today murli 25 january

TODAY MURLI 25 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 January 2019 :- Click Here

25/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, just as the Father decorates you, so you have to decorate others in the same way. Do service throughout the whole day. Explain knowledge to whoever comes to you. There is nothing to worry about.
Question: Why is it that only a handful out of multimillions understand and imbibe this knowledge?
Answer: Because everything you relate is new. When they hear you say that the Supreme Soul is like a point, they become confused because they haven’t heard these things in the scriptures. The devotion they have performed for so long pulls them and this is why they don’t understand quickly. Some emerge who are such moths that they say: Baba, I will definitely become a master of the world. I have found such a Baba and so how can I leave Him? They have the enthusiasm to surrender everything to Him.
Song: The Resident of the faraway land has come to the foreign land.

Om shanti. Sweetest, spiritual children know very well that they are travellers and that this is not their land. This unlimited play is on a very big stage. It has such big lights which are always lit. The soul knows that we are all actors and that we come here, numberwise, at our own time to play our parts. First of all, you go back home and then you come here. These matters have to be understood and imbibed very clearly. What would you call actors in a play if they didn’t know the occupation of one another? You are becoming this by knowing the beginning, the middle and the end of the drama. Therefore, this study is unique. The Father is the Seed, k nowledgefull. You know those common seeds and trees. First of all, small leaves emerge and then the tree grows and becomes very large. It takes so long. You have this knowledge in your intellect. The Father only comes once. Sweetest children, this drama is eternal and imperishable. The Father is the Creator of heaven, Heavenly God, the Father. The Father has to come here to establish heaven. There is the song: The Resident of the faraway land has come to the foreign land. This kingdom of Ravan is foreign. Rama has to come into the kingdom of Ravan. Only you have this knowledge in your intellects. The Father explains to you souls: All of you are travellers. You would not all come down here together to play your parts. You know that the first ones to exist are the deities. At that time there is no one else here; there are very few and then expansion takes place. All of you souls shed your bodies and go there. The Father has given you those intellects. You souls have now received knowledge. You know the beginning, middle and end of the tree and the Seed. The Seed is up above and the whole tree is spread out down below. The tree has now reached the state of total decay. You children now know the beginning, middle and end of this tree. Previously, when people used to ask the rishis and munis if they knew the Creator and the beginning, middle and end of creation, they would reply: Neti, neti (Neither this nor that). If they didn’t know this, how could it have existed from time immemorial? All of these things have to be imbibed very well. They must not be forgotten. You have to study. Only by studying this and having the power of yoga do you claim a status. You definitely have to become pure too. No one, apart from the Father, can make you pure. When someone donates perishable wealth, he takes his next birth in a royal family or a good home. You children take birth in a very big home. The new world is very small. In the golden age, it is as though there is a village of deities. Earlier, Bombay used to be so small. Look how much it has expanded now! All souls play their own parts ; all are travellers. The Father is the Traveller who comes here just once. You too are travellers who come here just once. You come here just once and you then continue to play your parts while taking rebirth. You are now listening to the story of immortality in order to go to the land of immortality through which you claim a high status for 21 births. They speak of 21 generations. A generation means a lifespan until old age. Then, you would automatically take another body. There won’t be untimely death. That is the land of immortality; there is no mention of death. Sudden death doesn’t take place; you shed a body and take another. There is no question of sorrow. Would a snake feel sorrow (when discarding its old skin)? It would be experiencing greater happiness. You are now receiving knowledge of the soul. It is the soul that does everything. The intellect is in the soul. The body is completely separate. If there were no soul in a body the body would not function. Everything about how a body is created and how a soul enters that body is wonderful. The Father says: Sweetest children, your heaven is the wonderful world. They show the seven wonders in the kingdom of Ravan. In the kingdom of Rama, there is just the one wonder of heaven which lasts for half the cycle. Even though people haven’t seen it, the word ‘heaven’ definitely emerges from their lips. Your intellects now know this and some of you have also had visions. Baba too saw visions of destruction and his own kingdom. Arjuna was also shown everything in visions. This is truly the episode of the Gita. Baba tells you: Children, this is the most auspicious confluence age when I come and teach you children Raja Yoga and make you so elevated. No one in the world knows these things. You live there very comfortably. Here, when a person dies, they light an earthenware lamp so that the soul doesn’t feel that darkness. Such things do not exist in the golden age. In the golden age the light of all souls is ignited; there is light in every home. People here ignite lamps in every home. The Father says: You have to imbibe all of these things very well with your intellects. Continue to remember the Father and the kingdom. You know that you ruled the kingdom for this long. The Father speaks to and teaches those who have been separated for a long time. You children know that the festivals they celebrate refer to the things that happened at this time. Only in Bharat do they celebrate the birthday of Shiva. Shiva is God, the Highest on High. How does He come in Bharat? He Himself has said that He has to come by taking the support of matter. This is how He is able to speak. Otherwise, how would He decorate you children with knowledge? You are now being decorated. You then decorate others to change them from human beings into deities. This is very easy but people’s intellects have become so dull that they don’t understand anything. It takes time. You explain everything at the exhibitions. Whoever comes and how you explain is all part of the drama. There is nothing to worry about. Children say: Baba, we beat our heads so much (we make so much effort), but only a handful out of multimillions emerge. That will happen anyway. You say that the Supreme Soul is a point. These things are not written in the scriptures and this is why people become confused. You too didn’t believe this earlier. Some took nearly two years to understand these things. They go away and then come back again. Devotion cannot be renounced so easily because it pulls you to itself. That too is part of the drama. No one else, apart from you Brahmins, knows this. You have also understood the meaning of the variety-form image. This is your somersault; you go around the cycle. This is called the variety play. You too have the knowledge of this. Just look at the things they study in those colleges ! It is not like that here. Science continues to grow and destruction will take place through that. Although you explain this now, you scarcely find anyone who says that this is very good, that you should explain this every day. No matter how much work they have, they would say: I definitely want to claim my inheritance from Baba. This is a limitless income. Baba says: I have the knowledge of the whole tree in My intellect and you too now understand it. Whatever the Father explains is very accurate. One second cannot be the same as the next. This is so subtle. You have been around the cycle so many times. This drama continues to move like a louse. It takes 5000 years to go around the cycle once. The whole play continues in that. You have to know this. There, even the cows are first class. As is your status, so is your furniture and so are your buildings. There is a lot of splendour there. It is the soul that feels happiness. I, the soul, am now satisfied. You would not say: God is now satisfied. He would ask: Is your soul now satisfied? You would reply: Yes, Baba! It is now satisfied. The whole of this play has continued. Whatever the Father explains is the playing of the drama. The Father is now rejuvenating you. Your bodies become like the kalpa tree (longer lifespan). The very name is the land of immortality. Souls too are immortal; they cannot experience death. Baba is speaking to you souls. He is speaking to the immortal soul that is sitting on this throne. The soul listens through his ears. The Father has come to teach us souls. The Father’s vision is always on you souls. The Father also explains to you: Always have the vision of brotherhood: I am speaking to my brother. Then there won’t be any criminal vision. There has to be a very good practice of this. I am a soul and I have played my part while taking this many births. I was a pure, charitable soul and I have now become impure. Alloy is mixed with the gold. What would souls who come at the end be called? They would have some percentage of gold in them. Even though they leave here, having become pure, they have less power. What would having just one or two births count for? The murlis that Baba speaks are treasures. The Father continues to give these to you and you have to continue to remember Him. It is only by having remembrance that you become ever healthy. There is also a lot of benefit in sitting down in silence. Manmanabhav! No one knows the meaning of this either. The Father explains to you the meaning of everything. Here, everything they do is meaningless. The most meaningless act they perform is to use the sword of lust on one another, through which they experience sorrow from its beginning through the middle to the end. This is the dirtiest violence and this is why this place is called hell. No one understands the meaning of heaven or hell. That is number one and hell is the last number. You know that you are actors in this world drama. You would not say, “Neti, neti” (We do not know.). You are making such beautiful pictures according to shrimat so that when people see them they are happy and are easily able to understand them. It is also fixed in the drama to make these pictures. At the end you will stay in remembrance. You will also have the world cycle in your intellects. Only you know who creates the new world and who makes it old. Everyone has to go through the stages of sato, rajo and tamo. It is now the iron age. No one knows that the Father comes and make us into the masters of heaven. This doesn’t even enter anyone’s thoughts. You now have the knowledge of the beginning, middle and end of the whole world cycle. The Father, the Creator, sits in this one and explains to you: I am the Father of you souls. I am the unlimited Teacher. This confluence age is the most auspicious, elevated age. The golden and iron ages would not be called the most elevated. It is only at the confluence age, when the Father comes and teaches you Raja Yoga, that you become the most elevated beings. Day by day, it will become very easy for you children to explain. The tree will continue to grow. Many moths come to surrender themselves to the Flame. Who would leave such a Father? They would say: Baba, I just want to remain sitting with You. All of this is Yours. Why should we leave such an elevated Father? Many people have this enthusiasm. I am receiving the sovereignty of the world from Baba, and so why should I leave Him? Here, I am sitting in heaven. Here, even death cannot come to you, but you have to take shrimat from the Father. The Father would say: You must not do that. You would feel enthusiasm to come here, but it is not in the drama for everyone to come and sit here. You feel that force and enthusiasm because you know that all of this is going to end. Those who have it in their parts will continue to listen to all of this. The Father says: You study for an LLB or the ICS, (Law degree and Indian Civil Service) but what would you receive through those? What would you receive if you were to shed your body tomorrow? Nothing at all! That is perishable knowledge whereas this is imperishable knowledge which the imperishable Father gives you. There is very little time left. You have to become satopradhan from tamopradhan in just this birth. You can only become that by having remembrance. Renounce all bodily religions and constantly remember Me alone. There is no guarantee for your bodies. While studying, some die and so it is the Father’s duty to explain to you. You know what income you earn through that study and what income you earn through this study. Shiv Baba’s treasure-store is always overflowing. So many children continue to be sustained here; there is nothing to worry about. You will not starve to death. When a physical father sees that his children don’t have anything to eat, he would not eat anything either. A father cannot bear to see his children suffering. First are the children and then the father. The mother eats last of all. She eats whatever is left at the end. Our bhandari is also like that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make the vision of brotherhood firm. Practise “I, the soul, am speaking to my brother” and transform any criminal vision.
  2. The Father is giving you the treasures of knowledge. Therefore, sit in remembrance and fill the apron of your intellect with those treasures. Sit in silence and accumulate an imperishable income.
Blessing: May you be a powerful soul who is se on the trikaldarshi seat while performing every act.
Those children who are always set on the trikaldarshi seat while performing every act know that many situations will come and take place. Whether through yourself, through others, through Maya or matter, situations will come in all ways, they will definitely come. However, when your original stage is powerful, then every external situation is nothing compared to your original stage. Before performing any act, simply check and understand the three aspects of time of that act; its beginning, middle and end, then perform that act and you will become powerful and go beyond all adverse situations.
Slogan: To be filled with all powers and knowledge is the reward of the confluence age.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

Father Brahma merged the expansion into its essence and made himself complete. In the same way, stay in the stage of being the form of the essence and become free from all waste. Stabilise yourself in the seed stage and sow the seed of recognizing time and the Father in all souls, and very good fruit will easily emerge from that seed.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 25 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 January 2019

To Read Murli 24 January 2019 :- Click Here
25-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जैसे बाप तुम्हारा श्रृंगार करते हैं ऐसे तुम्हें भी दूसरों का करना है, सारा दिन सर्विस करो, जो आये उसे समझाओ, फिकरात की कोई बात नहीं।”
प्रश्नः- यह नॉलेज कोटों में कोई ही समझते वा धारण करते हैं – ऐसा क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम सब नई बातें सुनाते हो। तुम कहते हो परमात्मा बिन्दी मिसल है तो सुनकर ही मूँझ जाते हैं। शास्त्रों में तो यह सब बातें सुनी ही नहीं हैं। इतना समय जो भक्ति की है वह खींचती है इसलिए जल्दी समझते नहीं। कोई-कोई फिर ऐसे परवाने भी निकलते हैं जो कहते हैं बाबा हम तो विश्व का मालिक ज़रूर बनेंगे। हमें ऐसा बाबा मिला हम छोड़ कैसे सकते। सब कुछ न्योछावर करने की उछल आ जाती है।
गीत:- दूरदेश के रहने वाले.. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे अच्छी तरह से जानते हैं कि हम मुसाफिर हैं। यह हमारा देश नहीं है। यह बेहद का नाटक बहुत बड़ा माण्डवा है। कितनी बड़ी-बड़ी बत्तियाँ हैं, यह सदैव जलती रहती हैं। आत्मा जानती है हम सब एक्टर्स हैं और नम्बरवार अपने पार्ट अनुसार पूरे टाइम पर आते हैं – यहाँ पार्ट बजाने। पहले-पहले तुम वापिस घर जाकर फिर यहाँ आते हो। यह अच्छी तरह से समझने और धारण करने की बात है। नाटक के एक्टर होते हैं, अगर एक दो के आक्यूपेशन को न जानें तो उनको क्या कहेंगे? ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जानने से तुम यह बनते हो। तो यह पढ़ाई सबसे न्यारी हुई। बाप बीजरूप है, नॉलेजफुल है। जैसे वह कामन बीज और झाड़ होते हैं उनको जानते हो ना। पहले-पहले छोटे-छोटे पत्ते निकलते हैं फिर बड़े होते-होते झाड़ कितना वृद्धि को पाता है, कितना समय लगता है। तुम्हारी बुद्धि में यह ज्ञान है। बाप तो एक ही बार आते हैं। मीठे-मीठे बच्चे यह अनादि अविनाशी ड्रामा है। बाप है स्वर्ग का रचयिता, हेविनली गॉड फादर। हेविन स्थापन करने बाप को आना पड़ता है। गायन भी है दूर देश का रहने वाला.. यह रावण राज्य पराया है। रावण राज्य में राम को आना है। तुम्हारी बुद्धि में ही ज्ञान है। तो बाप समझाते हैं आत्माओं को कि तुम सब मुसाफिर हो, इकट्ठे तो पार्ट बजाने नहीं आयेंगे। तुमको मालूम है सबसे पहले होते हैं देवतायें, उस समय और कोई नहीं थे। बहुत थोड़े होते हैं फिर वृद्धि को पाते हैं। तुम आत्मायें शरीर छोड़ सब वहाँ आती हो। यह बाप ने ही बुद्धि दी है। तुम आत्माओं को अब नॉलेज मिली है। हम बीज और झाड़ के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। बीज ऊपर है नीचे सारा झाड़ फैला हुआ है। अभी झाड़ पूरा ही जड़जड़ीभूत है। तुम बच्चे इस झाड़ के आदि-मध्य-अन्त को जान गये हो। आगे ऋषि मुनियों से पूछते थे कि रचता और रचना के आदि मध्य अन्त को जानते हो तो नेती-नेती कह देते थे। जबकि वह भी नहीं जानते तो परमपरा से कैसे हो सकता। यह सब बातें अच्छी तरह से धारण करनी है। भूलना नहीं है। पढ़ाई तो पढ़नी है। पढ़ाई और योगबल से ही तुम पद पाते हो। पवित्र भी ज़रूर बनना है। सिवाए बाप के और कोई पवित्र बना न सके। विनाशी धन दान करते तो राजाई कुल में अथवा अच्छे कुल में जन्म लेते हैं। तुम बच्चों को बहुत बड़े घर में जन्म मिलता है। नई दुनिया तो बहुत छोटी होती है। सतयुग में देवताओं का जैसे एक गाँव है। शुरू में बाम्बे कितनी छोटी थी। अब देखो कितनी वृद्धि को पाया है। आत्मायें सब अपना पार्ट बजाती हैं, सब मुसाफिर हैं। बाप एक ही बार का मुसाफिर है। हो तुम भी एक ही बार के मुसाफिर। तुम भी एक ही बार आते हो। फिर पुनर्जन्म लेते पार्ट बजाते ही रहते हो। अभी तुम अमरलोक में जाने के लिए अमरकथा सुनते हो, जिससे 21 जन्म ऊंच पद पाते हो। 21 पीढ़ी कहते हैं ना, पीढ़ी अर्थात् बुढ़ापे तक। फिर दूसरा शरीर आपेही लेंगे। अकाले मृत्यु नहीं होगा। वह है ही अमरलोक। काल का नाम नहीं। अचानक मृत्यु होती नहीं। तुम एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हो। दु:ख की कोई बात नहीं। सर्प को दु:ख होता होगा क्या? और ही खुशी होती होगी। अभी तुमको आत्मा का ज्ञान मिलता है। आत्मा ही सब कुछ करती है। आत्मा में ही बुद्धि है। शरीर तो बिल्कुल अलग है। उनमें आत्मा न होती तो शरीर चल न सके। कैसे शरीर बनता है, आत्मा कैसे प्रवेश करती है। हर चीज़ वन्डरफुल है।

बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चे तुम्हारा स्वर्ग है वन्डरफुल वर्ल्ड। रावण राज्य में 7 वन्डर्स दिखाते हैं। राम राज्य में बाप का एक ही वन्डर है स्वर्ग, जो आधाकल्प कायम रहता है। मनुष्यों ने देखा भी नहीं है, तो भी सबके मुख से स्वर्ग नाम ज़रूर निकलता है। अभी तुम बुद्धि से जानते हो कोई-कोई ने साक्षात्कार भी किया है। बाबा ने भी विनाश और अपनी राजधानी देखी। अर्जुन को भी साक्षात्कार में दिखाया है। अब बरोबर यह है गीता एपीसोड। बाबा बतलाते हैं कि बच्चे यह है पुरूषोत्तम संगमयुग जबकि मैं आकर तुम बच्चों को राजयोग सिखाता हूँ और इतना ऊंच बनाता हूँ। दुनिया में इन बातों को कोई नहीं जानते। तुम बहुत मौज से रहते हो। यहाँ मनुष्य मरते हैं तो दीपक जगाते हैं कि आत्मा को अन्धियारा न हो। सतयुग में ऐसी बातें नहीं होती। सतयुग में सब आत्माओं का दीपक जगा रहता है। घर-घर में सोझरा होता है। यहाँ फिर मनुष्य घर-घर में बत्तियाँ जलाते हैं। बाप कहते हैं इन सब बातों को अच्छी तरह बुद्धि में धारण करना है। बाप और राजधानी को याद करते रहो। तुम जानते हो इतना समय हमने राजाई की। जो बहुत समय के बिछुड़े हुए हैं उन्हों से ही बाप बात करते हैं, पढ़ाते हैं। बच्चे जानते हैं इस समय की बातों के ही त्योहार मनाते हैं। शिवजयन्ती भारत में ही मनाते हैं। शिव है ऊंचे ते ऊंच भगवान। वह भारत में कैसे आते हैं, उसने खुद बताया है कि मुझे प्रकृति का आधार लेकर आना पड़ता है, तब तो बोलते हैं। नहीं तो बच्चों को ज्ञान श्रृंगार कैसे करायें। अब तुम्हारा श्रृंगार हो रहा है। तुम फिर दूसरों का करा रहे हो – मनुष्य से देवता बनाने का। यह है बहुत सहज। परन्तु मनुष्यों की बुद्धि ऐसी डल हो गई है जो कुछ भी समझते नहीं। टाइम लेते हैं। तुम प्रदर्शनी में सब बातें समझाते हो। जो आया जैसे समझाया सब ड्रामा। फिकरात की कोई बात नहीं। बच्चे कहते हैं बाबा, माथा बहुत मारते हैं निकलता कोटों में कोई है। सो तो होगा। तुम कहते हो परमात्मा बिन्दी है। शास्त्रों में ऐसी बात है नहीं इसलिए मूँझ पड़ते हैं। तुम भी पहले नहीं मानते थे। कोई-कोई को दो वर्ष भी समझने में लगे। चले जाते हैं फिर आते हैं। इतना सहज भक्ति छूटती नहीं है, वह अपनी ओर खींचती है। यह भी ड्रामा में पार्ट है। सिवाए तुम ब्राह्मणों के और कोई नहीं जानते। विराट रूप का भी अर्थ समझा है, यह है तुम्हारी बाजोली। तुम चक्र लगाते हो। इनको विराट नाटक कहा जाता है। इनका भी तुमको ज्ञान है। उन कालेजों में तो क्या-क्या पढ़ते रहते हैं। यहाँ वह बात नहीं। साइंस वृद्धि को पाती रहती है, उनसे विनाश होना है। अभी भल तुम समझायेंगे परन्तु विरला कोई मिलेगा जो कहेगा यह तो बहुत अच्छी बात है। यह तो रोज़ समझाना चाहिए। कितना भी काम हो परन्तु कहेंगे हमको तो बाबा से वर्सा ज़रूर लेना है। यह तो अथाह, अनगिनत कमाई है।

बाबा कहते हैं – बच्चे मेरी बुद्धि में सारे झाड़ की नॉलेज है, सो अभी तुम भी समझ रहे हो। बाप जो समझाते हैं वह बहुत एक्यूरेट है। एक सेकेण्ड न मिले दूसरे से। कितनी महीनता है। तुमने कितने चक्र लगाये हैं। यह ड्रामा जूँ मिसल चलता है। एक ही चक्र को 5 हज़ार वर्ष लगते हैं। उसमें सारा खेल चलता है। उनको ही जानना है। वहाँ गायें भी फर्स्टक्लास होंगी। जैसा आपका पद वैसा फर्नीचर, वैसा मकान। भभका होता है। खुशी भी आत्मा को ही होती है। हमारी आत्मा तृप्त हुई। तृप्त परमात्मा तो नहीं कहा जाता है। कहेंगे तुम्हारी आत्मा तृप्त हुई? हाँ बाबा तृप्त हुई। तो यह सब खेल चलता आया है। बाप जो समझाते हैं यह भी ड्रामा का खेल है। अब बाप तुमको रिज्युवनेट करते हैं। तुम्हारी काया कल्प वृक्ष समान बन जाती है। नाम ही है अमरलोक। आत्मा भी अमर है, काल खा न सके। बाबा तुम्हारी आत्माओं से बात करते हैं। अकाल आत्मा जो इस तख्त पर बैठी है, उनसे बात करते हैं। आत्मा इन कानों से सुनती है। हम आत्माओं को ही बाप पढ़ाने आये हैं। बाप की दृष्टि हमेशा आत्माओं पर रहती है। तुमको भी बाप समझाते हैं हमेशा भाई-भाई की दृष्टि रखो। भाई से हम बात करते हैं फिर क्रिमिनल दृष्टि न जाये। यह प्रैक्टिस बहुत अच्छी चाहिए। हम आत्मा हैं, हमने इतने जन्म ले पार्ट बजाया है। हम पुण्य आत्मा थे। हम ही पवित्र आत्मा बने हैं। सोने में ही खाद पड़ती है। जो आत्मायें पिछाड़ी को आयेंगी उनको क्या कहेंगे। कुछ परसेन्ट सोने का होगा। भल पवित्र होकर जाते हैं, परन्तु पावर तो कम है ना। एक दो जन्म करके लिया, इससे क्या हुआ।

बाबा जो मुरली चलाते हैं वह है खजाना। जब तक बाप दे तब तक तुम बाप को याद करते रहो। याद से ही तुम एवर हेल्दी बनते हो। चुप होकर बैठने से भी बहुत फायदा है, मनमनाभव। इसका अर्थ भी कोई नहीं जानते। बाप ही हर बात का अर्थ समझाते हैं। यहाँ तो है अनर्थ। सबसे बड़ा अनर्थ है एक दो पर काम कटारी चलाना, जिससे आदि मध्य-अन्त-दु:ख पाते हैं। सबसे छी-छी हिंसा यह है, इसलिए इनको नर्क कहा जाता है। स्वर्ग और नर्क का भी कोई अर्थ नहीं समझते। वह है नम्बरवन, नर्क है नम्बर लास्ट। तुम जानते हो हम इस विश्व नाटक के एक्टर्स हैं। तुम नेती-नेती नहीं कहेंगे। तुम श्रीमत से कितने अच्छे चित्र बनाते हो जो मनुष्य देखते ही खुश हो जायें और सहज ही समझ जायें। यह चित्र बनाना भी ड्रामा में नूँध है। पिछाड़ी को तुम याद में ही रहेंगे। सृष्टि चक्र भी बुद्धि में आ जायेगा। नई दुनिया कौन बनाता और पुरानी दुनिया कौन बनाते हैं, यह सब तुम ही जानते हो। सतो रजो तमो में सबको आना ही है। अभी है कलियुग। यह किसको पता नहीं कि बाप आकर हमको स्वर्ग का मालिक बनायेंगे। किसके ख्याल में भी नहीं आता। तुमको तो अभी सारे सृष्टि के आदि मध्य अन्त की नॉलेज है। रचयिता बाप इसमें बैठ समझाते हैं कि मैं तुम आत्माओं का बाप हूँ। बेहद का टीचर हूँ। यह संगमयुग है पुरूषोत्तम युग। सतयुग और कलियुग को पुरूषोत्तम नहीं कहेंगे। संगम पर ही तुम पुरूषोत्तम बनते हो, जब बाप आकर राजयोग सिखलाते हैं। दिन प्रतिदिन तुम बच्चों को समझाने में बहुत सहज होगा। झाड़ वृद्धि को पाता रहेगा। शमा पर बहुत परवाने आते हैं – फिदा होने। ऐसे बाप को कौन छोड़ेगा। कहेगा बाबा बस हम तो आपके पास ही बैठे रहें। यह सब कुछ आपका है। ऐसे ऊंच बाप को हम छोड़ें क्यों? जोश बहुतों में आता है। बाबा से विश्व की बादशाही मिलती है तो हम छोड़कर क्यों जायें। यहाँ तो हम स्वर्ग में बैठे हैं। यहाँ कोई काल भी नहीं आ सकता, परन्तु बाप की श्रीमत लेनी पड़े। बाप कहेंगे ऐसे नहीं करना है। उछल तो आयेगी परन्तु ड्रामा में ऐसा नहीं है जो सब यहाँ बैठ जायें। जोश आता है क्योंकि जानते हैं यह सब कुछ खत्म होने वाला है। जिनका पार्ट है वह सुनते रहते हैं। बाप कहते हैं तुम एल.एल.बी., आई.सी.एस.पढ़ते हो इनसे क्या मिलेगा? कल शरीर छूट जाए तो क्या मिलेगा? कुछ भी नहीं। वह है विनाशी विद्या, यह है अविनाशी विद्या, जो अविनाशी बाप देते हैं। टाइम बहुत थोड़ा है। तमोप्रधान से सतोप्रधान इस जन्म में ही बनना है। वह तो याद से ही बनेंगे। और सब देह के धर्म छोड़ मामेकम् याद करो। शरीर पर भरोसा नहीं है। पढ़ते-पढ़ते मर जाते हैं। तो बाप का काम है समझाना। उस पढ़ाई में क्या कमाई है और इस पढ़ाई में क्या कमाई है। यह तो तुम जानते हो। शिवबाबा का भण्डारा सदैव भरपूर है। इतने सब बच्चे पलते रहते हैं, फिकर की कोई बात नहीं। भूख मर नहीं सकते। लौकिक बाप भी देखते हैं बच्चों को खाना नहीं मिलता है तो खुद भी नहीं खाते। बच्चों का दु:ख बाप सहन नहीं कर सकते। पहले बच्चे पीछे बाप। माँ सबसे पीछे खाती है, रूखा सूखा बचता है वह खा लेती है। हमारी भण्डारी भी ऐसी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) भाई-भाई की दृष्टि पक्की करनी है। हम आत्मा, आत्मा भाई से बात करते हैं यह अभ्यास कर क्रिमिनल दृष्टि को परिवर्तन करना है।

2) बाप जब ज्ञान खजाना देते हैं तो याद में बैठ बुद्धि रूपी झोली से खजाना भरना है। चुप बैठकर अविनाशी कमाई जमा करनी है।

वरदान:- त्रिकालदर्शी की सीट पर सेट हो हर कर्म करने वाले शक्तिशाली आत्मा भव
जो बच्चे त्रिकालदर्शी की सीट पर सेट होकर हर समय, हर कर्म करते हैं, वो जानते हैं कि बातें तो अनेक आनी हैं, होनी हैं, चाहे स्वयं द्वारा, चाहे औरों द्वारा, चाहे माया वा प्रकृति द्वारा सब प्रकार से परिस्थितियाँ तो आयेंगी, आनी ही हैं लेकिन स्व-स्थिति शक्तिशाली है तो पर-स्थिति उसके आगे कुछ भी नहीं है। सिर्फ हर कर्म करने के पहले उसके आदि-मध्य-अन्त तीनों काल चेक करके, समझ करके फिर कुछ भी करो तो शक्तिशाली बन परिस्थितियों को पार कर लेंगे।
स्लोगन:- सर्व शक्ति व ज्ञान सम्पन्न बनना ही संगमयुग की प्रालब्ध है।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे ब्रह्मा बाप ने विस्तार को सार में समेटकर स्वयं को सम्पन्न बना लिया। ऐसे सार स्वरूप स्थिति में रह व्यर्थ से मुक्त बनो। बीजरूप स्थिति में स्थित रहकर अनेक आत्माओं में समय की पहचान और बाप की पहचान का बीज डालो, तो उस बीज का फल बहुत अच्छा और सहज निकलेगा।

TODAY MURLI 25 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 25 January 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 24 January 2018 :- Click Here

25-01-2018
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at this time, the world is one of sorrow. Conquer your attachment to this world and remember the new age. Remove your intellects yoga from this old world and connect it to the new world.
Question: What preparations are you children making and inspiring others to make in order to go to the land of Krishna?
Answer: In order to go to the land of Krishna, you simply have to renounce all the vices in this, your last birth. Become pure and inspire others to become pure. To become pure is the preparation you need to make in order to go from the land of sorrow to the land of happiness. Give everyone the message that this world is dirty and that, in order to go to the new, golden-aged world, they have to remove their intellects’ yoga from this world.
Song: The heart says thanks to the One who gives it support.

Om shanti. In this song, children say: Baba. The children’s intellects go to the unlimited Father. The children who are now receiving happiness and have found the path to happiness understand that the Father has truly come to give happiness for 21 births. The Father Himself comes and gives you teachings to attain this happiness. He explains to you that none of the human beings of this world can give anything. All of them are the creation: they are all brothers and sisters. How could the creation give the inheritance of happiness to one another? Surely, only the one Father, the Creator, can give the inheritance of happiness. There are no human beings in this day and age who can give happiness to anyone. Only the one Satguru is the Bestower of Happiness and the Bestower of Salvation. Now, which happiness are you asking for? Everyone has forgotten that there was a lot of happiness in heaven. Now, in hell, there is a lot of sorrow. Therefore, it is definitely only the Master who would have mercy for all the children. There are many who believe in the Master of the World, but they do not know who He is or what they can receive from Him. It is not that we receive sorrow from the Master. You remember Him in order to attain peace and happiness. Surely, devotees remember God for attainment. Because they are unhappy, they remember Him in order to attain peace and happiness. Only the One gives unlimited happiness. Everyone else continues to give limited, temporary happiness to one another. That is not a big thing. All devotees call out to the one God. God must definitely be the greatest of all. His praise is very great, and so He must be the One who gives a lot of happiness. The Father would never cause sorrow for His children or the world. The Father explains: Just think: when I create the world, that is, the new age, would that be to cause sorrow? I create it to give happiness. However, this drama of happiness and sorrow is predestined. Human beings are so unhappy! The Father explains that there is happiness when it is the new world in the new age. There is sorrow in the old world. Everything becomes old and completely decayed. The world that I create is said to be satopradhan at first. At that time, all human beings are very happy. Because that religion has disappeared, this is not in anyone’s intellect now. You children understand that the new age was the golden age. It is now old and so everyone definitely hopes that the Father will make the world new. At first, there were very few people in the new world, the new age, and they were so happy that there was no limit to their happiness. The very name was heaven, Paradise, the new world. So, there would surely have been new people in that world. I must surely have created that new kingdom of deities. How else would it have been possible for the kingdom of deities to exist in the golden age when there were no kings in the iron age and everyone was poverty-stricken? How did this world change? People’s intellects are so dead that they do not understand anything. The Father comes and explains to you children. Human beings blame the Master. They say that He is the One who gives happiness and sorrow and yet they still remember God for Him to come and grant them peace and happiness and take them back to the sweet home. Then He will definitely send you to play your part s. The golden age will definitely come after the iron age. Human beings are following the dictates of Ravan. Elevated directions are called shrimat. The Father says: I teach you easy Raja Yoga. I do not recite verses of the Gita the way you recite them. Would the Father sit and teach you the Gita? I teach you easy Raja Yoga. Do you listen to songs or poetry at school? At school you receive an education. The Father says: I am teaching you Raja Yoga. No one else has yoga with Me. Everyone has forgotten Me. This forgetting is also fixed in the drama. I come and remind you that I am your Father. You believe that God is incorporeal, and that you are therefore His incorporeal children, incorporeal souls. You come here to play your part s . Incorporeal souls reside in the incorporeal world, which is the highest of all. This world is corporeal, then there is the subtle world and above that, there is the incorporeal world which is on the third floor. The Father personally sits in front of you children and explains to you: I too reside in that place. When the world was new, there was one religion and it was called heaven. The Father is called Heavenly God, the Father. The iron age is the land of Kans and the golden age is the land of Krishna. So, you should ask them: Will you now come to the land of Krishna? If you want to go to the land of Krishna, become pure. Just as we are making preparations to go from the land of sorrow to the land of happiness, you should also do the same. For this, you definitely have to renounce the vices. This is everyone’s final birth; everyone has to return home. Have you forgotten that this Mahabharat War took place 5000 years ago when all the religions were destroyed and the one religion was established? Deities existed in the golden age. They do not exist in the iron age. It is now the kingdom of Ravan. Human beings are devilish; they have to be made into deities. In order to do that, would God have to come into the devilish world or the divine world? Or, would He come at the confluence of the two? It has been remembered that God comes at the confluence age of every cycle. The Father explains to us in this way. You are following His shrimat. He says: I have come as your Guide to take you children back home. For this, I am also called the Death of all Deaths. The Great War, through which the gates of heaven opened, also took place a cycle ago. However, not everyone went to heaven. Everyone except the deities stayed in the land of silence. I, the Master of the land beyond sound, have come here to take everyone to the land beyond sound. You are now trapped in Ravan’s chains and have become those with vicious, dirty and devilish traits. Lust is the number one dirty vice. Then, anger and greed are dirty , numberwise. You have to become conquerors of attachment to the whole world, for only then will you be able to go to heaven. When a father builds a limited home, the intellect is engaged in that. Children tell their father to build such-and-such in the new home. In the same way, the unlimited Father says: See how beautifully I am creating the new world of heaven for you! Therefore, your intellects’ yoga should break away from the old world. What is there in this world? Bodies are old and there is alloy in souls. That can only be removed when you stay in yoga. You will then be able to imbibe knowledge. This Baba is giving you a lecture. O children, all of you souls are My creation. In the form of souls, you are brothers. All of you now have to come home with Me. Everyone has now become tamopradhan; it is Ravan’s kingdom. Previously, you didn’t know when Ravan’s kingdom began. In the golden age there are 16 celestial degrees, and then in the silver age there are 14 celestial degrees. It is not that you instantly lose two degrees; you come down gradually. Now there are no celestial degrees; there is a total eclipse. The Father says: Now give a donation and your eclipse will be removed. Give the donation of the five vices and do not commit any more sins. The people of Bharat burn Ravan. Surely, it is the kingdom of Ravan. However, they neither know what the kingdom of Ravan is nor what the kingdom of Rama is. They say that there should be the kingdom of Rama, that there should be a new Bharat, but not a single one of them knows when Bharat becomes new. All are asleep in the graveyard. You children are now able to see the trees of the golden age. There are no deities here. The Father comes here and explains all of this. He is your Mother and Father. In the physical form, these two are the mother and father. You remember that One as the Mother and Father. You will not say this in the golden age. There is no question of blessings there. Here, you have to belong to the Mother and Father and also become worthy. The Father reminds you: O people of Bharat, you have forgotten that you were deities and that you were so wealthy and sensible. You have now become bankrupt and senseless. Maya, Ravan, has made you senseless to this extent. This is why you burn Ravan. You create an effigy of an enemy and burn that. You children receive so much knowledge and yet you don’t churn it. Your intellects continue to wander around. You forget to relate these points in your lectures. You do not explain fully. You have to give everyone the Father’s message that Baba has come. The Great War is in front of you. Everyone has to return home. Heaven is being established. The Father says: Forget the bodies and bodily relations and remember Me. Don’t just say that those of Islam and the Buddhists are all brothers. Those are all bodily religions. The soul of everyone is a child of the Father. The Father says: Renounce all religions of the body and remember Me alone. We are celebrating the birth of Shiva in order to give the Father’s message. We Brahma Kumars and Kumaris are the grandchildren of Shiva. We are receiving the inheritance of the kingdom of heaven from Him. The Father gives us the message: Manmanabhav! Your sins will be absolved through this fire of yoga. Become bodiless! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night Class :

You children have now understood the corporeal world, the subtle region and the incorporeal world very well. Only you Brahmins receive this knowledge. The deities don’t need it. You now have knowledge of the whole world. Previously, you belonged to the shudra clan. You have now become Brahma Kumars, and so you are given this knowledge through which your deity dynasty is being established. The Father comes and establishes the Brahmin clan, the sun-dynasty and the moon-dynasty dynasties and He does that at this confluence age. Those of other religions do not immediately establish a dynasty. They cannot be called gurus. The Father alone comes and establishes a religion. The Father says: You now have the concern on your head of remembrance of the Father which you forget again and again. While making effort, also continue with your business etc. and also continue to have remembrance in order to be healthy. The Father enables you to earn an income with great force and you have to forget everything in that. I, the soul, am going: you are made to practise this. When you are eating, can you not remember the Father? When sewing clothes, let the yoga of your intellect be in remembrance of the Father. All the rubbish has to be removed. Baba says: You may do any work for the livelihood of your body. It is very easy. You have understood that the cycle of 84 births has now ended. The Father has now come to teach you Raja Yoga. The history and geography of the world is repeating at this time; it is being repeated just as it was a cycle ago. The Father alone explains the secret of repetition to you. It is said: One God, one religion. There will be peace there: that is the undivided kingdom. “Divided” means the devilish kingdom of Ravan. Those are deities and these are devils. The play about the devilish kingdom and the divine kingdom is based on Bharat. Bharat had the original eternal religion and it used to be the pure family path. The Father comes and creates the pure family path again. We were deities, then our degrees continued to decrease. We then came into the shudra dynasty. The Father teaches in the same way as teachers teach and the students listen. Good students pay full attention, they do not miss anything. One has to study regularly. One must not be absent in such a Godly university. Baba continues to tell deep things. Achcha. Good night. Namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce all the religions of the body. Become a bodiless soul and remember the Father. Purify the soul with yoga and imbibe knowledge.
  2. Churn the knowledge that the Father gives and give everyone the Father’s message. Do not allow your intellect to wander around.
Blessing: May you be a number one , victorious soul who is the most elevated being following the highest codes of conduct and who is constantly flying in the flying stage.
The sign of number one souls is that they win in every situation. They are never defeated by anything; they are constantly victorious. If, while moving along, you are defeated by any situation, the reason for that is that there is some fluctuation in your following the codes of conduct. However, this confluence age is for becoming the highest of all beings, the ones who follow the highest codes of conduct. Neither man nor woman but the highest of all beings – constantly maintain this awareness and you will continue to move into the flying stage and not stop down below. Those who are in the flying stage are able to overcome all problems in a second.
Slogan: Stay in the company of the one Father and no other company will be able to influence you.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 25 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 25 January 2018

To Read Murli 24 January 2018 :- Click Here
25-01-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – यह सृष्टि वा जमाना दु:ख का है इससे नष्टोमोहा बनो, नये जमाने को याद करो, बुद्धियोग इस दुनिया से निकाल नई दुनिया से लगाओ”
प्रश्नः- कृष्णपुरी में चलने के लिए तुम बच्चे कौन सी तैयारी करते और कराते हो?
उत्तर:- कृष्णपुरी में चलने के लिए सिर्फ इस अन्तिम जन्म में सब विकारों को छोड़ पावन बनना और दूसरों को बनाना है। पावन बनना ही दु:खधाम से सुखधाम में जाने की तैयारी है। तुम सबको यही सन्देश दो कि यह डर्टी दुनिया है, इससे बुद्धियोग निकालो तो नई सतयुगी दुनिया में चले जायेंगे।
गीत:- मुझको सहारा देने वाले….

ओम् शान्ति। इस गीत में बच्चे कहते हैं कि बाबा। बच्चों की बुद्धि चली जाती है बेहद के बाप तरफ। जिन बच्चों को अब सुख मिल रहा है अथवा सुखधाम का रास्ता मिल रहा है। समझते हैं बरोबर बाप स्वर्ग के 21 जन्मों का सुख देने आया है। इस सुख की प्राप्ति के लिए स्वयं बाप आकर शिक्षा दे रहे हैं। समझा रहे हैं कि यह जो जमाना है अर्थात् इतने जो मनुष्य हैं वे कुछ भी दे नहीं सकते हैं। यह तो सब रचना है ना। आपस में भाई-बहन हैं। तो रचना एक दो को सुख का वर्सा दे कैसे सकते! सुख का वर्सा देने वाला जरूर एक रचयिता बाप ही होगा। इस जमाने में ऐसा कोई मनुष्य नहीं जो किसको सुख दे सके। सुखदाता सद्गति दाता है ही एक सतगुरू। अब सुख कौन सा मांगते हैं? यह तो सभी भूल गये हैं कि स्वर्ग में बहुत सुख थे और अभी नर्क में दु:ख है। तो जरूर सभी बच्चों पर मालिक को ही तरस पड़ेगा। बहुत हैं जो सृष्टि के मालिक को मानते हैं। परन्तु वह कौन हैं, उनसे क्या मिलता है वह कुछ पता नहीं है। ऐसे तो नहीं मालिक से हमको दु:ख मिला है। याद करते ही हैं उनको सुख शान्ति के लिए। भक्त भगवान को याद करते हैं जरूर प्राप्ति के लिए। दु:खी हैं तब सुख-शान्ति के लिए याद करते हैं। बेहद का सुख देने वाला एक है, बाकी हद का अल्पकाल सुख तो एक दो को देते ही रहते हैं। वह कोई बड़ी बात नहीं। भक्त सभी पुकारते हैं एक भगवान को, जरूर भगवान सबसे बड़ा है, उनकी महिमा बहुत बड़ी है। तो जरूर बहुत सुख देने वाला होगा। बाप कभी बच्चों को वा जमाने को दु:ख नहीं दे सकते। बाप समझाते हैं तुम विचार करो – मैं जो सृष्टि अथवा जमाना रचता हूँ तो क्या दु:ख देने के लिए? मैं तो रचता हूँ सुख देने के लिए। परन्तु यह ड्रामा सुख दु:ख का बना हुआ है। मनुष्य कितने दु:खी हैं। बाप समझाते हैं कि जब नया जमाना, नई सृष्टि होती है, तो उसमें सुख होता है। दु:ख पुरानी सृष्टि में होता है। सब कुछ पुराना जड़जड़ीभूत हो जाता है। पहले जो मैं सृष्टि रचता हूँ उसको सतोप्रधान कहा जाता है। उस समय सभी मनुष्य कितने सुखी रहते हैं। वह धर्म अब प्राय:लोप होने के कारण कोई की बुद्धि में नहीं है।

तुम बच्चे जानते हो नया जमाना सतयुग था। अब पुराना है तो आशा रखते हैं कि बाप जरूर नई दुनिया बनायेगा। पहले नई सृष्टि नये जमाने में बहुत थोड़े थे और बहुत सुखी थे, जिन सुखों का पारावार नहीं था। नाम ही कहते हैं स्वर्ग, वैकुण्ठ, नई दुनिया। तो जरूर उसमें नये मनुष्य होंगे। जरूर वह देवी-देवताओं की राजधानी मैंने स्थापन की होगी ना। नहीं तो जब कलियुग में एक भी राजा नहीं, सब कंगाल हैं। फिर एकदम सतयुग में देवी-देवताओं की राजाई कहाँ से आई? यह दुनिया बदली कैसे? परन्तु सभी की बुद्धि इतनी मारी हुई है जो कुछ भी समझते नहीं हैं। बाप आकर बच्चों को समझाते हैं। मनुष्य मालिक पर दोष धरते हैं कि वही सुख दु:ख देते हैं, परन्तु ईश्वर को तो याद ही करते हैं कि आकर हमको सुख-शान्ति दो। स्वीट होम में ले चलो। फिर पार्ट में तो जरूर भेजेंगे ना! कलियुग के बाद फिर सतयुग जरूर आना है। मनुष्य तो रावण की मत पर हैं। श्रेष्ठ मत तो है ही श्रीमत। बाप कहते हैं मैं सहज राजयोग सिखाता हूँ। मैं कोई गीता का श्लोक आदि नहीं गाता हूँ जो तुम गाते हो। क्या बाप बैठ गीता सिखायेंगे? मैं तो सहज राजयोग सिखाता हूँ। स्कूल में गीत कविताएं सुनाई जाती हैं क्या? स्कूल में तो पढ़ाया जाता है। बाप भी कहते हैं तुम बच्चों को मैं पढ़ा रहा हूँ, राजयोग सिखला रहा हूँ। मेरे साथ और कोई का भी योग नहीं है। सब मेरे को भूल गये हैं। यह भूलना भी ड्रामा में नूँध है। मैं आकर फिर याद दिलाता हूँ। मैं तो तुम्हारा बाप हूँ। मानते भी हो इनकारपोरियल गॉड है तो उनके तुम भी इनकारपोरियल बच्चे हो। निराकार आत्मायें, तुम फिर यहाँ आते हो पार्ट बजाने। सभी निराकार आत्माओं का निवास स्थान निराकारी दुनिया है, जो ऊंच ते ऊंच है। यह साकारी दुनिया फिर आकारी दुनिया और वह निराकारी दुनिया सबसे ऊपर तीसरे तबके पर है। बाप सम्मुख बैठ बच्चों को समझाते हैं, हम भी वहाँ के रहने वाले हैं। जब नई दुनिया थी तो वहाँ एक धर्म था, जिसको हेविन कहा जाता है। बाप को कहा ही जाता है हेविनली गॉड फादर। कलियुग है कंसपुरी। सतयुग है कृष्णपुरी। तो पूछना चाहिए अब तुम कृष्णपुरी चलेंगे? अगर तुम कृष्णुपरी चलने चाहते हो तो पवित्र बनो। जैसे हम तैयारी कर रहे हैं दु:खधाम से सुखधाम में चलने की, ऐसे तुम भी करो। उसके लिए विकार जरूर छोड़ने पड़ेंगे। यह सबका अन्तिम जन्म है। सभी को वापस जाना है। क्या तुम भूल गये हो – 5 हजार वर्ष पहले यह महाभारी लड़ाई नहीं लगी थी? जिसमें सभी धर्म विनाश हुए थे और एक धर्म की स्थापना हुई थी। सतयुग में देवी देवतायें थे ना। कलियुग में नहीं हैं। अब तो रावण राज्य है। आसुरी मनुष्य हैं। उन्हों को फिर देवता बनाना पड़े। तो उसके लिए आसुरी दुनिया में आना पड़े वा दैवी दुनिया में आयेंगे? वा दोनों के संगम पर आयेंगे? गाया भी हुआ है कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे-युगे आता हूँ। बाप हमको ऐसे समझाते हैं, हम उनकी श्रीमत पर हैं। कहते हैं मैं गाइड बन तुम बच्चों को वापिस ले जाने के लिए आया हूँ, इसलिए मुझे कालों का काल भी कहते हैं। कल्प पहले भी महाभारी लड़ाई लगी थी, जिससे स्वर्ग के द्वार खुले थे। परन्तु सभी तो वहाँ नहीं गये, सिवाए देवी-देवताओं के। बाकी सब शान्तिधाम में थे। तो मैं निर्वाणधाम का मालिक आया हूँ, सभी को निर्वाणधाम ले जाने। तुम रावण की जंजीरों में फँसे हुए विकारी मूत पलीती आसुरी गुणों वाले हो। काम है नम्बरवन डर्टी। फिर क्रोध, लोभ नम्बरवार डर्टी हैं। तो सारी दुनिया से नष्टोमोहा भी होना है तब तो स्वर्ग चलेंगे। जैसे बाप हद का मकान बनाते हैं तो बुद्धि उसमें लग जाती है। बच्चे कहते हैं बाबा इसमें यह बनाना, अच्छा मकान बनाना। वैसे बेहद का बाप कहते हैं मैं तुम्हारे लिए नई दुनिया स्वर्ग कैसा अच्छा बनाता हूँ। तो तुम्हारा बुद्धियोग पुरानी दुनिया से टूट जाना चाहिए। यहाँ रखा ही क्या है? देह भी पुरानी, आत्मा में भी खाद पड़ी हुई है। वह निकलेगी तब जब तुम योग में रहेंगे। ज्ञान भी धारण होगा। यह बाबा भाषण कर रहे हैं ना। हे बच्चे, तुम सभी आत्मायें मेरी रचना हो। आत्मा के स्वरूप में भाई-भाई हो। अब तुम सभी को मेरे पास वापिस आना है। अभी सब तमोप्रधान बन चुके हो। रावण राज्य है ना। तुम पहले नहीं जानते थे कि रावण राज्य कब से आरम्भ होता है। सतयुग में 16 कला हैं, फिर 14 कला होती हैं। तो ऐसे नहीं एकदम दो कला कम हो जाती हैं। धीरे-धीरे उतरते हैं। अभी तो कोई कला नहीं है। पूरा ग्रहण लगा हुआ है। अब बाप कहते हैं कि दे दान तो छूटे ग्रहण। 5 विकारों का दान दे दो और कोई पाप नहीं करो। भारतवासी रावण को जलाते हैं, जरूर रावण का राज्य है। परन्तु रावण राज्य किसको कहते हैं, राम राज्य किसको कहते हैं, यह भी नहीं जानते। कहते हैं रामराज्य हो, नया भारत हो परन्तु एक भी नहीं जानते कि नई दुनिया नया भारत कब होता है। सभी कब्र में सोये पड़े हैं।

अब तुम बच्चों को तो सतयुगी झाड़ देखने में आ रहे हैं। यहाँ तो कोई देवता है नहीं। तो यह बाप आकर सब समझाते हैं। मात-पिता तुम्हारा वही है, स्थूल में फिर यह मात-पिता हैं। तुम मात-पिता उनको गाते हो। सतयुग में तो ऐसे नहीं गायेंगे। वहाँ न कृपा की बात है, यहाँ मात-पिता का बनकर फिर लायक भी बनना पड़ता है। बाप स्मृति दिलाते हैं हे भारतवासी तुम भूल गये हो, तुम देवतायें कितने धनवान थे, कितने समझदार थे। अब बेसमझ बन देवाला मार दिया है। ऐसा बेसमझ माया रावण ने तुमको बनाया है, तब तो रावण को जलाते हो। दुश्मन का एफ़ीजी बनाए उनको जलाते हैं ना। तुम बच्चों को कितनी नॉलेज मिलती है। परन्तु विचार सागर मंथन नहीं करते, बुद्धि भटकती रहती है तो ऐसी-ऐसी प्वाइन्ट्स भाषण में सुनाने भूल जाते हैं। पूरा समझाते नहीं हैं। तुमको तो बाप का पैगाम देना है कि बाबा आया हुआ है। यह महाभारी लड़ाई सामने खड़ी है। सभी को वापिस जाना है। स्वर्ग स्थापन हो रहा है। बाप कहते हैं देह सहित देह के सभी सम्बन्धों को भूल मुझे याद करो। बाकी सिर्फ ऐसे नहीं कहना है कि इस्लामी, बौद्धी आदि सब भाई-भाई हैं। यह तो सभी देह के धर्म हैं ना। सभी की जो आत्मायें हैं वह बाप की सन्तान हैं। बाप कहते हैं यह सब देह के धर्म छोड़ मामेकम् याद करो। यह बाप का मैसेज देने के लिए हम शिव जयन्ती मना रहे हैं। हम ब्रह्माकुमार कुमारियां शिव के पोत्रे हैं। हमको उनसे स्वर्ग की राजधानी का वर्सा मिल रहा है। बाप हमको पैगाम देते हैं कि मनमनाभव। इस योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। अशरीरी बनो। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास:

अभी तुम बच्चे स्थूलवतन, सूक्ष्मवतन और मूलवतन को अच्छी तरह समझ गये हो। सिर्फ तुम ब्राह्मण ही यह नॉलेज पाते हो। देवताओं को तो यह दरकार ही नहीं है। तुमको सारे विश्व की अब नॉलेज है। तुम पहले शूद्र वर्ण के थे। फिर ब्रह्माकुमार बने तो यह नॉलेज देते हैं जिससे तुम्हारी डीटी डिनायस्टी स्थापन हो रही है। बाप आकर ब्राह्मण कुल, सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी डिनायस्टी स्थापन करते हैं। वह भी इस संगम पर स्थापना करते हैं। और धर्म वाले फट से डिनायस्टी नहीं स्थापन करते हैं। उनको गुरू नहीं कहा जाता। बाप ही आकर धर्म की स्थापना करते हैं। बाप कहते हैं अभी सिर पर फुरना है बाप की याद का, जिसे घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। पुरुषार्थ कर धंधा आदि भी करते रहे और याद भी करते रहे हेल्दी बनने के लिये। बाप कमाई बड़ी जोर से कराते हैं, इसमें सभी कुछ भुलाना पड़ता है। हम आत्मा जा रही हैं, प्रैक्टिस कराई जाती है। खाते हो तो क्या बाप को याद नहीं कर सकते हो? कपड़ा सिलाई करते हैं बुद्धियोग बाप की याद में रहे। किचड़ा तो निकालना है। बाबा कहते हैं शरीर निर्वाह लिए भल कोई काम करो। है बहुत सहज। समझ गये हो 84 का चक्र पूरा हुआ। अब बाप राजयोग सिखाने आये हैं। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जाग्राफी इस समय रिपीट होती है। कल्प पहले जैसे ही रिपीट हो रही है। रिपीटेशन का राज़ भी बाप ही समझाते हैं। वन गाड, वन रिलीजन भी कहते हैं ना। वहाँ ही शान्ति होगी। वह है अद्वैत राज्य, द्वैत माना आसुरी रावण राज्य। वह है देवता, यह है दैत्य। आसुरी राज्य और दैवी राज्य का भारत पर ही खेल बना हुआ है। भारत का आदि सनातन धर्म था, पवित्र प्रवृत्ति मार्ग था। फिर बाप आकर पवित्र प्रवृत्ति मार्ग बनाते हैं। हम सो देवता थे, फिर कला कम होती गई। हम सो शूद्र डिनायस्टी में आये। बाप पढ़ाते ऐसे हैं जैसे टीचर लोग पढ़ाते हैं, स्टूडेन्ट सुनते हैं। अच्छे स्टूडेन्ट पूरा ध्यान देते हैं, मिस नहीं करते हैं। यह पढ़ाई रेग्युलर चाहिए। ऐसी गॉडली युनिवर्सिटी में अपसेन्ट होनी नहीं चाहिए। बाबा गुह्य-गुह्य बातें सुनाते रहते हैं। अच्छा, गुडनाईट। रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह के सब धर्मों को छोड़, अशरीरी आत्मा समझ एक बाप को याद करना है। योग और ज्ञान की धारणा से आत्मा को पावन बनाना है।

2) बाप जो नॉलेज देते हैं, उस पर विचार सागर मंथन कर सबको बाप का पैगाम देना है। बुद्धि को भटकाना नहीं है।

वरदान:- मर्यादा पुरूषोत्तम बन सदा उड़ती कला में उड़ने वाले नम्बरवन विजयी भव 
नम्बरवन की निशानी है हर बात में विन करने वाले। किसी भी बात में हार न हो, सदा विजयी। यदि चलते-चलते कभी हार होती है तो उसका कारण है मर्यादाओं में नीचे ऊपर होना। लेकिन यह संगमयुग है मर्यादा पुरुषोत्तम बनने का युग। पुरुष नहीं, नारी नहीं लेकिन पुरुषोत्तम हैं, इसी स्मृति में सदा रहो तो उड़ती कला में जाते रहेंगे, नीचे नहीं रुकेंगे। उड़ती कला वाला सेकण्ड में सर्व समस्यायें पार कर लेगा।
स्लोगन:- एक बाप के श्रेष्ठ संग में रहो तो दूसरा कोई संग प्रभाव नहीं डाल सकता।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize