today murli 23 november

TODAY MURLI 23 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 November 2018 :- Click Here

23/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, be cautious and pay full attention to the study. Don’t think that you have a direct connection with Shiv Baba. Even to say this is body consciousness.
Question: Why can Bharat be called an imperishable pilgrimage place?
Answer: Because Bharat is the birthplace of the Father, it is an imperishable land. In the golden and silver ages, the living deities rule in the imperishable land. At that time, Bharat is called Shivalaya. Then, on the path of devotion, they make non-living images and worship them. They even make many Shivalayas (Shiva Temples) and so it is a pilgrimage place at that time too and this is why Bharat can be called an imperishable pilgrimage place.
Song: O traveller of the night, do not become weary, the destination of dawn is not far off.

Om shanti. O travellers of the night, who is cautioning you not to become weary? Shiv Baba says this. Some children are such that they think that Shiv Baba is their everything because they have a connection with Him alone. However, He also only speaks through the mouth of Brahma, does He not? Some think that Shiv Baba is inspiring them directly but it is wrong to think that. Shiv Baba would surely give teachings through Brahma. He explains to you: Children, don’t become weary! Although you have a connection with Shiv Baba, Shiv Baba says: Manmanabhav! Brahma also says: Manmanabhav! Even the Brahma Kumars and Kumaris say: Manmanabhav! However, a mouth is needed in order for a caution to be given. Some children think that their connection is with that One. However, He would give directions through Brahma, would He not? If you continue to receive directions etc. from Him directly, what would be the need for Him to come here? There are some children who have such thoughts as: Since Shiv Baba can speak through the mouth of Brahma, He can also speak through my mouth. However, you cannot have a connection with Him without Brahma. Some sulk with Brahma and the Brahma Kumars and Kumaris and then begin to say such things. We have to have yoga with Shiv Baba alone. In order to give us children teachings and to caution us, the Father has to say something. The Father says: You don’t come to class on time. Who said this? Both Shiv Baba and Brahma Dada said it. The body of both is one. So, they say: Be cautious and pay full attention to the study. The highest-on-high Father is teaching you. First of all, you should praise Shiv Baba. His praise is very important. His praise is infinite. The words of His praise are very good but children sometimes forget them. You should churn the ocean of knowledge and write the full praise of Shiv Baba. Who would be called the new man? In fact, the heavenly new man is Krishna. However, the topknot of the Brahmins of this time is remembered. Children are created and so they are given teachings. If Lakshmi and Narayan are called the new men, there is no need to give them teachings. So, who is the new man? These matters have to be understood and explained. That Father is the Almighty Authority, the World Almighty. You forget to write the words ‘World Almighty  in the Father’s praise. Bharat is also praised as being an imperishable pilgrimage place. How is this, since pilgrimages take place on the path of devotion? How can Bharat be called an imperishable pilgrimage place? How is it an imperishable pilgrimage place? Can we call it a pilgrimage place in the golden age? If we say that it is an imperishable pilgrimage place, how is it that? This has to be clearly explained: Yes, it is a pilgrimage place in the golden and silver ages and also in the copper and iron ages. Since you call it imperishable, you have to prove its existence in all four ages. Pilgrimages etc. begin to take place in the copper age. Then, we can write that Bharat is an imperishable pilgrimage place. Even in the golden and silver ages, it is a pilgrimage place where the living deities reside. Here, there are non-living pilgrimages whereas when it is Shivalaya it is a true, living pilgrimage place. Only the Father sits and explains all of these things here. Bharat is an imperishable land. All the rest are destroyed. No human beings know these things. The Purifier Father comes here. Those whom He makes into pure deities then go and reside in that Shivalaya. Here, people have to go to Badrinath and Amarnath etc. There, Bharat itself is the pilgrimage place. It isn’t that Shiv Baba exists there. Shiv Baba is here now. All His praise is of this time. This is Shiv Baba’s birthplace, so it is also the birthplaceof Brahma. It cannot be called the birthplace of Shankar. There is no need for him to come here. He has become the instrument for destruction. Vishnu comes when he rules and sustains the kingdom through his dual-form. They have shown a couple as the dual-form of Vishnu. This (Vishnu) is his image. He exists in the golden age. So, we have to sing praise of the one Father. He is also our Saviour. Those people call the founders of religions their S aviours. They call Christand Buddha etc. their Saviours. They believe that they come to establish peace. However, they don’t bring any peace. They don’t liberate anyone from sorrow. They have to establish their own religions. Those of their own religions begin to follow them down. The word ‘Saviour’ is very good. This word should definitely also be used. When these pictures are shown abroad, they will be printed in all languages. Those people sing so much praise of the Pope etc. They sing so much praise of a p resident etc. when he dies. The bigger the person is, the more praise there is of him. However, at this time, all have become the same. They say that God is omnipresent. By saying that they themselves are the Father, all souls insult the Father. Worldly children wouldn’t say that they are their father. Yes, when they create their own creation, they become fathers; that is possible. Here, the Father of all of us souls is the One. We cannot become His Father. He cannot be called the Child. Yes, it is a game of knowledge when we say that we make Shiv Baba our Child, the Heir. Scarcely a few people who can understand these things will understand them. They make Child Shiva their Heir and surrender themselves to Him. Children surrender themselves to Shiv Baba; this exchange takes place. There is so much importance given to an inheritance. The Father says: Whatever you have, including your body, make Me the Heir of it all. However, it is difficult for your body consciousness to break. Only when you have the faith that you are a soul and you remember the Father can your body consciousness break. It requires a lot of effort for you to become soul conscious. We souls are imperishable. We began to consider ourselves to be bodies. It now requires effort for us to begin to consider ourselves to be souls once again. The biggest of all illnesses is body consciousness. The sins of those who don’t consider themselves to be souls and who do not remember the Father are not cut away. The Father explains: If you study well, you will become a lord. You should follow shrimat. Otherwise, it will be impossible for you to climb into the heart of Shri Shri. Only when you climb into His heart can you then sit on the throne. You have to become very merciful. People are very unhappy. They are very wealthy to look at. Look how much regard the Pope receives! The Father says: I am so egoless. Those people would not tell you not to spend so much money on their welcome. Wherever Baba goes, he writes to them in advance: You mustn’t have any type of splendour. Not everyone must come to the station, because I am incognito. There is even no need to do that. No one knows who that One is. They know everyone else. They don’t know Shiv Baba at all. So it is good to remain incognito. The more egoless you remain, the better it is. Your knowledge is to remain silent. You have to sit and sing the praise of the Father. From that, people would understand that the Father is the Purifier and the Almighty Authority. Only from the Father do you receive the inheritance. No one, except the children, can say this. You would say that you are receiving the inheritance of the new world from Shiv Baba. There are the pictures. We are also becoming like those deities. Shiv Baba is giving us the inheritance through Brahma and this is why we praise Shiv Baba. Our aim and objective is so clear ! He is the One who gives. He teaches us through Brahma. You have to explain using the pictures. So many images of Shiva have been created. The Father comes and makes you pure from impure and takes everyone into liberation and liberation-in-life. This is very clear in the pictures. Therefore, Baba emphasizes that you should give them to everyone so that they can take them and study them. When they take things from here, they use them to decorate their places there. This is something very good. Curtain material is very useful. These pictures continue to have corrections made to them. The word Saviour is also necessary. No one else is the Saviour or the Purifier. Although pure souls come down, they don’t make anyone pure. The souls of their religion have to come down and play their parts. These are points which only the sensible children will imbibe. When you don’t follow shrimat fully, you are unable to study and then you fail. One’s manners too are noted at school. What is this one’s behaviour like? All vices come due to body consciousness. Then, no dharna is able to take place. The Father only loves obedient children. You have to make a lot of effort. Whenever you explain to anyone, first of all, tell them the Father’s praise and how you receive the inheritance from the Father. You have to write the Father’s full praise. You cannot change the pictures, but you have to write the full teachings. The Father’s praise is separate. Krishna received his inheritance from the Father and so his praise is separate. Because of not knowing the Father, they don’t understand that Bharat is the greatest pilgrimage place. You have to tell them and prove that Bharat is an imperishable pilgrimage place. When you children sit and explain these things, people will be amazed when they hear them. Bharat was like a diamond, so who made it like a shell? A lot of explanation and churning of the ocean of knowledge is required. Baba instantly tells you: This correction should be made in this. Children don’t show it to Baba, but Baba wants those corrections made. There was an engineer who couldn’t understand why a machine was spoilt and then his assistant engineer sat and showed him that, by something being done, the machine would be all right. Then the machine truly did begin to work and that engineer became very pleased. He said that that person should be given a prize. So, his salary was increased. The Father also says: You do this accurately and I will praise you, just as when Jagdish (Sanjay) sometimes brings out good points, Baba is pleased. Children should be interested in doing servi ce. Those exhibitions and melas all continue to take place. Wherever there is anyone’s exhibition, he would also put up this exhibition. Here, the forehead of the intellect should open up completely. You should give everyone happiness. Those who study at school are numberwise. If they don’t study, their manners remain bad. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found, children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You mustn’t sulk with anyone and thereby stop studying. Renounce body consciousness and have mercy for yourself. Become egoless, the same as the Father.
  2. Imbibe good manners. Give everyone happiness. Remain obedient.
Blessing: May you experience the Father’s help and blessings by being obedient and thereby become an embodiment of success.
The Father’s order is “Remember Me alone”. The one Father is your world and so let there not be anything in your heart except the one Father. One direction, one strength and one support… Where there is One, there is success in every task. It is easy for that one to overcome any situation. The children who follow the Father’s instructions receive the Father’s blessings and this is why anything difficult becomes easy for them.
Slogan: Maintain the awareness of your new Brahmin life and no old sanskar will emerge.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 November 2018

To Read Murli 22 November 2018 :- Click Here
23-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सावधान हो पढ़ाई पर पूरा ध्यान दो, ऐसे नहीं कि हमारा तो डायरेक्ट शिवबाबा से कनेक्शन है, यह कहना भी देह-अभिमान है”
प्रश्नः- भारत अविनाशी तीर्थ स्थान है – कैसे?
उत्तर:- भारत बाप का बर्थ प्लेस होने के कारण अविनाशी खण्ड है, इस अविनाशी खण्ड में सतयुग और त्रेतायुग में चैतन्य देवी-देवता राज्य करते हैं, उस समय के भारत को शिवालय कहा जाता है। फिर भक्तिमार्ग में जड़ प्रतिमायें बनाकर पूजा करते, शिवालय भी अनेक बनाते तो उस समय भी तीर्थ है इसलिए भारत को अविनाशी तीर्थ कह सकते हैं।
गीत:- रात के राही, थक मत जाना…….. 

ओम् शान्ति। यह कौन सावधानी दे रहे हैं कि थक मत जाना – ओ रात के राही? यह शिवबाबा कहते हैं। कई बच्चे ऐसे भी हैं जो समझते हैं कि हमारा तो शिवबाबा ही है, उनसे हमारा कनेक्शन है। परन्तु वह भी सुनायेंगे तो जरूर ब्रह्मा मुख से ना। कई समझते हैं शिवबाबा हमको डायरेक्ट प्रेरणा करते हैं। परन्तु यह समझना रांग है। शिवबाबा शिक्षा तो जरूर ब्रह्मा द्वारा ही देंगे। तुमको समझा रहे हैं कि बच्चे थक मत जाना। भल तुम्हारा शिवबाबा से कनेक्शन है। शिवबाबा भी कहते हैं मनमनाभव। ब्रह्मा भी कहते हैं मन-मनाभव। तो ब्रह्माकुमार-कुमारियां भी कहती हैं मनमनाभव। परन्तु सावधानी देने लिए तो मुख चाहिए ना। कई बच्चे समझते हैं हमारा तो उनसे कनेक्शन है। परन्तु डायरेक्शन तो ब्रह्मा द्वारा देंगे ना। अगर डायरेक्शन आदि डायरेक्ट मिलते रहें तो फिर उनको यहाँ आने की दरकार ही क्या है? ऐसे-ऐसे बच्चे भी हैं जिनको यह ख्यालात आते हैं – शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा कहते हैं तो हमारे द्वारा भी कह सकते हैं। लेकिन ब्रह्मा बिना तो कनेक्शन हो नहीं सकता। कई ब्रह्मा वा ब्रहमाकुमार-कुमारियों से रूठते हैं तो ऐसे कहने लग पड़ते हैं। योग तो शिवबाबा से रखना ही है। बाप को बच्चों को शिक्षा सावधानी देने लिए कहना भी पड़े। बाप समझाते हैं तुम टाइम पर क्लास में नहीं आते हो, किसने कहा? शिवबाबा और ब्रह्मा दादा दोनों ने कहा, दोनों का शरीर एक है। तो कहते हैं सावधान होकर पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन दो। ऊंच ते ऊंच बाप पढ़ाते हैं। पहले-पहले महिमा ही शिवबाबा की करनी है। उनकी महिमा बड़ी भारी है। बेअन्त महिमा है। उनकी महिमा के बहुत अच्छे-अच्छे अक्षर हैं परन्तु बच्चे कभी-कभी भूल जाते हैं। विचार सागर मंथन कर शिवबाबा की पूरी महिमा लिखनी चाहिए।

न्यू मैन किसको कहें? यूँ तो हेविनली न्यू मैन कृष्ण है। परन्तु इस समय ब्राह्मणों की चोटी गाई हुई है। बच्चों को रचा जाता है तो शिक्षा दी जाती है। अगर लक्ष्मी-नारायण को न्यू मैन कहें तो उनको शिक्षा देने की दरकार नहीं है। तो अब न्यू मैन कौन? यह बड़ी समझने और समझाने की बातें हैं। वह बाप है सर्वशक्तिमान, वर्ल्ड ऑलमाइटी। यह ‘वर्ल्ड ऑलमाइटी’ अक्षर बाबा की महिमा में लिखना भूल जाते हैं। भारत की भी महिमा की जाती है कि भारत अविनाशी तीर्थ है, कैसे? तीर्थ तो भक्ति मार्ग में होते हैं। तो इनको अविनाशी तीर्थ कैसे कह सकते हैं? अविनाशी तीर्थ कैसे है? सतयुग में हम इनको तीर्थ कह सकते हैं? अगर हम इनको अविनाशी तीर्थ लिखते हैं तो कैसे? क्लीयर कर समझाया जाए कि हाँ, सतयुग-त्रेता में भी यह तीर्थ है, द्वापर-कलियुग में भी तीर्थ है। अविनाशी कहते हैं तो चारों युगों में सिद्धकर बताना पड़े। तीर्थ आदि तो होते हैं द्वापर से। फिर हम लिख सकते हैं भारत अविनाशी तीर्थ है? सतयुग-त्रेता में भी तीर्थ है, जहाँ चैतन्य देवी-देवता रहते हैं। यहाँ है जड़ तीर्थ, वह है चैतन्य सच्चा-सच्चा तीर्थ, जब शिवालय है। यह बातें बाप ही बैठ समझाते हैं। भारत है अविनाशी खण्ड। बाकी सब विनाश हो जाते हैं। यह बातें कोई मनुष्य नहीं जानते हैं। पतित-पावन बाप यहाँ आते हैं, जिनको पावन देवी-देवता बनाते हैं वही फिर इस शिवालय में रहते हैं। यहाँ बद्रीनाथ, अमरनाथ पर जाना पड़ता है। वहाँ भारत ही तीर्थ है। ऐसे नहीं कि वहाँ शिवबाबा है। शिवबाबा तो अभी है। अभी की ही सारी महिमा है। शिवबाबा का यह बर्थप्लेस है। ब्रह्मा का भी बर्थप्लेस हो गया। शंकर का बर्थप्लेस नहीं कहेंगे। उनको तो यहाँ आने की दरकार ही नहीं। वह तो निमित्त बना हुआ है विनाश अर्थ। विष्णु आते हैं जबकि दो रूप से राज्य करते हैं, पालना करते हैं। विष्णु के दो रूप युगल दिखाये हैं। उनकी यह (विष्णु) प्रतिमा है। वह तो सतयुग में आते हैं। तो हमको महिमा एक बाप की करनी पड़ती है। वह सेवीयर (बचाने वाला) भी है। वह लोग तो धर्म स्थापकों को भी सेवीयर कह देते हैं। क्राइस्ट, बुद्ध आदि को भी सेवीयर कह देते हैं। समझते हैं वह पीस स्थापन करने आये थे। परन्तु वह कोई पीस करते नहीं, किसको दु:ख से छुड़ाते नहीं। उनको तो धर्म की स्थापना करनी है। उनके पिछाड़ी उनके धर्म वाले आते जाते हैं। यह सेवीयर अक्षर अच्छा है। यह भी जरूर डालना चाहिए। यह चित्र जब विलायत में प्रत्यक्ष होंगे तो सब भाषाओं में निकलेंगे। वो लोग पोप आदि की कितनी महिमा करते हैं। प्रेजीडेंट आदि मर जाते हैं तो कितनी महिमा करते हैं, जो जितने बड़े आदमी उतनी उनकी महिमा होती है। लेकिन इस समय सब एक जैसे हो गये हैं। भगवान् को सर्वव्यापी कह देते हैं। यह तो सब आत्मायें अपने बाप को गाली देती हैं कि हम सब भी बाप हैं। ऐसे तो लौकिक बच्चे भी कह न सकें कि हम ही बाप हैं। हाँ, वह तो जब अपनी रचना रचें तब उनका बाप बनें। यह हो सकता है। यहाँ तो हम सब आत्माओं का बाप एक है। हम उनके बाप बन ही नहीं सकते। उनको बच्चा कह नहीं सकते। हाँ, यह तो ज्ञान की रमत-गमत होती है जो कहते हैं शिव बालक को वारिस बनाते हैं। इन बातों को तो कोई विरला समझने वाला समझे। शिव बालक को वारिस बनाए उन पर बलिहार जाते हैं। शिवबाबा पर बच्चे बलिहार जाते हैं। यह एक्सचेंज होती है। वर्सा देने का कितना महत्व है। बाप कहते हैं देह सहित जो कुछ है, उन सबका मुझे वारिस बनाओ। परन्तु देह-अभिमान टूटना मुश्किल है। अपने को आत्मा निश्चय कर बाप को याद करें तब देह-अभिमान टूटे। देही-अभिमानी बनना बड़ी मेहनत है। हम आत्मा अविनाशी हैं। हम अपने को शरीर समझ बैठे हैं। अब फिर अपने को आत्मा समझना – इसमें है मेहनत। बड़े ते बड़ी बीमारी है देह-अभिमान की। अपने को आत्मा समझ, जो परमपिता परमात्मा को याद नहीं करते तो विकर्म नहीं कटते।

बाप समझाते हैं अच्छी रीति पढ़ेंगे, लिखेंगे तो होंगे नवाब। श्रीमत पर चलना चाहिए, नहीं तो श्री श्री की दिल पर चढ़ना भी असम्भव है। दिल पर चढ़े तब तख्त पर बैठे। बहुत रहमदिल बनना है। मनुष्य बहुत दु:खी हैं। देखने में बहुत साहूकार हैं। पोप का देखो कितना मान है। बाप कहते हैं मैं कितना निरहंकारी हूँ। वह लोग थोड़ेही ऐसे कहेंगे कि मेरे स्वागत में इतना खर्चा न करो। बाबा तो कहाँ जाते हैं तो पहले से ही लिख देते हैं – कोई भी भभका आदि नहीं करना है, स्टेशन पर सबको नहीं आना है क्योंकि हम हैं ही गुप्त। यह भी करने की दरकार नहीं। कोई जानते थोड़ेही हैं कि यह कौन हैं। और सभी को जानते हैं। शिवबाबा को बिल्कुल नहीं जानते। तो गुप्त रहना अच्छा है। जितना निरहंकारी उतना अच्छा है। तुम्हारी नॉलेज ही है चुप रहने की। बाप की बैठ महिमा करनी है। उनसे ही समझ जायेंगे बाप पतित-पावन सर्वशक्तिमान है। बाप से ही वर्सा मिलता है। यह बच्चों के सिवाए और कोई कह न सके। तुम कहेंगे शिवबाबा से हमको नई दुनिया का वर्सा मिल रहा है। चित्र भी हैं। इन देवताओं जैसा हम बनते हैं। शिवबाबा हमको ब्रह्मा द्वारा वर्सा दे रहे हैं, इसलिए शिवबाबा की महिमा करते हैं। एम-आब्जेक्ट कितना क्लीयर है। देने वाला वह है। ब्रह्मा द्वारा सिखलाते हैं। चित्रों पर समझाना है। शिव के चित्र भी कितने बनाये हैं। बाप आकर पतित से पावन बनाए सबको मुक्ति, जीवन-मुक्ति में ले जाते हैं। चित्रों में भी क्लीयर है इसलिए बाबा जोर दे रहे हैं कि यह सबको दो तो वहाँ ले जाकर पढ़ेंगे। यहाँ से चीज़ ले जाते हैं वहाँ जाकर डेकोरेट कर रखते हैं। यह तो बहुत अच्छी चीज़ है। कपड़े के पर्दे तो बहुत काम की चीज़ हैं। इन चित्रों में भी करेक्शन होती रहती है। सेवीयर अक्षर भी जरूरी है। और कोई न सेवीयर है, न पतित-पावन है। भल पावन आत्मायें आती हैं, परन्तु वह कोई सबको पावन थोड़ेही बनाती हैं। उनके धर्म वालों को तो नीचे पार्ट में आना है। यह प्वाइंट्स हैं, सेन्सीबुल बच्चे जो हैं वही धारण करते हैं।

श्रीमत पर पूरा चलते नहीं तो पढ़ते नहीं, फिर फेल हो जाते हैं। स्कूल में मैनर्स भी देखे जाते हैं – इनकी चलन कैसी है? देह-अभिमान से सब विकार आ जाते हैं। फिर धारणा कुछ भी नहीं होती है। आज्ञाकारी बच्चों को ही बाप प्यार भी करेंगे। पुरुषार्थ बहुत करना है। किसको भी समझाना है तो पहले-पहले बाप की महिमा करनी है। बाप से वर्सा कैसे मिलता है? बाप की महिमा पूरी लिखनी है। चित्रों को तो बदली नहीं कर सकते। बाकी शिक्षा तो पूरी लिखनी पड़े। बाप की महिमा अलग है। बाप से कृष्ण को वर्सा मिला तो उनकी महिमा अलग है। बाप को न जानने कारण समझते नहीं कि भारत बड़ा तीर्थ है। यह सिद्ध कर बताना है कि भारत अविनाशी तीर्थ है। ऐसे-ऐसे तुम बच्चे बैठ समझाओ तो मनुष्य सुनकर चकित हो जायेंगे। भारत हीरे जैसा था फिर भारत को कौड़ी जैसा किसने बनाया? इसमें समझाने, विचार सागर मंथन करने की बड़ी दरकार है। बाबा तो झट बतलाते हैं, इसमें यह करेक्शन होनी चाहिए। बच्चे बतलाते नहीं हैं। बाबा करेक्शन तो चाहते हैं। एक इन्जीनियर था, वह मशीन की खराबी को समझ न सका तो दूसरा असिस्टेंट इन्जीनियर था उसने बैठ बताया, इसमें यह करने से यह ठीक हो जायेगा और सचमुच वह मशीन ठीक हो गई। तो वह बहुत खुश हो गया। बोला इसको तो इज़ाफा देना चाहिए। तो उनकी तनखा बढ़ा दी। बाप भी कहते हैं तुम करेक्ट करो तो हम वाह-वाह करेंगे। जैसे जगदीश संजय है, कभी अच्छी-अच्छी प्वाइन्ट्स निकालते हैं तो बाबा खुश होते हैं। बच्चों को सर्विस का शौक चाहिए। यह प्रदर्शनी मेले तो सब होते रहेंगे। जहाँ-तहाँ किसका भी एग्जीवीशन होगा तो वहाँ यह भी करेंगे। यहाँ तो बुद्धि की कपाट खोलनी चाहिए। सबको सुख देना चाहिए। स्कूल में नम्बरवार पढ़ने वाले तो होते ही हैं। न पढ़ेंगे तो उनके मैनर्स भी खराब होंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी से भी रूठकर पढ़ाई नहीं छोड़नी है। देह-अभिमान छोड़ स्वयं पर रहम करना है। बाप समान निरहंकारी बनना है।

2) अच्छे मैनर्स धारण करने हैं, सबको सुख देना है। आज्ञाकारी होकर रहना है।

वरदान:- आज्ञाकारी बन बाप की मदद वा दुआओं का अनुभव करने वाले सफलतामूर्त भव
बाप की आज्ञा है “मुझ एक को याद करो”। एक बाप ही संसार है इसलिए दिल में सिवाए बाप के और कुछ भी समाया हुआ न हो। एक मत, एक बल, एक भरोसा…..जहाँ एक है वहाँ हर कार्य में सफलता है। उनके लिए कोई भी परिस्थिति को पार करना सहज है। आज्ञा पालन करने वाले बच्चों को बाप की दुआयें मिलती हैं इसलिए मुश्किल भी सहज हो जाता है।
स्लोगन:- नये ब्राह्मण जीवन की स्मृति में रहो तो कोई भी पुराना संस्कार इमर्ज नहीं हो सकता।

BRAHMA KUMARIS MURLI 23 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 23 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 22 November 2017 :- Click Here
23/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – तुम्हें गृहस्थ व्यवहार में रहते सभी से तोड़ निभाना है, एक बार बेहद का सन्यास कर 21 जन्म की प्रालब्ध बनानी है
प्रश्नः- चलते-फिरते कौन सी एक बात याद रहे तो भी तुम रूहानी यात्रा पर हो?
उत्तर:- चलते फिरते याद रहे कि हम एक्टर हैं, हमको अब वापिस घर जाना है। बाप यही याद दिलाते हैं। बच्चे मैं तुम्हें वापिस ले जाने आया हूँ, इस स्मृति में रहना ही मनमनाभव, मध्याजी भव है। यही रूहानी यात्रा है जो तुम्हें बाप सिखलाते हैं।
प्रश्नः- सद्गति के लक्षण कौन से हैं?
उत्तर:- सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण… यह जो महिमा है यही सद्गति के लक्षण हैं, जो तुम्हें बाप द्वारा प्राप्त होते हैं।
गीत:- धीरज धर मनुवा…

ओम् शान्ति। बच्चे नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते हैं कि अब पुराना नाटक पूरा होता है। दु:ख के दिन बाकी कुछ घड़िया हैं और फिर सदा सुख ही सुख होगा। जब सुख का पता पड़ता है तब समझा जाता है यह दु:खधाम है, दोनों में बहुत अन्तर है। अभी सुख के लिए तुम पुरुषार्थ कर रहे हो अथवा श्रीमत पर चल रहे हो। कोई को भी ये समझाना बहुत सहज है। अभी बाबा के पास जाना है। बाबा लेने आया है। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र रहना है। तोड़ जरूर निभाना है। अगर तोड़ न निभाया तो जैसे सन्यासियों मिसल हो गये। जो तोड़ नहीं निभाते हैं उनको निवृत्ति मार्ग अथवा हठयोग कहा जाता है। अभी भगवान राजयोग सिखलाते हैं जो हम सीखते हैं। भारत का धर्म शास्त्र है गीता। दूसरों के धर्म शास्त्र क्या हैं, उनसे अपना कोई तैलुक नहीं। सन्यासी प्रवृत्ति मार्ग वाले नहीं हैं। उन्हों का है हठयोग, घरबार छोड़ जंगल में चले जाना। उन्हों को जन्म बाई जन्म सन्यास करना पड़ता है। तुम गृहस्थ व्यवहार में रहते एक बार सन्यास करते हो फिर 21 जन्म उनकी प्रालब्ध पाते हो। उन्हों का है हद का सन्यास, तुम्हारा है बेहद का सन्यास। तुम्हारे राजयोग का तो बहुत गायन है। भगवान ने राजयोग सिखाया था। भगवान ऊंचे ते ऊंचे को ही कहा जाता है। श्रीकृष्ण भगवान हो न सके। बेहद का बाप है ही निराकार। बेहद की बादशाही वही दे सकते हैं। यहाँ गृहस्थ व्यवहार से ऩफरत नहीं की जाती है। बाप कहते हैं यह अन्तिम जन्म गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र बनो। पतित-पावन कोई सन्यासी को कह नहीं सकते। वह भी पावन दुनिया चाहते हैं। वह दुनिया है एक, जिसके लिए पतित-पावन बाप को बुलाते हैं। जबकि वह गृहस्थ व्यवहार में ही नहीं हैं तो देवताओं को भी नहीं मानेंगे। वह कभी राजयोग सिखला न सकें। न बाप कभी हठयोग सिखला सके। यह समझने की बातें हैं।

अब देहली में वर्ल्ड कानफ्रेन्स होनी है। वहाँ यह समझाना है, लिखत में देना है। लिखत में होगा तो सब समझ जायेंगे। अब हम हैं ऊंचे ते ऊंच ब्राह्मण कुल के। वह हैं शूद्र कुल के। हम हैं आस्तिक। वह हैं नास्तिक। वह हैं ईश्वर को न जानने वाले। हम हैं ईश्वर से योग रखने वाले। तो मतभेद है ना। बाप ही आकर आस्तिक बनाते हैं। बाप का बनने से बाप का वर्सा मिल जाता है। यह बड़ी पेचीली बातें हैं। पहले-पहले तो बुद्धि में बिठाना है कि गीता का भगवान परमपिता परमात्मा है। उसने ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन किया था। भारत का देवी-देवता धर्म ही मुख्य है। भारतवासी अपने धर्म को भूल गये हैं। यह भी तुम जानते हो, भारतवासियों को ड्रामा-अनुसार अपना धर्म भूलना ही है, तब तो बाप आकर फिर स्थापन करे। नहीं तो बाप आये कैसे? कहते हैं जब-जब देवी-देवता धर्म प्राय:लोप हो जाता है, तब मैं आता हूँ। प्राय:लोप भी जरूर होना है। कहते हैं बैल की एक टांग टूट गई है, बाकी 3 टांगों पर दुनिया खड़ी है। मुख्य हैं ही 4 धर्म। अभी देवता धर्म की टांग टूटी हुई है अर्थात् वह धर्म गुम हो गया है इसलिए बड़ के झाड़ का मिसाल देते हैं कि फाउन्डेशन सड़ गया बाकी टाल टालियाँ खड़ी हैं। तो इनमें भी फाउन्डेशन देवता धर्म का है नहीं। बाकी मठ पंथ आदि बहुत खड़े हैं। तुम्हारी बुद्धि में अब सारी रोशनी है।

बाप कहते हैं तुम बच्चे इस ड्रामा के राज़ को जान गये हो कि सारा झाड़ पुराना हो गया है। कलियुग के बाद सतयुग को आना है जरूर, चक्र को फिरना है जरूर। बुद्धि में रखना है कि अब नाटक पूरा हुआ है, हम जा रहे हैं। चलते-फिरते यह याद रहे कि अब हमको वापिस जाना है। मनमनाभव, मध्याजी भव का भी यही अर्थ है। कोई भी बड़ी सभा में भाषण आदि करना है, तो यही समझाना है कि परमपिता परमात्मा फिर से कहते हैं हे बच्चे, देह सहित देह के सब धर्म त्याग अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो पाप दग्ध होंगे। मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान बन मुझे याद करो। पवित्र रहो, नॉलेज को भी धारण करो। अभी सब दुर्गति में हैं। सतयुग में देवतायें सद्गति में थे। फिर बाबा आकर सद्गति करते हैं। सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण… यह है सद्गति के लक्षण। यह लक्षण कौन देते हैं? बाप। उनके फिर लक्षण क्या हैं? वह ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर… है। उनकी महिमा बिल्कुल अलग है। ऐसे नहीं सब एक ही एक है। एक बाप है, हम सब आत्मायें बच्चे हैं। अब नई रचना रची जाती है। हम प्रजापिता ब्रह्मा की सब औलाद हैं। परन्तु वो लोग इन बातों को समझ नहीं सकते। ब्राह्मण वर्ण सबसे ऊंच है। भारत के ही वर्ण गाये जाते हैं। 84 जन्म लेने में इन वर्णो से पास करना होता है। ब्राह्मण हैं ही संगम पर। अच्छा साइलेन्स तो बहुत अच्छी है। शान्ति का हार तो गले में पड़ा है। एक रानी की कहानी है। अब शान्तिधाम अपना घर बहुत याद पड़ता है। चाहते सब हैं शान्ति घर में जायें परन्तु रास्ता कौन बताये? शान्ति के सागर बाप के सिवाए कोई बता न सके। बाप की महिमा अच्छी है। शान्ति का सागर, आनंद का सागर… मनुष्य सृष्टि का बीजरूप, कितना रात दिन का फ़र्क है। कृष्ण को सृष्टि का बीजरूप कह न सकें। बाप की महिमा ही अलग है। सर्वव्यापी कहने से महिमा सिद्ध नहीं होती। ऐसे भी नहीं परमात्मा बैठ अपनी पूजा करेंगे। परमात्मा सदैव पूज्य है, वह कभी पुजारी नहीं बनता। ऊपर से जो भी आते हैं वह पूज्य से पुजारी बनते हैं। प्वाइन्ट्स तो बहुत हैं। अब देखो, आते तो कितने ढेर हैं। परन्तु निकलते कोटों में कोई हैं क्योंकि मंजिल ऊंची है। प्रजा तो ढेर बनती रहेगी। परन्तु कोटों में कोई माला का दाना बनते हैं। नारद का मिसाल…… तुम अपनी शक्ल देखो लक्ष्मी को वरने लायक बने हो? राजा तो थोड़े बनेंगे। एक राजा की ढेर प्रजा बनती है। पुरुषार्थ करना चाहिए – ऊंच बनने का। राजाओं में भी कोई बड़ा राजा, कोई छोटा। भारत के कितने राजायें हैं, कितनी राजाईयां चली आती हैं। सतयुग में भी बहुत राजायें, महाराजायें होते हैं, महाराजाओं के फिर प्रिन्स प्रिन्सेज भी होते, उनके पास बहुत प्रापर्टी होती है, राजाओं के पास कम प्रापर्टी होती। अभी है प्रजा का प्रजा पर राज्य। अभी राजधानी स्थापन हो रही है। यह है श्री लक्ष्मी-नारायण बनने की नॉलेज। उसके लिए ही तुम पुरुषार्थ कर रहे हो। पूछते हैं लक्ष्मी-नारायण का पद पायेंगे वा राम सीता का? तो सब कहते हैं लक्ष्मी-नारायण का। बाप से पूरा वर्सा लेंगे। वन्डरफुल बातें हैं और कोई जगह यह बातें नहीं हैं। न कोई शास्त्र में ही हैं। अब तुम्हारी बुद्धि का ताला खुल गया है। बाप समझाते हैं चलते फिरते अपने को एक्टर समझो। अब हमको वापिस जाना है, यह सदैव याद रहे – इसको ही मनमनाभव, मध्याजी भव कहा जाता है। बाप घड़ी-घड़ी याद दिलाते हैं, बच्चे तुमको वापिस ले जाने आया हूँ। यह है रूहानी यात्रा। यह बाप के सिवाए और कोई करा नहीं सकते। भारत की महिमा भी करनी है। यह भारत होलीएस्ट लैण्ड है। सर्व के दु:ख हर्ता सुख कर्ता, सबके सद्गति दाता बाप का बर्थ प्लेस है। वही बाप सबका लिबरेटर भी है। यह बड़े ते बड़ा तीर्थ स्थान है। भारतवासी भल शिव के मन्दिर में जाते हैं परन्तु वह बाप को जानते नहीं हैं। गांधी को जानते हैं, समझते हैं वह बहुत अच्छा था, इसलिए उन पर जाकर फूल चढ़ाते हैं। लाखों खर्चा करते हैं। अब इस समय है उन्हों का राज्य। जो चाहे सो कर सकते हैं। यह तो बाप बैठ गुप्त धर्म की स्थापना करते हैं। भारत में पहले देवताओं का राज्य था। दिखाते हैं असुरों और देवताओं की लड़ाई लगी। परन्तु ऐसी बात है नहीं। यहाँ युद्ध के मैदान में माया पर जीत पाई जाती है। माया पर जीत तो जरूर सर्वशक्तिमान बाप ही पहनायेंगे। कृष्ण को सर्वशक्तिमान नहीं कहा जाता है। बाप ही रावण राज्य से छुड़ाए रामराज्य की स्थापना कर रहे हैं। बाकी वहाँ लड़ाई आदि की बात होती नहीं। कृष्ण को सर्वशक्तिमान कह नहीं सकते। अभी देखेंगे मनुष्यों में सर्वशक्तिमान क्रिश्चियन लोग हैं। वह सब पर जीत पहन सकते हैं। परन्तु वह विश्व का मालिक बनें, यह कायदा नहीं है। इस राज़ को तुम ही जानते हो। इस समय सर्वशक्तिमान राजधानी क्रिश्चियन की है। नहीं तो उन्हों की संख्या सबसे कम होनी चाहिए क्योंकि लास्ट में आये हैं, परन्तु तीनों धर्मो में यह सबसे तीखा है। सबको हाथ में कर बैठे हैं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। इन द्वारा ही फिर हमको राजधानी मिलनी है। कहानी भी है दो बन्दर लड़े माखन तीसरे को मिल जाता है। वह आपस में लड़ते हैं – माखन भारतवासियों को मिल जाता है। कहानी तो पाई पैसे की है। अर्थ कितना बड़ा है। मनुष्य एक्टर होते भी ड्रामा को नहीं जानते। इस ज्ञान को समझते फिर भी गरीब हैं। साहूकार लोग कुछ भी नहीं समझते। गरीब-निवाज़ पतित-पावन बाप ही गाया हुआ है। अब प्रैक्टिकल में पार्ट बजा रहे हैं। बड़ी-बड़ी सभाओं में तुमको समझाना है। विवेक कहता है कि धीरे-धीरे वाह-वाह निकलेगी। लास्ट मूवमेन्ट में डंका बजना है। अभी तो बच्चों पर गृहचारी बैठती रहती है। लाइन क्लीयर नहीं है। विघ्न पड़ते रहते हैं। जितना पुरुषार्थ करेंगे उतनी ऊंच प्रालब्ध मिलेगी। पाण्डवों को 3 पैर पृथ्वी के नहीं मिलते थे – अभी का यह गायन है। परन्तु यह किसको पता नहीं है कि वही फिर विश्व के मालिक बनेंगे। प्रैक्टिकल में तुम बच्चे अब जानते हो, इसमें अ़फसोस नहीं किया जाता है। कल्प पहले भी ऐसे हुआ था। ड्रामा के पट्टे पर खड़ा रहना है। हिलना नहीं चाहिए। अब नाटक पूरा होता है। चलते हैं सुखधाम में। पढ़ाई ऐसी पढ़ें जो ऊंच पद पा लेवें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे रूहानी बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी बात का अ़फसोस नहीं करना है। अपनी बुद्धि की लाइन सदा क्लीयर रखनी है। गृहचारी से अपनी सम्भाल करनी है।

2) गृहस्थ व्यवहार से तोड़ निभाना है, ऩफरत नहीं करनी है। कमल फूल समान रहना है। आस्तिक बन सबको आस्तिक बनाना है।

वरदान:- स्वराज्य के साथ बेहद की वैराग्य वृत्ति को धारण करने वाले सच्चे-सच्चे राजऋषि भव 
एक तरफ राज्य और दूसरे तरफ ऋषि अर्थात् बेहद के वैरागी। ऐसे राजऋषि का कहाँ भी – चाहे अपने में, चाहे व्यक्ति में, चाहे वस्तु में….. लगाव नहीं हो सकता क्योंकि स्वराज्य है तो मन-बुद्धि-संस्कार सब अपने वश में हैं और वैराग्य है तो पुरानी दुनिया में संकल्प मात्र भी लगाव जा नहीं सकता, इसलिए स्वयं को राजऋषि समझना अर्थात् राजा के साथ-साथ बेहद के वैरागी बनना।
स्लोगन:- समझदार वह है जो सब आधार टूटने के पहले एक बाप को अपना आधार बना ले।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

तुम मात पिता हम बालक तेरे तुम्हरी कृपा से सुख घनेरे… अब यह महिमा किसके लिये गाई हुई है? अवश्य परमात्मा के लिये गायन है क्योंकि परमात्मा खुद माता पिता रूप में आए इस सृष्टि को अपार सुख देता है। जरूर परमात्मा ने कब सुख की सृष्टि बनाई है तभी तो उनको माता पिता कहकर बुलाते हैं। परन्तु मनुष्यों को यह पता ही नहीं कि सुख क्या चीज़ है? जब इस सृष्टि पर अपार सुख थे तब सृष्टि पर शान्ति थी, परन्तु अब वो सुख नहीं हैं। अब मनुष्य को यह चाहना उठती अवश्य है कि वो सुख हमें चाहिए, फिर कोई धन पदार्थ मांगते हैं, कोई बच्चे मांगते हैं, कोई तो फिर ऐसे भी मांगते हैं कि हम पतिव्रता नारी बनें, जब तक मेरा पति जिंदा है, हम दुवागिन न बनें, तो चाहना तो सुख की ही रहती है ना। तो परमात्मा भी कोई समय उन्हों की आश अवश्य पूर्ण करेंगे। तो सतयुग के समय जब सृष्टि पर स्वर्ग है तो वहाँ सदा सुख है, जहाँ स्त्री कभी दुहागिन नहीं बनती, तो वो आश सतयुग में पूर्ण होती है जहाँ अपार सुख है। बाकी तो इस समय है ही कलियुग। इस समय तो मनुष्य दु:ख ही दु:ख भोगते हैं। बाकी जब मनुष्य अति दु:ख भोगते हैं तो कह देते हैं कि प्रभु का भाना मीठा करके भोगना है। परन्तु जब स्वयं परमात्मा आकर हमारे सारे कर्मों का खाता चुक्तू करता है तब ही हम कहेंगे तुम माता पिता.. अच्छा। ओम् शान्ति।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

TODAY MURLI 23 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 23 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 22 November 2017 :- Click Here

23/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, while living at home with your family you have to fulfil your responsibility to everyone. Have unlimited renunciation once and create a reward for 21 births.
Question: While walking and moving around, what one thing should you remember so that you can still remain on the spiritual pilgrimage?
Answer: While walking and moving around, remember that you are all actors and that you now have to return home. The Father reminds you of this: Children, I have come to take you back home. To maintain this awareness is to be “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”. This is the spiritual pilgrimage that the Father teaches you.
Question: What are the qualifications needed to have salvation?
Answer: The praise of being full of all virtues and 16 celestial degrees full are the qualifications you receive from the Father that you need for salvation.
Song: Have patience o mind! Your days of happiness are about to come.

Om shanti. Children, you know, numberwise, according to the effort you make, that the old play is now about to end. The days of sorrow will remain for only a short while longer and then there will be constant happiness and nothing but happiness. When you know about happiness, you then understand that this is the land of sorrow. There is a lot of difference between the two. You are now making effort for happiness, that is, you are following shrimat. It is easy to explain this to anyone. You now have to go to Baba. Baba has come to take you back. While living at home with your family, live as pure as a lotus and definitely fulfil your responsibilities. If you don’t fulfil your responsibilities, you become the same as the sannyasis. Those who don’t fulfil their responsibilities are said to be those of the path of isolation or hatha yogis. God is now teaching us Raja Yoga, which we are learning. The religious scripture of Bharat is the Gita. We have no connection with the religious scriptures that others have. Sannyasis don’t belong to the family path. Theirs is hatha yoga. They renounce their homes and families and go to the forests. They have to have renunciation for birth after birth. You live at home with the families, have renunciation once and then receive the reward of that for 21 births. Theirs is limited renunciation whereas yours is unlimited renunciation. This Raja Yoga of yours is praised a great deal. God taught you Raja Yoga. The Highest on High alone is called God. Shri Krishna cannot be God. The unlimited Father is the incorporeal One. Only He can give you the unlimited sovereignty. Here, the household path is not disliked. The Father says: In this final birth, become pure while living at home with your family. None of the sannyasis can be called the Purifier. They too want a pure world. There is just that one world for which they call out to the Purifier Father. Since they do not belong to the household path, they don’t believe in the deities. They can never teach Raja Yoga nor can the Father ever teach hatha yoga. This is something to be understood. A world conference is to take place in Delhi. Explain these things there. Give it to them in writing. If it is in writing, they will all understand. We now belong to the highest-on-high Brahmin clan. Those people belong to the shudra clan. We are theists and they are atheists. They are those who don’t know God and we are those who have yoga with God. So, there is a difference of opinion, is there not? Only the Father comes and makes you into theists. By belonging to the Father, you receive the Father’s inheritance. These are very tricky things. First of all, it should sit in your intellects that the God of the Gita is the Supreme Father, the Supreme Soul, who established the original eternal deity religion. The deity religion of Bharat is the main one. The people of Bharat have forgotten their own religion. You know that, according to the drama, the people of Bharat have to forget their own religion. Only then can the Father come and carry out establishment. Why else would He come? He says: I come when the deity religion disappears. It definitely has to disappear. It is said: One leg of the bull is broken and the world is standing on three legs. There are four main religions. The leg of the deity religion has now broken, that is, that religion has now disappeared. This is why they give the example of the banyan tree and how the foundation is decayed but the branches and twigs exist. So, here, too, the foundation of the deity religion doesn’t exist now, but there are many sects and cults etc. Your intellects have complete enlightenment. The Father says: You children now know the secrets of this drama and how the whole tree has now become old. After the iron age, the golden age definitely has to come; the cycle definitely has to turn. Let it remain in your intellects that the play is about to end and that we are going home. While walking and moving around, remember that you now have to return home. This is the meaning of “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”. When you have to give lectures to large gatherings, explain that the Supreme Father, the Supreme Soul, is once again telling you: O children, renounce your bodies and all bodily religions, consider yourselves to be souls, remember the Father and your sins will be burnt away. I teach you Raja Yoga. While living at home with your families, become like a lotus, remember Me, remain pure and also imbibe knowledge. Now, all are in degradation. Baba comes and grants them salvation. In the golden age, the deities were in salvation. To be full of all virtues and 16 celestial degrees full are the qualifications you need for salvation. Who gives you these qualifications? The Father. What are His qualifications? He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace. His praise is completely separate. It isn’t that all are one. The Father is only One and all of us souls are His children. The new creation is now being created. All of you are the children of Prajapita Brahma. However, those people are unable to understand these things. The Brahmin clan is the highest on high. Only the clans of Bharat are remembered. You have to go through these clans while taking 84 births. Brahmins only exist at the confluence age. Achcha. Silence is very good. You each have a garland of peace around your neck. There is the story of a queen who lost her necklace. You now remember your home, the land of peace, very much. Everyone wants to go to the home of peace, but who would show them the way? No one, apart from the Father, the Ocean of Peace, can show you the path. The Father’s praise, “The Ocean of Peace, the Ocean of Bliss,” is very good. He is the Seed of the human world tree. There is such a difference of day and night! Krishna cannot be called the Seed of the human world. The praise of the Father is separate. By His being called omnipresent, His praise is not proven. It isn’t that God would sit and worship Himself. God is ever worthy of worship. He never becomes a worshipper. Those who come from up above become worshippers from being worthy of worship. There are many points. Look how so many people come here, but only a handful out of multimillions emerge because the destination is very high. There will continue to be many subjects created, but only a handful out of multimillions become beads of the rosary. There is the example of Narad. You now look at your own faces and see whether you have become worthy of marrying Lakshmi. Only a few will become kings. There are many subjects created for one king. You should make effort to become elevated. Among the kings, some are big kings and others are minor kings. There are many kings in Bharat. Kingdoms have continued in Bharat. In the golden age, there are many kings and emperors. There, emperors have princes and princesses. They have a lot of property. The kings have less property. It is now the rule of people over people. The kingdom is now being established. This is the knowledge for becoming Shri Lakshmi and Shri Narayan. You are making effort for this. Baba asks: Will you claim the status of Lakshmi and Narayan or Rama and Sita? Then, you all reply: We will claim the status of Lakshmi and Narayan. We will claim the full inheritance from the Father. These are wonderful things. Nowhere else do they speak of these things nor are these things mentioned in the scriptures. The locks on your intellects have now opened. The Father explains: While walking and moving around, consider yourselves to be actors. We now have to return home: constantly remember this. This is called being “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”. The Father repeatedly reminds you: Children, I have come to take you back home. This is the spiritual pilgrimage. No one, apart from the Father, can inspire you to do this. You also have to praise Bharat. This Bharat is the holiest land. It is the birthplace of the Father, the Remover of Sorrow, the Bestower of Happiness and the Bestower of Salvation for All. That same Father is also the Liberator of everyone. This is the greatest pilgrimage place of all. Although the people of Bharat go to a Shiva Temple, they don’t know the Father. They know Gandhiji. They believe that he was a very good person and this is why they go and offer flowers to his statue and spend hundreds of thousands of rupees. At this time, it is their rule; they can do whatever they want. The Father sits here and carries out establishment in an incognito way. At first, there was the kingdom of deities in Bharat. They have shown that a war took place between the devils and the deities but it did not happen like that. It is on the battlefield here that you conquer Maya. It would definitely be the Almighty Authority Father who enables you to conquer Maya. Krishna cannot be called the Almighty Authority. Only the Father liberates you from Ravan’s kingdom and establishes the kingdom of Rama; there is no question of war there. Krishna cannot be called the Almighty Authority. We now see that Christians are the almighty authorities amongst all human beings; they can conquer anyone. However, it is not the law that they can become the masters of the world. Only you know these secrets. At this time, the almighty authority kingdom is that of the Christians. Otherwise, their population should be the least of all because they have come last. However, out of all three religions, that one is the most powerful; they control everyone. This drama is also fixed. It is from them that we are to take our kingdom. There is a story of two monkeys fighting and a third one taking the butter from between them. They fight among themselves and the people of Bharat receive the butter. The story is just worth pennies but it has such a great meaning. Even though people are actors, they don’t know the drama. It is only the poor who understand this knowledge. Wealthy people don’t understand anything. The Father is remembered as the Lord of the Poor and the Purifier. He is now playing His part in a practical way. You have to explain this to big gatherings. The intellect says that your praise will gradually emerge. The gong will sound at the last moment. There is now an eclipse of bad omens over the children. Their lines are not clear and there continues to be obstacles. To the extent that you make effort, so the reward you will accordingly receive. The Pandavas were unable to find three square feet of land: that praise is of this time. However, no one knows that you will then become the masters of the world there. You children now know this in a practical way. There is no need for any regret about this. It happened like this in the previous cycle too. You have to be alert on the rails of the drama and not shake. The play is now coming to an end and we are going to the land of happiness. Study in such a way that you claim a high status. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t have any regrets about anything. Let the line of your intellect remain constantly clear. Protect yourself from the eclipse of bad omens.
  2. Fulfil your responsibility to your household. Don’t dislike anyone. Remain like a lotus flower. Become theists and make everyone theists.
Blessing: May you be a true Raja Rishi who adopts an attitude of unlimited disinterest as well as having self-sovereignty.
On the one hand there is the kingdom and on the other hand, there are the Rishis, that is, those who have unlimited disinterest. Such a Raj Rishi would have no attachment to the self nor to anyone else or anything because he is a master of the self. Therefore, his mind, intellect and sanskars are under his control and, because there is disinterest, there cannot be even the slightest thought of attachment to the old world. Therefore, to consider yourself to be a Raja Rishi means that as well as being a king, you are one who has unlimited disinterest.
Slogan: A sensible person is one who makes the one Father his Support before all other supports are taken away.

*** Om Shanti ***

Invaluable versions of Mateshwari

To whom is the praise sung, “You are the Mother and Father, we are Your children and due to Your mercy, we have a lot of happiness”? This is surely sung to God because God Himself comes in the form of the Mother and Father and gives limitless happiness to this world. God definitely created a world of happiness at some point for this is why they call out to Him as the Mother and Father. However, people do not know what happiness is. When there was limitless happiness in this world, there was also peace, but there isn’t that happiness any more. People definitely have a desire for happiness. Some ask for wealth and possessions whereas others ask for children. Some even ask that they remain faithful brides while their husbands are still alive and that they never become widows. So, their desire is for happiness, is it not? So, God would definitely fulfil their desire at some time. In the golden age, when there is heaven on earth, there is constant happiness and women never become widows. So, that desire is fulfilled in the golden age where there is limitless happiness. However, at this time, it is the iron age. At this time, people are only experiencing sorrow, but when people experience extreme sorrow, they say: Accept everything from God’s plate and consider it to be sweet. However, when God Himself comes and enables all our accounts to be settled, it is then that we say, “You are the Mother and Father.” Achcha.

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize