today murli 27 december

TODAY MURLI 27 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 December 2018 :- Click Here

27/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, I am once again teaching you Raja Yoga and making you into kings of kings. The whole cycle is merged in the words ‘once again’.
Question: The Father is powerful and Maya too is powerful. What is each powerful in?
Answer: The Father makes you pure from impure. The Father is powerful in making you pure and this is why He is called the Purifier and the Almighty Authority. Maya is powerful in making you impure. There are such bad omens while earning a true income that, instead of a profit, there is loss. Maya makes you crazy for the vices. This is why Baba says: Children, make effort to become soul conscious.
Song: We have to walk on the path where we may fall, so we have to be cautious!

Om shanti. Which path do you children have to walk on? Surely, there must be someone to show you the path. People follow the wrong path. That is why they are unhappy. They are so unhappy because they do not follow His directions. All have been following wrong directions since the kingdom of Ravan, the one who gives wrong directions, began. The Father explains: At this time, you follow the dictates of Ravan. This is why everyone has reached such a bad condition. All call themselves impure. Bapu Gandhiji too used to say: O Purifier, come! That means we are impure. However, none of them understand how they became impure. They want there to be the kingdom of Rama in Bharat, but who would make it that? The Father explained everything in the Gita, but they have put the wrong name for God in the Gita. The Father explains what you have done. If they were to put the Pope’s name in the Bible of Christ, there would be so much loss. This too is the drama. The Father explains the biggest mistake to you. This knowledge of the beginning, the middle and the end is in the Gita. The Father explains: I am once again making you into kings of kings. You don’t know how you have taken 84 births. I tell you that. This is not mentioned in any of the scriptures. There are innumerable scriptures. There are many different directions. The Gita means the Gita. The One who spoke the Gita gave that advice. He says: I have come once again to teach you Raja Yoga. The shadow of Maya has been cast over you. I have now come once again. In the Gita, too, it says: O God, come and speak the Gita once again. That means: Give us the knowledge of the Gita once again. It is mentioned in the Gita that the devilish world is destroyed and the deity world is once again established. The words ‘once again’ would definitely be used. Guru Nanak will once again come at his own time. They also show images. There will be the same Krishna with the peacock-feathered crown. All of these secrets are mentioned in the Gita but they have changed God’s name. We don’t say that we don’t believe in the Gita, but that the Father comes and explains to us about the wrong name that human beings have put in the Gita and that He puts it right. He also explains that each soul has his own fixed part. Not everyone can be the same. Just as a human being means a human being, similarly, a soul means a soul. However, each soul has his own part recorded in him. A very intelligent person is needed to explain these things. The Father knows who can explain, who are sensible in doing service, whose line (of the intellect) is clear and who remain soul conscious. Not everyone has become completely soul conscious. That will be the result at the end. When the days of an examination come close, you can tell who will passTeachers can understand and the children can also understand: This one is the cleverest of all. There, it is possible that cheating can take place; it cannot take place here. This is fixed in the drama. Only those who emerged in the previous cycle will emerge. Baba can tell from the speed of your service. In earning this true income, there are profit and loss and sometimes bad omens etc. While walking along, you break your leg. While you are having a pure marriage, Maya makes you go completely crazy. Maya too is very powerful. Baba is powerful in making you pure. This is why He is called the Almighty Authority and the Purifier. Then Maya is powerful in making you impure. Maya doesn’t exist in the golden age. That is the viceless world , whereas it is now the completely vicious world. There is so much force. While you are walking along, Maya catches hold of you by the nose and makes you go crazy. She is so powerful that she makes you divorce Baba. Although the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Almighty Authority, Maya too is no less. Her kingdom continues for half the cycle. No one knows this. Day and night are half and half; the day of Brahma and the night of Brahma. Nevertheless, they show the duration of the golden age to be hundreds of thousands of years and the iron age to be much longer. The Father now explains to you and so you are able to understand that this is absolutely right. The Father sits here and teaches you. Human beings of the iron age would not teach you the Raja Yoga of the Gita and make you into kings of kings. There is no one who has it in his intellect that he will study Raja Yoga and become a king of kings. There are many of those Gita Pathshalas, but no one can study Raja Yoga there and become a king of kings or become a queen. There is no aim or objective of attaining a kingdom there. Here, you say that you are studying with the unlimited Father to claim the sovereignty of future happiness. First of all, you have to explain about Alpha. Everything depends on the Gita. How can people know how the world cycle turns, where they have come from and where they have to go to? No one knows this. Which land have we come from and which land do we have to go to? There is that song, but they simply continue to sing it like parrots. The intellects that are in souls do not know who the One is whom they call out to, saying, “O Supreme Father, Supreme Soul!” They can neither see Him nor know Him. It is the duty of a soul to know his Father and see Him. You now understand that we are souls and that the Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us. The intellect says: The Father comes and teaches us. When they invite the soul of someone, they understand that the soul of such-and-such a person has come. So, you understand that you are souls and that He is your Father. You should definitely receive the inheritance from the Father. Why have we become unhappy? People say that it is the Father who gives happiness and sorrow. They continue to insult God. They are devilish children. They say what they said in the previous cycle. You have now become the practical children of God. Previously, you were devilish children. The Father now says: Constantly remember Me alone. It is very easy to explain these few words to anyone: You are the children of God. God created heaven which has now become hell. Then, the Father alone will create heaven once again. The Father is teaching us Raja Yoga and establishing heaven. Achcha, you don’t know Shiva. It is that Father who also creates Prajapita Brahma. Therefore, surely, the Father would teach you through Brahma. It is now the shudra clan. We will become deities and warriors from Brahmins. Why else would the variety-form image have been created? The picture is accurate, but they are unable to understand it. Who would make shudras into Brahmins? Definitely, Prajapita Brahma is needed. How was he adopted? You say, “This is my wife”. So, how did He make this one belong to Him? He adopted him. The Father says: You call Me the Mother and Father. I am the Father. Where can I bring my wife from? So, I enter this one and name him Brahma. A wife is adopted. Just as a physical father adopts a wife and creates a physical creation, so Baba entered this one, adopted him and created the mouth-born creation through him. You say: We are Brahmins. Definitely, this one’s name is Brahma. Whose child is Brahma? Shiv Baba’s. Who adopted him? The unlimited Father. The example is very good, but it is only those in whose intellects this has sat who will be able to explain. If it is not in someone’s intellect, he won’t know how to explain. There are physical fathers and the parlokik Father. They each adop t a wife and say: “She is mine.” That One enters this one and adopts him. He Himself says: I, the incorporeal One, have to take the support of this one. Therefore, I also change his name. How many names can He give at the same time? You should keep the list of names with you. The list of names should also be shown at the exhibitions. Look how Baba gave all the names at the same time. Baba made us belong to Him and so He had our names changed. He is called Bragu Rishi (astrologer who knew each one’s horoscope). Only God has your horoscope. They are wonderfulnames. Not all of them are here now. Some were amazed and then ran away. Today they are here and tomorrow they are not here. The number one enemy is lust. This vice of lust causes you a lot of distress. You have to conquer it. While living at home with your families, you have to live together and conquer it. This is your promise. You have to check your attitude and not perform sinful actions through your physical organs. Storms come to everyone. You mustn’t be afraid of them. Many children ask Baba: Should I do this business or not? Baba writes back to them: Have I come here to look after your business etc? I am the Teacher and have come to teach you. Why do you ask Me about your business? I teach you Raja Yoga. The sacrificial fire of Rudra has been remembered. It isn’t a sacrificial fire of Krishna that is remembered. The Father says: Lakshmi and Narayan don’t have knowledge of the world cycle. If they were to know at that time that they had to become fourteen degrees from sixteen celestial degrees, their intoxication of the kingdom would fly away. There is salvation there anyway. The Bestower of Salvation is only One. He alone comes and tells you the method. No one else can tell you this. First of all, take up the topic: Who said that lust is the greatest enemy? It is said: The vicious world and the viceless world. It is only in Bharat that they continue to burn effigies of Ravan. They would not burn them in the golden age. If, as they say, it is eternal and that he also existed in the golden age, then there would have been sorrow everywhere. In that case, how could that be called heaven? These matters have to be explained. Each one’s speed is individual. You can tell who has a good speed. No one has yet become perfect, but there are the stages of sato, rajo and tamo. The intellect of each one is different. Those who don’t follow shrimat have tamopradhan intellects. If you don’t insure yourself, how would you receive your future 21 births? You have to die, so why not insure yourselves? Everything belongs to Him. Therefore, He will also sustain you. Some gave everything, but they don’t do service but continue to eat from what they gave, so what will be accumulated? Nothing at all! Proof of service is required. It is seen who come here as guides. New BKs who run a centre between them are also given many thanks. This knowledge is very easy. Go and explain to those who are in the stage of retirement when the stage of retirement really is. Only the Father would become the Guide and take everyone back. You know that the Father Himself is the Death of all Deaths. We want to go back together with Baba in happiness. First of all, take up the main topic: Who is the God of the Gita who created creation? Who taught Raja Yoga to Lakshmi and Narayan? Their kingdom is being established. No one else comes to establish the kingdom. The Father Himself comes to establish the kingdom. He makes all the impure ones pure. This is the vicious worldand that is the viceless world. Status is numberwise in both worlds. These things can only sit in the intellects of those who follow shrimat. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain soul conscious so that the line of your intellect always stays clear. While earning your true income, be cautious that Maya doesn’t make you incur a loss in any way.
  2. Don’t perform any sinful deeds through your physical organs. After insuring yourselves, you also definitely have to do service.
Blessing: May you become an embodiment of happiness and “cry-proof” by drying your tank of tears in the heat of yoga.
Some children say that So-and-so is causing them sorrow and that this is why they cry. However, if that one is causing it, why do you take it? That one’s duty is to cause it, but you don’t have to take it. Children of God can never cry. Crying has stopped – both the crying through the eyes and the crying in the mind. Where there is happiness, there will not be any crying. Tears of happiness or of love is not said to be crying. So, dry the tank of tears in the heat of yoga and consider obstacles to be games and you will become an embodiment of happiness.
Slogan: When you have the practice of playing your part as a detached observer, you will then remain beyond tension and automatically pay attention.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 December 2018

To Read Murli 26 December 2018 :- Click Here
27-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – मैं तुम्हें फिर से राजयोग सिखलाकर राजाओं का राजा बनाता हूँ, इस ‘फिर से’ शब्द में ही सारा चक्र समाया हुआ है”
प्रश्नः- बाप भी प्रबल है तो माया भी? दोनों की प्रबलता क्या है?
उत्तर:- बाप तुम्हें पतित से पावन बनाते, पावन बनाने में बाप प्रबल है इसलिए बाप को पतित-पावन सर्वशक्तिमान कहा जाता है। माया फिर पतित बनाने में प्रबल है। सच्ची कमाई में गृहचारी ऐसी बैठती है जो फायदे के बदले घाटा हो जाता है, विकारों के पीछे माया तवाई बना देती है इसलिए बाबा कहते – बच्चे, देही-अभिमानी बनने का पुरुषार्थ करो।
गीत:- हमें उन राहों पर चलना है…….. 

ओम् शान्ति। तुम बच्चों को किन राहों पर चलना है? जरूर राह बताने वाला होगा। मनुष्य रांग रास्ते पर चलते हैं तब तो दु:खी होते हैं। अभी कितने दु:खी हैं क्योंकि उनकी मत पर नहीं चलते। सब उल्टी मत पर चलते आये हैं, जब से उल्टी मत देने वाले रावण का राज्य शुरू हुआ है। बाप समझाते हैं तुम इस समय रावण की मत पर हो, तब हरेक का ऐसा बुरा हाल हुआ है। सब अपने को पतित कहते भी हैं। गांधी बापू जी भी कहते थे – पतित-पावन आओ, गोया हम पतित हैं। परन्तु कोई भी समझते नहीं कि हम पतित कैसे बने हैं? चाहते हैं भारत में राम राज्य हो परन्तु कौन बनायेगा? गीता में बाप ने सब बातें समझाई हैं, परन्तु गीता के भगवान् का ही नाम उल्टा लगा दिया है। बाप समझाते हैं तुमने क्या कर दिया है। क्राइस्ट के बाइबिल में पोप का नाम डाल दें तो कितना नुकसान हो जाए। यह भी ड्रामा है। बाप बड़े से बड़ी भूल समझाते हैं। यह आदि, मध्य, अन्त का ज्ञान गीता में है। बाप समझाते हैं मैं तुमको फिर से राजाओं का राजा बनाता हूँ। तुमने 84 जन्म कैसे लिये – यह तुम नहीं जानते हो, हम बताते हैं। यह कोई भी शास्त्र में नहीं है। शास्त्र तो अनेक हैं। भिन्न-भिन्न मतें हैं। गीता माना गीता। जिसने गीता गाई है उसने ही राय दी है। कहते हैं मैं तुमको राजयोग सिखाने फिर से आया हूँ। तुम पर माया का परछाया पड़ गया है। अभी फिर से मैं आया हूँ। गीता में भी कहते हैं हे भगवान् फिर से गीता सुनाने आओ अर्थात् फिर से गीता की नॉलेज दो। गीता में ही यह बात है कि आसुरी सृष्टि का विनाश और दैवी सृष्टि की स्थापना फिर से होती है। फिर जरूर कहेंगे। गुरूनानक फिर से आयेगा अपने समय पर, चित्र भी दिखाते हैं। कृष्ण भी फिर से वही मोर मुकुट वाला होगा। तो यह सब राज़ गीता में हैं। परन्तु भगवान् को बदल दिया है। हम ऐसे नहीं कहते कि गीता को नहीं मानते परन्तु उसमें जो यह उल्टा नाम मनुष्यों ने डाल दिया है, उसको बाप आ करके सीधा करके समझाते हैं। यह भी समझाते हैं हर एक आत्मा में अपना-अपना पार्ट नूंधा हुआ है। सब एक समान नहीं हो सकते। जैसे मनुष्य माना मनुष्य, वैसे आत्मा माना आत्मा। परन्तु हर एक आत्मा में अपना पार्ट भरा हुआ है। यह बातें समझाने वाला बड़ा बुद्धिवान चाहिए। बाप जानते हैं कौन समझा सकते हैं, कौन सर्विस करने में समझदार हैं, किसकी लाइन क्लीयर है। देही-अभिमानी रहते हैं। सब तो परिपूर्ण, देही-अभिमानी नहीं बने हैं। यह तो अन्त में रिजल्ट होगी। इम्तहान के दिन जब नज़दीक होते हैं तो मालूम पड़ जाता है कौन-कौन पास होंगे। टीचर्स भी समझ सकते हैं और बच्चे भी समझते हैं कि यह सबसे तीखा है। वहाँ तो ठगी आदि भी हो सकती है। यहाँ तो यह बात हो न सके। यह तो ड्रामा में नूंध है। कल्प पहले वाले ही निकलेंगे। हमें पता चलता है सर्विस की रफ्तार से। इस सच्ची कमाई में घाटा और लाभ, गृहचारी आदि आती है। चलते-चलते टांग टूट पड़ती है। गन्धर्वी विवाह करने बाद फिर माया एकदम तवाई बना देती है। माया भी बड़ी प्रबल है। बाबा प्रबल है पावन बनाने में, इसलिए उनको सर्वशक्तिमान पतित-पावन कहा जाता है और फिर माया प्रबल है पतित बनाने में। सतयुग में तो माया होती नहीं। वह है ही वाइसलेस वर्ल्ड, अभी है एकदम विशश वर्ल्ड। कितनी जबरदस्त प्रबलता है। चलते-चलते माया एकदम नाक से पकड़ तवाई बना देती है, फारकती दिला देती है, इतनी प्रबल है। भल सर्वशक्तिमान परमपिता परमात्मा को कहते हैं परन्तु माया भी कम नहीं है। आधाकल्प उनका राज्य चलता है। यह कोई थोड़ेही जानते हैं। दिन और रात आधा-आधा होता है, ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। फिर भी सतयुग को लाखों वर्ष, कलियुग को कितने वर्ष दे देते हैं। अभी बाप समझाते हैं तो समझ में आता है। यह तो बिल्कुल राइट है। बाप बैठ पढ़ाते हैं। कलियुग में मनुष्य थोड़ेही गीता का राजयोग सिखाए राजाओं का राजा बनायेंगे। ऐसे तो कोई है नहीं, जिसकी बुद्धि में हो कि हम राजयोग सीख राजाओं का राजा बनेंगे। वो गीता पाठशालायें तो अनेक हैं परन्तु कोई राजयोग सीख राजाओं का राजा वा रानी बन नहीं सकते। कोई भी एम ऑबजेक्ट राजाई पाने का नहीं है। यहाँ तो कहते हो हम बेहद के बाप से भविष्य सुख की राजाई पाने के लिए पढ़ते हैं। पहले-पहले तो अल्फ पर समझाना है। गीता पर ही सारा मदार है। मनुष्यों को कैसे पता पड़े सृष्टि चक्र कैसे फिरता है, हम कहाँ से आये हैं, फिर कहाँ जाना है। कोई को पता नहीं है। कौन देश से आया, कौन देश है जाना। गीत भी है ना, सिर्फ तोते मुआफ़िक गाते रहते हैं। बुद्धि जो आत्मा में है वह नहीं जानती कि हम जिसको हे परमपिता परमात्मा कहते हैं वह कौन है। उनको न देख सकते हैं, न जान सकते हैं। आत्मा का तो फ़र्ज है ना – बाप को जानना, देखना। अभी तुम समझ गये हो, हम आत्मा हैं परमपिता परमात्मा बाप हमको पढ़ाते हैं। बुद्धि कहती है बाप आकर पढ़ाते हैं। जैसे किसकी आत्मा को बुलाते हैं तो समझते हैं ना उनकी आत्मा आई है। तो तुम समझते हो हम आत्मा हैं, हमारा वह बाप है। बाप से जरूर वर्सा मिलना चाहिए। हम दु:खी क्यों हुए हैं, मनुष्य तो कह देते बाप ही सुख दु:ख देने वाला है। भगवान् को गाली देते रहते हैं। वह हैं आसुरी सन्तान। जैसे कल्प पहले कहा है वैसे कहते हैं। तुम अभी प्रैक्टिकल में ईश्वरीय सन्तान बने हो। आगे तुम आसुरी औलाद थे। अब बाप कहते हैं निरन्तर मुझे याद करो। किसको भी यह दो अक्षर समझाना बहुत सहज है। तुम भगवान् के बच्चे हो। भगवान् ने स्वर्ग रचा, अब नर्क बना है फिर स्वर्ग बाप ही रचेंगे। बाप हमको राजयोग सिखला रहे हैं, स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। अच्छा, शिव को नहीं जानते हो। प्रजापिता ब्रह्मा को भी रचने वाला वह बाप है। तो जरूर बाप ब्रह्मा द्वारा ही सिखायेंगे। अभी शूद्र वर्ण है। हम ब्राह्मण से देवता क्षत्रिय बनेंगे। नहीं तो विराट रूप क्यों बनाया है, चित्र ठीक है। परन्तु समझ नहीं सकते।

शूद्रों को ब्राह्मण कौन बनायेंगे? जरूर प्रजापिता ब्रह्मा चाहिए। उनको कैसे एडाप्ट किया। जैसे तुम कहते हो यह मेरी स्त्री, उनको ‘मेरी’ कैसे बनाया? एडाप्ट किया। बाप कहते हैं मुझे भी मात-पिता कहते हो, मैं बाप तो हूँ। मेरी कहाँ से लाऊं। तो इनमें प्रवेश कर इनका नाम ब्रह्मा रखता हूँ। स्त्री एडाप्ट की जाती है, जैसे लौकिक बाप स्त्री को एडाप्ट कर कुख वंशावली रचते हैं, बाबा ने फिर इनमें प्रवेश कर इनको एडाप्ट कर इनके मुख द्वारा मुखवंशावली बनाई है। तुम कहते हो हम ब्राह्मण-ब्राह्मणियां हैं। जरूर इनका ही नाम ब्रह्मा है। ब्रह्मा किसका बच्चा? शिवबाबा का। इनको किसने एडाप्ट किया? बेहद के बाप ने। दृष्टान्त बड़ा अच्छा है परन्तु जिसकी बुद्धि में बैठा होगा वह समझा सकेंगे। बुद्धि में नहीं होगा तो उनको समझाने आयेगा ही नहीं। लौकिक और पारलौकिक बाप तो है ना। वह भी स्त्री को एडाप्ट कर मेरी कहते हैं। यह फिर इनमें प्रवेश कर एडाप्ट करते हैं। खुद कहते हैं मुझ निराकार को इनका आधार लेना पड़ता है, तो नाम भी बदली करता हूँ। एक ही टाइम कितनों के नाम रखे। नाम की लिस्ट भी तुम्हारे पास होनी चाहिए। प्रदर्शनी में नाम की लिस्ट भी दिखानी चाहिए। बाबा ने कैसे एक ही समय नाम रखे। बाबा ने हमको अपना बनाया तो नाम बदलाया, उनको भृगु ऋषि कहते हैं। जन्म पत्री तो भगवान् के पास ही है। वन्डरफुल नाम हैं। अब सभी तो हैं नहीं। कोई तो आश्चर्यवत् भागन्ती हो गये। आज हैं, कल हैं नहीं। नम्बरवन दुश्मन है काम। यह काम विकार बहुत तंग करता है। उस पर जीत पानी है। गृहस्थ व्यवहार में इकट्ठे रहकर उन पर जीत पानी है – यह है प्रतिज्ञा। अपनी वृत्ति देखनी है, कर्मेन्द्रियों से विकर्म नहीं करना है। तूफान तो सबको आते हैं। इसमें डरना नहीं है।

बाबा से बहुत बच्चे पूछते हैं यह धंधा करें वा नहीं करें? बाबा लिखते हैं मैं कोई तुम्हारे धन्धे आदि को देखने आया हूँ क्या? मैं तो टीचर हूँ, पढ़ाने के लिए। धन्धे की बात हमसे क्यों पूछते हो? मैं तो राजयोग सिखाता हूँ। रुद्र यज्ञ भी गाया हुआ है, कृष्ण यज्ञ नहीं। बाप कहते हैं लक्ष्मी-नारायण में यह सृष्टि चक्र का ज्ञान ही नहीं। अगर यह मालूम हो कि 16 कला से फिर 14 कला बनना है तो उसी समय ही राजाई का नशा उड़ जाए। वहाँ तो है ही सद्गति। सद्गति दाता तो एक है। वही आकर युक्ति बताते हैं, दूसरा कोई बतला न सके। पहले-पहले यह बात उठाओ कि किसने कहा है – काम महाशत्रु है? यह भी गाते हैं विशश वर्ल्ड और वाइसलेस वर्ल्ड। भारत में ही रावण को जलाते रहते हैं। सतयुग में थोड़ेही जलायेंगे। अगर यह कहते हैं कि अनादि है, सतयुग में भी था फिर तो सब जगह दु:ख ही दु:ख होगा। फिर स्वर्ग कैसे कहेंगे? यह बातें समझानी है। हरेक की रफ्तार अपनी है। पता लग जाता है – कौन अच्छी रफ्तार वाला है? सम्पूर्ण तो कोई बने नहीं हैं। बाकी हाँ, सतो, रजो, तमो तो होते ही हैं। बुद्धि हर एक की अलग-अलग है। जो श्रीमत पर नहीं चलते हैं – वह हैं तमोप्रधान बुद्धि। अपने को इन्श्योर नहीं करेंगे तो भविष्य 21 जन्मों के लिए कैसे मिलेगा। मरना तो है ही। तो क्यों न इन्श्योर कर देना चाहिए। सब कुछ उनका है। तो परवरिश भी वह करेंगे। भल कोई सब कुछ देते हैं, परन्तु सर्विस नहीं करते, जो दिया वह खाते रहते हैं। तो बाकी जमा क्या होगा। कुछ भी नहीं। सर्विस का सबूत चाहिए। देखा जाता है – कौन पण्डे बन आते हैं? नये बी.के. भी आपस में सेन्टर चलाते हैं, उनको भी आफरीन दी जाती है। यह नॉलेज तो बड़ी सहज है। वानप्रस्थ अवस्था वालों को जाकर समझाओ – वानप्रस्थ अवस्था कब होती है? बाप ही गाइड बन सबको ले जायेंगे। तुम जानते हो बाप ही कालों का काल है। हम तो खुशी से बाबा के साथ इकट्ठे जाना चाहते हैं।

पहले-पहले तो मुख्य बात यह उठाओ – गीता का भगवान् कौन है, जिसने रचना रची? लक्ष्मी-नारायण को राजयोग किसने सिखाया? उनकी भी राजधानी स्थापन हो रही है। और कोई राजधानी स्थापन करने आते नहीं। बाप ही राजधानी स्थापन करने आते हैं। सब पतितों को पावन बनाते हैं। यह है विशश वर्ल्ड, वह है वाइसलेस वर्ल्ड। दोनों में नम्बरवार मर्तबे हैं। जो श्रीमत पर चलने वाले होंगे, उनकी बुद्धि में ही यह बातें बैठ सकती हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि की लाइन सदा क्लीयर रहे इसके लिए देही-अभिमानी रहना है। सच्ची कमाई में माया किसी प्रकार से घाटा न डाल दे – यह सम्भाल करनी है।

2) कर्मेन्द्रियों से कोई भी विकर्म नहीं करना है। इन्श्योर करने के बाद सर्विस भी जरूर करनी है।

वरदान:- योग की धूप में आंसुओं की टंकी को सुखाकर रोना प्रूफ बनने वाले सुख स्वरूप भव
कई बच्चे कहते हैं कि फलाना दु:ख देता है इसलिए रोना आता है। लेकिन वह देते हैं आप लेते क्यों हो? उनका काम है देना, आप लो ही नहीं। परमात्मा के बच्चे कभी रो नहीं सकते। रोना बन्द। न आंखों का रोना, न मन का रोना। जहाँ खुशी होगी वहाँ रोना नहीं होगा। खुशी वा प्यार के आंसू को रोना नहीं कहा जाता। तो योग की धूप में आंसुओं की टंकी को सुखा दो, विघ्नों को खेल समझो तो सुख स्वरूप बन जायेंगे।
स्लोगन:- साक्षी रहकर पार्ट बजाने का अभ्यास हो तो टेन्शन से परे स्वत: अटेन्शन में रहेंगे।

TODAY MURLI 27 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 December 2017 :- Click Here

27/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, tell everyone the secret of the three fathers in the form of a story. You cannot receive your inheritance until you recognise the unlimited Father and become pure.
Question: Baba is completely new. What new introduction of Himself has He given you?
Answer: Human beings have said that Baba is brighter than a thousand suns. However, Baba says: I am a point. Therefore, Baba is new. If you first had a vision of a point, no one would believe that. This is why everyone receives a vision according to their belief and devotion.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. Incorporeal God speaks. If “God speaks” is simply said, they remember the name of Krishna, because nowadays everyone calls him God. Therefore, it is said: Incorporeal God Shiva speaks. It is said: God, the Father. To whom does incorporeal God speak? To the incorporeal children, the spirits. It doesn’t seem right to say “Spiritual God speaks” or “Ishwar speaks.” It seems right to say “Incorporeal God speaks.” He wouldn’t say this again and again. He is very incognito. A picture cannot be taken of Him. If you made a point and wrote, “God speaks”, no one would believe it. No one knows the accurate name, form, place or time of God. If they were to know the Father, they would also know the creation. However, it is fixed in the drama for them not to know this. It is only then that the Father can come again and give His introduction. The Father says: It is only when it is My part to purify the impure that I come and give My own introduction. I make the old world new. People who live in the old world worship the people who used to live in the new world. You children have to explain this. Since the rishis and munis all say that they don’t know the Creator or creation, how could you know? If you know the Father and creation, then give us that knowledge. They can never give that knowledge to anyone. They cannot give the inheritance. You children are receiving your inheritance from the Father. You know that the unlimited Father has come to give you the inheritance of the new world, that is, to give you happiness. Therefore, sorrow will definitely end. That is the land of happiness and this is the land of sorrow. This land of sorrow is now to be destroyed. The new world has now become old and it will then become new. The new world is called the golden age and the old world is called the iron age. There would surely be few human beings in the new world. In the golden age, there was just the one religion. At this time, there are innumerable religions and there is also sorrow. There is sorrow after happiness and happiness after sorrow. This play is predestined. No one knows who causes you sorrow. Ravan is called Maya. Wealth is not Maya. Vicious human beings know that the deities were viceless, but they have the intoxication of the vices. The deities have the intoxication of being viceless. There are no impure beings there. Only at the confluence age is the secret of purity explained to you children. You then have to explain this to others. The Father would not sit and explain to the whole world. It is you children who have to explain to others. However, many methods are needed to explain to them. Tell everyone that Bharat was heaven, the new world, and that it has now become old. Only the Father is the Creator and He Himself says: I establish the new world through Brahma. I adopt you children. Brahma’s name is Prajapita. Therefore, He would definitely have to adopt so many of you children, just as sannyasis adopt their followers. A husband adopts a wife, saying: You are mine. Here, you too say: Shiv Baba, I belong to You. Whilst sitting at home, many are touched in this way. What do they then say? Baba, although I have not seen You because I am in bondage and I cannot come to You, I still belong to You. You do definitely have to become pure. Impure ones cannot go into liberation or liberation-in-life. Impure ones call out: Come and purify us! You children should explain that Bharat was heaven. Lakshmi and Narayan were the masters of heaven and so there must definitely have been their dynasty. There was the new kingdom in the new world, but that doesn’t exist now. There are all the other innumerable religions, but the deity religion doesn’t exist any more. For how long will this old world continue? Those people say that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years. There is also praise of the Great War. When there was a little conflict a while ago, they said that that was the time of the Mahabharat War. They have shown the war of the Yadavas and how they destroyed themselves with missiles. Sometimes, they write that there was a war between the Pandavas and the Kauravas and sometimes they write there was a war between the devils and the deities. Immediately after the devilish world, there is the deity world. These are impure and those are pure and so how could the pure deities fight? They exist in the golden age whereas these exist in the iron age. So, how could the two of them fight? Deities are non-violent and devils are violent. How could deities enter hell? You are now at the confluence age. The new world is being established. You are making effort for that. You should also explain the secrets of the two fathers in the form of a story. In the golden age, there is just one father. They don’t remember the unlimited Father because that is the land of happiness. In the copper age you have two fathers. Even while having their worldly fathers, they remember the Father from beyond this world. It is the soul that remembers his Father because it is the soul that experiences sorrow. There are sinful souls and charitable souls. It is the soul that listens. Sanskars are in the soul. Those who don’t have divine sanskars praise those who had divine sanskars. It is remembered: You were worthy of worship and you are worshippers. When you become worshippers, you sing: I am without virtue; I am virtueless. They have virtues; we have no virtues. Those who were worthy of worship then became worshippers. You were worthy-of-worship deities and then you yourselves became worshippers. You have taken 84 births. For half the cycle, you are worthy of worship and then, for half the cycle, you are worshippers. This account has to be explained. There are deities, warriors, merchants and shudras and, at this time, we are Brahmins; we are BKs. At this time we all have three fathers: a physical father, the incorporeal Father from beyond and the third one is Prajapita Brahma through whom He teaches us Brahmins. You have heard the name, “Prajapita Brahma”, have you not? Creation takes place through Brahma. You too are Brahmins. You too should remember the Father. The Father says: I have come to take you back. The incorporeal Father speaks to you souls. You even say: I shed a body and take another one. The name and form of the body change, but the soul is the same. The name of the Father is also just the one name, Shiva. He doesn’t have a body. You should note these points down and explain them according to the person in front of you. We BKs are claiming our inheritance from our Grandfather. He is teaching us Raja Yoga and giving us knowledge. To change from human beings into deities is also an aspect of knowledge. It is at the confluence age that you receive this knowledge through which you will claim your inheritance in the new world. He comes into the impure world and establishes the pure world. The Father has now come to take you back home. According to the drama, everyone has to return home. First of all, there is the sun dynasty and then the moon dynasty. Then they become merchants and then shudras. That is the tree of incorporeal souls. This is the tree of corporeal human beings. There are the Brahmins, deities, warriors, merchants and shudras: the whole of the variety-form image is included in this. The number of Brahmins continues to grow. The rosaries of Rudra and Vishnu will be created. There cannot be a rosary of Brahma because Brahmins keep changing. This is why the rosary of Rudra is worshipped. These are new things. These things are not in the intellect of anyone at all. They have said that the duration of a cycle is hundreds of thousands of years and this is why everyone feels that everything you say is new. You receive new things for the new world. Baba is also, in fact, new. Those people say that He is beyond name and form or they say that He is brighter than a thousand suns. They receives a vision according to their belief and devotion. If they were to have a vision of a point, none of them would believe it. Because all of these things are new, they all become confused. The sapling will be planted of only those who belong here. You children have now understood very clearly and so you also have to explain about the Father from beyond. For half the cycle you have been remembering Him. You only remember those who give you happiness. Ravan is everyone’s enemy and this is why they burn his effigy. Ask them: For how long have you been burning an effigy of Ravan? They would reply that they have been doing this eternally. They don’t even know when Ravan comes. Ravan doesn’t exist in the golden age. Ravan is the oldest enemy of Bharat. He is the one who makes the spirits impure. Who is the enemy of souls? Ravan. Together with the soul, there is also the body. So, who is the enemy of both? (Ravan.) Is there a soul in Ravan? What is Ravan? He is the vices. It isn’t that there is a soul in Ravan. The five vices are called Ravan. The five vices are in souls and they make an effigy of those. You know that there is now sorrow and that you then have to go into happiness. Therefore, the Father would surely come and take you there. He alone is the Purifier. Just as other souls come, similarly He too comes. When they feed a departed soul, they invoke that soul. They consider him to be the soul of their father, and they invite a brahmin priest to do everything. They believe that that soul comes and speaks. Yes, this One’s coming is unique. This is the chariot of God. He is also called Bhagirath (the lucky chariot). It is not a question of water; all of this is a matter of knowledge. The Father explains: I enter an ordinary body and name this one Brahma. I don’t adopt him. I enter him and then adopt you. You say: Shiv Baba, I belong to You. Your intellect’s yoga goes up above, because Baba Himself says: Remember Me and your sins will be absolved. Stay on this pilgrimage. For instance, even if this Baba goes somewhere, you still have to remember Shiv Baba. Shiv Baba went to Delhi and Kanpur in this chariot. Let there be the remembrance of Shiv Baba in your intellects. You mustn’t stay down below. Your intellects should remain up above. Souls remember the Father, the Supreme Soul. The Father says: My residence is up above. You mustn’t wander around after Me here. Remember Me up there. You souls also reside there with the Father. It isn’t that the Father’s residence is separate from yours; no. Make these things sit in your intellects. You should explain to each one individually, just as you used to explain in Karachi. That is better. When you explain to many together, the vibrations of one another don’t allow them to stay. Devotion is performed in solitude. This study too should be studied in solitude. First of all give the Father’s introduction. The Father is the Purifier and we are becoming pure through Him. The Father says: Children, if you become pure in this final birth you will become the masters of the world. This is such a big income. The Father says: You may do your business etc. but simply remember Me. Become pure and the alloy will be removed with the power of yoga; you will become satopradhan. Your stage will become constant, stable and karmateet. Your intellect should continue to churn this knowledge. Continue to explain to your friends and relatives too. This was explained to you in this way in the previous cycle too. This is not a new thing. Baba comes and explains to us every cycle and we then explain to the people of the world. Bharat was truly heaven and it will become that once again. This cycle continues to turn. How could the golden age be hundreds of thousands of years? There isn’t even that much population, because there would then be countless people. There are four ages and the duration of each age is 1,250 years. You will continue to explain just as you yourselves have understood. The tree will continue to grow. Sometimes, there are bad omens, and then they are removed. The Father explains: It is very easy to explain Alpha and beta. The main thing is the pilgrimage of remembrance. There is effort in that. You are given this business of remembrance after a cycle, but it is incognito. This is a difficult subject. You have to remember Alpha because it is Alpha that you have forgotten. No one knows God. It is remembered that there is extreme darkness without the Satguru. Only the one Satguru takes you into light. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make the soul satopradhan with the power of yoga and reach the constant, stable, karmateet stage. Make incognito effort for remembrance and also study in solitude.
  2. In order to claim the inheritance of liberation and liberation-in-life, you definitely do have to become pure in this final birth.
Blessing: May you be a “number one”, victorious soul who becomes completely pure by renouncing any trace of all the vices.
Those who do not have the slightest trace of impurity are said to be completely pure. Purity is the personality of Brahmin life. It is this personalitythat enables you to have success easily in service. However, if there is a trace of even one vice, then its companions would definitely also be with that one. Just as happiness and peace are with purity, similarly, the five vices have a deep relationship with impurity. Therefore, let there not be any trace of even one of the vices for only then will you become “number one” victorious.
Slogan: Take one step of courage and you will receive a thousand steps of help.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 December 2017

To Read Murli 26 December 2017 :- Click Here
27/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – 3 बाप का राज़ सबको कहानी मिसल सुनाओ, जब तक बेहद बाप को पहचानकर पावन नहीं बने हैं तब तक वर्सा मिल नही सकता”
प्रश्नः- बाबा बिल्कुल ही नया है, उसने तुमको अपना कौन सा नया परिचय दिया है?
उत्तर:- बाबा को मनुष्यों ने हजारों सूर्य से तेजोमय कहा लेकिन बाबा कहता मैं तो बिन्दी हूँ। तो नया बाबा हुआ ना। पहले अगर बिन्दी का साक्षात्कार होता तो कोई मानता ही नहीं इसलिए जैसी जिसकी भावना होती है उन्हें वैसा ही साक्षात्कार हो जाता है।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…

ओम् शान्ति। निराकार भगवानुवाच, सिर्फ भगवानुवाच कहने से कृष्ण का नाम याद आ जाता है क्योंकि आजकल भगवान सब हो पड़े हैं इसलिए निराकार शिव भगवानुवाच कहते हैं। गॉड फादर कहा जाता है। निराकार भगवानुवाच, किसके प्रति? निराकार बच्चों, रूहों प्रति। रूहानी भगवानुवाच वा ईश्वर वाच यह अक्षर शोभता नहीं है। निराकार भगवानुवाच शोभता है। अब घड़ी-घड़ी तो नहीं कहेंगे। यह है बहुत गुप्त। इनका चित्र निकल न सके। बिन्दी बनाकर भगवानुवाच लिखें तो कोई मानेंगे नहीं। भगवान के यथार्थ नाम, रूप, देश, काल को कोई जानते ही नहीं। अगर बाप को जान जायें तो रचना को भी जान जायें। परन्तु न जानना ही उन्हों का ड्रामा में नूँधा हुआ है, तब तो फिर बाप आकर अपनी पहचान दे। बाप कहते हैं जब मेरा पार्ट होता है पतितों को पावन बनाने का, तब ही आकर मैं अपनी पहचान देता हूँ। पुरानी दुनिया को नया बनाता हूँ। पुरानी दुनिया में रहने वाले मनुष्य नई दुनिया में रहने वाले मनुष्यों को पूजते हैं। तुम बच्चों को समझाना है। जबकि ऋषि-मुनि आदि सब कहते हैं हम रचता और रचना को नहीं जानते फिर तुमने कहाँ से जाना। अगर तुम बाप को, रचना को जानते हो तो हमको नॉलेज दो। कभी कोई को दे नहीं सकते। वर्सा दे न सकें। तुम बच्चों को बाप से वर्सा मिल रहा है। तुम जानते हो बेहद का बाप आया हुआ है, नई दुनिया का वर्सा अथवा सुख देने। तो जरूर दु:ख खत्म हो जायेगा। वह है सुखधाम, यह है दु:खधाम। अब इस दु:खधाम का विनाश होना है। नई दुनिया ही अब पुरानी हुई है, फिर नई बन जायेगी। नई दुनिया को सतयुग, पुरानी दुनिया को कलियुग कहा जाता है। नई दुनिया में जरूर मनुष्य थोड़े होने चाहिए। सतयुग में एक ही धर्म था। इस समय तो अनेक धर्म हैं, दु:ख भी है। सुख से दु:ख, दु:ख से फिर सुख होता है। यह खेल बना हुआ है। दु:ख कौन देते हैं, यह किसको पता ही नहीं है। रावण को माया कहा जाता है। धन को माया नहीं कहा जाता है। विकारी मनुष्य जानते हैं कि देवतायें निर्विकारी हैं। परन्तु उन्हों को विकारों का नशा चढ़ा हुआ है। देवताओं को है निर्विकारीपने का नशा। वहाँ अपवित्र कोई होते नहीं हैं। संगम पर ही तुम बच्चों को पवित्रता का राज़ समझाया जाता है। तुमको फिर औरों को समझाना है। बाप तो सारी दुनिया को बैठ समझायेगा नहीं। बच्चों को ही समझाना है परन्तु समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। सबको बताओ, भारत जो स्वर्ग नई दुनिया थी, वह अब पुरानी हो गई है। रचयिता तो बाप ही है। वह खुद कहते हैं मैं ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना करता हूँ। बच्चों को एडाप्ट करता हूँ। ब्रह्मा का नाम ही प्रजापिता है। तो जरूर इतने बच्चों को एडाप्ट ही करेंगे। जैसे सन्यासी फालोअर्स को एडाप्ट करते हैं। पुरुष, स्त्री को एडाप्ट करते हैं कि तुम मेरी हो। यहाँ भी तुम कहते हो शिवबाबा मैं आपका हूँ। घर बैठे भी बहुतों को टच हो जाता है फिर क्या कहते हैं? कि भल बाबा हमने आपको देखा नहीं हैं क्योंकि बंधन में हूँ – आ नहीं सकती परन्तु मैं हूँ आपकी। पवित्र तो जरूर बनना पड़े। पतित मुक्ति-जीवनमुक्ति में जा नहीं सकते। पतित पुकारते हैं कि आओ आकर पावन बनाओ।

तुम बच्चों को समझाना चाहिए कि भारत स्वर्ग था। यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक थे, जरूर डिनायस्टी चली होगी। नई दुनिया में नया राज्य था, अब वह नहीं है। और अनेक धर्म हैं, देवता धर्म है नहीं। यह पुरानी दुनिया कब तक चलेगी? वह सतयुग को लाखों वर्ष कह देते हैं। महाभारी लड़ाई का भी गायन है। बीच में थोड़ी खिटपिट हुई थी तो कहते थे महाभारत लड़ाई का समय है। यादवों की लड़ाई भी दिखाते हैं कि मूसलों द्वारा अपना विनाश किया। कभी लिखते हैं पाण्डवों और कौरवों की युद्ध, कभी लिखते हैं असुर और देवताओं की। आसुरी दुनिया के बाद फौरन दैवी दुनिया है। वह पतित, यह पावन। पावन देवता कैसे लड़ेंगे? वह हैं सतयुग में, यह कलियुग में दोनों की लड़ाई कैसे हो सकती है। देवतायें अहिंसक, असुर हिंसक। देवतायें नर्क में कैसे आयेंगे। अभी तुम संगम पर हो, नई दुनिया स्थापन होती है। उसके लिए तुम पुरुषार्थ कर रहे हो। दो बाप का राज़ भी कहानी मिसल समझाना चाहिए। सतयुग में है एक बाप। बेहद के बाप को याद करते ही नहीं क्योंकि सुखधाम है। द्वापरयुग में हैं दो बाप। लौकिक बाप होते भी पारलौकिक बाप को याद करते हैं। आत्मा ही अपने बाप को याद करती है क्योंकि आत्मा ही दु:ख सहन करती है। पुण्य आत्मा, पाप आत्मा। आत्मा ही सुनती है। संस्कार आत्मा में हैं। जिनमें दैवी संस्कार नहीं हैं, वह दैवी संस्कार वालों का गायन करते हैं। गाया भी जाता है आपेही पूज्य आपेही पुजारी। पुजारी बनते हैं तो गाते हैं मुझ निर्गुण हारे में… उनमें गुण हैं हमारे में नहीं हैं। पूज्य सो पुजारी। तुम ही पूज्य सो देवता थे, फिर तुम ही पुजारी बने हो। 84 जन्म लिए हैं। आधाकल्प पूज्य आधाकल्प पुजारी। हिसाब समझाना पड़े। देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र…. इस समय हम ब्राह्मण हैं। बी.के. हैं। इस समय हमको 3 बाप हो जाते हैं। लौकिक बाप, निराकार पारलौकिक बाप, तीसरा फिर प्रजापिता ब्रह्मा। जिस द्वारा हम ब्राह्मणों को पढ़ाते हैं। प्रजापिता नाम तो सुना है ना। ब्रह्मा द्वारा रचते हैं। तुम भी ब्राह्मण हो। तुम भी बाप को याद करो। बाप कहते हैं मैं आया हूँ – तुमको वापिस ले जाने। निराकार बाप आत्माओं से बात करते हैं। तुम कहते भी हो हम एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। शरीर का नाम रूप बदल जाता है। आत्मा तो एक ही है। बाप का नाम भी एक ही शिव है। उनको शरीर तो है नहीं। यह प्वाइंट भी नोट करनी चाहिए। फिर जैसा आदमी वैसा ही समझाना है। हम बी.के. दादे से वर्सा ले रहे हैं। वही राजयोग और ज्ञान की नॉलेज देते हैं। मनुष्य से देवता बनना, यह भी नॉलेज है। नॉलेज मिलती है संगम पर। जिससे फिर नई दुनिया में वर्सा पाते हैं। पतित दुनिया में आकर पावन दुनिया स्थापन करते हैं। अभी बाप आया है घर ले जाने। ड्रामा अनुसार सबको घर जाना है फिर पहले सूर्यवंशी, फिर चन्द्रवंशी, फिर वैश्य, शूद्र वंशी बन जाते हैं। वह है निराकार आत्माओं का झाड़, यह है साकारी मनुष्यों का झाड़। ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र… इसमें सारा विराट रूप आ जाता है। ब्राह्मण वृद्धि को पाते रहते हैं। रूद्र माला और विष्णु की माला बनेगी। ब्रह्मा की माला नहीं कह सकते क्योंकि बदलते रहते हैं इसलिए रूद्र माला पूजी जाती है। यह हैं नई-नई बातें। यह बातें कोई की बुद्धि में जरा भी नहीं हैं। कल्प की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं, इसलिए तुम्हारी बातें सबको नई लगती हैं। नई दुनिया के लिए नई चीज़ मिलती है। बाबा भी वास्तव में नया है। वह तो कहते हैं नाम-रूप से न्यारा है या तो कह देते हैं हजारों सूर्य से तेजोमय है। सो तो जरूर जैसी भावना होगी वैसा साक्षात्कार होगा। बिन्दी का साक्षात्कार हो तो कोई माने ही नहीं। यह सब बातें नई होने कारण मूँझते हैं। जो यहाँ के होंगे, उनकी ही सैपलिंग लगेगी। तुम बच्चों ने अब अच्छी तरह समझा है तो पारलौकिक बाप के लिए भी समझाना है। तुम आधाकल्प से उनको याद करते आये हो। सुख देने वाले को ही याद किया जाता है। रावण सबका दुश्मन है, तब तो उनको जलाते हैं। पूछो – रावण को जलाते कितना समय हुआ? बोलेंगे अनादि। उन्हों को यह मालूम ही नहीं रावण कब से आता है। सतयुग में तो रावण होता नहीं। भारत का सबसे पुराना दुश्मन रावण है। रूह को पतित बनाने वाला है। आत्मा का दुश्मन कौन? रावण। आत्मा के साथ शरीर भी है। तो दोनों का दुश्मन कौन हो गया? (रावण) रावण में आत्मा है? रावण क्या चीज़ है? बस विकार हैं। ऐसे नहीं कि रावण में भी आत्मा है। रावण 5 विकारों को कहा जाता है। आत्मा में ही 5 विकार हैं, जिसका पुतला बनाते हैं। तुम जानते हो अभी है दु:ख फिर सुख में जाना है तो जरूर बाप आकर ले जायेंगे। वही पतित-पावन है। जैसे दूसरी आत्मा आती है वैसे यह भी आते हैं। श्राध खिलाते हैं तो आत्मा को बुलाते हैं। ब्राह्मण को ही अपने बाप की आत्मा समझ सब कुछ करते हैं। समझते हैं वह आत्मा आती है। आत्मा बोलती है। हाँ इनका आना न्यारा है। यह है भगवान का रथ। भागीरथ कहते हैं। पानी की बात नहीं, यह है सारी ज्ञान की बात। बाप समझाते हैं मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ, इनका नाम ब्रह्मा रखा है। इनको एडाप्ट नहीं करता हूँ। इनमें प्रवेश करता हूँ फिर तुमको एडाप्ट करता हूँ। तुम कहते हो शिवबाबा मैं आपका हूँ। तुम्हारा बुद्धियोग ऊपर चला जाता है क्योंकि बाबा खुद कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। इस यात्रा पर रहो। समझो, यह बाबा कहाँ जाता है तो याद शिवबाबा को करना है। शिवबाबा इस रथ में देहली गया, कानपुर गया… बुद्धि में शिवबाबा की याद रहे। नीचे नहीं रहना है, बुद्धि ऊपर रहे। आत्मा, परमात्मा बाप को याद करे। बाप कहते मेरा रहने का स्थान तो वहाँ ऊपर है। हमारे पिछाड़ी यहाँ नहीं भटकना है। तुम मुझे भी वहाँ याद करो। तुम आत्मायें भी बाप के साथ रहने वाली हो। ऐसे नहीं बाबा का स्थान अलग, तुम्हारा अलग है, नहीं। यह बातें बुद्धि में बिठानी है। एक-एक को अलग जैसे तुम कराची में समझाते थे वैसे अच्छा रहता है। इकट्ठे एक दो के वायब्रेशन ठहरने नहीं देते हैं। भक्ति भी एकान्त में करते हैं। यह पढ़ाई भी एकान्त में करनी है। पहले बाप का परिचय देना है। बाप पतित-पावन है, उन द्वारा हम पावन बन रहे हैं।

बाप कहते हैं – बच्चे यह अन्तिम जन्म पावन बनेंगे तो विश्व के मालिक बनेंगे। कितनी बड़ी कमाई है। बाप कहते हैं – धन्धा आदि भल करो सिर्फ मुझे याद करो, पावन बनो तो योगबल से तुम्हारी खाद निकल जायेगी। तुम सतोप्रधान बन जायेंगे, एकरस कर्मातीत अवस्था बन जायेगी। बुद्धि में ज्ञान का सिमरण करते रहो। मित्र-सम्बन्धियों को भी यह समझाते रहो। कल्प पहले भी तुमको ऐसे समझाया था। कोई नई बात नहीं है। कल्प-कल्प बाबा आकर हमको समझाते हैं हम फिर दुनिया वालों को समझाते हैं। भारत बरोबर स्वर्ग था फिर बनेगा। यह चक्र फिरता रहता है। सतयुग को लाखों वर्ष कैसे हो सकते हैं। इतनी आदमशुमारी कहाँ है फिर तो अनगिनत हो जायें। 4 युग हैं, हर एक युग की आयु 1250 वर्ष है। जैसे तुमने समझा है वैसे समझाते रहेंगे। झाड़ की वृद्धि होती रहेगी। कभी ग्रहचारी बैठती है फिर उतरती जाती है। बाप कहते हैं – समझाना बहुत सहज है। अल्फ बे। मूल बात है याद की यात्रा। मेहनत भी है। कल्प के बाद यह याद का धन्धा मिलता है, परन्तु है गुप्त। यह मुश्किल सबजेक्ट है। अल्फ को याद करना, अल्फ को ही भूले हो। भगवान को कोई जानते नहीं। गाया भी जाता है सतगुरू बिगर घोर अन्धियारा। सोझरे में एक ही सतगुरू ले जाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) योगबल से आत्मा को सतोप्रधान बनाकर एकरस कर्मातीत अवस्था तक पहुँचना है। याद की गुप्त मेहनत करनी है, एकान्त में पढ़ाई करनी है।

2) बाप से मुक्ति-जीवनमुक्ति का वर्सा लेने के लिए इस अन्तिम जन्म में पवित्र जरूर बनना है।

वरदान:- सर्व विकारों के अंश का भी त्याग कर सम्पूर्ण पवित्र बनने वाले नम्बरवन विजयी भव 
सम्पूर्ण पवित्र वह है जिसमें अपवित्रता का अंश-मात्र भी न हो। पवित्रता ही ब्राह्मण जीवन की पर्सनैलिटी है। यह पर्सनैलिटी ही सेवा में सहज सफलता दिलाती है। लेकिन यदि एक भी विकार का अंश है तो दूसरे साथी भी उसके साथ जरूर होंगे। जैसे पवित्रता के साथ सुख-शान्ति है, ऐसे अपवित्रता के साथ पांचों विकारों का गहरा संबंध है, इसलिए एक भी विकार का अंश न रहे तब नम्बरवन विजयी बनेंगे।
स्लोगन:- हिम्मत का एक कदम रखो तो हजार गुणा मदद मिल जायेगी।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize