today murli 26 october

TODAY MURLI 26 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 October 2018 :- Click Here

26/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, follow shrimat and all your treasure-stores will be completely full. Your fortune will become elevated.
Question: What has this iron age become bankrupt in? Because of becoming bankrupt, what has its condition become?
Answer: The iron age has become bankrupt of purity, happiness and peace. This is why Bharat has become the land of sorrow from the land of happiness and like shells from diamonds. This whole play is based on Bharat. The Father is now telling you children the beginning, middle and end of this play. Only the fortunate children can understand this knowledge very clearly.
Song: No one is as unique as the Innocent Lord. 

Om shanti. God speaks. Which God? The Innocent Lord, God Shiva speaks. The Father explains to you. The Teacher’s duty is also to explain to you. The duty of the Satguru too is to explain to you. Only Shiv Baba is called the true Baba. He is called the Innocent Lord. Shankar cannot be called innocent. It is said of him that when he opened his eye, he burnt the world. Shiva is called the Innocent Lord of the Treasures, that is, He is the One who makes your treasure-stores completely full. Which treasure-stores? Those of wealth, happiness and peace. The Father has come to make your treasure-stores of purity, happiness and peace completely full. In the iron age, there is bankruptcy of purity, happiness and peace because Ravan has cursed it. Everyone continues to weep and wail in the cottage of sorrow. The Innocent Lord Shiva sits here and explains to you the secrets of the beginning, middle and end of the world, that is, He makes you children trikaldarshi. No one else knows the drama. Maya has made everyone completely senseless. This play of victory and defeat and happiness and sorrow is of Bharat. Bharat was solvent like a diamond and is now insolvent like a shell. Bharat was the land of happiness and is now the land of sorrow. Bharat was heaven and is now hell. No one except the Ocean of Knowledge can give you the knowledge of its beginning, middle and end or how it becomes hell from heaven. Your intellects have to have this faith. Those whose fortune is to open, that is, those who are to become fortunate have this faith. All are unfortunate now. To be unfortunate means to have one’s fortune spoilt. They are corrupt; the Father comes and makes them elevated. However, hardly anyone understands that Father because He doesn’t have a body. The Supreme Soul speaks. There are only pure souls in the golden age. In the iron age, all are impure. People go to Jagadamba with so many desires. They don’t know anything. Even then, the Father says: Whatever feelings people worship someone with, I give them the temporary fruit of that. A non-living idol can never give them the fruit. I alone am the One who gives them the fruit and temporary happiness. I am also the Bestower of unlimited happiness. I am not a bestower of sorrow. I am the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You have come to claim your inheritance of heaven in the land of happiness. There are a lot of precautions to be observed in this. The Father explains: In the beginning there is happiness. Then, in the middle, the path of devotion begins and so happiness ends and sorrow begins. At that time, when devotion begins the deities fall onto the path of sin, the vicious path. So there is happiness in the beginning, whereas sorrow begins in the middle. At the end, there is great sorrow. The Father says: I am the Bestower of Peace and Happiness to All. I am making you ready to go to the land of happiness. All the rest will settle their accounts and go to the land of peace. There will be a lot of punishment experienced; the T ribunal will sit. Baba has explained that people used to sacrifice themselves at Kashi. They speak of Kashi Kalvat (the sacrifice at Kashi). There is a temple to Shiva at Kashi. On the path of devotion, they stay there in remembrance of Shiv Baba. They say: This is it! I am now going to come to You. They cry a great deal and sacrifice themselves to Shiva and so they receive temporary happiness for that. Here, you sacrifice yourselves, that is, you belong to Shiv Baba while alive in order to claim your inheritance for 21 births. There is no question of suicide. While alive you say: Baba, I am Yours. Those people sacrifice themselves to Shiva. They believe that, by dying, they will belong to Shiv Baba, but they don’t belong to Him. Here, you belong to the Father while alive. You go into His lap and you therefore have to follow the Father’s directions. Only then can you become elevated deities. You are now becoming that. You have been making this effort for cycle after cycle. This is not anything new. The world becomes old. In that case, a new one is surely needed. Bharat was the new land of happiness and it is now the old land of sorrow. People have such stone intellects that they don’t understand that there is just one world, that it simply becomes new and old. Maya has locked their intellects and made them completely degraded. This is why they continue to worship the deities without knowing their occupation. That is called blind faith. They spend millions of rupees worshipping the goddesses. They worship them, feed them and then sink them in the sea. Therefore, that is the worship of dolls, is it not? What is the benefit of that? They celebrate with a lot of pomp and joy and spend so much money. Then, after a week, they sink them in the sea just as people are buried in a cemetery. God speaks: this is the rule of the devilish community and I make you into the deity community. It is very difficult to make someone have faith because Baba does not have a physical form. The Aga Khan had a physical form and he had so many followers. They used to weigh him in gold. The Father explains: That is called blind faith. At this time, no one has permanent happiness. There are many who are very bad. Important people commit big sins. The Father says: I am the Lord of the Poor. The poor don’t commit as much sin. At this time, all are sinful souls. You have now found the unlimited Father and yet you repeatedly forget Him. Ah! but you are a soul, are you not? No one has ever seen a soul. They understand that it resides in the centre of the forehead like a star. When the soul leaves the body, the body is finished. A soul is like a star , and so surely, the Father of myself, a soul, would also be like me. However, He is the Ocean of Happiness and the Ocean of Peace. How would the Incorporeal give the inheritance? He would surely come and sit in the centre of the forehead. The soul now imbibes knowledge and goes from degradation into salvation. Those who do something will receive the reward of it. If you don’t remember the Father, you won’t receive your inheritance. If you don’t make others the same as you, worthy of claiming their inheritance, it is then understood that you will claim a status worth a few pennies. The Father sits here and explains who the elevated ones are and who the corrupt ones are. The elevated deities have been and gone from Bharat. People sing of Heavenly God, the Father, but they don’t know when Heavenly God, the Father, comes and makes the world into heaven. You know this, but it is just that you don’t make full effort. This also has to happen according to the drama. However much each of you has in your fortune, that is how much you will receive. If any of you were to ask Baba, Baba would instantly tell you what status you would claim if you were to leave your body with your current behaviour. However, no one has the courage to ask. Those who make good effort can understand to what extent they become sticks for the blind. The Father also understands when someone is to claim a good status or that a particular child is not doing any service and so will become a maid or servant there. There are maids and servants who sweep the floors, those who sustain Krishna and those who decorate the empress. Those are pure kings whereas these are impure kings. So, the impure kings make a temple to the pure kings and worship them. They don’t know anything. The Birla temple is so big. They make so many temples to Lakshmi and Narayan, but they don’t know who Lakshmi and Narayan are. So, how much benefit would they receive? Temporary happiness. They go to Jagadamba, but they don’t know that this Jagadamba is the one who then becomes Lakshmi. At this time, your desires of the world are being fulfilled through Jagadamba. You are claiming the kingdom of the world. Jagadamba is teaching you now. She is the same one who then becomes Lakshmi. She is the one to whom people continue to beg every year. There is so much difference! They beg Lakshmi for wealth every year. They do not say in front of Lakshmi: I want a child. Or: Remove my illness. No, they only ask Lakshmi for wealth. The very name is ‘worship of Lakshmi’. They ask Jagadamba for a lot of things. She is the one who fulfils all their desires. You are now receiving the sovereignty of heaven through Jagadamba. From Lakshmi they receive some fruit of wealth every year, and this is why they worship her every year. They believe that she is the one who gives them wealth. They then continue to commit sin with that wealth. They even commit sin to attain wealth. You children are now receiving the imperishable jewels of knowledge with which you will become prosperous. You receive the kingdom of heaven through Jagadamba. There are no sins committed there. These matters have to be understood. Some understand this very well whereas others don’t understand it at all because it is not in their fortune. If you don’t follow shrimat, you won’t become elevated and your status is destroyed. It has to be understood that the whole kingdom is being established. God, the Father , is establishing the heavenly kingdom and then Bharat will become heaven. This is called the benevolent age. At the most, this age is 100 years long. All the other ages are 1250 years long. In Ajmer, there is a model of Paradise. They show what heaven is like. Heaven would definitely be here, would it not? If someone hears even a little, he will go to heaven. However, if they don’t study, they are like uneducated ones. Subjects too are numberwise. However, there, all the poor and the wealthy have happiness. Here, there is nothing but sorrow. In the golden age, Bharat is the land of happiness whereas in the iron age, it is the land of sorrow. The history and geography of the world have to repeatGod is only One. There is also just one world. In the new world, Bharat is first. Bharat has now become old and it has to become new again. No one else knows how the world history and geography have to repeat. Not everyone is the same. There will be different levels of status there too. There are no policemen there because there is no fear there. Here, there is fear and this is why they have policeman etc. They have divided Bharat into pieces. There are no partitions in the golden age. Only the one kingdom of Lakshmi and Narayan continues. There are no sins committed there. The Father says: Children, claim your inheritance of constant happiness from Me by following My directions. Only the one Father shows you the path to salvation. You are the Shiv Shakti Army that makes Bharat into heaven. You use your body, mind and wealth, everything, for this service. That Bapuji chased away the Christians. That was also fixed in the drama. However, there hasn’t been any happiness through that; instead there is greater sorrow. There is no food, and they continue to tell lies: “You will receive this and this will happen”. Only from the Father are you going to receive something. Everything else is going to end. They ask for there to be birth control. They continue to beat their heads for that. Nothing is going to happen. If a small war breaks out, there will be famine. There will be a lot of violence between one another. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to sacrifice yourself to the Father while alive, that is, you have to belong to the Father and follow the shrimat of the Father alone. Do the service of making others the same as yourself.
  2. Donate the imperishable jewels of knowledge and become like Jagadamba, one who fulfils everyone’s desires.
Blessing: May you be trikaldarshi and become an unshakeable and immovable Mahavir by considering there to be benefit in everything.
Do not look at any situation with the vision of one aspect of time, but look at it while being trikaldarshi. Instead of asking “Why?” or “What?” consider there to be benefit in whatever happens. Continue to do as Baba says and it is then up to Baba and His work. Move along as Baba makes you move for benefit is merged in that. By having this faith you will never fluctuate. Let there be no waste thoughts in your dreams or in your mind and you will then be called an unshakeable and immovable Mahavir.
Slogan: A tapaswi is one who becomes detached and loving in a second according to the signals fromshrimat.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 October 2018

To Read Murli 25 October 2018 :- Click Here
26-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – श्रीमत पर चलो तो तुम्हारे सब भण्डारे भरपूर हो जायेंगे, तुम्हारी तकदीर ऊंची बन जायेगी”
प्रश्नः- इस कलियुग में किस चीज़ का देवाला निकल चुका है? देवाला निकलने से इसकी गति क्या हुई है?
उत्तर:- कलियुग में पवित्रता, सुख और शान्ति का देवाला निकल चुका है इसलिए भारत सुखधाम से दु:खधाम, हीरे से कौड़ी जैसा बन गया है। यह खेल सारा भारत पर है। खेल के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान अभी बाप तुम्हें सुना रहे हैं। तकदीरवान, सौभाग्यशाली बच्चे ही इस ज्ञान को अच्छी रीति समझ सकते हैं।
गीत:- भोलेनाथ से निराला ……… 

ओम् शान्ति। भगवानुवाच। कौन-सा भगवान्? भोलानाथ शिव भगवानुवाच। बाप भी समझाते हैं, टीचर का भी काम है समझाना। सतगुरू का भी काम है समझाना। शिवबाबा को ही सत बाबा, भोलानाथ कहा जाता है। शंकर को भोला नहीं कहेंगे। उनके लिए तो कहते हैं आंख खोली तो सृष्टि को भस्म कर दिया। भोला भण्डारी शिव को कहते हैं अर्थात् भण्डारा भरपूर करने वाला। कौनसा भण्डारा? धन-दौलत, सुख-शान्ति का। बाप आये ही हैं पवित्रता-सुख-शान्ति का भण्डारा भरपूर करने। कलियुग में पवित्रता-सुख-शान्ति का देवाला है क्योंकि रावण ने श्राप दिया हुआ है। सब शोक वाटिका में रोते पीटते रहते हैं। भोलानाथ शिव बैठ सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं अर्थात् तुम बच्चों को त्रिकालदर्शी बनाते हैं। ड्रामा को तो और कोई जानते नहीं। माया ने बिल्कुल ही बेसमझ बना दिया है। भारत का ही यह हार-जीत, दु:ख-सुख का नाटक है। भारत हीरे जैसा सालवेन्ट था, अब कौड़ी जैसा इनसालवेन्ट है। भारत सुखधाम था, अब दु:खधाम है। भारत हेविन था, अब हेल है। हेल से फिर हेविन कैसे बनता है, उसके आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान सिवाए ज्ञान सागर के कोई समझा न सके। यह भी बुद्धि में निश्चय होना चाहिए। निश्चय उनको होता है जिनकी तकदीर खुलनी होती है, जो सौभाग्यशाली बनने वाले हैं। दुर्भाग्यशाली तो सब हैं ही। दुर्भाग्यशाली माना तकदीर बिगड़ी हुई है। भ्रष्टाचारी हैं। बाप आकर श्रेष्ठाचारी बनाते हैं। परन्तु उस बाप को भी कोई मुश्किल समझ सकते हैं क्योंकि उनको देह नहीं है। सुप्रीम आत्मा बात करती है। पावन आत्मायें होती ही हैं सतयुग में। कलियुग में सब पतित हैं। अनेक मनोकामनायें लेकर जगदम्बा के पास जाते हैं, जानते कुछ भी नहीं फिर भी बाप कहते हैं जो-जो, जिस-जिस भावना से पूजा करते हैं तो मैं उनको अल्पकाल क्षणभंगुर लिए फल दे देता हूँ। जड़ मूर्ति कभी उसका फल नहीं दे सकती। फल देने वाला, अल्पकाल सुख देने वाला मैं ही हूँ और बेहद के सुख का दाता भी मैं ही हूँ। मैं दु:खदाता नहीं हूँ। मैं तो दु:ख हर्ता सुख कर्ता हूँ। तुम आये हो सुखधाम में स्वर्ग का वर्सा पाने। इसमें परहेज बहुत है। बाप समझाते हैं आदि में है सुख, फिर मध्य में भक्ति मार्ग शुरू होता है तो सुख पूरा हो दु:ख शुरू होता है। फिर देवी-देवता वाम मार्ग, विकारी मार्ग में गिर पड़ते हैं। जहाँ से ही फिर भक्ति शुरू होती है। तो आदि में सुख, मध्य में दु:ख शुरू होता है। अन्त में तो महान् दु:ख है। बाप कहते हैं अब सर्व का शान्ति, सुख दाता मैं हूँ। तुमको सुखधाम में चलने लिए तैयार कर रहा हूँ। बाकी सब हिसाब-किताब चुक्तू कर शान्तिधाम में चले जायेंगे। सजायें तो बहुत खायेंगे। ट्रिब्युनल बैठती है। बाबा ने समझाया है काशी में भी बलि चढ़ते थे। काशी कलवट कहते हैं ना। अब काशी में है शिव का मन्दिर। वहाँ भक्ति मार्ग में शिवबाबा की याद में रहते हैं। कहते हैं – बस, अब आपके पास आऊं। बहुत रो-रो कर शिव पर बलि चढ़ते हैं तो अल्पकाल क्षण भंगुर थोड़ा फल मिल जाता है। यहाँ तुम बलि चढ़ते हो अर्थात् जीते जी शिवबाबा का बनते हो 21 जन्म का वर्सा पाने के लिए। जीवघात की बात नहीं। जीते जी बाबा मैं आपका हूँ। वह तो शिव पर बलि चढ़ते हैं, मर जाते हैं, समझते हैं हम शिवबाबा का बन जाऊंगा। परन्तु बनते नहीं हैं। यहाँ तो जीते जी बाप का बने, गोद में आये फिर बाप की मत पर चलना पड़े, तब ही श्रेष्ठ देवता बन सकते हैं। तुम अब बन रहे हो। कल्प-कल्प तुम यह पुरुषार्थ करते आये हो। यह कोई नई बात नहीं।

दुनिया पुरानी होती है। फिर जरूर नई चाहिए ना। भारत नया सुखधाम था, अब पुराना दु:खधाम है। मनुष्य इतने पत्थरबुद्धि हैं जो यह नहीं समझते कि सृष्टि एक ही है। वह सिर्फ नई और पुरानी होती है। माया ने बुद्धि को ताला लगाए बिल्कुल ही तुच्छ बुद्धि बना दिया है, इसलिए आक्यूपेशन जानने बिगर ही देवताओं की पूजा करते रहते हैं, इसको ब्लाइन्डफेथ कहा जाता है। देवियों की पूजा में करोड़ों रूपया खर्च करते हैं, उनकी पूजा कर खिला-पिलाकर फिर समुद्र में डुबो देते हैं तो यह गुड़ियों की पूजा हुई ना। इससे क्या फायदा? कितना धूमधाम से मनाते हैं, खर्चा करते हैं, हफ्ता बाद जैसे शमशान में दफन करते हैं वैसे यह फिर सागर में डुबो देते हैं। भगवानुवाच – यह आसुरी सम्प्रदाय का राज्य है, मैं तुमको दैवी सम्प्रदाय बनाता हूँ। कोई को निश्चय बैठना बड़ा कठिन है क्योंकि साकार में नहीं देखते। आगाखां साकार में था तो उनके कितने फालोअर्स थे, उनको सोने-हीरों में वज़न करते थे। इतनी महिमा कोई बादशाह की भी नहीं होती। तो बाप समझाते हैं – इसको अन्धश्रधा कहा जाता है क्योंकि स्थाई सुख तो नहीं है ना। बहुत गन्दे भी होते हैं, बड़े-बड़े आदमियों से बड़े पाप होते हैं। बाप कहते हैं मैं गरीब निवाज हूँ। गरीबों से इतने पाप नहीं होंगे। इस समय सब पाप आत्मायें है। अभी तुमको बेहद का बाप मिला है फिर भी घड़ी-घड़ी उनको भूल जाते हो। अरे, तुम आत्मा हो ना! आत्मा को भी कभी कोई ने देखा नहीं है। समझते हैं स्टॉर मिसल भ्रकुटी के बीच रहती है। जब आत्मा निकल जाती है तो शरीर खलास हो जाता है। आत्मा स्टॉर मिसल है तो जरूर मुझ आत्मा का बाप भी हमारे जैसा होगा। परन्तु वह सुख का सागर, शान्ति का सागर है। निराकार वर्सा कैसे देंगे? जरूर भ्रकुटी के बीच आकर बैठेंगे। आत्मा अब ज्ञान धारण कर दुर्गति से सद्गति में जाती है। अब जो करेगा सो पायेगा। बाप को याद नहीं करते तो वर्सा भी नहीं पायेंगे। कोई को आप समान वर्सा पाने लायक नहीं बनाते हैं तो समझते हैं पाई-पैसे का पद पा लेंगे। श्रेष्ठाचारी और भ्रष्टाचारी किसको कहा जाता है, यह बाप बैठ समझाते हैं। भारत में ही श्रेष्ठाचारी देवतायें होकर गये हैं। गाते भी हैं हेविनली गॉड फादर…… परन्तु जानते नहीं हैं कि हेविनली गॉड फादर कब आकर सृष्टि को हेविन बनाते हैं। तुम जानते हो, सिर्फ पूरा पुरुषार्थ नहीं करते हो, वह भी ड्रामा अनुसार होना है, जितना जिसकी तकदीर में है। बाबा से अगर कोई पूछे तो बाबा झट बता सकते हैं कि इस चलन में अगर तुम्हारा शरीर छूट जाए तो यह पद पायेंगे। परन्तु पूछने की भी हिम्मत कोई नहीं रखते हैं। जो अच्छा पुरुषार्थ करते हैं वह समझ सकते हैं हम कितने अंधों की लाठी बनते हैं? बाप भी समझ जाते हैं – यह अच्छा पद पायेंगे, यह बच्चा कुछ भी सर्विस नहीं करता तो वहाँ भी दास-दासी जाकर बनेंगे। झाड़ू आदि लगाने वाले, कृष्ण की पालना करने वाले, महारानी का श्रृंगार करने वाले दास-दासियां भी होते हैं ना। वह हैं पावन राजायें, यह हैं पतित राजायें। तो पतित राजायें पावन राजाओं के मन्दिर बनाकर उन्हों की पूजा करते हैं। जानते कुछ भी नहीं।

बिरला मन्दिर कितना बड़ा है। कितने लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर बनाते हैं, परन्तु जानते नहीं कि लक्ष्मी-नारायण कौन हैं? फिर उनको कितना फ़ायदा मिलेगा? अल्पकाल का सुख। जगत अम्बा के पास जाते हैं, यह थोड़ेही जानते कि यह जगत-अम्बा ही लक्ष्मी बनती है। इस समय तुम जगत अम्बा से विश्व की सब मनोकामनायें पूरी कर रहे हो। विश्व का राज्य ले रहे हो। जगत अम्बा तुमको पढ़ा रही है। वही फिर लक्ष्मी बनती है। जिससे फिर वर्ष-वर्ष भीख मांगते हैं। कितना फ़र्क है! लक्ष्मी से हर वर्ष पैसे की भीख मांगते हैं। लक्ष्मी को ऐसे नहीं कहेंगे हमको बच्चा चाहिए या बीमारी दूर करो। नहीं, लक्ष्मी से सिर्फ धन मांगते हैं। नाम ही है लक्ष्मी-पूजन। जगत अम्बा से तो बहुत कुछ मांगते हैं। वह सब कामनायें पूरी करने वाली है। अभी तुमको जगत अम्बा से मिलती है – स्वर्ग की बादशाही। लक्ष्मी से हर वर्ष कुछ न कुछ धन का फल मिलता है, तब तो हर वर्ष पूजा करते हैं। समझते हैं धन देने वाली है। धन से फिर पाप करते रहते। धन प्राप्ति के लिए भी पाप करते हैं।

अभी तुम बच्चों को मिलते हैं अविनाशी ज्ञान रत्न, जिससे तुम मालामाल बन जायेंगे। जगत अम्बा से स्वर्ग की राजाई मिलती है। वहाँ पाप होता नहीं। कितनी समझ की बातें हैं। कोई तो अच्छी रीति समझते हैं, कोई तो कुछ समझते नहीं हैं क्योकि तकदीर में नहीं है। श्रीमत पर नहीं चलते तो श्रेष्ठ थोड़ेही बनेंगे। फिर पद भ्रष्ट हो जाता है। सारी राजधानी स्थापन हो रही है – यह समझना है। गॉड फादर हेविनली किंगडम स्थापन कर रहे हैं फिर भारत हेविन बन जायेगा। इसको कहा जाता है कल्याणकारी युग। यह है बहुत से बहुत 100 वर्ष का युग। और सभी युग 1250 वर्ष के हैं। अजमेर में वैकुण्ठ का मॉडल है, दिखलाते हैं स्वर्ग कैसा होता है। स्वर्ग तो जरूर यहाँ ही होगा ना। थोड़ा भी सुना तो स्वर्ग में आयेंगे, परन्तु पढ़ेंगे नहीं तो जैसे भील हैं। प्रजा भी नम्बरवार होती है ना। परन्तु वहाँ गरीब, साहूकार सुख सबको रहता है। यहाँ तो दु:ख ही दु:ख है। भारत सतयुग में सुखधाम था, कलियुग में दु:खधाम है। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होनी है। गॉड एक है। वर्ल्ड भी एक है। नई वर्ल्ड में पहले है भारत। अभी भारत पुराना है जिसको फिर नया बनना है। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी ऐसे रिपीट होती रहती है और कोई इन बातों को नहीं जानते। सब तो एक जैसे नहीं होते हैं। मर्तबे तो वहाँ भी रहेंगे। वहाँ सिपाही लोग होते नहीं क्योंकि वहाँ डर होता नहीं। यहाँ तो डर है इसलिए सिपाही आदि रखते हैं। भारत में टुकड़े-टुकड़े कर दिये हैं। सतयुग में पार्टीशन होता नहीं। लक्ष्मी-नारायण का एक ही राज्य चलता है। पाप कोई होता नहीं। अब बाप कहते हैं – बच्चे, मेरे से सदा सुख का वर्सा लो, मेरी मत पर चलकर। सद्गति का मार्ग एक ही बाप दिखाते हैं। यह है शिव शक्ति सेना, जो भारत को स्वर्ग बनाती है। यह तन-मन-धन सब इस सेवा में लगाते हैं। उस बापू जी ने क्रिश्चियन को भगाया, यह भी ड्रामा में था। परन्तु उनसे कोई सुख नहीं हुआ और ही दु:ख है। अन्न है नहीं, गपोड़े मारते रहते हैं, यह मिलेगा, यह होगा……। मिलना है सिर्फ बाप से। बाकी यह तो सब ख़त्म हो जायेगा। कहते हैं बर्थ कन्ट्रोल करो, उसके लिए माथा मारते रहते हैं, होगा कुछ भी नहीं। अभी थोड़ी लड़ाई शुरू हो जाए तो फेमन पड़ जायेगा। एक-दो में मारामारी हो जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जीते जी बाप पर बलि चढ़ना है अर्थात् बाप का बनकर बाप की ही श्रीमत पर चलना है। आप समान बनाने की सेवा करनी है।

2) अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान कर जगदम्बा समान सर्व की मनोकामनायें पूर्ण करने वाला बनना है।

वरदान:- हर बात में कल्याण समझकर अचल, अडोल महावीर बनने वाले त्रिकालदर्शी भव
कोई भी बात एक काल की दृष्टि से नहीं देखो, त्रिकालदर्शी होकर देखो। क्यों, क्या के बजाए सदा यही संकल्प रहे कि जो रहा है उसमें कल्याण है। जो बाबा कहे वह करते चलो, फिर बाबा जाने बाबा का काम जाने। जैसे बाबा चलाये वैसे चलो तो उसमें कल्याण भरा हुआ है। इस निश्चय से कभी डगमग नहीं होंगे। संकल्प और स्वप्न में भी व्यर्थ संकल्प न आयें तब कहेंगे अचल, अडोल महावीर।
स्लोगन:- तपस्वी वह है जो श्रीमत के इशारे प्रमाण सेकण्ड में न्यारा और प्यारा बन जाये।

TODAY MURLI 26 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 October 2017 :- Click Here

26/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you spiritual Brahmins should have a lot of love for one another. Meet together to discuss and decide how to give everyone the true Father’s introduction.
Question: On the basis of which faith can you children make your fortune elevated?
Answer: First of all, let your intellects have the faith that the One who is teaching you here is God Himself and that you have to claim your great fortune (hundred fold – saubhagya – fortune) from Him. Only then would you study with Him every day and be able to make your fortune elevated. The Father’s shrimat is: Children, you must study every day under any circumstances. If you are unable to come to class, read the murli at home.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop!

Om shanti. You souls, that is, you children know that we souls are like points, that we are like stars. However, how can a soul realise the Father of the self? No one in the world knows either the self or the Father. You know that you souls are points; you are so tiny. The Father too is so tiny. The Supreme Father is no bigger than souls. A body can be large or small. You are now sitting in remembrance of Shiv Baba. Although someone may know that a soul is a tiny point, the wonder is that he also has a part of 84 births recorded in him. Until a soul takes the support of a body, he cannot play a part. In the same way, the Supreme Soul is also as tiny as us souls, but why is He called the Father? Because He is ever pure. Although people don’t know God, they call Him the Father. Just as you remember Him with understanding, so they also remember Him. All of those many devotees have one God whom they call the Purifier. So, there are many who are impure but only One is the Purifier. Sages, holy men and great souls also call out to Him; they call him God, the Father. Therefore, He is the Father of all. The Father has to come here to purify the impure. He alone shows you the way to become pure because souls have accumulated a burden of sin. We simply write “Be holy” but there is no benefit in putting up such slogans because people outside are not able to understand them. This has been explained to you, so why do you need slogans? It means: Become pure and remember Baba. They won’t be able to understand this until you explain it to them. By staying in yoga you can become pure. People say: His Holiness. That is a title of purity. Sannyasis are said to be holy because they don’t indulge in vice. Although they remain pure and remember the brahm element, they still have to take birth to those who indulge in vice. You are told to remain pure and to remember Shiv Baba. Sannyasis call themselves renunciates of action. However, action cannot be renounced. Only when a soul doesn’t have a body can there be renunciation of action. Souls live in the home (Supreme abode) without bodies. How can there be renunciation of action here? It is a lie even to say this. They say that they don’t perform the same actions as householders. The actions of householders are many: sacrificial fires, tapasya, going on pilgrimages etc. Even sannyasis do that. The only difference is that householders earn an income and cook food in their homes whereas sannyasis don’t. They beg for food because theirs is hatha yoga. They cannot meet God by doing hatha yoga. Only when the Father comes can anyone meet Him and, until He comes, the pure world cannot be established. You explain so much and yet they don’t understand! Children write news to Baba: So many people came. Now we shall see who claims their great fortune. So many people come, but it doesn’t sit in their intellects that it is the Supreme Father, the Supreme Soul, who is teaching them and that they have to claim their great fortune from Him. The Father looks at the register. Some come here for only eight to ten days in a whole month, and some don’t even come, and so they don’t write anything. If someone doesn’t come to class, does he or she read the murli or not? Under all circumstances, you must study every day. They make a small size of the Jap Saheb Sukhmani (Sikh scripture) because they believe that they could read it under all circumstances. You understand what they will attain by reading that. Nothing at all! Perhaps for a little while, their intellects would be fine, but no one can meet the Father through that. They then also become trapped in the vices and so there is no attainment through that. It is said that there are those who have divorced intellects at the time of destruction. It truly is the time of destruction now and no one knows God. They even say that they don’t know the Creator or the knowledge of the beginning, the middle or the end of creation. However, you have to know the beginning, the middle and the end of the drama. The Father explains that the golden age is the beginning and that the iron age is the end. Therefore, you have to understand the three aspects of time and the three worlds. The three worlds are the corporeal world, the subtle region and the incorporeal world. They say that the scriptures are eternal, but the Father explains: The scriptures begin when Ravan’s kingdom begins. Therefore, the copper age is in the middle. For half the cycle, it is the golden age and for half the cycle, it is the iron age. There is the account of half and half. Those people cannot know the middle because they have said that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years. You should tell them to know the Father, become Brahma Kumars and Kumaris and they will then receive the inheritance. When people come here, first ask them where they have come to. They would say that they have come to the BKs. Tell them: Just think about it! Since there are so many Brahma Kumars and Kumaris, Brahma, the father, would also be here, would he not? There are so many centres and so many Brahma Kumars and Kumaris. How can one father have so many children? It is written that he is Prajapita and so there are so many Brahma Kumars and Kumaris. You should explain to them in this way and make them alert. OK, just think about it: Whose child is Prajapita Brahma? To create so many children is the task of the Supreme Soul. Therefore, He would surely come here. It is remembered: You are the Mother and Father. Therefore, Brahma is the mother. So, the Supreme Soul creates through Brahma; He convertseveryone. He adopts you to give you the inheritance. How does He purify you? By your having remembrance. He says: Forget all religions and constantly remember Me alone. Everyone calls out to Me. I am the knowledge-full One, the blissful One, the Liberator and the Guide. Therefore, I take everyone to the land of happiness. Where is there happiness? In the land of happiness. The Father is now taking you to the land of peace and you will then go to the land of happiness. How can you remember these things? If you continue to speak of these things every day and also explain them to others, the points will continue to enter your intellects. When you explain to someone you should make that person write it down. You should make them write down the address of the Supreme Soul who is the Father of all souls, that the Father is Shiva and that we will claim our inheritance from Him. You should make effort. However, who makes this effort? This is why you children have to become alert yourselves and make others alert and also make plans for service. Great commanders of the military get together for discussions. Therefore, you children here should also get together. However, what can Baba do if you don’t get together? In fact, you Brahmins should have a lot of love for one another. You should discuss and decide how to explain to someone. Look, there are so many temples to Lakshmi and Narayan. You should meet those who built those temples: You have built these temples, but do you know how they claimed their kingdom and how they lost their kingdom? The picture of Shri Krishna is very good. The story of 84 births in it is very good. You should make this picture in a larger size. Baba says: When someone comes, ask him tactfully: Have you studied the Gita? So, tell me, who is the God of the Gita? You should explain tactfully in this way. It is said: You are the Mother and Father. So, this Brahma is the mother and you should have a relationship with him. If you don’t have love for him, everything is finished. How would you claim your inheritance from the Father? Your war is with the old enemy. No one even knows that there can be a war with Ravan. They say that the boat of truth will rock but will not sink. Therefore, it rocks so much! In other spiritual gatherings, there is no question of a boat rocking. Here, your war is with Maya. Until they understand the Father, even though they may put it in writing, they don’t even become parrots who repeat everything; they are instead like wild parrots that come and go. You have to understand Alpha. There are many subjects, but no one comes forward for the kingdom. It is very difficult for them to surrender themselves to the Flame.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

A night class :

You children have received the Father’s directions: Children, remember the Father. Children say: Baba, we don’t have time. Where does your time go? Surely, Maya must be taking up your time. Maya is also very powerful because she doesn’t give you time to remember the Father and that is why you say you remember Baba for half an hour or 20 minutes throughout the whole day. It is with great difficulty that anyone remembers the Father for even two hours throughout the whole day. Those of you who think that you remember Baba for two hours, raise your hands! That physical remembrance, remembrance of the past has continued. That One is the Incorporeal. He doesn’t have His own eyes or ears. He tells you children to remember Him constantly alone and to consider yourselves to be souls. Baba is asking you: For how many hours do you stay in remembrance? When children go and play they remember their teacher. Even when they study at home, they remember their teacher. That is remembrance of the physical. This is a little difficult. This is why Baba asks: Those who are able to consider themselves to be souls and are able to remember the Father for two hours, raise your hands! Don’t be ashamed, but tell Baba accurately. You are sitting here and Baba is speaking a murli and yet your intellects wander in other directions, do they not? Not much is imbibed by your intellects. For instance, when Baba explains to you for an hour in the morning, then, for that one hour, do your intellects remember the Father or do they wander outside? Truly, numberwise, according to the efforts you make, your intellects definitely wander outside somewhere or other. You don’t listen to everything. If you listened to everything and continued to note it down, Baba would say that your yoga is good. Therefore, when listening to Baba, you have to pay attention and write down the points fully. If the link is broken, you forget the points. The Father explains: Children, death through heart failure is a very sweet death. There is no spinning of ‘mine’ or ‘yours’ in that. While sitting somewhere, you collapse, you become unconscious and everything is over. That’s all! You don’t regain consciousness at all. That is a very good death. Other people would cry, but you would be happy, thinking: Wonderful! This one died very easily; he didn’t experience any pain at all. When one dies, it should be in this way. Otherwise, there is a lot of medicine, nurses and many other things involved. This is why to renounce one’s old shoe while just sitting somewhere in the karmateet stage and to leave one’s body just like that is the best of all. As you progress further, you will see how bombs will be dropped suddenly for no reason and everyone will go back while just sitting somewhere. Your faces will even be cheerful. When someone dies in a good way, observers would say that it seems as though that person is still awake; he is cheerful. No one looking at him would be able to say that he is dead. The soul goes back cheerful. If a soul is cheerful it would be externally visible on the face, would it not? Souls do not die; the soul just leaves the body. So, the soul would leave this body in great happiness, while smiling. That is called the karmateet stage. This is the stage that is remembered as the highest. You children too have to depart in that way. There is no concern for the body. Nothing else is remembered. When you leave your body automatically, it is said to be the sweetest of all. This is why the example of the snake is given. In the golden age, it is like that: they shed their bodies in happiness. Therefore, this practice is developed here and this practice continues there. You children remember the Father with so much love. In English, you would say: Most b eloved , supremely beloved, very sweet. You cannot say that people are supremely beloved or most beloved. The Father says: Children, I am your Father, Teacher and also your Guru. If you ever forget the Teacher, you can remember the Father. Baba is also the Guide. He is the One who liberates you from sorrow and takes you to the land of peace. After that, there is the land of happiness. You are now receiving this grass of knowledge and you should continue to chew it (churn the ocean of knowledge). The mouth of a cow continues to chew the cud. There is no need for your mouth to work on this. However, inside, you have to remember everything. I am the same as you. I have even fewer hours because my intellect’s yoga wanders outside. Sometimes, I would receive a letter from someone that there is conflict with So-and-so. There is this and that… So my intellect goes there throughout the day. However, perhaps it is easier for Baba than the children because Baba stays right beside him. When Baba sits down to eat his meals, he thinks: OK, I am going to remember Baba. That remembrance stays for two to three minutes and then I forget. Remembrance flies away like the wind. Children, try this and see for yourselves! Although it is easy, remembrance does take time. Achcha.

To the sweetest, beloved long-lost and now-found spiritual children, love, remembrance and good night from the depths of the heart and with deepest love from the spiritual Father and Dada. The spiritual Father says namaste to the sweetest, long-lost and now-found, spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Live together with a lot of love for one another. Get together and decide how you can enable the Father’s message to reach everyone.
  2. This is the time of destruction. Therefore, have true love for the one Father. Have the soul purified with yoga.
Blessing: May you be knowledge-full and trikaldarshi and remain constantly happy and content by knowing every secret of the drama.
The children who are knowledge-full and trikaldarshi can never become upset (naaraaz). Even if someone defames or insults them, they would still remain happy (raazi) because those who understand every secret (raaz) of the drama cannot become unhappy. It is those who do not know the secrets who become unhappy. Therefore, always have this awareness: if you are not happy having become a child of God, the Father, then, when would you be happy? Those who are happy and content now are close to the Father and equal to Him.
Slogan: Those who remain innocent of waste are true saints.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Murli 24 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 25 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
26/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम रूहानी ब्राह्मणों का आपस में बहुत-बहुत प्यार होना चाहिए। आपस में मिलकर राय निकालो कि कैसे सभी को सत्य बाप का परिचय दें”
प्रश्नः- बच्चे किस निश्चय के आधार पर अपना भाग्य ऊंचा बना सकते हैं?
उत्तर:- पहले जब बुद्धि में यह निश्चय बैठे कि यहाँ पढ़ाने वाला स्वयं परमात्मा है, उनसे ही हमें सौभाग्य लेना है तब पढ़ाई रोज़ पढ़ें और अपना सौभाग्य ऊंचा बना सकें। बाप की श्रीमत है कि बच्चे तुम्हें किसी भी हालत में रोज़ पढ़ना है। अगर क्लास में नहीं आ सकते हो तो भी घर में मुरली पढ़ो।
गीत:- तू प्यार का सागर है….

ओम् शान्ति। आत्मायें अर्थात् बच्चे जान गये हैं कि हम आत्मा बिन्दी मिसल हैं। एक स्टॉर मुआफिक हैं। लेकिन जो आत्मा है वह सेल्फ के बाप को कैसे रियलाइज़ करे। दुनिया में कोई भी न अपने को, न बाप को जानते हैं। तुम जानते हो हम आत्मा बिन्दी हैं। कितनी छोटी हैं, बाप भी इतना छोटा है। आत्मा से परमात्मा बाप कोई बड़ा नहीं है। शरीर तो छोटा बड़ा होता है। अब तुम शिवबाबा की याद में बैठे हो। भल कोई यह जान भी जाये कि आत्मा छोटी बिन्दी है, परन्तु उसमें 84 जन्मों का पार्ट है, वन्डर है ना। जब तक आत्मा शरीर का आधार न लेवे तब तक पार्ट बजा न सके। वैसे परमात्मा भी हम आत्मा के मुआफिक छोटा है। परन्तु बाप क्यों कहा जाता है? क्योंकि वह सदा पावन है। वह परमात्मा को न जानते भी उनको बाप कहते हैं। जैसे तुम समझ से याद करते हो वैसे वह भी याद करते हैं। इतने जो भगत हैं, सबका भगवान एक है, जिसको पतित-पावन कहा जाता है। तो पतित हैं अनेक और पतित-पावन है एक। साधू सन्त महात्मा भी बुलाते हैं, उनको गॉड फादर कहते हैं। तो सबका फादर ठहरा ना। फादर को पतित से पावन बनाने आना पड़ता है। पावन बनने का उपाय वही बताते हैं क्योंकि आत्मा पर पापों का बोझा चढ़ा हुआ है। हम सिर्फ लिख दें कि बी होली, परन्तु ऐसे स्लोगन लगाने से कोई फायदा नहीं क्योंकि बाहर वाले तो समझ न सकें। बाकी तुमको तो समझाया हुआ है, तुमको स्लोगन की क्या दरकार है। इसका अर्थ है पवित्र बनो, बाबा को याद करो। जब तक किसको समझाया नहीं जाये तब तक कुछ समझ न सकें। योग में रहने से पवित्र बन सकते हैं। कहते हैं हिज-होलीनेस। यह पवित्रता का टाइटिल है। सन्यासियों को होली कहते हैं क्योंकि विकार में नहीं जाते हैं। भल वह पवित्र रहते हैं, ब्रह्म को याद करते हैं परन्तु जन्म विकारियों के पास लेना पड़ता है। तुमको तो कहा जाता है पवित्र रहो और शिवबाबा को याद करो। सन्यासी अपने को कर्म सन्यासी कहलाते हैं। परन्तु कर्म का सन्यास होता नहीं। कर्म सन्यास तब हो जब देह न हो। देह बिगर तो घर में (परमधाम में) रहते हैं। यहाँ कर्म का सन्यास कैसे हो सकता है? यह कहना भी झूठ है। वह कहते जो गृहस्थी कर्म करते वह हम नहीं करते। गृहस्थियों का कर्म तो बहुत है – यज्ञ, तप, तीर्थ आदि करते हैं। वह सन्यासी भी करते हैं। बाकी फ़र्क सिर्फ यह है कि वह कमाई कर खाना घर में पकाते हैं, सन्यासी यह नहीं करते हैं। वह मांगकर खाते हैं क्योंकि उनका हठयोग है। हठयोग से परमात्मा से मिल नहीं सकते। जब बाप आये तब तो उनसे कोई मिल सके और जब तक बाप न आये तब तक पावन दुनिया की स्थापना भी हो न सके। कितना समझाते हैं फिर भी समझते नहीं हैं। बच्चे समाचार लिखते हैं – इतने-इतने आये। अब देखें कौन-कौन अपना सौभाग्य लेते हैं। आते बहुत हैं परन्तु बुद्धि में यह नहीं बैठता कि इन्हें पढ़ाने वाला परमपिता परमात्मा है, हमको उनसे सौभाग्य लेना है। बाप रजिस्टर भी देखते हैं। कोई मास में 8-10 दिन भी आते हैं, कोई नहीं भी आते हैं तो वह नहीं लिखते। अगर कोई नहीं आता है तो वह मुरली पढ़ता है वा नहीं। किसी भी हालत में रोज़ पढ़ना पड़े। जैसे जप साहेब, सुखमनी छोटे-छोटे बनाते हैं, समझते हैं कैसे भी पढ़ सकें। तुम समझते हो, उस पढ़ने से क्या प्राप्ति होगी। कुछ नहीं। करके थोड़े समय के लिए बुद्धि ठीक होगी। परन्तु बाप से कोई मिल न सके। और फिर विकारों में फँस जाते हैं तो फिर उनसे कोई प्राप्ति नहीं। कहते हैं विनाश काले विपरीत बुद्धि, बरोबर अब विनाश का समय है और कोई भी परमात्मा को नहीं जानते। कहते भी हैं हम रचता और रचना के आदि मध्य अन्त को नहीं जानते हैं। परन्तु ड्रामा के आदि मध्य अन्त को जानना चाहिए ना। बाप समझाते हैं सतयुग है आदि, कलियुग है अन्त। तो तीनों काल, तीनों लोकों को समझना है। तीन लोक हैं स्थूल वतन, सूक्ष्म वतन… कहते हैं – शास्त्र अनादि हैं परन्तु बाप समझाते हैं जब से रावण राज्य शुरू होता है तब से शास्त्र भी शुरू होते हैं, तो द्वापर युग मध्य हो गया। आधाकल्प सतयुग, आधाकल्प कलियुग। आधा का हिसाब है। वह मध्य को नहीं जान सकते क्योंकि कल्प की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं। कहना चाहिए कि बाप को जानो, ब्रह्माकुमार कुमारी बनो तब वर्सा मिलेगा। पहले कोई आते हैं तो पूछो – कहाँ आये हो? कहते हैं बी.के. के पास। तुम कहो विचार करो – इतने ब्रह्माकुमार कुमारियां हैं, तो ब्रह्मा बाप भी होगा! कितने सेन्टर्स हैं, ढेरों के ढेर ब्रह्माकुमार कुमारियां हैं। भला इतने बच्चे एक बाप को कैसे हो सकते! लिखा है प्रजापिता तो इतने ब्रह्माकुमार कुमारियां हैं। ऐसे-ऐसे समझाकर खड़ा करना चाहिए। फिर भला ख्याल करो प्रजापिता ब्रह्मा किसका बच्चा? इतने बच्चे रचना तो परमात्मा का काम है ना। तो परमात्मा आता होगा ना। गाया हुआ है तुम मात-पिता… तो बाप ब्रह्मा हो गया ना। तो परमात्मा ब्रह्मा द्वारा रचते हैं, कनवर्ट करते हैं। एडाप्ट करते हैं, वर्सा देने। पावन बनाते हैं कैसे? याद से। कहते हैं सब धर्मो को भूल मामेकम् याद करो। सभी बुलाते हैं मैं नॉलेजफुल, ब्लिसफुल, लिबरेटर, गाइड हूँ। तो सुखधाम में ले जाता हूँ। सुख कहाँ है? सुखधाम में। अभी बाप ले जाता है शान्तिधाम में, फिर आते हैं सुखधाम में। यह बातें कैसे याद करें। रोज़-रोज़ बोलते रहें, औरों को समझाते रहें तो प्वाइंट्स बुद्धि में आती रहती हैं। जब किसको समझाओ तो उनसे लिखा लेना चाहिए। परमात्मा जो आत्माओं का पिता है – उनकी एड्रेस लिखानी चाहिए कि बाप शिव है तो बाप से वर्सा लेंगे। तो मेहनत करनी चाहिए। परन्तु मेहनत करे कौन? इसलिए बच्चों को खुद खड़ा होकर फिर औरों को भी खड़ा करना चाहिए और सर्विस के लिए प्लैन्स बना देने चाहिए। जैसे मिलेट्री के बड़े कमान्डर्स आपस में मिलते हैं ना। तो यहाँ भी बच्चों को मिलना चाहिए। परन्तु क्या करें आपस में मिलते नहीं हैं। वास्तव में तुम ब्राह्मणों का आपस में बहुत प्यार होना चाहिए। कोई राय निकालनी चाहिए – कैसे किसको समझायें।

देखो, लक्ष्मी-नारायण के कितने मन्दिर हैं। तो मन्दिर बनाने वालों को मिलना चाहिए कि आपने यह मन्दिर बनाया है परन्तु जानते हो कि इन्होंने राज्य कैसे पाया? फिर राज्य कैसे गंवाया? श्रीकृष्ण का चित्र बहुत अच्छा है, इसमें 84 जन्मों की कहानी बड़ी अच्छी है। सिर्फ यह चित्र बड़ा बनाना चाहिए। बाबा कहते हैं कोई आये तो युक्ति से पूछना चाहिए कि आपने गीता पढ़ी है? फिर भला बताओ गीता का भगवान कौन है? तो ऐसे युक्ति से समझाना चाहिए। कहते हैं ना तुम मात-पिता….तो यह ब्रह्मा माता हो गई तो उनके साथ सम्बन्ध रखना चाहिए। अगर उनसे प्यार गया तो खेल खलास, बाप से वर्सा कैसे पायेंगे। तुम्हारी लड़ाई पुराने दुश्मन से है। कोई को मालूम नहीं है कि रावण से भी कोई युद्ध होती है। कहते हैं सच की नांव डोलेगी लेकिन डूबेगी नहीं। तो हिलती कितनी है। दूसरे सतसंगों में तो हिलने की बात ही नहीं है। यहाँ तो माया से युद्ध है। जब तक बाप को नहीं समझा है तब तक भल लिखकर दें, परन्तु तोता कण्ठी वाला नहीं बना है। जंगली तोता आया और गया। अल्फ को समझना है। ऐसे प्रजा तो ढेर है, बाकी राजाई के लिए कोई खड़ा नहीं होता है। बत्ती पर फिदा हो जाए सो बड़ा मुश्किल होता है। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि-क्लास:-

तुम बच्चों को बाप का डायरेक्शन मिला हुआ है कि बच्चे बाप को याद करो। बच्चे कहते हैं बाबा फुर्सत नहीं मिलती है। अब फुर्सत कहाँ चली जाती है? जरूर माया तुम्हारा समय ले लेती है। माया भी जबरदस्त तीखी है, जो तुमको बाप को याद करने की फुर्सत नहीं देती, तब तो कहते हो बाबा सारे दिन में आधा घण्टा, 20 मिनट याद में रहे, कोई मुश्किल ही सारे दिन में दो घण्टा बाप को याद करते होंगे। जो समझते हैं हम 2 घण्टा याद करते हैं, वह हाथ उठाओ। वह स्थूल याद, पुरानी याद तो चलती आती है। यह तो है इनकारपोरियल, इनको अपना ऑख, कान तो है नहीं। बच्चों को कहते हैं मामेकम् याद करो। अपने को आत्मा समझो। तो बाबा पूछ रहे हैं कि कितना घण्टा याद में रहते हो? बच्चे खेलने जाते हैं तो टीचर को याद करते हैं। घर में पढ़ते हैं तो भी टीचर याद रहता है। तो वह है स्थूल याद। इसमें है थोड़ी डिफीकल्टी, तो बाबा पूछते हैं कि अपने को आत्मा समझ बाप को 2 घण्टा जो याद कर सकते हैं, वह हाथ उठाओ। लज्जा नहीं करो, एक्यूरेट बताओ।

तुम यहाँ बैठते हो, बाबा मुरली चलाते हैं तो बुद्धि दूसरे तरफ चली जाती है ना! इतना बुद्धि में धारण भी नहीं होता है। जैसे यहाँ सुबह में एक घण्टा बाबा समझाते हैं, तो क्या वह एक घण्टा बाबा को याद करते हो या बुद्धि बाहर में चली जाती है? बरोबर नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार बुद्धि कहाँ न कहाँ चली जाती है। सारा नहीं सुनते हैं। अगर सारा बैठ करके सुनें और नोट करते रहें तो बाबा कहेगा हाँ, इनका योग ठीक है। तो सुनते समय अटेन्शन देना है और प्वाइन्ट्स पूरा लिखना है। अगर लिंक टूटेगी तो प्वाइन्ट भूल जायेगी।

बाप समझाते हैं बच्चे, हार्ट फेल का मौत बहुत मीठा मौत है। इसमें तेरा मेरा फेरा कुछ भी नहीं है। बैठे-बैठे यह गिरा, बेहोश हुआ, खलास। बस। फिर होश में आये ही नहीं। यह बहुत अच्छा मौत है। बाकी मनुष्य तो रोते पीटते हैं और तुम तो खुश होंगे अरे वाह! इनका मौत बड़ा सहज हुआ, इनको कोई दु:ख नहीं हुआ। अगर मौत हो तो ऐसा हो, नहीं तो दवा, नर्स यह वह बहुत होते हैं ना इसलिए जो बैठे-बैठे अपनी इस पुरानी जुत्ती को छोड़ दे, कर्मातीत अवस्था हो, ऐसे ही शरीर छोड़े, तो वो सबसे अच्छा है। तुम आगे चल करके देखेंगे, अनायास बाम्बस छूटेंगे और सब बैठे-बैठे चले जायेंगे। चेहरा भी हर्षित होगा। जैसे कभी-कभी अच्छे मौत होते हैं तो देखने वाले कहते हैं कि यह तो जैसे जागता है, यह तो हर्षित है, ऐसे तो कोई कह नहीं सकेंगे कि यह मर गया है। आत्मा हर्षित होके जाती है ना, तो आत्मा में अगर हर्षितपना होगा तो चेहरे पर बाहर से दिखाई तो पड़ेगा ना! आत्मा कोई खत्म तो नहीं होती है, आत्मा शरीर छोड़ती है। तो बड़ी खुशी से यह शरीर हंसते हुए छोड़ देगी, इसको कहा जाता है – कर्मातीत अवस्था। वही इतना ऊंच गाये जाते हैं। तुम बच्चों को ऐसे ही जाना है, शरीर की कोई परवाह ही नहीं है, और दूसरी कोई चीज़ याद नहीं आवे, इसको कहेंगे सबसे मीठा, आपेही शरीर छोड़ना इसलिए सर्प का मिसाल भी देते हैं। सतयुग में ऐसे होता है जो खुशी से शरीर छोड़ते हैं। तो प्रैक्टिस यहाँ से होगी, पीछे वह प्रैक्टिस चलती रहेगी।

तुम बच्चे बाप को कितना प्यार से याद करते हो। अंग्रेजी में कहा जाता है मोस्ट बिलवेड, परम प्रिय, बहुत मीठा। लोगों को तो परमप्रिय, मोस्ट बिलवेड कह नहीं सकते। बाप कहते हैं बच्चे मैं तुम्हारा बाप भी हूँ, टीचर भी हूँ, गुरू भी हूँ। तुम कभी टीचर को भूलो तो बाप को याद कर सकते हो। बाबा गाइड है, गाइड को पण्डा भी कहा जाता है। वह दु:ख से लिबरेट करने वाला, शान्तिधाम में ले जाने वाला है, उसके पीछे है सुखधाम। तो तुमको यह ज्ञान घास मिलता है फिर इसको विचार सागर मंथन करते रहो। जैसे गाय का मुख चलता रहता है। तुम्हारा मुख तो चलने की दरकार नहीं है, बाकी अन्दर में सबकुछ याद करना है। जैसे तुम हो, ऐसे हम हैं। हमको तो और भी कम घण्टे मिलते हैं, क्योंकि हमारा बुद्धियोग बाहर में बहुत जाता है, कभी कोई की चिट्ठी आई, फलाने की खिटपिट है, यह है, वह है.. तो सारा दिन उस तरफ बुद्धि जाती है। परन्तु शायद बच्चों से जास्ती बाबा को सहज है क्योंकि बगल में (साथ में) रहता है। जब बाबा भोजन खाने के लिए बैठते हैं तो सोचते हैं, अच्छा मैं बाबा को याद करता हूँ, 2-3 मिनट याद रहती है फिर भूल जाता हूँ। याद हवा मुआफिक उड़ जाती है, बच्चे ट्राय करके देखो। सहज होते भी याद में टाइम तो लगता है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप व दादा का दिल व जान, सिक व प्रेम से यादप्यार और गुडनाइट। मीठे मीठे सिकीलधे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप की नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आपस में बहुत प्यार से रहना है, मिलकर राय निकालनी है कि किस युक्ति से हर एक तक बाप का सन्देश पहुंचायें।

2) यह विनाश का समय है इसलिए एक बाप से सच्ची प्रीत रखनी है। योग से आत्मा को पावन बनाना है।

वरदान:- ड्रामा के हर राज़ को जान सदा खुश-राज़ी रहने वाले नॉलेजफुल, त्रिकालदर्शी भव 
जो बच्चे नॉलेजफुल, त्रिकालदर्शी हैं वे कभी नाराज़ नहीं हो सकते। भल कोई गाली भी दे, इनसल्ट कर दे तो भी राज़ी, क्योंकि ड्रामा के हर राज़ को जानने वाले नाराज नहीं होते। नाराज़ वो होता है जो राज़ को नहीं जानता है इसलिए सदैव यह स्मृति रखो कि भगवान बाप के बच्चे बनकर भी राज़ी नहीं होंगे तो कब होंगे! तो अभी जो खुश भी हैं, राज़ी भी हैं वही बाप के समीप और समान हैं।
स्लोगन:- जो व्यर्थ से इनोसेंट रहता है वही सच्चा-सच्चा सेंट (महात्मा) है।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 24 October 2017 :- Click Here
Font Resize