today murli 26 december

TODAY MURLI 26 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 December 2018 :- Click Here

26/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Benefactor Father is now benefiting you in such a way that you never have to cry. To cry is a sign of inauspiciousness and of body consciousness.
Question: By knowing what is fixed in destiny can you always remain carefree?
Answer: You know that this old world is definitely to be destroyed. Although people continue to make effort for peace, human beings want one thing and something else happens. No matter how much they try, this destiny cannot be prevented. There have to be natural calamities. You have the intoxication that you have taken God’s lap. All the visions that you have had are to happen in a practical way. You therefore remain constantly carefree.

Om shanti. At this moment in the world, there is praise of only the path of devotion in people’s intellects because it is now the path of devotion. Here, there is no praise of devotion. Here, there is praise of the Father. You have to praise the Father from whom you receive such an elevated inheritance. There is no happiness in devotion. Even while on the path of devotion, they still remember heaven. When a person dies, people say that he has become a resident of heaven. So, they should be happy. If someone takes birth in heaven, there is no need to cry. In fact, it is not true that he has become a resident of heaven and this is why they continue to cry. Now, how can there be benefit for those who cry? Crying is a sign of sorrow. Human beings cry, do they not? Even babies cry when they are born because they feel sorrow. If there weren’t sorrow, they would definitely remain cheerful. One feels like crying when there is one type of loss or another. There is never any inauspiciousness in the golden age, and this is why they never cry there. There is no question of anything inauspicious there. Here, sometimes there is a loss in earning an income and sometimes there isn’t any food, and so they are unhappy. At a time of sorrow, people cry and they remember God: Come and benefit everyone. If He is omnipresent, who is it they are telling to come and benefit everyone? To believe that the Supreme Father, the Supreme Soul, is omnipresent is the biggest mistake. The Father is the Benefactor for All. He alone is the Benefactor and so He surely has to benefit everyone. You children know that the Supreme Father, the Supreme Soul, always benefits everyone. So, when can that Supreme Father, the Supreme Soul, come so that He can benefit the world? There is no one else who could benefit the world. They then call the Father omnipresent. That is such a big mistake. The Father now gives you His own introduction and says: Manmanabhav! Only in this is there benefit. In the golden and silver ages, under no circumstances is there ever any inauspiciousness. Even in the silver age, when it is the kingdom of Rama, the lion and the lamb drink water together. We do not praise the kingdom of Rama and Sita as much because, when it becomes two degrees fewer, there is a little less happiness. We prefer heaven which the Father establishes. If we claim our full inheritance of that, it is good. We have to claim the inheritance from the highest-on-high Father and benefit everyone. Each one has to benefit the self by following shrimat. The Father has explained: One is the devilish community and the other is the deity community. Now, on the one side there is the kingdom of Ravan and on the other side I am establishing the deity community. It isn’t that it is the deity community now. I am making the devilish community divine. It is said that the deity community exists in the golden age. The Father says: I am changing this devilish community into the future deity community. It is now the Brahmin community. The deity community is being created. Even Guru Nanak said: It didn’t take God long to change humans into deities. However, which human beings would He change into deities? They don’t know the beginning, the middle or the end of the drama. Even the most elevated Lakshmi and Narayan who exist at the beginning of the world do not know the beginning, the middle or the end. They are not trikaldarshi. They were trikaldarsh in their previous birth. They were spinners of the discus of self-realisation and that was how they claimed their royal status. However, people have then given the discus of self-realisation to Vishnu. Therefore, you have to explain that it is Brahmins who are spinners of the discus of self-realisation, and people will be amazed. They say Krishna is that and also Vishnu is that. They don’t know that Vishnu is the dual-form of Lakshmi and Narayan. We did not know this either. In every situation people say, “It is destiny!” No one can prevent that which is to happen. This is the drama. So, first of all, do you have to give the Father’s introduction or explain the secrets of the drama? In that too, you have to have remembrance of Baba. So, first of all, you have to give the Father’s introduction. Shiv Baba, the unlimited Baba, is well known. “Rudra Baba” is never said. Shiv Baba is very well known. The Father has explained: Wherever there are devotees, go there and explain to them. It was printed in the newspapers that people say that the age of the Himalayas is multimillion years. How could there be an age for the Himalayas? They always exist. Do the Himalayas ever disappear? This Bharat is also eternal. You cannot say when it was created; you cannot give it an age. In the same way, you cannot even say how long the Himalayas have been here. There cannot be an age for these Himalayan mountains. You cannot say that the sky or the ocean are this old. If they speak of the age of the Himalayas, they should also be able to tell the age of the ocean, but they don’t know anything. Here, you have to receive your inheritance from your Father. This is the Godly family. You know that by belonging to the Father you become the masters of heaven. It is not a question of one King Janak. There will be many in liberation-in-life in God’s kingdom. All will have received liberation-in-life. You are making effort in order to receive liberation and liberation-in-life in a second. You have become children. You say: Mama, Baba. You would receive liberation-in-life, would you not? You can understand that so many subjects are being created. Your influence has to spread day by day. It takes a lot of effort to establish this religion. Those souls come from up above to carry out their establishment and all others follow on after them. Here, each one of you has to be made worthy of receiving your fortune of the kingdom. It is the Father’s duty to make you worthy. Maya has made everyone unworthy, even those who were worthy of liberation and liberation-in-life. Even the five elements have become unworthy. Again, it is the Father who makes them worthy. Whatever effort is being made at every second now, you understand that so-and-so made the same effort in the previous cycle. Some who were amazed, run away and divorce the Father. You continue to see this in a practical way. You also understand that destruction is just ahead. According to the drama, everyone has to come to act. Human beings want one thing but destiny is something else. They want peace but you children know the destiny. You have had visions. No matter how much they beat their heads for destruction not to take place, it cannot be prevented; it is destined. There will be earthquakes and natural calamities. What can they do? They will say: This is an act of God. Among you too, there are very few of you who have that much intoxication and stay in remembrance. Not everyone has become complete. You know that this destiny cannot be prevented. There isn’t food; there is no place for people to stay; one can’t find three feet of land. This is your Godly family: the mother, Father and children. The Father says: I reveal Myself in front of My children. I teach you children. Children say: We are following the Father’s directions. The Father says: I only come personally in front of my children and give them directions. Only my children would understand them. If you don’t understand them, then leave it alone; there is no need to fight. I am giving you the Father’s introduction. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved, and remember the discus of self-realisation and you will become rulers of the globe. This is the meaning of “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”. Give the Father’s introduction through which they can understand the secrets of the Creator and creation. This is the main thing. This is the one main mistake in the Gita. The Father says: I, the Benefactor, have to come and benefit everyone. However, there cannot be any benefit in the scriptures. First of all, you have to prove that God is One. You remember Him but you don’t know Him. If you want to remember the Father, you also need His introduction. Where does He live? Does He come here or not? The Father would definitely give the inheritance for here. Or, would it be for there? The Father has to be personally in front of you. People celebrate Shiv Ratri. Shiva is the Supreme Father of all souls. He is the Creator and He gives new knowledge. He knows the beginning, middle and end of the world cycle. He is the highest-on-high T eacher who changes human beings into deities. He teaches you Raja Yoga. Human beings can never teach Raja Yoga. We have been taught by Him and this is why we able to teach you. “Manmanabhav and Madhyajibhav” are mentioned at the beginning and the end of the Gita. You also have the knowledge of the tree and the drama in your intellects. They have to be explained in detail. The end result is just one thing: You have to remember the Father and the inheritance. Here, there is just the one thing: We will become the masters of the world. Only the Benefactor of the world makes you into the masters of the world. He makes you into the masters of heaven, He would not make you into the masters of hell. The world doesn’t know that Ravan is the creator of hell and that the Father is the Creator of heaven. The Father says: Death is now just ahead. It is the stage of retirement for everyone. I have come to take you back. Remember Me and your sins will be absolved. You souls will become pure from dirty. I will then send you to heaven. You have to explain this to everyone with faith in your intellects, not simply like parrots. Those who have faith in their intellects have no need to cry or become body conscious. Body consciousness makes you very dirty. Become soul conscious now. Perform actions for the livelihood of your body. Those people become renunciates of action. Here, you have to live at home with your families and look after your children. It is very easy to know the Father and the cycle. The Father has so many children. Some of them are worthy and some are unworthy: they defame the Father’s name; they dirty their faces. The Father says: Do not dirty your faces. You become the children and you then dirty your faces! So, you then become those who defame the name of the clan. By sitting on that pyre of lust, you have become ugly. You don’t want to burn yourself to death on the pyre of lust, do you? There shouldn’t be even the slightest intoxication of that. Sannyasis etc. would not say this to their followers. They are not followers in reality. The Father explains true things to everyone. The Father says: Remember Me. You have given a guarantee: Baba, I will follow Your directions and become a resident of heaven. The Father says: Children, in that case, why do you have thoughts of falling into the gutter of vice? When you daughters read them such murlis, they say: We have never heard such knowledge before. You should catch hold of the heads of the temples. You should take the pictures to them. This Trimurti and the tree are pictures of Dilwala. The deity tree is at the top, but then they show the deity tree that has become the past If someone does such service, Baba would praise him: This one has performed wonders; just as Baba praises Ramesh. He has invented a very good exhibition which is a good way of doing service at a fast speed. We will have an exhibition here too. The pictures are very good. Look at the religious conferences that take place in Delhi: they too say that there should be oneness. There is no meaning in that. The Father is One and all the rest are brothers and sisters. It is a question of receiving the inheritance from the Father. How will you unite and become like milk and sugar? These are matters to be understood. A method has to be invented for the growth of exhibitions. Those who don’t give the proof of service should be ashamed. If ten new ones come but eight to ten old ones die, what is the benefit? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While performing actions for the livelihood of your body, practise remaining soul conscious. Under no circumstances must you cry or become body conscious.
  2. Benefit yourself and others by following shrimat. Become worthy and glorify the Father’s name.
Blessing: May you be a self-sovereign and by become a goddess of coolness (Sheetla devi) by making your physical organs cool and peaceful.
The children who are self-sovereigns cannot be deceived by any of their physical organs. When the mischief that causes deception finishes and all your physical organs also become cool you become a goddess of coolness. A goddess of coolness never has anger. Some say that they do not have anger, but that they have to be a little bossy. However, bossiness is also a progeny of anger. Where there is a trace of it, a whole progeny is created. So, you are gods and goddesses of coolness and this is why you must not allow the sanskars of anger or bossiness to emerge even in your dreams.
Slogan: Obedient children are naturally worthy of receiving good wishes and blessings; they do not need to ask for blessings.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 December 2018

To Read Murli 25 December 2018 :- Click Here
26-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – कल्याणकारी बाप अभी तुम्हारा ऐसा कल्याण कर देते हैं जो कभी रोना न पड़े, रोना अकल्याण वा देह-अभिमान की निशानी है”
प्रश्नः- किस अटल भावी को जानते हुए तुम्हें सदा निश्चिंत रहना है?
उत्तर:- तुम जानते हो कि इस पुरानी दुनिया का विनाश अवश्य होना है। भल पीस के लिए प्रयास करते रहते हैं लेकिन नर चाहत कुछ और…….. कितना भी कोशिश करें यह भावी टल नहीं सकती। नैचुरल कैलेमिटीज़ आदि भी होनी हैं। तुम्हें नशा है कि हमने ईश्वरीय गोद ली है, जो साक्षात्कार किये हैं, वह सब प्रैक्टिकल में होना ही है, इसलिए तुम सदा निश्चिन्त रहते हो।

ओम् शान्ति। विश्व में मनुष्यों की बुद्धि में भक्ति मार्ग का ही गायन है क्योंकि अभी भक्ति मार्ग चल रहा है। यहाँ फिर भक्ति का गायन नहीं है। यहाँ तो बाप का गायन है। बाप की महिमा करनी होती है, जिस बाप से इतना ऊंच वर्सा मिलता है। भक्ति में सुख नहीं है। भक्ति में रहते हुए भी याद तो स्वर्ग को करते हैं ना। मनुष्य मरते हैं तो कहते हैं स्वर्गवासी हुआ। तो खुश होना चाहिए ना। जबकि स्वर्ग में जन्म लेते तो फिर रोने की तो दरकार नहीं। वास्तव में यह सच्ची बात तो है नहीं कि स्वर्गवासी हुआ, इसलिए रोते रहते हैं। अब इन रोने वालों का कल्याण कैसे हो? रोना दु:ख की निशानी है। मनुष्य रोते तो हैं ना। बच्चे जन्मते हैं तो भी रोते हैं क्योंकि दु:ख होता है। दु:ख नहीं होगा तो जरूर हर्षित रहेंगे। रोना तब आता है जब कोई न कोई अकल्याण होता है। सतयुग में कभी अकल्याण नहीं होता इसलिए वहाँ कभी रोते नहीं। अकल्याण की बात ही नहीं होती। यहाँ कभी कमाई में घाटा पड़ता है या कभी अन्न नहीं मिलता तो दु:खी होते हैं। दु:ख में रोते हैं, भगवान् को याद करते हैं कि आकर सभी का कल्याण करो। अगर सर्वव्यापी है तो किसको कहते हैं – कल्याण करो? परमपिता परमात्मा को सर्वव्यापी मानना बड़े से बड़ी भूल है। बाप है सबका कल्याणकारी, वह एक ही कल्याणकारी है तो जरूर सबका कल्याण करेंगे। तुम बच्चे जानते हो परमपिता परमात्मा हमेशा कल्याण ही करते हैं। अब वह परमपिता परमात्मा कब आये जो विश्व का कल्याण करे? विश्व का कल्याण करने वाला और तो कोई है नहीं। बाप को फिर सर्वव्यापी कह देते हैं। कितनी भारी भूल है। अभी बाप अपना परिचय देकर कहते हैं मनमनाभव, इसमें ही कल्याण है। सतयुग-त्रेता में कोई भी हालत में अकल्याण होता नहीं। त्रेता में भी जबकि रामराज्य है तो वहाँ शेर-बकरी इकट्ठे जल पीते हैं। हम राम-सीता के राज्य की इतनी स्तुति नहीं करेंगे क्योंकि दो कला कम हो जाने से कुछ न कुछ सुख कम मिलता है। हम तो पसन्द करते हैं स्वर्ग, जो बाप स्थापन करते हैं। उसमें पूरा वर्सा पायें तो बहुत अच्छा है। ऊंच ते ऊंच बाप से वर्सा ले हम कल्याण करें। हर एक को अपना कल्याण करना है श्रीमत पर।

बाप ने समझाया है – एक है आसुरी सम्प्रदाय, दूसरा है दैवी सम्प्रदाय। अभी एक तरफ रावण राज्य है, दूसरे तरफ मैं दैवी सम्प्रदाय स्थापन कर रहा हूँ। ऐसे नहीं कि अभी दैवी सम्प्रदाय है। आसुरी सम्प्रदाय को मैं दैवी बना रहा हूँ। कहेंगे दैवी सम्प्रदाय तो सतयुग में होता है। बाप कहते हैं इस आसुरी सम्प्रदाय को दैवी सम्प्रदाय भविष्य के लिए बनाता हूँ। अभी है ब्राह्मण सम्प्रदाय, दैवी सम्प्रदाय बन रहा है। गुरुनानक ने भी कहा है मनुष्य से देवता…….. परन्तु कौन से मनुष्य हैं जिनको देवता बनायेंगे? वह ड्रामा के आदि, मध्य, अन्त को तो जानते नहीं। सृष्टि के आदि में जो लक्ष्मी-नारायण श्रेष्ठाचारी हैं, वह भी आदि, मध्य, अन्त को नहीं जानते। त्रिकालदर्शी नहीं हैं। आगे जन्म में त्रिकालदर्शी थे, स्वदर्शन चक्रधारी थे तब यह राज्य पद पाया है। उन्होंने फिर स्वदर्शन चक्र दे दिया है विष्णु को। तो यह भी समझाना है कि स्वदर्शन चक्रधारी ब्राह्मण हैं तो मनुष्य आश्चर्य खायेंगे। वह तो कृष्ण को भी कह देते, विष्णु को भी कह देते। यह तो जानते नहीं कि विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण हैं। हम भी नहीं जानते थे। मनुष्य तो हर बात में कह देते हैं भावी। जो होने वाला है उसको कोई टाल नहीं सकते। यह तो ड्रामा है। तो पहले-पहले बाप का परिचय दें या ड्रामा का राज़ समझायें? सो भी जब बाबा की याद हो, पहले-पहले बाप का परिचय देना चाहिए। बेहद का बाबा, शिवबाबा तो मशहूर है। रूद्र बाबा भी नहीं कहते। शिवबाबा नामीग्रामी है। बाप ने समझाया है कि जहाँ-जहाँ भक्त हैं, उन्हों को जाकर समझाओ। अखबार में पढ़ा था मनुष्य कहते हैं कि हिमालय की इतनी मल्टीमिलियन एज है। अब हिमालय की कोई आयु होती है क्या? यह तो सदैव है ही। हिमालय कभी गुम होता है क्या? यह भारत भी अनादि है। कब रचा गया, उसकी एज नहीं निकाल सकते। वैसे हिमालय के लिए भी नहीं कह सकते कि यह कब से है। इस हिमालय पहाड़ की आयु गिनी नहीं जाती। ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि आकाश की वा समुद्र की आयु इतनी है। हिमालय की आयु कहते हैं, तो समुद्र की भी बतायें, कुछ भी जानते नहीं। यहाँ तो तुमको बाप से वर्सा पाना है। यह है ईश्वरीय फैमली।

तुम जानते हो बाप का बनने से स्वर्ग के मालिक बनते हैं। एक राजा जनक की बात नहीं। जीवनमुक्ति में अथवा रामराज्य में तो बहुत होंगे ना। सबको जीवनमुक्ति मिली होगी। तुम सेकेण्ड में मुक्ति-जीवनमुक्ति पाने के पुरूषार्थी हो। बच्चा बने हो, मम्मा-बाबा कहते हो। जीवनमुक्ति तो मिलेगी ना। समझ सकते हैं प्रजा तो ढेर की ढेर बनती जाती है। दिन-प्रतिदिन प्रभाव तो निकलना है ना। यह धर्म की स्थापना करना बड़ी मेहनत है। वह तो ऊपर से आकर स्थापना करते हैं, उनके पिछाड़ी ऊपर से आते-जाते हैं। यहाँ तो एक-एक को राज्य-भाग्य पाने का लायक बनाना पड़ता है। लायक बनाना बाप का काम है। जो मुक्ति-जीवनमुक्ति के लायक थे, सबको माया ने ना-लायक बना दिया है। 5 तत्व भी ना-लायक बने हैं, फिर लायक बनाने वाला बाप है। तुम्हारा अभी सेकेण्ड-सेकेण्ड जो पुरूषार्थ चलता है, समझते हैं कल्प पहले भी फलाने ने ऐसा ही पुरूषार्थ किया था। कोई आश्चर्यवत् भागन्ती हो जाते हैं, फारकती दे देते हैं। प्रैक्टिकल देखते रहते हैं। यह भी समझते हैं विनाश सामने खड़ा है, ड्रामा अनुसार सबको एक्ट में आना है। नर चाहत कुछ और…… वह चाहते हैं पीस हो परन्तु भावी को तुम बच्चे जानते हो। तुमने साक्षात्कार किया है, वह भल कितना भी माथा मारें कि विनाश न हो परन्तु यह भावी टल नहीं सकती। अर्थक्वेक नैचुरल कैलेमिटीज होंगी, वह क्या कर सकते। कहेंगे यह तो गॉड का काम है। तुम्हारे में भी बहुत थोड़े हैं जिनको इतना नशा चढ़ता है और याद में रहते हैं। सब तो परिपूर्ण नहीं बने हैं। तुम जानते हो यह भावी टलने की नहीं है। अन्न नहीं है, मनुष्यों के रहने के लिए जगह नहीं है, 3 पैर पृथ्वी के नहीं मिलते।

तुम्हारा यह है ईश्वरीय परिवार – मात, पिता और बच्चे। बाप कहते हैं मैं बच्चों के आगे ही प्रत्यक्ष होता हूँ। बच्चों को सिखाता हूँ। बच्चे भी कहते हैं – हम बाप की मत पर चलते हैं। बाप भी कहते हैं मैं बच्चों के ही सम्मुख आकर मत देता हूँ। बच्चे ही समझेंगे। नहीं समझते हैं तो छोड़ो, लड़ने की कोई बात नहीं। हम परिचय देते हैं बाप का। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और स्वदर्शन चक्र को याद करो तो चक्रवर्ती राजा बनेंगे। मनमनाभव, मध्याजी भव का अर्थ भी यह है। बाप का परिचय दो जिससे क्रियेटर और क्रियेशन का राज़ तो समझ जायें। मुख्य यह एक ही बात है, गीता में मुख्य यह एक ही भूल है। बाप कहते हैं मुझ कल्याणकारी को ही आकर कल्याण करना है। बाकी शास्त्रों से कल्याण हो नहीं सकता। पहले तो सिद्ध करना है कि भगवान् एक है, उनको तुम याद करते हो परन्तु जानते नहीं हो। बाप को याद करना है तो परिचय भी चाहिए ना। वह कहाँ रहते हैं, आते हैं वा नहीं? बाप वर्सा तो जरूर यहाँ के लिए देंगे या वहाँ के लिए देंगे? बाप तो सम्मुख चाहिए। शिवरात्रि भी मनाते हो। शिव तो सुप्रीम फादर है, सब आत्माओं का। वह रचता है, नई नॉलेज देते हैं। सृष्टि चक्र के आदि, मध्य, अन्त को वह जानते हैं। वह है ऊंचे से ऊंचा टीचर, जो मनुष्य को देवता बनाते हैं, राजयोग सिखलाते हैं। मनुष्य कभी राजयोग सिखला न सकें। हमको भी उसने सिखलाया तब हम सिखलाते हैं। गीता में भी शुरूआत में और अन्त में मनमनाभव और मध्याजी भव कहा है। झाड़ और ड्रामा का नॉलेज भी बुद्धि में रहता है। डिटेल में समझाना पड़ता है। रिजल्ट में फिर भी एक बात आती है – बाप और वर्से को याद करना है। यहाँ तो एक ही बात है, हम विश्व के मालिक बनेंगे। विश्व का कल्याणकारी ही विश्व का मालिक बनाते हैं। स्वर्ग का मालिक बनायेंगे, नर्क का थोड़ेही मालिक बनायेंगे। दुनिया यह नहीं जानती कि नर्क का रचयिता रावण है, स्वर्ग का रचयिता बाप है। अब बाप कहते हैं मौत सामने खड़ा है, सबकी वानप्रस्थ अवस्था है, मैं लेने आया हूँ। मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। आत्मा मैली से शुद्ध हो जायेगी। फिर तुमको स्वर्ग में भेज देंगे। यह निश्चयबुद्धि से किसको समझाना है, तोते मुआफ़िक नहीं। निश्चयबुद्धि को फिर रोने की वा देह अभिमान में आने की बात नहीं रहती। देह-अभिमान बहुत गन्दा बना देता है। अब तुम देही-अभिमानी बनो। शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करो। वह तो कर्म सन्यासी बन जाते हैं। यहाँ तो तुमको गृहस्थ व्यवहार में रहना है, बच्चों को सम्भालना है। बाप को और चक्र को जानना तो बहुत सहज है।

बाप को कितने बच्चे हैं। फिर उनमें कोई सपूत हैं कोई कपूत हैं। नाम बदनाम करते हैं। काला मुंह कर देते हैं। बाप कहते हैं काला मुंह नहीं करो। बच्चा बन और फिर काला मुंह करते हो, कुल कलंकित बनते हो। इस काम चिता से तुम सांवरे बने हो। काम चिता पर थोड़ेही जल मरना है। हल्का नशा भी नहीं होना चाहिए। सन्यासी आदि अपने फालोअर्स को ऐसे थोड़ेही कहेंगे। वह रीयल्टी में नहीं हैं। बाप तो सबको सच्ची बातें समझाते हैं। बाप कहते हैं मुझे याद करो। तुमने गैरन्टी की है – बाबा आपकी मत पर चल हम स्वर्गवासी बनेंगे। बाप कहते हैं बच्चे फिर विषय गटर में गिरने का ख्याल क्यों करते हो? तुम बच्चियां जब ऐसी मुरली चलाओ तो कहेंगे ऐसा ज्ञान तो हमने कभी सुना नहीं। मन्दिर के हेड्स को पकड़ना चाहिए। चित्र ले जाना चाहिए। यह त्रिमूर्ति झाड़ दिलवाला के ही चित्र हैं। ऊपर में दैवी झाड़ खड़ा है, बाकी दैवी झाड़ जो पास्ट हो गया वह दिखाते हैं। ऐसी सर्विस कोई करके दिखाए तब बाबा महिमा करे, इसने तो कमाल की है। जैसे बाबा रमेश की महिमा करते हैं। प्रदर्शनी विहंग मार्ग की सर्विस का नमूना अच्छा निकाला है। यहाँ भी प्रदर्शनी करेंगे। चित्र तो बहुत अच्छे हैं।

अब देखो देहली में जो रिलीजस कान्फ्रेन्स होती है वह भी कहते हैं वननेस हो। उसका तो अर्थ ही नहीं। बाप एक है, बाकी हैं भाई-बहन। बाप से वर्सा मिलने की बात है। आपस में मिल क्षीरखण्ड कैसे होंगे, यह बातें समझने की हैं। प्रदर्शनी की वृद्धि लिये युक्ति रचनी है। जो सर्विस का सबूत नहीं दिखाते उनको तो लज्जा आनी चाहिए। अगर 10 नये आये और 8-10 मर गये तो इससे फायदा क्या हुआ। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शरीर निर्वाह अर्थ काम करते देही-अभिमानी रहने का अभ्यास करना है। किसी भी परिस्थिति में रोना वा देह-अभिमान में नहीं आना है।

2) श्रीमत पर अपना और दूसरों का कल्याण करना है। सपूत बन बाप का नाम बाला करना है।

वरदान:- शीतला देवी बन सर्व कर्मेन्द्रियों को शीतल शान्त बनाने वाले स्वराज्य अधिकारी भव
जो स्वराज्य अधिकारी बच्चे हैं, उन्हें कोई भी कर्मेन्द्रिय धोखा नहीं दे सकती। जब धोखा देने की चंचलता समाप्त हो जाती है तब स्वयं शीतला देवी बन जाते और सब कर्मेन्द्रियां भी शीतल हो जाती। शीतला देवी में कभी क्रोध नहीं आता। कई कहते हैं क्रोध नहीं है, थोड़ा रोब तो रखना पड़ता है। लेकिन रोब भी क्रोध का अंश है। तो जहाँ अंश है वहाँ वंश पैदा हो जाता है। तो शीतला देवी और शीतल देव हो इसलिए स्वप्न में भी क्रोध वा रोब का संस्कार इमर्ज न हो।
स्लोगन:- आज्ञाकारी बच्चे स्वत: आशीर्वाद के पात्र होते हैं, उन्हें आशीर्वाद मांगने की दरकार नहीं।

TODAY MURLI 26 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 December 2017 :- Click Here

26/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the more jewels of knowledge you donate, the fuller your treasure-store will become; your churning of the ocean of knowledge will continue and you will be able to imbibe jewels well.
Question: What are the signs of souls who don’t have unlimited happiness in their fortune?
Answer: They listen to this knowledge, but they are like an upside-down pot; nothing sits in their intellects. They say that this knowledge is good and they praise it. They agree that it should be given to everyone and that this path is very good, but they do not follow this path themselves. Baba says: That is their fortune. It is the duty of you children to do serv ice. Continue to relate this to thousands of people. At least subjects will be created. Make effort in the same way that the mother and father do and claim your inheritance from the unlimited Father. Imbibe knowledge and continue to make others equal to yourselves.
Song: I have come having awakened my fortune.

Om shanti. There are always two types of fortune: one is good and the other is bad; one is of happiness and the other is of sorrow. Bharat has the fortune of happiness and also the fortune of sorrow. Bharat itself was the land of happiness and it is now the land of sorrow. If your house is new, that is good fortune. If it is old, that is bad fortune. Bharat itself was new at first and has now become old. Only you children can understand these things. The world doesn’t know them. Your attention is drawn to these things. Children, you were so fortunate! The deities were the masters of the world. They are not that now. Their good fortune changed and became bad. It is something to understand how and when you have good fortune. Only the one unlimited Father is the one who explains to you. When was the fortune of Bharat elevated? When it was heaven. It now has bad fortune. They even sing: O Purifier, come and make our fortune pure! When Bharat was pure, it had very great fortune. That same Bharat is now impure because it is vicious. There are both the vicious and the viceless. If we become viceless at this time we will become deities. People continue to call out to the Father. At the Kumbha mela they definitely sing: The Purifier is Sita-Rama (Rama who belongs to Sita). A river is not the Purifier. When people’s fortune becomes bad, they have such stone intellects! This is a play of happiness and sorrow. Who causes sorrow? Who gives you happiness? The pictures of both are very well known. For happiness, everyone remembers the Supreme Father, the Supreme Soul: O Remover of Sorrow and Bestower of Fortune! This proves that the Father never causes sorrow. Those people think that it is God who gives both happiness and sorrow. No one even understands something that is worth a few pennies (something so small). The Father has now made your intellects divine. He has opened the locks on your intellects. You know that the world cycle continues to turn. When the world becomes old, there is sorrow. You have now received three eyes. You can ask everyone why, since they sing out to the Purifier to come, they are sitting there at the river. To have sacrificial fires, to do tapasya, to study the Vedas and scriptures are all the path of devotion. The Father says: I cannot be found through those things. I come and grant you salvation when your devotion comes to an end. You need the knowledge of yoga. You also need the knowledge in order to become pure. It is not a question of becoming pure by reading the scriptures etc. The conscience says that when Bharat was pure and completely viceless, it was very wealthy. Who made it so wealthy and pure? Did it become that by people bathing in the Ganges or by them reading the scriptures? You have been doing that all the time, but nevertheless, you still call out: O Purifier, come! Only when the time has come for the impure world to come to an end will the Purifier Father come and establish heaven. The pure world is the golden age and the impure world is the iron age. No one understands that the Purifier is only the one Supreme Soul. They sing: The Purifier is Sita-Rama (Rama who belongs to Sita). The Father explains that the meaning of this is that the Supreme Soul is the Rama of all the Sitas. They say: The Bestower for All is Rama. He is the Bestower of what? They don’t even know this. The Father explains: The Bestower for All, Rama, is the incorporeal One. Their intellects are completely locked; this just doesn’t sit in their intellects. In the golden age, all have divine intellects. The very name is the Lord of Divinity, the land of divinity. At this time, you children are also becoming lords of divinity. Souls become golden aged. Your intellects are now iron aged. A golden-aged intellect takes happiness and an iron-aged intellect takes sorrow. People distress themselves chasing after poison. Look how much upheaval they create when someone wants to follow purity. Devils such as Kans, Jarasandha, Dushashan, Putna, Supnakha are remembered. All of those are memorials of things of the past. It is definitely the praise of the confluence age. Everything of the confluence age is remembered. The Father says: I only come once to purify the impure. You know that Baba’s business is to purify the impure. The Father is the Creator and so He would definitely create a new creation. Ravan is the one who makes you impure and the Father is the One who makes you pure. His correct name is Shiva. People celebrate Shiv Ratri. You understand the meaning of ratri (night). The Father will come when devotion, that is, when the night ends and the day comes. The Father says: Children, now become pure! You now have to return home. There was the golden age and the cycle now has to repeat. I am changing you children from human beings into deities. Deities too were human beings. It is just that they were beautiful, that is, they were pure whereas the human beings of today are ugly, that is, they are impure; there is no other difference. Bharat was golden aged. It is now iron aged. Souls have alloy mixed in them. That can only be removed with the fire of yoga. Previously, they used to read the term, ‘Manmanabhav’. They didn’t understand the meaning of it at all. You have to connect your intellects in yoga to the Supreme Father, the Supreme Soul. However, no one even knows His form, so how could they have yoga? Since they say that God is beyond name and form, with whom would they have yoga? God speaks: Manmanabhav! Renounce the arrogance of the body! Consider yourself to be a soul! What is the form of a soul? They say that a soul is a star that resides in the centre of the forehead. Therefore, the Father of souls would also be like that. They then say that He is beyond name and form. They say of the Father that He is the brahm element, that is, the element of constant light. Just as you cannot reach the end of the sky so Brahm too is unlimited. OK, even if someone does reach the end, no one receives liberation or liberation-in-life through that. Only you children understand the meaning of liberation and liberation-in-life. The world doesn’t know anything at all. They even sing: He is the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world tree. He is the Truth and the Living Being. He is the Purifier and so He would definitely come in the impure world. You explain that when knowledge exists, there cannot be devotion. Knowledge is the day, the golden and silver ages. Devotion is the night. Explain to everyone that the Supreme Father, the Supreme Soul, not water, is the Ocean of Knowledge. Baba continues to explain to all of you very good methods to give Baba’s message to the whole of Bharat. In fact, the mela of souls and the Supreme Soul is remembered. The Supreme Soul is only One. It isn’t right to say that God is omnipresent. The Father Himself comes and liberates everyone from sorrow. Everyone remembers Baba at a time of sorrow; they cry out so much! Ask them since when they have been doing that and they would say: “From time immemorial”. Nevertheless, no one has become pure and they just continue to become even more impure. Your intellects are now filled with all the knowledge. Knowledge is said to be the day of Brahma. It is not said to be the day of Vishnu because it is only now that you receive knowledge. Day by day, you continue to receive refined points. Liberation-in-life is a matter of a second. They then say that He is the Ocean of Knowledge. No matter how much you continue to write, you will not reach its end. When the Father finishes explaining everything to you, your examination will also end. From the beginning you have been listening to so much. They have made a very small Gita now. There are so many things of knowledge. It is very easy to explain. There was truly just the one religion in the golden age. Now, there are so many religions. There is so much upheaval. There is upheaval amongst themselves. When there was just the one religion, there was no mention of war etc. There was happiness and nothing but happiness. You have the secrets of the cycle in your intellects. It has been explained to you children how you take 84 births and how the cycle repeats. You are now becoming satopradhan from tamopradhan with the power of yoga. You have now become theists. You have also become trikaldarshi. No one else in the world knows the Creator or creation. Only you children know this but you don’t imbibe or explain to others, and so you forget the points. If one lot of treasure doesn’t sit in their intellects, how could the second lot sit in their intellects? If you continue to donate, your treasure-store will continue to become full. Your churning of the ocean of knowledge about how to explain to others will continue. There is praise of devotion when knowledge doesn’t exist. Those who remain occupied in service have intoxication in their intellects. Everyone is numberwise. A maharathi is one who continues to imbibe knowledge and who makes others the same as himself. Such a soul receives a status accordingly. All of this is incognito effort. You now belong to the Father and so you understand that you will definitely receive the inheritance of heaven from the Father. Ravan doesn’t exist there. The kingdom of Ravan is separate from the kingdom of Rama. You children understand that the Ramayana and the Bhagawad etc. have stories in them from this time. This is a play of dolls. The Father explains: At this time the whole tree is tamopradhan; it is to be destroyed. You have all the secrets in your intellects. Baba continues to show you so many methods for explaining to others. However, only a handful out of multimillions understand. The sapling is being planted. Those who have been converted into other religions will all continue to emerge. In fact, Hindus really belong to the deity religion. You have to explain: You people of Bharat are from the roots of the deities. It is deities who are worshipped. Your religion is the deity religion. At first you were deities and you then became warriors, merchants and shudras. Now become Brahmins again and then become deities. We will explain to the people of Bharat. The sapling is now being planted. The Father sits here and explains how He converts you from shudras. You will become Brahmins and then deities. The explanation is so good. If someone asks you if you have studied the scriptures, tell him or her: I studied all the scriptures on the path of devotion, but only the Father Himself comes and grants salvation to everyone. This is why you call out to Him: O Purifier, come! If you explain tactfully, they would definitely understand. You children need courage to explain to others. It appears that the drama will make you do service. In the previous cycle too, this one made this much effort and claimed this status. You have to make full effort to claim your inheritance from Baba. Since we are receiving the inheritance from the Father, why should we touch the inheritance of Ravan? Why should we not become sweet? We have to become full of all virtues. This is Raja Yoga to become Narayan from an ordinary man, that is, it is the yoga to gain a kingdom. The Father says: I come at the confluence age of every cycle. This is the age of the stage of ascent. All the rest are ages of the stage of descent. There are the stages of ascent and descent. This cycle should remain in your intellects. The Father sits here and tells you souls, you children: Remember Me! Don’t become impure in this last birth and I will make you into the masters of the world. Will you not obey Me? Otherwise, you won’t even be able to receive unlimited happiness. At least become pure in this birth! I guarantee that I will make you into the masters of the world. Will you not even obey the Father? The arrow will quickly strike the target of those who are to become flowers. If they don’t have it in their fortune, they will listen to this knowledge like upside-down pots. You explain to so many people at the exhibitions. They all say that this is good. They say that this path is very easy, but they themselves will not do anything. They simply praise this and tell others that it is good, but they will not follow this path themselves. What will happen through that? It would be said that it is not in their fortune. Such souls will become part of the subjects. However, you children should be interested in serving. You have to relate this knowledge to thousands. You should make effort like the mother and father to claim the inheritance from the unlimited Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim your full inheritance from the Father, become extremely sweet and full of all virtues. Don’t touch the inheritance of Ravan.
  2. Imbibe knowledge and do service with spiritual intoxication. In order to claim unlimited happiness, take all the advice that the Father gives and follow it.
Blessing: May you be a protector of the yagya and with the current of the vibrations of yoga, make the fortress strong.
Just as you Brahmins make plans to expand the family, similarly, also make plans so that no soul steps away from the Brahmin family. Make the fortress so strong that no one can go away. Just as they put up electric fences everywhere, you also put up fences with the current of the vibrationsof yoga. When the thought has emerged in you to make the fortress of the yagya strong with powerful vibrations of yoga, you would then be called protectors of the yagya.
Slogan: Knowledgeable souls are those whose stage is the most elevated even while they perform ordinary actions.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 December 2017

To Read Murli 25 December 2017 :- Click Here
26/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – जितना ज्ञान रत्नों का दान करेंगे उतना खजाना भरता जायेगा, विचार सागर मंथन चलता रहेगा, धारणा अच्छी होगी”
प्रश्नः- जिन आत्माओं के भाग्य में बेहद का सुख नहीं है, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह ज्ञान को सुनेंगे लेकिन ऐसे जैसे उल्टा घड़ा। बुद्धि में कुछ भी बैठेगा नहीं। अच्छा-अच्छा करेंगे, महिमा करेंगे। कहेंगे हाँ, सबको यह सुनाना चाहिए, मार्ग बहुत अच्छा है। परन्तु खुद उस पर नहीं चलेंगे। बाबा कहते यह भी तकदीर। तुम बच्चों का फ़र्ज है सर्विस करना। हजारों को सुनाते रहो। प्रजा तो बनती है। माँ-बाप मिसल बेहद के बाप से वर्सा लेने का पुरुषार्थ करो। नॉलेज को धारण कर आप समान बनाते रहो।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ…

ओम् शान्ति। तकदीर सदैव दो प्रकार की होती है। एक अच्छी दूसरी बुरी। एक सुख की दूसरी दु:ख की। भारत के सुख की तकदीर भी है, तो दु:ख की तकदीर भी है। भारत ही सुखधाम था, भारत ही दु:खधाम है। मकान नया है तो अच्छी तकदीर है। पुराना है तो बुरी तकदीर। भारत ही पहले नया था, अब फिर पुराना हुआ है। इन बातों को भी तुम बच्चे ही समझ सकते हो, दुनिया नहीं जानती। तुम्हारा ध्यान इन बातों तरफ खिंचवाया जाता है कि बच्चे तुम कितने तकदीरवान थे। देवी-देवता विश्व के मालिक थे, अभी नहीं हैं। अच्छी तकदीर बदल अब बुरी हो गई है। अच्छी तकदीर कैसे और कब होती है, यह समझने की बात है। समझाने वाला एक ही बेहद का बाप है। भारत की ऊंची तकदीर कब थी? जब स्वर्ग था। बुरी तकदीर अब है। गाते भी हैं हे पतित-पावन आकर हमारी पावन तकदीर बनाओ। भारत पावन था तो जबरदस्त तकदीर थी। अभी वही भारत पतित है क्योंकि विकारी हैं। विकारी और निर्विकारी दोनों होते हैं। हम अगर इस समय निर्विकारी बनेंगे तो देवता बनेंगे। अब बाप को बुलाते रहते हैं। कुम्भ के मेले पर भी जरूर गाते होंगे – पतित-पावन सीताराम…। पतित-पावनी नदी तो है नहीं। मनुष्यों की जब तकदीर बुरी होती है तो कितने पत्थरबुद्धि हो जाते हैं। दु:ख और सुख का यह खेल है। दु:ख कौन देते हैं? सुख कौन देते हैं? दोनों के चित्र बहुत नामीग्रामी हैं। सुख के लिए परमपिता परमात्मा को याद करते हैं। हे दु:ख हर्ता सुखकर्ता। तो इससे सिद्ध है कि बाप कभी दु:ख नहीं देते। वो लोग समझते हैं भगवान ही दु:ख सुख दोनों देते हैं। पाई-पैसे की बात भी कोई समझते नहीं हैं। अभी तुमको बाप ने पारसबुद्धि बनाया है। बुद्धि का ताला खोला है। तुम जानते हो सृष्टि का चक्र फिरता रहता है। सृष्टि पुरानी होती है तो उसमें दु:ख है। अभी तुमको 3 ऑखें मिली हैं। तुम सबको समझा सकते हो जबकि गाते हो पतित-पावन आओ, फिर नदी पर क्यों आकर बैठे हो? यह यज्ञ तप आदि करना, वेद शास्त्र आदि पढ़ना सब भक्ति मार्ग है। बाप कहते हैं – मैं इनसे नहीं मिलता हूँ। जब तुम्हारी भक्ति पूरी होती है तब मैं आकर सद्गति देता हूँ। योग का भी ज्ञान चाहिए। पावन बनने के लिए भी ज्ञान चाहिए। शास्त्र पढ़ने से तो पावन बनने की कोई बात नहीं। विवेक कहता है भारत जब पावन था, सम्पूर्ण निर्विकारी था तब धनवान भी बहुत थे। ऐसा धनवान और पवित्र किसने बनाया? क्या गंगा स्नान करने से बनें या शास्त्रों को पढ़ने से बनें? यह तो तुम करते ही आये हो फिर भी पुकारते हैं कि हे पतित-पावन आओ। जब पतित दुनिया का समय पूरा होगा तब ही पतित-पावन बाप आकर स्वर्ग की स्थापना करेंगे। पावन दुनिया है सतयुग, पतित दुनिया है कलियुग। यह कोई समझते नहीं हैं कि पतित-पावन एक ही परमात्मा है। गाते हैं पतित-पावन सीताराम… उसका अर्थ भी बाप ही समझाते हैं कि सभी सीताओं का राम एक ही परमात्मा है। कहते हैं सबका दाता राम। दाता क्या? यह भी नहीं समझते हैं। बाप समझाते हैं सबका दाता राम तो एक निराकार ही है। बुद्धि को बिल्कुल ताला लगा हुआ है। बुद्धि में बैठता ही नहीं है। सतयुग में सब पारसबुद्धि हैं, नाम ही है पारसनाथ, पारसपुरी। तुम बच्चे भी इस समय पारसनाथ बनते हो। आत्मा गोल्डन एज बनती है। अभी आइरन एज बुद्धि है। गोल्डन एज बुद्धि सुख उठाते हैं, आइरन एज बुद्धि दु:ख उठाते हैं। मनुष्य विष के पीछे हैरान होते हैं। पवित्र बनने में देखो कितना हंगामा करते हैं। गाया भी हुआ है कंस, जरासन्धी, दु:शासन, पूतना, सूपनखा…. यह सब पास्ट की बातों का गायन है। जरूर संगमयुग का ही गायन है। हर बात संगम की ही गाई जाती है। बाप कहते हैं – मैं भी पतितों को पावन बनाने एक ही बार आता हूँ। तुम जानते हो कि बाबा का धन्धा ही है पतितों को पावन बनाना। बाप रचयिता है तो जरूर नई रचना ही रचेंगे। रावण है पतित बनाने वाला। बाप है पावन बनाने वाला। उसका यथार्थ नाम शिव है। शिवरात्रि भी मनाते हैं। रात्रि का भी अर्थ तुम समझते हो। बाप आयेगा तब जब भक्ति अर्थात् रात पूरी हो दिन होगा।

अब बाप कहते हैं बच्चे पावन बनो। अब वापिस जाने का है। सतयुग था अब फिर चक्र रिपीट होगा। तुम बच्चों को मनुष्य से देवता बना रहा हूँ। देवतायें भी मनुष्य ही थे और कोई फ़र्क नहीं है। सिर्फ वह गोरे अर्थात् पावन हैं और अभी के मनुष्य सांवरे अर्थात् पतित हैं। भारत गोल्डन एजेड था, अभी आइरन एजेड है। आत्मा में खाद पड़ गई है – वह निकलेगी योग अग्नि से। आगे मनमनाभव अक्षर पढ़ते थे। अर्थ कुछ भी नहीं समझते थे। परमपिता परमात्मा के साथ बुद्धियोग लगाना है, परन्तु उनके रूप का ही किसको पता नहीं है तो योग कैसे लग सकता है। कहते हैं परमात्मा नाम रूप से न्यारा है तो योग किससे लगायें? भगवानुवाच – मनमनाभव। देह का अभिमान छोड़ो, अपने को आत्मा समझो। आत्मा का रूप क्या है? कहते हैं आत्मा स्टार है, भ्रकुटी के बीच में रहती है। तो आत्माओं का बाप भी ऐसा ही होगा। उनको फिर नाम रूप से न्यारा कहते हैं। बाप के लिए कहते हैं ब्रह्म है, अखण्ड ज्योति तत्व है। ब्रह्म तो बेअन्त हो गया। जैसे आकाश का अन्त नहीं पा सकते। अच्छा कोई करके अन्त पा भी लेवे। परन्तु उससे मुक्ति जीवनमुक्ति तो कोई को मिलती नहीं है। मुक्ति जीवनमुक्ति का अर्थ भी तुम बच्चे ही समझते हो। दुनिया तो कुछ भी नहीं जानती। गाते भी हैं ज्ञान का सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है। सत है, चैतन्य है, पतित-पावन है तो जरूर पतित दुनिया में आयेंगे। तुम समझाते हो जब ज्ञान है तो भक्ति हो न सके। ज्ञान है दिन सतयुग त्रेता। भक्ति है रात। ज्ञान का सागर परमपिता परमात्मा है न कि पानी – यह सबको समझाना है। सारे भारत को कैसे पैगाम देना है उनके लिए बाबा अच्छी-अच्छी युक्तियाँ समझाते रहते हैं। मेला तो वास्तव में आत्मा और परमात्मा का ही गाया हुआ है। परमात्मा तो एक ठहरा। परमात्मा सर्वव्यापी है – यह कोई हिसाब नहीं बनता है। बाप ही आकर सबको दु:ख से छुड़ाते हैं। दु:ख में सिमरण सब करते हैं। कितनी रड़ियाँ मारते हैं। पूछो यह कब से करते आये हो? कहते हैं परम्परा से। फिर पावन तो कोई हुए नहीं और पतित होते गये।

तुम्हारी बुद्धि में अब सारा ज्ञान भरा हुआ है। ज्ञान को कहा जाता है ब्रह्मा का दिन। विष्णु का दिन नहीं कहते क्योंकि ज्ञान अभी ही मिलता है। दिन-प्रतिदिन प्वाइंट्स रिफाइन निकलती जाती हैं। जीवनमुक्ति है भी सेकेण्ड की बात, फिर कहते हैं ज्ञान का सागर है, कितना भी लिखते जाओ अन्त नहीं आयेगा। बाप जब समझाकर पूरा करते हैं तो फिर इम्तहान भी पूरा हो जाता है। शुरू से लेकर कितना सुनते आये हो। गीता तो बिल्कुल छोटी बना दी है। कितनी ज्ञान की बातें हैं। समझाना भी बहुत सहज है। बरोबर सतयुग में एक धर्म था। अभी तो कितने धर्म हैं। कितना हंगामा है। आपस में ही हंगामा हो गया है। एक धर्म था तो लड़ाई आदि का नाम नहीं था, सुख ही सुख था। चक्र का राज़ बुद्धि में है। बच्चों को समझाया है तुम 84 जन्म कैसे लेते हो। चक्र रिपीट होता है। अभी तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन रहे हो, योगबल से। तुम अभी आस्तिक बने हो। त्रिकालदर्शी भी बने हो। दुनिया में और कोई भी रचता और रचना को नहीं जानते हैं। तुम बच्चे ही जानते हो परन्तु धारणा कर औरों को नहीं समझाते हैं तो प्वाइंट्स भूल जाती हैं। एक माल बुद्धि में नहीं बैठता है तो दूसरा कैसे बैठेगा। दान देते जायेंगे तो खजाना भरता जायेगा। विचार सागर मंथन चलता रहेगा। किसको कैसे समझायें। भक्ति की महिमा तब है जब ज्ञान नहीं है। जो सर्विस पर हैं उन्हों की बुद्धि में नशा रहता है। नम्बरवार तो हैं ही। महारथी वह जो दूसरों को आप समान बनाते रहते हैं। नॉलेज धारण करते हैं। पद भी उनको ऐसा मिलता है। यह मेहनत सारी गुप्त है। तुम बाप के बने हो तो समझते हो बाप से जरूर स्वर्ग का वर्सा मिलेगा। वहाँ रावण होता नहीं। रावण का राज्य ही अलग है, रामराज्य अलग है। तुम बच्चे अभी समझते हो कि रामायण, भागवत आदि में सब इस समय की बातें हैं। गुड़ियों का खेल है। बाप समझाते हैं इस समय सारा झाड़ तमोप्रधान है। खत्म होने का है। तुम्हारी बुद्धि में सारा राज़ है। समझाने लिए कितनी युक्तियाँ बताते रहते हैं। समझेंगे फिर भी कोटों में कोई, सैपलिंग लग रहा है। जो और धर्मो में कनवर्ट हो गये हैं वह सब निकल आयेंगे। हिन्दू वास्तव में हैं असुल देवी-देवता धर्म के। समझाना है तुम भारतवासी देवी-देवता नसल के हो ना। देवी-देवताओं को ही पूजते हो। देवता ही तुम्हारा धर्म है। पहले तुम देवता थे फिर तुम क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बने। अब फिर तुम ब्राह्मण बन देवता बनो। हम समझायेंगे भारतवासियों को। अब सैपलिंग लगता है। बाप बैठ समझाते हैं मैं कैसे शूद्र से कनवर्ट करता हूँ। ब्राह्मण बन फिर देवता बनेंगे। कितनी समझानी अच्छी है। तुमसे कोई पूछे शास्त्र पढ़े हुए हो? बोलो, भक्ति मार्ग में शास्त्र सब पढ़े हैं, परन्तु सद्गति तो बाप ही आकर करते हैं, तब तो तुम उनको बुलाते हो ना कि हे पतित-पावन आओ। युक्ति से समझाओ तो समझेंगे जरूर। समझाने के लिए बच्चों में हिम्मत चाहिए। ड्रामा तुमसे सर्विस करायेगा – ऐसा देखने में आता है। कल्प पहले भी इसने इतना पुरुषार्थ कर यह पद पाया, बाबा से वर्सा पाने का पुरुषार्थ पूरा करना है। जबकि बाप का वर्सा मिलता है तो हम रावण के वर्से को हाथ क्यों लगायें? क्यों न मीठे बन जायें। सर्वगुण सम्पन्न बनना है। यह है राजयोग – नर से नारायण बनने का अर्थात् राजाई पाने का योग।

बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुग पर आता हूँ। यह है चढ़ती कला का युग। बाकी सब हैं उतरती कला के युग। उतरती कला और चढ़ती कला होती है। यह चक्र बुद्धि में रहना चाहिए। बाप बैठ आत्माओं (बच्चों) से बात करते हैं कि मुझे याद करो। यह अन्तिम जन्म पतित नहीं बनो तो मैं तुमको विश्व का मालिक बनाऊंगा। क्या तुम मेरी नहीं मानेंगे? फिर तो बेहद का सुख भी तुम पा नहीं सकेंगे। तुम यह जन्म तो पवित्र बनो। मैं गैरन्टी करता हूँ, तुमको विश्व का मालिक बनाऊंगा। बाप की भी नहीं मानेंगे क्या? जो फूल बनने वाला होगा उनको झट तीर लगेगा। भाग्य में नहीं होगा तो सुनेगा ऐसे जैसे उल्टा घड़ा। प्रदर्शनी में तुम कितनों को समझाते हो, अच्छा-अच्छा करते हैं। कहेंगे मार्ग बहुत सहज है, परन्तु खुद कुछ भी करेंगे नहीं। सिर्फ महिमा की औरों को कहा अच्छा है, परन्तु खुद चलना नहीं है, इससे क्या हुआ। कहेंगे तकदीर में नहीं है। ऐसे-ऐसे प्रजा में आ जायेंगे। परन्तु बच्चों में सर्विस का शौक होना चाहिए। हजारों को सुनाना पड़े। बेहद के बाप से वर्सा लेने के लिए माँ-बाप मिसल पुरुषार्थ करना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से पूरा वर्सा लेने के लिए अति मीठा, सर्वगुण सम्पन्न बनना है। रावण के वर्से को हाथ नहीं लगाना है।

2) नॉलेज को धारण कर रूहानी नशे में रह सर्विस करनी है। बेहद का सुख पाने के लिए बाप की हर राय को मानकर उस पर चलना है।

वरदान:- योग की करेन्ट के वायब्रेशन द्वारा किले को मजबूत करने वाले यज्ञ रक्षक भव 
जैसे ब्राह्मण फैमली बढ़ाने की प्लैनिंग करते हो, ऐसे अब यह भी प्लैन करो जो कोई भी आत्मा ब्राह्मण परिवार से किनारे नहीं हो जाए। किले को ऐसा मजबूत बनाओ जो कोई जा ही नहीं सके। जैसे चारों ओर करेन्ट की तारें लगा देते हैं तो आप भी योग के वायब्रेशन द्वारा करेन्ट की तारें लगा दो। जब इस यज्ञ के किले को अपने योग के पावरफुल वायब्रेशन द्वारा मजबूत बनाने का संकल्प इमर्ज हो तब कहेंगे यज्ञ रक्षक।
स्लोगन:- ज्ञानी तू आत्मा वह है जिसका कर्म साधारण होते भी स्थिति पुरूषोत्तम हो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize