today murli 24 october

TODAY MURLI 24 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 October 2018 :- Click Here

24/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, at the time of the early morning hours, remember Me, your Father, with your mind and intellect. Together with that, do the service of making Bharat into the divine land of kings (Rajasthan).
Question: On what basis do you receive the prize of the sun-dynasty kingdom?
Answer: In order to claim the prize of the sun-dynasty kingdom, become a complete helper of the Father. Continue to follow shrimat. Don’t ask for blessings but make effort to make yourself the soul, pure with the power of yoga. Renounce your body and all bodily relations and remember the one mostbeloved Father and you will receive the prize of the sun-dynasty kingdom. There will be everything – peace, purity and prosperity in that.
Song: At last the day for which we had been waiting has come. 

Om shanti. The meaning of ‘Om shanti’ always remains in the intellects of you children. No one, apart from you children, would be able to understand the things the Father explains. It is like when a new person goes and sits in a medical college and wouldn’t understand anything. There is no such spiritual gathering where people go and aren’t able to understand anything. There, they relate the things of the scriptures. This is the biggest college of all. This is not something new. The day has come once again when the Father sits here and teaches you children Raja Yoga. At this time there is no kingdom in Bharat. You become the kings of kings through this Raja Yoga, that is, you know that you are also becoming the kings of those who become vicious kings. You have received intellects. Whatever actions are performed remain in your intellect. You are warriors. You souls know that, by having yoga with the Father, you are making Bharat pure, and that by imbibing the knowledge of the beginning, the middle and the end of the cycle, you are becoming the kings who rule the globe. It should remain in your intellects that you are on a battlefield. Our victory is already guaranteed; it is certain. We are truly making this Bharat into the divine land of double-crowned kings. Baba continues to explain the pictures very well for you. We have completed our 84 births and are now to return home. We will then come and rule here. People ask: What are all these Brahma Kumars and Kumaris doing? What is this organisation of Brahma Kumaris? The BKsinstantly say that they are making this Bharat into the divine land of kings once again by following shrimat. People don’t know the meaning of “Shri”. You know that Shiv Baba is Shri Shri. His rosary is created. Whose creation is all of this? The Father is the Creator. Whoever it is, the sun dynasty or the moon dynasty, this is the whole rosary of Rudra Shiv Baba. Everyone knows their Creator, but they don’t know His occupation. It is not in anyone’s intellect how or when He comes and makes the old world new. They believe that the iron age is going to continue for many more years. You now know that you have become instruments to establish the divine land of kings. There will truly be the land of deity kings and there will then be the land of warrior kings. There will first be the kingdom of the sun-dynasty clan and then the warrior clan. If you want to become the kings and queens of the globe, the cycle should spin in your intellects. You can explain these pictures very well to anyone. This Lakshmi and Narayan belong to the sun-dynasty clan and Rama and Sita belong to the warrior clan. They then become the merchant and shudra dynasties, the impure clans. Those who are worthy of worship then become worshippers. Pictures of kings with a single crown should also be created. This exhibition will be very wonderful. You know that, according to the drama, this exhibition is extremely essential for service, for it is only then that it will sit in the intellects of the children. It is explained through the pictures how the new world is being established. The mercury of happiness should rise in the intellects of you children. It has been explained to you that, in the golden age, they have knowledge of the soul. That is, when someone becomes old, he suddenly has the thought that he has to shed his old body and take a new one. They have that thought at the end of their lifespans, but otherwise, they remain happy for the rest of the time. In the beginning, they don’t have that knowledge. It has been explained to you children that no one knows the name, form, land or time of the Supreme Father, the Supreme Soul, until He comes and gives His own introduction. His introduction is very deep. At first, it has to be said that His form is that of a lingam. When they create a sacrificial fire of Rudra, they make lingams of clay, which they continue to worship. The Father didn’t tell you of the point-form in the beginning. If He had told you of the point-form in the beginning, you wouldn’t have understood it. He explains whatever has to be explained when it has to be explained. You cannot ask: Why didn’t You explain to us earlier the things You are explaining to us today? No, it is fixed in the drama in this way. Service can grow a lot through this exhibition. After an invention has been created, it increases, just as Baba gives the example of the motor car. At first, it took effort to invent it, and then they started producing ‘a motor a minute  in the big factories. Science has expanded so much. You know that Bharat is so big and that the world is also so big. Then, it will become so small. This has to be made to sit in your intellects very well. It will only sit in the intellects of serviceable children. All the others simply waste their time eating, drinking and gossiping. You know that the land of deity kings is once again being established in Bharat. In fact, to call it a kingdom is also wrong. Bharat is becoming the divine land of kings (Rajasthan). At this time, it is the land of devilish kings; it is the kingdom of Ravan: there is the influence of the five vices in everyone. There are millions of souls; all are actors. They come at their own time then go back and they all then have to repeat their parts at their own time. The drama repeatsidentically second by second. The part that was played in the previous cycle is the part that is being played now. All of this has to be kept in your intellects. It becomes difficult when you are engaged in your business etc; but the Father says: The early morning time has been remembered. They sing: O mind, remember Rama in the early morning hours. The Father says: Now, don’t remember anyone else. Remember Me in the early morning hours. The Father now tells you this personally and it is then remembered on the path of devotion. There is no remembrance of this in the golden and silver ages. The Father says: O souls, remember Me, your Father, with your mind and intellect in the early morning hours. Generally, devotees remain awake at night and they remember something or other. The customs and systems of this time then continue on the path of devotion. You children continue to receive many different methods with which to explain. At such-and-such a time Bharat was the land of divine kings, then it became the land of warrior kings and then it became the land of merchant kings. They continue to become tamopradhan day by day. They definitely have to fall. This cycle is the main thing. By knowing the cycle, you become the kings who rule the globe. You are now sitting in the iron age. The golden age is in front of you. You have the knowledge of how this cycle turns. You know that you will be in the golden-aged kingdom tomorrow. It is so easy! At the top, there is Trimurti Shiva. There is the cycle. Lakshmi and Narayan are also included in that. When this picture is kept in front of them, it is easy to explain to anyone. Bharat was the divine land of kings, but it isn’t that now. There aren’t even those with single crown. You children have to explain using the pictures. These pictures are very valuable. They are such wonderful things and so you have to explain them wonderfully. You should all keep these 30″ x 40″ pictures of the tree and the Trimurti in your homes. When your friends and relatives come, explain these pictures to them. This is world history and geography. All of you children should definitely have these pictures. Together with these, you should also have good songs. At last the day has come. Truly, Baba has now come. He is teaching us Raja Yoga. Anyone who asks for the pictures can have them. Poor people can receive them free. However, you have to have the courage to explain them. This is the treasure of the imperishable jewels of knowledge. You are donors. No one else can donate the imperishable jewels of knowledge like you do. There is no other donation like this. So you should donate these. You should explain to whoever comes. Seeing one or two come, many others will come. These pictures are most valuable things. They are invaluable, just as you are also said to be invaluable. You are becoming like diamonds from shells. If someone were to take these pictures abroad and explain them, there would be great wonders. For so long, sannyasis have been saying that they are teaching the yoga of Bharat. Each one praises his own religion. Those who belong to the Buddhist religion make so many others into Buddhists, but there is no benefit in that. Here, you are changing human beings from being like monkeys into those who are worthy to sit in a temple. Only in Bharat were they completely viceless. Bharat was beautiful and Bharat is now ugly. There are so many human beings. There will be very few people in the golden age. The Father only comes at the confluence age to carry out establishment. He teaches Raja Yoga. He only teaches it to the children who studied it in the previous cycle. Establishment has to take place. Children are defeated by Ravan and then they conquer Ravan. It is so easy! Therefore, you children should have big pictures made and do service using those pictures. The writing on them should be very large. You should write on them where it is that the path of devotion begins. The Father would surely come to grant salvation when degradation comes to an end. Baba has explained that you mustn’t tell anyone not to do devotion; no. You have to give them the Father’s introduction for only then will the arrow strike the target. You know that the war is called the Mahabharat War because this is the big sacrificial fire and that war starts from this sacrificial fire. This old world has to end. These things are in your intellect. People continue to receive peace prizes, but peace is not established. In fact, it is only the one Father who establishes peace. You are His helpers. You have to receive the prize. The Father doesn’t receive the prize. The Father is the Bestower. You receive a prize, numberwise, according to the effort you make. There will be countless children. You are now establishing puritypeace and prosperity. It is such a big prize. You know that however much effort you make, you will accordingly receive the prize of the sun-dynasty kingdom. The Father is the One who gives you shrimat. You cannot say: Baba, give us blessings! Students are given advice: Remember the Father and your sins will be absolved. Only with the power of yoga will you souls become pure. All of you are Sitas. You go through fire. Either you go through with the power of yoga or you will have to burn in the fire. Renounce your body and all bodily relations and remember the one most beloved Father. However, it is difficult for this remembrance to remain constant; it takes time. The fire of yoga has been remembered. The ancient yoga and knowledge of Bharat are very well known because the Gita is the jewel, the mother, of all the scriptures. Raja Yoga is mentioned in it. However, they have lost the word “Raja” and just caught hold of the word “yoga”. No one except the Father can say: I will make you into the kings of kings with this Raja Yoga. You are now sitting personally in front of Shiv Baba. You know that all of you souls are going to reside there, in the supreme abode, and that you will then adopt bodies and play your parts. Shiv Baba doesn’t take rebirth. Brahma, Vishnu and Shankar also do not have to take rebirth. The Father says: I come to make impure ones pure. This is why everyone remembers Me and says: O Purifier, come! These words are accurate. The Father says: I am making you into pure deities and so you should also have that much intoxication. Baba enters this one and gives us teachings. Baba is the Master of this garden of flowers. We are holding on to Baba’s hand. This is all a matter of the intellect. Baba is taking us across to that side, from the ocean of poison to the ocean of milk. There is no poison there. This is why that is called the viceless world. Bharat was viceless and it has now become vicious. This cycle is only for Bharat. Only the people of Bharat go around the cycle. Those of other religions do not go around the full cycle; they come later. This is a very wonderful cycle. There should be this intoxication in your intellects. There should be a lot of attention paid to these pictures. Demonstrate this by doing service. Your name will be glorified if these pictures are sent abroad. S ervice would then take place at a fast speed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Donate the treasures of the imperishable jewels of knowledge that you have received. Do not waste your time eating, drinking and gossiping.
  2. Do the service of making human beings become like diamonds from shells. Don’t ask the Father for blessings or mercy. Continue to follow His directions.
Blessing: May you protect yourself from any sin of jealousy by keeping the Father in front of you and becoming a special soul.
Because Brahmin souls are equal, jealousy arises. Because of jealousy there is some conflict of sanskars. If this happens, specially consider who was it that made that one an instrument when your equal becomes an instrument for a special task. Bring the Father in front of you and Maya in the form of jealousy will run away. If you do not like something about someone, then speak about it to the seniors with good wishes, not with jealousy. Race among yourselves, but do not compete and you will each become a special soul.
Slogan: You are someone who makes the Father your Companion and who observes the games of Maya as a detached observer.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 October 2018

To Read Murli 23 October 2018 :- Click Here
24-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – प्रभात के समय मन-बुद्धि से मुझ बाप को याद करो, साथ-साथ भारत को दैवी राजस्थान बनाने की सेवा करो”
प्रश्नः- सूर्यवंशी राजधानी की प्राइज़ किस आधार पर मिलती है?
उत्तर:- सूर्यवंशी राजधानी की प्राइज़ लेना है तो बाप का पूरा मददगार बनो, श्रीमत पर चलते रहो। आशीर्वाद नहीं मांगनी है लेकिन योगबल से आत्मा को पावन बनाने का पुरुषार्थ करना है। देह सहित देह के सब सम्बन्धों को त्याग एक मोस्ट बिलवेड बाप को याद करो तो तुम्हें सूर्यवंशी राजधानी की प्राइज़ मिल जायेगी। उसमें पीस, प्योरिटी, प्रासपर्टी सब कुछ होगा।
गीत:- आखिर वह दिन आया आज……… 

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति का अर्थ तो तुम बच्चों की बुद्धि में रहता ही है। बाप जो समझाते हैं वह इस दुनिया में सिवाए तुम्हारे और किसको समझ में नहीं आयेगा। वह ऐसे समझेंगे जैसे कोई मेडिकल कॉलेज में नया जाकर बैठे तो कुछ समझ न सके। ऐसे कोई सतसंग होता नहीं, जहाँ मनुष्य जाये और कुछ न समझे। वहाँ तो है ही शास्त्र आदि सुनाने की बातें। यह है बड़े ते बड़ी कॉलेज। नई बात नहीं है। फिर से वह दिन आया आज, जबकि बाप बैठ बच्चों को राजयोग सिखलाते हैं। इस समय भारत में राजाई तो है नहीं। तुम इस राजयोग से राजाओं का राजा बनते हो अर्थात् तुम जानते हो कि जो विकारी राजायें हैं उनके भी हम राजा बन रहे हैं। बुद्धि मिली है। जो कोई कर्म करते हैं वह बुद्धि में रहता है ना। तुम वारियर्स हो, जानते हो हम आत्मायें अब बाप के साथ योग रखने से भारत को पवित्र बनाते हैं और चक्र के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज धारण कर हम चक्रवर्ती राजा बन रहे हैं। यह बुद्धि में रहना चाहिए। हम युद्ध के मैदान में हैं। विजय तो हमारी है ही। यह तो सर्टेन है। बरोबर हम अब इस भारत को फिर से दैवी डबल सिरताज राजस्थान बना रहे हैं। बाबा चित्रों के लिए बहुत अच्छी रीति समझाते रहते हैं। हम 84 जन्म पूरे कर अब वापिस जाते हैं। फिर आकर राज्य करेंगे। यह सब ब्रह्माकुमार-कुमारियां क्या कर रहे हैं, ब्रह्माकुमारियों की यह संस्था क्या है? पूछते हैं ना। बी.के. फट से कहती हैं कि हम इस भारत को फिर से दैवी राजस्थान बना रहे हैं, श्रीमत पर। मनुष्य ‘श्री’ का अर्थ भी नहीं जानते हैं। तुम जानते हो श्री श्री शिवबाबा हैं, उनकी ही माला बनती है। यह सारी रचना किसकी है? क्रियेटर तो बाप हुआ ना। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी जो भी हैं, यह सारी माला है रुद्र शिवबाबा की। सब अपने रचता को जानते हैं परन्तु उनके आक्यूपेशन को नहीं जानते। वह कब और कैसे आकर पुरानी दुनिया को नया बनाते हैं – यह किसकी बुद्धि में भी नहीं है। वह तो समझते हैं – कलियुग अभी बहुत वर्ष चलना है।

अभी तुम जानते हो हम दैवी राजस्थान स्थापन करने के निमित्त बने हुए हैं। बरोबर दैवी राजस्थान होगा फिर क्षत्रिय राजस्थान होगा। पहले सूर्यवंशी कुल फिर क्षत्रिय कुल का राज्य होगा। तुमको चक्रवर्ती राजा रानी बनना है तो बुद्धि में चक्र फिरना चाहिए ना। तुम किसको भी इन चित्रों पर बहुत अच्छी रीति समझा सकते हो। यह लक्ष्मी-नारायण सूर्यवंशी कुल और यह राम-सीता हैं क्षत्रिय कुल। फिर वैश्य, शूद्र वंशी पतित कुल बन जाते हैं। पूज्य फिर पुजारी बनते हैं। सिंगल ताज वाले राजाओं का चित्र भी बनाना चाहिए। यह एग्जीवीशन बड़ी वन्डरफुल हो जायेगी। तुम जानते हो ड्रामा अनुसार सर्विस अर्थ यह एग्जीवीशन बहुत जरूरी है तब तो बच्चों की बुद्धि में बैठेगा। नई दुनिया कैसे स्थापन हो रही है – वह चित्रों द्वारा समझाया जाता है। बच्चों की बुद्धि में खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। यह तो समझाया है सतयुग में आत्मा का ज्ञान है सो भी जब बूढ़े होते हैं तब अनायास ख्याल आता है कि यह पुराना शरीर छोड़ फिर दूसरा नया शरीर लेना है। यह ख्यालात पिछाड़ी के टाइम में आता है। बाकी सारा टाइम खुशी-मौज में रहते हैं। पहले यह ज्ञान नहीं रहता है। बच्चों को समझाया है यह परमपिता परमात्मा का नाम, रूप, देश, काल कोई भी नहीं जानते, जब तक कि बाप आकर अपना परिचय दे और परिचय भी बहुत गम्भीर है। उनका रूप तो पहले लिंग ही कहना पड़ता। रुद्र यज्ञ रचते हैं तो मिट्टी के लिंग बनाते हैं, जिनकी पूजा होती आई है। बाप ने पहले यह नहीं बताया कि बिन्दी रूप है। बिन्दी रूप कहते तो तुम समझ नहीं सकते। जो बात जब समझानी है तब समझाते हैं। ऐसे नहीं कहेंगे पहले क्यों नहीं बताया जो आज समझाते हो। नहीं, ड्रामा में नूँध ही ऐसी है। इस एग्जीवीशन से बहुत सर्विस की वृद्धि होती है। इन्वेन्शन निकलती है तो फिर वृद्धि होती जाती है। जैसे बाबा मोटर का मिसाल देते हैं। पहले इन्वेन्शन करने में मेहनत लगी होगी फिर तो देखो बड़े बड़े कारखानों में एक मिनट में मोटर तैयार हो जाती है। कितनी साइन्स निकली है।

तुम जानते हो कितना बड़ा भारत है। कितनी बड़ी दुनिया है। फिर कितनी छोटी हो जायेगी। यह बुद्धि में अच्छी रीति बिठाना है। जो सर्विसएबुल बच्चे हैं, उन्हों की ही बुद्धि में रहेगा। बाकी का तो खान-पान, झरमुई-झगमुई में ही टाइम वेस्ट होता है। यह तुम जानते हो भारत में फिर से दैवी राजस्थान स्थापन हो रहा है। वास्तव में किंगडम अक्षर भी रांग है। भारत दैवी राजस्थान बन रहा है। इस समय आसुरी राजस्थान है, रावण का राज्य है। हरेक में 5 विकार प्रवेश हैं। कितनी करोड़ आत्मायें हैं, सब एक्टर्स हैं। अपने-अपने समय पर आकर और फिर चले जाते हैं। फिर हरेक को अपना पार्ट रिपीट करना होता है। सेकेण्ड बाई सेकेण्ड ड्रामा हूबहू रिपीट होता है। जो कल्प पहले पार्ट बजाया था, वही अब बजता है, इतना सब बुद्धि में रखना है। धन्धेधोरी में रहने से तो फिर मुश्किल हो जाता है परन्तु बाप कहते हैं प्रभात का तो गायन है। गाते हैं राम सिमर प्रभात मोरे मन…….. बाप कहते हैं अभी और कुछ भी नहीं सिमरो, प्रभात के समय मुझे याद करो। बाप अभी सम्मुख कहते हैं, भक्ति मार्ग में फिर गायन चलता है। सतयुग-त्रेता में तो गायन होता नहीं। बाप समझाते हैं – हे आत्मा, अपने मन-बुद्धि से प्रभात के समय मुझ बाप को याद करो। भक्त लोग अक्सर करके रात को जागते हैं, कुछ न कुछ याद करते हैं। यहाँ की रस्म-रिवाज फिर भक्ति मार्ग में चली आई है। तुम बच्चों को समझाने की भिन्न-भिन्न युक्तियां मिलती रहती हैं। भारत इतना समय पहले दैवी राजस्थान था फिर क्षत्रिय राजस्थान हुआ फिर वैश्य राजस्थान बना। दिन-प्रतिदिन तमोप्रधान बनते जाते हैं, गिरना जरूर है। मुख्य है यह चक्र, चक्र को जानने से तुम चक्रवर्ती राजा बनते हो। अभी तुम कलियुग में बैठे हो। सामने सतयुग है। यह चक्र कैसे फिरता है, इसका तुमको ज्ञान है। जानते हो कल हम सतयुगी राजधानी में होंगे। कितना सहज है। ऊपर में त्रिमूर्ति शिव भी है। चक्र भी है। लक्ष्मी-नारायण भी इसमें आ जाते हैं। यह चित्र सामने रखा हुआ हो तो कोई को भी सहज रीति समझा सकते हो। भारत दैवी राजस्थान था, अभी नहीं है। सिंगल ताज वाले भी नहीं हैं। चित्रों पर ही तुम बच्चों को समझाना है। यह चित्र बहुत वैल्युबुल हैं। कितनी वन्डरफुल चीज़ है तो वन्डरफुल रीति समझाना भी पड़े। यह 30 X 40 का झाड़ त्रिमूर्ति भी सबको अपने-अपने घर में रखना पड़े। कोई भी मित्र-सम्बन्धी आदि आये तो इन चित्रों पर ही समझाना चाहिए। यह वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी है। हरेक बच्चे के पास यह चित्र जरूर होने चाहिए। साथ में अच्छे-अच्छे गीत भी हों। आखिर वह दिन आया आज – बरोबर बाबा आया हुआ है। हमको राजयोग सिखलाते हैं। चित्र तो कोई भी मांगे मिल सकते हैं। गरीबों को फ्री मिल सकते हैं। परन्तु समझाने की भी ताकत चाहिए। यह है अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना। तुम दानी हो, तुम्हारे जैसा अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान कोई कर नहीं सकता। ऐसा दान कोई होता नहीं। तो दान करना चाहिए, जो आये उनको समझाना चाहिए। फिर एक-दो को देख बहुत आयेंगे। यह चित्र मोस्ट वैल्युबुल चीज़ हैं, अमूल्य हैं। जैसे तुम भी अमूल्य कहलाते हो। तुम कौड़ी से हीरे जैसा बनते हो। यह चित्र विलायत में ले जाकर कोई समझाये तो कमाल हो जाए। इतना समय यह सन्यासी लोग कहते आये कि हम भारत का योग सिखलाते हैं। हर एक अपने धर्म की महिमा करते हैं। बौद्ध धर्म वाले कितने को बौद्धी बना देते हैं, परन्तु उससे फायदा तो कुछ भी नहीं। तुम तो यहाँ मनुष्य को बन्दर से मन्दिर लायक बनाते हो। भारत में ही सम्पूर्ण निर्विकारी थे। भारत गोरा था, अभी भारत काला है। कितने मनुष्य हैं! सतयुग में तो बहुत थोड़े होंगे ना। संगम पर ही बाप आकर स्थापना करते हैं। राजयोग सिखलाते हैं। उन बच्चों को ही सिखलाते हैं, जिन्होंने कल्प पहले भी सीखा था। स्थापना तो होनी ही है। बच्चे रावण से हार खाते हैं फिर रावण पर जीत पाते हैं। कितना सहज है। तो बच्चों को बड़े चित्र बनवाकर उस पर सर्विस करनी चाहिए। बड़े-बड़े अक्षर होने चाहिए। लिखना चाहिए – यहाँ से भक्ति मार्ग शुरू होता है। जरूर जब दुर्गति पूरी होगी तब तो बाप सद्गति करने आयेंगे ना।

बाबा ने समझाया है ऐसे कभी भी किसको नहीं कहना कि भक्ति न करो। नहीं, बाप का परिचय दे समझाना है तब तीर लगेगा। तुम जानते हो महाभारत लड़ाई क्यों कहा जाता है? क्योंकि यह बड़ा भारी यज्ञ है, इस यज्ञ से ही यह लड़ाई प्रज्वलित हुई है। यह पुरानी दुनिया ख़त्म होनी है। यह बातें तुम्हारी बुद्धि में हैं। मनुष्यों को पीस प्राइज़ मिलती रहती है। परन्तु पीस तो होती नहीं। वास्तव में पीस स्थापन करने वाला तो एक ही बाप है। उनके साथ तुम मददगार हो। प्राइज भी तुमको मिलनी है। बाप को थोड़ेही प्राइज़ मिलती है। बाप तो है देने वाला। तुमको नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार प्राइज मिलती है। बेशुमार बच्चे होंगे। तुम अभी प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी स्थापन कर रहे हो। कितनी भारी प्राइज़ है! जानते हो जितना जो मेहनत करेंगे उनको सूर्यवंशी राजधानी की प्राइज़ मिलेगी। बाप है श्रीमत देने वाला। ऐसे नहीं, बाबा आशीर्वाद करो। स्टूडेन्ट को राय दी जाती है कि बाप को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। योगबल से ही तुम्हारी आत्मा पवित्र बनेगी। तुम सब सीतायें हो, आग से पार होती हो। या तो योगबल से पार होना है या तो आग में जलना पड़ेगा। देह सहित सब सम्बन्धों को त्याग एक मोस्ट बिलवेड बाप को याद करना है। परन्तु यह याद निरन्तर रहने में बड़ी मुश्किलात है। टाइम लगता है। गाया भी हुआ है योग अग्नि। भारत का प्राचीन योग और ज्ञान मशहूर है क्योंकि गीता है सर्व शास्त्रमई शिरोमणी। उसमें राजयोग अक्षर है, परन्तु राज अक्षर गुम कर सिर्फ योग अक्षर पकड़ लिया है। बाप बिगर कोई कह न सके कि इस राजयोग से मैं तुमको राजाओं का राजा बनाऊंगा। अभी तुम शिवबाबा के सम्मुख बैठे हो। जानते हो हम सब आत्मायें वहाँ परमधाम में निवास करने वाली हैं फिर शरीर धारण कर पार्ट बजाती हैं। पुनर्जन्म शिवबाबा तो नहीं लेते। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को भी पुनर्जन्म नहीं लेना है। बाप कहते हैं मैं आता ही हूँ पतित से पावन बनाने इसलिए ही सब याद करते हैं पतित-पावन आओ, यह एक्यूरेट अक्षर है। बाप कहते हैं हम तुमको पावन सो देवी-देवता बना रहे हैं तो इतना नशा भी चढ़ना चाहिए। बाबा इनमें आकर हमको शिक्षा दे रहे हैं। इस फलों के बगीचे का बागवान बाबा है, बाबा का हमने हाथ पकड़ा है। इसमें सारी बुद्धि की बात है। बाबा हमको उस पार, विषय सागर से क्षीर सागर में ले जाते हैं। वहाँ विष होता नहीं, इसलिए उनको वाइसलेस वर्ल्ड कहा जाता है। निर्विकारी भारत था, अब वह विकारी बना हुआ है। यह चक्र भारत के लिए ही है। भारतवासी ही चक्र लगाते हैं। और धर्म वाले पूरा चक्र नहीं लगाते। वह तो पिछाड़ी में आते हैं। यह बड़ा वन्डरफुल चक्र है। बुद्धि में नशा रहना चाहिए। इन चित्रों पर बड़ा अटेन्शन रहना चाहिए। सर्विस करके दिखाओ। विलायत में भी चित्र जायें तो नाम बाला होगा। विहंग मार्ग की सर्विस हो जाए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना जो मिला है उसे दान करना है। अपना समय खाने-पीने, झरमुई-झगमुई में व्यर्थ नहीं गँवाना है।

2) कौड़ी जैसे मनुष्यों को हीरे जैसा बनाने की सेवा करनी है। बाप से आशीर्वाद या कृपा मांगनी नहीं है। उनकी राय पर चलते रहना है।

वरदान:- बाप को सामने रख ईर्ष्या रूपी पाप से बचने वाले विशेष आत्मा भव
ब्राह्मण आत्माओं में हमशरीक होने के कारण ईर्ष्या उत्पन्न होती है, ईर्ष्या के कारण संस्कारों का टक्कर होता है लेकिन इसमें विशेष सोचो कि यदि हमशरीक किसी विशेष कार्य के निमित्त बना है तो उनको निमित्त बनाने वाला कौन! बाप को सामने लाओ तो ईर्ष्या रूपी माया भाग जायेगी। अगर किसी की बात आपको अच्छी नहीं लगती है तो शुभ भावना से ऊपर दो, ईर्ष्या वश नहीं। आपस में रेस करो, रीस नहीं तो विशेष आत्मा बन जायेंगे।
स्लोगन:- आप बाप को अपना साथी बनाने वाले और माया के खेल को साक्षी हो देखने वाले हो।

TODAY MURLI 24 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 October 2017 :- Click Here

24/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, remain in the service of making this impure Bharat pure. Remove all obstacles. Never become disheartened.
Question: While living at home with your families, which awareness is it necessary to have?
Answer: While living at home, let there be the awareness that you are Godly studentsStudents always remember their studies and their teacher s. They never waste their time making mistakes. They value time a great deal.
Question: What is the greatest ignorance that people have?
Answer: They call the One whom they worship, “The One who is beyond name and form.” This is the greatest ignorance. They call out to Him, they build temples to Him and worship Him. Therefore, how could He be beyond name and form? You have to give everyone God’s true introduction.
Song: Do not forget the days of your childhood!

Om shanti. The unlimited Father has given you children teachings, that is, He has cautioned you: Since you belong to Rama, you must never forget this childhood, that is, this Godly childhood. Let it not be that you move away from your childhood with Rama and go towards childhood with Ravan. There would then have to be great repentance. It has also been explained that if you want to see the greatest fools, see them here – those who leave this study. So, you can understand what their condition would be. Maharathis here are like elephants and yet Maya, the alligator, eats them up. The Father personally sits here and tells you: Sweetest long-lost and now-found children, Maya is very powerful. Let it not be that you let go of the unlimited Father’s hand. That One is the Supreme Father, the Father who lives beyond, the Purifier. Never let go of the hand of such a Father. Otherwise, you will have to cry a great deal. Many very good children, to whom Baba gave very big titles , also let go of Baba’s hand. Baba gives more love to some children so that they don’t fall. There is the song: Let it not be that Maya drags you away, because you would then have to repent a great deal. In fact, yours is the true war; you are conquering Maya. You are making impure Bharat pure. The exhibitions etc. that you hold are for making impure ones pure. You are now doing the true service of Bharat. Yes, you also have to remove obstacles. You mustn’t have heart failure or become lazy in this. Under all circumstances, you must definitely do the service of making impure ones pure. This is your business. You have no connection with anything else. You have to see how many you make pure from impure. When this Bharat was heaven, it was the pure world. At this time, no one has knowledge of impure and pure. The new world is the pure place and when it becomes old, it is impure and tamopradhan. The spiritual Father personally sits here and explains to you spiritual children. It is now in your intellects that you truly are establishing the pure land. Bharat was the pure land and it has now become the impure land. A building is at first new and it then definitely becomes old. You don’t have this understanding in the new world. You children have now received understanding. Although they speak of hundreds of thousands of years, it will eventually become old. The old name is of the iron age. Only you know about the new age and the old age. The new age is now coming. We are once again receiving this knowledge from the Father in order to become pure and attain self-sovereignty. Can students forget their studies or their teachers? You too are students. While living at home, remember that you are studying. This study takes a lot of time. Some fall in between and some are defeated. Some say this and also put it in writing: Shiv Baba c/o Brahma. They write letters to the Father with a lot of love. I, the soul of this body, am writing a letter to the Supreme Father, the Supreme Soul. They call out: O Supreme Soul, protect me! Give me peace! No one, apart from the Father, can give peace. Baba has to come. The Protector of the Devotees is also remembered: Give me liberation-in-life! Give me peace! Liberate me! I want to be liberated while alive. That only happens in the golden age. Here, there is a life of bondage. You understand these things very well. The Father Himself is explaining to you. No one else has the secrets of the dramain his intellect. No one knows the three aspects of time – the beginning, the middle and the end. You know everything, but you are ordinary and incognito. Those people go outside and learn physical drill etc. Your drill is spiritual. No one knows that you are warriors who are battling. They show the Mahabharat War, but how did that happen? They say that God started the Mahabharat War. Now, how could God be violent and start a war? God taught you how to battle to conquer Ravan. He explains that you were 16 celestial degrees full. You came bodiless from the incorporeal world and then adopted a costume here and first of all ruled in the golden age. Do you remember that? You say: Yes Baba. We have now remembered that we truly were the masters of the deity kingdom. We then lost it. We are now on a battlefield. We will definitely conquer Maya. When people climb onto the pyre of lust, their faces become ugly. The word ugly is very strong. They show Krishna and Narayan as dark blue, but there are no human beings like that. People are ugly or beautiful. Those who are iron agedare said to be ugly. A physical father would say: You have dirtied your face and defamed the name of the clan. The unlimited Father also says: You followed devilish dictates and defamed the deity clan and this is why you have become ugly. It takes half a cycle to become completely ugly and one second to become beautiful. You children have now remembered the beginning, the middle and the end of the drama. People of other religions do not remember. You are the ones who forgot and you are the ones who now remember. You were the masters of the land of the deity kingdom. There were many kings here. That is why it is called Rajasthan, the land of kings. This is now the rule of people by people. You are now making effort to become emperors and empresses. It happened like that according to the drama plan. While you are going around the cycle, heaven becomes hell. You are now making effort to go from the impure land to the pure land and rule. Your study is simple: remember Alpha and beta. Baba says: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. Remember the kingdom and you will receive the kingdom. Those people say: Repeat, “I am a buffalo. I am a buffalo.” However, that is not right. You souls say that you will become Vishnu. How do you become that? He says: Remember Me and also remember the kingdom of the land of Vishnu. Because this is the family path, the name of Vishnu is mentioned. There, behind the throne of Lakshmi and Narayan, they also have the symbol of the image of Vishnu. They have made pictures like that. Baba has explained the significance to you. The custom and system there is like that. Then Lakshmi and Narayan go around the cycle and become Brahma and Saraswati, the World Father and World Mother. Brahma is called the greatgreatgrandfather. Shiva is called the Father. All souls are brothers. It is a human being who becomes the great-great-grandfather. Therefore, you now have to remove body consciousness and become soul conscious. The Supreme Soul, the Father, makes you soul conscious. Here, you have double light; you have knowledge. You become soul conscious and you also remember the Father because you have to claim your inheritance. In their previous birth, deities made effort and claimed their inheritance from the Father. They don’t need to remember Him. Children have to imbibe new points in their intellects. You continue to receive many methods. First of all, make it sit in your intellects which place is the highest of all: the land of nirvana. We souls are residents of the land of nirvana. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Highest on High. His place is the highest of all. His name is also the highest. His praise too is the highest on high. He came into Bharat and that is why His memorial has been created here. Where can something that doesn’t have a name or form come from so that they could worship it? Therefore, that is a mistake. To say that God is beyond name and form is ignorance. They celebrate the birthday of Shiva in Bharat. Bharat was the ancient golden age, but it is no longer that. Therefore, the Father must surely have established the golden age. So, who causes you sorrow? When does it begin? No one knows. The Father sits here and explains. I have now come once again to give you the unlimited inheritance for 21 generations. You have made this effort every cycle. You claimed your inheritance of unlimited happiness from the unlimited Father. Since this is the final birth, why should you not become pure and claim your full inheritance for the future? Devotees remember God and so that must definitely be to claim the inheritance. God is the Purifier, the Bestower of Salvation. He is the One who changes you from an ordinary man into Narayan. No one else can make you that. In the golden age, it quickly becomes the kingdom of Lakshmi and Narayan, and so it would definitely be said that they made effort in their previous birth. Therefore, the Father is now inspiring you to make effort so that you can claim such a status in the future. He comes at the end of the impure world and makes you pure, does He not? That is the viceless world. Then the degrees continue to decrease. It is now the vicious world. The Father says: Donate those five vices and become pure. Remember Me and also become pure. Be holy, be Raja Yogi. While living at home, remember Shiv Baba alone. If you remember anyone else, that is adulteration. On the path of devotion, while living at home, they sometimes remember one and sometimes another. So, that is adulterated remembrance, and they don’t even remain pure. Therefore, the Father says: While living at home, remember Me, the Father, alone. In this final birth, become as pure as a lotus for My sake and simply continue to remember Me alone. Become My helpers in this one birth. Those who help Me will receive the fruit. You are God’s helpers. The Father Himself serves Bharat. The Father says: Children, you have to become worthy. You definitely need virtues. You have to become virtuous here. You will then become deities and rule for 21 births. Baba has explained that the picture of Krishna is very good. He is kicking hell away and holding heaven in his hand. This system is only in Bharat. When a person dies, they turn his head towards the city and his feet towards the cremation ground. Then, when they come close to the cremation ground, they turn him around so that the head is towards the cremation ground. Now, having died alive you are ready to go back home. Therefore, your faces should be towards the new world. You have to go to the land of happiness via the land of peace. This is an unlimited matter. You are kicking the old world away and going to the new world and this is why you have to forget the land of sorrow. Remember the land of happiness and the land of peace. Although you are living in the land of sorrow, you have to remember the other lands. There has to be unadulterated yoga. Belong to the one Father and none other! You receive very good understanding very easily. Arjuna studied many scriptures and so he was told to forget all of those and also to forget the ones who were teaching him. The Father too says this. Forget everything you have heard until now! I am explaining to you the essence of all the scriptures. He is making us into the masters of the land of truth. Those people make you into masters of the land of falsehood. The Father says: Now judge whether I am right or whether your maternal uncle, paternal uncle and scholars of the scriptures are right. That war is a limited one whereas this is an unlimited war through which you claim the unlimited kingdom. The Father says: Give those vices in donation. If you don’t make effort now, you will repent a great deal. Therefore, stop making mistakes! Occupy yourselves in service ! Become benevolent! There is great sorrow in this iron age. Now, mountains of sorrow are yet to fall. Then, in the golden age, mountains of gold will come up. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Study the simple study of remembering Alpha and beta and also teach it to others. Stay in unadulterated remembrance. Remove this land of falsehood from your intellect.
  2. Become God’s helpers and do the service of making Bharat pure from impure. Become complete helpers of the Father.
Blessing: May you be an angel who is liberated in life and free from bondages of the body, bodily relations and possessions.
An angel means one who doesn’t have any relationship of attachment with the old world and old body. The soul has a relationship with the body, but not a relationship of attachment. To have a relationship of karma with the physical organs is a different matter, but you should not have any karmic bondage. An angel means one who is free from any bondage of karma while performing actions: no bondage of the body, no bondage with the relations of the body and no bondages with possessions of the body. Those who remain free from such bondages are angels who are liberated-in-life.
Slogan: Even more valuable than physical wealth is the wealth of spiritual love.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Murli 22 October 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 23 October 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
24/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – इस नापाक (पतित) भारत को पाक (पावन) बनाने की सेवा पर रहना है, विघ्नों को मिटाना है, दिलशिकस्त नहीं होना है”
प्रश्नः- गृहस्थ व्यवहार में रहते कौन सी स्मृति में रहना बहुत जरूरी है?
उत्तर:- गृहस्थ व्यवहार में रहते यह स्मृति रहे कि हम गॉडली स्टूडेन्ट हैं। स्टूडेन्ट को पढ़ाई और टीचर सदा याद रहता है। वह कभी ग़फलत में अपना टाइम वेस्ट नहीं करते, उन्हें समय का बहुत कदर रहता है।
प्रश्नः- मनुष्यों में सबसे बड़े ते बड़ा अज्ञान कौन सा है?
उत्तर:- जिसकी पूजा करते हैं उसे ही नाम रूप से न्यारा कह देते हैं – यह सबसे बड़े ते बड़ा अज्ञान है। पुकारते हैं, मन्दिर बनाकर पूजते हैं, तो भला वह नाम रूप से न्यारा कैसे हो सकता है। तुम्हें सबको परमात्मा का सत्य परिचय देना है।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना…….

ओम् शान्ति। यह बेहद के बाप ने बच्चों को शिक्षा दी अथवा सावधान किया जबकि राम के बने हो तो इस बचपन अथवा ईश्वरीय बचपन को भुला नहीं देना। ऐसे न हो कि राम के बचपन से हटकर रावण की तरफ चले जायें। फिर तो बहुत-बहुत पछताना पड़ेगा। यह भी समझाया है कि अगर महान ते महान मूर्ख देखना हो तो यहाँ देखो जो पढ़ाई छोड़ देते हैं। तो तुम समझ सकते हो कि उनकी क्या गति होगी। यहाँ के महारथी हैं गज, उनको ग्राह रूपी माया खा लेती है। यह बाप सम्मुख बैठ समझाते हैं – मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चे माया बड़ी दुश्तर है। ऐसा न हो कहाँ बेहद के बाप का हाथ छोड़ दो। यह है परमपिता परे ते परे रहने वाला पिता, पतित-पावन। ऐसे बाप का हाथ कभी छोड़ना नहीं। नहीं तो बहुत रोना पड़ेगा। बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे जिनको बाबा बड़े-बड़े टाइटिल देते, वह भी हाथ छोड़ देते हैं। बाबा कोई को जास्ती प्यार करते हैं कि कहाँ गिर न जाये। गीत भी गाया हुआ है। ऐसा न हो माया तुमको घसीट ले फिर बहुत पछताना पड़ेगा। वास्तव में सच्ची-सच्ची युद्ध तुम्हारी है, तुम माया पर जीत पाते हो।

अभी तुम नापाक से पाक बने हो। पतित स्थान को तुम पावन स्थान बनाते हो। पाक स्थान तो यहाँ है नहीं। इस समय सारी दुनिया नापाक स्थान है। पावन तो हैं देवी-देवतायें। तुम नापाक (पतित) भारत को पावन बना रहे हो। यह जो प्रदर्शनी आदि करते हो, नापाक को पाक बनाने। तुम भारत की सच्ची सेवा करते हो ना। हाँ विघ्नों को भी मिटाना होता है, इसमें हार्टफेल अथवा सुस्त नहीं होना है। कोई भी हालत में सर्विस जरूर करनी है, पतितों को पावन बनाने की। तुम्हारा धन्धा ही यह है और कोई बातों से तुम्हारा तैलुक नहीं। देखना है हमने कितनों को नापाक से पाक बनाया है। यह भारत स्वर्ग था, पावन दुनिया थी। इस समय नापाक और पाक का किसको भी ज्ञान नहीं है। पाक स्थान है ही नई दुनिया, फिर पुरानी होने से नापाक, पतित तमोप्रधान बन पड़ते हैं।

तो रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को सम्मुख समझाते हैं। अब तुम्हारी बुद्धि में है बरोबर हम पवित्र स्थान स्थापन कर रहे हैं। पवित्र स्थान भारत था, अब अपवित्र स्थान बना है। मकान नया है फिर पुराना जरूर बनेगा। यह समझ नई दुनिया में नहीं रहती। अभी तुम बच्चों को समझ मिली है। भल लाखों वर्ष कहते हैं आखिर पुराना तो होगा ना। पुराना नाम ही कलियुग का है। नवयुग और पुराने युग को सिर्फ तुम जानते हो। अभी नव युग आ रहा है। हम फिर से यह नॉलेज बाप द्वारा ले रहे हैं, पवित्र बन स्वराज्य पाने के लिए। स्टूडेन्ट कभी पढ़ाई और टीचर को भूल सकते हैं क्या? तुम भी स्टूडेन्ट हो, गृहस्थ व्यवहार में रहते यह याद रहे कि हम पढ़ रहे हैं। इस पढ़ाई में टाइम बहुत लगता है। बीच में कोई गिर पड़ता है, कोई हरा देता है। मुख से कहते, लिख भी देते हैं शिवबाबा केअरआफ ब्रह्मा। बाप को बड़े प्रेम से पत्र लिखते हैं, हम जीव की आत्मा परमपिता परमात्मा को पत्र लिखती हैं। वह पुकार रहे हैं हे परमात्मा रक्षा करो, शान्ति दो। सिवाए बाप के कोई शान्ति दे न सके। बाबा को तो आना ही है। भक्तों का रक्षक भी गाया हुआ है। जीवनमुक्ति दो, शान्ति दो, मुक्त करो, हम जीते जी मुक्त हों। वह तो सतयुग में होते हैं। यहाँ तो जीवनबंध हैं। इन बातों को तुम अच्छी तरह समझते हो और स्वयं बाप समझा रहे हैं, और कोई की बुद्धि में ड्रामा का राज़ नहीं है। तीनों कालों, आदि-मध्य-अन्त को कोई नहीं जानते हैं। तुम सब कुछ जानते हो परन्तु हो साधारण, गुप्त, वह बाहर में जाकर जिस्मानी ड्रिल करते हैं, सीखते हैं। तुम्हारी ड्रिल है रूहानी। कोई को पता ही नहीं है कि यह कोई वारियर्स हैं, लड़ाई करने वाले। महाभारत की लड़ाई दिखाते हैं, वह कैसे हुई? महाभारत की लड़ाई भगवान ने कराई है, ऐसे कहते हैं। अब भगवान हिंसक युद्ध कैसे करायेगा। भगवान ने युद्ध सिखलाई है, रावण पर जीत पाने की। समझाते हैं तुम 16 कला सम्पूर्ण थे। तुम मूलवतन से अशरीरी आये फिर यहाँ चोला धारण कर पहले सतयुग में राज्य किया। स्मृति में आता है ना? कहते हैं हाँ बाबा, अब हमको स्मृति आई है कि बरोबर हम दैवी राज्य के मालिक थे। फिर हराया। अब हम युद्ध के मैदान में खड़े हैं। माया पर जीत जरूर पायेंगे। काम चिता पर चढ़ने से मनुष्य का मुँह काला हो जाता है। काला अक्षर कड़ा है इसलिए सांवरा कहा जाता है। कृष्ण और नारायण को सांवरा रंग देते हैं, ऐसा कोई मनुष्य होता नहीं। मनुष्य तो गोरे सांवरे होते हैं। आइरन एजड को सांवरा कहेंगे। लौकिक बाप भी कहते हैं तुम काला मुँह करके कुल को कलंक लगाते हो। बेहद का बाप कहते हैं तुमने आसुरी मत पर चलकर दैवीकुल को कलंकित किया है, इसलिए तुम सांवरे बन गये हो। पूरा सांवरा बनने में आधाकल्प लगता है और गोरा बनने में सेकण्ड। बच्चों को ड्रामा के आदि मध्य अन्त की स्मृति आई है और धर्म वालों को स्मृति नहीं आ सकती। विस्मृति भी तुमको हुई, स्मृति भी तुमको आई। तुम दैवी राज्य स्थान के मालिक थे। यहाँ राजायें ढेर थे, इसलिए नाम रखा है राजस्थान। अभी यह पंचायती राज्य है। अभी तुम पुरूषार्थ कर रहे हो – महारानी महाराजा बनने का। ड्रामा प्लैन अनुसार ऐसे ही हुआ था। स्वर्ग चक्र लगाए नर्क बनता है। अब तुम नापाक से पाक स्थान में जाकर राज्य करने का पुरूषार्थ कर रहे हो। तुम्हारी पढ़ाई सिम्पुल है। अल्फ बे को याद करना है। बाबा कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। राजाई को याद करो तो राजाई मिलेगी। वह लोग कहते हैं कहो मैं भैंस हूँ, भैंस हूँ.. यह बात तो सत्य नहीं है। तुम आत्मा कहती हो हम विष्णु बनेंगे, कैसे बनेंगे? कहते हैं मुझे याद करो और विष्णु-पुरी राजधानी को भी याद करो। प्रवृत्ति मार्ग होने कारण विष्णु का नाम लिया जाता है। वहाँ भी लक्ष्मी-नारायण के तख्त पिछाड़ी विष्णु का चित्र निशानी रहती है। चित्रों में भी ऐसे-ऐसे बनाते हैं। बाबा ने राज़ समझाया है – वहाँ की ऐसी रसम-रिवाज़ है फिर वह लक्ष्मी-नारायण चक्र लगाए ब्रह्मा सरस्वती वा जगत पिता, जगत अम्बा बनते हैं। ब्रह्मा को कहते हैं ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर। शिव को फादर कहेंगे। सभी आत्मायें ब्रदर्स हैं। ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर मनुष्य बनते हैं। तो अब देह-अभिमान निकाल आत्म-अभिमानी बनना है। आत्म-अभिमानी परमात्मा बाप बनाते हैं। यहाँ तुमको डबल लाइट है, नॉलेज है। आत्म-अभिमानी भी बनते हो फिर बाप को भी याद करते हो क्योंकि वर्सा लेना है। देवताओं ने पुरुषार्थ कर पास्ट जन्म में बाप से वर्सा लिया है। उनको याद करने की दरकार नहीं। तो बच्चों को नई-नई प्वाइंट्स बुद्धि में धारण करनी है। युक्तियाँ बहुत मिलती रहती हैं। पहले-पहले बुद्धि में यह बात बिठाओ कि ऊंचे ते ऊंचा कौन सा स्थान है? निर्वाणधाम। हम आत्मायें निर्वाणधाम के निवासी हैं। परमपिता परमात्मा है ऊंचे ते ऊंच। उनका ऊंच ते ऊंच स्थान है। ऊंचे ते ऊंचा नाम है। ऊंचे ते ऊंची उनकी महिमा है। वह आया भी भारत में है, तब तो यहाँ यादगार बना है ना। जिसका कोई नाम रूप ही नहीं तो वह चीज़ कहाँ से आयेगी जो उनको पूजेंगे। तो यह भी भूल है ना। परमात्मा को नामरूप से न्यारा कहना, यह तो अज्ञान हो गया। शिवरात्रि भी भारत में मनाते हैं। भारत ही प्राचीन सतयुग था, अब नहीं है। तो जरूर बाप ने ही सतयुग की स्थापना की होगी। फिर दु:ख कौन देता है? कब से शुरू होता है? यह कोई नहीं जानते। बाप बैठकर समझाते हैं। अब वह 21 पीढ़ी का फिर से तुमको बेहद का वर्सा देने आया हूँ। तुमने कल्प-कल्प यह पुरूषार्थ किया है। बेहद सुख का वर्सा, बेहद के बाप से लिया है, जबकि यह अन्तिम जन्म है तो क्यों न पवित्र बन भविष्य के लिए पूरा वर्सा लेना चाहिए। भक्त भगवान को याद करते हैं तो जरूर वर्सा पाने के लिए। भगवान है ही पतित-पावन, सद्गति दाता। नर से नारायण बनाने वाला और कोई तो बना न सके। सतयुग में फट से लक्ष्मी-नारायण का राज्य होता है तो जरूर कहेंगे पिछले जन्म में पुरुषार्थ किया है इसलिए बाप अब तुमको पुरुषार्थ करा रहे हैं, भविष्य में ऐसा पद पाने लिए। पतित दुनिया की अन्त में ही आकरके पावन बनायेंगे ना। वह है वाइसलेस वर्ल्ड। फिर कलायें कमती होती जाती हैं। अब है विशश वर्ल्ड।

बाप कहते हैं इन 5 विकारों का दान दो और पवित्र बनो। याद भी करो और पवित्र भी बनो। बी होली, बी राजयोगी। गृहस्थ व्यवहार में रहते एक शिव बाबा को याद करो और कब किसको याद किया तो व्यभिचारी बनें। भक्ति मार्ग में गृहस्थ व्यवहार में रहते भी कब किसी को, कब किसी को याद करते हैं। तो वह व्यभिचारी याद हो जाती है और फिर वह पवित्र भी नहीं रहते हैं तो बाप कहते हैं कि गृहस्थ व्यवहार में याद मुझ एक बाप को करो। यह अन्तिम जन्म मेरे नाम पर कमल फूल समान पवित्र बन सिर्फ मुझे याद करते रहो। यह एक जन्म मेरे मददगार बनो, जो मदद करेंगे वही फल पायेंगे। तुम हो गये ईश्वरीय खुदाई खिदमतगार। बाप भारत की खुद खिदमत करते हैं ना। बाप कहते हैं बच्चे तुमको लायक बनना है। गुण भी जरूर चाहिए। यहाँ गुणवान बनना है। फिर 21 जन्मों के लिए देवता बन राज्य करेंगे। बाबा ने समझाया है कृष्ण का चित्र बड़ा अच्छा है। नर्क को लात मारते हैं, स्वर्ग हाथ में है। भारत में ही यह कायदा है। कोई मरता है तो मुँह शहर की तरफ, पैर शमशान तरफ करते हैं। फिर जब शमशान के नजदीक आते हैं तो मुँह फिराकर शमशान तरफ करते हैं। अभी तो तुम जीते जी जाने के लिए तैयार हो तो तुम्हारा मुँह नई दुनिया तऱफ होना चाहिए। सुखधाम जाना है वाया शान्तिधाम। यह है बेहद की बात। पुरानी दुनिया को लात मार रहे हो, नई दुनिया में जा रहे हो इसलिए दु:खधाम को भूलना पड़ता है। सुखधाम और शान्तिधाम को याद करना है। दु:खधाम में भल तुम रहे पड़े हो, परन्तु याद उनको करो। अव्यभिचारी योग चाहिए, एक बाप दूसरा न कोई। समझानी तो बहुत सहज अच्छी मिलती है। अर्जुन बहुत शास्त्र पढ़ा हुआ था, तो उनको कहा यह सब भूल जाओ और पढ़ाने वालों को भी भूल जाओ। बाप भी ऐसे कहते हैं। अभी जो कुछ सुना है सब भूलो। हम तुमको सभी शास्त्रों का सार समझाते हैं। सचखण्ड का मालिक बनाते हैं। वह तुमको झूठखण्ड का मालिक बनाते हैं। बाप कहते हैं अब जज करो कि हम राइट हैं या वह तुम्हारे चाचे, मामे वा शास्त्रवादी राइट हैं? वह लड़ाई है हद की, तुम्हारी है बेहद की। जिससे तुम बेहद की राजाई लेते हो। बाप कहते हैं यह विकार अब दान में दे दो। अभी पुरुषार्थ नहीं करेंगे तो बहुत-बहुत पछतायेंगे इसलिए ग़फलत छोड़ो, सर्विस में लग जाओ, कल्याणकारी बनो। इस कलियुग में महान दु:ख है। अब तो अजुन बहुत दु:ख के पहाड़ गिरने वाले हैं फिर सतयुग में सोने के पहाड़ खड़े हो जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अल्फ और बे को याद करने की सिम्पल पढ़ाई पढ़नी और पढ़ानी है। अव्यभिचारी याद में रहना है। इस झूठखण्ड को बुद्धि से भूल जाना है।

2) खुदाई खिदमतगार बन भारत को नापाक से पाक बनाने की सेवा करनी है। बाप का पूरा-पूरा मददगार बनना है।

वरदान:- देह, देह के सम्बन्ध और पदार्थो के बन्धन से मुक्त रहने वाले जीवनमुक्त फरिश्ता भव 
फरिश्ता अर्थात् पुरानी दुनिया और पुरानी देह से लगाव का रिश्ता नहीं। देह से आत्मा का रिश्ता तो है लेकिन लगाव का संबंध नहीं। कर्मेन्द्रियों से कर्म के सबंध में आना अलग बात है लेकिन कर्मबन्धन में नहीं आना। फरिश्ता अर्थात् कर्म करते भी कर्म के बन्धन से मुक्त। न देह का बन्धन, न देह के संबंध का बन्धन, न देह के पदार्थो का बन्धन – ऐसे बन्धन मुक्त रहने वाले ही जीवनमुक्त फरिश्ता हैं।
स्लोगन:- स्थूल सम्पत्ति से भी अधिक मूल्यवान है – रूहानी स्नेह की सम्पत्ति।

[wp_ad_camp_5]

To Read Murli 22 October 2017 :- Click Here
Font Resize