today murli 26 january

TODAY MURLI 26 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 January 2019 :- Click Here

26/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your hearing is now taking place. The Father takes you away from sorrow and takes you into happiness. It is now the stage of retirement of all of you and you have to return home.
Question: Why does each of you children repeatedly receive orders to remain yogyukt and to follow shrimat?
Answer: Because the scenes of the final destruction are now to come in front of you. Millions of people will die; there will be natural calamities. For your stage to remain constant at the time of seeing all those scenes, for you to experience happiness for the hunter and death for the prey, you need to remain yogyukt. Only yogi children who follow shrimat will remain in pleasure. It will remain in their intellects that they are to shed their old bodies and go back to their sweet home.

Om shanti. The spiritual Father sits here and has a heart-to-heart conversation and explains to you spirits because you spirits have been remembering Him a great deal on the path of devotion. All are lovers of the one Beloved. An image of Shiv Baba, the Beloved, has been created. They sit and worship that. They don’t even know what they want from Him. All worship Him. Even Shankaracharya worshipped Him. Everyone thinks that he was great. Although he was the founder of a religion, he too had to take rebirth and come down. Everyone has now reached their last birth. Baba says: It is now the stage of retirement of all of you, young and old. I take all of you back home. You call out to Me to come into the impure world. They have so much regard for Him. “Come into the impure world and the foreign kingdom.” They must definitely be unhappy; that is why they are calling Him. It is remembered that He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Therefore, He surely has to come into the dirty old world, in an old body; and, that too, in a tamopradhan body. In the satopradhan world, no one even remembers Me. According to the drama , I make everyone happy. You have to use your intellect for everything. You understand that there will definitely be the original, eternal, deity religion in the golden age. In other spiritual gatherings they simply continue to study the scriptures and come down. Those who fall into the bog become unhappy. This is the world of sorrow. That is the land of happiness. The Father explains everything and makes it so easy for you because the poor innocent mothers don’t know anything. No one knows whether they have to return home or continue to take rebirth all the time. There are now those of all religions. At first there was heaven and so there was just the one religion. You have the whole cycle in your intellects. These things cannot stay in the intellect of anyone else. They say that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years. That is called extreme darkness. Knowledge is extreme light. Now, you children have enlightenment in your intellect. When you go to any temple, you would say that you are going to Shiv Baba. We are becoming this Lakshmi and Narayan. These things do not take place in other spiritual gatherings. All of those things belong to the path of devotion. You now know the Creator and the beginning, middle and end of creation. Rishis and munis used to say that they did not know. You too did not know this previously. At this time, there is devotion throughout the whole world. This is the old world and there are so many human beings. In the golden-aged, new world, there was just the one undivided religion, and then there are the divided religions. There is conflict among the many religions; there is conflict between every one. According to the drama, their polic ies are like that. If they separate anyone, there is war. A partition is made. Because of not knowing the Father, people have become those with stone intellects. Now the Father explains: The deity religion has disappeared. Not a single person knows that it was their kingdom. You now understand that you are becoming deities. Shiv Baba is our obedient Servant. When a prominent person signs his letters, he always writes: obedient servant. The Father also says: I am an obedient Servant. Dada too says: I am an obedient servant. I will come again at the most auspicious confluence age of every cycle after 5000 years. I come and serve you children. You call Me the Resident of the faraway land. No one knows the meaning of this. They study so many scriptures etc., but they don’t understand the meaning of them. The Father comes and tells you the essence of all the Vedas and scriptures. You children know that it is the kingdom of Ravan at this time. People continue to become impure. This drama is also created like that. He removes you children from the extreme depths of hell and takes you to heaven. That is called the Garden of Allah. This is a forest of thorns whereas the golden age is a garden of flowers. You will remain constantly happy there; you become ever healthy and ever wealthy. For half the cycle, there is happiness and for the other half cycle there is sorrow. The cycle continues to turn; there is no end to it. The greatest Father of all comes and takes everyone to the land of peace and the land of happiness. When you go to the land of happiness, all the rest remain in the land of peace. Half the cycle is happiness and half the cycle is sorrow. In that too, there is happiness for the greater part. If it were half and half, what taste would there be? On the path of devotion, too, you were very wealthy. You now remember how wealthy you were. When those who are very wealthy go bankrupt, they remember what they had and how much wealth they had. The Father explains how wealthy Bharat was; it was P aradise. Look how poor it is now! It has now become completely poverty-stricken. There is mercy for the poor; they are now begging. Those who were solvent have now become insolvent. This too is the play. All the rest of the religions that come are by-plots. The number of people of so many religions continues to grow. It is only the people of Bharat who take 84 births. A child calculated everything about other religions and sent it to Baba. However, there isn’t any benefit by going into that too much. That too is a waste of time. If you were to stay in remembrance of the Father for that length of time, there would be an income earned. Our main thing is to make full effort and become the masters of the world. The Father says: You were satopradhan and you have now become tamopradhan. You have taken 84 births and you now have to return home. You have to receive the inheritance from the Father. You have been remembering the Father for half the cycle. The Father has now come and so your hearing now takes place. The Father is once again taking you to the land of happiness. It is as though there is the story of the rise and fall of Bharat. This is now the impure world. All are now old relationships and you now have to go into new relationships. At this time, all the actors are present. There is no difference in this. Souls are imperishable. There are so many souls; they are never destroyed. First of all, all the millions of souls have to return home. All the bodies will be destroyed and this is why people perform Holika. You know that we were worthy of worship and that we then became worshippers and are now becoming worthy of worship. There, there won’t be any knowledge or any scriptures etc. Everything will have been destroyed. Those who are yogyukt and follow shrimat will witness how everything is destroyed in the earthquakes. It is also printed in the newspapers how villages are destroyed. Bombay wasn’t so big previously. They drained the ocean and that will become the ocean again. None of those buildings etc. will remain. In the golden age, there will be palaces by the sweet waters; they won’t exist by salty water. So, none of this will remain. With just one tidal wave of the ocean, everything will be destroyed. There will be many calamities. Millions of people will die. Where will grain come from? Those people also understand that there will be calamities. People will be dying. Only those who are yogyukt will remain in pleasure. It will be happiness for the hunter and death for the prey. When there is snowfall, so many people die. There will be many natural calamities. All of this will be destroyed. Those are called natural calamities; they cannot be called Godly calamities. How can you blame God for those? It isn’t that Shankar opened his eye and destruction took place. All of those stories belong to the path of devotion. Missiles too are mentioned in the scriptures. You know that they will destroy everything with those missiles. You can see how there will be fire, gas, poisons used in those. The Father explains: At the end, everyone will die suddenly so that not a single child has to suffer. Therefore, they will die quickly through natural calamities. All of this is the predestined drama. Souls are imperishable. They are never destroyed and can never become smaller or larger. All the bodies will be destroyed here. All the souls will go to the sweet home. The Father comes every cycle at the confluence age. You too become the highest on high at this most auspicious confluence age. In fact, only Shiv Baba can be called Shri Shri and the deities called Shri. Nowadays, they continue to call everyone Shri. They say: Shrimati So-and-so and Shri So-and-so. It is only the one Father who gives you shrimat. Is it shrimat to indulge in vice? This is the corrupt world. The Father now says to you sweetest children: Remember Me and your alloy will be removed. While living at home with your families, live as pure as a lotus. You souls now have the knowledge of the beginning, middle and end of the cycle, but those ornaments cannot be given to you. Today, you understand yourselves to be spinners of the discus of self-realisation whereas, tomorrow, Maya would slap you, and all the knowledge would fly away. This is why a rosary of you Brahmins cannot be created. Maya slaps you and makes many of you fall and so how can a rosary be created? The omens continue to change. The rosary of Rudra is fine. There is also the rosary of Vishnu, but there cannot be a rosary of Brahmins. You children are given directions: Renounce your bodies and all your bodily religions and constantly remember Me alone. The Father is incorporeal. He doesn’t have a body of His own. He has to come into this one in his age of retirement when he is 60 years old. Gurus are only adopted in one’s stage of retirement. I am the Satguru, but I am incognito. Those people are gurus of devotion whereas I am of the path of knowledge. Look how Prajapita Brahma has so many children. Your intellects have left the limited and gone into the unlimited. People go into liberation and then go into liberation-in-life. You go first and others go later. Each one of you has to experience happiness first and then sorrow. This is the world drama and this is why it is said: Oh God! This is Your divine game. Your intellects continue to go around from the top to the bottom. You are lighthouses who show the path. You are the children of the Father. The Father says: Remember Me and you will become satopradhan from tamopradhan. You can also explain in trains. The unlimited Father is the Creator of heaven. There was heaven in Bharat. The Father comes in Bharat. They celebrate the birthday of Shiva in Bharat, but no one knows when that was. They don’t have the time or the date because He doesn’t take birth through a womb. The Father says: Consider yourself to be a soul. You came here bodiless, you were pure and you now have to go back bodiless. Constantly continue to remember Me alone and your sins will be cut away. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a lighthouse and show everyone the path. Remove your intellect from the limited and keep it in the unlimited. Become a spinner of the discus of self-realisation.
  2. You now have to return home. Therefore, make effort in your stage of retirement to become satopradhan. Don’t waste your time.
Blessing: May you be a knowledgeable soul who performs every act after careful consideration and thereby remains free from repentance.
It is said in the world: First think and then act. Those who do not think before acting, who do something and then think about it afterwards then have to repent. To think about something afterwards is a form of repentance whereas to think about it before hand is a quality of a knowledgeable soul. In the copper and iron ages, there have been many types of repentance, but now, at the confluence age, you have thoughts with careful consideration and then act so that there isn’t any type of repentance in your mind for even a second. Only then would you be called a knowledgeable soul.
Slogan: Those who are merciful and donate all virtues and powers are master bestowers.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Like Father Brahma, especially at amrit vela, practice stabilizing yourself in a powerful stage, that is, be the seed form the same as the Father. As the time is the elevated time, so your stage also has to be elevated. This is the time of special blessings. Use this time in an accurate way and it will impact your stage of remembrance through the whole day.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 26 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 January 2019

To Read Murli 25 January 2019 :- Click Here
26-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अब तुम्हारी सुनवाई होती है, बाप तुम्हें दु:ख से निकाल सुख में ले जाते हैं, अभी तुम सबकी वानप्रस्थ अवस्था है, वापस घर जाना है”
प्रश्नः- सदा योगयुक्त रहने तथा श्रीमत पर चलने की आज्ञा बार-बार हर बच्चे को क्यों मिलती है?
उत्तर:- क्योंकि अभी अन्तिम विनाश का दृश्य सामने है। करोड़ों मनुष्य मरेंगे, नैचुरल कैलेमिटीज होंगी। उस समय स्थिति एकरस रहे, सब दृश्य देखते भी मिरूआ मौत मलूका शिकार..ऐसा अनुभव हो, उसके लिए योगयुक्त बनना पड़े। श्रीमत पर चलने वाले योगी बच्चे ही मौज में रहेंगे। उनकी बुद्धि में रहेगा कि हम तो पुराना शरीर छोड़ अपने स्वीट होम में जायेंगे।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों से रूहरिहान करते हैं अथवा रूहों को समझाते हैं क्योंकि रूहों ने भक्ति मार्ग में बहुत याद किया है। सब आशिक हैं एक माशूक के। उस माशूक शिवबाबा का चित्र बना हुआ है। उनको बैठ पूजते हैं। उनसे क्या मांगने चाहते हैं, वह पता नहीं है। पूजते तो सब हैं, शंकराचार्य भी पूजा करते हैं। सब उनको बड़ा समझते हैं। भल धर्म स्थापक हैं, परन्तु वह भी पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे उतरते हैं। अभी सब पिछाड़ी के जन्म में आकर पहुँचे हैं। बाबा कहते हैं तुम छोटे बड़े सबकी वानप्रस्थ अवस्था है। मैं तुम सबको वापिस ले जाता हूँ। मुझे बुलाते ही हैं कि पतित दुनिया में आओ। कितना रिगॉर्ड रखते हैं। पतित दुनिया पराये राज्य में आओ। ज़रूर दु:खी होंगे तब तो बुलायेंगे। गाया जाता है दु:ख हर्ता सुख कर्ता तो ज़रूर छी-छी पुरानी दुनिया, पुराने शरीर में आना पड़े। वह भी तमोप्रधान शरीर में। सतोप्रधान दुनिया में मुझे कोई याद भी नहीं करता। ड्रामा अनुसार सबको मैं सुखी बना लेता हूँ। बुद्धि से काम लेना है कि सतयुग में ज़रूर आदि सनातन देवी देवता धर्म होगा और सतसंगों में तो सिर्फ शास्त्र पढ़ते-पढ़ते नीचे उतरते जाते हैं। दलदल में पड़ने वाले दु:खी होते हैं। यह है ही दु:खधाम। वह है सुखधाम। बाप कितना सहज करके समझाते हैं क्योंकि बिचारी अबलायें कुछ भी नहीं जानती हैं। कोई को भी यह पता नहीं है कि फिर वापिस भी जाना है या सदैव पुनर्जन्म लेते ही रहना है। अभी तो सब धर्म वाले हैं। पहले-पहले स्वर्ग था तो एक ही धर्म था। सारा चक्र तुम्हारी बुद्धि में है। कोई और की बुद्धि में यह बातें रह न सके। वह तो कल्प की आयु ही लाखों वर्ष कह देते हैं। इसको कहा जाता है घोर अन्धियारा। ज्ञान है घोर सोझरा। अभी तुम बच्चों की बुद्धि में रोशनी है। तुम कोई मन्दिर आदि में जायेंगे तो तुम कहेंगे हम शिवबाबा के पास जाते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण हम बनते हैं। यह बातें और सतसंगों में नहीं होती। वह सब हैं भक्ति मार्ग की बातें। अभी तुम रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। ऋषि मुनि आदि कहते थे हम नहीं जानते हैं। तुम भी पहले नहीं जानते थे। इस समय सारे विश्व में भक्ति है। यह पुरानी दुनिया है, कितने ढेर मनुष्य हैं। सतयुग नई दुनिया में तो एक ही अद्वेत धर्म था, फिर होता है द्वेत धर्म। अनेक धर्मों में तालियाँ बजती हैं। सबकी एक दो में खिट-खिट है। ड्रामा अनुसार उन्हों की पालिसी ही ऐसी है। किसको भी अलग करते हैं तो लड़ाई होती है, पार्टीशन होते हैं। मनुष्य बाप को न जानने के कारण पत्थरबुद्धि बन पड़े हैं। इस समय बाप समझाते हैं देवी देवता धर्म ही प्राय:लोप हो गया है। एक भी नहीं जिसको पता हो कि इन्हों का भी राज्य था। तुम अभी समझते हो हम देवता बन रहे हैं। शिवबाबा हमारा ओबीडियन्ट सर्वेन्ट है। बड़े आदमी हमेशा चिट्ठी लिखते हैं तो नीचे लिखते हैं ओबीडियन्ट सर्वेन्ट। बाप भी कहते हैं हम ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हैं तो दादा भी कहते हैं हम ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हैं। हम फिर 5 हज़ार वर्ष के बाद हर कल्प के पुरूषोत्तम संगमयुग में आता हूँ। बच्चों की आकर सेवा करता हूँ। मुझे कहते हैं दूर देश के रहने वाला..इनका भी अर्थ नहीं जानते। इतने शास्त्र आदि पढ़ते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते। बाप आकर सब वेदों शास्त्रों का सार समझाते हैं।

तुम बच्चे जानते हो कि इस समय रावण राज्य है। मनुष्य पतित बनते जाते हैं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। तुम बच्चों को दोज़क से निकाल बहिश्त में ले जाते हैं। उनको ही गॉर्डन आफ अल्लाह कहते हैं। कलियुग में है काँटों का जंगल, संगमयुग पर फूलों का बगीचा बन रहा है। फिर वहाँ सतयुग में तुम सदा सुखी रहते हो। एवरहेल्दी, एवरवेल्दी बन जाते हो। आधाकल्प सुख फिर आधाकल्प दु:ख, यह चक्र फिरता ही रहता है। इनकी इन्ड होती नहीं है। सबसे बड़ा बाप आते हैं सबको शान्तिधाम सुखधाम में ले जाते हैं। तुम जब सुखधाम में जाते हो तो बाकी सब शान्तिधाम में रहते हैं। आधाकल्प है सुख का, आधाकल्प है दु:ख का। उनमें भी सुख जास्ती है। अगर आधा-आधा होता तो टेस्ट क्या आयेगी। भक्ति मार्ग में भी बहुत धनवान थे। अभी तुमको याद आता है कि हम कितने धनवान थे! बहुत धनवान जब देवाला मारते हैं तो याद आता है कि हमारे पास क्या-क्या था, कितना धन था। बाप समझाते हैं भारत साहूकार था। पैराडाइज़ था। अब देखो कितना गरीब है। गरीबों पर ही रहम पड़ता है। अब एकदम कंगाल बन पड़े हैं। भीख मांग रहे हैं। जो सालवेन्ट थे अब इनसालवेन्ट बन पड़े हैं। यह भी नाटक है, बाकी जो भी धर्म आते हैं वह बाईप्लाट हैं। कितने धर्म के मनुष्य वृद्धि को पाते रहते हैं। भारतवासियों के ही 84 जन्म हैं। एक बच्चे ने और धर्मों का हिसाब-किताब निकालकर भेजा था। परन्तु जास्ती इन बातों में जाने से कोई फायदा नहीं। यह भी वेस्ट आफ टाईम हुआ। इतना समय अगर बाप की याद में रहते तो कमाई होती। अपनी तो मुख्य बात है – हम पूरा पुरूषार्थ कर विश्व का मालिक बनें। बाप कहते हैं तुम ही सतोप्रधान थे, तुम ही तमोप्रधान बने हो। 84 जन्म भी तुमने लिये हैं, अब फिर वापिस चलना है। बाप से वर्सा लेना है। तुमने आधाकल्प बाप को याद किया, अब बाप आये हैं तुम्हारी सुनवाई होती है। बाप फिर से तुमको सुखधाम में ले जाते हैं। भारत के उत्थान और पतन की भी जैसे एक कहानी है। अब यह है पतित दुनिया। सम्बन्ध भी पुराना है। अब फिर से नये संबंध में चलना है। इस समय एक्टर्स सब हाज़िर हैं। इनमें कोई फ़र्क नहीं पड़ सकता है। आत्मा तो अविनाशी है। कितनी ढेर आत्मायें होगी। उनका कभी विनाश नहीं होता। इतनी करोड़ों आत्माओं को पहले तो वापिस जाना है। बाकी शरीर तो सबके खत्म हो जाते हैं इसलिए होलिका भी मनाते हैं।

तुम जानते हो हम सो पूज्य थे फिर पुजारी बनें, अब फिर पूज्य बनते हैं। वहाँ यह नॉलेज नहीं होगी, न यह शास्त्र आदि होंगे। सब खत्म हो जायेंगे। जो योगयुक्त होंगे, श्रीमत पर चलने वाले होंगे वह सब कुछ देखेंगे। कैसे अर्थक्वेक में सब खलास होता है। अखबारों में भी पड़ता है, कैसे गाँव के गाँव खत्म हो जाते हैं। बाम्बे पहले इतनी नहीं थी। समुद्र को सुखाया फिर समुद्र हो जायेगा। यह मकान आदि सब कुछ नहीं रहेगा। सतयुग में मीठे पानी पर महल होंगे। खारे पानी पर होते नहीं। तो यह रहेंगे नहीं। एक ही उछल समुद्र की आई तो सब खत्म हो जायेंगे। बहुत उपद्रव होंगे। करोड़ों मनुष्य मरेंगे। अनाज कहाँ से आयेगा। वो लोग भी समझते हैं आफतें आनी हैं। मनुष्य मरेंगे तो जो योगयुक्त होंगे वह उस समय मौज में रहेंगे। मिरूआ मौत मलूका शिकार। बर्फ की बरसात पड़ने से ढेर मनुष्य मर जाते हैं। बहुत नैचुरल कैलेमिटीज होगी। यह सब खत्म हो जायेंगे। इनको कहा जाता है नैचुरल कैलेमिटीज़, गॉडली कैलेमिटीज़ नहीं कहेंगे। गॉड को दोष कैसे देंगे। ऐसे भी नहीं शंकर ने ऑख खोली तो विनाश हो गया। यह सब हैं भक्ति मार्ग की बातें। मूसलों के लिए भी शास्त्रों में लिखा है। तुम जानते हो इन मिसाइल्स से कैसे विनाश करते हैं। कैसे आग, गैस ज़हर आदि सब उसमें पड़ते हैं। बाप समझाते हैं – पिछाड़ी में सब फट से मर जाएं कोई बच्चे आदि भी दु:खी न हों, इसलिए नैचुरल कैलेमिटीज़ से झट मरेंगे। यह सब बना बनाया ड्रामा है। आत्मा तो अविनाशी है, कभी विनाश नहीं होती, न छोटी बड़ी होती है। शरीर सब यहाँ खलास होंगे। बाकी आत्मायें सब स्वीट होम में चली जायेंगी। बाप कल्प-कल्प आते हैं संगमयुग पर, तुम भी इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर ही ऊंचे ते ऊंच बनते हो। वास्तव में श्री-श्री शिवबाबा को और श्री इन देवताओं को कहा जाता है। आजकल तो देखो सबको श्री-श्री कहते रहते हैं। श्रीमती, श्री फलाना। अब श्रीमत तो एक बाप ही देते हैं। विकार में जाना, क्या यह श्रीमत है। यह तो है ही भ्रष्टाचारी दुनिया।

अब मीठे-मीठे बच्चों को बाप कहते हैं मुझे याद करो तो खाद निकल जाए। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र रहो। स्व को अब विश्व के आदि-मध्य-अन्त के चक्र का ज्ञान हुआ है। परन्तु यह अलंकार तुमको नहीं दे सकते। आज तुम अपने को स्वदर्शन चक्रधारी समझते हो कल माया थप्पड़ लगा दे तो ज्ञान ही उड़ जाये इसलिए तुम ब्राह्मणों की माला भी नहीं बन सकती। माया थप्पड़ लगाए बहुतों को गिरा देती है, तो उनकी माला कैसे बनेगी। दशायें बदलती रहती हैं। रूद्र माला ठीक है। विष्णु की माला भी है। बाकी ब्राह्मणों की माला नहीं बन सकती। तुम बच्चों को डायरेक्शन देते हैं कि देह सहित देह के सब धर्म छोड़ मामेकम् याद करो। बाप तो निराकार है। उनको अपना शरीर तो है नहीं। और आये भी हैं इनकी वानप्रस्थ अवस्था में। जब 60 वर्ष की आयु हुई। वानप्रस्थ अवस्था में ही गुरू किया जाता है। मैं तो हूँ सतगुरू, परन्तु गुप्त वेष में। वह हैं भक्ति के गुरू, मैं हूँ ज्ञान मार्ग का। प्रजापिता ब्रह्मा को देखो कितने ढेर बच्चे हैं। बुद्धि हद से निकल बेहद में चली गई है। मुक्ति में जाकर फिर जीवनमुक्ति में आते हैं। तुम पहले आते हो दूसरे पीछे आते हैं। हर एक को पहले सुख फिर दु:ख भोगना पड़ता है। यह वर्ल्ड ड्रामा है तब तो कहते हैं अहो प्रभू तेरी लीला..तुम्हारी बुद्धि ऊपर से नीचे तक चक्र लगाती रहती है। तुम हो लाइट हाउस, रास्ता बताने वाले। तुम बाप के बच्चे हो ना। फादर कहते हैं मुझे याद करो तो तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। ट्रेन में भी तुम समझा सकते हो – बेहद का बाप स्वर्ग का रचयिता है, भारत में स्वर्ग था। बाप आते हैं भारत में। शिव जयन्ती भी भारत में मनाई जाती है। परन्तु कब होती है, यह कोई नहीं जानते। तिथि तारीख दोनों ही नहीं हैं क्योंकि गर्भ से जन्म नहीं लेते। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। तुम अशरीरी आये थे, पवित्र थे फिर अशरीरी होकर जायेंगे। मामेकम् याद करते रहो तो पाप कट जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) लाइट हाउस बन सबको रास्ता बताना है। बुद्धि हद से निकाल बेहद में रखनी है। स्वदर्शन चक्रधारी बनना है।

2) अब वापस घर जाना है इसलिए इस वानप्रस्थ अवस्था में सतोप्रधान बनने का पुरूषार्थ करना है। अपना टाइम वेस्ट नहीं करना है।

वरदान:- सोच-समझकर हर कर्म करने वाले पश्चाताप से मुक्त ज्ञानी तू आत्मा भव
दुनिया में भी कहते हैं पहले सोचो फिर करो। जो सोचकर नहीं करते, करके फिर सोचते हैं तो पश्चाताप का रूप हो जाता है। पीछे सोचना, यह पश्चाताप का रूप है और पहले सोचना – यह ज्ञानी तू आत्मा का गुण है। द्वापर-कलियुग में तो अनेक प्रकार के पश्चाताप ही करते रहे लेकिन अब संगम पर ऐसा सोच समझकर संकल्प वा कर्म करो जो कभी मन में भी, एक सेकण्ड भी पश्चाताप न हो, तब कहेंगे ज्ञानी तू आत्मा।
स्लोगन:- रहमदिल बन सर्व गुणों और शक्तियों का दान देने वाले ही मास्टर दाता हैं।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

ब्रह्मा बाप समान विशेष अमृतवेले पॉवरफुल स्टेज अर्थात् बाप समान बीजरूप स्थिति में स्थित रहने का अभ्यास करो। जैसा श्रेष्ठ समय है, वैसी श्रेष्ठ स्थिति होनी चाहिए। तो यह विशेष वरदान का समय है। इस समय को यथार्थ रीति यूज़ करो तो सारे दिन की याद की स्थिति पर उसका प्रभाव रहेगा।

TODAY MURLI 26 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 January 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 January 2018 :- Click Here

26-01-2018
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are the swans who pick up pearls. Your group is the group of swans (hans mandli). You are the lucky stars because the Father, the Sun of Knowledge is personally teaching you Himself.
Question: What enlightenment has the Father given all of you children through which your efforts have become intense?
Answer: The Father has given you this enlightenment: Children, it is now the end of this drama. You have to go to the new world. Don’t think that you will receive whatever you are to receive. First , there has to be effort. To become pure and purify others is a very great service. As soon as you children received this enlightenment your efforts became intense.
Song: You are the Ocean of Love. We thirst for one drop.

Om shanti. You children know that the unlimited Father, the Ocean of Love, the Ocean of Peace and the Ocean of Bliss is personally sitting in front of you and teaching you. You are such lucky stars that the Father, the Sun of Knowledge, Himself, is personally teaching you. The stork mandli has now become the swan mandli. You have become those who pick up pearls. All of you brothers and sisters are swans and so this is also called a swan mandli. Only those of the previous cycle recognise one another at this time in this birth. The spiritual Mother and Father from beyond and the brothers and sisters recognise one another. You remember that you met one another 5000 years ago in those same names and forms. You can say this at this time. You won’t be able to say it in any other birth. All of those who become Brahma Kumars and Kumaris will recognise one another. Baba, You are the same One. We are your same children. We brothers and sisters are once again claiming our inheritance from our Father. The Father and the children are now sitting personally in front of you. Then those names and forms etc. will all change. Lakshmi and Narayan will not say that they are the same Lakshmi and Narayan of the previous cycle. Even the subjects would not say that this Lakshmi and Narayan are the same ones of the previous cycle; no. It is only at this time that you children know this. At this time you know a great deal. Previously, you didn’t know anything at all. I Myself come at the confluence age and give you My introduction. Only the unlimited Father can say this. Establishment of the new world and destruction of the old world definitely have to take place. This is the confluence of the two. This is a very beneficial age. Neither the golden age nor the iron age can be called beneficial. This present life of yours is remembered as a very valuable life. It is in this birth that you have to become like a diamond from a shell. You children are the true helpers of God. You are the Godly Salvation Army. God comes and liberates you from Maya. You know that He liberates you in particular and the world in general from the chains of Maya. This too is fixed in the drama. Now, whose greatness would that be? Those whose acts are great are glorified. Therefore, it is the greatness of the Supreme Father, the Supreme Soul. There is now a big burden of sinful souls on this earth. There are as many human beings as there are mustard seeds. The Father comes and removes the burden. There, there will only be a few thousand and so that is not even a quarter per cent. Therefore, you have to understand this drama very well. God is called the Almighty Authority. This is His part in the drama. The Father says: I too am tied in the drama. It is written: Whenever there is extreme irreligiousness, I come… Now, there truly is defamation of religion in Bharat. People defame Me and also the deities and this is why they have become very sinful souls. They have to become that. They have to go through the stages of sato, rajo and tamo. You have now understood this drama. The cycle continues to turn around in your intellects. The Father has come and enlightened you. It is now the end of this drama. You now have to make effort for the new world. Don’t think that you will receive whatever you are to receive. No; first iseffort. All the power is in purity. It is the greatness of purity. Deities are pure and this is why impure human beings go and bow down in front of their idols. They even bow down to sannyasis. Because they remained pure, memorials of them are created after they die. Some people do a lot of physical service; they open hospitals and colleges and so their names too are glorified. The greatest name is of the One who purifies everyone and of those who become His helpers. You become pure by having yoga with that One who is ever pure. The more yoga you continue to have, the purer you will continue to become. Then your final thoughts will lead you to your destination. You will then go to the Father. When those people go on a pilgrimage, they don’t think that they are going to the Father. Nevertheless, they still remain pure. Here, the Father purifies everyone. It is so easy to understand the drama. He continues to explain many points to you. He then says: Simply remember the Father and your inheritance. When someone is dying, everyone reminds him of God. Achcha, what would God do? Then, when that person sheds his body, they say that he has become a resident of heaven, which means that by shedding your body in remembrance of God you will go to heaven. Those people don’t even know the Father. It isn’t in any of their intellects that they will go to heaven by remembering the Father. They simply say: Remember the Supreme Soul. In English, they say: God, the Father. Here, you say: The Supreme Father, the Supreme Soul. Those people first say God and then the Father. We first say, Supreme Father and then Supreme Soul. He is the Father of all. If all were the Father, they could not say: God, the Father. They cannot understand such a small matter! The Father has explained everything and made it easy for you. When people are unhappy, they remember the Supreme Soul. People are body conscious and it is the soul that has remembrance. If the Supreme Soul were omnipresent, why would souls remember Him? If souls are immune to the effect of action, then what is it that souls remember? On the path of devotion it is souls that remember God because they are unhappy. You have to remember Him to the extent that you have received happiness. This is your study. Your aim and objective is also clear. There is no question of blind faith in this. You know those of all religions. All are present at this time. The history of the deity religion now has to repeat. This is nothing new. We claim the kingdom every cycle. Just as a limited play repeats, in the same way, this is an unlimited play. Who is our enemy for half the cycle? Ravan. We do not claim the kingdom by fighting. Neither do we fight a violent war nor do we take an army in order to conquer someone. This is a play of victory and defeat, but defeat is subtle and victory is also subtle. Those who are defeated by Maya are defeated by everything. Those who conquer Maya conquer everything. People put the word ‘mind’ instead of ‘Maya’, and so that has become wrong. This play is predestined in the drama. The Father Himself sits here and gives you His introduction. No other human beings know the Creator, and so how could they give His introduction? The Creator is the one Father and all of us are creation. So, we should receive the fortune of the kingdom. People say that God is omnipresent which makes everyone the Creator; they have done away with the creation. Their intellects have become such stone intellects and so unhappy. They simply continue to praise themselves and say that they are Vaishnavs. That means that they are half-deities. They understand that the deities were Vaishnavs. In fact, the principal meaning of being vegetarian is to have non-violence as your supreme religion. Deities are said to be firm Vaishnavs. There are many who call themselves Vaishnavs in this way. However, the Vaishnav community was also pure in the kingdom of Lakshmi and Narayan. Now, where is the kingdom of that Vaishnav community? You have now become Brahmins. You are Brahma Kumars and Kumaris and so there would also surely be Brahma. This is why the name has been kept: The dynasty of Shiva, the children of Prajapita Brahma. It is remembered that Shiv Baba came. He created the Brahmin community; they became Brahmins and then deities. You have now become Brahmins from shudras and this is why you are called Brahma Kumars and Kumaris. It is also good to explain the variety-form image. They have shown the variety-form image of Vishnu. Vishnu and his kingdom are shown in the cycle of the variety-form. All of these are Baba’s churnings. If you too churn the ocean of knowledge you will not be able to sleep at night. You will continue to think about all of these things. You will then wake up in the morning and occupy yourself in your business etc. It is said: “Lord of the Morning”. When you sit and explain to someone, he will say: Oho! You have come to change them from human beings into deities, from beggars into princes. First of all, do alokik service and then do physical service afterwards. You need to have the interest. The mothers especially can do very good service. No one will reject the mothers. You have to explain to everyone: greengrocers, grocers and servants. No one should be left out that they would complain. Honesty in the heart is required for service. You need to have full yoga with the Father for only then can you imbibe this. Fill the steamer with all the stock and then go to the port to delivereverything. Such souls would not be able to stay at home happily; they would continue to run to serve. This picture also helps a great deal. It is so clear! Shiv Baba is carrying out establishment of the land of Vishnu through Brahma. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra, not the sacrificial fire of the knowledge of Krishna. The flames of destruction emerged from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Krishna cannot create this sacrificial fire. During his 84 births, his name and form continue to change. Krishna cannot exist in any other name or form. Only when he exists in that form again will the part of Krishna repeat. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become true helpers of God, that is, become the Godly Salvation Army and liberate everyone from Maya. Become like a diamond from a shell in this life and also make others the same.
  2. Just as Baba churns the ocean of knowledge, so churn the knowledge in the same way. Become benevolent and remain occupied in spiritual service. Serve with honesty in your heart.
Blessing: May you have the awareness of “mine” and receive the dristhi of love and mercy and become filled with power.
BapDada, the Ocean of Mercy, sees such children who recognise the Father and say from their hearts, “My Baba”. Then, in return, He gives multimillion fold spiritual love. The vision of mercy and love constantly enables such souls to move forward. This spiritual awareness of “mine” becomes a blessing for the children to fill themselves with power. BapDada does not need to give blessings through words, for every child continues to be sustained with subtle thoughts of love.
Slogan: Those who love the Father cannot have love for any other people or possessions.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 January 2018

To Read Murli 25 January 2018 :- Click Here
26-01-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम मोती चुगने वाले हंस हो, तुम्हारी है हंसमण्डली, तुम लकी सितारे हो, क्योंकि स्वयं ज्ञान सूर्य बाप तुम्हें सम्मुख पढ़ा रहे हैं”
प्रश्नः- बाप ने सभी बच्चों को कौन सी रोशनी दी है, जिससे पुरुषार्थ तीव्र हो गया?
उत्तर:- बाप ने रोशनी दी, बच्चे अब इस ड्रामा की अन्त है, तुम्हें नई दुनिया में चलना है। ऐसे नहीं जो मिलना होगा वह मिलेगा। पुरुषार्थ है फर्स्ट। पवित्र बनकर औरों को पवित्र बनाना, यह बहुत बड़ी सेवा है। यह रोशनी आते ही तुम बच्चों का पुरुषार्थ तीव्र हो गया।
गीत:- तू प्यार का सागर है…

ओम् शान्ति। बच्चे जानते हैं कि प्यार का सागर, शान्ति का सागर, आनन्द का सागर बेहद का बाप सम्मुख बैठ हमको शिक्षा दे रहे हैं। कितने लकी सितारे हैं, जिनको सम्मुख ज्ञान सूर्य बाप पढ़ा रहे हैं। अब जो बगुला मण्डली थी, वह हंस-मंडली बन गई है। मोती चुगने लग गये हैं। यह भाई-बहन सब हैं हंस, इनको हंस मण्डली भी कहा जाता है। कल्प पहले वाले ही इस समय, इस जन्म में एक दो को पहचानते हैं। रूहानी पारलौकिक माँ बाप और भाई बहन आपस में एक दो को पहचानते हैं। याद है कि 5 हजार वर्ष पहले भी हम आपस में इसी नाम रूप से मिले थे? यह तुम अभी कह सकते हो, फिर कभी भी कोई जन्म में ऐसे कह नहीं सकेंगे। जो भी ब्रह्माकुमार कुमारियाँ बनते हैं, वही एक दो को पहचानेंगे। बाबा आप भी वही हो, हम आपके बच्चे भी वही हैं, हम भाई-बहन फिर से अपने बाप से वर्सा लेते हैं। अभी बाप और बच्चे सम्मुख बैठे हैं फिर यह नाम-रूप आदि सब बदल जायेगा। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि हम वही कल्प पहले वाले लक्ष्मी-नारायण हैं वा प्रजा थोड़ेही कहेगी कि यह वही कल्प पहले वाले लक्ष्मी-नारायण हैं। नहीं। यह सिर्फ इस समय तुम बच्चे ही जानते हो। इस समय तुम बहुत कुछ जान जाते हो। पहले तो तुम कुछ नहीं जानते थे। मैं ही कल्प के संगमयुगे आकर अपनी पहचान देता हूँ। यह सिर्फ बेहद का बाप ही कह सकते हैं। नई दुनिया की स्थापना तो पुरानी दुनिया का विनाश भी जरूर होना चाहिए। यह है दोनों का संगमयुग। यह बहुत कल्याणकारी युग है। सतयुग को वा कलियुग को कल्याणकारी नहीं कहेंगे। तुम्हारा यह अभी का जीवन अमूल्य गाया हुआ है। इसी जीवन में कौड़ी से हीरे जैसा बनना है। तुम बच्चे सच्चे-सच्चे खुदाई खिदमतगार हो। ईश्वरीय सैलवेशन आर्मी हो। ईश्वर आकर माया से तुमको लिबरेट करते हैं। तुम जानते हो कि हमको इनपर्टीक्युलर (खास) और दुनिया को इनजनरल (आम) माया की जंजीरों से छुड़ाते हैं। यह भी ड्रामा में नूँध है। अब बड़ाई किसको देवें? जिसकी एक्टिंग अच्छी होती है, उनका ही नाम होता है। तो बड़ाई भी परमपिता परमात्मा को ही दी जाती है। अब धरती पर पापात्माओं का बहुत बोझ है। सरसों मिसल कितने ढेर मनुष्य हैं। बाप आकर बोझ उतारते हैं। वहाँ तो कुछ लाख ही होते हैं, तो क्या क्वार्टर परसेन्ट भी नहीं हुआ। तो इस ड्रामा को भी अच्छी रीति समझना है। परमात्मा को सर्वशक्तिमान् कहते हैं। यह भी उनका ड्रामा में पार्ट है। बाप कहते हैं मैं भी ड्रामा में बाँधा हुआ हूँ। यदा यदाहि धर्मस्य… लिखा हुआ है। अब वही धर्म की ग्लानि भी भारत में बरोबर है। मेरी भी ग्लानी करते हैं, देवताओं की भी ग्लानी करते हैं, इसलिए बहुत पाप आत्मा बन पड़े हैं। यह भी उन्हों को बनना ही है। सतो, रजो, तमो में आना ही है। तुम इस ड्रामा को समझ गये हो। बुद्धि में चक्र फिरता रहता है। बाप ने आकर रोशनी दी है। अभी इस ड्रामा की अन्त है। अब तुम फिर नई दुनिया के लिए पुरुषार्थ करो। ऐसे नहीं जो मिलना होगा वह मिलेगा। नहीं। पुरुषार्थ फर्स्ट। सारी ताकत पवित्रता में है। पवित्रता की बलिहारी है। देवतायें पवित्र हैं तब अपवित्र मनुष्य उन्हों के आगे जाकर माथा झुकाते हैं। सन्यासियों को भी माथा टेकते हैं। मरने के बाद उन्हों का यादगार बनाया जाता है क्योंकि पवित्र बने हैं। कोई-कोई जिस्मानी काम भी बहुत करते हैं। हॉस्पिटल खोलते हैं वा कालेज बनाते हैं तो उन्हों का भी नाम निकलता है। सबसे बड़ा नाम उनका है जो सबको पवित्र बनाते हैं और जो उनके मददगार बनते हैं। तुम पवित्र बनते हो, उस एवर-प्योर के साथ योग लगाने से। जितना तुम योग लगाते जायेंगे उतना तुम पवित्र बनते जायेंगे, फिर अन्त मती सो गति। बाप के पास चले जायेंगे। वो लोग यात्रा पर जाते हैं तो ऐसे नहीं समझते हैं कि बाप के पास जाना है। फिर भी पवित्र रहते हैं। यहाँ तो बाप सभी को पवित्र बनाते हैं। ड्रामा को भी समझना कितना सहज है। बहुत प्वॉइन्ट्स समझाते रहते हैं। फिर कहते हैं सिर्फ बाप और वर्से को याद करो। मरने समय सब भगवान की याद दिलाते हैं। अच्छा भगवान क्या करेगा? फिर कोई शरीर छोड़ते हैं तो कहते हैं स्वर्गवासी हुआ। गोया परमात्मा की याद में शरीर छोड़ने से वैकुण्ठ में चले जायेंगे। वो लोग बाप को जानते नहीं। यह भी किसकी बुद्धि में नहीं है कि हम बाप को याद करने से, वैकुण्ठ में पहुँच जायेंगे। वह सिर्फ कहते हैं परमात्मा को याद करो। अंग्रेजी में गॉड फादर कहते हैं। यहाँ तुम कहते हो परमपिता परमात्मा। वो लोग पहले गॉड फिर फादर कहते। हम पहले परमपिता फिर परमात्मा कहते। वह सबका फादर है। अगर सभी फादर हों तो फिर ओ गॉड फादर कह न सकें। थोड़ी सी बात भी नहीं समझ सकते। बाप ने तुमको सहज करके समझाया है। मनुष्य जब दु:खी होते हैं तो परमात्मा को याद करते हैं। मनुष्य हैं देह-अभिमानी और याद करती है देही (आत्मा) अगर परमात्मा सर्वव्यापी है तो फिर आत्मा (देही) क्यों याद करे? अगर आत्मा निर्लेप है फिर भी देही अथवा आत्मा क्या याद करती है? भक्तिमार्ग में आत्मा ही परमात्मा को याद करती है क्योंकि दु:खी है। जितना सुख मिला है उतना याद करना पड़ता है।

यह है पढ़ाई, एम-आबजेक्ट भी क्लीयर है। इसमें अंधश्रद्धा की कोई बात नहीं। तुम सभी धर्म वालों को जानते हो – इस समय सभी मौजूद हैं। अब फिर देवी-देवता धर्म की हिस्ट्री-रिपीट होनी है। यह कोई नई बात नहीं। कल्प-कल्प हम राज्य लेते हैं। जैसे वह हद का खेल रिपीट होता है वैसे यह बेहद का खेल है। आधाकल्प का हमारा दुश्मन कौन? रावण। हम कोई लड़ाई कर राज्य नहीं लेते हैं। न कोई हिंसक लड़ाई लड़ते हैं, न कोई जीत पहनने के लिए लश्किर लेकर लड़ते हैं। यह हार जीत का खेल है। परन्तु हार भी सूक्ष्म तो जीत भी सूक्ष्म। माया से हारे हार है, माया से जीते जीत है। मनुष्यों ने माया के बदले मन अक्षर डाल दिया है तो उल्टा हो गया है। यह ड्रामा में खेल भी पहले ही बना हुआ है। बाप खुद बैठ परिचय देते हैं। रचयिता को और कोई मनुष्य जानते ही नहीं, तो परिचय कैसे दे सकते। रचयिता है एक बाप, बाकी हम हैं रचना। तो जरूर हमको राज्य-भाग्य मिलना चाहिए। मनुष्य तो कह देते परमात्मा सर्वव्यापी है तो सब रचता हो गये। रचना को उड़ा दिया है, कितने पत्थरबुद्धि, दु:खी हो गये हैं। सिर्फ अपनी महिमा करते हैं कि हम वैष्णव हैं, गोया हम आधा देवता हैं। समझते हैं देवतायें वैष्णव थे। वास्तव में वेजीटेरियन का मुख्य अर्थ है अहिंसा परमोधर्म। देवताओं को पक्के वैष्णव कहा जाता है। ऐसे तो अपने को वैष्णव कहलाने वाले बहुत हैं। परन्तु लक्ष्मी-नारायण के राज्य में वैष्णव सम्‍प्रदाय पवित्र भी थे। अब उस वैष्णव सम्‍प्रदाय का राज्य कहाँ है? अब तुम ब्राह्मण बने हो, तुम ब्रह्माकुमार कुमारियां हो तो जरूर ब्रह्मा भी होगा, तब तो नाम रखा हुआ है शिववंशी प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद। गाया भी जाता है कि शिवबाबा आया था, उसने ब्राह्मण सम्‍प्रदाय रची, जो ब्राह्मण फिर देवता बने। अब तुम शुद्र से ब्राह्मण बने हो तब ब्रह्माकुमार कुमारी कहलाते हो। विराट रूप के चित्र पर भी समझाना अच्छा है। विष्णु का ही विराट रूप दिखाया है। विष्णु और उसकी राजधानी (सन्तान) ही विराट चक्र में आते हैं। यह सब बाबा के विचार चलते हैं। तुम भी विचार सागर मंथन की प्रैक्टिस करेंगे तो रात्रि को नींद नहीं आयेगी। यही चिंतन चलता रहेगा। सुबह को उठ धन्धे आदि में लग जायेंगे। कहते हैं सुबह का सांई…. तुम भी किसको बैठ समझायेंगे तो कहेंगे – ओहो! यह तो हमको मनुष्य से देवता, बेगर से प्रिन्स बनाने आये हैं। पहले अलौकिक सेवा करनी चाहिए, स्थूल सर्विस बाद में। शौक चाहिए। खास मातायें बहुत अच्छी रीति सर्विस कर सकती हैं। माताओं को कोई धिक्कारेंगे नहीं। सब्जी वाले, अनाज वाले, नौकर आदि सबको समझाना है। कोई रह न जाए जो उल्हना देवे। सर्विस में दिल की सच्चाई चाहिए। बाप से पूरा योग चाहिए तब धारणा हो सके। वक्खर (सामग्री) भरकर फिर पोर्ट पर स्टीम्बर डिलेवरी करने जायें। उनको फिर घर में सुख नहीं आयेगा, भागता रहेगा। यह चित्र भी बहुत मदद देते हैं। कितना साफ है – शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा विष्णुपुरी की स्थापना करा रहे हैं। यह है रूद्र ज्ञान यज्ञ, कृष्ण ज्ञान यज्ञ नहीं। इस रूद्र ज्ञान यज्ञ से विनाश ज्वाला प्रज्जवलित हुई है। कृष्ण तो यज्ञ रच नहीं सकते। वह 84 जन्म लेंगे तो नाम-रूप बदल जायेगा और कोई रूप में कृष्ण हो न सके। कृष्ण का पार्ट तो जब उसी रूप में आये तब ही रिपीट करे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चे-सच्चे खुदाई खिदमतगार अथवा ईश्वरीय सैलवेशन आर्मी बन सबको माया से लिबरेट करना है। इस जीवन में कौड़ी से हीरे जैसा बनना और बनाना है।

2) जैसे बाबा विचार सागर मंथन करते हैं, ऐसे ज्ञान का विचार सागर मंथन करना है। कल्याणकारी बन अलौकिक सेवा में तत्पर रहना है। दिल की सच्चाई से सेवा करनी है।

वरदान:- मेरे-पन की स्मृति से स्नेह और रहम की दृष्टि प्राप्त करने वाले समर्थी सम्पन्न भव
जो बच्चे बाप को पहचान कर दिल से एक बार भी ”मेरा बाबा” कहते हैं तो रहम के सागर बापदादा ऐसे बच्चों को रिटर्न में पदमगुणा उसी रूहानी प्यार से देखते हैं। रहम और स्नेह की दृष्टि उन्हें सदा आगे बढ़ाती रहती है। यही रूहानी मेरे पन की स्मृति ऐसे बच्चों के लिए समर्थी भरने की आशीर्वाद बन जाती है। बापदादा को मुख से आशीर्वाद देने की आवश्यकता नहीं पड़ती है लेकिन सूक्ष्म स्नेह के संकल्प से हर बच्चे की पालना होती रहती है।
स्लोगन:- जो बाप के प्यारे हैं, उनका अन्य किसी व्यक्ति वा वैभव से प्यार हो नहीं सकता।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize