today murli 26 august

TODAY MURLI 26 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 25 August 2018 :- Click Here

26/08/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
31/12/83

If the hand of shrimat is in your hands, you will continue to

move with your hand in His hand throughout the whole age.

Today, the Beloved has come to the shores of the ocean, that is, to the shore of Madhuban to celebrate a sweet meeting with His spiritual lovers. All of you have come from so far away to celebrate a meeting. Why? You will not find such a wonderful Beloved throughout the whole cycle. There is just the one Beloved, but how many lovers are there? The one Beloved has so many lovers. So, today, Baba has especially come to the gathering of lovers. You celebrate in a gathering; you don’t have to say anything. So, today, Baba has not come to speak knowledge to you; He has come to meet you and to celebrate a meeting. The double foreign children have especially come to celebrate today. You have come with the thought of celebrating the New Year. In this New Year, BapDada is also giving you greetings filled with love and co-operation. The confluence age is the new age. The future golden age is the reward of the present new age and new life. For Brahmins, it is now the new and elevated age. The new age, the new world, the new days and new nights began for you the moment you became Brahmins. Every moment of this new age and new life is worth multimillions; it is worth diamonds. In the golden age you won’t sing the song: This day feels like a new day, this night feels like a new night. This refers to the present time. From the beginning, with which song did BapDada awaken you? Do you remember that song? Awaken o brides, awaken! Why should you awaken? Because the new age has come. This is the song of your childhood, is it not? You have now created new songs. The original song that the Father played was that one, was it not? So, when is it the new age? Now! Beside the old, this is new, is it not? Your old world and old life have now changed. You have come into a new life. You were unconscious. Were you aware of who you are? So you were unconscious, were you not? From being unconscious, you became conscious. You experienced a new life, did you not? As soon as you opened your eyes, you saw your new relationship and new world, did you not? So, greetings for the New Age and the New Year, in this new age.

In the world outside too, people say to one another “Happy New Year!” In fact, they are never ever happy, but they say, “Happy New Year!” Now, not only will all of you genuinely say “Happy New Year!” but you will say “Happy New Age!” The whole age is an age of happiness. When you say “Happy New Year“, what do you do when you give these greetings? The custom abroad is to first of all shake hands. How does BapDada shake hands with you? They shake hands physically for just a second. However, BapDada shakes hands with you throughout the whole age, that is, He gives you His hand of one elevated direction (shrimat), shakes hands with you and takes you back with Him at the end. You always have the hand of shrimat with you and this is why you continue to move along with your hand in His hand throughout the whole age. To walk hand-in-hand is also a sign of love and co-operation. Whenever someone walking gets tired, another person holds his hand and they walk together. The spiritual Beloved never lets go of the hands of the lovers. His promise is that you will have His hand and company till the end. All of you lovers have caught hold of His hand very firmly, have you not? You are not holding it loosely, are you? You are not going to let go of it, are you? Those who let go of it and then hold onto it again, raise your hands! Is there anyone here who sometimes holds it and then sometimes lets go of it?

This is their speciality; they are not those who hide anything. They are those who speak honestly and, just by them speaking about it honestly, half the obstacle is thereby removed. However, for how long will you continue with a weak bargain? In the old year, you are going to finish all the customs and systems of the past, are you not? Or, will the same customs and systems continue in the New Year? Whatever has happened up to now, put a full stop to that and, from now on, apply the tilak of awareness of constantly holding His hand and keeping His company. On an important day or a day of happiness, they especially apply a tilak as a symbol of happiness, and fortune. It is also the symbol of being wed. On the day of a special bhatthi of remembrance, you apply a tilak of awareness, do you not? Why do you apply it? Why do you especially apply a tilak on the day of a bhatthi? You apply a tilak on that day as a symbol of the determination to remain the embodiment of an easy and elevated yogi throughout the whole day. So, today, those who are a little weak, with your determined thoughts, put a tilak as a full stop and secondly, apply a tilak of your form of power. Do you know how to put a full-stop? Do the Pandavas know how to apply a full stop? Achcha, do the Shaktis know how to apply a full stop? An indelible full stop? What did all of you promise this morning? You are going to celebrate a ceremony, are you not? (We are going to have a marriage ceremony.) Are you not already married? Have you not produced any children yet? You are already married, but you have come to celebrate your wedding anniversary. Those who are not yet married, raise your hands! No matter how much mischief you get up to, the Beloved is not going to leave you alone, because He knows that, if He lets go of you, where would you go? Nowadays, the custom abroad is that they leave the family and become hippies. So, do you want to be a hippy? Do you want to become ever happy or a hippy? Look at their condition; you can’t even bear to look at them. All of you are sovereigns. This is why BapDada knows that you sometimes become mischievous. However, BapDada has promised you that He will take you back with Him and so He cannot break His promise. This is why you have to go with Him. Achcha.

What newness will you bring about in the New Year? You will do something new, will you not? Have you made any plans? Have the instrument teachers made any plans? You will reveal in this land who the God of the Gita is, but what will you do abroad? To put into a practical form the things that are still missing is very good. According to the time, everything is becoming practical. With this aspect, you will beat the drums in Bharat. You will awaken the religious leaders and also create a lot of upheaval. When someone has woken up a little and says “This is very good” and goes back to sleep, then, when they don’t wake up from sleep again, you pour very cold water on them. So by especially pouring very cold water on the people of Bharat, they will awaken. Achcha. So what newness will you bring about this year?

In the world outside, wherever there is an upheaval, you have to hoist at that place the flag of a constantly unshakeable stage of happiness. The Governmentmay be in upheaval, but let the incognito jewels of God constantly keep flying the flag of being complete and unshakeable. Let the Government’s attention also be drawn to the unique incognito souls in this country who are completely unique and lovely to the whole world. Make those who consider themselves to be poor become full to overflowing with imperishable wealth, and give them the experience of being the most overflowing souls who are constantly multimillionaires. Spread such a wave that they forget the sorrow of their poverty. Let whoever comes here feel that they have become overflowing with limitless treasures and also experience that there is another type of wealth – that with this wealth, physical wealth will automatically come close to you. It doesn’t cause you sorrow. Achcha. So, what newness will you bring about abroad in the New Year? Centres continue to open and will continue to be opened. Now, this year, abroad too, let there be especially be quality service in a unique way. All of you have a special quality anyway, but now all of you quality souls have to prepare a special group of even more quality souls who can become co-operative in the task of establishment. Now prepare such a group abroad from people from all around the world, so that this group can especially become instruments to serve the people of Bharat. The well-known ones who spread the sound are a different group. However, this group has to be of those who are in a relationship with you, whereas the other group is of those who are only in contact with you. This group has to be of quality and in closer relationship. You are experienced in the special transformation of life. Therefore, through your experience, enable more heir-quality souls, with even more quality, to continue to emerge. That is the group who are instruments for service and this is the group of heir-quality servers. They need to be well known and also heirs. When such a group is prepared abroad, let them go on a tour of this land. With the power of your experience, inspire all the politicians, religious leaders and all types of souls to want to have the same experience. Therefore, now prepare a group of heir quality serviceable souls who can tour around. Do you understand?

The facilities to spread the sound abroad everywhere are easy. This is why the sound is spreading abroad and will continue to spread. However, the facilities to spread sound in Bharat are not so easy. You need to do personal service to awaken the people of Bharat. In that too, let it be service through your very simpleexperiences. People of Bharat especially will be transformed when they hear about the special experiences of transformation. People of Bharat are much more attracted when they hear the experiences of experienced people who have stories of such powerful transformation in their lives. In Bharat they have the system of listening to stories etc. Do you understand? What do the people abroad have to do? So many teachers have come, so prepare such a group and bring it here. Achcha.

BapDada is giving a rosary of blessings as the special gift for the New Year. When a ceremony takes place, you are garlanded. BapDada is giving all you lovers a gift of a rosary of blessings. “May you always remain content and with this contentment make others content. Let every thought be filled with speciality. Let every word and deed be filled with speciality. Remain constantly full of such speciality. Always have an easy nature, easy words and actions filled with easiness. Remain embodiments of such easiness. Always follow the directions of the One, have all relationships with the One, have all attainments from the One and have the easy practice of being constantly with the One. Remain constantly happy and distribute the treasures of happiness. Spread waves of happiness over everyone. In the same way, let the smile of happiness sparkle on your face. Always remain cheerful in this way. Always stay in remembrance and make progress. Always keep the rosary of blessings with you. Do you understand? This is the gift for the New Year. Achcha.

To those who constantly have all blessings, to the elevated souls who are immortal with their hands in His hand and are in His company, to those who bring the speciality of newness in every thought in their practical lives, to such special souls, immortal love and remembrance for the New Year of the New Age; love, remembrance and namaste for the flying stage.

Personal Meetings:

Do you constantly consider yourselves to be charitable souls? The greatest charity of all is to give others the Father’s message and make them belong to the Father. You are the charitable souls who perform such elevated actions because a charitable soul at this time becomes a soul worthy of worship for all time. Only a charitable soul becomes worthy of worship. Charity for a short time too enables you to attain fruit. That is for a temporary period whereas this is imperishable charity because you make them belong to the eternal Father. The fruit received from this is imperishable. You become souls worthy of worship for birth after birth. Therefore, constantly continue to perform charitable deeds whilst considering yourselves to be charitable souls. The account of sin has ended. The account of past sins has also ended, because by performing charity, the weight of charitable deeds becomes greater, and the sins therefore decrease. Continue to perform charitable deeds and the balance of charity will increase and that of sins will reduce, that is, it will end. Simply check that every thought is a charitable thought and that every word is a charitable word. There mustn’t be any wasteful words. Sins will not be cut away with waste and you won’t receive the fruit of charity. Therefore, let every action, every word and every thought be of charity. Always remember that you are such elevated, charitable souls who constantly perform elevated actions. What is the work of the confluence-aged Brahmin souls? To perform charity, for the more charitable work you do, the more happiness you experience. When you give someone a message whilst simply moving along, that happiness lasts for so long. So charitable deeds always increase your treasures of happiness, whereas sinful deeds make you lose your happiness. If your happiness vanishes, then understand that even if you have not committed a big sin, a small sin has definitely been committed. To become body conscious is also a sin, because when you don’t remember the Father, that would definitely be sin, would it not? Therefore, may you be a constantly charitable soul. Achcha.

Midnight greetings to all the children:

To all the loving long-lost and now-found constantly serviceable children, greetings for new zeal and a new life filled with new enthusiasm and for the New Year. The confluence age is the New Age in which every moment is new. Every thought brings newest zeal and enthusiasm. In such an age, BapDada constantly gives you congratulations for the New Age. Nevertheless, He is giving special love and remembrance on the special day, so that you too always make new service plans for yourself and put them into a practical form. Also continue to inspire others with your new life. BapDada received letters of love and remembrance and greetings cards for the New Year from all the residents of London and all those abroad. He also received several gifts. In such a New Age, BapDada is especially giving greetings filled with blessings for the New Year to the children who perform elevated actions and who create the New Age. All of you are doing very good service with love and effort. May you always remain busy in service and, through your service, enable others to have the right to receive the inheritance from the Father. Achcha.

To all the children in this land and abroad, special good wishes over and over again filled with love and remembrance. Achcha.

Blessing: May you be constantly co-operative and accumulate everything by using what still remains of your body, mind and wealth for the Godly task.
Each one’s finger has been shown in the memorial of lifting the Goverdhan mountain. This is a sign of your co-operation. In the picture of the memorial, they have portrayed the Father’s company and also service. You children are now co-operating with BapDada and this is why the memorial has been created. However much of your body, mind and wealth you used on the path of devotion, 99% of that was wasted. Apply the remaining one per cent for God’s task with a true heart and you will once again accumulate multi-million fold.
Slogan: Those who are humble automatically receive respect from everyone.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 26 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 26 August 2018

To Read Murli 25 August 2018 :- Click Here
26-08-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 31-12-83 मधुबन

“श्रीमत रूपी हाथ सदा हाथ में है तो सारा युग हाथ में हाथ देकर चलते रहेंगे”

आज सागर के कण्ठे पर अर्थात् मधुबन के कण्ठे पर मधुर मिलन मनाने के लिए माशुक अपने रूहानी आशिकों से मिलने आये हैं। कितना दूर-दूर से मिलन मनाने के लिए आये हैं, क्यों? ऐसा वण्डरफुल माशूक सारे कल्प में मिल नहीं सकता। एक माशूक और आशिक कितने हैं? अनेक आशिक एक माशूक के। तो आज विशेष आशिकों की महफिल में आये हैं। महफिल में मनाना होता है, सुनाना नहीं होता है। तो आज सुनाने नहीं आये हैं, मिलने और मनाने आये हैं। विशेष डबल विदेशी बच्चे आज का दिन मनाने के लिए आये हैं। नया वर्ष मनाने का संकल्प लेकर आये हैं। बापदादा भी नये वर्ष में स्नेह और सहयोग सम्पन्न बधाई दे रहे हैं। संगमयुग नया युग है। भविष्य सतयुग इस वर्तमान नये युग के नये जीवन की प्रालब्ध है। ब्राह्मणों के लिए नवयुग श्रेष्ठ युग अभी है। जब से ब्राह्मण बने नया युग, नया संसार, नया दिन, नयी रातें शुरू हो गई। इसी नये युग के नये जीवन की हर घड़ी पदमों तुल्य है। हीरे तुल्य है। सतयुग में यह गीत नहीं गायेंगे नया दिन लागे, नयी रात लागे। यह अब की बात है। बापदादा ने शुरू से किस गीत से बच्चों को जगाया है! वह गीत याद है? जाग सजनियाँ जाग…. क्यों जागो? नवयुग आया। बचपन का यही गीत है ना! अभी तो नये-नये गीत बना दिये हैं। आदि गीत बाप ने यही सुनाया ना। तो नवयुग कब हुआ? अब। पुराने के आगे नया लगता है ना! पुरानी दुनिया, पुरानी जीवन बदल गई। नयी जीवन में आ गये ना। बेहोश थे। अपना होश था कि मैं कौन हूँ? तो बेहोश हुए ना। बेहोश से होश में आये। नया जीवन अनुभव किया ना! ऑख खुलते नया सम्बन्ध, नया संसार देखा ना। तो नये युग की, नये युग में, नये वर्ष की बधाई।

लौकिक दुनिया में भी हैप्पी न्यू ईयर कहते हैं। वैसे एवर हैपी होते नहीं हैं लेकिन कहेंगे हैपी न्यू ईयर। अब आप सभी रीयल रूप में कहेंगे हैपी न्यू ईयर तो क्या लेकिन हैपी न्यू युग। सारा ही युग खुशी का युग है। हैपी न्यू ईयर कहते हो तो बधाई देने के समय क्या करते हो? पहले तो फारेन का रिवाज़ है – हाथ से हाथ जरूर मिलायेंगे। बापदादा हाथ से हाथ कैसे मिलाते? स्थूल हाथ तो एक सेकण्ड के लिए मिलाते हैं, लेकिन बापदादा सारा ही युग हाथ मिलाए अर्थात् एक ही श्रेष्ठ मत रूपी हाथ दे, हाथ में हाथ मिलाए अन्त में भी साथ में ले जाते हैं। श्रीमत का हाथ सदा आप सबके साथ है इसलिए सारा ही युग हाथ में हाथ देकर चलते हैं। हाथ में हाथ देकर चलना, यह स्नेह की भी निशानी है और सहयोग की भी निशानी है। कभी भी कोई चलते-चलते थक जाते हैं तो दूसरा उसका हाथ पकड़कर ले जाते हैं ना। रूहानी माशूक आशिकों का हाथ कभी नहीं छोड़ते। अन्त तक वायदा है हाथ और साथ सदा ही रहेगा। सभी आशिकों ने हाथ तो पक्का पकड़ लिया है ना! ढीला तो नहीं है! छोड़ने वाले तो नहीं हो ना! जो छोड़ते और लेते रहते हैं वह हाथ उठाओ। कभी छोड़ते, कभी पकड़ते ऐसा कोई है? यह विशेषता है इन्हों की, छिपाने वाले नहीं हैं। साफ बोलने वाले हैं इसलिए भी आधा विघ्न साफ सुनाने से खत्म हो जाता है। लेकिन कच्चा सौदा कब तक? पुराने वर्ष में पुरानी रीति रसम समाप्त करनी है ना! या नये वर्ष में भी यही रीति रसम चलेगी? अब तक जो हुआ उसको फुलस्टाप की बिन्दी लगाए, सदा साथ और हाथ रहने के स्मृति की बिन्दी अब से लगाओ। बड़े दिन वा खुशी के दिन पर विशेष सुहाग, भाग्य और बधाई की बिन्दी अर्थात् तिलक लगाते हैं। आप लोग भी विशेष याद की भट्ठी के दिन स्मृति की बिन्दी लगाते हो ना! क्यों लगाते हो! भट्ठी के दिन बिन्दी खास क्यों लगाते हो? दृढ़ संकल्प की निशानी बिन्दी लगाते हो कि आज का दिन सारा ही सहज योगी और श्रेष्ठ योगी के स्वरूप में रहेंगे। तो आज भी जो थोड़ा सा कच्चा हो, तो दृढ़ संकल्प द्वारा फुलस्टाप की बिन्दी लगाओ, दूसरी समर्थ स्वरूप की बिन्दी लगाओ। बिन्दी लगाने आती है? पाण्डवों को बिन्दी लगाने आती है? अच्छा शक्तियों को बिन्दी लगाने आती है? अविनाशी बिन्दी। आज सुबह भी सभी ने क्या वायदा किया? समारोह मनाना है ना? (मैरेज समारोह मनाना है) अभी मैरेज की नहीं है क्या? बाल बच्चे पैदा नहीं किये हैं? मैरेज तो हो गई है लेकिन मैरेज का दिन मनाने आये हो। जिसकी मैरेज नहीं हुई है, वह हाथ उठाओ। कितना भी नाज़ नखरे करो लेकिन माशुक छोड़ने वाला नहीं है क्योंकि जानते हैं कि छोड़कर जायेंगे कहाँ। जैसे आजकल विदेश का रिवाज है ना कि छोड़कर हिप्पी बन जाते हैं, तो हिप्पी बनना है क्या! एवर हैपी बनना है या हिप्पी बनना है? क्या हालत होती है, जो देख भी नहीं सकते। आप सब तो राज्य अधिकारी हो इसलिए बापदादा जानते हैं कि कभी-कभी नटखट बन जाते हैं। लेकिन बापदादा ने जो वायदा किया है कि साथ ले जायेंगे तो बाप वायदा नहीं छोड़ सकता इसलिए साथ चलना ही है। अच्छा!

नये वर्ष में नवीनता क्या करेंगे? कोई नई बात तो करेंगे ना। कोई प्लैन बनाया है? निमित्त टीचर ने कोई नया प्लैन बनाया है? गीता का भगवान तो देश में प्रत्यक्ष करेंगे। विदेश में क्या करेंगे? जो रही हुई बातें हैं, उन बातों को प्रैक्टिकल में लाना, यह तो बहुत अच्छी बात है। समय प्रमाण सब बातें प्रैक्टिकल होती जा रही हैं। इस बात से भारत में तो नगाड़ा बजायेंगे ही। धर्म नेताओं को जगायेंगे, हलचल भी मचायेंगे। जो थोड़ा-सा जागकर बहुत अच्छा कह फिर सो जाते हैं, उन्हों के लिए जैसे कोई नींद से नहीं उठता है तो उस पर ठण्डा-ठण्डा पानी डालते हैं। तो भारत वालों पर भी विशेष ठण्डा पानी डालने से जागेंगे। अच्छा – तो इस वर्ष क्या नवीनता करेंगे?

जितना लौकिक दुनिया में जिस स्थान पर हलचल हो, उसी हलचल के स्थान पर सदा खुशी की अचल स्थिति का झण्डा लहराना। गवर्मेन्ट हलचल में हो और गुप्त प्रभु रत्न सदा सम्पन्न सदा अचल का विशेष झण्डा लहरायें। गवर्मेन्ट का भी अटेन्शन हो जाए कि यह इस देश में गुप्त वेषधारी कौन-सी विचित्र आत्मायें हैं जो सारे देश में न्यारी और प्यारी हैं। जो अपने को धन से कमज़ोर समझते हैं उन्हों को अविनाशी धन से सम्पन्न कर, हम सबसे भरपूर हैं, हम सदा पद्मापद्मपति हैं, यह अनुभव कराओ। धन की गरीबी का दु:ख उन्हों को भूल जाए, ऐसी लहर फैलाओ। जो भी आवे वह समझे कि अखुट खज़ानों से भरपूर हो गये, और भी कोई धन होता है, वह अनुभव करें। और इसी धन द्वारा यह स्थूल धन भी स्वत: ही समीप आता है। दु:ख नहीं देगा। अच्छा! तो विदेश में नये वर्ष की नवीनता क्या करेंगे? सेन्टर्स तो खुलते जा रहे हैं और खुलते रहेंगे। अभी इस वर्ष विदेश में भी विशेष क्वालिटी की सर्विस विशेष रूप से होनी चाहिए। आप सबकी विशेष क्वालिटी तो रही लेकिन आप सभी क्वालिटी वाले और भी विशेष क्वालिटी वाली आत्मायें जो स्थापना के कार्य में सहयोगी बन जाएं, ऐसा विदेश में चारों ओर से एक ग्रुप तैयार करो जो ग्रुप मिलकर भारतवासियों की सेवा के अर्थ विशेष निमित्त बने। नामीग्रामी आवाज़ फैलाने वाले अलग ग्रुप हैं लेकिन यह हैं सम्बन्ध वाले, वह हैं सम्पर्क वाले। और यह ग्रुप चाहिए क्वालिटी वाला, जो समीप सम्बन्ध में हो। विशेष जीवन के परिवर्तन के अनुभवी हों, जिसके अनुभवों द्वारा और भी विशेष क्वालिटी वाली आत्मायें, वारिस क्वालिटी निकलती रहें। वह है सेवा के निमित्त ग्रुप और यह है वारिस क्वालिटी सेवाधारी ग्रुप। नागीग्रामी भी हो और वारिस भी हो। ऐसा ग्रुप विदेश में तैयार होने से देश में सेवा का चक्कर लगायें। राज नेता, धर्म नेता सर्व प्रकार की आत्माओं को अपने अनुभव की शक्ति द्वारा अनुभव करने की इच्छा उत्पन्न करा सकें। तो ऐसा चक्कर लगाने वाले वारिस सेवाधारी क्वालिटी का ग्रुप तैयार करो। समझा!

विदेश में चारों ओर आवाज फैलाने के साधन सहज हैं इसलिए विदेश में आवाज फैल भी रहा है और फैलता भी रहेगा। लेकिन भारत में आवाज फैलाने के साधन इतने सहज नहीं। भारतवासियों को जगाने के लिए पर्सनल सेवा चाहिए। और वह भी बहुत सिम्पल अनुभव के आवाज की सेवा हो। भारतवासी विशेष परिवर्तन के अनुभव से परिवर्तन होंगे। ऐसे विशेष अनुभवी जिन्हों के अनुभव में ऐसी शक्तिशाली परिवर्तन की बातें हो – ऐसी कहानियाँ सुन करके भारतवासी ज्यादा आकर्षित होंगे। भारत में कथा कहानियाँ सुनने का रिवाज है। समझा – विदेशियों को क्या करना है। इतनी सब टीचर्स आई हैं तो ऐस ग्रुप तैयार करके लाना। अच्छा!

नये वर्ष की विशेष सौगात बापदादा वरदान माला दे रहे हैं। सेरीमनी मनाते हैं तो वरमाला डालते हैं। बापदादा सभी आशिकों को वरदान माला की सौगात दे रहे हैं। सदा सन्तुष्टता से सन्तुष्ट रहो और सन्तुष्ट करो। हर संकल्प में विशेषता हो, हर बोल और कर्म में विशेषता हो। ऐसे विशेषता सम्पन्न सदा रहो। सदा सरल स्वभाव, सरल बोल, सरलता सम्पन्न कर्म हों। ऐसे सरल स्वरूप रहे। सदा एक की मत पर, एक से सर्व सम्बन्ध, एक से सर्व प्राप्ति ऐसे एक द्वारा सदा एक रस रहने के सहज अभ्यासी रहो। सदा खुश रहो, खुशी का खजाना बांटो। खुशी की लहर सर्व में फैलाओ। ऐसे सदा खुशी की मुस्कराहट चेहरे पर चमकती रहे। ऐसे हर्षित मुख रहो। सदा याद में रहो। वृद्धि को पाओ। ऐसे वरदान माला सदा साथ रहे। समझा। यह है नये वर्ष की सौगात। अच्छा!

ऐसे सदा के वरदानी, सदा हाथ और साथ के अमर श्रेष्ठ आत्मायें, हर संकल्प में नवीनता की विशेषता को जीवन में लाने वाले, ऐसी विशेष आत्माओं को, नव युग के, नये वर्ष की अमर याद-प्यार। उड़ती कला का याद-प्यार और नमस्ते।

पर्सनल मुलाकात:-

सदा अपने को पुण्य आत्मा समझते हो? सबसे बड़े ते बड़ा पुण्य है बाप को सन्देश दे बाप का बनाना। ऐसा श्रेष्ठ कर्म करने वाली पुण्य आत्मा हो क्योंकि अब की पुण्य आत्मा सदाकाल के लिए पूज्य बन जाती है। पुण्य आत्मा ही पूज्य आत्मा बनती है। अल्पकाल का पुण्य भी फल की प्राप्ति कराता है, वह है अल्प-काल का, यह है अविनाशी पुण्य क्योंकि अविनाशी बाप का बनाते हो। इसका फल भी अविनाशी मिलता है। जन्म-जन्म के लिए पूज्य आत्मा बन जायेंगे। तो सदा पुण्य आत्मा समझते हुए हर कर्म पुण्य का करते रहो। पाप का खाता खत्म। पिछला पाप का खाता भी खत्म क्योंकि पुण्य करते-करते पुण्य का तरफ ऊंचा हो जायेगा तो पाप नीचे दब जायेगा। पुण्य करते रहो तो पुण्य का बैलेन्स बढ़ जायेगा और पाप नीचे हो जायेगा अर्थात् खत्म हो जायेगा। सिर्फ चेक करो हर संकल्प पुण्य का संकल्प हुआ, हर बोल पुण्य के बोल हुए। व्यर्थ बोल भी नहीं। व्यर्थ से पाप नहीं कटेगा और पुण्य का फल भी नहीं मिलेगा इसलिए हर कर्म, हर बोल, हर संकल्प पुण्य का हो। ऐसे सदा श्रेष्ठ पुण्य का कर्म करने वाली पुण्य आत्मा हैं, यही सदा याद रखो। संगमयुगी ब्राह्मणों का काम ही क्या है? पुण्य करना और जितना पुण्य का काम करते हो उतना खुशी भी होती है। चलते-फिरते किसको सन्देश देते हो तो उसकी खुशी कितना समय रहती है। तो पुण्य कर्म सदा खुशी का खजाना बढ़ाता है और पाप कर्म खुशी गँवाता है। अगर कभी खुशी गुम होती है तो समझो कोई न कोई बड़ा पाप नहीं तो छोटा अंश मात्र भी जरूर किया होगा। देह-अभिमान में आना यह भी पाप है ना क्योंकि बाप याद नहीं रहा तो पाप ही होगा ना इसलिए सदा पुण्य आत्मा भव। अच्छा।

रात्रि 12 बजे के बाद सभी बच्चों को बधाई

चारों ओर के स्नेही सिकीलधे सदा सेवाधारी बच्चों को सदा नये उमंग, नये उत्साह भरे जीवन की, नये वर्ष की बधाई हो। संगमयुग नवयुग, जिसमें हर घड़ी नई हो, हर संकल्प नये ते नया उमंग उत्साह दिलाता है। ऐसे युग में नये वर्ष की मुबारक तो सदा बापदादा देते ही हैं फिर भी विशेष दिन पर विशेष याद दे रहे हैं कि सदैव स्वयं भी नये सेवा में स्वयं के प्रति प्लैन बनाते हुए प्रैक्टिकल में लाते रहो और दूसरों को भी अपने नवीन जीवन से प्रेरणा देते रहो। लण्डन निवासी वा जो भी विदेश में हैं, सभी के याद प्यार और हैपी न्यू ईयर के कार्ड भी पाये, बहुत-बहुत पत्र भी पाये, छोटी बड़ी सौगातें भी पाई। बापदादा ऐसे नये युग में श्रेष्ठ कर्म करने वाले और नया युग रचने वाले बच्चों को विशेष वरदानों सहित नये वर्ष की बधाई दे रहे हैं। सभी बहुत अच्छे मुहब्बत और मेहनत से सेवा कर रहे हैं और सदा ही सेवा में बिजी रह औरों को भी सेवा द्वारा बाप के वर्से का अधिकारी बनाते हैं। अच्छा! देश-विदेश के सभी बच्चों को फिर भी बार-बार शुभ बधाईयों से याद-प्यार।

वरदान:- अपने बचे हुए तन-मन-धन को ईश्वरीय कार्य में लगाकर जमा करने वाले सदा सहयोगी भव 
यादगार में जो गोवर्धन पर्वत को उठाने में हर एक की अंगुली दिखाई है – यह आपके सहयोग की निशानी है। चित्र में बाप का साथ भी दिखाते हैं तो सेवा भी दिखाते हैं। अभी आप बच्चे बापदादा के सहयोगी बने हो तब यादगार बना है। भक्ति में तो तन-मन-धन जो कुछ लगाया उसमें 99 परसेन्ट गंवा दिया। बाकी जो 1 परसेन्ट बचा है उसे अब सच्ची दिल से ईश्वरीय कार्य में लगाओ तो फिर से पदमगुणा जमा हो जायेगा।
स्लोगन:- जो निर्मान बनते हैं उन्हें स्वत: सर्व का मान प्राप्त होता है।

TODAY MURLI 26 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 26 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 25 August 2017 :- Click Here

26/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the sweet Father has come to remove you from this bitter world and to make you sweet. Therefore, become very, very sweet.
Question: Why do you children dislike this old world?
Answer: Because this world has become the extreme depths of hell. Everyone within it is bitter. Impure ones are called bitter; they are all floundering in the river of poison. This is why you dislike it.
Question: People make two mistakes in one of the questions they ask. What is the question and what are the mistakes?
Answer: People ask: How can my mind become peaceful? This is the first mistake because until a soul becomes separated from his body, how could he receive peace? The second mistake they make is when they say that God has many forms and is omnipresent. If God is omnipresent, then who is it that needs peace and who can give it?

Om shanti. You children understand that Baba has come from the land of peace and is asking you children what you are thinking about. You know that the Father has come from the sweet home, the land of peace, in order to take us to the land of happiness. The Father asks: Are you now remembering your sweet home, or are you remembering something else. This world is not sweet; in fact it is very bitter. Bitter things cause sorrow. You children know that we are now going to our sweet home. Our unlimited Father is very sweet. All other fathers who exist at this time are very bitter, impure and dirty. That One is the unlimited Father of all. Now, whose directions do you have to follow? The unlimited Father says: Children, now remember your land of peace and, along with that, remember your land of happiness. Forget this land of sorrow. This world has been given very harsh names: extreme depths of hell, hell in which the river of poison flows. The Father explains that this whole world is the river of poison. Everyone experiences sorrow at this time which is why they dislike it. It is a very dirty world. Therefore, you should have disinterest in it. Sannyasis too have disinterest in their households. They consider a woman to be a serpent and that to live in a home is like living in hell and choking. Saying this, they renounce it. In fact, both are doorways to hell. They don’t like living in a household and so they go to a jungle. You live in your households; you don’t renounce them. You understand this through knowledge. The Father explains to you children that this is the river of poison. Everyone continues to become corrupt. Baba will now take you children to the land of peace. From there, He will send you to the land of the ocean of milk. He enables you to have disinterest in this whole world because there is no peace in this world. Human beings continue to beat their heads so much for peace. Sannyasis etc., whoever comes, ask for peace of mind or say that they want to go to the land of liberation. Just look at the questions they ask! One’s mind cannot receive peace until the soul becomes separated from the body. Firstly, they say that God is omnipresent or that we are all forms of God. In that case, why do they ask these questions? Why would God need peace? The Father explains that peace is the garland around your neck. You say: We want peace. First of all, tell us who you are. The soul has forgotten his original religion and place of residence. The Father says: You souls are embodiments of peace. You are residents of the land of peace. You have forgotten your sweet home and your sweet Father. There is only one God: there are countless devotees. Devotees are devotees; how can they be called God? Devotees make spiritual endeavour and pray: O God! However, they don’t know God. That is why they have become unhappy. You have now understood that we were originally residents of the land of peace and that we went to the land of happiness and then into the kingdom of Ravan. You are the ones who play all  round part s. First of all, you were in the golden age. Bharat was the land of happiness; it is now the land of sorrow. You souls reside in the land of peace and the Father also resides there. His praise is: The Purifier and the Ocean of Knowledge. He purifies you with knowledge. He is the Ocean of Knowledge, which is why they call out to Him. This proves that there is no knowledge here. It is only when the Ocean of Knowledge comes that you rivers of knowledge emerge and are therefore able to bathe in knowledge. Only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Ocean of Knowledge. Only when He comes and creates children are they able to receive knowledge and salvation. Devotion begins when Ravan’s kingdom begins, that is, you become worshippers. You are again becoming worthy of worship. Pure ones are called worthy of worship whereas impure ones are called worshippers. People bow their heads in front of sannyasis and offer them flowers. They consider them to be pure and themselves to be impure. The Father says: No one in this world can be pure. This is the river of poison. The land of Vishnu is called the ocean of milk where you rule the kingdom. The Father says: Children, consider yourselves to be souls and remember your sweet home. You definitely have to perform actions. Men have to look after their businesses and mothers have to look after their households. You forget. This is why the time of amrit vela is very good. Sit in remembrance at that time. Amrit vela is the best time because both are free. In fact you also get time in the evening, but some of you are tired at that time. Achcha, go and rest and wake up in the morning and have remembrance. The Father of us souls has come to take us back. The part of 84 births is now complete. You should continue to think in this way. The best time for you to earn an income is in the morning. The income you earn now will be of use to you in the golden age. You are now claiming your inheritance from the Father. There, there are no financial difficulties; there are no worries there. The Father fills your aprons to such an extent that you don’t need to worry about earning an income. Here, human beings have so many worries about earning an income. Baba frees you from worrying for 21 births. Therefore, wake up early in the morning and talk to yourself in this way. We souls are residents of the supreme abode (paramdham); we are children of the Father. First, we enter the golden age. We take our inheritance from the Father. The Father says: Five thousand years ago, when Bharat was heaven, you were extremely wealthy. Now it is hell, the land of sorrow. Only the one Father becomes the Bestower of Salvation for all. You should remind each other. The golden age existed in Bharat alone. It was called heaven, liberation-in-life. Hell is called bondage in life. There was first the sun-dynasty kingdom, then the moon-dynasty kingdom and then the merchant and shudra-dynasty kingdoms. Because of having devilish intellects, human beings continue to cause each other sorrow. Every physical father becomes a servant of his children. They indulge in vice and create children. They take care of them and then push them into hell. When they begin to flounder in the river of poison, their father becomes happy. Therefore, they are innocent. This Father from beyond is also innocent; He is the Servant of the children. That worldly father pushes his children into hell whereas this One takes you to heaven, the land of peace. He does make effort. How innocent is He? He has left His supreme abode and come. He sees to what extent souls have become degraded. They continue to insult Me. They don’t even know Me. They also continue to insult My chariot. They have made many false allegations. They also accuse you. Krishna too has also been accused. However, no one can accuse Krishna when he is beautiful. It is only when he becomes ugly that he is accused. The one who was beautiful became ugly. That is why he is accused. Beautiful ones cannot be accused. When souls become impure from pure, they are insulted. This drama is preordained. Poor human beings don’t understand anything. Many become confused and say that they don’t know what type of knowledge this is; that these things are not mentioned in the scriptures. They have forgotten what the mothers of Bharat, the Shiv Shakti Army, did. The World Mother (Jagadamba) is called a Shiv Shakti. There are many temples built to her. There is also the Dilwala Temple. There is only the one Shiv Baba who wins hearts. There is Brahma, then Jagadamba and also you kumaris. There are also maharathis. You are identical to those in a practical way. That non-living memorial of yours (Dilwala Temple) exists for a long time; it will be destroyed and you will go to the golden age. There, there are no memorials etc. You were sitting like this exactly 5000 years ago and your memorial was later created. You ruled your kingdom in the golden and silver ages. Later, those memorials are created on the path of devotion for worshipping. You have also come to know Brahma, Vishnu and Shankar. Vishnu becomes Brahma and Brahma becomes Vishnu; that takes 84 births. You are now making effort again. You should follow Mama and Baba. You will become beautiful to the extent that you make effort. The Father is teaching you an easy way to become pure from impure. If you continue to remember the Father and the sweet home, you will become the masters of heaven. You should instil the habit of waking up in the morning and having remembrance. When this becomes firm, you will automatically have remembrance while walking and moving around. We only want to remember our sweet home and our sweet kingdom. First we become satopradhan and then we become sato, rajo and tamo. There cannot be any doubt about this, so there is no need to be confused. You have to remain pure. The diet of the deities is very pure. We too have to take precautions with food. There is no need to ask questions about this. The intellect first of all understands that lust is very bad. Secondly, you should not eat meat or drink alcohol. Impure ones find it difficult to eat food without onions or garlic. The Father explains that you will never get pure food from anyone apart from Brahmins. You have to stay in remembrance of the Father. The more you stay in remembrance, the purer you will become. Your intellects have to understand how you can save yourselves and with what method. You have to make your intellects work. You also have to remain in your households. Therefore, you have to have a relationship with your worldly family. You have to benefit them too. You also have to relate these things to them. The Father says: Become pure! Otherwise, you will endure a great deal of punishment and your status will become degraded. The rosary is made of those who pass with honours. It is now time of settlement; everyone’s karmic accounts of sin will be settled. Baba has explained that it is only by having remembrance that your sins will be absolved. This takes effort.

[wp_ad_camp_5]

 

Knowledge is very easy. The whole drama and the tree enter your intellects. However, you have to remember the sweetFather, the sweet kingdom and the sweet home. The play is now about to end and we have to return home. All have to shed their old bodies and return. Remember this firmly. You souls will shed your bodies while staying in remembrance in this way and you souls will go back. It is very easy. You children are now listening personally and others will hear on tapes. One day, people will definitely see and hear this knowledge on television. Everything will happen. It will become easy for those who come later on. Children who maintain courage receive help from the Father. This will also be arranged. There will also be those who do good service. There will be all these facilities for the children’s progress. Whoever wants to can take it. Just remember the one Father. Those of Islam also go around early in the morning and wake everyone up: “Wake up and remember Allah. This time is not for sleeping.” In fact, this refers to the present time. Remember Allah, because you receive the sovereignty of the kingdom of Paradise. Paradise is called the garden of flowers. They just sing that. You are becoming deities in a practical way by remembering the Father. The practice of waking up in the morning is very good. The atmosphere in the morning is very good. The morning begins after midnight. From two to three am is called the early morning hours of nectar. You should wake up early and remember the land of peace and the land of happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay in remembrance of the Father and eat pure food. Take great precautions about anything impure. Follow Mama and Baba and make effort to become pure.
  2. Wake up early in the morning and remember the sweet Father and the sweet kingdom. Settle all your karmic accounts at this time of settlement with remembrance of the Father.
Blessing: May you do combined service by having the awareness of the combined form and thereby become an embodiment of success.
Just as the soul and the body are combined and the future Vishnu form is combined¸in the same way, “The Father and I, the soul, are combined”. When you maintain the awareness of this form and do self-service together with service of all souls, you will then become an embodiment of success. Never say that you were very busy in service and that was why you were slack in your chart of self-service. Let it not be that you go to do service and that when you come back, you say that Maya came to you or that you had an “off-mood” or were disturbed. The way to expand service is to remain combined in serving the self and serving everyone.
Slogan: To be ignorant of limited desires is to be greatly wealthy.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 24 August 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 26 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 August 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 29 August 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 30/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
30/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – बाप का फरमान है देही-अभिमानी बनो, पवित्र बनकर सबको पवित्र बनाओ, निश्चयबुद्धि बन बाप से पूरा वर्सा लो”
प्रश्नः- अन्त में शरीर छोड़ने समय हाय-हाय किन्हों को करनी पड़ती है?
उत्तर:- जो जीते जी मरकर पूरा पुरूषार्थ नहीं करते हैं, पूरा वर्सा नहीं लेते हैं, उन्हें ही अन्त में हाय-हाय करनी पड़ती है।
प्रश्नः- इस समय अनेक प्रकार के लड़ाई-झगड़े वा पार्टीशन आदि क्यों हैं?
उत्तर:- क्योंकि सब अपने असली पिता को भूल आरफन, निधनके बन गये हैं। जिस मात-पिता से घनेरे सुख मिले थे, उसे भूल सर्वव्यापी कह दिया है, इसलिए आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं।
गीत:- ओम् नमो शिवाए….

ओम् शान्ति। यह किसने कहा? ओम् शान्ति। आत्मा ने इन शरीर की कर्मेन्द्रियों द्वारा कहा। आत्मा है अविनाशी, शरीर है विनाशी। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। आत्मा सबसे जास्ती 84 जन्म लेती है। इनको कहा ही जाता है 84 जन्मों का पा। ऐसे नहीं सभी 84 जन्म लेते हैं। नहीं, मनुष्य तो इन बातों को नहीं जानते हैं। गीत में भी सुना शिवाए नम:, ऊंच ते ऊंच है शिव परमात्मा। वह है निराकारी दुनिया का रहने वाला, जहाँ सब आत्मायें रहती हैं। उनसे नीचे सूक्ष्मवतनवासी। ऊंचे ते ऊंचे भगवान की महिमा सुनी शिवाए नम:। तुम मात-पिता, बन्धु सहायक, यह उनकी महिमा है। फिर कहेंगे-ब्रह्मा देवताए नम:… वह रचयिता, वह रचना। फिर है यह मनुष्य सृष्टि। इस मनुष्य सृष्टि में ही पावन और पतित बनते हैं। सतयुग में पावन, कलियुग में पतित हैं। भारत में आज से 5 हजार वर्ष पहले देवी-देवता थे। वह सब थे मनुष्य, परन्तु सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण थे। यह है उन्हों की महिमा। वहाँ हिंसा होती नहीं। विकार में जाते नहीं। उन्हों को कहते हैं सम्पूर्ण निर्विकारी। विकारी मनुष्य उन्हों की महिमा गाते हैं। आप सर्वगुण सम्पन्न, हम नीच पापी हैं। परमात्मा को भी याद करते हैं परन्तु उनको कोई जानते नहीं हैं इसलिए आरफन ठहरे। गाते भी हैं – तुम मात-पिता… जिससे सुख घनेरे मिलते हैं। फिर जब रावण राज्य शुरू होता है तो मनुष्य बाप को भूल पतित आरफन निधनके बन पड़ते हैं। आपस में लड़ते झगड़ते रहते हैं। सब जगह देखो झगड़े ही झगड़े लगे हुए हैं। कितने पार्टीशन हैं। स्वर्ग में तो एक ही लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। भारतवासी सारे विश्व के मालिक थे। अब तो टुकड़े-टुकड़े हैं। यह समुद्र तुम्हारा, यह हमारा, यह धरती हमारी, यह तुम्हारी… पंजाब, यू.पी., राजस्थान आदि-आदि, अलग-अलग हो गये हैं। भाषा पर भी कितने झगड़े होते हैं क्योंकि पारलौकिक माँ बाप को नहीं जानते हैं। भारत स्वर्ग था तो यह कोई बात नहीं थी। अब फिर स्वर्ग होना है। बाप बैठ समझाते हैं यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। बेहद का बाप बच्चों को कहते हैं तुम कितना बेसमझ बन पड़े हो। कहते भी हो हे परमपिता परमात्मा। फिर उनकी बायोग्राफी को नहीं जानते हो। बाप पतित-पावन, सद्गति दाता भी है। तुम तो जानते हो, वह तो कह देते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है। सर्वव्यापी कहने से फिर वर्सा कैसे मिलेगा। जरूर बाप चाहिए ना, वर्सा देने वाला। लौकिक बाप बच्चों को पैदा करे और फिर पूछो तुम्हारा बाप कहाँ है तो क्या सर्वव्यापी कहेगा? अरे बेहद का बाप तो रचयिता है ना। उसको ही सब भगत पुकारते हैं – हे पतित-पावन, शिवबाबा आकर हमको पतित से पावन बनाओ। जैसे स्वर्ग में पावन थे वैसे फिर हमको आकर पावन बनाओ। हम बहुत दु:खी हैं। जबसे रावण राज्य शुरू होता है तो सब मनुष्य पतित होने लग पड़ते हैं। दर दर धक्के खाते रहते हैं। समझते हैं सबमें परमात्मा है। मूर्तियां ठिक्कर-भित्तर की बनी हुई है ना, तो समझते हैं कि इसमें भी भगवान है। अरे पत्थर में भगवान कहाँ से आया! वह तो परमधाम में रहता है। कितने ढेर चित्र बनाते हैं फिर जब पुराने हो जाते हैं तो फेंक देते हैं। यह है गुड़ियों की पूजा। कहते हैं हे बाबा हमको सद्गति दो। सर्व का सद्गति दाता एक ही पतित-पावन शिवबाबा है, उनको सब मनुष्य भूल गये हैं। उनको सब याद करते हैं। सबका पतियों का पति अथवा बापों का बाप वह है। बाप कहते हैं बच्चे अब पावन बनो। तुम्हारी आत्मा अब पतित हो गयी है, खाद पड़ गई है। सच्चे सोने में खाद डालने से अथवा अलाए पड़ने से सोने का मूल्य कम हो जाता है। तो यह भी तमोप्रधान दुनिया है। पहले गोल्डन एज में थे तो सम्पूर्ण निर्विकारी थे। फिर सिल्वर की खाद पड़ी फिर कापर, आइरन में आते हैं। आत्मा पतित होती जाती है। अभी तो बिल्कुल ही आइरन एजड हो गई है। वही भारत सतोप्रधान था, अब तमोप्रधान बन गया है। जो पहले-पहले थे जरूर उन्हों को ही पूरे 84 जन्म लेने पड़े। क्रिश्चियन आते ही बाद में हैं, वह 84 जन्म तो ले न सकें। वह 35-40 जन्म करके पाते होंगे। सृष्टि की आयु भी अब पूरी होती है फिर नई बनेगी। नई दुनिया में है सुख, पुरानी दुनिया में है दु:ख। पुराने मकान को तोड़ा जाता है ना। पुरानी दुनिया में तो सब दु:खी हैं। फिर इन सबको सुखी बनाने वाला तो बाप ही है। सतयुग में जो भी आत्मायें थी वह सुखी थी। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में थी, जिसको फिर साइलेन्स वर्ल्ड कहा जाता है। साइलेन्स वर्ल्ड फिर सटल वर्ल्ड (सूक्ष्मवतन), वहाँ शरीर ही नहीं है तो आत्मा आवाज कैसे करेगी। तो अभी सब आत्मायें तमोप्रधान हैं इसलिए इसको आइरन एज कहा जाता है। पहले गोल्डन एज में थे अब फिर बाप आकर गोल्डन एज में ले जाते हैं। मनुष्य को देवता बनाते हैं। सतयुग में स्त्री पुरूष दोनों पवित्र रहते हैं। उनको रामराज्य कहा जाता है। अभी तो है रावणराज्य, एक दो पर काम कटारी चलाकर दु:खी करते रहते हैं। भगवान कहते हैं बच्चे काम महाशत्रु है, इसने ही तुमको दु:खी किया है। तुम बच्चे गिरते आये हो। अभी तो कोई कला नहीं रही है फिर 16 कला सम्पूर्ण बनाने बाप आये हैं। इसमें सन्यासियों के मुआफिक घरबार तो छोड़ना नहीं है। पावन दुनिया में जाने के लिए यह अन्तिम जन्म तुमको पवित्र जरूर बनना है। जो बाप द्वारा पवित्र बनेंगे वही पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। यहाँ तुम बच्चे आये हो बाप के पास। यह हेड आफिस है – जहाँ सब आते हैं। पारलौकिक बाप आत्माओं को कहते हैं बच्चे, अब देही-अभिमानी बनो। आत्मायें भी कहती हैं हाँ बाबा हम आपका फरमान जरूर मानेंगे। पवित्र बनेंगे। यह श्रीमत है ना। श्रीमत से ही श्रेष्ठ बनना है। रावण की मत से तुम भ्रष्ट बने हो। तो इस शरीर द्वारा आत्मा कहती है हे बाबा हम आपके बने हैं। बाप कहते हैं मैं आया ही हूँ सर्व की सद्गति करने। पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बनाने के लिए। तो पवित्र जरूर बनना है। पहले जब पवित्र बन ब्रह्माकुमार कुमारी बनें तब ही शिवबाबा से स्वर्ग के सुख का वर्सा पायें। तुम फिर से आये हो – बाप से वर्सा लेने। तुम जो देवी-देवता धर्म के थे, तुमने ही 84 जन्म लिये हैं। अभी वह देवी-देवता हैं नहीं। देवतायें जो पतित बने हैं वही आकर पावन बनेंगे। जो आये ही बाद में हैं वह स्वर्ग में जा न सकें। जिन देवी-देवता धर्म वालों के 84 जन्म पूरे हुए हैं, उन्हों को ही फिर से देवता बनना है। बाबा कहते हैं मैं ही आकर ब्रह्मा द्वारा देवी-देवता बनाता हूँ। पवित्र बनने बिगर तुम देवी-देवता बन नहीं सकते हो। इन बातों को समझेंगे वही जो आकर ब्रह्माकुमार कुमारी बनेंगे। प्रजापिता गाया जाता है ना। मनुष्य सृष्टि का जगत पिता और जगत अम्बा। उन्हों के इतने बच्चे कैसे होंगे। अभी है ब्रह्मा मुख वंशावली। सब मम्मा बाबा कहते हैं। कैसे बच्चे बने? शिवबाबा ने ब्रह्मा द्वारा तुमको अपना बनाया है। तुम शिवबाबा को याद करते हो, उससे स्वर्ग का वर्सा लेने। तो सब ब्रह्माकुमार कुमारियां आपस में भाई बहन ठहरे। यह है युक्ति। बाबा कहते हैं तुम गृहस्थ व्यवहार में भल रहो परन्तु कमल फूल समान पवित्र रहो। यह करके दिखाओ, घरबार छोड़ने की बात नहीं है। अपनी रचना की सम्भाल भी करो, सिर्फ पवित्र रहो तो इन देवताओं जैसा फिर बनेंगे। देवी-देवता धर्म की स्थापना तो जरूर होनी है। बाप बच्चों को सम्मुख बैठ समझाते हैं।

यह मधुबन है हेड आफिस। कितने सेन्टर्स खुलते रहते हैं। जो कल्प पहले ब्रह्माकुमार कुमारियां बने थे वही फिर ब्राह्मण से देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य, शुद्र बनते आये हैं। अब फिर ब्राह्मण बनना पड़े। चोटी ब्राह्मणों की है ना। इन वर्णों से पास करना होता है। बाप कहते हैं तुम सो देवी-देवता थे। अब तुम फिर शूद्र से ब्राह्मण बने हो, सो देवी-देवता बनने के लिए। तुम पवित्र बनते हो। गायन भी है कुमारी वह जो 21 पीढ़ी का उद्धार करे। तुम सब ब्रह्माकुमार कुमारियां हो। कुमार और कुमारियां तो दोनों चाहिए ना। तुम हर एक को 21 पीढ़ी के लिए सदा सुख का रास्ता बताते हो। चलो अपने सुखधाम, यह है दु:खधाम। अभी बाप को याद करना है। बाप कहते हैं पवित्र बनो और मामेकम् याद करो। कोई भी देहधारी को याद नहीं करो। बाप ही बैठ बच्चों को सुख घनेरे देते हैं। अभी कितना दु:ख है। दु:ख में ही भगवान को याद किया जाता है। बाप स्वर्ग में ले जाते फिर वहाँ क्यों याद करेंगे। कहते हैं हे प्रभू, अन्धों की लाठी। परन्तु जानते तो कुछ भी नहीं। लक्ष्मी-नारायण के आगे भी जाकर कहेंगे – तुम मात-पिता…अब वह तो हैं स्वर्ग के मालिक। वह थोड़ेही सबके मात-पिता हो सकते हैं। कृष्ण एक राजधानी का, राधे दूसरे राजधानी की। फिर उनकी सगाई हो जाती है। स्वयंवर के बाद फिर नाम बदल जाता है। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। दीपमाला पर महालक्ष्मी को बुलाते हैं ना। वह है युगल। अभी तुम काम चिता से उतर ज्ञान चिता पर बैठते हो। तुम हो सच्चे ब्राह्मण। तुम पवित्रता की प्रतिज्ञा कराते हो। बेहद का बाप कहते हैं पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। घर बैठे भी याद कर सकते हो।

[wp_ad_camp_5]

 

बाबा कहते हैं तुम सबको मेरे पास आना है। मरना तो सबको है। यह वही महाभारत की लड़ाई है। यहाँ है यौवनों की लड़ाई। सतयुग में कोई लड़ाई आदि होती नहीं। बाप कहते हैं तुम इस रावण पर जीत पहनो। बाकी लड़ाई आदि की कोई बात नहीं। यह महाभारत की लड़ाई भी लगती है। बाकी थोड़े बचेंगे। भारत है अविनाशी खण्ड, बाकी खण्ड खत्म हो जायेंगे। बाप सबको वापिस ले जायेंगे। बाप सर्व की सद्गति करते हैं। आत्माओं को वापिस ले जाते हैं। अभी तुम बाप से वर्सा ले रहे हो। सन्यासी तो दे न सकें। वह कोई स्वर्ग का रचयिता थोड़ेही हैं। अभी स्वर्ग की स्थापना हो रही है। बाकी नर्क के मनुष्यमात्र सब खत्म हो जायेंगे। मरना तो है, क्यों न जीते जी वर्सा ले लेवें। नहीं तो हाय-हाय करेंगे। कुम्भकरण की आसुरी नींद से अन्त में जागेंगे। अभी सारे चक्र की नॉलेज तुम्हारी बुद्धि में है। तुम ही पूज्य थे फिर पुजारी बने फिर पूज्य बनते हैं। पावन राजायें भी थे, पतित राजायें भी थे। अब नो राजा। प्रजा का प्रजा पर राज्य है। फिर सृष्टि को चक्र खाना है, सतयुग में आना है। शिवबाबा इनके मुख से कहते हैं – तुम हमारे बच्चे हो। तुम भी कहते हो बाबा हम आपके बच्चे हैं। यह है मुख वंशावली। तुम ईश्वर का परिवार हो। भगवानुवाच एक बाप को याद करो। हम आत्मायें अब स्वीट होम में जाती हैं, जहाँ बाबा रहते हैं। फिर बाबा स्वीट स्वर्ग में भेज देते हैं, वहाँ भी शान्ति और सुख है। तुम यहाँ आये हो पवित्रता, सुख, शान्ति का वर्सा लेने। 21 जन्मों के लिए यह पढ़ाई है। तुम यहाँ के लिए नहीं पढ़ते हो। यह है ही मृत्युलोक। तुम अमरनाथ द्वारा अमरकथा सुन अमर बनते हो। जो बाप से आकर समझेंगे वही पवित्रता की प्रतिज्ञा करेंगे। वही फिर आकर वर्सा लेंगे। ब्रह्माकुमार कुमारियां तो ढेर के ढेर होते जायेंगे। दिन प्रतिदिन सेन्टर खुलते जायेंगे। शूद्र से ब्राह्मण बनते जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से स्वर्ग का वर्सा लेने के लिए गृहस्थ व्यवहार में रहते, रचना की सम्भाल करते हुए कमल फूल समान पवित्र बनना है।

2) हर एक को 21 पीढ़ी के लिए सुखी बनाने का रास्ता बताना है। ज्ञान चिता पर बैठ शूद्र से ब्राह्मण और फिर देवता बनना है।

वरदान:- अपनी शक्तिशाली मन्सा शक्ति व शुभ भावना द्वारा बेहद सेवा करने वाले विश्व परिवर्तक भव 
विश्व परिवर्तन के लिए सूक्ष्म शक्तिशाली स्थिति वाली आत्मायें चाहिए, जो अपनी वृत्ति द्वारा श्रेष्ठ संकल्प द्वारा अनेक आत्माओं को परिवर्तन कर सकें। बेहद की सेवा शक्तिशाली मन्सा शक्ति द्वारा, शुभ भावना और शुभ कामना द्वारा होती है। तो सिर्फ स्वयं के प्रति भावुक नहीं लेकिन औरों को भी शुभ भावना, शुभ कामना द्वारा परिवर्तित करो। बेहद की सेवा वा विश्व प्रति सेवा बैलेन्स वाली आत्मायें कर सकती हैं। तो भावना और ज्ञान, स्नेह और योग के बैलेन्स द्वारा विश्व परिवर्तक बनो।
स्लोगन:- बुद्धि रूपी हाथ बापदादा के हाथ में दे दो तो परीक्षाओं रूपी सागर में हिलेंगे नहीं।
[wp_ad_camp_5]
To Read Murli 28 August 2017 :- Click Here
Font Resize