग्राफी को नहीं जानते वह हाथ उठाओ। सब जानते हैं परमात्मा की जीवन कहानी। सो भी एक जन्म की नहीं। शिवबाबा की कितने जन्मों की बॉयोग्राफी है? तुमको मालूम है? तुम जानते हो शिवबाबा का इस ड्रामा में क्या पार्ट है। आदि से अन्त तक उनको और उनकी बॉयोग्राफी को जानते हो। बरोबर भक्ति मार्ग में जो जिस भावना से भक्ति करते हैं उनका एवजा मुझे देना होता है। वह चैतन्य तो है नहीं, साक्षात्कार मैं ही कराता हूँ। तुम जानते हो आधाकल्प भक्ति मार्ग चलता है। भक्ति की मनोकामनायें पूरी हुई, अब फिर बच्चे बने हैं उनको तो जरूर वर्सा मिलेगा। बाप बच्चों को वर्सा देते हैं, यह कायदा है। तुम्हारा अभी सद्गति तरफ मुख है। तुम मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूल वतन को जानते हो। कौन इस बेहद ड्रामा में मुख्य एक्टर्स हैं। क्रियेटर और फिर डायरेक्टर रचता है और करनकरावनहार है। डायरेक्शन देते हैं ना। पढ़ाते भी हैं। कहते हैं मैं तुमको राजयोग सिखाने आया हूँ। यह भी कर्म करना हुआ ना और कराते भी हैं। आधाकल्प तुम माया के वश असत्य कर्तव्य करते आये हो। यह है हार-जीत का खेल। माया तुम्हारे से असत् कर्तव्य कराती आई है। असत् कर्तव्य कराने वाले को भगवान कैसे कह सकते? भगवान कहते हैं मैं तो एक ही हूँ, जो सबको सत् कर्म करना सिखलाता हूँ। अभी सबकी कयामत का समय है। सबको कब्र से जगाना है। यह सब कब्रदाखिल हैं। बाप आकर जगाते हैं। मौत सामने खड़ा है। शिवबाबा ब्रह्मा तन द्वारा हमको सब समझा रहे हैं। तुम सबकी बॉयोग्राफी, शिवबाबा की भी बॉयोग्राफी जानने वाले बन गये हो। तो ऊंच ठहरे ना। जो शास्त्र बहुत अध्ययन करने वाले होते हैं, उनके आगे न जानने वाले माथा टेकते हैं। तुमको माथा नहीं टेकना है। है बिल्कुल सहज बात। बच्चे समझते हैं हम मूलवतन, शान्तिधाम के रहवासी बनेंगे, फिर सुखधाम में आयेंगे। अभी हम प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारी हैं। शिवबाबा के हम पोत्रे हैं। शिवबाबा को याद करने से हमको सुख का वर्सा मिलेगा। तुम बच्चों को निश्चय है कि हम पवित्र थे फिर पतित बने अब फिर हमें पावन बनना है। अगर निश्चय नहीं होगा तो योग भी नहीं लगेगा, पद भी नहीं पा सकेंगे। पवित्र जीवन तो अच्छी है ना। कुमारियों का बहुत मान है क्योंकि इस समय तुम कुमारियाँ बहुत ही सर्विस करती हो ना। अभी तुम पवित्र रहती हो, अभी की पवित्रता भक्ति मार्ग में पूजी जाती है। यह दुनिया तो बड़ी गन्दी है, कीचक की कहानी है ना। मनुष्य बहुत गन्दे विचार रखकर आते हैं, उनको कीचक कहा जाता है इसलिए बाबा कहते हैं बड़ी सम्भाल रखनी है। बहुत गन्दी कांटों की दुनिया है। तुमको तो बहुत खुशी होनी चाहिए। हम शान्तिधाम में जाकर फिर सुखधाम में आयें। हम सुखधाम के मालिक थे फिर चक्र लगाया है। यह तो निश्चय होना चाहिए ना। अशरीरी बनने की आदत डालनी है, नहीं तो माया खाती रहेगी, योग टूटा हुआ रहेगा, विकर्म विनाश नहीं होंगे। कितनी मेहनत करनी चाहिए याद में रहने की। याद से ही एवर-हेल्दी बनेंगे। जितना हो सके अशरीरी बन बाप को याद करना है। हम आत्माओं को बाप परमपिता परमात्मा पढ़ा रहे हैं। कल्प-कल्प पढ़ाते हैं, राज्य-भाग्य देते हैं। तुम योगबल से अपनी राजधानी स्थापन करते हो। राजा-राज्य करते हैं, सेना राज्य के लिए लड़ती है। यहाँ तुम अपने लिए मेहनत करते हो, बाप के लिए नहीं। मैं तो राज्य ही नहीं करता हूँ। मैं तुमको राज्य दिलाने लिए युक्तियां बताता हूँ। तुम सब वानप्रस्थी हो सबका मौत है। छोटे-बड़े का कोई हिसाब नहीं। ऐसे नहीं समझना छोटा बच्चा होगा तो उनको बाप का वर्सा मिलेगा। यह दुनिया ही नहीं रहेगी जो पा सके। मनुष्य तो घोर अन्धियारे में हैं। खूब पैसा कमाने की इच्छा रखते हैं, समझते हैं हमारे पुत्र-पौत्रे खायेंगे। परन्तु यह कामना किसी की पूर्ण नहीं होगी। यह सब मिट्टी में मिल जाना है। यह दुनिया ही खत्म होनी है। एक ही बॉम्ब लगा तो सब खत्म हो जायेंगे। निकालने वाला कोई नहीं। अभी तो सोने आदि की खानियां बिल्कुल खाली हो गयी हैं। नई दुनिया में वह फिर सब भरतू हो जायेंगी। वहाँ नई दुनिया में सब कुछ नया मिल जायेगा। अभी ड्रामा का चक्र पूरा होता है, फिर शुरू होगा। रोशनी आ गई है। गाते हैं ज्ञान सूर्य प्रकटा, अज्ञान अन्धेर विनाश। उस सूर्य की बात नहीं, मनुष्य सूर्य को पानी देते हैं। अब सूर्य तो पानी पहुंचाता है सारी दुनिया को। उनको फिर पानी देते हैं, वन्डर है भक्ति का फिर कहते हैं सूर्य देवताए नम:, चांद देवताए नम:। वह फिर देवताएं कैसे होंगे? यहाँ तो मनुष्य असुर से देवता बनते हैं। उनको देवता नहीं कह सकते। वह तो सूर्य, चादं सितारे हैं। सूर्य का भी झण्डा लगाते हैं। जापान में सूर्यवंशी कहते हैं। वास्तव में ज्ञान सूर्यवंशी तो सब हैं। परन्तु नॉलेज नहीं है, अब कहाँ वह सूर्य, कहाँ यह ज्ञान सूर्य। यहाँ भी यह साइन्स की इन्वेन्शन निकालते हैं, फिर भी नतीजा क्या होता है! कुछ भी नहीं। विनाश को पाया कि पाया। सेन्सीबुल जो होते हैं वह समझते हैं इस साइन्स से अपना ही विनाश करते हैं। उन्हों की है साइन्स, तुम्हारी है साइलेन्स। वह साइन्स से विनाश करते हैं, तुम साइलेन्स से स्वर्ग की स्थापना करते हो। अभी तो नर्क में सबका बेड़ा डूबा हुआ है। उस तरफ वह सेनायें, इस तरफ तुम हो योगबल की सेना। तुम सैलवेज करने वाले हो। कितनी तुम्हारे ऊपर रेसपॉन्सिबिल्टी है, तो पूरा मददगार बनना चाहिए। यह पुरानी दुनिया खत्म हो जानी है। अभी तुम ड्रामा को समझ गये हो। अभी संगम का टाइम है। बाप बेड़ा पार करने आये हैं। तुम समझते हो राजधानी पूरी स्थापन हो जायेगी फिर विनाश होगा। बीच-बीच में रिहर्सल होती रहेगी। लड़ाईयाँ तो ढेर लगती रहती हैं। यह है ही छी-छी दुनिया, तुम जानते हो बाबा हमको गुल-गुल दुनिया में ले चलते हैं। यह पुराना चोला उतारना है। फिर नया चोला पहनना है। यह तो बाप गैरन्टी करते हैं कि हम कल्प-कल्प सभी को ले जाता हूँ, इसलिए मेरा नाम कालों का काल महाकाल रखा है। पतित-पावन, रहमदिल भी कहते हैं।

तुम जानते हो हम स्वर्ग में जाने का पुरूषार्थ कर रहे हैं, श्रीमत पर। बाबा कहते मुझे याद करो तो मैं तुमको स्वर्ग में भेज दूंगा, साथ-साथ शरीर निर्वाह भी करना है। कर्म बिना तो कोई रह न सके। कर्म सन्यास तो होता नहीं। स्नान आदि करना, यह भी कर्म है ना। पिछाड़ी में सब पूरा ज्ञान लेंगे, सिर्फ समझेंगे कि यह जो कहते हैं कि शिवबाबा पढ़ाते हैं, यह ठीक है, निराकार भगवानुवाच – वह तो एक ही है इसलिए बाबा कहते रहते हैं सबसे पूछो निराकार शिव से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? सब ब्रदर्स हैं तो ब्रदर्स का बाप तो होगा ना। नहीं तो कहाँ से आये। गाते भी हैं तुम मात-पिता…। यह है बाप की महिमा, बाप कहते हैं मैं ही तुमको सिखलाता हूँ। तुम फिर विश्व के मालिक बनते हो। यहाँ बैठे भी शिवबाबा को याद करना है। इन आंखों से तो शरीर को देखते हैं, बुद्धि से जानते हैं हमको पढ़ाने वाला शिवबाबा है। जो बाप के साथ हैं उसके लिए ही यह राजयोग और ज्ञान की बरसात है। पतितों को पावन बनाना – यह बाप का काम है। यह ज्ञान सागर वही है, तुम जानते हो हम शिवबाबा के पोत्रे, ब्रह्मा के बच्चे हैं। ब्रह्मा का बाप है शिव, वर्सा शिवबाबा से मिलता है। याद भी उनको करना है। अभी हमको जाना है विष्णुपुरी। यहाँ से तुम्हारा लंगर उठा हुआ है। शूद्रों की बोट (नांव) खड़ी है। तुम्हारी बोट चल पड़ी है। अभी तुम सीधा घर चले जायेंगे। पुराना कपड़ा सब छोड़ जाना है। अभी यह नाटक पूरा होता है, अब कपड़ा उतार जायेंगे घर। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कोई भी असत् कर्म नहीं करना है, मौत सामने खड़ा है, कयामत का समय है इसलिए सबको कब्र से जगाना है। पावन बनने और बनाने की सेवा करनी है।

2) इस छी-छी दुनिया में कोई भी कामनायें नहीं रखनी है। सबके डूबे हुए बेड़े को सैलवेज करने में बाप का पूरा मददगार बनना है।

वरदान:- ब्राह्मण जीवन में सदा सुख देने और लेने वाले अतीन्द्रिय सुख के अधिकारी भव
जो अतीन्द्रिय सुख के अधिकारी हैं वे सदा बाप के साथ सुखों के झूलों में झूलते हैं। उन्हें कभी यह संकल्प नहीं आ सकता कि फलाने ने मुझे बहुत दु:ख दिया। उनका वायदा है – न दु:ख देंगे, न दु:ख लेंगे। अगर कोई जबरदस्ती भी दे तो भी उसे धारण नहीं करते। ब्राह्मण आत्मा अर्थात् सदा सुखी। ब्राह्मणों का काम ही है सुख देना और सुख लेना। वे सदा सुखमय संसार में रहने वाली सुख स्वरूप आत्मा होंगी।
स्लोगन:- नम्र बनो तो लोग नमन करते हुए सहयोग देंगे।

 

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 25 June 2017 :- Click Here

 
Font Resize