today murli 25 september

TODAY MURLI 25 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 September 2018 :- Click Here

25/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, as long as souls are playing their part s they cannot take 100% rest. They take a rest in the land of nirvana where there is no part to play.
Question: What thoughts do the children who become tired of studying have which then become sinful thoughts?
Answer: They have thoughts of leaving the Father, that is, of divorcing the Father. Baba says: To have this thought is a sinful thought. It is a sin to have such a thought. Not to study means to become tired. Such children spoil their income. If you sulk with the Mother and Father due to any situation, you lose the sovereignty of 21 births.
Song: People of today are in darkness. 

Om shanti. This is a song and a prayer of the path of devotion. Whom do they pray to? To God but, because of being in extreme darkness they don’t know God. So who would listen to them? Only when God hears their call can He come and ignite their light. However, children don’t know God, so how can He hear them? You are now sitting personally in front of Him. God is taking you from extreme darkness into extreme light. It is remembered: The night of Brahma and the day of Brahma. At night they wander around a lot from door to door. They go to the mountains, religious places, temples and mosques etc., but where would anyone find God? People celebrate the birth of God in Bharat; they speak of the night of Shiva. There truly are images as memorials of Him in Bharat, but they don’t understand when He comes. They are completely in the dark. You are no longer in complete darkness. You are continuing to come into the light, numberwise, according to the effort you make. You children know who creates this whole world and how He creates it. You have come here to this world spiritual university where God is teaching you and making you into deities from human beings. Among you, too, you understand this knowledge numberwise. Some understand very well, whereas others, who don’t understand fully, run away; they sulk with the Mother and Father. Of such ones, it is remembered that they were the ones who were amazed and who then began to sulk with the Mother and Father. They like this knowledge, they relate it to others and then they become those who sulk. You know that you receive the sovereignty of heaven from the Mother and Father for 21 births and yet you forget Him. Baba has explained that what you call peace can only be received in the land of peace, the land of nirvana. That is also called the land of liberation. If some say that they are at 100% rest, there is no such thing. Throughout the day, they definitely perform one type of action or another. Yes, they can call sleep at night temporary rest because the soul says: Having worked through the whole day I am tired and so I am now taking a rest. The soul detaches himself. You know that the Father resides in the land of peace and you understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, stays there at rest. God is at rest when He doesn’t have a part to play. No one does any work in the land of liberation. These matters have to be understood. The locks on your intellects are now continuing to open. The Father asks: Do you know when I am at rest? When you children are in heaven, in happiness. There, you have peace and happiness. That is not called rest. You can say you are at rest when you don’t have any part. When you are in heaven, I don’t have to make any effort. I stay there (at home) in peace. Another name for peace there is rest. You cannot stay at rest here. The soul says: I am at rest when I go to sleep at night. At that time, whether I am at rest or in peace, it is the same thing. You become bodiless at night; you become peaceful. Then, when you wake up, you start to act and you are then at ‘unrest . When doing anything you experience ‘unrest  (restlessness). In the golden age there is no question of ‘unrest . It is Maya that makes you restless (unrest). There, you would not say that you are at rest. While doing all your work you don’t remain peaceless. The word ‘rest  doesn’t exist there. For instance, someone might say: I am going to go to Simla for a rest, but that is not the meaning of ‘at rest . True rest is when we are in the land of nirvana. There, we remain silent. In fact, there is no rest. When someone says that he is at 100% rest itis wrong. That is called ignorance. Yes, it would definitely be said: If someone doesn’t want to study, he takes a rest. Not to study and to take a rest means you are tired. You then spoil your own income. It is said: O traveller of the night, don’t become weary while walking on the path to heaven. Don’t sulk. The thought of divorcing the Mother and Father should not even arise. If you have that thought, it is a sinful thought. Why should you have such a thought about the Mother and Father from whom you receive the kingdom of heaven? Sometimes, some write: I sometimes have the thought of leaving this study. I can’t understand anything. Ah, but this is the time to understand, is it not? To understand means to study. You know that we are studying. No one knows the Supreme Father, the Supreme Soul, who is the Ocean of Knowledge, the Highest on High. Although the people of Bharat know Brahma, Vishnu and Shankar and Lakshmi and Narayan, they don’t know when Lakshmi and Narayan claimed their kingdom or who gave it to them. Maya has put everyone into extreme darkness. The Father comes and explains how the Creator Father creates the human world. No one knows this at all. The Father alone sits here and explains. Prajapita Brahma cannot be called the Creator. Although he is called the Father of People, he is not the Creator. Some people say that Allah created them. Only the incorporeal Father would be called the Creator. It is only human beings who can know the Father, the Creator. Animals could not know Him. Animals couldn’t say that the Supreme Soul created them. Human beings would say that God created them. So, the Father sits here and explains: Look how this creation is created. First of all, there is the mouth-born creation. Children have to grow up and then become fathers. That unlimited Father says: Look how I too create creation. I enter this one and tell him through his mouth: O soul, you belong to Me. I am your Father. Then I create you children through him. You are the mouth-born creation. On the path of ignorance, it is said: However I am, whatever I am, I am Yours. The Father also says this. You become the children of Brahma. You are now the mouth-born creation and you will then become a physical creation. The Father says: You belong to Me and you will then go into the deity clan. No one can understand how the Father creates this Godly creation. The Father explains and this Brahma also says: I too become a mouth-born creation. Together with the Father, a mother is definitely needed. You say that you are the mouth-born creation of Prajapita Brahma and that Shiv Baba has made you belong to Him. He definitely needs a body, does He not? Shiv Baba doesn’t have a body of His own. He takes a body on loan. He then says: You belong to Me. This is called the mouth-born creation. Shiv Baba says through this mouth, through His wife: You are My children. Only the Father explains these things; these things are not mentioned in the scriptures etc. You listen to these things now and then they will disappear. At this time, there is extreme darkness. The Father comes and brings light and this is why the night of Brahma and the day of Brahma are remembered. At least something exists. It is sung: When there is falsehood, there is nothing but falsehood and not a trace of truth. However, the Father says: One thing or another remains; there isn’t annihilation. A few will remain and then the tree will begin to grow. People have shown a great annihilation, but a great annihilation does not take place. It isn’t that a child comes floating in the ocean on a pipal leaf. All of those things are lies. The Father has explained: When you come from the palace of a womb, you remain in bliss there. There is no sorrow or sinful acts there. That is the world of charitable souls whereas this is the world of sinful souls. You renounce everything here and become charitable souls for all time. You perform so much charity that, for half the cycle, no one would call you a sinful soul. You become imperishable, charitable souls. Then, for half the cycle you are called sinful souls. You repeatedly perform charity and make donations. Bharat is called completely righteous. It is in Bharat that they make donations and perform charity. You know that we are going to leave this world and will not come back here. You are transferring the materials of this world to the new world. People offer everything to God, that is, they transfer it to their next birth. Here, you transfer everything for 21 births. So, a lot is needed. He takes all the rubbish from you and gives you everything new. He takes all the old things from you and gives you golden things. You give to the Father with honesty and then the Father also gives you everything. Your parts that have continued are fixed in the drama. Everyone renounced their homes. How else could the cowshed have been created? People don’t know how the furnace was created. They show that there were kittens in a furnace. You children have all of this knowledge at this time. This knowledge will not then remain there. There, you won’t have the knowledge that you will rule a kingdom for 21 births and then fall down. It is now that you have the parts of being trikaldarshi. It is only you who have the main parts of hero and heroine. No one else has these parts. It is only you people of Bharat who change from devils into deities and deities into devils. All the rest are by-plots in between. In a play they have amusing parts in the middle. After half the cycle the deity religion disappears. This whole cycle continues to turn around in your intellects and this is why you are able to explain. The Supreme Father, the Supreme Soul, is God, the One who resides in the supreme abode. The Father says: I have all the knowledge in Me. I am the living Seed of the human world tree. Those are non-living seeds whereas Shiva is the living Seed. His image is worshipped. Nowadays, the Government plants tree saplings. This is the living Seed. He is called the Seed of the tree of the human world. I have the knowledge of the whole tree. When someone says that he is at 100% rest, you should explain that there can never be 100% rest. Yes, it can be said that there is 100% purity, happiness and peace in heaven. The very name is heaven. The Father is called Sat Shri Akaal. He is the One who speaks the truth. Death never comes to Him. He is called the Death of all Deaths. The Father says: This is the dirty world. This haystack definitely has to be set on fire. You children know that this Mahabharat War is greatly beneficial. People create sacrificial fires for peace, that is, they don’t want the gates of heaven to open. You clap your hands for the haystack to be set on fire so that you can go to the new world of Paradise. The flames of destruction emerged from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Those who belong to the Father will become the masters of heaven. All the rest have to settle their karmic accounts and return home. You know that you now have to return to the land of liberation and that you then have to repeat your parts. Where did all those deities of the golden age come from? It is said: It didn’t take God long to change human beings into deities. He changes you from shells into diamonds, from impure to pure. To the extent that someone imbibes knowledge, so he accordingly claims a status. A kingdom is being established. You know that you are establishing heaven for yourself by following shrimat. If someone sulks with shrimat and follows the dictates of his own mind, those would be the dictates of Ravan. This is why you have to continue to take shrimat at every step. The Father makes you into trustee s for as long as you live. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a complete donor. Surrender everything to the Father with honesty and transfer it to the new world.
  2. Become a trustee for as long as you live. Take shrimat from the Father at every step. Never sulk with shrimat or follow the dictates of your own mind.
Blessing: May you be a number one elevated Brahmin soul who keeps your body clean by considering it to be the temple of the soul.
You Brahmin souls are the number one elevated souls in the whole cycle, you are as valuable as diamonds. Whilst keeping this in your awareness, consider your body to be a temple of the soul and keep it clean. When an idol is elevated, its temple is then also just as elevated. You are trustees of your bodies in the form of the temple and this trusteeship naturally brings cleanliness and purity. By using this method, your purity of the body always gives the experience of spiritual fragrance.
Slogan: To observe the vow of maintaining spirituality is to be an enlightened soul.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 September 2018

To Read Murli 24 September 2018 :- Click Here
25-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – जब तक आत्मा पार्ट में है तब तक उसे 100 परसेन्ट रेस्ट मिल नहीं सकती, रेस्ट मिलती है निर्वाणधाम में, वहाँ कोई पार्ट नहीं”
प्रश्नः- जो बच्चे चलते-चलते पढ़ाई से थक जाते हैं उन्हें फिर कौन से संकल्प आते हैं जो विकल्प का रूप ले लेते हैं?
उत्तर:- 1. उन्हें बाप को छोड़ देने के अर्थात् फारकती देने के संकल्प आते हैं। बाबा कहते – यह संकल्प आना भी विकल्प है। ऐसा संकल्प करना भी पाप है। पढ़ाई न पढ़ना माना ही थक जाना। ऐसे बच्चे अपना खाना खराब कर देते हैं। 2. अगर किसी बात के कारण कोई मात-पिता से रूठ जाते हैं तो वह 21 जन्मों की बादशाही गंवा देते हैं।
गीत:- आज अन्धेरे में हैं इंसान….. 

ओम् शान्ति। यह है भक्ति का गीत वा प्रार्थना। किसके पास प्रार्थना करते हैं? भगवान् के पास। परन्तु घोर अन्धियारे में होने कारण भगवान् को जानते ही नहीं। तो अब सुने कौन? जब भगवान् उन्हों की पुकार सुने तब आकर ज्योति जगाये। परन्तु बच्चे भगवान् को जानते ही नहीं तो सुनेंगे फिर कैसे? अभी तुम सम्मुख बैठे हो, भगवान् तुमको घोर अन्धियारे से घोर सोझरे में ले जा रहे हैं। गाते भी हैं ब्रह्मा की रात और ब्रह्मा का दिन। रात में दर-दर भटकते भी बहुत हैं। पहाड़ों पर, टिकाणे, मन्दिरों, मस्जिदों मे जाते हैं। परन्तु भगवान् मिलेगा कहाँ? भगवान् का जन्म भी भारत में मनाते हैं। शिव रात्रि कहते हैं ना। बरोबर उनकी यादगार प्रतिमायें भी भारत में हैं। परन्तु समझते नहीं कि वह कब आते हैं! बिल्कुल घोर अन्धियारे में हैं। अभी तुम घोर अन्धियारे में नहीं हो। तुम नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार सोझरे में आते जाते हो। तुम बच्चे जानते हो यह सारी सृष्टि की रचना कौन और कैसे करते हैं।

तुम यहाँ आये हो – ईश्वरीय विश्वविद्यालय में, जहाँ ईश्वर पढ़ाते हैं, मनुष्य से देवता बनाते हैं। यह नॉलेज तुम्हारे में भी नम्बरवार समझते हैं। कोई तो अच्छी रीति समझते हैं, कोई पूरा नहीं समझने वाले भागन्ती हो जाते हैं, मात-पिता से रूठ पड़ते हैं। जिनके लिए गाया हुआ है – आश्चर्यवत् ऐसे मात-पिता से रूठ पड़ते हैं। पशन्ती, कथन्ती फिर रूठ पड़न्ती…. जानते हैं मात-पिता से हमको 21 जन्म लिए स्वर्ग की बादशाही मिलती है, फिर भी भूल जाते हैं। बाबा ने समझाया है – जिसको शान्ति कहा जाता है वह मिलती ही है शान्तिधाम अथवा निर्वाणधाम में, उसको मुक्तिधाम भी कहा जाता है। अगर कोई कहे हम 100 परसेन्ट रेस्ट में हैं, परन्तु यह अक्षर कोई है नहीं। सारे दिन में कोई न कोई कर्म जरूर चलता है। हाँ, अल्पकाल के लिए रात के नींद को रेस्ट कहते हैं क्योंकि आत्मा कहती है मैं सारा दिन काम करके थक गयी हूँ, अब रेस्ट लेती हूँ। अपने को डिटैच कर देते हैं। यह तो जानते हो – बाप रहते ही हैं शान्ति-देश में या ऐसे समझते हो कि परमपिता परमात्मा वहाँ रेस्ट में रहते हैं। परमात्मा रेस्ट में तब रहते हैं जब उनका पार्ट नहीं है। मुक्तिधाम में कोई काम नहीं करते हैं। यह बड़ी समझने की बातें हैं। अभी तुम्हारी बुद्धि का ताला खुलता जाता है। बाप कहते हैं तुमको पता है मैं रेस्ट में कब रहता हूँ? जबकि तुम बच्चे स्वर्ग में, सुख में रहते हो। वहाँ तुमको सुख-शान्ति है। उसको रेस्ट नहीं कहा जायेगा। रेस्ट में तब कहें जब तुम्हारा कोई पार्ट नहीं है। तुम जब स्वर्ग में हो तो मुझे कोई मेहनत नहीं करनी पड़ती। मैं वहाँ (घर में) शान्त में रहता हूँ, शान्ति का दूसरा अक्षर वहाँ रेस्ट कहेंगे। यहाँ तो रेस्ट में रह नहीं सकते हैं। आत्मा कहती है – मैं रेस्ट में तब हूँ जबकि रात को नींद करती हूँ, उस समय रेस्ट में हूँ या शान्त में हूँ – बात एक ही है। रात को अशरीरी बन जाते हैं, शान्त हो जाते हैं। फिर उठते हैं तो कर्म में आते हैं फिर भी अन-रेस्ट है। कर्म करते अन-रेस्ट भासती है। सतयुग में अन-रेस्ट का सवाल नहीं, अन-रेस्ट करती है माया। वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे कि हम रेस्ट में रहते हैं। काम-काज सब करते हैं परन्तु अशान्त नहीं रहते हैं। बाकी रेस्ट अक्षर है नहीं। समझो कोई कहते हैं हम शिमला जाते हैं रेस्ट के लिए, परन्तु रेस्ट का अर्थ नहीं। सच्ची रेस्ट तब है जब हम निर्वाणधाम में रहते हैं, वहाँ चुप रहते हैं। बाकी रेस्ट कोई को नहीं है। कोई कहे हमको 100 परसेन्ट रेस्ट है तो यह रांग है। इसको अज्ञान कहा जाए। हाँ, यह जरूर कहा जायेगा – पढ़ाई नहीं पढ़ने चाहते तो रेस्ट लेते हैं। न पढ़ना, रेस्ट लेना यह तो फिर थकना हो गया। अपना ही खाना खराब करते हैं।

समझाया जाता है – हे रात के राही, स्वर्ग की राह पर चलते-चलते थक मत जाना, रूठ नहीं जाना। मात-पिता को फ़ारकती देने का तो संकल्प भी नहीं उठाना चाहिए। यह संकल्प उठाया तो उसको विकल्प कहा जाता है। ऐसे मात-पिता जिससे स्वर्ग की राजाई मिलती है, उसके लिए संकल्प भी क्यों उठायें! लिखते हैं कभी-कभी संकल्प आता है – छोड़ दें, कुछ समझ में नहीं आता। अरे, समझने का तो यह टाइम है ना। समझना अर्थात् पढ़ना, तुम जानते हो हम पढ़ रहे हैं। परमपिता परमात्मा जो ज्ञान सागर है, ऊंच ते ऊंच है उनको कोई भी जानते नहीं। भल ब्रह्मा-विष्णु-शंकर अथवा लक्ष्मी-नारायण को जानते हैं परन्तु भारतवासियों को यह पता नहीं कि लक्ष्मी-नारायण ने राज्य कब लिया और किसने दिया? माया ने बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में डाल दिया है। बाप आकर समझाते हैं – रचता बाप मनुष्य सृष्टि की रचना कैसे करते हैं? यह तो कोई भी नहीं जानते। बाप ही बैठ समझाते हैं प्रजापिता ब्रह्मा को क्रियेटर नहीं कहेंगे। भल प्रजापिता कहा जाता है परन्तु वह रचता नहीं। मनुष्य कहते हैं हमको अल्लाह ने पैदा किया। निराकार फादर को ही रचता कहेंगे। रचता बाप को जरूर मनुष्य ही जानेंगे, जानवर तो नहीं जानेंगे। जानवर तो मुख से नहीं कहेगा कि हमको परमात्मा ने रचा है। मनुष्य कहेंगे हमको भगवान् ने रचा है। तो बाप बैठ समझाते हैं – तुम देखो यह रचना कैसे रची? पहले-पहले रचना होती है मुख वंशावली की। बच्चे को बड़ा होकर फिर बाप बनना है। यह बेहद का बाप कहते हैं – देखो, मैं भी कैसे रचना रचता हूँ। इनमें प्रवेश कर इनको मुख द्वारा कहता हूँ – हे आत्मा, तुम मेरी हो, मैं तुम्हारा बाप हूँ। फिर इनके द्वारा तुम बच्चों को रचता हूँ। तुम हो मुख वंशावली। अज्ञान काल में भी कहते हैं ना जैसे हैं, तैसे हैं, मेरे हैं। बाप भी ऐसे कहते हैं। तुम ब्रह्मा के बच्चे बन जाते हो। तो अभी तुम हो मुख वंशावली फिर तुम कुख वंशावली भी बनेंगे। बाप कहते हैं तुम मेरे हो फिर तुम दैवी घराने में जायेंगे। बाप यह ईश्वरीय रचना कैसे रचते हैं – यह कोई भी समझ नहीं सकते। बाप समझाते हैं यह (ब्रह्मा) भी कहते हैं मैं भी मुख वंशावली बनता हूँ। बाप के साथ माँ जरूर चाहिए। तुम कहते हो हम प्रजापिता ब्रह्मा के मुख वंशावली हैं, शिवबाबा ने हमको अपना बनाया है। उनको शरीर तो चाहिए ना। शिवबाबा को तो शरीर नहीं है। शरीर का लोन लेते हैं। फिर कहते हैं तुम मेरे हो, इसको कहा जाता है मुख वंशावली। शिवबाबा इस मुख से, इस वन्नी (स्त्री) द्वारा कहते हैं कि तुम मेरे बच्चे हो। बाप ही समझाते हैं और कोई शास्त्रों आदि में यह बातें हैं नहीं। तुम अभी सुनते हो फिर प्राय:लोप हो जायेगा।

इस समय है घोर अन्धियारा। बाप आकर रोशनी करते हैं तब तो ब्रह्मा की रात, ब्रह्मा का दिन गाया हुआ है। कुछ तो है ना। गाया हुआ है झूठ तो झूठ, सच की रत्ती नहीं। परन्तु बाप कहते हैं – प्राय: कुछ न कुछ रहता है, प्रलय नहीं हो जाती। थोड़े रहेंगे फिर झाड़ वृद्धि को पाता है। मनुष्यों ने फिर महाप्रलय दिखाई है। परन्तु महाप्रलय कभी होती नहीं। ऐसे नहीं होता जो सागर में बच्चा पीपल के पत्ते पर आये, यह सब गपोड़े हैं। बाप ने समझाया है तुम जब गर्भ महल से आते हो तो वहाँ आनंद में रहते हो। वहाँ दु:ख, पाप कर्म होता नहीं। वह है ही पुण्य आत्माओं की दुनिया, यह है पाप की दुनिया। यहाँ सब कुछ त्याग कर तुम सदा पुण्य आत्मा बनते हो। तुम इतना पुण्य करते हो जो आधाकल्प तुमको कोई पाप आत्मा नहीं कहेंगे। तुम अविनाशी पुण्य आत्मा बन जाते हो। यहाँ फिर आधाकल्प पाप आत्मा कहेंगे। घड़ी-घड़ी दान-पुण्य करते रहते हैं। भारत को कम्पलीट धर्मात्मा कहा जाता है। भारत में दान-पुण्य करते हैं। तुम जानते हो यह दुनिया हम छोड़ने वाले हैं, फिर आना नहीं है। इस दुनिया की सामग्री तुम ट्रान्सफर करते हो नई दुनिया के लिए। मनुष्य ईश्वर अर्पणम् करते हैं अर्थात् ट्रान्सफर करते हैं दूसरे जन्म के लिए। यहाँ तुम ट्रान्सफर करते हो – 21 जन्मों के लिए। तो बहुत चाहिए ना। तुमसे सारी किचड़-पट्टी लेकर नया देते हैं। पुराना लेकर सोने का देते हैं। तुम सच्चाई से बाप को देते हो, बाप भी तुमको सब कुछ देते हैं। तुम्हारा पार्ट जो चलता आया है – यह ड्रामा में था, सबने घरबार छोड़ा। नहीं तो गऊशाला कैसे बने? मनुष्य तो नहीं जानते, भट्ठी कैसे बनती है! वह तो दिखाते हैं – बिल्ली के पूँगरे आदि थे।

यह सब ज्ञान तुम बच्चों को अभी है। फिर वहाँ यह ज्ञान नहीं रहेगा। हम ऐसे 21 जन्म राज्य करेंगे फिर गिरेंगे – वहाँ यह ज्ञान नहीं रहता। त्रिकालदर्शीपने का पार्ट तुम्हारे में अभी रहता है। मुख्य हीरो हीरोइन का पार्ट तुम्हारा ही है। और कोई का पार्ट नहीं। असुर से देवता फिर देवता से असुर तुम भारतवासी ही बनते हो। बाकी तो है बीच के बाइप्लाट्स। नाटक में बीच में फिर हंसी-कुड़ी का खेल भी करते हैं ना। आधाकल्प बाद देवी-देवता धर्म प्राय: लोप हो जाता है। तुम्हारी बुद्धि में यह सारा चक्र फिरता रहता है तब तो तुम समझाते हो ना। परमपिता परमात्मा भी परम आत्मा है, परमधाम में रहने वाला। बाप कहते हैं मेरे में सारा ज्ञान है। मैं मनुष्य सृष्टि का बीजरूप चैतन्य हूँ। वह तो जड़ बीज होते हैं, शिव तो चैतन्य है। उनकी प्रतिमा पूजी जाती है।

आजकल गवर्मेन्ट झाड़ों के सैपलिंग लगाती है। यह है चैतन्य बीज, मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ का बीज कहते हैं – मुझे सारे झाड़ की नॉलेज है। तो जब कोई कहते हैं 100 परसेन्ट रेस्ट में हैं, तो समझाना चाहिए कि 100 परसेन्ट रेस्ट तो कभी मिलती नहीं। हाँ, ऐसे कहेंगे स्वर्ग में 100 परसेन्ट पवित्रता-सुख-शान्ति रहती है। नाम ही है स्वर्ग। बाप को कहते हैं सत श्री अकाल। सच बोलने वाला। उनको कोई काल नहीं खाता। उनको कहा जाता है कालों का काल। बाप कहते हैं यह छी-छी दुनिया है। इस भंभोर को आग जरूर लगनी है। तुम बच्चे जानते हो यह महाभारत लड़ाई महा-कल्याणकारी है। मनुष्य यज्ञ करते हैं कि शान्ति हो जाए, गोया समझते हैं स्वर्ग के गेट्स न खुलें। तुम तो ताली बजाते हो, भंभोर को आग लगे तो हम नई दुनिया वैकुण्ठ में जायें। यह विनाश ज्वाला इस रुद्र ज्ञान यज्ञ से ही प्रज्जवलित हुई है। जो बाप के बनेंगे वही स्वर्ग के मालिक बनेंगे। बाकी सबको हिसाब-किताब चुक्तु कर वापिस जाना है। तुम जानते हो अब वापिस मुक्तिधाम में जाकर फिर अपना पार्ट रिपीट करना है। सतयुग में यह इतने सब देवी-देवता कहाँ से आये? मनुष्य से देवता किये करत न लागी वार। तुमको कौड़ी से हीरे जैसा, पतित से पावन बनाते हैं। जितना जो नॉलेज धारण करेंगे उतना पद पायेंगे। राजधानी स्थापन हो रही है। तुम जानते हो हम अपने लिए स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं श्रीमत पर। अगर श्रीमत से कोई रूठकर अपनी मत पर चले तो वह रावण मत हो जायेगी इसलिए क़दम-क़दम पर तुम श्रीमत लेते रहो। बाप जीते जी तुमको ट्रस्टी बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कम्पलीट दानी बनना है। सच्चाई से सब बाप को अर्पण कर नई दुनिया के लिए ट्रांसफर कर देना है।

2) जीते जी ट्रस्टी बनना है। क़दम-क़दम पर बाप से श्रीमत लेनी है। कभी भी श्रीमत से रूठ मनमत पर नहीं चलना है।

वरदान:- तन को आत्मा का मन्दिर समझ उसे स्वच्छ बनाने वाले नम्बरवन श्रेष्ठ ब्राह्मण आत्मा भव
हम ब्राह्मण आत्मायें सारे कल्प में नम्बरवन श्रेष्ठ आत्मायें हैं, हीरे तुल्य हैं, इस स्मृति से तन को आत्मा का मन्दिर समझकर स्वच्छ रखना है। जितनी मूर्ति श्रेष्ठ होती है उतना ही मन्दिर भी श्रेष्ठ होता है। तो इस शरीर रूपी मन्दिर के हम ट्रस्टी हैं, यह ट्रस्टीपन आपेही स्वच्छता वा पवित्रता लाता है। इस विधि से तन की पवित्रता सदा रूहानी खुशबू का अनुभव कराती रहेगी।
स्लोगन:- रूहानियत में रहने का व्रत लेना ही ज्ञानी तू आत्मा बनना है।

TODAY MURLI 25 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 24 September 2017 :- Click Here

25/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, race in donating the imperishable jewels of knowledge that you receive from the Father, the Ocean of Knowledge.
Question: What is the main reason for your going ahead or staying behind in the rosary?
Answer: Your following shrimat. Those who follow shrimat very well claim a number ahead, whereas those who follow shrimat well today but who, tomorrow, mix the dictates of their own minds with shrimat because of the influence of body consciousness claim a numbertowards the end. Even though they may have come last, those who follow shrimat accurately can claim a number ahead.
Song: O traveller of the night, do not become weary! The destination of dawn is not far off.

Om shanti. Both Bap and Dada say: Om shanti. The original religion of the self of both of them is peace. It should emerge from us children that Om, that is, the original religion of myself, the soul, is peace. We are now going to the land of peace. Baba will first of all take us to the land of peace. Who will go first? It is as though the more you stay in remembrance, the more you race ahead. You are now becoming soul conscious. This takes a lot of effort. Ravan made you body conscious for half the cycle. The unlimited Father, the Supreme Father, the Supreme Soul, is now making you soul conscious and showing you the way to your home. Only the One who is the Master of the home can show you the way home. No human being can show you the way home; it isn’t the law. Only the one Father comes and shows you the way. His name is the Remover of Sorrow, the One who liberates you from sorrow. They have been singing His praise on the path of devotion. It isn’t that souls in the golden age say that the Father liberated them from sorrow and sent them to the land of happiness. No, only at this time do I explain this knowledge to you. Only at this time does knowledge continue in this part. This part then comes to an end and the reward begins. Only the one Father has the part to make impure ones pure and He plays that part every cycle. You know that you were pure for half the cycle. You then went into the kingdom of Ravan and continued to come down; the degrees continued to decrease. It is only in Bharat that there were deities who were 16 celestial degrees full, full of all virtues. They then had to take rebirth and definitely had to come down; the degrees have to decrease. However, they are not aware of this there. You have all of this knowledge in your intellects at this time. How do the pure deities become impure? Come and we will tell you the story of 84 births. This is the true story of the cycle of 84 births. Those people relate false stories. They show the duration of the cycle to be very long. By listening to this story of the cycle of 84 births, you claim the status of kings and queens who rule the globe. Sannyasis etc. do not know these deep secrets. Their religion is separate. They first take birth to their parents and so they also go to temples etc. and worship there. Then, when they have disinterest, they leave their homes and families and go away. The Father says: ‘Worthy-of-worship souls becoming worshippers’ applies to only you. It is remembered that Brahmins emerged from the mouth of Brahma and so they must surely have been adopted. This Baba was also impure at first and then he became pure. You become Brahmins and then make effort to become pure deities. The kingdom of Lakshmi and Narayan is called heaven. There, there is the undivided religion where deities live in unity. There cannot be any conflict there; Maya doesn’t exist there. The praise of this deity religion is sung: Full of all virtues…. When you go to the Lakshmi and Narayan Temple, tell them: This one is the true Narayan, is he not? Why is he called the truth? Because there is a lot of falsehood nowadays. Many people have the name Lakshmi-Narayan or Radhe-Krishna etc.; they have double names. In Madras, many people have very good names: Bhagat Vatsalam (Protector of the Devotees) etc. That would only be God. How could that be a human being? It is in the intellects of you children that the Supreme Father of souls, the Supreme Soul, is now sitting in front of you. If you continue to look at Baba you can understand how Baba, the Purifier, is the most Beloved. The soul says: Incorporeal Baba is speaking to us souls. The incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, comes and teaches us souls. This is not mentioned in any of the scriptures. Some people say that the Supreme Father, the Supreme Soul, enters the body of Krishna. However, that form of Krishna only exists in the golden age. Krishna cannot exist here with that name or form. The picture of Krishna that you see is not accurate either. A photograph cannot be taken of what children see with divine vision. However, yes, it is very well known that the beautiful Shri Krishna was the first prince of the golden age. Then he became the world emperor. The kingdom begins with Lakshmi and Narayan. The era begins with their kingdom. The first era of the golden age is that of the conqueror of sin (Vikramajeet). When Shri Krishna takes birth, there are still some people remaining who have to return home. This is the confluence age to become pure from impure. The new era, the kingdom of Lakshmi and Narayan, starts when everyone has become completely pure and that is then called the land of Vishnu. Sustenance takes place through the dual form of Vishnu – Lakshmi and Narayan. You are now making effort to become that. You say that you make effort to claim your inheritance from the Father every 5000 years. You have to make effort very well. A teacher would understand to what extent a student can pass. You children also know to what extent you continue to have a constant and stable stage, to what extent you take the imperishable jewels of knowledge from the Father and then donate them to others. No one else can donate these imperishable jewels of knowledge. You receive these jewels of knowledge from the Father, the Ocean of Knowledge. These are not physical diamonds or pearls. You children have to become donors of the imperishable jewels of knowledge. Check yourself to see how much you are donating. Look how much Mama and Baba donate! The best sisters of you all also donate very well. A race is going on. As yet, no one has passed the final test. It would be said: At present, so-and-so is clever. If a rosary had to be created now, it would be very different from the earlier rosary. Those who were the fourth and fifth numberbeads have died. Those who were also placed in a number ahead have now gone to the back and new ones have gone ahead. Baba knows everything. That is why it is said: Only the jaggery (unrefined sugar made from the sap of palm trees) and the bag containing the jaggery know how sweet the jaggery is. Baba continues to tell you everything. Earlier, your stage was good whereas your position has now gone down because you do not follow shrimat accurately. You follow the dictates of your own minds. Anyone can ask: Baba, if I were to leave my body at this time, what would be my state? Some of these things are mentioned in the Gita; they are like a pinch of salt in a sackful of flour. Everyone continues to call out: Baba, liberate us from Ravan’s kingdom! Remove our sorrow! This is the true Haridwar (Gateway to God) where your sorrow is removed. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, the Remover of Sorrow, is called Hari (One who removes sorrow). Shri Krishna is not that. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You become the masters of the land of happiness. You become the masters of the world through the power of yoga. Theirs is physical power, physical strength, and this is why they continue to use their intellects to invent bombs. There is no question of an army here. No one in the world knows how you receive world sovereignty through the power of yoga. Only the Father comes and teaches you this yoga. The Father says: Constantly remember Me alone! I am the Ocean of Knowledge. They sing praise of Him: The Ocean of Knowledge, the Ocean of Happiness and Purity. They would never say: The Ocean of Yoga. No, it would be wrong to call Him the Ocean of Yoga. The Father is the Ocean of Knowledge, the Purifier. He must definitely be raining knowledge. The first thing the Father says is: Constantly remember Me alone. To remember anyone else is ignorance. Only the Father gives you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. He also gives you teachings for yoga. All others would give you wrong instructions for yoga. That is called physical yoga to keep the body fit. This is spiritual yoga. This Raja Yoga is not mentioned anywhere else. No one other than the Father can teach you Raja Yoga. They don’t even know it. You will study this Raja Yoga and then go and rule there. There are no images of Raja Yoga. You create these pictures just to explain to others. No one can understand them just by looking at them. It has to be explained to people that this Brahma studies Raja Yoga and becomes Narayan. There is his picture beside it. To imbibe all of these things is a matter for the intellect. What would the Teacher do in this? The Teachercannot do anything to your intellect. Some say: Open the lock on my intellect! What can Baba do? Just continue to remember Baba and study well and your intellect will open fully. Children are taught everything fully: Say Baba! Say Mama! Only when a child says this will he learn. How could he learn it without saying it? Therefore, the mouths of you children are made to open so that you can speak. You have to make effort. You have to give the Father’s introduction. He is God, the Highest on High, the Creator of everyone. You all receive the inheritance of heaven from Him. Then, by your losing your inheritance in the kingdom of Ravan, it becomes hell. Deities were pure and then became impure. Then, the Purifier Father came and said: Constantly remember Me and your sins will be absolved. There is no other way. The alloy of vices can only be removed with the fire of yoga. While remembering, you will become pure and become a garland around the neck. Continue to practise speaking again and again. You mustn’t just say: Baba, I am unable to speak. The more you follow shrimat and remember Baba, the higher the status you will claim. If you don’t follow shrimat, your intellect will become locked and the arrow will not strike the target. The mercury of happiness will not rise. If you follow the dictates of your own mind, Baba would say that you are following Ravan’s dictates. Many children are body conscious and don’t study the murli. What knowledge would those who don’t even study the murli give? Such a variety of new points continue to emerge. You have to make effort to become soul conscious. You also have to renounce your old body. This costume is also dead. Continue to talk to yourself in this way. No one’s service can remain hidden. No weakness can remain hidden either. Maya is very devilish. She continues to make you perform many types of wrong action. If a mistake is made, instantly ask Baba for forgiveness. Remain very clean inside and out. Many have a lot of body consciousness. Baba has explained: Don’t take any personal service from anyone. Prepare food for yourself. Do both spiritual and physical service. If you give someone drishti while in remembrance of Baba you receive a lot of help. Baba Himself sometimes enters and gives a lot of help in service. Those people think that they did something and they quickly become arrogant. They don’t understand that Baba made them do it. Baba can enter someone and make servicehappen; there is then a double force there. If someone received a lift and begins to do good service, you should be happy. What is there to be jealous of in this? You must never engage yourself in thinking about others. Some people spread rumours. Even if someone says something, why should you cause more damage by relating that to others? There are many who make up lies: So-and-so is like this and like that. Never listen to such false things. If someone tells you wrong things, then hear, but don’t hear. Never spoil anyone’s heart. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain clean and honest with the Father inside and out. If you make a mistake, instantly ask for forgiveness. Do both types of service: physical and spiritual.
  2. Don’t engage yourself in thinking about others because of jealousy. If anyone tells you wrong things about others, then hear but don’t hear. Don’t speak about such things and spoil the hearts of others.
Blessing: May you become an image that attracts with your colour and form by imbibing the fragrance of complete purity.
By becoming Brahmins, everyone receives colour and their form too is been transformed, but the fragrance is numberwise. In order to become an image that attracts, together with having colour and beauty, they also have to have the fragrance of complete purity. Purity does not just mean celibacy, but also to be detached from the attachment to the body. Let the mind not be attached to anyone in any way except the Father. Be celibate in terms of the body, celibate in terms of your relationships and also celibate in terms of your sanskars. Only the spiritual roses who have such fragrance become images that attract.
Slogan: Recognise the accurate truth and it will become easy to experience supersensuous joy.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 22 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 24 September 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
25/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – ज्ञान सागर बाप से तुम बच्चों को जो अविनाशी ज्ञान रत्न मिलते हैं, उन ज्ञान रत्नों का दान करने की रेस करनी है”
प्रश्नः- माला में नम्बर आगे वा पीछे होने का मुख्य कारण क्या है?
उत्तर:- श्रीमत की पालना। जो श्रीमत को अच्छी तरह पालन करते वह नम्बर आगे आ जाते हैं और जो आज अच्छी पालना करते, कल देह-अभिमान वश श्रीमत में मनमत मिक्स कर देते वह नम्बर पीछे चले जाते। कायदे अनुसार श्रीमत पर चलने वाले बच्चे पीछे आते भी आगे नम्बर ले सकते हैं।
गीत:- रात के राही…..

ओम् शान्ति। बापदादा दोनों कहते हैं ओम् शान्ति। दोनों का स्वधर्म शान्त है। हम बच्चों के अन्दर से भी निकलना चाहिए ओम् अर्थात् अहम् आत्मा का स्वधर्म है शान्त। अभी हम जाते हैं शान्तिधाम में। पहले-पहले हमको बाबा शान्तिधाम में ले जायेंगे। पहले-पहले कौन जायेंगे? जितना जो याद में रहेंगे, वह जैसे कि दौड़ी पहनते हैं। अभी तुम आत्म-अभिमानी बनते हो। उसमें बहुत मेहनत लगती है। आधाकल्प से तुमको रावण ने देह-अभिमानी बनाया है। अभी बेहद का बाप परमपिता परमात्मा हमको देही-अभिमानी बना रहे हैं और अपने घर का रास्ता बता रहे हैं। जो घर का मालिक है, वही बता रहे हैं। दूसरा कोई भी मनुष्य रास्ता बता न सके। कायदा नहीं है। एक ही बाप आकर बतलाते हैं, उनका नाम है दु:ख हर्ता, दु:ख से लिबरेट करने वाला। जिसकी महिमा भी भक्ति मार्ग में गाते आते हैं। ऐसे नहीं सतयुग में आत्मा ऐसे कहती है कि हमको बाप ने दु:ख से छुड़ा करके सुखधाम में भेजा है, नहीं। यह ज्ञान अभी तुमको मैं समझाता हूँ। यह ज्ञान का पार्ट अभी ही चलता है। फिर यह पार्ट ही पूरा हो जाता है। फिर प्रालब्ध शुरू हो जाती है। पतित से पावन बनाने का पार्ट एक ही बाप का है, जो कल्प-कल्प पार्ट बजाते हैं। तुम जानते हो हम आधाकल्प पावन थे। फिर रावण राज्य में आकर नीचे उतरते आते हैं। कला कमती होती जाती है। भारत में ही देवतायें 16 कला सम्पूर्ण, सर्वगुण सम्पन्न थे। फिर उन्हों को पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे जरूर आना है। कला कमती होनी ही है। परन्तु यह वहाँ मालूम नहीं रहता है। यह सारा ज्ञान अभी तुम्हारी बुद्धि में है। पावन देवी-देवतायें पतित कैसे बनते हैं, आओ तो 84 जन्मों की कथा सुनायें। 84 के चक्र की यह सत्य कथा है। वह तो झूठी कथा सुनाते हैं। चक्र की आयु लम्बी चौड़ी बता देते हैं। यह 84 के चक्र की कथा सुनने से तुम चक्रवर्ती राजा रानी पद पाते हो। यह गुह्य बातें सन्यासी आदि नहीं जानते। उनका धर्म ही अलग है। पहले माँ बाप पास जन्म लेते हैं तो मन्दिर आदि में जाकर पूजा करते हैं। फिर जब वैराग्य आता है तो घरबार छोड़ चले जाते हैं। बाप कहते हैं पूज्य सो पुजारी भी तुम्हारे लिए ही है। गाया भी जाता है ब्रह्मा के मुख से ब्राह्मण निकले तो जरूर एडाप्ट हुए होंगे। यह बाबा भी पहले पतित था फिर पावन बनते हैं। तुम ब्राह्मण बन फिर पावन देवी-देवता बनने के लिए पुरूषार्थ करते हो। लक्ष्मी-नारायण के राज्य को स्वर्ग कहा जाता है। वहाँ है ही अद्वैत धर्म, अद्वैत देवता, तो ताली बज नहीं सकती। वहाँ माया ही नहीं। इस देवी-देवता धर्म की महिमा गाई जाती है, सर्वगुण सम्पन्न…… जब तुम कहाँ लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाते हो तो बोलो यह सत्य नारायण है ना। इनको सत्य क्यों कहते हैं? क्योंकि आजकल तो झूठ बहुत है। बहुतों के नाम लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण आदि हैं। कोई-कोई के तो डबल नाम भी है। मद्रास के तरफ बहुत अच्छे-अच्छे नाम बहुतों के हैं। भगत वत्सलम् आदि….. अब वह तो भगवान ही होगा। मनुष्य कैसे हो सकते हैं।

अभी तुम बच्चों की बुद्धि में है – आत्माओं का परमपिता परमात्मा सामने बैठा है। बाबा की तरफ तुम देखते रहेंगे तो समझेंगे पतित-पावन मोस्ट बिलवेड बाबा है। आत्मा कहती है निराकार बाबा हम आत्माओं से बात कर रहे हैं, निराकार परमपिता परमात्मा आकर आत्माओं को पढ़ाते हैं। यह कोई शास्त्र में नहीं है। समझो कोई कहते हैं कृष्ण के तन में परमपिता परमात्मा प्रवेश करते हैं। परन्तु कृष्ण का तो वह रूप सतयुग में था। उस नाम रूप में तो कृष्ण आ न सके। कृष्ण का तुम चित्र देखते हो, वह भी एक्यूरेट नहीं है। बच्चे दिव्य दृष्टि में देखते हैं, उसका तो फोटो निकाल न सके। बाकी यह मशहूर है – श्रीकृष्ण गोरा सतयुग का पहला प्रिन्स था, जो फिर विश्व के महाराजा महारानी बनते हैं। लक्ष्मी-नारायण से ही राज्य शुरू होता है। राजाई से संवत शुरू होता है ना। सतयुग का पहला संवत है विकर्माजीत संवत। भल पहले जब कृष्ण जन्मता है, उस समय भी कोई न कोई थोड़े बहुत रहते हैं, जिनको वापिस जाना है। पतित से पावन बनने का यह संगमयुग है ना। जब पूरा पावन बन जाते हैं तो फिर लक्ष्मी-नारायण का राज्य, नया संवत शुरू हो जाता है, जिनको विष्णुपुरी कहते हैं। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण से पालना होती है। अभी तुम वह बनने का पुरूषार्थ करते हो। तुम कहेंगे हम 5 हजार वर्ष बाद पुरूषार्थ करते हैं बाप से वर्सा लेने। पुरूषार्थ अच्छी रीति करना है। टीचर को मालूम तो रहता है ना कि स्टूडेन्ट कहाँ तक पास होंगे। तुम बच्चे भी जानते हो कि हमारी एकरस अवस्था कहाँ तक बनती जाती है? कहाँ तक हम बाप से अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान ले और फिर दान देते रहते हैं? यह अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान और कोई भी नहीं कर सकता है। ज्ञान सागर बाप से यह तुमको ज्ञान रत्न मिलते हैं। वह जिस्मानी हीरे मोती नहीं हैं। तो तुम बच्चों को फिर अविनाशी ज्ञान रत्नों का दानी भी बनना है। अपने को देखना चाहिए हम कितना दान करते हैं? मम्मा-बाबा कितना दान करते हैं। हमारे में जो अच्छे ते अच्छी बहनें हैं, कितना अच्छा दान करती हैं! रेस चल रही है ना। फाइनल पास तो हुए भी नहीं हैं। कहेंगे प्रेजेन्ट समय यह-यह तीखे हैं। आगे जो माला बनाते थे और अभी जो माला बनायें तो बहुत फ़र्क पड़ जाये। 4-5 नम्बर वाले दाने जो थे वह भी मर गये। कई जिनको आगे नम्बर में रखते थे वह अब नीचे नम्बर में पहुँच गये हैं। नये-नये ऊपर आ गये हैं। बाबा तो सब जानते हैं ना इसलिए कहा जाता है गुड़ जाने गुड़ की गोथरी जाने। बाबा बतलाते भी रहते हैं। आगे तुम्हारी अवस्था अच्छी थी, अब नम्बर नीचे चला गया है क्योंकि कायदे अनुसार श्रीमत पर नहीं चलते हो। अपनी मत पर चलते हो। कोई भी पूछ सकते हैं कि बाबा इस समय अगर हमारा शरीर छूट जाए तो क्या गति को पायेंगे? गीता में कुछ यह अक्षर हैं। आटे में नमक मिसल है ना। सब पुकारते रहते हैं – बाबा हमको रावण राज्य से छुड़ाओ, दु:ख हरो। सच्चा-सच्चा हरिद्वार यह हुआ ना। दु:ख हर्ता, परमपिता परमात्मा को ही हरी कहा जाता है, न कि श्रीकृष्ण को। परमपिता परमात्मा ही दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है। तुम सुखधाम के मालिक बनते हो ना। योगबल से तुम विश्व के मालिक बनते हो। उन्हों का है बाहुबल, शारीरिक बल, जो बुद्धि से बाम्ब्स निकाले हैं। यहाँ सेना आदि की तो कोई बात नहीं। दुनिया में यह किसको पता ही नहीं कि योगबल से कैसे विश्व की बादशाही मिलती है। बाप ही आकर यह योग सिखलाते हैं। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। मैं ज्ञान सागर हूँ। महिमा गाते हैं ना – ज्ञान का सागर, सुख का सागर, पवित्रता का सागर, ऐसे कभी नहीं कहेंगे – योग का सागर। नहीं, योग का सागर कहना रांग हो जाए। बाप ज्ञान का सागर, पतित-पावन है। जरूर ज्ञान की ही वर्षा करते होंगे। पहली बात बाप कहते हैं – मामेकम् याद करो और किसको भी याद करना अज्ञान है। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान बाप ही सुनाते हैं। योग के लिए भी शिक्षा देते हैं। और सब योग के लिए उल्टी शिक्षा देंगे। उनको जिस्मानी योग कहा जाता है, शरीर को ठीक रखने के लिए। यह है रूहानी योग। यह राजयोग की बात कहाँ भी है नहीं। सिवाए बाप के और कोई राजयोग सिखला न सके। जानते ही नहीं। तुम यह राजयोग सीखते-सीखते चले जायेंगे, जाकर राज्य करेंगे। राजयोग के कोई चित्र थोड़ेही हैं। तुम यह बनाते हो समझाने के लिए। सो भी कोई देखने से तो समझ न सकें। समझाना पड़े – यह ब्रह्मा राजयोग सीखकर जाए नारायण बनते हैं। यह बाजू में चित्र हैं। यह सब बातें धारण करना बुद्धि की बात है। इसमें टीचर क्या करेंगे? टीचर बुद्धि को कुछ कर नहीं सकते। कोई कहते हमारी बुद्धि को खोलो। बाबा क्या करे? तुम याद करते रहो और पूरा पढ़ो तो बुद्धि पूरा खुलेगी। बच्चों को पूरा सिखलाया जाता है। बाबा कहो, मम्मा कहो तो जरूर कहेगा तब तो सीखेगा ना। बिगर कहे सीखेगा कैसे? इसलिए बच्चों का मुख खुलवाया जाता है। मेहनत करनी है। बाप का परिचय देना है। वह है ऊंचे ते ऊंचा भगवान, सबका रचयिता। उनसे सबको स्वर्ग का वर्सा मिलता है। फिर रावण राज्य में वर्सा गंवाते-गंवाते नर्क बन जाता है। देवतायें पावन थे, फिर पतित बने। फिर पतित-पावन बाप आया है, कहते हैं मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और कोई उपाय है नहीं। योग अग्नि से ही विकारों रूपी खाद निकलेगी। याद करते-करते तुम पावन बन गले का हार बन जायेंगे। घड़ी-घड़ी बोलने की प्रैक्टिस करो सिर्फ कहना थोड़ेही है – बाबा मुख खुलता नहीं है। श्रीमत पर चल जितना याद करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। श्रीमत पर नहीं चलेंगे तो ताला बन्द हो जायेगा। तीर लगेगा नहीं। खुशी का पारा चढ़ेगा नहीं। अपनी मत पर चलेंगे तो बाबा कहेंगे यह तो रावण मत पर हैं। बहुत देह-अभिमानी बच्चे हैं जो मुरली भी नहीं पढ़ते हैं। जो मुरली ही नहीं पढ़ते वह क्या ज्ञान देंगे। अनेक प्रकार की नई-नई प्वाइंट्स निकलती रहती हैं। देही-अभिमानी बनने का पुरूषार्थ करना है। इस पुरानी देह को भी छोड़ देना है। यह तो मरा हुआ चोला है। ऐसे-ऐसे अपने से बातें करते रहना है। कोई की सर्विस छिप नहीं सकती। कोई खामी है तो वह भी छिपती नहीं है। माया बड़ी शैतान है। अनेक प्रकार के उल्टे काम कराती रहती है। कोई भूल हो जाए तो फौरन बाप से क्षमा मांगनी चाहिए। अन्दर बाहर बहुत साफ होना चाहिए। बहुतों में देह-अभिमान बहुत रहता है। बाबा ने समझाया है – कभी कोई से भी सर्विस नहीं लो। अपने हाथ से भोजन आदि बनाओ। रूहानी-जिस्मानी दोनों सर्विस करनी है। बाबा की याद में रह किसको दृष्टि देंगे तो भी बहुत मदद मिलेगी।

बाबा खुद प्रवेश कर सर्विस में बहुत मदद करते हैं। वह समझते हैं हमने किया, अहंकार झट आ जाता है। यह नहीं समझते कि बाबा ने करवाया। बाबा प्रवेश होकर सर्विस करवा सकते हैं, फिर तो और ही डबल फोर्स हो गया। किसको लिफ्ट मिली, जाकर ऊंच सर्विस करने लग पड़े तो खुश होना चाहिए ना। इसमें ईर्ष्या की क्या बात है? कभी भी परचिंतन नहीं करना चाहिए। यहाँ की बातें वहाँ सुनायेंगे। भल कोई ने कुछ कहा भी फिर भी दूसरे को सुनाकर नुकसान क्यों करना चाहिए। ऐसे तो बहुत झूठी बातें भी बनाते हैं – फलानी तो ऐसी है, यह है। ऐसी झूठी बातें कभी नहीं सुनना। कोई उल्टी-सुल्टी बात बोले तो सुनी अनसुनी कर देना चाहिए। किसके दिल को खराब नहीं करना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से अन्दर बाहर साफ रहना है। कोई भी भूल हो जाए तो फौरन क्षमा मांगना है। रूहानी जिस्मानी दोनों प्रकार की सेवा करनी है।

2) कभी भी ईर्ष्या के कारण एक दो का परचिंतन नहीं करना है। कोई किसी के प्रति उल्टी सुल्टी बातें सुनायें तो सुनी अनसुनी कर देनी है। वर्णन करके किसी की दिल खराब नहीं करनी है।

वरदान:- रंग और रूप के साथ-साथ सम्पूर्ण पवित्रता की खुशबू को धारण करने वाले आकर्षणमूर्त भव 
ब्राह्मण बनने से सभी में रंग भी आ गया है और रूप भी परिवर्तन हो गया है लेकिन खुशबू नम्बरवार है। आकर्षण मूर्त बनने के लिए रंग और रूप के साथ सम्पूर्ण पवित्रता की खुशबू चाहिए। पवित्रता अर्थात् सिर्फ ब्रह्मचारी नहीं लेकिन देह के लगाव से भी न्यारा। मन बाप के सिवाए और किसी भी प्रकार के लगाव में नहीं जाये। तन से भी ब्रह्मचारी, सम्बन्ध में भी ब्रह्मचारी और संस्कारों में भी ब्रह्मचारी – ऐसी खुशबू वाले रूहानी गुलाब ही आकर्षणमूर्त बनते हैं।
स्लोगन:- यथार्थ सत्य को परख लो तो अतीन्द्रिय सुख का अनुभव करना सहज हो जायेगा।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 22 September 2017 :- Click Here
Font Resize