today murli 24 january

TODAY MURLI 24 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 January 2019 :- Click Here

24/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the spiritual Surgeon feeds you wonderful, first class nourishment of knowledge and yoga.Continue to offer this hospitality to everyone by serving them with this spiritual nourishment.
Question: What habit should you make effort to imbibe very firmly in order to claim your fortune of the kingdom of the world?
Answer: Make effort with your third eye of knowledge to see souls as brothers seated on their immortal thrones. Consider all to be brothers and give them knowledge. First consider yourself to be a soul and then explain to your brothers. Instil this habit in yourself and you will receive your fortune of the kingdom of the world. It is with this habit that the consciousness of the body will be removed. Storms of Maya and bad thoughts will not come and others will be struck very well by the arrows of knowledge.

Om shanti. The spiritual Father, who gives each of you the third eye of knowledge, sits here and explains to you spiritual children. No one, except the Father, can give you the third eye of knowledge. Now that you children have received the third eye of knowledge, you know that this old world is about to change. The poor people don’t know the One who will change it or how He will change it, because they don’t have the third eye of knowledge. You children have now received the third eye of knowledge with which you know the beginning, the middle and the end of the world. This is the saccharine of knowledge. Even one drop of saccharine is so sweet. There is just the one word of knowledge ‘Manmanabhav’; consider yourself to be a soul and remember the Father. The Father is showing you the path to the land of peace and the land of happiness. The Father has come to give you children your inheritance of heaven and so you children should have a great deal of happiness. It is said: There is no nourishment like happiness. It is as if it is nourishment for those who remain constantly happy and in pleasure. This is the powerful nourishment for staying in pleasure for 21 births. Continue to serve each other with this nourishment. You offer spiritual hospitality to everyone on the basis of shrimat. To give someone the Father’s introduction is also the true state of well-being. You sweet children know that you are receiving the nourishment of liberation-in-life from the unlimited Father. In the golden age, Bharat was liberated-in-life; it was pure. The Father gives very great and elevated nourishment. This is why there is the song: If you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and gopis. This nourishment of knowledge and yoga is first class and wonderful and it is only the one spiritual Surgeon who has this nourishment. No one else knows about this nourishment. The Father says: Sweet children, I have brought gifts on the palms of My hands for you. These gifts of liberation and liberation-in-life remain with Me. It is I who come to give you these every cycle. Then Ravan snatches them away. Therefore, how high your mercury of happiness should rise in you children! You know that it is only the one Father, Teacher and true Satguru who takes you back with Him. You receive the kingdom of the world from the mo stbeloved Father. This is not a small thing. You should always remain cheerful. “Godly student life is the best .  This saying applies to this time. Then, in the new world, too, you will continue to celebrate in happiness. People of the world do not know when true happiness is celebrated. Human beings don’t have any knowledge of the golden age. So, they continue to celebrate it here. However, where can happiness come from in this old tamopradhan world? People here continue to cry out in distress. This is the world of such sorrow. The Father shows you children a very easy path. Stay at home with your family and remain as pure as a lotus. Remember Me while at your business etc. There is that lover and beloved; they continue to remember one another. That one is his beloved and he is her lover. However, here, it is not like that. Here, you are lovers of the Beloved for birth after birth. The Father does not become your lover. You remember that Beloved in order to call Him here. You call out to Him even more when there is lot of sorrow. This is why there is the saying: Everyone remembers God at the time of suffering and no one remembers him at the time of happiness. At this time, the Father is the Almighty Authority. Day by day, Maya is also becoming a tamopradhan almighty authority. Therefore, the Father says: Sweet children, now become soul conscious. Consider yourselves to be souls and remember Me, your Father, and, together with this, imbibe divine virtues and you will become like Lakshmi and Narayan. The main aspect in this study is remembrance. You have to remember the highest-on-high Father with a lot of love. That Father is the One who establishes the new world. The Father says: I have come to make you children into the masters of the world. This is why you must remember Me so that your sins of many births can be cut away. People call out to the Father, the Purifier. Now that the Father has come, you definitely have to become pure. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. The golden age was definitely a pure world and so all were happy there. Now, once again, the Father says: Children, remember the land of peace and the land of happiness. This is now the confluence age. The Boatman is taking you from this shore across to the other side. There is not only one boat; the whole world is like a big ship. He takes that across. You sweet children should have so much happiness. For you, there is nothing but happiness. Wah! The unlimited Father is teaching us! You have not heard this before nor have you studied this. God speaks: I teach you Raja Yoga. I am teaching you spiritual children Raja Yoga, and so you should study it fully. You should study it and also imbibe it fully. Everyone is always numberwise in studying anyway. You should look at yourself: Am I the highest, average or the lowest? The Father says: Check yourself: Am I worthy of claiming a high status? Do I do spiritual service? The Father says: Children, become serviceable and follow the Father. I have come for the sake of service I do service every day. This is why I have taken this one’s chariot. When this one’s chariot becomes ill, I sit in this one and write the murli. I cannot speak through the mouth, and I therefore write it down instead so that you children don’t miss a murli. Therefore, I am also on service. This is spiritual service. The Father explains to you sweetest children: Children, you too should engage yourselves in the Father’s serviceOn God f atherly Service. The Father, the Master of the whole world, has come to make you into the masters of the world. Those who make good effort are called mahavirs. It is seen who the mahavirs are who follow Baba’s directions. The Father’s order is: Consider yourselves to be souls and see others as brothers. Forget those bodies. Baba does not see bodies either. The Father says: I only see souls. However, there is the knowledge that a soul cannot speak without a body. I have come into this body; I have taken it on loan. Only when a soul is in a body can he study. Baba sits here (middle of the forehead). This is the immortal throne. A soul is an immortal image. A soul does not become smaller or larger. Bodies become smaller or larger. The middle of the forehead is the throne of each soul. Everyone’s body is different. The immortal thrones of some are those of men and the immortal thrones of others are those of women. The immortal thrones of some are those of children. The Father sits here and teaches spiritual drill to you children. Whenever you talk to anyone, first of all consider yourself to be a soul. I, the soul, am talking to this brother. Give the Father’s message to remember Shiv Baba. It is by having remembrance that the alloy will be removed. When alloy is mixed in, the value of the gold decreases. When alloy becomes mixed into you souls, you even become valueless. You have to become pure again. You souls have now each received a third eye of knowledge. See your brothers through that eye. By having the vision of brotherhood your sense organs will not become mischievous. If you want to claim your fortune of the kingdom and become the masters of the world, make effort. Consider everyone to be your brother and donate knowledge to them. This habit will then become firm. All of you are true brothers. The Father has come from up above and you too have come from up above. The Father, together with the children, is doing service. The Father gives you courage to do service. You then have courage. Therefore, you should practise this: I, the soul, am teaching my brother. It is the soul that studies. This is called spiritual knowledge which you receive from the spiritual Father. The Father comes and gives you this knowledge at the confluence age: Consider yourselves to be souls. You came bodiless and adopted bodies here and played your parts for 84 births. You now have to go back again. Therefore, consider yourselves to be souls and have the vision of brotherhood. You have to make this effort. You have to make your own effort. What concern do we have with others? Charity begins at home, that is, first consider yourself to be a soul and explain to your brothers and the arrow will strike the target well. You have to fill yourselves with this force. Only when you make effort will you claim a high status. The Father has come to give you the fruit, and so you should make effort. You also have to tolerate a few things. Just remain silent when anyone says anything wrong. What can others do if you remain silent? Clapping takes place with two hands. If the first one claps with the mouth but the other one remains silent, then the first one will automatically become silent. Only when there is the clapping of two hands is there noise. You children have to bring benefit to each other. The Father explains: Children, if you want to remain constantly happy, become “Manmanabhav”: consider yourselves to be souls and remember the Father. Look at souls, your brothers. Give this knowledge to your brothers. When you conduct meditation, if you consider yourself to be a soul and continue to see others as brothers, good service will then be done. Baba has said: Explain to your brothers. All the brothers take their inheritance from the Father. You Brahmin children only receive this spiritual knowledge once. You are now Brahmins and will then become deities. You cannot leave this confluence age. Otherwise, how could you go across? You cannot jump over it. This is the wonderful confluence age. You children have to instil the habit of staying on the spiritual pilgrimage. This is for your benefit. You have to give the Father’s teachings to your brothers. The Father says: I am giving you souls this knowledge. I only see souls. When a human being talks to another human being, he looks at the face. You speak to souls and so you have to look at the soul. Although you give knowledge with your body, you have to break the consciousness of the body. You souls understand that the Supreme Soul, the Father, is giving you this knowledge. The Father says: I too look at souls. Souls also say: We are looking at the Supreme Soul, the Father. We are receiving knowledge from Him. This is called the give and take of spiritual knowledge of one soul with another. Knowledge is within the soul. The knowledge has to be given to the soul. This is like power. If your knowledge is filled with power, it will instantly strike the target when you explain to others. The Father says: Practise this and see if the arrow strikes the target. Instil this new habit and the consciousness of the body will be removed and fewer storms of Maya will come. You will not have any bad thoughts. The criminal eye will not remain either. We souls have been around the cycle of 84 births. The play is now about to end. You now have to stay in remembrance of Baba. Change from tamopradhan to satopradhan with remembrance and you will become the masters of the satopradhan world. It is so easy! The Father knows that it is His part to give teachings to the children. This is not a new thing. I have to come every 5000 years. I am bound by this bondage. I sit here and explain to you children: Sweet children, remain on the pilgrimage of remembrance and your last thought will lead you to your destination. This is the final period. Remember Me alone and you will receive salvation. Only once do you children receive these teachings for becoming soul conscious. This is such wonderful knowledge! Baba is wonderful and Baba’s knowledge is also wonderful. No one else can tell you this at any time. It is now time to return home. This is why the Father says: Sweet children, practise this. Consider yourselves to be souls and give knowledge to souls. You have to use your third eye to see others as brothers. This is the greatest effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Just as the Father has come on spiritual service for you children, follow the Father in the same way and do spiritual service. Follow the Father’s directionsand eat the nourishing food of happiness and serve it to others.
  2. If anyone says anything wrong, just remain silent. There should not be clapping of the mouth. You have to tolerate things.
Blessing: May you use the facilities of silence and recognise Maya from a distance and chase her away and become a conqueror of Maya.
Maya will come till the last moment, but it is Maya’s duty to come and your duty to chase her away from a distance. If Maya comes and shakes you and you then chase her away, that is also a waste of time. Therefore, with the facilities of silence , from a distance recognise that that is Maya. Do not let her come close to you. If you think, “What can I do? How can I do this? I am still an effort-maker…”, it is like offering hospitality to Maya and you then become distressed. Therefore, recognise her from a distance and chase her away and you will become a conqueror of Maya.
Slogan: Let the lines of elevated fortune emerge and the lines of old sanskars will then merge.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

The creator of a tree is its seed, and when the final stage of the tree comes, the seed comes up above. In the same way, experience yourself to be an unlimited master creator at the top of the kalpa tree. Together with the Father, be a master seed at the top of the tree and spread rays of powers, virtues, good wishes and pure feelings, love and co-operation.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 24 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 January 2019

To Read Murli 23 January 2019 :- Click Here
24-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

‘मीठे बच्चे – रूहानी सर्जन तुम्हें ज्ञान-योग की फर्स्टक्लास वन्डरफुल खुराक खिलाते हैं, यही रूहानी खुराक एक दो को खिलाते सबकी खातिरी करते रहो “
प्रश्नः- विश्व का राज्य भाग्य लेने के लिए कौन सी एक मेहनत करो? पक्की-पक्की आदत डालो?
उत्तर:- ज्ञान के तीसरे नेत्र से अकाल तख्तनशीन आत्मा भाई को देखने की मेहनत करो। भाई-भाई समझ सभी को ज्ञान दो। पहले खुद को आत्मा समझ फिर भाईयों को समझाओ, यह आदत डालो तो विश्व का राज्य भाग्य मिल जायेगा। इसी आदत से शरीर का भान निकल जायेगा, माया के तूफान वा बुरे संकल्प भी नहीं आयेंगे। दूसरों को ज्ञान का तीर भी अच्छा लगेगा।

ओम् शान्ति। ज्ञान का तीसरा नेत्र देने वाला रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। ज्ञान का तीसरा नेत्र सिवाए बाप के और कोई दे नहीं सकता। अभी तुम बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। तुम जानते हो अब यह पुरानी दुनिया बदलने वाली है। बिचारे मनुष्य नहीं जानते कि कौन बदलाने वाला है और कैसे बदलाते हैं क्योंकि उन्हों को ज्ञान का तीसरा नेत्र ही नहीं है। तुम बच्चों को अभी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है जिससे तुम सृष्टि के आदि मध्य अन्त को जान गये हो। यह है ज्ञान की सैक्रीन। सैक्रीन की एक बूंद भी कितनी मीठी होती है। ज्ञान का भी एक ही अक्षर है मन्मनाभव। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। बाप शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बता रहे हैं। बाप आये हैं बच्चों को स्वर्ग का वर्सा देने, तो बच्चों को कितनी खुशी रहनी चाहिए। कहते भी हैं खुशी जैसी खुराक नहीं। जो सदैव खुशी मौज में रहते हैं उनके लिए वह जैसे खुराक होती है। 21 जन्म मौज में रहने की यह जबरदस्त खुराक है। यही खुराक सदैव एक दो को खिलाते रहो। तुम श्रीमत पर सभी की रूहानी खातिरी करते हो। सच्ची-सच्ची खुश-खैराफत भी यह है – किसको बाप का परिचय देना। मीठे बच्चे जानते हैं बेहद के बाप द्वारा हमको जीवनमुक्ति की खुराक मिलती है। सतयुग में भारत जीवनमुक्त था, पावन था। बाप बहुत बड़ी ऊंची खुराक देते हैं तब तो गायन है अतीन्द्रिय सुख पूछना हो तो गोप-गोपियों से पूछो। यह ज्ञान और योग की कितनी फर्स्ट क्लास वन्डरफुल खुराक है और यह खुराक एक ही रूहानी सर्जन के पास है। और किसको इस खुराक का मालूम ही नहीं है।

बाप कहते हैं मीठे बच्चों तुम्हारे लिए हथेली पर सौगात ले आया हूँ। मुक्ति, जीवनमुक्ति की यह सौगात मेरे पास ही रहती है। कल्प-कल्प मैं ही आकर तुमको देता हूँ। फिर रावण छीन लेता है। तो अभी तुम बच्चों को कितना खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। तुम जानते हो हमारा एक ही बाप, टीचर और सच्चा-सच्चा सतगुरू है जो हमको साथ ले जाते हैं। मोस्ट बिलवेड बाप से विश्व की बादशाही मिलती है, यह कम बात है क्या! सदैव हर्षित रहना चाहिए। गॉडली स्टूडेन्ट लाइफ इज दी बेस्ट। यह अभी का ही गायन है। फिर नई दुनिया में भी तुम सदैव खुशियाँ मनाते रहेंगे। दुनिया नहीं जानती कि सच्ची-सच्ची खुशियाँ कब मनाई जायेंगी। मनुष्यों को तो सतयुग का ज्ञान ही नहीं है। तो यहाँ ही मनाते रहते हैं। परन्तु इस पुरानी तमोप्रधान दुनिया में खुशी कहाँ से आई! यहाँ तो त्राहि-त्राहि करते रहते हैं। कितना दु:ख की दुनिया है।

बाप तुम बच्चों को कितना सहज रास्ता बताते हैं, गृहस्थ – व्यवहार में रहते कमल फूल समान रहो। धन्धा-धोरी आदि करते भी मुझे याद करते रहो। जैसे आशिक और माशुक होते हैं, वह तो एक दो को याद करते रहते हैं। वह उनका आशिक, वह उनका माशुक होता है। यहाँ यह बात नहीं है, यहाँ तो तुम सभी एक माशुक के जन्म-जन्मान्तर से आशिक हो रहते हो। बाप तुम्हारा आशिक नहीं बनता। तुम उस माशुक को आने लिए याद करते आये हो। जब दु:ख जास्ती होता है तो जास्ती सुमिरण करते हैं, तब तो गायन भी है दु:ख में सुमिरण सब करें, सुख में करे न कोय। इस समय बाप भी सर्वशक्तिवान है, दिन-प्रतिदिन माया भी सर्वशक्तिवान-तमोप्रधान होती जाती है इसलिए अब बाप कहते हैं मीठे बच्चे देही-अभिमानी बनो। अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो और साथ-साथ दैवीगुण भी धारण करो तो तुम ऐसे (लक्ष्मी-नारायण) बन जायेंगे। इस पढ़ाई में मुख्य बात है ही याद की। ऊंच ते ऊंच बाप को बहुत प्यार, स्नेह से याद करना चाहिए। वह बाप ही नई दुनिया स्थापन करने वाला है। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुम बच्चों को विश्व का मालिक बनाने इसलिए अब मुझे याद करो तो तुम्हारे अनेक जन्मों के पाप कट जायें। पतित-पावन बाप को ही बुलाते हैं ना। अब बाप आये हैं, तो जरूर पावन बनना पड़े। बाप दु:ख-हर्ता, सुख-कर्ता है। बरोबर सतयुग में पावन दुनिया थी तो सभी सुखी थे। अब बाप फिर से कहते हैं बच्चे, शान्तिधाम और सुखधाम को याद करते रहो। अभी है संगमयुग, खिवैया तुमको इस पार से उस पार ले जाते हैं। नईया कोई एक नहीं, सारी दुनिया जैसे एक बड़ा जहाज है, उनको पार ले जाते हैं।

तुम मीठे बच्चों को कितनी खुशियाँ होनी चाहिए। तुम्हारे लिए तो सदैव खुशी ही खुशी है। बेहद का बाप हमको पढ़ा रहे हैं, वाह! यह तो कब न सुना, न पढ़ा। भगवानुवाच, मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। तुम रूहानी बच्चों को राजयोग सिखा रहा हूँ तो पूरी रीति सीखना चाहिए। धारणा करनी चाहिए। पूरी रीति पढ़ना चाहिए। पढ़ाई में नम्बरवार तो सदैव होते ही हैं। अपने को देखना चाहिए – मैं उत्तम हूँ, मध्यम हूँ वा कनिष्ट हूँ? बाप कहते हैं अपने को देखो मैं ऊंच पद पाने के लायक हूँ? रूहानी सर्विस करता हूँ? क्योंकि बाप कहते हैं बच्चे सर्विसएबुल बनो, फालो करो। मैं आया ही हूँ सर्विस के लिए, रोज़ सर्विस करता हूँ, इसलिए ही तो यह रथ लिया है। इनका रथ बीमार पड़ जाता है तो मैं इनमें बैठ मुरली लिखता हूँ। मुख से तो बोल नहीं सकते तो मैं लिख देता हूँ, ताकि बच्चों के लिए मुरली मिस न हो तो मैं भी सर्विस पर हूँ ना। यह है रूहानी सर्विस।

बाप मीठे-मीठे बच्चों को समझाते हैं, बच्चे तुम भी बाप की सर्विस में लग जाओ। आन गॉड फादरली सर्विस। सारे विश्व का मालिक बाप ही तुमको विश्व का मालिक बनाने आये हैं। जो अच्छा पुरुषार्थ करते हैं उनको महावीर कहा जाता है। देखा जाता है कौन महावीर हैं जो बाबा के डायरेक्शन पर चलते हैं। बाप का फरमान है अपने को आत्मा समझ भाई-भाई देखो। इस शरीर को भूल जाओ। बाबा भी इन शरीरों को नहीं देखते हैं। बाप कहते हैं मैं आत्माओं को देखता हूँ। बाकी यह तो ज्ञान है कि आत्मा शरीर बिगर बोल नहीं सकती। मैं भी इस शरीर में आया हूँ, लोन लिया हुआ है। शरीर के साथ ही आत्मा पढ़ सकती है। बाबा की बैठक यहाँ है। यह है अकाल तख्त, आत्मा अकालमूर्त है। आत्मा कब छोटी बड़ी नहीं होती है, शरीर छोटा बड़ा होता है। जो भी आत्मायें हैं, उन सभी का तख्त यह भृकुटी का बीच है। शरीर तो सभी के भिन्न-भिन्न होते हैं। किसका अकाल तख्त पुरुष का है, किसका अकाल तख्त स्त्री का है, किसका अकाल तख्त बच्चे का है। बाप बैठ बच्चों को रूहानी ड्रिल सिखलाते हैं। जब कोई से बात करो तो पहले अपने को आत्मा समझो। हम आत्मा फलाने भाई से बात करते हैं। बाप का पैगाम देते हैं कि शिवबाबा को याद करो। याद से ही जंक उतरनी है। सोने में जब अलाय (खाद) पड़ती है तो सोने की वैल्यु ही कम हो जाती है। तुम आत्माओं में भी जंक पड़ने से वैल्युलेस हो गये हो। अब फिर पावन बनना है। तुम आत्माओं को अब ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है, उस नेत्र से अपने भाईयों को देखो। भाई-भाई को देखने से कर्मेन्द्रियाँ कभी चंचल नहीं होंगी। राज्य-भाग्य लेना है, विश्व का मालिक बनना है तो यह मेहनत करो। भाई-भाई समझ सभी को ज्ञान दो तो फिर यह आदत पक्की हो जायेगी। सच्चे-सच्चे ब्रदर्स तुम सभी हो। बाप भी ऊपर से आये हैं, तुम भी आये हो। बाप बच्चों सहित सर्विस कर रहे हैं। सर्विस करने की बाप हिम्मत देते हैं। हिम्मते मर्दा… तो यह प्रैक्टिस करनी है – मैं आत्मा भाई को पढ़ाता हूँ। आत्मा पढ़ती है ना। इसको प्रीचुअल नॉलेज कहा जाता है, जो रूहानी बाप से ही मिलती है। संगम पर ही बाप आकर यह नॉलेज देते हैं कि अपने को आत्मा समझो। तुम नंगे (अशरीरी) आये थे फिर यहाँ शरीर धारण कर तुमने 84 जन्म पार्ट बजाया है। अब फिर वापिस चलना है इसलिए अपने को आत्मा समझ भाई-भाई की दृष्टि से देखना है। यह मेहनत करनी है। अपनी मेहनत करनी है, दूसरे में हमारा क्या जाता। चैरिटी बिगेन्स एट होम अर्थात् पहले खुद को आत्मा समझ फिर भाईयों को समझाओ तो अच्छी रीति तीर लगेगा। यह जौहर भरना है। मेहनत करेंगे तब ही ऊंच पद पायेंगे। बाप आये ही हैं फल देने लिए तो मेहनत करनी पड़े। कुछ सहन भी करना पड़ता है।

कोई उल्टी-सुल्टी बात बोले तो तुम चुप रहो। तुम चुप रहेंगे तो फिर दूसरा क्या करेगा! ताली दो हाथ से बजती है। एक ने मुख की ताली बजाई, दूसरा चुप कर दे तो वह आपेही चुप हो जायेंगे। ताली से ताली बजने से आवाज हो जाता है। बच्चों को एक दो का कल्याण करना है। बाप समझाते हैं बच्चे, सदैव खुशी में रहने चाहते हो तो मन्मनाभव। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। भाईयों (आत्माओं) तरफ देखो। भाईयों को भी यह नॉलेज दो। योग कराते हो तो भी अपने को आत्मा समझ भाईयों को देखते रहेंगे तो सर्विस अच्छी होगी। बाबा ने कहा है भाईयों को समझाओ। भाई सभी बाप से वर्सा लेते हैं। यह रूहानी नॉलेज एक ही बार तुम ब्राह्मण बच्चों को मिलती है। तुम ब्राह्मण हो फिर देवता बनने वाले हो। इस संगमयुग को थोड़ेही छोड़ेंगे, नहीं तो पार कैसे जायेंगे! कूदेंगे थोड़ेही। यह वन्डरफुल संगमयुग है। तो बच्चों को रूहानी यात्रा पर रहने की आदत डालनी है। तुम्हारे ही फायदे की बात है। बाप की शिक्षा भाईयों को देनी है। बाप कहते हैं मैं तुम आत्माओं को ज्ञान दे रहा हूँ, आत्मा को ही देखता हूँ। मनुष्य-मनुष्य से बात करेंगे तो उनके मुँह को देखेंगे ना। तुम आत्मा से बात करते हो तो आत्मा को ही देखना है। भल शरीर द्वारा ज्ञान देते हो परन्तु इसमें शरीर का भान तोड़ना होता है। तुम्हारी आत्मा समझती है परमात्मा बाप हमको ज्ञान दे रहे हैं। बाप भी कहते हैं आत्माओं को देखता हूँ, आत्मायें भी कहती हैं हम परमात्मा बाप को देख रहे हैं। उनसे नॉलेज ले रहे हैं, इसको कहा जाता है प्रीचुअल ज्ञान की लेन-देन, आत्मा की आत्मा के साथ। आत्मा में ही ज्ञान है, आत्मा को ही ज्ञान देना है। यह जैसे जौहर है। तुम्हारे ज्ञान में यह जौहर भर जायेगा तो किसको भी समझाने से झट तीर लग जायेगा। बाप कहते हैं प्रैक्टिस करके देखो, तीर लगता है ना। यह नई आदत डालनी है तो फिर शरीर का भान निकल जायेगा। माया के तूफान कम आयेंगे। बुरे संकल्प नहीं आयेंगे। क्रिमिनल आई भी नहीं रहेगी। हम आत्मा ने 84 का चक्र लगाया। अब नाटक पूरा होता है। अब बाबा की याद में रहना है। याद से ही तमोप्रधान से सतोप्रधान बन, सतोप्रधान दुनिया के मालिक बन जायेंगे। कितना सहज है। बाप जानते हैं बच्चों को यह शिक्षा देना भी मेरा पार्ट है। कोई नई बात नहीं। हर 5000 वर्ष बाद हमको आना होता है। मैं बंधायमान हूँ। बच्चों को बैठ समझाता हूँ मीठे बच्चे रूहानी याद की यात्रा में रहो तो अन्त मते सो गति हो जायेगी। यह अन्त काल है ना। मामेकम् याद करो तो तुम्हारी सद्गति हो जायेगी। यह देही-अभिमानी बनने की शिक्षा एक ही बार तुम बच्चों को मिलती है। कितना वन्डरफुल ज्ञान है। बाबा वन्डरफुल है तो बाबा का ज्ञान भी वन्डरफुल है। कब कोई बता न सके। अभी वापस चलना है इसलिए बाप कहते हैं मीठे बच्चों यह प्रैक्टिस करो। अपने को आत्मा समझ आत्मा को ज्ञान दो। तीसरे नेत्र से भाई-भाई को देखना है, यही बड़ी मेहनत है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप बच्चों की रूहानी सर्विस पर आये हैं, ऐसे बाप को फालो कर रूहानी सर्विस करनी है, बाप के डायरेक्शन पर चल, खुशी की खुराक खानी और खिलानी है।

2) कोई उल्टी-सुल्टी बात बोले तो चुप रहना है, मुख की ताली नहीं बजानी है। सहन करना है।

वरदान:- साइलेन्स के साधनों द्वारा माया को दूर से पहचान कर भगाने वाले मायाजीत भव
माया तो लास्ट घड़ी तक आयेगी लेकिन माया का काम है आना और आपका काम है दूर से भगाना। माया आवे और आपको हिलाये फिर आप भगाओ, यह भी टाइम वेस्ट हुआ इसलिए साइलेन्स के साधनों से आप दूर से ही पहचान लो कि ये माया है। उसे पास में आने न दो। अगर सोचते हो क्या करूं, कैसे करूं, अभी तो पुरुषार्थी हूँ …तो यह भी माया की खातिरी करते हो, फिर तंग होते हो इसलिए दूर से ही परखकर भगा दो तो मायाजीत बन जायेंगे।
स्लोगन:- श्रेष्ठ भाग्य की रेखाओं को इमर्ज करो तो पुराने संस्कारों की रेखायें मर्ज हो जायेंगी।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

जैसे वृक्ष का रचयिता बीज, जब वृक्ष की अन्तिम स्टेज आती है तो वह फिर से ऊपर आ जाता है। ऐसे बेहद के मास्टर रचयिता सदा अपने को इस कल्प वृक्ष के ऊपर खड़ा हुआ अनुभव करो, बाप के साथ-साथ वृक्ष के ऊपर मास्टर बीजरूप बन शक्तियों की, गुणों की, शुभभावना-शुभकामना की, स्नेह की, सहयोग की किरणें फैलाओ।

TODAY MURLI 24 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 24 January 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 23 January 2018 :- Click Here

24-01-2018
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are Raja Rishis. The Father is teaching you to renounce the whole of the old world. By doing this you become able to claim a royal status.
Question: Why can none of the acts that human beings perform at this time be neutral?
Answer: Because Maya’s kingdom is over the whole world, the five vices have entered everyone and this is why the acts they perform are sinful. Maya doesn’t exist in the golden age, and so the acts that human beings perform there are neutral.
Question: Which children receive a very good prize?
Answer: : Those who become pure on the basis of shrimat and become sticks for the blind, and those who are never influenced by the five vices and do not defame the clan’s name receive a very good prize. The passport s of those who are repeatedly defeated by Maya are cancelled.
Song: Salutations to Shiva

Om shanti. The highest of all is God, the Supreme Father, the Supreme Soul. He is the Creator. He first creates Brahma, Vishnu and Shankar. Then, when you come down into the land of immortality, there is the kingdom of Lakshmi and Narayan. It is the sun-dynasty kingdom, not the moon dynasty. Who explains this? The Ocean of Knowledge. Human beings can never explain this to other human beings. The Father is the highest of all. He is the One whom the people of Bharat call the Mother and Father. Therefore, the Mother and Father are definitely needed in a practical way. This is remembered, and so He must have been this at some time. First of all, there is the Highest on High, the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. There is a soul in each one. It is when a soul is in a body that he becomes happy or unhappy. These matters have to be understood. These are not tall stories. All that the gurus and saints etc. relate are tall stories. At present Bharat is hell. In the golden age it will be called heaven. Lakshmi and Narayan used to rule there. Everyone there was very fortunate; no one there was unfortunate. There was no sorrow or disease. This is the world of sinful souls. The people of Bharat were residents of heaven. It used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. Everyone believes in Krishna. Just see, he has been given two globes. The Krishna soul says: I am now kicking hell away and have heaven in my hands. Previously, there was the land of Krishna. Now it is the land of Kans (devil). Krishna is also included in this. This is his last of 84 births, but Krishna doesn’t have that form now. The Father sits here and explains. The Father comes and makes Bharat into heaven. The Father has now come to make hell into heaven once again. This is the old world. The world that was new has now become old. Buildings still become old from new. Eventually, they become ready for demolition. The Father says: I teach you children Raja Yoga in order to make you into the residents of heaven. You are Raj Rishis. You renounce the vices in order to claim a kingdom. Those sannyasis renounce their homes and go into a jungle. However, they still remain in the old world. The unlimited Father inspires you to renounce hell by granting you a vision of heaven. The Father says: I have come to take all of you back. The Father tells you all that you do not know your own births. It is definite that whatever actions people perform, good or bad, they take birth according to those sanskars. Some become wealthy, some become poor, some become diseased and others become healthy. Those are their karmic accounts of their previous birth. Those who are healthy must definitely have built a hospital etc. in their previous birth. Those who give a lot of donations and perform a lot of charity become wealthy. Whatever deeds human beings perform in hell definitely become sinful because the five vices are present in everyone. Now, sannyasis adopt purity and stop committing sin. Although they go and live in a jungle, their deeds do not become neutral. The Father explains: At present, it is Maya’s kingdom. Therefore, whatever deeds human beings perform would only be sinful. Maya doesn’t exist in the golden or silver age; this is why people’s deeds never become sinful and why there is no sorrow there. At present, there are first the chains of Ravan and then the chains of the path of devotion. You have been stumbling around in every birth. The Father says: I also told you earlier that you cannot meet Me by doing penance or intense meditation etc. I only come when it is the end of the path of devotion. Devotion begins in the copper age. When people experience sorrow, they remember God. In the golden and silver ages, everyone is one hundred-fold fortunate, whereas here all are unfortunate; they continue to weep and wail, there continues to be untimely death. The Father says: I come when hell has to change into heaven. Bharat is the ancient land. Those who come at the beginning have to remain till the end. The cycle of 84 births has been remembered. The Trimurti that the Government creates should include Brahma, Vishnu and Shankar, but they have instead portrayed a lion. There is no image of the Father, the Creator, but they have put an image of the cycle below. They think that it is a spinning wheel, but it is in fact the cycle of the drama. They have given it the name ‘Wheel free from sorrow’. You now become free from sorrow by knowing this cycle. In fact, this is right but they have turned everything upside-down. By remembering the cycle of 84 births, you become rulers of the globe for 21 births. This Dada is completing his 84th birth. This is the final birth of Krishna. The Father sits here and explains to him. In fact, this is the final birth of all of you. The people of Bharat, who belonged to the deity religion, have experienced the full 84 births. The cycle is now coming to an end for everyone. Those bodies of yours have become dirty. This world is very dirty; that is why you are inspired to renounce it. You should not attach your hearts to this graveyard. Attach your hearts to the Father and your inheritance. You souls are imperishable and your bodies are perishable. Now remember Me and your final thoughts will lead you to your destination. It is remembered that those who remember their wife at the end attain a status accordingly. The Father says: Now, those who remember Shiv Baba at the end can attain the status of Narayan. You receive the status of Narayan in the golden age. No one except the Father can enable you to receive this status. This school is for changing from human beings into deities. The One who is teaching is the Father whose praise you heard: Salutations to Shiva. You know that you have become His children and that you are now claiming your inheritance. You no longer follow the dictates of human beings. By following the dictates of human beings, all have become residents of hell. All the scriptures are remembered and created by human beings. The whole of Bharat has now become corrupt in their religion and action. Deities were pure. The Father now says: If you want to become one hundred times fortunate, become pure. Promise Baba that you will definitely become pure and claim your full inheritance from Him. This old, impure world has to end. There is so much battling and fighting. There is so much anger. People have created such huge bombs. They have so much anger and greed. Some children have had visions of how Shri Krishna emerges from the palace of a womb. Here, a womb is a jail and, as soon as you are released, Maya makes you commit sin. There, when the child emerges from the palace of a womb, there is light everywhere. He lives in great comfort. When he emerges from the womb, maids pick him up and bugles begin to sound everywhere. There is so much difference between here and there! The three worlds have been explained to you children. Souls come from the land of peace. A soul is like a star and resides in the centre of the forehead. The imperishable recording of 84 is in the soul. The drama is never destroyed, and no one’s act canbe changed. It is a wonder! The part of 84 births is recorded so accurately within the tiny soul. It never becomes old; it is constantly new. The soul begins his identical part once again. Now, you children would not say: A soul is the Supreme Soul. The Father explains the accurate meaning of ‘hum so’ to you. The meaning that those people have created is wrong. Either they say that they are brahm or that they are God, the Creator of Maya. In fact, Maya cannot be created. Maya is the five vices. The Father doesn’t create Maya. The Father creates the new world. No one else can say that they are creating a world. There is only the one unlimited Father. The meaning of ‘Om’ has also been explained to you children. A soul is an embodiment of peace. He resides in the land of peace. The Father is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Bliss. You couldn’t sing this praise for a soul. Yes, souls do have knowledge. The Father says: I only come once. I definitely have to give you your inheritance. Bharat becomes heaven through the inheritance I give you. There is purity, peace and happiness there. This inheritance is constant happiness given by the unlimited Father. When there was purity, there was also peace and happiness. Now, there is impurity and there is therefore sorrow and peacelessness. The Father sits here and explains: At first, you souls were in the incorporeal world. Then you souls went into the deity religion and then the warrior religion. You were satopradhan for 8 births. Then, for 12 births, you had the sato stage. Then, for 21 births, you were in the copper age and then you took 42 births in the iron age. You became shudras and you have again come into the Brahmin clan. You will then go into the deity clan. You are now in the lap of God. The Father explains to you very clearly. By knowing the 84 births, you come to know everything. You have the knowledge of the whole cycle in your intellects. You also know that there is only one religion in the golden age: the world almighty authority kingdom. You are now claiming the status of Lakshmi and Narayan. The golden age is the pure world and there are very few there. All the rest of the souls are in the land of liberation. The Bestower of Salvation for all is the one Father. No one knows Him. They say that God is omnipresent. The Father asks: Who told you that? They say: It is written in the Gita. Who created the Gita? God speaks: I take the support of this ordinary body of Brahma. How could God sit and give knowledge to one Arjuna alone on the battlefield? You are not taught to wage war or to gamble. God is the One who changes human beings into deities. How could He tell you to gamble or to wage war? Then they say that Draupadi had five husbands. How could that be possible? Baba created heaven a cycle ago. He is now creating it once again. Krishna is now completing his 84th birth. The king, the queen and all the subjects, everyone, are now completing their 84 births. You have now changed from shudras into Brahmins. Those who come into the Brahmin religion say “Mama and Baba”. However, whether they believe it or not is up to them. They think that the destination is too high for them. Nevertheless, they have heard a little, and so they will definitely go to heaven but they will claim a low status. There, as are the rulers, so the subjects; all are very happy; the very name is heavenHeavenly God, the Father, establishes heaven. This is hell. Ravan has put all the Sitas in jail. All of them are sitting in the cottage of sorrow and remembering God in order to be liberated from Ravan. The golden age is the cottage free from sorrow. Destruction cannot take place until your sun-dynasty kingdom is established. Only when the kingdom is established and the children have reached their karmateet stage will the final war take place. Until then, rehearsals will continue. Through this war, the gates to heaven will open. You children have to become worthy of going to heaven. Baba issues your passport s. The purer you become and the more you become sticks for the blind accordingly the prize you receive will be good. You have to promise Baba: Sweet Baba, we will definitely stay in remembrance of You. The main thing is purity. You definitely have to donate the five vices. Some become defeated and are then able to stand up again. If you are knocked down by Maya two to four times you fail and your passport is cancelled. The Father says: Children, do not become those who defame the clan’s name. If you renounce the vices, I will definitely make you into the masters of heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become one hundred times fortunate, promise the Father that you will remain pure. Do not attach your heart to this dirty, impure world.
  2. Never be defeated by Maya. You must not become those who defame the clan’s name. Become worthy of claiming your passport to heaven from the Father.
Blessing: May you be an embodiment of light and show wandering souls the elevated destination with your elevated stage.
Just as moths automatically fly to a physical light, similarly, wandering souls will come to you sparkling stars at a fast speed. For this, you have to practise constantly seeing the sparkling star on each one’s forehead. See but do not see the body. Let your vision always be on the sparkling star (the light). When you have such spiritual vision in a natural way, wandering souls will then find their true destination through your elevated stage.
Slogan: Those who know the importance of service and who remain busy in one or another type of service are all-round servers.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 24 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 24 January 2018

To Read Murli 23 January 2018 :- Click Here
24-01-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम राजऋषि हो, तुम्हें बेहद का बाप सारी पुरानी दुनिया का सन्यास सिखलाते हैं जिससे तुम राजाई पद पा सको”
प्रश्नः- इस समय किसी भी मनुष्य के कर्म अकर्म नहीं हो सकते हैं, क्यों?
उत्तर:- क्योंकि सारी दुनिया में माया का राज्य है। सबमें 5 विकार प्रवेश हैं इसलिए मनुष्य जो भी कर्म करते हैं, वह विकर्म ही बनता है। सतयुग में ही कर्म अकर्म होते हैं क्योंकि वहाँ माया होती नहीं।
प्रश्नः- किन बच्चों को बहुत अच्छी प्राइज मिलती है?
उत्तर:- जो श्रीमत पर पवित्र बन अन्धों की लाठी बनते हैं। कभी 5 विकारों के वश हो कुल कलंकित नहीं बनते, उन्हें बहुत अच्छी प्राइज़ मिल जाती है। अगर कोई बार-बार माया से हार खाते हैं तो उनका पासपोर्ट ही कैन्सिल हो जाता है।
गीत:- ओम् नमो शिवाए…

ओम शान्ति। सबसे ऊंच है परमपिता परमात्मा अर्थात् परम आत्मा। वह है रचयिता। पहले ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को रचते हैं फिर आओ नीचे अमरलोक में, वहाँ है लक्ष्मी-नारायण का राज्य। सूर्यवंशी का राज्य, चन्द्रवंशी का नहीं है। यह कौन समझा रहे हैं? ज्ञान का सागर। मनुष्य, मनुष्य को कब समझा न सके। बाप सबसे ऊंच है, जिसको भारतवासी मात-पिता कहते हैं। तो जरूर प्रैक्टिकल में मात-पिता चाहिए। गाते हैं तो जरूर कोई समय हुए होंगे। तो पहले-पहले ऊंच ते ऊंच है वह निराकार परमपिता परमात्मा, बाकी तो हरेक में आत्मा है। आत्मा जब शरीर में है तो दु:खी वा सुखी बनती है। यह बड़ी समझने की बातें हैं। यह कोई दन्त कथायें नहीं हैं। बाकी जो भी गुरू गुसाई आदि सुनाते हैं, वह सब दन्त कथायें हैं। अब भारत नर्क है। सतयुग में इनको स्वर्ग कहा जाता है। लक्ष्मी-नारायण राज्य करते थे, वहाँ सब सौभाग्यशाली रहते थे। कोई दुर्भाग्यशाली थे ही नहीं। कोई भी दु:ख रोग था ही नहीं। यह है पाप आत्माओं की दुनिया। भारतवासी स्वर्गवासी थे, लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। कृष्ण को तो सभी मानते हैं। देखो, इनको दो गोले दिये हैं। कृष्ण की आत्मा कहती है अब मैं नर्क को लात मार रहा हूँ। स्वर्ग हाथ में ले आया हूँ। पहले कृष्णपुरी थी, अब कंसपुरी है। इसमें यह कृष्ण भी है। इनके 84 जन्मों के अन्त का यह जन्म है। परन्तु अब वह कृष्ण का रूप नहीं है। यह बाप बैठ समझाते हैं। बाप ही आकर भारत को स्वर्ग बनाते हैं। अब नर्क है फिर स्वर्ग बनाने बाप आये हैं। यह पुरानी दुनिया है। जो नई दुनिया थी, अब वह पुरानी है। मकान भी नये से पुराना होता है। आखरीन तोड़ने लायक हो जाता है। अब बाप कहते हैं मैं बच्चों को स्वर्गवासी बनाने राजयोग सिखाता हूँ। तुम हो राजऋषि। राजाई प्राप्त करने के लिए तुम सन्यास करते हो विकारों का। वह हद के सन्यासी घरबार छोड़ जंगल में चले जाते हैं। परन्तु हैं फिर भी पुरानी दुनिया में। बेहद का बाप तुमको नर्क का सन्यास कराते हैं और स्वर्ग का साक्षात्कार कराते हैं। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुमको ले जाने। बाप सभी को कहते हैं तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। यह तो जरूर है जो जैसा कार्य करेगा अच्छा वा बुरा, उस संस्कार अनुसार जाकर जन्म लेंगे। कोई साहूकार, कोई गरीब, कोई रोगी कोई तन्दरूस्त बनते हैं। यह है अगले जन्मों के कर्मो का हिसाब। कोई तन्दरूस्त है जरूर आगे जन्म में हॉस्पिटल आदि बनाये होंगे। दान पुण्य जास्ती करते हैं तो साहूकार बनते हैं। नर्क में मनुष्य जो भी कर्म करते हैं वह जरूर विकर्म ही बनेंगे क्योंकि सबमें 5 विकार हैं। अब सन्यासी पवित्र बनते हैं, पाप करना छोड़ देते हैं, जंगल में जाकर रहते हैं। परन्तु ऐसे नहीं उनके कर्म अकर्म होते हैं। बाप समझाते हैं इस समय है ही माया का राज्य इसलिए मनुष्य जो भी कर्म करेंगे वह पाप ही होंगे। सतयुग त्रेता में माया होती नहीं, इसलिए कभी विकर्म नहीं बनते। न दु:ख होगा। इस समय एक तो हैं रावण की जंजीरें, फिर भक्तिमार्ग की जंजीरें। जन्म-जन्मान्तर धक्के खाते आये हैं। बाप कहते हैं हमने आगे भी कहा था कि इन जप तप आदि से मैं नहीं मिलता हूँ। मैं आता ही तब हूँ जब भक्ति का अन्त होता है। भक्ति शुरू होती है द्वापर से। मनुष्य दु:खी होते हैं तब याद करते हैं। सतयुग त्रेता में हैं सौभाग्यशाली और यहाँ हैं दुर्भाग्यशाली। रोते पीटते रहते हैं। अकाले मृत्यु होता रहता है। बाप कहते हैं मैं आऊंगा तब जब नर्क को स्वर्ग बनना है। भारत प्राचीन देश है, जो पहले थे, उनको ही अन्त तक रहना है। 84 का चक्र गाया जाता है। गवर्मेन्ट जो त्रिमूर्ति बनाती है उनमें होना चाहिए ब्रह्मा, विष्णु, शंकर, परन्तु जानवर लगा देते हैं। बाप रचयिता का चित्र है नहीं और नीचे चक्र भी लगाया है। वह समझते हैं चरखा है परन्तु है ड्रामा सृष्टि का पा। अब चक्र का नाम रखा है अशोक चक्र। अब तुम इस चक्र को जानने से ही अशोक बन जाते हो। बात तो ठीक है, सिर्फ उलट पुलट कर दिया है। तुम इस 84 जन्मों के चक्र को याद करने से ही चक्रवर्ती राजा बनते हो – 21 जन्मों के लिए। इस दादा ने भी 84 जन्म पूरे किये हैं। यह कृष्ण का अन्तिम जन्म है। इनको बाप बैठ समझाते हैं। वास्तव में तुम सबका अन्तिम जन्म है, जो भारतवासी देवी-देवता धर्म के थे उन्हों ने ही पूरे 84 जन्म भोगे हैं। अभी तो सबका चक्र पूरा होता है। अब यह तुम्हारा तन छी-छी हो गया है। यह दुनिया ही छी-छी है, इसलिए तुमको इस दुनिया से सन्यास कराते हैं। इस कब्रिस्तान से दिल नहीं लगानी है। अब बाप और वर्से से दिल लगाओ। तुम आत्मा अविनाशी हो, यह शरीर विनाशी है। अब मुझे याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। गायन भी है अन्तकाल जो स्त्री सिमरे… अब बाप कहते हैं अन्तकाल जो शिवबाबा सिमरे वह नारायण पद प्राप्त कर सकता है। नारायण पद मिलता ही है सतयुग में। बाप के सिवाए यह पद कोई दिला न सके। यह पाठशाला है ही मनुष्य से देवता बनने की। पढ़ाने वाला है बाप। जिसकी महिमा सुनी – ओम् नमो शिवाए। तुम जानते हो हम उनके बच्चे बन गये हैं। अब वर्सा ले रहे हैं।

अब तुम मनुष्य मत पर नहीं चलते। मनुष्य मत पर चलने से तो सब नर्कवासी बन गये हैं। शास्त्र भी मनुष्यों के ही गाये हुए हैं अथवा बनाये हुए हैं। सारा भारत इस समय धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट बन पड़ा है। देवतायें तो पवित्र थे। अब बाप कहते हैं अगर सौभाग्यशाली बनने चाहते हो तो पवित्र बनो, प्रतिज्ञा करो – बाबा हम पवित्र बन आपसे पूरा वर्सा जरूर लेंगे। यह तो पुरानी पतित दुनिया खत्म होने वाली है। लड़ाई झगड़ा क्या क्या लगा पड़ा है। क्रोध कितना है। बाम्बस कितने बड़े-बड़े बनाये हैं। कितने क्रोधी, लोभी हैं। वहाँ श्रीकृष्ण कैसे गर्भ महल से निकलते हैं सो तो बच्चों ने साक्षात्कार किया है। यहाँ है गर्भ जेल, बाहर निकलने से माया पाप कराने लग पड़ती है। वहाँ तो गर्भ महल से बच्चा निकलता है, रोशनी हो जाती है। बड़े आराम से रहते हैं। गर्भ से निकला और दासियाँ उठा लेती, बाजे बजने लग पड़ते। यहाँ वहाँ में कितना फ़र्क है।

अब तुम बच्चों को तीन धाम समझाये हैं। शान्तिधाम से ही आत्मायें आती हैं। आत्मा तो स्टार के मिसल है, जो भ्रकुटी के बीच में रहती है। आत्मा में 84 जन्मों का अविनाशी रिकार्ड भरा हुआ है। न ड्रामा कभी विनाश होता, न एक्ट बदली हो सकती। यह भी वण्डर है – कितनी छोटी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट बिल्कुल एक्यूरेट भरा हुआ है। यह कभी पुराना नहीं होता। नित्य नया है। हूबहू आत्मा फिर से अपना वही पार्ट शुरू करती है। अब तुम बच्चे आत्मा सो परमात्मा नहीं कह सकते। हम सो का अर्थ बाप ही यथार्थ रीति समझाते हैं। वे तो उल्टा अर्थ बना देते हैं या तो कहते अहम् ब्रह्मस्मि, हम परमात्मा हैं माया को रचने वाले। अब वास्तव में माया को रचा नहीं जाता। माया है 5 विकार। वह बाप माया को नहीं रचते। बाप तो नई सृष्टि रचते हैं। मैं सृष्टि रचता हूँ, यह और कोई नहीं कह सकते। बेहद का बाप एक ही है। ओम् का अर्थ भी बच्चों को समझाया गया है। आत्मा है ही शान्त स्वरूप। शान्तिधाम में रहती है। परन्तु बाप है ज्ञान का सागर, आनन्द का सागर। आत्मा की यह महिमा नहीं गायेंगे। हाँ आत्मा में नॉलेज आती है। बाप कहते हैं मैं एक ही बार आता हूँ। मुझे वर्सा भी जरूर देना पड़े। मेरे वर्से से भारत एकदम स्वर्ग बन जाता है। वहाँ पवित्रता, सुख-शान्ति सब कुछ था। यह है बेहद के बाप का सदा सुख का वर्सा। पवित्रता थी तो सुख शान्ति भी थी। अभी अपवित्रता है तो दु:ख अशान्ति है। बाप बैठ समझाते हैं तुम आत्मा पहले पहले मूलवतन में थी। फिर देवी-देवता धर्म में आई, फिर क्षत्रिय धर्म में आई, 8 जन्म सतोप्रधान में फिर 12 जन्म सतो में, फिर 21 जन्म द्वापर में, फिर 42 जन्म कलियुग में। यहाँ शूद्र बन पड़े, अब फिर ब्राह्मण वर्ण में आना है फिर देवता वर्ण में जायेंगे। अब तुम ईश्वरीय गोद में हो। बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं। 84 जन्मों को जानने से फिर उसमें सब कुछ आ जाता है। सारे चक्र का ज्ञान बुद्धि में है। यह भी तुम जानते हो सतयुग में है एक धर्म। वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी राज्य। अब तुम लक्ष्मी-नारायण पद पा रहे हो। सतयुग है पावन दुनिया, वहाँ बहुत थोड़े होते हैं। बाकी सब आत्मायें मुक्तिधाम में रहती हैं। सबका सद्गति दाता एक ही बाप है। उनको कोई जानता ही नहीं और ही कह देते हैं कि परमात्मा सर्वव्यापी है। बाप कहते हैं तुमको किसने कहा? कहते हैं गीता में लिखा हुआ है। गीता किसने बनाई? भगवानुवाच, मैं तो इस साधारण ब्रह्मा तन का आधार लेता हूँ। लड़ाई के मैदान में एक अर्जुन को कैसे बैठ ज्ञान सुनायेंगे। तुमको कोई लड़ाई वा जुआ आदि थोड़ेही सिखाई जाती है। भगवान तो है ही मनुष्य से देवता बनाने वाला। वह कैसे कहेंगे कि जुआ खेलो, लड़ाई करो। फिर कहते द्रोपदी को 5 पति थे। यह कैसे हो सकता। कल्प पहले बाबा ने स्वर्ग बनाया था। अब फिर से बना रहे हैं। कृष्ण के 84 जन्म पूरे हुए, यथा राजा रानी तथा प्रजा, सबके 84 जन्म पूरे हुए। अब तुम शूद्र से बदल ब्राह्मण बने हो। जो ब्राह्मण धर्म में आयेंगे, वही मम्मा बाबा कहेंगे। फिर भल कोई माने वा न माने। समझते हैं हमारे लिए मंजिल ऊंची है। फिर भी कुछ न कुछ सुनते हैं तो स्वर्ग में जरूर आयेंगे। परन्तु कम पद पायेंगे। वहाँ यथा राजा रानी तथा प्रजा सब सुखी रहते हैं। नाम ही है हेविन। हेविनली गॉड फादर हेविन स्थापन करते हैं, यह है हेल। सब सीताओं को रावण ने जेल में बाँध रखा है। सभी शोक में बैठ भगवान को याद कर रहे हैं कि इस रावण से छुड़ाओ। सतयुग है अशोक वाटिका। जब तक सूर्यवंशी राजधानी तुम्हारी स्थापन नहीं हुई है तब तक विनाश नहीं हो सकता। राजधानी स्थापन हो, बच्चों की कर्मातीत अवस्था हो तब फाइनल लड़ाई होगी, तब तक रिहर्सल होती रहती है। इस लड़ाई के बाद स्वर्ग के गेट खुलने वाले हैं। तुम बच्चों को स्वर्ग में चलने लायक बनना है। बाबा पासपोर्ट निकालते हैं। जितना-जितना पवित्र बनेंगे, अन्धों की लाठी बनेंगे तो प्राइज़ भी अच्छी मिलेगी। बाबा से प्रतिज्ञा करनी है मीठे बाबा हम आपकी याद में जरूर रहेंगे। मुख्य बात है पवित्रता की। पाँच विकारों का दान जरूर देना पड़े। कोई हार खाकर खड़े भी हो जाते हैं। अगर दो चार बारी माया का घूँसा खाकर फिर गिरा तो नापास हो जायेगा। पासपोर्ट कैन्सिल हो जाता है। बाप कहते हैं बच्चे कुल कलंकित मत बनो। तुम विकारों को छोड़ो। मैं तुमको स्वर्ग का मालिक अवश्य ही बनाऊंगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सौभाग्यशाली बनने के लिए बाप से पवित्रता की प्रतिज्ञा करनी है। इस छी-छी पतित दुनिया से दिल नहीं लगानी है।

2) माया का घूँसा कभी नहीं खाना है। कुल कलंकित नहीं बनना है। लायक बन स्वर्ग का पासपोर्ट बाप से लेना है।

वरदान:- अपनी श्रेष्ठ स्थिति द्वारा भटकती हुई आत्माओं को श्रेष्ठ ठिकाना देने वाले लाइट स्वरूप भव 
जैसे स्थूल रोशनी (लाइट) पर परवाने स्वत: आते हैं, ऐसे आप चमकते हुए सितारों पर भटकी हुई आत्मायें फास्ट गति से आयेंगी। इसके लिए अभ्यास करो – हर एक के मस्तक पर सदा चमकते हुए सितारे को देखने का। शरीरों को देखते भी न देखो। सदा नज़र चमकते हुए सितारे (लाइट) तरफ जाये। जब ऐसी रूहानी नज़र नेचुरल हो जायेगी, तो आपकी इस श्रेष्ठ स्थिति द्वारा भटकती हुई आत्माओं को यथार्थ ठिकाना मिल जायेगा।
स्लोगन:- सेवा के महत्व को जान कोई न कोई सेवा में बिजी रहने वाले ही आलराउन्ड सेवाधारी हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize