today murli 26 june

TODAY MURLI 26 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 June 2018 :- Click Here

26/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, make effort to become bodiless. “Bodiless” means not to have any bodily religion or relationship. Let the soul continue to remember the Father alone.
Question: When will you children have 100% power? What effort must you make for that?
Answer: When you children reach the final moments of running in the race of remembrance, you will have 100% power. The arrow will instantly strike the target when you explain this knowledge to anyone at that time. For this, make effort to become soul conscious. Look in the mirror of your heart to check that all the old accounts have been burnt with remembrance.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop. 

Om shanti. You children know that Alpha (the Father) has now come. There is the praise: We receive liberation-in-life, that is, the sovereignty of heaven, from the Father in a second, because the Father is the Creator of heaven. Liberation-in-life in a second is received from only the Father. Human beings cannot receive it from human beings. As soon as a child is born, he becomes an heir. When someone first comes, you ask that person to fill in a form: Who is the Father of souls? It is said: An embodied soul, a charitable soul. It is not said: Embodied Supreme Soul, Sinful Supreme Soul, Charitable Supreme Soul; no. It is said: a great soul, a charitable soul. It is remembered that souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. Therefore, God surely has to come to liberate you from sorrow. So, when people come, first ask them to fill in a form: Who is the Father of you, the soul? Who is the father of the body? There are two separate things: I and mine. I am a soul and this is my body. Where is the place of residence of me, the soul? Who is the Father of you, the soul? It would not be asked: Who is the Father of the Supreme Soul? First of all, you have to know Alpha. He is the Truth , the Ocean of Knowledge. He is the Father of all. No human beings or judges etc. know that they are souls. It is the soul that speaks with the organs of the body: I am a judge, I am a surgeon. Only the one Father makes you soul conscious. You now know that you are souls. All the rest are relatives of your bodies. It is in terms of relationships of bodies that someone is a mother, someone is a father etc. In terms of souls, we are brothers. This has to be explained first. The inheritance of liberation-in-life in a secondis remembered. Who is the One who gives liberation-in-life? In the golden age there is liberation-in-life and in the iron age there is a life of bondage. This too has to be explained. The system here of filling in a form is very good. You children know that the memorial of the Father of us souls is here. That incorporeal One is the Father of us souls. We are corporeal. There is the memorial of the incorporeal One. Therefore, He must also surely have come. He is the One who makes impure ones pure, old ones new. The world changes from new to old. There is just the one world. Therefore, the Creator of the world must definitely be One; there cannot be two of them. God is the Creator. He makes this old world new. The new world that was Bharat was heaven. God is One. The w orld is one. There was the golden age and it is now the iron age. There was ancient Bharat. Therefore, the One who made the world new would have made Bharat new. When people come here for the first time, explain this secret to them: You are a soul. Souls continue to take rebirth. The Father comes and makes you soul conscious. I am a judge, I am a barrister, or, I belong to the Christian religion. All of those are bodily religions. Souls are bodiless and so they don’t have any relationships or religions. A soul by himself becomes karmateet. Then, once again, souls have the relationships of mothers and fathers etc. They change their costumes. They change their part s and have new parents. Souls continue to take rebirth. In fact, souls are incorporeal and reside in the incorporeal world. Then, when a soul adopts a body, he says: This is my name and form. The Father sits here and says to you children: Consider yourselves to be souls. You have to return home. You have played part s for 84 births. You became a barrister ; you became a king. You are now becoming the masters of the world. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, can say this to souls. These things are not in the intellect of anyone else. They say that each soul is the Supreme Soul. The Father comes and explains to you the secrets of the world cycle. You now know that you truly have been around the cycle of 84 births. This is now your final birth and you have to return home. People make effort to go to the land of liberation. I, the soul, am a resident of the land of liberation but, because of having body consciousness, you don’t know this. We souls reside in the incorporeal world. We have come from there to play our part s. All remember God in order to go to God. Therefore, first of all, explain that the soul and the body are two different things. A soul has a mind and intellect in it; he is living. Soul are imperishable. Bodies are perishable. The Father of all souls is that incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, the Knowledge-full One. He alone is called the God of the Gita. All devotees have love for God, the Ocean of Love. He pulls the devotees so much. There can only be one God. There are so many devotees. All are impure. They all remember the Purifier, and so there must be the one incorporeal One. All the rest are His creation. Brahma, Vishnu and Shankar are also a creation. The human world, too, is a creation. The highest-on-high Father is the Resident of the supreme abode. Just as a soul is a star, so the Supreme Father, the Supreme Soul, is a s tar. It has been explained to you children that there is only one world and that it has to repeat. All the religions have to go around the cycle. All actors are playing their part s. No one’s part can be changed. Each part has to be played. First of all, it is essential to explain who the Father of souls is. They say: Oh God, the Father! Who said this? The soul speaks through the body. The Father of souls is the Supreme Father, the Supreme Soul. This is the main thing. You mustn’t debate with anyone too much. There is liberation-in-life in a second. The Father explains to you children: Children, become soul conscious! At this time, this world is impure. Because of not knowing God , the Father , they have become orphans. In the golden age they experience the reward. There is no need to remember the Father there. People of the world don’t know that the people of Bharat receive this reward from the Father. Bharat becomes heaven. It is Maya (Ravan) that makes it into hell. Bharat has to become old from new. For instance, if a building is going to be 100 years old, it would be said to be old after 50 years. In the same way, the world becomes old from new. Then who will make it new again? How will it repeat? The world was pure. Someone must have made it pure. Only the one Father is the Purifier. He alone would make it pure. Who makes it impure? Who makes it pure? No one can understand this. You now belong to the Father. The Father means the Father. You don’t only half believe or three quarters believe in the Father. However, Maya brings you into body consciousness. All the effort required is in becoming bodiless and belonging to the Father. In fact, Maya is a great enemy. You claim the kingdom with the power of yoga. Only by having remembrance do you receive your inheritance from the Father. The power is that of remembrance alone. The Father says: Forget your body and all bodily relations and remember Me because you have to come back to Me. The golden age is liberation-in-life and the iron age is bondage-in-life. There is the bondage of Ravan, the five vices. It doesn’t exist there. The Father comes and liberates you. You know that there was supreme peace and prosperity in Bharat. It isn’t there now. Therefore, the Supreme Father must surely have established it. He would have come. He comes at the confluence age and makes Bharat liberated-in-life. All the rest of the religions are by-plots. This Bharat is old. When there was the kingdom of deities in new Bharat, there was one religion. That is called heaven. Therefore, when you give the Father’s introduction first, they won’t argue. The Father only tells the truth. Shrimat is from Him. Next are the instructions of Brahma. Brahma definitely receives instructions from the Father. Brahma is now in the night. He was in the day. “The day of Brahma and the night of Brahma” means the day and night of the Brahma Kumars and Kumaris. The night of Prajapita Brahma would also definitely be the night of the children. The Father explains: I come and first of all create Brahmins through the mouth of Brahma. The Brahmin clan is needed. This sacrificial fire has been created. It would not be said to be the sacrificial fire of Krishna. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra, this is the rosary of Rudra. Father Shiva created the sacrificial fire at this time. The Father sits here and teaches this. Children, I change you from an ordinary man into Narayan, into kings of kings. This is Raja Yoga. Krishna would not be called God. God teaches Raja Yoga through which you become like Shri Krishna. The main thing is that you children first have to become soul conscious. Otherwise, you won’t be able to strike anyone with an arrow. Only by becoming soul conscious and remembering the Father will you receive power. When you become really strong the arrow will be shot at Bhishampitamai. It has to happen gradually. You now continue to receive power. You have to become 100% by the end. You have to run the race. You are now studying. You will become very strong. You should explain that you are living souls and that God, the Father , is One. Ask those people why they say that the soul is the Supreme Soul. God, the Purifier, is only One. You are the ones who take rebirth. God doesn’t have a body of His own. He is Rudra, Shiva. Human beings cannot be called God. A name is given to the body of a soul. Souls are all the same. Sometimes a soul has the body of a barrister. It isn’t that a soul becomes a dog or a cat etc. The Father says: Beloved children, human beings only become human beings. Animals are a different variety(species). At this time it is as though human beings are worse than animals. Maya has ruined everyone’s life according to the drama. The Father now comes and makes everyone’s life worthwhile. The people of Bharat call God the Mother and Father. People abroad say: O h God, the Father ! Achcha, if He is the Father, the Mother is also needed with Him. They speak of Eve, but who is she? Who has been called Eve? Mama would not be called Eve. Mama is Jagadamba. This one (Brahma) is called Eve because He creates through this one’s mouth and this is why the saying: You are the Mother and Father can be proved. Only the One is called the Mother and Father. There also has to be the mother of Jagadamba. She is also a human. All of these things can be imbibed when you make constant effort to become soul conscious. If there isn’t remembrance, you cannot imbibe these things. Maya is very powerful. If you don’t stay in remembrance, she will continue to punch you. Maya even punches those who have been here for 10 to 12 years. She turns their faces away. They forget and then say that it wasn’t in their fortune. There is the song: I have come having created my fortune. Which fortune did you create when you came? That of marrying Lakshmi. BapDada says: Look in the mirror of your heart: Am I worthy? Have I become as sweet as the Father? The Father says: Become soul conscious! The more you remember Me, the Father, the more you will accumulate. If you don’t remember, you won’t accumulate. It is only with remembrance that the old account will continue to be burnt away. The fire of yoga means remembrance. I, the soul, am remembering God. The Father also says: Have the faith that you are souls and remember Me. It is a mistake to say that souls are the Supreme Soul. God never takes rebirth. You constantly take rebirth. My birth is divine and unique. I enter an ordinary body. Otherwise, where would Brahmins come from? A mature Prajapita Brahma is needed. A young child is not needed. Krishna is a young child. They always show Radhe and Krishna as young. How could so many people call a young child ‘Prajapita’? How could you call Krishna the Mother and Father? The Supreme Father, the Supreme Soul, has now come as the Guide. He will take all souls back with Him. The Father explains very clearly. First of all ask them to fill in a form. The main thing is: Who is the God of the Gita? Who created this sacrificial fire? This is called the sacrificial fire of Rudra or the sacrificial fire of knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge, the Father of all. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become soul conscious, renounce bodily religions and make it firm that we souls are brothers. Become as sweet as the Father.
  2. Become soul conscious and give the Father’s introduction. You receive the inheritance of liberation-in-life from the Father in a second. You must never debate with anyone.
Blessing: May you finish obstacles with zeal and enthusiasm and become a close jewel who is equal to the Father.
The zeal and enthusiasm that children have of being close jewels equal to the Father and to give the proof of being a worthy child is the basis of the flying stage. This enthusiasm finishes many types of obstacles that come and helps you to become complete and perfect. The pure and determined thought of zeal and enthusiasm becomes a particularly powerful weapon to make you victorious. Therefore, always have zeal and enthusiasm and the means for this flying stage in your heart.
Slogan: Just as a tapaswi soul always sits on a special seat, in the same way, you also have to remain seated on the seat of a constant and stable stage.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 June 2018

To Read Murli 25 June 2018 :- Click Here
26-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अशरीरी बनने की मेहनत करो, अशरीरी अर्थात् कोई भी दैहिक धर्म नहीं, सम्बन्ध नहीं, अकेली आत्मा बाप को याद करती रहे”
प्रश्नः- तुम बच्चों में 100 परसेन्ट बल कब आयेगा, उसका पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- तुम बच्चे जब याद की दौड़ी लगाते अन्तिम समय पर पहुँचेंगे, तब 100 परसेन्ट बल आ जायेगा, उस समय किसको भी समझायेंगे तो फौरन तीर लग जायेगा। इसके लिए देही-अभिमानी बनने का पुरुषार्थ करो, अपने दिल दर्पण में देखो कि पुराने सब खाते याद द्वारा भस्म किये हैं!
गीत:- तू प्यार का सागर है… 

ओम् शान्ति। अब बच्चे जानते हैं, अल्फ (बाप) आया हुआ है। गायन भी है ना – बाप से एक सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति अर्थात् स्वर्ग की बादशाही मिलती है क्योंकि बाप है स्वर्ग का रचयिता। सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति बाप से ही मिलती है। मनुष्य को मनुष्य से नहीं मिलती। बच्चा पैदा हुआ और वारिस बना। पहले-पहले जब कोई आते हैं तो उनसे फॉर्म भराया जाता है कि आत्मा का बाप कौन है? कहा भी जाता है जीवात्मा, पुण्य आत्मा…..। ऐसे नहीं कहा जायेगा – जीव परमात्मा, पाप परमात्मा, पुण्य परमात्मा। नहीं, महात्मा, पुण्यात्मा कहा जाता है। गाया भी जाता है आत्मा परमात्मा अलग रहे बहुकाल…. तो जरूर परमात्मा को ही आना है दु:ख से लिबरेट करने। तो पहले-पहले कोई आये तो उनसे फॉर्म भराया जाता है – तुम्हारी आत्मा का बाप कौन है? शरीर का बाप कौन है? दो चीज अलग-अलग हैं – मैं और मेरा। मैं आत्मा, मेरा शरीर। अहम् आत्मा का रहने का स्थान कहाँ है? फिर तुम्हारी आत्मा का बाप कौन है? ऐसे नहीं कहा जायेगा परमात्मा का बाप कौन है? पहले अल्फ को जानना है। वह है ट्रूथ। ज्ञान का सागर। वह सबका बाप है। कोई मनुष्य, जज आदि को भी पता नहीं कि हम आत्मा हैं। आत्मा ही शरीर के आरगन्स द्वारा कहती है – मैं जज हूँ, मैं सर्जन हूँ। आत्म-अभिमानी एक बाप ही बनाते हैं। अभी तुम जानते हो हम आत्मा हैं। बाकी यह सब शरीर के सम्बन्ध हैं। शरीर के सम्बन्ध में भी यह माँ, यह बाप…. लगते हैं। आत्मा के सम्बन्ध में भाई-भाई हैं। पहले तो यह समझाना चाहिए। गाया भी जाता है सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति का वर्सा। जीवन्मुक्ति कौन देने वाला है? सतयुग में है जीवन्मुक्ति, कलियुग में है जीवनबन्ध। यह भी समझाना पड़े। तो यहाँ फार्म भराने का कायदा बड़ा अच्छा है।

तुम बच्चे जानते हो हम आत्माओं के बाप का यहाँ यादगार है। वह निराकार हम आत्माओं का बाप है। हम साकार हैं। निराकार का भी यादगार है। तो जरूर आया होगा ना। पतित को पावन बनाने वाला, पुराने को नया बनाने वाला। दुनिया नई से फिर पुरानी होती है। दुनिया एक ही है। जरूर दुनिया का रचयिता एक होगा, दो नहीं हो सकते। गॉड इज क्रियेटर। वह पुरानी दुनिया को नया बनाते हैं। नई दुनिया अथवा भारत स्वर्ग था। गॉड इज वन। वर्ल्ड इज वन। सतयुग था, अब कलियुग है। प्राचीन भारत था तो जरूर नई दुनिया रचने वाले ने भारत को नया बनाया है। पहले जब कोई आते हैं तो उनको यह राज़ समझाना है। तुम आत्मा हो, आत्मा पुनर्जन्म लेती रहती है। बाप आकर देही-अभिमानी बनाते हैं। मैं जज हूँ, बैरिस्टर हूँ अथवा मैं क्रिश्चियन धर्म का हूँ। यह सब शरीर के धर्म हैं। आत्मा अशरीरी है तो कोई सम्बन्ध नहीं है। कोई धर्म नहीं है। आत्मा अलग कर्मातीत हो जाती है। फिर नये सिर माँ-बाप आदि सम्बन्ध बनते हैं। चोला बदला, पार्ट बदला, माँ-बाप सब नये बन जाते हैं। आत्मा पुनर्जन्म लेती रहती है। वास्तव में आत्मा निराकार है, निराकारी दुनिया में रहती है। फिर आत्मा शरीर धारण करती है तो कहते हैं यह मेरा नाम रूप है। अब बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं – तुम अपने को आत्मा समझो। तुमको वापिस जाना है। तुमने 84 जन्मों का पार्ट बजाया, तुम बैरिस्टर बने, राजा बने। अब तुम विश्व के मालिक बनते हो। आत्माओं से बात परमपिता परमात्मा ही कर सकते हैं। यह बातें कोई की बुद्धि में नहीं हैं। वह तो कह देते आत्मा सो परमात्मा है। बाप आकर सृष्टि के चक्र का राज़ समझाते हैं। अभी तुम जानते हो कि बरोबर हमने 84 जन्मों का चक्र लगाया है। अब यह अन्तिम जन्म है, वापस घर जाना है। मनुष्य कोशिश भी मुक्तिधाम में जाने की करते हैं। हम आत्मा मुक्तिधाम की रहवासी हैं। परन्तु देह-अभिमान होने के कारण जानते नहीं। हम आत्मा निराकारी दुनिया में रहते हैं। वहाँ से आये हैं पार्ट बजाने। अब भगवान को याद करते हैं, भगवान के पास जाने के लिए। तो पहले-पहले यह समझाना है – आत्मा और शरीर दो चीज़ें हैं। आत्मा में मन-बुद्धि है, चैतन्य है। आत्मा अविनाशी है। शरीर तो विनाशी है। सब आत्माओं का बाप वह निराकार परमपिता परमात्मा है नॉलेजफुल। उनको ही गीता का भगवान कहा जाता है। सब भक्तों का प्यार है, प्यार के सागर परमात्मा से। भक्तों को कितना खैंचते हैं। भगवान तो एक होना चाहिए। इतने सब भक्त हैं। सभी पतित हैं। पतित-पावन को याद करते हैं, तो जरूर एक निराकार होगा ना। बाकी सब उनकी रचना हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर भी रचना हैं। मनुष्य सृष्टि भी रचना है। ऊंच ते ऊंच बाप परमधाम का रहने वाला है। जैसे आत्मा स्टार है, वैसे परमपिता परमात्मा भी स्टार है।

बच्चों को समझाया है वर्ल्ड भी एक है, उनको रिपीट करना है। जो भी धर्म हैं सबको चक्र लगाना है। सब एक्टर पार्टधारी हैं। कोई का भी पार्ट बदल नहीं सकता। तो पार्ट बजाना ही है। पहले-पहले यह समझाना बहुत जरूरी है कि आत्मा का बाप कौन है? कहते हैं ओ गॉड फादर। यह किसने कहा? आत्मा शरीर द्वारा बोलती है। आत्मा का बाप परमपिता परमात्मा है। यह है मुख्य बात। तुम्हें कोई से जास्ती डिबेट आदि नहीं करनी है। है ही सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति। बाप बच्चों को समझाते हैं – बच्चे, तुम देही-अभिमानी बनो। इस समय यह पतित दुनिया है, गॉड फादर को न जानने कारण आरफन बन पड़े हैं। सतयुग में तो प्रालब्ध भोगते हैं। वहाँ बाप को याद करने की कोई दरकार ही नहीं। दुनिया को यह पता नहीं कि भारतवासियों को बाप से प्रालब्ध मिलती है। भारत स्वर्ग बन जाता है। नर्क बनाने वाली है माया (रावण)। भारत को नये से फिर पुराना होना ही है। समझो मकान की आयु 100 वर्ष होगी तो 50 वर्ष के बाद पुराना कहेंगे। वैसे दुनिया नये से पुरानी बनती है। फिर नई कौन बनायेंगे? रिपीट कैसे होती है? दुनिया पावन थी, किसने तो बनाया होगा। पतित-पावन एक ही बाप है। वही पावन बनायेंगे। पतित कौन बनाते हैं? पावन कौन बनाते हैं? यह कोई भी समझ नहीं सकते। अभी तुम बाप के बने हो। बाप माना बाप। बाप को आधा पौना थोड़े-ही माना जाता है। परन्तु माया देह-अभिमान में ले आती है। मेहनत सारी अशरीरी बन बाप को याद करने में है। नहीं तो माया बड़ी दुश्मन है। याद के बल से ही तुम राज्य लेते हो। याद द्वारा ही तुम बाप से वर्सा लेते हो। याद का ही बल है। बाप कहते हैं देह सहित सभी सम्बन्धों को भूल मेरे को याद करो क्योंकि मेरे पास वापिस आना है। सतयुग है जीवन्मुक्त, कलियुग है जीवन बन्ध। पाँच विकारों रूपी रावण का बन्धन है। वहाँ यह होता नहीं। बाप आकर लिबरेट करते हैं।

तुम जानते हो – भारत में सुप्रीम पीस-प्रासपर्टी थी। अब नहीं है। तो जरूर सुप्रीम फादर ने स्थापन किया होगा। आया होगा। संगम पर आकर भारत को जीवन्मुक्त बनाते हैं। बाकी सब धर्म तो बाइप्लाट्स हैं। यह भारत ओल्ड है। नये भारत में देवी-देवताओं का राज्य था, एक धर्म था। उसको स्वर्ग कहा जाता है। तो पहले-पहले बाप का परिचय देने से फिर आरग्यू नहीं करेंगे। बाप तो सत ही बताते हैं। उनकी है श्रीमत। नेक्स्ट है ब्रह्मा की मत। जरूर बाप से ब्रह्मा को मत मिलती है। ब्रह्मा अब रात में है। दिन में था। ब्रह्मा का दिन और रात तो ब्रह्माकुमार और कुमारियों का भी दिन और रात। प्रजापिता ब्रह्मा की रात तो जरूर बच्चों की भी रात होगी। बाप समझाते हैं मैं आता हूँ, ब्रह्मा के मुख से पहले-पहले ब्राह्मणों को रचता हूँ। ब्राह्मण वर्ण चाहिए। यह यज्ञ रचा है ना। कृष्ण यज्ञ नहीं कहेंगे। यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। रुद्र माला। बाप शिव ने इस समय यज्ञ रचा है। यह बाप बैठ पढ़ाते हैं। बच्चे, हम तुमको नर से नारायण, राजाओं का राजा बनाता हूँ। यह है राजयोग। कृष्ण को परमात्मा नहीं कहेंगे। परमात्मा राजयोग सिखाते हैं जिससे तुम श्रीकृष्ण के समान बनते हो। मुख्य बात है पहले-पहले बच्चों को देही-अभिमानी बनना है। नहीं तो किसको तीर लगा नहीं सकेंगे। देही-अभिमानी हो बाप को याद करने से ही बल मिलेगा। जब तुम अच्छी रीति पहलवान हो जायेंगे तो भीष्म पितामह आदि को बाण लगेंगे। धीरे-धीरे होना है। अभी तुम्हारे में बल आता जाता है। अन्त तक 100 परसेन्ट बनना है। दौड़ी लगानी है। अभी तुम पढ़ रहे हो। बहुत पहलवान हो जायेगे। समझाना चाहिए तुम तो जीव आत्मा हो, परमात्मा तो फादर एक है। फिर तुम लोग आत्मा सो परमात्मा क्यों कहते हो? पतित-पावन परमात्मा तो एक ही है। तुम तो पुनर्जन्म लेने वाले हो। परमात्मा को तो अपना शरीर नहीं है। वह है रुद्र शिव। मनुष्य को परमात्मा कह नहीं सकते। आत्मा के शरीर का नाम पड़ता है। आत्मा तो सबकी एक जैसी है। कहाँ आत्मा ने बैरिस्टर का शरीर लिया है। बाकी ऐसे नहीं आत्मा कुत्ता, बिल्ली आदि बनती है। बाप कहते हैं – लाडले बच्चे, मनुष्य, मनुष्य ही बनते हैं। जानवरों की वैराइटी अलग है। इस समय मनुष्य जैसे जानवर से भी बदतर हैं। माया ने खाना खराब कर दिया है ड्रामा अनुसार, अब बाप आकर खाना आबाद करते हैं।

परमात्मा को मात-पिता भी भारतवासी कहते हैं। बाहर वाले कहते हैं ओ गॉड फादर। अच्छा, फादर है तो साथ में मदर भी होनी चाहिए। ईव कहते हैं। परन्तु वह कौन है? ईव किसको कहा जाये? मम्मा को ईव नहीं कहेंगे। मम्मा तो जगदम्बा है। ईव इनको (ब्रह्मा) ही कहेंगे क्योंकि इनके मुख द्वारा रचे, तब तो तुम मात-पिता सिद्ध हो। एक को ही मात-पिता कहा जाता है। जगत अम्बा की भी माँ होनी चाहिए। वह भी ह्यूमन है। यह सब बातें धारण तब हों, जब निरन्तर देही-अभिमानी बनने का पुरुषार्थ करे। याद नहीं तो धारणा हो नहीं सकती। माया बड़ी जबरदस्त है, याद नहीं करेंगे तो घूंसा मारती रहेगी। दस-बारह वर्ष वाले को भी माया घूंसा मार देती है। मुंह फिरा देती है। भूल जाते हैं। फिर कहते हैं तकदीर में नहीं था। गीत है ना – आये हैं तकदीर बना करके.. कौनसी तकदीर बनाकर आये हो? लक्ष्मी को वरने की। बापदादा कहते हैं दिल दर्पण में देखो – तुम लायक हो? बाप मिसल मीठे बने हो? बाप कहते हैं देही-अभिमानी बनो। जितना मुझ बाप को याद करेंगे, उतना जमा होगा। याद नहीं करेंगे तो जमा नहीं होगा। याद से ही पुराना खाता भस्म होता जायेगा। योग अग्नि माना याद। अहम् आत्मा परमात्मा को याद करती हैं। बाप भी कहते हैं अपने को आत्मा निश्चय कर मुझे याद करो। आत्मा सो परमात्मा कहना भूल है। परमात्मा कभी पुनर्जन्म नहीं लेते हैं। तुम तो सदा पुनर्जन्म लेते हो। मेरा जन्म दिव्य अलौकिक है। मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। नहीं तो ब्राह्मण कहाँ से आयें। प्रजापिता ब्रह्मा भी बुजुर्ग चाहिए। छोटा बच्चा तो नहीं चाहिए। कृष्ण तो छोटा बच्चा है। राधे-कृष्ण को छोटा ही दिखाते हैं। छोटे बच्चे को इतने सब प्रजापिता कैसे कह सकते हैं। तुम मात-पिता कृष्ण को कैसे कहेंगे। अभी परमपिता परमात्मा गाइड बनकर आया है, सब आत्माओं को ले जायेंगे। बाप तो अच्छी रीति समझाते हैं। पहले-पहले फॉर्म भराओ। मूल बात है गीता का भगवान कौन है? यह यज्ञ किसने रचा? रुद्र यज्ञ वा ज्ञान यज्ञ कहेंगे। परमात्मा तो है ज्ञान सागर, सबका फादर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देही-अभिमानी बन, देह के सब धर्म भूल हम आत्मा भाई-भाई हैं – यह पक्का करना है। बाप मिसल मीठा बनना है।

2) देही-अभिमानी बन बाप का परिचय देना है। सेकेण्ड में जीवन्मुक्ति का वर्सा बाप से मिलता है। डिबेट किससे भी नहीं करनी है।

वरदान:- उमंग-उत्साह द्वारा विघ्नों को समाप्त करने वाले बाप समान समीप रत्न भव
बच्चों के दिल में जो उमंग-उत्साह है कि मैं बाप समान समीप रत्न बन सपूत बच्चे का सबूत दूँ – यह उमंग-उत्साह उड़ती कला का आधार है। यह उमंग कई प्रकार के आने वाले विघ्नों को समाप्त कर सम्पन्न बनने में सहयोग देता है। यह उमंग-उत्साह का शुद्ध और दृढ़ संकल्प विजयी बनाने में विशेष शक्तिशाली शस्त्र बन जाता है इसलिए दिल में सदा उमंग-उत्साह को वा इस उड़ती कला के साधन को कायम रखना।
स्लोगन:- जैसे तपस्वी सदा आसन पर बैठते हैं ऐसे आप एकरस अवस्था के आसन पर विराजमान रहो।

TODAY MURLI 26 June 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 June 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 25 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

26/06/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, day and night, just have the concern about how you can give the Father’s introduction to everyone. Father shows son and son shows Father; use your intellect for only this.
Question: What should you pay attention to so that knowledge is not even slightly wasted?
Answer: Feel the pulse before giving the wealth of knowledge: Does this one belong to our Brahmin clan? Try to give the wealth of knowledge to those who are either devotees of Shiv Baba or of the deities. Not everyone will understand this knowledge. Only those who are going to change from shudras into Brahmins will understand. You must try to tell everyone at least one thing: The Father alone is the Bestower of Salvation for All. He says: Become bodiless and remember Me and your boat will go across.
Song: Salutations to Shiva.

 

Om shanti. The Father sits here and explains to the children. Both fathers are present. Whether it is that Father who explains or this father, it is the Father who sits here and explains. When you sit in remembrance of Baba in silence, it is known as true peace. This is the real peace that gives instant fruit; the other is false. You are not aware of your original religion of the self. The self does not know about his Supreme Father, the Supreme Soul, and so who else can give peace and power? The Father alone is the Bestower of Peace. So, the Father says: Children, become bodiless and sit, considering yourselves to be souls. You are imperishable. Sit in the original religion of the self. No one else sits like this. Definitely, a soul sheds one body and takes on the next. There is only the one Supreme Father, the Supreme Soul. His praise is very great. He is the Father, He is not omnipresent. If you can prove this one thing, it is then your victory. This will also prove who the God of the Gita is. You are given many points. Sikh people also say that the Satguru is the Immortal One, that He is the Image of Immortality. It is also said: He is the Liberator and also the Bestower of Salvation for All. He comes and liberates us from sorrow. The Father alone is the Purifier too. You should always churn such points. It is because the Father has been forgotten that everyone has become degraded. God is only one, so no one else can be called God. The residents of the subtle region cannot be called God either. There is only the one God, the Highest on High. Here, it is the world of humans who take rebirth. The Supreme Father, the Supreme Soul, does not come into rebirth. Then, how can you say that God is in the cats and dogs etc? It should remain in your intellects throughout the day how you can give the Father’s introduction to everyone. Day and night, you should be concerned about how you can show the path to everyone. Only the One makes all impure ones pure. Then the God of the Gita will also be proved. Only you children will be victorious, but that will only be when you make effort. There are the elephant riders, the cavalry and the infantry. You children now understand that only Bharat received the inheritance from the Father, and that it was then snatched away. The Father is now giving it back to you once again. The Father only comes into Bharat. All of these religions that now exist will be destroyed and it will then be the golden age. After the cries of sorrow, there will be victory. People call out to Ram (God) at the time of sorrow. They say: Give a donation in the name of Rama (God). There are shlokas (verses) about this. Sikh people are very well known; they too speak about the immortal throne. What is the throne of you children? You souls are now images of immortality. Death can never come to you. These bodies will finish. They think that the immortal throne is in Amritsar. However, it is the brahm element that is the immortal throne. We souls are residents of that place. It is also sung: Baba, leave Your throne and come down. That is the throne of peace for everyone, whereas the throne of the kingdom is not for everyone. Baba’s throne is our throne. We come from there to play our part s ; otherwise, there would be no question of leaving the sky. You children should use your intellects for only this: To whom and how can we give the Father’s introduction? Father shows son and son shows Father. Who is our Baba? What is His wealth and property that will be claimed by us? This is in your intellects. The Father’s introduction is the main thing. All the confusion is about this; the entire play is due to this one mistake. It is Ravan that makes you make this mistake. In the golden age you remain soul conscious. We are souls. However, we cannot say there that we know the Supreme Father, the Supreme Soul. No, there is only happiness there. Everyone remembers God at a time of sorrow. The path of devotion has been completed and the path of knowledge has begun. You will have received the inheritance, and so why should you remember God? You receive the inheritance cycle after cycle. This drama is created in such a way. No one knows the Father. The Father has now introduced Himself to you children. These are the things that should be churned by your intellects day and night. This is food for the intellect: How can the Father’s introduction be given to everyone? Only one re-incarnation is remembered of the Father. You understand that He will definitely come at the confluence of the end of iron age and the beginning of the golden age in order to purify the impure. The main scripture is the Gita. Only through the Gita can you become like a diamond. All other scriptures are children of the Gita. One cannot receive the inheritance from them. The Gita is the highest jewel of all. Shrimat is well known. Shri means the highest on high. There is the rosary of Rudra shri shri 108. This is the rosary of Shiv Baba. You understand that that One is the Father of all souls. Everyone calls out to Him: Baba, Baba. They are the creation which has been created by Baba. No one can understand this. Baba says: I do not give you a lot of trouble. You have fallen simply by forgetting Baba. You have to recognise Him. You have now come from immense darkness into immense light. You must dance the dance of knowledge. Meera etc. danced a dance of devotion. There is no significance in that. People say that Vyas is God, but Vyas refers to the Father who speaks the Gita. You can prove this to anyone: There is only one Baba and we claim our inheritance from only Him. Who can give the inheritance of heaven to Bharat? No one except the Father can establish heaven. To liberate everyone is the task of the one Father. The Pope says: There should be oneness. But how is that possible? We all now belong to One, so how are we brothers and sisters? This also has to be understood. To have oneness means that there is the Fatherhood. Therefore, here, all are brothers. The entire world says: O, God , the Father, have mercy on us! So, surely, there is someone who is merciless. They do not understand who is merciless. Only the one Father has mercy. Ravan, whom people have been burning, is merciless, but he does not get burnt. If an enemy dies, there would be no need to burn him again and again. None of them understands what they continue to do. Previously, you too were in immense darkness. You are no longer in darkness. So, how can it be explained to people that only the one Father can make Bharat into the land of happiness? Baba’s introduction has to be given. This also has to be explained, even though not everyone will understand. Those who are to change from shudras into Brahmins will understand. Baba says: Try to give this knowledge to those who are My devotees. Don’t waste the wealth of knowledge. The devotees of the deities must belong to the deity clan. The one Father is the Highest on High. Everyone remembers Him. This is Shiv Baba. The inheritance has to be claimed from the Father. Those who performed good actions and went away are worshipped. In the iron age, no one is able to perform good actions, because here, there are only devilish instructions. Where is the happiness here? The Father explains so clearly, but it will sit in the intellects of others when you give them the introduction of the Father. He is the Father, the Teacher as well as the Satguru. He does not have a father or a teacher. First of all, He is the Mother and the Father, then He is the Teacher and then, in order to grant salvation, He becomes the Guru. This is a wonder! The unlimited Father is only One; He is the Father, the Teacher and the Satguru. You understand that Father to be the Highest on High. He is the One who gives the inheritance of heaven to Bharat. After hell there has to be heaven. The flames of destruction are already prepared for the destruction of hell. At the time of Holi, they wear a mask and mock one another by asking: Swamiji, what is going to emerge from this one’s stomach? Definitely, it is seen that so many of these inventions of science have emerged from the intellects of the residents of Europe, the Yadavas. You must try and explain just the one thing: the One who bestows salvation is the one Father. The Father only comes into Bharat. This is the greatest pilgrimage place. They say that Bharat was an ancient land but they do not understand. You now understand that that which was ancient will become so again. You studied Raja Yoga and you are now studying that once again. It is in your intellects that Baba gives us this knowledge cycle after cycle. Shiva has been given many names. There is also the temple to Babulnath. The One who changes thorns into flowers is called Babulnath. There are many such names; you can explain their meanings. So, first give the introduction of the Father, the One whom everyone has forgotten. If they first understand the Father, they can then have yoga of the intellect. You have to claim your inheritance from the Father. You are to go from the land of liberation into the land of liberation-in-life. This is an impure life of bondage. Baba says: Become bodiless! Become bodiless and remember the Father! Only by doing this will your boat go across. Only that One is the Father of all souls. The Father’s order is: Remember Me, for through this yoga, your sins will be absolved and your final thoughts will then lead you to your destination. We have to return home. Return as quickly as possible. However, it cannot happen quickly. If you want to claim a high status, you have to remember Baba. We are children of the one Father. The Father now says: Manmanabhav! Krishna does not say this. Where is Krishna? This is the Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, who carries out establishment through Prajapita Brahma. So, surely, He has to come here. This is the corporeal impure world, whereas that is the pure world. There cannot be any pure beings in the impure world. In the picture of the tree, Brahma is shown standing at the top and he is also shown down below doing tapasaya. His features are seen in the subtle region. This one becomes an angel. At the moment, Shri Krishna is ugly. Nothing else will be understood until you explain the first thing. It is this that requires effort. Maya very quickly makes you forget to have remembrance of the Father. Some write with faith: We will definitely claim the status of Narayan, but they still forget. Maya is very powerful. No matter how many storms Maya may bring, you must not shake. That is the final stage. Maya will fight with you very powerfully. She will make those who are like goats fall instantly. You must not be afraid. Ayurvedic doctors say that the sickness erupts before it finishes. Many storms of Maya will come. When you become very firm, the pressure from Maya will be reduced. She will understand that you will not shake. Baba alone comes and changes you from those with stone intellects into those with divine intellects. This is very entertaining knowledge. Ancient Raja Yoga of Bharat is remembered. Only you understand this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and g ood morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become bodiless and remember the Father. Practise being stable in the original religion of the self. Dance the dance of knowledge and make others dance.
  2. Do not be shaken by the storms of Maya; do not be afraid. Become firm and finish the pressure of Maya.
Blessing: May you finish all name and trace of sorrow with your soul-conscious attitude and vision and constantly give happiness.
The world of you Brahmins is unique and your vision and attitude are also unique. Those who maintain a soul-conscious attitude and vision while walking and moving around have no name or trace of sorrow because sorrow comes when there is body consciousness. If you forget body consciousness and stay in your soul-conscious form, there is then constant happiness and nothing but happiness. Your life is then filled with happiness and you will give everyone happiness. Such souls are always sleeping on the bed of happiness and are embodiments of happiness.
Slogan: Look at yourself (khud) and remove your (khud – self) weaknesses and you will receive God’s (Khuda) love.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_5]

Read Bk Murli 24 June 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 26 June 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 June 2017

To Read Murli 25 June 2017 :- Click Here

[wp_ad_camp_5]

 

 

 

26/06/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – रात-दिन इसी चिन्तन में रहो कि सबको बाप का परिचय कैसे दें, फादर शोज़ सन, सन शोज़ फादर, इसी में बुद्धि लगानी है”
प्रश्नः- ज्ञान जरा भी व्यर्थ न जाये उसके लिए किस बात का ध्यान रखना है?
उत्तर:- ज्ञान धन देने के लिए पहले देखो कि यह हमारे ब्राह्मण कुल का है! जो शिवबाबा के वा देवताओं के भक्त हैं, कोशिश कर उनको ज्ञान धन दो। यह ज्ञान सब नहीं समझेंगे। समझ में उन्हें ही आयेगा जो शूद्र से ब्राह्मण बनने वाले हैं। तुम कोशिश कर एक बात तो सबको सुनाओ कि सर्व का सद्गति दाता एक बाप ही है, वह कहता है कि तुम अशरीरी बन मुझे याद करो तो तुम्हारा बेड़ा पार हो जायेगा।
गीत:- ओम् नमो शिवाए….

 

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं – दोनों बाप आ गये। चाहे वह बाप समझावे, चाहे यह बाप समझावे। तो बाप बैठ समझाते हैं – तुम जो बाबा की याद में शान्ति में बैठते हो, इसको ही सच्ची शान्ति कहा जाता है। यह है प्रत्यक्षफल देने वाली रीयल शान्ति, वह है झूठी। अपने स्वधर्म का पता नहीं है। स्व को अपने परमपिता परमात्मा का पता नहीं है, तो शान्ति, शक्ति कौन देवे? शान्तिदाता बाप ही है। जो बाप कहते हैं बच्चे अशरीरी हो अपने को आत्मा समझ बैठो। तुम तो अविनाशी हो ना। अपने स्वधर्म में बैठो और कोई ऐसे बैठते नहीं हैं। बरोबर आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। परमपिता परमात्मा तो एक ही है, उनकी महिमा बड़ी भारी है। वह बाप है, सर्वव्यापी नहीं है। एक बात सिद्ध की तो तुम्हारी जीत है। फिर गीता का भगवान भी सिद्ध हो जायेगा। प्वाइन्ट्स तो तुमको बहुत मिलती हैं। सिक्ख लोग भी कहते हैं सतगुरू अकाल.. वही अकालमूर्त है। कहते भी हैं, वह लिबरेटर है, सर्व का सद्गति दाता है। दु:ख से आकर लिबरेट करते हैं। पतित-पावन भी एक ही बाप है। ऐसी-ऐसी प्वाइन्ट्स हमेशा विचार-सागर मंथन करनी चाहिए। बाप को भूलने कारण ही सबकी दुर्गति हुई है। भगवान एक है तो दूसरे कोई को भगवान कह नहीं सकते। सूक्ष्मवतनवासी को भी भगवान कह न सकें। ऊंचे ते ऊंच एक भगवान है। यहाँ तो है मनुष्य सृष्टि जो पुनर्जन्म में आते हैं। परमपिता परमात्मा तो पुनर्जन्म में नहीं आते हैं, फिर कैसे कहते हो कि कुत्ते बिल्ली सबमें परमात्मा है। सारा दिन यह बुद्धि में रहना चाहिए – बाप का परिचय कैसे दें। अब रात-दिन तुम इस चिन्तन में रहो कि कैसे सबको रास्ता बतायें? पतितों को पावन बनाने वाला एक ही है। फिर गीता का भगवान भी सिद्ध हो जायेगा। तुम बच्चों की ही जीत होनी है, सो जब मेहनत करेंगे। महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे तो हैं ना।

तुम बच्चे जानते हो भारत को ही बाप से वर्सा मिला हुआ था। अब छीना हुआ है, फिर बाप देते हैं। बाप आते ही भारत में हैं। यह जो इतने धर्म हैं, यह सब खत्म हो जाने हैं, फिर सतयुग होगा। हाय-हाय के बाद जय-जयकार हो जाती है। मनुष्य दु:ख के समय हाय राम करते हैं ना। कहते हैं ना – राम नाम का दान दो। इस पर श्लोक बने हुए हैं। सिक्ख लोगों का भी नाम बहुत है। वह भी कहते हैं अकालतख्त। तुम बच्चों का तख्त कौन सा है? तुम आत्मायें सब अकालमूर्त हो। तुमको कोई काल खा न सके। यह शरीर तो खत्म हो जायेंगे। वह समझते हैं अकालतख्त अमृतसर में है परन्तु अकाल तख्त तो महतत्व है। हम आत्मायें भी वहाँ के रहने वाले हैं। गाते भी हैं – बाबा आप अपना तख्त छोड़कर आओ। वह सर्व के लिए शान्ति का तख्त है। राज्य तख्त कोई सर्व के लिए नहीं कहेंगे। बाबा का तख्त सो हमारा। वहाँ से हम पार्ट बजाने आते हैं, बाकी आकाश छोड़ने की बात नहीं है। बच्चों को इसमें ही बुद्धि लगानी है कि बाप का परिचय किसको कैसे देवें? फादर शोज़ सन, सन शोज़ फादर। हमारा बाबा कौन है, उनकी मिलकियत क्या है, जिसका मालिक बनेंगे। यह बुद्धि में है। मुख्य है ही बाप का परिचय। सारा रोला इसमें है। एकज़ भूल का नाटक है ना। भूल कराने वाला है रावण।

सतयुग में तुम देही-अभिमानी रहते हो। हम आत्मा हैं। बाकी यह नहीं कहेंगे कि हम परमपिता परमात्मा को जानते हैं। नहीं, वहाँ तो सुख ही सुख है। दु:ख में सिमरण सब करते हैं। भक्ति मार्ग पूरा हो गया, ज्ञान मार्ग शुरू हुआ, वर्सा मिल गया, फिर भगवान को क्यों याद करेंगे! कल्प-कल्प वर्सा मिलता है। यह ड्रामा ही ऐसा बना हुआ है। बाप को कोई भी जानते नहीं हैं। अब तुम बच्चों को बाप ने पहचान दी है। रात-दिन बुद्धि में यही बातें चलती रहें। यह बुद्धि के लिए भोजन है। कैसे बाप का परिचय सबको देवें! बाप का एक ही रीइनकारनेशन गाया जाता है। समझते हैं आयेंगे जरूर, कलियुग अन्त, सतयुग आदि के संगम पर, पतितों को पावन बनाने। मुख्य है गीता। गीता से ही हीरे जैसा बन सकते हैं। बाकी सब शास्त्र हैं गीता के बाल बच्चे, उनसे कोई वर्सा नहीं मिल सकता है। सर्वशास्त्रमई शिरोमणी गीता। श्रीमत मशहूर है। श्री है सबसे ऊंचे ते ऊंचा। श्री श्री 108 रुद्र माला। यह है शिवबाबा की माला। तुम जानते हो सभी आत्माओं का बाप यह है। बाबा-बाबा तो सब करते हैं ना। बाबा की रचना रची हुई है, यह कोई भी जान नहीं सकता। बाबा कहते हैं तुमको कोई जास्ती तकलीफ नहीं देते। सिर्फ बाप को भूलने से गिरे हो, उनको जानना है। अब तुम घोर अन्धियारे से घोर सोझरे में आ गये हो। तुमको ज्ञान की डान्स करनी है। मीरा की थी भक्ति की डान्स, अर्थ कुछ भी नहीं। व्यास भगवान कहते हैं, अब व्यास तो है बाप, जो गीता सुनाते हैं। तुम कोई को भी सिद्ध कर बता सकते हो – बाबा एक ही है, उनसे ही वर्सा मिलता है। नहीं तो भारत को स्वर्ग का वर्सा कौन देंगे? स्वर्ग की स्थापना बाप बिगर कोई कर न सके। सर्व को लिबरेट करना, एक बाप का ही काम है। पोप भी कहते थे – वननेस हो। परन्तु वह होगी कैसे? हम एक के तो सब बने हैं ना, फिर भाई-बहन कैसे हैं, यह जानना चाहिए। वननेस अर्थात् फादरहुड हो गया, यह तो सब ब्रदर्स हैं ना। सारी दुनिया कहती है ओ गॉड फादर रहम करो। तो जरूर बेरहमी कर रहे हैं। यह नहीं जानते कि बेरहम करने वाला कौन है? रहम करने वाला तो एक बाप है। बेरहम है रावण, जिसको जलाते आते हैं, परन्तु जलता नहीं है। दुश्मन ही मर जाये फिर थोड़ेही बार-बार जलायेंगे। कोई को यह पता ही नहीं है कि यह क्या बनाते रहते हैं। आगे तुम घोर अन्धियारे में थे, अब तो नहीं हैं ना। तो मनुष्यों को कैसे समझावें। भारत को सुखधाम बनाने वाला एक ही बाप है। बाबा का ही परिचय देना है। यह भी समझाया जाता है लेकिन सब नहीं समझेंगे। समझेंगे फिर भी वही जिनको शूद्र से ब्राह्मण बनना है। बाबा कहते हैं जो मेरा भक्त हो कोशिश कर उनको ही ज्ञान दो। ज्ञान धन व्यर्थ नहीं गंवाओ। देवताओं के भक्त तो जरूर देवता कुल के होंगे। ऊंच ते ऊंच है एक बाप, सब उनको याद करते हैं। यह तो शिवबाबा है ना। बाप से तो वर्सा लेना है। जो कोई अच्छा काम करके जाते हैं तो उनको पूजा जाता है। कलियुग में कोई से अच्छा काम होगा ही नहीं क्योंकि यहाँ है ही आसुरी रावण मत। सुख कहाँ है? कितना अच्छी रीति बाप समझाते हैं, परन्तु किसकी बुद्धि में बैठेगा तब, जब बाप का परिचय देंगे। यह बाप भी है, टीचर, सतगुरू भी है। इनका कोई बाप टीचर नहीं है। पहले-पहले हैं मात-पिता, फिर टीचर और फिर सद्गति के लिए गुरू। यह वन्डर है – बेहद का बाप एक ही बाप, टीचर और सतगुरू है।

तुम जानते हो वह बाप ऊंचे ते ऊंचा है। वही भारत को स्वर्ग का वर्सा देने वाला है। नर्क के बाद है ही स्वर्ग। नर्क के विनाश के लिए विनाश ज्वाला खड़ी है। होलिका में स्वांग बनाते हैं ना, फिर पूछते हैं स्वामी जी इनके पेट से क्या निकलेगा? बरोबर देखते हैं यूरोपवासी यादवों की बुद्धि से साइन्स की कितनी इन्वेन्शन निकलती है। तुमको कोशिश कर एक ही बात पर समझाना है। सर्व का सद्गति दाता एक है। बाप आते ही भारत में हैं – तो यह सबसे बड़ा तीर्थ हो गया। कहते भी हैं भारत प्राचीन था। परन्तु समझते नहीं। अभी तुम समझते हो – जो प्राचीन हुआ है सो फिर से होगा। तुमने राजयोग सीखा था, वही फिर सीखते हो। बुद्धि में है – यह नॉलेज बाबा कल्प-कल्प देते हैं। शिव के भी अनेक नाम रखे हैं। बबुलनाथ का भी मन्दिर है। कांटों को फूल बनाया है, इसलिए बबुलनाथ कहते हैं। ऐसे बहुत नाम है, जिसका अर्थ तुम समझा सकते हो। तो पहले-पहले बाप का परिचय दो, जिसको सब भूले हुए हैं। पहले बाप को जानें तब बुद्धियोग लगे। बाप से वर्सा लेना है। मुक्तिधाम से फिर जीवन-मुक्तिधाम में जाना है। यह है पतित जीवनबंध। बाबा कहते हैं बच्चे अशरीरी बनो। अशरीरी बन बाप को याद करो, इससे ही बेड़ा पार होगा। सब आत्माओं का बाप वह एक ही है। बाप का फरमान है मुझे याद करो तो योग से विकर्म विनाश होंगे। अन्त मती सो गति हो जायेगी। हमको वापिस जाना है, जितना हो सके जल्दी जावें। परन्तु जल्दी तो हो नहीं सकता। ऊंच पद पाना है तो बाबा को याद रखना है। हम एक बाप के बच्चे हैं। अब बाप कहते हैं मनमनाभव। कृष्ण थोड़ेही कहते हैं। कृष्ण कहाँ है? यह तो बाप है परमपिता परमात्मा, प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा स्थापना करते हैं, तो जरूर यहाँ होना चाहिए। यह है व्यक्त पतित दुनिया। वह है पावन दुनिया। पतित दुनिया में पावन कोई हो नहीं सकता। झाड़ में देखो ऊपर में खड़ा है और यह नीचे तपस्या में ब्रह्मा बैठे हैं, इनके ही फीचर्स सूक्ष्मवतन में देखते हैं। यह जाकर फरिश्ते बनते हैं। श्रीकृष्ण इस समय सांवरा है ना। पहली बात जब तक न समझाई है तब तक कुछ समझेंगे नहीं। इसमें ही मेहनत लगती है। माया फट से बाप की याद भुला देती है। निश्चय से लिखते भी हैं बरोबर हम नारायण पद पायेंगे फिर भी भूल जाते हैं। माया बड़ी दुश्तर है। माया के तूफान कितने भी आवें परन्तु हिलना नहीं है। वह है पिछाड़ी की स्टेज। माया रुसतम होकर लड़ेगी। रिढ़ बकरी होंगे तो उनको फट से गिरा देगी। डरना नहीं है। वैद्य लोग कहते हैं पहले सारी बीमारी बाहर निकलेगी। माया के तूफान भी बहुत आयेंगे। जब तुम पक्के हो जायेंगे फिर माया का प्रेशर कम हो जायेगा। समझेगी अब यह हिलने वाले नहीं हैं। बाबा ही आकर पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बनाते हैं। यह बड़ी रमणीक नॉलेज है। भारत का प्राचीन राजयोग गाया जाता है। यह तुम जानते हो। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अशरीरी बन बाप को याद करना है। स्वधर्म में स्थित होने का अभ्यास करना है। ज्ञान की डांस करनी और करानी है।

2) माया के तूफानों से हिलना नहीं है। डरना नहीं है। पक्का बनकर माया के प्रेशर को खत्म करना है।

वरदान:- आत्मिक वृत्ति, दृष्टि से दु:ख के नाम-निशान को समाप्त करने वाले सदा सुखदायी भव
ब्राह्मणों का संसार भी न्यारा है तो दृष्टि-वृत्ति सब न्यारी है। जो चलते-फिरते आत्मिक दृष्टि, आत्मिक वृत्ति में रहते हैं उनके पास दु:ख का नाम-निशान नहीं रह सकता क्योंकि दु:ख होता है शरीर भान से। अगर शरीर भान को भूलकर आत्मिक स्वरूप में रहते हैं तो सदा सुख ही सुख है। उनका सुखमय जीवन सुखदायी बन जाता है। वे सदा सुख की शैया पर सोते हैं और सुख स्वरूप रहते हैं।
स्लोगन:- खुद को देखो और खुद की कमियों को भरो तब खुदा का प्यार मिलेगा।

 

[wp_ad_camp_1]

 

To Read Murli 24 June 2017 :- Click Here

To Read Murli 23 June 2017 :- Click Here

Font Resize