today murli 24 september

TODAY MURLI 24 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 September 2018 :- Click Here

24/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children,your heads should be constantly filled with happiness because you have now become master knowledge-full, like the Father.
Question: On what basis do you children become prosperous for 21 births?
Answer: At the confluence age you give everything of yours directly to the Father.You hand over everything to the Father and, in return , you become prosperous for 21 births. Baba says: At this time give whatever rubbish you have to Me. Before you die, transfer everything you have and you will receive the return of that in the future.
Song: Salutations to Shiva. 

Om shanti. God Shiva speaks to you saligrams. The spiritual Father is explaining to the spiritual children. You children now understand that you have to sit here while considering yourself to be souls and not bodies. There is not a single human being in this world who understands what a soul is. If they don’t know about the soul, how could they know about the Supreme Soul? You are given an explanation of the soul by the Father. Human beings don’t know what a soul is or who the Supreme Soul is. That is why they are unhappy. You children now know how long this drama lasts and that the life cycle of this tree is 5000 years. You understand that if the seeds of those trees were living they would tell you how the tree emerges from the seed. However, all those seeds are non-living; this is the only living Seed of the variety human world tree. You children now have the whole knowledge. You have received the knowledge of the whole tree from its beginning to its end, numberwise, according to your efforts. Just as the knowledge of a whole tree is merged in its seed, so this Father is the living Seed. People sing that the Supreme Father, the Supreme Soul is the Truth, the Living Being and the Embodiment of Bliss. This praise is of the incorporeal One. His praise is completely distinct from that of anyone else. Human beings don’t understand anything. Although deities receive their inheritance here, they do not have this knowledge there. This is a wonderful aspect. You now receive the whole knowledge here. You have in your intellects the knowledge of how the world cycle turns. The Father comes and creates the new kingdom. You are actors in this drama. Only you have the knowledge of the drama from its beginning, through the middle to its end and of the Creator and creation; no one else has this knowledge. Neither the shudra clan nor the deity clan has this knowledge. If they were to hear this, they would be wonder struck. People say that the festivals they celebrate have continued since time immemorial, but the Father says that they do not exist in the golden age. No one knows about the festivals. You now say that the festivals of Dashera, Diwali etc are coming. These things are not remembered there. You rule your kingdom without worrying about anything. The locks on your intellects have now opened. You are actors. You know the Creator of this drama, its duration, the Director and all the main actors etc. Those who retain this knowledge in their intellects will experience limitless happiness. Only God , the Father , is called k nowledge-full, the Ocean of Knowledge. What knowledge? No one apart from you can understand this. Only God is called the k nowledge-full World Almighty Authority. What knowledge is this? It is the knowledge of all the Vedas, the scriptures and the Granth etc. and the beginning, the middle and the end of the world. This knowledge is not in the scriptures. Those scriptures are of the path of devotion. People just continue to worship; they do not have knowledge of the Creator or His creation. This is why even sages and holy men etc. say that they do not know the Creator or His creation. Only the one Father can explain all of these things. Therefore, how could they know about these things? The knowledge that you receive from the Father will later disappear. No one, except you children, knows this knowledge. You receive such great knowledge. Therefore, how much happiness you children should experience! People go abroad to study medicine etc. Here, you become so healthy that there will be no need for doctors etc. there. We come to know everything from the unlimited Father who is knowledge-full. We are His children. So, your head should remain so full with this knowledge that you continue to experience a great deal of happiness. There is nothing that you don’t know about. Whatever those people study is nothing. They study so many scriptures etc. of the path of devotion but none of them knows how this human world cycle turns. You children are now becoming master knowledge-full. You have come to know everything in a nutshell. You have to make souls that have become tamopradhan become satopradhan. There are some who, from tamopradhan have become tamo, some have become rajo from tamo and some have become sato from rajo, but no one could be said to be satopradhan yet. When you do become satopradhan, you will have reached your karmateet stage, numberwise, according to the effort you made. The new world will then be required for the kingdom. This is why the old world has to be destroyed. When the sacrificial fire of knowledge is about to come to an end, everything of this old world will be sacrificed into it. When your study is completed you will attain your karmateet stage, numberwise, according to your efforts. Just as when students pass an exam and they are transferred, in the same way, you too will be transferred from this land of death to the land of immortality. We were in the land of immortality and, while taking 84 births, we came into the land of death. You say that you are now studying and that you will then go to the land of immortality and become deities. Only the Father changes ordinary human beings into deities. Who else could purify the impure and make them into deities? There are no deities here who could create deities. Lakshmi and Narayan would be needed, but they are not here. You children know that the Father comes at this time to teach you. He gives you your fortune of the kingdom of heaven. There was heaven; there was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Who established their kingdom? It was Heavenly God, the Father, who created Paradise, satyug (the age of truth), where the deities ruled. There were no other lands at that time; there was only Bharat. It is in your intellects that, when you rule, no one else will exist there. The whole tree is in your intellects. Its Seed is up above. He is the Truth and the Living Being. Souls are imperishable and Baba is also imperishable. Baba tells you all the knowledge He has. The whole tree is in front of you and Baba is above it at the top. People at this time are completely degraded thorns. Because the tree is old, it has dried up, which is why this world is called the jungle of thorns. There, there is a garden of flowers. Baba is the Master of the Garden. Some call Him the Boatman and some call Him the Gardener. The Father is the Boatman. You are also learning how to sail your boat s. Everyone’s boat has become very old. The boat comprises both the soul and the body. People sing: “Take my boat across.” Now that your boat is old, your body is also old. Now, how can it go across and where would it go? You understand what is meant by going across and what is meant by the land of liberation and the land of liberation-in-life. The Father is definitely taking you across. He takes you from the land of sorrow to the land of happiness, that is, from the ocean of poison to the ocean of milk. Those people simply sing: Take my boat across. O Master of the Garden, come and change us thorns into flowers. You too didn’t understand this before. You have now come to know all the secrets of the supreme region, the subtle region and the golden age to the end of the iron age. Only the One who knows these secrets can tell you. If the knowledge continually trickles into you, you will always remain happy. Nothing remains for you to worry about. You become free from worry. You understand that Baba is taking us back with Him. We are now becoming like Baba. A child becomes like his father, does he not? Baba is k nowledge-full and He has also made you knowledge-full. Souls have a connection with the Father, the Supreme Soul. You souls say: Whatever knowledge Baba has, He is giving it to us souls. You are the spiritual children of the spiritual Father. This too is a new aspect. No one except Baba can say this. The incorporeal Father says this with the support of a corporeal body. Otherwise, you wouldn’t be able to hear Him. The Father makes the children similar to Himself. That Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. His praise is also your praise; there is no difference. So, what other difference remains? I do not enter the cycle of birth and death, whereas you come into the cycle of birth and death. I am called the Ocean of Knowledge and so I give you children this knowledge. I am the Ocean of Happiness, the Ocean of Purity and the Ocean of Peace and so I give you these as your inheritance. You know that this whole cycle is going to turn again after 5000 years. This knowledge is your source of income. The more you study, the more income you will earn through knowledge. This is knowledge as well as a business. Money lenders make deals. What do you give? Rubbish! A person’s rubbish is given to a karnighor (special brahmin priest) after he dies, whereas you have to give everything you have while you are still alive. People give in the name of God. Now, would you give your old bed etc to God? The Father says: Give everything to Me before you die. All of those old things will be of no use to you. No matter how wealthy someone may be, for how long does that last? Just for one birth. After that, who knows where he would go and take birth according to his karma. You receive from the Father for 21 births according to the effort you make. This is spiritual service. Everyone in the world knows about physical service, but no one knows about spiritual service. It is the Supreme Spirit who comes and gives this knowledge. People celebrate the birth of that Supreme. Only He is called the Ocean of Happiness, the Ocean of Peace, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. His name is Shiva. His birthday is also celebrated, but they don’t have anything in their intellects. Only the Father can reveal all of these secrets and He will reveal them to you again after 5000 years. This knowledge does not exist in the golden age, because souls there are satopradhan. It is only by having this knowledge that souls can become that. These are new aspects. Even those who built the temples to Lakshmi and Narayan don’t know why they built those temples to them. Who gave them that kingdom? How did they attain that status? It is said that that is the fruit of their karma. The Father now sits here and explains the secrets of the philosophy of pure action, neutral action and sinful action. They too must have heard this knowledge. These are the versions of God. It was through the Gita that the original, eternal, deity religion was established. There were very few people there, so where did the rest of the old world go? Surely, destruction must have taken place. The Mahabharat war is also remembered. It is said that the poet Girdhar said this. However, it is Krishna whom they refer to as Girdhar. Who is that poet? It is Shiv Baba who is called the Poet. A poet is someone who narrates something to you. You understand that there are going to be many calamities etc. Just look how they are preparing for the destruction of the old world! This is the time of the Mahabharat war when God comes and creates the sacrificial fire of knowledge of Rudra. For what does God create this sacrificial fire? A sacrificial fire is usually created for peace and happiness. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness for all. Therefore, the whole of this old world will be sacrificed into this sacrificial fire of knowledge. You know that you Brahmins are the servants of this yagya (sacrificial fire). Since you Brahmins are the real mouth-born children of Brahma, you have to accept everything that Baba says through this mouth. By following the elevated directions of Shri, Shri we will become elevated and then become beads of the rosary of Rudra. Just as there is a genealogical tree of the Vaswanis and a genealogical tree of the Kirpalanis, so, too, Baba is up above and His genealogical tree is incorporeal. That incorporeal genealogical tree then becomes the corporeal genealogical tree. Brahma, the Father of Humanity, is first in this. So this one is physical and the other is spiritual. The spiritual Father comes and creates His creation through Brahma, the Father of Humanity. People call out to Him: O Purifier come! Come and purify this old and impure world. He does not create a new world, because annihilation can never take place. Therefore, the world history and geography repeat and the cycle of 84 births starts again from the beginning. You receive unlimited knowledge from the unlimited Father and you also receive an unlimited inheritance. Everyone remembers the unlimited Father and says: O God! When they say, “O Ishwar! O Prabhu!” they do not remember an image. It is the incorporeal One that they remember. People also say: “Remember God. He is the Father.” We are all brothers. It is said of souls that they are all brothers. Everyone calls out: O Purifier! O Bestower of Happiness and Remover of Sorrow! O Liberator, come and guide us back home. We have forgotten our home. We do remember our home, but we don’t know how to get there. When you have yoga, it is as though oil is being poured into the soul. Soul are imperishable. The lamp of each soul is not completely extinguished but you now have to add more oil of the power of yoga. Then, there will forever be the festival of lights (Deepmala); there will be light everywhere. Deepmala means that there is light in every home. Where will this Deepmala be? In the golden age, not here. You understand all of these secrets; you don’t have blind faith. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become free from all worry, become knowledge-full like the Father. Make your intellect continually churn this knowledge.
  2. Do spiritual service and create your future reward. Transfer all your old things.
Blessing: May you be an image that grants and experience the Incorporeal and the subtle in the corporeal form with the lesson of One (ek).
Simply make the lesson of “One” firm and please the Bestower of Blessings. Then, from amrit vela until night time you will continue to be sustained as you move along and fly with blessings in every act you perform in your daily timetable. The lesson of “One” is: One strength (ek bal) and one support (ek bharosa), to follow one direction (ek mat), to be constant and stable (ekras), to have unity (ekta) and to have love for solitude (ekantpriya). The Father loves this word “one”. Those who make this lesson of “one” firm never experience anything to be difficult. Specially blessed souls receive special blessings and this is why it is as though they experience the Incorporeal and the subtle in the corporeal.
Slogan: Instead of stepping away from others and creating your stage, become a support for everyone.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 September 2018

To Read Murli 23 September 2018 :- Click Here
24-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारा मगज़ (दिमाग) खुशी से सदा भरपूर होना चाहिए क्योंकि तुम अभी बाप के समान मास्टर नॉलेजफुल बने हो”
प्रश्नः- तुम बच्चे 21 जन्मों के लिए किस आधार पर मालामाल बनते हो?
उत्तर:- संगम पर तुम डायरेक्ट बाप को अपना सब कुछ देते हो। सब बाप के हवाले कर देते हो इसके रिटर्न में तुम 21 जन्मों के लिए मालामाल बन जाते हो। बाबा कहते इस समय तुम्हारे पास जो कूड़ा किचड़ा है वह मुझे दे दो, मरने के पहले अपना सब कुछ ट्रान्सफर कर दो तो भविष्य में उसका रिटर्न मिल जायेगा।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…….. 

ओम् शान्ति। सालिग्रामों प्रति शिव भगवानुवाच। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप समझा रहे हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो यहाँ हमको आत्मा समझ बैठना है, न कि शरीर और सारी दुनिया में एक भी ऐसा मनुष्य नहीं है जो यह समझते हों कि आत्मा क्या है। आत्मा को ही नहीं जानते तो फिर परमात्मा को भी कैसे समझेंगे? बाप द्वारा ही आत्मा की समझानी मिलती है। आत्मा और परमात्मा को ही नहीं जानते इसलिए ही मनुष्य दु:खी हैं। अभी तुम बच्चों को यह मालूम हुआ है कि इस ड्रामा की अथवा कल्प वृक्ष की आयु 5 हजार वर्ष है। यह तो समझते हो उन्हों का बीज अगर चैतन्य होता तो बतलाता ना कि मुझ बीज से झाड़ ऐसे पैदा हुआ। अब वह तो है जड़, यह चैतन्य एक ही मनुष्य सृष्टि का वैराइटी झाड़ है। तुम बच्चों को अभी सारी नॉलेज है। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार शुरू से लेकर अन्त तक सारे झाड़ का ज्ञान मिला हुआ है। जैसे बीज में सारे झाड़ का ज्ञान होता है। यह बाप है चैतन्य बीजरूप, गाते भी हैं परमपिता परमात्मा सत-चित-आनंद स्वरूप है। निराकार की महिमा गाई जाती है। उनकी महिमा सबसे बिल्कुल ही न्यारी है। मनुष्य तो कुछ भी नहीं जानते हैं। भल देवताओं को यह वर्सा यहाँ से ही मिलता है परन्तु उनको भी वहाँ यह ज्ञान नहीं रहता। वन्डरफुल बात है ना। यहाँ अभी तुमको सारा ज्ञान मिलता है। बुद्धि में नॉलेज है – यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। बाप आकरके नई राजधानी स्थापन करते हैं। तुम इस ड्रामा के एक्टर्स हो। सिर्फ तुमको ही ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त, रचता और रचना का ज्ञान है और किसको है नहीं। न शूद्र वर्ण को यह ज्ञान है, न देवता वर्ण को यह ज्ञान है। कोई सुनेंगे तो वन्डर खायेंगे। मनुष्य कहते हैं यह त्योहार आदि जो मनाते हैं, वह परमपरा से चले आये हैं। परन्तु बाप समझाते हैं सतयुग में तो यह होते ही नहीं। त्योहारों को कोई जानते ही नहीं। अभी तो कहते हैं ना यह दशहरा, दीवाली आदि त्योहार आने हैं। वहाँ तो यह कुछ भी याद नहीं रहता। एकदम निष्फुरने (निश्चिंत) हो राज्य करते रहेंगे।

अभी यहाँ तुम्हारी बुद्धि का ताला खुला हुआ है। तुम एक्टर्स हो। इस ड्रामा के क्रियेटर, डायरेक्टर, मुख्य एक्टर्स, ड्युरेशन आदि को जानते हो। यह नॉलेज जिसकी बुद्धि में रहेगी, उनको अपार खुशी रहेगी। गॉड फादर को ही नॉलेजफुल ज्ञान सागर कहा जाता है। कौनसी नॉलेज है? सिवाए तुम्हारे यह कोई भी समझ न सके। गॉड को ही नॉलेजफुल, वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी कहा जाता है। तो नॉलेज किसकी है? सभी वेदों, शास्त्रों, ग्रंथों, सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की। शास्त्रों में यह ज्ञान नहीं है। वह है ही भक्ति मार्ग के शास्त्र, सिर्फ पूजा करते रहो। बाकी रचयिता और रचना की नॉलेज कुछ भी नहीं है। तब तो ऋषि-मुनि आदि भी कहते थे कि हम रचता और रचना को नहीं जानते। समझाने वाला एक ही बाप है। तो जानेंगे फिर कहाँ से। अभी तुम बाप द्वारा सुनते हो फिर यह नॉलेज प्राय:लोप हो जाती है। यह नॉलेज सिवाए तुम बच्चों के और कोई नहीं जानते। तुमको कितनी बड़ी नॉलेज मिलती है। तो तुम बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए! वह लोग डॉक्टरी आदि पढ़ने के लिए, सीखने के लिए विलायत में जाते हैं। तुमको तो यहाँ ऐसा बनाते हैं जो वहाँ यह डॉक्टर आदि होते ही नहीं। बेहद का बाप जो नॉलेजफुल है, उन द्वारा हम सब कुछ जान जाते हैं। उनकी हम सन्तान हैं। तो ज्ञान से मगज़ (दिमाग) कितना भरपूर रहना चाहिए। कितनी खुशी होनी चाहिए। ऐसी कोई चीज नहीं जिसको हम न जानते हो। वह लोग जो कुछ पढ़ते हैं वह तो कुछ नहीं है। भक्ति मार्ग के शास्त्र आदि कितने पढ़ते हैं। परन्तु यह तो कोई नहीं जानते कि यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है? तुम बच्चे अभी मास्टर नॉलेजफुल बनते हो। नटशेल में तो सब जान चुके हो। बाकी सिर्फ आत्मा जो तमोप्रधान है उनको सतोप्रधान बनाना है। कोई हैं जो तमोप्रधान से तमो बने होंगे, कोई तमो से रजो बने होंगे, कोई रजो से सतो बने होंगे। सतोप्रधान नहीं कहेंगे। सतोप्रधान जब बन जायेंगे तो नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार कर्मातीत अवस्था आ जायेगी फिर तो नई दुनिया चाहिए राजाई के लिए इसलिए पुरानी दुनिया का विनाश होता है। जब यह यज्ञ पूरा होगा तो सारी पुरानी दुनिया की आहुति पड़ेगी। यह पढ़ाई पूरी हो जायेगी फिर नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार कर्मातीत अवस्था को पा लेंगे। जैसे वह भी इम्तहान पास कर फिर ट्रांसफर हो जाते हैं, तुम भी मृत्युलोक से ट्रांसफर हो अमरलोक में चले जायेंगे। हम अमरलोक में थे फिर 84 जन्म लेते-लेते मृत्युलोक में आ गये हैं।

तुम कहते हो अभी हम पढ़ रहे हैं फिर अमरलोक में जाकर देवी-देवता बनेंगे। बाप ही मनुष्य से देवता बनाते हैं। पतितों को पावन देवी-देवता कौन बनायेगा? देवता तो यहाँ कोई है नहीं, जो देवी-देवता बनावे। लक्ष्मी-नारायण चाहिए ना। वह तो यहाँ होते नहीं। तुम बच्चे जानते हो इस समय बाप ही आकर पढ़ाते हैं। स्वर्ग का राज्य भाग्य देते हैं। स्वर्ग था, लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। इन्हों की यह राजाई किसने स्थापन की? हेविनली गॉड फादर ने ही पैराडाइज सतयुग स्थापन किया, जहाँ देवी-देवता राज्य करते थे। वहाँ दूसरा कोई खण्ड था नहीं। एक ही भारत था। तुम्हारी बुद्धि में है – हम जब राज्य करेंगे तो दूसरा कोई नहीं होगा। तुम्हारी बुद्धि में यह सारा झाड़ है, इसका बीज ऊपर में है। वह सत है, चैतन्य है। आत्मा भी इम्पैरेसिबुल है। बाबा भी इम्पेरेसिबुल है। जो बाबा में ज्ञान है वह तुमको सुनाते हैं। सारा झाड़ खड़ा है, बाबा ऊपर में है। इस समय मनुष्य तमोप्रधान कांटे हैं। झाड़ पुराना होने से जैसे सूख जाता है इसलिए इनको कहा जाता है कांटों का जंगल। वहाँ होता है फूलों का बगीचा। बागवान भी है, किसको खिवैया, किसको बागवान, किसको माली कहते हैं। बाप है खिवैया। तुम भी बोट चलाना सीख रहे हो। हरेक की नईया बहुत पुरानी हो गई है। नईया आत्मा और शरीर दोनों की बनी हुई है। गाते भी हैं – नईया मेरी पार लगाओ। अब नईया भी पुरानी तो शरीर भी पुराना। अब पार कैसे हो और कहाँ जायें? तुम जानते हो पार किसको कहा जाता है, मुक्तिधाम, जीवनमुक्तिधाम क्या चीज़ है! बरोबर बाप अभी पार ले जाते हैं, दु:खधाम से सुखधाम अथवा विषय सागर से क्षीरसागर में ले जाते हैं। वह सिर्फ गाते हैं नईया मेरी पार लगाओ, बागवान आओ, कांटों को फूल बनाओ। तुम भी पहले नहीं जानते थे। अभी मूलवतन, सूक्ष्मवतन, सतयुग से लेकर कलियुग तक सब राज़ को जान गये हो। जो जानते हैं वही सुनाते हैं। अन्दर ज्ञान टपकता रहे तो सदैव खुशी में रहेंगे। कोई चिंता की बात ही नहीं रहती, फिक्र से फ़ारिग हो जाते हो।

तुम जानते हो बाबा हमको ले जाते हैं, अब हम बाबा जैसे बन रहे हैं। बच्चा बाप समान बनता है ना। बाबा नॉलेजफुल है, तुमको भी नॉलेजफुल बनाया है। आत्माओं का कनेक्शन है ही परमात्मा बाप से। आत्मा कहती है जो बाबा में नॉलेज है, वह हम आत्माओं को दे रहे हैं। तुम हो रूहानी बाप के रूहानी बच्चे। यह भी नई बात है ना। बाबा बिगर कोई सुना न सके। वह निराकार बाप भी साकार के आधार से सुनाते हैं। नहीं तो तुम सुन न सको। बच्चों को बाप आप समान बनाते हैं। दु:ख हर्ता, सुख कर्ता वह बाप है। उनकी जो महिमा है वह तुम्हारी भी है, कोई फ़र्क नहीं। बाकी क्या फ़र्क रहता है? हम जन्म-मरण में नहीं आते हैं, तुम जन्म-मरण में आते हो। मुझे ज्ञान सागर कहते हैं तो मैं तुम बच्चों को ज्ञान देता हूँ। मैं सुख का सागर, पवित्रता का सागर, शान्ति का सागर हूँ, तो तुमको भी यह वर्सा देता हूँ।

तुम जानते हो यह सारा चक्र फिर 5 हजार वर्ष बाद फिरेगा। यह नॉलेज है सोर्स आफ इनकम। जितना पढ़ते हैं उतना नॉलेज से इनकम होती है। यह नॉलेज भी है तो धंधा भी है। शर्राफ लोग सट्टा करते हैं, तुम क्या देते हो? कूड़ा-किचड़ा। मरने के बाद करनीघोर को कूड़ा-किचड़ा ही देते हैं। तुमको तो जीते जी देना है। ईश्वर अर्थ देते हैं। अब क्या ईश्वर को पुराना खटिया आदि देंगे? बाप कहते हैं तुम मरने से पहले ही सब दे दो। यह पुरानी चीज़ तुम्हारे काम में ही नहीं आयेगी। भल कोई कितना भी साहूकार हो परन्तु कितने दिन के लिए होगा? एक जन्म के लिए, फिर कर्मों अनुसार पता नहीं कहाँ जाकर जन्म लेंगे। तुम तो बाप से 21 जन्मों के लिए लेते हो पुरुषार्थ अनुसार।

यह है रूहानी सर्विस। सारी दुनिया जानती है जिस्मानी सर्विस को। रूहानी को कोई जानते ही नहीं। सुप्रीम रूह ही आकर नॉलेज देते हैं। उस सुप्रीम का जन्म भी मनाते हैं। उनको ही सुख का सागर, शान्ति का सागर, दु:ख हर्ता, सुख कर्ता कहते हैं। शिव नाम है ना। जयन्ती भी मनाते हैं। परन्तु बुद्धि में कुछ नहीं है। बाप ही यह सब राज़ सुनाते हैं। फिर 5 हजार वर्ष बाद सुनायेंगे। यह ज्ञान सतयुग में नहीं होता क्योंकि आत्मायें सतोप्रधान हैं। ज्ञान से ही वह ऐसी बनती हैं। यह नई बातें हैं ना। मन्दिर बनाने वाले भी यह नहीं जानते कि लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर हम क्यों बनाते हैं? उन्हों को यह राज्य किसने दिया? कैसे यह पद पाया? कहते हैं ना कर्मों का फल है। अभी बाप बैठ कर्म-अकर्म-विकर्म की गति का राज़ समझाते हैं। उन्हों ने भी यह नॉलेज सुनी होगी। है ही भगवानुवाच – गीता से ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हुई। वहाँ बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। बाकी सारी पुरानी सृष्टि कहाँ गई? जरूर विनाश हुआ होगा। महाभारत लड़ाई भी गाई हुई है। गिरधर कविराज कहते हैं। अब गिरधर तो कहते हैं कृष्ण को। कवि कौन है? शिवबाबा को कवि कहा जाता है। कवि अर्थात् सुनाने वाला।

तुम जानते हो आ़फतें आदि बहुत आनी हैं। पुरानी दुनिया के विनाश लिए क्या-क्या चीजें बना रहे हैं। यह वही महाभारत लड़ाई है जबकि भगवान् ने आकर रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा है। भगवान् यज्ञ किसलिए रचते हैं? यज्ञ रचा ही जाता है सुख-शान्ति के लिए। बाप सभी का दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है। तो इस ज्ञान यज्ञ में सारी पुरानी सृष्टि स्वाहा हो जायेगी। तुम जानते हो हम ब्राह्मण यज्ञ के सर्वेन्ट हैं। हम ब्राह्मण ब्रह्मा के सच्चे मुख वंशावली हैं तो बाबा जो मुख से कहे वह मानना पड़े। श्री श्री की श्रेष्ठ मत से ही हम श्रेष्ठ बन, रूद्र की माला का दाना बनेंगे। सिजरा बनाते हैं – वासवानी सिजरा, कृपलानी सिजरा….। तो ऊपर में है शिवबाबा, उनका है निराकारी सिजरा। निराकारी सिजरा वह फिर साकारी सिजरा होता है। पहले नम्बर में है प्रजापिता। तो वह हुआ जिस्मानी और वह रूहानी। रूहानी बाप आकर प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा रचना रचते हैं। उनको बुलाते ही हैं हे पतित-पावन आओ। पुरानी पतित दुनिया को पावन बनाने आओ। नई नहीं बनाते हैं। प्रलय होती नहीं। तो यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है। 84 का चक्र फिर से शुरू होता है। बेहद के बाप से बेहद की नॉलेज मिलती है, बेहद का वर्सा मिलता है। बेहद के बाप को सब याद करते हैं – हे भगवान् कहते हैं ना। हे ईश्वर, हे प्रभू कहने से कोई चित्र याद नहीं आता। निराकार याद आता है। कहते भी हैं कि भगवान् को याद करो। फादर है ना। हम सब हैं ब्रदर्स। आत्माओं के लिए कहते हैं सब ब्रदर्स हैं। सब पुकारते हैं – हे पतित-पावन, दु:ख हर्ता, सुख कर्ता, हे लिबरेटर आओ, हमको गाइड करो। घर भूल गया है। याद है परन्तु हम जा नहीं सकते हैं। योग लगाने से जैसे घृत पड़ता जाता है। आत्मा अविनाशी है ना। तो आत्मा की ज्योति सारी उझाई नहीं जाती है। तो अब योगबल का घृत डालना है। सदैव के लिए फिर दीपमाला, सोझरा हो जायेगा। दीपमाला अर्थात् घर-घर में सोझरा। तो दीपमाला कहाँ होगी? सतयुग में। यहाँ नहीं। यह सब राज़ तुम समझते हो, तुम्हारे पास ब्लाइन्डफेथ नहीं है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) चिंताओं से फ्री होने के लिए बाप समान नॉलेजफुल बनना है। बुद्धि में सदा ज्ञान का सिमरण करते रहना है।

2) रूहानी सर्विस कर अपनी प्रालब्ध बनानी है। पुराना सब कुछ ट्रांसफर कर देना है।

वरदान:- एक के पाठ द्वारा निराकार, आकार को साकार में अनुभव करने वाले वरदानी मूर्त भव
सिर्फ एक का पाठ पक्का करके वरदाता को राज़ी कर लो तो अमृतवेले से रात तक हर दिनचर्या के कर्म में वरदानों से ही पलते, चलते, उड़ते रहेंगे। वह एक का पाठ है – एक बल एक भरोसा, एकमत, एकरस, एकता और एकान्तप्रिय …यह ”एक” शब्द ही बाप को प्रिय है। जो इस एक का पाठ पक्का कर लेते हैं उन्हें कभी मुश्किल का अनुभव नहीं होता। ऐसी वरदानी आत्मा को विशेष वरदान प्राप्त होता है इसलिए वे निराकार-आकार को जैसे साकार अनुभव करते हैं।
स्लोगन:- किसी से किनारा करके अपनी अवस्था बनाने के बजाए सर्व का सहारा बनो।

TODAY MURLI 24 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

24/09/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
11/01/83

The sign of being powerful is that your thoughts, words, actions ,

nature and sanskars will be equal to those of the Father.

Today, the spiritual Father has come to ask the children for news of the hearts that they have given to the Comforter of Hearts. All of you have given your hearts to the Comforter of Hearts, have you not? Now, since you have given your hearts to the one Comforter of Hearts, you can no longer give your heart toanyone else apart from Him. To give your heart to the Comforter of Hearts means to sit Him in your heart. This is known as easy yoga. The head follows the heart. Therefore, you have the Comforter of Hearts in your heart and also in your head, that is, in your awareness. It is your experience that no other awareness or person comes between you and the Comforter of Hearts? Since you have given your heart and head, that is, since you have given your awareness, thoughts and powers to the Father, what else remains? You now belong to the Father in your thoughts, words and deeds. You consider yourself to belong to the Father and you even say, “I am Baba’s and Baba is mine”, and, in terms of actions, whatever service you do, it is the Father’s service, and so it is your service. You now belong to the Father in your thoughts, words and deeds in this way, do you not? So what margin is there now for even the slightest thought to enter? Is there a door or window left open through which any thought or attraction could enter? The way for anyone to enter is through your mind, intellect, words and actions. Check all four and see that you haven’t left any margin for any of them to enter. Is there any margin? Dreams are also based on this. Once you have told the Father, “All of this is Yours”, what else remains? This is called constant remembrance. You don’t make any difference in speaking about it and doing it, do you? You don’t mix “mine” in “Yours”, do you? “Sun dynasty” means golden aged. There wouldn’t be anything mixed in that, would there? The diamond has to be flawless. There isn’t any flaw remaining, is there?

Whenever you speak about any weakness of thoughts, words, nature or sanskars, what do you say? This is what I think, or that is my sanskar. However, whatever the Father’s sanskars and thoughts are, let your sanskars and thoughts be the same. When your thoughts and sanskars become like those of the Father, you will never say, “What can I do? My nature and sanskars are like that!” The words “What can I do?” are words of weakness. The sign of being powerful is that you will be constantly equal to the Father in your thoughts, words, actions, nature and sanskars. It cannot be that yours would be different from the Father’s. There would constantly be the word “Baba, Baba” in the thoughts, words and every activity of such a soul in a natural way. Whilst performing actions, you would experience Karanhar (One who acts through others) making you do it. Since Baba is in everything, Maya cannot come. There can either be the Father or Maya. You residents of London have become conquerors of Maya for all time by saying, “Baba, Baba” and keeping Baba in your awareness. Since you are claiming the inheritance for all time, remembrance also has to be for all time. You also have to be conquerors of Maya for all time.

London is the foundation place of service. Therefore, are those who are living in the foundation place also as strong as the foundation? There aren’t any complaints such as, “What can I do? How can I do this?”, are there? Generally, you perform plays about Maya. In every drama, Maya, who is not meant to come, comes. Perhaps you are unable to create plays without Maya. You show many different forms of Maya, do you not? Now show a play about the transformed form of everything. You understand very clearly what the main form of Maya is. Now, after becoming conquerors of Maya, show a play about how the form of Maya has changed. Just as the body-conscious vision of lust has changed into the form of spiritual love, similarly, all the vices are transformed. So experience in a practical way what has been transformed and also show it (in the play).

What aim do you residents of London especially have for self-progress and world benefit? Let all of you especially have the awareness that you are angels and also what the form, words and actions of an angel are. You will then automatically continue to do everything as angels. Constantly maintain the awareness: “I am an angel! I am an angel!”. Since you now belong to the Father and you have given Him whatever belonged to you, then what have you become? You have become light angels. In order to fulfil this aim, only remember one expression: “Everything belongs to the Father, nothing is mine!” Whenever you use the word “mine”, now change it into “Yours”. You will then not feel any burden. You are moving forward every year and will constantly continue to move forward. It is very firm, is it not, that you are angels who are going into the flying stage? You are not those who constantly go up and down, up and down? Achcha.

Everyone knows the praise of the residents of London. With which vision does everyone see all of you? The constant conquerors of Maya, because you are receiving powerful double sustenance. You are constantly receiving sustenance from BapDada, but you are also receiving powerful sustenance from those whom the Father has made instruments. What will you become when you follow the incorporeal, subtle and the corporeal? You will become angels, will you not? “Residents of London” means those who have no complaints and no confusion. All of you are kings and queens who have a spiritual life and self-sovereignty. You have this intoxication, do you not?

BapDada meeting Kumaris:

On seeing their fortune, kumaris remain constantly cheerful. Kumaris are considered to be elevated in their worldly life. On the path of knowledge too, you are great. You are elevated souls in your worldly life and also elevated in this spiritual life. Do you consider yourselves to be great in this way? At least say “Yes” in such a way that the world can hear it. BapDada keeps you kumaris in the treasure-store of His heart, so that no one can cast his vision on you. You are such invaluable jewels! Kumaris always keep themselves busy studying and doing service. You have found the Father in your kumari life, and so what more could you want? You didn’t have to wander around in many relationships; you were saved from that. You found all relationships in the One. Otherwise, do you know how many wasteful relationships you would have had? That of a mother-in-law, various sisters-in-law. You have been saved from all of that. You neither became trapped in the trap, nor was any time spent in freeing you from it. Kumaris are double light anyway. Kumaris are constant servers, equal to the Father and also embodiments of all dharna, equal to the Father. “A kumari life” means a pure life. Pure souls are elevated souls, are they not? So BapDada sees kumaris in the form of great worthy-of-worship souls. Pure souls are loved by the Father and everyone.

Constantly keep your fortune in front of you, become powerful souls and continue to put power into service. This is great charity. Give others the attainment that you have attained. By distributing your treasures, they will increase even more. You are kumaris who have such pure thoughts, are you not? Achcha.

BapDada meeting teachers : You are the special showpieces in the showcase of the world. Everyone’s vision is on the instrument servers and teachers. You are constantly on the stage. The stage is so large, and so there are many who are watching you. Everyone expects to attain something from you instrument souls. Do you constantly have this awareness? Do you live in a centre or on the stage? You are constantly on the biggest stage in the midst of unlimited souls. So, as children of the Bestower, constantly continue to bestow and fulfil everyone’s hopes and desires. Become great donors and bestowers of blessings. This is your form. While having this awareness, let every thought, word and action you perform be like that of a hero, because souls of the world are watching you. Remain constantly on the stage! Don’t come down! BapDada considers the instrument servers to be His friends , because the Father is also the Teacher. Therefore, those who are instruments similar to the Father are His friends, are they not? You are such close souls. Do you constantly experience yourselves to be with the Father and close to Him? Whenever you say “Baba”, He is with you with a thousand arms. Do you experience this? BapDada gives extra co-operation to those who have become instruments. Therefore, say “Baba” and call Him with a lot of intoxication and He will be present. BapDada is obedient, is He not? Achcha.

Only those who are spinners of the discus of self-realisation

claim a right to the fortune of the kingdom of the whole globe.

Do all of you consider yourselves to be spinners of the discus of self-realisation? Only those who are spinners of the discus of self-realisation claim a right to become the rulers of the globe and receive the fortune of the kingdom in the future. To be a spinner of the discus of self-realisation means to know the different parts you play throughout the whole cycle. Do all of you know this special aspect? That, throughout the whole cycle, you are special souls who play hero part s? By making your life as valuable as a diamond in this last birth you become those who play hero part s throughout the whole cycle. Are you aware of all the births you have taken in the cycle from the beginning to the end? It is at this time that you become knowledgeable. It is only at this time that you can know all your births and you can therefore now know your horoscope of 5000 years. When anyone else tells you your horoscope, that would probably be for only two, four or six births. However, BapDada has told you your horoscope for all your births. So, all of you have become master knowledge-full, have you not? You have also shown this whole account in the pictures. It is definitely because you know this that you have shown it in the pictures. Have you seen the picture of your horoscope? When you see that picture, do you feel that that is the picture of your horoscope? Or do you feel that it is just a picture to explain knowledge? You have the intoxication of being special souls throughout the whole cycle, who play part s from the beginning to the end, do you not? You have been playing your various parts with Father Brahma, the first father, and the first mother of the world throughout the whole cycle, have you not? You are those who fulfil the responsibility of love for Father Brahma throughout the whole cycle. You are not those who desire to go to the land of Nirvana, are you? What have those who haven’t seen the beginning seen? All of you have seen the beautiful scenes of the beginning of the world so many times! Do you remember very clearly that time, that kingdom, that form of yours and your life in which you are fill of everything? Or, is there a need to remind you of that? You now very clearly understand the importance of your birth of the beginning, that is, of your first life and your present last birth, do you not? The praise of both is limitless.

Just as the difference between the first deity, Adi Dev, Brahma, and the first soul, Shri Krishna, is shown and you also show them together, in the same way, let each of you keep your Brahmin form and your deity form in front of you and see how you souls have remained elevated from the beginning to the end. You will then feel great intoxication and happiness. There is the speciality of the One who is creating you and also of the one (you) who is becoming. BapDada is pleased to see both forms of all the children. Although you are numberwise, each of you souls will become a deity soul. Everyone believes the deities to be worthy of worship, elevated and great souls. Even if one of you deity souls is the last numbered soul, he is still in the list of those who become worthy of worship. You attained the fortune of the kingdom for half the cycle and you then became an elevated soul who is worthy of respect and who is worshipped for half the cycle. Even today, you can see how people worship and believe in the images of your living Brahmin form and deity form. Can anyone be more elevated than this? Stay constantly stable in the form of this awareness. You won’t then repeatedly have to make effort to climb up to the stage from down below.

No matter where all of you have come from, at this time, you are all residents of Madhuban. Therefore, all of you residents of Madhuban have easily become embodiments of remembrance, have you not? It is a sign of great fortune to become a resident of Madhuban, because to enter the gates of Madhuban means to attain a blessing for all time. There is also the significance of the place. All of you are stable in the form of being residents of Madhuban who have received all blessings, are you not? You experience the stage of being complete, do you not? Someone who is an embodiment of the complete form would constantly dance in happiness and sing the Father’s praise. Keep dancing in happiness in this way so that those who see you also begin to dance in their minds in happiness, just as those in an audience watching others dancing physically also begin to feel like dancing themselves. So, keep dancing and singing in this way. Achcha.

You double-foreign children have this special chance because you are the long-lost and now-found, beloved children. When the population of doubleforeigners increases, what will you then do? Just as the children who are residents of Bharat have given you double foreigners a chance, so you too will give others a chance, will you not? To experience your happiness in the happiness of others is to be a great donor.

Blessing: May you be free from becoming disheartened and having ego and carry out the task of renewal with humility.
Never be disheartened in your efforts. “I have to do this. It has to happen. The rosary of victory is my memorial.” Be victorious with this awareness. Do not give any space in your heart for feeling disheartened for even a second or a minute. Ego and disheartenment do not allow you to become very strong. Those who have ego often have a feeling of being insulted. So, free yourself from both of those and be humble, for only then will you be able to continue with the task of renewal.
Slogan: Be seated on the throne of world service and you will then be seated on the throne of the kingdom.

 *** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

 

Read Bk Murli 21 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
BK murli today ~ 24/09/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
[Web-Dorado_Zoom]
24/09/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
11-01-83

समर्थ की निशानी- संकल्प, बोल, कर्म, स्वभाव, संस्कार बाप समान

आज रूहानी बाप बच्चों से दिलाराम को दी हुई दिल का समाचार पूछने आये हैं। सभी ने दिलाराम को दिल दी है ना! जब एक दिलाराम को दिल दे दी तो उसके सिवाए और कोई आ नहीं सकता। दिलाराम को दिल देना अर्थात् दिल में बसाना। इसी को ही सहज योग कहा जाता हे। जहाँ दिल होगी वहाँ ही दिमाग भी चलेगा। तो दिल में भी दिलाराम और दिमाग में भी अर्थात् स्मृति में भी दिलाराम। और कोई भी स्मृति वा व्यक्ति दिलाराम के बीच आ नहीं सकता – ऐसा अनुभव करते हो? जब दिल और दिमाग अर्थात् स्मृति, संकल्प, शक्ति सब बाप को दे दी, तो बाकी रहा ही क्या! मन, वाणी और कर्म से बाप के हो गये। संकल्प भी यह किया कि हम बाप के हैं और वाणी से भी यही कहते हो ‘मेरा बाबा’, मैं बाबा का। और कर्म में भी जो सेवा करते हो वह भी बाप की सेवा, वह मेरी सेवा – ऐसे ही मन, वाणी और कर्म से बाप के बन गये ना। बाकी मार्जिन क्या रही जहाँ से कोई संकल्प मात्र भी आवे? कोई भी संकल्प वा किसी प्रकार की भी आकर्षण आने का कोई दरवाजा वा खिड़की रह गई है क्या? आने का रास्ता है ही मन, बुद्धि, वाणी और कर्म – चारों तरफ चेक करो कि जरा भी किसको आने की मार्जिन तो नहीं है? मार्जिन है? स्वप्न भी इसी ही आधार पर आते हैं। जब बाप को एक बार कहा कि यह सब कुछ तेरा फिर बाकी क्या रहा? इसी को ही निरन्तर याद कहा जाता है। कहने और करने में अन्तर तो नहीं कर देते हो? तेरा में मेरा मिक्स तो नहीं कर देते हो? सूर्यवंशी अर्थात् गोल्डन एजड। उसमें मिक्स तो नहीं होगा ना! डाइमन्ड भी बेदाग हो। कोई दाग रह तो नहीं गया है?

जिस समय भी कोई कमजोरी वर्णन करते हो, चाहे संकल्प की, बोल की, चाहे संस्कार स्वभाव की, तो शब्द क्या कहते हो? मेरा विचार ऐसा कहता है वा मेरा संस्कार ही ऐसा है। लेकिन जो बाप का संस्कार, संकल्प सो मेरा संस्कार, संकल्प। जब बाप जैसा संकल्प, संस्कार हो जाता है तो ऐसे बोल कभी नहीं बोलेंगे कि क्या करूँ, मेरा स्वभाव संस्कार ऐसा है? क्या करूँ, यह शब्द ही कमजोरी का है। समर्थ की निशानी है – सदा बाप समान संकल्प, बोल, कर्म, स्वभाव, संस्कार हो। बाप के अलग, मेरे अलग यह हो नहीं सकता। उनके संकल्प में, बोल में, हर बात में बाबा, बाबा शब्द नैचुरल होगा। और कर्म करते करावनहार करा रहा है – यह अनुभव होगा। जब सबमें बाबा आ गया तो बाप के आगे माया आ नहीं सकती, या बाप होगा या माया? लण्डन निवासी बाबा, बाबा कहते, स्मृति में रखते सदाकाल के लिए मायाजीत हो गये हैं? जब वर्सा सदाकाल का लेते हो तो याद भी सदाकाल की चाहिए ना। मायाजीत भी सदाकाल के लिए चाहिए।

लण्डन है सेवा का फाउन्डेशन स्थान। तो फाउण्डेशन के स्थान पर रहने वाले भी फाउन्डेशन के समान सदा मजबूत हैं? क्या करें, कैसे करें, ऐसी कोई भी कम्पलेन्ट तो नहीं है ना। बहुत करके ड्रामा भी माया के ही करते हो ना! हर ड्रामा में माया न आने वाली भी आ जाती है। माया के बिना शायद ड्रामा नहीं बना सकते हो। माया के भी भिन्न-भिन्न स्वरूप दिखाते हो ना। हर बात का परिवर्तक स्वरूप हो, इसका ड्रामा दिखाओ। माया का मुख्य स्वरूप क्या है, उसको तो अच्छी तरह से जानते हो। लेकिन मायाजीत बनने के बाद वही माया के स्वरूप कैसे बदल जाते हैं, वह ड्रामा दिखाओ। जैसे शारीरिक दृष्टि जिसको काम कहते, तो उसके बजाए आत्मिक स्नेह रूप में बदल जाता – ऐसे सब विकार परिवर्तक रूप में हो जाते। तो क्या परिवर्तन हुआ, यह प्रैक्टिकल में अनुभव भी करो और दिखाओ भी।

लण्डन निवासियों ने विशेष स्व की उन्नति प्रति और विश्व कल्याण प्रति कौन सा लक्ष्य रखा है? सभी को विशेष सदा यही स्मृति में रहे कि हम हैं ही फरिश्ते। फरिश्ते का स्वरूप क्या, बोल क्या, कर्म क्या होता, वह स्वत: ही फरिश्ते रूप से चलते चलेंगे। ”फरिश्ता हूँ, फरिश्ता हूँ” – इसी स्मृति को सदा रखो। जबकि बाप के बन गये और सब कुछ मेरा सो तेरा कर दिया तो क्या बन गये। हल्के फरिश्ते हो गये ना। तो इस लक्ष्य को सदा सम्पन्न करने के लिए एक ही शब्द कि सब बाप का है, मेरा कुछ नहीं – यह स्मृति में रहे। जहाँ मेरा आवे तो वहाँ तेरा कह दो। फिर कोई बोझ नहीं फील होगा। हर वर्ष कदम आगे बढ़ रहा है और सदा आगे बढ़ते रहेंगे, उड़ती कला में जाने वाले फरिश्ते हैं यह तो पक्का है ना। नीचे ऊपर, नीचे ऊपर होने वाले नहीं। अच्छा –

लण्डन निवासियों की महिमा तो सभी जानते हैं। आपको सब किस नज़र से देखते हैं? सदा मायाजीत क्योंकि पावरफुल डबल पालना मिल रही है। बापदादा की तो सदा पालना है ही लेकिन बाप ने जिन्हों को निमित्त बनाया है, वह भी पावरफुल पालना मिल रही है। निराकार, आकार और साकार तीनों को फालो करो तो क्या बन जायेंगे? फरिश्ता बन जायेंगे ना। लण्डन निवासी अर्थात् नो कम्पलेन्ट, नो कन्फ्यूज़। अलौकिक जीवन वाले, स्वराज्य करने वाले सब किंग और क्वीन हो ना। आपका नशा है ना।

कुमारियों से:- कुमारियाँ तो अपना भाग्य देख सदा हर्षित होती हैं। कुमारी लौकिक जीवन में भी ऊंची गायी जाती है और ज्ञान में तो कुमारी है ही महान। लौकिक में भी श्रेष्ठ आत्मायें और पारलौकिक में भी श्रेष्ठ आत्मायें। ऐसे अपने को महान समझती हो? आप तो ‘हाँ’ ऐसे कहो जो दुनिया सुने। कुमारियों को तो बापदादा अपने दिल की तिजोरी में रखता है कि किसी की भी नज़र न लगे। ऐसे अमूल्य रत्न हो। कुमारियाँ सदा पढ़ाई और सेवा इसी में ही बिजी रहती हैं। कुमारी जीवन में बाप मिल गया और चाहिए ही क्या! अनेक सम्बन्धों में भटकना नहीं पड़ा, बच गई। एक में सर्व सम्बन्ध मिल गये। नहीं तो पता है कितने व्यर्थ के सम्बन्ध हो जाते, सासू का, ननंद का, भाभियों का….सबसे बच गई ना। न जाल में फँसी, न जाल से छुड़ाने का समय ही था। कुमारियाँ तो हैं ही डबल लाइट। कुमारियाँ सदा बाप समान सेवाधारी और बाप समान सर्व धारणाओं स्वरूप। कुमारी जीवन अर्थात् प्युअर जीवन। प्युअर आत्मायें श्रेष्ठ आत्मायें हुई ना। तो बापदादा कुमारियों को महान पूज्य आत्मा के रूप में देखते हैं। पवित्र आत्मायें सर्व की और बाप की प्रिय हैं।

अपने भाग्य को सदा सामने रखते हुए समर्थ आत्मा बन सेवा में समर्थी लाते रहो। यही बड़ा पुण्य है। जो स्वयं को प्राप्ति हुई है वह औरों को भी कराओ। खजानों को बाँटने से खजाना और ही बढ़ेगा – ऐसे शुभ संकल्प रखने वाली कुमारी हो ना। अच्छा।

टीचर्स के साथ:- विश्व के शोकेस में विशेष शोपीस हो ना। सबकी नजर निमित्त बने हुए सेवाधारी कहो, शिक्षक कहो, उन्हीं पर ही रहती है। सदा स्टेज पर हो। कितनी बड़ी स्टेज है और कितने देखने वाले हैं? सभी आप निमित्त आत्माओं से प्राप्ति की भावना रखते हैं। सदा यह स्मृति में रहता है? सेन्टर पर रहती हो वा स्टेज पर रहती हो? सदा बेहद की अनेक आत्माओं के बीच बड़े ते बड़ी स्टेज पर हो इसलिए सदा दाता के बच्चे देते रहो और सर्व की भावनायें सर्व की आशायें पूर्ण करते रहो। महादानी और वरदानी बनो, यही आपका स्वरूप है। इस स्मृति से हर संकल्प, बोल और कर्म हीरो पार्ट के समान हो क्योंकि विश्व की आत्मायें देख रही हैं। सदा स्टेज पर ही रहना, नीचे नहीं आना। निमित्त सेवाधारियों को बापदादा अपना फ्रैन्डस समझते हैं क्योंकि बाप भी शिक्षक है तो बाप समान निमित्त बनने वाले फ्रैन्डस हुए ना। तो इतनी समीप की आत्मायें हो। ऐसे सदा अपने को बाप के साथ वा समीप अनुभव करती हो? जब भी बाबा कहो तो हजार भुजाओं के साथ बाबा आपके साथ है। ऐसे अनुभव होता है? जो निमित्त बने हुए हैं उन्हीं को बापदादा एकस्ट्रा सहयोग देते हैं। इसीलिए बड़े फखुर से बाबा कहो, बुलाओ, तो हाजिर हो जायेंगे। बापदादा तो ओबीडियन्ट है ना। अच्छा।

24-09-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति ”अव्यक्त-बापदादा” रिवाइज:13-01-83 मधुबन

स्वदर्शन चक्रधारी ही चक्रवर्ती राज्य भाग्य के अधिकारी

सभी अपने को स्वदर्शन चक्रधारी समझते हो? स्वदर्शन चक्रधारी ही भविष्य में चक्रवर्ती राज्य भाग्य के अधिकारी बनते हैं। स्वदर्शन चक्रधारी अर्थात् सारे चक्र के अन्दर अपने सर्व भिन्न-भिन्न पार्ट को जानने वाले। सभी ने यह विशेष बात जान ली कि हम सब इस चक्र के अन्दर हीरो पार्ट बजाने वाली विशेष आत्मायें हैं। इस अन्तिम जन्म में हीरे-तुल्य जीवन बनाने से सारे कल्प के अन्दर हीरो पार्ट बजाने वाले बन जाते हैं। आदि से अन्त तक क्या-क्या जन्म लिए हैं, सब स्मृति में है? क्योंकि इस समय नॉलेजफुल बनते हो। इस समय ही अपने सभी जन्मों को जान सकते हो, तो 5 हजार वर्ष की जन्म-पत्री को जान लिया। कोई भी जन्मपत्री बताने वाले अगर किसको सुनायेंगे भी तो दो चार छे जन्म का ही बतायेंगे। लेकिन आप सबको बापदादा ने सभी जन्मों की जन्मपत्री बता दी है। तो आप सभी मास्टर नॉलेजफुल बन गये ना। सारा हिसाब चित्रों में भी दिखा दिया है। तो जरूर जानते हो तब तो चित्रों में दिखाया है ना। अपनी जन्मपत्री का चित्र देखा है? उस चित्र को देख करके ऐसा अनुभव करते हो कि यह हमारी जन्मपत्री का चित्र है वा समझते हो नॉलेज समझाने का चित्र है। यह तो नशा है ना कि हम ही विशेष आत्मायें सृष्टि के आदि से अन्त तक का पार्ट बजाने वाली हैं। ब्रह्मा बाप के साथ-साथ सृष्टि के आदि पिता और आदि माता के साथ सारे कल्प में भिन्न-भिन्न पार्ट बजाते आये हो ना। ब्रह्मा बाप के साथ पूरे कल्प की प्रीति की रीति निभाने वाले हो ना। निर्वाण जाने की इच्छा वाले तो नहीं हो ना! जिसने आदि नहीं देखी उसने क्या किया! आप सबने कितनी बार सृष्टि के आदि का सुनहरी दृश्य देखा है! वह समय, वह राज्य, वह अपना स्वरूप, वह सर्व सम्पन्न जीवन, अच्छी तरह से याद है वा याद दिलाने की जरूरत है? अपने आदि के जन्म अर्थात् पहले जन्म और अब लास्ट के जन्म दोनों के महत्व को अच्छी तरह से जान लिया है ना! दोनों की महिमा अपरमपार है।

जैसे आदि देव ब्रह्मा और आदि आत्मा श्रीकृष्ण, दोनों का अन्तर दिखाते हो और दोनों को साथ-साथ दिखाते हो – ऐसे ही आप सब भी अपना ब्राहमण स्वरूप और देवता स्वरूप दोनों को सामने रखते हुए देखो कि आदि से अन्त तक हम कितनी श्रेष्ठ आत्मायें रही हैं। तो बहुत नशा और खुशी रहेगी। बनाने वाले और बनने वाले दोनों की विशेषता है। बापदादा सभी बच्चों के दोनों ही स्वरूप देखकर हर्षित होते हैं। चाहे नम्बरवार हो, लेकिन देव आत्मा तो सभी बनेंगे ना। देवताओं को पूज्य, श्रेष्ठ महान सभी मानते हैं। चाहे लास्ट नम्बर की देव आत्मा हो फिर भी पूज्य आत्मा की लिस्ट में है। आधाकल्प राज्य भाग्य प्राप्त किया और आधाकल्प माननीय और पूज्यनीय श्रेष्ठ आत्मा बने। जो अपने चित्रों की पूजा, मान्यता चैतन्य रूप में ब्राहमण रूप से देव रूप की अभी भी देख रहे हो। तो इससे श्रेष्ठ और कोई हो सकता है? सदा इस स्मृति स्वरूप में स्थित रहो। फिर बार-बार नीचे की स्टेज से ऊपर की स्टेज पर जाने की मेहनत नहीं करनी पड़ेगी।

सभी जहाँ से भी आए हैं लेकिन इस समय मधुबन निवासी हैं। तो सभी मधुबन निवासी सहज स्मृति स्वरूप बन गये हो ना। मधुबन निवासी बनना भी भाग्यवान की निशानी है क्योंकि मधुबन के गेट में आना और वरदान को सदा के लिए पाना। स्थान का भी महत्व है। सभी मधुबन निवासी वरदानी स्वरूप में स्थित हो ना। सम्पन्न-पन की स्टेज अनुभव कर रहे हो ना! सम्पन्न स्वरूप तो सदा खुशी में नाचते और बाप के गुण गाते। ऐसे खुशी में नाचते रहो जो आपको देखकर औरों का भी स्वत: खुशी में मन नाचने लगे। जैसे स्थूल डाँस को देख दूसरे के अन्दर भी नाचने का उमंग उत्पन्न हो जाता है ना। तो सदा ऐसे नाचो और गाते रहो। अच्छा।

डबल विदेशी बच्चों को यह भी विशेष चान्स है क्योंकि अभी सिकीलधे हो। जब डबल विदेशियों की भी संख्या बहुत हो जायेगी तो फिर क्या करेंगे। जैसे भारतवासी बच्चों ने डबल विदेशियों को चान्स दिया है ना, तो आप भी ऐसे दूसरों को चान्स देंगे ना। दूसरों की खुशी में अपनी खुशी अनुभव करना – यही महादानी बनना है।

वरदान:- निर्मानता द्वारा नव निर्माण करने वाले निराशा और अभिमान से मुक्त भव 
कभी भी पुरूषार्थ में निराश नहीं बनो। करना ही है, होना ही है, विजय माला मेरा ही यादगार है, इस स्मृति से विजयी बनो। एक सेकण्ड वा मिनट के लिए भी निराशा को अपने अन्दर स्थान न दो। अभिमान और निराशा – यह दोनों महाबलवान बनने नहीं देते हैं। अभिमान वालों को अपमान की फीलिंग बहुत आती है, इसलिए इन दोनों बातों से मुक्त बन निर्मान बनो तो नव निर्माण का कार्य करते रहेंगे।
स्लोगन:- विश्व सेवा के तख्तनशीन बनो तो राज्य तख्तनशीन बन जायेंगे।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 22 September 2017 :- Click Here
Font Resize