today murli 26 november

TODAY MURLI 26 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 November 2018 :- Click Here

26/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, when you become body conscious, Maya slaps you. Remain soul conscious and you will be able to follow every shrimat of the Father.
Question: The Father has two types of effort-making children. What are they?
Answer: One type is of those who make complete effort to claim their full inheritance from the Father; they take the Father’s advice at every step. The other type is of those who make effort to divorce the Father. There are some who remember the Father a great deal in order to become free from sorrow, and there are others who want to become trapped in sorrow. This too is a wonder!
Song: The Flame has ignited in the happy gathering of moths!

Om shanti. You children have heard this song many times. New children must be hearing it for the first time because, when the Father comes, He gives His introduction. Now, you children have received the introduction and you know that you have become children of the unlimited Mother and Father. The Mother and Father must surely be the Creator of the human world. However, Maya has made the intellects of human beings completely dead. Such a simple thing does not sit in their intellects. Everyone says that God created us. Therefore, He must surely be the Mother and Father. They remember God on the path of devotion. People of every religion definitely remember God the Father. Devotees of God cannot be God themselves. Devotees make spiritual endeavour and pray to God. Surely, there can only be one God, the Father of all, that is, One who is the Father of all souls. There cannot be one F ather of all the bodies; there would have to be many different fathers. Although everyone has a physical father, they call out “O God!” and remember Him. The Father sits here and explains: Human beings are so senseless that they forget the Father’s introduction! You understand that the Creator of heaven is definitely the one Father. It is now the iron age. This iron age definitely has to be destroyed. The word ‘disappeared’ comes up in every aspect. You children know that the golden age has now disappeared. Achcha, now the question arises: Will they know in the golden age that the golden age will disappear and that there will then be the silver age? No! There is no need for this knowledge there. These aspects of how the cycle turns and who their parlokik Father is are not in anyone’s intellect. Only you children know this. People sing: “You are our Mother and Father and we are Your children”, yet they do not know Him. Therefore, it is useless even to say this. They have all forgotten the Father; this is why they have become orphans. The Father explains everything. Follow shrimat at every step, otherwise Maya can deceive you at any time. Maya is very deceitful. It is the Father’s task to liberate you from Maya. Ravan is in any case the one who causes you sorrow. The Father is the One who gives you happiness. Human beings cannot understand these things. They think that it is God who gives happiness and sorrow. The Father explains that people incur so much expense on weddings in order to become unhappy. They make effort to make pure saplings impure. Only you understand these aspects; the world does not understand them. They perform so many ceremonies to drown people in the ocean of poison. They don’t even know that this poison will not exist in the golden age. That is the ocean of milk, whereas this is called the ocean of poison. That world is completely viceless. Even though there are two degrees less in the silver age, it is still called the viceless world. There can be no sin there, because the kingdom of Ravan begins in the copper age. It is half and half: there is the ocean of knowledge and the ocean of ignorance. There is also the ocean of ignorance. Human beings are so ignorant that they don’t even know the Father. They just say that you will find God by doing this and that. However, they don’t find anything. After they have beaten their heads and become orphaned and unhappy, I, the Lord and Master, come. In the absence of the Lord and Master, Maya, the alligator, has completely swallowed everyone. The Father explains: Maya is very strong and many are deceived by her. Some are slapped by lust and some are slapped by attachment. It is by becoming body conscious that you get slapped. Effort lies in becoming soul conscious. This is why the Father repeatedly says: Be cautious, Manmanabhav! Maya slaps you if you don’t remember the Father. Therefore, practise staying in constant remembrance. Otherwise, Maya will make you do wrong things. You have received intellects to know the difference between right and wrong. If you get confused about anything, ask the Father. You can send a telegram, or write a letter or even phone and ask. You can get through on the phone straightaway early in the mornings because everyone, apart from you, is asleep at that time. Therefore, you can ask by p honing. Day by day, communication by phone is becoming refined. However, the Government is very poor, and so the expenditure is according to that. At this time everyone has reached the stage of total decay and become completely impure. However, even then, why are the people of Bharat especially called rajo and tamoguni? Because they were the most satopradhan. Those of other religions neither see as much happiness nor as much sorrow. They are now content, which is why they are able to send so much food. Their intellects are rajopradhan. They continue to invent many things for destruction, but they don’t understand this. This is why many pictures etc. have to be sent to them. Ultimately they will come to know and understand that these things are very good. It is written on them: A God f atherly gift. When the time comes for calamities, this sound will be heard and they will understand that they definitely received these things. These pictures will do a lot of work. The poor people don’t know the Father. Only the one Father is the Bestower of Happiness. Everyone remembers Him. They can understand this very clearly from the pictures. Just see how, at this time, you can’t even get three feet of land and yet you become the masters of the whole world. These pictures will also do a lot of service abroad. However, children do not value these pictures that much. Expenditure will definitely be incurred. Millions of the Government’s rupees must have been spent and hundreds of thousands must have died in establishing that kingdom. Here, there is no question of anyone dying. You have to make full effort on the basis of shrimat. Only then will you be able to attain an elevated status. Otherwise, you will repent a great deal at the time you have to be punished. As well as being the Father, that One is also the Supreme Judge. I come into the impure world to give you children your kingdom of self-sovereignty for 21 births. If you do anything destructive, you will have to endure full punishment. You should not say: Let’s see what happens! Who wants to sit and think about the next birth now? Human beings give donations and perform charity for their next birth. Whatever you do now is also for 21 births. Whatever they do is temporary; they only receive the return of that in hell whereas you receive the return in the golden age. There is the difference of day and night. You claim your reward of heaven for 21 births. By following shrimat in every respect, your boat goes across. The Father says: I seat you children in My eyes and take you across in great comfort. You have experienced a great deal of sorrow. I now say to you: Remember Me! You came bodiless and played your parts and you now have to return. These parts of yours are eternal. Those who have the arrogance of science cannot understand these things. A soul is like a very tiny star and has an eternal, imperishable part recorded within it; it can never end. The Father says: I am the Creator and also the principal Actor. I come every cycle to play My part. It is said that the Supreme Soul has a mind and an intellect and that He is the Living Being and k nowledge-full. However, no one knows what He is. Just as you souls are s tars, I too am a s tar. You remembered Me on the path of devotion too because you were unhappy. I come and take you children back home with Me. I am also your Guide. I, the Supreme Soul, take you souls back home. A soul is even tinier than a mosquito. It is now that you children receive this understanding. He explains everything very clearly. The Father says: I make you into the masters of the world but I keep the key to divine visions with Myself. I do not give this to anyone. On the path of devotion this key is useful for only Me. The Father says: I make you pure and worthy of being worshipped. Maya makes you impure and a worshipper. A great deal of explanation is given to you all, but only those who are wise will understand. This tape machine is a very good thing. Children should definitely listen to the murli. You are long-lost and now-found children. Baba feels great compassion for the gopikas in bondage. They experience great happiness by listening to Baba’s murli. What would one not do for the sake of children’s happiness? Day and night, Baba is concerned about the gopikas in the villages. Sometimes, he can’t sleep for thinking about what methods can be adopted so that those children can become liberated from sorrow. However, some make preparations to become trapped in sorrow. Some make effort to claim their inheritance and others make effort to divorce Him. The world nowadays is very bad. Some children don’t even hesitate to kill their father. The unlimited Father explains everything very clearly. I will give you children so much wealth that you will never become unhappy. Therefore, you children should make your hearts merciful and show everyone this path to happiness. Nowadays, everyone continues to cause sorrow. A teacher , however, would never show a path to sorrow; he simply teaches. Study is the source of income. It is by studying that you become worthy of earning a livelihood. Although people receive an inheritance from their mother and father, of what use is it? The more wealth people have, the more sin they commit. Previously, when people went on pilgrimages, they had great humility, but now some even take alcohol with them and drink it secretly. Baba has seen this. Some can’t do without alcohol; don’t even ask! Some soldiers drink a lot of alcohol before they go to fight a battle. Those soldiers don’t worry about being killed. They think that the soul will leave one body and take another. You children now receive the knowledge that you have to renounce those dirty bodies, whereas they don’t have this knowledge. However, they have formed the habit of killing and being killed. We want to go to Baba with our own efforts while sitting here. This is an old skin. In the cold weather a snake’s skin becomes dry and so it sheds its old skin. While playing your parts your skins have become old and very dirty. You now have to renounce them. You have to return to Baba. Baba has shown you methods to do this: Manmanabhav! Remember Me, that’s all, and you will shed your bodies while sitting. This also happens to the sannyasis. They shed their bodies while just sitting. They think that the soul has to merge into the brahm element and so they sit and have yoga with the brahm element. However, they cannot go there. Similarly, people go and sacrifice themselves at Kashi. They are just committing suicide. Baba has also seen how sannyasis renounce their bodies while sitting in yoga, but that is hatha yoga renunciation. The Father explains how you take 84 births. He gives you so much knowledge, but scarcely any follow shrimat. By coming into body consciousness, some even start giving their own directions to the Father. The Father explains: Become soul conscious! I am a soul. Baba, You are the Ocean of Knowledge. Baba, I will now only follow Your instructions; that’s all! Great caution is needed at every step. Mistakes continue to be made, but you still have to make effort. Continue to remember the Father wherever you go. There is a great burden of sins on your heads. You also have to settle the suffering of karma. This suffering of karma will not leave you until the end. By following shrimat, you have to become those with pure intellects. Dharamraj is also with Him, and so He becomes responsible. Why do you carry burdens yourselves when the Father is sitting here? The Purifier Father has to come into the gathering of the impure ones. This is not a new thing. This part has been played innumerable times before and will continue to be played. This is called a wonde r. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, parlokik BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become merciful just like the Father and liberate everyone from sorrow. Show them the path to happiness.
  2. Do not perform any destructive (wrong) act. Create your reward for 21 births on the basis of shrimat. Remain very cautious at every step you take.
Blessing: May you consider anyone who defames you to be your friend and give him respect and become a master creator like Father Brahma.
Father Brahma considered himself to be a world server and gave respect to each and every one and always saluted each one. Similarly, he never thought that he will only give respect to someone when that one gives him respect. He considered someone who defamed him to be his friend and gave that one respect; so follow the father in the same way. Do not just consider those who respect you to belong to you, but even consider those who insult you to belong to you and give them respect because the whole world is your family. You Brahmins are the trunk for all souls and so consider yourselves to be master creators and give respect to everyone and you will become deities.
Slogan: Those who bid farewell to Maya for all time become worthy of receiving congratulations from the Father.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 November 2018

To Read Murli 25 November 2018 :- Click Here
26-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देह-अभिमान में आने से ही माया की चमाट लगती है, देही-अभिमानी रहो तो बाप की हर श्रीमत का पालन कर सकेंगे”
प्रश्नः- बाप के पास दो प्रकार के पुरुषार्थी बच्चे हैं, वह कौन से?
उत्तर:- एक बच्चे हैं जो बाप से वर्सा लेने का पूरा-पूरा पुरुषार्थ करते हैं, हर क़दम पर बाप की राय लेते हैं। दूसरे फिर ऐसे भी बच्चे हैं जो बाप को फ़ारकती देने का पुरुषार्थ करते हैं। कोई हैं जो दु:ख से छूटने के लिए बाप को बहुत-बहुत याद करते हैं, कोई फिर दु:ख में फँसना चाहते हैं, यह भी वन्डर है ना।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा……..

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत तो बहुत बार सुना है। नये बच्चे फिर नयेसिर सुनते होंगे जबकि बाप आते हैं तो आकर अपना परिचय देते हैं। बच्चों को परिचय मिला हुआ है। जानते हैं अभी हम बेहद के मात-पिता की सन्तान बने हैं। जरूर मनुष्य सृष्टि का रचयिता मात-पिता होगा। परन्तु माया ने मनुष्यों की बुद्धि बिल्कुल डेड कर दी है। इतनी साधारण बात बुद्धि में नहीं बैठती। कहते तो सभी हैं कि हमको भगवान् ने पैदा किया है। तो जरूर मात-पिता होंगे! भक्ति मार्ग में याद भी करते हैं। हर धर्म वाले गॉड फादर को जरूर याद करते हैं। भक्त खुद तो भगवान् हो नहीं सकते। भक्त भगवान् की बन्दगी (साधना) करते हैं। गॉड फादर तो जरूर सबका एक ही होगा अर्थात् सभी आत्माओं का फादर एक है। सभी जिस्मों का फादर एक हो नहीं सकता। वह तो अनेक फादर हैं। वह जिस्मानी फादर होते हुए भी ‘हे ईश्वर’ कहकर याद करते हैं। बाप बैठ समझाते हैं – मनुष्य बेसमझ हैं जो बाप का परिचय ही भूल जाते हैं। तुम जानते हो स्वर्ग का रचयिता जरूर एक ही बाप है। अभी कलियुग है। जरूर कलियुग का विनाश होगा। ‘प्राय:लोप’ अक्षर तो हर बात में आता है। बच्चे जानते हैं – सतयुग अभी प्राय:लोप है। अच्छा, फिर प्रश्न उठता है सतयुग में उन्हों को यह पता होगा कि यह सतयुग प्राय:लोप हो जायेगा फिर त्रेता होगा? नहीं, वहाँ तो इस नॉलेज की दरकार ही नहीं। यह बातें किसकी भी बुद्धि में नहीं हैं – सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है, हमारा पारलौकिक बाप कौन है? यह तुम बच्चे ही जानते हो। मनुष्य गाते हैं तुम मात-पिता हम बालक तेरे…….. परन्तु जानते नहीं। तो कहना भी न कहने के बराबर हो जाता है। बाप को भूल गये हैं इसलिए आरफन बन पड़े हैं। बाप हर बात समझाते हैं। श्रीमत पर क़दम-क़दम चलो। नहीं तो कोई समय माया बड़ा धोखा देगी। माया है ही धोखेबाज़। माया से लिबरेट करना – यह बाप का ही काम है। रावण तो है ही दु:ख देने वाला। बाप है सुख देने वाला। मनुष्य इन बातों को समझ नहीं सकते। वह तो समझते हैं दु:ख सुख भगवान् ही देते हैं। बाप समझाते हैं – मनुष्य दु:खी बनने के लिए शादियों में कितना खर्चा करते हैं! जो पवित्र पौधे हैं उनको अपवित्र बनाने का पुरुषार्थ किया जाता है। यह भी तुम समझ सकते हो, दुनिया नहीं समझती। यह विषय सागर में डूबने लिए कितनी सेरीमनी करते हैं। उन्हों को यह पता नहीं है कि सतयुग में यह विष (विकार) होता नहीं। वह है ही क्षीरसागर। इसको विषय सागर कहा जाता है। वह है सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। भल त्रेता में दो कला कम हो जाती हैं, तो भी उनको निर्विकारी दुनिया कहा जाता है। वहाँ विकार हो नहीं सकते क्योंकि रावण का राज्य द्वापर से ही शुरू होता है। आधा-आधा है ना। ज्ञान सागर और अज्ञान सागर। अज्ञान का भी सागर है ना।

मनुष्य कितने अज्ञानी हैं। बाप को भी नहीं जानते। सिर्फ कहते रहते हैं कि यह करने से भगवान मिलेगा। मिलता कुछ भी नहीं। माथा मारते-मारते दु:खी, निधनके बन जाते हैं तब ही फिर मैं धनी आता हूँ। धनी बिगर माया अजगर ने सबको खा लिया है। बाप समझाते हैं माया बड़ी दुश्तर है। बहुतों को धोखा मिलता है। कोई को काम की चमाट, कोई को मोह की चमाट लग जाती है। देह-अभिमान में आने से ही चमाट लगती है। मेहनत है ही देही-अभिमानी बनने में इसलिए बाप घड़ी-घड़ी कहते हैं सावधान, मनमनाभव। बाप को याद नहीं करेंगे तो माया थप्पड़ लगा देगी इसलिए निरन्तर याद करने का अभ्यास करो। नहीं तो माया उल्टा कर्तव्य करा देगी। रांग-राइट की बुद्धि तो मिली ही है। कहाँ भी मूंझो तो बाप से पूछो। तार में, चिट्ठी में अथवा फोन पर पूछ सकते हो। फोन सवेरे-सवेरे झट मिल सकता है क्योंकि उस समय सिवाए तुम्हारे बाकी सब सोये रहते हैं। तो फोन पर तुम पूछ सकते हो। दिन-प्रतिदिन फोन आदि की आवाज भी सुधारते रहते हैं। परन्तु गवर्मेन्ट है गरीब, तो खर्चा भी ऐसे ही करती है। इस समय तो सब जड़जड़ीभूत अवस्था वाले तमोप्रधान हैं फिर भी ख़ास भारतवासियों को रजो-तमोगुणी क्यों कहा जाता है? क्योंकि यही सबसे ज्यादा सतोप्रधान थे। दूसरे धर्म वालों ने न तो इतना सुख देखा है, न दु:ख देखना है। वह अभी सुखी हैं तब तो इतना अनाज आदि भेजते रहते हैं। उन्हों की बुद्धि रजोप्रधान है। विनाश के लिए कितनी इन्वेन्शन करते हैं। परन्तु उन्हों को यह पता नहीं पड़ता है इसलिए उन्हों को बहुत चित्र आदि भेजने पड़े, तो उन्हों को भी पता पड़ेगा, आखरीन समझेंगे यह चीज़ तो बड़ी अच्छी है। इन पर लिखा हुआ है गॉड फादरली गिफ्ट। जब आफत का समय होगा तो आवाज़ निकलेगा फिर समझेंगे बरोबर यह हमको मिला था। इन चित्रों से बहुत काम निकलेगा। बाप को विचारे जानते ही नहीं। सुखदाता तो वह एक ही बाप है। सब उनको याद करते हैं। चित्रों से अच्छी रीति समझ सकते हैं। अभी देखो 3 पैर पृथ्वी के नहीं मिलते हैं और फिर तुम सारे विश्व के मालिक बन जाते हो! यह चित्र विलायत में भी बहुत सर्विस करेंगे। बच्चों को इन चित्रों का इतना कदर नहीं है। खर्चा तो होना ही है। राजधानी स्थापन करने में उस गवर्मेन्ट का करोड़ों रुपया खर्च हुआ होगा और लाखों मरे। यहाँ तो मरने की बात ही नहीं। श्रीमत पर पूरा पुरुषार्थ करना है, तब ही श्रेष्ठ पद पा सकेंगे। नहीं तो पीछे सजा खाने समय बहुत पछतायेंगे। यह बाप भी है तो धर्मराज भी है। पतित दुनिया में आकर बच्चों को 21 जन्मों के लिए स्वराज्य देता हूँ। अगर फिर कोई विनाशकारी कर्तव्य किया तो पूरी सजा खायेंगे। ऐसे नहीं, जो होगा वह देखा जायेगा, दूसरे जन्म का कौन बैठ विचार करे। मनुष्य दान पुण्य भी दूसरे जन्म के लिए करते हैं। तुम अभी जो करते हो वह 21 जन्मों के लिए। वह जो कुछ करते हैं, अल्पकाल के लिए। एवज़ा फिर भी नर्क में ही मिलेगा। तुमको तो स्वर्ग में एवज़ा मिलना है। रात-दिन का फ़र्क है। तुम स्वर्ग में 21 जन्मों के लिए प्रालब्ध पाते हो। हर बात में श्रीमत पर चलने से बेड़ा पार है। बाप कहते हैं तुम बच्चों को नयनों पर बिठाकर बड़े आराम से ले जाता हूँ। तुमने बहुत दु:ख उठाये हैं। अब कहता हूँ तुम मुझे याद करो। तुम नंगे आये थे, यह पार्ट बजाया, अब फिर वापिस जाना है। यह तुम्हारा अविनाशी पार्ट है। इन बातों को कोई भी साइन्स घमन्डी समझ नहीं सकते। आत्मा इतना छोटा स्टार है, उनमें अविनाशी पार्ट सदैव के लिए भरा हुआ है, यह कभी समाप्त नहीं होता। बाप भी कहते हैं मैं भी तो क्रियेटर और एक्टर हूँ। मैं कल्प-कल्प आता हूँ पार्ट बजाने। कहते हैं परमात्मा मन-बुद्धि सहित चैतन्य, नॉलेजफुल है, लेकिन क्या चीज़ है, यह कोई नहीं जानते। जैसे तुम आत्मा स्टार मिसल हो, मैं भी स्टार हूँ। भक्ति मार्ग में भी मुझे याद करते हैं क्योंकि दु:खी हैं, मैं आकर तुम बच्चों को अपने साथ ले जाता हूँ। मैं भी पण्डा हूँ। मैं परमात्मा तुम आत्माओं को ले जाता हूँ। आत्मा मच्छर से भी छोटी है। यह समझ भी तुम बच्चों को अभी मिलती है। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। बाप कहते हैं तुमको विश्व का मालिक बनाता हूँ, बाकी दिव्य दृष्टि की चाबी मैं अपने पास ही रखता हूँ। यह किसको नहीं देता हूँ। यह भक्ति मार्ग में मेरे ही काम में आती है। बाप कहते हैं मैं तुमको पावन, पूज्य बनाता हूँ, माया पतित, पुजारी बनाती है। समझाते तो बहुत हैं परन्तु कोई बुद्धिवान समझे।

यह टेप मशीन बहुत अच्छी चीज़ है। बच्चों को मुरली तो जरूर सुननी है। बहुत सिकीलधे बच्चे हैं। बाबा को बांधेली गोपिकाओं पर बहुत तरस पड़ता है। बाबा की मुरली सुनकर बहुत खुश होंगे। बच्चों की खुशी के लिए क्या नहीं करना चाहिए। बाबा को तो रात-दिन गांव की गोपिकाओं का ख्याल रहता है। नींद भी फिट जाती है, क्या युक्ति रचें, कैसे बच्चे दु:ख से छूटें। कोई तो फिर दु:ख में फँसने लिए भी तैयारी करते हैं, कोई तो पुरुषार्थ करते हैं वर्सा लेने का, तो कोई फिर फारकती देने का भी पुरुषार्थ करते हैं। दुनिया तो आजकल बहुत खराब है। कोई बच्चे तो बाप को मारने में भी देरी नहीं करते हैं। बेहद का बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं। मैं बच्चों को इतना धन दूँगा जो यह कभी दु:खी नहीं होंगे। तो बच्चों को भी इतना रहमदिल बनना चाहिए कि सबको सुख का रास्ता बतायें। आजकल तो सभी दु:ख देते हैं, बाकी टीचर कभी दु:ख का रास्ता नहीं बतायेंगे। वह पढ़ाते हैं। पढ़ाई सोर्स आफ इनकम है। पढ़ाई से शरीर निर्वाह करने लायक बनते हैं, माँ-बाप से भल वर्सा मिलता है परन्तु वह क्या काम का? जितना जास्ती धन, उतना पाप बहुत करते हैं। नहीं तो तीर्थ यात्रा करने बड़ी नम्रता से जाते हैं। परन्तु कोई-कोई तो तीर्थ यात्रा पर भी शराब ले जाते हैं, फिर छिपाकर पीते हैं। बाबा का देखा हुआ है – शराब बिगर रह नहीं सकते। बात मत पूछो। लड़ाई में जाने वाले भी शराब खूब पीते हैं। लड़ाई वालों को अपनी जान का ख्याल नहीं रहता है। समझते हैं आत्मा एक शरीर छोड़ जाकर दूसरा शरीर लेगी। तुम बच्चों को भी अभी ज्ञान मिलता है। यह छी-छी शरीर छोड़ना है। उन्हों को कोई ज्ञान नहीं। परन्तु आदत पड़ी हुई है – मरना और मारना। यहाँ तो हम आपेही बैठे-बैठे बाबा के पास जाना चाहते हैं। यह पुरानी खाल है। जैसे सर्प भी पुरानी खाल छोड़ देते हैं। ठण्डी में सूख जाती तो उतार देते हैं। तुम्हारी यह तो बहुत छी-छी पुरानी खाल है, पार्ट बजाते अब इनको छोड़ना है, बाबा के पास जाना है। बाबा ने युक्ति तो बताई है – मनमनाभव। मुझे याद करो बस, ऐसे बैठे-बैठे शरीर छोड़ देंगे। सन्यासियों का भी ऐसे होता है – बैठे-बैठे शरीर छोड़ देते हैं क्योंकि वह समझते हैं आत्मा को ब्रह्म में लीन होना है, तो योग लगाकर बैठते हैं। परन्तु जा नहीं सकते। जैसे काशी कलवट खाते हैं, वह जीवघात हो जाता है। यह सन्यासी भी बैठे-बैठे ऐसे जाते हैं, बाबा का देखा हुआ है, वह हुआ हठयोग सन्यास।

बाप समझाते हैं तुमको 84 जन्म कैसे मिलते हैं? तुमको कितनी नॉलेज देते हैं, कोई बिरला ही श्रीमत पर चलता है। देह-अभिमान आने से फिर बाप को भी अपनी मत देने लग पड़ते हैं। बाप समझाते हैं देही-अभिमानी बनो। मैं आत्मा हूँ, बाबा आप ज्ञान के सागर हो। बस, बाबा आपकी राय पर ही चलूँगा। क़दम-क़दम पर बड़ी सावधानी चाहिए। भूलें तो होती रहती हैं फिर पुरुषार्थ करना पड़ता है। कहाँ भी जाओ बाप को याद करते रहो। विकर्मों का बोझ सिर पर बहुत है। कर्मभोग भी तो चुक्तू करना होता है ना। पिछाड़ी तक यह कर्मभोग छोड़ेगा नहीं। श्रीमत पर चलने से ही पारसबुद्धि बनना है। साथ में धर्मराज भी है। तो रेसपान्सिबुल वह हो गया। बाप बैठा है, तुम क्यों अपने पर बोझा रखते हो। पतित-पावन बाप को पतितों की महफिल में आना ही है। यह तो नई बात नहीं, अनेक बार पार्ट बजाया है, फिर बजाते रहेंगे। इसको ही वन्डर कहा जाता है। अच्छा!

पारलौकिक बापदादा का सिकीलधे बच्चों प्रति याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप समान सबको दु:खों से लिबरेट करने का रहम करना है। सुख का रास्ता बताना है।

2) कोई भी विनाशकारी (उल्टा) कर्तव्य नहीं करना है। श्रीमत पर 21 जन्मों के लिए अपनी प्रालब्ध बनानी है। क़दम-क़दम पर सावधानी से चलना है।

वरदान:- निंदक को भी अपना मित्र समझ सम्मान देने वाले ब्रह्मा बाप समान मास्टर रचयिता भव
जैसे ब्रह्मा बाप ने स्वयं को विश्व सेवाधारी समझ हर एक को सम्मान दिया, सदा मालेकम् सलाम किया। ऐसे कभी नहीं सोचा कि कोई सम्मान देवे तो मैं दूं। निंदक को भी अपना मित्र समझकर सम्मान दिया, ऐसे फालो फादर करो। सिर्फ सम्मान देने वाले को अपना नहीं समझो लेकिन गाली देने वाले को भी अपना समझ सम्मान दो क्योंकि सारी दुनिया ही आपका परिवार है। सर्व आत्माओं के तना आप ब्राह्मण हो इसलिए स्वयं को मास्टर रचयिता समझ सबको सम्मान दो तब देवता बनेंगे।
स्लोगन:- माया को सदा के लिए विदाई देने वाले ही बाप की बधाईयों के पात्र बनते हैं।

TODAY MURLI 26 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 November 2017 :- Click Here

26/11/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
30/03/83

The way to become an easy yogi is to take the seat of the authority of experience (BapDada meeting k umaris).

Today, the Father, the Creator of the unlimited drama, is seeing a special scene of Madhuban in the divine scenes of the wonderful confluence age of the drama. On the stage of Madhuban at every moment so many entertaining, enjoyable parts exist; even whilst sitting far away, BapDada can see these as if they are close. Who are the hero actors on the stage at this time? The doubly-pure souls, the elevated souls, those who are pure in their worldly lives and also souls who are pure. So BapDada is extremely pleased to see the doubly-pure special souls acting hero part s on the stage of Madhuban. The plans you make, the thoughts you have, the upheavals you have – BapDada was seeing both the games of your courage and your upheavals. You maintain courage very well. You also have a lot of zeal and enthusiasm. However, along with that, you have a few mixed thoughts about whether to say “yes” or “no”. BapDada saw an amusing play. You have the very elevated desire that you definitely want to demonstrate something, but the desire of the enthusiasm in your minds is not visible on your faces in the form of a sparkle. Baba saw only a percentage of the sparkle of pure thoughts sparkling on your faces. Why was that? What is the reason for it? You have the pure thought, but there is only a certain percentage of power in that thought. There is the seed of the thought, but the powerful seed that gives the practical, visible fruit, which would reveal the sparkle in a practical way, is still lacking.

The way to bring about the maximum splendour and sparkle of zeal and enthusiasm on your face is to be full of the experience of every virtue, power and point of knowledge. Experience is the greatest authority of all. The sparkle of authority is automatically visible in one’s face and behaviour. BapDada smiled seeing the hero actors of the present time. You are dancing in happiness. However, when some dance, they make the whole atmosphere dance; there is that splendour visible in their act. You speak of this as “Making everyone dance by dancing yourself”. Therefore, you now have to show the sparkle of such splendour a lot more. You have heard what the basis of this is. You have become those who listen and tell others but, as well as that, you have to play the special part s of being embodiments of experience. Someone who has the authority of experience will never be deceived by any of the various royal forms of Maya. Experienced souls with authority will always experience themselves to be full and overflowing. They will never be empty of the power to decide, the power to tolerate or any other power. Just as a seed is always full, so they too will always be full of knowledge, virtues and powers. This is known as being a master almighty authority. Maya will bow down in front of such ones, not make them bow down. Everyone bows down to a special person who has a limited authority. This is because the greatness of authority automatically makes everyone bow down. So, what did Baba see in particular? That you are now being seton the seat of the authority of experience. You have taken the seat of a speaker, but you now have to take the seat of an authority of total experience. You were told that the people of the world have a physical throne, whereas all of you have the seat of authority. Remain constantly stable on this seat. You will then constantly be easy yogis, constant yogis and natural yogis.

Now, even the scenes of amrit vela are very amusing. Some get tired trying to reach their goal. Some swing in a double swing. Some sit down as hatha yogis. Some simply sit as a discipline. Some are even absorbed in that love. Now, pay special attention to becoming the embodiment of the meaning of the word “remembrance”. Let the sparkle of a yogi soul be visible on your face. Whatever is in your mind definitely sparkles on your forehead. Don’t think that you have a lot on your mind. The mirror of the power of the mind is your face. No matter how much you say that you are dancing in happiness, no one who sees your face looking unhappy would believe you. You know the difference between the face of someone who looks totally lost and someone who has attained everything, do you not? Let the sparkle of the happiness of having attained everything be visible on your face. Do not let your face look dry, but let it be a happy face. BapDada also sings the praise of the children who are hero actors. At least you have stepped away from the fashionable world with your mind and body and made the Father your Support. Many, many congratulations for this determination. Constantly continue to live with this thought. This is a blessing that BapDada is giving you. Out of happiness of this elevated fortune, you offer flowers of love. Together with that, BapDada is showing you the way to fulfil the pure thought of every child of becoming an authority who is full and equal to the Father. He congratulates you and also shows you the way. All of you have celebrated the ceremony.

All of you have celebrated the ceremony and are going back with the aim of becoming full, are you not? The ones from the beginning are the same old ones, but you are all becoming equal to God. Everyone’s photograph has been taken, has it not? The photograph has become a memorial here. Now Didi and Dadi will also see who remains stable on the seat of authority and to what extent they do so. It is not a big thing to live at a centre, but to play your part as a special actor is a wonder. Everyone would then say: Every soul in this group is full and equal to the Father. Don’t become empty! Something that is empty will shake. Become sensible, that is, become full! This is not just for the kumaris, but for everyone. Everyone has to become full. All of you who have come must take back with you the special gift of Madhuban, which is the seat of the authority of total experience. Don’t allow yourself to be separated from this gift. Have all of you received this gift or is it just the kumaris who have received it? Even the residents of Madhuban have received this gift today. No matter where you are sitting, you are personally in front of the Father.

To all the lotus flower children who have come and to the residents of Madhuban, to all the children of this land and abroad, to the elevated hero actors on the stage at present, to all of you, along with the blessing of becoming experienced, love, remembrance and namaste from the Father, the Bestower of Blessings.

The kumaris had a special thought. Have you become special souls by having these special thoughts? What special thoughts did you have? That you will constantly be a mahavir and remain victorious. This was the thought you had, was it not? Will you be victorious and a mahavir constantly, or only for a short time? After this, no type of Maya will ever come, will it? It has finished for half the cycle. There won’t be any conflict of thoughts, will there? Storms of waste thoughts will not come, will they? If you are repeatedly defeated by attacks of Maya, you become weak, just as the bones of someone who repeatedly falls down become weak. He then has to have plaster put on. So, never become weak and be defeated. To be a mahavir means to have a thought and to become an embodiment of that thought. It shouldn’t be that when you get back you say, “I’ll see about it! I’ll do it some time!” Don’t talk about doing things in the future. Remain firm in the thought that you had and the flag of victory will then keep flying. When so many of you go back to your centres with this determination there will be victory everywhere. Everything becomes easy with just a thought. Continue to water your thought. Write down your result every month. Never have weak thoughts. Finish this sanskar here before you leave! Before you leave, have the determination that you will make progress and be victorious. Achcha.

Have all of your desires been fulfilled? The desires of the kumaris have been fulfilled and the desires of mothers have also been fulfilled. This time only a few of you have come and so you have received a good chance. This time, the complaint of all the kumaris has now been removed. There are now no complaints. All of you are going back having become complete. We shall now see where the rivers flow and whether you become a pond, a big river, a small river or a well. A well is even smaller than a pond. So we shall see what you become. That result will be given, will it not? Seeing the kumaris, the feeling is that so many handshave emerged, whereas seeing the mothers, the feeling is that it is a little difficult for them to emerge. Therefore, now become a hand that is free from obstacles. It shouldn’t be that you do service but that you also take service from others as well. Don’t do that! If, as well as the service you do, there are also complaints, there won’t then be any fruit of service. This is why you have to become hands that are free from obstacles. It shouldn’t be that you become obstacles yourselves and keep coming in front of Dadi or Didi. Become a helping hand! Don’t take service for yourself. You will then remain constantly free from obstacles and make service progress without obstacles. Have such a firm thought before you leave. Achcha

BapDada meeting a group of k umaris:

All of you kumaris consider yourselves to be special souls, do you not? “Special souls” means those who are instruments for a special task. Each one of you is an instrument for a special task. Each of you kumaris is one who will uplift 21 clans. Whenever you receive an order to go anywhere, you are ready. You are such servers who are free from obstacles, are you not? Whatever service you receive at any time, you are ready. To do service means to eat instant fruit. When you receive instant fruit, then, by eating that fruit, you receive power. By eating instant fruit, the soul becomes powerful. When you receive such attainment, that that is what you should do, is it not? In the world, after working for a month, you receive your salary at the end of the month. Here, you receive instant fruit. Of course, it is accumulated for the future, but you also receive something in the present. So, for whatever service you receive double fruit, that should be done first, should it not? BapDada, Dadi and Didi sometimes give directions to many to do service. So, by doing that according to shrimat, you are no longer responsible. When you do that out of your own attachment or due to your own weakness, then that cannot be elevated. During your trial, if you remain content and also make others content, you will receive a certificate. Have the aim of moving along in harmony with others. Think, “I have to change”. Those who have the intention of changing themselves become victorious in all situations. Those who wait for others to change become deceived, and this is why it is you yourself who always has to change. You have to do this. First, put yourself first in every respect, not out of ego, but when it comes to doing something and then there will be success and only success.

BapDada m eeting a groups:

BapDada has already praised the specialities of the children. Where does BapDada always keep the children who are constant servers, like Himself? (In His eyes.) In the body, the eyes are the most subtle and, even in the eyes, the light (pupil) of the eyes is so subtle – it is just a dot. So, those who remain merged in the Father’s eyes are those who are extremely subtle, totally detached and loving to the Father. You are experiencing this, are you not? According to the drama, you have received a very good chance. Why do you say that it is good? Because to the extent that you remain busy, you will accordingly become a conqueror of Maya. You have found a good way to remain busy, have you not? Service is a means to remain busy. When any obstacle of Maya comes at any time, and at that time anyone who has to be served comes in front of you, you would put yourself right and serve them. No matter what has happened, you would get ready and go and read the murli, would you not? While reading the murli to others, you would also read it to yourself. By serving others, you will also receive help and therefore you have received a very, very elevated method. One thing is to make your own effort and the other is to receive co-operation from others. So, it has become double, has it not? You are fulfilling the responsibility of service while looking after your household and so that is also doublebenefit. This is like receiving the sovereignty from God, your Friend while moving along. Double attainment and double responsibility. But while having doubleresponsibility, by considering yourself to be double light, your mundane responsibility will not tire you because you are trustees, are you not? How can trustees get tired? If you consider it to be your household and your family, there would then be a burden. If it is not yours, then how can there be a burden? Do the Pandavas ever feel your mundane interaction and the mundane atmosphere to be a burden? Completely detached and loving; a child and a master, do you have such intoxication? The intoxication of being a master is unlimited. Unlimited intoxication will continue into the unlimited, whereas limited intoxication will only last for a limited period. Always keep this unlimited intoxication of what the Father has given you in your awareness. Keep the treasures you have been given in front of you and look at yourself to see whether you have become filled with all treasures. If not, then what treasure is lacking, and why have you not been able to imbibe it? Then check everything in that way and imbibe it. What period is this? The Father is elevated, the attainment is elevated and you yourself are elevated too. Where there is greatness, there is definitely attainment there. If there is ordinariness, then the attainment is also ordinary. Achcha.

Question: Which children is the Father very proud of?

Answer: The children who are going to earn an income. The Father is very proud of the children who earn such an income. In each second, you can accumulate an income greater than multimillions. When you place a zero in front of “1”, it becomes 10, add another zero and it becomes a 100. Similarly, remember the Father for a second and after a second has passed, a zero is added. Only at this time do you earn such a huge income and you will then continue to eat from that for many births.

Blessing: May you be free from obstacles and set your mind and intellect on the seat of experience with the practice of concentration.
The power of concentration easily makes you free from obstacles. For this, you have to set your mind and intellect on the seat of experience. The power of concentration easily gives you the experience of belonging to the one Father and none other. Through this, your stage easily becomes stable and constant. You then have an attitude of benevolence for everyone. With the practice of concentration, there is the vision of brotherhood. Such a soul cannot get upset by any weak sanskar, any soul, form of matter or any type of royal Maya.
Slogan: Only the practice of merging the expansion into its essence in a second will bring you final certificate.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 25 November 2017 :- Click Here
26/11/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
30-03-83

सहजयोगी बनने का साधन – अनुभवों की अथॉरिटी का आसन

(कुमारियों के साथ मुलाकात)

आज बेहद ड्रामा के रचयिता बाप बेहद ड्रामा के वन्डरफुल संगमयुग के दिव्य दृश्य के अन्दर मधुबन के विशेष दृश्य को देख रहे हैं। मधुबन स्टेज पर हर घड़ी कितने दिलपसन्द रमणीक पार्ट चलते हैं। जिसको बापदादा दूर बैठे भी समीप से देखते रहते हैं। इस समय स्टेज के हीरो एक्टर कौन हैं? डबल पावन आत्मायें, श्रेष्ठ आत्मायें। लौकिक जीवन से भी पवित्र और आत्मा भी पवित्र। तो डबल पावन विशेष आत्माओं का हीरो पार्ट मधुबन स्टेज पर चलता हुआ देख बापदादा भी अति हर्षित होते हैं। क्या क्या प्लैन बनाते हो, क्या क्या संकल्प करते हो, कौन सी हलचल में आते हो, यह हिम्मत और हलचल दोनों ही खेल देख रहे थे। हिम्मत भी बहुत अच्छी रखते हो। उमंग-उल्लास भी बहुत आता है लेकिन साथ-साथ थोड़ा सा हाँ वा ना का मिक्स संकल्प भी रहता है। बापदादा हँसी का खेल देख रहे थे। चाहना बहुत श्रेष्ठ है कि दिखायेंगे, करके दिखायेंगे। लेकिन मन के उमंग की चाहना वा संकल्प चेहरे पर झलक के रूप में नहीं दिखाई देता है। शुद्ध संकल्प की चमक चेहरों पर चमकती हुई दिखाई दे, वह परसेन्टेज में देखा। यह क्यों? इसका कारण? शुभ संकल्प है लेकिन संकल्प में शक्ति कुछ मात्रा में है। संकल्प रूपी बीज तो है लेकिन शक्तिशाली बीज जो प्रत्यक्ष फल अर्थात् प्रत्यक्ष रूप में रौनक दिखाई दे, वह अभी और चाहिए।

सबसे ज्यादा चेहरे पर उमंग-उल्लास की रौनक वा चमक आने का साधन है – हर गुण, हर शक्ति, हर ज्ञान की प्वाइंट के अनुभवों से सम्पन्नता। अनुभव बड़े ते बड़ी अथॉरिटी है। अथॉरिटी की झलक चेहरे पर और चलन पर स्वत: ही आती है। बापदादा वर्तमान के हीरो पार्टधारियों को देखते हुए मुस्करा रहे थे। खुशी में नाच भी रहे हैं लेकिन कोई कोई नाचते हैं तो सारे वायुमण्डल को ही नचा देते हैं। उनकी एक्ट में रौनक दिखाई देती है। जिसको आप लोग कहते हैं कि रास करते-करते मचा लिया अर्थात् सभी को नचा लिया। तो ऐसी रौनक वाली झलक अभी और दिखानी है। उसका आधार सुन लिया। सुनने सुनाने वाले तो बन ही गये हो। साथ-साथ अनुभवी मूर्त बनने का विशेष पार्ट बजाओ। अनुभव की अथॉरिटी वाला कभी भी किसी प्रकार की माया के भिन्न-भिन्न रॉयल रूपों में धोखा नहीं खायेंगे। अनुभवी अथॉरिटी वाली आत्मा सदा अपने को भरपूर आत्मा अनुभव करेगी। निर्णय शक्ति, सहन शक्ति वा किसी भी शक्ति से खाली नहीं होंगे। जैसे बीज भरपूर होता है वैसे ज्ञान, गुण, शक्तियाँ सबसे भरपूर। इसको कहा जाता है मास्टर आलमाइटी अथॉरिटी। ऐसे के आगे माया झुकेगी न कि झुकायेगी। जैसे हद की अथॉरिटी वाले विशेष व्यक्तियों के आगे सब झुकते हैं ना क्योंकि अथॉरिटी की महानता सबको स्वत: ही झुकाती है। तो विशेष क्या देखा? अनुभव की अथॉरिटी की सीट पर अभी सेट हो रहे हैं। स्पीकर की सीट ले ली है लेकिन ”सर्व अनुभवों की अथॉरिटी का आसन” अभी यह लेना है। सुनाया था ना, दुनिया वालों का है सिंहासन और आप सबका है अथॉरिटी का आसन। इसी आसन पर सदा स्थित रहो। तो सहज योगी, सदा के योगी, स्वत: योगी हैं ही।

अभी तो अमृतवेले का दृश्य भी हँसने हँसाने वाला है। कोई निशाना लगाते-लगाते थक जाते हैं। कोई डबल झूलों में झूलते हैं। कोई हठयोगी बन करके बैठते हैं। कोई तो सिर्फ नेमीनाथ हो बैठते हैं। कोई-कोई लगन में मगन भी होते हैं। याद शब्द के अर्थ स्वरूप बनने में अभी विशेष अटेन्शन दो। योगी आत्मा की झलक चेहरे से अनुभव हो। जो मन में होता है वह मस्तक पर झलक जरूर रहती है। ऐसे नहीं समझना मन में तो हमारा बहुत है। मन की शक्ति का दर्पण चेहरा अर्थात् मुखड़ा है। कितना भी आप कहो कि हम खुशी में नाचते हैं लेकिन चेहरा उदास देख कोई नहीं मानेगा। खोया-खोया हुआ चेहरा और पाया हुआ चेहरा इसका अन्तर तो जानते हो ना! ”पा लिया” इसी खुशी की चमक चेहरे से दिखाई दे। खुश्क चेहरा नहीं दिखाई दे, खुशी का चेहरा दिखाई दे। बापदादा हीरो पार्टधारी बच्चों की महिमा भी गाते हैं। फिर भी आजकल की फैशनेबल दुनिया से, मन से, तन से किनारा कर बाप को सहारा तो बना दिया। इस दृढ़ संकल्प की बहुत-बहुत मुबारक। सदा इसी संकल्प में जीते रहो। बापदादा यह वरदान देते हैं। इसी श्रेष्ठ भाग्य की खुशी में, स्नेह के पुष्प भी चढ़ाते हैं। साथ-साथ हर बच्चा सम्पन्न बाप समान अथॉरिटी हो, इस शुद्ध संकल्प की विधि बताते हैं। बधाई भी देते हैं और विधि भी बताते हैं।

सभी ने समारोह तो मना लिया ना! सभी समारोह मनाते सम्पन्न बनने का लक्ष्य लेते हुए जा रहे हो ना! पहले वाले पुराने तो पुराने रहे लेकिन आप सुभान अल्ला हो जाओ। सबका फोटो तो निकला है ना। फोटो तो यादगार हो गया ना यहाँ। अब दीदी दादी भी देखेंगी कि अथॉरिटी के आसन पर कौन कौन कितने स्थित हुए! सेन्टर पर रहना भी कोई बड़ी बात नहीं लेकिन विशेष पार्टधारी बन पार्ट बजाना, यह है कमाल। जो सभी कहें कि इस ग्रुप की हर आत्मा बाप समान सम्पन्न स्वरूप है। खाली नहीं बनो। खाली चीज में हलचल होती है। सयाने बनो अर्थात् सम्पन्न बनो। सिर्फ कुमारियों के लिए नहीं है लेकिन सभी के लिए है। सम्पन्न तो सभी को बनना है ना। जो भी सभी आये हैं मधुबन की विशेष सौगात ”सर्व अनुभवों की अथॉरिटी का आसन” यह साथ में ले जाना। इस सौगात को कभी भी अपने से अलग नहीं करना। सबको सौगात है ना कि सिर्फ कुमारियों को है? मधुबन निवासियों को भी आज की यह सौगात है। चाहे कहाँ भी बैठे हैं लेकिन बाप के सम्मुख हैं।

आने वाले सर्व कमल पुष्प समान बच्चों को, मधुबन निवासियों को, चारों ओर के देश विदेश के बच्चों को और वर्तमान स्टेज के हीरो पार्टधारी श्रेष्ठ आत्माओं को, सभी को ‘अनुभवी भव’ के वरदान के साथ वरदाता बाप की याद और प्यार और नमस्ते।

कुमारियों ने विशेष संकल्प किया! विशेष संकल्प द्वारा विशेष आत्मायें बनीं? विशेष संकल्प क्या लिया? सदा महावीरनी बन विजयी रहेंगी, यही संकल्प लिया है ना! सदा विजयी, सदा महावीरनी या थोड़े समय के लिए लिया? इसके बाद कभी भी किसी प्रकार की माया नहीं आयेगी ना! आधाकल्प के लिए खत्म हुई, कभी संकल्पों का टक्कर तो नहीं होगा! कभी व्यर्थ संकल्प का तूफान तो नहीं आयेगा? अगर बार बार माया के वार से हार खाते तो कमजोर हो जाते हैं। जैसे कोई बार बार धक्का खाता तो उसकी हड्डी कमज़ोर हो जाती है ना। फिर प्लास्टर लगाना पड़ता इसलिए कभी भी कमज़ोर बन हार नहीं खाना। तो महावीरनी अर्थात् संकल्प किया और स्वरूप बन गये। ऐसे नहीं वहाँ जाकर देखेंगे, करेंगे…यह गें गें वाली नहीं। जो संकल्प लिया है उसमें दृढ़ रहना तो विजय का झण्डा लहरा जायेगा। इतने दृढ़ संकल्प वाली अपने अपने स्थान पर जायेंगी तो जय-जयकार हो जायेगी। संकल्प से सब सहज हो जाता है। जो संकल्प किया है उसे पानी देते रहना। हर मास अपनी रिज़ल्ट लिखना। कभी भी कमज़ोर संकल्प नहीं करना। यह संस्कार यहाँ खत्म करके जाना। आगे बढ़ेंगी, विजयी बनेंगी – यह दृढ़ संकल्प करके जाना। अच्छा।

सभी की आशायें पूरी हुई? कुमारियों की आशायें पूरी हुई तो माताओं की तो हुई पड़ी हैं। अभी आप लोग थोड़े आये हो इसलिए अच्छा चांस मिल गया। इस बारी सभी कुमारियों का उल्हना तो पूरा हुआ। कोई कम्पलेन्ट नहीं, सभी कम्पलीट होकर जा रही हो ना! अभी देखेंगे, नदियाँ कहाँ बहती हैं। तालाब बनती हैं, बड़ी नदी बनती हैं, छोटी बनती हैं या कुआं बनता है। तालाब से भी छोटा कुआं होता है ना। तो देखेंगे क्या बनती हैं! वह रिजल्ट आयेगी ना! कुमारियों को देखकर आता है इतने हैन्डस निकलें, माताओं को देखकर कहेंगे कि निकलना थोड़ा मुश्किल है। तो अब निर्विघ्न हैन्ड बनना। ऐसे नहीं सेवा भी करो और सेवा के साथ-साथ मेहनत भी लेते रहो, यह नहीं करना। सेवा के साथ अगर कम्पलेन्ट निकलती रहे तो सेवा का फल नहीं निकलता इसलिए निर्विघ्न हैन्ड बनना। ऐसे नहीं आप ही विघ्न रूप बन, दादी दीदी के सामने आते रहो, मददगार हैन्ड बनना। खुद सेवा नहीं लेना। तो सदा निर्विघ्न रहेंगे और सेवा को निर्विघ्न बढ़ायेंगे – ऐसा पक्का संकल्प करके जाना। अच्छा।

कुमारियों के ग्रुप से:-

आप सब कुमारियाँ अपने को विशेष आत्मायें समझती हो ना? विशेष आत्मायें अर्थात् विशेष कार्य के निमित्त। एक-एक विशेष कार्य के निमित्त बनी हुई हो। एक-एक कुमारी 21 कुल तारने वाली हैं। जब भी जहाँ भी आर्डर मिले तो हाजिर। ऐसे निर्विघ्न सेवाधारी हो ना! जिस समय जो भी सेवा मिले, हाजिर। सेवा करना अर्थात् प्रत्यक्ष फल खाना। जब प्रत्यक्षफल मिल जाता है, तो फल खाने से शक्ति आती है। प्रत्यक्षफल खाने से आत्मा शक्तिशाली बन जाती है। जब ऐसी प्राप्ति हो तो करनी चाहिए ना। लौकिक में तो एक मास नौकरी करेंगे फिर पीछे तनख्वाह मिलेगी। यहाँ तो प्रत्यक्षफल मिलता है। भविष्य तो जमा ही होता है लेकिन वर्तमान में भी मिलता है। तो ऐसे डबल फल मिलने वाला कार्य तो पहले करना चाहिए ना! कईयों को बापदादा, दादी-दीदी डायरेक्शन देते हैं सर्विस करो, श्रीमत पर करने से जिम्मेवार खुद नहीं रहते। अपने मन के लगाव से, कमजोरी से करते तो श्रेष्ठ नहीं बन सकते। ट्रायल में स्वयं भी सन्तुष्ट रहें और दूसरों को भी करें तो सर्टिफिकेट मिल जाता है। अपने को मिलाकर चलने का लक्ष्य हो। मुझे बदलना है। स्वयं को बदलने की भावना वाला सभी बातों में विजयी हो जाता है। दूसरा बदले यह देखने वाला धोखा खा लेते हैं इसलिए सदैव मुझे बदलना है, मुझे करना है, पहले हर बात में स्वयं को आगे करना है, अभिमान में नहीं – करने में आगे करो तो सफलता ही सफलता है।

पार्टियों से मुलाकात:- बापदादा ने बच्चों की विशेषता के गुण तो सुना ही दिये। जो बापदादा के समान सेवाधारी हैं उन बच्चों को बापदादा सदा कहाँ रखते हैं? (नयनों में) नयन सारे शरीर में सूक्ष्म हैं और नयनों में भी जो नूर है वह कितना सूक्ष्म है, बिन्दी है ना। तो बाप के नयनों में समाने वाले अर्थात् अति सूक्ष्म। अति न्यारे और बाप के प्यारे। ऐसे ही अनुभव करते हो ना। बहुत अच्छा चांस ड्रामा अनुसार मिला है। क्यों अच्छा कहते हैं? क्योंकि जितना बिजी रहेंगे उतना ही मायाजीत हो जायेंगे। बिजी रहने का अच्छा साधन मिला है ना। सेवा बिजी रहने का साधन है। चाहे किसी भी समय माया का विघ्न आया हुआ है लेकिन जब सेवा वाले सामने आयेंगे तो अपने को ठीक करके उनकी सेवा करेंगे। क्या भी होगा, तैयार होकर के ही मुरली सुनायेंगे ना! और सुनाते सुनाते स्वयं को भी सुना लेंगे। दूसरों की सेवा करने से स्वयं को भी मदद मिल जाती है इसलिए बहुत-बहुत श्रेष्ठ साधन मिला हुआ है। एक होता है अपना पुरुषार्थ करना, एक होता है दूसरे के सहयोग का साधन। तो डबल हो गया ना। प्रवृत्ति सम्भालते सेवा की जिम्मेवारी सम्भाल रहे हो, यह भी डबल लाभ हो गया। यह तो रास्ते चलते खुदा दोस्त द्वारा बादशाही मिल गई। डबल प्राप्ति, डबल जिम्मेवारी, लेकिन डबल जिम्मेवारी होते भी डबल लाइट समझने से कभी लौकिक जिम्मेवारी थकायेगी नहीं क्योंकि ट्रस्टी हो ना। ट्रस्टी को क्या थकावट। अपनी गृहस्थी, अपनी प्रवृत्ति समझेंगे तो बोझ है। अपना है ही नहीं तो बोझ किस बात का। पाण्डवों को कभी लौकिक व्यवहार, लौकिक वायुमण्डल में बोझ तो नहीं लगता? बिल्कुल न्यारे और प्यारे। बालक सो मालिक, ऐसा नशा रहता है? मालिकपन का नशा बेहद का है। बेहद का नशा बेहद चलेगा और हद का नशा हद तक चलेगा। सदा इस बेहद के नशे को स्मृति में लाओ कि क्या-क्या बाप ने दिया है, उस दिये हुए खजाने को सामने लाते हुए फिर अपने को देखो कि सर्व खजानों से सम्पन्न हुए हैं? अगर नहीं तो कौन सा खजाना और क्यों नहीं धारण हुआ है, फिर उसी प्रमाण से देखो और धारण करो। समय कौन सा है? बाप भी श्रेष्ठ, प्राप्ति भी श्रेष्ठ और स्वयं भी। जहाँ श्रेष्ठता है वहाँ जरूर प्राप्ति है ही। साधारणता है तो प्राप्ति भी साधारण। अच्छा !

प्रश्न:- बाप को किन बच्चों पर बहुत नाज़ रहता है?

उत्तर:- जो बच्चे कमाई करने वाले होते, ऐसे कमाई करने वाले बच्चों पर बाप को बहुत नाज़ रहता, एक-एक सेकेण्ड में पद्मों से भी ज्यादा कमाई जमा कर सकते हो। जैसे एक के आगे एक बिन्दी लगाओ तो 10 हो जाता, फिर एक बिन्दी लगाओ तो 100 हो जाता, ऐसे एक सेकण्ड बाप को याद किया, सेकण्ड बीता और बिन्दी लग गई, इतनी बड़ी कमाई अभी ही जमा करते हो फिर अनेक जन्म तक खाते रहेंगे।

वरदान:- एकाग्रता के अभ्यास द्वारा मन-बुद्धि को अनुभवों की सीट पर सेट करने वाले निर्विघ्न भव 
एकाग्रता की शक्ति सहज ही निर्विघ्न बना देती है। इसके लिए मन और बुद्धि को किसी भी अनुभव की सीट पर सेट कर दो। एकाग्रता की शक्ति स्वत: ही एक बाप दूसरा न कोई – यह अनुभूति कराती है। इससे सहज ही एकरस स्थिति बन जाती है। सर्व के प्रति कल्याण की वृत्ति रहती है, एकाग्रता के अभ्यास से भाई-भाई की दृष्टि रहती है। उसे कभी भी कोई कमजोर संस्कार, कोई आत्मा वा प्रकृति, किसी भी प्रकार की रॉयल माया अपसेट नहीं कर सकती।
स्लोगन:- सेकण्ड में विस्तार को सार में समाने का अभ्यास ही अन्तिम सर्टीफिकेट दिलायेगा।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize